राडिया टेप पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- इस टेप के कई प्रसंग बेहद परेशान करने वाले (सुनें)

सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को कहा कि पूर्व कॉरपोरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया के फोन टेप की कई बातें परेशान कर देने वाली हैं। सीबीआई ने कहा है कि इन टेपों में से कुछ की जांच जरूरी है। सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति जी. एस. सिंघवी और न्यायमूर्ति वी. गोपाल गौड़ा की पीठ ने कहा, "सीबीआई ने कई निष्कर्ष निकाले हैं और इस प्रतिलिपि में संभावित परिणाम कई चीजों को उजागर करते हैं। इसमें कई चीजें परेशान कर देने वाली हैं।"

‘देख तमाशा’ में इस बार दूरदर्शन के क्रांतिकारी अफसर राजशेखर व्यास

तहसीन मुनव्वर ने 'लोक स्वामी' मैग्जीन के 'देख तमाशा' कालम में इस बार राजशेखर व्यास का कार्टून बनवाया है और उनकी शख्सियत के बारे में बयान किया है. दूरदर्शन के अफसर राजशेखर व्यास को क्रांतिकारी अधिकारी कहा जाता है. इन्होंने आजादी की लड़ाई के योद्धाओं पर काफी काम किया है.

एंकर सिद्धार्थ शर्मा एबीपी न्यूज छोड़कर स्टार स्पोर्ट्स में एवीपी बने

एबीपी न्यूज से इस्तीफा देकर सिद्धार्थ शंकर स्टार स्पोर्ट्स में एवीपी बन गए हैं. करीब 11 वर्षों से स्टार न्यूज फिर एबीपी न्यूज के साथ एंकर के रूप में पारी खेल चुकने के बाद सिद्धार्थ शर्मा ने अब नई चुनौती से दो-चार करने का मन बनाया और स्टार स्पोर्ट्स का रुख किया.

Court issues fresh summons to Sahara, its chief Subrata Roy

Mumbai : The order came on a day when SEBI made a forceful plea in the Supreme Court today to take contempt action against Subrata Roy along with his two firms and their directors for not complying with its order for refunding Rs 24,000 crore to investors. A magistrate on Tuesday issued fresh summons to two Sahara Group firms and their top executives, including the organisation chief Subrata Roy, asking them to appear on September 30 in connection with the alleged violation of regulations of Companies Act and Sebi Act.

इलाहाबाद में विकास, अरुणाभ व विनीत ने ज्वाइन किया आई-नेक्स्ट, शशिकांत पहुंचे कैनविज टाइम्स, सात और इधर से उधर

इलाहाबाद में इस समय नौजवान पत्रकारों में भगदड़ मची हुई है। हाल ही में 10 ने संस्थान बदलकर नई जगह ज्वाइन कर लिया। इनमें ज्यादातर ऐसे नवयुवक खबरनवीस शामिल हैं, जिनके बारे में कहा जा सकता है कि उनकी पत्रकारिता की ट्रेनिंग अभी-अभी पूरी हुई है और वे अब मैदान में है, कलमबाजी का करतब दिखाने के लिए। इनमें पांच लड़के ऐसे हैं, जो अनुभवी, अनुशासनप्रिय व कलम के धनी संपादक डेली न्यूज एक्टिविस्ट के जेपी सिंह की पाठशाला से निकले हैं।

ताकि कल कोई और डिंपल घुट-घुट कर मरने को विवश न हो

यशवंत जी, मै डिंपल विपिन मिश्रा उल्हास नगर जिला ठाणे महाराष्ट्र में रहती हूं। मूलतः मैं चौबेपुर वाराणसी की रहने वाली हूं। मेरे पिताजी स्वर्गीय बलवंत मिश्रा मुंबई के एक काटन मिल में काम करते थे। लिहाजा मैं सपरिवार मुंबई रहती थी। मेरे पिताजी के दो पुत्र और दो पुत्रियां थीं। मैं छोटी थी। मेरी बड़ी बहन की मौत गाँव में ही संदिग्ध अवस्था में हो गयी थी। इसके बाद मेरे पिताजी सभी को लेकर मुंबई चले आए। पर मेरा बड़ा भाई विकलांग होने के कारण घर पर ही रह गया। मैं अपने पिताजी, माँ और छोटे भाई के साथ मुंबई के सायन उपनगर में हंसी खुशी के साथ रहती थी।

पुलिस ने 100 करोड़ उगाही में सुभाष चंद्रा, सुधीर चौधरी और समीर को दोषी माना, चार्जशीट दायर

पुलिस ने जिंदल पावर एंड स्टील लिमिटेड से कथित कोल ब्लॉक आवंटन घोटाले की आड़ में 100 करोड़ रुपये की उगाही के प्रयास मामले में जी न्यूज के चेयरमैन सुभाष चंद्रा, जी बिजनेस के संपादक समीर अहलूवालिया और जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी को जांच में दोषी पाया है। पुलिस ने तीनों के खिलाफ अदालत में आरोपपत्र दाखिल कर दिया है, जिस पर अदालत 19 अगस्त को संज्ञान लेगी। पुलिस ने इस मामले के अन्य आरोपी चेयरमैन के बेटे पुनीत गोयनका और भाई जवाहर गोयल को अभियुक्त बनाने के मुद्दे पर फैसला अदालत पर छोड़ दिया है।

टैक्स चोर है दबंग दुनिया अखबार का मालिक किशोर वाधवानी

इंदौर में नई दुनिया अखबार ने दबंग दुनिया अखबार के मालिक किशोर वाधवानी के खिलाफ टैक्स चोरी की एक खबर छापी है. इसमें बताया गया है कि किशोर वाधवानी ने कई करोड़ रुपये की टैक्स चोरी की है और संबंधित विभाग ने टैक्स चोरी को लेकर नोटिस जारी किया है. नई दुनिया के 30 जुलाई के अंक में छपी खबर की कटिंग किसी ने भड़ास के पास भेजा है, जिसे हम यहां प्रकाशित करने जा रहे हैं.

तेलंगाना के बाद कई और राज्यों के लिए बढ़ेगा दबाव

तेलंगाना के गठन का रास्ता साफ होने लगा, तो देश के कई हिस्सों में नए राज्यों के लिए दबाव बढ़ने जा रहा है। खासतौर पर गोरखालैंड की मांग कर रहे नेताओं ने अपनी सक्रियता दिखानी शुरू कर दी है। पश्चिम बंगाल के दार्जीलिंग में अलग गोरखालैंड बनाने की मांग सालों से चली आ रही है। गोरखा जनमुक्ति मोर्चा लंबे समय से इसके लिए आंदोलनरत रहा है। तेलंगाना के मुद्दे से उत्साहित होकर जीएमएम ने सोमवार से गोरखालैंड की मांग के लिए 72 घंटे के बंद का आयोजन भी कर डाला। इसी तरह से असम के उत्तरी हिस्सों के कई जिलों को मिलाकर पृथक बोडोलैंड बनाने की मांग हो रही है। दरअसल, इस इलाके में बोडो आदिवासियों का बाहुल्य है।

लंबी जद्दोजहद के बाद हो गया तेलंगाना का फैसला

लंबी जद्दोजहद के बाद कांग्रेस नेतृत्व ने आखिरकार आंध्र प्रदेश का बंटवारा करके तेलंगाना राज्य के गठन के लिए अपनी मंजूरी दे ही दी। आज (बुधवार) कैबिनेट की बैठक में तेलंगाना के प्रस्ताव पर मुहर लग जाएगी। पिछले पांच दशकों से तेलंगाना के मुद्दे पर आंदोलन चल रहा है। यूं तो कांग्रेस नेतृत्व ने 2009 में ही तेलंगाना के गठन की तैयारी कर ली थी। लेकिन, उस दौर में आंध्र प्रदेश के रॉयल सीमा और तटीय आंध्र के हिस्सों में इतनी उग्र प्रतिक्रिया हुई, जिसे देखते हुए कांग्रेस नेतृत्व ने इस फैसले को ठंडे बस्ते में डालने की कोशिश की थी।

मध्य प्रदेश जनसंपर्क का ‘एम’ गवर्नेन्स और आहूजा-नगेले की जोड़ी

अबतक ई गवर्नेंस शब्द शासकीय भाषा में केन्द्र एवं राज्य शासनों में प्रचलित हैं, लेकिन मध्यप्रदेश जन संपर्क ने नया शब्द इजाद कर लिया है- 'एम' गवर्नेंस. इसके अंतर्गत जनसम्पर्क विभाग के अपर सचिव एवं अपर संचालक जो पिछले एक दशक से ज्यादा समय से विज्ञापन शाखा को देख रहे हैं, अपने नित्य सखा अथवा साझेदार को लाभ पहुँचाने में कोई कसर नही छोड़ते हैं. 

आज समाज अखबार से छंटनी शुरू, संपादकीय के कई लोग निकाले गए

आज समाज में छंटनी की जो रिपोर्ट तैयार हुई थी, उस पर अमल शुरू कर दिया गया है. बताया जाता है कि कल सात लोगों को निकाल दिया गया. ये लोग जब आफिस पहुंचे काम करने तो उन्हें गेट से ही यह कहकर लौटा दिया गया कि वे लोग कार्यमुक्त हो चुके हैं. यह मामला आज समाज अंबाला का है.

टाइम्स ऑफ इंडिया से खफा हैं पूर्व सीजेआई कबीर, जेपी ग्रुप ने भी नोटिस भेजा

पूर्व चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया अल्तमस कबीर के कुछ फैसलों को लेकर जहां न्यायपालिका विवादों के घेरे में है, वहीं 27 जुलाई 13 को ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ अखबार में छपी न्यूज ''Apex court bench slams decision of ex-CJI Kabir'' जिसमें वर्तमान चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया की टिप्पणी- ''These order should not have been passed'' से बवाल मचा हुआ है। वहीं जय प्रकाश एसोसिएट्स 'जेपी' के एक नये कारनामें का भी खुलासा हुआ है। खिसियाए जेपी प्रबंधन ने इस खबर पर टाइम्स ऑफ इडिया अखबार को नोटिस भेजी है। जेपी ग्रुप ने कहा कि टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर एकपक्षीय है।

वरिष्ठ पत्रकार मार्क टुली ने कहा- भारतीय राजनीति अपराधियों की गिरफ्त में, न्याय प्रक्रिया बेहद धीमी

देहरादून : वरिष्ठ पत्रकार विलियम मार्क टुली को आज भी इस बात का अफसोस है कि हिंदुस्तान में न्याय प्रक्रिया बेहद धीमी है और पुलिस 1861 के नियम-कानून के आधार पर काम कर रही है। यही वजह है कि गुनहगार खुले घूम रहे हैं और राजनीति अपराधियों की गिरफ्त में है। मार्क टुली मंगलवार दोपहर राजपुर रोड स्थित एक होटल में अपनी पुस्तक ‘नो फुल स्टाप्स इन इंडिया’ पर चर्चा के लिए मौजूद थे। यहां आजाद भारत की उपलब्धियां गिनाते हुए उन्होंने चुनाव आयोग को सबसे पारदर्शी संस्था करार दिया।

थिएटर आर्टिस्ट शिल्पी मारवाह के साथ पुलिस ने की अभद्रता, सड़क पर दी मां-बहन की गालियां

दामिनी और गुड़िया मामले के बाद महिलाओं की सुरक्षा के लिए कसम खाने वाली दिल्ली पुलिस ने हदें पार कर दी हैं। बीच सड़क पर एक महिला को मां-बहन की गालियां दी और बुरी तरह से बेइज्जत किया। वह महिला कोई और नहीं, अमिस्ता थियेटर की अभिनेत्री शिल्पी मारवाह हैं।

तीसरे मोर्चे के भी खास निशाने पर रहेंगे मोदी!

तीसरे मोर्चे के लिए वामपंथी नेता तेजी से सक्रिय हो रहे हैं। तीसरे राजनीतिक विकल्प का ताना-बाना तैयार करने के लिए जोड़-तोड़ की मुहिम शुरू की जा रही है। 5 अगस्त से संसद का मानसून सत्र शुरू होने जा रहा है। सभी दलों के दिग्गज दिल्ली पहुंचने वाले हैं। सीपीएम के वरिष्ठ नेताओं की रणनीति है कि संसद सत्र के दौरान क्षेत्रीय सेक्यूलर दलों से साझा राजनीति के लिए समझदारी बना ली जाए।

बलात्कारी बाबा दविंदा नंद को दंड दिलाने पीड़िता पहुंची जंतर-मंतर, मीडिया सपोर्ट करे

केदारनाथ हादसे के पीड़ितों के साथ विजय बहुगुणा सरकार द्वारा किए जा रहे छलावे के खिलाफ चल रहे धरने की कवरेज़ के लिए मैं जंतर-मंतर गया। आन्दोलनकारियों का आरोप है कि विजय बहुगुणा के इर्द-गिर्द मौजूद रहने वाले लोग पीड़ितों के लिए देश भर से भेजी गई राहत सामग्री से अपना घर भर रहे हैं या फिर उसे बेच कर अपने बंगले बनवा रहे हैं। इस हादसे ने बहुगुणा के कई चमचों को करोड़पति बना दिया। इस बात में वक्ताओं द्वारा प्रस्तुत किए जा रहे तथ्यों पर भरोसा करें तो दम भी लगता है।

फाइलों में सिमट गया डीएलए, दिल्ली-एनसीआर में सरकुलेशन खत्म

छह साल पहले धमाकेदार एंट्री करने वाले डीएलए का विस्तार अब सिमटने लगा है। चार दमदार कर्मियों को हटाए जाने के बाद डीएलए के सरकुलेशन पर बुरा असर पड़ा है। नोएडा में दो माह पहले कार्यालय बंद कर दिया गया था। इसके कुछ दिन बाद दिल्ली में 16 में से 13 कर्मियों को हटा दिया गया। उसके बाद गाजियाबाद में चार कर्मियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इनमें दो सरकुलेशन से जुड़े लोग थे।

द्रोपदी के बाद दुर्गा का “चीर-हरण”!

तीन-चार दिन से देश में एक महिला को लेकर कोहराम मचा है। इस महिला के चेहरे पर तेजाब भले न फेंका गया हो, लेकिन जो फेंका गया है, वो तेजाब से भी ज्यादा ज्वलनशील है। बीते साल दिल्ली की बस में सामूहिक बलात्कार की घटना से भी ज्यादा कष्टकारी है। बस जरुरत एक महिला के दर्द को समझने की है। दिल्ली में बस में हुई सामूहिक बलात्कार की घटना को अंजाम देने वाले गिरफ्तार कर लिये गये। आरोपियों को सजा अदालत सुनायेगी, लेकिन इस यहां इस मामले में तो पीड़ित महिला को ही ‘सजा’ सुना दी गयी है। अदालत द्वारा नहीं, सत्ता की हनक में सत्ताधारियों द्वारा।

इन्क्रीमेंट की पर्ची देखते ही नाखुश होकर दादा ओम कटारा ने भास्कर से दिया इस्तीफा

दैनिक भास्कर, कोटा के पहले और मशहुर संवाददाता दादा ओम कटारा ने भास्कर से इस्तीफा दे दिया है। खबर है कि इस्तीफा मंजूर भी हो गया है। सधी और सटीक रिपोर्टिंग की पहचान रखने वाले दादा ओम कटारा पिछले १३ साल से भी ज्यादा समय से भास्कर से जुड़े रहे हैं। वे कोटा में तब से रिपोर्टिंग कर रहे हैं जब भास्कर के मालिक रमेश अग्रवल को हर चीज़ की सीधे रिपोर्टिंग की जाती थी।

पेड न्यूज पर भोपाल में अफसरों की लगाई क्लास

भोपाल। यदि चुनाव के दौरान किसी पार्टी का उम्मीदवार पैसे देकर अपने विरोधी के पक्ष में या विरोध में खबरें प्रकाशित या प्रसारित कराता है तो उसकी जांच कैसे होगी? यह खर्च तो संबंधित उम्मीदवार के खाते में जोड़ दिया जाएगा जबकि उसने यह खर्च किया ही नहीं। पेड न्यूज के संबंध में इस प्रकार की गड़बड़ियां रोकने के लिए निर्वाचन आयोग और जिला प्रशासन ने क्या पुख्ता व्यवस्था की है।

कविलाश के हटने के बाद दैनिक जागरण के आईटीओ आफिस में अफरातफरी का आलम

कविलाश के आइटीओ से हटते ही उसके खास गुर्गों की रातों की नींद उड़ गई है। एक सज्जन तो कार्यालय में अकेला रिपोर्टर होने के बावजूद भी पूर्वी दिल्ली का चीफ बना बैठा है। गाजियाबाद में वह सरकारी दफ्तरों में 100-200 रुपए मांग के लिए बदनाम था। वहीं, पूर्वी दिल्ली पहुंचते ही पहले उसने वहां स्थित सभी रिपोर्टरों को बाहर करवाया।

नभाटा, ईटी हिंदी और सांध्य टाइम्स, दिल्ली के मार्केटिंग हेड सत्यम जोशी ने इस्तीफा दिया

टाइम्स ग्रुप के साथ पिछले 9 साल से जुड़े सत्यम जोशी ने बेनेट कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड को गुडबाय बोल दिया है. वे नवभारत टाइम्स, सांध्य टाइम्स और इकोनामिक टाइम्स हिंदी के दिल्ली एडिशन के मार्केटिंग के रूप में पिछले छह साल से काम देख रहे थे. उनका पद डिप्टी चीफ मैनेजर (ब्रांड) का था.

आदिवासी साहित्य पर विस्तृत परिचर्चाओं के साथ संपन्न हुई जेएनयू में दो दिवसीय संगोष्ठी

जेएनयू में आदिवासी साहित्यः स्वरूप और संभावनाएं पर गोष्ठी के दूसरे दिन का पहला सत्र डॉ रमन प्रसाद सिन्हा के संयोजन में शुरू हुआ। इस सत्र का उद्देश्य आदिवासी साहित्य की अवधारणा और इतिहास के परिप्रेक्ष्य में विभिन्न विधाओं में हो रहे समकालीन लेखन की पड़ताल करना था। जिसमें विभिन्न विश्वविद्यालयों से आए शोधार्थियों ने अपने विचार रखे। पहले सत्र में डॉ. कला जोशी ने भील जाति की संस्कृति उनके गीत, जन्म, मृत्यु परंपराओं के विषय में विस्तार से बात की।

दैनिक भास्कर में इंक्रीमेंट से पत्रकार दुखी

लंबे समय से इंक्रीमेंट का लॉलीपॉप देते हुए आखिर में दैनिक भास्कर मैनेजमेंट ने इंक्रीमेंट की सूची जारी कर दी। लेकिन इंक्रीमेंट को लेकर पत्रकारों में बेहद नाराजगी है। औने-पौने इंक्रीमेंट कर मैनेजमेंट यह जताने की कोशिश कर रहा है जैसे उसने बड़ा एहसान किया है। मात्र 500 से लेकर 6 हजार तक का इंक्रीमेंट हुआ है। बताया जाता है कि इनक्रीमेंट में नेशनल एडीटर कल्पेश याज्ञनिक की ही चली है।

आईएएस दुर्गा शक्ति मामले में रिट याचिका दायर

लखनऊ स्थित सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर ने कल आईएएस दुर्गा शक्ति नागपाल निलंबन मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट, लखनऊ बेंच में रिट याचिका दायर किया. याचिका के अनुसार उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में अवैध बालू खनन और सार्वजनिक भूमि पर अवैध धार्मिक निर्माण की भारी समस्या है. सुप्रीम कोर्ट ने भी इनके सम्बन्ध में बार-बार कड़े निर्देश दिये हैं.

नलिनी के ‘नेपाल वन टीवी’ का काठमांडू ब्यूरो चीफ सुंदर सिंह विधूरी एंकर रेणुका से दुर्व्यवहार में गिरफ्तार

दूरदर्शन पर प्रसारित होने वाले क्राइम शो 'आंखों देखी' की संचालिका नलिनी सिंह की नेपाल वन टेलीविजनके काठमांडू ब्यूरो चीफ सुन्दर सिंह विधुरी को नेपाल प्रहरी ने नेपाल वन चैनल में कार्यरत एक महिला पत्रकार के साथ दुर्व्यवहार के आरोप में गिरफ्तार किया है। नलिनी सिंह बाराखम्भा रोड, दिल्ली से नेपाल वन टेलीविजन का प्रसारण करती हैं।

सहारा के नोएडा स्थित आफिस में करेंट से दो बच्चे बुरी तरह झुलसे

सहारा वालों को इन दो बच्चों का भी श्राप लगेगा. नोएडा स्थित सहारा के आफिस के दूसरे फ्लोर पर खुले छत पर बिजली के नंगे तार बिछे हुए थे. कल की बात है जब इन्हें ठीक करने के लिए कांट्रैक्टर ने दो किशोर उम्र बच्चों को भेज दिया. ये दोनों जब छत पर गए तो उस दौरान एक बच्चे के नमाज का वक्त हो गया था, सो उसने नमाज पढ़ना शुरू कर दिया. दूसरा बच्चा बिजली के नंगे तारों को ठीक करने में जुट गया. बारिश से पूरे छत पर पानी फैला हुआ था. जगह-जगह नंगे तार थे.

जेपी समूह ने ‘जाल’ में फंसाया हिमाचल प्रदेश को, समानान्तर शासन-तंत्र चला रहा

: जय प्रकाश एसोसिएट्स के काले कारनामें, जानें क्या है पूरा मामला : जेपी द्वारा इलाहाबाद जिले की बारा व करछना तहसील में स्थापित किये जा रहे दैत्याकार बिजली उत्पादन कारखाना से आम जनता को क्या लाभ और क्या हानि होगी, यह समझने से पहले यह जान लेना जरूरी है कि आज कॉरपोरट महाबली जय प्रकाश एसोसिएट्स के गला घोंटू शिकंजे में हिमाचल प्रदेश है। वहां उसकी तमाम अल्ट्रा-मेगा परियोजनाएं खड़ी हो रही हैं।

सुब्रत राय को अवमानना के लिए छह माह की कैद हो : सेबी

पूरा देश देख रहा है कि चिटफंड के उस्ताद सुब्रत राय का क्या होगा. फिलहाल सारी कवायद हवाबाजी सरीखी ही नजर आ रही है. पर आज जब सेबी ने यह अनुरोध कर दिया कि सुप्रीम कोर्ट अवमानना के मामले में सुब्रत राय को छह माह जेल भेज दे तो ज्यादातर लोग इस बात पर चर्चा करने लगे हैं कि क्या वाकई सुब्रत राय जेल जाएंगे? हालांकि इस सिस्टम में इतने पेंच हैं कि सु्ब्रत राय बच भी सकते हैं, ऐसा विशेषज्ञों का मानना है.

मुफ्त इलाज संबंधी शासनादेश जारी होने पर लखनऊ के पत्रकार नेताओं ने आभार जताया

उत्तर प्रदेश राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति ने मान्यता प्राप्त पत्रकारों के संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीटूयूट आफ मेंडिकल साइंसेज (एसजीपीजीआई) में मुफ्त इलाज संबंधी शासनादेश जारी होने पर सरकार के प्रति आभार जताया है। समिति के अध्यक्ष हेमंत तिवारी ने आज जारी बयान में कहा कि इस शासनादेश के जारी होने से पत्रकारों की …

‘मिस्र में क्रांति और प्रतिक्रांति’ विषय पर अमेरिकन साम्राज्यवाद विरोधी एक्टिविस्ट सुजै़न एडली ने दिया व्याख्यान

दिल्ली, 30 जुलाई, 2013। आज हिन्दी भवन में ‘पॉलेमिक’ और ‘बिगुल मज़दूर दस्ता’ ने ‘मिस्र में क्रान्ति और प्रतिक्रान्ति’ विशय पर एक परिचर्चा का आयोजन किया जिसमें मुख्य वक़्ता के रूप में अमेरिका की जानी मानी श्रमिक संगठनकर्ता और साम्राज्यवाद विरोधी एक्टिविस्ट सुजै़न एडली ने भाग लिया। सुज़ैन एडली अरब अमेरिकी समुदाय की संगठनकर्ता भी हैं और वह ‘अरब जनउभार’ को करीबी से देखती आयी हैं। परिचर्चा मुख्य रूप से 2011 की शुरुआत से अरब विश्व और खासकर मिस्र में चल रहे सामाजिक और राजनीतिक आन्दोलनों पर केन्द्रित रही।

मुंबई लेबर कोर्ट ने आउटलुक कर्मियों को निकाले जाने पर रोक लगाई

तीन अंतरराष्ट्रीय मैग्जीनों पीपल, मैरी क्लेयर और जियो को भारत में प्रकाशित कर रहे आउटलुक समूह ने इन तीनों मैग्जीनों को भारत में बंद कर देने की घोषणा करते हुए इसमें कार्यरत करीब सौ से ज्यादा लोगों को सड़क पर ला दिया. इन कर्मियों को न तो पहले सूचित किया गया, न ही एडवांस सेलरी दी गई और न ही इनका बकाया दिया जा रहा है. इस कदम से नाराज कर्मी कोर्ट चले गए. पीपल मैग्जीन के निकाले गए कर्मचारियों ने मुंबई लेबर कोर्ट में एक याचिका दायर की है.

आउटलुक समूह ने तीन मैग्जीनों को बंद किया, सौ से ज्यादा कर्मी बर्खास्त

अभी कुछ ही समय पहले टाइम्स आफ इंडिया वालों ने वीकली मैग्जीन क्रेस्ट बंद करने का फैसला किया और अब सूचना आउटलुक ग्रुप से आ रही है कि इसने बिना नोटिस दिए करीब सौ से ज्यादा कर्मियों को निकाल दिया, यह कह कर कि वे लोग अब 'पीपल', 'मैरी क्लेयर' और 'जियो' मैग्जीनों को तत्काल प्रभाव से बंद कर रहे हैं. इन मैग्जीनों की मुंबई टीम से जुड़े सैकड़ों लोग बेरोजगार हो चुके हैं. दिल्ली में भी इसका असर पड़ा है. बिना कोई नोटिस दिए अचानक निकाल दिए जाने से ये मीडियाकर्मी समझ नहीं पा रहे कि वे अब कहां जाएं, क्या करें.

‘आज समाज’ अखबार में किन-किन की छंटनी होगी, किनके पैसे कम होंगे, पढ़िए सारा हाल इस इनटरनल रिपोर्ट में

देश की मीडिया में संभवतः पहली बार कहीं ऐसा कुछ छप रहा है, जिसे आज भड़ास छाप रहा है. यह एक अखबार की इनटरनल रिपोर्ट है. इसे अखबार में कार्यरत और वरिष्ठ पद पर तैनात एक सज्जन ने तैयार किया है. उनका नाम फिलहाल यहां नहीं दिया जा रहा है. उन महोदय ने कितनी आसानी से छंटनी के लिए अपने साथी पत्रकारों के नाम गिनाए हैं और छंटनी के कारण के लिए उन पत्रकारों की बुराई गिनाई है, साथ ही इन लोगों की छंटनी की सिफारिश कर दी है.

शिवराज की जनआशीर्वाद यात्रा के आगे नतमस्तक हुआ मप्र का मीडिया, क्या ये पेड न्यूज नहीं?

यशवंत जी पिछले दिनों भड़ास पर एक लेख पढ़ा था, प्रकाश हिंदुस्तानी ने लिखा था, शीर्षक था- हिंदी के रीजनल न्यूज चैनलों का एकमात्र काम अपने राज्य के मुख्यमंत्री की जय जय कार करना. पिछले दिनों मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज की जनआशीवार्द यात्रा के दौरान इसकी याद आ गई….

