आज तक के संपादक रोहित को इतना जहर बोने क्यों दे रहे हैं?

Sanjaya Kumar Singh : एक मशहूर टेलीविजन एंकर के बारे में Dilip Mandal की यह पोस्ट पढ़ने लायक है।

एक राज्य के सबसे बड़े अधिकारी रहे इस शख्स की बेबसी देखिए

Navniet Sekera : एक राज्य के सबसे बड़े अधिकारी की बेबसी। पाप अपने बाप का नही होता, ये 24 Jan को रांची कोर्ट में देखने को मिला। ये सजल चक्रवर्ती है कुछ दिन पहले तक झारखंड के चीफ सेक्रेटरी थे लेकिन चारा घोटाला में इनका भी नाम आ गया और दोषी भी करार हो गए। सोचिये एक हमारे बिहार में दरोगा बन जाता है तो पूरे गांव प्रखंड में उसकी टशन हो जाती है। बड़े बड़े लोग झुक के हाय हेलो करते हैं। सजल चक्रवर्ती तो मुख्य सचिव थे दिन में ना जाने कितने IAS/IPS पैर छूते होंगे लेकिन आज इनकी बेबसी देख कर दिल रो गया।

‘इंडिया न्यूज’ के पत्रकार सुधीर ने एक्ट्रेस स्वरा के ‘योनि’ संबंधी पत्र का दिया करारा जवाब

Sudhir Kumar Pandey : प्रिय Swara Bhasker जी , ‘वैजाइना’ (योनि) वाली चिट्ठी पढ़ी जो आपने ‘पद्मावत’ देखने के बाद संजय लीला भंसाली को लिखी है… आपका ‘योनि’ वाला खत पढ़ने के बाद मैं भी फिल्म देखने गया… फिल्म देखने के बाद आपके पत्र के संदर्भ में जो मुझे लगा वो आपको प्रेषित करता हूं… आपने लिखा है कि पद्मावत देखने के बाद आपको लगा की आप ‘योनि’ से ज्यादा कुछ नहीं…

‘आजतक’ की महिलाकर्मी बच्चों को ला सकेंगी आफिस, क्रेश सुविधा फीस पैंतीस सौ रुपये प्रति माह

आजतक चैनल प्रबंधन ने महिला मीडियाकर्मियों के लिए क्रेश CRECHE सुविधा उपलब्ध कराई है. अब महिला मीडियाकर्मी अपने छोटे बच्चे ऑफिस ला सकेंगी. इस क्रेश को एक प्रोफेशनल कंपनी चलाएगी. इसमें 7 महीने से लेकर 2 साल तक के बच्चे रखे जाएंगे. क्रेश में 10 से 12 बच्चों को रखा जा सकेगा. क्रेश की फीस 3500 रुपए एम्पलॉयी को देनी होगी. इतनी ही राशि हर बच्चे के लिए कंपनी भी अपनी तरफ से देगी.

सैनिकों और अर्ध-सैनिक बलों को बलि का बकरा बनाना देश के लिए घातक सिद्ध होगा

श्याम सिंह रावत

नरेंद्र मोदी का प्रधानमंत्री बनना एक बहुत बड़ी राष्ट्रीय आपदा थी, जिसके दुष्परिणाम हर क्षेत्र में एक-एक कर सामने आ रहे हैं। उनकी 56″ की छाती कश्मीरी आतंकवादियों से निपटने में तो नाकाम हो चुकी है लेकिन देश के अन्य हिस्सों में उत्पात मचा रहे उपद्रवियों को सबक सिखाने में भी वे पूरी तरह असफल साबित हो रहे हैं। हालांकि कानून और व्यवस्था राज्यों का मामला है लेकिन जिस तरह कुछ एकदम स्थानीय स्तर के मामलों में स्थिति को नियंत्रित करने के स्थान पर उसे और भी विकराल बनने की छूट देकर देश के दूसरे हिस्सों में भी फैलने दिया गया, उसमें केद्र के हस्तक्षेप की पर्याप्त गुंजाइश होते हुए भी उसका आंख-कान बंद कर लेना किसी भी प्रकार से उचित नहीं ठहराया जा सकता।

भड़ास संपादक यशवंत करेंगे प्रतिभा अग्रहरी की किताब ‘परमानेंटली Blocked’ का विमोचन

पूर्वांचल के अति पिछड़े जिलों में शुमार सिद्धार्थनगर के डुमरियागंज क़स्बे की रहने वाली प्रतिभा अग्रहरी की पहली किताब आ चुका है। नामहै- ‘परमानेंटली Blocked’. इसका विमोचन 5 फरवरी को डुमरियागंज के बंधन पैलेस में वरिष्ठ पत्रकार और भड़ास4मीडिया डॉट कॉम के संस्थापक यशवन्त सिंह के हाथों होगा। अंजुमन प्रकाशक इलाबाद से छपी यह किताब अपनी नई शैली और पठनीयता के लिए चर्चा में है।

देशद्रोहियों की हत्या करने वाले सिपाही या अपराधी?

सरकार और सर्वोच्च न्यायालय को साफ करना चाहिए कि क्या कोई आम आदमी अगर देशद्रोहियों पर हमला कर उन्हें मौत के घाट उतार देता है, तो उसे देश का सिपाही माना जायेगा या अपराधी. क्योंकि अब सवाल देश की अखंडता का है. सरकार मौन है. न्यायपालिका के घर देर है. ऐसे में सवाल उठता है कि सेना में अपने बच्चे भेजने वाला किसान, मजदूर, फौजी और मध्यमवर्गीय नागरिक देश के बारे में अपमानजनक बातें क्यों बर्दाश्त करे? सरकार और न्यायपालिका की चुप्पी क्या देश के साथ विश्वासघात नहीं है? देश की अखंडता पर चोट क्यों बर्दाश्त किया जा रहा है? क्या व्यक्तिगत स्वतंत्रता के नाम पर फिर से देश के विभाजन पर चर्चा होगी? ऐसे देशद्रोहियों को सीधे फांसी या गोली क्यों नहीं मारी जानी चाहिए? सवाल का जवाब चाहिए… सरकार.

भंसाली को स्वरा की चिट्ठी… आपकी फिल्म देखकर ख़ुद को मैंने महज एक योनि में सिमटता महसूस किया

प्रिय भंसाली साहब,

सबसे पहले आपको बधाई कि आप आखिरकार अपनी भव्य फिल्म ‘पद्मावत’- बिना ई की मात्रा और दीपिका पादुकोण की खूबसूरत कमर और संभवतः काटे गए 70 शॉटों के बगैर, रिलीज करने में कामयाब हो गए. आप इस बात के लिए भी बधाई के पात्र हैं कि आपकी फिल्म रिलीज भी हो गई और न किसी का सिर उसके धड़ से अलग हुआ, न किसी की नाक कटी. और आज के इस ‘सहिष्णु’ भारत में, जहां मीट को लेकर लोगों की हत्याएं हो जाती हैं और किसी आदिम मर्दाने गर्व की भावना का बदला लेने के लिए स्कूल जाते बच्चों को निशाना बनाया जाता है, उसके बीच आपकी फिल्म रिलीज हो सकी, यह अपने आप में बहुत बड़ी बात है. इसलिए आपको एक बार फिर से बधाई.

आजकल की ‘गोदी मीडिया’ पर बने इस कार्टून की सोशल मीडिया पर खूब हो रही है चर्चा, आप भी देखें

भारत में मुख्यधारा की मीडिया का कभी इतना स्तर नहीं गिरा, जितना आजकल गिरा हुआ है. मीडिया लगभग समाज विरोधी हो चुका है. वह सत्ता की भाषा बोलता है. मीडिया एक तरह से सरकार-सत्ता का प्रवक्ता बन गया है. वह सत्ता की सुंदर तस्वीर गढ़ने में व्यस्त रहता है.

कासगंज में चंदन गुप्ता को मारने वाले शूटर वसीम जावेद का सपा कनेक्शन!

अजय कुमार, लखनऊ

योगी सरकार पर भी दंगों का दाग… आम चुनाव से पूर्व फिर दंगा ‘वोट बैंक’ वाला… उत्तर प्रदेश के जिला कासगंज में हुई साम्प्रदायिक हिंसा और एक युवक की मौत ने पूरे प्रदेश को एक बार फिर शर्मशार कर दिया। ऐसा लगता है कि यूपी और दंगा एक-दूसरे के पूरक बन गये हैं। सरकार कोई भी हो, दंगाई कभी सियासी संरक्षण में तो अक्सर धर्म की आड़ में अपना काम करते रहते हैं। बीजेपी सरकार भी इससे अछूती नहीं रह पाई है। बीजेपी सरकार में हुए दो बड़े दंगों की कहानी तो यही कहती है। यूपी को दंगामुक्त रखने के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दावे तार-तार हो गये, अब योगी इस बात का दंभ नहीं भर सकेंगे कि उनका शासनकाल दंगा मुक्त है। योगी को सत्ता संभाले एक वर्ष भी नहीं हुआ है और प्रदेश दो बार बड़ी साम्प्रदायिक हिंसा की आग में झुलस चुका है। पिछले वर्ष सहारनपुर में पहले बाबा साहब के जन्मदिन के मौके पर उसके 15 दिनों बाद दलित-ठाकुरों के बीच हुई हिंसा और अब नये साल के पहले महीने की  26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस पर तिंरगा यात्रा के दौरान हुआ हिन्दू-मुस्लिम दंगा काफी कुछ इशारे करता है।

दाउदनगर में हुआ मासिक पत्रिका ‘काराकाट न्‍यूज’ लोकार्पण

औरंगाबाद और रोहतास के बीच ‘संवाद सेतु’ बनेगा काराकाट न्‍यूज, मुखिया सम्‍मान समारोह में सम्‍मानित हुए मु‍खिया… रविवार को औरंगाबाद और रोहतास जिले के सामाजिक और राजनीति के साझा सरोकारों का गवाह बना दाउदनगर स्थित नगर भवन। अवसर था ‘वीरेंद्र यादव न्‍यूज’ के दो वर्ष पूरा होने के मौके पर आयोजित मुखिया सम्‍मान समारोह का। इस मौके पर एक नयी मासिक पत्रिका ‘काराकाट न्‍यूज’ का लोकार्पण भी किया गया। ‘काराकाट न्‍यूज’ काराकाट लोकसभा क्षेत्र में आने वाली पंचायतों के सरोकार और विकास योजनाओं से जुड़ी होगी। इसके साथ ही रोहतास और औरंगाबाद के अन्‍य प्रखंडों की खबरों को जगह दी जाएगी।

Lively Interactive Session on ‘Media’s Truth and Lies’ in Parallel Literature Festival at Jaipur

An interactive session on ‘Media’s Truths and Lies’ was organised in the Parallel Literature Festival (PLF) of Jaipur on 28th January. Samanantar Sahitya Utsav is being organised for the first time, which is a novel effort of renowned litterateur Krishna Kalpit and Veteran journalist and literary person Ish Madhu Talwar. Hundreds of people participated and rejoiced the festival for three days from 27th to 29th January.

इंडिया टीवी छोड़कर इस डिजिटल संस्थान से जुड़े चमन मिश्रा

चमन मिश्रा ने इंडिया टीवी छोड़ दी है। उन्होंने एक साल छह महीने वहां आउटपुट में असिस्टेंट प्रोड्यूसर के तौर पर काम किया। मार्निंग शिफ्ट में थे। जब गए थे तो अजिम अंजुम की देखरेख में और बाद में पीयूष पद्माकर मैनेजिंग एडिटर (न्यूज़) बन गए। चमन मिश्रा ने अपने पत्रकारिय कैरियर की शुरुआत सुदर्शन न्यूज़ में इंटर्न करने से की थी।

सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली को कड़ी फटकार लगाई- ‘बहानेबाजी मत करो, यह बताओ घर कब दोगे’

सुप्रीम कोर्ट ने आज बेइमान और धोखेबाज बिल्डर कंपनी आम्रपाली के खिलाफ सख्त रुख अपनाया है. घर पाने से वंचित निवेशकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली के निदेशकों से पूछा है कि बिना बहानेबाजी किए यह साफ साफ बताओ, घर कब दोगे. सुप्रीम कोर्ट ने साफ कहा- बहानेबाजी मत करो. यह गंभीर मसला है. लोगों की जीवनभर की कमाई लगी है. साफ बताओ, घर कब दोगे. आपको उत्तरदायी बनना पड़ेगा. आम्रपाली को सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया कि वो एक सप्ताह के अंदर अपने हर प्रोजेक्ट के प्लान से संबंधित रेसोल्यूशन जमा करें. 

दो मिनट में वायरस बनाना सीखें.. देखें वीडियो

वायरस शब्द सुनने में बड़ा खतरनाक लगता है लेकिन इसका निर्माण बहुत आसान है. लीजिए, एक सामान्य-सी जानकारी के जरिए वायरस बना दीजिए. इस वायरस को बनाने के लिए केवल एक कोड और नोटपैड की जरूरत है. जिस सिस्टम पर यह वायरस बनाया जाएगा, उसकी सीडी ड्राइव को यह वायरस पांच हजार बार लगातार खोलेगा जिसके कारण सिस्टम पर लोड बढ़ जाएगा और पूरा सिस्टम स्लो हो जाएगा, यहां तक कि हैंग भी हो सकता है. 

बरेली के डीएम राघवेंद्र विक्रम सिंह ने पोस्ट डिलीट कर माफी मांग ली

बरेली के जिलाधिकारी राघवेंद्र विक्रम सिंह ने मंगलवार को अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक पोस्ट लिखा जिसके बाद देखते ही देखते उनकी पोस्ट वायरल हो गई. कई किस्म की प्रतिक्रियाएं आने लगीं. कई लोग उनके विरोधी हो गए तो कई उनके साथ सुर में सुर मिलाते दिखे. अंतत: बरेली के डीएम को अपनी पोस्ट डिलीट करनी पड़ी और नई पोस्ट डालकर माफी मांग ली.

कासगंज प्रकरण की रिपोर्टिंग के कारण एबीपी न्यूज के पत्रकार को फोन करके डराया धमकाया जा रहा है

Aamir Rashadi Madni : कासगंज घटना की निष्पक्ष रिपोर्टिंग करके अवाम के बीच सच को उजागर करने वाले एबीपी न्यूज़ के वरिष्ठ पत्रकार पंकज झा को जान से मारने की धमकी दी जा रही है। उन्हें देश/विदेश से फ़ोन करके डराया धमकाया जा रहा है, पाकिस्तान भेजने तक की बात की जा रही है। दूसरी तरफ़ कर्फ़्यू के दौरान अल्पसंख्यक समुदाय के घरों में भूख-प्यास से परेशान लोगों के बीच खाना पहुँचाने के कारण राहुल यादव, निशान्त यादव और अतुल यादव को डिटेन कर लिया गया है। प्रेम भाईचारा और मानवता की मिशाल पेश करने वाले इन लोगों को सम्मानित करने के बजाय गिरफ़्तार किया गया है।

एबीपी न्यूज के पत्रकार पंकज झा को सच सामने लाने पर धमकी दी जा रही है

Narendra Nath : कासगंज में दंगा हुआ। इसमें एक हिन्दु युवक की मौत हुई। दूसरा मुस्लिम युवक गोली लगने के बाद गंभीर रूप से घायल है। दंगा दु:खद है। रोका जा सकता था। लेकिन दंगा सामने आते ही कुछ लोग मौका-मौका देखते उतर गये। एक दंगा को सौ दंगा में बदलने की ख्वाहिशों के साथ कुछ मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक यह प्रचार करने लगे कि चूंकि हिंदु युवक ने तिरंगा हाथ में रखा थ, इसीलिए उसे मार दिया गया। लेकिन हमारे कुछ मित्रों ने सोशल मीडिया पर चल रही अफवाह-नफरत से हटकर जमीनी हकीकत लोगों के सामने रखी। सब तथ्यों, सबूतों और लोकल अधिकारियों के ऑन रिकार्ड बयानों से।

कासगंज : एक बंटे हुए समाज को मीडिया की एकतरफा रिपोर्टिंग ने और बांट दिया है

Abhishek Srivastava : कल रात तक अपनी समझ पर बीस परसेंट शंका थी। आज साफ हो गयी जब मृतक नौजवान चंदन के एक अनन्य मित्र ने भारी मन और भरी आंखों से बताया, “भैया, आप नहीं जानते यूपी का हाल। जब से मोदीजी ने नेतानगरी को एक फुलटाइम काम कहा है, यहां की हर गली में हर लौंडा मोदी बनने की इच्छा पाल बैठा है। कासगंज के हर मोहल्ले से एक मोदी निकल रहा है।”

इस भ्रष्ट अधिकारी की दुर्गति तो देखिये…

Vishnu Gupt : आप भी सबक लीजिये, गलत काम और भ्रष्टाचार से बचिये… यह जो फर्श पर बैठा हुआ मोटा सा आदमी है, वह सजल चक्रवर्ती है। सजल चक्रवर्ती झारखंड सरकार का मुख्य सचिव था। मुख्य सचिव का रूतबा आप जानते होंगे। रांची जैसे शहर में जिलाधिकारी था। जिलाधिकारी के तौर पर इनके कई किस्से …

दलित नेता चंद्रशेखर पर रासुका अवधि बढ़ाना दलित दमन का प्रतीक : दारापुरी

लखनऊ 30 जनवरी, 2018 : “चंद्रशेखर पर रासुका अवधि बढ़ाना दलित दमन का प्रतीक है.” यह बात आज एस.आर. दारापुरी पूर्व पुलिस महानिरीक्षक एवं संयोजक जनमंच उत्तर प्रदेश ने प्रेस को जारी ब्यान में कही है. उन्होंने आगे कहा है कि एक तरफ जोगी सरकार अपनी पार्टी से जुड़े लोगों के आपराधिक मामले वापस ले …

विधवा का प्रधान से लेकर सचिव तक कुल 13 ने किया यौन शोषण, सबको हुआ एड्स

Satyendra PS : यह खबर अश्लील हो चली मानवता का अजीब किस्सा है। विधवा हो गई युवती का राशन कार्ड और विधवा पेंशन बनवाने के लिए ग्राम प्रधान से लेकर सरकारी कर्मी मिलाकर 13 लोगों ने यौन शोषण किया। महिला को एड्स था और इन सभी दुष्टों को एड्स हो गया।

देहरादून के ईटीवी पत्रकार अवनीश पाल पर हमला, एडीजी से मिला मीडियाकर्मियों का प्रतिनिधिमंडल

देहरादून से खबर है कि एक शराब माफिया की शह पर ईटीवी के पत्रकार अवनीश पर जानलेवा हमला किया गया. अवनीश को गंभीर हालत में दून अस्पताल में भर्ती कराया गया है. श्रमजीवी पत्रकार यूनियन का एक प्रतिनिधिमंडल हमले के विरोध में एडीजी कानून व्यवस्था से मिला और घायल पत्रकार को न्याय दिलाने की मांग की. प्रतिनिधिमंडल ने  उचित धाराएं मुकदमे में लगाने की भी मांग की.

राजेश बादल ने राज्यसभा टीवी को नमस्ते करते हुए कहा- ”सौ फ़ीसदी निष्पक्षता नाम की कोई चीज़ नहीं होती”

Rajesh Badal : नमस्ते! राज्यसभा टीवी… एक न एक दिन तो जाना ही था। हाँ थोड़ा जल्दी जा रहा हूँ। सोचा था जून जुलाई तक और उस चैनल की सेवा कर लूँ, जिसे जन्म दिया है। लेकिन ज़िंदगी में सब कुछ हमारे चाहने से नहीं होता। कोई न कोई तीसरी शक्ति भी इसे नियंत्रित करती …

नहीं रहे गुवाहाटी के मूर्धन्य पत्रकार डीएन सिंह

गुवाहाटी। मुर्धन्य पत्रकार दयानाथ सिंह का निधन हो गया। रविवार को अहले सुबह गले में संक्रमण की शिकायत के बाद उन्हें जीएमसीएच में भर्ती कराया गया था जहां दोपहर को उनका निधन हो गया। 88 वर्षीय वरिष्ठ पत्रकार स्व. सिंह अपने पीछे पत्नी और पांच बेटियों को छोड़ गए हैं। उनका सोमवार को अंतिम संस्कार कर दिया गया। इससे पहले 10.30 बजे उनके पार्थिव शरीर को गुवाहाटी प्रेस क्लब लाया जाएगा जहां उन्हें श्रद्धांजलि दी गई।

‘पदमावत’ पर यशवंत ने पहली और आखिरी बार क्या लिखा, पढ़िए…

भड़ासानंद यशवंत.

Yashwant Singh :  मैं फिलिम पद्मावती उर्फ पद्मावत प्रकरण पर पहली बार लिख रहा हूं. और, ये आखिरी बार भी है. प्वाइंट वाइज…

-ऐसे दंगा भड़का के, जबरन विवाद खड़ा करवा के, देश के पूरे तंत्र का इस्तेमाल करके फिल्म हिट कराने के फंडे को बेहूदा मानता हूं. ऐसी हरकतों को हतोत्साहित किया जाना चाहिए. इसलिए इस मसले पर लिखने-बोलने से बचता रहा. यही कारण है कि ब्रांडिंग की इस घटिया सामंती टाइप भारतीय तरीके के प्रतिकार स्वरूप यह फिल्म देखने न गया न जाउंगा.

देवघर के वरिष्ठ पत्रकार आलोक संतोषी का निधन

अलविदा आलोक! यादों में हमेशा जिंदा रहोगे…  झारखंड के देवघर से एक दुखद खबर है। देवघर जिले के वरिष्ठ पत्रकार आलोक संतोषी ने हमारा साथ छोड़ दिया। अब आलोक हमारे साथ सिर्फ यादों में रहेंगे, खिलखिलाते हुए, जोर जोर से हंसते हुए। पिछले पांच साल से पेट के कैंसर की बीमारी ने आलोक को हरा दिया। ईलाज के दौरान उनको कई बार आर्थिक समस्याओं का भी सामना करना पड़ा।

स्व. आलोक संतोषी

अभिजीत सरकार का ‘सरकारनामा’ देखिए

सहारा समूह के वरिष्ठतम पदाधिकारियों में से एक अभिजीत सरकार इन दिनों ‘सरकारनामा’ पेश कर रहे हैं. इस सीरिज के जरिए वह ढेर सारी वर्तमान और इतिहास की बातें अपने खास अंदाज़ में पेश करते हैं.  छब्बीस जनवरी के दिन अभिजीत सरकार का जो ‘सरकारनामा’ आया, वह वाकई अदभुत है. इस ‘सरकारनामा’ को देखने-सुनने के बाद Annu Kalra लिखती हैं : 

सहरसा में पूर्व विधायक ने पत्रकार को घसीट-घसीट कर मारा

सहरसा : फिल्म ‘पद्मावत’ के विरोध में शस्त्र के साथ मशाल जुलूस बुधवार की संध्या कई राजनीतिक एवं गैर राजनीतिक संगठनों द्वारा निकाला गया था। इस विरोध मार्च में छातापुर के भाजपा विधायक नीरज कुमार बबलू, पूर्व विधायक आलोक रंजन, किशोर कुमार मुन्ना और आईएमए से जुड़े कई चिकित्सक भी शामिल थे। स्थानीय वीर कुंवर सिंह चौक से निकला मशाल जुलूस जब शंकर चौक पहुंचा तो इस दौरान तस्वीर लेने के क्रम में पत्रकार तेजस्वी ठाकुर जब भाजपा के पूर्व विधायक आलोक रंजन के करीब पहुँचे तो वे गाली देने लगे। जब तेजस्वी ठाकुर ने विरोध किया गया तो मामला वहीं शांत हो गया।

पद्मावत के खिलाफ सशस्त्र प्रदर्शन में शामिल वर्तमान विधायक एवं दोनों पूर्व विधायक।

प्रोफेसर गोपाल गुरु बने ईपीडब्ल्यू मैग्जीन के नए संपादक

इकनॉमिक एंड पॉलिटिकल वीकली यानि ईपीडब्ल्यू पत्रिका के नए संपादक प्रोफेसर गोपाल गुरु बनाए गए हैं. यह घोषणा मैगजीन का प्रकाशन करने वाले समीक्षा ट्रस्ट ने की है. गोपाल गुरु को पांच साल के लिए संपादक नियुक्‍त किया गया है. गोपाल गुरु अभी जेएनयू में राजनीतिशास्‍त्र के वरिष्ठ प्रोफेसर हैं. इससे पहले ईपीडब्ल्यू मैग्जीन के एडिटर परंजॉय गुहा ठाकुरता हुआ करते थे, जिन्होंने पिछले साल इस्‍तीफा दे दिया था.

पर्दे पर ‘पद्मावत’ ; सड़क पर उपद्रव : लम्बे समय से रुकी मेरी क़लम आज ख़ुद को रोक न सकी…

एक पत्रकार के तौर पर लम्बे समय से रुकी मेरी क़लम आज ख़ुद को रोक न सकी। समय की व्यस्तता और एकाग्रता की कमी के कारण मेरी क़लम पर जो लगाम लगा हुआ था, आज वह सारी बंदिशें तोड़ कर कुछ बोलना चाहती है। वह कहना चाहती है की बस अब बहुत हो चुका, कृपा कर अब तो थोड़े संवेदनशील हो जाओ, थोड़ा तो ख्याल करो अपने देश की परंपरा, संस्कृति एवं अभिव्यक्ति की मिली हुई आज़ादी का।

अमर उजाला में मायावती को लेकर ये क्या छप गया….

आनन-फानन में रोकी गईं अमर उजाला की 10 हजार कॉपी, आनलाइन पेपर से हटाई गई हेडिंग…

बुलंदशहर। अमर उजाला ने बसपा अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के लिए अपशब्द लिख दिया। अमर उजाला के बुलंदशहर अंक में ”चीनी मिलों को बेच मोटा हुआ मायावती का पेट” शीर्षक से समाचार प्रकाशित कर दिया गया। जैसे ही इस खबर पर संस्थान के वरिष्ठों की नजर पड़ी, नोएडा से लेकर बुलंदशहर तक हड़कंप मच गया। जब तक खबर रोकने के निर्देश दिए गए, तब तक बुलंदशहर एडिशन छूट चुका था। 10 हजार कापी छप चुकी थी।

प्रभात खबर, देवघर के छायाकार के साथ दुर्व्यवहार

25 जनवरी की दोपहर को प्रभात खबर देवघर संस्करण के छायाकार सुभाष दास के साथ कुछ लोगों ने मारपीट की। मारपीट की यह घटना देवघर सदर अस्पताल के पुराने परिसर में घटी। प्राप्त जानकारी के अनुसार, फोटोग्राफर सुभाष जब पुराने अस्पताल परिसर में कुछ तस्वीर खींच रहे थे, तभी कुछ असामाजिक तत्वों ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया। इसके बाद पीड़ित फोटोग्राफर कुछ सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ उस मामले की तहरीर लिखाने देवघर नगर थाना पहुंचे।

Know How a Senior Editor is being FORCED to Leave RSTV

Rajya Sabha TV- Deceit, Deception, Dishonesty, Anything but Parliamentary

Rajya Sabha: How to SET Editor-in-Chief selection

The story of war for control at Rajya Sabha TV (RSTV) could make the most intriguing episode of Game of Thrones a run for TRPs. The channel has been in controversy for years now. There have been incessant allegations of misuse of public money, nepotism, corrupt practices in RSTV. There have been reports of CAG objections. Leading media organizations like DNA, Tehelka wrote articles alleging splurging of Rs 1700 crores. It another matter that both the organizations tendered apology for factually incorrect reporting to the Privileges Committee of Rajya Sabha, when nearly all political parties in the House, except BJP, collectively moved privilege motion against wrong reporting.

22+ कैटगरी में जी न्यूज बना नंबर वन, सबसे ज्यादा टीआरपी एबीपी न्यूज की गिरी

इस साल के तीसरे हफ्ते की टीआरपी के आंकड़ों में ट्वेंटीटू प्लस कैटगरी में जी न्यूज नंबर वन है. इस कैटगरी में आजतक को दो नंबर पर संतोष करना पड़ा है. पर जिस कैटगरी के आधार पर वाकई चैनल खुद की रेटिंग करते हैं, उस फिफ्टीन प्लस कैटगरी में आजतक अब भी नंबर वन है. ये अलग बात है कि आजतक और जी न्यूज के बीच का फासला बेहद कम रह गया है. सबसे ज्यादा टीआरपी एबीपी न्यूज की गिरी है. अब यह चैनल न्यूज नेशन से भी नीचे जाने को तत्पर दिख रहा है.

दबंग दुनिया अखबार ने अपने ही तीन पूर्व पत्रकारों के खिलाफ ये क्या छाप दिया…

गुटकेबाज के अखबार ‘दबंग दुनिया’ ने अपने ही तीन पत्रकारों की यूं की मानहानि… इंदौर के गुटका किंग किशोर बाधवानी अपना अखबार ‘दबंग दुनिया’ ठीक गुटका की तर्ज पर चलाते हैं. खाओ, थूको और चलते बनो.  दबंग दुनिया अखबार में पत्रकारों को शुरुआत में प्यार से रखा जाता है और उनका जमकर तेल निकाला जाता है. उनसे सारे कर्म-कुकर्म अखबार हित के नाम पर कराए जाते हैं. फिर एक दिन उनकी ही फोटो अखबार में छाप कर उन्हें ब्लैकमेलर से लेकर जाने क्या क्या बताते हुए बहरिया दिया जाता है. 

पागलपन की इस अवस्था के लिए कारगर है Agaricus M

There are a lot of the symptoms in materia medica of Homoeopathy for each and every medicine. In between them there are living some rare Peculiar symptoms by which a wonderful prescribing maybe done and a natural cure maybe find as well.

दागी आईएएस सत्येंद्र सिंह पर मेहरबान योगी सरकार

यूपी की योगी सरकार दागी आईएएस सत्येंद्र सिंह पर मेहरबान है. यही कारण है कि इस भाजपा सरकार में इस घोटालेबाज अफसर के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई है. आईएएस सत्येंद्र सिंह एनआरएचएम घोटाले के भी आरोपी हैं. वे अब भी एक बड़े पद पर तैनात हैं.  सत्येंद्र सिंह जब एनआरएचएम में जीएम हुआ करते थे तो उन्होंने काफी खेल किए. इसी कारण उन्हें आरोपी बनाया गया. सीबीआई जांच के दौरान सत्येंद्र सरकारी गवाह बन गए. इसी कारण उनके खिलाफ चलने वाली सभी जांच ठंढे बस्ते में डाल दी गई. पर क्या सरकारी गवाह बनने से गुनाह माफ़ हो जाते हैं?

रिपब्लिक टीवी के स्टिंग में भाजपा नंगा… करणी सेना को सरकारों ने दे रखी है हिंसा की खुली छूट

Girish Malviya : लीजिए वही हकीकत सामने आयी है जिसकी आशंका थी… ‘रिपब्लिक टीवी’ द्वारा किये गए स्टिंग में भाजपा के विधायक और महाराष्ट्र विधानसभा में मुख्य सचेतक राज पुरोहित ने कबूला है कि करणी सेना को उन्हीं की सरकार ने खुला छोड़ दिया, ताकि वे लोग राजस्थान में चुनाव जीत सकें… वे कहते हैं कि “सरकार उन्हें नुकसान पहुंचाने के मूड में नहीं है। अगर वाहन फूंके जाते हैं तो ये अच्छा है। भाजपा की अपनी मजबूरी है। यहां समर्थन का सवाल नहीं है। यह मजबूरी है। भाजपा के पास इसके अलावा क्या विकल्प है। वह उनके खिलाफ भी तो नहीं जा सकती? बड़े स्तर पर हिंदू लोग उन्हें समर्थन दे रहे हैं।”

मोदी राज में दिल्ली पुलिस का क्रूर चेहरा देखें… एक भाई-बहन तीन दिन से लगा रहे थाने के चक्कर

Yashwant Singh : एक भाई-बहन दिल्ली के कालका जी थाने में तीन दिन से चक्कर काट रहे हैं. भाई का बाइक जब पुलिस वालों ने पकड़ा तब उसके पास कागज नहीं थे. बाइक लेकर पुलिस वाले थाने चले गए और अगले रोज कागज सहित आकर बाइक ले जाने को बोल दिया. भाई-बहन दोनों डाक्यूमेंट्स लेकर गए, दिखाए, लेकिन तब भी पुलिस वाले कह रहे हैं कि बाइक नहीं देंगे, चाहें तुम जो दिखा लो. खासकर इस पूरे प्रकरण में थाने के थानेदार  वेद का रवैया बहुत ही असंवेदनशील है.

जानिए भंसाली का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन…

Surya Pratap Singh : भंसाली का ‘अंडरवर्ल्ड कनेक्शन’….. अंडरवर्ल्ड ने रखी भंसाली के सामने ‘सनातन मान्यताओं’ को ध्वस्त करने की शर्त… भंसाली ने कहा- ’क़ुबूल है, क़ुबूल है, क़ुबूल है’……..१ लाख की पैड-अप कैपिटल वाली कम्पनी बना रही सैकड़ों करोड़ वाले बजट की फ़िल्म… ये सिर्फ़ इस देश में ही सम्भव है जहाँ रातों-रात मालदार होने वालों से सवाल पूछना जुर्म ही नहीं यहाँ तक कि राष्ट्रद्रोह भी घोषित हो सकता है। फ़िल्म निर्माता विधू विनोद चोपड़ा के सहायक की हैसियत से कैसे अंडर वर्ल्ड ने ‘भंसाली’ को बना दिया इतना बड़ा ‘फ़िल्म निर्माता’?

माखनलाल विवि की पत्रकारिता छात्रा ने कांग्रेस विधायक को किया ब्लैकमेल, पांच लाख रुपये लेते हुई गिरफ्तार

भोपाल स्थित माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय की एक छात्रा ब्लैकमेलिंग के आरोप में गिरफ्तार कर ली गई है. उस पर कांग्रेस के एक विधायक को ब्लैकमेल करने और फिर पांच लाख रुपये वसूलने का आरोप है. क्राइम ब्रांच ने पांच लाख रुपये लेते हुए छात्रा को गिरफ्तार कर लिया है. पूरी खबर स्थानीय अखबारों में प्रकाशित हुई है, जो इस प्रकार है…

सुदर्शन न्यूज़ का मालिक सुरेश चव्हाण भी ‘भंसाली’ के हाथों बिका : सूर्य प्रताप सिंह

Surya Pratap Singh : पद्मावत की रिलीज़ से पहले की रात तक ख़ूब बिके कई लोग….! नेताओं के मुँह तो अम्बानी की लँगोटी से बँधे हैं …. ऐन मौक़े पर नंगा होता, सुदर्शन न्यूज़ का मालिक सुरेश चव्हाण भी ‘भंसाली’ के हाथों बिका …कल तक जो पद्मावत का विरोध करने वालों को ‘धर्म रक्षक’ कहकर सम्बोधित कर रहा था, आज उसके सुर बदल गए….

भारतीय अर्थव्यवस्था का तीस साल में सबसे ख़राब प्रदर्शन

Ravish Kumar : भारतीय अर्थव्यवस्था का तीस साल में सबसे ख़राब प्रदर्शन…. हिन्दू मुस्लिम डिबेट प्रोजेक्ट का स्वर्ण युग…  इंडियन एक्सप्रेस में अर्थशास्त्री कौशिक बसु का लेख पढ़िए। बता रहे हैं कि भारत की जीडीपी का तीस साल का औसत निकालने पर 6.6 प्रतिशत आता है। इस वक्त भारत इस औसत से नीचे प्रदर्शन कर रहा है। पहली दो तिमाही में ग्रोथ 5.7 प्रतिशत और 6.3 प्रतिशत रहा है। सरकार का ही अनुमान है कि 2017-18 में ग्रोथ रेट 6.5 प्रतिसत रहेगा।

टीवी वाले अकल से बिलकुल पैदल हैं क्या.. देखिए क्या चला रहे न्यूज फ्लैश

Ravish Kumar : 26 जनवरी के मौके पर 10 एशियाई मुल्कों के प्रधान हमारे मेहमान हैं। उनके आने पर न्यूज़ चैनलों पर फ्लैश चल रहा है कि इन पर आतंकी हमले का ख़तरा है। कई बार लगता है कि आई बी को पता नहीं कि अपना फ़र्ज़ीवाड़ा कब रोक देना चाहिए। बताइये मेहमानों के परिवार वाले फोन न करने लगें कि आप लोग भारत गए हैं, वहां तो न्यूज़ फ्लैश हो रहा है कि आप पर आतंकी हमले का ख़तरा है।

रजनीश के. झा के आरोप बेबुनियाद, पहले वह खुद अपने गिरेबां में झांके : हेमंत सिंह

मधुबनी में रैकेटियर किस्म के रंगे सियार होने लगे हैं असली पत्रकारों पर हावी…

महोदय, आपके प्रतिष्ठित पोर्टल में छपे एक रैकेटियर ब्लॉगर रजनीश के. झा के उस पत्र पर मैं अपना पक्ष रखना चाहता हूं जिसमें मेरे उपर ढेर सारे बेबुनियाद और मानहानिकारक आरोप लगाए गए हैं.  पहली बात ये है कि कि रजनीश के झा नामक प्राणी जो पहले दिल्ली में मार्केटिंग का काम करता था, कुछ समय से जो लाइव आर्यावर्त डॉट कॉम चला रहा है, उस साइट की न तो कोई रैंकिंग है और न ही उसका कहीं कोई रजिस्ट्रेशन है. वह मीडिया है ही नहीं. वह एक ब्लॉग है जिस पर वह गूगल से मैटर चोरी कर कट पेस्ट करता रहता है.

यूपी में बढ़ते अपराध को लेकर समाजवादी पार्टी ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा

लखनऊ : समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने आज राज्यपाल श्री रामनाईक से भेंटकर उन्हें प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था की स्थिति पर ज्ञापन दिया। प्रतिनिधिमंडल ने कहा कि उत्तर प्रदेश अराजकता का शिकार हैं। लगातार जिस तरह की अपराधिक घटनाएं राजधानी लखनऊ और प्रदेश के अन्य जनपदों में हो रही है उससे लगता है उत्तर प्रदेश में सरकार नाम की कोई संस्था नहीं रह गई है।

सीबीआई जज ने सोहराबुद्दीन केस कवरेज को लेकर मीडिया पर लगी पाबंदी हटाई

Bombay High Court sets aside the ban on media coverage of Sohrabuddin case trial… Justice Revati Mohite-Dere of the Bombay High court set aside an order by special CBI judge S J Sharma to ban the media from covering the proceedings of the Sohrabuddin Sheikh encounter death trial, on two petitions filed by nine court reporters and editors of news websites and the Brihanmumbai Union of Journalists (BUJ).

इंटेलिजेंस मीडिया एसोसिएशन (IMA) के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष बने प्रदीप शर्मा

इंटेलीजेन्स मीडिया एसोसिएशन (IMA) की उत्तर प्रदेश राज्य स्तरीय इकाई सम्मेलन लखनऊ में एक स्थानीय होटल ,लालबाग में सम्पन्न हुआ। सम्मेलन की अध्यक्षता राष्ट्रीय नियंत्रण कमेटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष विनय समीर ने की। मंच का संचालन डॉ शालिनी शुक्ला  किया। इस राज्य स्तरीय सम्मेलन में उपस्थित सभी आई एम ए के पदाधिकारियों की सहमती और आई एम ए के राष्ट्रीय अध्यक्ष संजय राय की एव नियंत्रण समिति के अध्यक्ष विनय समीर की सस्तुति पर आई एम ए के संस्थापक/राष्ट्रीय संयोजक नरेन्द्र एम. चतुर्वेदी जी ने शेष प्रश्न के प्रधान सम्पादक प्रदीप शर्मा को आई एम ए का उत्तर प्रदेश अध्यक्ष नियुक्ति पत्र देकर नियुक्त किया।

रोडवेज बस के कंडक्टर का हरामीपना… देखें वीडियो

Yashwant Singh :  बीते साल बाइस दिसंबर को आगरा एक कार्यक्रम में शिरकत करने के लिए जा रहा था. नोएडा में सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन के पास स्थित रोडवेस बस अड्डे पर बड़ौत डिपो की एक बस पर बैठ गया. यह बस वाया यमुना एक्सप्रेसवे ले जाने वाली थी. बस चल दी और परी चौक से ठीक पहले खराब भी हो गई.

एक अजनबी बिल्ली से यशवंत यूं लगा बैठे दिल…. देखिए, बिल्ली- एक प्रेम कथा

Yashwant Singh : कल एक अजनबी बिलार आ गई। मच्छी-भात पका रहा था। वो भूखी होने वाली गुहार-आवाज़ लगा रही थी। उसको मच्छी के टुकड़े डालता खिलाता रहा। थोड़ी ही देर में परिचित सी हो गयी। शांत, स्निग्ध और सहज टाइप स्वभाव वाली दिखी। हम दोनों की दोस्ती हो जाने के बाद उसको ससम्मान कटोरी में खिलाया और विदा किया। लगा यूँ ही रास्ता भटक के आ गयी थी और पेट भर खा पीकर चली गयी।

हरेंद्र परिहार, अभिसार गुप्ता, गोपाल गिरी और रवि हेमराज के बारे में सूचनाएं

खबर है कि ईटीवी देहरादून मे इन दिनों अफरातफरी का माहौल है. रामोजीराव वाला etv अब रिलायंस मुकेश अम्बानी का tv18 होने जा रहा है. इसलिए पूरे देश से 400 लोगों को हटाने की खबर है. पहली कड़ी में देहरादून से वरिष्ठ वीडियो जर्नलिस्ट हरेन्द्र परिहार एवं अभिसार गुप्ता का इस्तीफा मांगा गया है. हरेन्द्र इससे पहले सहारा मुम्बई में एवं सहारा एनसीआर में करीब 11 सालों से काम करने के बाद etv से जुड़े थे. इस घटना से etv देहरादून का बाकी स्टाफ सहमा हुआ है. 

विजय पाल बरार न्यूज18 चैनल में डिप्टी न्यूज एडिटर बने

चंडीगढ़ से खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार और टीवी एंकर विजय पाल बरार को न्यूज18 चैनल में पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के लिए डिप्टी न्यूज एडिटर बनाया गया है. इससे पहले वह तिरछी नजर मीडिया में स्पेशल करेस्पांडेंट हुआ करते थे. अपने पंद्रह वर्षों के मीडिया करियर में विजयपाल पीटीसी न्यूज, पंजाब टुडे, सहारा …

उन्नाव के पत्रकार राजेश वाजपेयी को समाचार प्लस प्रबंधन ने कानपुर की भी जिम्मेदारी दी

उन्नाव के वरिष्ठ पत्रकार राजेश वाजपेयी को समाचार प्लस चैनल प्रबंधन ने कानपुर हेड की भी जिम्मेदारी दे दी है.  इस तरह राजेश अब उन्नाव के साथ-साथ कानपुर की भी जिम्मेदारी निभाएंगे. अभी तक कानपुर हेड अश्विनी निगम हुआ करते थे. राजेश वाजपेयी करीब नौ साल तक उन्नाव में सहारा समय चैनल और राष्ट्रीय सहारा …

डॉ राकेश पाठक हेमंत स्मृति कविता सम्मान से सम्मानित हुए

ग्वालियर। वरिष्ठ पत्रकार और कवि डॉ राकेश पाठक को उनके कविता संग्रह ‘बसंत के पहले दिन से पहले’ के लिए “हेमंत स्मृति कविता सम्मान” प्रदान किया गया। मुम्बई में शनिवार को हेमंत फाउंडेशन द्वारा गरिमामय समारोह में राष्ट्रीय स्तर का ये सम्मान डॉ पाठक को दिया गया। समारोह के मुख्य अतिथि ‘अनुसंधान’ पत्रिका के संपादक …

लौंडे क्या पढ़ेंगे.. इनसे तो स्कूल में झाड़ू-पोंछा कराया जा रहा है, देखें वीडियो

हापुड़ के शाहपुर जाट गांव के प्राथमिक विद्यालय में छात्रों से स्कूल में झाड़ू पोछे का कार्य कराया जा रहा है. प्राथमिक विद्यालय में इसी प्रकार से झाड़ू पोछा का कार्य कराया जाएगा तो इन बच्चों का भविष्य क्या होगा. इस वीडियो को देखकर सोचिए कि जब इन मासूम बच्चों से इतनी सर्दी में झाड़ू …

‘द ब्रदरहुड’ पर सेंसर बोर्ड की आपत्तियां खारिज

नई दिल्ली। बिसाहड़ा कांड की पृष्ठभूमि में हिन्दू-मुस्लिम एकता पर बनी वरिष्ठ पत्रकार पंकज पाराशर की डॉक्यूमेंटरी फिल्म ‘द ब्रदरहुड’ को फिल्म ट्रिब्यूनल ने मंजूरी दे दी है। फिल्म देखने के बाद ट्रिब्यूनल ने कहा, यह देश में हिन्दू और मुस्लिमों के बीच सांप्रदायिक सौहार्द्र को बढ़ावा देने वाला प्रशसंनीय प्रयास है। सेंसर बोर्ड की आपत्तियों का कोई आधार नहीं है। फिल्म न केवल बिना काट-छांट के प्रदर्शित होगी बल्कि सेंसर बोर्ड को यूए की बजाय यूवी सर्टिफिकेट देने का आदेश दिया है।

विनायक विजेता, रजनीश, अमिताभ, आशुतोष, मधुप मणि समेत कई पत्रकार हुए सम्मानित

पटना के वरीय पत्रकार सह न्यूज पोर्टल ‘खबर मंथन’ के प्रधान संपादक विनायक विजेता, न्यूज नेशन के बिहार हेड रजनीश सिन्हा, न्यूज 24 के बिहार झारखंड ब्यूरो प्रमुख अमिताभ ओझा, सहारा समय बिहार के वरीय संवाददाता आशुतोष कुमार, पीटीएन न्यूज के संपादक मधुप मणि ‘पिक्कू’ सहित लगभग डेढ़ दर्जन पत्रकारों को सरस्वती पूजा के अवसर पर अंगवस्त्र, डायरी व कलम देकर सम्मानित किया गया।

फक्कड़ और घुमन्तू पत्रकारिता के झंडाबरदार अम्बरीश दादा खुद में एक संस्था थे

घुमंतू की डायरी अब बंद हो गयी क्योंकि इसे लिखने वाला फक्कड़ पत्रकार 19 जनवरी-2018 की रात ना जाने कब दुनिया छोड़ गया। दिल में यह हसरत लिये कि अभी बहुत कुछ लिखना-पढ़ना है। पत्रकारिता के फकीर अम्बरीश शुक्ल का हम सब को यूं छोडकर चले जाना बहुत खल गया। हिन्दी पत्रकारिता के पुरोधा अमर शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी के शहर कानपुर में 35 साल से अधिक (मेरी अल्प जानकारी के मुताबिक) वक्त से फक्कड़ और घुमन्तू पत्रकारिता के  झण्डाबरदार अम्बरीश दादा, चलते फिरते खुद में एक संस्था थे।

Delhi BJP President Manoj Tiwari gives assurance to help in AN Buildwell Buyers

Disappointed over the irked behaviour of Economic offense Wing (EOW) authorities several buyers of A N buildwell builder commercial and residential apartment on Saturday knocked the door of Delhi BJP chief Manoj Tiwari in hope to get justice. Spirewoods, a resident and Spireedge a commercial project was launched in sec 103, Gurgaon by A N Buildwell Pvt LTD in the year 2011 in which around 500 buyer’s booked flats. As per BBA the possession was due in 2015 while the work was stopped at site before possession date. The company went into liquidation in March 2016.

IFWJ के मधुबनी जिलाध्यक्ष पर पत्रकार पर हमला करने का आरोप

विषय : संगठन के मधुबनी जिला अध्यक्ष द्वारा गाली गलौज और जातिसूचक संबोधन के साथ जान से मारने की धमकी!

माननीय अध्यक्ष महोदय,

इन्डियन फेडरेशन ऑफ़ वर्किंग जर्नलिस्ट

महाशय,

ज्ञात हो कि मधुबनी जिला से संगठन के अध्यक्ष के रूप में हेमंत सिंह नामित हैं, बीते दिनों फेसबुक पर उन्होंने कुछ तस्वीरों के साथ एक पोस्ट डाली। इसके माध्यम से उन्होंने खुद को एक्यूप्रेशर का डोक्टर होने की घोषणा कर लोगों से बधाई माँगा, लोगों ने बधाई दिया भी और उस पर टिपण्णी करने वालों में मैं भी शामिल था, तस्वीरों को देखते हुए मैं बधाई देते हुए उनसे कहा की मित्र ये डिप्लोमा है और डिप्लोमा के आधार पर किसी को डॉक्टरेट नहीं मिलता है कृपया पोस्ट को सुधार करें अन्यथा इस पोस्ट के आधार पर अप ही नहीं समूची पत्रकारिता कौम शर्मिन्दा होगी ! जिस प्रतिक्रया के एवज में पहले तो पोस्ट पर ही मुझ से गाली गलौज की गई!

रीयल इस्टेट की चोर कंपनी ‘आम्रपाली’ के खिलाफ भड़ास संपादक यशवंत ने दर्ज कराई कंप्लेन, जांच कमिश्नर को

Yashwant Singh : आज सुबह मुख्यमंत्री कार्यालय से फोन आया और आम्रपाली द्वारा किए गए मेरे साथ फ्रॉड को लेकर जानकारी ली गयी। सभी विकल्पों पर चर्च की गई। यूपी cm के जनसुनवाई पोर्टल पर कम्प्लेन दर्ज करा दी है। नोएडा चूंकि मेरठ मण्डल में आता है इसलिए जांच ईमानदार ias अधिकारी और मेरठ के …

चोर बिल्डर कंपनी आम्रपाली के खिलाफ नेफोवा पहुंची सुप्रीम कोर्ट

आम्रपाली के ठगे हुए निवेशक उत्तर प्रदेश की योगी सरकार से हताशा हाथ लगने के बाद अब कोर्ट की शरण में जा रहे हैं। पहले भी आम्रपाली की कई परियोजनाओं के निवेशक सुप्रीम कोर्ट जा चुके है। अब नेफोवा ने भी सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। यह याचिका उन परियोजनाओं को लेकर डाली गई है, जिन पर अभी तक काम ही शुरू नहीं हो सका है। वर्तमान में आम्रपाली के गोल्फ होम्स, ¨कग्सवुड, लेजर पार्क, रिवर व्यू प्रोजेक्ट, वेरोना हाइट्स, जौरा हाइट्स, आदर्श आवास योजना, सेंचुरियन पार्क और ड्रीम वैली परियोजनाओं के निवेशकों की सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा है।

चोर, बेइमान व धूर्त बिल्डर अनिल शर्मा और उसकी कंपनी आम्रपाली के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज

नोएडा : 88 लाख रुपये देने के बावजूद भी फ्लैट नहीं मिलने की शिकायत पर सेक्टर-58 पुलिस ने आम्रपाली बिल्डर के खिलाफ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज की है। पीड़ित ने ग्रेटर नोएडा के जीटा-1 में आम्रपाली ग्रैंड प्रॉजेक्ट में फ्लैट बुक करवाया था। शिकायत के आधार पर एसएसपी ने एसपी देहात को जांच के आदेश दिए थे। शुरुआती जांच में मामला सही सामने आने पर एसपी देहात ने सेक्टर-58 पुलिस को एफआईआर दर्ज करने के निर्देश दिए थे।

कमाल ख़ान की इस एक रिपोर्ट से हिल गया हूं : रवीश कुमार

Ravish Kumar : कमाल ख़ान की एक रिपोर्ट से हिल गया हूं। यूपी के सीतापुर में कर्ज़ रिकवरी वाले एक किसान के घर गए। रिकवरी एजेंट ने किसान को ट्रैक्टर से ही कुचल कर मार दिया और ट्रैक्टर लेकर फ़रार हो गए। मात्र 65,000 रुपये कर्ज़ था।

अजय प्रकाश की आंखों देखी- ”दो दर्जन पत्रकारों में से किसी ने भी मजदूरों की ओर रुख नहीं किया”

Ajay Prakash : कल मैं बवाना में था। वहीं जहां दिल्ली में 17 मजदूर जलकर मर गए। हालांकि वहां जुटे मजदूर बता रहे थे 25 लाशें निकलीं थीं पर इसका न उनके पास आंखों देखी के अलावा कोई प्रमाण था और न अपने पास इसको पता लगाने का साधन। पर मैंने वहां कुछ महत्वपूर्ण बातों पर गौर किया, वह आपसे बताता हूं। वहां करीब मैं तीन घंटे से अधिक रहा। मौके पर दोनों ओर मिलाके करीब 6-7 सौ मजदूर खड़े थे। इसमें से 90 फीसदी युवा थे। 16 से 30 बरस के। इन युवा मजदूरों को फैक्ट्री से 50 मीटर दाहिने और 50 मीटर बाएं दूर रस्सी से रोककर रखा गया था। मौके पर एक भी मजदूर नहीं थे। मौके पर पत्रकार, पुलिस और कुछ अन्य लोग खड़े थे।

हावर्ड से रवीश कुमार को न्योता

Ravish Kumar : प्रधानमंत्री के भारत लौटने के बाद मैं हावर्ड जाने की तैयारी में लग जाऊंगा! उनके पीछे देश ख़ाली ख़ाली सा न लगे इसलिए रूक गया हूं। अच्छी बात है कि हावर्ड के आयोजक छात्रों ने हिन्दी में ही बोलने के लिए कहा है। 2016 में जब कोलंबिया यूनिवर्सिटी गया था तो वहां भी वत्सल और प्रोफेसर सुदीप्तो कविराज ने कहा कि हिन्दी में ही बोलिए। फिर क्या था जो अनुवाद करा कर ले गया था उसे किनारे किया और जो बोलना था बोल आया।

मोदी और तोगड़िया : ये जंग हिंदू चहरे के लिए है!

देश में इन दिनों एक सवाल सबके पास है कि प्रवीण तोगड़िया और बीजेपी सरकार के बीच आखिर तकरार है क्या? क्या वजह है कि तोगड़िया ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है और क्या वजह है कि वो ये कह रहे हैं कि एनकाउंटर की साजिश रची जा रही है। तो जरा लौटिए 2017 दिसंबर के महीने में, क्यों कि संघ से जुड़े सूत्र कहते हैं कि विश्व हिंदू परिषद जो कि संघ की अनुषांगिक शाखा है, इसके इतिहास में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए चुनाव करवाए गए। इसकी सबसे बड़ी वजह ये थी कि संघ के भीतर ही दो खेमे बन गए थे। एक खेमा चंपत राय को अध्यक्ष के रूप में देखना चाहता है तो दूसरा खेमा प्रवीण तोगड़िया को अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष के रुप में देखना चाहता था। लिहाजा तय किया गया कि इसके लिए चुनाव करवाए जाएंगे।

क्या भारत में वुल्फ अटैक शुरू हो चुके हैं?

Mridul Tyagi : भारत में वुल्फ अटैक शुरू हो चुके हैं. वुल्फ अटैक मतलब एक दहशतगर्द अचानक उपलब्ध परंपरागत संसाधनों से ज्यादा से ज्यादा जनहानि की कोशिश करता है. भारतीय मीडिया ने 26 जनवरी से ऐन पहले हुई दो बड़ी घटनाओं को न तो समझा न तवज्जो दी. पहली घटना 19 जनवरी को हुई. मुरादनगर में फुरकान नाम का शख्स गंग नहर पुल से ऐन पहले रेलवे पटरी के बोल्ट खोलता पकड़ा गया. तीन किशोरों ने इसे पकड़ा.

मोदी जी का इंटरव्यू और जी न्यूज के सामने पकौड़े वाला….

Nitin Thakur : सुधीर सर ने जो इंटरव्यू लिया उसे जर्नलिज़्म के पाठ्यक्रम में पढ़ाया जाए. छात्रों को वो हुनर सिखाया जाए कि एकतरफा संवाद करनेवाले नेता के भाषण के बीच में सवालनुमा टिप्पणी कुशलतापूर्वक घुसाकर कैसे इंटरव्यू होने का भ्रम पैदा किया जाता है. मोदी जी ने बाकायदा समझाया कि कैसे ज़ी न्यूज़ के बाहर पकौड़े तलनेवाले को 200 रुपए रोज़ाना का रोज़गार मोदीकाल में मिला है।

श्रीनिवास तिवारी रीवा से लेकर भोपाल दिल्ली तक यथार्थ से ज्यादा किवंदंती के जरिए जाने गए

Jayram Shukla : एक आम आदमी का जननायक बन जाना… श्रीनिवास तिवारी रीवा से लेकर भोपाल दिल्ली तक यथार्थ से ज्यादा किवंदंती के जरिए जाने गए। दंतकथाएं और किवंदंतियां ही साधारण आदमी को लोकनायक बनाती हैं। विंध्य के छोटे दायरे में ही सही तिवारीजी लोकनायक बनकर उभरे और रहे। मैंने अबतक दूसरे ऐसे किसी नेता को नहीं जाना जिनको लेकर इतने नारे,गीत-कविताएं गढ़ी गईं हों। सच्चे-झूठे किस्से चौपालों और चौगड्डों पर चले हों। उनकी अंतिमयात्रा में उमड़ा जनसैलाब इन सब बातों की तस्दीक करता है।

दैनिक जागरण मेरठ से अवनींद्र कमल और सचिन त्यागी का इस्तीफा

दैनिक जागरण  के मेरठ एडिशन से दो खबरें हैं. अवनींद्र कमल ने इस्तीफा दे दिया है. इनका तबादला रायपुर कर दिया गया था. लेकिन वहां इनका मन नहीं लगा और मेरठ लौटकर इस्तीफा दे दिया. दैनिक जागरण में अवनींद्र कमल डिप्टी चीफ़ सब एडिटर के पद पर थे. सूचना है कि अवनींद्र कमल ने मेरठ में ही दैनिक प्रभात अखबार ज्वाइन कर लिया है।  उनका बीते साल माह जुलाई में जागरण ग्रपु के अखबार नई दुनिया के रायपुर एडिशन में तबादला किया गया था. नई दुनिया में उन्हें स्टेट सहायक की ज़िम्मेदारी सौंपी गई थी. बताया जा रहा है कि रायपुर में अवनींद्र ख़ुद को असहज महसूस कर रहे थे. इससे पूर्व वह सहारनपुर, हरिद्वार, शामली व बुलंदशहर के ज़िला इंचार्ज रह चुके हैं. उनको लेकर कई तरह के चर्चाएं थीं जिसके कारण उनका तबादला किया गया था.

फिरोजपुर से भास्कर कर्मी राजेन्द्र मल्होत्रा के पक्ष में जारी हुयी साढ़े बाईस लाख की आरसी

पंजाब के फिरोजपुर से एक बड़ी खबर आ रही है। यहां दैनिक भास्कर में कार्यरत ब्यूरो चीफ राजेन्द्र मल्होत्रा के आवेदन को सही मानते हुये फिरोजपुर के सहायक कामगार आयुक्त सुनील कुमार भोरीवाल ने दैनिक भास्कर प्रबंधन के खिलाफ २२ लाख ५२ हजार ९४५ रुपये की वसूली के लिये रिकवरी सार्टिफिकेट जारी की है। राजेन्द्र …

कानपुर के जाने-माने पत्रकार अंबरीश शुक्ल का निधन

कानपुर से खबर है कि वरिष्‍ठ एवं शुद्ध रूप से कनपुरिये पत्रकार अम्‍बरीश शुक्ल का आज सुबह उनके निवास पर निधन हो गया। श्री शुक्ल काफी समय से शुगर की बीमारी से ग्रस्‍त थे। चिकित्सकों के अनुसार आज सुबह उनको शुगर का अटैक पड़ा जिसके चलते उनका निधन हो गया।

लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकार नवलकांत सिन्हा पर जानलेवा हमला

लखनऊ से अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण एवं शर्मनाक खबर आ रही है. एक वरिष्ठ पत्रकार नवलकांत सिन्हा पर हमला हुआ है.  कई चैनलों और अखबारों में काम कर चुके नवलकांत सिन्हा ने बताया कि  उनके ऊपर सफारी सवार अज्ञात युवकों ने जानलेवा हमला किया है. इस बाबत गाजीपुर थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया है.

आम्रपाली बिल्डर अनिल शर्मा को ‘एड्स’ होने की खबर!

‘एड्स’ रोगी चोर बिल्डर अनिल शर्मा की फाइल पिक्चर… Yashwant Singh : आम्रपाली वालों से नोएडा वेस्ट के लीजर पार्क प्रोजेक्ट में बहुत पहले एक फ्लैट बुक कराए थे। पइसा भी जइसे तइसे भर दिए थे। चर्चा है कि अनिल शर्मा को ‘एड्स’ हो गया है.. बताया जा रहा है कि ‘एड्स’ होने के बाद …

देखते ही देखते टेलीविजन से मठाधीश संपादकों की एक पूरी पीढ़ी आउट हो गयी…

Yashwant Singh : देखते ही देखते टेलीविजन से मठाधीश संपादकों की एक पूरी पीढ़ी आउट हो गयी… अजित अंजुम, विनोद कापड़ी, आशुतोष, शैलेश, नक़वी, एनके सिंह, सतीश के सिंह, शाज़ी ज़मां, राहुल देव… जोड़ते-गिनते जाइए। इनमें से कुछ का कभी ये जलवा था कि दूसरों का करियर बर्बाद आबाद करने की सुपारी लिया दिया करते थे। आज खुद बेआबरू हुए बैठे हैं। समय बड़ा बेरहम होता है भाआआई….

भड़ास संपादक यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

IRS2017 : हे अखबार वालों, सुधर जाइए… दुनिया बहुत तेजी से डिजिटल हो रही है

Harsh Vardhan Tripathi : हिन्दी ही है हिन्दुस्तान… बाकी सब भ्रम है…  इस भ्रम को तोड़ना जरूरी है… देश के सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले अखबारों की सूची में 20 अखबारों में सिर्फ एक अंग्रेजी का अखबार है, टाइम्स ऑफ इंडिया। महानगरों में जिसे पढ़ते लगता है कि, सब यही अखबार पढ़ते हैं। और, हिन्दी ही है हिन्दुस्तान, जब मैं कह रहा हूं तो, इसका सीधा सा मतलब है, हर क्षेत्र की अपनी भाषा यानी हिन्दुस्तानी।

अंग्रेजी अखबार भी खबर की जगह लोरी छापते हैं!

Sanjaya Kumar Singh : कानपुर में पकड़े गए 92 करोड़ रुपए के पुराने नोट वाली खबर का फॉलो अप आज हिन्दुस्तान टाइम्स में भी छपा है। मैं अंग्रेजी अखबारों को हिन्दी वालों के मुकाबले थोड़ा गंभीर मानता हूं और दिल्ली में टाइम्स ऑफ इंडिया के मुकाबले हिन्दुस्तान टाइम्स को। पर ये भी सरकार के भोंपू का ही काम करते हैं।

केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन और कई वरिष्ठ पत्रकारों ने नभाटा के पूर्व संपादक डॉ. त्रिखा को यूं किया याद

बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी थे डॉ. नंद किशोर त्रिखा- डॉ. हर्षवर्द्धन

नई दिल्ली : प्रेस क्लब ऑफ इंडिया और नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्टस (इंडिया) द्वारा वरिष्ठ पत्रकार डा. नन्द किशोर त्रिखा को आज प्रेस क्लब में आयोजित शोकसभा में भावभीनी श्रद्धांजलि दी गई। इस मौके पर केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पर्यावरण मंत्री डा.हर्षवर्धन ने कहा कि नवभारत टाइम्स के पूर्व संपादक रहे डा.त्रिखा मीडिया जगत के लिए प्रेरणा स्त्रोत थे। उन्होंने हमेशा मीडिया की आजादी और पत्रकारों के हितों के लिए संघर्ष किया। पत्रकारों के उनके जीवन से हमेशा सीख मिलती रहेगी।

चीफ रिपोर्टर राजेश पटेल का जागरण वालों ने किया सिलीगुड़ी ट्रांसफर

दैनिक जागरण की पटना यूनिट से जुड़े चीफ रिपोर्टर राजेश पटेल का स्थानांतरण सिवान से सिलीगुड़ी कर दिया गया है। पटेल ने सिलीगुड़ी में काम करना शुरू भी कर दिया है। अभी मई 2016 में ही इनका ट्रांसफर रांची से पटना किया गया था। पटना से दो माह बाद ही इनको सिवान जिले का प्रभारी बनाकर भेज दिया गया।

तीन वरिष्ठ पत्रकारों की एक-एक किताबें पुस्तक मेले में प्रकट हुईं

‘बामियान में बुद्ध’, ‘बन्दूक’ और ‘कहीं कुछ नहीं’ का लोकार्पण… राजेंद्र राजन, राम जन्म पाठक और शशि भूषण द्विवेदी हैं इनके सृजक….  एक जमाना था जब साहित्यकार और पत्रकार एक ही सिक्के के दो पहलू थे। लेकिन धीरे-धीरे दोनों में दूरियां बढ़ती गईं। मगर अब भी कुछ लोग इस परंपरा को बचाए हुए हैं। इस बार विश्व पुस्तक मेले में कुछ किताबें आई हैं, जो इसकी गवाही देती हैं।

श्रमायुक्त ने लिखित रूप से माना- सुप्रीम कोर्ट को ठेंगा दिखा रहे ८४ अखबार

न्यायालय के आदेश के बावजूद अब तक नहीं लागू किया है जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिश.. आरटीआई से हुआ खुलासा… 

मुंबई : माननीय सुप्रीमकोर्ट के आदेश के बावजूद महाराष्ट्र के ८४ अखबार मालिकों ने अब तक जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिश अपने यहां लागू नहीं किया है। यह खुलासा हुआ है आरटीआई के जरिये। महाराष्ट्र के कामगार आयुक्त यशवंत केरुरे द्वारा डिप्टी डायरेक्टर जनरल, श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार को १६ दिसंबर २०१७ को भेजी गई अपनी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है।

अन्ना हजारे फिर मैदान में, किसानों को पेंशन दिलाने व खेती के उपकरणों से GST हटाने के लिए 23 से आंदोलन

आंदोलन की तैयारी के लिए अठराह राज्यों से आज आए कार्यकर्ताओं ने कोर कमेटी बनाया… किसानों की उपज को 50 प्रतिशत बढ़ाकर दाम मिले ताकि किसान आत्महत्या न करे। जिन किसानों ने साठ साल तक खेती पैदावारी की हो और उनके घरों में कोई भी नौकरी में न हो तो सरकार उन्हें जीवन जीने के लिए कम से कम पांच हजार रुपया पेन्शन दे।  संसद में लंबित किसान पेन्शन बिल पर अविलंब निर्णय होना जरुरी है। किसान खेती पैदावारी बढाने के लिए नया तकनीक अपनाता है। उदाहरण के तौर पर ड्रीप इरिगेशन, स्प्रिंकलर इररिगेशन और अन्य उपकरण का इस्तेमाल करता है। इन पर जीएसटी टैक्स नहीं लगाना चाहिए। आज इन किसानी के उपकरणों पर 18 प्रतिशत जीएसटी लगाया जाता है। यह किसानों पर अन्याय है।

मोदी और तोगड़िया : कभी दोस्त थे, आज दुश्मन बन बैठे… जानिए अंदर की कहानी

हमेशा से कहा जाता रहा है कि “जर, जोरू और जमीन” के कारण पक्के दोस्तों में ही नहीं, भाइयों में भी दुश्मनी हो जाती है। धीरूभाई अंबानी के देहावसान के बाद अंबानी भाइयों में छिड़ा युद्ध इस सत्य की मिसाल है। इतिहास ऐसे उदाहरणों से भरा पड़ा है। हालांकि इतिहास इस बात का भी गवाह है कि “जर, जोरू और जमीन” के साथ इसमें “तख्त” भी जोड़कर इसे “जर, जोरू, जमीन और तख्त” कहा जाना चाहिए। “जर” यानी धन, “जोरू” यानी स्त्री, “जमीन” यानी चल-अचल संपत्ति, और “तख्त” यानी सत्ता। इतिहास उन उदाहरणों से भी भरा हुआ है जहां तख्त के लिए पुत्र ने पिता को कारागार में डाल दिया या भाई ने भाई को मार डाला। राजा की वफादार सेना अलग होती थी और युवराज की वफादार सेना अलग, या अलग-अलग राजकुमारों की सेनाएं अलग-अलग रही हैं और उनमें युद्ध हुए हैं।

भागी हुई लड़कियां… देखें वीडियो

भागी हुई लड़कियां… स्कूल के लिए निकली थीं. फिर घर नहीं लौटीं. भाग गईं. ये किसी प्रेमी व्रेमी के चक्कर में नहीं गईं. ये अपने मन से भागीं. आजादी से सांस लेने के वास्ते भागी थीं. अपने मन से जीने के वास्ते भागीं. बाप बेवजह सख्ती करता. पढ़ने नहीं देता. बाहर नहीं निकलने देता. मन मुताबिक जीने नहीं देता. सो, तीनों एक रोज भाग गईं. ये गोवा गईं. झांसी गईं. फिर लौटकर आगरा आ गईं. लेकिन घर न गईं. एक होटल में इकट्ठे रुक गईं. जीवन पर मंथन करने लगीं. नौकरी तलाशने लगीं. एक की स्कूल में और दूसरे की मॉल में जॉब की बात तय हो गई. 

हार्ट अटैक से युवा पत्रकार का निधन

कौशाम्बी से खबर है कि अर्श न्यूज़ नेटवर्क के सह सम्पाद्क युवा पत्रकार एहसान काज़मी का हार्ट अटैक से निधन हो गया. उन्हें देर रात आया था हार्ट अटैक. घर पर वे अकेले ही थे जिसके कारण उन्हें कोई तत्काल चिकित्सकीय मदद नहीं मिली। एहसान काजमी के निधन से पत्रकारों में शोक की लहर है. …

मीडिया स्टूडेंट की गुहार-रिफरेंस और संपर्क से मीडिया संस्थानों में भर्ती बंद करें

Hello! I am a media student. After completing my college, i have come to know that media organisations only want the experience persons but we freshers wont even provide any opportunity  to prove ourselves. Some of media organizations have vacancies but they only select those people who are in their contact, who do compromize, who have references… etc. There are many other reasons too.

IRS 2017 : इंडिया टुडे अंग्रेजी और हिंदी सबसे ज्यादा बिकने वाली मैग्जीन, अंग्रेजी अखबारों में टीओआई शीर्ष पर

‘इंडियन री‍डरशिप सर्वे 2017’ के आंकड़े बताते हैं कि अंग्रेजी दैनिक अखबारों में ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ नंबर एक पर है. इसकी कुल रीडरशिप 1.3 करोड़ से ज्यादा है. ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ अंग्रेजी भाषा में दूसरा नंबर पर है. इसकी कुल रीडरशिप 68 लाख से ज्यादा है. ‘द हिन्दू’ 53 लाख से ज्यादा रीडरशिप के साथ तीसरे नंबर पर है.

क्या अमित शाह का इस्तीफा नहीं होना चाहिए?

Sanjay Kumar Singh : सीबीआई जज बीएच लोया की मौत के मामले की स्वतंत्र जांच कराने की याचिका पर जब सुनवाई हो रही है तो क्या भारतीय जनता पार्टी का यह नैतिक दायित्व नहीं है कि वह अपने अध्यक्ष अमित शाह से इस्तीफा मांग ले। जैसा कि कहा जाता है न्याय होना ही नहीं चाहिए, होता हुआ दिखना भी चाहिए। इसी तरह जनता की सेवा का दावा करने वाली पार्टी को क्या न्यूनतम आदर्शों का पालन नहीं करना चाहिए उसपर अमल करते हुए नजर भी आना चाहिए।

दैनिक जागरण ने गंगेश मिश्र को बनाया बिहार स्टेट हेड, सदगुरु शरण अवस्थी नोएडा बुलाए गए

एक बड़ी खबर दैनिक जागरण से आ रही है. बिहार के स्टेट हेड के रूप में गंगेश मिश्र की ताजपोशी की गई है. अब तक बिहार स्टेट हेड के रूप में काम देख रहे सदगुरु शरण अवस्थी को नोएडा बुला लिया गया है. गंगेश मिश्र अभी तक नोएडा में सेंट्रल डेस्क इंचार्ज के रूप में काम देख रहे थे. गंगेश मिश्र ईमानदार, विनम्र और कर्मठ पत्रकारों में शुमार किए जाते हैं.

इंडियन रीडरशिप सर्वे 2017 : देखें देश के टॉप-20 अखबार, जानें कौन किस नंबर पर है

मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल यानि एमआरयूसी ने वर्ष 2017 का रीडरशिप सर्वे जारी कर दिया है. भारत के सभी भाषाओं के अखबारों की कुल पाठक संख्या के आधार पर जो टाप ट्वेंटी की लिस्ट बनी है, उसमें नंबर एक पर दैनिक जागरण है.

‘न्यूज1इंडिया’ चैनल पर लग गया ताला

यूपी और उत्तराखंड केंद्रित न्यूज चैनल ‘न्यूज1इंडिया’ के बारे में सूचना है कि इस पर ताला लग चुका है. प्रबंधन ने सभी कर्मचारियों को आज तक की सेलरी देकर विदा कर दिया. यह चैनल टाटा स्काई पर 580 नंबर पर आता था. चैनल के कर्ताधर्ता अर्जुन रावत और प्रतीक अग्रवाल थे.

एबीपी न्यूज पांचवें नंबर पर लुढ़का, इंडिया टीवी चौथे पायदान पर पहुंचा, अंबानी का चैनल थर्ड नंबर पर

इस साल के दूसरे हफ्ते के टीआरपी के आंकड़े बताते हैं कि एबीपी न्यूज इन दिनों महापतन का शिकार हो गया है. यह चैनल कभी नंबर दो या तीन पर हुआ करता था लेकिन इस हफ्ते इसे पांचवें नंबर पर गिरकर संतोष करना पड़ रहा है. इंडिया टीवी ने थोड़ी-सी अपनी स्थिति सुधारी है और चौथे नंबर पर आ पहुंचा है. अंबानी का चैनल न्यूज एट्टीन इंडिया तीसरे नंबर पर है. नंबर एक और दो पर क्रमश: आजतक और जी न्यूज है.

हज यात्रा किसी दूसरे की मदद से करना इस्लाम के खिलाफ है

हज-यात्रा में दी जानेवाली सरकारी सहायता को खत्म करने का विरोध कुछ मुस्लिम नेता और संगठन जरुर करेंगे और यह प्रचार भी करेंगे कि आरएसएस के प्रधानमंत्री से इसके अलावा क्या उम्मीद की जा सकती है लेकिन ऐसा करना बिल्कुल गलत होगा। यह सहायता खत्म की जाए, ऐसा फैसला 2012 में सर्वोच्च न्यायालय ने किया था। यह फैसला दो जजों ने दिया था, जिसमें से एक हिंदू था और दूसरा मुसलमान!

दैनिक जागरण प्रबंधन ने अपने ब्यूरो चीफों को मृदा परीक्षण मशीन बिकवाने का टारगेट दिया

दैनिक जागरण, बनारस यूनिट से जुड़े जिलों के ब्‍यूरोचीफ परेशान हैं. उन्‍हें अपने मालिकान को पैसा कमवाने के लिए पत्रकारिता छोड़कर उस धंधे में उतरना पड़ रहा है, जो मृदा परीक्षण के नाम पर किया जा रहा है. ब्‍यूरोचीफों पर जबरिया मशीनें बिकवाने का दबाव बनाया जा रहा है. मालूम हो कि दैनिक जागरण, बनारस ने इन दिनों ”आधुनिक अन्‍नदाता महा‍भियान” चला रखा है. इस अभियान में किसानों को मृदा परीक्षण के नाम पर प्रशिक्षण देने की आड़ में दैनिक जागरण वाले लगभग 95 हजार रुपए की मृदा परीक्षण करने वाली मशीनों की बिक्री करवा रहे हैं.

दैनिक जागरण, हल्‍द्वानी के साथ डॉ. मानसी सिंह की नई पारी

डा. मानसी सिंह ने दैनिक जागरण, हल्‍द्वानी ज्‍वाइन कर लिया है. उन्‍हें सब एडिटर बनाया गया है. मानसी जनसंदेश टाइम्‍स, बनारस से इस्‍तीफा देकर यहां पहुंची हैं. जनसंदेश टाइम्‍स ज्‍वाइन करने से पहले वह लंबे समय तक दैनिक जागरण, बनारस का हिस्‍सा रही हैं. मानसी दैनिक जागरण और जनसंदेश टाइम्‍स दोनों के लिए मिर्जापुर में …

गूगल ने बदली यूट्यूब से कमाई की शर्तें, नए के साथ पुराने चैनल भी लपेटे में

यूट्यबू से ढेर सारे लोग पैसे कमा रहे हैं. लेकिन अब गूगल ने यूट्यूब पर अपना चैनल मानेटाइज करने को लेकर टर्म्स एंड कंडीशंन्स को टाइट कर दिया है.  अब वही चैनल मानेटाइज हो पाएं और मानेटाइज रह पाएंगे जो एक निश्चित सब्सक्राइबर व व्यूज हासिल करते हों. क्या है नई शर्तें, जानने के लिए …

नेतन्याहू इजरायल से ‘भाग’ कर आये हैं भारत, जानिए क्यों…

Mithilesh Priyadarshy : नेतन्याहू इजरायल से ‘भाग’ कर आये हैं. उनके अपने देश में लोग उनसे इस्तीफ़ा मांग रहे हैं. क्योंकि उनपर गैस के सबसे बड़े उत्पादक कोबी मेमोन (भारत का अम्बानी) को एक बड़े सौदे में फ़ायदा पहुँचाने का आरोप लगा है. और यह बात बड़े दिलचस्प तरीके से सामने आई है. नेतन्याहू का बेटा कोबी मेमोन के बेटे से एक वेश्या को देने वास्ते कुछ उधार माँगता है, ‘भाई, मेरे बाप ने तुम्हारे लिए 20 अरब डॉलर का सौदा करवाया है और तुम मुझे 400 शेकेल ‘पंइचा’ नहीं दे सकते?’ बस तब से बवाल कटा पड़ा है.

बेंजामिन नेतन्याहू तो इजराइल में खुद मियां फजीहत हैं

नई दिल्ली। इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू आज गुजरात में हैं। वह बुधवार की सुबह अपनी पत्नी सारा नेतन्याहू के साथ अहमदाबाद पहुंचे, जहां उनका स्वागत पीएम नरेंद्र मोदी के ने किया। नेतन्याहू का स्वागत करने के लिए मोदी उनसे पहले ही गुजरात पहुंच गए थे। दोनों का काफिला भारी सुरक्षाबलों के साथ अहमदाबाद में रोड शो करता हुआ साबरमती आश्रम पहुंचा।

जयपुर के कुछ पत्रकार आंदोलन स्थगित किए जाने से नाराज, एलएल शर्मा ने यूं दी सफाई

नमस्कार

हमें पता है कि सरकार के प्रतिनिधियों और पत्रकार संगठनों के बीच जो समझौता हुआ है उसको लेकर कई तरह की चर्चाएं होगी। इनमें कुछ नकारात्मक भी हो सकती है। जो समझौता हुआ है, उसकी प्रक्रिया लगभग 4 दिनों से जारी थी। पत्रकार संगठनों के प्रतिनिधि भी इस बात के प्रयास में थे कि पत्रकारों की इन प्रमुख मांगों पर राज्य सरकार का रुख एक बार फिर स्पष्ट हो और उनको पूरा करने की क्रियान्विति शुरू हो। 4 दिन की बातचीत के बाद शनिवार को  हम सब लोग एक नतीजे पर पहुंचे।

तो ओपी सिंह को डीजीपी बनाने में योगी सरकार को ये दिक्कत महसूस हो रही है….

अजय कुमार, लखनऊ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनहित के तमाम फैसले तो धड़ाधड़ ले रहे हैं, लेकिन जमीन पर यह फैसले उम्मीद के अनुसार फलीभूत होते नहीं दिख रहे हैं, जिसका गलत मैसेज जनता के बीच जा रहा है, तो विपक्ष को सरकार पर हमलावर होने का मौका मिल रहा है। सवाल यह उठ रहा है कि चूक कहां हो रही है?  क्या सरकारी मशीनरी योगी सरकार के मंसूबों पर पानी नहीं फेर रही है ? योगी की बार-बार की डांट-डपट के बाद भी नौकरशाही के कानों पर जूं क्यों नहीं रेंग रही है ? चर्चा यह भी है कि ब्यूरोक्रेसी के दिलो-दिमाग में यह बात घर कर गई है कि यूपी की सरकार पीएमओ से चल रही है ? सरकार के गठन के समय प्रमुख और मुख्य सचिव से लेकर अब पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति तक में जिस तरह की फजीहत योगी सरकार की हो रही है, उससे ब्यूरोक्रेसी के बीच यही मैसेज गया है कि यूपी में सभी प्रमुख पदों पर नौकरशाही की नियुक्ति में योगी नहीं, केन्द्र की मोदी सरकार की चल रही है. वह महत्वपूर्ण पदों पर अपने हिसाब से अपने पसंद के अधिकारियों का बैठा रहा है, ताकि केन्द्रीय योजनाओं को पीएम की इच्छा के अनुरूप लागू किया जा सके. 2019 के लोकसभा चुनावों को देखते हुए ऐसा आवश्यक भी बताया जा रहा है.

यूपी के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही की गिरफ्तारी और संपत्ति कुर्की के आदेश जारी

देवरिया । उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जिले के अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कसया चंद्रमोहन चतुर्वेदी ने 24 वर्ष पुराने एक वाद में अनुपस्थित चल रहे प्रदेश के कृष्रि मंत्री सूर्य प्रताप शाही के विरूद्ध मंगलवार को गिरफ्तारी वारंट जारी करते हुए उनकी संपत्ति को कुर्क करने का आदेश दिया है। आदेश तामील के लिए न्यायालय ने इस संबंध में थानाध्यक्ष कसया को नोटिस भी जारी किया है।

रिपोर्टर को गुंडा बताने वाले रिपब्लिक टीवी ने एबीपी न्यूज से मांगी माफी,

पत्रकार अर्नब गोस्वामी के रिपब्लिक टीवी चैनल ने हिंदी न्यूज चैनल एबीपी न्यूज के पत्रकार को गुंडा कहने के मामले में माफी मांगी है। इसके लिए टीवी ने फुल स्क्रीन पर चैनल का ‘माफीनामा’ ऑन एयर किया। इसमें लिखा गया कि अनजाने हुई इस गलती के लिए वह माफी मांगते हैं। ये जानकारी खुद एबीपी न्यूज ने ट्वीट पर शेयर की है। ट्वीट में लिखा गया, ‘रिपब्लिक टीवी ने एबीपी न्यूज से माफी मांगी। रिपब्लिक टीवी ने जिग्नेश मेवाणी की रैली में एबीपी न्यूज संवाददाता जैनेंद्र कुमार को गुंडा बताया था।’

जिग्‍नेश मेवाणी ने ‘रिपब्लिक टीवी’ का माइक हटवाया, नाराज पत्रकारों ने किया बहिष्‍कार

पहली बार विधायक बने दलित नेता जिग्‍नेश मेवाणी चेन्नई में टीवी पत्रकारों से उलझ गए। वे यहां कायदे-मिल्‍लत इंटरनेशनल एकेडमी ऑफ मीडिया स्‍टडीज में एक प्रेस कांफ्रेंस में बोलने वाले थे। इसमें अखबार के साथ ही टीवी पत्रकार भी आमंत्रित थे। जिग्‍नेश रिपब्लिक टीवी का माइक देखकर भड़क गए और उसे हटाने को कहा। उन्‍होंने रिपब्लिक टीवी के पत्रकार को भी बाहर जाने के लिए कहा। इससे नाराज विभिन्‍न न्‍यूज चैनलों के पत्रकारों ने एकजुट होकर जिग्नेश का ही बहिष्‍कार कर दिया और बाहर चले गए।

अपनी शामों को मीडिया के खंडहर से निकाल लाइये : रवीश कुमार

Ravish Kumar : अपनी शामों को मीडिया के खंडहर से निकाल लाइये…. 21 नवंबर को कैरवान (carvan) पत्रिका ने जज बीएच लोया की मौत पर सवाल उठाने वाली रिपोर्ट छापी थी। उसके बाद से 14 जनवरी तक इस पत्रिका ने कुल दस रिपोर्ट छापे हैं। हर रिपोर्ट में संदर्भ है, दस्तावेज़ हैं और बयान हैं। जब पहली बार जज लोया की करीबी बहन ने सवाल उठाया था और वीडियो बयान जारी किया था तब सरकार की तरफ से बहादुर बनने वाले गोदी मीडिया चुप रह गया।

आगरा में ‘अर्श’ हास्पिटल में बंधक बनाए गए गरीब मरीज को हिंदुस्तान अखबार के पत्रकारों ने मुक्त कराया

Vinod Bhardwaj : नाम डाक्टर का , पर काम शैतान का! कल ही मेरे संज्ञान में ‘अर्श’ नामक हॉस्पिटल के संचालक का ऐसा विकृत चेहरा सामने आया है , जिसने डॉक्टरी पेशे के बारे में मेरी राय और अनुभव को ‘फर्श ‘ पर ला पटका है । मैं घटनाक्रम बताता हूँ , कृपया आप सब अपनी राय भी बताएं। चार दिन पूर्व इमिलिया गांव में एक निहायत गरीब विवाहिता आग से जल गई। उसका अनपढ़ पति उसे इलाज के लिए टूंडला लाया। वहां उसे आगरा एसएन इमरजेंसी ले जाने को कहा गया। किसी ने एक एम्बुलेंस बुलाकर उन्हें आगरा के लिए बैठा दिया।

दिल्ली की केजरीवाल सरकार के इस अदभुत प्रयोग की हो रही है वाह-वाह

दूसरी सरकारें भी दिल्ली सरकार से प्रेरणा लें… दिल्ली सरकार के एक लोक-कल्याणकारी काम पर उप-राज्यपाल ने मोहर लगा दी, यह अच्छा किया। वे यदि इसमें अड़ंगा लगाए रखते तो उनकी बदनामी तो होती ही, केंद्र की भाजपा सरकार भी बुरी बनती। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने यह इतनी अच्छी योजना शुरु की हैं कि वे अन्य नेताओं की तरह कोरे भाषणबाज नहीं, बल्कि सच्चे जनसेवक सिद्ध हो रहे हैं।

सच के बजाय झूठ परोसने लगे अखबार!

