एक न्यूज चैनल का बौद्धिक दिवालियापन (देखें वीडियो)

साधना न्यूज नामक एक न्यूज चैनल ने भड़ास4मीडिया डॉट कॉम पर इसलिए मुकदमा किया है क्योंकि भड़ास पर छपी एक धारावाहिक व्यंग्य कथा ‘चांपना न्यूज’ को उसने खुद की कहानी मान लिया है. दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में यह मामला मजेदार मोड़ में है. कोर्ट की तरफ से मध्यस्थता कर रहे शख्स का कहना है कि चांपना न्यूज नामक संबंधित भड़ास की पोस्ट में तो कहीं साधना न्यूज या इसकी कंपनी शार्प आई प्राइवेट लिमिटेड का नाम ही नहीं है तो आपकी मानहानि कैसे हुई?

चैनल खरीदना है या किराए पर लेना है तो ‘साधना’ वालों से दूर रहिएगा, कई लोग रो रहे हैं

जी हां. कई लोग साधना वालों से चैनल किराए पर लेकर या खरीद कर रो रहे हैं. सूचना और प्रसारण मंत्रालय भी साधना वालों के इस खेल को जानता है लेकिन जाने क्या है कि सब मिल जुल कर चुप्पी साधे हैं और नए लोगों को फंसने फंसाने का खेल जारी है. श्री न्यूज नामक जो चैनल चलता है, वह साधना वालों से खरीदा गया है लेकिन आज तक श्रीन्यूज वाले बतौर डायरेक्टर चैनल के मालिकान के रूप में अपना नाम नहीं दर्ज करवा सके हैं.

साधना न्यूज (एमपी-सीजी) के ठग संचालकों से बच कर रहिए, पढ़िए एक पीड़ित स्ट्रिंगर की दास्तान

संपादक
भड़ास4मीडिया
महोदय

मुझसे साधना न्यूज (मध्यप्रदेश छत्तीसगढ) के नाम पर 8 माह पूर्व विनोद राय के निजी खाते में 20 हजार रुपये ट्रांसफर कराए गए थे. इस रकम को खुद मैंने अपने खाते से भेजा था. परन्तु साधना न्यूज ने एक माह बाद ही किसी दूसरे को नियुक्त कर दिया. विनोद राय (इन्दौर, डायरेक्टर, साधना न्यूज) से रुपये वापस मांगने पर वे नये नये तरीके से टालते रहते हैं और आज कल करके कई प्रकार के बहाने से मुझे राशि लौटने से इनकार कर रहे हैं. मैं इसके लिए कई बार इन्दौर का चक्कर काट चुका हूं.

लखनऊ में साधना न्यूज के लाइव शो पर हमले के बाद की कुछ तस्वीरें

लखनऊ में साधना न्यूज के लाइव शो पर हमले के बाद की कुछ तस्वीरें यहां पेश हैं. मंत्री गायत्री प्रजापति के गुर्गों ने इस लाइव प्रसारण के दौरान हमला किया और पत्रकारों को पीटने के साथ साथ कैमरा ओवी वैन आदि तोड़ डाले. पूरे मामले में सरकार चुप्पी साधे हुए है. यूपी में मीडियावालों पर जगह जगह लगातार हमले हो रहे हैं. ये हमले ज्यादातर सत्ताधारी नेताओं मंत्रियों अफसरों के संरक्षण में हो रहे हैं इसलिए इनके खिलाफ कार्रवाई भी नहीं हो रही है.

लाइव शो पर हमला : साधना न्यूज के इन मीडियाकर्मियों की हुई लखनऊ में पिटाई

भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे गायत्री प्रसाद प्रजापति की लोकायुक्त जांच चल रही है. इसी सिलसिले में दोपहर करीब साढ़े तीन बजे साधना न्यूज चैनल की टीम लाइव कवरेज करने उनके आवास पर गई थी. टीम में दिल्ली से आये पत्रकार अमित सिंह के साथ ही राजधानी के अमरेंद्र, अकील सिद्दीकी, कैमरामैन रोहित श्रीवास्तव और तकनीशियन धनंजय शामिल थे. मंत्री के गेट के सामने कैमरा लगाकर टीम लाइव कवरेज कर रही थी तभी मंत्री का करीबी विकास वर्मा बाहर आ गया. नजारा देखकर वह भीतर चला गया. कुछ देर बाद वह फिर बाहर आया और कैमरे हटाने को कहा.

लखनऊ में करप्शन पर लाइव दिखा रहे साधना न्यूज चैनल के पत्रकारों और ओवी वैन पर करप्ट मंत्री के गुर्गों ने किया हमला

उत्तर प्रदेश में जंगल राज तो लंबे समय से कायम है लेकिन अब जंगल राज कायम करने वालों के हौसले इतने बुलंद हैं कि राजधानी लखनऊ में पत्रकारों पर हमले किए जा रहे हैं, वह भी तब जब लाइव शो चल रहा हो. यूपी सरकार में भ्रष्टाचार के आरोपी कैबिनेट मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के गुर्गों ने गुरुवार को कवरेज के दौरान साधना न्यूज चैनल के पत्रकारों पर जानलेवा हमला कर दिया और कैमरे समेत ओवी वैन को भी क्षतिग्रस्त कर दिया.

साधना न्यूज पर रात 11 बजते ही शुरू हो जाता है सेक्स रोग, सेक्स और दवा के नाम पर भद्दा मार्केटिंग खेल।

रांची : साधना न्यूज की हालत इन दिनों बड़ी अजीब हो गई है। बिहार- झारखंड को बेस्ड करके यह चैनल जिस तरीके से शुरू हुआ था, उसने अपने खबरों के माध्यम से हलचल मचा दी थी। तभी इसके टीआरपी भी बढ़े थे। अच्छे समाचार और समाचारों के प्रति ईमानदारी से लगे इसके पत्रकार ने अपने बलबूते कई खबरों को ब्रेक कराया। चैनल हिट होने लगा तो पत्रकारों का ग्रुप मालिक और चैनल को फायदा दिलाने की बजाए खुद मुद्रा मोचन और डील में लग गए। इसका अहसास होते ही चैनल संचालक ने पत्रकारों को भी झटका देना, जो शुरू किया, वह भी जारी है।

‘साधना न्यूज’ ने निवेश के लिए अब ‘लोकायत’ को फांसा

साधना न्यूज के चक्कर में जो फंसता है, वो बाद में रोता है. बावजूद इसके, फंसने वालों की कमी नहीं है. कुछ महीनों पहले भोपाल की एक पार्टी का काफी पैसा साधना न्यूज में फंस गया था. यही नहीं, निवेश करने वाली पार्टी के लोगों का स्टिंग आपरेशन भी करने की तैयारी साधना वालों ने कर रखी थी ताकि वे जब पैसे मांगें तो उन्हें ये स्टिंग दिखा दिया जाए. इसके लिए एक कालगर्ल को एंकर बनाकर होटल में भेजा गया था. लेकिन निवेश करने वाला एलर्ट हो चुका था, इस कारण बच गया था. बाद में उसका काफी पैसा साधना में फंसा रह गया.

चुनाव खत्म होने के बाद ‘साधना न्यूज हरियाणा’ में भी छंटनी का दौर शुरू

‘साधना न्यूज़ हरियाणा’ में भी छंटनी का दौर शुरू हो गया है. कुछ मीडियाकर्मियों की नींद तब उड़ गई जब उन्हें एचआर डिपार्टमेंट के तरफ से फोन करके कहा गया कि आप कल से ऑफिस मत आना, आपको ऑफिस के तरफ से निकला जा रहा है. कारण पूछने पर बताया गया कि हमें कुछ भी पता नहीं, ऊपर से आर्डर है. जब ऊपर के लोगों से बात की गई तो पता चला कि उनके पास बजट नहीं है इतने लोगों को सेलरी देने के लिए. अजीब बात ये है कि छंटनी की लिस्ट में जिन लोगों के नाम है उनकी सेलरी दस हजार रुपये से भी कम है और ये वही लोग हैं जिनका इलेक्शन से पहले वीकली आफ तक कैंसल कर दिया गया था. इन लोगों से 8 घंटे के शिफ्ट में 10 घंटे तक काम लिया जाता था.

साधना चैनल की तरफ से छत्तीसगढ़ के नौ रत्नों का सम्मान किया गया

जीवन की गंभीर चुनौतियों का सामना करते हुए ऊंचाईयों को छूने वाले छत्तीसगढ़ के नौ रत्नों का साधना न्यूज ने अपने खास कार्यक्रम छत्तीसगढ़ एचीवर्स अवार्डस में सम्मानित किया है। मंगलवार को रायपुर के होटल ताज गेटवे में साधना न्यूज नेटर्वक की ओर से आयोजित छत्तीसगढ़ एचीवर्स अवार्डस में कुल नौ लोगों का सम्मान हुआ। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि डॉ. रमन सिंह ने सम्मानित लोगों को स्मृतिचिन्ह दिया।