संपादक कल्पेश की हत्यारिन सलोनी की दिवाली जेल में बीतेगी, पढ़ें चार पेजी कोर्ट आर्डर

इंदौर : दैनिक भास्कर समूह के संपादक रहे वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक को लगातार धमकाकर, डराकर, प्रताड़ित करने के साथ 5 करोड़ की अवैध वसूली की मांग करने वाली सलोनी अरोरा की जमानत अर्जी आज जिला अदालत में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश (ए. डी.जे). कोर्ट से खारिज हो गई. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी अरोड़ा कोर्ट में आते ही रोने लगी, नीरज याज्ञनिक को देख चिल्लाई

इंदौर : स्वर्गीय कल्पेश याज्ञनिक के भाई नीरज याज्ञनिक को कोर्ट में देखकर हत्यारिन सलोनी अरोड़ा चिल्लाने लगी और कहा- ‘मेरी मौत हुई तो इसके जिम्मेदार तुम होगे. सुसाइड करूंगी तो तुम्हारा नाम लिख जाऊंगी.’ जिस समय ये सब सलोनी बोल-कह रही थी, उस वक्त नीरज फोन पर किसी से बात कर रहे थे. वे जब तक कुछ समझ पाते, सलोनी कोर्ट से बाहर जा चुकी थी. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भारत बंद के चलते कोर्ट में पेश न हो सकी सलोनी अरोड़ा

पेट्रोल-डीजल मूल्यवृद्धि के विरोध में कांग्रेस सहित विपक्षी दलों द्वारा किए गए भारत बंद से कल्पेश याग्निक खुदकुशी मामला भी प्रभावित हो गया। सोमवार को सलोनी अरोरा की न्यायिक हिरासत की अवधि समाप्त होने पर उसे कोर्ट में पेश किया जाना था लेकिन पुलिस अमला बंद से निपटने में लगा रहा। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी अरोड़ा से जेल में मिलने कोई परिजन नहीं पहुंचा

इंदौर से कीर्ति राणा की रिपोर्ट

सलोनी की जेल अवधि 10 सितंबर तक बढाई गई…  दैनिक भास्कर के समूह संपादक वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक खुदकुशी मामले में न्यायिक हिरासत में जेल भेजी गई सलोनी अरोरा को जेएमएफसी कोर्ट में पेश किया गया। जहां पुलिस ने रिमांड वगैरह तो नहीं मांगा लेकिन उस पर भादवि की धारा 201 और 205 और बढ़ा दी।ये धाराएं साक्ष्य नष्ट करने और अपराध करने के बाद साक्ष्य छुपाने से संबंधित हैं। सलोनी के वकील ने जरूर जमानत का आवेदन लगाया था जिसे कोर्ट ने यह कहते हुए नकार दिया कि आवेदन लगाने के लिए यह सक्षम न्यायालय नहीं है।कोर्ट से उसे आगामी 10 सितंबर तक पुनः न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी अरोड़ा जेल गई

दैनिक भास्कर के समूह संपादक कल्पेश याग्निक खुदकुशी मामले में आरोपित महिला पत्रकार सलोनी अरोरा को जेल भेज दिया गया। उसके पहले बुधवार को रिमांड अवधि खत्म होने पर इंदौर की जेएमएफसी कोर्ट में उसे प्रस्तुत किया गया। कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी तीसरी बार पुलिस रिमांड पर, सिम बरामद, आदित्य चौकसे ने दिया विरोध में बयान

इंदौर। वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक खुदकुशी मामले में आरोपी महिला पत्रकार सलोनी अरोरा को रविवार को रिमांड अवधि खत्म होने पर इंदौर की जेएमएफसी कोर्ट में प्रस्तुत किया गया। पुलिस द्वारा कोर्ट से अनुरोध किया गया कि उसका और पुलिस रिमांड दिया जाए क्योंकि केस से संबंधित अनेक मामलों में उससे पूछताछ के साथ ही कई साक्ष्य एकत्रित करना है जिसमें वह एक मोबाइल भी जब्त किया जाना है जो उसने तोड़ कर फेंक दिया था। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी अरोरा बोली- मुझे नहीं मालूम था कल्पेश आत्महत्या जैसा कदम उठाएंगे

