यूपी के इस सीनियर IAS अफसर को संगीत से है बेहद प्रेम, सुनिए ये ताजी पेशकश

नाम है डा. हरिओम. यूपी कैडर के सीनियर आईएएस अधिकारी हैं. पैशन है गायकी, संगीत, सुर, लय और ताल. कई एलबम आ चुके हैं. इनकी लिखी एक ग़ज़ल अभी हाल में ही इन्हीं की आवाज़ में संगीत प्रेमियों के सामने आई है जिसे बेहद पसंद किया जा रहा है.

Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पंद्रह अगस्त के मौके पर अभिजीत सरकार के गाए इन चुनिंदा गानों को सुनें, दिन बन जाएगा

Abhijit Sarkar

SARKARNAMA Independence Day SPECIAL… In the words of George Byron, “Those who will not reason, are bigots, those who cannot, are fools, and those who dare not, are slaves.” Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सुदीप-आलोक का ‘नूर’ मुंबई में रिलीज़

‘नूर’ के साथ जुड़ी हैं कई नई बातें… नए दौर के ग़ज़ल-गायक सुदीप बनर्जी और कवि-पत्रकार आलोक श्रीवास्तव का नया ग़ज़ल सिंगल ‘नूर’ मुंबई में रिलीज़ हुआ. ए ग्रांड ग़ज़ल फ़ेस्टिवल ‘ख़ज़ाना’ में इस एलबम को ग़ज़ल-सम्राट पंकज उधास, तलत अज़ीज़ और गायिका रेखा भारद्वाज ने रिलीज़ किया. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

देश में रफी साहब का आखिरी कंसर्ट हुआ था राजहरा में

छत्तीसगढ़ी फिल्मों और भिलाई से भी जुड़ी कुछ बातें और यादें उस कंसर्ट की

भिलाई। सुर सम्राट मुहम्मद रफी साहब के गुजरने के 38 साल बाद भी उनके दीवानों की कभी कोई कमी नहीं रही। रफी साहब का छत्तीसगढ़ से आत्मीयता का नाता रहा है। जहां शुरूआती दौर की छत्तीसगढ़ी फिल्मों ‘कहि देबे संदेस’ और ‘घर द्वार’ के गीतों को उन्होंने अपनी आवाज दी। वहीं अब तक की ज्ञात जानकारी के मुताबिक देश के भीतर आखिरी सार्वजनिक कार्यक्रम रफी साहब ने भिलाई स्टील प्लांट (बीएसपी) की लौह अयस्क खदान नगरी दल्ली राजहरा में 26 अप्रैल 1980 को दिया था। दल्ली राजहरा के बाद उनका आखिरी स्टेज परफार्मेंस भारत के बाहर श्रीलंका में 18 मई 1980 को हुआ था और इसके बाद रमजान का महीना लग चुका था। जिसमें रफी साहब स्टेज प्रोग्राम नहीं देते थे। और रमजान के महीने में ही रफी साहब ने 31 जुलाई 1980 को आखिरी सांस ली थी।

Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भोजपुरी की प्रतिभावान और तेजस्वी गायिका हैं चंदन तिवारी, सुनें कुछ लोक गीत, देखें वीडियो

आंख जइसा आंख नहीं है, काजर-काजर करता है… ए बबुआ करिखा लगाइला… फिर ना आई जवानी….

xxx

गाल जइसा गाल नहीं है, इस्नो पाउडर करता है… ए बबुवा बेसन लगाइला, फिर ना आई जवानी…

चंदन तिवारी ने आजमगढ़ में गारी गाया, पचरा सुनाया, सोहर से नि:शब्द किया… कई घंटे तक भोजपुरी लोक गीतों की मधुर मिठास से श्रोताओं को मंतमुग्ध रखा… Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

इंडिया टीवी के पत्रकार नीतीश चंद्र ने गाया ‘तौबा-तौबा शराब…’, आप भी सुनें

बिहार के सभी स्कूलों तक पहुंचेगा ये गाना, सीएम ने दिए निर्देश

पटना : बिहार में शराबबंदी के दो साल पूरे होने के मौके पर पटना के अधिवेशन भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक म्यूजिक वीडियो ‘तौबा तौबा शराब’ का लोकार्पण किया। इस म्यूजिक वीडियो को इंडिया टीवी के बिहार संवाददाता नीतीश चंद्र ने तैयार किया है। नीतीश पिछले 15 वर्षों से इंडिया टीवी से जुड़े हुए हैं। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

आगरा पहुंचे यशवंत ने गाया- ना सोना साथ जाएगा ना चांदी जाएगी… (देखें-सुनें वीडियो)

Yashwant Singh : आगरा गया था. जमाने बाद. ताज लिट्रेचर क्लब की संस्थापिका Bhawna के न्योते पर. भावना जी आई-नेक्स्ट, कानपुर की लांचिंग के जमाने में ब्रांड और सरकुलेशन के हेड रहे मित्र Vardan की पत्नी हैं. वो घरेलू महिला होते हुए भी घरेलू महिलाओं से अलग हैं. बहुमुखी प्रतिभा की धनी हैं. साहित्य से लेकर अध्यात्म तक और संपादकीय से लेकर टूरिज्म तक पर गहरा पकड़ रखती हैं. उनके पतिदेव और अपने मित्र वरदान जी इन दिनों वेडिंग प्लानिंग का काम देख रहे हैं. उनकी तीन कंपनियां हैं. जाहिर है, भावना इन सबमें उनका हाथ बंटाती हैं. इससे इतर ताज लिट्रेचर क्लब भावना के अपने दिमाग की उपज है.

वे लोग जो दिल से जीते हैं, कविताएं लिखते हैं, डायरियां लिखते हैं. सुबह या शाम के वक्त एक दफे कविताएं गुनगुनाते जीते हैं, उनके लिए कोई मिलने जुलने बैठने शेयरिंग का एक अड्डा मंच चौपाल होना चाहिए. इसी आइडिया को लेकर भावना ने ताज लिट्रेचर क्लब यानि टीएलसी बनाया. इस टीएलसी ने बीते शनिवार साल भर पूरा किए. फर्स्ट एनीवर्सरी पर मुझे आगरा बुलवाया गया.

कैसे-कैसे आगरा पहुंचा हूं, इस पर आगे लिखूंगा. रोडवेज बस परी चौक पर खराब हुई तो हम लोग कितने मुश्किल से रिफंड ले पाए और हम तीन सह यात्री मिलकर ओला बुक किए. खैर… आगरा पहुंच ही गए. अगले रोज ताज क्लब में कार्यक्रम शुरू हुआ. अचानक मंच से मुझे चीफ गेस्ट का तमगा देते हुए मंच की तरफ बढ़ने और वहां लगी कुर्सी पर बैठने के लिए आदेशित किया गया. मैं भौचक. मामला अपने परिजनों सरीखे साथियों से जुड़े कार्यक्रम का था, सो चुपचाप आदेश मानने के अलावा कोई विकल्प नहीं था.

भावना और वरदान, दोनों के आदेश को मानना ही पड़ा, हालांकि बार बार इनसे कह चुका था कि मुझे चीफ गेस्ट टाइप का तमगा न दें, चुपचाप आउंगा और बैठ जाऊंगा. लेकिन इन लोगों ने जैसा मेरा महिमामंडन किया, उससे मैं देर तक असहज रहा. जो आदमी खुद को सड़क छाप मानता हो और सड़क छाप जिंदगी जीना पसंद करता हो उसे अगर कहीं भी थोड़ा सा स्पेशल ट्रीटमेंट मिलने लगे तो वह असहज हो जाता है. लेकिन कार्यक्रम भावना का था और बैकडोर से वरदान भाई कार्यक्रम की व्यवस्थागत कमान संभाले हुए थे तो उनके हर आदेश को मानना मजबूरी थी.

कार्यक्रम जोरदार हुआ. सबसे खास ये रहा कि टीएलसी में ढेर सारे डाक्टर सदस्य हैं और इनकी कविताएं खूब गहरी संवेदनाएं लिए थीं. ऐसे दौर में जब कोई डाक्टर जिंदा बच्चों को लिफाफा में पैक कर मरा घोषित करते हए घरवालों को दे देता हो, ऐसे डाक्टरों को देखना अदभुत लगा जो जीवन और सरोकार के छोटे-से मामूली किस्म के हृदयकेंद्रित बिंब सरोकार को पकड़ कर उसे अपनी रचना का हिस्सा बना देते हों….

xxx

आगरा में ताज लिट्रेचर क्लब का कार्यक्रम शाम तक निपटाने के बाद रात्रिभोज के लिए भाई Anand Sharma जी के फार्म हाउस की ओर कूच कर गया. जानने वाले जानते हैं कि आनंद शर्मा और Ajit Singh की फेसबुक पर ऐसी युगल जोड़ी है जिनके लिखे की फालोइंग हजारों-लाखों में है. हां, उनसे ढेर सारे मुद्दों पर असहमत रहने वालों की संख्या भी अच्छी-खासी है, जिनमें से एक मैं भी हूं. लेकिन विचारधाराएं मनुष्यता से बड़ी नहीं होतीं. हर कोई अपने संस्कार, परिवेश, संघर्ष, अनुभव आदि से अपनी तर्क पद्धति गढ़ता है. इसीलिए मैं अपने रिश्तों में कभी विचारधारा को आड़े नहीं आने देता. लेफ्ट हो या राइट, मनुष्य शानदार है तो रिश्ता रहेगा ब्राइट. ठाकुर अजीत सिंह तो अपने गाजीपुर के ही हैं. एक बार उनके गांव जाकर उनके द्वारा पकाई जाने वाली स्पेशल डिश हांड़ी मटन का आनंद ले चुका हूं. साथ ही उनके द्वारा गरीब बच्चों के लिए संचालित उदयन स्कूल की कार्यपद्धति देख कर लिखा था, वीडियो भी अपलोड किए थे.

आनंद-अजीत की युगल जोड़ी के अजीत से मिलने के बरसों बाद पंडित आनंद शर्मा से मिल पाना अब हुआ. पता चला कि पंडित आनंद शर्मा जी न सिर्फ लिक्खाड़ हैं बल्कि तबीयत से मस्तमौला किस्म के आदमी हैं. जीवन और संघर्ष के बेहद जमीनी अनुभव इनके पास हैं. तभी तो आज ये सनराइज मसाले की कई कंपनियां के स्वामी हैं. लेकिन स्वभाव बिलकुल औघड़ों जैसा. एकदम आम आदमी की तरह रहते जीते बतियाते हैं. अपने सैकड़ों कर्मियों से रिश्ता मालिक-नौकर का नहीं बल्कि दिल से दिल वाला डेवलप कर रखा है. सिस्टम ऐसा बना रखा है जिससे उन पर कोई भी सरकारी-प्राइवेट आदमी किसी किस्म का आरोप न लगा सके. एकदम ट्रांसपैरेंट, माडर्न, प्रोफेशनल और नो टेंशन वाला सिस्टम.

बात आनंद भाई द्वारा दिए गए रात्रिभोज की हो रही थी. मेनू में हांड़ी चिकन था. गाने में ढेर सारे गीत. आगाज़ अपन ने किया. ”ना सोना साथ जाएगा ना चांदी जाएगी” वाला पंडित छन्नूलाल मिश्रा का गाया अपन का फेवरिट गीत गुनगुनाने लगा. चार चांद लगा दिए उस नए नवेले हाई-फाई माइक ने, जिसमें स्पीकर भी अटैच था. भाई आनंद जी ने मेरे गाने के दौरान कब वीडियो बना लिया, मुझे पता ही नहीं चला. वीडियो में थोड़ा-सा कलाकारी किया हूं. देखिए, सुनिए और बताइए कि आप कब रात्रि भोज दे रहे हैं, अपन फ्री में गाने-खाने आ जावेंगे… 🙂 गाने के वीडियो का लिंक ये रहा :

तस्वीर में सबसे दाएं आनंद जी हैं. मेरे बाएं Vardan भाई हैं. एक तस्वीर सुबह की उस राख के ठीक सामने की है जिस पर हांड़ी चिकन पका था. क्या लाजवाब पका था. जैजै

भड़ास के एडिटर यशवंत की एफबी वॉल से.

इसे भी पढ़ें :

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजाराम यादव तो अदभुत गायक निकले (देखें वीडियो)

उत्तर प्रदेश में जौनपुर के वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजाराम यादव ने रविवार को विश्वविद्यालय के संगोष्ठी भवन में हारमोनियम बजा कर ऐसा लोकगीत गाया कि विद्यार्थियों की तालियां रुकने का नाम ही नहीं ले रही थीं. विश्वविद्यालय के कुलपति ने संगीत को अपने मन से जोड़ने की बात की। प्रोफ़ेसर यादव बचपन से ही संगीत से जुड़े रहे हैं और कई देशों में उन्होंने अपनी प्रस्तुतियां दी है। भारतीय परिधान धोती कुर्ता पहनकर प्रोफ़ेसर यादव विश्वविद्यालय के संगोष्ठी भवन स्थित मंच पर चढ़े तो किसी ने इस बात की उम्मीद भी नहीं की थी कि भौतिकी का प्रोफेसर ऐसा गीत गा सकता है.

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में रविवार की रात सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। छतरपुर मध्यप्रदेश से पधारे मृदंग मार्तंड पंडित अवधेश कुमार द्विवेदी, संगीत नाटक अकादमी अवार्ड से सम्मानित प्रख्यात शास्त्रीय संगीत गायक पंडित सत्य  प्रकाश मिश्र एवं स्वामी शांति देव महाराज के शिष्य तथा ठुमरी एवं तराना  गायन में सिद्धहस्त कुलपति  प्रो डॉ   राजाराम यादव की युगलबंदी ने श्रोताओं को अपने उत्कृष्ट गायन से मंत्रमुग्ध कर दिया। इस अवसर पर मालकोश राग में रावण- मंदोदरी संवाद पर प्रो डॉ राजाराम यादव की प्रस्तुति- मैं कहां जाऊं कासे कहूं पर श्रोता  झूम उठे। उनके द्वारा प्रस्तुत तराना एवं ठुमरी बुद्धि न जागी, निकल आयो घमवा, जब जागी तब मूरत पायी, आगि लागे धंधा वज्र परे कमवा पर समूचा हाल तालियों की गूंज से अनुगुंजित होता  रहा।

शास्त्रीय गायक पंडित सत्यप्रकाश मिश्र द्वारा प्रस्तुत भजन एवं मृदंगाचार्य  पंडित अवधेश कुमार द्विवेदी के शिव तांडव स्त्रोत पर मृदंग वादन ने लोगों का मन मोह लिया। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अरुंधति वशिष्ठ अनुसन्धान पीठ के निदेशक डॉ चंद्र प्रकाश सिंह ने कहा कि संगीत मानसिक तनाव से मुक्ति देता है। अपने उदबोधन में कुलपति प्रो  डॉ राजाराम यादव ने कहा कि नाद ही ब्रह्म है। आहत नाद को ब्रह्म नहीं माना गया लेकिन अनाहत नाद को ब्रह्म की संज्ञा से अभिहित किया गया है। धन्यवाद ज्ञापन संयोजक डॉ. अविनाश पाथर्डीकर एवं संचालन मीडिया प्रभारी डॉ  मनोज मिश्र ने किया। इस अवसर पर डॉ अजय द्विवेदी, डॉ राम नारायण, डॉ एके श्रीवास्तव, डॉ अमरेंद्र सिंह, डॉ दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ रजनीश भास्कर, डॉक्टर संतोष कुमार, डॉ राजकुमार सोनी, डॉ सुशील सिंह, डॉ अलोक सिंह, डॉ विवेक पांडे, डॉ रजनीश भास्कर, आलोक दास डॉ संजय श्रीवास्तव डॉक्टर विद्युत मल, डॉ पीके कौशिक, सुशील प्रजापति, धीरज श्रीवास्तव समेत विश्वविद्यालय के छात्र- छात्राएं उपस्थित रहे।

डॉ दिग्विजय सिंह राठौर
जनसंचार विभाग
मीडिया सेल

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

इन दो शानदार लोक गीतों और एक जानदार लोक कविता को अब तक नहीं सुना तो फिर क्या सुना… (देखें वीडियो)

जनता के बीच से जो गीत-संगीत निकल कर आता है, उसका आनंद ही कुछ और होता है. अवधी हो या भोजपुरी. इन देसज बोलियों की लोक रंग से डूबी रचनाओं में जो मस्ती-मजा है, वह अन्यत्र नहीं मिलता. नीचे तीन वीडियोज हैं. सबसे आखिर में जाने माने कवि स्व. कैलाश गौतम की रचना है, उन्हीं की जुबानी- ‘अमउवसा का मेला’. जो लोग इलाहाबाद में कुंभ-महाकुंभ के मेलों में जाते रहे हैं, उन्हें इस कविता में खूब आनंद आएगा.

शुरुआती वीडियो में जो लोक गीत है, उसे एक कस्बे की एक चाय की दुकान पर सुना रहा है एक नौजवान. क्या अंदाज है सुनाने का.. इसके आगे तो बड़े बड़े मंचीय कवि फेल दिख रहे हैं… इस गीत के बोल हैं- ”मेघवा कूदे कोनवा कोनवा, घर सिवनवा होई गई ना…”. बीच वाले वीडियो में एक अवधी है. अहा… इस अवधी को इतने इत्मीनान और प्यार से इस बंधु ने गाया है कि सुनकर दिल बाग बाग हो गया.. अवधी में गाई जा रही इस गारी और नकटा का आनंद लीजिए…

देखें वीडियोज…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

…चिक्कन भारत क बापू के सपना पुरावल जाई हो… (सुनें)

पूर्वी उत्तर प्रदेश के जाने-माने गीतकार डा. एमडी सिंह ने स्वच्छता अभियान को लेकर भोजपुरी में एक गीत की रचना की है. गाजीपुर के जाने माने होम्यो चिकित्सक डा. एमडी सिंह की इस भोजपुरी रचना को स्वर दिया है डा. अरविंद पांडेय ने.

आप भी सुनिए और आनंद लीजिए… नीचे क्लिक करें…

महतमा गांधी के तनी त करजा चुकावल जाई हो
चिक्कन भारत क बापू के सपना पुरावल जाई हो

मोदी जोगी सिनहा शाह
सबका हिया में जागल चाह
मलि देशवा क मइल धोइहैं
बुताई तब जियरा क दाह

अरे हमनियो के ओ सभनिन क संघत निभावल जाई हो
चिक्कन भारत क बापू के सपना पुरावल जाई हो

पनडोहा ना बज बज करी
घर दुआर ना माछी मरी
जे बस्सइहैं ना पोखरि डगर
तब्बै बुद्धी क दियना बरी

लीप पोति एहि देशवा के महमह महकावल जाई हो
चिक्कन भारत क बापू के सपना पुरावल जाई हो

करे न बहरे जाई मैदान
तबै कनिया पाई सम्मान
निम्मन सुघ्घर दिख्खी सबके
त देशवा के होई गुनगान

बइठल सबके अँखिया पर से गरदा उड़ावल जाई हो
चिक्कन भारत क बापू के सपना पुरावल जाई हो

-डॉ एमडी सिंह
गाजीपुर

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अजराड़ा घराने के उस्ताद को संतूर शिरोमणि भजन सोपोरी ने यूं दी श्रद्धांजलि (देखें वीडियोज)

Yashwant Singh : क्या ग़ज़ब बजाते हैं भजन सोपोरी. इस संतूर उस्ताद को पहली बार लाइव देखा सुना. मेरठ के आरजी कालेज आडिटोरियम में आयोजित एक श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शिरकत करने आए पंडित भजन सोपोरी को देखकर लग नहीं रहा था कि यह शख्स सन 1948 की पैदाइश है. वही चेहरा मोहरा और अंदाज जो उन्हें हम लोग तस्वीरों-वीडियोज में देखते-सुनते आए हैं. इस आयोजन में मैं अपने सीनियर रहे आदरणीय Shrikant Asthana सर के साथ पहुंचा था.

जिस जाने-माने तबला वादक उस्ताद हशमत अली खान साहब (अजराड़ा घराना) के श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शिरकत करने पंडित भजन सोपोरी मेरठ आए थे, उनके यशस्वी बेटे उस्ताद अकरम खान एक तरफ तबला संभाले थे तो दूसरी तरफ पखावज पर सोपोरी की टीम के ही ऋषि उपाध्याय थे. संतूर साधक ने दोनों को उड़ने का मौका दिया, दोनों के साथ एक-एक कर तो कभी साथ-साथ संगीत की साधना को दिल निकाल कर दिखाया. पिता स्वर्गीय हशमत अली खान को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए मशहूर ताबलिक उस्ताद अकरम खान ने राग किरमानी के साथ तबला प्रस्तुति दी. राग किरमानी के मध्यम ताल पर तबला, संतूर और पखावज की जुगलबंदी हुई.

अजराड़ा घराने के अंतरराष्ट्रीय तबला वादक स्वर्गीय उस्ताद हशमत अली खान की स्मृति में आयोजित संगीत संध्या का शुभारंभ तबला एकेडमी आफ अजराड़ा घराने के सप्तक शर्मा, आशुतोष, हफीज खान, रामान खान व अकरम खान ने किया. मंच से दूर बैठे होने के कारण रिकार्डिंग ज्यादा साफ भले न हो लेकिन आवाज चौचक है. आनंद लीजिए, धैर्य के साथ…. वीडियो लिंक ये हैं :

भजन सोपोरी के संतूर पर खूब भिड़े तबला और पखावज https://youtu.be/mUb20T1ViMw

संतूर वादक पंडित भजन सोपोरी Live Show https://youtu.be/p1Kos5ndB6E

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

चला सखी रोप आईँ खेतवन में धानी…. (सुनें)

Yashwant Singh :  भोजपुरी में सावन का एक गीत… चला सखी रोप आईँ खेतवन में धानी…. गाजीपुर के जाने माने होम्यो चिकित्सक डा. एमडी सिंह की एक भोजपुरी रचना को स्वर दिया है डा. अरविंद पांडेय जी ने. दोनों लोग वीडियो पर तस्वीर में दिख रहे हैं. टोपी वाले डा. एमडी सिंह हैं और दाएं वाले अरविंद पांडेय.

भोजपुरी इलाकों में सावन के गीतों का बहुत महत्व है. भोजपुरी में सावन का मौसम दरअसल गीतों का मौसम है. आप भी सुनिए और आनंद लीजिए… चला सखी रोप आईं खेतवन में धानी… सुनने के लिए नीचे दिए वीडियो पर क्लिक करें :

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

योगी को जेल भेजने वाले आईएएस अधिकारी हरिओम पर आज उनका ही अपना एक गाना एकदम फिट बैठ रहा

म्यूज़िक कंपनी ‘मोक्ष म्यूज़िक’ और संगीतकार राज महाजन के करीबी माने जाने वाले आईएएस अधिकारी डॉ. हरीओम से ऐसी क्या गलती हुई जिसका हर्जाना उन्हें आज 10 साल बाद भरना पड़ रहा है? आज के हालातों में गाया हुआ उनका अपना ही गाना ‘सोचा न था, जाना न था, यूँ हीं ऐसे चलेगी ज़िन्दगी’ उन पर एक दम सूट कर रहा है. आज से दस साल पहले IAS अधिकारी डॉ. हरीओम ने सांसद ‘योगी आदित्यनाथ को भेजा था जेल.  बस… यही थी उनकी खता जिसे आज वह भुगत रहे हैं. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दुनियादारी की हाय हाय में कुछ पल संगीत, भजन, बुद्धत्व, मोक्ष, मुक्ति के नाम…

Yashwant Singh : आज मोबाइल से फोटो वीडियो डिलीट कर रहा था तो एक वीडियो बचा लिया. यह वीडियो मैंने अपने मोबाइल से इंदौर में बनाया था. मौका था वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र शाह की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम का. इस वीडियो को यूट्यूब पर अपलोड किया.

आपके लिए पेश है… ”जरा हलके गाड़ी हांको, मेरे राम गाड़ी वाला…”. इस कबीर भजन को मालवा की मिठास में लपेट कर परोस रहे हैं भेरु सिंह चौहान… दुनियादारी की हाय हाय में कुछ पल संगीत, भजन, बुद्धत्व, मोक्ष, मुक्ति के नाम… सुनें यह प्यारा कबीर भजन… नीचे दिए वीडियो पर क्लिक करें…

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दीवाल पेंट करने वाले मजदूर का यह गाना हुआ वायरल (देखें वीडियो)

एक अनजान मजदूर इन दिनों सोशल मीडिया पर धूम मचाए हुए है. यह मजदूर दीवाल पेंटिंग का काम करता है. वीडियो में मजदूर एक घर में पुताई का काम करके बैठा आराम फरमा रहा है और एक ग़ज़ल गुनगुना रहा है. दूसरा मजदूर दीवाल सफाई के काम पर लगा हुआ है. पेंट करने वाला मजदूर यानि पेंटर जो शायरी गा रहा है उसे शायर नाज़िम अली ने लिखा है. पेंटर की जादू भरी आवाज़ दिल में उतर जाती है. पेंटर का इतने प्यार से गाना इस शायरी को चार चांद लगा गया है.

ह्वाट्सएप, फेसबुक, ट्वीटर, यूट्यूब आदि प्लेटफार्म्स पर यह वीडियो जमकर शेयर किया जा रहा है और सराहा जा रहा है. पेंटर जो ग़ज़ल गा रहा है, शायर नाज़िम अली द्वारा लिखित, उसकी लाइनें यूं है :

साहिल पे खड़े हो तुम्हें क्या ग़म चले जाना
मैं डूब रहा हूँ… अभी डूबा तो नहीं हूँ

ए वादा फ़रामोश मैं तुझसा तो नहीं हूँ …
हर ज़ुल्म तेरा याद है भूला तो नहीं हूँ…

चुपचाप सही मसलेहतन वक़्त के हांथों…
मजबूर सही वक़्त से हारा तो नही हूँ..

-नाज़िम अली

पेंटर द्वारा गाये गए वीडियो को देखने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें : https://www.youtube.com/shared?ci=ysXbxdTwq8k

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

First Online Singing Competition in the History of India

New Delhi : The First Free Online Singing Competition in the history of India has  been launched recently by Sakha Cultural Society. Singers from any city of the world and of any age group (from 3 years to 100 years) can participate in this totally free competition sitting at home by just uploading their voices on Sakha’s website www.sakha.co.in

Speaking on the occasion Mr Amarjit Singh Kohli, founder Chairman of Sakha Cultural Society, said that top singers will get chance to sing in TV Serial “Geet Jo Ban Gaye Meet” which is expected to begin on Sony TV in early 2017. He explained that he himself is the Chief Adviser of RK Telefilms who are producing this TV Serial for Sony TV, and has been asked by RK Telefilms to select singers on their behalf. Also many singers will get chance to sing in TV Serial “The Live Studio” beginning in February 2017 which is being produced by Yesudas BC, Managing Partner of Spectral Media and producer-director of forthcoming Hindi feature film “30 Minutes”.

Explaining the idea behind the launching of Online Singing Competition, Mr Amarjit Singh Kohli said “ I had seen that in the preliminary auditions held by various TV Channels like Sony, Zee in various towns for selecting singers, the singers have to stand in long queues waiting for their turn for as much as 6-8 hours”. Therefore, the idea struck me to start an online competition through which singers can record their voices sitting at home and upload without any hassels. Singers voices will be evaluated by top music personalities of India as judges and singers shortlisted for participating in  Musical Shows on TV Channels. He said that he was the first person in India to start the tradition of organizing All India Stage Singing Competitions in memories of great singers like Rafi, Mukesh and later Kishore about 35 years ago, which led to the discovery of many great singers including Sonu Nigam. “My idea is now to have a tie-up with various producers of Musical TV Shows, Telefilms etc wherein Sakha Cultural Society selects the singers through online competitions for their TV Shows.

The Singing Competition has already started and the last date for participating is Friday, the 16th December, 2016. Those desirous of participating may visit www.sakha.co.in. The final results of competition will be announced on 12th Feb 2017.

भड़ास तक सूचनाएं bhadas4media@gmail.com के जरिए शेयर कर सकते हैं. आप चाहें तो 9999330099 पर ह्वाट्सएप भी कर सकते हैं.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दीपावली सांग के लिए इस स्कूल प्रेयर से भला अच्छा क्या हो सकता है (सुनें)

Yashwant Singh : दिवाली सांग… मेरठ में मेरे एक मित्र हैं Vishal Jain जी. कई स्कूलों के संचालक हैं. खुद काफी इन्नोवेटिव हैं. नया नया खोजते रचते रहते हैं. इन्होंने अपने स्कूल प्रेयर के लिए अदभुत गीत तैयार कराया है. सुबह सुबह इनके स्कूलों में जो प्रार्थना बच्चे गाते हैं, उसे सुनकर खुद ब खुद बच्चों संग गाने का मन करने लगता है.

यह प्रेयर भारत के गंगा जमुनी तहजीब, सर्व धर्म समभाव का अदभुत उदाहरण है. आइए दिवाली के दिन यह प्रेयर हम सब सुनें और हर तरफ शांति समृद्धि समझदारी हो, इसके लिए प्रार्थना करें.

प्रेयर लिंक ये है : https://www.youtube.com/watch?v=4bZjvdc149g

आप इसे सुनते हुए यह भी सोचिए कि बचपन के दिनों में अपने स्कूल में कौन सा प्रेयर गाते थे.. अगर याद आए तो उसे भी गुनगुनाइए और सबको सुनाइए.

आप सभी को दीपाावली की ढेरों शुभकामनाएं.

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

बॉब डिलन का एक गीत “Masters of War” तो वाकई क़माल का है!

Om Thanvi : बीकानेर में छात्रजीवन में मेरे कमरे की दीवार पर बॉब डिलन का एक पोस्टर चिपका रहता था, लाल और काले महज़ दो रंगों में। JS (जूनियर स्टेटसमन) में कुछ अंकों में क़िस्तों में छपा था, जोड़कर टाँग दिया। मगर डिलन के बारे में जाना बाद में। उनका काव्य, उनके गीत और गान। फिर बरसों बाद कवि-मित्र लाल्टू ने डिलन के गीतों का एक कैसेट दिया। मैंने उसे आज तक नहीं लौटाया। अक्सर उसे सुना और अपनी सम्पत्ति बना लिया।

गीत हमारे यहाँ तो ज़्यादातर रूमानी होते हैं; डिलन ने उनमें विद्रोह का रंग भरा। उस रंग को जिया। नोबेल समिति ने डिलन का अभिनंदन कर अपनी जड़ता को ख़ूबसूरती से तोड़ा है। मित्र Tribhuvan ने बॉब डिलन को नोबेल घोषित होने पर सुंदर टिप्पणी लिखी है। साझा करता हूँ। प्रतिरोध का जज़्बा अमर रहे – इस जज़्बे के धारक जो भी हों, जहाँ भी हों! और हां, मेरे निजी संग्रह में बॉब डिलन पर बनी एक फ़िल्म है- ‘नो डायरेक्शन होम बॉब डिलन’। वृत्तचित्र (डॉक्युमेंटरी)। मार्टिन स्कोरसेज़ी ने ग्यारह साल पहले बनाई थी। अपने जलसाघर (होम थिएटर) के बड़े परदे पर फिर चलाने का मन है। इतवार को चार-छह मित्र बुलाता हूँ। गीत, संगीत, यायावरी और हादसों से भरी साढ़े तीन घंटे की फ़िल्म पता नहीं कितने लोग देखने को तैयार होंगे!

