अडानी हार गया ‘ईपीडब्ल्यू’ और ‘द वायर’ के खिलाफ अवमानना का केस

अडानी ग्रुप के घपलों-घोटालों के खिलाफ इकानामिक एंड पोलिटिकल वीकली (ईपीडब्ल्यू) ने खबर छापी थी. इसी खबर के आधार पर द वायर ने भी एक खबर प्रकाशित की. ये खबर जाने माने पत्रकार परंजॉय गुहा ठाकुरता ने लिखी थी. साथ ही इसे तीन अन्य पत्रकारों ने भी लिखा. इससे नाराज अडानी समूह ने सभी पत्रकारों …

बड़े मीडिया हाउसों के पास है बड़े कारपोरेट घरानों का निवेश और सरकार का समर्थन : सिद्धार्थ वरदराजन

DUJ SEMINAR ON ‘DEMOCRACY IN DANGER : UNETHICAL REPORTING / ATTACKS ON INDEPENDENT JOURNALISM AND JOURNALISTS’

In a sharp counter to the BJP Sangh Parivar’s campaign, Kerala Chief Minister Pinarayi Vijayan said the state has been targeted as it champions the values of secularism, socialism and democracy. He was speaking at a function organized by the Delhi Union of Journalists in the national capital on ‘Democracy in Danger : Unethical Reporting/ Attacks on Independent Journalism and Journalists’ on 15 October at Kerala House. The Chief Minister said slogans like ‘Love Jehad’ have been used to disrupt the state’s centuries old communal harmony but the RSS will not succeed in its game plan. He slammed several media houses for ferociously targeting Kerala and congratulated those journalists who are standing up for the truth despite pressure from employers.

‘रविवार’ के संपादक एसपी सिंह और रिपोर्टर शैलेश यूं निकल पाए थे दबंग मंत्री के आपराधिक मानहानि के मुकदमे से!

Dayanand Pandey : अमित शाह के बेटे जय शाह पर आरोप सही है या गलत यह तो समय और अदालत को तय करना है। पर इन दिनों बरास्ता द वायर एंड सिद्धार्थ वरदराजन, रोहिणी सिंह सौ करोड़ के मानहानि के मुकदमे के बाबत हर कोई पान कूंच कर थूक रहा है, आग मूत रहा है। लेकिन आज आप को एक आपराधिक मानहानि के मुकदमे का दिलचस्प वाकया बताता हूं। अस्सी के दशक के उत्तरार्द्ध की बात है। अमृत प्रभात, लखनऊ में एक रिपोर्टर थे शैलेश। कोलकाता से प्रकाशित रविवार में उत्तर प्रदेश के ताकतवर और दबंग वन मंत्री अजित प्रताप सिंह के ख़िलाफ़ एक रिपोर्ट लिखी शैलेश ने।

‘द वायर’ की रिपोर्टर रोहिणी सिंह ने पक्ष जानना चाहा तो जय शाह के वकील माणिक डोगरा ने ये भेजा जवाब….

Anil Singh : भयावह है सच को दबाने की धमकी.. ‘द वायर’ की रिपोर्टर रोहिणी सिंह ने अपनी खबर पर जय शाह का पक्ष जानना चाहा तो उनके वकील माणिक डोगरा ने लिखा…

If you or anyone in the print, electronic or digital media carries and/or broadcasts any defamatory and/or false imputations including those which breach his fundamental right of privacy and/or defame him, Mr. Jay Shah reserves the right to prosecute and sue such person/entity including anyone who carries or broadcasts a repetition of such libelous / defamatory statement.

क्या अब एबीपी न्यूज़ और एनडीटीवी पर भी मानहानि का मुकदमा ठोंका जाएगा?