कूड़े की तरह पड़ी मिली दो दिन की इस बच्ची के लिए है कोई इस धरती पर मददगार?

किस पत्थरदिल मां ने पैदा होते ही इस बच्ची को कूड़े की तरह छोड़ दिया!

देहरादून : लोग अपने बच्चों से इतना प्यार करते हैं कि उनके लिए जान न्योछावर कर लेते हैं. लेकिन कुछ ऐसे लोग भी होते हैं कि जो नवजात के पैदा होने के बाद अगर बच्ची हो जाये तो उसे कूड़े की तरह एक किनारे पर रख लेते हैं.

लोग पूछते हैं, आप भी पूछ लीजियेगा, वैसे वो आसानी से बतायेंगे नहीं

बूढ़ी माताएं यूं ही नहीं वृंदावन के वृद्धाश्रमों में चली आती हैं… बूढ़ी आखों को आपमें अपने बेटा या बेटी की परछाईं दिख गयी तो आप इनके दर्द को सहन न कर पाएंगे

पिछले बरस, अपने पैरों पर खड़ी एक नामी अभिनेत्री ने वृन्दावन के आश्रय सदनों में वृद्ध माताओं की भीड़ पर कहा था कि ‘ये घर छोड़कर यहां आती ही क्यूं हैं?’ उनके इस बयान पर काफी हो-हल्ला मचा। विपक्षी पार्टियों से लेकर आधुनिक समाजसेवी तबके तक से उनके विरोध में आवाजे आयीं। इन आवाजों के बीच उन बंगाली विधवाओं ने भी अपनी बात कही जिनके बारे में वो खुद और लोग कहते हैं कि भगवान की भक्ति के लिये वह वृन्दावन आकर आश्रय सदनों में रहती हैं। सबकी अपनी-अपनी कहानी है, बहुत सारी बातें हैं जिन्हें सोचकर सिवाय आंसुओं के उन्हें कुछ मिलता भी नहीं है। इसलिये सबकुछ भगवान के नाम छोड़कर भगवान के धाम में भक्ति का आश्रय ले रखा है। अकेली जान की गुजर बसर जैसे-तैसे हो ही जाती है। सरकार से मदद मिलती है तो समाजसेवी संस्थाओं से भी कुछ ना कुछ दान मिलता रहता है।

दूरदर्शन अब भाजपा दर्शन, रेडियो पर ‘मन की बात’ पता नहीं किसके मन की : ममता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रेडियो पर प्रधानमंत्री के संबोधन ‘मन की बात’ पर चुटकी लेते हुए कहा है कि हर समय लेक्चर देते रहते हैं। ‘मन की बात’ पता नहीं किसके मन की होती है। दूरदर्शन अब भाजपा दर्शन बन गया है । दिमाग ही नहीं है तो चलेगा कैसे। …