इंडिया टुडे का सेक्स सर्वे और रवीश कुमार का ब्लॉग

सेक्स सर्वे आए दिन होने लगा है। तमाम पत्रिकाएं सर्वे कर रही हैं। सेक्स सर्वेयर न जाने किस घर में जाकर किससे ऐसी गहरी बातचीत कर आता है। कब जाता है यह भी एक सवाल है। क्या तब जाता है जब घर में सिर्फ पत्नी हो या तब जाता है जब मियां बीबी दोनों हों। क्या आप ऐसे किसी को घर में आने देंगे जो कहे कि हम फलां पत्रिका की तरफ से सेक्स सर्वे करने आए हैं या फिर वो यह कह कर ड्राइंग रूम में आ जाता होगा कि हम हेल्थ सर्वे करने आए हैं।

सहारा ने सैट के आदेश को दी सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, सोमवार को सुनवाई

सहारा समूह ने प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (सैट) के आदेश को आज उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी। सैट ने करीब तीन करोड़ निवेशकों के ब्याज सहित करीब 24,000 करोड़ रुपये लौटाने के मामले में सहारा समूह की दो कंपनियों द्वारा बाजार नियामक संस्था भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के खिलाफ दायर अपील कल खारिज कर दी थी। मुख्य न्यायाधीश अल्तमस कबीर की अध्यक्षता वाली पीठ ने इसकी सुनवाई सोमवार के लिए तय कर दी। सहारा के वकील ने पीठ से कहा कि कंपनी शीर्ष न्यायालय की रजिस्ट्री में 5,100 करोड़ रुपये का ड्राफ्ट जमा करने को पहले ही से तैयार है।

फेसबुक पर बाल ठाकरे के खिलाफ एक और आपत्तिजनक टिप्‍पणी

मुंबई : पालघर से फेसबुक पर कमेंट करने का सिलसिला थमता नजर नहीं आ रहा है। ठाणे के पालघर शहर से फेसबुक से जुड़ा एक और मामला प्रकाश में आया है। शुक्रवार को इस सिलसिले में चौथी आपत्तिजनक टिप्पणी सामने आई। पुलिस को एक स्थानीय अखबार के ‘फर्जी’ फेसबुक एकाउंट पर दिवंगत शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे से जुड़े ‘आपत्तिजनक’ कमेंट को लेकर शिकायत मिली है। 'पालघर मिरर' नामक पाक्षिक अखबार के नाम पर फर्जी अकाउंट बना कर किसी ने बाल ठाकरे के खिलाफ फिर से आपत्तिजनक फोटो और टिप्पणी पोस्ट की है।

न्‍यायिक हिरासत में जेल भेजे गए सुधीर चौधरी और समीर आहलूवालिया

: शनिवार को होगी जमानत पर सुनवाई : जी और जिंदल ग्रुप स्टिंग ऑपरेशन विवाद में गिरफ्तार किए गए जी समूह के दोनों संपादकों सुधीर चौधरी और समीर अहलूवालिया को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। दोनों संपादकों को दिल्ली के साकेत कोर्ट में पेश किया गया जहां अदालत ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। दोनों संपादकों को कांग्रेसी सांसद नवीन जिंदल की कंपनी की ओर से जबरन वसूली की शिकायत का मामला दर्ज कराने के बाद गिरफ्तार किया गया था।

”वर्तमान में घनश्‍याम सुयाल का नहीं है चैनल वन से कोई नाता”

चैनल वन ने भड़ास4मीडिया को पत्र भेजकर स्‍पष्‍ट किया है कि देहरादून में गिरफ्तार हुए घनश्‍याम सुयाल उनके ब्‍यूरोचीफ नहीं हैं. अपने पत्र में चैनल वन का कहना है कि घनश्‍याम चैनल वन के साथ दिसम्‍बर 2010 से लेकर सन 2011 के मध्‍य तक जुड़े हुए थे. इसके बाद इनका चैनल से कोई संबंध नहीं था. वर्तमान में चैनल वन के ब्‍यूरोचीफ अनुज अग्रवाल हैं. गौरतलब है कि घनश्‍याम को पुलिस ने एक व्‍यक्ति की हत्‍या कराने की कोशिश के आरोप में पकड़ा है. नीचे चैनल वन द्वारा भेजा गया पत्र एवं इस संदर्भ में प्रकाशित खबर.

दैनिक भास्‍कर से अमल एवं तरुण का इस्‍तीफा

दैनिक भास्‍कर, भोपाल से खबर है कि दो लोगों ने इस्‍तीफा देकर दूसरे संस्‍थानों से अपनी नई पारी शुरू की है. भास्‍कर के नेशनल न्‍यूज रूम में कार्यरत सीनियर सब एडिटर अमल चौधरी यहां से इस्‍तीफा देकर दिल्‍ली में हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन कर लिया है. वे काफी समय से भास्‍कर को अपनी सेवाएं दे रहे थे. अमल इसके अलावा भी कई संस्‍थानों को अपनी सेवा दे चुके हैं. उनकी गिनती अच्‍छे पत्रकारों में की जाती है.

क्‍या कोई टीवी रिपोर्टर फेसबुक पर लिखने वालों का औकात तय करेगा?

पंकज झा तेजतर्रार पत्रकार हैं. छत्‍तीसगढ़ में दीपकमल पत्रिका के संपादक हैं. पंकज फेसबुक पर भी काफी सक्रिय रहते हैं. समसामयिक तथा राजनीतिक मुद्दों पर भी खुलकर लिखते-बोलते हैं. फेसबुक पर ही एक कमेंट पर ए‍नडीटीवी के किसी कर्मचारी ने उन्‍हें औकात में रहने की हिदायत दी है. इस मामले पर पंकज लिखते हैं कि एनडीटीवी के कर्मचारी अखिलेश शर्मा को हम सभी जानते हैं. अगर आप मेरे नीचे के पोस्ट पर आयी उनकी टिप्पणी पर गौर करेंगे तो पायेंगे कि अकड़ केवल सुधीर चौधरी में ही नहीं थी. कैमरा हाथ में आ जाने के बाद किस तरह लोग खुद को खुदा समझने लग जाते हैं उसका उदहारण आपको नीचे के पोस्ट में मिलेगा. ''तुमसे पहले जो शख्स यहां गद्दीनशी था, उसे भी अपने खुदा होने पे इतना ही यकीं था.''  पंकज झा का कहना है कि अब पाठक ही यह तय करें कि क्या कोई टीवी रिपोर्टर भी अब फेसबुक पर लिखने वालों का औकात तय करेगा?

सरकार की भी नहीं सुन रही यूपी की नौकरशाही

: खामियों का पुतला बने अधिकारी : उत्तर प्रदेश की नौकरशाही निरंकुश और स्वेच्छाचारी है। यह आरोप समाजवादी पार्टी के एक विधायक ने विधान परिषद में लगा कर कोई नई बात नहीं कही है। ब्यूरोक्रेसी निरंकुश और स्वेच्छाचारी ही नहीं भ्रष्ट और मौकापरस्त भी हो गई है। बेलगाम नौकरशाही की हालत यह है कि उसका अधिकांश समय अब अब शासन-प्रशासन चलाने से अधिक ‘राजनीति’ करने और और राजनैतिज्ञों के इर्दगिर्द मंडरा कर अपना मकसद पूरा करने में जाता है। बसपा सरकार के समय में भी नौकरशाहों ने अपनी बेढंगी चाल के लिए खूब नाम कमाया था, लेकिन तब उनकी इतनी हैसियत नहीं थी कि मायावती के आदेश की वह अवहेलना कर पाते, वह सहमें हुए रहते थे, लेकिन बसपा सरकार की अन्य कई मंत्रियों की स्थिति ऐसी नहीं थी, उन्हें अपना काम कराने के लिए नौकरशाहों के कमरों तक में जाना पड़ जाता था। समाजवादी सरकार के सत्ता में आते ही नौकरशाहों के ऊपर से सत्ता का डर बिल्कुल ही जाता रहा।

सेलरी कटने से इंडिया न्यूज कर्मी भड़के, एचआर हेड को घेरा

इंडिया न्यूज चैनल के कर्मी भयंकर गुस्से में हैं. इन लोगों की सेलरी अनाप शनाप तरीके से काट ली गई है. आरोप लगाया गया है आफिस लेट आने का. पर जिन लोगों ने ओवर टाइम किया, उन्हें ओवरटाइम नहीं दिया गया. लेकिन लेट आने के नाम पर कई कई हजार रुपये सेलरी काट ली गई. यह कटौती सैकड़ों कर्मियो की सेलरी से की गई है.

अमर उजाला, बरेली के एनई लक्ष्‍मण सिंह भंडारी का तबादला हल्‍द्वानी

अमर उजाला, बरेली से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार एवं समाचार संपादक लक्ष्‍मण सिंह भंडारी का तबादला हल्‍द्वानी यूनिट के लिए कर दिया गया है. वे पिछले 27 सालों से बरेली में अमर उजाला को अपनी सेवाएं दे रहे थे. बताया जा रहा है कि श्री भंडारी के आग्रह पर प्रबंधन ने उनका तबादला हल्‍द्वानी …

पंजाब की शक्ति की हालत खराब, कर्मचारियों को नहीं मिला वेतन

: कानाफूसी : पंजाब से खबर है कि बडे जोर-शोर से बाजार में उतरे पंजाब की शक्ति की टांय टांय फिस्‍स हो गई है। नवंबर में लांचिंग के एक माह बाद ही शक्ति का दम फूल गया है। जालंधर व अमृतसर के बाद अखबार का बठिंडा कार्यालय भी बंद हो गया है। जालंधर से राजेश कपिल और अमतसर से गुरमीत लूथरा के बाद बठिंडा में भी मनीष शर्मा के इस्‍तीफा देने के बाद दफ्तर खाली हो गया है। पंजाब की शक्ति सिर्फ 10 दिन बाजार में आया और अब बंद हो गया।

वाह रे समाजवाद : दो पत्रकारों पर दर्ज हुआ 150 रुपये लूट का मामला

यूपी में समाजवादी पार्टी का राज आने के बाद से पत्रकारों पर प्रशा‍सनिक हमले बढ़े हैं. फर्जी मामलों में फंसाएं जाने की संख्‍या भी बढ़ी है. ताजा मामला है बाराबंकी जिले के सफदरगंज थाना का. खुद को एक मंत्री का रिश्‍तेदार बताने वाले थानाध्‍यक्ष ने दो पत्रकारों नीरज त्रिवेदी तथा अवधेश वर्मा के खिलाफ 150 रुपये लूट का मामला दर्ज किया है. इस खबर के बाद से ही पत्रकारों में नाराजगी है, वहीं पुलिस के खिलाफ भी उनमें गुस्‍सा है.

‘हिमाचल आजकल’ बंद, ‘हिमाचल लाइव न्‍यूज’ शुरू

हिमाचल प्रदेश का बहुचर्चित न्यूज बुलेटिन ’हिमाचल आजकल’ करीब 6 महीने के अल्प समय में ही बन्द हो गया। यह बुलेटिन मोहाली (पंजाब) के न्यूज चैनल 7SEA पर राजेश्वर सब्रवाल ने स्लॉट लेकर इस साल अप्रैल में शुरू किया था। ’हिमाचल आजकल’ के प्रधान संपादक वरिष्ठ पन्नकार कृष्ण भानु बने, जिन्होंने विवाद के चलते दो महीने पहले ’हिमाचल आजकल’ छोड़ दिया। तभी से इस बुलेटिन के भविष्य पर सवालिया निशान लग गये थे।

सोते रहे नईदुनिया के संपादक और छूट गई खबर

'पहले लिखा था इतिहास अब लिखेंगे भविष्य' की पंच लाइन के साथ ग्वालियर में रीलांच हुए नईदुनिया अखबार के संपादक की नींद अखबार को भारी पड़ गई। रिपोर्टर से लेकर फोटोग्राफर तक उन्हें एक अहम खबर की सूचना देने और यह तय करने के लिए मोबाइल लगाते रहे कि यह खबर कहां लगेगी पर संपादक नींद में ऐसे डूबे रहे कि उन्होंने किसी का टेलीफोन ही नहीं अटेंड किया। कुछ अखबार अपने सिटी एडिशन के कुछ अखबारों में खबर ब्रेक कर चुके थे और नईदुनिया खबर होते हुए भी खबर से चूक गया।

फेसबुक पर कमेंट मामला : गिरफ्तारियों पर सुप्रीम कोर्ट ने मांगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को नोटिस जारी कर पूछा है कि किन परिस्थितियों में ठाणे की उन दो लड़कियों को गिरफ्तार किया गया जिन्होंने शिवसेना नेता बाल ठाकरे की मौत के बाद मुंबई बंद की फेसबुक पर आलोचना की थी. दिल्ली की एक छात्रा श्रेया सिंघल की जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायाधीश अल्तमस कबीर और और जस्टिस जे चेलामेश्वर की खंडपीठ ने ये नोटिस दिया है.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्‍लंघन कर रहा सहारा समूह!

: निवेशकों का पैसा कंपनी की दूसरी योजनाओं में लगवाया जा रहा : सहारा इण्डिया उच्चतम न्यायालय द्वारा सहारा समूह की दो योजनाओं के मार्फत निवेशकों से 17400 करोड़ रुपये वसूली गई राशि को लौटाने के आदेश का पालन किए जाने के बजाय कंपनी द्वारा निवेश राशि को दूसरे योजनाओं में गुप्त तरीके से बदला जा रहा है। जानकारी के अनुसार, सहारा ग्रुप द्वारा सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन के जरिये 17400 करोड़ जुटायी गई थी। 2 करोड़ 30 लाख छोटे निवेशकों से परिवर्तनीय डिबेंचर के जरिये वसूली गई उक्त राशि को पूंजी बाजार की नियामक संस्था ‘‘भारतीय प्रतिभूति एंव विनिमय बोर्ड (सेबी) ने वापस करने का आदेश पिछले साल जून माह में दिया था। उक्त आदेश के खिलाफ सहारा ग्रुप सर्वोच्च न्यायालय गया था।

ज़ी बनाम ज़िंदल : पत्रकारिता एवं पुण्‍य प्रसून दोनों की साख पर सवाल

ज़ी न्यूज बनाम जिंदल मामले में स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार किसी बड़े चैनल के संपादकों को गिरफ्तार किया गया…दिल्ली पुलिस बिना किसी ठोस सबूत के ऐसी कार्रवाई मीडिया के किसी बड़े ग्रुप पर नहीं करेगी… जी ग्रुप ने इसे कांग्रेस सरकार द्वारा मीडिया को बंधक बनाने जैसा कहा है…. तो सूचना प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी ने कहा है कि ये सरकारी नहीं, कानूनी मामला है… यानि सरकार पुलिस की कार्रवाई को सही बता रही है…. विद्वान पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने इसे आपातकाल से जोड़ा है जिसकी कड़ी आलोचना हो रही है…क्योंकि आपातकाल के समय मीडिया पर सेंसरसिप लगाने के अलग कारण और तत्कालीन परिस्थितियां थीं…उस समय 100 करोड़ के घूस लेने के आरोप में किसी को जेल नहीं भेजा गया था…जबकि सुधीर और समीर पर 100 करोड़ की उगाही के आरोप है.

पुलिस ने जी न्‍यूज के मालिक सुभाष चंद्रा को भी पूछताछ के लिए बुलाया

जी न्यूज के दो वरिष्ठ पत्रकारों के कथित तौर पर धन उगाही की कोशिश के मामले में ऐसा माना जा रहा है कि जी समूह के अध्यक्ष सुभाष चंद्रा ने पुलिस को सूचित किया है कि वह पांच दिसंबर तक जांच में शामिल नहीं हो सकते हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि जांचकर्ताओं ने उन्हें जांच में शरीक होने के लिए नोटिस भेजा था जिसके जवाब में चंद्रा ने और समय की मांग की है क्योंकि वह विदेश में हैं। पुलिस ने चंद्रा को कल अदालत में दो बार जांच में शामिल होने को कहा था। यह पूछे जाने पर कि क्या जांचकर्ता अब अदालत का रूख कर वारंट जारी करने की मांग करेंगे, पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि जब जरूरत होगी, तब इस पर फैसला किया जाएगा।

हिंदुस्‍तान प्‍लस से जुड़े अश्‍वनी एवं अनुज, धर्मेंद्र द सी एक्‍सप्रेस पहुंचे

हाल ही में आगरा से प्रकाशित हुए हिंदुस्‍तान प्‍लस से खबर है कि दो पत्रकारों ने इसके साथ अपनी नई पारी शुरू की है. डीएलए से इस्‍तीफा देकर अश्‍वनी भदौरिया तथा कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस से इस्‍तीफा देकर अनुज शर्मा हिंदुस्‍तान प्‍लस से जुड़े हैं. अश्‍वनी पिछले पांच सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं. वे पिछले तीन सालों से डीएलए को अपनी सेवाएं दे रहे हैं. इसके पहले भी वे कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

दैनिक जागरण में प्रकाशित किस आंकड़े को सही मानें पाठक?

पटना से एक जागरूक पाठक ने पत्र भेजा है कि दैनिक जागरण ने 29 नवम्‍बर के एडिशन में प्रकाशित अपने दो खबरों में राजधानी पटना की जनसंख्‍या अलग-अलग लिखी है. पाठक का कहना है कि अपने को नम्‍बर एक अखबार बताने वाले जागरण में क्‍या अंदाजे से या फिर मनमानी तरीके से आंकड़ों को प्रकाशित किया जाता है? उसका कहना है कि आखिर अखबार पढ़ने वाला किस आंकड़े को सही माने? उन्‍होंने दोनों खबरों को भी भेजा है, जिसे नीचे प्रकाशित किया जा रहा है.

बिहार शरीफ में चल रहे हैं कई अवैध न्यूज चैनल!

अगर कोई कार्य प्रशासन के मेल बिना किया जाए तो वह अवैध कहलाता है। परन्तु वही कार्य प्रशासन के मेल से किया जाए तो वह वैध हो जाता है। ऊपर कही गई बातें सौ फीसदी सही है। वह कार्य हो रहा हैं, सुशासन बाबू के अपने गृह जिले मुख्यालय बिहार शरीफ में। बिहार शरीफ शहर में केबुल के माध्यम से करीव आधे दर्जन लोकल समाचार चैनल चल रहे है, जिनका कोई रजिस्ट्रेशन नहीं हैं और ना ही चलाने के लिए किसी ने आदेश दिया है। परन्तु प्रशासन द्वारा इन्हें सरकारी कार्यक्रमों तथा चुनाव के दौरान आयोग द्वारा समाचार संकलन हेतु पास तक उपलब्ध करवाया जाता हैं।

तो क्‍या खुद अजीत अंजुम इन संपादकों की लिस्‍ट में नहीं हैं?

Ajit Anjum : जो लोग कह रहे हैं कि जिंदल मामले में फलां- फलां भले ही खबर दिखाने के बाद 100 करोड़ की डील करते पकड़े गए हैं, हर संपादक ऐसा ही है, जो पकड़ा गया वो चोर, बाकी सिपाही …जो लोग कह रहे हैं कि मालिकों के कहने पर कौन ऐसा संपादक है जो डील करने नहीं चला जाएगा ….उनके लिए मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि आशुतोष (आईबीएन -7) शाजी जमां और मिलिंद खांडेकर (एबीपी न्यूज) सतीश के सिंह (लाइव इंडिया), विनोद कापड़ी (इंडिया टीवी), कमर वहीद नकवी (आजतक के पूर्व संपादक) और सुप्रिय प्रसाद (आजतक के मौजूदा संपादक) जैसे संपादक हैं, जिनकी कीमत कोई जिंदल नहीं लगा सकता….जिन्हें कोई जिंदल सौदेबाजी के लिए तैयार नहीं कर सकता …चैनल मालिक भी इन्हें किसी ऐसी डील के लिए मजबूर नहीं कर सकता.

पत्राकारों को भी कर देनी चाहिए अपनी संपत्ति की सार्वजनिक घोषणा?

 

ज़ी न्यूज के गिरफ्तार संपादक सुधीर चौधरी कई लिहाज़ से नंबर वन रहे हैं। वे पहले ऐसे पत्रकार थे जिन्होंने महज़ 35 साल की उम्र में बीएमडब्ल्यू कार (तत्कालीन कीमत लगभग 40-45 लाख) खरीद ली। वे पहले ऐसे चैनल हेड रहे जिन्होंने इस पद की नौकरी पाने से पहले चैनल की डील करवा दी। 

एनडीटीवी का कैमरामैन एन रवि धौलाधार में लापता

धर्मशाला : एनडीटीवी चैनल का कैमरामैन धौलाधार में कहीं लापता हो गया है। वह त्रियूंड व इंद्रहार पास के लिए ट्रैकिंग पर गया था, लेकिन लौटा नहीं। चैनल ने इस संबंध में पुलिस को सूचित कर दिया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जी शिवा कुमार ने बताया कि एनडीटीवी चैनल का नई दिल्ली का कैमरामैन एन रवि शुक्रवार को आया था। यहां पर चैनल का कोई कार्यक्रम था। वह आंध्र प्रदेश का रहने वाला है और दिल्ली में रह रहा है।

झटका : सैट ने सेबी के खिलाफ सहारा समूह की अपील खारिज की

मुंबई : प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (सैट)ने तीन करोड़ निवेशकों के 24,000 करोड़ रुपये लौटाने के मामले में सहारा समूह की दो कंपनियों द्वारा सेबी के खिलाफ दायर अपील खारिज कर दी है। सहारा समूह ने अपनी अपील में निवेशकों का धन लौटाने के मामले में न्यायाधिकरण से हस्तक्षेप का आग्रह किया था। समूह ने आरोप लगाया था कि सेबी इस मामले में उसके खिलाफ गलत तरीके से उच्चतम न्यायालय के आदेश का अनुपालन न करने का आरोप लगा रहा है।

एमपी सरकार वरिष्‍ठ पत्रकारों को हर महीने देगी पांच हजार रुपये

भोपाल। मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में पत्रकारिता करने वाले वरिष्ठ और बुजुर्ग पत्रकारों के लिए श्रद्धा-निधि योजना को स्वीकृति दी है। शासन ने श्रद्धा-निधि के लिए नियम, शर्तें व योजना भी जारी की है। श्रद्धा-निधि ऐसे पूर्णकालिक अधिमान्य पत्रकार को दी जाएगी, जो किसी दैनिक, साप्ताहिक समाचार-पत्र में कम से कम बीस साल तक सवैतनिक कार्य करते रहे हों और उनकी आयु एक जुलाई, 2012 की स्थिति में 62 साल हो। उन्हें हर महीने पांच हजार रुपए श्रद्धा-निधि के रूप में देने का फैसला लिया गया है। श्रद्धा-निधि शुरुआत में पांच साल के लिए दी जाएगी।

पत्रकार धीरेंद्र की हत्‍या में राजा कोलंदर दोषी

इलाहाबाद: पत्रकार धीरेन्द्र सिंह समेत चौदह लोगों की हत्या करके शव के टुकड़े- टुकड़े करने और शवों को खाने के आरोपी राजा कोलंदर को इलाहाबाद की ट्रायल कोर्ट ने दोषी माना है. सजा का ऐलान शुक्रवार को होगा. दिसंबर 2000 में पत्रकार धीरेन्द्र सिंह की हत्या हुई थी. राजा कोलंदर तब से ही जेल में बंद है. साल 2000 के दिसंबर महीने में पत्रकार धीरेन्द्र सिंह की हत्या के बाद से ही राजा कोलंदर अपने साले बछराज के साथ जेल में बंद है.

सुपारी किलर निकला चैनल वन का उत्तराखण्ड ब्यूरो चीफ

 

देहरादून। उत्तराखण्ड में न्यूज चैनलों की आड़ के साथ-साथ मीडिया में आपराधिक लोगों की गतिविधियां लगातार बढ़ती जा रही हैं। न्यूज चैनल के संचालक उत्तराखण्ड में ऐसे लोगो को मीडिया की कमान सौंप रहे हैं जिनका चरित्र आपराधिक रहा है। बीते दिवस उत्तराखण्ड तिवारी सरकार में स्पेशल कम्पोनेन्ट प्लान के उपाध्यक्ष खजान गुडडू की हत्या की सुपारी देने वाले चैनल वन के उत्तराखण्ड व्यूरो चीफ धनश्याम सुयाल को उसके साथियों सहित एसटीएफ व देहरादून पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है।

ऐक्ट्रेस मनीषा कोइराला को कैंसर है, अस्पताल में भर्ती हुईं

  मुंबई से खबर है कि बॉलिवुड ऐक्ट्रेस मनीषा कोईराला को कैंसर है। मनीषा को तीन दिन पहले वहां के जसलोक हॉस्पिटल में ऐडमिट कराया गया है। सूत्रों के अनुसार यहां उनका कैंसर का इलाज किया जाएगा।   गौरतलब है कि मनीषा नवंबर के शुरुआत से ही काठमांडू में थीं। नेपाल में वह अपना नया …

जी ग्रुप ने भरी संपादकों की कुर्सियां, क्या सुधीर समीर को होगा नमस्ते जी?

जी नेटवर्क ने अपने दोनों चैनलों जी न्यूज और जी बिजनेस के लिए नये संपादकों की घोषणा कर दी है। खबर है कि मैनेजमेंट ने राकेश कार को जी न्यूज़ का संपादक नियुक्त किया गया है। ये जगह सुधीर चौधरी के जेल जाने से खाली हुई है।

पुण्य प्रसून बाजपेयी ने जी न्यूज़ से इस्तीफा दिया..?

  खबर है कि पुण्य प्रसून बाजपेयी ने जी नेटवर्क से इस्तीफा दे दिया है। बताया जाता है कि 27 नवंबर के उनके विवादास्पद बुलेटिन के बाद जब उनकी चारों तरफ आलोचना होने लगी तो उन्होंने मैनेजमेंट से अगले दिन के बुलेटिन मे अपना स्टैंड इस पचड़े से अलग रखने की कही, लेकिन सीईओ आलोक …

पत्रकारों को अंदर नहीं घुसने दिया लालबत्ती धारी शिव प्रकाश राठौर ने

सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव कल आगरा आये.  उनके साथ मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व उनकी धर्मपत्नी डिंपल यादव भी थीं. वे यहाँ लघु उद्योग निगम के चेयरमैन शिव प्रकाश राठौर की लड़की की शादी में शरीक होने आये. इस दौरान शिव प्रकाश राठौर ने किसी भी पत्रकार को भीतर प्रवेश नहीं करने दिया और दो टूक कह दिया कि जो करना चाहे वह कर लो.

‘कौन बनेगा मुख्यमंत्री’ को क्यों नहीं होस्ट कर रहे हैं दीपक चौरसिया?

दीपक चौरसिया को लेकर तरह तरह की चर्चाएं फैली हुई हैं. कोई कह रहा है कि वो इंडिया न्यूज ज्वाइन कर चुके हैं. कोई कह रहा है कि एबीपी न्यूज में इंटरनल पालिटिक्स के कारण उन्होंने गुस्से में छुट्टी ले ली है. जितने मुंह उतनी बातें. जब भड़ास ने इस बारे में दीपक से जानना चाहा तो उन्होंने कहा कि उनकी सेहत ठीक नहीं है. वे घर पर आराम कर रहे हैं. उधर, उनके करीबियों का कहना है कि लगातार फील्ड में काम करने से दीपक का स्वास्थ्य काफी बिगड़ गया. वे कौन बनेगा मुख्यमंत्री होस्ट करने गुजरात गए थे लेकिन बुखार बढ़ जाने के कारण उन्हें लौट कर दिल्ली आना पड़ा और कंप्लीट बेड रेस्ट लेना पड़ रहा है.

बीएजी को बॉय बोल बजरंग झा आईबीएन7 में एईपी बनकर पहुंचे

बीएजी के साथ पिछले 8 साल से जुड़े बजरंग झा ने आखिरकार संस्थान को बाय-बाय कर दिया है। बजरंग झा बीएजी के साथ प्रोडक्शन हाउस के दौर से ही जुड़े थे। इस दौरान उन्होंने 'पोल-खोल' जैसे कार्यक्रम बनाए। बीएजी का चैनल- न्यूज 24 आया तो यहां भी उन्होंने कई अहम जिम्मेदारियां निभाईं। वो न्यूज के साथ ही प्रोग्रामिंग में सिद्धहस्त हैं। न्यूज 24 में चुनाव से जुड़े कई कार्यक्रम प्रोड्यूस किए। फास्ट ट्रैक जैसा रिपोर्टर बेस्ड प्रोग्राम लांच किया।

वरिष्‍ठ पत्रकार रमेंद्र सिन्‍हा बने पीपुल्‍स समाचार के ग्रुप एडिटर

 

मध्‍य प्रदेश से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार रामेंद्र सिन्‍हा पीपुल्‍स समाचार के ग्रुप एडिटर बन गए हैं. भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्‍वालियर, रायपुर और दिल्‍ली से प्रसारित पीपुल्‍स समाचार को नई दिशा देने के लिए रामेंद्र सिन्‍हा को यह जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. पीपुल्‍स समूह मासिक पत्रिका एवं न्‍यूज वेबसाइट का संचालन भी करता है. 

संपादकों के घूसकांड पर इतना सन्नाटा क्यों है भाई!

 

: देर सवेर सुभाष चंद्रा को भी होना है गिरफ्तार : अब वह समय गया जब पत्रकारिता को खबर छापने और दिखाने का पेशा माना जाता था। अब यह खबर न दिखाने ओर न छापने का पेशा है। यही पत्रकारिता का मुख्य धंधा है। इसी प्रचलित रास्ते पर चलते हुए जी न्यूज ने खबर न दिखाने के लिए सौ करोड़ की घूस मांगी। यदि सौ करोड़ रुपये की घूस का यह स्टिंग आपरेशन किसी नेता या अफसर का होता तो तय मानिये ये सारे न्यूज चैनलों की मेन हेड लाइन होती और सारे अखबारों की पहली हैंडिंग होती। न्यूज चैनल वाले इस पर प्राइम टाइम डिबेट कर रहे होते और देश के बड़े-बड़े नामी गिरामी पत्रकार राजनीति में आई गिरावट पर इतना विलाप कर रहे होते कि टीवी स्टूडियोज के कालीन उनके आंसुओं से तरबतर हो गए होते। लेकिन ऐसा लगता है कि भले ही राजनीति में भ्रष्टाचार पर यह बंधुत्व और भातृभाव गायब हो लेकिन कारपोरेट मीडिया में भ्रष्टाचार पर अद्भुत एकता है।

दो दिन के पुलिसिया रिमांड पर गये सुधीर चौधरी और समीर आहलूवालिया

नयी दिल्ली : दिल्ली की एक अदालत ने कथित तौर पर धन की उगाही से संबधित जिंदल समूह द्वारा दायर किये गये मुकदमें में ‘जी समूह’ के गिरफ्तार वरिष्ठ संपादकों को दो दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया है. अब उनकी अगली पेशी 30 नवंबर को होगी.

नवीन जिंदल से सौ करोड़ रुपये जबरन वसूली की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किए गए जी न्‍यूज के संपादक सुधीर चौधरी एवं जी बिजनेस के संपादक समीर आहलूवालिया को बुधवार की दोपहर को कोर्ट में पेश किया गया. अपराध शाखा की टीम ने दोनों संपादकों को कड़ी गहमागहमी के बीच कोर्ट में पेश किया. आज अवकाश होने के बावजूद कोर्ट में काफी भीड़ रही.

उत्‍तराखंड सरकार ने बेच दिया पद्मविभूषण! सीबीआई जांच की मांग

 

उत्तराखंड में राज्य सरकार द्वारा पद्मश्री ओर पद्मविभूषण के लिए उत्तर प्रदेश में रह रहे व्यक्तियों के नामों की संस्तुति किए जाने से बबाल हो गया है। राज्य के कई संगठनों और गणमान्य व्यक्तियों ने राज्य सरकार और मुख्यमंत्री को आड़े हाथों लेते हुए आरोप लगाया है कि यूपी के एक शिक्षा माफिया को पद्मविभूषण देने की सिफारिश में करोड़ों का लेनदेन हुआ है। आक्रामक क्षेत्रीय संगठन उत्तराखंड जनमंच ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि उत्तराखंड को यूपी का उपनिवेश बना दिया गया है। 

आपको लोगों ने ईमानदार समझा लेकिन आप तो बड़े वो निकले : अजीत अंजुम

  Ajit Anjum: हमने कब कहा कि हम ईमानदार हैं …आपको लोगों ने ईमानदार समझा लेकिन आप तो बड़े वो निकले ……हमने कब कहा कि हम सरोकारी हैं लेकिन आप तो सरोकारों के खजांची बनते थे …फिर एक ही घंटे में जिंदगी भर की जमा पूंजी क्यों लुटा बैठे ……….   Purushottam Singh: jaane dijiye …

अमर उजाला और आज समाज ने फर्स्‍ट पेज पर छापी सुधीर-समीर की गिरफ्तारी

जी न्‍यूज के दो संपादकों सुधीर चौधरी और समीर आहलुवालिया की गिरफ्तारी की खबर को तमाम अखबारों ने सिर्फ एक हल्‍की खबर की तरह प्रकाशित किया वहीं अमर उजाला तथा आज समाज ने इस खबर को अपने फर्स्‍ट पेज पर प्रकाशित किया. अमर उजाला ने तो सेकेंड लीड के रूप में प्रमुखता से प्रकाशित किया. आज समाज ने भी मेन पेज पर छापा. अमर उजाला शायद बीते दिनों जी समूह से हुए खटपट के चलते खबर को पूरा तानकर छापा है. वहीं आज समाज पर कांग्रेसी मालिक का ठप्‍पा लगा हुआ है.

जी ने कहा – उनके संपादकों की गिरफ्तारी गैरकानूनी तथा किसी और मकसद से की गई है

 

जी न्यूज ने बुधवार को मांग की है कि कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल द्वारा दाखिल जबरन वसूली के मामले में गिरफ्तार किये गये उसके दो संपादकों को तत्काल रिहा किया जाए. संस्थान ने आरोप लगाया कि पुलिस की कार्रवाई ‘गैरकानूनी’ तथा ‘किसी और मकसद’ से की गयी है. कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाले में जिंदल पावर एंड स्टील लिमिटेड पर आरोप लगाने वाली खबरों को प्रसारित नहीं करने के लिए कंपनी से 100 करोड़ रुपये मांगने की कोशिश करने के आरोपों का खंडन करते हुए जी न्यूज के सीईओ आलोक अग्रवाल ने आरोप लगाया कि संप्रग-2 सरकार अपनी ‘गलतियों’ के चलते मीडिया को ‘डरा धमका रही’ है.

दोनों संपादक छह घंटे वहां बैठकर सौदेबाजी नहीं कर रहे थे तो क्‍या कर रहे थे?

 

इतने दिनों की तफ्तीश के बाद यदि जी न्यूज के दो पत्रकार हिरासत में लिए गए हैं तो जरूर पुलिस के पास पुख्ता सबूत जुट गए होंगे. इन गिरफ्तारियों का राजनीतिक अपयश चाहे जिसे मिले लेकिन निरंतर बे लगाम होते जा रहे इलेक्ट्रानिक मीडिया को सही सबक जरूर मिलेगा. इंदिरा जी ने प्रेस पर प्रतिबन्ध जल्दबाजी में लगा दिया था लेकिन इन ब्लैकमेलर पत्रकारों के खिलाफ न केवल वीडियो सबूत है बल्कि अन्य प्रमाण भी जुटाने में पुलिस को खास मेहनत नहीं करना पड़ी होगी. 

सरकार को जी न्‍यूज का लाइसेंस निलंबित कर देना चाहिए : काटजू

 

मंगलवार को ज़ी टीवी के दो वरिष्ठ पत्रकारों की उगाही के इलज़ाम में गिरफ़्तारी से भारतीय पत्रकारिता की नैतिकता पर सवाल उठ खड़ा हुआ है. ज़ी न्यूज़ के प्रमुख सुधीर चौधरी और ज़ी बिजनेस के प्रमुख समीर अहलूवालिया पर आरोप है कि उन्होंने कांग्रेस सांसद और उद्योगपति नवीन जिंदल के ग्रुप से इस आधार पर 100 करोड़ रुपए मांगे थे कि वो ज़िंदल और कोयला घोटाले को जोड़ कर कोई रिपोर्ट नहीं करेंगे.

फेसबुक और ब्लॉग कितनी सफाई कर पाएंगे.. साफ-साफ क्यों नहीं गरियाया..?

सुधीर चौधरी और समीर आहलूवालिया की गिरफ्तारी को ज़ी न्यूज़ ने मीडिया का गला घोंटने वाला बताया और रात दस बजे पुण्य प्रसून बाजपेयी हाथ मलते हुए गला फाड़ चिल्लाते हुए हाय-तौबा मचाने लगे.. 

आज की तुलना एमरजेंसी के दिनों से करने लगे.. कई दिग्गजों के फोनो भी लिए गये। क़मर वहीद नक़वी, राहुल देव, एनके सिंह.. आदि-आदि.. ज्यादातर लोगों ने इन गिरफ्तारियों को 'दुर्भाग्यपूर्ण' बताया।

बेहद तकलीफदेह, दूर्भाग्यपूर्ण और शर्मसार करने वाला क्षण है : राहुल देव

 

Rahul Dev : शायद मुझे भी स्पष्ट कर देना चाहिए कि सुधीर-समीर गिरफ्तारी पर मैंने भी न्यूज 24 पर कल रात फोनो दिया था। यह कहा कि सारे तथ्यों को तो हम अभी नहीं जानते लेकिन सीएसएफएल की जांच रिपोर्ट आने के बाद गिरफ्तारी हुई है तो कम से कम यह मान सकते हैं कि सीडी की सत्यता असंदिग्ध मानकर, पुख्ता आधार के बाद ही पुलिस ने इतने बड़े मीडिया समूह के संपादकों की गिरफ्तारी का कदम उठाया होगा। यह भी कहा कि यह हम सबके लिए बेहद तकलीफदेह, दूर्भाग्यपूर्ण और शर्मसार करने वाला क्षण है। समकालीन भारतीय मीडिया के इतिहास में इससे ज्यादा गंभीर आरोप शायद कम ही लगे हैं।

”जिस तरह छीछालेदर लाइव हो रही है उससे लगता है बाकी चैनल दूध के धुले हैं”

 

कल रात जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी और सीनियर समीर आहलूवालिया को गिरफ्तार किया गया.. आज जी न्यूज़ सफाई दे रहा है … और जिस तरीके से छीछालेदर लाइव हो रही है उससे लगता है बाकी सभी चैनल दूध के धुले हैं.. आजतक, एनडीटीवी, एबीपी न्यूज़ २४, आईबीएऩ ७. …और न जाने कौन कौन .. जैसे इस खबर को दिखा रहे हैं लगता है सबने जो इतने पैसे कमाए हैं .. साफ-सुथरे तरीके से ही कमाए हैं। 

दिग्विजय सिंह, रमण सिंह एवं अर्जुन मुंडा ने भी खबर रोकने का दबाव डाला : जी न्‍यूज

 

जी न्यूज के सीईओ आलोक अग्रवाल ने जी न्यूज को दोनों संपादकों की गिरफ्तारी की निंदा करते हुए जल्द ही उनकी रिहाई की मांग की। उन्होंने कहा कि पहले संपादकों को पैसा देने की पेशकश की गई। उन्होंने पैसा नहीं लिया तो ग्रुप को पैसा देने की कोशिश की गई। दिग्विजयसिंह, रमन सिंह, अर्जुन मुंडा जैसे दिग्गज नेताओं के जरिए चैनल पर दबाव डाला गया। 

दोनों संपादकों की गिरफ्तारी अनुचित नहीं लगती : कमर वहीद नकवी

 

: तथ्‍यों को तोड़- मरोड़कर कर जी न्‍यूज ने मुझे पीड़ा पहुंचाई है : ज़ी न्यूज़ ने अपने सम्पादक व बिज़नेस हेड सुधीर चौधरी व ज़ी बिज़नेस चैनल के सम्पादक समीर अहलूवालिया की कल हुई गिरफ़्तारी पर मेरा फ़ोनो कल रात किया था. इसके बाद मेरे पास कई लोगों के फ़ोन और एसएमएस आये कि क्या आपने ज़ी को दिये फ़ोनो में पुलिस कार्रवाई को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है क्योंकि ज़ी न्यूज़ अपने यहाँ ब्रेकिंग न्यूज़ की पट्टी पर आपका ऐसा बयान चला रहा है. मुझे इससे बड़ी पीड़ा पहुँची है. यह तथ्यों को अपने पक्ष में तोड़ कर पेश करने की निन्दनीय हरकत है.

दिल्‍ली के साकेत कोर्ट में होगी सुधीर चौधरी और समीर आहलूवालिया की पेशी

: जी न्‍यूज ने कहा उनके स्‍टाफ ने कोई अपराध नहीं किया : नई दिल्ली : ज़ी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी औऱ ज़ी बिजनेस के संपादक समीर अहलूवालिया को आज दिल्ली के साकेत कोर्ट में पेश किया जाएगा. कल दोनों को गिरफ्तार किया गया था. जिंदल स्टील एंड पावर कंपनी के चेयरमैन नवीन जिंदल ने आरोप लगाया था कि कोयला घोटाले पर कवरेज रोकने के बदले दोनों ने सौ करोड़ मांगे थे. जी न्यूज ने संपादकों की गिरफ्तारी पर सवाल उठाए हैं. सुबह 11 बजे जी ग्रुप ने इसी मामले पर प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की है. 

सेबी से परेशान सहारा ग्रुप ने खरीदे न्यूयॉर्क में दो होटल

सुब्रत रॉय सहारा प्रोमोटेड सहारा ग्रुप ने न्यूयार्क में 2 आइकॉनिक होटल खरीदें हैं। ये दोनों ही होटल न्यूयार्क प्लाजा और ड्रीम न्यूयार्क मैनहटन के सेंट्रल पार्क जैसे अहम लोकेशन के पास हैं। ये सौदा करीब 4400 करोड़ रुपये में हुआ है। 2010 में जब सहारा ग्रुप ने लंदन में ग्रॉसवेनर हाउस को खरीदा था, तभी लक्जरी होटल में क्षेत्र में अपनी पोर्टफोलिया बनाने का संकेत दिया था।

जी न्‍यूज ने कहा – मीडिया का गला घोंटना चाहती है कांग्रेस सरकार

 

जी समूह के संपादक सुधीर चौधरी और समीर आहलूवालिया को नवीन जिंदल की कंपनी से सौ करोड़ रुपये मांगने के आरोप में दिल्‍ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने एफआईआर दर्ज होने के 45 दिनों तक इस मामले की बाकायदा जांच की. नवीन जिंदल ने बाकायदा इन आरोपों के पक्ष में सीडी जारी किया. इसके बाद भी जी समूह का कहना है कि नवीन जिंदल की पार्टी मीडिया का गला घोंटना चाहती है. नीचे पढ़े एनडीटीवी में प्रकाशित खबर. 

भारत में फेल हो रहा है प्रजातंत्र का यूरोपीय मॉडल!

 

सत्ता के प्रतीक लालबत्ती को चमकाते हुए कोई सुखदेव नामधारी गोली चलाता है और उसकी रक्षा के लिए उत्तराखंड शासन की ओर से रखा गया पीएसओ भी साथ मिलकर वही अपराध करता करता है. उत्तर प्रदेश में तत्कालीन मायावती सरकार का मंत्री राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य योजना के हजारों करोड़ डकारने में जेल में बंद होता है. ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार “सुशासित बिहार” में भ्रष्ट राज्य सरकार के अधिकारी फर्जी काम दिखाकर केंद्र सरकार की मनरेगा (रोजगार योजना) के आठ हजार करोड़ में से ६००० करोड़ मार जाते है. 

मजबूरी में दैनिक जागरण को बदलनी पड़ी समीर-सुधीर वाली खबर!

अपनी सुविधानुसार पत्रकारिता करने के लिए कुख्‍यात दैनिक जागरण ने सुधीर चौधरी और समीर आहलूवालिया की गिरफ्तारी की खबर में भी अपनी तरफ से पूरा खेल करने की कोशिश की. खबर को खबर के तरीके से नहीं बल्कि इस तरीके से लगाया गया कि यह खबर छूटे भी नहीं और आरोपियों के नामों तथा उनके चैनल के नाम का खुलासा भी ना हो, पर जागरण की कुटिल चाल अन्‍य वेबसाइटों और दूसरे माध्‍यमों के चलते सफल नहीं हो सकी. मजबूरन उसे भी फिर अपने खबर में बदलाव करना पड़ा. 

सुधीर चौधरी और समीर आहलूवालिया की गिरफ्तारी पर इन्‍होंने क्‍या लिखा?

जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी और जी बिजनेस के संपादक समीर आहलूवालिया को दिल्‍ली पुलिस ने ब्‍लैकमेलिंग में गिरफ्तार किया है. सोशल मीडिया पर तो इन दोनों संपादकों की गिरफ्तारी का ज्‍यादातर लोगों ने स्‍वागत किया है. कारण कि इन जैसे लोगों के चलते ही मीडिया बदनाम हो रही है. इन्‍हीं दलालियों और ब्‍लैकमेलिंग के जरिए ऐसे लोग शीर्ष पर पहुंच रहे हैं और पूरे माहौल को गंदा कर रहे हैं. सभी बड़े अखबार तथा चैनलों की वेबसाइटों ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया है. आप भी पढ़े किसने क्‍या लिखा?

एक चैनल को बैन करवाने वाले सुधीर के खिलाफ यह फैसला देर से हुआ

कभी सहारा समय के ब्यूरो चीफ, कभी इंडिया टीवी में रजत शर्मा के ख़ासम ख़ास रहे, और लाइव इंडिया में एक टीचर का फर्ज़ी स्टिंग चलाकर और अपने एक बेहद जूनियर के सिर सारा इल्ज़ाम जड़ कर, उसको जेल भिजवा कर सरकार के हाथों पहली बार एक चैनल को बैन कराने का रिकार्ड बना चुके सुधीर चौधरी अपने पुराने संस्थान ज़ी न्यूज़ दोबारा क्या गये कि उनके जेल जाने का परवाना ही तैयार हो गया.

ब्लैकमेलर सुधीर चौधरी, बेजमीर पुण्य प्रसून बाजपेयी

ज़ी न्यूज़ के संपादक सुधीर चौधरी और बिज़नेस हेड समीर आहलूवालिया की आज हुई गिरफ़्तारी का स्वागत किया जाना चाहिए। मीडिया के लिए यह बहुत अच्छा सबक है। यह और ऐसा कुछ बहुत पहले होना चाहिए था। आगे यह सिलसिला जारी रहना चाहिए। भस्मासुर में तब्दील होती जा रही मीडिया और उस के सरोकार जिस तरह हमारे सामने है, यह झटका बहुत पहले मिलना चाहिए था। जिस तरह मीडिया पर प्रबंधन और उस का व्यवसाय हावी होता जा रहा है, संपादक नाम की संस्था अब दलाल, लायजनर, मैनेजर और मालिकों का पिट्ठू बन कर जन-सरोकारों से मुह मोड़ कर सिर्फ़ और सिर्फ़ व्यवसाय देखने में लग गई है, वह हैरतंगेज़ है। सिर्फ़ और सिर्फ़ मीडिया मालिकों के हित साधने में लगे संपादकों को उन की इस कुत्तागिरी के लिए जितनी सज़ा दी जाए कम है। 

सुनो, हम दोनों अरेस्ट हो गए, ब्रेकिंग चलवाओ…मेन एंकर को लगाकर इसे लोकतंत्र और मीडिया पर हमला बताओ

Mayank Saxena  :  चम्पादक और पुलिस संवाद….

******************************

चम्पादक- जी, आप कैसे गिरफ्तार कर सकते हैं एक चम्पादक को…वो भी दफ्तर से…

पुलिस अधिकारी- आपके खिलाफ़ वारंट है…

संपादकों की गिरफ्तारी को जो मीडिया की आज़ादी पर हमला कहेगा वो पत्रकार नहीं दलाल है

Akhilesh Sharma : मुझे अपने पत्रकार होने पर फ़ख़्र है। मैं ऐसा नहीं हूँ। सारे पत्रकारों को ये बिल्ला टाँग कर घूमना पड़ेगा। नाक कट गई यार। मीडिया की साख के ताबूत पर ये आख़िरी कील है। जो इसे मीडिया की आज़ादी पर हमला कहेगा वो पत्रकार नहीं दलाल है।

ये क्या किया पुण्य प्रसून बाजपेयी? तुमसे ये उम्मीद न थी, शेम! शेम!!

सरोकार और नैतिकता वाली पत्रकारिता के मसीहा बने फिरने वाले और बेबाक बोल बोलने के लिए चर्चित पुण्य प्रसून बाजपेयी के चेहरे से भी नकाब उठ गया. नौकरी की नैतिकता ने उनकी खुद की वैचारिक तेज को ढंक लिया और उन्हें सुधीर चौधरी व समीर अहलूवालिया की गिरफ्तारी पर जलेबी छानने को मजबूर कर दिया. पुण्य प्रसून जिस जी न्यूज चैनल में एंकरिंग करते हैं, उस चैनल के दो संपादकों को ब्लैकमेलिंग कांड में गिरफ्तार किए जाने के प्रकरण को वो आपातकाल से जोड़ कर देख रहे हैं, मीडिया के पैरों में बेड़ियां डाले जाने के रूप में देख रहे हैं.. क्या वे खुद के चश्मे से यह सब देख रहे हैं या फिर सुभाष चंद्रा और पुनीत गोयनका के चश्मे का पावर चढ़ा हुआ है उनकी आंखों पर?

सुभाष चंद्रा और पुनीत गोयनका को क्यों नहीं अरेस्ट किया पुलिस ने?

जिन सुभाष चंद्रा और पुनीत गोयनका के कहने पर इनके संपादक द्वय सुधीर चौधरी और समीर अहलूवालिया जिंदल समूह के मालिक नवीन जिंदल को ब्लैकमेल कर रहे थे, खबरें रोकने के लिए सौ करोड़ रुपये मांग रहे थे, उन मीडिया मालिकों को पुलिस ने अरेस्ट क्यों नहीं किया? क्या इसलिए कि वे बड़े लोग हैं, मालिक लोग हैं, रसूख वाले हैं, सत्ता केंद्रों तक उनकी सीधी पहुंच है… बस इसलिए? यह तो बड़ा अन्याय है.

सुधीर चौधरी और समीर अहलूवालिया को पुलिस ने गिरफ्तार किया

अभी अभी सूचना मिली है कि जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी और जी बिजनेस के संपादक समीर अहलुवालिया को दिल्ली पुलिस ने साजिश रचने और ब्लैकमेलिंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है. सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने नवीन जिंदल की तरफ से दर्ज कराई गई एफआईआर और मुहैया कराए गए सुबूतों की विवेचना के बाद गिरफ्तार करने का फैसला लिया.

बिहार में पहले पेज पर सबसे उपर प्रकाशित खबर- ‘विश्व के शीर्ष चिंतकों में नीतीशी भी’

Saroj Kumar : बिहार के अखबारों की बड़ी खबर…. 'विश्व के शीर्ष चिंतकों में नीतीशी भी'…पत्रकारों ने जबरदस्त खोजी पत्रकारिता का परिचय देते हुए खोज निकाला है- 'विश्व के शीर्ष चिंतकों में नीतीशी भी'….जी हां आज बिहार में पहले पेज की सबसे उपर छपी खबर है ये…शीर्षक भी यही है…सुशासन बाबू जय हो… 'फॉरेन पॉलिसी' पत्रिका की सूची से निकाल कर अखबार में बिहार की सबसे बड़ी खबर बनाई गई है इसे…

“आम आदमी पार्टी का हाथ जिन्दल साहब के साथ”

Thakur Gautam Katyayn : जिन्दल साहब देश में सबसे अमीर उद्योगपतियों में से एक हैं. इनकी सालाना आमदनी देश में सबसे ज्यादा है. इनकी तनख्वाह ही करीब सत्तर करोड़ रुपये सालाना है. इसमें इनकी शेयरों और संपत्ति से आमदनी को नहीं जोड़ा गया है. जिन्दल साहब कांग्रेस पार्टी के हैं लेकिन बंगाल में जिन्दल साहब के लिये ज़मीन छीनने के लिये जंगल महल के आदिवासियों पर मार्क्सवादी पार्टी ने भयंकर ज़ुल्म किये.

अंजना ओम कश्यप को इतनी बढ़िया रिपोर्ट और कसी हुई स्क्रिप्ट के लिए बधाई

Zafar Irshad : अभी-अभी 'आज तक' पर अंजना ओम कश्यप Anjana Om Kashyap की गोधरा पे रिपोर्ट देखी..गज़ब की रिपोर्ट थी..बखिया उधेड़ दी उन्होने मोदी के गुजरात विकास की..जब से गोधरा ट्रेन काण्ड हुआ है वहा विकास का कोई काम नही हुआ है नाली-सीवर-पानी-सड्के सब उस एक ट्रेन हादसे और मुस्लिम बाहुल्य होने का खामियाज़ा उठा रहे है..अगर कोई एक प्रदेश का राजा मोदी जो पूरे देश का राजा बनने का सपना देख रहा है अगर इस तरह भेदभाव करेगा तो वो कैसे कल को प्रधानमन्त्री बन पायेगा..बधाई अंजना जी इतनी बढिया रिपोर्ट और कसी हुई स्क्रिप्ट के लिये…

प्रो. विश्वनाथ मिश्र पर ब्राह्मणों ने गांव में घुसने पर पाबंदी लगा दी थी

रुद्रपुर : प्रख्यात लेखक, विचारक, अनुवादक, वामपंथी विचारों के पुरोधा और चर्चित पत्रिका ‘दायित्वबोध’ के पूर्व संपादक प्रो0 विश्वनाथ मिश्र के निधन पर यहां गांधी पार्क में एक बैठक आयोजित की गई जिसमें प्रो0 मिश्र के समाज हित में किए गये कार्यों का स्मरण करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी गई. बैठक में कहा गया कि कमाई केन्द्रित होते जा रहे वाम बुद्धिजीवियों के बीच विश्वनाथ मिश्र की आजीवन सामाजिक और बौद्धिक सक्रियता नयी पीढ़ी के लिए आदर्श है. उनके द्वारा लिखा ‘विद्रोही वाल्मीकि’ नाटक काफी चर्चा और विवादों में रहा, तो उनके अनूदित उपन्यास 'आदि विद्रोही' को पढ़कर हजारों हिंदी भाषी युवा सामाजिक-राजनीतिक बदलाव के वामपंथी विकल्प चुनने को तत्पर हुए. उन्होंने दर्जनों विश्वप्रसिद्ध साहित्य और राजनितिक पुस्तकों का अनुवाद किया, जिसके बदले आजीवन कोई मेहनताना नहीं लिया. उसी लेखकीय सक्रियता का असर था कि इन्टरनेट से दूर रहने वाले विश्वनाथ मिश्र ने गॉड पार्टिकल मुद्दे पर एक बेहद ही सरल भाषा में लोकप्रिय लेख लिखा.

