ऐसे पोज देकर आडवाणी ने मोदी की छवि को स्वीट प्वाइजन दे दिया है!

Satyendra PS : 1990 के दौर में भयानक धार्मिक ध्रुवीकरण और लोगों के मन में हिन्दू मुस्लिम का धार्मिक जहर भरने वाले लाल कृष्ण आडवाणी से मुझे भयानक नफरत रही है। जब मण्डल कमीशन रिपोर्ट लागू हुई तो यह आदमी देश भर में दंगा कराने निकला था और इसके चेले थे मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। …

कैंसर पीड़ित पत्रकार सत्येंद्र प्रताप सिंह को विनोद कापड़ी और उमेश कुमार ने दी आर्थिक मदद

बिजनेस स्टैंडर्ड हिंदी अखबार में वरिष्ठ पद पर कार्यरत और मुख कैंसर से पीड़ित पत्रकार सत्येंद्र प्रताप सिंह की मदद के लिए मीडिया के ढेर सारे साथी आगे आए हैं. न्यूज एक्सप्रेस चैनल के सीईओ और एडिटर इन चीफ विनोद कापड़ी ने इक्कीस हजार रुपये की आर्थिक मदद सत्येंद्र को की है. विनोद कापड़ी ने फोन पर सत्येंद्र के परिजनों से बात की और इस मुश्किल वक्त में हौसला बनाए रखने के लिए कहा. उन्होंने आगे भी मदद करते रहने का आश्वासन दिया.

कैंसर पीड़ित पत्रकार सत्येंद्र को भड़ास की तरफ से पांच हजार रुपये की मदद

Yashwant Singh : कैंसर पीड़ित पत्रकार साथी Satyendra आईसीयू से बाहर आ चुके हैं. उनकी आर्थिक मदद के लिए कई सारे साथी आगे आए हैं, यह अच्छी बात है. भड़ास की तरफ से पांच हजार रुपये देने का जो वादा मैंने किया था, आज पूरा किया. सत्येंद्र के एकाउंट में पैसा क्रेडिट हो गया है.

कैंसर पीड़ित पत्रकार सत्येंद्र की कहानी : 33 रेडियेशन के साथ 4-5 कीमोथेरेपी होगी, आर्थिक संकट से अवसाद

Satyendra P Singh : कैंसर अब डरा रहा है। डाक्टर ने बताया है कि लिंफ्नोड्स प्रभावित हैं। अब 33 रेडियेशन के साथ 4-5 कीमोथेरेपी होगी। एक माह बाद शुरू होकर ये प्रक्रिया 3 महीने चलेगी। गंजा होउंगा। भोजन नलियाँ छिल जाएंगी। भयंकर कमजोरी रहेगी। इस दौरान बिस्तर पकड़ना पड़ सकता है। बजट भी बहुत ज्यादा बताया। इस बजट का ब्योरा चिकित्सक से लिखवा लिया है।

आईसीयू से बाहर आए पत्रकार सत्येंद्र, हालत बेहतर, स्वामी बालेंदु ने भी की आर्थिक मदद की अपील

दिल्ली में बिजनेस स्टैंडर्ड हिंदी के पत्रकार सत्येंद्र प्रताप सिंह के मुंह के कैंसर का सफल आपरेशन हुआ और अब सूचना है कि सत्येंद्र आईसीयू से बाहर आ गए हैं. उन्होंने खुद होश में आने और आईसीयू से बाहर लाए जाने के बाद एफबी पर लिखकर इसकी जानकारी दी है.

Satyendra P Singh लिखते हैं- ”लगता है कि पत्नी ने भाई को बताया कि फेसबुक खेले बगैर मैं स्वस्थ नहीं होउंगा और छोटे भाई ने पकड़ा दिया। icu से बाहर हूँ 🙂 ”.

पत्रकार सत्येंद्र का छह घंटे तक चला मुख कैंसर का आपरेशन, आर्थिक मदद की अपील

दिल्ली के रोहिणी-5 स्थित राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर में पत्रकार सत्येंद्र प्रताप सिंह का कल मुख कैंसर का आपरेशन हुआ. आपरेशन करीब छह घंटे तक चला. डाक्टरों का कहना है कि आपरेशन सफल रहा. सत्येंद्र को अभी आईसीयू में रखा गया है और अगले कुछ दिनों तक आईसीयू में ही रहने की संभावना है. सत्येंद्र दिल्ली में हिंदी बिजनेस डेली बिजनेस स्टैंर्डड में मुख्य उपसंपादक के रूप में कार्यरत हैं.

मुख कैंसर के थर्ड स्टेज से जूझ रहे हैं बिजनेस स्टैंडर्ड हिंदी के पत्रकार सत्येंद्र प्रताप सिंह, परसों होगा आपरेशन

सत्येंद्र प्रताप सिंह


मीडिया के अपने कई साथी चुपचाप अपनी मुश्किलों-बीमारियों को झेलते रहते हैं. वे इतने संकोची भी होते हैं कि उनकी दिक्कतों के बारे में उनके करीबी साथियों को भी पता नहीं चल पाता. बिजनेस स्टैंडर्ड, दिल्ली के मुख्य उप संपादक सत्येंद्र प्रताप सिंह का परसों यानि बृहस्पतिवार को मुख कैंसर का आपरेशन राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर रोहिणी 5, दिल्ली में आपरेशन होगा. सत्येंद्र के परिचति Sandeep Kumar फेसबुक पर एक संक्षिप्त अपील लिखते हैं, कुछ लोगों को टैग करके, ताकि सत्येंद्र जी की मुश्किल में लोग उनके साथ खड़े हो सकें. अपील इस प्रकार है-