Tribhuvan : कितनी सुहानी घड़ी है कि बॉब डिलन को साहित्य का नोबेल मिला है। मैंने बॉब डिलन का नाम पहली बार अपने बच्चों से सुना और उन्होंने मुझे और मेरी पत्नी को उनके “Blowin’ in the Wind”, “The Times They Are a-Changin'”, “Subterranean Homesick Blues” and “Like a Rolling Stone” जैसे गीत सुनने बाध्य किया। यह मेरे लिए एक अलग अनुभव था और साहित्य के नभ का एक नया वातायन भी। मेरे बच्चों ने ये गीत गंगानगर, जयपुर, दिल्ली और जहां भी मैं रहा, हर जगह खूब गाए और सुनवाए।

बॉब डिलन के कितने ही तराने मैंने बाद में सुने और पढ़े। कई बार मैं महससू करता रहा हूं कि आख़िर ऐसी भाव-व्यंजनाएं हमारे यहां लोकगीतों में क्यों नहीं आती हैं? और क्यों हमारे यहां गीतकारों और ऐसे गैरफ़िल्मी गायकों को ज़्यादा लोकप्रियता नहीं है। बॉब डिलन का एक गीत “Masters of War” तो वाकई क़माल का है। युद्ध पिपासु लोगों के लिए लिखा गया यह गीत मनुष्यता को गहराई से देखता है और बताता है कि युद्ध और हिंसा के कारोबारी कितने विकराल दैत्य और मानव भक्षी राक्षस हैं।

बॉब डिलन के अलावा कई ऐसे गीतकार हैं, जो जादू सा जगाते हैं। मुझे बॉब डिलन की तरह ही बहुत ज्यादा झकझोरा जॉन लेनन ने। उनका गीत “इमेजिन” तो मेरे लिए त्रिकाल संध्या और पांच बार की नमाज़ जैसा है। ऐसे लगता है, जैसे गुरबाणी को जॉन लेनन ने किसी लिरिकल प्रार्थना में पिरो दिया है। यही क्यों, बच्चों ने जब पहली बार ऑजी ऑसबॉर्न का गीत “मा-मा आई ऐम कमिंग होम” सुनवाया या कभी घर में बजाया तो इस गीत ने चुपचाप राेने को विवश कर दिया।

सचमुच, मुझे लगता है, मेरे बच्चे किसी नोबेल पुरस्कार समिति से कम प्रतिभा नहीं रखते हैं। चलिए तो आप सुनिए “मास्टर्स ऑव वार”…बॉब डिलन की गीतिका, जो मनुष्य की संवेदनाओं और हिंसक इरादों वाले रक्तपिपासुओं को आत्मग्लानि में दबा देती है।

“Masters Of War”

Come you masters of war
You that build all the guns
You that build the death planes
You that build all the bombs
You that hide behind walls
You that hide behind desks
I just want you to know
I can see through your masks.

You that never done nothin’
But build to destroy
You play with my world
Like it’s your little toy
You put a gun in my hand
And you hide from my eyes
And you turn and run farther
When the fast bullets fly.

Like Judas of old
You lie and deceive
A world war can be won
You want me to believe
But I see through your eyes
And I see through your brain
Like I see through the water
That runs down my drain.

You fasten all the triggers
For the others to fire
Then you set back and watch
When the death count gets higher
You hide in your mansion’
As young people’s blood
Flows out of their bodies
And is buried in the mud.

You’ve thrown the worst fear
That can ever be hurled
Fear to bring children
Into the world
For threatening my baby
Unborn and unnamed
You ain’t worth the blood
That runs in your veins.

How much do I know
To talk out of turn
You might say that I’m young
You might say I’m unlearned
But there’s one thing I know
Though I’m younger than you
That even Jesus would never
Forgive what you do.

Let me ask you one question
Is your money that good
Will it buy you forgiveness
Do you think that it could
I think you will find
When your death takes its toll
All the money you made
Will never buy back your soul.

And I hope that you die
And your death’ll come soon
I will follow your casket
In the pale afternoon
And I’ll watch while you’re lowered
Down to your deathbed
And I’ll stand over your grave
‘Til I’m sure that you’re dead.

Som Prabh : बॉब डिलन का पुरस्कृत होना बराक ओबामा को शांति का नोबेल मिल जाना नहीं है। जो चौंक रहे हैं वे शायद छपी हुई किताबों को ही साहित्य समझते हैं। साहित्य सिर्फ छपी हुई किताबें नहीं है। 75 साल के बुजुर्ग गायक और गीतकार बॉब डिलेन के चुनाव का मजाक उड़ाने वाले दरअसल अपना ही उपहास कर रहे हैं। यह दूर की कौड़ी लग सकती है, लेकिन इससे सीख लेकर भारतीय साहित्य में आंदोलनों में सक्रिय या समाज को किसी तरह उद्वेलित करने वाले ऐसे गायकों, गीतकारों को पहचानने और पुरस्कृत करने की परंपरा की शुरुआत करनी चाहिए, जो समाज में मरियल हो चुके साहित्य से कहीं अधिक प्रभावी भूमिका निभा रहे हैं और उनमें राजनैतिक प्रतिरोध और समकालीन सवालों से भिड़ंत की अद्भुत क्षमता है। इससे जनांदोलनों के तमाम अदृश्य चेहरे भारतीय समाज की पहचान बन सकेंगे। इससे वह खाई भी पाटी जा सकेगी जो लिखित और मौखिक परंपराओं में पैदा हुई है। जानता हूं कि यह होेगा नही? साहित्य का कारोबार जिनके हाथों में हैं उनके पास इतनी हिम्मत नहीं है कि वे ऐसा कर सकें। फिर भी सपने देखने से खुद को क्यों रोका जाए।

कल्बे कबीर : साहित्य के सद्य-नोबल-पुरस्कार से सम्मानित कवि-गायक बॉब डिलेन अमरीका-यूरोप में अपने देसी गीत-संगीत के लिये कितने लोकप्रिय हैं – मुझे कुछ ठीक-ठीक अंदाज़ा नहीं है, लेकिन यह तय है कि बॉब की ख्याति अपने ज़माने के हिंदुस्तानी शाइर जिगर मुरादाबादी से कम ही होगी । कहते हैं कि जिगर को देखने के लिये रेलवे-स्टेशनों पर भीड़ लग जाती थी। रेलें थम जाती थीं। जब जिगर अपनी लहकदार-खरज़दार आवाज़ में अपनी ग़ज़लों को गाते थे तो हज़ारों की भीड़ में सन्नाटा खिंच जाता था । समकालीन शाइर जिगर से इस बात पर रश्क़ रखते थे। उनमें जोश मलीहाबादी भी थे, जो गा नहीं सकते थे और अपनी बुलन्द आवाज़ में तरह में अपनी शाइरी पढ़ते थे। एक बार जोश ने तंज़ कसते हुये कहा – जिगर, तुम्हारा टेंटुआ तो किताबों में छप नहीं सकता! जोश अगर ज़िंदा होते तो देखते कि अब टेंटुआ भी किताबों में छपने लगा है! जो Bob Dylan की तुलना फ़िल्मी और मंचीय गीतकारों से कर रहे हैं वे मूर्ख हैं ग़रीबों-वंचितों के पक्ष में, कुलीनों के विरुद्ध और युद्ध के ख़िलाफ़ गीत लिखकर गाने वाले बॉब डिलेन की तुलना सिर्फ़ इकतारे पर गाने वाली मीरा, अभंग गाने वाले तुकाराम से की जा सकती है या किसी बाउल गायक से!

Nishant Jain : मुझे लगता है कि जाने-माने अमेरिकी गीतकार और गायक Bob Dylan को लिटरेचर का नोबेल मिलना साहित्य जगत में एक नए बदलाव की आहट है। उम्मीद है, इससे हिन्दी और भारतीय भाषाओं का अकादमिक साहित्य जगत थोड़ा उदार होगा और लोकप्रिय साहित्य-संगीत को ‘साहित्य’ के रूप में स्वीकारना शुरू करेगा। अकादमिक जगत के कुछ (सब नहीं, अतः कृपया दिल पर न लें) मठाधीश टाइप के लोग लोकप्रिय गीतकारों और लोक कवियों को ‘साहित्यकार’ की श्रेणी में नहीं गिनते। हिन्दी साहित्य जगत में तो स्थिति और भी ख़राब है।ऐसी कविता, जो एक सुशिक्षित व्यक्ति के भी पल्ले न पड़े, सिर्फ़ उसे ही साहित्य मानने की जिद और आम बोल-चाल की भाषा में रचे गए लयबद्ध गीतों और कविताओं को दोयम दर्जे का साहित्य मानना कहाँ तक तर्कसंगत है, उम्मीद है, कुछ विद्वान ही इस पर प्रकाश डालेंगे।

भूलना नहीं चाहिए कि साहित्य की तीन मूल विधाएँ -गीत, कहानी और नाटक, सभ्यता की शुरुआत से ही लोक-जीवन में रचे बसे हैं और अपनी लोक भाषा, लय और नाद सौंदर्य के बल पर आम जन की ज़ुबान पर चढ़ते रहे हैं। कबीर से लेकर निराला तक, कविता की तुकांतता ने निरंतर उसके नाद सौंदर्य के माध्यम से साहित्य को जन-जन तक पहुँचाया है। हमें उम्मीद करनी चाहिए कि हिन्दी वाले अकादमिक लोग भी अब पुनर्विचार करते हुए गुलज़ार साहब, गोपालदास नीरज, दुष्यंत कुमार, अदम गोंडवी, प्रसून जोशी, इरशाद कामिल, स्वानन्द किरकिरे जैसे बेहतरीन गीतकारों के लोकप्रिय गीतों के लिटरेरी योगदान को कुछ तवज्जो देंगे।

Arun Maheshwari : बॉब डिलेन को नोबेल पुरस्कार… अभी-अभी हम बीकानेर से हरीश भादानी समग्र के लोकार्पण समारोह से कोलकाता लौटे हैं । हरीश जी के गीतों और धुनों से सरोबार इस समारोह की ख़ुमारी अभी दूर भी नहीं हुई कि आज यह सुखद समाचार मिला – अमेरिकी गीतकार और गायक बॉब डिलेन को इस साल का साहित्य का नोबेल पुरस्कार घोषित किया गया है । शायद रवीन्द्रनाथ के बाद यह दूसरा गीतकार है जिसे उसके गीतों के लिये नोबेल दिया जा रहा है। बॉब डिलेन अमेरिका के पॉप संगीत के एक ऐसे अमर गीतकार और गायक रहे हैं जिनके छ: सौ से अधिक गीतों ने अमेरिका की कई पीढ़ियों को मनुष्यता और प्रतिवाद की नई संवेदना से समृद्ध किया है। यहाँ हम उनके एक प्रसिद्ध गीत – Blowin’ In The Wind को मित्रों से साझा कर रहे हैं और साथ ही तुरत-फुरत किये गये उसके एक हिंदी अनुवाद को भी दे रहे हैं –

Blowin’ In The Wind Lyrics

How many roads must a man walk down
Before you call him a man ?
How many seas must a white dove sail
Before she sleeps in the sand ?
Yes, how many times must the cannon balls fly
Before they’re forever banned ?
The answer my friend is blowin’ in the wind
The answer is blowin’ in the wind.

Yes, how many years can a mountain exist
Before it’s washed to the sea ?
Yes, how many years can some people exist
Before they’re allowed to be free ?
Yes, how many times can a man turn his head
Pretending he just doesn’t see ?
The answer my friend is blowin’ in the wind
The answer is blowin’ in the wind.

Yes, how many times must a man look up
Before he can see the sky ?
Yes, how many ears must one man have
Before he can hear people cry ?
Yes, how many deaths will it take till he knows
That too many people have died ?
The answer my friend is blowin’ in the wind
The answer is blowin’ in the wind

कितने रास्ते तय करे आदमी
कि तुम उसे इंसान कह सको ?
कितने समंदर पार करे एक सफ़ेद कबूतर
कि वह रेत पर सो सके ?
हाँ, कितने गोले दागे तोप
कि उनपर हमेशा के लिए पाबंदी लग जाए?
मेरे दोस्त, इनका जवाब हवा में उड़ रहा है
जवाब हवा में उड़ रहा है ।

हाँ, कितने साल क़ायम रहे एक पहाड़
कि उसके पहले समंदर उसे डुबा न दे ?
हाँ, कितने साल ज़िंदा रह सकते हैं कुछ लोग
कि उसके पहले उन्हें आज़ाद किया जा सके?
हाँ, कितनी बार अपना सिर घुमा सकता है एक आदमी
यह दिखाने कि उसने कुछ देखा ही नहीं ?
मेरे दोस्त, इनका जवाब हवा में उड़ रहा है
जवाब हवा में उड़ रहा है ।

हाँ, कितनी बार एक आदमी ऊपर की ओर देखे
कि वह आसमान को देख सके?
हाँ, कितने कान हो एक आदमी के
कि वह लोगों की रुलाई को सुन सके?
हाँ, कितनी मौतें होनी होगी कि वह जान सके
कि काफी ज्यादा लोग मर चुके हैं ?
मेरे दोस्त, इनका जवाब हवा में उड़ रहा है
जवाब हवा में उड़ रहा है।

वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी, त्रिभुवन, सोम प्रभ, कल्बे कबीर, निशांत जैन, अरुण माहेश्वरी की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

आईएएस अधिकारी डॉ. हरिओम ने रिकॉर्ड किया नया गाना ‘मजबूरियां’

https://2.bp.blogspot.com/-nrOVkiFE7Xk/V150w0StUzI/AAAAAAAAFkc/8tnE9l2M9nYrrmL-YT8f4kNUmzM8rXFkACLcB/s1600/Raj%2BMahajan%2B%2526%2BDr%2BHari%2BOm%2B%25287%2529.jpg

आई.ए.एस डॉ. हरिओम एक बेहतरीन सिंगर होने के साथ-साथ कमाल के साहित्यकार भी हैं. कहा जाता है कि, कला की कोई सीमा नहीं होती और इसी सार्थक करते हुये डॉ हरिओम का एक छुपा रूप सबके सामने आ गया या यूँ कह लीजिये कि, अब पूरी दुनिया इनके साहित्यिक और गायक रूप को देख और सुन पायगी. हो सकता है निकट भविष्य में ये एक्टिंग में भी अपने हाथ अजमाते नजर आये. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

गर्मियों के दिन, गांव की पगडंडियां और यशवंत का ये गाना (देखें वीडियो)

गर्मी की छुट्टियां वैसे तो ज्यादातर मध्यवर्गीय शहरियों के लिए ओह उफ्फ हाय का सबब होती हैं लेकिन मेरे लिए रोमांच और पुर्नजीवन का मौसम. खड़ी दुपहरिया से रोमांस का तजुर्बा जिन्हें हो वे जानते होंगे कि धधकते सूर्य महाराज दरअसल दोस्त ज्यादा लगते हैं, किसी दुख-दुर्दशा की वजह कम. दुनियादार लोग छिपने, पड़े रहने, सो जाने को बाध्य हुए पड़े हों और हम दिल हूम हूम करे गाते हुए भांय भांय बोलते सन्नाटे वाले रास्ते को उपलब्ध हों. फिर नौजवान धूप के कड़क तेवर संग कदमताल करते बाग बगीचा लांघते किसी पेड़ के नीचे किसी उपन्यास के पात्रों संग जीते मरते कई घंटों तक खुद की देह से निर्वासित रहें.

सबसे करीब और करीबी अपना गमछा लगता है, जिसे आप कपड़े का एक सीधा सरल टुकड़ा भले कह लें पर अपन के लिए यह बहुरुपिया किसी साथी से कम नहीं. सर से लेकर पांव तक, सूखे से लेकर गीले तक, विविध रूप-रंगों में यह साथ काम आता है और निष्प्राण होते हुए भी बता जाता है कि दरअसल तुम मनुष्य हो निरे बुद्धू. इतनी सी बात भी न समझ पाए कि तुम्हारे सबसे करीबी वो हैं जो तुमसे संवाद नहीं करते या जो चुपचाप तुम्हें सब कुछ देते मुहैया कराते हैं. दबे पांव जीभ निकाले पीछे पीछे चला आ रहा मेरा सहयात्री कुत्ता जताता ही नहीं कि वह बारीक नजर रखे हुए हैं बाकी खतरों आशंकाओं पर. वह कभी ठहर कर दोनों कान खड़े कर दूर दूर तक की तरंगें पकड़ डिकोड करता है कि कौन इसमें खतरे वाली हैं और कौन शुभ शुभ. वह अपनी तईं आरपार का निर्णय लेकर चीजों को इस पार या उस पार कर चुपचाप मुझे फालो करता चलता रहता है. कभी वही बहुत तेज किसी झुरमुट की तरफ दौड़ता नजर आता तो कभी ठहर कर किसी तरफ मुंह उठा कर गुर्राता भोंकता.

जब लोग हवाओं को लू का नाम देने लगते हैं तो किसी बरगद पीपल तले विविध भारती पर मेरे प्यार की उमर हो इतनी सनम सुनते कब सूरज गुडबाय बोल पश्चिम में लटक जाते हैं, पता ही नहीं चलता. झींगुर की चीं चां और सियारों के हुआं हुआं के बीच रात पौने नौ बजे आकाशवाणी के वाराणसी केंद्र से प्रसारित समाचार संध्या से देश दुनिया के थोड़े बहुत शुभ अशुभ हाल जान उस पर विचारने मथने की शुरुआत करते ही हैं कि सरसराती मीठी हवाओं की थाप से शरीर का साथ छोड़ दिमाग किसी दूसरी दुनिया में चला जाता है जहां से वापिस सुबह पांच साढ़े पांच बजे तब आता है जब सूरज गुडमार्निंग कह मुस्कराते हुए सिर पर खड़ा हो चुका होता है. सच कहूं तो सुनता पढ़ता बहुत दिनों से था कि जो तुम तलाश रहे हो वह तुम्हारे ही पास है, कहां भटकते फिरते हो लेकिन इसे जी पाना मेरे लिए इन दिनों की ही बात है. ऐसे ही दिन रात वाले किसी एक क्षण के एकांत में यह महान सिंगल सिंगर शूटिंग संपन्न हुई… 🙂

गाने का लिंक ये है : https://www.youtube.com/watch?v=af8jzVmZcwI

लेखक यशवंत सिंह भड़ास4मीडिया के संपादक हैं. संपर्क: yashwant@bhadas4media.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मुबारक बेगम की तबीयत बिगड़ी, मुंबई के अस्पताल में भर्ती, सरकारी मदद का कर रहीं इंतजार

विजय सिंह ‘कौशिक’, मुंबई

कभी तन्हाईयों में यूं हमारी याद आएगी, अंधेरा छा रहे होंगे कि बिजली कौध जाएगी। 1961 में आई फिल्म ‘हमारी याद आएगी’ के इस गीत को स्वर देने वाली मुबारक बेगम इन दिनों तन्हा अस्पताल के बिस्तर पर पड़ी हैं। चार दिनों पहले उन्हें फिर से अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है। मुंबई के पश्चिमी उपनगर अंधेरी रेलवे स्टेशन के सामने स्थित बीएसईएस अस्पताल में हमारी मुलाकात उनसे होती है। देख कर विश्वास नहीं होता कि बिस्तर पर पड़ी यह महिला 115 फिल्मों में 175 गीत गाने वाली मशहूर गायिका मुबारक बेगम हैं। उनका परिवार फिलहाल इलाज के लिए सरकारी मदद का इंतजार कर रहा है।

