पत्रकार और उद्यमी अश्विनी श्रीवास्तव का आज बड्डे है

आज Ashwini Kumar Srivastava जी का बड्डे है. मल्टी टैलेंटेड युवा हैं ये. दिल्ली में बड़े अखबारों में पत्रकार रहे. नौकरी को नमस्ते कर अपने होम टाउन लखनऊ लौटे और रियल स्टेट की दुनिया में कूद पड़े. यहां भी झंडे गाड़े. जब जी होता है गाड़ी उठाते हैं और निकल पड़ते हैं जंगल पहाड़ समंदर को गले लगाने.

अध्यात्म के फील्ड में कई प्रयोग कर चुके हैं. उदात्त चेतना के आदमी हैं. चीजों को समय से पहले महसूस-भांप लेते हैं. लिखने-पढ़ने के बेहद शौकीन. आजकल सुशांत सिंह सुसाइड प्रकरण को निजी स्तर पर इनवेस्टिगेट कर अपने एफबी वॉल को काला कर रहे हैं.

बेइमानी और लीचड़ई इन्हें पसंद नहीं. भ्रष्टाचारी चाहें जितना बड़ा हो, रिश्वत देने के बजाय दो-दो हाथ कर लेने में यकीन रखते हैं.

कभी कभी इनका सभी चीजों से मोहभंग हो जाता है. सोचने लगते हैं, कहीं कुछ नहीं रक्खा है, सब माया है…

बेबाक इतने कि सच को लिख ही डालते हैं, कह ही देते हैं, चाहें किसी को बुरा लगे या भला, चाहें इससे खुद का नुकसान हो या फायदा… यही कारण है कि वह रीयल इस्टेट फील्ड में रहते हुए भी बेबाक लेखन करते रहे और इसका खामियाजा उठाते रहे.

कुछ कुछ मैं भी इन जैसा ही हूं. इसलिए अपनी प्रकृति फितरत के लोग जब मिलते हैं तो अपने-से लगने लगते हैं. अश्विनी जी की जो मित्र मंडली है उसमें Satyendra PS भाई समेत कई लोग हैं. एक दफे ग्रुप फोन काल पर तय हुआ कि जल्दिये सब लोग अपना अपना नगर शहर छोड़कर कहीं जंगल में भाग लेते हैं. पर लगता है भागने का अभी मुहुर्त निकला नहीं सका है.

फिलहाल तो जन्मदिन की ढेरों मुबारकबाद अश्विनी जी. ऐसे ही मौलिक अंदाज में सोचते जीते रहिए, खुद के दिल-दिमाग का वर्जन खुद ही अपग्रेड करते रहिए…

हालांकि आप मदिरा त्याग चुके हैं पर आज शाम आपके बड्डे के मौके पर इधर दिल्ली में बरसेगी शराब और हम लोग चीयर्स कर भीगा जाएगा…

जैजै

यशवंत

भड़ास एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

अश्विनी के बारे में ज्यादा जानने के लिए ये भी पढ़ें-

पुनीत जैन ने तेज और रूखे स्वर में पूछा- ‘क्या तुम वामपंथी हो?’

आत्मनिर्भरClass : मीडिया की अच्छी खासी नौकरी छोड़ अश्विनी ने शुरू की अपनी कंपनी और सफल हुए, देखें वीडियो

शराब छोड़ना चाहते हैं तो पहले शराबी दोस्तों से तौबा करें!

यूपी के एक दुखी युवा उद्यमी का दर्द- ”योगी जी के राज में देर भी है, अंधेर भी”

एक बिल्डर का आरोप- ”योगी जी के सजातीय एसपी सिंह निरंकुशता और भ्रष्टाचार की जीती जागती मिसाल बन चुके हैं”

लखनऊ के इस महाघूसखोर ने डिप्टी सीएम का नाम लेकर पत्रकार से उद्यमी बने शख्स को धमका डाला!

अमृत चख कर लीडा की कुर्सी पर बैठे एसपी सिंह को योगी सरकार ने अब मृत्युलोक के तमाम आम प्राणियों की तरह नश्वर बना दिया

योगी राज में युवा उद्यमी के संघर्ष को मिली जीत, करप्ट अफसरों का गिरोह हारा

रिश्वत के लिए फाइल पर कुंडली मार कर बैठ जाता है ये अफसर, कंप्लेन पर पीएमओ भी सक्रिय

”लीडा के वरिष्ठ परियोजना प्रबंधक एसपी सिंह ने हमारी फाइल को मोटी घूस की वजह से रोक रखा है”

योगी सरकार में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के प्रोजेक्ट्स की सुनवाई बिल्कुल नहीं हो रही!

लखनऊ में विकास कार्य अखिलेश-माया सरकारों की तुलना में लगभग शून्य!

घबराइए कि आप योगी राज के लखनऊ में हैं!

मोदीनॉमिक्स से हुआ देश का आर्थिक बंटाधार!

घरों में सप्लाई का सपना दिखा योगी हुए पूजा में लीन, पुलिस ज़रूरतमन्दों पर लट्ठ बजा रही!

हतप्रभ करती है तुगलक और मोदी की साम्यता!

योगी राज में बाबूओं की मनमर्जी पर लगी लगाम!

‘भड़ास के सम्मान के जरिए जो कमाया है, वह मेरे जीवन संघर्ष का निचोड़ है’

जेल-थानों में मर्डर को जायज ठहराने वाली ‘भक्त’ मानसिकता की पड़ताल

योगी डाल-डाल तो भ्रष्ट अफसर पात-पात!

योगी आदित्यनाथ का सरकारी तंत्र से भ्रष्टाचार हटाने का अभियान महज साल भर में फुस्स

नीता अंबानी की अय्याशियां!

सुप्रीम कोर्ट ने स्पष्ट तौर पर बता दिया- इस देश में न्याय ले पाना अब मीडियाकर्मी के भी बूते की बात नहीं!

मीडिया ने बसपा और मायावती जैसी कद्दावर ताकत को चुनावी लड़ाई से बाहर कर दिया!

रियल एस्टेट : फिर से दुबला हो गया या अच्छे दिन वापस लौट आए?

लखनऊ के पत्रकार अश्विनी कुमार श्रीवास्तव को लगा चूना, डिजिटल बैंकिंग से किया तौबा

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *