जिस पत्रकार का सम्मान होना चाहिए, ‘न्यूज नेशन’ चैनल ने उसे निकाल दिया!

Sahab Deen Yadav : पत्रकार संस्थान के लिए काम करते हैं… संस्थान के लिए जान लगा देते हैं… कैसे भी, कुछ भी, किसी से भी दुश्मनी लेकर ख़बर करते हैं… लेकिन दुःख तब होता है जब संस्थान पत्रकार की मेहनत को दरकिनार कर सरकार के कहने पर अपने पत्रकार को अपने संस्थान से हटा देता …

न्यूज नेशन के मालिकों-प्रबंधकों! अप्रेजल फार्म तो पहले ही भरवा लिए, बढ़ी हुई सेलरी कब तक दोगे?

न्यूज नेशन की चिंदी चोरी… एक तरफ तो पत्रकार दुनिया में हो रहे अन्याय की आवाज उठाते हैं वहीं दूसरी ओर खुद पर हो रहे अन्याय को चुपचाप सह लेते हैं। इसके उदाहरण तो कई हैं मगर आज यह बात मीडिया के एक बहुत बड़े संस्थान से जुड़ी है। बात हो रही है न्यूज़ नेशन न्यूज़ चैनल की। प्रबंधन के 2 चैनल (न्यूज नेशन, न्यूजस्टेट) हैं। न्यूज नेशन टॉप 5 का चैनल है और न्यूज स्टेट यूपी-उत्तराखंड में काफी समय से पहले पायदान पर काबिज है। साथ ही तीसरे चैनल (न्यूजस्टेट MP-CG) की तैयारियां भी जोरों पर हैं। इससे साफ है कि संस्थान के पास पैसों की कमी नहीं है।

‘न्यूज नेशन’ उगाही कथा (8) : पहले स्टिंग फिर वसूली का ये रहा सबसे बड़ा प्रमाण… (देखें वीडियो)

‘आपरेशन जोंक’ के नाम पर उगाही करने वाले न्यूज नेशन चैनल की पूरी कथा सात पार्ट में आप पहले ही पढ़ चुके हैं. जाने माने खेल पत्रकार पदमपति शर्मा उगाही के खेल के सारे दांव-पेंच का रहस्य एक-एक कर उदघाटित करने का कार्यक्रम संपन्न कर चुके हैं. चूंकि पदमपति शर्मा न्यूज नेशन चैनल में कार्यरत रहे हैं, इसलिए उन्हें इस चैनल के अंदरखाने के चाल-ढाल रंग-रूप सोच-समझ के बारे में सब कुछ अच्छे-से पता था. इसलिए उन्होंने जब उगाही कथा का वर्णन शुरू किया तो लोगों ने दांतों तले उंगली दबा ली कि क्या सरोकारी होने का दावा करने वाला यह न्यूज चैनल इतने बड़े गंदे खेल में पूरी तन्मयता से लिप्त है!

सरोकारी चैनलों का सच : एनडीटीवी मनी लांड्रिंग में दोषी… न्यूज नेशन उगाही में लिप्त…

Yashwant Singh : एनडीटीवी न्यूज चैनल मनी लांड्रिंग का दोषी पाया गया… सेबी ने दो करोड़ रुपये जुर्माना ठोंका… उधर, न्यूज नेशन चैनल उगाही को नंबर एक का धंधा बनाने में लिप्त मिला… एफआईआर दर्ज होने के बाद पूरा मामला दिल्ली के क्राइम ब्रांच के पास… दोस्तों ये दो न्यूज चैनलों की ताजी और बड़ी कहानियां हैं… अच्छा है… सब नंगे हो रहे हैं… बहुत जल्दी जल्दी…. बाजार ने लालचियों को बेनकाब कर डाला है… हिप्पोक्रेटों के असली चेहरे दिखा दिए हैं…. ये लोग सरोकार की पत्रकारिता का डंका पीटते हैं… पर पर्दे के पीछे क्या खेल करते हैं, यह जानकर हमको आपको धक्का जरूर लगता है…

‘न्यूज नेशन’ उगाही कथा (1) : स्टिंग ‘आपरेशन जोक’ के नाम पर जमकर माल कूटा!

हे परमात्मा !! जिसका अंदेशा था, वही हुआ. स्टिंग के नाम पर ‘उगाही’ को उद्योग बनाने वाला टेलीविजन चैनल वह है जिसको मैने भी अपने पसीने से सींचा था. दिल्ली नर्सिंग होम फोरम के सदर डाक्टर सी एम भगत ने जब मुझे बताया कि यह गंदा धंधा करने वाला चैनल “न्यूज नेशन” है और उसके खिलाफ एफआईआर ही नहीं हुई वरन ब्राडकास्ट यूनियन से भी चैनल के धतकरमों की शिकायत की गयी है, तब मेरे तो पैरों तले जमीन ही खिसक गयी.

न्यूज नेशन का संवाददाता गया जेल, रामदेव से कारतूस लेकर मिलने गया था

इस शख्स को जरा गौर से देखिये. ये महाशय हैं हरिद्वार के पत्रकार आशु शर्मा. न्यूज चैनल न्यूज़ नेशन के पत्रकार हैं. हरिद्वार में बतौर सम्वाददाता कार्यरत हैं. पत्रकार जेब में कलम लेकर चलते हैं लेकिन ये महाशय तो 315 बोर का कारतूस लेकर चलते हैं. वो भी बाबा रामदेव के यहाँ. आखिर आशु शर्मा 315 बोर के कारतूस के साथ पकड़े गए. इन्हें जेल जाना पड़ गया.

‘न्यूज नेशन’ चैनल दलालों को पत्रकारिता का प्रमाण-पत्र बांट रहा है!

बुलंदशहर में न्यूज नेशन चैनल दलालों को पत्रकारिता का प्रमाण-पत्र बांट रहा है। 26 जनवरी तक मोहित गौमत नाम के एक शख्स को न्यूज नेशन ने पत्रकार बना रखा था जो इंटरलाक टाइल्स मामले में फैक्ट्री संचालकों से रुपये वसूलते हुए पकड़ा गया। केस में जिलाधिकारी से शिकायत होने पर रिपोर्ट शासन को भेजी गयी और सीएम अखिलेश यादव के हस्तक्षेप के बाद मोहित गौमत को चैनल के मालिकों ने तत्काल प्रभाव से हटा दिया। अब नया कारनामा सुनिये। नदीम खान नाम के एक व्यक्ति को अब न्यूज नेशन की ‘आईडी’ देकर पत्रकार बना दिया गया है।

टीआरपी चौथा हफ्ता : इंडिया न्यूज ने आखिरकार न्यूज नेशन को परास्त कर दिया

चौथे हफ्ते की टीआरपी में एक बड़ा उलटफेर पांचवें और छठें पायदान पर देखने को मिल रहा है. इंडिया न्यूज ने छलांग लगाते हुए न्यूज नेशन चैनल को लुढ़का दिया है और खुद नंबर पांच की पोजीशन पर पहुंच गया है. एनडीटीवी को इस हफ्ते लाभ हुआ है लेकिन आईबीएन7 का पतन जारी है. नंबर एक और नंबर दो पर तैनात न्यूज चैनलों आजतक व इंडिया टीवी के बीच फासला काफी कम रह गया है. यह आजतक के लिए खतरे की घंटी है. टीआरपी के आंकड़े इस प्रकार हैं….

न्यूज नेशन नंबर चार तक पहुंच गया, जी न्यूज रसातल की ओर

इस साल के तीसरे हफ्ते की टीआरपी में सबसे बड़ा उलटफेर जी न्यूज और न्यूज नेशन के बीच हुआ है. जी न्यूज जो लगातार चौथे नंबर का चैनल बना हुआ था, अब पांचवें नंबर पर खिसका कर भगा दिया गया है. न्यूज नेशन ने चार नंबर की कुर्सी अपने नाम कर ली है. इस तरह जी न्यूज रसातल की ओर चल पड़ा है. मोदी और सरकार का चौबीसों घंटे गुणगान करने का खामियाजा चैनल को भुगतना पड़ रहा है. आईबीएन7 की स्थिति थोड़ी सुधरी है और यह एनडीटीवी से उपर निकल गया है. टीआरपी के आंकड़े इस प्रकार हैं….

शैलेष बने फोकस न्यूज के सलाहकार, ईटीवी में मुकेश राजपूत को प्रमोशन

हिंदी न्यूज चैनलों से दो खबरें हैं. न्यूज नेशन चैनल के संस्थापक और एडिटर इन चीफ रहे शैलेष ने नई पारी की शुरुआत ‘फोकस न्यूज’ के साथ की है. शैलेष इस चैनल में बतौर सलाहकार जुड़े हैं. सूत्रों के मुताबिक नवीन जिंदल अपने न्यूज चैनल फोकस न्यूज को टाप टेन न्यूज चैनलों में लाना चाहते हैं. इसके लिए वह कई तरह के बदलाव कर रहे हैं. इसी क्रम में जाने-माने पत्रकार शैलेष को चैनल के साथ जोड़ा गया है. शैलेष नवभारत टाइम्स और आजतक में लंबे समय तक रहे हैं. न्यूज नेशन नामक चैनल को लांच कर कंटेंट के दम पर टाप फाइव न्यूज चैनलों में पहुंचाने वाले शैलेष ने कुछ माह पहले अचानक न्यूज नेशन से नाता तोड़ा लिया और घर बैठ गए.

इंडिया न्यूज, न्यूज नेशन यूपी यूटी, न्यूज24, सहारा समय समेत छह चैनल डीडी डीटीएच के फ्री डिश से डिलीट

एक बड़ी खबर दूरदर्शन की मुफ्त डीटीएच (डायरेक्ट टू होम) फ्री डिश से है. यहां से छह चैनलों को डिलीट कर दिया गया है जिनमें कई न्यूज चैनल भी शामिल हैं. हटाए गए न्यूज चैनलों के नाम न्यूज24, इंडिया न्यूज, सहारा समय, न्यूज नेशन यूपी यूटी हैं. इनके अलावा 9एक्स, जी स्माइल, ज्ञानदर्शन एक और ज्ञानदर्शन दो को भी हटा दिया गया है. इन्हें इसलिए हटाया गया क्योंकि इन्होंने अपना एनुअल कांट्रैक्ट रीन्यू नहीं कराया.

‘न्यूज नेशन’ चैनल की गैर-जिम्मेदार पत्रकारिता, पीड़ित एक्ट्रेस ने कोर्ट में केस दायर किया

Hello sir,

My name is kranti redkar, i belong to the marathi film industry and i have been working as an actress for the past 15yrs. I have worked honestly and always appreciated the love and affection that i received from people.

टैम वाले टामियों का टीआरपी बेचने का धंधा, एक ही हफ्ते में दो चैनलों को बना डाला नंबर वन!

एक बड़ी खबर टीआरपी आंकने वाली कंपनी TAM के यहां से आ रही है. पता चला है कि इस कंपनी ने, यानि टैम ने अपने कर्ताधर्ताओं यानि टामियों के इशारे पर एक ही हफ्ते में दो न्यूज चैनलों को नंबर वन बना डाला है. जी हां. उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के रीजनल न्यूज चैनलों की कैटगरी में टैम वालों ने इस साल के 34वें हफ्ते की टीआरपी में दो न्यूज चैनलों को नंबर वन बना दिया है. टामियों की कोशिश रही कि चुपचाप दोनों को अलग-अलग नंबर वन बना डालो और किसी को खबर भी न लगे. यही कारण है कि 34वें हफ्ते में ईटीवी वाले भी नंबर वन हैं और न्यूज नेशन वाले भी खुद को यूपी-यूके में नंबर वन बता रहे हैं. मजेदार है कि ईटीवी यूपी यूके की नंबर वन वाली टीआरपी में न्यूज नेशन यूपी यूके नहीं है और न्यूज नेशन यूपी यूके की टीआरपी में ईटीवी नहीं है.

न्यूज नेशन ग्रुप से जुड़ा रहूंगा, डे-टुडे के अफेयर्स नहीं देखूंगा : शैलेश

न्यूज नेशन के एडिटर इन चीफ पद से इस्तीफा देने वाले वरिष्ठ पत्रकार शैलेश ने भड़ास4मीडिया से बातचीत में स्वीकार किया कि उन्होंने इस्तीफा दे दिया है. पर उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि वे न्यूज नेशन समूह से जुड़े रहेंगे, लेकिन डे-टुडे के अफेयर्स नहीं देखेंगे. नया आगे क्या कुछ करेंगे, इस सवाल पर शैलेश का कहना है कि मैं अब इंडीपेंडेंट अपना कुछ करूंगा. टीवी नहीं करूंगा, यह तो तय है. मीडिया में करूंगा, यह भी तय है. क्या करूंगा, यह अभी नहीं बताऊंगा.

#newsnation

‘न्यूज नेशन’ के सीईओ और एडिटर इन चीफ शैलेश का इस्तीफा

एक बड़ी खबर न्यूज नेशन टीवी न्यूज चैनल की तरफ से आ रही है. इस चैनल के सीईओ और एडिटर इन चीफ शैलेश ने इस्तीफा दे दिया है. सूत्रों का कहना है कि संपादकीय कामकाज को लेकर मैनेजमेंट से हुए मतभेद के बाद उन्होंने इस्तीफा दिया. शैलेश के नेतृत्व में ही न्यूज नेशन चैनल को लांच किया गया और देखते ही देखते इसे सफल चैनलों की श्रेणी में ला खड़ा किया. न्यूज नेशन का यूपी-यूके रीजनल न्यूज चैनल भी लांच हुआ और यह भी कुछ ही दिनों में पकड़ बनाने में कामयाब हुआ.

#shailesh