उत्तराखंड में जनता को राशन नहीं मिल रहा जबकि चैनल रोज पीट रहे सरकारी रकम

यशवंत जी, आपको अवगत कराना है कि उत्तराखंड का सूचना विभाग इन दिनों पूरी तरह जनविरोधी हो गया है. इस विभाग पर गंभीरता से नजर डालिए और इसके खिलाफ लगातार सीरीज चलाकर खबरें छापिए. मुख्यमंत्री के कार्यों के प्रचार प्रसार करने के नाम पर सीएम बहुगुणा का गुणगान करने वाले हर चैनल को हर रोज हजारों रुपए दिए जा रहे हैं. सब रकम जोड़ लें तो लाखों में बैठेगा हिसाब किताब.

पूरे देश में मोदी लहर बहाने वालों के मुंह पर तमाचा है ये सर्वे

हाल में कुछ बड़े मीडिया हाउसेस ने सर्वे कराया. सर्वे के मुताबिक, कांग्रेस और भाजपा को मिलने वाली (लोकसभा) सीटों में सिर्फ 15 से 20 सीट का फासला है. भाजपा को महज़ 20 ज़्यादा. ये उन लोगों के मुंह पर तमाचा है, जो पूरे देश में मोदी की लहर बहने का दावा करते हैं. तमाम सर्वे बता रहे हैं कि देश की दो बड़ी पार्टियां (कांग्रेस और बीजेपी) 150 सीट भी नहीं पाएंगी. साथ ही UPA और NDA का कुनबा 200 के आंकडें को भी बमुश्किल छू पायेगा. यानी कुल 543 सीटों में से भाजपा 150 (लगभग एक चौथाई) का आंकडा भी ना छू पाए तो ये किस लहर और किस लोकप्रियता के दावे की बात हो रही है?

‘जानेमन जेल’ की प्रीबुकिंग 15 अगस्त तक, अधिकतम छूट का लाभ उठाएं

Hind Yugm Prakashan : भड़ास4मीडिया http://www.bhadas4media.com के संस्थापक और सीईओ यशवंत सिंह की जेल डायरी शृंखला की पहली कड़ी 'जानेमन जेल' की प्रीबुकिंग हम आज से शुरू कर रहे हैं। यशवंत सिंह ने जेल-जीवन को बहुत ही सकारात्मक नज़रिए से देखा है। यशवंत जेल से बाहर की दुनिया को असली जेल मानते हैं और भीतर की दुनिया को एक खुला संसार। लगभग ढाई महीने के अपने जेल-जीवन को इन्होंने अपनी महबूबा की तरह प्यार किया।

मोर्चा संभालो अपना, वीरेनदा!

कविता कैसे लिखी जाए या कोई व्‍यक्ति कवि कैसे कहलाए, इससे कहीं ज्‍यादा अहम बात यह है कि जो लिखा जा रहा है उसमें कविताई कितनी है। वह आपको कितना जोड़ पा रहा है। उसमें पढ़ने वाले को खुद से जोड़ने की संवेदना कितनी है। पलाश बिस्‍वास उर्फ पलाशदा बरसों से कलकत्‍ता में रह रहे हैं और जनसत्‍ता में नौकरी करते हुए बामसेफ आदि मंचों से लगातार सरोकार के विषयों पर स्‍वतंत्र हस्‍तक्षेप करते रहे हैं।

यूपी के घोटालेबाज प्रमुख सचिव (नियुक्ति) राजीव कुमार की सजा स्थगन का ‘राज’

लखनऊ।  प्रमुख सचिव नियुक्ति राजीव कुमार नोएडा प्लॉट आवंटन घोटाले में हाईकोर्ट से सजायाफ्ता हैं। यह दागी अफसर भ्रष्टों को मलाईदार तैनातियां बांटकर सरकार की छवि खराब कर रहा है। आखिर एक घोटालेबाज आईएएस जेल न जाकर पूरी व्यवस्था को मुंह चिढ़ाकर इतने महत्वपूर्ण पद पर कैसे विराजमान है? दरअसल यह एक बड़ा षड्यंत्र है, जिसमें पूर्व दागी संयुक्त निदेशक सीबीआई जावेद अहमद, सीबीआई के वकील अनुराग खन्ना समेत यूपी सरकार के कई बड़े अफसर शामिल हैं वरना आज राजीव कुमार जेल की सलाखों के पीछे होते। इस षड्यंत्र की उच्चस्तरीय जांच कराने से कई बड़े खुलासे और होंगे।

एक चैनल की लव स्टोरी : शादीशुदा कैमरामैन और शादीशुदा एंकर की मोहब्बतें

En dino xxxxxnews channel me ek shadishuda anchor aur ek shadishuda cameraman ki love story charcha ka vishay bani hai. chaliye kahani ki suruat krte hai camera person se. en mahasay ki teen mahine pahle hi shadi hui hai aur aaj kal ye ek shadishuda anchor ke pyar me pagal hai. wo mohtarma jis shift me rehti hai ye mahasay v usi shift me rehte hai. eske baad channel me shuru hoti hai inki mohbbatein.

दैनिक जागरण की आड़ में संतोष ठाकुर बना धन कुबेर

सबसे पहले विष्णु त्रिपाठी और श्रवण गर्ग की टीम को साहस भरी बधाई, निशिकांत ठाकुर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी पर भरपूर प्रहार करने के लिए। यह कारनामा जो इन लोगों ने कर दिखाया है, वह आज तक संजय भईया भी नहीं कर पाए। दरअसल संजय भईया अकेले थे, वे इनका बिकल्प काफी समय से खोज रहे थे, जो उनको अब मिल गए हैं।

निहार रंजन आईनेक्स्ट, लखनऊ के प्रभारी बने, निहाल ने पंजाब केसरी ज्वाइन किया, उदित ने कांपैक्ट छोड़ा

इंदौर नई दुनिया से तबादला होकर आए निहार रंजन सक्‍सेना ने आई-नेक्‍स्‍ट लखनऊ के प्रभारी का पद संभाल लिया है. एक अन्य जानाकारी के मुताबिक अमर उजाला कांपैक्ट से एक विकेट गिर गया है. खबर है कि उदित बर्सले ने नोएडा में कॉम्‍पैक्‍ट की मुख्‍य डेस्‍क से इस्‍तीफा देकर भोपाल में भास्‍कर डॉट कॉम ज्‍वाइन कर लिया है.

चापलूसी की हद, शिवपाल के चरणों में इटावा प्रशासन, रिपोर्टर को धमकी (देखें तस्वीरें)

इटावा : अपना नंबर बढाने के लिए पुलिस अधिकारी किस कदर नेताओं की चापलूसी में लगे हैं, इसकी बानगी एक बार फिर देखने को मिली। इस बार जगह थी मुख्यमंत्री का गृहजनपद इटावा। हेलीकॉप्टर से इटावा पहुंचे कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव जैसे ही नीचे उतरे वैसे ही जनपद के एएसपी ऋषिपाल सिंह और सिटी मजिस्ट्रेट शारदा प्रसाद यादव कैबिनेट मंत्री शिवपाल यादव की चरण वंदना करते नज़र आए।

आईएएस दुर्गा के लिए आवाज उठाइए पर पत्रकार धनंजय को मत भूल जाइए

Yashwant Singh : दुर्गा शक्ति नागपाल आईएएस हैं, इसलिए उनकी ईमानदारी और उनका सस्पेंसन बड़ा मसला बन जाता है.. पर जब किसी जिले का एक स्ट्रिंगर, जो संसाधन विहीन होता है, सुविधा विहीन होता है, अपने जान पर खेल कर मंत्री व आईपीएस के गलत आचरण की पोल खोलता है और इसके एवज में अपने उपर फर्जी मुकदमें लदा पाता है तो उसके लिए आवाज उठाने वाला कोई नहीं होता.. संपादकों की संस्थाएं, मालिकों की संस्थाएं, प्रेस काउंसिल आदि दिल्ली मुंबई के बड़े पत्रकारों-संपादकों के दुखों या बड़े मीडिया हाउसों के दुखों पर तुरंत रिएक्ट करती हैं, चौथे खंभा पर हमला बताती हैं लेकिन इन धनंजय सिंह भदौरिया जैसे सामान्य पत्रकार पर हो रहे अन्याय के खिलाफ कौन बोलेगा…

पंचकूला में करोड़ों के प्लाट मुख्यमंत्री हुडडा के चहेतों को मिट्टी के भाव, इनेलो ने कहा लुटा देंगे हरियाणा को

चंडीगढ़ : इनेलो ने मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर अपने चहेतों व करीबी लोगों को पंचकूला में औद्योगिक प्लॉट दिए जाने की कड़े शब्दों में निंदा करते हुए आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री सत्ता से जाते-जाते अपने करीबी लोगों को मालामाल करने व चहेतों को प्लॉटों की रेवडिय़ां बांटने में लगे हुए हैं।

प्रदेश टुडे : रीलांच या लोकापर्ण

मध्य प्रदेश से प्रकाशित होने वाले शाम से अखबार प्रदेश टुडे को लेकर लोगों के मन में शंकाएं हो गई हैं। अखबार का ग्वालियर से एडीशन 31 जुलाई को शुरु होने वाला है। लेकिन भोपाल में प्रचार किया जा रहा है कि ग्वालियर एडीएशन की रीलांचिग की जा रही है। इसकी सूचना बाकायदा अखबार में विज्ञापन प्रकाशित करके दी गई है। ऐसे में लोगों को समझ में नहीं आ रहा है कि ग्वालियर एडीशन रीलांच हो रहा है या फिर उसकी ग्वालियर में लांचिंग हो रही है।

गरीबी के आंकड़े पर फंसी सरकार को आने लगा है गुस्सा!

योजना आयोग के चर्चित गरीबी के नए आंकड़े ने केंद्र सरकार की काफी किरकिरी करा दी है। इस मुद्दे पर अपनों ने भी योजना आयोग पर गुस्सा उतारना शुरू कर दिया है। कांग्रेस के अंदर योजना आयोग के उपाध्यक्ष मोंटेक सिंह आहलुवालिया को लेकर अंदर ही अंदर काफी गुस्सा बढ़ा है। आहलुवालिया का नाम लिए बगैर पार्टी के कई दिग्गजों ने योजना आयोग की इस नई ‘बाजीगीरी’ को कोसना शुरू कर दिया है। यहां तक कि पार्टी के चर्चित महासचिव दिग्विजय सिंह को भी आयोग के दावे हजम नहीं हो रहे हैं। उन्होंने खुलकर कह दिया है कि गरीबी के ताजा आंकड़े उन्हें भी समझ में नहीं आ रहे हैं।

शिविर में सैकड़ों पत्रकारों के लर्निंग लाइसेंस बने और वाहन प्रदूषण की जांच हुई

दिल्ली जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन और इंद्रप्रस्थ प्रेस क्लब आफ इंडिया द्वारा आईपी डिपो स्थित परिवहन कार्यालय में वाहन प्रदूषण की जांच और ड्राइविंग लाइसेंस बनाने के लिए एक शिविर लगाया गया. ड्राइविंग लाइसेंस कैंप का उद्घघाटन दिल्ली की मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित ने किया. इस अवसर पर दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष डा. योगानन्द शास्त्री और दिल्ली के परिवहन मंत्री श्री रमाकांत गोस्वामी भी उपस्थित थे. शिविर में 250 से अधिक पत्रकारों के लर्निग लाइसेंस बनाए गए और 150 वाहनों की प्रदूषण की जांच की गई.

पत्रकार मुन्ने भारती को दिल्ली पुलिस के अफसरों ने सम्मानित किया

Munne Bharti : दिल्ली स्पेशल कमिश्नर पुलिस कानून व्यवस्था दीपक मिश्रा और अतिरिक्त पुलिस आयुक्ता अजय चौधरी सहित सीनियर पुलिस अफसर ने साउथ ईस्ट पुलिस द्वारा ईस्ट ऑफ़ कैलाश स्थित चन्द्रकला ऑडिटोरियम में आयोजित युवा समारोह में मुझे पत्रकार के साथ समाज सेवा करने के लिए अवॉर्ड दिया गया है..

किरण बेदी ने राजदीप और उनके चैनल की गलती की तरफ इशारा किया, राजदीप ने शालीनता से गलती सुधारी

Vineet Kumar : आज के शो में किरण बेदी ने जितने आवेश में राजदीप सरदेसाई और उनके चैनल की गलती की तरफ इशारा किया, राजदीप ने उतनी ही शालीनता से अपनी गलती सुधारी..उनका ये अंदाज अच्छा लगा. दरअसल राजदीप और सीएनएन-आइबीएन अधिकारी की जिम्मेदारी को बार-बार आदर्श बताते आ रहे हैं.( शायद आगे अब न करें.) शो खत्म ही होनेवाला था कि किरण बेदी ने टोका- राजदीप,यू एंड योर चैनल ऑल्वेज यूज द वर्ड आइडियलिस्टिक, इट्स नॉट द इश्यू ऑफ टू वी आइडियलिस्टक ऑर समथिंग एल्स, इट्स द इश्यू ऑप द ड्यूटी.करेक्ट इट फस्ट. राजदीप ने न कवेल इसके लिए सॉरी कहा बल्कि उस पंक्ति को दोबारा सुधारकर आइडियलिस्टिक की जगह ड्यूटी शब्द का इस्तेमाल किया.

डीडी न्यूज देखकर लग रहा है कि आज वहां के एंकर रिवायटल खाकर बैठे हैं

Vineet Kumar : डीडी न्यूज देखकर लग रहा है कि आज वहां के एंकर रिवायटल खाकर बैठे हैं. इतना धारदार अंदाज मैंने दूरदर्शन को पिछले दो-तीन सालों में कभी नहीं देखा. संजीव श्रीवास्तव से लेकर उनके बाद के एंकर इतने उत्साह और निष्पक्ष दिखने की कोशिश में चर्चा कर रहे हैं कि जैसे ये चैनल सरकार के बिना किसी दवाब में काम करता है. दुर्गा शक्ति नागपाल के निलंबन मामले में अखिलेश यादव सरकार की जमकर धज्जियां उड़ा रहे हैं..

आईएएस दुर्गा के सस्पेंसन पर आईपीएस अमिताभ ठाकुर की कविता शासन को आइना दिखाती है

Braj Bhushan Dubey : आईएएस अधिकारी दुर्गा शक्ति नागपाल के निलम्‍बन पर भारतीय पुलिस सेवा के वरिष्‍ठ अधिकारी श्री अमिताभ ठाकुर के द्वारा लिखी गयी ये कविता वाकई झकझोर देने वाली है। यह कविता विधि की मर्यादा के प्रतिकूल किये गये निलम्‍बन पर शासन को आइना दिखाती है, एक झन्‍नाटेदार थप्‍पड चलाती है, दुर्गा जैसी अधिकारियों को और करती है मजबूत, दूसरी तरफ बन्‍द हों शासन के ऐसे गन्‍दे दस्‍तूर।

दुर्गा के निलंबन से मैं निजी तौर पर आहत और तकलीफजदा हूं : आईपीएस अमिताभ ठाकुर

Amitabh Thakur : I feel personally immensely pained at the suspension of young and dynamic IAS officer Ms Durga Shakti Nagpal. Yes, she will get reinstated sooner or later but the scar will be permanent and its impact on other IAS, IPS officers far-reaching.

xxx

दुर्गा शक्ति नागपाल का निलंबन वापस लेने की तैयारी में अखिलेश सरकार

सूत्रों से आ रही खबर के अनुसार अखिलेश सरकार युवा आईएएस ऑफिसर दुर्गा श‌क्ति नागपाल का निलंबन वापस लेने की तैयारी में है। ऐसा आईएएस एसोसिएशन के भारी दबाव को चलते हो रहा है। गौरतलब हो कि विगत शनिवार को देर रात खनन माफियाओं के खिलाफ अभियान चलाकर सुर्खियों में आईं दुर्गा शक्ति नागपाल को अखिलेश सरकार ने निलंबित कर दिया था जिसके बाद आईएएस अधिकारियों में काफी ज्यादा रोष और गुस्सा था।

इसी सपा सरकार ने रामपुर में इस्लामिक मदरसे को बुलडोजर से गिराया और संचालक को जेल भेज दिया

Kanwal Bharti : उत्तर प्रदेश में समाजवादी सरकार ने नोएडा में आईएस ऑफिसर दुर्गाशक्ति नागपाल को निलम्बित करने का कारण यह बताया है कि उन्होंने रमजान के महीने में एक मस्जिद का निर्माण गिरवा दिया था, जो अवैध रूप से सरकारी ज़मीन पर बनायी जा रही थी. लेकिन रामपुर में रमजान के महीने में ही जिला प्रशासन ने एक सालों पुराने इस्लामिक मदरसे को बुलडोज़र चलवाकर गिरवा दिया और विरोध करने पर मदरसा संचालक को जेल भिजवा दिया.

मंत्री शिवपाल और आईपीएस अजय मोहन की पोल खोलने वाले पत्रकार पर फर्जी मुकदमें

मैं धनंजय सिंह भदौरिया, समाचार प्लस न्यूज चैनल का एटा का संवाददाता हूं। प्रार्थी ने 9 अगस्त 2012 को उत्तर प्रदेश के मंत्री  शिवपाल यादव की खबर "चोरी करो डकैती नहीं" चलाई थी. इसके बाद एटा के एसएसपी अजय मोहन शर्मा द्वारा सपा के महासचिव रामगोपाल यादव के पैर छूते की खबर 24-1-2013 को दिखाई थी।

एमएलए एमपी को निश्चित सुरक्षाकर्मी देने के खिलाफ याचिका

सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर  ने आज उत्तर प्रदेश शासन द्वारा सुरक्षाकर्मी दिये जाने के सम्बन्ध में जारी दो शासनादेशों को चुनौती देती एक याचिका इलाहाबाद हाई कोर्ट, लखनऊ बेंच में दायर की है. याचिका के अनुसार एमएलए, एमपी, पूर्व एमएलए/एमपी, निगमों के अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष, जिला पंचायत अध्यक्ष, नगर पालिका प्रमुख आदि को सुरक्षा देने विषयक 05 मई 2008 और 11 जनवरी 2013 के शासनादेश पूर्णतः विरोधाभाषी, विभेदकारी और त्रुटिपूर्ण हैं. जहाँ एक मौजूदा एमएलए/एमपी को निशुल्क दो गनर का प्रावधान रखा गया है वहीँ पूर्व एमएलए/एमपी को 10 प्रतिशत व्यय पर मात्र एक. इसके विपरीत निगमों के अध्यक्ष तथा उपाध्यक्ष को एक निशुल्क और 10 प्रतिशत व्यय पर दूसरे गनर की बात कही गयी है.   

आईएएस दुर्गा निलंबन : केन्द्र सरकार यूपी से रिपोर्ट मांगे

सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर  ने सचिव, कार्मिक और प्रशिक्षण, भारत सरकार को पत्र लिख कर आईएएस अफसर दुर्गा शक्ति नागपाल के निलंबन के सम्बन्ध में विस्तृत रिपोर्ट मांगे जाने की मांग की है. ठाकुर ने कहा है कि चूँकि केन्द्र सरकार आईएएस अफसरों का नियंता प्राधिकारी है और उसे अखिल भारतीय सेवा (अनुशासन और अपील) नियमावली 1969  के नियम 3(6ए) के तहत निलंबन के सम्बन्ध में आख्या प्राप्त करने का अधिकार है, अतः नागपाल के निलंबन के सम्बन्ध में तत्काल विस्तृत रिपोर्ट मांगी जाए और निलंबन के आधारहीन और अनुचित पाए जाने पर उसे निरस्त किया जाए.

आदिवासी साहित्य को अपने मानकों से न परखें : सुखदेव थोराट

: आदिवासियों द्वारा लिखा जा रहा साहित्य ही आदिवासी साहित्य – वंदना टेटे : आदिवासी के उन्नयन के लिए लिखा जा रहा साहित्य  आदिवासी साहित्य है, चाहे कोई भी लिखे – संजीव : सोमवार, 29 जुलाई को असुर लेखिका सुषमा असुर द्वारा सृष्टि और पुरखों के मंत्रोच्चार के साथ जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में 'आदिवासी साहित्‍य:स्‍वरूप और संभावनाएं’ विषयक संगोष्ठी का आरंभ हुआ. दो दिनों तक चलने वाली इस संगोष्ठी के पहले दिन उद्घाटन सत्र में यूजीसी के पूर्व अध्यक्ष सुखदेव थोराट ने कहा कि हमारा समाज आदिवासियों की समस्याओं के बारे में नहीं जानता. हमें आदिवासियों के बारे में जानने की जरूरत है, जो कि साहित्य के जरिए ही संभव है. उन्होंने आगे कहा कि अब तक वंचित-दलित साहित्य को आलोचकों ने नकारा है और उन्हें मुख्यधारा के मानकों के हिसाब से परखने की कोशिश की है. जबकि आदिवासी समुदाय उन मानदंडों की परवाह नहीं करता. उन्होंने कहा कि आदिवासी साहित्य के साथ आदिवासी समुदाय को समझे जाने की जरूरत है.

‘आरके एचआईवी एड्स’ की ओर से चंडीदत्त शुक्ल को बेस्ट फीचर एडिटर का एवार्ड

: विद्या बालन, मनोज बाजपेयी और मोनिका बेदी को मिला आरके एक्सिलेंस नेशनल अवॉर्ड्स : अभिनेता तनवीर ज़ैदी को स्पेशल जूरी अवार्ड्स : मुंबई में सक्रिय सामाजिक संस्था 'आरके एचआईवी एड्स' की ओर से आठवां आरके अवॉर्ड्स समारोह आयोजित किया गया। इस मौके पर होटल 'नोवोटेल' जुहू, मुंबई में आयोजित कार्यक्रम में बॉलीवुड की नामचीन हस्तियों ने शिरकत की। अवॉर्ड हासिल करने वालों में प्रमुख रहे–

गाजीपुर में जारी है भीड का इंसाफ

गाजीपुर में भीड का इंसाफ लगातार जारी नजर आ रहा है। एक सनसनीखेज वारदात के तहत बेखौफ बदमाशों ने रविवर की रात गाजीपुर मे ग्राम प्रधान के भाई की गोली मार कर हत्या कर दी। घटना कासिमाबाद क्षेत्र के सलामतपुर गांव की है।

कुछ दबंग और माफिया प्रवृत्ति के लोग मुझे भदोही में पत्रकारिता नहीं करने देना चाहते

एक अपील…. साथियों, मैं उत्तर प्रदेश भदोही का एक ऐसा पत्रकार हूं जो बिना किसी डर के निर्भय होकर, निष्पक्ष होकर अन्याय और अत्याचार के खिलाफ लड़ाइयां लड़ी। चाहे वह पत्रकारों की लड़ाई रही हो या फिर समाज की। भदोही जैसे छोटे जनपद में रहकर मैंने जो मामले उठाए वह राष्ट्रीय स्तर का मुद्दा बना। ज्ञानपुर जेल में कैदी की बर्बर पिटाई का मामला रहा हो या फेसबुक के जरिये अपने साथ हुये अन्याय के खिलाफ लड़ाई शुरू करने वाली डिंपल मिश्रा का मामला। इन मामलों को राष्ट्रीय स्तर तक पहुंचाने का काम मैंने किया।

Anna Hazare Vidya Balan to Share Dias with most Corrupt & Racist FIA in USA

It is very shocking to know that Shri Anna Hazare Ji is going to participate in Donkey Parade organized in the name of India Day Parade by quasi criminals and Thugs posing as self proclaimed Leaders from Gujarati community.  It looks like FIA an organization of Thugs with no vision for India or its culture or traditions is buying legitimacy by bringing Shri Anna Hazare Ji to their annual Donkey Parade. No high achiever self made Indian as well as American practicing high moral and ethical values wants to participate in this parade that is nothing but an insult to India and every Indian around the world.

निशिकांत ठाकुर का किला ध्वस्त होने की ओर

साथियों, दैनिक जागरण में आज जो हड़कंप मचा है, उसकी एक मात्र वजह इसके मुख्य महाप्रबंधक और स्थानीय सम्पादक निशिकान्त ठाकुर ही हैं. जिस संस्थान ने उसे एक क्लर्क से इतने बड़े पद पर भेजा, उसी संस्थान का बेड़ा गर्क करने की कोई कसर इस महानुभाव ने नहीं छोड़ी. जालंधर में तीन अलग अलग गोत्र वाले लोगों – a.c. chandra, b.c. mishra, kavilash batsal- (ये तीनों इसके सगे साले हैं) को भरती किया.

लखनऊ में दो बड़े न्यूज चैनलों के कैमरापर्सन ने शराब के नशे में दिनदहाड़े किया हंगामा

दो बड़े न्यूज चैनलों जिनमें एक हिंदी का है और एक अंग्रेजी का, के कैमरा पर्सन ने परसों दोपहर लखनऊ स्थित गोमती नगर में शराब के नशे में खाड़ी कार में टक्कर मारी. जब टक्कर लगने पर कार में बैठी महिला ने विरोध किया तो महिला के साथ बदसलूकी की गई. उसके ड्राईवर को मारा-पीटा गया और उसके कपडे फाड़ डाले.

पत्रकार नहीं बनि‍या हैं, चार आने की धनिया हैं…

पत्रकार और पत्रकारिता की वर्तमान हालत पर चुटकुले, कविताएं, शेर-ओ-शायरियां आदि उसी तरह तैयार होने लगी हैं जैसे कभी एक नेताओं और राजनीति पर लिखा-पढ़ा-कहा जाता था. जिस भी क्षेत्र में धंधेबाजों की भारी संख्या हो जाती है, और जेनुइन लोगों की कम, तो उस क्षेत्र के कामकाज की मूल भावना ही खत्म हो चुकी होती है. नेताओं ने राजनीति की और अफसरों ने प्रशासन की जिस तरह से माकानाकासाकानाका कर रखा है, उसी तर्ज पर पत्रकारों ने पत्रकारिता की कर दिया है.

‘हिन्दुस्तान’ को बिहार में पहली बार मिला बिहारी संपादक, अबतक के सबसे कम उम्र के एडीटर हैं तीर विजय सिंह

Vinayak Vijeta : पटना से प्रकाशित दैनिक ‘हिन्दुस्तान’ को अपने प्रकाशन के 27 वर्षों के ऐ लंबे अंतराल में पहली बार बिहारी संपादक मिला है। गौर तलब है हिन्दुस्तान प्रबंधन ने कुछ दिन पूर्व ही हिन्दुस्तान, पटना के वरीय स्थानीय संपादक के रुप में तीर विजय सिंह की नियुक्ति की है।

हैलीकाप्टर से घूम चुके उत्तराखंड के ढेर सारे पत्रकार इतने प्रसन्न हैं कि हर वर्ष ऐसी आपदा की कामना कर रहे हैं

देहरादून : 16-17 जून की आपदा के बाद नेताओं, अफसरों के हैलीकाप्टर के दौरे अभी तक थमे नहीं हैं। उत्तराखंड और दिल्ली के पत्रकारों ने भी हैली के मजे लिये। दिल्ली की उमस भरी गर्मी को इस आपदा ने दिल्ली के पत्रकारो को कुछ दिनों के लिये टाल जैसा दिया। दिल्ली में इस गर्मी में ट्रैफिक में फंसे रहने वाले पत्रकारों को खूव आवभगत सूचना एवं जन संपर्क विभाग उत्तराखंड ने की।

हे फेसबुक वालों, नंदना को नंगना मत बनाईये

Deepak Sharma  : फेसबुक पर विरोध नही लोगों को ब्लाक किया जाता है. ब्लाक करना मुझे आता नही और विरोध करना व्यर्थ है. लेकिन एक चरित्र हत्या से थोडा व्यथित हों. जी हाँ जिस तरह नंदना सेन को वस्त्रविहीन किया गया है लाखों लाख वर्चुअल दीवारों पर वो इस देश की संस्कृति नही. हम भूल गए की नंदना देश की ऐसे दुर्लभ संतान है जिनकी मा पद्मश्री और पिता भारत रत्न है. वो हारवर्ड विश्विद्यालय की टापर है. बच्चों के अधिकारों के लिए लड़ती है और अंतर राष्ट्रीय अभिनेत्री है. नंदना को अपने पिता अमर्त्य सेन के मोदी पर विवादस्पद बयान के लिए निशाना नही बनाना चाहिए. बाप के बोल पर बेटी की बली नही चडाई जा सकती.

आईएएस दुर्गा नागपाल के पक्ष में खड़ा हुआ सोशल मीडिया, अखिलेश यादव की लानत-मलानत

Ashish Sagar Dixit : खनन माफियाओ के खिलाफ अभियान चलाने वाली आई.ए.एस. महिला दुर्गा शक्ति नागपाल को उनकी इमानदारी का जो सिला मिला उसके लिए उत्तर प्रदेश की सरकार को कुछ नही कहना चाहूगां क्योकि ये सरकार ही माफियाँ चलाते है l काश की बुंदेलखंड के बाँदा, चित्रकूट, हमीरपुर और महोबा में भी दुर्गा शक्ति नागपाल सा कोई होता तो बात बनती l बाँदा में तो हालात ये है की जिला खनिज अधिकारी को बालू माफिया खदानों में बंधक ही बना लेते है l तात्कालिक जिला खनिज अधिकारी जे.पी. दिवेदी ने तो खनिज निदेशक के सामने हाथ खड़े कर दिए है l उनका कहना है की जिले की पुलिस ही माफियाँ के साथ है l हर साल करीब 510 करोड़ रूपये खनिज राजस्व देने वाला बुंदेलखंड अपने ऊपर तीन दशको से किये जा रहे प्राकृतिक उजाड़ / बलात्कार से आहत है l यहाँ की काली पहाड़िया वीरान और नदियाँ अपनी कोख बालू से खाली कर रही है l मीडिया लिखता है लेकिन खबर सिर्फ रद्दी के ठेले तक ही जाकर मर जाती है l सातों जिलो में फैला खनन का सिंडीकेट सरकार की सहमती से चलता है चाहे सरकार किसी की भी रहे l

काश, मीडिया वाले दुर्गा की ईमानदारी का दस फीसद हिस्सा भी अपने में समेटकर काम कर रहा होते

Vineet Kumar : आप ग्रेटर नोएडा की एसडीएम दुर्गा शक्ति नागपाल के सस्पेंड किए जाने की घटना को उसकी ईमानदारी की सजा कह लीजिए लेकिन असल में ये उसी ग्रेटर नोएडा में कुकुरमुत्ते की तरह उग रहे मीडिया के मैनेज होकर काम करने, अखिलेश यादव सरकार के चंपू बनकर रहने का नतीजा है. मीडिया अगर …

मैं अपने अपमान और धमकी का मामला राजुल माहेश्‍वरी और केंद्रीय संपादकों तक ले जाऊंगा : शंभू दयाल वाजपेयी

Shambhu Dayal Vajpayee : अमर उजाला , बरेली ने मेरे बारे में कल जिस तरीके से व्यक्तिगत हमला करते हुए द्वेषपूर्ण – अपमानकारी छापा है और 'कपडे उतार लेने' की धमकी दी हैं उससे मेरा परिवार बेहद परेशानी में है। पत्‍नी अवसाद में हैं । दोनों बच्‍चे सहमे हैं और डरे हैं कि अमर उजाला वाले पता नहीं क्‍या करवा दें। मैं लगभग 22 -23 वर्षों से सपरिवार बरेली आवासित हूं और यहां तथा निकटवर्ती जिलों में और खास कर कुमाऊं में एक ठीक ठाक पहचान रखता हूं। अच्‍छे सामाजिक और पत्रकारी संबंधों का दायरा है। दर्जनों ऐसे वरिष्‍ठ पत्रकार और संपादक हैं जिनको अखबार में रखवाने और सिखाने में कभी मददगार बना हूं।

प्रेस काउंसिल ने मीडियाकर्मियों पर अत्याचार का मामला सही पाया, कार्रवाई व मुआवजे के निर्देश

हाथरस। विधान सभा चुनाव की पोलिंग पार्टियों की रवानगी की कवरेज करने गए मीडिया कर्मियों के साथ अभद्रता, कैमरे आदि तोड़ने तथा मारपीट कर घायल कर देने के मामले की कराई गई शिकायत को भारतीय प्रेस परिषद ने सही पाया है। इस मामले में परिषद ने दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने, नुकसान की भरपाई करने के आदेश शासन-प्रशासन को दिए हैं।

चेन लुटेरों का महिला पत्रकार ने पीछा किया तो पिस्तौल दिखा डराया

जालंधर से खबर है कि थाना डिवीजन नंबर 5 के अंतर्गत आते बद्री कालोनी में अपनी बेटी को एक्टिवा पर स्कूल बस तक छोड़ने आई एक महिला पत्रकार से बाइक सवार दो झपटमार चेन छीन कर फरार हो गए। महिला पत्रकार ने बहादुरी दिखाते हुए जब उनका पीछा करने की कोशिश की तो झपटमारों ने उस पर पिस्तौल तान दी और फरार हो गए।

डीएलए, गाजियाबाद से इंदु शेखावत, रोहित शर्मा, रामबीर सिंह, पिंटू रावल का इस्तीफा

डीएलए, गाजियाबाद से सूचना है कि सीनियर सब एडिटर इंदु शेखावत, रोहित शर्मा, सरकुलेशन से रामबीर सिंह और पिंटू रावल ने डीएलए छोड़ दिया है. फेसबुक पर इंदु शेखावत की पोस्ट के मुताबिक उन्होंने डीएलए को अलविदा कह दिया है, वे किस अखबार से जुड़ेंगे, इसका अभी खुलासा नहीं हो सका है. रोहित शर्मा भी अखबार की तलाश में हैं. डीएलए, गाजियाबाद कार्यालय में संपादक के अलावा अब दो रिपोर्टर ही रह गए हैं.

‘हिन्दुस्तान’ व ‘जागरण’ पर ब्राह्मणवादी होने का आरोप, आरक्षण समर्थकों ने नारा लगाया ‘ब्राह्मणवादी मीडिया से सावधान’

इलाहाबाद। आरक्षण के नये फार्मूले पर इलाहाबादी मीडिया के कुछ संस्थानों द्वारा एक तरफा कवरेज पर समर्थक प्रतियोगी छात्रों में काफी गुस्सा है। आरक्षण के समर्थन में दो दिन से जगह-जगह हो रहे विरोध-प्रदर्शन के दौरान मीडिया कर्मी भी उनके निशाने पर हैं। शनिवार व रविवार को कई जगहों पर समर्थकों के विशाल हुजूम से मीडिया के खिलाफ जमकर नारे बाजी की गयी। सपा जिलाध्यक्ष पंधारी यादव के घर घेराव व तोड़फोड़ के दौरान समर्थकों में मीडिया के खिलाफ गुस्से को देख फोटोग्राफर कवरेज करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे थे।

पत्रकार श्रद्धानिधि प्राप्त करने में राधा वल्लभ शारदा पर धोखाधड़ी का आरोप

भोपाल : वर्किग जर्नलिस्ट यूनियन मध्यप्रदेश के स्वयं भू प्रांतीय अध्यक्ष राधा वल्लभ शारदा पर पत्रकार विनय जी. डेविड ने पत्रकार श्रद्धानिधि प्राप्त करने में धोखाधड़ी का आरोप लगाया है। विनजय जी डेविड ने जो कुछ बताया, वह इस प्रकार है…  म.प्र. राज्य शासन ने मध्यप्रदेश में पत्रकारिता करने वाले वरिष्ठ और बुर्जुग पत्रकारों के लिये श्रद्धानिधि योजना चालू की जिसकी स्वीकृति आदेश किये गये एवं विधिवत श्रद्धानिधि प्राप्त करने के लिये नियम एवं योजना बनाई गई। जिसमें 10 बिन्दुओं के आधार पर योजना का लाभ पत्रकारों को दिये जाने थे।

‘जातिपॉश’ में फंस गयी सपा सरकार, मुलायम कुनबे तक पहुंची आरक्षण की तपिश

उ0प्र0 में हाईकोर्ट ने जाति आधारित रैलियों व सम्मेलनों पर तो रोक लगा दी है। लेकिन इसी प्रदेश में अब ‘जातिवाद’ का एक बहुत घिनौना स्वरूप प्रकट हो रहा है। आरक्षण के नाम पर ऐसी गंदी राजनीति राजनीतिक पार्टियां कर रही हैं। उत्तर प्रदेश में सभी जातियों को आपस में लड़ाया जा रहा है राजनीति करने के लिये। यह बहुत खतरनाक प्रवृत्ति जन्म ले रही है। समाज की अत्यंत पिछड़ी जातियों को आगे बढ़ाने के लिये सरकारी सेवाओं में व्यवस्था की गयी पर यह ‘आरक्षण व्यवस्था’ राजनीति का औजार बन गयी है। अधिक से अधिक सुविधा बटोरने के लिए जातियां लामबंद हो रही हैं। पॉलिटिक्स करने वाले उसका लाभ उठा रहे हैं। यह ‘वाद’ टूटने की बजाय और मजबूत हो रहा है।

छात्रावास की मांग को प्रखर बनाने के लिए पांच अगस्त को आईआईएमसी पहुंचें

भारतीय जनसंचार संस्थान, नईदिल्ली में पिछले ढाई दशकों से छात्रों को छात्रावास की सुविधा से वंचित रखा गया है, जबकि यहां अन्य देशों के छात्रों एवं छात्राओं को यह सुविधा हासिल है. वर्षों से जारी इस ग़ैर-बराबरी के ख़िलाफ़ संस्थान के पूर्व छात्रों की एक अहम बैठक 27 जुलाई, शनिवार को कनॉट प्लेस स्थित इंडियन कॉफी हाउस में संपन्न हुई.

राजीव रंजन तिवारी और अशोक किंकर की नई पारी, अनिल पांचाल का तबादला

जनसंदेश टाइम्स, गोरखपुर में कार्यरत राजीव रंजन तिवारी ने इस्तीफा देकर राजस्थान पत्रिका के साथ नई पारी शुरू की है. वे जयपुर स्थित पत्रिका के आफिस में बतौर डिप्टी न्यूज एडिटर काम संभालेंगे. राजीव कई अखबारों में व विभिन्न शहरों में काम कर चुते हैं.

पत्रकार व परिवार पर एसिड फेंकने वाले गुंडे ने अब एक अन्य पत्रकार पर किया जानलेवा हमला

महाराष्ट्र के पुर्णा मे पिछले दिन पत्रकार दिनेश चौधर सहित उनके पूरे परिवार पर हुए ऍसिड हमले से पूरा महाराष्ट्र हिल चुका था. इस ऍसिड हमले के एक आरोपी अनिल कुरकुरेने कल रात्रि नौ बजे एक पत्रकार अनिल अहेरे पर जानलेवा हमला बोल दिया है. इस हमले में अहेरे का सिर फट गया है. पांव पर भारी चोट आयी है. उन्हें स्थानिक हस्पताल मे भरती किया गया है. इस वारदात की रिपोर्ट कल रात ही पुर्णा पोलिस को दी थी, लेकिन 'कल देखेंगे' कह कर पुलिस ने रविवार सुबह तक एफआईआर दाखिल नही किया था.

दैनिक जागरण में 14 करोड़ की गड़बड़ी, निशिकांत के आदमियों की घेरेबंदी

दैनिक जागरण संस्था को अपना मामू का घर समझने वाले निशिकांत ठाकुर के करीब पांच-सात दर्जन भाई-भतीते, साले व उनके गांव से संबंध रखने वाले कर्मचारी इस वक्त दुबके हुए हैं क्योंकि इस वक्त उनके चापलूसों की संस्था से सफाई करने का अभियान शुरू हो गया है। इसलिए ऐसे लोगों की अंदर भगदड़ मची हुई है। बिहारी कर्मचारियों के एक सबसे बड़े संरक्षणकर्ता की पिछले दिनों संस्थान से छुट्टी कर दी गई। कुछ कर्मचारियों ने तो दूसरे जगहों पर नौकरी खोजनी शुरू भी कर दी है। निशिकांत ठाकुर के साले कविलाश मिश्र और उनके मजबूत सिपहसालार अरूण सिंह के बाद अब फरीदाबाद में सालों से पैर जमाए बैठे संतोष ठाकुर की कुंडली खुलनी शुरू हो गई है।

भोपाल में राज एक्सप्रेस में कार्यरत सब एडिटर को वाहन ने रौंदा, मौके पर ही मौत

भोपाल। पिपलानी थाना इलाके में शनिवार-रविवार की दरमियानी रात तेज रफ्तार वाहन ने एक बाइक सवार मीडियाकर्मी को रौंद डाला। हादसे में मीडियाकर्मी की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने परिजनों को सूचना दे दी है। मूलत: सिंगरोली निवासी 32 वर्षीय आदित्य पिता आनंदी वर्मा न्यू सुभाष नगर में बीएल ताम्रकार के घर में किराए से रहते थे। वह राज एक्सप्रेस में सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे।

सिक्‍ता देव ने उदय प्रकाश के हाथों ग्रहण किया ‘स्‍व. वेद अग्रवाल पत्रकारिता एवं साहित्य सम्मान’

मेरठ : प्रखर पत्रकार रहे स्‍व. वेद अग्रवाल स्‍मृति पत्रकारिता/साहित्‍य सम्‍मान इस वर्ष एनडीटीवी से जुड़ीं पत्रकार सिक्‍ता देव को दिया गया। 27 जुलाई 2013 को मेरठ के चैंबर ऑफ कॉमर्स में यह पुरस्‍कार उन्‍हें प्रख्‍यात साहित्‍यकार उदय प्रकाश, गीतकार लक्ष्‍मी शंकर शुक्‍ला एवं अप्रतिम कथाशिल्‍पी चित्रा मुदगल ने उत्‍तर प्रदेशीय महिला मंच के 30वें स्‍थापना समारोह कार्यक्रम के अवसर पर प्रदान किया। इस मौके पर देश के अलग-अलग राज्‍यों से आईं सात ऐसी विदुषी महिलाओं को भी हिंद प्र भा सम्‍मान दिया गया जिन्‍होने विपरीत परिस्थितियों में मुकाम हासिल करते हुए महिलाओं का संबल बनी हैं।

मोदी भक्तों द्वारा किया जा रहा शत्रुघ्न सिन्हा और अमर्त्य सेन की बेटियों का चरित्र हनन निंदनीय

रजनीश के झा : जिस तरह से सोनाक्षी (शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी) और नन्दना (अमर्त्य सेन की बेटी) का चिर चरित्र हननं कथित धार्मिक राम भक्त (माफ़ कीजियेगा मोदी भक्त) और राष्ट्रवादियों द्वारा किया जा रहा है (सनद रहे सिन्हा साहब भाजपा सांसद है) किसी दिन गैर विचार होने पर अपनी माँ बहन (माफ़ कीजियेगा हमारी माँ बहन) को सड़क पर खड़ा कर के बोली लगा सकते हैं।

अविनाश दास का माल उड़ा कर मोहन श्रोत्रिय ने अपने नाम से छपवा लिया

Avinash Das : अगर ये साबित हो जाए कि Mohan Shrotriya का प्रतिवाद एक असत्‍य-पत्र है और राजस्‍थान की उन नदियों पर छपी किताबों का एकमात्र लेखक मैं ही था और मोहन श्रोत्रिय उन किताबों के सिर्फ भाषा-सुधारक और सुपरवाइजर थे, तो क्‍या आप सब माफी मांगेंगे? और तब क्‍या आपलोग मोहन श्रोत्रिय का सामाजिक बहिष्‍कार करने के लिए तैयार होंगे?

xxx

बात लगभग सोलह साल पुरानी है। मुझसे पूछा जा रहा है कि इतने दिनों बाद इस बात की याद क्‍यों आयी। दरअसल इन बातों को कह सकने का बीच के वक्‍फे में कोई मौका नहीं मिल पाया था। मुझे जो प्रतिवाद करना था, उन्‍हीं दिनों कर चुका था और भीकमपुरा से लौट भी आया था। सारे लिंक पाठकों के सामने हैं, ताकि दोनों तरफ की बातें सुनी जा सके… (अविनाश दास के फेसबुक वॉल से)

मुसलमानों के लिए हलाल सर्च इंजन हाजिर

Shahnawaz Malik : चूंकि रोज़ा चल रहा है इसलिए गूगल देवता ने एक ऐसा सर्च इंजन इजाद किया है जो रोज़ा मकरूह नहीं होने देगा। हराम-हलाल की तर्ज़ पर मुसलमानों के लिए अब हलाल सर्च इंजन हाज़िर है। अड्रेस है Halalgoogling.com। इस सर्च इंजन में पोर्नोग्राफी, न्यूडिटी, गे, लेस्बियन वगैरह-वगैरह के लिंक नहीं खुलेंगे।

यूपी का जंगलराज : खनन माफिया के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाली आईएएस दुर्गा नागपाल सस्पेंड

Anurag Tiwari : आइये हम सब मिलकर यूपी की सपा सरकार को धन्यवाद दें, जिसने खनन माफिया के खिलाफ मुहिम छेड़ने वाली आईएएस दुर्गा शक्ति नागपाल को सस्पेंड कर दिया है। बेचारी खुद को दुर्गा की शक्ति समझ बैठी थी। मूर्ख नारी! मालूम नहीं सरकार में साक्षात शिव के पाल विराजमान हैं। क्या करें मुख्यमंत्री जी नए नए आईएस बने बच्चे हैं, आखिर अभी 2011 का ही तो बैच है उनका, धीरे धीरे सेटिंग का गेम सीख जायेंगे। लोग बताते हैं कि हमारे मुख्यमंत्री जी पर्यावरण इंजीनियरिंग में ऑस्ट्रेलिया से डिग्री लेकर आये हैं! आप बेहतर समझते होंगे अनियंत्रित खनन का मतलब, अभी केदारनाथ में कुदरत ने बिला वजह इतना नाटक किया, इसका मतलब समझाने के लिए। (अनुराग तिवारी के फेसबुक वॉल से.)

पत्नियों की अदला-बदली पर जेएनयू की स्टूडेंट ने अपने नेवी आफिसर हस्बैंड के खिलाफ आवाज उठाई तो उसे पीटा गया

Tara Shanker : चरित्रहीन, मर्दवादी और बलात्कारी इंडियन नेवी! कितनी शर्मनाक बात है कि इंडियन नेवी में ऑफिसर्स की पार्टी में पत्नियों की अदला-बदली होती है ऐसे जैसे औरतें सिर्फ भोग विलास की कोई वस्तु हों! ऐसा पहली बार नहीं हुआ है…..ये सब बचपन से सुनता आ रहा हूँ!

पत्रकार शंभू दयाल वाजपेयी को अमर उजाला, बरेली एडिशन में लिख कर धमकाया गया!

Shambhu Dayal Vajpayee : अमर उजाला के नाम… भई सलाह तो अच्‍छी दी है। साथ में धमकी भी। ऐसी सलाह तो अपना कोई बड़ा हितैषी ही दे सकता है। ''बुढापे में गीता पढो दद्दा या फिर शंभु शंभु भजो। बहुत भड़ासी बैठे हैं यहां। कई बार कपडे भी उतार लेते हैं।'' यह कुछ इसी तरह है जैसे कोई स्‍वेच्‍छाचारी परिवारी बुर्जुग को कहे – जिंदगी भर तो तुमने केवल पाप किये ही हैं। मैं धर्म की गंगा में गोते लगा रहा हूं तो टोका टाकी न करो। अब तुम सठिया गये हो। शहर – समाज में क्‍या हो रहा है इसकी चिंता छोडो। हमारे पास बडे अखबार की निर्बाध ताकत है । इस लिए इसे देखना और क्‍या स्‍याह – सफेद है , यह तय करना केवल हमारा काम है। नहीं मानोगे तो हम तुम्‍हारे कपडे उतार कर नंगा कर देंगे। कह देंगे कि जिंदगी भर केवल बिके हो । बुढापे में भी बिक रहे हो।

मनरेगा में की मौज तो पहुंच गये जेल

: सरपंच, सचिव और उपयंत्री को 6-6 वर्ष की सजा और अर्थदण्ड : गबन के आरोप में न्यायालय ने सुनाया फैसला : जिले की जनपद पंचायत अंतर्गत ग्राम पंचायत चकमी का है मामला : डिण्डौरी। हर हाथ को १०० दिन का सुनिश्चित रोजगार मुहैया कराने वाली महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना की राशि का गबन करना सरपंच, सचिव और उपयंत्री को मंहगा पड़ गया। न्यायालय ने तीनों आरोपियों को गबन के आरोप में ६-६ वर्ष की सजा सुनाई है।

रेलवे स्टेशन से सोलह बोरा बाल पुष्टाहार बरामद

देवरिया : देवरिया सदर रेलवे स्टेशन से सरकारी बाल पुष्टाहार को तस्करी के माध्यम से ट्रेन से बिहार भेजने के मामला एक बार फिर सामने आया है। इस बार 16 बोरी बालपुष्टाहार रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नम्बर दो से शनिवार को बरामद किया गया है। इस मामले में एस डी एम सदर दिनेश कुमार गुप्त के निर्देश पर राजकीय रेलवे पुलिस में जिला कार्यक्रम अधिकारी ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है।

हमारे महंत पत्रकार इसी तरह जूरी के सदस्य बनकर पत्रकार के बजाय अखबार मालिक को सम्मानित करते रहेंगे!

Vineet Kumar : पिछले दिनों दैनिक भास्कर ने अपने यहां छंटनी की और जबरदस्ती मीडियाकर्मियों से इस्तीफा देने का दवाब बनाया. उसके कुछ दिनों बाद मीडिया इन्डस्ट्री में हल्ला हुआ कि यहां भारी पैमाने पर भर्ती हो रही है. एक तरफ रातोंरात लोगों को सड़क पर लाने का काम और दूसरी तरफ भारी पैमाने पर अवसर होने की खबर..

दिल्ली पुलिस जेएनयू के तीस छात्रों को अवैध रूप से पकड़ कर प्रताड़ित कर रही

खबर है कि जेएनयू के करीब 30 छात्रों को दिल्ली की वसंत विहार पुलिस ने पकड़ रखा है. इन छात्रों को अवैध रूप से हिरासत में लेकर प्रताड़ित किया जा रहा है. आरोप है कि सुजाता नामक लड़की को पीटा भी गया है जिसने नेवी के वाइफ स्वैपिंग स्कैंडल को लेकर केस दायर कर रखा है. फेसबुक पर अखिल कुमार ने जानकारी दी है कि वे लोग वसंत विहार पुलिस स्टेशन पर हैं और उन लोगों के साथ बुरा सलूक किया जा रहा है. छात्रों को अवैध रूप से हिरासत में रखे जाने की सूचना पाकर कई लोग थाने पहुंच रहे हैं और अपना विरोध दर्ज करा रहे हैं. पुलिस वाले इन लोगों से भी बदतमीजी कर रहे हैं. अखिल कुमार अपने फेसबुक वॉल पर लिखते हैं –

राजकमल राय जनसंदेश टाइम्स, गाजीपुर के ब्यूरो चीफ बने, अविनाश प्रधान का इस्तीफा

यूपी के गाजीपुर जिले से सूचना है कि यहां दैनिक जागरण के पूर्व ब्यूरो चीफ रहे राजकमल राय ने नई पारी की शुरुआत जनसंदेश टाइम्स अखबार के साथ की है. बताया जाता है कि राजकमल के ज्वाइन करने के बाद ब्यूरो चीफ का काम देख रहे अविनाश प्रधान ने आफिस आना बंद कर दिया है.

एनडीटीवी वाले कुमार विक्रांत ने आजतक न्यूज चैनल का दामन थामा

एनडीटीवी इंडिया से सूचना मिली है कि कुमार विक्रांत सिंह ने इस चैनल से इस्तीफा देने के बाद अब नई पारी की शुरुआत आजतक न्यूज चैनल के साथ करने जा रहे हैं. बताया जाता है कि वे एसोसिएट एडिटर के पद पर आजतक ज्वाइन कर रहे हैं.

आई-नेक्स्ट, लखनऊ के संपादकीय प्रभारी राधा कृष्ण त्रिपाठी ने हिंदुस्तान, लखनऊ ज्वाइन किया

लखनऊ से खबर है कि आई-नेक्स्ट के संपादकीय प्रभारी राधा कृष्ण त्रिपाठी ने अब नई पारी की शुरुआत हिंदुस्तान हिंदी दैनिक के साथ की है. उन्होंने आज लखनऊ में न्यूज एडिटर के पद पर ज्वाइन किया है. आई-नेक्स्ट, लखनऊ में लगातार उठापटक होती रहती है और यहां से लोग मौका पाते ही निकल लेते हैं.

चंद्रशेखर बेहेरे मराठी पत्रकार परिषद के निर्विरोध वर्किंग प्रेसिडेन्ट चुने गये

मराठी पत्रकार परिषद के चुनाव में नंदुरबार के तापीकाठ के वरिष्ठ पत्रकार चंद्रशेखर बेहेरे कार्याध्यक्षपद के लिए और रायगड के माथेरानके पत्रकार संतोष पवार जनरल सेक्रेटरी के रूप मे अविरोध चुने गये है. चुनाव निर्णय अधिकारी विजय पवारे ने मुंबई मे यह घोषणा की. नवनिर्वाचित पदाधिकारियों का परिषद के पूर्व अध्यक्ष तथा महाराष्ट्र पत्रकार हमला विरोधी कृती समितीके प्रमुख एस.एम.देशमुख ने अभिनंदन किया है.

हरिभूमि वालों ने बबलू तिवारी को फिर से पत्रकार किस मकसद से बनाया?

आज से 4-5 साल पहले छत्तीसगढ़ की मीडिया में चर्चित क्राइम रिपोर्टर हुआ करते थे बबलू तिवारी. अब उन्होंने फिर से सक्रिय पत्रकारिता में वापसी की है. दो दिन पहले उन्होंने गोपनीय रूप से हरिभूमि रायपुर में ड्यूटी ज्वाइन की. बबलू तिवारी ने दोबारा वापसी क्यों की,  ये सवाल प्रेस क्लब व मीडिया पर्सन में चर्चा का विषय बना हुआ है. बबलू ने कुछ साल पहले मीडिया छोड़कर व्यवसाय में अच्छी सफलता पाई थी. इनोवा से चलते हैं, ठाट-बाट बदल गया है.

दैनिक जागरण, गोरखपुर में जारी है हलचल, अबकी त्रिलोकी पांडेय की विदाई

दैनिक जागरण, गोरखपुर से सूचना है कि सिद्धार्थनगर में कुछ महीने पहले तैनात किए गए सीनियर सब एडिटर त्रिलोकी पांडेय की विदाई हो गई है. बताया जाता है कि ये पिछले कुछ दिनों से इनपुट हेड संजय मिश्रा की नजरों में खटक रहे थे. त्रिलोकी पर पहले आफिस आने पर रोक लगाई गई फिर लखनऊ शिकायत कर तलब करवा लिया. लखनऊ पेशी में त्रिलोकी को खरी खोटी सुनाकर बाहर का रास्ता दिखा दिया गया.

इलाहाबाद में अब आरक्षण समर्थकों ने शुरू किया हंगामा, बवाल, उपद्रव

मुलायम सिंह यादव की पहल पर यूपीपीसीएस परीक्षा में लागू नई आरक्षण नीति को रद किए जाने के बाद आरक्षण समर्थकों ने बवाल शुरू कर दिया है. शनिवार की सुबह बड़ी संख्या में आरक्षण समर्थकों के एक गुट ने अल्लापुर के कैलाशपुरी इलाके में स्थित सपा के जिलाध्यक्ष पंधारी यादव के घर पर पथराव किया, जिससे वहां खड़ा पुलिस का एक वाहन क्षतिग्रस्त हो गया. पुलिस ने हंगामा कर रहे छात्रों को खदेड़ा तो वह सपा कार्यालय आ गए.

मेरा 42 साल का अनुभव है, मैं जौहरी हूं, मैंने परखा है, मीनाक्षी टंच माल हैं : दिग्विजय सिंह

मध्य प्रदेश में कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी की करीबी मानी जाने वाली मीनाक्षी नटराजन को 'टंच माल' कहकर नए विवाद को जन्म दे दिया. बयान को लेकर जब बवाल बढ़ता गया तो खुद मीनाक्षी नटराजन दिग्विजय सिंह के बचाव में उतर आईं. उन्होंने कहा कि दिग्विजय सिंह ने उनकी तारीफ में ऐसा कहा था, इसलिए इस मामले को तूल दिए जाने की जरूरत नहीं है.

गरीबों के हिस्से की योजनाएं व रकम अपने पेट में जमा करने वालों को गरीब कैसे नजर आएंगे (देखें कार्टून)

Yashwant Singh : गरीब के हिस्से की योजनाएं और रकम की दिशा अपने पेट की तरफ मोड़कर अफसर और नेता इस कदर रकम पीट लेते हैं कि उनके देखने, सोचने, जीने का नजरिया व अंदाज ही बदल जाता है… अब देखिए ना, ये महोदय गरीब को खोज रहे हैं, क्योंकि इन्हें इस काम पर लगाया गया है…

जौनपुर में पत्रकारों से बदतमीजी करने वाले बीडीओ ने खेद जताया

 दु‌र्व्यवहार के विरोध में पत्रकारों ने दिया धरना :  केराकत (जौनपुर): तहसील के दो पत्रकारों के साथ स्थानीय खंड विकास अधिकारी द्वारा किए गए दु‌र्व्यवहार के विरोध में तहसील के पत्रकारों ने शुक्रवार को एसडीएम कार्यालय के समक्ष धरना देकर ज्ञापन सौंपा। पत्रकार दिलीप कुमार विश्वकर्मा व योगेंद्र यादव के साथ खंड विकास अधिकारी वीरेंद्र कुमार ने उस समय दु‌र्व्यवहार किया जब दोनों समाचार संकलन करने ब्लाक मुख्यालय गए हुए थे। पत्रकारों के साथ हुए दु‌र्व्यवहार को लेकर तहसील के पत्रकारों ने अब्दुल हक अंसारी की अध्यक्षता में धरना देकर एक ज्ञापन एसडीएम ऋतु सुहास को सौंपकर खंड विकास अधिकारी के विरुद्ध कार्यवाही की मांग की।

पत्रकार शशांक शुक्ला हत्याकांड की मजिस्ट्रेटी जांच शुरू

बांदा : चर्चित शशांक शुक्ला हत्याकांड की मैजिस्ट्रेटीयल जांच शुरू हो चुकी है। प्रशासन घटना से संबंधित साक्ष्य संकलित कर रहा है। इसके लिए पखवारेभर का समय निर्धारित किया गया है। बताते चलें कि मुहल्ला शंकर नगर निवासी टीवी चैनल के पत्रकार शशांक शुक्ला की 16 जुलाई को हत्या कर दी गई थी। घटना को आत्महत्या दिखाने के लिए हत्यारोपियों ने शव लोहिया पुल रेलवे लाइन के नजदीक फेंक दिया था।

टैम का विवाद सुलझा, संख्या में जारी होंगे दर्शकों के आंकड़े

नई दिल्ली : टीवी चैनलों की दर्शक संख्या के बारे में टैम के आंकड़ों का विवाद सुलझ गया है। ब्रॉडकास्टर्स, ऐड देने वाले और रेटिंग एजेंसी के बीच सहमति बनी है, जिसके तहत दर्शक संख्या के आंकड़े प्रतिशत के बजाय संख्या के आधार पर जारी किए जाएंगे। टैम का कई प्रसारकों के साथ उसकी रेटिंग को लेकर विवाद रहा है। टैम की टीवी और ऐड इंडस्ट्री के साथ इस बात को लेकर सहमति बनी कि वह संख्या (हजारों में) ही टेलिविजन रेटिंग (टीवीटी) जारी करेगा।

संपादक जी लोग एतवार के अपने अखबार में आधा-आधा पन्ना जो प्रवचन तानते हैं, उस पर न जाना रे भाई

Hareprakash Upadhyay : संपादक जी लोग एतवार के अपने अखबार में आधा-आधा पन्ना जो प्रवचन तानते हैं, उस पर न जाना रे भाई। जो सोचते हैं, ऊ बात ऊ लोग लिख दें तो समझो कि दंगा हो जाये, बहुत क्रांतिकारी विचार हैं हिन्दी के संपादकों के। कल एगो संपादक जी से औचक मिलना हुआ ( नाम में क्या रखा है, वैसे उन्होंने जो बताया, नाम न छापने की शर्त्त पर नहीं है)। उन्होंने मुझसे छूटते ही पूछा, तुम हिन्दू नहीं हो?

‘स्टार इंडिया’ की तरफ से हिंदी न्यूज चैनल लाने की तैयारी हुई शुरू!

: कानाफूसी : Last year, the most talked news of the media industry was the split between ABP and STAR India. The joint venture of 74:26 of ABP and STAR India respectively ended in April 2012. STAR India is now all set to launch a new Hindi news channel to capture the Hindi market, share industry sources. The development is in its preliminary stage. Recruitment and test runs are in process now. Industry bigwigs are expected to join the new channel. The name of the channel is not known yet.

जब केदारनाथ में रात को अजीबो गरीब आवाजों ने टीवी चैनल के रिपोर्टरों को परेशान किया

: कानाफूसी : तबाही के बाद सावन में उत्तराखंड के केदारनाथ मंदिर की कवरेज करने गए टीवी चैनल के पत्रकारों को खंडहर हो चुकी इमारतों में रात बिताना महंगा पड़ गया. जी हां, केदारनाथ में कुछ पत्रकार 21-22 जुलाई को कवरेज करने गए थे. उनके साथ कुछ और भी लोग थे. देर शाम मंदिर के पास पहुंचे टीवी चैनल के पत्रकारों को वहां देर हो गयी और वो खबरें बनाने के लिए अगले दिन का इंतजार करने लगे. इसके लिए उनको वहां रुकना भी पड़ा.

‘इलाहाबादी मीडिया’ और उसके कुछ ‘रंगे सियार’ भी आत्म निरीक्षण करें

हमारे संचार माध्यमों, खासकर ‘इलाहाबादी मीडिया’ को भी कुछ आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है। पिछले कुछ वर्षों से इलाहाबादी मीडिया या कहा जाय पत्रकारों ने सामान्यजनों से बात करना बंद ही कर दिया है। इसलिये वे पाठकों को या देखने वालों को यह कैसे बता सकते हैं कि लोगों के मन में क्या चल रहा है। माल-मलाई की आशा वाले कार्यक्रमों में तो कोई एक सैकड़ा पत्रकार हाजिर हो जाते हैं, लेकिन पुलिसिया दमन, सरकारी नीतियों का मुखर विरोध करने या भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे, सालों से यहां कुंडली मारकर बैठे अफसरों के खिलाफ ‘वास्तविक तरीके’ से एक ने भी ‘कवर’ नहीं किया।

हिंदुस्तान देहरादून से तीन का तबादला, एक का इस्तीफा

हिन्दुस्तान, देहरादून से सूचना है कि चीफ कॉपी रिपोर्टर प्रेम पुनेठा के इस्तीफ़ा देने के बाद लम्बे समय कुनाल दरगन ने भी संस्थान को अलविदा कह दिया है. कुनाल दरगन लंबे समय तक हरिद्वार के क्राइम रिपोर्टर रहे. पिछले दिनों हरिद्वार कार्यालय में हुई उठापटक के बाद दरगन का तबादला देहरादून कर दिया गया था. कुनाल की हिंदुस्तान को ज़माने मे महत्वपूर्ण भूमिका रही है.

राजस्थान : जो पत्रकार नहीं उन्हें भी जमीन आवंटित, कोर्ट ने जवाब तलब किया

जयपुर। राजस्थान हाई कोर्ट ने न्यू पत्रकार कॉलोनी में भूखंड आवंटन को लेकर राज्य सरकार से जवाब तलब किया है। मुख्य न्यायाधीश अमिताभ राय और न्यायमूर्ति वीरेंद्र सिंह सिराधना की खंडपीठ ने यह आदेश गुरुवार को प्रार्थी सुनील कुमार हेडा की याचिका की सुनवाई के बाद दिया।

यशवंत जी, रांची के ‘खबर मंत्र’ अखबार की अच्छाइ भी तो छापिए

यशवंत जी, आपसे आग्रह है कि आप हर किसी की बुराई छापते हैं लेकिन अच्छाई भी तो देखा कीजिए. 'खबर मन्त्र' अखबार के बारे में आपको जो लगा, शुरू के दौर में ठीक था. लेकिन अब रांची में 'खबर मन्त्र' हर एक दिन कमाल पे कमाल कर रहा है. उसे भी तो छापिए. उसके फेसबुक आईडी पर लेआऊट तो चेक कीजिए. अभी रांची में सबसे अच्छा लेआऊट दे रहा है.

ठग हैं अरुण कुमार चतुर्वेदी और वरुण कुमार चतुर्वेदी, पत्रकार अनुराग की पहल पर इनके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज

लखनऊ : कुठ ठगों ने बॉलीबुड हीरोइन महिमा चौधरी को अपनी रीयल एस्टेट और वित्तीय क्षेत्र की कम्पनी 'मैग्नम' का ब्रान्ड एम्बेसडर बनाया। महिमा को राजधानी में आमंत्रित कर निवेशकों को इयान, इन्डीवर, जैसी महंगी कारें, लैपटॉप, मंहगे मोबाइल उपहार के रूप में बांटे। इन कदमों से मैग्नम इन्फ्राडेवलपर्स के मालिकों ने निवेशकों को जमकर अपनी कंपनी की ओर आकर्षित किया। निवेशकों से करोड़ों रुपए अपनी कम्पनी में लगवाए। पर जल्द ही हकीकत सामने आ गई। निवेशकों को दिए गए चेक बाउन्स होने लगे।

प्रवीण कुमार, लगता है तुम्हारी कोई निजी खुन्नस है इस पत्रकार से

प्रवीण कुमार तुमने किसी पत्रकार पर लगे मुकदमों की बानगी पेश कर क्या कहने का प्रयास किया है? क्या तुमने कभी फील्ड रिपोर्टिंग की है, वह भी बिना किसी लालच और भय के. अगर की है तो तुम बेहतर समझ रहे होगे कि मैं क्या लिखने जा रहा हूं. और अगर नहीं की है तो तुम पहले बड़े अखबार या चैनल में फील्ड रिपोर्टिंग कम से कम पांच साल करो फिर अनुभव करना कि किसी भी निर्भीक व इमानदार रिपोर्टर को क्या क्या झेलना पड़ता है.

मोदी के नाम से कुछ लोग क्यों बीमार पड़ जाते हैं ?

नरेंद्र मोदी का नाम आते ही या फिर उनके साधारण से वक्तव्यों पर ही कुछ लोग क्यों उखड़ जाते हैं? समझ नहीं आता कि राष्टृहित में भी लोगों का नजरिया इतना भेदभाव वाला क्यों है। कुछ लोग कहते हैं कि मोदी सांप्रदायिक हैं। और जो यह कहते हैं, उन्हें शायद सांप्रदायिकता का सही अर्थ पता नहीं है। अगर होता तो वे दिग्विजसिंह की भी उतनी ही आलोचना करते, जितनी मोदी की। बौद्ध मठ पर धमाके को लेकर दिग्विजय का बयान क्या सांप्रदायिक नहीं है?

अलीगढ़ के प्रवीण कुमार का इरादा भ्रामक खबर फैलाकर स्वार्थ सिद्ध करने का है

नमस्कार यशवंत जी, अलीगढ से प्रवीन कुमार एक पत्रकार का आपराधिक इतिहास बता रहे हैं. आपके यहां खबर छपी है. इसके पीछे इनका फ्रस्ट्रेशन नवागत 'के. न्यूज़' चैनल से नहीं जुड़ पाना है. प्रवीन एड़ी चोटी का जोर लगा चुके हैं. लेकिन सेलेक्शन अर्जुन देव का हो गया. इससे आहत प्रवीन कुमार ने अर्जुन देव को बदनाम करने का अभियान छेड़ रखा है. प्रवीन श्रीन्यूज़ व जीन्यूज़ से जुड़े हैं. अर्जुन को फेसबुक के जरिये भी बदनाम किया.

कमलवाणी रेडियो स्टेशन का आज शुभारम्भ करेंगे ओला

झुंझुनू : शेखावाटी क्षेत्र के प्रथम सामुदायिक रेडियो स्टेशन कमलवाणी 90.4 एफएम का शुभारम्भ आज 27 जुलाई को प्रात: 11:00 बजे कमल निष्ठा संस्थान कोलसिया में केन्द्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री शीशराम ओला द्वारा किया जाएगा। संस्थान के सचिव डॉ. डीपी सिंह ने बताया कि समारोह के विशिष्ठ अतिथि राजस्थान वक्फ बोर्ड के चैयरमेन लियाकत अली खान, पुद्दुचेरी के पुलिस महानीरिक्षक रणवीर सिंह कृष्णिया, पूर्व विधायक श्रीमती प्रतिभा सिंह, श्रीगंगानगर के पूर्व सांसद बीरबलराम, श्री सुखराज सिंह सलवारा, कोषाध्यक्ष-ग्रामोत्थान विद्यापीठ, संगरिया, प्रो.बी.एस.राठौड़, डीन, राजस्थान विष्वविद्यालय शामिल होंगे। समारोह की अध्यक्षता अजमेर विद्युत वितरण निगम के प्रबन्ध संचालक पी.एस. जाट करेंगे। इस अवसर पर मुम्बई से आये राजस्थानी फिल्मों के प्रमुख कलाकार सतरंगी कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे।

अमर उजाला, जम्मू से नीरज का इस्तीफा, दैनिक जागरण से जुड़े

एक मेल के जरिए मिली सूचना के मुताबिक अमर उजाला, जम्मू में तैनात सीनियर रिपोर्टर नीरज गुप्ता ने इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने नई पारी की शुरुआत दैनिक जागरण, मेरठ के साथ की है. उन्हें मुजफ्फरनगर में ब्यूरो इंचार्ज की जिम्मेदारी दी गई है.

नभाटा से भिड़ने के वास्ते हिंदुस्‍तान ने लांच किया पुलआउट ‘लखनऊ लाइव’

लखनऊ के अखबारी दुनिया में पिछले कुछ महीनों से हलचल मची हुई है. नवभारत टाइम्‍स के लखनऊ में लांच होने की तैयारियों के बीच यहां जमे जमाए बड़े अखबार परेशान हैं. दैनिक जागरण ने सिटी जागरण लांच करके अपने पाठक को खुद से जोड़े रखने की कवायद की तो अमर उजाला अपने माई सिटी को और अधिक तेवरदार बनाकर इसकी तोड़ तैयार की. हिंदुस्‍तान भी पहले कूपन स्‍कीम चलाकर पाठकों को अपने साथ जोड़े रखने की कोशिश की.

आखिर इक्कीस साल बाद संतोष भारतीय को क्यों आई शर्म

फर्रुखाबाद : आखिर 21 साल के बाद फर्रुखाबाद से मंडल कमंडल की धूम वाले पूर्व प्रधानमंत्री वी०पी० सिंह की आंधी में संसद का चुनाव जीतने वाले संतोष भारतीय को शर्म आ ही गयी| फर्रुखाबाद से निकल कर दिल्ली के पोश गलियारों की चकाचौंध में पहुच संतोष भारतीय को बीस साल ये शर्म नहीं आई| शायद अन्ना हजारे और जरनल वी के सिंह के प्लेटफार्म पर उन्हें दिन में ही संसदीय तारे आगोश में दिखाई पड़ने लगे है| अन्ना के मंच पर संतोष ने माफी भी मांगी| वैसे चुनाव आते ही फर्रुखाबाद में वोट के लिए माफ़ी मांगने का रिवाज है| पिछले चुनाव में सलमान खुर्शीद ने भी जनता से दूर रहने की माफ़ी मांगी थी| और वोट के लिए “चाचा हम शर्मिंदा है तुम्हारे हत्यारे जिन्दा” है के नारे तो हर चुनाव में लग ही जाते है|

वो अन्ना का अरविन्द काल था, ये संतोष काल है

कल लिखने का मन नहीं था ।  लिखता भी तो क्या । यही के अन्ना का कार्यक्रम ऐसा था वैसा था, अन्ना और उनकी बातें उनका लहज़ा उनकी सोच वैसी ही है जैसी पहले थी । वो अन्ना का अरविन्द काल था, ये संतोष काल है । इसलिए कुछ नहीं लिखा । मैंने अन्ना  को एक बुजुर्ग की तरह ही लिया जिसकी बातें कुछ देर रुक के सुन लेने में कोई बुराई नहीं है । यू भी क्या अच्छा हो रहा है हमारे आस पास जो मैं सिर्फ अन्ना  में कमी निकालूँ . हाँ उनके पूर्व के आन्दोलन में जनसमर्थ को देखते हुए लगता था के कुछ हो सकता है पर अन्ना  और उनके साथी कुछ कर न सके ।

यूपी के एडीजी और डीजीपी की छुट्टी होगी!

लाख टके का सवाल यह है कि आखिर कौन लोग है जो सरकार को बदनाम करना चाहते हैं। बिगड़ती हुई कानून व्यवस्था मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के पूरे भविष्य पर सवाल खड़े कर रही है और पूरी सरकार मिलकर भी पुलिस महकमे को सुधार नहीं ला पा रही। अब एक बार फिर एडीजी और डीजीपी की विदाई की चर्चाएं जोरों पर हैं। लोकसभा चुनाव से पहले यह परिवर्तन भी क्या बिगड़ती हुई कानून व्यवस्था को सुधार पायेगा। इसकी उम्मीद कम ही है। पिछले दिनों में आईपीएस अफसरों के तबादलों में जिस तरह सरकार की फजीहत हुई उसने दर्शा दिया कि पूरी सरकार के बड़े अफसरों में भारी तालमेल की कमी है।

‘बंसल न्यूज’ से तीन का इस्तीफा, दो ‘जानो दुनिया’, एक ‘आईबीसी’ गया

बंसल न्यूज से तीन और लोगों ने इस्तीफा दे दिया है. इनमें से दो अहमदाबाद से हाल ही में चालू हुए नेशनल न्यूज चैनल 'जानो दुनिया' में गए हैं जबकि एक ने गोयल ग्रुप के आईबीसी को ज्वाइन किया है.. इस्तीफा देने वालों में पीसीआर के अरूण जिन्होने आईबीसी के साथ नई पारी शुरू की है.

कुलदीप कुमार समेत पच्चीस लोग भोजपुरी अकादमी पुरस्‍कार से सम्मानित

'भोजपुरी पंचायत' पत्रिका के कुलदीप कुमार को बिहार के गवर्नर डी. वाई. पाटिल ने  बिहार भोजपुरी अकादमी पुरस्‍कार २०१३ से सम्मानित किया। बिहार सरकार के भोजपुरी अकादमी के ३५ वर्ष पूरे होने के अवसर पर हुए अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी महोत्सव में कुलदीप कुमार को भोजपुरी भाषा, सभ्यता, संस्कृति, आचार-व्यवहार लोक परम्परा एवं संस्कार के संवर्धन में महत्वपूर्ण योगदान के लिए सम्मानित किया गया। ज्ञात हो कि कुलदीप को मारीशस में भी भोजपुरी गौरव सम्मान से एवं पूर्वांचल एकता मंच द्वारा ७वां विश्व भोजपुरी सम्मलेन में भोजपुरी पत्रकारिता गौरव सम्मान से लोक सभा अध्यक्ष एवं गृह राज्यमंत्री आर पी एन सिंह सम्मानित कर चुके है.

दिलों को जोड़ने का मंच बना फेसबुक बहुत कुछ तोड़ने का मंच बन रहा है

Vikas Mishra : ये सोचकर मैं फेसबुक पर आया था कि ये जोड़ेगा हमें- लोगों से, दोस्तों से, देश के अलग अलग हिस्से की संस्कृतियों से, दोस्तों की खुशियों से, दोस्तों के गमों से। कुछ हम सुनेंगे, महसूस करेंगे, कुछ हम सुनाएंगे, कुछ बांटेंगे, लेकिन इधर लग रहा है कि दिलों को जोड़ने का मंच बना फेसबुक बहुत कुछ तोड़ने का मंच बन रहा है।

इलाहाबाद के एसपी सिटी ने तो छात्रों के नाम पर टेंपो चालक को पकड़ कर जेल भेज दिया!

Vivek Singh : एसपी सिटी इलाहाबाद शैलेश यादव को प्रदेश की एकमात्र यादव फेमिली को खुश करने की इतनी जल्दी थी कि वो जिन २२ छात्रों को गिरफ्तार कर के ले गए उनमें से एक व्यक्ति ऐसा भी है जो कि छात्र ही नहीं है|  उसका नाम है ‎एहसान‬ अहमद और वो टेम्पो चलाता है| चलो एक बार मान भी लिया जाय कि भीड़ में पकड़ लिया होगा लेकिन जब मुकदमा पंजीकृत करवा रहे थे तब तो पूछा होगा या चाहिए था|

चैनल और अखबार वाले सरकारी घोषणा को ‘तोहफा’ कैसे कह देते हैं!

Shambhu Dayal Vajpayee : आज एक न्‍यूज चैनेल देख रहा था। बार आ रहा था- अखिलेश का प्रदेश को तोहफा। चैनेल वाले अक्‍सर ऐसा कहते हैं। अखबार भी लिखते हैं- मुख्‍यमंत्री ने तोहफों की झडी लगायी। मैं समझ नहीं पाता कि यह 'तोहफा' कैसे है।

पुलिस एसोसियेशन बनाने हेतु रिट याचिका

आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने इलाहाबाद हाई कोर्ट, लखनऊ बेंच में उत्तर प्रदेश में एकीकृत पुलिस एसोसियेशन बनाए जाने की मांग के सम्बन्ध में एक रिट याचिका दायर की गयी. इस याचिका में कहा गया है कि जहाँ उत्तर प्रदेश में आईपीएस एवं पीपीएस अधिकारियों द्वारा बिना शासकीय अनुमति के एसोसियेशन बनाये गए हैं वहीँ अधीनस्थ पुलिस सेवा के अधिकारियों को एसोसियेशन बनाने की अनुमति नहीं दी जा रही है.

यूपी समेत कई राज्यों में दूरदर्शन के चौबीसों घंटे के न्यूज चैनल शुरू करने की तैयारी

पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों को देखते हुए दूरदर्शन चौबीस घंटे का न्यूज चैनल शुरू करने वाला है. दिल्‍ली, राजस्‍थान, मिजोरम, छत्‍तीसगढ़ और मध्‍यप्रदेश के विधानसभा चुनावों से पहले ये चैनल शुरू कर दिए जाएंगे. यह जानकारी सूचना-प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने दी. इन चैनलों को शुरू करने के लिए दूरदर्शन पिछले कुछ महीनों से जुटा है.

बहुत याद आएंगे ‘रेडिया पंचायतघर’ वाले मतई भइया उर्फ युक्तिभद्र दीक्षित

इलाहाबाद। रेडियो पंचायतघर कार्यक्रम के जरिए अपनी आवाज से लोगों का खासा मनोरंजन करने वाले मतई भइया नहीं रहे। आकाशवाणी के चर्चित कलाकार व अवधी कवि युक्तिभद्र दीक्षित (85) का 24 जुलाई को सुबह उनके घर प्रीतमनगर में निधन हो गया। सीतापुर जिले के एक छोटे से गांव अंबापुर में जन्मे युक्तिभद्र दीक्षित ने अपनी खासी पहचान बनाई। उनके इकलौते बेटे श्रीभद्र दीक्षित ने बताया कि मंगलवार की रात तक वे पूरी तरह स्वस्थ थे। बुधवार को सुबह अचानक उनका निधन हो गया। निधन का समाचार पाकर उनके आवास प्रीतमनगर में शोक संवेदना व्यक्त करने वालों का दिनभर तांता लगा रहा।

रासबिहारी की नई पारी, शाहिद रजा का ट्रांसफर, बंसल से कई गए, कैलाश लाएंगे अपना अखबार

आलोक मेहता अपने साथ रास बिहारी को भी ले गए. अधिकारी ब्रदर्स की अंग्रेजी मैग्जीन 'गवर्नेंस नाऊ' का हिंदी एडिशन लांच कराने का जिम्मा आलोक मेहता को दिया गया है. जहां आलोक मेहता जाते हैं, वहां रास बिहारी जरूर होते हैं. सो, इस बार भी आलोक मेहात ने रास बिहारी को अपने साथ जोड़ लिया है और उन्हें सीनियर एडिटर बनाया है. आलोक मेहता खुद प्रधान संपादक हैं. मैग्जीन 15 अगस्त को लांच करने की तैयारी है. यह मैग्जीन विशुद्ध पीआर मैग्जीन है और इसमें पत्रकारिता के नाम पर पीआरगिरी होती है.

Why people dont want to be retired ?

I am surprised why people get upset when they are about to retire in India. They think as if it is an end of life. In India it is quite disgraceful to retire, so that no body wants to retire from government job. In west people welcome it because it means liberty to do any thing. It means, so far you always worked as per society norms, as per society's pattern and that now you can live your life at your own terms. This can usher a new beginning. But alas life was lived in a such a way that freedom looks like a prison. Retirement means no work in future, no activity, no previous status. It means you will be restricted to your house because people recognize you by your position in the society. But in west they don't feel bad, they don't attach any dignity to position, rather they dignify work. They give importance to performance.

‘अपनों’ ने भी चलाए तीरः गरीबी के ‘सुहावने’ आंकड़े कराने लगे हैं सरकार की फजीहत

योजना आयोग द्वारा जारी गरीबी की नई ‘सुहावनी’ तस्वीर, सरकार के लिए मुसीबत बनने लगी है। क्योंकि, गरीबी घटने का नया जादुई आंकड़ा कोई हजम करने को तैयार नहीं है। यहां तक कि यूपीए सरकार के कई घटक भी खुलकर आंकड़ों की विश्वसनीयता पर सवाल दागने लगे हैं। सरकार के रणनीतिकारों ने तैयारी तो यही की थी कि गरीबी के नए आंकड़े के जरिए सरकार की वाहवाही के ढोल जमकर बजाए जाएंगे। इससे यह संदेश जाएगा कि डॉ. मनमोहन सिंह के नेतृत्व में चलने वाली सरकार ने कम से कम गरीबी उन्मूलन के क्षेत्र में बड़ी सफलता हासिल कर ली है। लेकिन, मुश्किल यह है कि कांग्रेस के दिग्गज भी गरीबी की नई तस्वीर को लेकर बहुत उत्साहित नहीं हैं। सरकार के सहयोगी दल एनसीपी ने तो खुलकर गरीबी के सरकारी मापदंडों पर सवाल खड़े किए हैं। केंद्रीय मंत्री एवं एनसीपी के वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने कह दिया है कि उनकी पार्टी गरीबी को लेकर आयोग के मापदंड से सहमत नहीं है।

उन्हें तो मीडिया रूपी आईने पर काफी गुस्सा आने लगा है

लोकसभा के चुनाव में करीब आठ महीने का समय बचा है। ऐसे में, सभी प्रमुख दलों ने चुनावी तैयारियों की जी-तोड़ कोशिशें शुरू कर दी हैं। खास तौर पर भाजपा और कांग्रेस जैसे बड़े दल एक-दूसरे के मुकाबले चुनावी राजनीति की बड़ी लकीर खींचने की होड़ में जुट गए हैं। दोनों खेमों में युद्ध स्तर पर रणनीतियां बनाई जा रही हैं। चुनावी रण जीतने के लिए मंत्रणाओं का दौर शुरू हो गया है। कोशिश यही हो रही है कि किसी तरह से विरोधी धड़े की छवि में जितनी कालिख पोती जा सके, वह पोत दी जाए। पलटवार के लिए भी तैयारियां चल रही हैं।

जब चुनिंदा पचास पत्रकारों के नामों के ऐलान का वक्त आता है तो टॉप के दो पत्रकार दो अखबार के मालिक हो जाते हैं

: पत्रकारिता के नाम पर कोई कितनी फ्रॉडगिरी कर सकता है? : पत्रकार / पत्रकारिता के नाम पर कोई कितनी फ्रॉडगिरी कर सकता है। या फिर मौजूदा दौर में पत्रकारिता एक ऐसे मुकाम पर जा पहुंची है, जहां पत्रकारिता के नाम पर धंधा किया भी जा सकता है और पत्रकारों के लिये ऐसा माहौल बना दिया गया है कि वह धंधे में अपनी उपस्थिति दर्ज कराकर धंधे को ही मुख्यधारा की पत्रकारिता मानने लगे। या फिर धंधे के माहौल से जुड़े बगैर पत्रकार के लिये एक मुश्किल लगातार उसके काम उसके जुनुन के सामानांतर चलती रहती है, जो उसे डराती है या फिर वैकल्पिक सोच के खत्म होने का अंदेशा देकर पत्रकार को धंधे के माहौल में घसीट कर ले जाती है।

भाजपा की सेंट्रल लीडरशिप आज मोदी के आगे साष्टांग दंडवत है

Deepak Sharma : मोदी का स्वराज… ATTN Ms Swaraj/Mr Jaitley… सारे देश को मोदी कबूल नही इसमें नयी बात क्या है? बीजेपी को खुद मोदी कबूल नहीं, ये भी कोई नई बात नहीं? तो फिर मोदी दिल्ली दरबार तक पहुंचे कैसे? …ज़रा सोचिये… क्या आपने कभी अरुण जेटली और सुषमा स्वराज का विश्लेषण किया है? क्या आपने कभी राजनाथ सिंह का विश्लेषण किया है? या आपने अनंत कुमार या वेंकैया नायडू पर गौर किया? ये बड़े नेता पिछले ९ सालों से संसद और संसद के बाहर क्या कर रहे थे?

इसकी भतीजी द्वारा मुझे भेजे गए कुल सत्रह अश्लील मैसेज संलग्न कर भेज रहा हूं

सेवा में, माननीय अध्यक्ष महोदय, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, नई दिल्ली विषय: थानाध्यक्ष शिवपुर द्वारा बिना जाँच किये मेरा उत्पीड़न किये जाने व तरह तरह के फर्जी मुकदमे में फ़साये जाने के सम्बन्ध में शिकायत,  महोदय, मैं प्रार्थी गोविन्द राय पुत्र श्री प्रसिद्धि राय निवासी एस-9/54 सुद्धिपुर, शिवपुर वाराणसी का रहने वाला हूँ |

तो क्या मैं रेसपोंस बताने के लिये यहां बैठा हूं…

'ये शुरुआती दौर है बाबू…अभी मलाईखोरों की झल्लाहट भी झेलनी पड़ेगी और अपन को अभी ठोकरे भी खानी पड़ेगी..लेकिन हार कभी नहीं माननी।' ये वो स्टेटमेंट है जो आज मेरे दिल ने मुझे अभी-अभी सुनाई है। दरअसल मामला कुछ यूं है कि एक संस्थान में नौकरी के लिये विज्ञापन देखा तो रिज्यूम भेज दिया।

भाजपा में लिखी जा रही ‘महाभारत’ की पटकथा

अब लगभग यह तय हो गया है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का दिल्ली फतह करना बहुत मुश्किल है। कांग्रेस से दो-दो हाथ करने से पहले मोदी को भाजपा में मौजूद अपने ही लोगों से लड़ना होगा। यानी एक महाभारत होगा, जिसमें यह तय करना मुश्किल होगा कि कौन कौरव हैं और कौन पांडव? यह भी तय नहीं है कि श्रीकृष्ण की भूमिका में कौन होगा? कह सकते हैं कि आरएसएस यह भूमिका निभा लेगा, लेकिन अभी तक तो लग रहा है कि वह भी इस समय बेबस है।

अलीगढ़ में ‘के. न्यूज’ संवाददाता का आपराधिक इतिहास बता रहे हैं पत्रकार प्रवीण कुमार

सेवा में, संपादक महोदय भड़ास ४ मीडिया, आज मीडिया में अपराधीकरण खूब हो रहा है. अपराधी पत्रकार का चोल ओढ़ कर और पत्रकारिता की आड़ में पुलिस को ही धोंस दे रहे है. साथ ही इलाके में खूब वसूली कर रहे हैं. इसकी एक बानगी देखने को मिलेगी अलीगढ जिले में.

प्रेमचंद की सामाजिक चिंताएं

प्रेमचंद ने सन 1936 में अपने लेख ’महाजनी सभ्यता’ में लिखा है कि ’मनुष्य समाज दो भागों में बँट गया है । बड़ा हिस्सा तो मरने और खपने वालों का है, और बहुत ही छोटा हिस्सा उन लोगों का था जो अपनी शक्ति और प्रभाव से बड़े समुदाय को बस में किए हुए हैं ।इन्हें इस बड़े भाग के साथ किसी तरह की हमदर्दी नहीं, जरा भी रू -रियायत नहीं । उसकाअस्तित्व केवल इसलिए है कि अपने मालिकों के लिए पसीना बहाए, खून गिराए और चुपचाप इस दुनिया से विदा हो जाए ।’ इस उद्धरण से यह स्पष्ट है कि प्रेमचंद की मूल सामाजिक चिंताएँ क्या थीं ।

दैनिक जागरण, दिल्ली / नोएडा में कोहराम : अरुण सिंह, कविलाश मिश्र और अंशुमान तिवारी के इस्तीफे की चर्चा

लगता है निशिकांत ठाकुर की घेरेबंदी तगड़ी कर दी गई है. तभी तो उनके सबसे मजबूत सिपहसालार शहीद होने लगे हैं या शहीद होने की ओर बढ़ चले हैं. चीफ जनरल मैनेजर निशिकांत ठाकुर के अन्नय भक्त अरुण सिंह, जो जनरल मैनेजर पद पर नोएडा मुख्यालय में कार्यरत हैं, के बारे में सूचना आई है कि उनका इस्तीफा हो गया है. कविलाश मिश्र जो निशिकांत ठाकुर के साले साहब बताए जाते हैं, उनके बारे में सुनने को मिला है कि उनकी दिल्ली स्टेट ब्यूरो हेड वाली गद्दी छिन गई है और उनका तबादला नोएडा मुख्यालय में डेस्क पर कर दिया गया है.

कई इस्तीफों के बाद साधना न्यूज छत्तीसगढ़ में अब ब्यूरो चीफ संजय शेखर के उपर अनिल पुसदकर लाए गए

साधना न्यूज छत्तीसगढ़ में इन दिनों नए नए पोस्ट बनाए जा रहे हैं… छत्तीसगढ़ के ब्यूरो चीफ के पद पर आसीन संजय शेखर के उपर कल प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष और सीसीएन चैनल के संपादक अनिल पुसदकर को बैठा दिया गया है… अनिल पुसदकर अब साधना न्यूज चैनल के स्टेट ब्यूरो हेड होंगे…

श्री न्यूज से सीईओ आलोक अवस्थी ने रिजाइन किया, नए प्रोजेक्ट में जुटे

उथल-पुथल से घिरे श्री न्यूज चैनल से बड़ी खबर आ रही है कि इस चैनल के सीईओ आलोक अवस्थी ने इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने कल प्रबंधन को अपना रिजाइन लेटर सौंप दिया. उन्होंने एक नए प्रोजेक्ट के लिए श्री न्यूज चैनल को टाटा बाय बाय बोला है. चर्चा है कि आलोक जल्द ही एक नया चैनल लेकर मार्केट में आ सकते हैं.

मध्यप्रदेश के पत्रकारों को श्रद्धानिधि : फर्जी पत्रकारों का बोलबाला

भोपाल। अखिरकार मध्यप्रदेश सरकार ने चुनावी वर्ष में प्रदेश के बुजुर्ग पत्रकारों को श्रद्धानिधि दे ही दी। लेकिन शासन की इस योजना का लाभ पाने में वस्तिवक पत्रकारों का हक मारने में फर्जी पत्रकारों ने बाजी मार ली। ऐसा शासन की गलत नीति के कारण संभव हो सका। सवाल यह है कि श्रद्धानिधि किसको? शासन की मंशा आर्थिक रूप से कमजोर पत्रकारों को आंशिक राहत पहचाने की थी, वो भी ऐसे पत्रकारों को जो सेवानिवृत्त होने के बाद काम करने की स्थिति में नहीं है या घर बैठ गए हैं।
लेकिन श्रद्धानिधि प्राप्त करने वाले पत्रकारों की सूची देख कर ऐसा लगता है कि सरकार ने अडि़बाजी करने वाले लोगों को ही योजना का लाभ पहुंचाने में मदद की है।

फेसबुक और सोशल मीडिया के ‘गोयबल्स’ का शिकार होता रहता हूं : अजीत अंजुम

Ajit Anjum : फेसबुक और सोशल मीडिया में कुछ लोग हिटलर के प्रचार मंत्री डॉ. जोज़ेफ गोयबल्स की फिलॉसफी से प्रभावित होकर किसी के खिलाफ झूठा प्रचार करने के गुरेज नहीं करते …और इतनी बार, इतने तरीके से करते हैं कि लोग उसे सच मानने लगें ….( गोयबल्स की थ्यौरी – झूठ को इतनी बार ( सौ बार ) बोलो कि वह सच लगने लगे ) . मैं भी इसका शिकार गाहे – बगाहे होता रहता हूं …झूठी बातें , झूठे बयान , झूठी कहानियां बनाकर कहीं भी चिपका देते हैं और खुश होते हैं कि मैंने तो उनका काम लगा दिया ….सच कहू तो पहले कभी इसकी चिंता भी करता था …कई बार कोफ्त भी होती थी कि क्या है यार , बेसिर – पैर की बातें लिख दी गयी है..

ये आंकड़े गरीबी उन्मूलन के नहीं हैं, गरीबों के सफाये के हैं

योजना आयोग के ताजा आंकड़ों से पता चलता है कि भारत लोक गणराज्य में लोक कल्याणकारी राज्य के  अवसान के बाद क्रयशक्ति निर्भर खुले बाजार में किस तेजी से गरीबों का सफाया हो रहा है।लगातार बढ़ती महंगाई के बीच केंद्र की यूपीए सरकार ने दावा किया है कि उनके कार्यकाल में गरीबों की संख्या पहले के मुकाबले आधी रह गई है।

जी न्यूज के दर्शकों को अनंत और सौरभ देंगे ‘डबल डोज’

: Zee News launches ‘Double Dose’– crazy mix of news and humour :  New Delhi : Zee News has always been on the forefront of creating innovative and pathbreaking content. This time Zee News has come up with a complete humorous show based on news -“Double Dose with Anant and Saurabh”. It is a one of a kind show combining humour with serious news. This show will be aired on Zee News and will be anchored by the two wacky Radio Jockeys- Anant & Saurabh.

देवेंद्र रावत रामनाथ गोयनका एवार्ड पाने वाले पत्रकारों से बड़ा पत्रकार है, तुम्हें सलाम भाई

उत्तरकाशी के इस रिपोर्टर देवेंद्र रावत को मेरा सलाम… उत्तराखंड के उत्तरकाशी में हुई तबाही के शाट सबसे पहले समाचार चैनल्स तक पहुंचाने वाले ज़ी यूपी उत्तराखंड रीजनल न्यूज़ चैनल के संवाददाता देवेन्द्र रावत को मेरा सलाम..… जांबाज़ रिपोर्टर देवेन्द्र ने ही सबसे पहले बड़ी-बड़ी इमारतों के ढहने के दृश्य घंटों बैठकर अपने कैमरे में क़ैद किये…

सलमान, रायल बेबी और मोदी… इन तीनों में बीता चैनलों के चौबीस घंटे, श्यामरुद्र पाठक की किसे चिंता

बुधवार 24 जुलाई को सुबह 10.30 बजे से ही सभी टीवी चैनल्स मे सर्च कर रहा था कि कहीं पटियाला हाउस कोर्ट मे पेश होते 'खतरनाक अपराधी' श्यामरुद्र पाठक दिख जाएँ जिन्होंने भारतीय भाषाओं में न्याय पाने की मांग करने का 'अपराध' किया व संविधान मे संशोधन की बात उठाई।

हिंदुस्तान आगरा से ज्ञानेंद्र कुमार ने भी इस्तीफे का नोटिस थमाया, दैनिक जागरण से जुड़े

हिन्दुस्तान आगरा संस्करण से इस्तीफा देकर छोड़कर जाने वालों का सिलसिला नहीं थम रहा है। अब इस क्रम में नया नाम सीनियर सब एडीटर ज्ञानेन्द्र कुमार का जुड़ा है। खबर है कि ज्ञानेन्द्र कुमार इसी पद पर दैनिक जागरण कानपुर ज्वाइन करेंगे। फिलहाल उन्होंने हिन्दुस्तान को नोटिस थमा दिया है।

देख ली है अपन ने औकात, फिर क्या उलझना-सुलझना

एक झलक देखकर मुग्ध हो जाने के बाद इस एनीमेटेड तस्वीर को अपने मेल (भेजने वाले Giriraj Daga और Saurabh Rastogi को धन्यवाद) से अपने डेस्कटाप पर सेव ऐज किया फिर इस तस्वीर की जिफ फाइल पर कर्सर रखकर राइट क्लिक किया और ओपेन विथ आप्शन सेलेक्ट करने के बाद विंडोज एक्सप्लोरर ब्राउजर को चूज करते हुए तस्वीर को खोला, फिर देर तक इत्मीनान से देखता रहा. देश बड़ा है, दुनिया बड़ी है, जल-जंगल-जमीन-हवा-रोशनी-आसमान-पाताल को समेटे-संभाले यह पृथ्वी यानि अर्थ तो बहुत ही बिग साइज चीज है. पर काहे को बड़ी है ये धरती? बिलकुल नहीं.

बाढ़ पीड़ित के कंधे पर बैठकर रिपोर्टिंग करने वाले नारायण परगईं पर नई आफत

बाढ़ पीड़ित दुबले पतले युवक के कंधे पर बैठकर और उसे पानी में उतार कर रिपोर्टिंग करने वाले हट्ठे-कट्ठे पत्रकार नारायण परगईं पर आफत के बादल छंटते नहीं दिख रहे हैं. ताजी सूचना के मुताबिक देहरादून के थाना कोतवाली में नारायण परगई के खिलाफ आईटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

इससे पहले कि गांव के साथ लोग दफन हो जायें, लड़कर मरना ठीक है

जोशीमठ ब्लाक का गणाई गांव पाताल गंगा के बांये छोर पर पहाड़ी ढलान पर बसा है। 120 परिवारों का गांव ऊपजाऊ जमीन, घने जंगल से घिरा व पानी की पर्याप्तता के चलते खेती किसानी व बसावत के लिहाज से उपयुक्त ही लगता है। तीन हिस्सों में बसा मुख्य गांव व उसके बाएं छोर पर गणाई ग्राम सभा का ही हिस्सा दाड़मी गांव, हो सकता है कभी यहां दाड़िम फलता रहा हो इसलिये दाड़मी।

अच्छा हुआ जो बरेली के गंगाशील अस्पताल का रजिस्ट्रेशन कैंसल हो गया

Pankaj Mishra : जब देता है तो छप्पर फाड़कर और जब लेता है तो जमीन में गड्ढा खोदकर ले भी लेता है। पहले अपनी बात। मेरे एक वरिष्ठ सहकर्मी की पत्नी को बच्चा होना था। चूंकि वे कुछ समय पहले ही बरेली में रहने आए थे, सो ज्यादा जानकारी नहीं थी। अन्य साथियों से जानकारी की तो पता चला कि फलां अस्पताल बहुत अच्छा है। साथ ही यह भी बताया कि हालांकि खर्चा ज्यादा आ जाएगा। लेकिन उनके यहां तो खुशी आने वाली थी, इसलिए खर्च की ज्यादा फिक्र उन्हें नहीं थी। यह तो खैर बच्चा होने की बात थी। उनकी खासियत यह थी कि खर्च में कभी पीछे नहीं रहे। पैसे कम हों या ज्यादा, खर्च करना है तो करना ही है।

समाजवादी पार्टी को आरटीआई के दायरे में लाने का मामला आयोग पंहुचा

मैंने दिनांक 13-06-13 को समाजवादी पार्टी के लखनऊ कार्यालय से सूचना मांगी थी. जन सूचना अधिकारी – समाजवादी पार्टी, 19, विक्रमादित्य मार्ग, लखनऊ, उत्तर प्रदेश, पिन कोड -226001 को पंजीकृत पत्र  संख्या A RU 301995749IN दिनांक 14-06-13 के माध्यम से प्रेषित पत्र डाक विभाग की अभ्युक्ति "कार्यालय में इस पदनाम का कोई नहीं है अतः वापस" के साथ मुझे वापस मिल गया थाl इससे स्पस्ट था कि समाजवादी पार्टी स्वयं को सूचना के अधिकार के दायरे में लाने को तैयार नहीं थीl

माखनलाल भोपाल में ‘न्‍यू मीडिया’ पर व्‍याख्‍यान में कमल शर्मा ने क्या-क्या बताया-सुनाया, यहां पढ़ें

: वेब पत्रकारिता- ऊंचाईयों की तो अभी शुरुआत भर : आईआईएमसी से पत्रकारिता की पढ़ाई के बाद 1988 में जब मैंने अपने कैरियर की शुरुआत की थी तब बिजनेस जर्नलिज्‍म से जुड़ने का फैसला किया था। उस समय अनेक दिग्‍गज पत्रकारों ने मेरे इस विचार को सही न ठहराते हुए राजनीतिक पत्रकारिता में अपना कैरियर बनाने की सलाह दी थी। लेकिन, मेरा यह मानना था कि देश में आर्थिक प्रगति का चक्र जब तेज गति से दौड़ना शुरु करेगा, वह समय बिजनेस पत्रकारिता का होगा एवं उस समय तक अपने को तैयार कर चुके बिजनेस पत्रकारों की अहमियत बढ़ेगी।

मोदी की स्वीकार्यता से भाजपा में बगावत

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी को भारतीय जनता पार्टी की केंद्रीय चुनाव समिति का मुखिया बनाकर संघ ने परोक्ष रूप से पार्टी में यह संकेत देने की कोशिश की थी कि अब मोदी ही संघ का एजेंडा पार्टी के मार्फ़त देशभर में लागू करेंगे। हालांकि संघ की इस मंशा पर पहले तो पार्टी के ही वयोवृद्ध नेता लालकृष्ण आडवाणी ने पलीता लगाने की कोशिश की जिन्हें काफी मान-मनव्वल के बाद मनाया गया। संसदीय बोर्ड की बैठक में पार्टी के सभी क्षत्रपों के एक मंच पर आने से भी यह दृष्टिगत हुआ मानो स्थिति अब संघ के हाथों में है। पर क्या वाकई भाजपा में सब ठीक है?

मिड-डे-मील का बंटाधार

मिड-डे-मील योजना दुनिया का सबसे बड़ा स्कूली पोषण कार्यक्रम है। इसके तहत देशभर के 12.65 लाख स्कूलों के करीब 12 करोड़ बच्चों को दोपहर का भोजन विद्यालयों में वितरित किया जाता है। इस महत्वाकांक्षी योजना का मूल उद्देश्य निर्धन बच्चों को स्कूल से जोड़ने और उनके पोषण का है। 17 सालों से यह योजना देशव्यापी स्तर पर चलाई जा रही है। इसके चलते बीच में स्कूल छोड़ जाने वाले बच्चों में काफी कमी आई है।

महिला हवालातों में सीसीटीवी चाहते हैं डीजीपी (यूपी), पर असहाय

लखनऊ : यूपी के डीजीपी सभी थानों के महिला हवालातों और कार्यालय कक्ष में सीसीटीवी कैमरा लगाना तो चाहते हैं पर वे इस सम्बन्ध में अपने स्तर पर असहाय हैं. यह बात सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर की याचिका में डीजीपी की तरफ से डिप्टीएसपी लक्ष्मी नारायण मिश्र द्वारा दायर प्रति शपथपत्र से सामने आई है.

क्या आईएमए के ‘अनुग्रह’ के चलते शंभू दयाल वाजपेयी बरेली के अस्‍पताल के पक्ष में ‘कलम तोड़ रहे’ हैं!

Shambhu Dayal Vajpayee : लगभग एक सौ करोड रुपये की लागत वाला बरेली का प्रमुख अस्‍पताल गंगाशील 24 घंटे के अल्‍टीमेटम पर बंद करा दिया गया। मेरे कुछ जानने वालों को शिकायत है यहां इलाज बहुत मंहगा था । अखबारी मित्रों का आक्षेप है कि आईएमए के 'अनुग्रह' के चलते मैं अस्‍पताल के पक्ष में 'कलम तोड़ रहा' हूं। बंद करने का कारण बताया जा रहा है कि अस्‍पताल की एक कर्मचारी के साथ एक अन्‍य कर्मचारी ने अपने भाई की मिली भगत से दुराचार किया ।

रवीश कुमार के अलावा एनडीटीवी के उमाशंकर सिंह और हृदयेश जोशी को भी मिला रामनाथ गोयनका सम्मान

नई दिल्ली: इस बार प्रतिष्ठित रामनाथ गोयनका पुरस्कार से एनडीटीवी के तीन पत्रकारों को सम्मानित किया गया है. इनमें रवीश कुमार को 'जनर्लिस्ट ऑफ द इयर', हृदयेश जोशी को 'बेस्ट ऑन द स्पॉट' रिपोर्टर और उमाशंकर सिंह को 'एक्सीलेंस इन जनर्लिज़्म' का अवॉर्ड दिया गया है.

इस बार बाइस हिंसक सवर्ण अपराधी नैनी सेंट्रल जेल में हैं

Samar Anarya : इलाहाबाद में सवर्ण आरक्षण विरोधियों द्वारा बरपाये गए कहर से चौंकने की जरूरत नहीं है. इन बेहूदों ने 1989 में इससे भी ज्यादा नंगई की थी. पुराने लोगों से पूछिये- वे आपको तब के अध्यक्ष इंदु सिंह के नेतृत्व में लगाये गये छात्र कर्फ्यू के बारे में बताएँगे. इस बार सड़कों पर बहा दिया गया गरीब दूधवालों खून, तोड़ दिए गए ठेले, बर्बरता का शिकार हुई भैंसें- सब बुरा है पर यकीन करिए उस बार जैसा नहीं.

सवर्णों ने इलाहाबाद में ऐतिहासिक नीचता का परिचय दिया है

Pradyumna Yadav : सवर्णों ने इलाहाबाद में ऐतिहासिक नीचता का परिचय दिया है। मुझे नहीं पता था ये इतने बड़े नीच होते हैं और इस तरह की हरकते कर सकते हैं। कल शाम की सलोरी की घटना बता रहा हूँ। उच्च न्यायलय का फैसला आने के बाद ये सवर्ण जब वहाँ पहुंचे तो अपनी धौंस और गुंडई दिखाते हुए गरीब पिछड़े वर्ग के ठेले पर दूकान करने वालो के ठेले उलट-पलट दिया। उन्हें बाकायदा चिन्हित कर के पीटा गया।

श्यामरूद्र पाठक कोई सिरफिरे नहीं, आईआईटी के टॉपर हैं और यूपीएससी की परीक्षा भी मैरिट में पास की थी

श्यामरूद्र पाठक नाम के 'खतरनाक अपराधी' को 24 जुलाई को दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया जाएगा। फिलहाल तिहाड़ जेल में बन्द श्यामरूद्र पर आरोप है कि उसने उच्च न्यायालयों में न्याय की प्रक्रिया भारतीय भाषाओं में भी सुनिश्चित करने के लिए यूपीए की शक्तिपीठ 10 जनपथ के सामने सत्याग्रह करके केन्द्र की सत्ता के नियंताओं की नींद में खलल डाला, देशप्रेम के नारे लगाकर अशांति फैलाई।

संपादक के रवैये के चलते हिन्दुतान आगरा का एक और विकेट गिरा

हिन्दुस्तान आगरा के संपादक पुष्पेन्द्र शर्मा के तानाशाही रवैये से परेशान हिन्दुस्तान आगरा प्लस के एक और रिपोर्टर ने इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले कई रिपोर्टर इनके व्यवहार से परेशान होकर इस्तीफा दे चुके हैं. हिन्दुस्तान आगरा प्लस के रिपोर्टर अश्वनी भदौरिया ने इस्तीफा देकर नई पारी राजस्थान पत्रिका जयपुर के साथ शुरू की है.

बीमा के पैसे को लेकर शहीद सीओ के घर घमासान

: बीमा में नामिनी हैं शहीद सीओ के माता-पिता : पैसे पर अधिकार को लेकर बेवा परवीन ने दी चुनौती : 26 को होगी मामले में सुनवाई : देवरिया – प्रतापगढ़ जिले के कुंडा में शहीद सीओ जियाउल हक की बीमा राशि पर हक को लेकर उनके माता-पिता व पत्‍‌नी के बीच विवाद गहरा गया है। बीमा में नामिनी शहीद के माता-पिता को कोर्ट से नोटिस मिली है कि शहीद की बेवा परवीन आजाद ने पैसे पर अधिकार को लेकर आपत्ति दाखिल की है। मामले की सुनवाई 26 जुलाई को मुकर्रर है। इसकी भनक लगते ही शहीद के माता-पिता के पैरों तले जमीन खिसक गई है।

राजनैतिक दलों के स्थायी चुनाव चिन्ह को चुनौती

कल इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में विभिन्न मान्यताप्राप्त राजनैतिक दलों के चुनाव चिन्हों को चुनौती देते हुए एक याचिका दायर की गयी. सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि भारत निर्वाचन आयोग केंद्रीय और राज्य स्तरीय मान्यताप्राप्त दलों को निर्वाचन  प्रतीक आरक्षण और आवंटन आदेश 1968 के अनुसार स्थायी चुनाव चिन्ह आवंटित करता है जो  निर्वाचन नियमावली 1961 के नियम 5 और 10 के विरुद्ध है क्योंकि इन नियमों के अनुसार चुनाव चिन्ह चुनाव घोषित होने के बाद ही निर्वाचन अधिकारी द्वारा दिये जाने चाहिए जबकि चुनाव आयोग कुछ दलों को स्थायी रूप से चुनाव चिन्ह दे देता है.

Subrata Roy may well be a worried man now

: Sebi gets more powers to act against defaulters :  Subrata Roy, chief of the Sahara group of companies, may well be a worried man now, given his prolonged face-off with market regulator, Securities Exchange Board of India (Sebi). Sebi has been given powers to attach properties and bank accounts of persons and companies failing to comply with its directions, such as paying penalties, making refunds to investors or paying other dues.

होशंगाबाद के युवा पत्रकार पवन नाथूराम पालीवाल का निधन

होशंगाबाद से एक बुरी खबर है. कल सुबह एक दैनिक अखबार के युवा पत्रकार पवन नाथूराम पालीवाल का इलाज के दौरान अस्पताल में निधन हो गया। पत्रकार पवन एक युवा पत्रकार साथी थे जिनके अकास्मिक निधन पर पत्रकार जगत में शोक का माहौल रहा। पत्रकार पवन की अंतिम यात्रा में होशंगाबाद के सभी पत्रकार मौजूद रहे। पत्रकार पवन पालीवाल को सभी पत्रकारों ने श्रद्धांजलि दी।

पत्रकार हिमांशु चौधरी बने झारखंड सीएम के राजनीतिक सलाहकार

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने पत्रकार हिमांशु शेखर चौधरी को अपना राजनीतिक सलाहकार नियुक्त किया है। झारखंड के गोड्डा जिला के मोतिया ग्राम निवासी स्वर्गीय प्राणधन चौधरी के पुत्र हिमांशु शेखर चौधरी को बतौर राजनीतिक सलाहकार प्रधान सचिव स्तर का वेतनमान एवं अन्य सुविधाएं देने की अनुशंसा की गयी है। नियुक्ति की अधिसूचना राज्य सरकार द्वारा जारी कर दी गयी है। हिमांशु शेखर चौधरी मूलत: पत्रकारिता से जुड़े रहे हैं।

केन्द्रीय गृह सचिव, सूचना प्रसारण सचिव को अवमानना नोटिस

इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने कल केंद्रीय गृह सचिव अनिल गोस्वामी और सूचना प्रसारण सचिव बिमल जुल्का के खिलाफ अवमानना नोटिस जारी की. जस्टिस अजय लाम्बा की बेंच ने यह नोटिस सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर की याचिका पर जारी की जो उन्होंने जस्टिस उमानाथ सिंह व जस्टिस महेंद्र दयाल की बेंच द्वारा उनके प्रत्यावेदनों को चार सप्ताह में निस्तारित करने के आदेश का पालन नहीं करने पर दायर किया गया था.

पाजीटिव मीडिया ग्रुप खरीदने के बाद नवीन जिंदल अब हरियाणा के लिए ला रहे एक नया चैनल!

नई दिल्ली : हरियाणा के एक और राजनेता न्यूज चैनल लाने की तैयारी में हैं। इस श्रृंखला में नया नाम जुड़ा है उद्योगपति और हरियाणा के कुरूक्षेत्र से कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल का। जिंदल ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के ही नेता मतंग सिंह के पाजीटिव टीवी मीडिया में हिस्सेदारी खरीदी है। इस मीडिया हाउस की ओर से एनईटीवी, एनई बंगला, एनई हाई-फाई, हमार टीवी, फोकस टीवी और रेडियो उ ला-ला का संचालन किया जा रहा है। जिंदल की ओर से जो नया चैनल लांच किया जाएगा, वह हरियाणा लाइव के नाम से होगा।

युवा पत्रकार रामकृष्‍ण डोंगरे की कलम से छिंदवाड़ा जिले में पत्रकारिता की नई-पुरानी सभी कहानी

: दैनिक भास्कर को चुनौती देने की तैयारी में लोकमत समाचार :  राजस्‍थान पत्रिका भी जल्द ही लांच करने वाला है अपना संस्करण : 1989 में ब्यूरो कार्यालय बनाने वाले लोकमत पहला अखबार : छिंदवाड़ा के लोगों ने देखा था नवभारत नागपुर का स्वर्णिम दौर : छिंदवाड़ा में कभी नागपुर से प्रकाशित नवभारत अखबार नंबर वन हुआ करता था। पचास साल से ज्यादा समय तक नवभारत का एकछत्र राज रहा। फिर दैनिक भास्कर ने नवभारत के किले को ध्वस्त किया। अब पहुंचा है लोकमत समाचार। जाहिर सी बात है कि सतपुड़ा की वादियों में बसे मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले की पत्रकारिता में अब घमासान मचने वाला है। क्योंकि जल्द से यहां से राजस्‍थान पत्रिका भी लांच हो जाएगा। मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले से लोकमत समाचार का एडीशन 12 जुलाई को लांच हुआ है।

आपदा पीड़ित उत्तराखंड में ‘बूंद’ टीम को लीड कर रहे पत्रकार मयंक सक्सेना की एक रिपोर्ट

Mayank Saxena : पिछले 25 दिन में उत्तराखंड के अगस्त्यमुनि इलाके में सैकड़ों परिवारों और हज़ारों लोगों से मिलना हुआ…आपदा पीड़ित भी और भरे पूरे भी…ऐसे 100 से अधिक परिवार जिनका कोई न कोई परिजन आपदा में लापता या मृत है…लापता भी ऐसे कि लौटने की क्या उम्मीद की जाए… गांवों में लोगों के घर की छत भी ऐसी कि हर बरसात में किसी और के घर या स्कूल में सोना पड़ता है…हरिजन बस्ती बताती है कि दरअसल जीडीपी के आंकड़ों में सरकार आगे ऋण (माइनस) – का चिह्न लगाना भूल जाती है…

जब फारूख अब्दुल्ला ने लालकृष्ण आडवाणी को सेकुलर बताया और आडवाणी ने सहमति में गर्दन हिलाया!

Umashankar Singh : रामनाथ गोयनका अवार्ड समारोह में एक बड़ी दिलचस्प बात हुई। मंच पर मौजूद फ़ारूख़ अब्दुल्लाह ने सोफे पर बैठे लालकृष्ण आडवाणी को संबोधित करते हुए कहा कि 'आडवाणी जी आप सेकुलरिज़्म को मज़बूती से थामे रखिए'!

आज मीडिया मोनोपॉली का मतलब कॉरपोरेट मोनोपॉली के अंदर मीडिया का एक छोटा डिपार्टमेंट बन कर रह जाना है

मेरी जानकारी में आपका यह कान्फ्रेन्स तीन दिनों का है। तीन दिनों में औसतन क्या-क्या होता है, अपने देश में? ग्रामीण भारत में तीन दिन के अंदर अगर एनसीआरबी (नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो) के डाटा का औसत लेते हैं, तो तीन दिन के अंदर 147 किसान इस देश में आत्महत्या करते हैं। आधे घंटे में एक किसान अपनी जान देता है। जब आपका कान्फ्रेन्स खत्म होगा, उन तीन दिनों में एक सौ पचास किसान आत्महत्या कर चुके होंगे। लेकिन यह सब आपके मीडिया को देखकर नजर नहीं आता। वहां यह प्रदर्शित नहीं होता है। सबसे नया 2012 का डाटा भी आ चुका है। डाटा ऑन लाइन है। आप देख सकते हैं।

एकाध चैनल तो अपने मीडियाकर्मियों की उन स्टोरी को प्रसारित कर रहे हैं जिन्हें सम्मान मिला है

Vineet Kumar : अलग-अलग स्रोतों से अपने मीडिया साथियों को भारतीय पत्रकारिता का सबसे लोकप्रिय सम्मान रामनाथ गोयनका अवार्ड मिलने की खबर आ रही है. एकाध चैनल तो अपने मीडियाकर्मियों की उन स्टोरी को प्रसारित कर रहे हैं जिन्हें सम्मान मिला है. सालभर में एक यही दिन होता है जिसमे कबाड़ के बीच से भी कुछ ऐसी स्टोरी अलग दिख जाती है और उसे कवर करनेवाले मीडियाकर्मी जिनके लिए पत्रकार शब्द का प्रयोग करने का मन करता है.

‘इंडिया न्यूज रोज इतना किचाहिन काहे करता है’

इ इंडिया न्यूज रोज इतना किचाहिन काहे करता है। नेता लोग आपस में ऐसे भों-भों करते हैं कि कोई शब्द समझ में नहीं आता। दीपक चोरसिया गाल पर हाथ रख कर कपाल भारती करते हैं या फिर गिलास से कुछ गटकने के बाद अनुलोम-विलोम। उ स्टील के गिलास में कहीं व्हाइट विस्की….

बीस घंटे के भीतर ही ‘नरेंद्रमोदीप्लान्स डाट काम’ का यूं बंद होना दुर्भाग्यपूर्ण है

20 घंटों के भीतर narendramodiplans.com साईट का इस तरह बंद होना वाकई दुर्भाग्यपूर्ण है. गौरतलब है कि इस साईट पर कुछ भी आपत्तिजनक नहीं था, सिर्फ तकनीक की मदद से नरेन्द्र मोदी पर व्यंग्य करने की कोशिश की गयी थी. खबर है कि कुछ अज्ञात दबावों के चलते डोमेन होल्डर को पहले ही दिन लोकप्रिय हो गयी ये साईट डिलीट करनी पडी. दूसरी तरफ मुम्बई में एक रेस्टोरेंट को सिर्फ इसलिए बंद करा दिया गया क्योंकि उसके बिल पर यूपीए सरकार के दौरान हुए घोटालों का जिक्र था.

तहलका हिन्दी के साथी अतुल चौरसिया को रामनाथ गोयनका पुरस्कार

Himanshu Bajpai : तहलका हिन्दी के हमारे साथी Atul Chaurasia को आज दिल्ली में रामनाथ गोयनका पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा. ये पुरस्कार उन्हे 2010 में की गई उनकी स्टोरी 'महान लोकतंत्र की सौतेली संतानें' पर दिया गया है. इस स्टोरी में अतुल जी ने उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में सरकारी अराजकता और आत्महंता विकास के बीच सिसकती मानवीय त्रासदी को उजागर किया था. बांधों,फैक्ट्रियों,बिजली, और खनन के रूप में पैदा हुआ विकास का भस्मासुर किस तरह इंसान और प्रकृति को निगलने लगता है, स्टोरी इसको गहरी संवेदना के साथ बताती है.

रवीश कुमार को जर्नलिस्ट आफ द इयर रामनाथ गोयनका एवार्ड मिला (देखें तस्वीर)

हिंदी टीवी जर्नलिज्म के चर्चित एंकर और पत्रकार रवीश कुमार को रामनाथ गोयनका एवार्ड 2013 के तहत जर्नलिस्ट आफ द इयर ब्राडकास्ट कैटगरी का एवार्ड मिला है. यही जर्नलिस्ट आफ द इयर एवार्ड प्रिंट कैटगरी में टाइम्स आफ इंडिया के जे. जोसेफ को दिया गया.

‘राष्ट्रीय समस्या’ के संपादक के सामने बड़ा संकट, ठगी का मुकदमा दर्ज

राजधानी लखनऊ से छपने वाले अख़बार 'राष्ट्रीय समस्या' के संपादक शैलेश बाबू के खिलाफ मडिहान थाने में नौकरी के नाम पर चार लाख पचास हजार की ठगी करने का मुकदमा स- ३६१/१३ दर्ज किया गया है. पीड़ित युवती ने आरोप लगाया है कि शैलेश बाबु ने स्कूल में क्लर्क की सरकारी नौकरी दिलाने के नाम पर उससे 4.50 लाख रुपये लिए.

अंततः गंगाशील अस्‍पताल, बरेली का भट्टा बैठ गया

अंतत: बरेली के गंगाशील अस्‍पताल का भट्टा बैठ गया। उसका रजिस्ट्रेशन निरस्‍त कर 250 शैय्याओं वाले इस अस्‍पताल को 24 घंटे में खाली करने का अल्‍टीमेटम दिया गया है। अन्‍यथा यह सीज कर दिया जाएगा। इसी के साथ दर्ज दो मामलों को गंभीर प्रकृति का कर दिया गया है । कथित दुराचार के आरोपी भाईयों के खिलाफ मामले को बढा कर गैंग रेप का कर दिया गया है।

पंकज वत्स ने अमर उजाला मेरठ से इस्तीफा देकर हिंदुस्तान ज्वाइन किया

भड़ास को मेल के जरिए मिली एक सूचना के मुताबिक सीनियर सब एडिटर पंकज वत्स ने अमर उजाला छोड़ दिया. वे गाजियाबाद से मेरठ ट्रांसफर किए जाने से खफा चल रहे थे. उन्होंने अब हिंदुस्तान के साथ नई पारी की शुरुआत की है. वे हिंदुस्तान, बरेली के साथ प्रिंसिपल रिपोर्टर के रूप में जुड़ गए हैं.

ये मीडिया महारथी नहीं बल्कि मीडिया के पंडे हैं

इस सूची के मायने क्या हैं ? यह कैसी रैंकिंग है ? इनके कामों का विश्लेषण किस तरह किया गया है ? क्या एक छोटे से दायरे में ऐसी रैंकिंग संभव है ? यदि है तो इसकी विश्वसनीयता कितनी है ? क्या आज मीडिया मालिक-संपादक दर असल किसी जन-प्रतिबद्धता के लिए काम करते हैं ? मुझे लगता है कि वे सिर्फ और सिर्फ पैसे के लिये काम करते हैं। भोग विलास, यश और बड़े नेताओं और अधिकारियों से मेल जोल, बस। बाकी तो सब आई-वाश है।

हिंदुस्तान अखबार को गुडबाय करने के लिए प्रेम पुनेठा ने दो माह का नोटिस भेजा

हिन्दुस्तान उत्तराखण्ड से लोगों के जाने के सिलसिले पर विराम लगता नहीं दिखाई दे रहा है. देहरादून से खबर है कि चीफ सब एडिटर प्रेम पुनेठा ने प्रबंधन को दो माह का नोटिस दे दिया है. दो माह बाद वे हिन्दुस्तान को बाय-बाय कर देंगे. पुनेठा के नोटिस को हिन्दुस्तान अखबार के लिए दूसरी बड़ी क्षति के रूप में देखा जा रहा है. इससे पहले अविकल थपलियाल के अखबार से बाहर निकलने से अखबार की साख पर फर्क पड़ा था.

निजी एवं सार्वजनिक जीवन में खुले चरित्र का निर्माण चाहते थे प्रेमचंद : दूधनाथ सिंह

: हिंदी वि.वि. के इलाहाबाद केंद्र में प्रेमचंद की रचनाओं पर हुई गोष्‍ठी : ‘महाजनी सभ्यता’ और ‘मंगलसूत्र’ प्रेमचंद की अंतिम दौर की रचनाऍं हैं। महाजनी सभ्यता के दो महत्वपूर्ण सूत्र हैं- पहला ‘समय ही धन है’ और दूसरा ‘विजनेस इज बिजनेस’। यह निबंध प्रेमचंद ने मध्य वर्ग के चरित्र की गिरावट की पूर्व संध्या में लिखा। पहले सूत्र का सार तत्व है-लूट और दूसरे सूत्र का तात्पर्य मानवीय संबंधों का क्षरण है। सन् 1936 तक प्रेमचंद हृदय परिवर्तन कराते हैं, निहित स्वार्थ को छोड़ना सिखाते हैं, वर्ग संघर्ष की जगह वर्ग समन्वय की बात करते हैं, औपनिवेशिक दासता से मुक्ति में सभी की भागीदारी होना जरूरी मानते हैं। निजी और सार्वजनिक जीवन में खुले चरित्र का निर्माण चाहते हैं।

HT Media’s digital business revenues up 41% in Q1 at Rs 17.5Cr

ht-media-logoMedia and publishing group HT Media recorded Rs 17.5 crore in revenues from the digital segment for the quarter ended June 31, 2013. This marks 41.3 per cent growth over the year-ago period and sequential revenue growth of 17 per cent, compared to the three months ended March 31, 2013. The company’s digital businesses include the job portal Shine.com (which competes with the likes of Naukri.com), HT Mobile and HTCampus.com, among others.

सुरेंद्रन व अभयानंद की नई पारी, अविनाश श्रीवास्तव कार्यमुक्त, दो का तबादला

टीओआई, गुड़गांव के पूर्व सीनियर एडिटर सीपी सुरेंद्रन के बारे में सूचना है कि उन्हें डीएनए, मुंबई का एडिटर-इन-चीफ बनाया गया है. सुरेंद्रन टीओआई, पुणे के तीन साल तक आरई (रेजिडेंट एडिटर) रह चुके हैं.  सुरेंद्रन कवि भी हैं. उनके कई कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं. उन्होंने उपन्यास भी लिखा है. उन्होंने नक्सलियों के उभार पर ‘एन आयरन हार्वेस्ट’ नामक उपन्यास लिखा है.

लोगों का विश्वास पत्रकार की ताकत है, इसे संभालें : सुनीत टंडन

लखनऊ : लखनऊ में पैदा हुए सुनीत टंडन वर्तमान में दिल्ली स्थित आइआइएमसी के निदेशक हैं। उनकी स्कूली शिक्षा लामार्टीनियर स्कूल में हुई व उच्च शिक्षा दिल्ली के सेंट स्टीवेंस कॉलेज में हुई। यहां से उन्होंने इकॉनोमिक्स में ऑनर्स किया। शुरुआत में वह बैंकर रहे तथा रेडियो पर भी काम कर चुके हैं। इनकी जिंदगी की गुल्लक में रचनात्मकता व अनुभव के सिक्कों की भरमार है। मजे की बात तो ये है कि आज भी ये सिक्के बढ़ रहे हैं।

लखनऊ में नभाटा के पूर्व कर्मियों ने धरना-प्रदर्शन किया

लखनऊ : देश प्रदेश के विभिन्न श्रम व कर्मचारी संगठनों के प्रतिनिधियों ने कल नवभारत टाइम्स के छंटनीशुदा पत्रकारों व कर्मचारियों को सेवायोजक मैं. बैनेट कोलमैन एण्ड कम्पनी लिमिटेड द्वारा अब तक पुनः सेवा में न लिये जाने के विरोध में नवभारत टाइम्स कार्यालय के सामने धरना व प्रदर्शन कर एकजुटता प्रदर्शित की और उन्हें श्रम कानूनों के तहत सेवा में रखने की माँग की। इन संगठनों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से माँग की कि सरकार श्रम कानूनों का कठोरतापूर्वक पालन करा कर पिछले 20 वर्षों से निरन्तर संघर्षरत कर्मचारियों को न्याय दिलाएं।

जस्टिस इम्तियाज़ मुर्तजा के अनुचित बर्ताव की शिकायत

मेरे द्वारा अपने पति अमिताभ ठाकुर के साथ उत्तर प्रदेश के विभिन्न अन्वेषण एजेंसियों की जांच प्रक्रिया में सरकार के नियंत्रण को समाप्त किये जाने सम्बंधित पीआईएल संख्या 4055/2013 में चीफ जस्टिस शिव कीर्ति सिंह और जस्टिस डी के अरोड़ा की बेंच ने 16 मई 2013 को सरकार को प्रति शपथपत्र दायर करने के आदेश दिये थे. 

 

खालिद मुजाहिद की तरह निमेष कमीशन की रिपोर्ट का भी कत्ल करना चाहती है सपा सरकार : दीपांकर भट्टाचार्या

लखनऊ : उत्तर प्रदेश की कचहरियों में सन् 2007 में हुए सिलसिले वार धमाकों में पुलिस तथा आईबी के अधिकारियों द्वारा फर्जी तरीके से फंसाए गये मौलाना खालिद मुजाहिद की न्यायिक हिरासत में की गयी हत्या तथा आरडी निमेष कमीशन रिपोर्ट पर कार्रपायी रिपोर्ट के साथ सत्र बुलाकर सदन में रखने और खालिद के हत्यारों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग को लेकर रिहाई मंच का अनिश्चितकालीन धरना सोमवार को 62 वें दिन भी जारी रहा। धरने को समर्थन देने के लिए भाकपा (माले) के राष्ट्रीय महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य ने शिरकत की।

कैथल के पत्रकार नसीब सैनी को कृषि पत्रकारिता में उत्कृष्ट योगदान के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार

कैथल। कैथल के पत्रकार नसीब सैनी को कृषि पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजा गया। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के 85वें स्थापना दिवस पर आयोजित भव्य समारोह में केंद्रीय कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण एवं उद्योग मंत्री शरद पवार की उपस्थिति में राज्यमंत्री तारिक अनवर ने उन्हें यह पुरस्कार प्रदान किया।

पिजड़े का शेर है ‘राष्ट्रीय अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति आयोग’

बाबा साहब डा0 भीम राव अम्बेदकर भारतीय संविधान के प्रधान शिल्पकार है। उन्हें सामाजिक न्याय के प्रतीक और फादर आफ सोशल रिवोल्यूशनस के नाम से भी जाना जाता है। वे एक विश्वविख्यात कानूनदा के साथ-साथ पक्के लोकतंत्रवादी भी थे । उनका लोकतंत्र केवल राजनीतिक लोकतंत्र तक सीमित नहीं था बल्कि वे सामाजिक आर्थिक लोकतंत्र को भी साथ-साथ चलाने के हिमायती थे । तभी लोकतंत्र टिकाउ रह सकता है उन्होंने सामाजिक-शैक्षणिक रुप से वंचित तबके के लिए राज्य की ओर से सकारात्मक भेदभाव के सिद्वान्त को प्रतिपादित किया ।

मीडिया जगत में मार्गदर्शन देने वाले मतलबपरस्त गुरुजनों को प्रणाम…

Zafar Irshad : मीडिया जगत में मुझे मार्ग दर्शन देने वाले उन सभी मतलब परस्त गुरुजनों को सादर प्रणाम…जिन्होंने अपने काम के लिए मेरा इस्तेमाल किया,और फिर दूध की मक्खी की तरह निकाल फेंका…उन गुरु जनों को विशेष प्रणाम,जिन्होंने हमारी राह में हमेशा रोड़े अटकाए, और आज भी खंजर लिए मुझे ढून्ढ रहे है…ताकि भविष्य में मैं उनकी राह का रोड़ा न बन सकूँ…ईश्वर ऐसे कलयुगी गुरु सबको दे..आमीन…

‘गवर्नेंस नाऊ’ मैग्जीन का हिंदी एडिशन लांच कराएंगे आलोक मेहता, बने संपादक!

: कानाफूसी : एक चर्चा आई है कि आलोक मेहता ने अपने लिए जगह तलाश ली है. वे अब अखबार की बजाय मैग्जीन में काम करेंगे. मैग्जीन का नाम है 'गर्वनेंस नाऊ'. यह मैग्जीन अंग्रेजी में प्रकाशित होती है और इसके एडिटर बी. वेंकट राव हैं. इन्हीं के नेतृत्व में यह मैग्जीन लांच की गई थी. इस मैग्जीन के प्रमोटर सब टीवी वाले अधिकारी ब्रदर्स हैं.

जनसंदेश टाइम्स, लखनऊ की हालत पर जनसंदेश प्रबंधन की तरफ से वक्तव्य

जनसंदेश टाइम्स लखनऊ की हालत निरंतर सुधार पर है। एक वर्ष के अंधेरे समय का असर इतना जल्द खत्म तो नहीं हो जायेगा लेकिन पूरे कैनवस पर कालिमा खत्म हो रही है, उजास दिखायी पड़ने लगी है। मार्च के पहले के समाचारपत्र को देखें और आज के समाचारपत्र को तो आप को अनेक परिवर्तन दिखायी पड़ेंगे। रंगीन पृष्ठों की संख्या बढ़ी है। स्थानीयता के अनुसार संस्करणों की संख्या भी बढ़ी है। फीचर पन्नों में आमूल परिवर्तन हुआ है।

मेरी पत्नी बेवफा है, अब मुझे दूसरों के जरिए डराती-धमकाती है, मेरी मदद करें

Respected Sir/Madam, Subject- Telephonic Harassment and life-threatning to me and my family at odd hours… With deep regret, I wish to inform you as under and request your immediate intervention in the matter :  My name is Vinay Srivastava and I have been residing in the mumbai since last seven years. I got married on 23rd Jan 2013 at Vardora, Gujarat to Ms Pallavi Sinha with the consent of both our parents.  It was an arranged marriage through Shaadi.com In less than a week after my marriage, my wife started behaving in a very strange manner and picked up quarrels with me on petty issues.

आइए जानें ‘फ्रंटियर’ अखबार और इसके संपादक समर सेन को

‘साहित्य समाज का दर्पण है’ की उक्ति ऐसे साहित्यकारों के लिए उपयुक्त है जिनका सृजन सामाजिक सरोकारों से जुड़ा हो. इसी प्रकार ‘पत्रकारिता, शीघ्रता में लिखा साहित्य है’ की उक्ति ऐसे पत्रकारों के लिए उपयुक्त है जिनका लेखन में साहित्यिक समझ जुड़ी हो. पत्रकारिता को लेखन की एक विधा के रूप में विकसित करने में साहित्यकारों का योगदान सर्वोपरि रहा है. समर सेन (1916-1987) ने सबसे पहले बांग्ला भाषा के अत्यंत प्रतिभाशाली कवि के रूप में अपनी पहचान बनायी, फिर अपने चारों ओर के सामाजिक परिवेश में सुधार लाने के निश्चय के साथ कविता लेखन त्याग कर पत्रकारिता को पूरी तरह अपना लिया.

अगर खदानों व खान मजदूरों पर आपने काम किया है तो इस पत्रकारिता पुरस्कार के लिए ट्राई करें, अंतिम तिथि 25 जुलाई

जयपुर : देशभर में खदानों में काम करने वाले कामगारों को मूलभूत सुविधाओं से आज भी महरूम रहना पड़ रहा है. इन्हें सुरक्षा, चिकित्सा, शिक्षा इत्यादि की सुविधाएं नहीं मिल पा रहीं हैं. इसके अभाव में सैकड़ों कामगार बीमारी व दुर्घटनाओं में बेमौत मरने को मजबूर हैं. जोधपुर का एम.एल.पी.सी. (खान मजदूर सुरक्षा अभियान) ट्रस्ट पिछले 5 वर्षों से निरंतर खान मजदूरों के हितार्थ काम कर रहा है.

मधुसूदन आनन्द, कमर वहीद नकवी, एनके सिंह वगैरह ने विरोध करते हुए कहा- रैंकिंग का क्या मतलब है?

शनिवार की रात कनॉट प्लेस के होटल पार्क में मीडिया महारथी समारोह में जाने का मौका मिला। इसके आयोजक मूलतः कारोबारी हैं और वे मीडिया के बिजनेस पक्ष से जुड़े मसलों पर सामग्री प्रकाशित करते हैं। हिन्दी के पत्रकारों के बारे में उन्हें सोचने की जरूरत इसलिए हुई होगी, क्योंकि हिन्दी अखबारों का अभी कारोबारी विस्तार हो रहा है। बात को रखने के लिए आदर्शों के रेशमी रूमाल की जरूरत भी होती है, इसलिए इस संस्था के प्रमुख ने वह सब कहा, जो ऐसे मौके पर कहा जाता है।

इंडिया न्यूज से हफीज रहमान और खबर भारती से कमल अरोड़ा का इस्तीफा

इंडिया न्यूज से खबर है कि इंटरटेनमेंट देख रहे हफीज रहमान ने इस्तीफा दे दिया है. दीपक चौरसिया टीम से तंग होने के कारण हफीज ने इस्तीफा दिया. सूचना है कि हफीज रहमान चैनल वन न्यूज के साथ जुड़ने जा रहे हैं.

थर्ड पार्टी समीक्षा से राष्ट्रीय सहारा देहरादून में सक्रियता

राष्ट्रीय सहारा ने अपने देहरादून संस्करण का कंटेट सुधारने के लिए 'हस्तक्षेप' के संपादक दिलीप चौबे को तो भेजा ही है, अखबार की दूसरे अखबारों के साथ तुलनात्मक समीक्षा की जिम्मेदारी भी राजेश भारती से छीनकर हिमाचल टाइम्स के संपादक रहे और अब प्रभात के संपादक व भाषा एजेंसी के स्ट्रिंगर जय सिंह रावत को सौंप दी है। हालांकि समीक्षक का नाम गोपनीय होना चाहिए था लेकिन सहारा में ये अब ओपन सीक्रेट है।

यह काम कोई मुलायम टाइप आदमी ही कर सकता है (देखें कार्टून)

मुलायम की महिमा अपरंपार है. वे हर समय हर चीज में केवल सत्ता और निज लाभ देखते हैं. यही कारण है कि वे एक साथ विरोध व समर्थन दोनों की राजनीति करने में बेहद सफल हैं. अवसरवाद का दूसरा नाम मुलायम सिंह यादव है. नीचे देखिए कार्टून. मुलायम की उलटबांसी को ठीक ठीक पकड़ा है कार्टूनिस्ट ने.

बरेली के गंगाशील अस्पताल के मालिक बोले- अखबार निष्‍पक्षता के बजाय पुलिस और अदालत बनते जा रहे हैं

Shambhu Dayal Vajpayee : अस्‍पताल चलाना भी कभी कितने मुसीबत का काम साबित हो सकता है यह बरेली के गंगाशील के डा. निशांत गुप्‍ता और और उनकी सहधर्मिणी डा. शालिनी माहेश्‍वरी से बेहतर कौन जानता होगा। ये और इनका अस्‍पताल आजकल भारी दबाव में हैं। डा. निशांत महानगर के वरिष्‍ठ चिकित्‍सक नवल किशोर गुप्‍ता के बेटे हैं। डा. नवल ने शहर में चिकित्‍सा सुविधायें समुन्‍नत करने में बडी भूमिका निभायी है। उनके लगनशील परिश्रम का प्रतिफल ही गंगाशील और गंगा चरन जैसे बडे अस्‍पताल और नर्सिंग स्‍कूल वगैरह हैं।

सुनील ने डीएनएन टाइम्स निकाला, दिलीप सिटी चीफ बने, शाकिर की वापसी, रवि अब पूर्णकालिक

टीवी एंकरिंग करने वाले सुनील जोशी ने इंदौर से सांध्य दैनिक डीएनएन टाइम्स निकाला है। डेली न्यूज नेटवर्क नामक इस अखबार ने नईदुनिया के प्रधान संपादक श्रवण गर्ग द्वारा अभय छजलानी के कार्यकाल में नियुक्त कई रिपोर्टरों को नौकरी दी है, जिन्हें जागरण प्रबंधन ने नाकारा बताकर निकाल दिया था। दिलीप ठाकुर यहां सिटी चीफ बनाए गए हैं।

दैनिक भास्कर, इंदौर : करप्शन के आरोप में वीरेंद्र तिवारी और मुनीष शर्मा की छुट्टी, उपमन्यु की जांच

दैनिक भास्कर इंदौर से विशेष संवाददाता वीरेंद्र तिवारी की छुट्टी कर दी गई है। खबर है कि उन्होंने एक खबर को दबाने के लिए पुलिस के एक टाउन इंस्पेक्टर से घूस देने का दवाब बनाया था। टीआई को अखबार के मालिक रमेशचंद्र और सुधीर अग्रवाल से शिकायत करने को कहा, तो बात बन गई। टीआई ने भोपाल जाकर वीरेंद्र और उनके ससुर ललित उपमन्यु (न्यूज एडिटर) की शिकायत की, तो वीरेंद्र को तुरंत प्रभाव से नौकरी से बाहर कर दिया। ललित के खिलाफ जांच चल रही है। ललित के बने रहने के पीछे उद्योग मंत्री कैलाश विजयवर्गीय का हाथ है, अन्यथा जांच का सवाल ही पैदा नहीं होता था।

किशोर वाधवानी ने प्रदीप जोशी और बसंत पाल को वापस बुलाया

इंदौर : दैनिक दबंग दुनिया के सीएमडी किशोर वाधवानी ने पिछले साल तुगलकी निर्णय लेते जमीन घोटालों के विशेषज्ञ रिपोर्टर प्रदीप जोशी और व्यापार प्रतिनिधि बसंत पाल को तीन महीने का अग्रिम देकर इस्तीफा लिखवा लिया था। उन्हें यह कहा गया था कि आपको काम नहीं आता। कुछ दिन पहले वाधवानी ने जोशी और पाल की मिन्नतें कर मोटे वेतन पर उन्हें वापस संस्थान में बुला लिया।

मृत्यु से डरते हो तो क्या खाक ‘कबीर’ को खेलोगे?

Om Thanvi : शेखर सेन से दोस्ती जापान-यात्रा में हुई थी। वे एकल अभिनय के लिए प्रसिद्ध हैं। देश-विदेश में अपना नाटक 'कबीर' 345 बार खेल चुके हैं। 'कबीर' के बाद 'तुलसीदास' का सिलसिला शुरू हुआ। नया नाटक उन्होंने 'सूरदास' लिखा है, जिसे कल दिल्ली के फिक्की हाल में खेला। पत्नी तो कल देख आईं, मैं चाहकर भी नहीं जा सका। इसलिए नहीं कि कोई कहता, देखिए मिड-डे मील की खबर के बाद भी नाटक देखने चला गया। वजह महज दफ्तरी थी। बहरहाल।

कुमार गंधर्व के साथ तानपुरे पर संगत करते संपादकाचार्य राहुल बारपुते

कभी मैं रंगकर्मी था। अभिनय, नाट्य-लेखन, निर्देशन, अन्य संयोजन। इस कारण जब सरबुलंद संपादक राहुल बारपुते के बारे में जाना कि वे रंगमंच पर भी सक्रिय थे, मुझे निजी तौर पर बहुत ख़ुशी हुई। उनकी रुचियाँ इतनी विविध और व्यापक थीं कि इस मामले में शायद ही कोई उनके समकक्ष रखा जा सके। देवास में कुमार गंधर्व निवास में दीवार पर एक तसवीर मिली, जिसमें कुमारजी के साथ संपादकाचार्य राहुल बारपुते तानपुरे पर संगत करते दिखाई दिए (देखिए तसवीर, राहुल बारपुते जी ठीक दाएं हैं )।

तीन संपादक और इंदौर की चाय

देवास से इंदौर लौटकर Rahul Dev और हरिवंश की सम्मति से चौराहे की चाय के लिए रुके। इंदौर की परंपरा के अनुरूप बहुत जायकेदार चाय थी। लेकिन प्लास्टिक के कप में स्वाद छीज गया था। और कप का आकार? उसे देखकर कभी चाय को देखते, कभी चाय वाले को। पहले लगा कि चखाने भर के लिए छोटे कप हैं, असल चाय का कप बाद में आएगा। चाय वाला बोला — आजकल यही चलता है! कुछ वह झेंपा, कुछ हम। राहत के लिए राहुलजी ने तसवीर खींची। आप देखिए, हथेली में छुपा कप थोड़ा दिख जाय शायद! उसे कप कहना भी रियायत ही होगी।

बरेली में सैकड़ों डाक्टरों ने अमर उजाला आफिस पर धावा बोला

बरेली से सूचना आ रही है कि सैकड़ों डाक्टरों ने अमर उजाला के आफिस पर धावा बोल दिया. इन डाक्टरों ने तोड़फोड़ की भी कोशिश की. ये सभी डाक्टर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, बरेली शाखा के बुलावे पर इकट्ठे हुए और अमर उजाला पहुंचे. सूत्रों का कहना है कि अमर उजाला अखबार एक निजी अस्पताल में हुए दुष्कर्म की घटना पर लगातार खबरें छाप रहा था. बरेली के गंगाशील अस्पताल में वहीं कार्यरत एक महिला कर्मचारी की बेटी के साथ वहीं के एक अन्य पुरुष कर्मचारी ने दुष्कर्म किया था.

लखनऊ में थाना प्रभारी ताश के पत्ते की तरह फेंटे जा रहे, कोर्ट के आदेश की धज्जियां

यूपी के पूर्व डीजीपी प्रकाश सिंह द्वारा सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर उत्तर प्रदेश सरकार ने 26 दिसंबर 2010 को शासनादेश द्वारा थानाध्यक्ष का न्यूनतम कार्यकाल दो वर्ष किया था और इससे पहले हटाये जाने पर तबादले का स्पष्ट कारण लिखित रूप से अनिवार्यतः अंकित करने के निर्देश दिये थे. इसके विपरीत जमीनी स्थिति बिलकुल अलग है. आरटीआई कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा एसएसपी लखनऊ द्वारा लखनऊ जिले में वर्ष 2011 और 2012 की 80 पृष्ठों की सूचना के अनुसार जिले के 42 थानों के लिए दो सालों में थानाध्यक्षों के तबादले सम्बंधित कुल 72 आदेश जारी हुए जिसमे 215 थानाध्यक्ष का तबादला हुआ और 154 थाने इससे प्रभावित हुए.

व्यवस्था बड़ी या सुब्रत राय जैसे लोग?

सहाराश्री सुब्रत राय की हठधर्मिता से करोड़ों भारतीयों का एक तरह से बड़ा फायदा हुआ है. और वो ये कि विगत ६० दशकों से किसी न किसी रूप में गरीबों का धन लूटने वाली चिटफंड / पोंजी योजनाओं के गड़बड़झाले खुलते जा रहे है. अब तक ऐसी योजनाओं पर ढुलमुल या चुप्पी साधने वाली सरकारें, अदालतें, रिजर्व बैंक, कार्पोरेट मंत्रालय, सेबी और ऐसी अनेक नियामक संस्थाओं के कमर कसने के साथ स्थानीय पुलिस, प्रशासन भी अपने-अपने स्तर पर कारवाई के मूड में आ गए है जिससे ये उम्मीद बंधने लगी है कि अब ऐसे नटवरलालों के फर्जीवाड़े और ठगी के कारनामे अब शायद न चल पायें और गरीब-अशिक्षित भारतीय लुटाई से बच सकें.

‘हिन्दुस्थान समाचार’, वाराणसी की संचालन समिति गठित

वाराणसी : बहुभाषी संवाद समिति ‘हिन्दुस्थान समाचार’ के वाराणसी शाखा की संचालन समिति की घोषणा रविवार को गठित की गई। सन 1948 से 76 तक की अवधि में वाराणसी में सञ्चालन समिति थी लेकिन सन 1976 के बाद सन 2002 से  हिन्दुस्थान समाचार पुन: शुरू होने के बाद वाराणसी में यह पहली सञ्चालन समिति है। एजेंसी के केन्द्रीय निदेशक मण्डल के उपाध्यक्ष व चुनाव अधिकारी प्रो0 ओमप्रकाश सिंह ने सर्वसम्मत से संरक्षक के पद पर प्रतिष्ठित व्यवसायी व समाजसेवी श्री उमाशंकर पोदार, अध्यक्ष-श्री वैभव कपूर, सचिव-अधिवक्ता श्रीप्रकाश शुक्ल तथा कोषाध्यक्ष के पद पर श्री संजय अग्रवाल को नियुक्त किया। जबकि समिति में प्रतिनिधि के नाते श्री शरद चन्द्र वाजपेयी को शामिल किया गया है।

दिल्ली में एक और बच्ची की निर्मम हत्या, पुलिस ने पांच दिन तक प्राथमिकी दर्ज नहीं की

दिल्ली। दिसंबर गैंगरेप की बर्बर घटना, गांधीनगर में बच्ची के साथ जघन्य अपराध और ऐसे तमाम मामलों के बाद पुलिस की तरफ से दावा किया जा रहा है कि अब पुलिसकर्मियों को स्त्रियों और बच्चियों के प्रति होने वाले अपराधों के मामले में ‘संवेदनशील’ बनाया जा रहा है और अब हम जल्द से जल्द कार्रवाई करते हैं।

 

रमन सिंह रिश्वत कांड : बैंक मैनेजर ने नार्को टेस्ट में क्या-क्या कहा, पढ़िए यहां

: NORCO TEST:  VERBATIM TRANSCRICTION : (Total Length of the video – 54.49 Minutes) : अस्पताल जैसा दृश्य. उमेश लेटे हुए हैं. उनके चारों ओर मशीन दिख रही है… कुछ लोग दिखाई पड़ रहे हैं. महिला जाँच अधिकारी की आवाज़ — नो ..डोन्ड वरी…वी डोन्ट एक्ज़र्ट एनी एक्टर्नल फ़ोर्स

रमन सिंह और भाजपा आलाकमान के लिए बड़ा सिरदर्द है ये सीडी

नवंबर में होने वाले छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों से पहले एक बड़ा धमाका हुआ है। कांग्रेस ने राज्य के मुख्यमंत्री रमन सिंह ओर उनके चार वरिष्ठ कैबिनेट मंत्रियों पर एक बैंक घोटाले के मामले में एक-एक करोड़ रुपए घूस लेने का आरोप लगाया है। इंदिरा प्रियदर्शिनी बैंक घोटाले में मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह और चार मंत्रियों पर एक-एक करोड़ रुपए लेने का आरोप कांग्रेस ने लगाया है। कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री व पूर्व मंत्री भूपेश बघेल ने आज प्रेस कांफ्रेंस लेकर यह आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि इंदिरा प्रियदर्शिनी बैंक में 2007 में 54 करोड़ रुपए का घोटाला हुआ था। इसके बाद से 25 हजार खातेदारों की जमा पूंजी डूब गई थी।

नार्को टेस्ट में बैंक मैनेजर बोला- रमन सिंह और उनके तीन मंत्रियों को एक एक करोड़ रुपये घूस दिए

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह और उनके चार मंत्रियों पर रिश्वत लेने के सनसनीखेज आरोप लगे हैं. विधानसभा चुनाव के लिए कमर कस रही कांग्रेस ने एक सीडी जारी कर यह आरोप लगाए हैं. यह मामला एक दिवालिया हो चुके बैंक का है. इस बैंक के मैनेजर की गिरफ्तारी के बाद उसके कथित नार्को टेस्ट की सीडी जारी की गई है.

गजेंद्र मैठाणी का साधना न्यूज से इस्तीफा, संजीव झा बने ‘वी द पावर’ के बिहार हेड

श्रीनगर गढ़वाल से साधना न्यूज चैनल के संवाददाता गजेंद्र मैठाणी ने चैनल को बाय-बाय कह दिया है। मैठाणी पिछले तीन वर्षो से चैनल से जुड़े हुए थे। उन्होंने श्रीनगर से हाईड्रो प्रोजेक्ट की कई ब्रेकिंग न्यूज की थी जिसके बाद सरकार को जबाब देना पड़ गया था। चैनल ने उन्हें पिछले तीन वर्षो से भी कोई मानदेय नहीं दिया था उसके बाद भी वे आपदा में जनहित में कार्य करते रहे।

दैनिक भास्कर, इंदौर में आजकल पैसा पैसा करप्शन करप्शन हो रहा

दैनिक भास्कर इंदौर से खबर है कि खबरें दबाने के नाम पर दसियों लाख रुपये किसी पत्रकार ने किसी शख्स से लिए और अपने साथी पत्रकारों के बीच बांट दिया. इन्हीं पत्रकारों में से किसी एक ने अपना हिस्सा आफिस में जमा कर दिया. बात आगे पहुंची, जांच हुई और पूरा मामला खुला. दो तीन पत्रकारों पर गाज गिरने की खबर है.

पीआर कंपनी के ‘मीडिया महारथी’ प्रोग्राम में बवाल, कई संपादकों ने जताया रोष

देश की एक पीआर कंपनी की तरफ से बीते दिनों हिंदी वालों में से मीडिया महारथी तलाशने की कवायद शुरू की गई. इसके लिए बाकायदा एक जूरी बनाई गई. जूरी के सभी सदस्यों को अच्छे खासे पैसे व सुविधाएं दी गई. मीडिया महारथी बनने के लिए लालायित पत्रकारों ने अपना नामिनेशन भेजना शुरू किया. कई वरिष्ठों ने खुद का नाम दूसरों से भिजवाया. मालिक से लेकर संपादक तक, वरिष्ठ पत्रकार से लेकर जूनियर पत्रकार तक, मार्केटियर से लेकर दलाल तक… सबने नामांकन किया… कभी पत्रकार अपनी पहचान जाहिर नहीं करता था और आज परम बाजारू माहौल में पत्रकार मीडिया महारथी का तमगा पाने और सम्मानित होने के लिए लार टपकाता फिरता है.

शरद पवार के हैं दाउद इब्राहिम से लिंक!

Deepak Sharma : जब से आजतक पर हमने स्पॉट फिक्सिंग पर ये शो किया कि दाउद से किस मंत्री का लिंक है …तब से फोन, एसएमएस और एफबी पर बार-बार ये पूछा जा रहा है की ये मंत्री कौन हैं और मैं उनका नाम सार्वजनिक करूँ. मित्रों, दाउद की ये फोन कॉल दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने रिकार्ड की है और सबूत के तौर पर कॉल डिटेल अदालत में रखी गयी है. अदालत में रखे गए डिटेल में मंत्री का ज़िक्र तो है पर नाम नहीं. लिहाजा ज़िम्मेदारी अब दिल्ली पुलिस की है कि वो बताए कि ये मंत्री भारत सरकार का है या पाकिस्तान सरकार का है?

इलाहाबाद में जमीन-मकान कब्जाने और फर्जी तरीके से बेचने का खेल खूब हो रहा

माननीय महोदय, न्यूज़ संपादक, यूपी मे फिर से जंगलराज दिख रहा है.. आज यूपी के ज़िला इलाहाबाद शहर मे बड़े मकान को ज़मीन दिखाकर उसे फ़र्ज़ी तरीके से बेच दिया गया और तहसील में सभी सरकारी कर्मचारी और अधिकारी की मिलीभगत से ये गोरखधंधा बड़ी तेजी से चल रहा है. भूमाफिया बड़ी आसानी से इसे अंजाम दे रहे हैं. ये कैसे हो सकता है कि मकान किसी और के नाम रजिस्ट्री है और बेच और कोई रहा है.

पत्रकार विजय प्रताप की पत्नी को नौकरी का मामला विधानसभा में उठायेंगे : अनुग्रह नारायण सिंह

: प्रख्यात पत्रकार विजय प्रताप सिंह की तीसरी पुण्यतिथि पर श्रंद्धाजलि देने पहुंचे मीडिया कर्मी, राजनैतिक पार्टी व सामाजिक आन्दोलन के वरिष्ठ नेता : इलाहाबाद। जाने-माने पत्रकार विजय प्रताप सिंह की तीसरी पुण्यतिथि पर शनिवार को सुभाष चौराहा सिविल लाइंस में ‘नवजनवादी पत्रकार मंच’ द्वारा श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर जिले भर से मीडियाकर्मियों के अलावा सामाजिक आन्दोलन से जुड़े कई वरिष्ठ नेताओं ने विजय प्रताप को श्रद्धांजलि दी।

बस्ती में संगोष्ठी : गैर-जिम्मेदार पत्रकारिता से समाज दिग्भ्रमित हो रहा

बस्ती । सोशल मीडिया कभी भी पत्रकारिता के मुख्य धारा का विकल्प नहीं बन सकता। गैर जिम्मेदार विचार और पत्रकारिता समाज को दिग्भ्रमित करने का कार्य करते हैं। यह विचार राज्य मंत्री रामकरन आर्य ने व्यक्त किया। वे प्रेस क्लब में दैनिक भारतीय बस्ती के 33 वें वर्ष में प्रवेश पर ‘पत्रकारिता में सोशल मीडिया’ विषयक संगोष्ठी को सम्बोधित कर रहे थे। पत्रकारिता में आये तकनीकी रफ्तार पर रामकरन आर्य ने कहा कि व्यवस्थित संपादन से ही पत्रकारिता और सोशल मीडिया अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। चालू राजनीति पर भी बेबाक टिप्पणी करते हुये उन्होंने कहा कि हालात ऐसे ही रहे तो आने वाले दिनों में केवल बाहुबली, डाकू और माफिया ही चुनाव लड़ने का साहस जुटा सकेंगे। ऐसे वातारवरण में पत्रकारों की जिम्मेदारी और बढ गयी है।

कशिश न्यूज में कई बदलाव : कइयों की छुट्टी, कुछ को नई जिम्मेदारी

झारखंड से प्रसारित कशिश न्यूज चैनल में व्यापक बदलाव करते हुये गंगेश गुंजन को न्यूज हेड के पद से हटा दिया गया है. वहीं बिहार देख रहे कौशलेंद्र प्रियदर्शी को भी प्रबंधन ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है जबकि एसके राजीव को प्रमोट कर पटना का ब्यूरो चीफ बनाया गया है. चंदन झा को स्टेट हेड की जिम्मेदारी दी गई है. एसके राजीव पहले से ही कशिश में बतौर बरिष्ठ संवाददाता कार्य कर रहे थे जबकि चंदन झा आर्यन न्यूज से यहां पहुंचे हैं.

जनसंदेश टाइम्स, लखनऊ में काम करने वालों को मई महीने की भी सेलरी नहीं मिली

जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ से खबर है कि यहां काम करने वाले कर्मियों को अब तक मई महीने से सेलरी नहीं मिली है. कर्मचारी सेलरी को लेकर परेशान हैं. बच्‍चों की फीस ए‍डमिशन समेत कई जिम्‍मेदारियां इसी महीने उनके ऊपर है लेकिन प्रबंधन ने अब तक उनको सेलरी नहीं दी है, जबकि जुलाई माह भी बीतने वाला है. कर्मचारियों को स्‍पष्‍ट बताया भी नहीं जा रहा है कि उन्‍हें किस तारीख को सेलरी दी जाएगी. ना ही सेलरी देने की कोई डेट फिक्स की जा रही है. 

Fraud by Amazon : जनता को यूं मूर्ख बनाकर लूटती हैं अमेजन जैसी आनलाइन कंपनियां

प्रिय संपादक जी, आपको ऑनलाइन फ्रॉड के बारे में एक पुष्ट सूचना देना चाहता हूँ .  कुछ मेल की कॉपी भी भेज रहा हूँ . कृपया इससे पाठको तक पहुँचाने में मेरी मदद करें !! मैंने कुछ समय पहले एक टेबलेट अमेज़न.इन से खरीदा है.  ये अमेज़न एक अमेरिकन कंपनी है जिसने अभी अभी भारत में अपना व्यवसाय शुरू किया है .  इस कंपनी ने Milagrow कंपनी का एक टेबलेट अपलोड किया था जो की कालिंग टेबलेट की सूची में था एवं उसके स्पेसिफिकेशन में GSM फ़्रिकुएन्सि और 3G लिखा हुआ था !

‘शगुन टीवी’ वालों ने झूठे वादे किए, हम सभी को परेशान किया

: Bhadas ek channel ke liye : Dear sir, I have a complaint from a channel called SHAGUN TV. Aapke zariye apni bhadaas nikalns chahti hi. Anuranjan jha Ji ka ye channel aaye din apne shows ke liye contestant mangta rahta hai. Mai bhi inke ek show 'baat pakki hai' ki bhukt bhogi hu. Ye show UN logon k liye hai jo just engaged hue hain, jinki shadi hone wali hai. Isme mai aur mere fiance dono ki family samet Gaye the.

गोरखपुर प्रेस क्लब में पत्रकार ने पत्रकार पर ही पिस्टल तान दी, मुकदमा दर्ज

गोरखपुर। असलहाधारी मास्टर और तथाकथित पत्रकार ने गोरखपुर में कार्यरत एक टीवी चैनल के पत्रकार पर गोली चला दी. गोली मिस होने के बाद मनबढ़ मास्टर ने पत्रकार को जान से मारने की धमकी दी. यह घटना गोरखपुर प्रेस क्लब में शुक्रवार को घटी. गोरखपुर से निकलनेवाले अखबारों में स्वतंत्र चेतना को छोड़ कर किसी अखबार ने पहले दिन खबर छपने का साहस नहीं किया. शुक्रवार की शाम प्रेस क्लब में हुई वारदात के बाद पत्रकारों ने डीएम और एसएसपी से मुलाकात की थी.

‘लैंडमार्क’ के चैनल ‘आई विटनेस’ को लेकर जगमोहन फुटेला ने उठाए कई सवाल

: लौट के फुटेला घर को आए (तीन) : चैनल ऑन डिमांड का मतलब है- आप किसी भी पार्टी से चुनाव लड़ रहे हो और आप को अगर किसी चैनल की ज़रूरत है तो आओ हम तुम्हारी शर्तों पे तुम्हारी जय जयकार करेंगे. बस अपने एरिया में प्रीत से या पीट के केबल पे चैनल तुम चलवाना. ऐसे में परहेज़ चैनल को किसी से नहीं होगा. आप की पार्टी कोई हो, आप का चरित्र कैसा भी हो. चैनल अपने चरित्र को चलचित्र बना देगा तो देखो या दिखाओ कुछ भी. सुविधा शुल्क होने से होने को होगा ये भी कि गुड़गांव में आप मदद कांग्रेस की करो, सोहना में भाजपा की, पटौदी में इनेलो की और नूह में किसी और की.

यूपी में जंगलराज : सहारनपुर में पत्रकार को पीट-पीट कर अधमरा करने के बाद सड़क पर फेंक कर भागे

सहारनपुर। तरुणमित्र हिन्दी दैनिक लखनऊ के जिला प्रतिनिधि मो. फारुक को होण्डा सिटी कर सवार कुछ लोग घर के पास से अगवा कर ले गए और शकलापुरी के जंगल में ले जाकर रिवाल्वर की नोक पर जान से मारने धमकी देते हुए लाठी, डंडों से मारपीट कर घायल लहूलुहान कर दिया। घटना के पीछे हमलारोपियों की काली करतूतों की  खबर अखबार में प्रकाशित करने पर रंजिश रखने का हवाला एफआईआर में दिया गया है। पत्रकार को पीटकर  अधमरा कर हमलावर बाद में लावारिस हालत में सड़क पर डाल गए।

यूपी में जंगलराज : इलाहाबाद में सपा नेता के खास ने डिप्टी एसपी पर ट्रैक्टर चढ़ाकर जान लेने की कोशिश की

इलाहाबाद। यूपी में सत्ता के बल पर गुंडई करने की प्रवृत्ति चरम पर है। सपा के सांसद विधायक और मंत्री जिन पर व्यवस्था को बेहतर चलाने व लागू करने का दारोमदार है, वे खुद कंट्रोल नहीं कर पा रहे हैं। उनके लगुए-भगुए कानून का चीरहरण खुलेआम कर रहे हैं। सरकार चलाने वाले ‘सरकार-बहादुर’ लोग पूरी तरह से ‘मूंदहु आंख कतौ कुछ नाहीं’ की भूमिका में हैं।

एचटी मीडिया का पहली तिमाही में मुनाफा 310 करोड़ से बढ़कर 347.1 करोड़ हुआ

वित्त वर्ष 2014 की पहली तिमाही में एचटी मीडिया की आय 12 फीसदी बढ़कर 347.1 करोड़ रुपये रही. वित्त वर्ष 2013 की पहली तिमाही में कंपनी की आय 310 करोड़ रुपये रही थी. हालांकि वित्त वर्ष 2014 की पहली तिमाही में वित्त वर्ष 2013 की पहली तिमाही के मुकाबले एचटी मीडिया का मुनाफा 12 फीसदी घटकर 32.3 करोड़ रुपये रहा.  वित्त वर्ष 2013 की पहली तिमाही में कंपनी का मुनाफा 36.7 करोड़ रुपये रहा था, जो इस बार 32.3 करोड़ ही रहा.

शोभना भरतिया खुश हुईं, खूब हो रही ‘हिंदुस्तान’ अखबार से कमाई

शोभना भरतिया आमतौर पर अपने अखबार के बारे में बयान कम ही देती हैं. बड़े से बड़ा इंटरनल मामला हो जाए, वो नहीं बोलतीं. वो तभी बोलती हैं जब उनकी अखबार कंपनी जमकर मुनाफा कमा ले. इस बार वो बोली हैं. इसलिए बोली हैं क्योंकि उनके हिंदुस्तान हिंदी अखबार ने इस वित्तीय वर्ष के पहले तीन महीनों यानि अप्रैल, मई, और जून महीनों में पिछले वित्तीय वर्ष के इन्हीं तीन महीनों के मुकाबले 57 फीसदी ज्यादा मुनाफा कमाया है.

यूपी के राज्यपाल ने अखिलेश सरकार का झूठा महिमामंडन किया!

14 फरवरी 2012 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल ने राज्य विधान मंडल के एकसाथ समवेत दोनों सदनों को संबोधित करते हुए राज्य सरकार की उपलब्धियों का उल्लेख करते हुए कहा था-  “बेरोजगारी भत्ता, कन्या विद्याधन, निःशुल्क लैपटॉप व टेबलेट दिए जाने की महत्वाकांक्षी योजना प्रारंभ हो चुकी है. लाखों लोगों को बेरोजगारी भत्ता, कन्या विद्याधन उपलब्ध कराने के आलावा हमारी बेटी उसका कल योजना के तहत हजारों बच्चियों को लाभान्वित किया जा चुका है. साथ ही ‘पढ़ें बेटियां बढ़ें बेटियां’ योजना भी लागू की गयी है.”

पत्रकार को धमकी के मामले में कांग्रेस नेता त्रिलोक पर जुर्म दर्ज

मध्य प्रदेश के बिलासपुर से खबर है कि पत्रकार व कैमरामैन से कैमरा छीनकर फुटेज डिलीट करने और धमकी देने के मामले में कोनी पुलिस ने कांग्रेस नेता त्रिलोक श्रीवास पर जुर्म दर्ज किया है। श्रीवास यहां रेतघाट संचालित करता है। बुधवार को स्थानीय न्यूज चैनल के पत्रकार गिरीश मिश्रा, खरे व आलोक अग्रवाल अवैध रेत उत्खनन व रायल्टी चोरी के मामले में समाचार संकलन के लिए गए कोनी रेतघाट गए थे। कोनी निवासी कांग्रेस नेता त्रिलोक श्रीवास ने यहां रेत उत्खनन का ठेका लिया है।

जेपी आंदोलन की पत्रिकाएं

बात 1974 की है. बिहार आंदोलन यानी जेपी आंदोलन चल रहा था. 5 जून, 1974 को पटना के  ऐतिहासिक गांधी मैदान में जेपी की  सभा हुई. उससे पहले राज्य भर से आये लोगों ने प्रदर्शन किया. सभा में अन्य लोगों के साथ-साथ आंदोलन से जुड़े पत्रकार भी राज्यभर से जुटे थे. कुछ पत्रिकाएं तो पहले से ही निकलती थीं. वे सरकारी विज्ञापनों पर निर्भर थीं. पर जब आंदोलन शुरू हुआ और उस पर सरकारी दमन तेज हो गया तो कई पत्रिकाएं आंदोलन के समर्थन में खबरें छापने लगीं. कुछ पत्र-पत्रिकाओं का प्रकाशन आंदोलन आरंभ होने के बाद शुरू हुआ. इस तरह राज्य के विभिन्न हिस्सों से निकल रहे अनेक पत्र-पत्रिकाएं और बुलेटिन आंदोलन के पक्ष में अलख जगाने लगे.

भारत के किस केंद्रीय मंत्री का उल्लेख दाऊद इब्राहिम से बातचीत में बार-बार आया है?

नई दिल्ली : आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग से जुड़ी जाँच में एक बड़ा खुलासा करते हुए आईबी और रॉ ने इस बात की पुष्टि की है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल से मिले वॉयस सैंपल अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के ही हैं. एजेंसियों ने कहा है कि जिस पाकिस्तानी नंबर 9233332064XXX की ये रिकॉर्डिंग है उसका इस्तेमाल दाऊद और छोटा शकील के द्वारा ही किया जा रहा था.

अमर उजाला वालों ने बुलाया लेकिन नाम व विचार नहीं छापा

Kaushal Sharma : स्थानीय हिन्दी दैनिक अमर उजाला कानपुर ने कल गिरती कानून व्यवस्था में बढ़ते अपराध पर चर्चा के लिए बाकायदा निमन्त्रण पत्र भेज कर अन्य लोगों के साथ कानपुर बार एशोसियेशन के महामन्त्री श्री सर्वेश कुशवाहा, गिरीश नारायण दुबे, एडवोकेट और मुझे भी आमंत्रित किया था। हम सभी लोग परिचर्चा में उपस्थित हुये परन्तु आज प्रकाशित समाचार में हम लोगों की उपस्थिति का कोई जिक्र उनके रिपोर्टर ने नही किया है।

आजमगढ़ में पूर्व विधायक और बसपा नेता सर्वेश हत्याकांड में कोतवाल गिरफ्तार

आजमगढ़ के पूर्व विधायक सर्वेश सिंह उर्फ सीपू मर्डर मामले में जीयनपुर के कोतवाल को गिरफ्तार कर लिया गया है. सीपू के भाई संतोष उर्फ टीपू और चचेरे भतीजे की लिखित शिकायत पर पुलिस कोतवाल और कई अन्य सिपाहियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है.

क्या दाऊद के साथ सलमान खान के संबंध हैं‍?

फिल्म इंडस्ट्री में यह चर्चाएं लंबे समय से होती रही हैं कि सलमान खान के संबंध आतंकी सरगना दाऊद इब्राहिम से है। इस शुक्रवार रिलीज हुई फिल्म 'डीडे' इसी थ्योरी पर मोहर लगाती है। अभी तक इस बारे में सलमान की ओर से कोई भी खंडन या प्रतिक्रिया नहीं आयी है। निखिल आडवानी निर्देशित फिल्म 'डीडे' इस शुक्रवार रिलीज हुई। यह फिल्म भारत के मोस्ट वांटेड आतंकी दाऊद इब्राहिम को पाकिस्तान से कराची लाने की कहानी है। फिल्म में दाउद इब्राहिम की भूमिका को ऋषि कपूर ने निभाया है।

यूपी में जंगलराज : बिजनौर में भी लड़की को जिंदा जलाया

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रही है। इटावा के बाद अब बिजनौर में भी एक नाबालिग लड़की को जिंदा जलाऩे का मामला सामने आया है। आरोप है कि एक होमगार्ड ने अपने साथियों के साथ मिलकर लड़की को जिंदा जला दिया। लड़की की मौत हो चुकी है। पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

सुप्रीम कोर्ट और हाईकोर्ट में हिंदी समेत किसी भारतीय भाषा के प्रयोग की अनुमति के लिए संघर्ष

Dear Sir, सुप्रीम कोर्ट ने हाल के अपने एक फैसले में निर्देश दिया है कि यदि कोई चाहता है कि उससे संबंधित फैसले की प्रति उसे उसी की भाषा में मुहैया कराई जाए, तो इसे सुनिश्चित किया जाए। लेकिन क्या यह निर्देश न्याय मांगने वाले के लिए पर्याप्त होगा? हिंदी को व्यवहार में लाने की सरकारी अपील आपने रेलवे स्टेशनों और अन्य सरकारी कार्यालयों में पढ़ी होगी, लेकिन विश्व के इस सबसे बड़े प्रजातंत्र में आजादी के 65 साल बाद भी सुप्रीम कोर्ट की किसी भी कार्यवाही में हिंदी का प्रयोग पूर्णत: प्रतिबंधित है।

 

तो ये है 110 वर्ष तक जीने का राज!

Sanjeev Chandan :  ८८ साल के कामरेड ए बी वर्धन से शुक्रवार के पत्रकार ने उनसे इस उम्र में भी स्वस्थ और सक्रिय रहने का राज पूछा . वर्धन ने पत्रकार की आशा के विपरीत बताया कि ४० सालों से उन्होंने योग और व्यायाम छोड़ रखा है . यह पढ़ने के बाद मैं आज और देर से उठा , निश्चिंत. मुझे लगा कि रामदेव महाराज का धंधा न चौपट कर दें कामरेड !

मैक्स हॉस्पिटल साकेत ने भूत को बंधक बनाया, देर रात पुलिस ने छुड़ाया

नई दिल्ली : नामी गिरामी फाइव स्टार अस्पतालों व बड़े-बड़े दावे करने वाली मेडिक्लेम कंपनियों की गंदी सांठ-गाठ की वजह से दिल्ली से प्रकाशित एक पत्रिका के संपादक पवन कुमार भूत को देर रात 2 बजे तक हॉस्पिटल के सुरक्षा कर्मियों ने रोके रखा और साकेत थाना प्रभारी के आदेश पर रिहाई संभव हो सकी। अस्पताल और रिहाई मामला थोड़ा अजीब है पर सच है।

अन्ना और मीडिया में से कौन सच्चा, कौन झूठा?

जन लोकपाल के लिए आंदोलन छेडऩे वाले समाजसेवी अन्ना हजारे एक बार फिर अपने बयान को लेकर विवाद में आ गए हैं। पहले उनके हवाले से छपा कि वे नरेंद्र मोदी को सांप्रदायिक नहीं मानते, दूसरे दिन जैसे ही इस खबर ने मीडिया में सुर्खियां पाईं तो वे पलटी खा गए और बोले कि उन्होंने कभी सांप्रदायिकता पर मोदी को क्लीन चिट नहीं दी। उन्होंने कहा कि मीडिया ने उनके बयान को गलत रूप में छापा।

टीवी24 कानपुर के पत्रकार ने लिखा पत्र, अब इकबाल अहलूवालिया के जवाब का इंतजार

सेवा में, इकबाल सिंह अहलुवालिया,  चेयरमैन टीवी24 नेशनल न्यूज चैनल, चंडीगढ़ – पंजाब, विषय: कानपुर में चैनल के नाम पर घूम रहे फर्जी पत्रकारों के ऊपर कार्यवाही करने के सम्बन्ध में। महोदय, आपको अवगत करना चाहता हूँ कि कानपुर में कुछ लोग टीवी 24 न्यूज चैनल की फर्जी आईडी लेकर घूम रहे हैं और अपने आप को ब्यूरो चीफ बताकर कानपुर में लगातार धन उगाही कर चैनल को बदनाम कर रहे हैं.

श्याम रुद्र के लिए 24 जुलाई को सुबह 10 बजे पटियाला कोर्ट में इकट्ठे हों

श्यामरुद्र जी की गिरफ्तारी पर सभी भारतीयों से अनुरोध है कि समय निकाल कर अपनी-अपनी प्रतिक्रिया और विचार यहां रखें और सरकार के इस गैर-जिम्मेदार कदम की खबर को अपने ट्विटर, फेसबुक, गूगल प्लस और व्हाट्सऐप पर सबके साथ साझा करें. २४ जुलाई २०१३ को पटियाला न्यायालय में उनकी पेशी है. दिल्ली के आसपास वाले लोग उस दिन न्यायालय में सुबह १० बजे एकत्र हों. अधिक जानकारी के लिए संयोजक श्रीमती गीता मिश्रा 'रतन से संपर्क करें : ९८९१५-५७०७७ in Eng: 98915-57077

एक ज़बानी फरमान आ गया कि मीडिया टीम अब संजय द्विवेदी को रिपोर्ट करेगी

: लौट के फुटेला घर को आए (दो) : कहां तो कंपनी महिलाओं की मदद करने, कराने के लिए एक एनजीओ लाने वाली थी, कहां उस ने एक ऐसी भी लड़की को डिब्बों पे स्टीकर चिपकाने के काम पे लगा दिया जिस को असल में वो एंकर बनाने वाली थी. इस बच्ची को भी मेरे आने से पहले चुन लिया गया था. मुझे जिस दिन वो पहली बार मिली तो मुझे उस की आँखों में एक अजीब किस्म की उदासी दिखी थी. मेरा शक ठीक निकला. उस के सिर पे बाप का साया नहीं था. उसे खाली डिब्बों पे स्टीकर चिपकाते देखना मुझे भीतर तक हिला गया था.

बनारस के आरटीआई कार्यकर्ता को मिली जान से मारने की धमकी, जान-माल के सुरक्षा की गुहार

सेवा में, श्रीमान अध्यक्ष महोदय, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, नई दिल्ली, महोदय, मैंने वाराणसी के शिवपुर एरिया में 4 स्कूलों द्वारा किये जा रहे छात्रवृत्ति घोटाले की शिकायत बेसिक शिक्षा अधिकारी और जिलाधिकारी वाराणसी से की थी. इस पर जाँच हुई और 3 स्कूल क्रमशः करमजीत पब्लिक स्कूल, अरशद पब्लिक स्कूल और जीनियस एजुकेशन पब्लिक स्कूल के प्रबंधक और प्रधानाचार्य के खिलाफ शिवपुर थाने में दिनांक-13.03.13 को मुकदमा पंजीकृत हुआ. मुकदमा नंबर है-53/2013 और एक स्कूल के खिलाफ बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा कोई कार्यवाही नहीं की गयी.

Journalist who revealed Algeria torture dies in Paris

French journalist and Communist Henri Alleg, who was the first to reveal the full extent of torture by French forces during Algeria's war of independence, has died aged 91. Alleg, whose 1958 memoir "La Question" was banned by French authorities for revealing his torture in Algeria, died in Paris on Wednesday, left-wing newspaper l'Humanite said.

प्रख्यात पत्रकार विजय प्रताप सिंह की तीसरी पुण्यतिथि आज

जाने-माने पत्रकार विजय प्रताप सिंह इसी जुलाई महीने में तीन साल पहले 20 तारीख को हम सभी को अलविदा कह गए। उ0प्र0 के पूर्व कैबिनेट मंत्री श्री नंदगोपाल गुप्ता ‘नंदी’ पर हुए रिमोट बम से हमले में विजय प्रताप घायल हुए और इलाज के दौरान उनकी मौत हो गयी। बेबाक, साहसी और लीक से हटकर चलने वाले विजय प्रताप सिंह के जाने की कमी हर किसी को अभी तक महसूस हो रही है, क्योंकि इस बीच बहुत कुछ ऐसा प्रकरण, मुद्दा, घटनाक्रम हुआ जिसमें उनकी बेबाक लेखनी की कमी सबको महसूस हुई।

गाजियाबाद से आईपीएस नितिन तिवारी के जाने और धर्मेंद्र यादव के आने के मायने

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटा उत्तर प्रदेश का जिला गाजियाबाद हमेशा सुर्खियों में रहता है। राजनैतिक और आर्थिक रूप से सशक्त जिला गाजियाबाद राजनेताओं, नौकरशाहों, दौलतमंदों, बड़े-बड़े सरकारी अधिकारियों, फिल्म निर्देशकों, भू-माफियाओं, दबंगों सभी को खूब रास आता है। जमीन यहां सोना उगलती है तो गगनचुंबी इमारतें आसमानों से बातें करती है। विकास के नाम पर यहां सरकारी खजाने की खूब लूट होती है। यह सच्चाई है तो इसमें भी कोई संदेह नहीं है कि विकास के मामले में यह इलाका राज्य से काफी आगे निकल गया है।

बिहारी मीडिया का ‘आर ब्लॉक’ : आप भूमिहार लोग हैं न, राजपूतों की बरकत नहीं देख सकते हैं

गुरुवार (18 जुलाई) को दोपहर बाद मैं बिहार विधान सभा के मेनगेट से बाहर आ रहा था। एक साथी मिले। भूमिहार हैं। उन्होंने एक खबर दी। खबर नहीं दी, बल्कि सवाल पूछा। पता है हिन्दुस्तान के संपादक बदल गये। मैंने कहा- हॉ। कोई तीर विजय सिंह जी आये हैं। सासाराम के किसी प्रखंड के रहने वाले बताए जाते हैं।

ईटीवी ने लगाई अपने पत्रकारों के प्रेस क्लब जाने पर पाबंदी

ईटीवी राजस्थान ने जयपुर में तैनात अपने पत्रकारों और कैमरामैनों को पिंकसिटी प्रेस क्लब में जाने पर पाबंदी लगा दी है। इससे पत्रकारों के सामने खाने-पीने और अपने आपको रिचार्ज करने की बड़ी समस्या खड़ी हो गई है। ईटीवी में कई पत्रकार साथी हैं जो अपने घरों से दूर रहते हैं और सस्ता व पोषक खाना उन्हें पिंकसिटी प्रेस क्लब में बीस रुपए प्रति डाइट के हिसाब से मिल जाता है, जो जयपुर में कहीं पर भी उपलब्ध नहीं है।

नीरा राडिया ने कुबूला- मंत्रिमंडल गठन पर कनिमोरी व राजा से हुई थी बातचीत (सुनें टेप)

2 जी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाला मामले में पूर्व कारपोरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया ने पटियाला हाउस कोर्ट के समक्ष कहा कि मंत्रिमंडल के गठन को लेकर उनकी पूर्व दूरसंचार मंत्री और डीएमके सांसद कनिमोरी से मुलाकात व बातचीत हुई थी। वह बृहस्पतिवार को अदालत में गवाह के रूप में बयान दर्ज करा रही थीं। विशेष जज ओपी सैनी के समक्ष राडिया ने कहा कि उन्होंने टाटा ग्रुप की ओर से पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा से उनके घर में बने कार्यालय में जाकर नवंबर 2008 में मुलाकात की थी।

माफिया डॉन बृजेश को हीरो बना डाला जनसंदेश टाइम्‍स ने

बनारस में जनसंदेश टाइम्‍स की संपादकीय समझ को लेकर लोग खूब चर्चा कर रहे हैं. खासकर मीडिया वाले. इस अखबार ने चचेरे भाई की तेरहवीं में पहुंचे माफिया डॉन बृजेश सिंह पूरे एक पेज पर इस तरह से कवरेज दी है, जैसे वो कोई बड़ा महात्मा, नेता, सेलेब्रिटी, मंत्री या पवित्र आत्‍मा हो. बनारस के अन्‍य अखबार जहां सूचनात्‍मक तरीके से एक न्‍यूज देकर इस खबर को छूटने नहीं दिया वहीं जनसंदेश टाइम्‍स ने पहले पन्‍ने पर कथित रूप से बृजेश से फेस टू फेस बातचीत की खबर छापने के अलावा सात नम्‍बर पेज पर फुल पेज फोटो फीचर की कवरेज की है.

इस देश में न्याय इसलिए नहीं हो सकता, क्योंकि नेताओं को सजा दिलाने का कोई इतिहास नहीं है!

कहने को भारत लोक गणराज्य है। यानि सिद्धांततः हमारे देश की सत्ता इस देश के नागरिकों में निहित है। सत्ता शिखरों पर बैठे लोग तो जनप्रतिनिधि या जनसेवक हैं। जिन्हें संविधान की शपथ लेकर लोकतांत्रिक प्रणाली के तहत काम करना होता है। लेकिन असल में भारतीय नागरिक के कोई अधिकार हैं ही नहीं। न ही उनके कोई प्रतिनिधि हैं। सत्ता के शिखरों पर बैठे लोग संविधान की हत्या जब तब करते रहते हैं। लोकतंत्र का कोई वजूद है ही नहीं। लोकतांत्रिक तमाम प्रतिष्ठान ध्वस्त है।

मुंबई में बार का धंधा दोबारा खड़ा करना आसान नहीं होगा

देश के सर्वोच्च न्यायालय ने मुंबई समेत महाराष्ट्र के डांस बार पर राज्य सरकार द्वारा लगी पाबंदी को हटाते हुए उच्च न्यायालय का निर्णय बरकरार रखा है। अब एक बार फिर तकरीबन आठ साल से बंद पड़े महाराष्ट्र के डांस बार गुलजार हो सकेंगे। गौरतलब है कि महाराष्ट्र सरकार ने २००५ में बांबे पुलिस एक्ट में संशोधन कर तीन सितारा होटलों से नीचे के सभी बियर बार और रेस्तरां में डांस पर रोक लगा दी थी। सरकार के फैसले के खिलाफ इंडियन होटल एंड रेस्तरां एसोसिएशन की याचिका पर बांबे उच्च न्यायालय ने अप्रैल २००६ में डांस बार पर रोक वाला राज्य सरकार का आदेश निरस्त कर दिया था जिसे महाराष्ट्र सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी थी।

Former regional journalist loses cancer battle at 49

A former regional journalist and columnist who went on to launch a blossoming academic career has lost her fight with cancer at the age of 49. Kirsty Milne started out as a BBC trainee and went on to become a leading writer, chronicling the early years of Scottish devolution for The Scotsman, as well as working for the Sunday Herald for a short time.

दिल्ली ट्रांसफर न होने से बिहार के एडीजी ने मौत को पकड़ लिया

गजब है. लोग ट्रांसफर न होने से भी दुखी होकर मर जाते हैं. और, अगर यह कांड कोई पुलिस का बड़ा अधिकारी करे तो और भी आश्चर्यजनक लगता है. आरपी सिंह ने दिल्ली में द्वारका स्थित अपने घर में ख़ुदकुशी कर ली है. आरपी सिंह इन दिनों बिहार में बतौर एजीडी (एनसीसी) में तैनात थे. बताया जा रहा है कि वह लम्बे से समय से खुद का तबादला दिल्ली चाह रहे थे. ऐसा न होने के कारण वह परेशान चल रहे थे.

Cancellation of Two Steel Projects by POSCO and Arcelor Mittal has Lessons for Other Projects

: 5th In-principle Extension of SEZ Status to POSCO Odisha Plant in Seven Years is Illegal : Stop Police Terror in Gobindpur Now : New Delhi, July 19 : In quick succession two steel projects worth 18b $ have been cancelled after they failed to acquire land and other clearances. Many in government are saying its bad for investment, and environmental, labour and other guidelines need to be relaxed to attract foreign investment in manufacturing. As people's movements opposing many of these big infrastructure projects, we feel that these projects are nothing but resource grab and transfer to private corporations for nothing and in violation of constitutional provisions. We need stricter implementation of the existing guidelines to stop such loot of natural resources and stern actions against those responsible.

लौट के फुटेला घर को आए (एक)

: जगमोहन फुटेला की जुबानी, आने वाले एक चैनल की बीती हुई कहानी :  मुझे पता है कि आज के ज़माने में मीडिया और उस में भी चैनल कौन ला, चला सकता है. ये भी कि मीडिया का कैसे कैसे इस्तेमाल होता है. मुझे ये भी पता था कि गुड़गांव की लैंडमार्क कंपनी हरियाणा के स्पीकर रहे डा. रघुबीर सिंह कदियान के दूर पार के रिश्तेदार संदीप की है. सो, ये डर भी था ही कि चैनल का उन के लिए इस्तेमाल हो सकता है. मेरा भी.

सपा सरकार ने रिहाई मंच का टेंट उखाड़ा

लखनऊ : यूपी सरकार ने 20 जुलाई को रिहाई मंच के धरने के दो महीने पूरे होने पर आयोजित होने वाली नमाज ए मगरिब इस्तेमाई (संयुक्त) दुआ को रोकने के लिए पुलिस प्रशासन से 59 दिनों से चल रहे धरने के मंच को कल रात उखाड़ फेकवाया। रमजान के पाक महीने में इसी मंच पर रोजेदार नमाज अदा करते थे, जो सरकार की आंख की किरकिरी बन चुके थे। 17 जुलाई को स्थानीय पुलिस चैकी इंचार्ज ने कहा था कि आपके धरने पर सांप्रदायिक लोग आते हैं और हम यह धरना नहीं चलने देंगे आप हमारे वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को आतंकवाद में संलिप्त होने जैसे आरोप लगाते हैं।

बैतूल में कवरेज के लिए गए पत्रकार की पिटाई के मामले में तीन गिरफ्तार

बैतूल (म.प्र.) : बैतूल में कांग्रेस के एक कार्यक्रम के दौरान एक पत्रकार की बेरहमी के साथ की गई पिटाई के मामले में पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधीक्षक ललित शाक्यवार ने बताया कि कांग्रेस कार्यक्रम का कवरेज कर रहे पत्रकार ज्ञानदेव लोखंडे के साथ बेरहमी से की गई मारपीट के मामले में तीन आरोपियों चेंट, अज्जू उर्फ रावण तथा शिराज को कल देर रात धारा 307 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया।

हाईबीपी और ब्रेन स्ट्रोक के कारण हिंदुस्तान के पत्रकार अरविन्द सिन्हा का निधन

कोडरमा। गुरुजी यानि पत्रकार अरविन्द सिन्हा। बुधवार की रात उनके निधन के बाद आज मरकच्चो स्थित पंचखेरो नदी के किनारे स्थित मुक्तिधाम पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान विभिन्न संगठनों से जुडे लोग, सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार मौजूद थे। इसके पहले लालनगर स्थित उनके आवास से शव यात्रा निकली जिसमें कई लोग शामिल हुए। ज्ञात हो कि दैनिक हिन्दुस्तान के स्थानीय पत्रकार 52 वर्षीय अरविन्द सिन्हा बुधवार को समाचार संकलन के बाद देर शाम घर लौटे तो अचानक उच्च रक्तचाप और ब्रेन हेमरेज की वजह से उनकी स्थिति बिगड़ गयी।

अमर उजाला ने उत्तराखंड के ‘नीरो’ को नंगा कर दिया

आपदा राहत में लापरवाही पर उत्तराखंड के नीरो की ख्याति से नवाजे जा रहे मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा को अमर उजाला अखबार ने 17 जुलाई के अंक में नंगा कर दिया। 'टीवी पर विरोध द