सलोनी की रिमांड अवधि तीन दिन के लिए बढ़ी

इंदौर : जिस सलोनी अरोरा की धमकियों, बदनाम करने वाले ऑडियो की वजह से घर-परिवार-रिश्तेदार-भास्कर समूह में छवि धूमिल होते जाने के कारण बेहद तनाव के चलते कल्पेश याग्निक ने आत्महत्या जैसा घातक कदम उठाया, उसी सलोनी को भी उनके इस कदम का अफसोस है। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी अरोड़ा बोली- एक एक को देख लूंगी, तुम सबकी नौकरी खा जाऊंगी! (देखें वीडियो)

कल्पेश के लिए जी का जंजाल बनी सलोनी… अब बढ़ा रही है पुलिस का भी तनाव

पत्रकार कल्पेश की जी का जंजाल बनी मुख्य आरोपी सलोनी अरोरा को गिरफ्तार करने वाली इंदौर पुलिस को रविवार को ही समझ आ गया कि उसकी पूरे वक्त कड़ी निगरानी जरूरी है।पहले पुलिस की चिंता थी कि कैसे गिरफ्तार करें।अब जब वह हिरासत में है तो रिमांड के ये पांच दिन पुलिस के लिए भी तनाव वाले हैं। जिस तरह रविवार की रात उसने दम फूलने, घबराहट होने की शिकायत की तो पुलिस अधिकारी मान रहे हैं कि वह हर दिन बीमार होने के नए नए तरीके अपना सकती है। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेशजी की आवाज में फुसफुसाहट बता रही कि वे सलोनी के दबाव में थे

Pushya Mitra

सलोनी अरोड़ा अरेस्ट हो गयी है. वही सलोनी अरोड़ा जिस पर दैनिक भास्कर के पूर्व समूह संपादक स्वर्गीय कल्पेश याग्निक ब्लैकमेल करके खुदकुशी के लिए विवश करने का आरोप है. सलोनी अरोड़ा उसी दैनिक भास्कर समूह की पूर्व पत्रकार रह चुकी है और मुंबई ब्यूरो में काम करते हुए फिल्मी जगत की खबरें लिखा करती थीं. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भाषा का सवाल उठाने पर कल्पेश याग्निक ने राहुल देव को यूं दिया था करारा जवाब, देखें वीडियो

वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव ने एक प्रोग्राम में दैनिक भास्कर के तत्कालीन ग्रुप एडिटर कल्पेश याग्निक पर आरोप लगाया कि आप हिंदी अखबार में काम करते हैं लेकिन अंग्रेजी के कई शब्द लिखते हैं. आप हिंदी अखबार के संपादक हैं लेकिन यहां आप अंग्रेजी में भाषण दे दिए… ऐसा क्यों करते हैं… ये ठीक नहीं है. क्या कभी अंग्रेजी अखबार का संपादक हिंदी में भाषण देता है… क्या कभी अंग्रेजी अखबार हिंदी के शब्द छापता है… Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी अरोड़ा हत्थे चढ़ी, बेटे से मिलने की ममता में हुई गिरफ्तार

इंदौर। वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक से पांच करोड़ रुपए की मांग करने वाली ब्लैकमेलर पत्रकार सलोनी अरोड़ा को पुलिस ने शनिवार शाम मुंबई से पकड़ लिया। गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने सादे कपड़ों में सलोनी के बेटे का पीछा किया। जैसे ही वह उससे मिलने पहुंची, उसे पकड़ लिया गया। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश सुसाइड प्रकरण : पत्रकार सलोनी अरोड़ा कैसे ब्लैकमेल करते हुए धमकाती थी, सुनिए ये टेप

जब ये टेप मैं सुन चुका और कल्पेश जी का पुलिस को दिया गया शिकायती पत्र पढ़ चुका तो पिक्चर क्लीयर हो गई. वो आशंकाएं भी साफ हो गई जो मन में छाईं थीं. कल्पेश याग्निक अपनी इज्जत और प्रतिष्ठा के प्रति बहुत ज्यादा संवेदनशील थे. उनकी इस कमजोरी को सलोनी अरोड़ा भांप चुकी थी. यही कारण है कि वह पूरी दबंगई से उन्हें लगातार बरसों बरस ब्लैकमेल करती रही. कल्पेश जी का फोन वह कई बरसों से चोरी से टेप कर रही थी. वह उन्हें सार्वजनिक करने की धमकी देती थी. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

तो आत्महत्या को इसलिए मजबूर हुए कल्पेश याग्निक…

इंदौर । कल्पेश याग्निक आत्महत्या मामले में पर्दे के पीछे कई लोग हैं। इनमें सलोनी के नज़दीकी भी हैं और इस सारे मामले को लंबे समय से जान रहे लोग भी हैं। कल्पेश के इस कदम से परिवार सदमे से जल्दी इसलिए नहीं उबर पाएगा कि कल्यपेश को जानने समझने वाले भी विश्हवास नहीं कर पाए कि नैराश्य शब्द से नफ़रत करने वाला इसी ओर चल पड़ेगा। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

प्रश्न पूछ रही है कल्पेश की आत्महत्या!

भास्कर समूह संपादक कल्पेश याग्निक की आत्महत्या को नौ दिन हो गए हैं। पुलिस की जाँच गति से परिजनों को ढिलाई लग रही है। एक तरह से यह आत्महत्या पुलिस और ख़ासकर प्रबंधन से भी प्रश्न पूछ रही है कि ऐसे हालात बनने ही क्यों दिए कि जीवन समाप्त करना पड़ा। पुलिस को एक पखवाड़े पहले जो पत्र मिला, उससे काफ़ी पहले प्रबंधन को काफ़ी कुछ जानकारी थी और यह भी मालूम था कि हर वक्त पत्रकारिता को जीने वाले कल्पेश अपमानित जिंदगी तो नहीं ही जीना चाहेंगे, फिर क्यों उन्हें अपने हाल पर छोड़ दिया गया? ये ऐसे सारे प्रश्न हैं जो मीडिया जगत में तैर रहे हैं।जिस तरह बातचीत में कल्पेश रिपोर्टरों को प्रश्न पूछिए कहा करते थे, अब उनकी आत्महत्या यही सारे प्रश्न पूछ रही है। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक केस : सलोनी के भाई ने कहा- वो अपराधी है, उसने कइयों का जीवन बर्बाद किया, उसे कड़ी सजा मिले

वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक की मौत के मामले में पुलिस दिल्ली, मुंबई, नीमच और रतलाम में सलोनी अरोरा की तलाश कर रही है। उसकी कॉल डिटेल भी निकाली गई है, जिसमें एक फिल्म वितरक से 2483 बार बात होने की जानकारी मिली है। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

सलोनी अरोड़ा 11 साल से कर रही थी ब्लैकमेल, पहले 25 लाख मांगा, फिर एक करोड़ और आखिर में 5 करोड़ मांगने लगी

महिला पत्रकार सलोनी अरोड़ा कितनी बड़ी ब्लैकमेलर थी, इसका अंदाजा इस बात से हो जाता है कि उसने भास्कर के ग्रुप एडिटर कल्पेश याग्निक से पहले पच्चीस लाख रुपये की मांग की. जब ये रुपए मिलने वाले थे तो उसने डिमांड एक करोड़ रुपये की कर दी. एक करोड़ देने की जब तैयारी की जाने लगी तो वह पांच करोड़ रुपये मांगने लगी. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक के मुश्किल वक्त में भास्कर समूह ने उनका साथ न दिया!

Sheetal P Singh : अब तक की पुलिस जाँच और मीडिया में हुई रिपोर्टस से पता चला है कि मृत्यु से करीब सप्ताह भर पहले इंदौर के आला पुलिस अफ़सर को कल्पेश ने एक शिकायत सौंपी थी जिसमें उन्हे यौन उत्पीड़न के एक मामले में फँसा दिये जाने का संदेह था! उक्त पुलिस अफ़सर ने यह बात भास्कर के मालिकों को बता दी थी! Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश को सुसाइड के लिए मजबूर करने वाली पत्रकार सलोनी अरोड़ा पर केस दर्ज

 

इंदौर से खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार कल्पेश याग्निक की आत्महत्या के मामले में पुलिस ने पत्रकार सलोनी अरोड़ा के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने सहित विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है। याग्निक से पांच करोड़ रुपये की मांग पूरी नहीं किए जाने पर सलोनी दुष्कर्म के केस में फंसाने की धमकियां देती थी। कॉल अटेंड नहीं करने पर यूट्यूब पर अपलोड सेक्स स्कैंडल की वीडियो-ऑडियो का लिंक व्‍हाट्सएप पर भेज कर मानसिक दबाव बनाती थी। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

नवभारत, बिलासपुर के सम्पादक निशान्त शर्मा की हार्ट अटैक से मौत

स्वर्गीय निशांत शर्मा

Pran Chadha : जान की बाजी लगा कर पत्रकारिता! दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर कल्पेश याग्निक की मृत्यु की खबर के दो दिन बाद आज नवभारत बिलासपुर के सम्पादक निशान्त शर्मा की हार्ट अटैक से मौत हो गयी।वो 59साल के थे। उनको नर्मदा नगर में उनके निवास पर आज दोपहर दिल का दौरा पड़ा उनको करीब अस्पताल पहुंचाया गया, परन्तु जीवन व मौत से जूझते कुछ घण्टों में वह जान की बाजी हार गए। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अपने समूह संपादक की आत्महत्या पर भास्कर ग्रुप चुप्पी क्यों साधे है?

अपने आप को देश का सबसे बड़ा समाचार समूह बताने वाला दैनिक भास्कर ग्रुप अपने समूह संपादक कल्पेश याग्निक की सुसाइड पर कई तरह के सवालों से घिर गया है. दैनिक भास्कर खुद को विश्वसनीय होने का दावा करता है, पर कल्पेश याग्निक द्वारा सुसाइड किया जाने की खबर को बदलकर छापना इस दावे को झुठलाने के लिए काफी है. दैनिक भास्कर ने कल्पेश याग्निक की आत्महत्या से मौत को हार्टअटैक बता दिया. मीडिया रिपोर्ट्स का कहना है कि यह सामान्य मौत नहीं बल्कि खुदकुशी थी. ऐसे में दैनिक भास्कर क्यों इस सच से दूर भाग रहा है, यह बड़ा सवाल है! Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक द्वारा छत से कूद कर आत्महत्या करने की खबर पर लगी मुहर

कल भड़ास4मीडिया में कल्पेश याग्निक द्वारा छत से कूदकर आत्महत्या करने की खबर छपी थी जिस पर अब अधिकृत तौर पर मुहर लग गई है. पुलिस ने आत्महत्या का केस दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भाड़ में जाए ऐसी पत्रकारिता जो हमें मरने पर विवश करे!

Girish Pankaj 

यह कितनी दुखदाई स्थिति है कि एक बड़े अखबार के समूह संपादक को खुदकुशी करनी पड़ जाए। दरअसल जबसे अखबारों को कारपोरेट घरानों में तब्दील कर दिया गया है, तबसे संपादक नाम की संस्था नष्ट हो गई है। संपादक को सेठ का बंधुआ मजदूर बना दिया गया है। उस पर न जाने कितने किस्म के गलत सलत दबाव लाद दिए जाते हैं। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भास्कर ग्रुप कल्पेश याग्निक की मौत की वजह छुपा क्यों रहा है?

भास्कर समूह ने खबर प्रकाशित किया कि हार्ट अटैक के कारण कल्पेश याग्निक की जान गई. भास्कर समूह हार्ट अटैक को हाइलाइट कर रहा है. पर अब जाकर पिक्चर क्लीयर हुई है. कल्पेश याग्निक दूसरी मंजिल से नीचे गिरने से मरे हैं. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक अपनी एक रिपोर्टर से बातचीत वाले वायरल हुए आडियो के कारण बेहद तनाव में थे!


yashwant singh

कल रात ‘गॉडफादर पार्ट 2’ देख रहा था. सुबह करीब ढाई बजे के लगभग फिल्म खत्म हुई तो सोेने जाने से पहले यूं ही ह्वाट्सअप पर एक सरसरी नजर मारने लगा. देखा तो दो मैसेज कल्पेश याग्निक के हार्ट अटैक से मरने के आए पड़े थे. मुझे विश्वास नहीं हुआ. मैसेज भेजने वाले मित्र से चैट कर कनफर्म करते हुए अन्य डिटेल लेने लगा. फौरन भड़ास खोलकर खबर अपडेट किया और ह्वाट्सअप के करीब तीस भड़ास ब्राडकास्ट ग्रुपों में सेंड कर दिया. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक की मौत को ग्लोरिफाई मत कीजिये

Sandeep Kumar : पत्रकार साथियों, कृपा करके कल्पेश याग्निक की मौत को शहादत मत बनाइये। इस बात को प्लीज ग्लोरिफाई मत कीजिये कि खबरों का खिलाड़ी, एक कर्मवीर न्यूज रूम में चला गया, कि एक पत्रकार के लिए इससे अच्छा क्या हो सकता है…वगैरह, वगैरह। अच्छा बताइये भला आपमें से कितने लोग इसे लेकर रोमांचित हैं और न्यूज रूम में अपनी जान देना चाहते हैं। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

हमारा न्यूजरूम कत्लगाह बनता जा रहा है…

Pushya Mitra

न्यूजरूम में एक प्रधान संपादक का कोलेप्स कर जाना… एक बड़े हिंदी अखबार का प्रधान संपादक रात साढ़े दस बजे अपने ही न्यूज रूम में कोलेप्स कर जाता है. महज 55 साल की उम्र में. यह महज सहानुभूति और सांत्वना व्यक्त करने वाली खबर नहीं है. यह खबर कहीं अधिक बड़ी है. यह एक सवाल है कि क्या हमारा न्यूजरूम पत्रकारों की जान लेने लगा है. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक दिल की जांच रेगुलर कराते थे, कहीं कोई प्राब्लम न थी

Aditya Pandey : एक ही शब्द में पूरा व्यक्तित्व रखना हो तो मैं कल्पेश याग्निक को ‘उत्साह’ कहता। धोतीकुर्ते में नए घर के उद्घाटन के मौके पर जिस तरह उन्होंने अर्श से फर्श तक की खूबियां गिनाईं तब में उन्हें सुन कम रहा था लेकिन इस पर मेरी नजर टिकी हुई थी कि इस बंदे में उत्साह कितना ज्यादा है। 1998 में मैंने पहली बार भास्कर ज्वाइन किया था और तीन बार यहां काम किया लेकिन सीधे उनके साथ काम महज एक महीना ही किया वह भी एक स्पेशल प्रोजेक्ट में। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक यानि कार्पोरेट जर्नलिज्म का अनूठा जुझारू

आप याद आएँगे कल्पेश जी… कार्पोरेट जर्नलिज्म का अनूठा जुझारू… आम तौर पर शोक दर्ज़ नहीं करता, पर आज रहा नहीं गया। तमाम असहमतियाँ एक तरफ़, मगर कार्पोरेट जर्नलिज्म के लिए जुझारु लगाव रखने वाले कल्पेश याग्निक का असमय जाना दुखद है। दैनिक भास्कर में हमने साथ साथ काम किया। 2001 में भास्कर समूह के साथ जुड़ने से पहले मैं उन्हें नहीं जानता था। 2005 से 2007 तक साथ काम करने का मौका भी मिला। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

कल्पेश याग्निक ने छत से कूद कर आत्महत्या की?

Sheetal P Singh

कल्पेश याग्निक ने आत्महत्या की है। उनके शरीर में मल्टीपल फ़्रैक्चर हुए हैं। वे संभवत: छत से कूद कर मरे हैं। हार्ट अटैक से सीढ़ियों पर गिरकर मृत्यु को प्राप्त होने की खबर मैनेजमेंट ने फैलाई है जिसके प्रमुख सुधीर अग्रवाल ने बीस साल की अनवरत सेवा और आल एडीशन संपादक होने के बावजूद बीते करीब दस दिन से उन्हें मुलाक़ात का समय तक नहीं दिया! Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर कल्पेश याग्निक का निधन

प्रिंट मीडिया इंडस्ट्री से एक बुरी खबर है. दैनिक भास्कर अखबार के समूह संपादक कल्पेश याग्निक का निधन हो गया. बताया जाता है कि गुरुवार की रात करीब साढ़े 10 बजे इंदौर स्थित आफिस में काम के दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा. साथियों ने उन्हें तत्काल बॉम्बे अस्पताल पहुंचाया. करीब साढ़े तीन घंटे तक उनका इलाज चला. लेकिन तमाम प्रयासों के बाद भी उनकी स्थिति में सुधार नहीं हुआ. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: