आज पहली अप्रैल फूल्स-डे पर (कपिल) ‘सिब्बल्स-डे’ का आयोजन

: राजघाट, सुबह 11 से शाम 5 बजे : इंटरनेट सेंसरशिप के खिलाफ हमारे अभियान के तहत इस रविवार 1 अप्रैल को राजघाट पर सूचना प्रसारण मंत्री कपिल सिब्बल के साथ हम सिब्बल्स डे मना रहे हैं. पिछले एक साल में मंत्री महोदय के प्री-सेंसरशिप पर दिये गए बयान सारी दुनिया में हंसी का विषय बन गए. आईटी एक्ट में 2011 में किये गए संशोधनों के बाद दुनिया के बीच भारत की छवि एक डेमोक्रेटिक देश की न होकर तानाशाह की हो गई है और इसके जिम्मेदार कोई और नहीं बल्कि माननीय कपिल सिब्बल जी ही हैं. यह हम नहीं जर्नलिस्ट्स के अंतर्राष्ट्रीय संगठन ‘रिपोर्टर्स विदाउट बार्डर्स’ का कहना है. संगठन ने हाल ही में दुनिया भर के उन देशों की सूची तैयार की थी जहां इंटरनेट पर सेंसरशिप लगाई गई है और भारत को ‘एनिमीज आफ द इंटरनेट’ की लिस्ट में आब्जर्वेशन के लिए रखा गया.

मीडिया में एससी, एसटी का प्रतिनिधित्व हो : प्रो. जेफरी

नई दिल्ली। मीडिया मामलों के प्रमुख हस्ती प्रोफेसर राबिन जेफरी ने कहा कि भारतीय मीडिया में अनुसूचित जाति और अनुसूचिज जनजाति के लोगों का प्रतिनिधित्व दिये जाने की जरूरत है। जेफरी ने कहा कि प्रसारण स्टूडियो में इन वर्गों का प्रतिनिधित्व कम है। उन्होंने कहा कि लम्बे समय से दलित और आदिवासी मुख्यधारा से कटे …

मतदान की रिपोटिंग में ट्विटर और फेसबुक की मदद लेंगे म्यांमार के पत्रकार

यांगून। म्यांमाक के पत्रकार होने वाले उपचुनावों में प्रेस पर लगी पाबंदी को मात देते हुए ‘ब्रेकिंग न्यूज’ के लिए ट्विटर और फेसबुक की मदद लेंगे। कुछ पत्रकारों के लिए कल के उपचुनाव उनके करियर के लिए सबसे बड़ी खबर होगी। म्यांमार में लंबे समय से मीडिया पर जारी सेंसरशिप के कारण मीडियाकर्मियों के लिए …

जय प्रकाश नारायण के अनछुए पहलुओं पर नई किताब

नई दिल्ली। भारतीय इतिहास के विख्यात पुरूष जय प्रकाश नारायण के जीवन के कई अनछुए पहलुओं को नयी किताब ''जेपी-जैसा मैंने देखा'' में उजागर किया गया है। अमलेश राजू द्वारा संपादित इस पुस्तक में 53 व्यक्तियों ने अपने विचार व्यक्त किये हैं। इनमें से कई व्यक्ति आज हमारे बीच नहीं हैं। डायमंड प्रकाशन द्वारा प्रकाशित …

प्रतापगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार उमेश श्रीवास्तव नहीं रहे

प्रतापगढ़। जिले के वरिष्ठ पत्रकार एवं अधिवक्ता उमेश श्रीवास्तव का संक्षिप्त बीमारी के बाद आज यहां निधन हो गया। वे 62 वर्ष के थे। उमेश श्रीवास्तव काफी समय पीटीआई न्यूज एजेंसी में अंशकालिक पत्रकार के रुप में कार्यरत थे और पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। उनके निधन पर प्रतापगढ़ में पत्रकार कल्याण …

मुझे खुदकुशी के लिए मजबूर नहीं करो : काजमी

नई दिल्ली। दिल्ली में इस्राइली दूतावास की कार पर हुए बम हमले के आरोप में गिरफ्तार किए गए पत्रकार सैयद मोहम्मद अहमद काजमी ने आज जमानत की गुहार लगाते हुए कहा कि उन्हें खुदकुशी के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट विनोद यादव के समक्ष काजमी के वकील गजिंदर कुमार ने कहा, ‘‘काजमी को उस स्थिति में जाने के लिए विवश नहीं करना चाहिए कि वह खुदकुशी कर लें।’’

अमर उजाला से चेतन गुरुंग का इस्‍तीफा

अमर उजाला, देहरादून में वरिष्‍ठ पर पर कार्यरत रहे पत्रकार चेतन गुरुंग ने अमर उजाला से इस्‍तीफा दे दिया है. चेतन के खिलाफ भ्रष्‍टाचार की शिकायतों की जांच चल रही थी. बताया जा रहा है कि उनका तबादला भी देहरादून से बाहर कर दिया गया था. चेतन ने अपनी नई पारी की शुरुआत देहरादून में …

नीतीश सरकार से घबराए पत्रकार कल होटल पाटलीपुत्र अशोक पहुंचे

: बिहार में प्रेस काउंसिल की टीम शुरू करेगी जांच : बिहार में अघोषित रूप से प्रेस की स्‍वतंत्रता पर सेंसरशिप लागू होने के आरोपों के बीच प्रेस काउंसिल के अध्‍यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू द्वारा गठित तीन सदस्‍यीय समिति 1 अप्रैल यानी कल से इस मामले में अपनी जांच शुरू करेगी. अपना बयान दर्ज कराने वाले पत्रकार राजीव रंजन नाग की अध्‍यक्षता वाली समिति से पटना के होटल पाटलीपुत्र अशोक में मुलाकात कर सकते हैं. तीन सदस्‍यी समिति में नाग के अलावा अरुण कुमार और कल्‍याण बरुआ शामिल हैं.

होशंगाबाद में गुलाब कोठारी, निहार कोठारी, भुवनेश जैन समेत सात के विरुद्ध मुकदमा

मध्‍य प्रदेश में पत्रिका के सात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है. होशंगाबाद मुख्‍य न्‍यायिक दंडाधिकारी के न्‍यायालय में अखबार के प्रधान संपादक समेत सात लोगों के खिलाफ आईपीसी की धारा 500 तथा 501 के तहत मुकदमा दर्ज हुआ है. होशंगाबाद के डा. पीसी करुण ने न्‍यायालय में परिवाद दायर किया है कि अखबार ने उनके खिलाफ जानबूझकर गलत तथा छवि धूमिल करने वाली खबरें छापी.

अमर उजाला, जम्‍मू के जीएम बने राजीव श्रीवास्‍तव, पुष्‍पेंद्र एवं विशाल का तबादला

अमर उजाला, बनारस से खबर है कि राजीव श्रीवास्‍तव का तबादला जम्‍मू के लिए कर दिया गया है. वे यहां पर विज्ञापन मैनेजर थे. मूल रूप से  आजमगढ़ के रहने वाले राजीव को जम्‍मू में जीएम बनाकर भेजा गया है. वे काफी समय से अमर उजाला से जुड़े हुए थे. मृदुभाषी राजीव का लम्‍बा समय कानपुर में बीता है. 

अमर उजाला में कई यूनिटों के जीएम बदले गए

अमर उजाला में कई यूनिटों के हेडों का तबादला कर दिया है. ये तबादले कुछ दिन पहले किए गए हैं परन्‍तु ये लोग अब अपना पदभार संभाल रहे हैं. अमर उजाला, बनारस के जीएम मनीष तिवारी का तबादला मेरठ यूनिट के लिए कर दिया गया है. मेरठ में जीएम रहे भवानी शर्मा को कानपुर भेज दिया गया है. कानपुर के जीएम रहे भूपेंद्र दुबे को प्रमोट करके कलस्‍टर हेड बना दिया गया है.

फर्जी कार्ड पर यात्रा मामला : कई और पत्रकार संदेह के घेरे में

लखनऊ। फर्जी मान्यता प्राप्त पत्रकार का प्रेसकार्ड बना कर रेलवे की आंखों में धूल झोंकने वाले चारों पत्रकार अब अपने ही बुने हुए जाल में बुरी तरह फंस गये है। उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल प्रशासन ने बुधवार को फर्जी पत्रकारों पर और शिंकजा कस दिया है। सूचना विभाग की रिपोर्ट मिलने के बाद रेलवे की ओर से चारों के खिलाफ जीआरपी चारबाग में धोखाधड़ी व फर्जी कागजातों से लाभ प्राप्त करने के मामले में नामजद प्राथमिकी दर्ज करायी है। इस रैकेट में शामिल दर्जनों पत्रकार संदेहे के घेर में आ गये है। इसको लेकर रेलवे ने चारबाग रेलवे स्टेशन से जारी किये गये ‘संवाददाता कार्ड’ की जांच-पड़ताल शुरू करा दी है।

चार फर्जी पत्रकारों ने रेलवे को लगाई लाखों की चपत

लखनऊ। ट्रेनों में आधे किराये में सफर करने का जालसाजों ने नया तरीका खोज निकाला है। रेलवे के जारी ‘संवाददाता कार्ड’ पर फर्जी पत्रकारों ने लाखों रुपये की रेल यात्रा कर ली है। इसका खुलासा उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल प्रशासन ने चारबाग रेलवे स्टेशन पर किया है। यहां से जारी किये संवाददाता कार्ड में जो मान्यता प्राप्त पत्रकार का परिचय पत्र लगाया गया है, वह फर्जी पाया गया है। यह फर्जीवाड़ा कब से चल रहा है और रेलवे को कितनी आर्थिक क्षति हुई है, इसकी जांच के आदेश दिये हैं।

अमर उजाला से सूर्यकांत द्विवेदी का इस्‍तीफा, हिंदुस्‍तान, मेरठ का संपादक बनने की चर्चा

अमर उजाला से खबर है कि सीनियर जर्नलिस्‍ट सूर्यकांत द्विवेदी ने इस्‍तीफा दे दिया है. सूर्यकांत नोएडा ऑफिस में कार्यरत थे. सूर्यकांत लम्‍बे समय तक अमर उजाला, मेरठ के संपादक भी रह चुके थे. पिछले साल हुए कई संपादकों के बदलाव में उन्‍हें नोएडा में कॉरपोरेट ऑफिस से अटैच कर दिया गया था, जबकि उनकी जगह शंभूनाथ शुक्‍ल को मेरठ का संपादक बना दिया गया था. सूर्यकांत लम्‍बे समय से पत्रकारिता में सक्रिय रहे हैं.

टीवी9 की प्रीति सोमपुरा को मिला एनटी अवार्ड

टीवी9 के एसोसिएट एडिटर प्रीति सोमपुरा को प्रतिष्ठित एनटी अवार्ड से सम्‍मानित किया गया है. प्रीति को यह अवार्ड बेस्‍ट इनवेस्‍टीगेटिव फीचर स्‍टोरी की श्रेणी में दिया गया है. उनको यह अवार्ड आफ‍ाग‍ानिस्‍तान पर बनाई गई स्‍टोरी – अफीम, आफगान और तालिबान के लिए दिया गया है. पिछले साल सितम्‍बर महीने में प्रीति आफगानिस्‍तान गई थीं. आफगानिस्‍तान जाकर रिपोर्टिंग करने वाली वे पश्चिम भारत की पहली महिला टेलीविजन पत्रकार हैं.

दैनिक जागरण में कई वरिष्‍ठों का तबादला

दैनिक जागरण में कई फेरबदल हुए हैं. लखनऊ तथा कानुपर से कुछ लोगों को इधर उधर किया गया है. बताया जा रहा है कि आज प्रबंधन की कानपुर में मीटिंग होने वाली है, जिसमें कुछ और तबादले संभावित हैं. साथ ही तबादले की जद में आए लोगों को लेटर भी पकड़ाया जा सकता है. बताया जा रहा है कि कानपुर में डीएनई जितेंद्र त्रिपाठी, जो आउटपुट की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे उन्‍हें नोएडा भेजा जा रहा है. वहीं इनपुट हेड के रूप में जिम्‍मेदारी संभाल रहे संजीव मिश्र को लखनऊ भेजे जाने की संभावना है. हालांकि संजीव ने इस तरह की कोई जानकारी होने से इनकार किया है.

अमर उजाला के कई संपादक होंगे इधर से उधर

अमर उजाला में बड़े पैमाने पर संपादकों के तबादला होने की संभावना है. इस फेरबदल में कई संपादकों के इधर उधर होने की संभावना है. जिन यूनिटों के संपादकों का तबादला होना तय माना जा रहा है उसमें कानपुर, मरेठ, बरेली, बनारस और इलाहाबाद यूनिट शामिल हैं. खबर है कि प्रबंधन इन यूनिटों के संपादकों को नोएडा तलब किया है तथा उनसे बातचीत कर रहा है. समझा जा रहा है कि 2 अप्रैल तक संपादकों के तबादला की लिस्‍ट जारी हो जाएगी.

काटजू कहिन : CREATING A FRANKENSTEIN

I had been keeping silent throughout the Anna Hazare Movement for creating a Lokpal (Janlokpal) because the media (particularly electronic media) had so much hyped the issue and generated such an emotional storm that anyone who would have raised some logical questions would have immediately been branded as a ‘deshdrohi’ or ‘gaddar’. Anna Hazare was depicted as a modern messiah, who, like Moses, had come to rescue his chosen people and lead them to a land of honey and milk.

13 अप्रैल को लांच होगा दैनिक ‘भास्‍कर भूमि’

राजनंदगांव : शहर में शीघ्र ही रंगीन दैनिक अखबार "भास्कर भूमि "का प्रकाशन होने जा रहा है. इस समाचार पत्र में नगर के वरिष्ट पत्रकारों के जुड़ जाने से मीडिया जगत में हलचल मच गयी है. यहाँ तक कि ६० साल पुराने एक अखबार के संपादक को पत्रकारों एवं कर्मचारियों का वेतन दुगना करना पड़ा. इस अखबार का परिचय अंक २३ मार्च को निकला. बाज़ार में इसकी प्रतियाँ पहुंचते ही हलचल मच गयी.

शेहला मसूद हत्‍याकांड : डेंजर की पत्‍नी ने सीबीआई पर लगाया प्रताड़ना का आरोप

: ताबिश गुनाह कबूलना चाहता है : इंदौर। चर्चित शेहला मसूद हत्याकांड में आरोपी साकिब अली उर्फ डेंजर की पत्नी ने सीबीआई पर आरोप लगाया है कि वह उसके परिवार को प्रताड़ित कर रही है और उन्हें झूठे इल्जाम में फंसाने की धमकी दे रही है जिस पर सीबीआई से जवाब तलब किया गया है। वहीं सीबीआई ने जेल जाकर तीन आरोपियों के आवाज के नमूने ले लिए है जिन्हें मिलान के लिए प्रयोगशाला में भेजा गया है। जबकि शुक्रवार को एक अन्य शूटर ताबिश खान ने कहा कि वह अपना गुनाह कबूलना चाहता है। इससे पहले मुख्य शूटर इरफान ने सीआरपीसी की धारा 164 के तहत बंद कमरे में बयान दर्ज कराएं थे।

भूपेंद्र सिंह हुड्डा कल करेंगे एनसीआर लुक की लांचिंग

हरियाणा के पलवल जिले से एक नई मैगजीन लांच होने जा रही है. इस मासिक मैगजीन की लांचिंग एक अप्रैल को हरियाणा में मुख्‍यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा करेंगे. एनसीआर लुक नामक इस मैगजीन के संपादक रामवीर सिंह हैं. इनपुट हेड उदय शंकर खावरे को बनाया गया है. फीचर हेड शिखा शर्मा हैं जबकि बिजनेस की जिम्‍मेदारी दीपक सिंह देखेंगे. मैगजीन को जल्‍द ही  बड़े पैमाने पर विस्‍तारित किए जाने की योजना है.

