भास्कर छोड़ पत्रिका गए संतोष पांडेय

पानीपत : यहां भास्कर में कार्यरत संतोष पांडेय ने अखबार छोड़ दिया है। अब वह राजस्थान पत्रिका, जयपुर के साथ अपना आगे का कार्यकाल शुरू करने जा रहे हैं। वह इससे पूर्व सतना, वाराणसी, देहरादून, लखनऊ में मीडिया के साथ जुड़े रहे हैं। Share on:कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

जयपुर भास्कर कर्मियों का श्रम विभाग पर दबाव बरकरार, लेबर इंस्पेक्टर की लीपापोती की कमिश्नर से शिकायत

सुप्रीम कोर्ट के आदेश अनुसार मजीठिया की जाँच में जयपुर लेबर इंस्पेक्टर द्वारा चल रही लीपा पोती और खानापूरी के संदर्भ में जयपुर भास्कर की टीम ने जॉइंट लेबर कमिश्नर को अपनी शिकायत देकर मैनजमेंट के खिलाफ अपना दबाव बरकरार रखा है। मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि हर मीडिया कर्मी को उसका हिस्सा मिले। जो बुरा करे, उसके साथ बुरा हो और अच्छे के साथ बहुत अच्छा, ये भी ईश्वर का नियम है। शिकयत संलग्न है –

अखबार मालिकों की गोद में बैठे श्रम इंस्पेक्टरों की आयुक्त से शिकायत

जयपुर : दैनिक भास्कर जयपुर में मैनेजमेंट के सामने बैठ कर जाँच के नाम पर लीपापोती करने वाले लेबर इंस्पेक्टरों के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी गई है। 

रवीन्द्र भवन : कलाओं का ध्वंस जारी, बर्बाद करने के लिए आधारभूत ढाँचों पर चोट

जयपुर : सरकार ने जब पुणे के फिल्म संस्थान को बर्बाद करने के लिये अपने महान योद्धा को मोर्चे पर भेज रखा है तो वह रंगमंच को बख्श देने की दरियादिली की जेहमत भला क्यों उठाने लगी? फर्क सिर्फ इतना है कि फिल्म के मोर्चे पर जहाँ ‘धर्मराज युधिष्ठिर’ को तैनात किया गया है, वहीं रंगमंच पर प्रहार करने के लिये कौरवों की सेना तैयार की गयी है जो ठेकेदार के भेस में आकर रवीन्द्र-मंच पर प्रहार करने में लगे हैं। 

भास्कर के सताए हुए और श्रम विभाग से निराश नरेंद्र सर्वोदयी पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

भास्कर प्रबंधन से परेशान नरेंद्र सर्वोदयी ने भड़सा4मीडिया को लिखे पत्र में बताया है कि किस तरह से भास्कर प्रबंधन ने उन्हें मजीठिया वेतनमान न देने के उद्देश्य से भारत की सीमा पर बाड़मेर कर दिया। उन्होंने अखबार प्रबंधन की तानाशाही और आपबीती इस प्रकार बयान की है – 

जयपुर भास्कर ने संजय सैनी का जवाबी पत्र लेने से किया इनकार

जयपुर भास्कर प्रबंधन अब अपने पत्रों का जवाब स्वीकार करने से मना कर रहा है। इस कड़ी में वरिष्ठ पत्रकार संजय सैनी की ओर से 17 मई का भेजा हुआ जवाबी पत्र भास्कर प्रबंधन ने स्वीकार नहीं किया है। सैनी ने भास्कर जयपुर की एचआर हेड वंदना सिन्हा को पत्र भेज कर 21 मई तक रांची ज्वाइन करने की चेतावनी भरे पत्र का कड़ा जवाब दिया था। उन्होंने अपने डेपुटेशन को अवैध व गैरकानूनी बताते हुए आदेश को भास्कर प्रबंधन की दुर्भावनावश की गई हरकत करार दिया था। सैनी ने यह जवाबी पत्र स्पीड पोस्ट से भिजवाया था लेकिन वंदना सिन्हा ने इसे रिफ्यूज कहते हुए लेने से मना कर दिया। सैनी को जब यह पत्र मिला तो उन्होंने बाकायदा ई-मेल कर भास्कर प्रबंधन की इस हरकत की जानकारी सर्वोच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल को भी दे दी है। 

मजीठिया वेतनमान : राजस्थान के श्रममंत्री ने दिए इंस्पेक्टर की नियुक्ति के आदेश

जयपुर में गुरुवार को मजीठिया वेज बोर्ड इम्प्लीमेंटेशन संघर्ष समिति की ओर से राजस्थान के श्रममंत्री सुरेंद्रपाल सिंह टीटी को ज्ञापन दिया गया। उनको सुप्रीम कोर्ट के 28 अप्रैल को दिए गए आर्डर की कॉपी भी दी गई। साथ ही उनसे मांग की गई की कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार इंस्पेक्टर की नियुक्ति की जाए, जो सभी अखबारों की जाँच करे कि उन्होंने मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशों के अनुसार अपने वर्कर / पत्रकारकर्मियों को बढ़ा हुआ वेतन दिया अथवा नहीं। 

राजस्थान के श्रममंत्री सुरेंद्रपाल सिंह टीटी को ज्ञापन देते दैनिक भास्कर के वरिष्ठं पत्रकार संजय सैनी, पत्रिका के राकेश शर्मा अमित मिश्रा, व उनके साथी 

ओछी हरकतों पर उतरा जयपुर भास्कर प्रबंधन

श्रम विभाग में सुनवाई के दौरान शुक्रवार को जयपुर भास्कर प्रबंधन के कर्मचारी ओछी हरकतों पर उत्तर आए। भास्कर के पत्रकारों ने सीटू के सचिव जयपुर भास्कर के सीओओ संजय शर्मा ओर एच आर मैनेजर वंदना सिन्हा के खिलाफ प्रताड़ना और दुर्भावना से कार्रवाई करने पर केस कर रखा है। इस केस में श्रम विभाग ने सीओओ संजय शर्मा ओर एच आर मैनेजर वंदना सिन्हा को नोटिस जारी कर रखे है जिसकी शुक्रवार को तारीख थी। 

मीडिया की मंडी में हमारे लिए अब जयपुर के वे दिन सपने जैसे

ये मार्च या अप्रैल 1990 था,जब मैं जयपुर दूरदर्शन समाचार विभाग से नियमित जुड़ा था।एक कैजुअल सब एडिटर कम ट्रांसलेटर के रूप में……हर महीने दस दिन की बुकिंग मिलती थी….उससे एक मुश्त कमरे का किराया और भोजन सहित छोटा-मोटा खर्च निकल जाता था,ये बहुत बड़ा सहारा था।साथ ही यह उम्मीद भी, कि कभी मौका लगा तो दूरदर्शन में स्थायी हो जाएंगें।तब किसी ने मार्गदर्शन नहीं दिया था,कि समाचार विभाग में सरकार कभी एडिटर या सब एडिटर की पोस्ट नहीं निकालेगी।खैर ये तो लंबे समय तक धक्के खा कर खुद ही समझना पड़ा।समाचार संपादक एम आर सिंघवी ने मुझमें विश्वास जताया और न्यूज रूम में हर तरह के असाइनमेंट करने का मौका दिया।

भास्कर जयपुर के सीओओ संजय शर्मा को सताने लगा जेल जाने का डर

दैनिक भास्कर जयपुर के सीओओ संजय शर्मा को अब ये डर सताने लगा है कि अवमानना के मामले में सुप्रीम कोर्ट उन्हें भी कही जेल न भेज दे। 

सुप्रीम कोर्ट की अवमानना से नहीं बच पायेंगे भास्कर जयपुर के सीओओ संजय शर्मा

दैनिक भास्कर जयपुर के सीओओ संजय शर्मा भी सुप्रीम कोर्ट की अवमानना से नहीं बच पायेंगे। 

पत्रकारों का उत्पीड़न करने पर भास्कर जयपुर के सीओओ और एचआर हेड एक मई को तलब

जयपुर : पत्रकारों का उत्पीड़न करने पर दैनिक भास्कर के सीओओ संजय शर्मा और एच आर हेड वंदना सिन्हा को श्रम विभाग जयपुर ने कारण बताओ नोटिस जारी कर 1 मई को अपने यहां तलब किया है।

जयपुर में मीडिया सम्मेलन का समापन : सोशल मीडिया पर खबर लिखवाना भी सिखाएं पत्रकारिता संस्थान

जयपुर : न्यू मीडिया हमारे जैसे पत्रकारों के लिए चुनौती है, पत्रकारिता संस्थानों को ट्यूटर और फेसबुक पर खबर लिखवाना भी सिखाना चाहिए। चाहे ओसामा बिन लादेन के मरने की खबर हो, चाहे जापान में आई भारी सुनामी की खबर हो, ये सभी खबरें सबसे पहले सोशल मीडिया पर ही ब्रेक हुई थी। सोशल मीडिया …

मीडिया गुरुओं के सम्मेलन में दूसरे दिन पत्रकारिता की भाषा और भूमिका पर पढ़े गए शोधपत्र

जयपुर : मीडिया शिक्षकों के महाकुंभ के दूसरे दिन मणिपाल विवि में देश भर से आए मीडिया शिक्षक और रिसर्च स्कोलरों ने शोध पत्रों का वाचन किया। अधिकांश शोध पत्र पारंपरिक और सोशल मीडिया के सामाजिक प्रभाव, पत्रकारिता की भाषा, विज्ञापन, सिनेमा, न्यू मीडिया, वेब पत्रकारिता और संचार माध्यमों से जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर केंद्रित रहे। तकनीकी सत्रों की अध्यक्षता देश भर से आये मीडिया शिक्षकों ने की। प्रतिभागियों ने 180 से अधिक शोध पत्र प्रस्तुत किए और बदलते दौर में मीडिया की भूमिका को रेखांकित किया।

जयपुर में मीडिया महाकुंभ शुरू, पहले दिन गूंजी तीसरे प्रेस आयोग के गठन की मांग

जयपुर : राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर में गुरुवार को मीडिया शिक्षकों का तीन दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन शुरू हो गया। इसमें बीस राज्यों के ढाई सौ से अधिक मीडिया गुरू समाज में सकारात्मक बदलाव और इसमें मीडिया की भूमिका पर विचार विमर्श करने के लिए जमा हुए हैं। सम्मेलन का उदघाटन माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय भोपाल के कुलपति प्रो. बी के कुठियाला ने किया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि नेशनल बुक ट्रस्ट के अध्यक्ष बलदेव भाई शर्मा ने कहा कि पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा स्तंभ नहीं, वरन प्रमुख स्तंभ है। प्रो. कुठियाला ने तीसरे प्रेस आयोग के गठन की मांग की। ब्रॉडकास्टर्स एडिटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के महासचिव एन.के. सिंह ने मीडिया के कामकाज में सरकारी दखल को गैर जरूरी करार दिया।

मंचासीन प्रो. सच्चिदानंद जोशी, एनबीटी चेयरमैन बल्देव भाई शर्मा, वीसी प्रो. बीके कुठियाला, वरिष्ठ पत्रकार एनके सिंह, उमेश उपाध्याय, संजीव भानावत आदि 

जयपुर में चौदह राज्यों के ढाई सौ से अधिक मीडिया शिक्षकों का सम्मेलन 2 से 4 अप्रैल तक

जयपुर (राजस्थान) : राजस्थान विश्व विद्यालय के मानविकी सभागार में दो अप्रैल से देश भर के जाने-माने मीडिया शिक्षक जुटेंगे। वे ‘समाज में सकारात्मक बदलाव लाने में मीडिया की भूमिका’ विषय पर आयोजित किए जा रहे तीन दिवसीय अखिल भारतीय मीडिया शिक्षक सम्मेलन में शिरकत करेंगे। 

भास्कर जयपुर के संपादक की प्रताड़ना से तंग आकर इस्तीफा

जयपुर : दैनिक भास्कर जयपुर में 18 साल से कार्यरत मुख्य उपसंपादक रामबाबू सिंघल ने संपादक एल पी पंत की प्रताड़ना से तंग आकर अपना इस्तीफा एम डी सुधीर अग्रवाल को भेज दिया है। उन्होंने एम डी को भेजे अपने पत्र में कहा है कि एक पत्रकार के तौर पर कमर्ठता से सेवा दी है। पिछले कई दिनो से संपादक एल पी पंत उन्हें लगातार प्रताड़ित कर रहे हैं।

प्रताप सिंह राठौड़ लेकसिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष निर्वाचित

उदयपुर। उदयपुर पत्रकार हितों की रक्षा करने के उद्देश्य से गठित हुए लेकसिटी प्रेस क्लब के 11वें अध्यक्ष के रूप में प्रतापसिंह राठोड निर्वाचित हुए। प्रेस क्लब के इतिहास में लंबे अरसे बाद हुई मतदान प्रक्रिया में प्रताप सिंह राठोड ने 61 मतों से जीत हासिल कर अपने प्रतिद्वंदियों को करारा जवाब दिया। दरअसल चुनाव प्रक्रिया के दौरान इलेक्ट्रोनिक मीडिया से जुडे प्रतापसिंह के सामने ओम पुर्बिया और प्रमोद गौड जनाधार नहीं होने के बावजुद अपनी जिद पूरी करने के लिये चुनावी मेदान में उतरे लेकिन क्लब से जुडे पत्रकारों ने क्लब में हुए विकास कार्यो को प्रमुखता देते हुए प्रतापसिंह राठोड को भारी मतों से विजयी बनाया।

नेशनल दुनिया जयपुर के पूर्व चीफ रिपोर्टर राकेश कुमार शर्मा ने मालिक शलभ भदौरिया को लिखा लंबा-चौड़ा पत्र

नेशनल दुनिया, जयपुर के पूर्व चीफ रिपोर्टर राकेश कुमार शर्मा ने अखबार के मालिक और प्रधान संपादक शैलेन्द्र भदौरिया को लंबा चौड़ा पत्र लिखकर अखबार के अंदरखाने चल रहे करप्शन और गड़बड़ियों का खुलासा किया है. साथ ही उन्होंने संस्थान से इस्तीफा देने की घोषणा करते हुए बकाया दिलाने की मांग की है. उन्होंने पत्र में सब्जेक्ट के रूप में लिखा है- ”नेशनल दुनिया जयपुर संस्करण के संपादक के संरक्षण में डरा-धमकाकर हो रही उगाही और भ्रष्ट कार्यशैली के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट, साथ ही एक महीने के नोटिस पूरा होने के बाद संस्थान को छोडऩे एवं मेरे देय वेतन-भत्ते दिलवाने के बाबत।”

पत्रकार एलएल शर्मा ने एक ही अखबार में 25 साल की पारी पूरी की

राजस्‍थान के सबसे पुराने समाचार पत्र दैनिक नवज्‍योति के चीफ रिपोर्टर एलएल शर्मा ने अपनी 25 साल की सेवाएं पूरी कर ली। एक ही समाचार पत्र में फील्‍ड में इतनी लंबी पारी खेलने वाले शर्मा जयपुर के पहले पत्रकार है। इस उपलब्धि पर गुलाबीनगर जयपुर के पत्रकारों और सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों ने उनको बधाई दी है। शर्मा पिंकसिटी प्रेस क्‍लब जयपुर के चार बार अध्‍यक्ष रह चुके हैं।

नेशनल दुनिया जयपुर में सेलरी संकट, काम बंद करने की तैयारी

नेशनल दुनिया अखबार के सभी संस्करणों में वेतन का संकट खड़ा हो गया है. दिल्ली, उत्तर प्रदेश और जयपुर में पत्रकारों और अन्य मीडिया कर्मियों को दो महीने से वेतन नहीं मिला है. दिल्ली और उत्तर प्रदेश के संस्करणों में पहले से ही सेलरी कई-कई महीने देरी से मिल रही है. अब जयपुर संस्करण में भी यह समस्या शुरू हो गई है. जयपुर में नवंबर महीने की तनख्वाह अभी तक नहीं मिली है, इधर दिसंबर भी बीतने जा रहा है.