पत्रकार राजेश वर्मा को प्रथम बरसी पर दी भावभीनी श्रद्धांजलि, वादे भूली केंद्र सरकार

मुजफ्फरनगर। गत वर्ष 7 सितम्बर को खालापार में साम्प्रदायिक हिंसा में मारे गये आईबीएन7 के जुझारू पत्रकार राजेश वर्मा की पहली बरसी मनाते हुए जिले के सभी पत्रकारों ने उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी। सभी पत्राकारों ने राजेश वर्मा के हत्यारों  को जल्द गिरफ्तार किये जाने की मांग भी की और उनके निधन को अपूरणीय क्षति बताया। रविवार को दंगों का एक साल पूरा हुआ और इसके साथ ही इन दंगों में मारे गये लोगों के परिजनों का दिल दर्द से भर उठा। इसी दंगे में गत वर्ष 7 सितम्बर को मीडिया जगत को भी गहरा आघात पहुंचा था।

स्व. राजेश वर्मा की फाइल फोटो

न्यूज चैनल आईबीएन-7 के पत्रकार राजेश वर्मा को भी दंगाईयों ने खालापार में गोली मार दी थी, उनकी मौके पर ही मौत हो गयी थी। राजेश वर्मा की पहली बरसी पर मीडिया सैन्टर में पत्रकारों ने शोक सभा का आयोजन किया। सभी पत्रकारों ने राजेश वर्मा के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उनको भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान राजेश वर्मा के भाई संजय वर्मा व अन्य परिजन भी मौजूद रहे। सभी ने राजेश वर्मा को निडर व साहसी पत्रकार बताया। पत्रकारों ने राजेश वर्मा के हत्यारों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग भी पुलिस प्रशासन से की। इस दौरान बडी संख्या में न्यूज चैनल व प्रिंट मीडिया के पत्रकार मौजूद रहे।

सात सितंबर 13 को दंगे में मारे गए पत्रकार राजेश वर्मा के घर शोक प्रकट करने मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक पहुंचे थे। 15 सितंबर को पहुंचे मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मृतकों के आश्रितों को नौकरी देने की घोषणा की थी। अगले दिन 16 सितंबर को तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी, राहुल गांधी, तत्कालीन गृहराज्यमंत्री आरपीएन सिंह, राज्यपाल बीएल जोशी सांत्वना देने पत्रकार के घर पहुंचे थे। तत्कालीन पीएम ने परिवार के दोनों बच्चों बेटा शशांक वर्मा व बेटी शिवानी की पढ़ाई व एक सदस्य को केंद्र सरकार में नौकरी देने का वायदा किया था। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने घोषणा के मुताबिक सभी मृतकों के एक-एक परिजनों को नौकरी दे दी। बेटा शशांक वर्मा तो मृतक आश्रित में नौकरी कर रहा है, लेकिन केंद्र सरकार ने परिजनों की गुहार के बावजूद आज तक इस पर गौर नहीं किया।

आपको भी कुछ कहना-बताना है तो bhadas4media@gmail.com पर मेल करें.


स्व. राजेश वर्मा से संबंधित वो खबरें जो पिछले वर्ष प्रकाशित हुई थीं…

मुजफ्फरनगर दंगा और सेक्युलर मीडिया का मुस्लिम जेहाद
Created on 18 September 2013
पत्रकार राजेश वर्मा को जो शख्स अस्पताल ले गया, उसी को पुलिस ने घर से उठा लिया
Created on 16 September 2013
राजेश वर्मा के परिवार के एक सदस्‍य को सरकार देगी नौकरी
Created on 16 September 2013
हां, हम स्ट्रिंगर हैं, हमें इसका गुमान है, हमने बचा रखी है अपने दिल में धड़कन, आंखों में पानी और चेहरे पर लज्जा…
Created on 11 September 2013
उपेक्षा और आर्थिक तंगी का जिक्र करते हुए शोक सभा में रो पड़े वरिष्ठ पत्रकार डा. दामोदर वर्मा
Created on 10 September 2013
कैमरामैन ने पत्रकार राजेश वर्मा की मौत के एक-एक पल को अपने कैमरे में कैद किया है!
Created on 09 September 2013
पत्रकारिता के इस प्लांटवादी दौर में कोई भी पत्रकार सुरक्षित नहीं है
Created on 08 September 2013
शहीद रिपोर्टर के परिजनों के लिए कापड़ी और उमेश पैसा जुटा रहे, आशुतोष और राजदीप चुप्पी साध रहे
Created on 08 September 2013
प्यार सिखाने वाले बस्ते मज्हब के स्कूल गये…
Created on 08 September 2013
तब राजेश वर्मा आपका संवाददाता था आज जब वो मर गया तो ‘स्ट्रिंगर’ हो गया!
Created on 08 September 2013
आशुतोष और आईबीएन7 चैनल राजेश वर्मा के आश्रितों को नौकरी के साथ 50 लाख की आर्थिक सहायता दें
Created on 08 September 2013
‘ब्रेकिंग न्यूज’ कंटेंट नहीं है एक पत्रकार की हत्या!
Created on 08 September 2013
विनोद कापड़ी ने स्व. राजेश वर्मा के परिजनों के लिए कोष जुटाने का अभियान शुरू किया
Created on 08 September 2013
हम जानना चाहते हैं कि आईबीएन चैनल राजेश के परिवार को क्या आर्थिक सहयोग करने जा रहा है
Created on 07 September 2013
मायावती के राज में किसी जिले में दंगे में छह लोग मरे हों, याद नहीं आता
Created on 07 September 2013
मुजफ्फरनगर में दो मीडियाकर्मियों समेत छह की हत्या, कर्फ्यू (देखें राजेश वर्मा की तस्वीरें)
Created on 07 September 2013
मुजफ़्फ़रनगर उपद्रव कवर कर रहे पत्रकार की मौत का जिम्मेदार कौन?
Created on 07 September 2013
आईबीएन7 अपने पत्रकार की हत्या की खबर नहीं चला रहा, शेम शेम
Created on 07 September 2013
दंगे में मारे गए पत्रकार राजेश के परिजनों को आईबीएन की तरफ से भरपूर मदद दी जाए
Created on 07 September 2013
आईबीएन के स्ट्रिंगर को मुजफ्फरनगर में गोली मार दी, दंगाइयों को काबू नहीं कर पा रही पुलिस



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code