डॉ. सुभाष गुप्ता

कल शाम न्यूज 24 चैनल पर घूमर पर डांस करते बच्चों पर करणी सेना के लोगों के हमले की खबर देख रहा था। खबर पूरी होते- होते मन खिन्न हो उठा। कल कुछ अखबार पढ़कर भी ऐसा ही हुआ। न्यूज चैनल और अखबार दरअसल हमारी नया जानने की मानसिक जरूरत पूरी करने का एक अहम जरिया हैं। इन्हीं के जरिये हमें ताजातरीन सूचनाएं मिलती हैं, लेकिन अब अखबार से लेकर न्यूज चैनल तक बहुत से ऐसे लोग पहुंच गए हैं, जो या तो काम के इतने दबाव में हैं कि सही और गलत का फैसला करने की स्थिति में ही नहीं बचे हैं। या फिर सही और गलत को निर्णय करना उनकी क्षमता से बाहर है। खबर को सच माना जाता है, लेकिन अब कई बार पूरी खबर पढ़ने या देखने के बाद लगता है कि ये खबर तो सच हो ही नहीं सकती। ये आंशिक सच हो सकती है या फिर निरा झूठ।

वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा के पिता डा. गिरेंद्र कुमार वर्मा का निधन

वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा के पिता डा. गिरेंद्र कुमार वर्मा का निधन हो गया. वे 84 साल के थे. वे रायपुर में प्राथमिक शाला के शिक्षक थे. वे रामकृष्ण मिशन रायपुर के पूर्व सचिव स्वामी आत्मानंद महाराज के भाई थे और मिशन के होम्योपैथिक अस्पताल को 40 साल अपनी सेवाएं देते रहे.

‘न्यूज़ वर्ल्ड’ चैनल के संपादक रिजवान अहमद ने सेलरी मांगने पर असिस्टेंट प्रोड्यूसर योगेश जाणी को पीटा

भोपाल। राजधानी भोपाल से प्रसारित होने वाले न्यूज़ वर्ल्ड चैनल में लंबे समय से आर्थिक संकट छाया हुआ है। तीन से 6 महीने में सैलरी मिलना यहां कोई नई बात नहीं है। लेकिन अब हालात ज़्यादा नाज़ुक बने हुए हैं। नौबत मारपीट तक आ पहुंची है। दूसरों को भलाई और ईमानदारी का पाठ पढ़ाने वाले न्यूज़ वर्ल्ड चैनल के संपादक रिज़वान अहमद भी खुद को अहंकार से बचा नहीं पाये। बुरे दिनों में अपने स्टाफ के साथ खड़े होने के बजाए मारपीट पर उतारू हो गए हैं।

न्यूज पोर्टल ‘द लखनऊ ट्रिब्यून’ का उद्घाटन

लखनऊ। नवाबों के शहर लखनऊ में सोमवार को मकर संक्रांति के दिन दमदार खबरों और विचारों से लैस एक नए राष्ट्रीय न्यूज पोर्टल ‘द लखनऊ ट्रिब्यून’ का शुभारंभ हुआ। इस मौके पर आईएएस राज शेखर ने फीता काटकर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इसके बाद आईपीएस आरके श्रीवास्तव ने बटन दबाकर ‘द लखनऊ ट्रिब्यून’ न्यूज पोर्टल का और पीसीएस राजेश पाण्डेय ने ई-पेपर का शुभारंभ किया।

एक्सिस बैंक का हरामीपना, काट लिया हजार रुपये

मधुसूदन शर्मा का एक्सिस बैंक में सेविंग एकाउंट है. वे सन 2006 से अपना एकाउंट आपरेट कर रहे हैं पिछले दिनों उन्होंने देखा कि अचानक उनके एकाउंट से हजार से ज्यादा रुपये बैंक वालों ने काट लिए. जब उन्होंने बैंक वालों से पूछा कि ये क्यों और कैसे काट लिया गया तो कोई कायदे का जवाब नहीं दे पा रहा. भड़ास को मधुसूदन ने अपने बैंक से काटी गई रकम का स्क्रीनशाट भेजा है, साथ ही ये संदेश भी :

सीएम-पीएम के ताज आने से ठीक पहले प्रकट हुए इस जीव ने खाकीधारियों के पसीने छुड़ाए, देखें वीडियो

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू जब ताज निहारने पहुंचने वाले थे, तभी ठीक पहले एक जीव प्रकट हो गया जिसे देख वर्दीधारियों में हड़कंप मच गया. ये जीव एक सांड़ था. सांड ताज के पूर्वी गेट पर पहुंचा. सांड देखकर सुरक्षा में लगी पुलिस के हाथ पांव फूल गए. वीवीआईपी ड्यूटी में लगे पुलिस वाले उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और इजराइल के प्रधानमंत्री के आगमन की तैयारियों को छोड़कर सांड को भगाने लगे.

दैनिक जागरण, हिमाचल प्रदेश की संपादक रचना गुप्ता लोक सेवा आयोग की सदस्य बनीं

हिमाचल प्रदेश की जयराम सरकार ने दैनिक जागरण की राज्य संपादक डॉ. रचना गुप्ता को स्टेट पब्लिक सर्विस कमीशन का सदस्य बनाया है। डॉ. रचना गुप्ता इस पद पर अगले छह वर्ष तक कार्यरत रहेंगी। इस बाबत अधिसूचना जारी हो गई है।

हल्द्वानी के इस साप्ताहिक अखबार ने जनसत्ता का पूरा का पूरा संपादकीय उड़ा लिया

पत्रकारिता में बड़े फर्जीवाड़े के संबंध में… विषय बहुत गंभीर है। उत्तराखंड के हल्द्वानी से साप्ताहिक समाचार पत्र ‘देवभूमि पोलखोल’ निकालने वाले पत्रकार गौरव गुप्ता ने प्रतिष्ठित समाचार पत्र जनसत्ता के वेब पोर्टल से संपादकीय लेकर हूबहू अपने अखबार में प्रकाशित कर दिया है। आपको जनसत्ता न्यूज पोर्टल का संपादकीय लिंक और उस पत्रकार के अपने अखबार में प्रकाशित संपादकीय का पेपर भेज रहा हूं। आप दोनों को मिलाकर देख सकते हैं कि दोनों का एक-एक शब्द कापी है।

सिर्फ राष्ट्रपति भवन में 57 सफाईकर्मी और 184 माली कार्यरत हैं

राष्ट्रपति सचिवालय द्वारा लखनऊ स्थिति एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर को दी गयी सूचना के अनुसार राष्ट्रपति भवन के रखरखाव के लिए कुल 540 कर्मचारी नियुक्त हैं. नूतन ने राष्ट्रपति कार्यालय के घरेलू कामकाज में लगे लोगों की संख्या तथा उसमे आने वाले खर्च की जानकारी मांगी थी. दी गयी सूचना के अनुसार इनमे 2 चीफ कुक, 1 चीफ बेकर तथा 1 हेड हलुवाई सहित 28 रसोईया, 04 हेड बटलर सहित 32 बटलर तथा 10  मसालची शामिल हैं. 1 हेड धोबी सहित 19 धोबी के अलावा 1 टेनिस कोच तथा 2 स्क्वाश कोच भी राष्ट्रपति भवन में कार्यरत हैं. यहाँ 37 ड्राईवर, 184  माली तथा 57 सफाईकर्मी काम करते हैं. इसके अलावा 4 आर्टिस्ट, 13 म्यूजियम सहायक तथा 2 ट्रेक्टर ड्राईवर भी हैं. इन सभी कर्मियों पर अक्टूबर 2017 में कुल 1.34  करोड़ रूपये का खर्च आया था.

तनख्वाह मांगने पर थप्पड़ मारने वाले एडिटर इन चीफ को सबक सिखाया जाना चाहिए

Dinesh Shukla : घोर आपत्तिजनक… एक न्यूज़ चैनल के एडिटर इन चीफ ने अपने मातहत मीडियाकर्मी पर हाथ उठाया.. सूत्रों ने बताया कि उस कर्मचारी का सिर्फ इतना सा कसूर था कि उसने पिछले चार माह से नहीं मिले वेतन के बारे में बात की थी… यह किस तरह की पत्रकारिता हो रही है… यह असहनीय है… मेरी उस कर्मचारी के साथ संवेदनाएं हैं… अगर मीडियाकर्मी सामने आकर मदद की बात करता है तो हम उसके साथ हैं… घोर असहनीय, आपत्तिजनक और निंदनीय …

वरिष्ठ पत्रकार डा. एनके त्रिखा का निधन

IFWJ Mourns Death of Veteran Journalist Dr. N.K. Trikha… Indian Federation of Working Journalists (IFWJ) has deeply mourned the death of Dr. N.K. Trikha, an eminent journalist and very sensible trade union leader of media persons. Besides being a serious and well read journalist, he was an excellent media educator. Scores of journalists working for many media organisations have been trained by Dr. Trikha. He was a member of the Press Council of India and the President of the ‘National Union of Journalists’ (India).

अमित शाह का केस लड़ ने वाला वकील सुप्रीम कोर्ट में जज बना, जिस जज ने शाह को बरी किया वह राज्यपाल बन गया

भारत में न्यायपालिका को लेकर बहस जारी है. सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने जो विद्रोह कर सुप्रीम कोर्ट के भीतर सब कुछ ठीक न चलने की जो बात कही है, उसके दूरगामी मायने निकाले जा रहे हैं. इसी दौर में कुछ लोगों ने कुछ घटनाओं की तरफ ध्यान दिलाया. जैसे अमित शाह का जो केस एक वकील लड़ रहा था, उसे सुप्रीम कोर्ट में जज बना दिया गया. सुप्रीम कोर्ट के जिस जज ने अमित शाह को बाइज्जत बरी किया, उसे रिटायरमेंट के बाद राज्यपाल बना दिया गया.

Strontium Carb यानि होमियोपैथी की एक रामबाण दवा…

For post operative anomalies Arnica Mont and Staphysagria are good enough but when there are multiple operations Strontium carb is the best. Suffering from long lasting diseases toxemia of brain may persist for some extent, for that Sulphur 1m and Strontium carb 200 have worked magically.

Tinnitus यानि कान बजने का होमियोपैथी में ये है इलाज

Today, I read a news at a internet news portal that Homeopathy failed to prove its value in all the cases of Tinnitus had taken part in a survey oriented program. And like it slowly slowly Homeopathy  will be  disqualified as a medicine from the world. We Homeopaths  will be lived alone with rubbing our hands. Friends, you should come forward with proves of cures done by Homeopathy in your hand.