रिटायर्ड आईपीएस अफसर के घरों पर “चोर पहरा”

नेशनल आरटीआई फोरम, लखनऊ की कन्वेनर डॉ नूतन ठाकुर ने आज डीजीपी, यूपी को एक पत्र लिख कर उत्तर प्रदेश में पुलिस विभाग के हेड कॉन्स्टेबल, कॉन्स्टेबल, चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों के दुरुपयोग के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए उनसे इस सम्बन्ध में अपेक्षित कार्यवाही की मांग की है. आरटीआई द्वारा लखनऊ पुलिस, 32 वीं और 35वीं वाहिनी पीएसी से प्राप्त सूचना के अनुसार लखनऊ पुलिस लाइन से चार अवकाशप्राप्त आईपीएस अधिकारियों के साथ कुल छह पुलिस कर्मी (एक हेड कॉन्स्टेबल तथा पांच कॉन्स्टेबल) अभी तक “चोर पहरा” ड्यूटी पर लगे हैं.

हरियाणा सरकार की ‘चोरी’ से डा. नंदलाल मेहता वागीश दुखी

हरियाणा सरकार ने सर्व शिक्षा अभियान के तहत कक्षा पाँच के हिंदी के पाठ्यक्रम में 72 वर्षीय डॉ. नंदलाल मेहता वागीश की एक रचना को शामिल किया। पर प्रकाशन से पहले न तो लेखक की स्वीकृति ली गई, न ही उनका नाम ही लेख के साथ प्रकाशित किया गया है। यह भी बताने की शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने जरूरत नहीं समझी कि उन्होंने यह लेख किस पुस्तक से साभार लिया है। डॉ. वागीश अब तक 18 पुस्तक लिख चुके हैं। लेखक, समीक्षक एवं भाषाविद डॉ. वागीश संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के पूर्व सीनियर फैलो भी रह चुके हैं।

एएनआई को एक महीने में दूसरा बड़ा झटका, श्रीनारायण झा का इस्तीफा

एएनआई से श्रीनारायण झा ने डायरेक्टर सुरेंद कपूर को इस्तीफा सौप दिया है। एक महीने के अंदर एएनआई से इस्तीफा देने वाले श्रीनारायण दूसरे सीनियर हैं। श्री नारायण तकरीबन 6 सालों से एएनआई में कोआर्डिनेशन में अहम भूमिका अदा कर रहे थे। झा, पंकज चौधरी की टीम के हिस्सा हुआ करते थे। लेकिन सुरेंद्र कपूर ने अपने बेटे नवीन कपूर को इनपुट हेड बनाने और पंकज चौधरी को अपदस्थ करने के लिए श्रीनारायण को कोआर्डिनेशन से हटाकर प्रोग्रामिंग में शिफ्ट कर दिया।

पत्रकार, विचारक प्रो. विश्‍वनाथ मिश्र का लखनऊ में निधन

प्रख्यात लेखक, विचारक, अनुवादक, वामपंथी विचारों के पुरोधा और चर्चित पत्रिका ‘दायित्वबोध’ के पूर्व संपादक प्रो. विश्वनाथ मिश्र के निधन की सूचना मिली है. प्रोफेसर विश्वनाथ मिश्र का आज सुबह करीब दस बजे लखनऊ के विवेकानंद पालिक्लिनिक में निधन हो गया. 9 नवंबर को उनका ब्रेन हैमरेज हुआ था, तबसे वह लखनऊ में भर्ती थे.

सहारा निवेशकों के सत्‍यापन के लिए कई एजेंसियां तैयार

नई दिल्ली : सहारा समूह की दो कंपनियों के निवेशकों के सत्यापन में कईं कंपनियों ने अपनी रुचि जाहिर की है। इनमें कार्वी, कैम्स, एनएसडीएल व सीडीएसएल शामिल हैं। पूंजी बाजार नियामक सेबी फिलहाल सहारा की इन कंपनियों के तकरीबन तीन करोड़ निवेशकों के व्यक्तिगत सत्यापन (आईवीपी) के लिए एजेंसी के चयन की प्रक्रिया में है।

राष्‍ट्रीय सहारा के ब्‍यूरो प्रमुख कुणाल को ‘स्‍टार उदय सम्‍मान’

 

उदय सामाजिक सांस्कृतिक मंच द्वारा ‘राष्ट्रीय सहारा’ के ब्यूरो प्रमुख कुणाल को खोजी पत्रकारिता के लिए ‘स्टार उदय सम्मान’ से नवाजा गया. एलटीजी सभागार में सोमवार को उदय सामाजिक सांस्कृतिक मंच द्वारा आयोजित समारोह में ‘राष्ट्रीय सहारा’ के ब्यूरो प्रमुख कुणाल को खोजी पत्रकारिता के लिए ‘स्टार उदय सम्मान’ से नवाजा गया.

जब डीजीपी ही सांप्रदायिक हो तो दंगे तो होंगे ही : सुभाषिनी अली

 

: बेगुनाहों को छोड़कर सरकार को उन्हें पद्म विभूषण देना चाहिए – संदीप पांडे : जनहित याचिका पर न्यायाधीशों की टिप्पणी अनावश्यक – असद हयात : लखनऊ। रिहाई मंच द्वारा विधान सभा धरना स्थल लखनऊ में आतंकवाद के नाम पर कैद निर्दोषों को छोड़ने और सांप्रदायिक दंगों की जांच की मांग को लेकर हुए धरने में राजनीतिक दलों, उलेमाओं, सामाजिक संगठनों ने सपा सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए कहा 2014 में मुसलमान सपा को सबक सिखाएंगे। पिछले दिनों दस साल जेल में रहने के बाद निर्दोष बरी हुए कानपुर के मुमताज समेत धरने में पूरे सूबे से आतंकवाद के नाम पर कैद निर्दोषों तथा इस सरकार में हुए दंगों के पीडि़त परिवार भी मौजूद थे।

दैनिक प्रभात, गाजियाबाद ने मनाया वर्षगांठ, एनई दिलीप झा को अवार्ड

 

गाजियाबाद। दैनिक प्रभात के गाजियाबाद संस्करण द्वारा वर्षगांठ -२०१२ के उपलक्ष्य में आयोजित संगोष्ठी में ''विश्वसनीयता पर प्रश्नचिन्ह : मीडिया बना मंडी'' पर अपना विचार व्यक्त करते हुए संगोष्ठी के मुख्य वक्ता 'द संडे इंडियन' के संपादक ओंकारेश्वर पांडे ने पत्रकारों को समाचार पर अपने विचारों को स्थान देने की बात कही। उन्होंने कहा कि मीडियाकर्मियों को अपने दायित्व का बोध होना चाहिए कि आखिर वह समाचारों को किस रूप में प्रकाशित करना चाहते हैं। 

पत्रकार शाशिकांत को फर्जी फंसाए जाने के विरोध में पत्रकारों का धरना जारी

 

जालौन में सपा नेता पर हुए हमले के आरोप में एक पत्रकार को फर्जी फंसा कर जेल भेजने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। जिसको लेकर पत्रकार 22 नवम्बर से जिलाधिकारी परिसर में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गये हैं। आपको बता दें कि 6 नवम्बर को देर रात जालौन के एट थाना क्षेत्र में सपा के पूर्व कोषाध्यक्ष राकेश पटेल जब अपने गाँव सोमई से बाइक से एट जा रहे थे तभी कुछ अज्ञात हमलावरों ने उन पर फायरिंग कर दी जिसमें वो घायल हो गये थे। घटना के नौ दिन बाद सपा नेता के भाई ने 16 नवम्बर 2012 को गाँव के ही दैनिक समाचार पत्र अमर उजाला के पत्रकार शशिकांत तिवारी के खिलाफ झूठा मामला दर्ज कराया था, जिस पर पुलिस ने करवाई कर पत्रकार को जेल भेज दिया था। 

पत्रकार पर हमला करने वालों की गिरफ्तारी की मांग, एसएसपी से मिले मीडियाकर्मी

 

एटा : टीवी चैनल के पत्रकार देवेश पाल सिंह चौहान पर हुये जान लेवा हमले के आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर एटा जनपद के पत्रकार सोमवार को एसएसपी से मिले तथा आरोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की। इस दौरान एसएसपी ने उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है। उन्नीस नवंबर को रात नौ बजे पत्रकार देवेश पाल सिंह पर उस वक्त हमला किया गया था जब वे अपनी कार से अवागढ़ से एटा आ रहे थे। 

फेसबुक पर कमेंट का मामला : एसपी सस्‍पेंड, मजिस्‍ट्रेट का तबादला

 

मुंबई। फेसबुक पर ठाकरे विरोधी कमेंट करने पर 2 लड़कियों को अरेस्ट करने के मामले में सरकार ने लापरवाही बरतने पर सीनियर पुलिस ऑफिसर्स के खिलाफ सख्त ऐक्शन लिया है। सरकार ने ठाणे रूरल के एसपी रविन्द्र सेनगांवकर को सस्पेंड करने का फैसला लिया है। उधर बॉम्बे हाई कोर्ट ने इन दोनों लड़कियों को 15-15 हजार रुपये की जमानत पर रिहा करने वाले फर्स्ट क्लास जुडिशल मजिस्ट्रेट रामचंद्र बागडे का ट्रांसफर कर दिया है।

पत्रकार हामिद की कार में बम रखकर उड़ाने की कोशिश, बाल-बाल बचे

पाकिस्तान के जाने माने पत्रकार हामिद मीर पर कातिलाना हमला हुआ है लेकिन उनकी जान बच गई है. हामिद मीर जियो टेलिविजन में कैपिटल टॉक शो के मेजबान हैं और कुछ दिनों से तालिबान के निशाने पर थे. पुलिस ने सोमवार को इस्लामाबाद में मीर की गाड़ी के नीचे से एक बम को निष्क्रिय किया. पिछले महीने लड़कियों की शिक्षा की पैरवी करने वाली मलाला युसुफजई पर तालिबान के हमले का मुद्दा मीर ने अपने शो पर उठाया था. 

जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ से कई निकाले गए

 

मुश्किल दौर से गुजर रहे जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ से खबर है कि संस्‍थान से 15 रिपोर्टरों को बाहर किए जाने की तैयारी है. प्रबंधन के इस निर्णय से अखबार में हड़कम्‍प मचा हुआ है. जिन लोगों को बाहर किया गया है या किया जाना है उनमें कई वरिष्‍ठ पत्रकार हैं. जिन लोगों के नाम की जानकारी मिली है उनमें शिव शंकर गोस्‍वामी, मुकुल मिश्र, अविनाश कुमार, प्रमोद श्रीवास्‍तव, सुधीर श्रीवास्‍तव के नाम शामिल हैं. इन लोगों को दस दिन का नोटिस दिया गया है. 

पोंटी के साथ डूब गयी कई राजनेताओं और अधिकारियों की काली कमाई

 

: छिपाना भी हुआ मुश्किल और बताना भी हुआ मुश्किल : देहरादून : पोंटी चड्ढा की मौत के साथ कई राज भी दफन हो गए। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में शराब और चीनी कारोबार सहित खनन और रियल स्टेट में दोनों राज्य के कई राजनेताओं और ब्यूरोक्रेटस का काला धन लगा था जो पोंटी चड्ढा के मरने के बाद डूब गया है। पोंटी चड्ढा की वेव कम्पनी में मात्र व्यवसायिक घरानों का ही नहीं बल्कि राजनेताओं और अधिकारियों का काला धन भी लगा था। यह बात केवल या तो पोंटी चढ्ढा ही जनता था या फिर काला धन लगाने वाले अधिकारी और राजनेताओं को ही पता था कि उन्होंने कितना पैसा लगाया है। 

आम आदमी का अखबार बने जनवाणी : महामहिम

 

: समाचार पत्र के उत्तराखंड संस्करण के लोकार्पण कार्यक्रम में बोले प्रदेश के राज्यपाल : देहरादून : उत्तराखंड के राज्यपाल डॉ. अजीज कुरैशी ने गॉडविन मीडिया ग्रुप के लोकप्रिय समाचार पत्र दैनिक जनवाणी का विधिवत लोकार्पण करते हुए उम्मीद जताई कि जनवाणी समाज के सबसे निचले तबके की आवाज बनेगा। देश में पत्रकारों की दशा पर चिंता जताते हुए उन्होंने पत्रकारों की सुरक्षा के लिए कानून बनाने की जोरदार वकालत की। उन्होंने कहा कि वह केंद्र सरकार को इस बाबत पत्र भी लिख चुके हैं।

जनवाणी का अगला पड़ाव हिमाचल प्रदेश : जितेंद्र बाजवा

 

गॉडविन मीडिया समूह के निदेशक जितेन्द्र बाजवा ने जनवाणी के लोकार्पण समारोह के अवसर पर ऐलान किया कि यूपी और अब उत्तराखंड के बाद जनवाणी का अगला पड़ाव हिमाचल प्रदेश होगा। जल्द ही जनवाणी का हिमाचल संस्करण आरंभ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हमारी किसी अखबार से कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है। हमारा लक्ष्य अखबारों की भीड़ में अलग जगह बनाना है। दो साल की छोटी सी यात्रा में हम यह जगह बनाने में सफल रहे हैं। 

देहरादून से जनवाणी की दमदार लांचिंग, राज्‍यपाल कुरैशी एवं हरीश रावत ने किया लोकार्पण

: जनसरोकारों की पत्रकारिता जीवित रखने की जरूरत – महामहिम : देहरादून : उत्तर प्रदेश में दमदार उपस्थिति दर्ज कराने के बाद रविवार को दैनिक जनवाणी ने उत्तराखंड में शानदार तरीके से दस्तक दी। राज्यपाल डा. अज़ीज़ कुरैशी, केंद्रीय जल संसाधन मंत्री हरीश रावत, देहरादून के मेयर विनोद चमोली, गॉडविन मीडिया समूह के निदेशक भूपेंद्र सिंह बाजवा व जितेंद्र सिंह बाजवा, दैनिक जनवाणी के समूह संपादक यशपाल सिंह और उत्तराखंड स्टेट हेड योगेश भट्ट समेत सैकड़ों लोग उत्तराखंड में दैनिक जनवाणी के लोकार्पण के गवाह बने।

अमर उजाला में शाहजहांपुर से बदायूं भेजे गए सिद्दीक, जागरण में भी हलचल

 

बदायूं के अमर उजाला कार्यालय में वैकल्पिक व्यवस्था के तहत शाहजहांपुर से मो. सिद्दीक को भेजा गया है. सिद्दीक इससे पहले यहीं अमर उजाला में रह चुके हैं. शिकायतों के चलते इनका तबादला शाहजहांपुर किया गया था. उससे पहले हिन्दुस्तान के बदायूं कार्यालय में ही क्राइम रिपोर्टर थे, लेकिन तमाम तरह के आरोपों के चलते इन्हें हिन्दुस्तान ने बर्खास्त कर दिया था. मूल रूप से पीलीभीत के निवासी सिद्दीक बदायूं रहने के इच्छुक नहीं हैं, पर अधिकारियों के आदेश पर वैकल्पिक व्यवस्था के तहत कुछ दिन काम देखने आ गए हैं. 

जी छत्‍तीसगढ़ से मनहर और प्रीतम का इस्‍तीफा

 

जी24घंटे, रायपुर से लोगों के जाने का सिलसिला लगातार जारी है. खबर है कि असाइंनमेट डेस्क पर कार्यरत मनहर चौधरी ने इस्तीफा दे दिया है. मनहर अपनी उपेक्षा से परेशान थे. बताया जा रहा है कि पुराने कर्मचारियों की लगातार उपेक्षा की जा रही है. मनहर के अलावा डेस्‍क पर तैनात प्रीतम पांडेय ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. दोनों लोग अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. 

कांग्रेस विरोधियों पर क्‍यों उबल पड़ते हैं जस्टिस काटजू?

 

कोलकाता : भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बारे में कहा कि उन्हें अपनी आलोचना बर्दाश्त नहीं होती। प्रेस क्लब में एक कार्यक्रम में काटजू ने कहा, लोगों को आलोचना करने का अधिकार है और अगर कोई इसे सहन नहीं कर पाता है तो उसे राजनीति में रहने का कोई अधिकार नहीं। 

हिमाचल के वयोवृद्ध पत्रकार केके रैणा का निधन

  चंबा : हिमाचल प्रदेश के वयोवृद्ध पत्रकार केके रैणा का निधन हो गया. वे लम्‍बे समय से बीमार चल रहे थे. केके रैणा 90 वर्ष के थे व काफी समय तक पत्रकारिता करने के बाद वे जनसंघ से जुड़ गए थे. उनके निधन पर पत्रकार महासंघ व प्रेस क्लब के सदस्यों ने शोक व्यक्त …

अमर उजाला में निवेश करने वाले डीई शॉ का भारत में कारोबार घटा

 

छह साल पहले भारत में अपना निजी इक्विटी कारोबार शुरू करने के बाद डीई शॉ समूह देश में अपना कारोबार समेट रहा है। डीई शॉ समूह दुनिया के सबसे बड़े हेज फंडों में शुमार है। प्रमुख सूत्रों के मुताबिक पीई के भारत प्रमुख और प्रबंध निदेशक अनिल चावला ने डीई शॉ से इस्तीफा दे दिया है और अब वह हॉन्ग कॉन्ग में कंपनी के सलाहकार के तौर पर काम करेंगे। भारत में कंपनी का मुख्यालय गुडग़ांव में है और ऐसा माना जा रहा है कि उसने निवेश पेशेवरों की संख्या 15 से घटाकर 2 कर दी है। ये पेशेवर अब एक बिजनेस केंद्र से काम करेंगे बचे हुए पोर्टफोलियो से बाहर निकलने का काम देखेंगे। 

पत्रकार रवि पारीख के खिलाफ एफआईआर, न्यूज एक्सप्रेस से हटाए गए

नासिक से खबर है कि रवि पारीख नामक न्यूज एक्सप्रेस के पत्रकार के खिलाफ सरकारवाडी पुलिस स्टेशन में चारसौबीसी का मुकदमा दर्ज किया गया है. रवि पर आरोप है कि उन्होंने किसी दूसरे की कार को कब्जा कर अपना बताना शुरू कर दिया था. पुलिस तक जब बात पहुंची तो पुलिस ने जांच शुरू की. रवि ने कार को अपना बताने के लिए समर्थन में फर्जी दस्तावेज भी तैया करा लिया था. इन दस्तावेजों को उन्होंने पुलिस के सामने पेश कर दिया.

”वेबसाइटों पर निगरानी के लिए नियामक इकाई बने”

 

हैदराबाद : साइबर सुरक्षा से जुड़े एक विशेषज्ञ ने कहा है कि आपत्तिजनक सामग्री के चलते वेबसाइटों पर पूरी तरह रोक लगाने की बजाय ऐसा नियामक तंत्र और कानून बनाना बेहतर रहेगा जिससे कि वेबसाइट तेजी से सरकार को जवाब दे सकें. जाने माने कंप्यूटर सुरक्षा विशेषज्ञ और ऐथकल हैकर अंकित फ़ादिया ने कहा, ‘‘मैं लोकप्रिय सोशल नेटवर्किंग वेबसाइटों को पूरी तरह रोके जाने का समर्थन नहीं करता. अवैध सामग्री के संबंध में सरकार को नियामक प्राधिकरण की स्थापना करनी चाहिए जो इन सभी विभिन्न वेबसाइटों के साथ घनिष्ठता से काम करेगा. जब भी कुछ अनुचित सामग्री पोस्ट की जाएगी, उसे हटा दिया जाएगा.’’

जी ग्रुप भ्रम फैला रहा है : अमर उजाला

नई दिल्ली : समाचार पत्र प्रकाशित करने वाली कंपनी अमर उजाला समूह विदेशी निजी इक्विटी कंपनी डीई शा की हिस्सेदारी खरीदने की प्रक्रिया में है और बाद में इसे नये निवेशक को बेचने पर विचार करेगी. डीई शा ने 2007 में अमर उजाला पब्लिकेशंस में 18 प्रतिशत हिस्सेदारी 117 करोड़ रुपये में खरीदी थी. बाद में दोनो पक्षों में मतभेद हो गया. मीडिया कंपनी ने आरोप लगाया था कि संबंधित विदेशी निवेशक विदेशी निवेश संबंधी कुछ नियमों का उल्लंघन कर रहा है.

पत्रकार रवि पारीख के खिलाफ चार सौ बीसी का मामला दर्ज

 

नाशिक से खबर है कि पत्रकार रवि पारीख के खिलाफ सरकारवाड़ी थाने में आईपीसी की धारा 420 के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है. रवि पर आरोप है कि वे किसी दूसरे व्‍यक्ति की कार को अपनी कार बता रहे थे. पुलिस को इस पर शक हुआ तो उसने मामले की जांच की जांच में यह कार किसी और की निकली. बताया जा रहा है कि इस दौरान रवि ने कार के फर्जी एवं जाली दस्‍तावेज भी पुलिस के सामने पेश करने की कोशिश की. 

निखिल एवं रश्मि ने शुरू की नई पारी

 

लोकमत समाचार, औरंगाबाद से इस्तीफा देकर भोपाल पत्रिका ज्वाइन करने वाले निखिल सूर्यवंशी ने एक महीने में ही वहां से भी इस्तीफा दे दिया है और भोपाल में नईदुनिया समूह का अखबार नवदुनिया ज्वाइन कर लिया है। नईदुनिया, इंदौर में अंदरखाने ऐसी खबरें हैं कि सिटी लाइव के वर्तमान प्रभारी को बदला जा सकता है।

भोपाल एवं इंदौर में कई लोगों अपने संस्‍थान बदले

 

हिंदुस्तान टाइम्स डॉट कॉम के संपादक विजय थापा ने इस्तीफा दे दिया है। ऐसी खबरें हैं कि वो एबीपी न्यूज ज्वॉइन कर रहे हैं। विजय एचटी के पहले स्टार न्यूज, इंडिया टुडे इं​गलिश और टाइम्स आफ इंडिया में भी अच्छे पदों पर रह चुके हैं।

सेबी ने शुरू की सुब्रत राय तथा सहारा पर अभियोजन की प्रक्रिया

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने सहारा समूह की दो कंपनियों के खिलाफ अभियोजन की प्रक्रिया शुरू कर दी है। बाजार नियामक ने आरोप लगाया है कि उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार सहारा समूह तीन करोड़ निवेशकों से संबंधित दस्तावेज मुहैया कराने में असफल रहा है। सेबी ने कहा, 'सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन (एसआईआरईसीएल) और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन (एसएचसीआईएल) और उनके प्रवर्तकों-निदेशकों अशोक राय चौधरी, रवि शंकर दुबे, वंदना भार्गव और सुब्रत राय सहारा के खिलाफ अभियोजन की प्रक्रिया शुरू की गई है। 

कोर्ट का आदेश- फर्जी इंटरव्यू छापने वाले रिपोर्टर रमन, संपादक भट्टाचार्या, मुद्रक-प्रकाशक दीपक और संजीव को जेल भेजो

: अनन्त कुमार सिंह के झूठे साक्षात्कार के मामले में दोषी पत्रकारों की अपील खारिज : आईएएस अनन्त कुमार सिंह का मनगढ़न्त साक्षात्कार लिखने वाले पत्रकार की सजा बरकरार : श्री पी0एन0 श्रीवास्तव, अपर सत्र न्यायाधीश लखनऊ ने अनन्त कुमार सिंह, तत्कालीन जिलाधिकारी, मुजफ्फरनगर का मनगढ़न्त साक्षात्कार छापने वाले रिपोर्टर रमन किरपाल, सम्पादक ए0के0 भट्टाचार्या, मुद्रक एवं प्रकाशक दीपक मुखर्जी एवं संजीव कंवर के द्वारा अधीनस्थ न्यायालय के कारावास एवं जुर्माने की सजा के विरुद्ध दाखिल अपील अपने निर्णय दिनांक 22.11.2012 के द्वारा निरस्त कर दी है। 

आईएएस अनंत कुमार सिंह का फर्जी इंटरव्यू छापने में कई पत्रकार जेल जाने से नहीं बच पाएंगे

: Court dismisses appeals of journalists for publishing concocted interview of Anant Kumar Singh : Conviction for publishing concoted interview of Anant Kumar Singh upheld : Journalists to serve jail term for publishing concoted interview of Anant Kumar Singh : Shri P.N. Srivastav, Additional District Judge, TECP-V, Lucknow has dismissed on 22.11.2012 the appeal of Raman Kirpal (reporter), A.K. Bhattacharya (editor), Deepak Mukherjee and Sanjiv Kanwar (printers and publishers) against the conviction order passed by the Court of Chief Judicial Magistrate (Customs) in the year 2007 for publishing a concocted interview of the then District Magistrate Anant Kumar Singh by the sensational title “Any man will rape a woman in a lonely spot: DM, Muzaffarnagar” along with his photographs.

क्या वाकई राज एक्सप्रेस में ऐसी स्थिति है?

भड़ास को एक पत्र मिला है. इस पत्र में राज एक्सप्रेस अखबार में कार्यरत कर्मियों की खराब हालत के बारे में जानकारी दी गई है. मध्यम और छोटे दर्जे के अखबारों में काम के हालात कैसे हैं और शोषण किस तरह होता है, यह कोई नई बात नहीं है. पर दुर्भाग्य यह कि इसमें काम करने वाले लोग भी खुलकर विरोध नहीं कर पाते क्योंकि उन्हें भी येनकेन प्रकारेण पैसे चाहिए और परिवार चलाना है. इसी पापी पेट के कारण लोग अपनी नैतिकता, सरोकार, विचार सब भूल जाते हैं और अंततः जो नतीजा सामने आता है वो ये कि हम सब लूट तंत्र के खामोश या सक्रिय हिस्से बन जाते हैं. पत्र यहां इसलिए प्रकाशित किया जा रहा है ताकि राज प्रबंधन संज्ञान ले और चीजों को दुरुस्त करे. एडिटर, भड़ास4मीडिया

बाल ठाकरे की सुरक्षा में भारी खामियां खोजी थी हेडली ने

  मुंबई पर आतंकी हमलों की साजिश रचने वाले डेविड हेडली ने आतंकवादियों से कहा था कि बाल ठाकरे बहुत आसान निशाना हैं। हेडली ने 2008 में बांद्रा स्थित मातोश्री के आसपास भी छानबीन की थी। यह राजफ़ाश पत्रकार हुसैन जैदी ने अपनी जल्द प्रकाशित होने वाली किताब 'हेडली ऐंड आई' में किया है।   …

मदन मोहन मालवीय पत्रकारिता पुरस्‍कार के लिए प्रविष्ठियां आमंत्रित

 

मेवाड़ संस्थान, सैक्टर 4सी, वसुन्धरा, गाजियाबाद में प्रत्येक वर्ष की भांति सोमवार, 24 दिसम्बर, 2012 को दोपहर 2:30 बजे महामना मदन मोहन मालवीय जयंती के उपलक्ष में आठवां पत्रकार प्रोत्साहन पुरस्कार समारोह का आयोजन किया जा रहा है। पत्रकार प्रोत्साहन पुरस्कार में हिन्दी व अंग्रेजी (प्रिन्ट/टी.वी./इन्टरनेट) संवाददाता के अतिरिक्त फीचर राइटर, कार्टूनिस्ट, फोटोग्राफर/कैमरामैन आदि जो गाजियाबाद, नोएडा, फरीदाबाद, एनसीआर आदि क्षेत्रों में कार्यरत है उन्हें प्रोत्साहन पुरस्कार द्वारा सम्मानित एवं पुरस्कृत करने के लिए नांमाकित किया जायेगा।

48 लाख करोड़ का थोरियम घोटाला (भाग चार)

संसद का मानसून सत्र समाप्त हो चुका है. कोयले घोटाले की आंच ने सरकार को संसद में बैठने नहीं दिया. 1.86 लाख करोड़ के घोटाले ने हर भारतीय के दिमाग की नसें हिला दी है. पहली बार किसी ने इतने बड़े घोटाले के बारे में पढ़ा है. इस बारे में काफी कुछ लिखा जा चुका है और जनमानस भी इससे काफी वाकिफ हो चुका है. लेकिन इन सबके बीच एक और घोटाला ऐसा हुआ है जिसके बारे में व्यापक जनमानस अब तक अनजान ही है. ये एक ऐसा घोटाला है जिसमें हुई क्षति वैसे तो लगभग अमूल्य ही है लेकिन कहने के लिए द्रव्यात्मक तरीके से ये करीबन 48 लाख करोड़ का पड़ेगा. प्रो कल्याण जैसे सचेत और सचेष्ट नागरिकों के प्रयास से ये एकाधिक बार ट्विट्टर पर तो चर्चा में आया लेकिन व्यापक जनमानस अभी भी इससे अनजान ही है. 

आज के फिल्मवाले ‘सूफी’ का मतलब भी समझते हैं क्या..? (इंटरव्‍यू)

: जाने-माने कव्वाल वारसी भाइयों से खास मुलाकात : कव्वाली की 850 साल की विरासत को सहेजने वाले हैदराबाद के वारसी घराने के प्रतिनिधि नजीर अहमद खान वारसी और नसीर अहमद खान वारसी को हिंदी फिल्मों में कव्वाली पेश करने के अंदाज पर एतराज है। 2010 में उपराष्ट्रपति मुहम्मद हामिद अंसारी के हाथों संगीत नाटक अकादमी अवार्ड पा चुके और देश-विदेश के कई प्रतिष्ठित मंचों पर अपनी कव्वाली पेश करने वाले दोनो भाई फिल्मों में सिर्फ वहीं कलाम गाना चाहते हैं जहां पेश करने का अंदाज भी सलीके का हो। स्पिक मैके के कार्यक्रम में 5 नवंबर 2012 को भिलाई आए वारसी भाइयों ने स्टील क्लब में अपने प्रोग्राम से ठीक पहले मोहम्‍मद जाकिर हुसैन से की दिल की बातें।  

पत्रकार को फर्जी फंसाए जाने के विरोध में उरई में सर्वदलीय सभा

 

जालौन में सपा नेता पर हुए जानलेवा हमले के मामले में अमर उजाला के पत्रकार को फर्जी फंसाए जाने का विरोध तेज हो गया है. पिछले कई दिनों से उरई में जिलाधिकारी कार्यालय के समक्ष क्रमिक धरना कर रहे पत्रकार अब भी जमे हुए हैं. रविवार को सर्वदलीय सभा आयोजित की गई है, जिसमें सभी दलों के लोग भाग ले रहे हैं. सत्‍ताधारी पार्टी सपा के लोग भी इस सभा में सम्मिलित हैं. प्रशासन के रवैये से पत्रकारों में खासा रोष है. 

नागपुर से जल्‍द लांच होगा कैरियर एवेन्यू

 

नागपुर की मीडिया मंडी की मजबूती में भूमिका निभाने जल्द ही एक और पाक्षिक पत्र शुमार होने वाला है। नागपुर से प्रकाशित होकर देश भर में वितरण की योजना के साथ कैरियर एवेन्यू धमक के साथ प्रकाशित होने की पूरी तैयारी में है। पत्रिका के प्रबंधन से जुड़े डा. सुरजीत कु सिंह ने संभावना जताई कि इसे जनवरी, 2013 में लांच कर दिया जाएगा। करीब 24 से 32 पेज के इस पाक्षिक में विभिन्न प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे युवाओं के लिए महत्वपूर्ण सामयिक सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी। इसके अलावा स्कूल-कॉलेज स्तर के विद्यार्थियों के कैरियर की सही राह दिखाने वाली जानकारी दी जाएगी।

राष्‍ट्रीय सहारा में रिटायरमेंट की उम्र 65 साल की गई

 

सहारा मीडिया में प्रिंट वाले आज काल काफी खुश हैं. खासकर वे कर्मचारी जो जल्‍द ही रिटायर होने वाले थे. वे अगले पांच साल तक बिना रोक टोक ऑफिस आ सकते हैं. जी हां, प्रबंधन ने प्रिंट मीडिया के कर्मचारियों के रिटायरमेंट की उम्र बढ़ा दिया है. सहारा के प्रिंट सेक्‍शन में रिटायर होने की उम्र अब साठ साल से बढ़ाकर 65 साल कर दिया गया है. यानी जो कर्मचारी कुछ महीनों या दिनों में रिटायर होने वाले थे, उनको इस निर्णय के बाद से पांच साल का एक्‍सटेंशन मिल गया है.

बीटीवी, भोपाल से कमाल, राजेश और आदित्‍य का इस्‍तीफा

 

खबर बीटीवी भोपाल से है। तीन कर्मचारियों ने इस्तीफा दे दिया है। यहां मार्केटिंग डिपार्टमेंट से कमाल पाशा और राजेश मल्लाह ने इस्तीफा दे दिया है। कमाल पाशा बीटीवी की शुरुआत से ही जुड़े थे। जबकी राजेश ने भी लंबे समय तक बीटीवी में अपनी सेवाएं दी हैं। दोनों सिटी न्यूज से अपनी नई पारी की शुरुआत कर रहे हैं। कमाल जहां बतौर मार्केटिंग हेड ज्वाइन कर रहे हैं तो राजेश भी सीनियर पोजिशन पर पहुंचे हैं। दोनों के जाने से बीटीवी की मार्केटिंग पर अच्छा खासा असर पड़ेगा। बीटीवी में काफी समय बाद ऐसा हुआ है जब मार्केटिंग डिपार्टमेंट से किसी ने इस्तीफा दिया है।

पोंटी और हरदीप को नामधारी ने मारी थीं गोलियां?

 

नई दिल्ली : तो क्या छतरपुर में फार्म हाउस संख्या 42 पर हुई फायरिंग में पोंटी चड्ढा और उनके छोटे भाई हरदीप को सुखदेव सिंह नामधारी ने गोलियां मारी थी! जांच में नामधारी द्वारा प्वाइंट 30 बोर की पिस्टल से फायरिंग करने की बात सामने आने के बाद पुलिस की जांच इस दिशा में घूमती नजर आ रही है। अधिकारियों के अनुसार नामधारी के पास मौजूद पिस्टल का लाइसेंस नहीं था। बावजूद अपने गुडों के साथ फार्म हाउस पर कब्जा करने नामधारी पिस्टल को साथ लेकर आया था। घटना के समय फायरिंग करने तथा पिस्टल की बात उसने पुलिस से छिपाई थी। इससे साबित हो रहा है कि उसके इरादे नेक नहीं थे।

दैनिक भास्‍कर समूह के डीबी पावर पर मेहबानी क्यों?

 

नई दिल्ली। डीबी पावर लिमिटेड व जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड समेत कई निजी कंपनियो का आवंटन रद्द न करने को लेकर अंतर मंत्रालीय समूह (आईएमजी) पर निजी कंपनियों के हित में काम करने का आरोप लगाते हुए भाजपा सांसद हंसराज अहीर ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से हस्तक्षेप करने व संबंघित अघिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

केट की टॉपलेस फोटो छापने वाले संपादक ने दिया इस्‍तीफा

 

ब्रिटेन की डचेज़ ऑफ़ कैम्ब्रिज केट की 'टॉपलेस' यानी अर्धनग्न तस्वीरें आयरलैंड के अखबार 'आयरिश डेली स्टार' में 15 सितंबर को छापे जाने के मुद्दे पर अखबार के संपादक को इस्तीफा देना पड़ा है. सितंबर में प्रिंस विलियम और डचेज़ ऑफ़ कैम्ब्रिज केट की फ्रांस में छुट्टी मनाते समय छिपकर खींची गई तस्वीरों के छपने से हंगामा मच गया था.

साधना टीवी में स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट बने भूपेंद्र

  फोकस टीवी से खबर है कि भूपेंद्र कुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे इस चैनल के साथ लांचिंग के समय से जुड़े हुए थे. भूपेंद्र ने अपनी नई पारी नोएडा में साधना न्‍यूज के साथ शुरू की है. उन्‍हें रिसर्च विंग का हेड बनाया गया है, साथ ही स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट की जिम्‍मेदारी …

उच्च न्यायालय की टिप्पणी न्यायिक गरिमा के खिलाफ

लखनऊ : रिहाई मंच के अध्यक्ष एडवोकेट मोहम्मद शुऐब और इलाहाबाद हाई कोर्ट के अधिवक्ता और मानवाधिकार संगठन पीयूएचआर के प्रवक्ता सतेन्द्र सिंह ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा आतंकवाद से संबंधित कुछ मामलों में सम्बन्धित जिले के प्रशासनिक तथा पुलिस अधिकारियों से अभियुक्तों को रिहा किए जाने के सम्बन्ध में मांगी गई आख्या के विरुद्ध किसी गैर जिम्मेदार व्यक्ति द्वारा माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद को भेजे गए पत्र के आधार पर संज्ञान लेकर उत्तर प्रदेश सरकार से उत्तर मांगने तथा नियत तिथि पर उत्तर न देने तथा अवसर प्राप्त करने की याचना पर संबंधित शासकीय अधिवक्ता पर डांट लगाते हुए माननीय न्यायाधीश श्री आरके अग्रवाल तथा श्री आरएस आर मौर्या द्वारा की गई टिप्पणी को अवांछनीय बताया। उन्होंने आगे कहा कि यह टिप्पणी कि ''आज आप इन्हें छोड़ रहे हैं और कल उन्हें पद्म भूषण की उपाधि दे सकते हैं'' न्यायालय की गरिमा के विरुद्ध है तथा माननीय न्यायालय की प्रतिष्ठा के प्रतिकूल है। माननीय न्यायाधीश द्वय की टिप्पणी कि ''कोई व्यक्ति अभियुक्त है,  यह निर्णय करना न्यायालय का कार्य है, राजनीतिज्ञों का नहीं'', माननीय उच्च न्यायालय की अवमानना है।

पायनियर के पत्रकार की मोटरसाइकिल का सुराग नहीं, एक और बाइक हो गई चोरी

 

लखनऊ : राजधानी पुलिस एक तरफ जहां कानून व्यवस्था बनाये रखने का दम्भ भरती घूम रहीं है, वहीं लखनऊ शहर में वाहन चोरों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीते सात नवम्बर को लेखराज स्थित सहारा शॉपिंग सेंन्टर के सामने से पायनियर के पत्रकार हरीराम मिश्र की चोरी हुई मोटर साइकिल अब तक बरामद नहीं हो पाई है कि पिछली रात ठीक उसी स्थान से एक ट्रैवल एजेंसी संचालक की मोटर साइकिल फिर चोरी हो गई है। सूत्रों की माने तो पिछले दो माह के भीतर ही उक्त स्थान से कई मोटर साइकिलें गायब हो चुकी है। और हर बार पुलिस खानापूर्ति करके बरामदगी का आश्वासन देती रहती है। 

चैनल का कैमरामैन शादी का झांसा देकर करता रहा युवती का यौन शोषण, मामला दर्ज

 

देहरादून। शादी का झांसा देकर अस्मत लूटे जाने की बातें तो लगातार सुनी जाती हैं लेकिन दूसरो की खबरों को छापने वाले यदि खुद ही ऐसा करें तो यह बेहद शर्मनाक होगा। देहरादून में दूसरों को नसीहत का पाठ पढ़ाकर आइ्रना दिखाने वाले मीडिया की बिरादरी के कुछ लोगों के कारण समाज में पत्रकारिता की छवि धूमिल होती जा रही हे। पिछले 3 सालों से उत्तराखण्ड की मीडिया में कैमरामैन के रूप में काम करने वाले दीपक शर्मा ने सेल्सगर्ल के रूप में काम करने वाली सीमा शर्मा (नाम काल्पिनक) को शादी करने के झांसे में लेकर उसका यौन शोषण करता रहा। 

संजीव को बदायूं में सौंपी गई अमर उजाला की तात्‍कालिक जिम्‍मेदारी

 

: इसके पहले पीलीभीत का पूरा स्‍टाफ भी हो चुका है निलंबित : अमर उजाला बदायूं कार्यालय के पूरे स्टाफ को निलंबित करने की कार्रवाई के बाद संजीव पाठक को यहाँ तैनात कर दिया गया है. यह अब तक बरेली में ग्रामीण क्षेत्र के प्रभारी थे. इससे पहले संजीव बदायूं के ही ब्यूरो चीफ थे. बदायूं में तैनाती के दौरान रोडवेज बस अड्डे के पास शराब की दूकान पर एक रात शराब माफिया के गुर्गे से हुई मारपीट की घटना के बाद इनका भी फील्ड में निकलना लगभग बंद हो गया था. हालांकि बाद में शराब माफिया के प्रबंधक ने कार्यालय में आकर संजीव से माफी मांगी थी, पर वह खोया हुआ सम्मान पुनः हासिल नहीं कर पाए. तभी लोकसभा चुनाव के पहले इन्हें यहाँ से हटा कर बरेली तैनात किया गया.

सीकेटी के अखबार नमस्‍ते बरेली का प्रकाशन बंद

 

बरेली से खबर है कि सीकेटी यानी चंद्रकांत त्रिपाठी का अखबार बंद हो गया है. दैनिक जागरण, गोरखपुर से विदाई के बाद सीकेटी ने बरेली से दोपहर का अखबार नमस्‍ते बरेली लांच किया था. अखबार का संपादक वरिष्‍ठ पत्रकार शंभुदयाल बाजपेयी को बनाया गया था. परन्‍तु मालिकान की मंशा को देखते हुए  बाजपेयी जी ने सितम्‍बर में ही अखबार को नमस्‍ते कर दिया. अब खबर है कि अखबार का प्रकाशन बंद हो गया है. इसका कारण सीकेटी और कमलजीत सिंह के बीच के विवाद को बताया जा रहा है. 

नई दुनिया के सर्कुलेशन हेड ताकीर फारवर्ड प्रेस से जुड़े

 

फारवर्ड प्रेस के सर्कुलेशन विभाग में दो नयी नियुक्ति की गयी है. ताकीर अहमद अंसारी को बिहार-झारखण्ड सर्कुलेशन विभाग का हेड बनाया गया है वहीँ तरुण कुमार को पटना सर्कुलेशन का इंचार्ज बनाया गया है. ताकीर अहमद अंसारी इससे पहले नई दुनिया में बिहार सर्कुलेशन के हेड थे. इसके अलावा वे खेतान इंडिया लि, बजाज इलेक्ट्रॉनिक्स लि, जे आर एम मार्केटिंग, दिल्ली प्रेस ग्रुप में जिम्मेवार पदों पर काम कर चुके हैं. 

”राघवेंद्र ने कहा था कि यहां आसपास कोई दारू की दुकान ही नहीं है”

 

सबको जगते रहने की नसीहत देने वाले राघवेन्द्र मुदगल के असमय ही निधन हो जाने की खबर ने व्यथित कर दिया है। यह समाचार सुनते ही मुझे राघवेन्द्र के साथ दिल्ली के स्कूल ब्लाक शकरपुर में बिताए गए लम्हों की यादें ताजा हो आयी। साथ ही इस बात का भी मलाल हो आया कि क्यों नहीं उससे मुलाकात करने के लिए मैं दिल्ली चला गया था। 

फोकस टीवी और हमार टीवी को खरीदेंगे नवीन जिंदल!

 

: जिंदल समूह के मीडिया इंडस्‍ट्री में उतरने की चर्चा : पिछले काफी दिनों से दुर्दिन में चल रहे फोकस टीवी और हमार टीवी में हलचल है. चर्चा है कि यह चैनल बिकने जा रहा है. इस चैनल को जी न्‍यूज से पंगा ले चुके नवीन जिंदल द्वारा खरीदे जाने के कयास लगाए जा रहे हैं. हालांकि अभी आधिकारिक तौर पर कोई कुछ कहने को तैयार नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि जल्‍द ही यह चैनल नवीन जिंदल का हो सकता है. 

अब पत्रकारों की शादी की दावत भी स्पॉसर

 

राजधानी की एक महिला पत्रकार की शादी से पूर्व की गैट टू गैदर दिल्ली के एक डॉक्टर द्वारा स्पॉसर किए जाने को लेकर चर्चा का बाजार गर्म है। यह दावत भाईवीर सिंह मार्ग पर एक जैन साध्वी के आश्रम में आयोजित की गई थी। उल्लेखनीय है कि महिला पत्रकार ऐसे संस्थान से है, जो खुद को दिल्ली का सबसे बड़ा हिन्दी अखबार होने का दावा करता है। इसके अलावा समय समय पर अपने पत्रकारों के लिए मिथ्या आचार संहिता की घोषणा करता है। 

हिंदुस्‍तान, मोतिहारी से मनीष सिंह का इस्‍तीफा, मनीष भारतीय नए प्रभारी

 

हिंदुस्‍तान, मोतिहारी से खबर है कि मोडम प्रभारी मनीष सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे पिछले काफी दिनों से कार्यालय में खुद को असहज महसूस कर रहे थे. सूत्रों का कहना है कि कम मेहनताना और अधिक बोझ के चलते परेशान मनीष अपना तबादला अपने होमटाउन रक्‍सौल चाहते थे, परन्‍तु प्रबंधन तैयार नहीं हो रहा था. बताया जा रहा है कि इसी से नाराज होकर मनीष सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया. 

मीडियाकर्मी की पत्‍नी से ठगी करने वाले बिल्‍डरों के खिलाफ मुकदमा

 

नोएडा सेक्‍टर 20 कोतवाली में एक मीडियाकर्मी की पत्‍नी की शिकायत पर धोखाधडी का मामला दर्ज कराया है। सन 2006 में महिला ने 2 अलग-अलग बिल्डर के पास प्लॉट बुक कराया। अब प्लॉट की कीमत पूरा अदा करने के बाद पजेशन मांगने पर बिल्डरों ने दिखाए गए प्लॉट की लोकेशन चेंज कर दी है। जिसके बाद महिला ने पुलिस की शरण ली है। 

सड़क हादसे में घायल हो गए वरिष्‍ठ पत्रकार बृजेंद्र निर्मल

हिंदुस्‍तान, बरेली में डीएनई के पद पर कार्यरत बृजेंद्र निर्मल एक सड़क हादसे में घायल हो गए. उनके बांए पैर में चोट आई है. डाक्‍टरों ने उन्‍हें आराम की सलाह दी है. बताया जा रहा है कि वो किसी काम से अपनी स्‍कूटर पर सवार होकर कहीं जा रहे थे. इसी बीच जब वो बस स्‍टैण्‍ड के पास पहुंचे तो उनकी स्‍कूटर के सामने कोई जानवर आ गया, जिससे वे स्‍कूटर समेत जमीन पर गिर गए. 

भास्‍कर से इस्‍तीफा देकर जागरण से जुड़े कुंदन प्रसाद

  दैनिक भास्‍कर से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार कुंदन प्रसाद ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे डाल्‍टनगंज में अखबार की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. कुंदन ने अपनी नई पारी दैनिक जागरण के साथ डाल्‍टनगंज से शुरू की है. उन्‍हें यहां रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. बताया जा रहा है कि कुंदन भास्‍कर की …

डीएम से मिला अखबार विक्रेताओं का प्रतिनिधिमंडल

 

भारतीय समाचार पत्र विक्रेता संघ, चंदौली का एक प्रतिनिधि मंडल अपनी बारह सूत्रीय मांग को लेकर शुक्रवार को जिलाध्यक्ष विजय जायसवाल के नेतृत्व में मुख्‍यालय पर जिलाधिकारी से मिला. उन्‍होंने डीएम से अपनी समस्‍याओं के निस्‍तारण की मांग की. अपने ज्ञापन में हॉकरों ने परिजनों को गरीबी रेखा के नीचे का राशन कार्ड, पंजीकृत वितरकों को शासन की ओर से साइकिल, निशुल्‍क चिकित्‍सा, पांच लाख रुपये का बीमा आदि की मांग रखी थी. 

हस्‍त लिखित अखबार ‘दीन दलित’ के संपादक गौर शंकर का निधन

 

झारखंड के दुमका में साप्ताहिक हस्तलिखित समाचार पत्र 'दीन दलित' निकालने वाले वरिष्‍ठ पत्रकार एवं अखबार के संपादक गौरी शंकर रजक का शुक्रवार को निधन हो गया. वे काफी समय से बीमार चल रहे थे. उनके निधन की खबर से दुमका के पत्रकारिता जगत में शोक की लहर दौड़ गई. दुमका सूचना भवन में एक शोक सभा आयोजित कर शोक संतप्त परिवार के सदस्यों के प्रति संवेदना जताई गयी तथा भगवान से उनकी आत्‍मा की शांति के लिए प्रार्थना किया गया. 

सहारा समूह के खिलाफ सेबी का रुख हुआ और सख्‍त

लगभग तीन करोड़ निवेशकों की उम्मीद पर अस्पष्टता के बादल छाए हुए हैं। बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) और सहारा इंडिया परिवार ने वैकल्पिक रूप से पूरी तरह परिवर्तनीय डिबेंचर (ओएफसीडी) को लेकर अपनी लंबी कानूनी लड़ाई में पिछले कुछ दिनों में नया मोर्चा खोल दिया है।

इस साल मार दिए गए 119 पत्रकार

  वियना। दुनिया तक खबरें पहुंचाने वाले पत्रकारों को इस साल सबसे ज्यादा निशाना बनाया गया। वियना स्थित अंतरराष्ट्रीय प्रेस इंस्टीट्यूट [आइपीआइ] के मुताबिक वर्ष 2012 में अपने काम के दौरान कुल 119 पत्रकार मारे गए। शिंहुआ एजेंसी के मुताबिक 1997 से आइपीआइ ने इसका आंकड़ा रखना शुरू किया है। उसके बाद से यह सर्वाधिक …

अमर उजाला, बदायूं का पूरा स्‍टाफ निलंबित

: अपडेट :अमर उजाला कार्यालय के ब्यूरो चीफ कंचन वर्मा सहित समस्त रिपोर्टर, विज्ञापन व् सर्कुलेशन से सम्बंधित समस्त कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है…उनकी जगह बरेली से दो-तीन लोगों को भेजकर आज का काम चलाया गया है, लेकिन अभी तक यह पता नहीं चल पा रहा है कि इतनी बड़ी कार्रवाही किस मामले में की गयी है….ब्यूरो चीफ कंचन वर्मा के इतने प्रकरण जमा हो चुके हैं कि लोग तरह-तरह की आशंकाएं व्यक्त कर रहे हैं पर सटीक जानकारी न होने से कई तरह की अफवाहें ही फ़ैल रही हैं.

टोनी हॉल बनेंगे बीबीसी के अगले महानिदेशक

 

रॉयल ऑपरा हाउस के प्रमुख और बीबीसी के पूर्व समाचार निदेशक टोनी हॉल के बीबीसी का नया महानिदेशक नियुक्त किया गया है. बीबीसी ट्रस्ट के चेयरमैन लॉर्ड पैटन ने कहा है कि लॉर्ड हॉल ‘बीबीसी को मौजूदा संकट से उभारने के लिए सही व्यक्ति हैं.’ लॉर्ड हॉल अपना कार्यकाल अगले वर्ष मार्च में शुरू करेंगे. उन्होंने कहा है कि वे ये सुनिश्चित करेंगे की बीबीसी की समाचार सेवा दुनिया में सबसे बेहतरीन हो.

सहारा समूह के खिलाफ सेबी ने खटखटाया कोर्ट का दरवाजा

मुंबई : सहारा ग्रुप और कैपिटल मार्केट रेग्युलेटर सेबी की जंग क्लाइमेक्स की ओर बढ़ रही है। सहारा के बॉस सुब्रत रॉय और ग्रुप की दो कंपनियों के खिलाफ कार्यवाही शुरू करने के लिए सेबी ने मुंबई की अदालत का दरवाजा खटखटाया है। इन कंपनियों को इन्वेस्टर्स का पैसा लौटाने का आदेश दिया गया था। रेग्युलेटरी ऑर्डर नहीं मानने के चलते सहारा ग्रुप की इन कंपनियों को पैसा रिफंड करने के लिए कहा गया था।

एक दिन पहले की मर गया था कसाब!

 

इस्लामाबाद। कसाब को फांसी दिए जाने के मामले में पाकिस्तान का उर्दू मीडिया अब नई-नई कहानियां गढ़ रहा है। कराची से प्रकाशित 'डेली उम्मत' में लिखा है कि कसाब डेंगू की वजह से मरा है। साथ में अखबार ने भारत सरकार से पूछा है कि आखिर क्यों हिंदुस्तान की सरकार ने कसाब के ठीक होने का इंतजार नहीं किया। क्या कसाब को वाकई में फांसी पर लटकाया गया या फिर डेंगू से उसकी मौत एक दिन पहले ही हो गई थी।

वरिष्‍ठ पत्रकार साधन कुमार घोष का निधन

 

संबलपुर : गुरुवार की सुबह अंचल के जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार व माकपा सदस्य साधन कुमार घोष का निधन हो गया। वह 82 वर्ष के थे और अब तक पत्रकारिता करते रहे। उनके निधन की खबर आने के बाद पत्रकार, खेल संगठक, बंगाली समाज और उन्हें जानने वाले पंडित लक्ष्मी नारायण मिश्र गली स्थित आवास पहुंचकर अंतिम दर्शन करने समेत उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए। कमली बाजार स्थित राजघाट में स्व. घोष को बहन गौरी घोष ने मुखाग्नि दी। 

मुख्यमंत्री की मर्यादा का तो ख्याल रखिए सिकेरा जी!

 

उत्‍तर प्रदेश पुलिस की महत्वाकांक्षी योजना 'वूमेन पावर लाइन' के उदघाटन में बड़े अफसरों ने जो आचरण किया उसने दिखा दिया कि पुलिस महकमे में आखिर चल क्या रहा है? मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सामने ही अफसरों ने सारी मर्यादा ताक पर रख दी। खुद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को भी असहज स्थिति का सामना करना पड़ा। इस पूरी योजना को बारीकी से समझने पर स्वतः ही समझा जा सकता है कि यह योजना नवनीत सिकेरा की मुख्य धारा में आने की कोशिशों का परिणाम भर है। वह इसमें सफल हो पायेंगे या नहीं यह कहना मुश्किल है।

संजय राय बने एचयूजे के अध्यक्ष

 

पंचकूला : हरियाणा यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स (एचयूजे) की गुरुवार को यहां रेड बिशप में हुई एक बैठक में वरिष्ठ पत्रकार संजय राय को (एचयूजे) का अध्यक्ष मनोनीत किया गया। नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स (एनयूजे) के राष्ट्रीय सचिव और एचयूजे के अध्यक्ष संजय राठी ने उन्हें यह जिम्मेवारी सौंपी। बैठक में मौजूद वरिष्ठ पदाधिकारियों ने उनके फैसले पर सहमति जताते हुए इसे बेहतर कदम बताया। 

दिखावा था जयपुर दूरदर्शन का स्ट्रिंगर-कैमरामैन भर्ती अभियान

 

मनोरंजन धारावाहिकों के मामले में अरसा पहले बुद्धु बक्से या इडियट बॉक्स का खिताब पा चुका दूरदर्शन समाचारों के मामले में अन्य टीवी चैनलों से क्यों लुट पिट रहा है, यह प्रसार भारती, जयपुर दूरदर्शन के झालाना संस्थानिक क्षेत्र स्थित परिसर में पिछले तीन दिनों में साबित हो गया। स्ट्रिंगर पैनल बनाने के नाम पर जो प्रक्रिया या खानापूर्ति की गई वह प्रहसन से अधिक कुछ नहीं था। समाचारों की आधुनिकतम विधा के रचनाकार इस सरकारी तंत्र की कमान बीस-पच्चीस साल पहले भर्ती हुए पदोन्नत लोगों के हाथ में हैं जो समाचार सेवा नहीं बल्कि नौकरी कर रहे हैं। 

”पोंटी की हत्‍या के समय नहीं मौजूद था उत्‍तराखंड का कोई अधिकारी”

 

देहरादून : दिल्ली में शराब कारोबारी पौंटी चडढा और उसके भाई हरदीप की हत्या के समय उत्तराखंड के एक अधिकारी के मौजूद रहने के बारे में मीडिया में चल रही अटकलों को खारिज करते हुए राज्य सरकार ने गुरुवार को कहा कि जांच के दौरान इस प्रकार की बातों की पुष्टि नहीं हुई। उत्तराखंड सूचना एवं लोक संपर्क विभाग द्वारा यहां जारी एक विज्ञप्ति में बताया गया कि मीडिया के एक वर्ग में पौंटी चडढा और उसके भाई की हत्या के वक्त एक सरकारी अधिकारी के मौजूद होने की खबरों के संबंध में राज्य के पुलिस महानिदेशक सत्यव्रत बंसल ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त से बातचीत की थी। 

पत्रकार को झूठे मामले में फंसाने पर जालौन में मीडियाकर्मियों का अनिश्चितकालीन धरना

 

जालौन में सपा नेता पर हुए जानलेवा हमले में एक पत्रकार के खिलाफ झूठा मुकदमा कर फंसाए जाने के विरोध में जनपद के पत्रकार एकजुट होकर अनिश्चितकालीन हड़ताल और धरने पर बैठ गये हैं। पत्राकारों की मांग है कि पत्रकार के खिलाफ झूठा मुकदमा वापिस लिया जाए और जांच कर दोषी लोगों पर सख्त कार्रवाई की जाए। गौरतलब है कि 6 नवम्बर को देर रात जालौन के एटा थाना क्षेत्र में सपा के पूर्व कोषाध्यक्ष राकेश पटेल जब अपने गाँव सोमई से बाइक से एटा जा रहे थे तभी कुछ अज्ञात हमलावरों ने उन पर फायरिंग कर दी जिसमें वो घायल हो गये थे। घटना के नौ दिन बाद सपा नेता के भाई ने 16 नवम्बर 2012 को गाँव के ही दैनिक समाचार पत्र अमर उजाला के पत्रकार शशिकांत तिवारी के खिलाफ झूठा मामला दर्ज कराया था, जिस पर पुलिस ने करवाई कर पत्रकार को जेल भेज दिया। 

गुरमीत और रवि का इस्‍तीफा, जु्गराज की नई पारी

 

एक नवम्‍बर को लुधियाना से लांच हुए पंजाब की शक्ति के बारे में खबर है यहां सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. अमृतसर और जालंधर में स्थिति ठीक नहीं है. यही कारण है कि अमृतसर में ब्‍यूरोचीफ को बदल दिया गया है. अब तक ब्‍यूरोचीफ की जिम्‍मेदारी निभाते आ रहे गुरमीत लूथरा को हटा दिया गया है. उनकी जगह जुगराज को अखबार का न्‍या ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. चर्चा यह भी आ रही है कि अमृतसर तथा जालंधर कार्यालय पर आर्थिक दिक्‍कतों के चलते तालाबंदी हो गई है, परन्‍तु अखबार के संपादक नवीन गुप्‍ता इस खबर को निराधार बताते हुए कहते हैं कि हमारे सभी कार्यालय बेहतर तरीके से संचालित हो रहे हैं. कहीं कोई दिक्‍कत नहीं है. 

पत्रिका, भोपाल में पांच लोगों का प्रमोशन और इंक्रीमेंट

 

पत्रिका, भोपाल से खबर है कि प्रबंधन ने पांच पत्रकारों को प्रमोशन तथा इंक्रीमेंट दिया है. जिन लोगों को प्रमोशन एवं इंक्रीमेंट मिला है उनमें विनोद पाठक, संदीप तिवारी, सुनील शर्मा, चक्रेश कुमार एवं मंतोष कुमार शामिल हैं. सेंट्रल डेस्‍क की जिम्‍मेदारी संभाल रहे डीएनई विनोद पाठक को प्रमोट करके एनई बना दिया गया है. वहीं सेंट्रल डेस्‍क पर ही तैनात सीनियर सब एडिटर संदीप तिवारी को चीफ सब एडिटर बना दिया गया है. 

हनुमानगढ़ से न्‍यूज पोर्टल शुरू

पंजाब एवं हरियाणा से सटे राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में इंटरनेट पत्रकारिता की शुरुआत की गई है. जिले के मूल निवासी वरिष्ठ पत्रकारों ने http://hanumangarhlive.com की शुरुआत कर इंटरनेट पत्रकारिता के क्षेत्र में कदम रखा है. इसी के साथ जिले के लोगों तथा प्रवासियों को जिले के समाचार तत्काल पढऩे को मिलने लगे हैं. लोगों …

नवभारत के पत्रकार एमपी दुबे का हार्टअटैक से निधन

 

: रवि भारती के निधन पर इंडियन मीडिया वेल्‍फेयर एसोसिएशन ने जताया दुख :  मुंबई : मुंबई से प्रकाशित होने नवभारत के उप संपादक एमपी दुबे की 19 नवम्बर को दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गयी। एमपी दुबे की मृत्यु पर नवभारत के पूर्व उपसंपादक और वरिष्ठ पत्रकार अजय भट्टाचार्य ने संदेह जताया है। गौरतलब है कि नवभारत के सानपाडा स्थित कार्यालय में पिछले कई वर्षों से कार्यरत एमपी दुबे को 19 नवम्बर को दिल का दौरा पड़ा था। इसके बाद उनकी मौत हो गई थी। श्री दुबे की मौत की घटना से मुंबई के हिंदी भाषी पत्रकारों तथा उन्हें जानने वाले लोगों को बहुत ही सदमा पहुंचा है।  

खुलासों में पत्रकारिता के सरोकार

 

खुलासों के चलते मीडिया एक बार फिर भ्रष्ट मानसिकता वाले लोगों के निशाने पर हैं, इसमें नेता, कारोबारी सहित तमाम अफसर भी शामिल हैं, जो मीडिया पर लगाम लगाकर अपना कालिख भरा दामन छुपाने की कोशिश कर रहे हैं। इसकी शुरुआत जी न्यूज-नवीन जिंदल विवाद के बाद हुई, जिसमें मीडिया के संपादकों की भूमिका को लेकर कई तरह के सवाल उठने लगे हैं कि क्या पत्रकारिता में नए तरीके से जवाबदेही तय की जानी चाहिए? पत्रकारिता में प्रयोगवाद पर रोक लगाया जाना चाहिए? क्या पत्रकारिता मूल्यविहीन हो रही है? सिद्धांत और वसूलों के बिना लेखन या संपादन उचित है? और तो और टीवी पत्रकारिता पर पत्रकारिता मूल्यों को त्यागने तक का आरोप लग रहा है। रूपहले पर्दे से लेकर राजनेता तक मीडिया को घेरने में लगे हैं।

कसाब की ख़बर पर नज़र रखने में चूक गया मीडिया -जोगिंदर सिंह

  सीबीआई के पूर्व निदेशक जोगिंदर सिंह मुंबई हमले के दोषी आमिर अजमल कसाब की फांसी के बारे में किसी को कानों-कान खबर न लगने को मीडिया की नाकामयाबी मानते हैं। जोगिंदर सिंह का मानना है कि मीडिया ने इस संवेदनशील मसले को हल्के में ले लिया इसीलिये इस खबर से चूक गया।   जोगिंदर …

पाकिस्‍तान के न्‍यूज चैनलों की हेडलाइंस से हट गया कसाब

 

इस्लामाबाद। भारत में कसाब को फांसी मिलने के कई घंटों बाद यह खबर पाकिस्तान के न्यूज चैनलों की हेडलाइंस से हट गई। इसकी जगह गाजा में चल रहे घटनाक्रम और घरेलू घटनाक्रमों ने ले लिया। हालांकि सुबह पाकिस्तान के सरकारी रेडियो चैनल और जिओ न्यूज जैसे प्राइवेट न्यूज़ चैनलों पर कसाब की फांसी पहली खबर थी, लेकिन बाद में वह गायब हो गई।

प्रेस फोटोग्राफर समेत दो पर जानलेवा हमला

 

बिहार के हाजीपुर नगर थाना क्षेत्र के भरत राउत कटरा में मंगलवार की देर शाम एक प्रेस फोटोग्राफर समेत दो लोगों पर जानलेवा हमला कर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया गया। पुलिस की मौजूदगी में यह घटना हुयी। घायलों का इलाज हाजीपुर सदर अस्पताल में किया गया। घटना की जानकारी मिलने के बाद सदर एसडीपीओ कैलाश प्रसाद ने नगर थाना पहुंचकर मामले की गहन जांच की।

अमर उजाला के ब्‍यूरोचीफ बिपिन शुक्‍ला से सपा कार्यकर्ता ने की हाथापाई

उन्‍नाव से खबर है कि अमर उजाला के ब्‍यूरोचीफ बिपिन शुक्‍ला के साथ एक सपा नेता ने हाथापाई की. बताया जा रहा है कि बिपिन ने अमर उजाला में एक खबर प्रकाशित की थी कि सपा जिलाध्‍यक्ष अनवर अहमद सद पद के प्रत्‍याशी अरुण शंकर शुक्‍ला अन्‍ना को चुनाव लड़ाना नहीं चाहते हैं. इसी मामले में उन्‍होंने एक खबर यह भी प्रकाशित की कि मुलायम सिंह यादव के साथ मीटिंग में भी उन्‍होंने यह बात दोहराई है. इस पर सपा अध्‍यक्ष ने नाराजगी जताई थी. 

दूरदर्शन के खजाने में जमा हैं एक से एक नायाब चीजें : ओम थानवी

 

Om Thanvi : दूरदर्शन के ख़ज़ाने में ऐसी-ऐसी नायाब चीज़ें जमा हैं कि काश कोई विवेकवान उन्हें सहेजकर बाज़ार में ले आए तो वे सर्वसुलभ हो जाएं! ऐसी ही एक रेकार्डिंग यू-ट्यूब पर है। फ़िराक़ साहब से बातचीत करते हुए उर्दू कवि जगन नाथ आज़ाद और दूरदर्शन के प्रोड्यूसर कमाल अहमद सिद्दीक़ी। फ़िराक़ साहब के दाईं ओर आपको तीन हिंदी कवि दिखाई देंगे — सर्वेश्वरदयाल सक्सेना, कन्हैयालाल नंदन और रमानाथ अवस्थी। बाक़ी को पहचान सकें तो आप पहचानिए। यह रेकार्डिंग अपूर्ण है। दूसरा भाग यू-ट्यूब पर मिलता तो है, पर वह एक जगह ठहरकर अधूरा रह जाता है। सो जल्दी ही दूरदर्शन से मैं इसका पूरा अंश जुटाता हूं।

मीडिया की स्‍वतंत्रता के मामले में भारत लगातार फिसड्डी

 

भारत में मीडिया की स्वतंत्रता पर अंकुश बढ़ता जा रहा है. बीते दो-तीन साल में यह मीडिया पर अंकुश लगातार बढ़ा है. यह मीडिया की अंतरराष्ट्रीय संस्था रिपोर्टर्स बिदाउट बॉर्डर (आरडब्ल्यूबी) की इस साल की रिपोर्ट यही बता रही है. आरडब्ल्यूबी की साल 2012 की प्रेस फ्रीडम इंडेक्स (मीडिया स्वतंत्रता सूचकांक) के मुताबिक मीडिया की स्वतंत्रता के मसले पर भारत दुनिया भर में 131वें स्थान पर है. इस मामले में भारत अफ़्रीकी देश बरूंडी से नीचे और अंगोला से ठीक उपर है. 2009 में इस सूचकांक में भारत 105वें और 2010 में 122वें स्थान पर मौजूद था.

कसाब के गांव नहीं पहुंच पाए पत्रकार

 

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत स्थित अजमल कसाब के गांव फरीदकोट पहुंचने की बुधवार को कोशिश कर रहे पत्रकारों को सुरक्षाबलों और खुफिया एजेंसियों ने रोक दिया. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, ये तमाम पत्रकार कसाब को पुणे की येरवडा जेल में फांसी पर चढ़ाए जाने के बाद फरीदकोट में हालात का जायज़ा लेने वहां जा रहे थे. खबर में कहा गया है कि पाकिस्तान के ये सुरक्षाकर्मी बिना वर्दी के थे और फरीदकोट के स्थानीय लोगों में घुले-मिले थे.

मुंबई एफबी कांड के बाद धारा 66 ए आईटी एक्ट की वैधता को कोर्ट में चुनौती

यूपी कैडर के आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर तथा उनकी पत्नी सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर ने आज दिनांक 21/11/2012 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय, लखनऊ बेंच में एक रिट याचिका दायर करते हुए धारा 66 ए इन्फोर्मेशन टेक्नोलोजी एक्ट 2000 की वैधता को चुनौती दी है. रिट याचिका में कहा गया है कि इस धारा में जिस प्रकार की व्यापकता तथा विस्तार दिया गया है उससे उसके दुरुपयोग होने की प्रबल सम्भावना रहती है. 

काम के लिए रवि भारती के मुंह से ‘न’ कभी नहीं निकला

पहले दुनिया जहान को चैन से रहने के लिए हर रात जगाते रहने वाले राघवेंद्र मुद्दगल चले गये। अब खबर के लिए जान की परवाह न करने वाले रवि भारती भी साथ छोड़ गये। 21-11-2012 को दिल्ली से मोबाइल पर एक छोटे भाई का संदेश आया। "SIR, RAVI BHARTI IS NO MORE"….मोबाइल पर बातचीत में पता चला कि वाकई रवि भारती इस मायावी और झंझावती दुनिया को अलविदा कह चुके हैं। बिना किसी से कोई शिकवा शिकायत किये।

महिला पत्रकार ने साजिश में फंसाकर जेल भेजे जाने की आशंका जताई

 

सेवा में, डीजीपी महोदय, लखनऊ, महोदय, निवेदन यह है कि मैं गायत्री पाराशर (२२) पुत्री श्री महावर प्रसाद पाराशर गांव गढ़ी ठाकुर पचोखरा फिरोजाबद व हाल निवासी भावना सुपर बाजार फ्लैट न. २०४, से. -९, आवास विकास सिकंदरा आगरा से हूं तथा बीपीएन टाइम्स न्यूज पेपर में संपादकीय में कार्यरत हूं। श्रीमान जी मारहरा इंडेन गैस सेवा की संचालिका मीनेश कुमारी (वकील) लगातार मुझे व मेरे परिवारीजनों को गलत मामलों में फंसाने की साजिश रचती चली आ रही हैं।

मीडिया क्षेत्र से भी विधायक-सांसद चुनाव कराने की मांग

 

: ऐपजा की बैठक यशवंत और अनिल के उत्‍पीड़न का मामला भी उठा : मौजूदा पत्रकारिता और पत्रकारों की दुर्दशा से निपटने के लिए फौलादी इरादों के साथ संघर्ष करने के संकल्प का साक्षी बना इलाहाबाद। ‘जब तोप मुकाबिल हो तो अखबार निकालो’ की आवाज बुलंद करने वाले अकबर इलाहाबादी से लेकर कर्मयोद्धा गणेश शंकर विद्यार्थी, कमलेश्‍वर, धर्मवीर भारती, रामबहादुर राय, आशुतोश, प्रताप सोमवंशी सरीखे दिग्गज पत्रकारों के संघर्ष और कर्मभूमि की गवाह, इलाहाबाद की सरजमीं पर पत्रकारों का जुटान हुआ। जिला कचहरी के पास विकास भवन परिसर में आल इंडिया प्रेस जर्नलिस्ट एसोसिएशन (ऐपजा) के सेमिनार में विस्तार से कई मुद्दे उठे तो उनसे निपटने के कई सुझाव भी आए। 

आजतक के पत्रकार रवि भारती की सड़क हादसे में मौत

आजतक के पत्रकार रवि भारती की एक सड़क हादसे में मौत हो गई. रवि दिल्ली आजतक में कई साल से कार्यरत थे. बुधवार को दोपहर करीब बारह बजे रवि मोटर साईकिल से किसी शूट पर जा रहे थे. दिल्ली के गीता कालोनी इलाके में खजूरी खास की रेड-लाइट पर पीछे से उनकी मोटर साइकिल को एक ट्रक ने टक्कर मार दी, जिससे रवि गंभीर रूप से घायल हो गए.

बंगलुरू में एक अखबार के पूर्व संपादक की चाकू घोंपकर निर्मम हत्‍या

 

बंगलुरू में एक आरटीआई एक्टिविस्‍ट तथा अखबार के पूर्व संपादक की चाकू घोंपकर हत्‍या कर दी गई. यह हत्‍या उनके घर के ठीक सामने की गई. पुलिस ने उनके शव को कब्‍जे में लेकर पोस्‍टमार्टम को भेज दिया. परिजनों की तहरीर पर हत्‍या का मामला दर्ज करने के बाद पुलिस जांच में लग गई है. हत्‍या का कारण सूचना के अधिकार के तहत मांगे गए कुछ जानकारियों को माना जा रहा है. 

अंग्रेजी अखबार के संपादक तपन पर हमला करने वाले चार आरोपी गिरफ्तार

 

अरुणाचल प्रदेश में एक अंग्रेजी समाचार पत्र के कार्यालय में लूटपाट करने और इसके संपादक पर हमला करने के मामले में मुख्य अभियुक्त समेत चार और लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इन लोगों की गिरफ्तारी असम के गुवाहाटी में हुई है. गुवाहाटी के पुलिस अधीक्षक सुरिन्दर कुमार ने बताया कि गुप्‍त सूचना के आधार पर मुख्य अभियुक्त डोबिंग सोनम और उसके तीन सहयोगियों तगुम फसांग, कोमे यांगफो और रोये यांगफो को मंगलवार को गुवाहाटी में एक होटल से गिरफ्तार किया गया. इनसे पूछताछ की जा रही है.

इंडिया न्‍यूज ने लांच किया एमपी-सीजी न्‍यूज चैनल

 

आईटीवी समूह अपने विस्‍तार के क्रम को बढ़ाते हुए इंडिया न्‍यूज एमपी-सीजी चैनल को लांच कर दिया. यह समूह का छठवां न्‍यूज चैनल है. इस चैनल को वरिष्‍ठ पत्रकार राकेश कुमार सिंह हेड कर रहे हैं. राकेश इसके पहले सहारा मीडिया में सहारा बिहार-झारखंड चैनल का नेतृत्‍व कर रहे थे. राकेश नेतृत्‍व में इंडिया न्‍यूज एमपी-सीजी की लांचिंग भी हुई है. राकेश सहारा के अलावा दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो समेत कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं. 

आसान नहीं है राघवेन्द्र मुदगल की आवाज़ को खामोश कर देना

 

राघवेन्द्र से मेरा परिचय काफी पुराना था। उनका एक करीबी मित्र संजीव, जो पटना का ही रहने वाला है, मेरे काफी नज़दीक है। एक दिन अचानक उसका फोन आया कि वो और राघवेन्द्र पटना के एक पुलिस थाने में हैं और पुलिस उनपर मुकद्दमा बनाने जा रही है। मैं आनन-फानन में वहां पहुंचा, तो पता लगा कि वहां के एक स्थानीय दबंग ने उनके खिलाफ़ शिक़ायत की है।

वेदव्रत… तुम बेरहम, तुम बेअदब और कुसूरवार हो!

 

किसी ने कहा औघड़ था। कोई बोला बिंदास। किसी ने जुझारू बताया तो किसी ने प्रयोगधर्मी। कुछ नया करने की बैचेनी से भरा एक पत्रकार। वेदव्रत गिरि। उम्र सिर्फ 43 साल। आखिरी सांस लिए दो दिन गुजर गए हैं। उत्तरप्रदेश में एटा जिले के किसी गुमनाम से गांव के अंधेरे श्मशान में उसकी राख ठंडा रही होगी अब तक। एक सड़क हादसे में जान चली गई उसकी। 

कोयला घोटाले में सीबीआई ने लोकमत के मालिक विजय दर्डा के पुत्र से की पूछताछ

 

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने जेएलडी यवतमाल एनर्जी लि को कोयला ब्लाक आवंटन में कथित अनियमितता के मामले में कांग्रेस सांसद विजय दर्डा के पुत्र देवेंद्र से फिर लगभग चार घंटे तक पूछताछ की। सीबीआई सूत्रों ने बताया कि जांच एजेंसी ने कल देवेंद्र और उनके रिश्ते के भाई ऋषि से पूछताछ की। ऋषि महाराष्ट्र के मंत्री राजेंद्र दर्डा के पुत्र हैं। 

मीडिया मुगल रुपर्ट मर्डोक ने अपने विवादित ट्वीट पर माफी मांगी

 

मीडिया दिग्गज रुपर्ट मर्डोक ने ‘यहूदी स्वामित्व वाले प्रेस’ को लेकर एक ट्वीट के बाद विवाद बढता देख माफी मांग ली है. शनिवार को उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘यहूदी स्वामित्व वाला प्रेस हर संकट में इजराइल विरोधी रूख क्यों रखता है?’ हार्पर कोलिंस प्रकाशन, फॉक्स टेलीविजन, बीस्काई बी, द वाल स्ट्रीट जर्नल और लंदन टाइम्स के मालिक मडरेक ने रविवार को कहा कि अपने आलोचकों से वह इत्तेफाक नहीं रखते फिर भी वह माफी मांग रहे हैं.

हवाई हमले में तीन पत्रकारों की मौत

 

गाजा सिटी: फिलस्तीन के तीन पत्रकारों की, उनकी कारों को निशाना बना कर किए गए इस्राइली हवाई हमले में मौत हो गई है। यह जानकारी गाजा के एक स्वास्थ्य अधिकारी और हमास द्वारा संचालित अल अक्सा टीवी के प्रमुख ने दी है। बताया जाता है कि इस्राइल ने यह कहते हुए तीनों पत्रकारों को निशाना बनाया कि उनका संबंध उग्रवादियों से था। यह हमला मंगलवार को इस्राइल द्वारा गाजा के हमास शासन के खिलाफ चलाए गए अभियान के सातवें दिन हुआ है।

क्‍या होगा आतंकी अजमल कसाब के शव का?

 

नई दिल्ली। कसाब को फांसी दिए जाने के बाद अब बड़ा सवाल यह उठ रहा है कि उसकी डेड बॉडी का क्या किया जाएगा? केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने बताया कि पाकिस्तान को इस बारे में एक लेटर भी भेजा गया था, लेकिन वहां से कोई जवाब नहीं आया। कसाब को फांसी दिए जाने के तुरंत बाद दोबारा पाकिस्तान को फैक्स भेजा गया है कि कसाब को फांसी पर चढ़ा दिया गया है। अगर पाकिस्तान कसाब के शरीर को लेने से इनकार करता है, तब भारत के सामने मुश्किल खड़ी हो सकती है।

कसाब की फांसी की प्रक्रिया पूरी क्‍यों नहीं की गई?

 

अनिल गुप्ता : जब यश चोपड़ा जैसे लोग एक महीने लीलावती अस्पताल में रहने के बावजूद भी डेंगू से नही बच पाए तब कसाब डेंगू से कैसे बचा होगा जबकि कसाब को किसी भी अस्पताल में भर्ती नही करवाया गया था उसका इलाज जेल में ही हो रहा था। फांसी की प्रक्रिया भी पूरी क्यों नहीं की गयी? फांसी देने के पहले आरोपी के वकील को सुचना दी जाती है .. यदि आरोपी विदेश हो तो उस देश के दूतावास को सूचना दी जाती है कि फलां तारीख को मुजरिम को फांसी दी जाएगी। 

अजमल की मौत : फांसी या डेंगू – फेसबुक पर छिड़ी जंग

 

सोशल मीडिया साइटों पर भी अजमल कसाब को फांसी दिए जाने की चर्चा छिड़ी हुई है. ज्‍यादातर लोग बधाई संदेश दे रहे हैं वहीं कुछ लोग गुपचुप फांसी दिए जाने के तरीके पर सवाल उठा रहे हैं. कुछ लोग नई कहानियां भी गढ़ रहे हैं. फेसबुक पर अनिल गुप्‍ता सवाल उठाते हैं कि अब तक राजनेता कहते आ रहे हैं कि राष्‍ट्रपति के पास भेजी गई दया याचिकाओं पर नम्‍बर से सुनवाई होती है तो इस मामले में तेजी क्‍यों दिखाई गई. मीडिया को क्‍यों नहीं इसकी जानकारी दी गई. क्‍यों नहीं संसद पर हमला करने के दोषी अफजल गुरु की दया याचिका को अब तक खारिज किया गया. 

साधना में अकील सिद्दीकी को प्रमोशन, धर्मवीर ने नेट परीक्षा पास की

 

साधना न्‍यूज यूपी-उत्‍तराखंड से खबर है कि अकील सिद्दीकी को प्रमोट करके देवीपाटन मंडल एवं फैजाबाद मंडल का हेड बना दिया गया है. अकील इसके पहले गोंडा और बलरामपुर में साधना के लिए रिपोर्टिंग कर रहे थे. अकील साधना की लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे. इसके पहले भी वे कई चैनलों तथा अखबारों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं. 

मुंबई हमले के आरोपी अजमल कसाब को फांसी दी गई

 

नई दिल्ली: मुंबई हमलों के गुनाहगार अजमल आमिर कसाब को फांसी दे दी गई है. इसकी पुष्टि महाराष्ट्र के गृहमंत्री आरआर पाटील ने भी कर दी है. एबीपी न्यूज़ संवाददाता उमेश कुमावत के मुताबिक कसाब को आज सुबह साढ़े सात बजे पुणे की यरवडा जेल में फांसी दी गई. फांसी के बाद वहां मौजूद डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया.

लूट का खेल : आईएनएस से कैंसिल एजेंसी को सूचना विभाग ने थमाए लाखों के विज्ञापन

 

देहरादून। उत्तराखण्ड के सूचना विभाग में घोटालो की परतें उधड़नी शुरू हो गई हैं। वहीं अधिकारियों की आंखो में धूल झोंककर प्रदेश सरकार की छवि को धूमिल करने का ताना बाना बुना जाना शुरू कर दिया गया है। बीते 15 नवम्बर को उत्तराखण्ड के सूचना विभाग द्वारा 11 समाचार पत्रों को राजीव गांधी अन्तरराष्‍ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम एवं स्पोर्टस काम्प्लैक्स के शिलान्यास कार्यक्रम पर 858 वर्ग सेन्टीमीटर विज्ञापन जारी किया गया था, लेकिन सूचना विभाग में पंजीकृत टैल ब्लेजर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड देहरादून को जिस तरह कैन्सिल होने के बाद भी विज्ञापन जारी किया गया, उसने मुख्यमंत्री की छवि को भी बट्टा लगाने का काम कर दिया है। 

मोदी की मायावी दुनिया

नरेंद्र मोदी ने तीन सौ करोड़ी त्रि आयामी चुनाव प्रचार शुरू कर दिया है। यह हॉलोग्राफिक तकनीक है। हिंदी में अनुवाद कर कहें तो इसे खोखला रेखांकन तकनीक जैसा कुछ कह सकते हैं। यह तकनीक थ्री डी पिक्चर का आभास कराती है पर दरअसल यह थ्री डी होती नहीं है। यानी यह एक छल तस्वीर है जो लोगों में आदमी के तीन डाइमेंशन होने का भ्रम पैदा करती है लेकिन असल में यह दो ही डाइमेंशन की तस्वीर ही होती है।

एमपी के जनसंपर्क मंत्री लक्ष्‍मीकांत की अर्थी निकालेंगे पत्रकार

 

भोपाल : मध्यप्रदेश जनसंपर्क मंत्री श्री लक्ष्मीकांत शर्मा के पुतले की अर्थी में शामिल होने के लिए मध्यप्रदेश से एक हजार पत्रकार और समाचार पत्र एवं पत्रिकाओं के मालिक शामिल होने शीतकालीन विधान सभा सत्र के दौरान भोपाल पहुंच रहे हैं। भाजपा शासनकाल में पत्रकारों के हित में कोई उचित निर्णय नहीं लेने एवं दोगली नीति के विरोध में पत्रकारों द्वारा यह कदम उठाया जा रहा है। 

एसएमएस के जरिए लूट पर बीएसएनएल व अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज

 

आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने आज बीएसएनएल मोबाइल पर अवांछनीय एसएमएस भेज कर पैसे लूटने से जुड़े मामले में एफआईआर  दर्ज करने हेतु थाना महानगर, लखनऊ में प्रार्थनापत्र दिया है. महानगर पुलिस ने उनकी शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है. इस पूरे मामले में जांच की तैयारी की जा रही है. संभावना जताई जा रही है कि इस मामले में अगर पुलिस द्वारा उचित कार्रवाई की गई तो आम लोगों को काफी राहत मिल सकती है. 

अखबारों का भविष्‍य खतरे में, एक और समाचार पत्र 30 दिसम्‍बर को होगा बंद

 

पूरे विश्‍व में अखबारों का भविष्‍य खतरे में नजर आ रहा है. एक के बाद एक करके दैनिक अखबार बंद होते जा रहे हैं. पिछले दिनों टेलीफोन विवाद के बाद रुपर्ट मर्डोक का अखबार बंद हुआ तो दूसरी तरफ अमेरिका में भी एक अखबार बंद करके केवल वेब एडिशन संचालित करने की घोषणा की गई. अब नई खबर एक बार फिर अमेरिका से ही है. वारेन वफेट ने भी अपने 143 साल पुराने अखबार को बंद करने की घोषणा कर दी है. कुछ समय पहले ही वारेन वफेट ने इस अखबार को खरीदा था. नीचे पढि़ए आसुन डिफेंडर में प्रकाशित खबर. 

चार नवम्‍बर को ही बिक गया था अमर उजाला?

जी समूह ने दिल्‍ली हाई कोर्ट से अमर उजाला समूह के किसी भी अंश की खरीद-फरोख्‍त पर रोक लगवा दिया है. जी ने यह रोक इसलिए लगवाई है कि अमर उजाला प्रबंधन आखिरी समय में समूह को बेचने से इनकार करते हुए अपने हाथ वापस खींच लिए. हाई कोर्ट में दिए गए आवेदन में जी ने आरोप लगाया है कि अमर उजाला पब्लिकेशन लिमिटेड ने 4 नवम्‍बर को ही एमओयू पर साइन करके अमर उजाला को बेचने का पूरा करार कर लिया था. नीचे देखें इंडियन एक्‍सप्रेस में प्रकाशित खबर. 

महाराष्ट्र के सीएम ने जस्टिस काटजू के पत्र का दिया जवाब

Dear Justice Katju, This is in response to your email message dated 19/11/2012 in the matter of arrest of Ms. Shaheen Dhada and Ms. Rini Srinivasan residents of Palgarh, District Thane by the Police on 18/11/2012. Inspector General of Police, Konkan Range has been advised to enquire in to the matter.

तीन भ्रष्टाचारियों नीरा यादव, अशोक चतुर्वेदी, राजीव कुमार को चार साल की सजा

नीरा यादव नप चुकी हैं. करप्शन के कारण उन्हें कोर्ट ने चार साल की सजा सुना दी है. वैसे पहले से ही नीरा यादव को महाभ्रष्ट आईएएस अफसरों में माना जाता रहा है. गाजियाबाद से मिली जानकारी के मुताबिक नोएडा प्लाट आवंटन घोटाले में नोएडा प्राधिकरण की पूर्व सीईओ एवं यूपी की पूर्व मुख्य सचिव नीरा यादव और प्राधिकरण के पूर्व डीसीईओ राजीव कुमार दोषी को अदालत ने तीन साल कैद और भारी जुर्माने की सजा सुनाई.

दैनिक जागरण विज्ञापन फर्जीवाड़ा : बिपिन मंडल ने दी गवाही, धोखाधड़ी पर सीजेएम सख्‍त

 

मुजफफरपुर (बिहार)। मुजफ्फरपुर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सुरेन्द्र प्रताप सिंह के न्यायालय में दैनिक जागरण अखबार के सरकारी विज्ञापन के करोड़ों-अरबों रुपए के फर्जीवाड़ा से जुड़े परिवाद-पत्र, जिसकी संख्या-2638/2012 है, में दूसरे प्रमुख गवाह मुंगेर के वरीय अधिवक्ता बिपिन कुमार मंडल ने 16 नवंबर, 12  को अपनी गवाही दी। मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के समक्ष अधिवक्ता बिपिन कुमार मंडल ने बताया कि नामजद कंपनी के चेयरमैन, निदेशक और संपादकों ने साजिश के तहत जालसाजी की। सभी नामजद व्यक्तियों ने मुजफ्फरपुर से प्रकाशित होने वाले दैनिक जागरण अखबार के प्रिंट लाइन में पटना से प्रकाशित दैनिक जागरण के रजिस्ट्रेशन नम्बर-बीआईएचएचआईएन/2000/3097 को 18 अप्रैल, 2005 से 28 जून, 2012 तक छापने काम किया। 29 जून, 2012 से सभी नामजद व्यक्तियों ने मुजफ्फरपुर के दैनिक जागरण प्रकाशन/संस्करण के प्रिंट लाइन में रजिस्ट्रेशन नम्बर के स्थान पर ‘‘आवेदित‘‘ छापना शुरू कर दिया। सभी नामजद व्यक्तियोंने यह जालसाजी सरकारी विज्ञापन प्राप्त करने के लिए योजनाबद्ध तरीके से की।

पोंटी चड्ढा हत्‍याकांड में छह की गिरफ्तारी, मामला अब भी रहस्‍य के घेरे में

 

नई दिल्ली । छतरपुर स्थित 12 एकड़ के फॉर्म हाउस पर मालिकाना हक के विवाद को लेकर हुए खूनी संघर्ष में मारे गए शराब व रीयल एस्टेट के बड़े कारोबारी पॉन्टी चड्ढा व हरदीप सिंह चड्ढा मामले में अभी तक छह लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। इनमें पॉन्टी को 2 पर्सनल गार्ड भी शामिल हैं। बावजूद इसके यह मामला सुलझने के बजाय उलझता ही जा रहा है। घटना के दो दिन बीतने के बाद भी पुलिस बिखरी कड़िया जोड़ने में लगी है।

फेसबुक मामले में बवाल बढ़ा, चौतरफा दबाव के बाद दस गिरफ्तार

: कपिल सिब्‍बल और अरविंद केजरीवाल ने भी की मुंबई पुलिस की निंदा : मुंबई। फेसबुक पर ठाकरे विरोधी कमेंट डालने वाली लड़की शाहीन ढाडा के चाचा के क्लीनिक पर हमला करने के मामले में महाराष्ट्र पुलिस ने 10 लोगों को गिरफ़्तार कर लिया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि करीब 50 व्यक्तियों से अधिक के खिलाफ एफआईआर की गई है, जिनमें कुछ शिवसैनिक भी शामिल हैं। इस बीच, राज्य के डीजीपी ने संजीव दयाल ने इंस्पेक्टर जनरल (आईजी) स्तर के अधिकारी को इस मामले की जांच करने और जल्द से जल्द रिपोर्ट देने का आदेश दिया है। गृह मंत्रालय के सूत्रों ने बताया है कि मामले की जांच लगभग पूरी हो चुकी है।

संझिया अरग के बाद अपडेट नहीं हुआ नीतीश कुमार का फेसबुक पेज

    पटना में छठपूजा के दौरान हुए भीषण हादसे के बाद से जहां एक तरफ फेसबुक और ट्विटर पर बिहार सरकार की निंदा करने वाले स्टेटस अपडेट और पोस्टों की बाढ़ आ गयी है वहीं 'मीडिया सैवी' नीतीश कुमार का फेसबुक पेज खामोश पड़ा है।    सोमवार शाम लगभग 5 बजे नीतीश कुमार के …

”महाराष्ट्र सरकार शिव सेना से आउटसोर्स करके पुलिस प्रशासन का काम करा लेगी, मुफ्त में”

Sanjaya Kumar Singh :  खबर है कि मुंबई पुलिस ने फेसबुक पर ''ठाकरे जैसे लोग रोज मरते एवं जन्म लेते हैं, इसके लिए बंद नहीं होनी चाहिए'' जैसी टिप्पणी पोस्ट करने और इसे लाइक करने वाली दो लड़कियों को गिफ्तार कर लिया। उन्हें जमानत करानी पड़ी। ठाकरे और उनके भक्त जो बोलते-करते रहे उसपर मुंबई पुलिस जरा भी गंभीर होती तो न 'ठाकरे' महान होते और न वह इतनी नालायक कि पोस्ट डिलीट करने और माफी मांगने के बाद भी कार्रवाई करती। हमारे यहां कहावत है, "कदुआ पर सितुहा चोख" यानी कद्दू / घीया / लउकी पर तो सितुहा (सीप) की धार भी तेज होती है।''

शाहीन और रेणु को गिरफ्तार करने वाले पुलिस अफसरों को तत्काल सस्पेंड करो

Srijan Shilpi : इस मामले पर खुल कर बहस होनी चाहिए। लगातार ऐसे मामले देखने में आ रहे हैं। ऐसा लगता है कि पुलिस वाले संविधान और क़ानून भूलकर नेताओं की चाकरी करने में लगे हुए हैं। यह मनमानी बंद होनी चाहिए। सच बोलना देश के नागरिकों का मौलिक कर्तव्य है और इसके लिए उसे संविधान के तहत मौलिक अधिकार मिले हुए हैं। जिस देश के नागरिक अपने मौलिक अधिकार और मौलिक कर्तव्य भूल जाते हैं, उस देश पर तानाशाहों का कब्जा हो जाता है! इस मामले में शाहीन और रेणु की गिरफ्तारी के लिए जिम्मेवार पुलिस अधिकारियों पर भी मुकदमा चलना चाहिए और उन्हें तत्काल सस्पेंड करते हुए उचित विभागीय कार्रवाई शुरू होनी चाहिए।

मान‍हानि के मामले में संपादक एस सेल्‍वम और करुणानिधि की होगी पेशी

  चेन्नई। तमिलनाडु सरकार द्वारा दायर अवमानना के एक मामले में कोर्ट ने डीएमके प्रमुख करुणानिधि व तमिल दैनिक मुरासोली के प्रकाशक, मुद्रक एवं संपादक एस सेल्वम को 18 दिसंबर को तलब किया है। इस मामले में करुणानिधि पर श्रम मंत्री एस टी चेल्लापांडियन की मानहानि करने वाला बयान देने और सेलम पर उस बयान …

पत्रकारों के खिलाफ की गई टिप्‍पणी पर काटजू ने खेद जताया

 

नयी दिल्ली : भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू ने पत्रकारों के खिलाफ अपनी टिप्पणी के लिए खेद प्रकट किया है और भारतीय समाचारपत्र सोसाइटी (आईएनएस) ने इसे स्वीकार कर लिया है। काटजू की टिप्पणी पर मीडिया में जबर्दस्त प्रतिक्रिया हुई थी। आईएनएस ने आज अपने बयान में कहा कि आईएनएस के अध्यक्ष को 21 सितंबर को लिखे काटजू के पत्र पर सोसाइटी के कार्यकारी समिति के सदस्यों ने विचार किया, जिसमें उन्होंने (काटजू) खेद प्रकट किया था। 

शाहीन ने कभी किसी सोशल नेटवर्किग प्लेटफार्म पर न जाने की कसम खा ली है

Alok Dixit : भारत में अभिव्यक्ति की आजादी कितनी सुरक्षित है इसका एक नमूना देखिये. ठाकरे के निधन पर एक फेसबुक यूजर Shaheen Dhada ने फेसबुक स्टेटस लिखा और उसकी दोस्त Renu Srinivasan ने उसे शेयर कर दिया. शिवसैनिक भड़क उठे और लड़की को जबरन पुलिस स्टेशन ले आए. साथ ही शाहीन के चाचा के अस्पताल पर धावा बोल दिया और हास्पिटल को बुरी तरह से बर्बाद कर दिया. शाहीन और रेनू को सारी रात पुलिस स्टेशन में बैठना पड़ा.

रंडियों के गांव वाली चित्रलेखा

 

नटपुरवा, हरदोई : गर्म-गोश्‍त की दूकानों वाले गांव से पहले करीब डेढ़ दर्जन अधेड़ और युवक मेरी कार को घेर लेते हैं और फिर शुरू हो जाती है इन दुकानदारों के बीच ग्राहकों को अपनी तरफ खींचने की आपाधापी। कोई गेट खोलने में जुटा है तो कोई रास्‍ता रोक रहा है। ग्राहक को लुभाने और खींचने के लिए मानो गदर-सी मच गयी है।

शर्म करो महाराष्‍ट्र सरकार और पुलिस.. कायरता की भी हद होती है

Anand Pradhan : शर्म करो महाराष्ट्र सरकार और पुलिस…कायरता की भी हद होती है…जिसने जीवन भर कानून को ठेंगा दिखाया, संविधान का मजाक उड़ाया, धार्मिक और जातीय नफ़रत और विभाजन की राजनीति की, जिसकी फासीवादी राजनीति के कारण सैकड़ों निर्दोष नागरिक दंगों की भेंट चढ़ गए, उसे राजकीय सम्मान और सच बोलनेवाली दो लड़कियों- शाहीन और रेणु को जेल…

भास्‍कर ने चैनल वन एवं नितीश ने इंडिया न्‍यूज ज्‍वाइन किया

 

देश लाइव, रांची से खबर है कि भास्‍कर कुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे एसोसिएट प्रोड्यूसर के पद पर कार्यरत थे. भास्‍कर ने अपनी नई पारी नोएडा में चैनल वन के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी एसोसिएट प्रोड्यूसर बनाया गया है. भास्‍कर डेस्‍क पर अपनी जिम्‍मेदारी संभालेंगे. वे पिछले पांच सालों से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं. दिल्‍ली यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता की शिक्षा हासिल करने वाले भास्‍कर अपने करियर की शुरुआत पटना में एक मैगजीन के साथ की थी. इसके बाद वे दिल्‍ली में संधान नामक पाक्षिक पत्रिका से जुड़ गए. यहां से इस्‍तीफा देने के बाद वे हमार टीवी से जुड़े. हमार को अलविदा कहने के बाद वे देश लाइव चैनल के साथ रांची में जुड़ गए थे.  

केबल टीवी में एकाधिकार खत्‍म करेगी सरकार

 

केबल टीवी के क्षेत्र में एकाधिकार को खत्म करने में सरकार अब जुट गई है। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की पहल से कुछ ऐसा ही प्रतीत हो रहा है। मंत्रालय ने दूरसंचार नियामक ट्राई से कुछ ऐसे उपाय करने को कहा है जिससे कि केबल टीवी सेक्टर में किसी के भी एकाधिकार की गुंजाइश कतई न रहे। दूसरे शब्दों में, ट्राई से इस सेक्टर में किसी की भी मोनोपोली की रोकथाम सुनिश्चित करने को कहा गया है। देश भर में केबल डिजिटलाइजेशन के दूसरे चरण में प्रवेश करने के साथ ही सरकार ने इस दिशा में भी अपनी कवायद तेज कर दी है।

पत्रकारिता भटकाव की शिकार है इसलिए परम्‍पराएं बाजार तय कर रहा है

 

: सम्‍पादकाचार्य पराड़कर जी की 129वीं जयंती मनाई गई : वाराणसी। संस्कृति की रक्षा पत्रकारिता व शिक्षा से ही संभव है। आज सम्पादकाचार्य बाबू राव विष्णु राव पराड़कर जी के मिशन का अभाव है। पूरे देश को पत्रकारिता ने ही जोड़ा है। बाजार की चुनौती का विकल्प तैयार करने की जरूरत है। साथ ही बदले परिवेश में एक नये प्रेस आयोग के गठन की आवश्यकता है ताकि प्रेस की स्वतंत्रता और भूमिका का नई चुनौतियों के अनुसार निर्धारण हो सके। यह विचार आज काशी पत्रकार संघ के तत्वावधान में पराड़कर भवन में आयोजित बाबूराव विष्णुराव पराड़कर की 129वीं जयंती पर वक्ताओं ने व्यक्त किए। 

आतंकियों के हमले में आठ पत्रकार घायल, टीवी चैनल बंद

  इज़रायली वायु सेना द्वारा गाज़ा पट्टी पर की गई बमबारी के बाद यरूशलेम स्थित टीवी चैनल "अल-कुद्स" के प्रसारण बंद हो गए हैं। इसका कारण यह बताया गया है कि उस 11-मंज़िला इमारत पर एक रॉकेट फटने से इस टीवी चैनल के कार्यालय को भारी क्षति पहुँची है।   छह पत्रकार घायल हुए हैं। …

क्या ‘डरे हुए’ मीडिया ने किया ठाकरे का ‘कारपेट कवरेज़’?

  शिव सेना प्रमुख क्लिक करें बाल ठाकरे की मृत्यु को जिस तरह से भारतीय टीवी चैनलों पर दिखाया गया उसे मीडिया विश्लेषक शैलजा बाजपेई "कारपेट कवरेज" कहती हैं.   शैलजा जो कि इन्डियन एक्सप्रेस समूह में काम करती हैं वो कहती हैं कि जिस तरह सीएनएन आईबीएन के राजदीप सरदेसाई और टाइम्स नाउ के …

लगातार दूसरे दिन काले रंग में प्रकाशित हुआ ‘सामना’

 

मुम्बई : शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे के पसंदीदा समाचार पत्र `सामना` (मराठी) और `दोपहर का सामना` (हिन्दी) सोमवार को लगातार दूसरे दिन काले रंग के कवर पृष्ठों के साथ प्रकाशित हुए। ठाकरे ने ही ये दोनों समाचार पत्र शुरू किए थे। ठाकरे ने 23 जनवरी, 1988 को मराठी लोगों के लिए `सामना` शुरू किया था। वह इसके संस्थापक और सम्पादक भी थे। इसके रोजमर्रे के काम का निर्धारण हालांकि कुछ चुनिंदा व विश्वसीय कार्यकारी सम्पादक करते थे। ठाकरे के शनिवार को निधन के बाद रविवार को पहली बार इसके दो मुख्य कवर पृष्ठ काले रंग में प्रकाशित हुए। इसके शुरू होने के बाद ऐसा पहली बार हुआ। सोमवार को भी इसके कवर पृष्ठ काले रंग में प्रकाशित हुए।

सेबी से परेशान सहारा सैट की शरण में पहुंचा

नई दिल्ली : सहारा समूह ने शेयर बाजार नियामक सेबी के खिलाफ प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण (सैट) में सोमवार को अपील करते हुए समूह की दो कंपनियों से जुड़े मामले में करीब तीन करोड़ निवेशकों से संबंधित दस्तावेज जमा करने के लिए और मोहलत मांगी। सहारा इंडिया रीयल एस्टेट कारपोरेशन लिमिटेड (एसआईारईसीएल) और सहारा हाउसिंग इनवेस्टमेंट कारपोरेशन लिमिटेड (एसएचआईसीएल) ने सैट से संपर्क किया है।

चैनल के पत्रकार देवेश को बदमाशों ने गोली मारी

 

एटा : इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के पत्रकार को बाइक सवार बदमाशों ने अवागढ़ में गोली मार दी। गोली लगने से पत्रकार गंभीर रूप से घायल है। पुलिस ने बदमाशों का काफी दूर तक पीछा किया, लेकिन वे चमका देकर भाग निकले। पुलिस घेरेबंदी कर अपराधियों को खोज रही है। साथ ही घटना की जांच भी शुरू कर दी गई है। घटना सोमवार देर रात लगभग साढ़े नौ बजे की है। पत्रकार का इलाज चल रहा है। वे खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं। 

हरियाणा न्‍यूज के मालिक गोपाल कांडा को नहीं मिली जमानत

 

नई दिल्ली : एयर होस्टेस गीतिका शर्मा के आत्महत्या के मामले में कथित भूमिका के लिए गिरफ्तार हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल गोयल कांडा को दिल्ली उच्च न्यायालय ने जमानत देने से सोमवार को इंकार कर दिया। न्यायमूर्ति प्रतिभा रानी ने अभियोजन और बचाव पक्ष के वकील की दलीलें सुनने के बाद जमानत याचिका खारिज कर दी। उन्होंने कहा कि इस मामले में वह बाद में विस्तृत आदेश देंगी।

मीडिया के इस अपराध की सजा कौन तय करेगा?

: टीआरपी, हेडलाइंस और हेडिंग… मीडिया के संसार के ये अत्यंत महत्वपूर्ण शब्द हैं। मीडिया इन्हीं को जीता है, इसीलिए किसी की मौत को भी सिर्फ अपने नजरिए से ही देखता है और अंतिम यात्राओं में भी तलाश कुछ ऐसी करता है, कि लोग देखते रहें, स्क्रीन से हटें नहीं। बाल ठाकरे की मौत का मातम भी मीडिया के लिए एक इवेंट ही बना रहा और श्रद्धा के सैलाब से उमड़ी अंतिम यात्रा भी रही सिर्फ और सिर्फ राजनीतिक बहस का मुद्दा। संवेदनाओं में भी संभावनाओं की तलाश करते मीडिया पर -निरंजन परिहार का लेख… :

ठाकरे के खिलाफ लिखने पर गिरफ्तार लड़की के पक्ष में उतरे जस्टिस काटजू, सीएम को भेजा पत्र

भारतीय प्रेस परिषद के चेयरमैन जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने उस लड़की के पक्ष में आवाज उठा दी है जिसे ठाकरे के खिलाफ लिखने पर पुलिस ने पकड़ लिया और थाने ले गई. बताया जाता है कि उस लड़की को थाने से जमानत करानी पड़ी, यानि एक तरह से उसे गिरफ्तार कर लिया गया था पर थाने से हुई जमानत के बाद रिहा हुई.

केआरके ने ठाकरे की मौत को रावण का अंत बताया

एक तरफ़ जहां आमची मुंबई का हर छोटा-बड़ा कलाकार मरहूम बाल ठाकरे की शान में कसीदे पढ़ने में जुटा है वहीं फिल्म 'देशद्रोही' और बिग बॉस से चर्चा में आए केआरके यानी कमाल राशिद ख़ान ने उनके व्यक्तित्व खिलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। बालासाहेब की तुलना केआरके ने रावण से की है।

थ्री-डी अवतार में वोट मांगे मोदी ने, लेकिन तकनीकी गड़बड़ी ने बिगाड़ा खेल

गुजरात में चुनाव प्रचार में थ्री डी तकनीक का इस्तेमाल करने का मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी का दांव कमजोर साबित होता दिख रहा है. बार-बार आवाज गायब होने से सूरत में लोग मोदी की सभा छोड़कर चलते बने.  गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को थ्री डी तकनीक से प्रचार का आगाज किया. मोदी खुद गांधीनगर में थे, लेकिन एक ही समय में मोदी ने गुजरात के चार शहरों में जनसभा की.

ठाकरे के खिलाफ फेसबुक पर लिखना गुनाह, दो लड़कियां गिरफ्तार

रविवार को 'मुंबई बंद' को लेकर फेसबुक पर कमेंट करने के लिए पुलिस ने दो लड़कियों शाहीन और रेणु को पकड़ लिया. 21 साल की शाहीन ने फेसबुक पर लिखा था- ठाकरे जैसे लोग रोज पैदा होते और मरते हैं. इसके लिए बंद करने की कोई जरूरत नहीं है. इस कमेंट को लाइक करने वाली एक लड़की रेणु को भी पुलिस ने पूछताछ के लिए धर लिया. दोनों को आईपीसी की धारा 295 (ए) (धार्मिक भावनाएं भड़काना) और आईटी एक्‍ट, 2000 की धारा 64 (ए) के तहत पकड़ा गया था. 'मुंबई मिरर' अखबार के मुताबिक हालांकि लड़की ने अपना कमेंट डिलीट कर दिया था और माफी भी मांग ली थी.

ठाकरे के मरने से किस युग का अंत हुआ- नफरत के युग का या सदभाव के युग का?

कांग्रेस को कैंसर कहने वाले बाल ठाकरे की मृत्यु पर कांग्रेसी जार-जार रोए। ऐसा लग रहा था कि कांग्रेस के कैंसर का पता लगाने वाले वह अकेले विशेषज्ञ थे। इस दुनिया से उनके चले जाने के बाद कांग्रेस के कैंसर का इलाज करने वाला कोई नहीं रहा। शायद इसीलिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि लोग हमेशा बाल ठाकरे को उनके शानदार व्यक्तित्व के लिए याद करेंगे।

काले कवर पृष्‍ठ के साथ प्रकाशित हुआ सामना और दोपहर का सामना

 

मुम्बई : शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे ने जिन दो समाचार पत्रों- 'सामना' (मराठी) और 'दोपहर का सामना' (हिन्दी) की शुरुआत की थी, वे रविवार को काले रंग के कवर पृष्ठों के साथ प्रकाशित हुए। ठाकरे ने 23 जनवरी, 1988 को 'सामना' शुरू किया था। वह इसके संस्थापक और सम्पादक भी थे। इसके रोजमर्रे के काम का निर्धारण हालांकि कुछ चुनिंदा व विश्वसीय कार्यकारी सम्पादक करते थे।

टाइम्स नाऊ वाले अर्नव गोस्वामी से मेरा मोहभंग हो गया

बाल ठाकरे नहीं रहे…एक इंसान होने के नाते उनकी आत्मा की शांति की कामना…लेकिन जिस तरह से मीडिया में उनको हीरो बताया और बनाया जा रहा है…महान होने का तमगा दिया जा रहा है…दुख जताया जा रहा है…उस पर मुझे सख्त ऐतराज है…पिछले कुछ दिनों से देख रहा हूं कि मीडिया बाल ठाकरे को ऐसे प्रोजेक्ट कर रहा है, जैसे वे एक महान देशभक्त थे और राष्ट्र सेवा में ही अपना जीवन अर्पित कर दिया था…बेहद शर्मनाक…

जी ग्रुप को अमर उजाला बेचने के बाद डील से मुकर गए राजुल माहेश्वरी!

: जी ग्रुप ने कोर्ट में घसीटा और स्टे हासिल कर लिया :  जी ग्रुप की एक कंपनी मीडिया वेस्ट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने दिल्ली हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की थी. इस याचिका पर इसी सात नवंबर को  दिल्ली हाईकोर्ट के जज बाल्मीकि जे मेहता ने कंपनी को स्टे दिया. याचिका में जी ग्रुप की कंपनी मीडियावेस्ट ने आरोप लगाया है कि अमर उजाला की बिक्री को लेकर उसके मालिक राजुल माहेश्वरी ने जो डील की थी, जिस एमओयू पर साइन किया था, उसे मानने से अब मुकर रहे हैं.

Why I can’t pay tribute to Thackeray

: His bhumiputra theory flies in the face of our Constitution and works against the unity needed to ensure development :  Muppadhu kodi mugamudayal / Enil maipuram ondrudayal / Ival Seppumozhi padhinetudayal / Enil Sindhanai ondrudayal… (This Bharatmata has 30 crore faces / But her body is one / She speaks 18 languages / But her thought is one…) – Tamil poet Subramania Bharathi

तिरंगे में लपेटा, राजकीय सम्मान दिया, अब भारत रत्न भी दे दो

Pankaj Srivastava : आदमी गलतियों से ही सीखता है..आज तमाम भ्रम दूर हो गए। विद्वानों की अहर्निश प्रशंसा..जनता का सैलाब, सुर साम्राज्ञी और सहस्त्राब्दी के महानायक के आंसुओं से मन भीग गया…फिर तिरंगे में लिपटे शेर की अंतिम यात्रा देखी और वो बावर्दी दुरुस्त पुलिसवालों की सलामी.. लगा कि बिलकुल ही अंधेरे में था….गलती सुधारने की कोशिश के तहत मेरी माँग है कि बाल ठाकरे को मरणोपरांत भारतरत्न दिया जाए…आप लोग इसे लेकर माहौल बनाएँ….मैं तब तक संविधान से लोकतंत्र, धर्मनिरपेक्षता, समानता और सहिष्णुता जैसी बकवास बातों को बाहर करने का प्रस्ताव तैयार करता हूँ..

शिवसैनिकों से पत्थर खाने के बाद जार्ज फर्नांडिस बोले- चलो बाल ठाकरे के घर पर काफी पीते हैं

बाल ठाकरे की मौत पर उनकी आत्मा शान्ति मिलने की कामना कर रहा हूँ. गो कि हमें वे कभी पसंद नहीं रहें. एक वाकये का जिक्र करना चाहता हूँ. जार्ज फर्नांडिस और बाल ठाकरे में कमाल की दोस्ती रही लेकिन सार्वजनिक रूप से जार्ज बाला के खिलाफ आग उगलते रहे. बांद्रा के आसपास कहीं जार्ज की सभा थी. बंबई में गैर मराठियों के सवाल पर. पानीवाली बाई मृणाल गोरे भी साथ में थी. जार्ज ने जब बोलना शुरू किया तो सैनिको ने जार्ज पर ईंट पत्थर फेकना शुरू किया लेकिन जार्ज रुके नहीं बल्कि कुछ ज्यादा ही तल्ख़ हो गए.

ठाकरे प्रकरण के दौरान लगातार मिमियाते और रोते नजर आए अर्नब गोस्वामी

वाह रे मीडिया के कर्णधारों! एक हिन्दू नेता के लिए इतना जबरदस्त मीडिया कवरेज. पुलिस द्वारा जारी 20 लाख लोगों की भीड़ के आकड़े से सबसे ज्यादा प्रभावित अपने अर्नब गोस्वामी रहे. जब वे ठाकरे के साथ की दोनों बातचीत दिखा रहे थे तब भी वे मिमियाते लग रहे थे और जब राज ठाकरे से बातचीत कर रहे थे तब भी वे डरे हुए लग रहे थे.

2020 तक भारत में 40 फीसदी आबादी गंभीर पेयजल संकट से जूझेगी

: वैश्विक स्तर पर बढ़ रही जल साक्षरता के प्रति जागरूकता से भारत को सीख लेने की आवश्यकता : पानी मनुष्य के जीवन का आधार है। इसके बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। लेकिन विकास की अन्धी दौड में हमने जिस तरह से प्राकृतिक संसाधनों का अन्धाधुन्ध इस्तेमाल किया है, उससे इन संसाधनों के संकट की उपलब्धता पर प्रश्नचिन्ह लग गया है और आज पूरी दुनिया में आने वाले समय में पानी के संकट की चर्चा जोरों पर है।

नेटवर्क वन से इस्‍तीफा देकर सुयश ग्राम से जुड़ेंगे संदीप

  नेटवर्क वन मीडिया एजेंसी का दामन छोड़ने के बाद संदीप उपाध्याय रायपुर से प्रकाशित होने वाली मैग्जीन सुयश ग्राम से जुड़ेंगे। संदीप इससे पहले नेटवर्क वन मीडिया एजेंसी, नोएडा में बतौर एसोसिएट प्रोड्यूसर कार्य कर रहे थे। इससे पहले उन्होंने इंडिया न्यूज और आज समाज में लंबी पारी खेली है। संदीप ने अपने जर्नलिज्म …

”बेगूसराय में फोटोग्राफर के रिश्‍तेदार का साथ देने के लिए गलत खबर छाप रहा है दैनिक जागरण”

बेगूसराय के रहने वाले ईश्‍वरचंद्र ने आरोप लगाया है कि दैनिक जागरण अखबार सड़क के एक मामले को लेकर गलत खबरों का प्रकाशन कर रहा है. ईश्‍वर का कहना है कि जागरण के फोटोग्राफर उत्‍पल कुमार के रिश्‍तेदार सड़क के मामले में विवाद पैदा कर रहे हैं, परन्‍तु अखबार विपक्षी महेंद्र चौधरी को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है. दो खबरें महेंद्र चौधरी के खिलाफ दैनिक जागरण अखबार में प्रकाशित की गईं. उन्‍होंने जागरण के कंपनी रजिस्‍ट्रार को भी पत्र लिखकर इस मामले से अवगत कराया है. उन्‍होंने भड़ास के पास भी एक पत्र भेजा है. नीचे दोनों पत्रों का प्रकाशन किया जा रहा है. 

बाला साहेब के भगवा स्‍वरूप को क्‍यों भूल रहा है अंग्रेजी मीडिया?

 

महाराष्ट्र के दिवंगत नेता बाला साहेब ठाकरे को श्रद्धांजलि देने में अंग्रेजी टी.वी. और प्रिंट मीडिया भी पीछे नहीं रहा। उनकी भड़काऊ राजनीति, तानाशाही और हिंसक बयानबाजी का आलोचक रहा देश का अंग्रेजी मीडिया बाला साहेब की मौत पर उनका गुणगान करता नजर आया। इसमें कोई अस्वाभाविक बात नहीं है। मरणोपरान्त हर जाने वाले की प्रशस्ति में कसीदे काढ़े जाते हैं पर महत्वपूर्ण बात यह है कि केसरिया चोगा पहनकर, गले में रुद्राक्ष की माला लटकाकर, छत्रपति शिवाजी महाराज की वैदिक ध्वजा फहराकर और सिंह के चित्र को दर्शाते हुए सिंहासन पर आरूढ़ होने वाले बाला साहेब ने एक प्रखर हिन्दूवादी छवि का निर्माण किया और उसे अंत तक निभाया। 

शिव सैनिकों के डर से मुंबई में टीवी चैनलों पर बंद रहा मनोरंजन

 

शिव सेना के संरक्षक बाल ठाकरे के निधन से मुंबई वासियों को रविवार को अपने घरों में ही रहने को मजबूर होना पड़ा और उन्हें टेलीविजन पर कोई भी कार्यक्रम देखने को नहीं मिला। कई लोगों ने छुट्टी के दिन घर से बाहर जाने का कार्यक्रम बना रखा था, लेकिन उन्हें घर पर ही रहने को मजबूर होना पड़ा और इस दौरान उन्हें हिंदी के सामान्य मनोरंजन चैनल भी देखने को नहीं मिले।

दैनिक जागरण के वरिष्‍ठ पत्रकार डा. अनुज का निधन

  दैनिक जागरण, रांची के सीनियर रिपोर्टर डा. अनुज कुमार का रविवार की शाम पटना में निधन हो गया. वे कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे, पटना में ही उनका इलाज चल रहा था. डाक्‍टरों ने उनके लीवर में संक्रमण की आशंका जताई थी. डा. अनुज दैनिक जागरण, रांची के साथ लांचिंग के समय …

अभद्रता करने वाले चौकी इंचार्ज के खिलाफ पत्रकारों ने मोर्चा खोला, निलंबन की मांग

 

बिजनौर जिले के बास्टा चौकी इंचार्ज द्वारा पत्रकारों से अभद्रता व धमकी देने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। स्थानीय पत्रकारों ने दरोगा के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए सीओ व एसडीएम से उसके निलंबन की मांग उठाई है। पुलिस व प्रशासन को कार्रवाई के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। बास्टा चौकी इंचार्ज मुस्तकीम अपनी विवादित कार्यशैली के कारण पूर्व में भी काफी चर्चित रहे हैं।

चैनल के पत्रकार की गोली मारकर हत्‍या

 

दक्षिण पश्चिम पाकिस्तान के अशांत बलूचिस्तान प्रांत में आज टीवी समाचार चैनल के एक संवाददाता की अज्ञात बंदूकधारियों ने गोली मार कर हत्या कर दी. पंजगौर जिले में वाशबूद इलाका स्थित एक नाई की दुकान में दोपहर के वक्त दुनिया न्यूज के संवाददाता रहमतुल्ला आबिद बैठे हुए थे तभी दो बंदूकधारी मोटरसाइकिल पर आए और गोली चला दी.

भोजपुरी फिल्म “भोले शंकर ” में विलेन का रोल किया था राघवेन्द्र मुदगल ने

दुखद समाचार। "चैन से सोना है तो अब जाग जाओ"….. कहने वाला असमय ही सो गया। राघवेन्द्र मुदगल का पटना में निधन हो गया। पिछले दिनों हार्ट अटैक के बाद पटना में उनका इलाज़ चल रहा था। परिजन भी साथ में हैं। आज पटना में ही होगा दाह संस्कार। मेरे सहपाठी राघवेन्द्र मुदगल की स्कूली शिक्षा बिलासपुर में हुई।

फारवार्ड प्रेस से जुड़े पंकज चौधरी, जितेंद्र कुमार ज्योति और नागेंद्र तिवारी

फारवार्ड प्रेस से खबर है कि संपादकीय विभाग में दो एवं विज्ञापन विभाग में एक नियुक्ति की गई है। पंकज चौधरी को सहायक संपादक एवं जितेन्द्र कुमार ज्योति को उपसंपादक  की जिम्मेदारी सौंपी गई है वहीं नागेंद्र तिवारी को विज्ञापन विभाग के मैनेजर के पद पर नियुक्त किया गया है। पंकज चौधरी इससे पूर्व आज समाज, दैनिक जनवाणी  समाचार पत्र के संपादकीय विभाग में काम कर चुके हैं।

संवाददाता साहब कह रहे थे कि इससे बड़ी अंतिम यात्रा आज़ाद भारत में किसी की भी मौत पर नहीं देखी गई

Mayank Saxena : न जाने किस चैनल की आवाज़ अभी कान में पड़ी…संवाददाता साहब कह रहे थे कि इससे बड़ी अंतिम यात्रा आज़ाद भारत में किसी की भी मौत पर नहीं देखी गई….अच्छा हुआ टीवी के सामने नहीं था, वरना आज कई हज़ार का नुकसान हो जाता….

बाल ठाकरे के पार्थिव शरीर को तिरंगे में लपेटा जाना कहां तक उचित है?

Priyabhanshu Ranjan : बाल ठाकरे का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान से किया जाना कहाँ तक उचित है ??? उनके पार्थिव शरीर को तिरंगे में लपेटा जाना कहाँ तक उचित है ??? मेरी समझ में ये तिरंगे का सम्मान तो कतई नहीं है !!!

शिवसैनिकों की गालियां, धमकियां और पत्थर खाने का सौभाग्य अपन को भी मिला : राहुल देव

Rahul Dev : शिवसैनिकों की गालियां, धमकियां और पत्थर खाने का सौभाग्य अपन को भी मिला। अपना सबसे गौरवशाली समय मुंबई में रहना, पत्रकारिता करना रहा।

20 हजार करोड़ रुपये का मालिक पोंटी अपने भाई को 50 करोड़ का फार्म हाउस देने को तैयार न था

किसी की मौत पर आयना दिखाना सबसे तकलीफदेह है. एक बड़ा उद्योगपति जो अंबानी को पीछे धकेलने के सपने संजोए था, खुद अपने भाई को मारने और फिर उसी की गोली से मौत पायेगा, ये पोंटी चड्ढा के दुश्मनों को भी कबूल न होगा . पैसे की हवस, रुतबे का गुरूर और गला काटकर आगे बढने की चाह पोंटी की ताकत रही और आज ये ही सबसे बड़ी कमजोरी भी बनी.

जाने-माने पत्रकार वेदव्रत गिरी की सड़क दुर्घटना में मौत

मध्य प्रदेश और देश के जाने-माने पत्रकार श्री वेदव्रत गिरी के निधन की खबर से स्तब्ध हूं। वेदव्रत गिरी का निधन अलीगढ़-एटा के पास एक सड़क हादसे में आज हुआ। वे माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के पहले बैच के छात्र थे। एक अच्छे रिपोर्टर के नाते उन्होंने अपनी एक खास जगह बनाई।

”सेहत से खिलवाड़ की हद तक शराबनोशी की आदत ने राघवेंद्र को अंदर से खोखला बना दिया था”

राघवेंद्र मुद्गल ने धरती से खुद की विदाई का दिन भी क्या चुना…जिस दिन पूरा देश बाला साहब ठाकरे को अपने-अपने तईं विदाई दे रहा था…सबको जगाने वाली आवाज सो गई…बेहतर आवाज के धनी राघवेंद्र मुद्गल को उनकी प्रतिभा और प्रतिभा पर अत्यधिक भरोसा ही खा गया..अन्यथा उन्हें अपने आवाज की जादुई तासीर को बेहतर तरीके से दुनिया को और भी बहुत कुछ देना-दिखाना था…लेकिन सेहत से खिलवाड़ की हद तक की शराबनोशी की उनकी आदत ने उन्हें अंदर से खोखला बना कर रख दिया था…

प्रसार भारती ने टैम के खिलाफ सीसीआई का दरवाजा खटखटाया

  कोलकाता : सार्वजनिक क्षेत्र के प्रसारक प्रसार भारती ने टेलीविजन आडिएंस मेजरमेंट (टैम) एजेंसी पर अपनी प्रभावी स्थिति का दुरूपयोग करने और निष्पक्ष तरीके से दर्शकों का आकलन नहीं करने का आरोप लगाते हुए भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) का दरवाजा खटखटाया है। 

दैनिक जागरण, मुगलसराय के संवादसूत्र के खिलाफ शिकायत

दैनिक जागरण की मुश्किलें आए दिन बढ़ती जा रही हैं. नया मामला दैनिक जागरण, मुगलसराय से जुड़ा हुआ है. यहां के संवादसूत्र पर व्‍यक्गित विद्वेष के चलते खबर को बहुत ही गलत तरीके से प्रकाशित करने का आरोप लगा है. इसकी शिकायत दैनिक जागरण के संपादकों को करने के साथ प्रेस काउंसिल को भी पत्र भेजा गया है. शिकायत करने वाले पत्रकार तथा समाजसेवी राजीव गुप्‍ता का कहना है कि उनकी छवि धूमिल करने के लिए दैनिक जागरण ने भ्रामक खबरों का प्रकाशन किया. 

मीडिया की इमारत पर हमला, छह पत्रकार घायल

 

गाजा सिटी। गाजा सिटी में मीडिया की एक इमारत पर इस्राइल के हमले में कम से कम छह पत्रकार घायल हो गए। उत्तरी गाजा में एक अन्य हमले में दो लोगों की मौत हो गई तथा कई लोग घायल हो गए। स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता अशरफ अल कद्रा ने बताया कि इस्राइली युद्धक विमानों ने शोवा में अल कुद्स टीवी के दफ्तर और गजा सिटी के नजदीक रीमल में हौसारी इमारत पर हमले किए जिससे कम से कम छह पत्रकार घायल हो गए। 

मोहम्मद असलम को पत्रकारिता में पीएचडी की उपाधि

 

मेरठ। मवाना के कल्याण सिंह निवासी मौहम्मद असलम एडवोकेट (जो वर्तमान में कई राष्ट्रीय समाचार पत्रों से भी जुडे हुए हैं) ने सीएमजे विश्ववि़द्यालय से मास कम्युनिकेशन एंड जर्नलिज्म विषय में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की है। मौहम्मद असलम ने सीसीएस, मेरठ विवि के प्रो0 डा0 एसके मिश्रा के निर्देशन में 'ए डायवरसीफाइड स्टडी आफ दा माडल्स आफ मास मीडिया कम्युनिकेशन एंड पब्लिक ओपिनियन' में शोध किया है। असलम ने पीजी भी डिग्री भी कई विषयों में की हुयी है। उन्होंने बताया कि मेरे शोध करने में एसो.प्रो. राजकीय पीजी कालेज रानीखेत डा0 अभिमन्यु नागर का विशेष योगदान है। 

“चैन से सोना है तो अब जाग जाओ”.. कहने वाले राघवेंद्र खुद सो गए

एक जमाने में क्राइम शो के चर्चित नाम राघवेंद्र कुमार मुदगल का पटना में निधन हो गया. वे पिछले कई घंटों से वेंटिलेटर पर थे. उनके निधन की खबर से मीडियाजगत में शोक का माहौल है. राघवेंद्र का अंतिम संस्‍कार रविवार को ही पटना में किया जाएगा. राघवेंद्र जब पिछले दिनों दिल्ली से पटना ट्रेन से जा रहे थे, तभी उन्हें दिक्कत महसूस हुई और पटना उतरने के बाद उन्हें डाक्टर के पास ले जाया गया. 

साधना में बिहार स्‍टेट हेड बनाए गए मनोज कुमार

  साधना न्यूज में झारखंड में बतौर स्टेट हेड काम कर रहे मनोज कुमार को अब बिहार के स्टेट हेड के रूप में कमान सौंपी गई है। पिछले अठारह महीनों से मनोज कुमार झारखंड में काम कर रहे थे। बिहार में स्टेट हेड के तौर पर काम कर रहे नैयर आजाद को न्यूज एडिटर बनाए …

”ये सब बंद करों नहीं तो मैं मिड डे को मिड नाइट में बदल दूंगा”

 

बालासाहेब शुरू से व्यवस्था विरोधी थे। उनके पिता केशव ठाकरे ने उनसे कह रखा था कि कभी सरकारी नौकरी नहीं करना। शायद इसीलिए वे हमेशा व्यवस्था में बदलाव के लिए संघर्ष करते रहे। बदलाव के तौर तरीकों पर मतभेद रहे हैं और उनके चाहनेवालों के साथ साथ उनका विरोध करने वालों की संख्या भी बड़ी रही है। आम तौर पर नेता के बुजुर्ग होते ही उसके समर्थकों की तादाद घट जाती है।

डा. भाजपा कुमार विश्वास

Dr. Kumar Vishwas : आप उनसे सहमत या असहमत हो सकते थे ,तटस्थ नहीं ,और यही उनकी शक्ति थी! एक लम्बे समय तक अपने स्वधर्म पर अविचल दृढ रहे अप्रतिम-योद्धा "बाला साहिब ठाकरे" को हार्दिक प्रणाम ! सब से बड़ा शिवसैनिक "शिव" के चरणों में जगह पाए और उनके सभी समर्थकों को इस आघात से उबरने की शक्ति मिले ऐसी प्रभु से कामना है !

सुनीत निगम की मां और श्याम मिश्रा की दादी का निधन

हिन्दी दैनिक विराट वैभव के समाचार संपादक सुनीत निगम की माता बिमला निगम का निधन कानपुर स्थित पैतृक निवास में हो गया। वह 68 वर्ष की थी। स्वर्गीय माता जी आध्यात्मिक विचारधारा की थीं व इनका पूरा जीवन प्रभुभक्ति, सत्संग व ईशचर्चा में ही बीता।

बाल ठाकरे के मरते ही पोंटी चड्ढा की मौत पड़ गई ठंडी

: पल में बदल जाती है खबरों की प्राथमिकता : मीडिया में खबर की प्राथमिकता कब बदल जाए, कोई नहीं जानता। जो एक क्षण पहले सबसे हॉट न्यूज के रूप में देश भर के मीडिया की पहली से लेकर आखिरी खबर होती है वही दूसरे ही क्षण गायब हो जाती है। उसका स्थान लेने के लिए सामने आ जाती है कोई दूसरी बड़ी खबर। आज भी ऐसा ही हुआ।

शराब माफिया पोंटी चड्ढा का अंत, एक दूजे को गोली मार मरे दोनों भाई

गलत-सही किसी भी तरीके से पैसे बटोरने के लिए दिन रात एक करने वालों और लोगों को लूट लूट कर तिजोरी भरने वालों का अंत कई बार ऐसे ही होता है. उन्हें और कोई नहीं मारता. वे खुद आपस में लड़ मर जाते हैं. पोंटी चड्ढा के मामले में ऐसा ही हुआ है. दिल्ली में छतरपुर में पोंटी का फार्महाउस है. यहां पर उसका भाई हरदीप चड्ढा भी आया हुआ था.

इस दिवाली जिला प्रभारियों को गिफ्ट के रूप में ब्लेकबेरी हैंडसेट

( कानाफूसी ) पंजाब के बठिंडा जिले के पत्रकारों पर इस दीवाली मां लक्ष्‍मी मेहरबान हुई हो या ना, लेकिन पंजाब सरकार और सत्‍ताधारी पार्टी के सांसद व विधायक खूब मेहरबान हुए हैं। पता चला है कि बठिंडा में पत्रकारों को सत्‍ताधारी दल ने ब्‍लेकबेरी मोबाइल हैंडसेट का गिफ्‍ट दिया है। यह गिफ्‍ट भी सिर्फ जिला इंचार्जों को मिला है। सरकारें हमेशा भेदभाव करती हैं जो यहां भी जारी रहा। फील्‍ड में इन लोगों की कवरेज करने वाले पत्रकारों व फोटो जर्नलिस्‍टों को ठेंगा दिखा सरकार ने सिर्फ कमरों में बैठकर हुकुम चलाने वाले जिला इंचार्जों को खुश किया है।

एचआर मैनेजर समीक्षा का इस्तीफा, विशाल को मिला प्रभार, राजनारायण जागरण पहुंचे

पंजाब के लुधियाना से खबर है कि यहां 'पंजाब की शक्ति' अखबार को झटका लगा है। दैनिक भास्‍कर छोड़ एचआर मैनेजर के तौर पर पंजाब की शक्ति ज्‍वाइन करने वाली समीक्षा अरोड़ा ने पंजाब की शक्ति को गुडबॉय कर दिया है। बताया जा रहा है कि समीक्षा ने वेतन न मिलने की वजह से नौकरी छोड़ी है।

जागरण में आदर्श शर्मा का प्रमोशन, चीफ सब बने

  दैनिक जागरण, बनारस से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार आदर्श शर्मा को प्रमोशन दिया गया है. अब तक सीनियर सब के रूप में महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारी निभा रहे आदर्श शर्मा को चीफ सब एडिटर बना दिया गया है. वे लम्‍बे समय से दैनिक जागरण को अपनी सेवाएं दे रहे हैं. सरल एवं मृदुभाषी आदर्श शर्मा …

खबर मंत्र में छह जिलों के प्रभारी नियुक्‍त किए गए

 

झारखंड के वरिष्‍ठ पत्रकार हरिनारायण सिंह के नेतृव में निकलने वाले अखबार खबर मंत्र की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं. जिलों में ब्‍यूरो हेड और पत्रकारों के नियुक्ति का सिलसिला शुरू  हो गया है. कई बड़े अखबार के जानेमाने संवादाताओं ने खबर मंत्र का दामन थाम लिया है. दैनिक जागरण के वरिष्‍ठ पत्रकार सत्‍येंद्र मिश्रा को पलामू का ब्‍यूरो हेड बनाया गया है. 

टीवी9 : मराठी की मार से बेरोजगार हो गए दर्जनों पत्रकार

हिन्दी से मराठी होने के कारण टीवी 9 के दर्जनों हिन्दी भाषी पत्रकार घर बैठने को मजबूर हो गए हैं। कुछ दिनों पहले ही दिल्ली से मुंबई आए कई पत्रकार फिर दिल्ली की तरफ कूच कर चुके हैं। मगर दिल्ली में तो और भी हालात बद्तर हैं।

गैरजिम्‍मेदार पत्रकारिता का जवाब सेंसरशिप नहीं : एमएमएस

 

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को कहा कि गैर जिम्मेदाराना पत्रकारिता का जवाब सेंसरशिप नहीं है और मीडिया का आत्मनियमन आज के समय में आवश्यक है। राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर अपने संदेश में सिंह ने कहा कि एक देश के रूप में हम मानते हैं कि मीडिया को बाहय नियंत्रण से पूरी तरह मुक्त होना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह सही है कि कभी कभी गैर जिम्मेदार पत्रकारिता से सामाजिक सौहार्द और व्यवस्था पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है जिसे बनाये रखना लोक सेवकों की जिम्मेदारी है, लेकिन सेंसरशिप इसका जवाब नहीं है। 

विष्णु खरे के इस लेख पर बखेड़ा हुआ है शुरू

फेसबुक पर अनंत विजय Anant Vijay लिखते हैं- 'हिंदी के कवि आलोचक विष्णु खरे ने किसी पत्रिका में हिंदी के वरिष्ठ लेखक और प्रकाशकों के बारे में बेहद घटिया और आपत्तिजनक लेख लिखा है। उस घटिया और आपत्तिजनक लेख पर हिंदी लेखकों की खामोशी हैरान करने वाली है। क्या अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर अपनी कुंठा और भड़ास निकालने की इजाजत दी जा सकती है? इस लेख ने विष्णु खरे की प्रतिष्ठा और गंभीरता को कम किया है।'

एक्सीलेंस इन इनवेस्टिगेटिव जर्नलिज्म एवार्ड लेतीं तहलका संवाददाता प्रियंका दुबे की कुछ तस्वीरें

तहलका की संवाददाता प्रियंका दुबे को उनकी रिपोर्टों के लिए भारतीय प्रेस परिषद द्वारा उत्कृष्टता पुरस्कार से सम्मानित किया गया. ये तस्वीरें कल हुए उसी आयोजन की है. इस बारे में प्रियंका ने अपने फेसबुक वॉल पर भी लिखा है- Priyanka Dubey : And here comes 'The Press Council of India -Raja Ram Mohan Roy Award for Excellence in Investigative Journalism – 2012' on National Press Day…

जागरण समूह के सीएमडी महेंद्र मोहन को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड

नई दिल्ली । जागरण समूह के सीएमडी व प्रबंध संपादकमहेंद्र मोहन गुप्त को समाचार पत्र प्रकाशन के क्षेत्र में महत्वपूर्ण उपलब्धियों के लिए लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद ने शुक्रवार को पीएचडी चैंबर्स ऑफ कॉमर्स की तरफ से होटल 'द ग्रैंड' में आयोजित कार्यक्रम 'एनुअल अवार्ड फॉर एक्सिलेंस 2012' के दौरान उन्हें यह पुरस्कार प्रदान किया।

भुजंग भूषण को साधना न्यूज झारखंड का ‘चीफ आफ ब्यूरोज’ बनाया गया

भुजंग भूषण की नियुक्ति साधना न्यूज झारखंड के प्रभारी के बतौर की गई है. उनके पद का नाम है 'चीफ आफ ब्यूरोज'. भुजंग कई न्यूज चैनलों में वरिष्ठ पदों पर रह चुके हैं. उन्होंने 1995 में आज अखबार के जरिए करियर की शुरुआत की.

बाफ्टा के लिए नामित होने के बाद दिल्ली के तीन छात्र अपनी लघु फिल्में लंदन जाकर दिखाएंगे

दिल्ली के छात्रों द्वारा तैयार की गई तीन लघु फिल्मों को ब्रिटिश फिल्म एवं टेलीविजन अकादमी पुरस्कार (बाफ्टा) के लिए नामित किया गया है। पुरस्कार का आयोजन करने वाली संस्था टोनी ब्लेयर फेथ फाउंडेशन ने घोषणा की कि दिल्ली की इशिता गुप्ता (14), मुदित मुराका (15) और सुजीत रॉय (17) और 12 अन्य छात्रों को लंदन जाकर पुरस्कार समारोह में अपनी फिल्म दिखाने का मौका मिलेगा। इस श्रेणी में नामित होने के लिए फिल्मकारों को तीन मिनट की फिल्म दिखाने के लिए कहा गया था जिसमें वह दिखा सकें कि 'मेरा विश्वास मुझे कैसे प्रेरित करता है।'

साधना न्यूज बिहार के स्टेट हेड नैय्यर आजाद बनाए गए न्यूज एडिटर

साधना न्यूज के बिहार स्टेट हेड के तौर पर कार्य कर रहे नैय्यर आजाद को अब न्यूज एडिटर बना दिया गया है । नैय्यर आजाद आठ महीने पहले सहारा समय नेशनल चैनल छोड़ कर साधना से जुड़े थे और उनके काम को देखकर अब उन्हें न्यूज एडिटर बना दिया गया है। खबर ये है कि वो सीधे एडिटर इन चीफ एसएन विनोद को रिपोर्ट करेंगे।

साधना न्यूज के दो पत्रकारों स्वप्निल और अमित के साथ लूट की वारदात

काम खत्म कर नोएडा के सेक्टर 10 से हरौला के लिए चले साधना न्यूज के दो पत्रकारों को लुटेरों के कहर का शिकार बनना पड़ा. इन्हें आटो से उतारकर इनका मोबाइल, पर्स इत्यादि लूट लिया. पीड़ित पत्रकारों के नाम हैं स्वप्निल राय और अमित पाल.

कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाला : देवेन्द्र दर्डा और राजेन्द्र दर्डा को पूछताछ के लिए बुलाएगी सीबीआई

नई दिल्ली। कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाले की जांच कर रही सीबीआई अब जल्द ही एएमआर आयरन एंड स्टील प्रा. लि., नागपुर और जेएलडी यवतमाल एनर्जी लिमिटेड, नागपुर के निदेशकों को पूछताछ के लिए बुलाएगी। इन कंपनियों में दर्डा परिवार के लोग भी निदेशक थे, जिनसे पूछताछ नहीं हो पाई थी। फिलहाल, सांसद विजय दर्डा को पूछताछ के लिए नहीं बुलाया जाएगा लेकिन देवेन्द्र दर्डा और राजेन्द्र दर्डा को सीबीआई पूछताछ के लिए बुलाएगी।

‘फैशन शो के लिए 512 मान्यता प्राप्त पत्रकार, किसानों की खुदकुशी कवर करने को सिर्फ एक-दो लोकल पत्रकार’

नई दिल्ली : राष्ट्रीय प्रेस दिवस के मौके पर विज्ञान भवन में आयोजित समारोह में 'मीडिया की स्वतंत्रता' विषय पर बोलते हुए पीसीआई प्रमुख मार्कंडेय काटूज ने कहा कि फैशन शो को कवर करने के लिए 512 मान्यता प्राप्त पत्रकार लगाए गए हों और वहीं कुछ किलोमीटर दूर किसानों द्वारा आत्महत्या करने की खबर कवर करने के लिए सिर्फ एक-दो पत्रकार मौजूद हों और वह भी स्थानीय अखबार के, न कि राष्ट्रीय अखबार के तो यह स्थिति दुर्भाग्यपूर्ण है.

मीडिया के कारण पिछड़ापन को बढ़ावा मिले तो प्रेस की आजादी को कुचल देना चाहिए : काटजू

भारतीय प्रेस परिषद् के अध्यक्ष मार्कंडेय काटजू ने कहा कि प्रेस की स्वतंत्रता का मतलब मनमर्जी अधिकार नहीं है और कहा कि अगर मीडिया की कार्यप्रणाली पिछड़ेपन की तरफ ले जाती है और लोगों की जीवन शैली को कमतर करती है तो प्रेस की स्वतंत्रता को निश्चित तौर पर कुचल दिया जाना चाहिए.

उत्कृष्ट पत्रकारिता के लिए पीसीआई ने बारह पत्रकारों को पुरस्कृत किया

दिल्ली में भारतीय प्रेस परिषद उर्फ प्रेस काउंसिल आफ इंडिया उर्फ पीसीआई ने विभिन्न श्रेणियों में उत्कृष्ट पत्रकारिता के लिए 12 लोगों को राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया. खोजी पत्रकारिता के लिए दयमंती दत्ता और प्रियंका दुबे, ग्रामीण पत्रकारिता के लिए आर.संभन को पुरस्कृत किया गया.

झारखंड में राजेश श्रीवास्तव, पीआर दास तथा हिमांशु चौधरी की सूचना आयुक्त पद पर नियुक्ति

झारखंड से सूचना है कि सूचना आयुक्त पद पर राजेश श्रीवास्तव, पीआर दास और हिमांशु चौधरी की नियुक्ति को मंजूरी दे दी गई है। अगले कुछ दिनों में राज्यपाल डा. सैयद अहमद के हस्ताक्षर से राजभवन की तरफ से आदेश जारी कर दिया जाएगा। राज्यपाल के प्रधान सचिव आदित्य स्वरूप ने इस घटनाक्रम की पुष्टि की है।

दैनिक जागरण में बोनस लिस्‍ट को मोड़कर कर्मचारियों से हस्‍ताक्षर कराया गया, घपले की आशंका

हर साल की तरह इस बार भी बिहार में दैनिक जागरण के कर्मचारियों को बोनस मिला। बताते हैं कि एडिटोरियल के प्रत्‍येक कर्मचारी को जिनकी बेसिक सेलरी 10000 रुपये से नीचे है,  9400 रुपया बोनस देने के लिए आया था। पिछले साल बोनस का पैसा सीधे कर्मचारियों के खाते में डाला गया था, कर्मचारियों को पिछले साल 8400 रुपये मिला था।

बदायूं में पीटीआई के रिपोर्टर की गर्दन कानूनी फंदे में फंसी

जनपद बदायूं में पीटीआई/भाषा के लिए रिपोर्टिंग करने वाले आशु बंसल की गर्दन कानूनी फंदे में फंस गई है। न्यूज-24 चैनल के रिपोर्टर के विरुद्ध फर्जी व मनगढ़ंत मेल भेजने के मामले में आशु बंसल के नाम का खुलासा होने से सभी पत्रकार स्तब्ध हैं।

जनसत्ता, कोलकाता के वरिष्ठ पत्रकार विनय बिहारी सिंह 31 दिसंबर को रिटायर होंगे

कोलकाता से खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार विनय बिहारी सिंह इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप के प्रतिष्ठित हिंदी अखबार जनसत्ता से 31 दिसंबर को रिटायर हो जाएंगे. वे जनसत्ता के साथ करीब 21 से हैं. इस बारे में बात करने पर विनय बिहारी सिंह ने जो कहा, वह इस प्रकार है-

स्टार एंकर राघवेंद्र मुद्दगल और उनकी वो आवाज– “चैन से अगर सोना है तो जागते रहें”

तारीख 15 नवंबर 2012। समय रात करीब दस बजे। मोबाइल की घंटी बजती है। कॉल एक अनजान नंबर से आती है। नंबर दिल्ली का है। ये बात दिल्ली के 011 कोड से पता लग जाती है। हलो करता हूं, तो दूसरी तरफ से आवाज आती है संजीव चौहान बोल रहे हैं। मेरे हां कहते ही, उधर से मेरे ऊपर सवाल फेंका जाता है, पहचाना। जबाब मैं नहीं में देता हूं। इसके बाद भी दूसरी तरफ से आवाज आती है, चलो भाई आप मुझे बाद में पहचान लेना। अगला सवाल उधर से दागा जाता है… आपने भड़ास पढ़ा?

दुनिया का सबसे गरीब राष्ट्रपति (देखें वीडियो)

Tarun Kumar Tarun : आंखे खोल देने वाला सच… कहाँ हमारे देश के महमहिम से लेकर अदना नेताओं तक की रईसी और कहाँ उरुग्वे के इस राष्ट्रपति की न्यूनतम जरूरत वाली जीवन शैली. जोस मुजिसा को दुनिया का सबसे गरीब राष्ट्र प्रमुख कहा जाता है, पर मेरा मानना है कि संतुष्टि के जिस चरम पड़ाव पर वे पहुँच चुके है, वहां उनसे धनी कोई नहीं है. असली संन्यासी की भूमिका में. देखें वीडियो…

टूजी, कोलगेट, वाड्रा, गडकरी… इनमें से कौन-सी खबर हिंदी अखबारों ने ब्रेक की?

Umesh Chaturvedi : हिंदी के बड़े अखबारों का दावा है कि वे राष्ट्रीय हैं..गाहे-बगाहे एसपी और उदयन को भी याद करते हैं…क्योंकि उन्होंने हिंदी पत्रकारिता को धार दी। लेकिन क्या कोई हिंदी अखबार यह दावा कर सकता है कि मौजूदा परिदृश्य में भारतीय राजनीति को मथने वाली कोई खबर उन्होंने ब्रेक की…टूजी, कोलगेट, रॉबर्ट वाड्रा, नितिन गडकरी आदि-आदि…

”अगर कोई पंजाबी उर्दू बोलता है तो ऐसा लगता है जैसे वो झूठ बोल रहा हो”

शायद पहली बार इतनी लंबी सोहबत उनकी पायी थी। लगभग पूरी शाम। विनोद दुआ इसलिए हमेशा अलग लगते रहे हैं क्‍योंकि टीवी पत्रकारिता में जब किसी भी तरह से बोलने, बहस करने और रॉ दिखने को काबिलियत माना जाने लगा हो – वे कभी असंपादित नहीं लगे। कल IIC में जब बात भाषा के साथ शुरू हुई, तो उन्‍होंने पूछा कि आप भाषाई प्रयोग करते हैं या जबानी इस्‍तेमाल। मेरी समझ ये थी कि भाषा को ज्‍यादा लोकप्रिय बनाना तो उसके जबानी इस्‍तेमाल से ही संभव है। फिर उन्‍होंने प्रयोगों के कई सारे संदर्भ सामने रखे, जिन पर हमने कभी गौर नहीं किया था।

सलीम सैफी के ‘न्यूज वायरस’ पर क्यों मेहरबान रहे उत्तराखंड सूचना निदेशालय के अफसरान?

देहरादून। उत्तराखण्ड के कई विभागो में घाटालो का जिन्न बाहर निकलने की तैयारी में है. सूचना विभाग में एक बड़ी गड़बड़ी सामने आई है. घोटाले को सूचना विभाग के ऐसे लोगों ने अंजाम दिया है जिनकी अकूत संपत्ति राजधानी देहरादून में मौजूद है. सूचना विभाग ने एक न्यूज एजेन्सी को लाखो रुपये के विज्ञापन नियम कानूनों को ताक पर रख कर दे दिए. इस विभाग ने कई ऐसे इलेक्ट्रानिक चैनलों को विज्ञापन बांटा जिनकी टीआरपी उत्तराखण्ड में शून्य है. इस घोटाले के तार भाजपा शासनकाल से जुड़े बताए जा रहे हैं.

शीला दीक्षित ने किया ‘भोजपुरी पंचायत’ पत्रिका का लोकार्पण

दिल्ली की मुख्यामंत्री शीला दीक्षित, भोजपुरी समाज के अध्यक्ष अजित दुबे, विधायक मुकेश शर्मा एवं भोजपुरी पंचायत के संपादक कुलदीप कुमार ने भोजपुरी इलाकों पर केंद्रित भोजपुरी मैग्जीन'भोजपुरी पंचायत' का एक समारोह में लोकार्पण किया। मौके पर मौजूद सभी लोगों ने 'भोजपुरी पंचायत' की टीम की इस नायाब प्रयास के लिए सराहना की।

आईआईएमसी से जर्नलिज्म में पीजी गौरव जैन रिक्शावाला बन गए हैं

: गौरव जैन कहानी, उन्हीं की जुबानी : वैसे थोड़ा पागल तो मैं शुरू से ही रहा हूं. और यक़ीन मानिए, ये अपने-आप में एक पूरा जवाब है कि आखिर मैं एक रिक्शावाला क्यों बना. लेकिन अगर आप इससे ही संतुष्ट नहीं हैं तो आइए मिलकर कोशिश करते हैं जवाब ढूंढने की, क्योंकि शायद इससे पहले मैंने भी कभी इतनी गहराई से इस बारे में नहीं सोचा!

प्रभात खबर, रांची के वरीय उपसंपादक राजीव रंजन का कल रात करीब एक बजे निधन हो गया

Kumud Singh : ''किसी पत्रकार की मौत सिंगल कॉलम से बड़ी खबर नहीं होती है, मेरी मौत तो संक्षेप में लगनेवाली खबर होगी…'' पत्रकार राजीव ने यह बात 2004 में मुझसे कही थी और हम लोग उस क्षण खूब हंसे थे. पर आज रोने का दिन है. प्रभात खबर रांची के वरीय उपसंपादक राजीव रंजन का कल रात करीब एक बजे निधन हो गया. वो काफी दिनों से बीमार चल रहे थे. मूल रूप से बेगूसराय के रहले वाले राजीव रंजन ने अपनी पत्रकारिता प्रभात खबर, पटना से शुरू की. उन्‍होंने पटना से निकलने वाले हिंदी दैनिक आज में भी काम किया था. वर्ष 2004 से वे प्रभात खबर, रांची में कार्यरत थे. उनका जाना मेरे परिवार के लिए बड़ी क्षति है.

वरिष्ठ पत्रकार राघवेंद्र कुमार मुदगल वेंटिलेटर पर

एक जमाने में क्राइम शो के चर्चित नाम राघवेंद्र कुमार मुदगल पिछले कई घंटों से पटना में वेंटिलेटर पर हैं. वे दिल्ली से पटना ट्रेन से जा रहे थे, तभी उन्हें दिक्कत महसूस हुई और पटना उतरने के बाद उन्हें डाक्टरों को दिखाया गया. हालात गंभीर देखकर डाक्टरों ने उन्हें तत्काल भर्ती कराया और स्थिति कंट्रोल न होते देख उन्हें आईसीयू में ट्रांसफर कर दिया गया. फिलहाल वे मगध हास्पिटल के आईसीयू में हैं. अच्छी खबर है कि वे सुधर रहे हैं. उनकी हालत तेजी से ठीक हो रही है. मुदगलजी अब बात करने लगे हैं. उनके घरवालों को सूचित कर दिया गया है.

फ्रेंच पत्रिका के कवर पर शाहरुख की तस्वीर

बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख खान ने साप्ताहिक फ्रेंच मैगजीन पेरिस मैच के कवर पर अपनी जगह बनाई है. फ्रेंच पत्रिका ‘पेरिस मैच’ ने अपने मुख्य पृष्ठ पर इस बार शाहरुख को जगह दी है. शाहरुख इस तस्वीर में स्याह और काले रंग की शर्ट और पैंट पहने हुए हैं. उन्होंने ट्विटर पर यह तस्वीर साझा करते हुए लिखा, ‘अगर आप फ्रेंच जानते हैं तो बताइए कि मेरी तस्वीर के साथ क्या लिखा है.’

दैनिक जागरण, मेरठ के सीनियर फोटोजर्नलिस्ट मदन मौर्य को पैरालिसिस अटैक

मेरठ से एक बुरी खबर है कि बेबाक और दबंग फोटोग्राफर मदन मौर्य को पैरालिसिस अटैक हो गया है. इसका सबसे ज्यादा असर उनकी आंखों पर पड़ा है जिससे उन्हें देखने में दिक्कत होने लगी. डाक्टरों के एक दल ने तत्काल उनका इलाज शुरू किया और अब उनकी स्थिति नियंत्रण में है.

कोई बात नहीं, अखबार ले जाइये, पैसे कल आकर दे दीजिएगा

: स्व-नियमन को वृहत्तर अर्थों, संदर्भों, उदाहरणों के माध्यम से समझा रहे हैं वरिष्ठ पत्रकार एनके सिंह : विख्यात इंडोलाजिस्ट एवं दार्शनिक मैक्स मुलर ने कर्नल स्लीवमन की डायरी में लिखी एक चर्चा को अपनी खोज के साथ जोड़ते हुए  आदिवासी जीवन के मूल्यों के बारे में कहा ''अपनी पंचायतों में लोग आदतन और प्रतिबद्धता के साथ सत्य पर अडिग रहते थे और यहाँ तक कि हमने ऐसे सैकड़ों अवसर देखे जिनमें एक व्यक्ति की पूँजी, स्वतन्त्रता व जीवन इस बात पर निर्भर था कि वह झूठ बोलता है या सच लेकिन उस व्यक्ति ने झूठ का सहारा नहीं लिया.''

कस्तूरी टीवी के रिपोर्टर नवीन सूरिन्जे को जबरिया फंसाया कर्नाटक पुलिस ने

मंगलोर में कस्तूरी टीवी के रिपोर्टर नवीन सूरिन्जे की गिरफ्तारी पर दक्षिण भारत के लगभग सभी पत्रकार संगठन एकजुट होने लगे हैं। नवीन को 28 जुलाई को शहर में हुई एक बर्थ डे पार्टी में लडकियों पर हमला करने वाले हमलावरों के साथ ही 7 नवम्बर को गिरफ्तार किया गया है। 

एक तथाकथित बड़े पत्रकार जो एक बड़ी पार्टी की दलाली में बहुत दिन से लगे हैं… (कुमार विश्वास कहिन)

Dr. Kumar Vishwas : मेरे बारे में कुछ लोगों को मुझ से ज्यादा खबरें होतीं हैं… ज्यादातर ऐसी जो खुद मुझ भी नहीं होतीं… उसमें उन दोस्तों का योगदान बहुत है जिन को आजकल अपनी दूकान पर ताला लग जाने का डर हर खुलासे से पहले सताता रहता है… एक तथाकथित बड़े पत्रकार जो एक बड़ी पार्टी की दलाली में बहुत दिन से लगे हैं उन्होंने कुछ पुराने वीडियो सन्दर्भ से काट कर एडिट करा कर लगाये हैं नेट पर !

शिव सैनिक सभन ने अमिताभ का कुरता फाड़ दिया, नायक घवाहिल हो गए…

Bipendra Kumar : लग रहा है बाल ठाकरे मरे वाला है। उनका देखे खातिर अमिताभ बच्चन गए तो शिव सैनिक सभन ने उनका कुरता फाड़ दिया। नायक घवाहिल हो गए। अब लोग सवाल कर रहे हैं अमिताभ गए ही काहे खातिर थे। लोहिया मरे उ घड़ी हमर उमिर अखबार पढ़े वाला नहीं हुआ था, लेकिन बाद में पढते आए हैं कि उ अस्पताल में थे तो इंदिरा गांधी उनका देखे हर रोज जाती थी। जबकि लोहिया इंदिरा के बखिया उघेड़े में कोई कसर बाकी नाही रखे थे।

मंचों पर क्रांतिकारी दिखने वाले हिंदी के संपादकों का ये है चयन बोध!

Umesh Chaturvedi : हिंदी के संपादक आम मंचों पर बड़े क्रांतिकारी दिखने की कोशिश करते हैं..लेकिन उनके यहां प्रकाशन के लिए जिन सामग्रियों का चयन होता है वे हैं- चीन में माओ से परहेज, उद्योग और अनपढ़ लोगों की वजह से बढ़ता धुआं, नारायण सामी के बयान पर विवाद का पटाक्षेप, सरकार के कदमों से आएंगी खुशियां..सखेद नामंजूर करने वाले विषय हैं- दिग्विजय और यशवंत के विवादित बयान, कैग के खिलाफ सरकार..महंगाई बढ़ी, लेकिन सरकार की भौहों पर बल नहीं…कहने का मतलब यह कि आंखें खोलने वाली सच्चाइयों से हिंदी पत्रकारिता का वैचारिक पक्ष लगातार दूर…पता नहीं गणेश शंकर विद्यार्थी, माधव राव सप्रे और पराड़कर जी की आत्माएं उपर क्या सोच रही होंगी…लगता है हिंदी पत्रकारिता को के उद्धार के लिए फिर किसी प्रभाष जोशी जैसे पत्रकार और राम नाथ गोयनका जैसे प्रोमोटर की जरूरत है।

‘हे शिवजी, लंबी उम्र दो बाल ठाकरे को वरना सैनिक आपको भी नहीं छोड़ेंगे’

Prashant Pathak : बाल ठाकरे देश के बहुत बड़े नेता हैं, टीवी देखकर पता चला … हे शिव जी बाला साहब को लम्बी उम्र दो वरना…सैनिक आपको भी नहीं छोड़ेगे, कल कुछ को ही ठोका था

बीमार बाल ठाकरे के बहाने : टीवी के महान पत्रकारों की यह है पत्रकारीय समझ

Shambhunath Shukla :  बाल ठाकरे बीमार हैं, यह खबर किस कोण से है। लेकिन टीवी वाले अनवरत यह खबर चला रहे हैं। लेकिन यही खबरिया चैनल तब क्यों इतनी तत्परता नहीं दिखा पाए जब तमिलनाडु में दलितों के घर फूंके गए या मेरठ में एनएच-५८ से टोल हटाने को लेकर पिछले १५ दिनों से किसान धरना दिए बैठे हैं। दीवाली के मौके पर भी वे नहीं उठे और वहीं बैठकर हिंदुओं ने दीवाली पूजा की और मुसलिम किसानों ने नमाज अता की। अगर मेरठ के किसानों का मामला या तमिलनाडु में दलितों के घर फूंके जाने की घटना उन्हें लोकल प्रतीत होती है तो बाल ठाकरे कहां के राष्ट्रीय नेता हैं! एक बार महाराष्ट्र में सरकार बनाई और बाकी तो वे मुंबई नगर निगम तक ही सीमित रहे। टीवी के महान पत्रकारों की यह है पत्रकारीय समझ।

हिंदुस्तान अखबार : महीने के सर्वश्रेष्ठ पत्रकार प्रशांत झा और विवेक तिवारी

हिंदुस्तान अखबार में हर महीने बेस्ट पत्रकार की घोषणा की जाती है. यह अखबार का इनहाउस प्रयास है पत्रकारों को उत्साहित करने के लिए. अगस्त-सितंबर माह के लिए प्रशांत झा और विवेक तिवारी को सर्वश्रेष्ठ पत्रकार घोषित किया गया है. इस बारे में हिंदुस्तान में इनहाउस मैग्जीन में जो कुछ प्रकाशित किया गया है इन पत्रकारों को बारे में, वो इस प्रकार है…

आगरा में पत्रकार पर हमला करने वाले जेल भेजे गए

आगरा से सूचना है कि पत्रकार पर हमले के आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. द सी एक्सप्रेस के चीफ रिपोर्टर मनीष गुप्ता हमले में बुरी तरह घायल हो गए थे. आगरा के बल्केश्वर में धड़ल्ले से चल रहे जुए और सट्टे का खुलासा करने से बौखलाए सट्टेबाज ने हिस्ट्रीशीटर चाचा के साथ मिल वरिष्ठ पत्रकार पर सरेराह हमला बोल दिया था.