हम अस्पताल पहुंचे तो मरीजों से मिलने का समय समाप्त हो चुका था। मुबारक की देखभाल के लिए उनके साथ अस्पताल में मौजूद उनकी बहू जरीना शेख से मोबाईल फोन पर बात हुई तो वे नीचे आकर हमें उस वार्ड तक ले गई,जहां मुबारक बेगम को भर्ती कराया गया है। अर्धनिद्रा में लेटी मुबारक जी को उनकी बहु जरीना बताती हैं कि आप से मिलने अखबार वाले आए हैं। ‘अब तबीतय कैसी है आप की ?’ मेरे इस सवाल पर वे बोलीं ‘अब थोड़ा अच्छा लग रहा है। जरीना बतातीं हैं कि अस्पताल में रहना इन्हें जरा भी नहीं भाता। पिछले दिनों 10 दिन अस्पताल में रहने के बाद घर चलने की जिद करने लगी तो हम इन्हें घर ले गए पर दो दिनों बाद ही फिर से तबीयत बिगड़ने लगी तो फिर से अस्पताल लाना पड़ा।

सरकार की तरफ से सिर्फ कोरा वादा
पिछले दिनों मुबारक बेगम की खराब आर्थिक हालत और उनके बीमार होने की खबर आने के बाद राज्य के सांस्कृतिक मंत्री विनोद तावडे ने कहा था कि मुबारक बेगम के इलाज का खर्च सरकार उठाएगी। इस बारे में पूछने पर जरीना बताती हैं कि तावडे साहब आए थे। उनके विभाग के अधिकारियों ने भी बात की पर अभी तक सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिल पाई है। इलाज का सारा खर्च हमें ही करना पड़ रहा है। सरकारी कामकाज है, शायद इसलिए समय लग रहा होगा।

मुबारक बेग़म ने 50 और 60 के दशक में लगभग 115 फिल्मों में 175 से भी ज्यादा गीत गाए हैं। इनमें 1963 की फिल्म ‘हमराही’ का सुप्रसिद्ध गीत ‘मुझको अपने गले लगा लो’ भी शामिल है। मुबारक बेगम ने अपने सुरों से कई सारे गीतों को सजाया और लगभग 23 साल तक हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में काम करती रहीं। लेकिन आज 80 साल की उम्र में वे आर्थिक तंगी में जी रही हैं। इनती मशहूर गायिका होने के बावजूद आज आप को आर्थिक तंगी का सामना क्यों करना पड़ा रहा है? इस सवाल पर वे बड़ी मुश्किल से बोल पाती हैं ‘उस वक्त फिल्मों में गाने के लिए ज्यादा पैसे नहीं मिलते थे। एक गाने के तीन सौ-चार सौ रुपए मिलते थे। वैसे भी मैंने कभी पैसों की मांग नहीं की। जिसने जो दिया रख लिया।

राजस्थान के झुंझनु से बंबई
पांच भाई-बहनों में मुबारक सबसे बड़ी थी। मूलरुप से राजस्थान के झुंझनु के रहने वाले मुबारक के पिता ट्रक चलाते थे। मुबारक ने अपने कैरियर की शुरुआत आल इंडिया रेडियो से की थी। 1949 में आई फिल्म ‘आईए’ उनकी पहली फिल्म थी, जिसमें उन्होंने ‘मोहे आने लगी अंगडाई, आजा-आजा बालम’ गीत गाया था। इस फिल्म के संगीत निर्देशक नौशाद थे। 1981 में आई फिल्म ‘नई इमारत’ उनके कैरियर की अंतिम फिल्म थी जिसमें उन्होंने गीत गाए थे।  

कम उम्र में ही उनके पिता उनको लेकर मुंबई आ गए थे। पिता की भी कमाई ज्यादा नहीं थी। इसलिए जल्द ही छोटे भाई-बहनों को पालने की जिम्मेदारी भी मुबारक पर आ गई। जरीना बताती हैं कि पिछले साल अक्टूबर में इनकी बेटी की मौत हो गई। बेटी की मौत के गम में इनकी तबियत ज्यादा खराब हुई। फिल्म इंडस्ट्री से कोई मिलने आया था? जरीना बताती हैं कोई नहीं आता इनकी सुध लेने। हां लता जी (भारत रत्न लता मंगेशकर) का फोन जरूर आता रहता है। वे इनके इलाज के लिए पैसे भी भेजती हैं। बेटी की मौत के बाद भी उनका फोन आया था। लता जी ने अम्मी (मुबारक बेगम) को समझाया कि जीवन में सुख-दुख का साथ रहता ही है। इसलिए उसकी चिंता में अपनी सेहत खराब न करो। फिल्म अभिनेता सलमान खान के यहां से इनके लिए दवाएं आ जाती हैं। जरीना बताती हैं ‘फिल्मों में गाने का सिलसिला तो 1981 से ही बंद हो गया था। पर बीच-बीच में स्टेज शो का बुलावा आता रहता था। दो साल पहले दिल्ली में अंतिम स्टेज शो किया था। उसके बाद से इनकी सेहत ही खराब रहने लगी है।’  

मुंबई के जोगेश्वरी इलाके के बेहरामबाग में मुबारक बेगम एक छोटे से फ्लैट में अपने बेटे के परिवार के साथ रहती हैं लेकिन आर्थिक रूप से घर की हालत बहुत खराब है। चार पोतियों में से तीन का विवाह हो चुका है। जबकि सबसे छोटी पोती शना शेख इन दिनों अपनी दादी की देखभाल के लिए निजी कंपनी की अपनी नौकरी भी छोड़ चुकी है। जरीना बताती हैं कि पहले तीन महीने पर सात सौ रुपए की पेंशन मिलती थी, अब काफी दिनों से वह भी बंद है। मुबारक बेगम का इलाज  कर रहे डा अमित पटेल ने ‘भास्कर’ से बातचीत में बताया कि मुबारक जी कि किडनी में इंफेक्शन हुआ है। हम एंटीबायटिक दे रहे हैं। जिससे इनकी हालत में तेजी से सुधार हो रहा है। पर इनका शरीर काफी कमजोर हो गया है। हार्ट की पंपिंग भी कमजोर हो गई है। उम्र और सेहत का असर उनकी यादाश्त पर भी पड़ा है।

मुबारक बेगम के गाए कुछ गीत…..

नींद उड़ जाए तेरी, चैन से सोने वाले (जुआरी)
कभी तन्हाईयों में हमारी याद आएगी ( हमारी याद आएगी)
बे-मुरव्वत, बे-वफा बेगाना ए दिल आप हैं ( सुशीला)
ये दिल बता (खूनी खजाना)
कुछ अजनबी से आप हैं
मुझ को अपने गले लगा लो (हमराही)
शमा गुल करके न जा
सांवरिया तेरी याद में
जनम-जनम हम संग रहेंगे (डोलती नैया)

दैनिक भास्कर अखबार में प्रकाशित विजय सिंह की रिपोर्ट.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

वाराणसी संकट मोचन संगीत समारोह 26 से एक मई तक, देखें कलाकारों की लिस्ट

वाराणसी में होने वाला संकट मोचन संगीत समारोह इस वर्ष 26 अप्रैल से 1 मई तक होगा। इस संगीत समारोह में देश के विख्यात कलाकार भाग लेंगे जिसमें प्रमुख रूप से ये हैं…

26 अप्रैल को पं. जसराज का (गायन)                              
27 अप्रैल को कौशिकी चक्रवर्ती (गायन)
28 अप्रैल को पं हरि प्रसाद चौरसिया (बाँसुरी)
29 अप्रैल को अनूप जलोटा (गायन)
30 अप्रैल को डॉ. सोनल मानसिंह (ओडिसी)
30 अप्रैल को उस्ताद आशीष खां (सरोद)
1 मई को प.राजन-साजन मिश्र (गायन)
1 मई को टी. एन. शेषगोपालन (गायन)
1 मई को पं. एल. सुब्रमण्यम (वायलिन)
श्रीमती कविता कृष्णमूर्ति (गायन)
भजन सपोरी (संतूर)
सोमा घोष (गायन)
डॉ. येल्ला वेंकटेश्वर राव (वाद्यवृन्द)

उपरोक्त समेत कुल 42 कलाकार भाग लेंगे। इसके पूर्व दो दिन रामायण की प्राचीन उप शास्त्रीय संगीत पद्धति पर आधारित विभिन्न मण्डली पूर्वांचल के कोने कोने से आकर प्रस्तुति करेंगी। साथ ही कई अन्य आयोजन होंगे। विश्व प्रसिद्ध संकट मोचन मंदिर में होने वाले संगीत समारोह में आने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अमिताभ बच्चन को भी संकट मोचन मंदिर की तरफ से निमंत्रण भेजा गया है।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

जयपुर के पत्रकार दुष्यंत का लिखा गीत ‘बावलीबूच’ इन दिनों धूम मचा रहा है

रणदीप हुड्डा की 22 अप्रैल को रिलीज हो रही फिल्म ‘लाल रंग’ का गीत ‘बावलीबूच’ 2 अप्रैल को यूट्यूब पर आया, एक हफ्ते में ही 2 लाख से अधिक बार देखा गया. हरियाणा केंद्रित फिल्म का यह गीत भी हरियाणवी अंदाज का देसी रोमांटिक गीत है.

“बावलीबूच कह दिल की, दिलकी, हाथ थाम के सिल्की सिल्की” का संगीत पेरिस निवासी मतियास डुप्लेसी ने दिया है. वे इससे पहले पीपली लाइव औऱ फाइंडिंग फेनी का संगीत दे चुके हैं. इस गीत को गाया है “हट जा ताऊ पाछै नै” जैसा सुपरहिट गीत गाने वाले विकास कुमार ने.

‘लाल रंग’ के डायरेक्टर सैयद अहमद अफजाल हैं जो इससे पहले यंगिस्तान बना चुके हैं.

हिन्दी के चर्चित युवा लेखकों में गिने जाने वाले दुष्यंत की पांच किताबें राजकमल औऱ पेंगुइन जैसे पब्लिशर्स के यहां से छपी हैं और बेहद चर्चा में रही हैं. हंस, कथादेश, वागर्थ, पाखी जैसी हिंदी साहित्य की टॉप मैगजींस ने उनकी कहानियां-कविताएं छापी हैं. वे राजस्थान पत्रिका समूह के अखबार डेली न्यूज में कई साल संडे मैग्जीन के संपादक रह चुके हैं. गीत का यूट्यूब लिंक नीचे है…

https://youtu.be/f026HZbW7n0

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

इंडिया टीवी, पटना के पत्रकार नीतीश चंद्रा ने सलमान की शादी के लिए गाया गाना (सुनें)

इंडिया टीवी के लिए पटना में कार्यरत टीवी जर्नलिस्ट नीतीश चंद्रा अच्छे खासे सिंगर भी हैं. उनकी इस प्रतिभा का पता तब लगा जब उन्होंने सलमान खान की शादी के लिए एक गाना रिकार्ड किया. इस गाने की शत्रुघ्न सिन्हा से लेकर मनोज तिवारी, शेखर सुमन आदि सबने तारीफ की. गाने के बोल हैं- ”’मेरे भइया की शादी है झूमेंगे नाचेंहे, प्यार के बंधन में बांध भाभी को ले आएंगे”.

नीतीश चंद्रा का संगीत से पुराना रिश्ता है. उन्होंने प्रयाग, इलाहाबाद से संगीत की शिक्षा ली है. कालेज के सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बढ़ चढ़कर वे भाग लेते थे. उन्होंने बताया कि इस गाने को लिखने में उन्हें एक साल का वक्त लगा. उनकी इच्छा है कि यह गीत सलमान खान तक पहुंच जाए.  नीतीश द्वारा गाए गाने को सुनने के लिए नीचे के लिंक पर क्लिक करें :

https://youtu.be/dFLmMpx1PTI

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कहां तक ये मन को, अंधेरे छलेंगे, उदासी भरे दिन, कभी तो ढलेंगे… (सुनें)

कई फिल्मी गीत ऐसे हैं जो ढेर सारी आध्यात्मिक उपदेशात्मक बातों से बड़ी बातें कह समझा जाते हैं, वह भी बहुत थोड़े वक्त में और बहुत प्यार से. ऐसा ही एक गीत है किशोर कुमार की आवाज में. गीतकार योगेश हैं. संगीतकार राजेश रोशन. फिल्म है ‘बातों बातों में’ जो वर्ष 1979 में रिलीज हुई थी. इसका ये गाना आज भी बहुत पापुलर है: ”कहां तक ये मन को, अंधेरे छलेंगे…”. ये ऐसा गीत है जब कई किस्म के मन-मिजाज के वक्त सुना जा सकता है. जब ध्यान में जाने का दिल हो रहा हो तो इसे सुनें. जब अकेले चाय पीते हुए सिगरेट के छल्ले बनाने का मन कर रहा हो तो इसे सुनें.

जब तनाव अवसाद या अकेलापन महसूस हो रहा हो तो इसे सुनें. इस गीत में वो ताकत, कशिश, तड़प है कि आप अंदर से खुद को इनकी लाइनें गुनगुनाने से नहीं रोक पाएंगे और ये आपका गुनगुनाना दरअसल वही रास्ता है जिस पर चलना शुरू करने के बाद आप अकेलेपन, अवसाद, तनाव आदि से मुक्त हो जाते हैं. मैं खुद की बात करूं तो प्रोफेशनल लाइफ के इतर मेरा ज्यादातर वक्त भांति भांति के खान-पान बनाने पकाने, गीत-संगीत सुनने सुनाने में व्यतीत होता है. ये दोनों वो क्रिएटिव काम हैं जिसे अगर आप तसल्लीबख्श तरीके से करना सीख लें तो जीवन की आधी समस्याएं हल हो जाया करेंगी.

असल में समस्याएं बाहर कम, दिमाग में ज्यादा होती हैं. हम या तो अतीत को लेकर परेशान रहते हैं या फिर फ्यूचर को लेकर चिंतामग्न. कुछ दिन आप अतीत और भविष्य दोनों को गोली मार कर वर्तमान में जीना सीखिए. वर्तमान में जीना सिखाने के लिए ये गाने बजाने और खाने बनाने बड़े काम के चीज हैं. अपने को इसमें इंगेज रखिए. देखिए, कितना आनंद आता है. तो लीजिए, बहुत दिनों बाद मेरी पसंद का एक गाना सीखिए जो इस तनाव, उदासी, असहिष्णु कहे जाने वाले दौर में आपके दिल दिमाग को कुछ पल के लिए राहत दे सके.

जै जै.

-स्वामी भड़ासानंद


कहां तक ये मन को, अंधेरे छलेंगे
उदासी भरे दिन, कभी तो ढलेंगे

कभी सुख, कभी दुःख  यही जिन्दगी है
ये पतझड़ का मौसम घड़ी दो घड़ी है
नए फूल कल फिर डगर में खिलेंगे
उदासी भरे दिन, कभी तो ढलेंगे

भले तेज कितना हवा का हो झोंका
मगर अपने मन में तू रख ये भरोसा
जो बिछड़े सफ़र में तुझे फिर मिलेंगे
उदासी भरे दिन, कभी तो ढलेंगे..

कहे कोई कुछ भी, मगर सच यही है
लहर प्यार की जो, कहीं उठ रही है
उसे एक दिन तो, किनारे मिलेंगे
उदासी भरे दिन, कभी तो ढलेंगे…

कहां तक ये मन को, अंधेरे छलेंगे
उदासी भरे दिन, कभी तो ढलेंगे.

(Lyricist- Yogesh, Singer- Kishor Kumar, Music Director- Rajesh Roshan, Movie- Baton Baton Mein – 1979)

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मेहदी हसन की वापसी

गुरबत के दिनों में किसी घिसी हुई पतलून की जेब से कभी लापरवाही से रख छोड़े पैसे हाथ लग जायें तो कैसा महसूस होगा? मेहदी हसन की इन अनसुनी ग़ज़लों का खजाना हाथ लग जाने के बाद मुझे कुछ ऐसा ही लग रहा है। सदा-ए-इश्क मेरी जानकारी में मेहदी हसन साहब का अंतिम एल्बम था जो म्यूजिक टूडे वालों ने वर्ष 2000 के आस-पास निकाला था। इसके बाद केवल एक ग़ज़ल “तेरा मिलना बहुत अच्छा लगे है, मुझे तू मेरे दुःख जैसा लगे है” सुनने में आयी थी जो उन्होंने लता मंगेशकर के साथ गायी थी। इस ग़ज़ल में दोनों गायकों ने अपना-अपना हिस्सा भारत और पाकिस्तान में रेकार्ड किया था और बाद में इसकी मिक्सिंग भारत में हुई। एक साथ इन दो बड़े कलाकारों की यह संभवतः इकलौती और ऐतिहासिक प्रस्तुति थी। ग़ज़ल उन्हीं दिनों में सुनने में आयी जब मेहदी हसन साहब बीमार चल रहे थे और अपन ने भी मान लिया था कि इस खूबसूरत ग़ज़ल को खाँ साहब की अंतिम सौगात समझ लेना चाहिये।

इधर स्मार्ट फोन वगैरह से मैं काफी दिनों तक बचता रहा। एप का इस्तेमाल भी बहुत कम किया- खासतौर पर संगीत वाले। मुझे लगता रहा कि चूंकि ये नये जमाने की चीजें है इसलिये इनका संगीत भी वैसा ही होगा। पर कुछ दिनों पहले न जाने क्या सूझा कि “सावन” पर हाथ आजमाया और खाँ साहब को सर्च किया। जो नतीजा सामने आया वो चौंकाने वाला था। “दिल जो रोता है” नामक एक नया एल्बम सामने आया। इसकी पहली ही ग़ज़ल सुनकर “दी लिजेंड” नामक एल्बम की याद आयी जो खाँ साहब ने ललित सेन के साथ किया था और उसके आवरण में उनके हस्ताक्षरों के साथ यह बयान दर्ज था कि इतनी सादगी भरी पर खूबसूरत धुनों के साथ मैं पहली बार गा रहा हूँ। इस अल्बम की एक ग़ज़ल “मै होश में था तो फिर अपने ही घर गया कैसे” बेहद पापुलर ग़ज़ल थी। ललित सेन के साथ उनका एक और मशहूर एल्बम “तर्ज” था जिसमें उन्होंने शोभा गुर्टू के साथ ग़ज़लें गायी थीं। गणेश बिहारी तर्ज की एक मशहूर ग़ज़ल “इश्क की मार बडी दर्दीली” इसी एल्बम में थी। एक अपेक्षाकृत कम सुना गया एल्बम भी इसी दौर में उनका ललित सेन के साथ आया था, जिसका नाम तो मुझे याद नहीं है पर इसकी ग़ज़ल एक “दीवारो-दर पर नक्श बनाने से क्या मिला” मुझे बेहद पसंद थी। यह एल्बम मुझे भारत में अब दुर्लभ हो चली छोटी लाइन के एक स्टेशन नैनपुर की एक अनजानी सी दुकान में मिला था जो मूलतः लोहा-लंगड़ बेचने का काम करता था।

“दिल जो रोता है” सुनकर ललित सेन के साथ उनकी उसी जुगलबंदी की याद आती है पर ठीक-ठीक मालूम करना है कि इसका संगीत किसने तैयार किया है। पहली ग़ज़ल “दिल जो रोता है” मेहदी हसन साहब की ही आवाज में है और उनके खास अंदाज में। दूसरी ग़ज़ल चौंकाने वाली है। इस एल्बम की सबसे खूबसूरत ग़ज़ल -“‘दर्द के साज की लय और बढ़ा जायेगा, जो भी आयेगा कोई तार हिला जायेगा।” अगर आपको पहले से मालूम नहीं है तो यह जानकारी आपको बेहद सुकून देगी कि मेहदी हसन के साहबजादे आसिफ मेहदी को सुनकर आप मेहदी हसन साहब के चले जाने का ग़म गलत कर सकते हैं। तसल्ली दे सकते हैं कि खाँ साहब की आवाज और अंदाज जिंदा है और जो परंपरा उन्होंने कायम की वह आगे भी जारी रहने वाली है।

बस अब ओर ज्यादा नहीं। लिंक मैं नहीं दे रहा हूँ। थोड़ी सी मेहनत करें और मेहदी हसन साहब की उन अंतिम ग़ज़लों को सुनें जो किन्ही कारणों से सामने नहीं आ पायी थी। उन्हें भी जो मेहदी हसन साहब के काम और नाम को आगे बढ़ा रही हैं।

दिनेश चौधरी

iptadgg@gmail.com

भिलाई

Facebook.com/dinesh.choudhary.520


ये भी पढ़ सकते हैं…

1 से 10 तक तो मेहंदी हसन हैं, 11वें पर जिसे रखना है रख दें

xxx

जूते-अंडे की दुकान और उस्ताद हुसैन बख्श

xxx

शीशमहल की अड्डेबाजी और ग़ज़ल के वे दिन

xxx

उस्ताद शुजात हुसैन खां, सितार और गायकी

xxx

उन्हें भी नहीं पता पं. जसराज व पं. भीमसेन जोशी का फर्क?

xxx

जगजीत सिंह बरास्ते अमिताभ

xxx

मलिका पुखराज, बेटी ताहिरा और हम दो

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मस्तमौला पत्रकार रजनीश रोहिल्ला का साथ और गीत-संगीत भरी शाम… आप भी आनंद लीजिए

रजनीश रोहिल्ला अजमेर के पत्रकार हैं. दैनिक भास्कर में काम करते हुए एक रोज जब सभी से कहा गया कि इस कागज पर साइन कर दीजिए तो सबने चुपचाप साइन कर दिया लेकिन रजनीश रोहिल्ला ने साइन करने से न सिर्फ मना किया बल्कि जो कागज उन्हें साइन करने के लिए दिया गया था, उसकी फोटोकापी कराकर अपने पास रख लिया. इस कागज पर लिखा हुआ था कि हमें मजीठिया वेज बोर्ड नहीं चाहिए और हम लोग अपनी सेलरी से संतुष्ट हैं. कुछ इसी टाइप की बातें थी जिसके जरिए प्रबंधन मीडियाकर्मियों का हक मारकर अपने को कागजी व कानूनी रूप से सुरक्षित बनाना चाह रहा था.

रजनीश रोहिल्ला सुप्रीम कोर्ट गए और भास्कर वालों से अपना हक छीन लाए. रजनीश आजकल अपनी खुद की मैग्जीन चलाते हैं, राजस्थान हलचल नाम से. भास्कर में नौकरी करते हुए वह बीस पच्चीस हजार रुपये महीने कमाते रहे होंगे. अपनी मैग्जीन निकालकर वह लाखों रुपये कमा रहे हैं. कुल मिलाकर रजनीश ने यह साबित किया कि अपने हक के लिए संघर्ष करने और लड़ने से कष्ट नहीं होता बल्कि नए रास्ते खुलते हैं और आप सफलता की नई इबारत लिख डालते हैं.

पिछले दिनों मजीठिया वेज बोर्ड न देने के विरोध में कोटा और भीलवाड़ा में दैनिक भास्कर के साथियों ने स्ट्राइक कर दिया तो मैं दिल्ली से और रजनीश रोहिल्ला अजमेर से कोटा के लिए निकल पड़े. रात तीन बजे हम दोनों कोटा में मिले. अगले दिन कोटा के हड़ताली भास्करकर्मियों के साथ बैठक करने के बाद शाम को होटल में ओम कटारा दादा के साथ गायन-वादन व खान-पान के कुछ घंटे व्यतीत करने के बाद हम दोनों भीलवाड़ा निकल पड़े. भीलवाड़ा से अजमेर गए. इन कुछ दिनों में रजनीश के भीतर का म्यूजिकल चेहरा सामने आया. उन्हें मैंने अपने मोबाइल कैमरे से रिकार्ड किया. आप भी आनंद लीजिए. इन यूट्यूब लिंक्स पर क्लिक करें…

https://www.youtube.com/watch?v=n75wKYOCDZ8

https://www.youtube.com/watch?v=UmNtaigYr_s

https://www.youtube.com/watch?v=748s3QPxgO8

लेखक यशवंत सिंह भड़ास के एडिटर हैं. संपर्क:  yashwant@bhadas4media.com

इसे भी पढ़ सकते हैं…

क्या पैसों की भूख और धंधे की हवस में सुधीर अग्रवाल सर कहीं खो गए?

xxx

भड़ास के जरिए मैंने जिंदगी में पहली बार न्यू मीडिया / सोशल मीडिया की शक्ति का अनुभव किया

xxx

मजीठिया लागू कराने को लेकर भास्कर के तीन कर्मचारियों ने उठाया झंडा

xxx

मजीठिया के हिसाब से पैसा मिलते ही रजनीश रोहिल्ला ने सुप्रीम कोर्ट से याचिका वापस ली (देखें कोर्ट आर्डर)

xxx

मजीठिया वेज बोर्ड : रजनीश रोहिला समेत तीन मीडियाकर्मियों के आगे झुका भास्कर प्रबंधन, पूरे पैसे दिए

xxx

कोटा के बाद दैनिक भास्कर भीलवाड़ा में भी बगावत, प्रबंधन पीछे हटा

xxx

भड़ास की मुहिम पर भरोसा करें या नहीं करें?

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पी7 के आंदोलनकारी पत्रकारों की इस छिपी प्रतिभा को देखिए

Yashwant Singh : आंदोलन अपने आप में एक बड़ा स्कूल होता है. इसमें शरीक होने वाले विभिन्न किस्म की ट्रेनिंग लर्निंग पाते हैं. सामूहिकता का एक महोत्सव-सा लगने लगता है आंदोलन. अलग-अलग घरों के लोग, अलग-अलग परिवेश के लोग कामन कॉज के तहत एकजुट एकसाथ होकर दिन-रात साथ-साथ गुजारते हैं और इस प्रक्रिया में बहुत कुछ नया सीखते सिखाते हैं. पी7 न्यूज चैनल के आफिस पर कब्जा जमाए युवा और प्रतिभावान मीडियाकर्मियों के धड़कते दिलों को देखना हो तो किसी दिन रात को बारह बजे के आसपास वहां पहुंच जाइए. संगीत का अखिल भारतीय कार्यक्रम शुरू मिलेगा.

सब अपने अपने अंदाज में सुर लहरी बिखेरते मिलेंगे. पत्रकार आनंद दुबे समेत कई साथियों ने जी खोलकर गाया बजाया. पूरा माहौल कभी बेहद संजीदा होता तो कभी खिलंदड़पना से भरपूर. पत्रकारों के भीतर कैसी-कैसी प्रतिभा छिपी है, ये सब इस आंदोलन के दौरान उदघाटित हो रहा है. कोई घर से तबला ले आया तो किसी ने नग्मा सुनाते हुए टेबल को ही तबला में तब्दील कर दिया.  

इस पूरे आंदोलन की खासबात ये है कि सब कुछ बेहद सहज भाव से घटित हो रहा है, बनावटी कुछ नहीं है, प्रायोजित कुछ नहीं है. ये पत्रकार जानते हैं कि उनकी लड़ाई लंबी हो सकती है इसलिए वे महीनों तक दो-दो हाथ करने के लिए तैयार बैठे हैं. इन पत्रकारों के गायन-वादन के कुछ अद्भुत वीडियो यहां दिया जा रहा है. देखिए और आनंदित होइए. वक्त लगे तो इनका समर्थन करने इन तक (C-55, Sector-57, Noida) पहुंच भी जाइए.

https://www.youtube.com/watch?v=RKF5r_M8pkU

https://www.youtube.com/watch?v=lH11jjT9-Vs

https://www.youtube.com/watch?v=Zl_DN-Sq_fg

https://www.youtube.com/watch?v=i170E_sH0C0

https://www.youtube.com/watch?v=19_OSS7xd5A

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

यूट्यूब पर ‘संतोष आनंद’ टाइप किया तो वही एपिसोड फिर से आँखों को नम कर गया

याद है मुझे जब पहली बार ‘शोर’ फिल्म का गाना ‘एक प्यार का नगमा’ सुना था तो बरबस ही आँखों में आँसू आ गए थे। उसके बाद यह मेरे पसंदीदा गानों की सूची में आज भी मेरे मोबाइल में है। बुधवार की सुबह मथुरा से अपने न्यूज चैनल के माध्यम से पता चला कि कोसीकलां में एक दम्पति ने ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या कर ली। कई अन्य ख़बरों की तरह ये भी आई गयी हो गयी। लेकिन जब थोड़ी देर बाद तस्वीर सामने आयी, तो उस ४ साल की बच्ची को देखकर बड़ा दुःख हुआ जो बच गयी थी, कितनी प्यारी है… बस यही शब्द निकले मेरे जेहन से, और कुछ देर बाद सामान्य हो गया।

एक झटका तब लगा जब मथुरा में जिस दम्पति ने आत्महत्या की उसके बारे में पता चला कि वो मशहूर गीतकार संतोष आनंद के जीवन की वो लड़ी थी जो अब जीवन के इस आखिर पड़ाव में आकर टूट गयीं। एक प्यार का नगमा है… जिंदगी की ना टूटे लड़ी… जैसे कई मशहूर गीत जिन्होंने लिखे, और ये जो गीत आज भी दिलों में छाए हुए हैं, वो तनहा हो गए, बुरी तरह तनहा। फिल्म ‘प्रेमरोग’ का गीत की वो पंक्तियाँ ‘कल भी सूरज निकलेगा कल भी पंछी गाएंगे सब तुझको दिखाई देंगे पर हम ना नजर आएंगे’ लिखते समय उन्होंने कभी सोचा न होगा की यही पंक्तियाँ उम्र के आखिरी पड़ाव में उनका इकलौता पुत्र उनकी झोली में डालकर दुनिया से अलविदा कह देगा। 

लेकिन अभी कुछ ऐसा और देखा जिससे दिल में चुभन हुई। मथुरा के पोस्टमार्टम गृह पर संतोष आनंद और उनकी पत्नी की तन्हा बैठे हुए तस्वीर… और जो भी वहां मौजूद था उससे यही कह रहे थे कि कोई डीएम से कह दो जल्दी करा दें। याद रहे मथुरा की सांसद वही हेमामालिनी जी हैं जिन्होंने उनके लिखे ‘क्रांति’ के एक गीत पर अपने कदम थिरकाये थे, जहाँ तक मुझे मालूम है उनकी तरफ से अभी तक कोई सांत्वना नहीं आई है। कहाँ गए थे कृष्ण की नगरी के वो साहित्य प्रेमी जो उस हंसमुख गीतकार को सहारा देने आगे ना आ पाये। सभी प्रमुख समाचार चैनलों पर खबर चली लेकिन क्या बॉलीवुड से किसी ने जिंदगी की उस टूटती लड़ी को जोड़ने की कोशिश की।

‘वाह वाह क्या बात है’ के मंच पर उन्हें मैंने सुना था। आज मेरी उँगलियों ने यूट्यूब पर संतोष आनंद टाइप किया तो वही एपिसोड फिर से आँखों को नम कर गया। नीचे लिंक डाल रहा हूँ। समय निकाल कर सुनियेगा जरूर। कैसे इस हंसमुख गीतकार की जिंदगी की कहानी एकदम थम सी गयी।

http://www.youtube.com/watch?v=zzle3bpnAng

मथुरा से मोहित गौड़ की रिपोर्ट.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: