राफेल घोटाला और शौरी-सिन्हा-भूषण की प्रेस कांफ्रेंस : भारत के मीडिया घराने फिर नंगे हो गए…

Girish Malviya

भारत के बड़े मीडिया घराने कल एक बार फिर नंगे हो गए… कल शाम 5 बजे के लगभग NDA सरकार में मंत्री रहे यशवंत सिन्हा और प्रसिद्ध पत्रकार अरुण शौरी तथा उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने संयुक्त रूप से सवाल उठाते हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की… इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में फ्रांस सरकार से लड़ाकू विमान राफेल के सौदे पर मोदी सरकार से कई प्रश्न उठाए गए…

लेकिन प्रेस कॉन्फ्रेंस ख़त्म होने के बाद कुछ गिने-चुने चैनलों-वेबसाइटों के अलावा और किसी मीडिया चैनल ने इस बारे में कुछ बताना तक जरूरी नहीं समझा.. रात 9 बजे के बाद जब इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को लेकर अनिल अंबानी की रिलायंस ने अपना जवाब पेश किया तब जाकर मीडिया को थोड़ी शर्म आयी और रिलायंस के जवाब के संदर्भ में मीडिया ने थोड़ी बहुत इस पर स्टोरी की.

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में अरुण शौरी ने मोदी सरकार के झूठ को साफ साफ बेनकाब कर दिया. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में कहा था कि अंबानी की कंपनी को राफेल विमान बनाने का ऑर्डर क्यों और कैसे मिला, इसकी जानकारी नहीं दे सकतीं क्योंकि फ्रांस सरकार के साथ सिक्रेसी एग्रीमेंट से बंधे हुए हैं.

अरुण शौरी ने कहा कि रक्षा मंत्री ने लोकसभा में सबसे बड़ा झूठ बोला क्योंकि भारत और फ्रांस के बीच हुए सिक्रेसी एग्रीमेंट में साफ लिखा है कि सिर्फ विमान की तकनीक से जुड़ी जानकारियों के लिए ये एग्रीमेंट प्रभावी होगा, रक्षा मंत्री बताएं कि अनिल अंबानी की कंपनी को कॉन्ट्रैक्ट क्यों दिया, इसका जवाब देने के लिए ये एग्रीमेंट कहां मना करता है? साफ है कि सीक्रेसी की आड़ में भ्रष्टाचार छुपाया जा रहा है… UPA के रक्षामंत्री एंटनी ने भी यही कहा था कि विमान के दाम का खुलासा ना करने की कोई शर्त नहीं रखी गई थी…

अरुण शौरी ने कहा कि सरकार की गाइडलाइन कहती है कि हर ऑफ़सेट कॉन्ट्रेक्ट चाहे वह जिस भी क़ीमत का हो, रक्षा मंत्री की मंज़ूरी से होगा… इसलिए मोदी सरकार झूठ बोल रही है कि रिलायंस को कॉन्ट्रेक्ट डेसाल्ट ने दिया एक ऐसी कम्पनी जिसे कांट्रेक्ट मिलने के 10 दिन पहले बनाया गया है, जिसे विमानन का कोई अनुभव नहीं है, उसे हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) पर वरीयता क्यों दी जा रही है…

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस से इतर बात की जाए तो कि अनिल अंबानी और उनकी कंपनी के रिलायंस पॉवर, रिलांयस कम्युनिकेशन या दिल्ली में एयरपोर्ट लाइन बनाने से ले कर दस तरह के ठेकों का जो रिकार्ड है, उसमे अम्बानी की कंपनी जैसी कर्ज में डूबी है, बरबाद हुई है, क्या उसे इस तरह की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है…

कल अम्बानी ने अपनी दी सफाई में यह भी माना कि है कि वो डील के साइन होते वक्त पेरिस में मौजूद थे… कुल मिलाकर रक्षा के क्षेत्र में राफेल डील देश का सबसे बड़ा बड़ा घोटाला साबित होने जा रहा है…

फेसबुक के चर्चित लेखक गिरीश मालवीय की वॉल से.

इसे भी पढ़ें…

राफेल की करप्ट डील में बुरी तरह फंसी मोदी सरकार : खा लिया और खाने भी दिया?



भड़ास का ऐसे करें भला- Donate

भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849



One comment on “राफेल घोटाला और शौरी-सिन्हा-भूषण की प्रेस कांफ्रेंस : भारत के मीडिया घराने फिर नंगे हो गए…”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *