पढ़िए अंबानी के चैनल द्वारा भेजे गए लीगल नोटिस का भड़ासी जवाब!

Regd AD/ Speed Post 14/11/18 To, Mr. Mirnal Bharti, Advocate, B-9, Shekhar Apartments, Mayur Vihar, Phase-I, Ext. Delhi-110092. Share on:कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

ये है अंबानी के चैनल की तरफ से भड़ास को भेजा गया लीगल नोटिस, आप भी पढ़ें

Dear Sir, I hereby serve upon you the following Legal Notice for Defamation on behalf of my client TV18 Broadcast Limited: BY SPEED POST / EMAIL November 14, 2018 Share on:कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अंबानी के चैनल ने भड़ास को भेजा लीगल नोटिस

Yashwant Singh : अम्बानी के चैनल ने मुझे लीगल नोटिस भेजा है। अबे गीदड़ों, वो कहावत पता है कि नहीं- जब कुत्ते की मौत आती है तो वो सड़क की तरफ भागता है। वैसे ही जिस मीडिया हाउस को ज्यादा नंगा होना होता है वो भड़ास की तरफ लीगल नोटिस लेकर भागता है। कल भड़ास …

अंबानी के चैनल का हाल : आरोपी ऐश कर रहा, पीड़िता को टर्मिनेट कर दिया गया!

टीवी पत्रकार रुमाना अल्वी की गल्ती बस ये है कि उन्होंने बॉस के आगे समर्पण नहीं किया. उन्होंने नौकरी करने के लिए बॉस की उत्पीड़नकारी शर्तें नहीं मानीं. उन्होंने यौन दुर्व्यवहार का विरोध किया. उन्होंने मीडिया की मंजिल तय करने के वास्ते देह का इस्तेमाल नहीं किया. बस. इसी से अंबानी के चैनल के कर्ताधर्ता …

जियो का जलवा खत्म, कछुवा स्पीड प्रदाता मुकेश अंबानी पर नकेल कौन कसे?

Ashwini Kumar Srivastava : तकरीबन साल भर पहले मुकेश अम्बानी के झांसे में मैं भी आ गया था और न सिर्फ अपने मोबाइल में बल्कि घर में भी जियो फाई इस्तेमाल करने लगा था। लेकिन वह दिन है और आज का दिन, तबसे मैं लगातार इंटरनेट की कछुवा स्पीड और डाटा बेहद तेज रफ्तार से …

नीता अंबानी की अय्याशियां!

Ashwini Kumar Srivastava : 315 करोड़ रुपये का मोबाइल…3 लाख रुपये की चाय…40 लाख का पर्स….पूंजीवाद का असली और घिनौना रूप अगर देखना है तो इस खबर को पढ़िए। इनका बस चलता तो ऊपरवाले से यह धूप और हवा भी ब्रांडेड खरीदते ताकि करोड़ों-अरबों खर्च करके यह महज इतना दिखा सकें कि ये धरती के बाकी इंसानों से अलग हैं। सरकार की मेहरबानियों से जनता की गाढ़ी कमाई को अपनी कंपनियों के जरिये चूस कर और फिर पानी की तरह बहाकर ये पूंजीपति बेहिसाब अय्याशियां करते हैं…वह भी उस देश और समाज में, जहां एक टाइम का खाना-पानी, कपड़े और सर पर छत के लिए न जाने कितने लोग रोज अपनी जान गंवा रहे हैं…

मुकेश अंबानी अपने छोटे भाई अनिल अंबानी के कारोबार को लील गए!

तकनीक के तेवर रिश्तों को तहस नहस कर रहे हैं। मुकेश अंबाजी और अनिल अंबानी को ही देख लीजिए। दोनों भाई हैं। सगे भाई। धीरूभाई अंबानी के स्वर्ग सिधारते ही रिश्तों में दूरियां आ गई थी, और दोनों मन से बहुत दूर हो गए। फिर मोबाइल फोन के जिस धंधे में अनिल अंबानी थे, उसी मोबाइल की दुनिया में कदम रखते ही मुकेश अंबानी ऐसा भूचाल ले आए कि उनके स्मार्टफोन और फ्री डेटा से अनिल अंबानी की दुनिया न केवल हिलने लगी, बल्कि गश खाकर धराशायी हो गई। इन दिनों अनिल अंबानी की नींद उड़ी हुई है। वे धंधा समेटने की फिराक में है। वैसे भी वे कोई मुनाफे का धंधा नहीं कर रहे हैं। भारी कर्ज का बोझ उनके सर पर है और बहुत आसानी से इससे उबरने की फिलहाल कोई गुंजाइश नहीं है।

इंडिया टीवी ने आजतक की बैंड बजा दी, अंबानी के चैनल के अच्छे दिन आए

इस साल के छठें हफ्ते की टीआरपी में कई बड़ी और नई बातें हैं. सबसे पहले ये कि अंबानी के चैनल के अच्छे दिन आ गए हैं. लगता है अंबानी की नजर टीआरपी मापने वाली संस्थाओं पर पड़ गई है जिसके कारण टीआरपी ने बंपर उछाल मारा है. पहले आईबीएन7 और आजकल न्यूज18इंडिया के नाम से चलाए जा रहे अंबानी के चैनल की टीआरपी इस कदर बढ़ी कि वह सीधे नंबर चार पर आ पहुंचा है. लगातार सात-आठ नंबर पर रहने वाला चैनल अगर अचानक चार नंबर पर आ जाए तो लगता है कि कुछ तो खेल है.

मुंबई के बाद अब दिल्ली एचटी को भी रिलायंस को बेचे जाने की चर्चा

देश भर के मीडियामालिकों में हड़कंप, कहीं मुफ्त में ना अखबार बांटने लगे रिलायंस…

देश के सबसे बड़े उद्योगपति रिलायंस वाले मुकेश अंबानी द्वारा मुंबई में एचटी ग्रुप के अखबार मिन्ट और फ्लैगशिप हिन्दुस्तान टाईम्स खरीदने की चर्चा के बाद अब यह चर्चा भी आज तेजी से देश भर के मीडियाजगत में फैली है कि मुकेश अंबानी ने दिल्ली में भी हिन्दुस्तान टाईम्स के संस्करण को खरीद लिया है। हालांकि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पायी है। हिन्दुस्तान टाईम्स के दिल्ली संस्करण में कर्मचारियों के बीच आज इस बात की चर्चा तेजी से फैली कि रिलायंस प्रबंधन और हिन्दुस्तान टाईम्स प्रबंधन के बीच कोलकाता में इस खरीदारी को लेकर बातचीत हुयी जो लगभग सफल रही और जल्द ही हिन्दुस्तान टाईम्स पर रिलायंस का कब्जा होगा।

शोभना भरतिया ने एचटी ग्रुप को मुकेश अंबानी को बेचा!

मुंबई से एक बड़ी खबर आ रही है. हिंदुस्तान टाइम्स समूह को इसकी मालकिन शोभना भरतिया ने भारत के सबसे बड़े व्यापारी मुकेश अंबानी को बेच दिया है. हालांकि यह चर्चा कई दिनों से थी कि शोभना भरतिया एचटी समूह को बेच रही हैं लेकिन इस सूचना की पुष्टि नहीं हो पा रही थी. अब यह बात लगभग कनफर्म हो गई है कि मुकेश अंबानी सबसे बड़ा टीवी नेटवर्क खरीदने के बाद सबसे बड़ा प्रिंट नेटवर्क भी तैयार करने में लग गए हैं और इस कड़ी में एचटी ग्रुप को खरीद लिया है.

एबीपी न्यूज के पतन के कारण जी न्यूज नंबर तीन पर पहुंचा

साल 2017 के दूसरे हफ्ते की टीआरपी में जी न्यूज नंबर तीन पर पहुंच गया है. ऐसा एबीपी न्यूज चैनल की टीआरपी में भयंकर गिरावट के कारण हुआ है. न्यूज24 लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है और यह चैनल अब इंडिया न्यूज के काफी नजदीक पहुंच चुका है. इंडिया न्यूज की टीआरपी में भी सुधार है.

मोदी जी बेचेंगे मुकेश अंबानी के ‘जियो’ सिम!

Sheetal P Singh : मुकेश अंबानी ने अपनी कंपनी के “ब्रांड एंबेसडर” की घोषणा कर दी! श्री मोदी जी उनका “जियो” सिम बेचेंगे! टाइम्स आफ इंडिया के प्रथम पेज पर फ़ुल स्क्रीन सुशोभित हैं! सुबह वे रिलायंस के विज्ञापन में थे, शाम रिलायंस के चैनल पर साक्षात।

पांच साल बाद हर पत्रकार अंबानी की मुट्ठी में… सुनिये सम्मानित पत्रकार पी. साइनाथ के आशंकित मन की आवाज़

लोकतंत्र के चौथे स्तम्भ यानी मीडिया के साथ एक समस्या यह है कि चारों स्तंभों के बीच यही इकलौता है जो मुनाफा खोजता है। भारत का समाज बहुत विविध, जटिल और विशिष्ट है लेकिन उसके बारे में जो मीडिया हमें खबरें दे रहा है, उस पर नियंत्रण और ज्यादा संकुचित होता जा रहा है। आपका समाज जितना विविध है, उतना ही ज्यादा एकरूप आपका मीडिया है। यह विरोधाभास खतरनाक है। बीते दो दशकों में हमने पत्रकारिता को कमाई के धंधे में बदल डाला है। यह सब मीडिया के निगमीकरण के चलते हुआ है। आज मीडिया पर जिनका भी नियंत्रण है, वे निगम पहले से ज्यादा विशाल और ताकतवर हो चुके हैं।

पीएम ने की महाराष्‍ट्र के इस गरीब कि‍सान से मुलाकात जिसका वजन 70 किलो गिर चुका है :)

नई दि‍ल्‍ली : सोमवार को देश की शुरुआत एक खुशनुमा दोपहर से तब हुई, जब चुनाव प्रचार के अपनी अति‍व्‍यस्‍त कार्यक्रम से मौका नि‍कालकर प्रधानमंत्री ने महाराष्‍ट्र के इस गरीब कि‍सान से मुलाकात की। इस कि‍सान की गुरबत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि गरीबी में इसका वजन 70 कि‍लो गि‍र चुका है।

शुक्रवार को Indian express भी उद्योगपति अंबानी का हो जाएगा!

मीडिया के भी अच्छे दिन आ रहे। हम आलोचनाएं कर रहे और वे सरकारी खजाने सोखकर अपना काम करने में लगे हुए हैं। वरिष्ठ पत्रकार शीतल पी सिंह ने अपने एफबी वॉल पर सूचना दी है कि Indian express भी शुक्रवार को अंबानी का हो जायेगा। 

आईबीएन7 के संपादक सुमित अवस्थी को दूसरे पत्रकार ने ‘Certified Modified journo’ करार दिया!

(वरिष्ठ पत्रकार और उद्यमी शीतल पी. सिंह)

शीतल पी. सिंह वरिष्ठ पत्रकार हैं. एक जमाने में चौथी दुनिया की लांचिंग टीम के हिस्सा थे. इंडिया टुडे में भी काम कर चुके हैं. अमर उजाला से अखबारी करियर शुरू करने से पहले शीतल सोशल और पोलिटिकल एक्टिविस्ट हुआ करते थे. देश समाज बदलने का जज्बा लिए ग्रासरूट लेवल यानि गरीबी के ग्राउंड जीरो पर काम किया करते थे. बाद में बिजनेस में आए और अपने उद्यम से आर्थिक रूप से समृद्ध हो गए. लेकिन इस भागमभाग में मीडिया कहीं पीछे छूट गया. अब फेसबुक और ट्विटर ने उन्हें फिर से लिखने कहने बोलने का माध्यम दे दिया है.

आईबीएन7 और ईटीवी वालों ने स्ट्रिंगरों को वेंडर बना डाला! (देखें फार्म)

अंबानी ने चैनल खरीद लिया तो जाहिर है वह एक तीर से कई निशाने साधेंगे. साध भी रहे हैं. मीडिया हाउस को मुनाफे की फैक्ट्री में तब्दील करेंगे. मीडिया हाउस के जरिए सत्ता की दलाली कर अपने दूसरे धंधों को चमकाएंगे. मीडिया हाउस के जरिए पूरे देश में रिलायंस विरोधी माहौल खत्म कराने और रिलायंस पक्षधर दलाली को तेज कराने का काम कराएंगे. इस कड़ी में वे नहीं चाहते कि जिले से लेकर ब्लाक स्तर के पत्रकार कभी कोई आवाज उठा दें या रिलायंस की पोल खोल दें या बागी बन जाएं. इसलिए रिलायंस वाले खूब विचार विमर्श करने के बाद स्ट्रिंगरों को वेंडर में तब्दील कर रहे हैं. यानि जिले स्तर का आईबीएन7 और ईटीवी का स्ट्रिंगर अब वेंडर कहलाएगा और इस बाबत दिए गए फार्मेट पर हस्ताक्षर कर अपने डिटेल कंपनी को सौंप देगा.

सतीश उपाध्याय, उमेश उपाध्याय और बिजली कंपनियों का खेल

Madan Tiwary : सतीश उपाध्याय पर अरविन्द केजरीवाल ने आरोप लगाये है बिजली के मीटर को लेकर सतीश उपाध्याय बीजेपी के दिल्ली अध्यक्ष हैं। उन्होंने मानहानि का मुकदमा करने की धमकी दी है और आरोपों से इंकार किया है। सतीश जी, शायद केजरीवाल के हाथ बहुत छोटी सी जानकारी लगी है। आप जेल चले जायेंगे सतीश जी। आपके ऊपर करीब चार सौ करोड़ बिजली कंपनी से लेने का मुद्दा बहुत पहले से गरमाया हुआ है और आपके भाई उमेश उपाध्याय की सहभागिता का भी आरोप है। यह दीगर बात है कि पत्रकार बिरादरी भी यह सबकुछ जानते हुए खुलकर नहीं बोल रही है। दिल्ली की जनता को दुह कर दिल्ली की सत्ता को दूध पिलाने का काम करती आ रही हैं बिजली कंपनियां। खैर मुद्दा चाहे जो हो लेकिन एक साल के अंदर बिजली की दर 2:80 प्रति यूनिट से 4:00 प्रति यूनिट करने की दोषी तो भाजपा है ही। देश है, सब मिलकर बेच खाइये। जनता है, किसी न किसी को वोट देगी ही। काश! देश की जनता सही लोगों को चुन पाती या चुनाव बहिष्कार कर पाती। अपने नेताओं से सवाल कर पाती। काश।

मुकेश अंबानी खरीदेंगे अंतरराष्ट्रीय बिजनेस अखबार ‘फायनेंशियल टाइम्स’!

मुकेश अंबानी ने ईटीवी, आईबीएन7, सीएनएन-आईबीएन समेत कई चैनलों-मीडिया कंपनियों को खरीदने के बाद अब अंतरराष्ट्रीय मीडिया का मोलभाव करना शुरू कर दिया है. ताजी सूचना के मुताबिक उनकी नजर अंतरराष्ट्रीय बिजनेस अखबार ‘फायनेंशियल टाइम्स’ पर है. भारत के साथ विदेशों में भी अपना मीडिया साम्राज्य फैलाने को लेकर लालयित अंबानी के एक प्रतिनिधि ने पियरसन समूह से संपर्क साधा है. अंतरराष्ट्रीय बिजनेस अखबार फायनेंशियल टाइम्स को प्रकाशित करने वाली कंपनी का नाम पियरसन समूह है. 

370 एकड़ वन जमीन सौंपकर उद्योगपति अडानी का कुछ एहसान चुका दिया मोदी जी ने

Yashwant Singh : मुंबई मिरर में आज खबर है कि मोदी की सरकार ने अपने प्रिय उद्योगपति मिस्टर अदानी के गोंडिया पावर प्रोजेक्ट के लिए 370 एकड़ वन जमीन की स्वीकृति दे दी है. यानि 370 एकड़ जंगल की जमीन पर अब अदानी का अधिकार होगा और उनका पावर प्रोजेक्ट चलेगा. अदानी को इस प्रस्ताव पर स्वीकृति पूरे छह साल तक इंतजार के बाद मिली है. यानि जब मोदी जी केंद्र में आए हैं तभी अदानी के प्रस्ताव पर ओके की मुहर लग गई है. और, इस प्रकार अदानी साब ने मोदी के लिए चुनाव में जो जो किया, उसका छोटा सा एहसान मोदी जी ने चुका दिया है. पावर प्रोजेक्ट चले, बिजली बढ़े, इस पर किसी को एतराज न होगा. लेकिन सवाल वही है कि आम जन का भला करने के नाम पर आई मोदी सरकार सबसे तेजी से उद्योगपतियों की जेब भरने में लगी है.