ईटीवी उत्‍तराखंड के ब्‍यूरोचीफ बने मनीष, सलीम की नई पारी

ईटीवी प्रबंधन ने आगरा के ब्‍यूरो चीफ मनीष कुमार को अहम जिम्‍मेदारी सौंपी है। मनीष को अस्‍थाई रूप से उत्‍तराखंड राज्‍य के ब्‍यूरो चीफ का अतिरिक्‍त प्रभार दिया गया है। उन्‍हें पिछले सप्‍ताह ही देहरादून भेजा गया है। उत्‍तराखंड में राजनीतिक सरगर्मी लगातार बनी हुई है, जिसमें ईटीवी प्रबंधन को अपने यूपी-उत्‍तराखंड चैनल के लिए तेजतर्रार पत्रकार की जरूरत थी, इसे देखते हुए मनीष को वहां भेजा गया है। इससे पहले भी मनीष को आगरा आपात स्थिति में भेजा गया था, जहां से पिछले चार सालों से अपनी जिम्‍मेदारी निभा रहे हैं। आगरा से पहले वे फैजाबाद में थे।

जिन अमर उजालाइटों को लखनऊ जाना है आवेदन करें

अमर उजाला, लखनऊ में पत्रकारों का टोटा पड़ा हुआ है. पत्रकारों का अभाव अखबार के सेहत पर प्रभाव डाल रहा है. आंतरिक विवादों, तनाव के माहौल के चलते पिछले कुछ समय में कई पत्रकार दूसरे संस्‍थानों में चले गए या फिर अपना तबादला करवा लिया, जबकि खाली हुए स्‍थानों को भरने में उतनी तत्‍परता नहीं दिखाई गई. स्‍थानीय संपादक के व्‍यवहार को जानते सुनते हुए दूसरे संस्‍थानों के पत्रकारों ने भी अमर उजाला से जुड़ने में दिलचस्‍पी नहीं दिखाई.

पत्रकार काजमी ने कोर्ट में अर्जी देकर मांगी जमानत

नई दिल्ली : इजरायली राजनयिक की कार में बम विस्फोट मामले में गिरफ्तार पत्रकार मोहम्मद अहमद काजमी ने तीसहजारी कोर्ट में शुक्रवार को अपनी जमानत अर्जी दायर की है, जिस पर अदालत शनिवार यानी आज सुनवाई करेगी। काजमी ने अर्जी में कहा है कि उनकी पुलिस हिरासत 27 मार्च तक थी, पर पुलिस ने अपनी जांच पूरी होने की बात कहकर 23 मार्च को ही उन्‍हें कोर्ट में पेश कर दिया, जिसके बाद से वे न्‍यायिक हिरासत में तिहाड़ जेल में हैं, इसलिए उनका जमानत मंजूर किया जाए।

खनन माफियाओं ने पत्रकार पर किया जानलेवा हमला

राजस्थान के टोंक जिले के निवाई क्षेत्र में वनकर्मियों की मिलीभगत से धड़ल्ले से हो रहे अवैध खनन की गत दिनों पंजाब केसरी सहित अन्य समाचार पत्रों में छपी खबरों की जांच करने शुक्रवार को आए विभागीय अधिकारियों की मौजूदगी में 20-25 खनन माफियाओं ने पंजाब केसरी पत्रकार निर्भयराम मीणा पर जानलेवा हमला कर दिया, जिससे यह पत्रकार गंभीर रुप से घायल हो गया। हमलावारों ने पत्रकार का फोटो कैमरा भी तोड़ दिया तथा उसकी जेब में रखे 14 हजार रुपए भी छीनकर ले गए।

दैनिक जागरण, बनारस के प्रभारी राघवेंद्र चड्ढा पर गिरी गाज

: आशुतोष शुक्‍ला नए प्रभारी बनाए गए : दैनिक जागरण, बनारस से खबर है कि संपादकीय प्रभारी के रूप में लंबे समय से कार्यरत राघवेंद्र चड्ढा का तबादला कानपुर यूनिट के लिए कर दिया गया है. राघवेंद्र पर पिछले दिनों एनएचआरएम घोटाले में शामिल अपने परिजनों को संरक्षण देने का आरोप लगा था. कानपुर में राघवेंद्र की हैसियत क्या होगी, यह स्पष्ट नहीं हो पाया है पर सूत्रों का कहना है कि राघवेंद्र को वहां पनिशमेंट पोस्टिंग के बतौर भेजा जा रहा है. यह भी स्पष्ट नहीं है कि राघवेंद्र कानपुर जाएंगे या नहीं क्योंकि उनका सारा साम्राज्य बनारस और आसपास के जिलों में केंद्रित है.

उपेंद्र राय के आते ही सहारा में कई संपादक और यूनिट हेड बदले

हालांकि इन बदलावों के लिए जो पत्र जारी हुआ है उस पर हस्ताक्षर स्वतंत्र मिश्रा के हैं लेकिन माना यही जा रहा है कि यह सब कुछ उपेंद्र राय के इशारे पर किया गया है. सबसे बड़ा फेरबदल लखनऊ में हुआ है जहां रेजीडेंट एडिटर के पद पर अनिल कुमार पांडेय को बिठा दिया गया है. पांडेय जी काफी पहले से सहारा की सेवा में हैं. लखनऊ वाले मनोज तोमर को अब बनारस का संपादक बनाया गया है और बनारस दो दिन पहले संपादक बनाकर भेजे गए दयाशंकर राय को नोएडा भेजा गया है, हिंदी डिपार्टमेंट का एडिटोरियल हेड बनाकर.

डीआईजी साहब, एटूजेड चैनल का पूर्व सेल्‍स हेड मुझे फंसाने की धमकी दे रहा है

सेवा में, डीआईजी/एसएसपी लखनऊ, उत्‍तर प्रदेश। महोदय, मैं सतीश आर्य, एटूजेड न्‍यूज चैनल में सीतापुर जिले का संवाददाता हूँ और ग्राम गोडापुरवा थाना हरगांव जिला सीतापुर का निवासी हूं। गत १२ मार्च २०१२ को, खुद को ए2जेड न्‍यूज चैनल चैनल उत्‍तर प्रदेश का सेल्‍स हेड बताने वाले धनंजय सिंह का मेल मेरी ई मेल luvisgodsatish.0327@gmail पर आया, जिसमें उन्होंने मुझे टर्मिनेट करने की धमकी देते हुये लखनऊ कार्यालय (401 पिंकी अर्पाटमेन्‍ट, 4 तल लखनऊ) बुलाया।

श्रवणजी, अब आपसे सीखने को और ज्‍यादा मिलेगा

श्रवण गर्ग जी से कभी मिलना नहीं हुआ, केवल उनका लिखा हुआ पढ़ता रहा हूँ. और आज जब उनके भास्कर परिवार से जाने का पता लगा तो निराशा हुई. नई दुनिया का सिमटना, भास्कर से श्रवण जी का जाना, किस ओर संकेत करते हैं और इन तथ्यों का विश्लेषण क्या दिशा दिखा रहा है? हरियाणा की राजनीति के गढ़ नरवाना में जब भास्कर में करियर शुरू करने का मौका मिला तो लगता था कि ब्यूरो चीफ अमरजीत मधोक जी ही सख्त है, जागरण वाले प्रेस रिलीज पर भी बायलाइन देते हैं तो भास्कर में उस स्टोरी पर भी नाम नहीं आता जिस की सारा जिला तारीफ करता था, लेकिन भास्कर ने जो सिखाया, कहीं और, शायद ही सीख सकता था.

सपा विधायक आबिद रजा का अखबार है हिंदुस्‍तान!

कलमकार कुछ भी कर सकता है, इसीलिए कलमकार को महान कहा जाता है। कलम सकारात्मक चल जाये तो कलमकार की महानता के किस्से सदियों तक याद किये जाते हैं और अगर वही कलम नकारात्मक चल जाये तो घनघोर निंदा भी सहनी पड़ जाती है, जो भी हो, पर एक कलमकार को दाद तो देनी ही पड़ेगी, क्योंकि अपने स्वार्थ के अनुसार शब्दों का चुनाव कर के वरिष्ठों से खबर प्रकाशित करा लेना बहुत बड़ी बात है।

पिंकसिटी प्रेस क्‍लब के अध्‍यक्ष बने किशोर शर्मा, राधारमण महासचिव

पिंकसिटी प्रेस क्‍लब, जयपुर के लिए हुए चुनाव में किशोर शर्मा अध्‍यक्ष निर्वाचित हुए हैं. किशोर ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी को 74 मतों के अंतर से हराया. किशोर इसके पहले एक बार प्रेस क्‍लब के महासचिव भी रह चुके हैं. राधारमण महासचिव चुने गए हैं. राधारमण अभी तक प्रेस क्‍लब के उपाध्‍यक्ष थे. विकास शर्मा और भगीरथ को क्‍लब का उपाध्‍यक्ष चुना गया है. रोशन शर्मा कोषाध्‍यक्ष चयनित हुए हैं. रोशन इसके पहले भी एक बार कोषाध्‍यक्ष रह चुके हैं.

मां को अपमानित करने वाले आईपीएस रवि कुमार लोकू को प्रमोशन

मायावती के शासनकाल में तत्कालीन डीजीपी बृजलाल और गाजीपुर के एसपी के रूप में पदस्थ रवि कुमार लोकू तक गुहार लगाई गई कि मेरी मां को गाजीपुर में नंदगंज थाने की पुलिस ने बिना किसी कारण थाने में बिठा रखा है, उन्हें छुड़वाया जाए, पर किसी ने कुछ भी सुनने से इनकार कर दिया. लखनऊ के पत्रकारों ने बृजलाल को फोन किया, एसएमएस भेजे, पर बृजलाल कान में तेल डाले बैठे रहे. रवि कुमार लोकू को गाजीपुर के पत्रकारों ने कहा लेकिन इस शख्स ने भी नहीं सुना, अपनी अंकड़ में अंकड़ा रहा. शायद इन दोनों की मां या पत्नियां थाने में नहीं बिठाई गई थीं, इसलिए ये दोनों निश्चिंत-निर्विकार बने रहे.

नकल कवर करने गए टीवी जर्नलिस्टों पर छात्रों ने कर दिया हमला

मुरादाबाद से खबर है कि परीक्षा केंद्र पर खबर के संकलन के लिए गये पत्रकारों पर जानलेवा हमला किया गया. जानकारी के अनुसार बृहस्पतिवार को मुरादाबाद के पत्रकारों को सूचना मिली कि डिलारी थाना क्षेत्र के सहसपूरी में किसान शिक्षा निकेतन इंटर कालेज में इंटरमीडिएट की परीक्षा के दौरान नकल कराई जा रही है. इस पर स्कूल की तरफ चल पड़े मुरादाबाद के ईटीवी पत्रकार भुवन चन्द्र और रफ़्तार चैनल के आलोक कुमार.

श्रवण गर्ग का जाना दैनिक भास्कर को महंगा पड़ेगा

दैनिक भास्कर के लिए ब्रांड अंबेसडर बन चुके थे श्रवण गर्ग. न्यूज चैनलों पर, सेमिनारों में, छात्रों के बीच श्रवण गर्ग जब होते हैं तो वे दैनिक भास्कर के ग्रुप एडिटर के रूप में जाने जाते हैं. और, इस पहचान के कारण दैनिक भास्कर की अरबों-खरबों की ब्रांडिंग फ्री में होती थी. वे दैनिक भास्कर के समूह संपादक बने रहते या संपादकीय निदेशक बना दिए जाते और केवल यही काम करते (चैनलों, सभाओं, सेमिनारों आदि में शिरकत करना) तो दैनिक भास्कर के लिए काफी फायदेमंद रहता.

समूह संपादक श्रवण गर्ग का दैनिक भास्कर समूह से इस्तीफा

कई दशक तक दैनिक भास्कर के पर्याय बने रहे श्रवण गर्ग का भास्कर समूह से रिश्ता खत्म होने जा रहा है. 31 मार्च यानि कल श्रवण गर्ग का दैनिक भास्कर में आखिरी दिन होगा. काफी समय से श्रवण गर्ग के दैनिक भास्कर से रिटायरमेंट या इस्तीफे की चर्चा फैली हुई थी लेकिन इसकी पुष्टि कोई नहीं कर पा रहा था. लेकिन अब दैनिक भास्कर से अपने इस्तीफे की पुष्टि खुद श्रवण गर्ग ने कर दी है.

पीके शाही ने किया सुबोध के ‘बिहार के मेले’ का विमोचन

युवा पत्रकार व लेखकर सुबोध कुमार नंदन की दूसरी पु‍स्‍तक 'बिहार के मेले' का विमोचन सूबे के शिक्षा मंत्री पीके शाही व ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव ने पटना पुस्‍तक मेले में किया. इस मौके पर शिक्षा मंत्री पीके शाही ने कहा कि यह पुस्‍तक खासकर हमारी युवा पीढ़ी के लिए उपयोगी साबित होगी. क्‍योंकि सूबे के कई लोकप्रिय और प्राचीन मेलों का अस्तित्‍व समाप्‍त हो चुका है. वैसी स्थिति में उन मेलों की जानकारी उपलब्‍ध हो रही है तो यह काफी सराहनीय कार्य है.

एक जल रहा, दो बुझा रहे, तेरह फोटो खींच रहे… मनुवादी मीडिया का विरोध करो

Aftab Fazil : जंतर मंतर पर एक तिब्बती जलता रहा और मीडिया के लोग खबर बनाने के लिए फोटो खींचने में लगे रहे, उसे बचाने से ज्यादा आप तक खबर पहुंचाना था शायद मकसद. सिर्फ दो लोग ही उसे बचाने की कोशिश करते रहे. गिर चुकी इस मनुवादी मीडिया का मैं विरोध करता हूं.

पत्रकार व लेखक जरनैल सिंह के नेतृत्व में हजारों लोग सड़क पर उतरे

Yesterday Night, there were more than 5000 people who have participated against hanging of balwant singh raajoana which was organised by Jarnail Singh, (Writer) journalist. Jarnail Singh, Writer of "I accuse- Anti Sikh violence of 1984" has demanded magistrial inquiry of police firing in phagwarha (Punjab) where 2 Sikhs have got killed. They were trying to stop a communal organization from burning of balwant singh raajoana's effigy.

आई-नेक्स्ट बरेली की सेकेंड एनीवर्सरी पर आफिस में कटा केक

जागरण समूह के बच्चा अखबार आई-नेक्स्ट का बरेली में पिछले दिनों सेकेंड एनीवर्सरी मनाया गया. पूरी टीम के लोगों ने इकट्ठा होकर केक काटा और एक दूसरे को खिलाया. संपादकीय प्रभारी कुणाल वर्मा ने केक काटने के मौके की कुछ तस्वीरें फेसबुक पर शेयर की हैं. उन्होंने लिखा है- ''Today i am celebrating second anniversary of i-next Bareilly with my team.''

छोटे शहरों के पत्रकारों के लिए कोई एवार्ड नहीं

दिल्ली में आईटी अवार्ड समारोह हुआ. देख कर अच्छा लगा पर कई सवाल भी मन को कचोटने लगे. क्या छोटे शहरों के पत्रकारों के लिए कोई अवार्ड नहीं है, क्या स्ट्रिंगर, रीटेनेर या स्टाफ रिपोर्टर जो कि राज्यों, जिलो में, कस्बों में, रात दिन मेहनत करके मीडिया में धमाके करते हैं उनका कोई सम्मान नहीं है? इलेक्ट्रानिक मीडिया में कस्बों से बहुत सी ऐसी खबरें ब्रेक होती हैं उन पर बड़ी स्टोरीज बनती हैं. उनके नाम को, उनकी स्टोरी को, क्यूँ नहीं इंडियन टीवी अवार्ड, रामनाथ गोयनका, गणेश शंकर विद्यार्थी सम्मान के लिए भेजा जाता?

फोटो जर्नलिस्ट गगन की किताब, तस्वीरों के जरिए त्रासदी का बयान

हिंदुस्तान टाइम्स, भोपाल के सीनियर फोटोजर्नलिस्ट गगन नायर की एक किताब आई है. इस किताब में शब्द नहीं, तस्वीरें हैं. कहते हैं न कि लाख शब्द पर एक तस्वीर भारी है. बुंदेलखंड की गरीबी व त्रासदी को लेकर जाने कितने लेख वगैरह लिखे जा चुके हैं. लेकिन पहली बार कोई किताब ऐसी आई है जिसमें बुंदेलखंड की कहानी तस्वीरों की जुबानी बयान की गई है. 'बुंदेलखंड का पलायन' (Migrating Bundelkhabd) नामक किताब में तस्वीरों के माध्यम से बुंदेलखंड के पलायन के स्याह चेहरे की कहानी सामने आती है.

आलोक मेहता ने साबित किया वे आधुनिक युग के असली संपादक हैं, बधाई

नई दुनिया का सूर्यास्त हो गया… मुझ जैसे पत्रकारों का इससे ज्यादा मतलब नहीं है… यह सब धनकुबेरों के पैसे का खेल है… क्योंकि अब जूता फैक्ट्री खोलने और अखबार की फैक्ट्री खोलने में कोई फर्क नहीं है और यह दोनों धंधा पूंजीपतियों के लिए एक ही बात हो गयी है. खैर… जब से नई दुनिया के दिल्ली संस्करण के बंद होने की खबरें बाजार में आई तभी से मुझे इस बात की चिंता थी कि देशभर के उन हजारों पत्रकारों में अब बंद होने वाले नईदुनिया के पत्रकार व गैर पत्रकार भी जुड़ जायेंगे, जिन्हें अब रसोई के बजट की चिंता घेर लेगी.

आशीष व्यास के खिलाफ भड़ास पर खबर किसी चोर ने प्लांट कराई है

: समर्पण और ईमानदारी की मिसाल हैं आशीष व्यास : भारत में प्राचीन काल से ही परंपरा रही है, कि पंच जिस बात को कह देते हैं उसे पूरा समाज स्वीकार करता है, लेकिन भारत का यह भी सौभाग्य रहा है, कि न्याय की कसौटी पर खरा उतरने के कारण पंचों को परमेश्वर की उपाधि से नवाज़ा जाता था। उसी भारत में आज पंचों की तो बात ही छोड़िए, निन्यानवे चोर मिलकर एक ईमानदार को ठग, चोर, लापरवाह और भी न जाने क्या-क्या सिद्ध कर देते हैं, और इससे भी बड़े दुर्भाग्य की बात यह है, कि समाज उन निन्यानवे चोरों की बात संख्या बल के आधार पर स्वीकार कर लेता है।

आगरा से लांच होगा ‘मिड डे पॉवर’, श्‍याम अनजान बने संपादक

मीडिया हब बनते जा रहे आगरा से एक और अखबार लांच होने को तैयार है. यह अखबार साप्‍ताहिक होगा तथा इसे लांच करने की जिम्‍मेदारी उठाई है आगरा के वरिष्‍ठ पत्रकार श्‍याम अनजान ने. इस अखबार को अम्‍बेडकर जयंती यानी 14 अप्रैल को लांच करने की योजना है. 16 रंगीन पेज के इस साप्‍ताहिक टैबलाइड का नाम रखा गया है 'मिड डे पॉवर'. प्रबंधन की योजना एक छोटी टीम के साथ इसको निकालने की है. अखबार के प्रकाशक रतन प्रकाश हैं, जो कई समाचार पत्र, मैगजीन और लोकल चैनलों में काम कर चुके हैं.

नईदुनिया की जमीन पर आलोक मेहता का नेशनल दुनिया लांच

दिल्‍ली-एनसीआर से नईदुनिया बंद होने के साथ ही नेशनल दुनिया का प्रकाशन शुरू हो गया है. न कोई शोर-शराबा और ना कोई प्रचार-प्रसार. चुपचाप अखबार का प्रकाशन शुरू कर दिया गया. नईदुनिया से मिलते-जुलते ले आउट के चलते हॉकर भी दुविधा में हैं. बताया जा रहा है कि वे नईदुनिया के जाने और नेशनल दुनिया के आने की खबरों से इतर इसे अपने पाठकों तक नईदुनिया समझकर ही पहुंचा रहा है.

मीडियाकर्मियों पर हमला का मामला : आज से अनशन करेंगे वर्द्धमान के पत्रकार

व‌र्द्धमान : व‌र्द्धमान मेडिकल कॉलेज अस्पताल के जूनियर चिकित्सकों द्वारा बुधवार को मीडिया कर्मियों की बेरहमी से की गई पिटाई के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस घटना के विरोध में मीडिया कर्मियों ने गुरुवार को जिला शासक कार्यालय के समक्ष धरना देकर आरोपी चिकित्‍सकों की गिरफ्तारी की मांग की। पत्रकारों ने डीएम को ज्ञापन भी सौंपा। इस मामले में अभी तक किसी आरोपी डॉक्‍टर की गिरफ्तारी नहीं हुई है। पत्रकारों ने कहा है कि अगर आरोपियों पर कार्रवाई नहीं होती तो वे शुक्रवार से अनशन करेंगे।

ममता सरकार के तुगलकी फरमान के खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका

कोलकाता। सरकारी पुस्तकालयों में चुनिंदा समाचार पत्र रखने का मामला राजनीतिक तौर पर तूल पकड़ लिया है, वहीं इस मामले को कलकत्ता हाई कोर्ट में भी चुनौती दी गई है। गुरुवार को हाई कोर्ट में अधिवक्ता वासवी रायचौधरी ने पीआईएल (जनहित याचिका) दायर करके सरकार के फैसले को अनैतिक और द्वेषपूर्ण बताया है तथा कोर्ट से इसे खारिज करने की मांग की है। संभावना है कि कोर्ट जल्‍द ही इस याचिका पर सुनवाई कर सकती है।

रीयल लाइफ में एक फिल्मी डायलाग बोलने में इरफान की फटी

बुधवार को मैं ऑफिस में नहीं था..बाहर की दुनिया देख रहा था..चार प्रसंग शेयर कर रहा हूं। जवाहर लाल यूनिवर्सिटी में अभिनेता इर्रफान (IRRFAN को हिंदी में ऐसे ही लिखेंने ना…) खान छात्रों से बात कर रहे थे। इर्रफान दो घंटे तक छात्रों के हर सवाल का जवाब देते रहे, सिनेमा और जीवन के हर पहलू पर बात की। छात्रों ने पान सिंह तोमर का डॉयलाग 'बीहड़ में बागी रहते हैं…डकैत पलते हैं पार्लियामेंट में' बोलने का उनसे कई बार आग्रह किया लेकिन इर्रफान पर्दे के बाहर इस डॉयलाग को बोलने की हिम्मत नहीं दिखा सके।

नईदुनिया के सभी कर्मचारियों से मांगे गए इस्‍तीफे

नईदुनिया से खबर है कि प्रबंधन ने दिल्‍ली-एनसीआर में कार्यरत अपने सभी पत्रकार तथा गैर पत्रकार कर्मचारियों से इस्‍तीफा देने को कह दिया है. प्रबंधन से सबसे 31 के पहले तक इस्‍तीफा देने को कह दिया है. अब लगभग पूरी तरह तय हो चुका है कि जागरण समूह ने इस अखबार का लगभग अधिग्रहण कर लिया है. सूत्रों का कहना है कि जागरण ने नईदुनिया का टेकओवर लगभग तीन सौ करोड़ में किया है.

‘पूर्वांचल आजकल’ में आपसी खींचतान, मंगलवार को नहीं छपा अखबार

बनारस से कुछ समय पहले ही लांच हुआ सांध्‍य दैनिक 'पूर्वांचल आजकल' को लेकर कई तरह की चर्चाएं शुरू हो गई हैं. बताया जा रहा है कि प्रबंधन में आपसी टकराव शुरू हो चुका है. इसी के चलते मंगलवार को इस अखबार का प्रकाशन नहीं हुआ. बताया जा रहा है कि पैसे को लेकर तनातनी शुरू हो गई है. हालांकि अखबार के प्रकाशन न होने का कारण बाहर तकनीकी खराबी बताया गया, परन्‍तु बताया जा रहा है कि अब पैसे और हिस्‍सेदारी को लेकर संघर्ष शुरू हो चुका है.

पहले से भी ज्यादा मजबूत होकर लौटे हैं उपेंद्र राय

सहाराश्री सुब्रत राय सहारा के हस्ताक्षर से युक्त सर्कुलर सहारा मीडिया के आफिसों में चस्पा हो चुका है. आज की ही तारीख इस सर्कुलर पर दर्ज है. सर्कुलर के कंटेंट से जाहिर है कि उपेंद्र राय पहले से ज्यादा मजबूत होकर लौटे हैं. उन्हें सहारा मीडिया का सर्वेसर्वा (एडिटोरियल, एडमिनिस्ट्रेटिव एंडर अदर) तो बनाया ही गया है, उन्हें यह अधिकार भी दिया गया है कि वह अगर समूह के हित में जरूरी समझते हैं तो हास्पिटेलिटी, हाउसिंग, सर्विस आदि दूसरे डिवीजन में भी हस्तक्षेप कर सकते हैं.

नईदुनिया को तीन सौ करोड़ रुपये में खरीद रहा है जागरण ग्रुप

नईदुनिया की बिक्री को लेकर अब तस्वीर साफ होती जा रही है. कई वेबसाइटों पर इससे संबंधित खबरें आने लगी हैं. एएफक्यूएस वेबसाइट ने खबर प्रकाशित कर खुलासा किया है कि करीब तीन सौ करोड़ रुपये में नई दुनिया को जागरण खरीद रहा है. पूरी खबर इस प्रकार है– The Jagran group that publishes the country's most widely read Hindi newspaper, Dainik Jagran, is close to buying out Nai Dunia, the Indore-based Hindi daily promoted by Vinay Chhajlani. According to sources familiar with the development, the talks have been on for a while and the deal size is expected to be around Rs 300 crore.

उपेंद्र राय फिर बने सहारा मीडिया के सर्वेसर्वा, सर्कुलर जारी

सहारा से बड़ी खबर है. पता चला है कि सहारा मीडिया के शीर्षस्थ पद पर उपेंद्र राय की फिर से वापसी हो गई है. सूत्रों के मुताबिक सहारा मीडिया के प्रत्येक विंग के प्रभारियों को मेल जारी करके कह दिया गया है कि वे अब सीधे उपेंद्र राय को रिपोर्ट करें. इस बदलाव के बाबत आंतरिक सर्कुलर जारी होने की सूचना है. ज्ञात हो कि उपेंद्र राय को ग्लोबल हेड का पद देकर साइडलाइन किए जाने के बाद सहारा मीडिया का सर्वेसर्वा स्वतंत्र मिश्रा को बनाया गया लेकिन उनका राज महीने भर पहले ही खत्म कर दिया गया था.

समाजवादी लोकतांत्रीकरण की राह पर अखिलेश

: अदना से अदना आदमी भी मुख्यमंत्री तक पहुंच सकता है, अपना दर्द बयाँ कर सकता है : लखनऊ। अखिलेश युवा हैं, उनकी पढ़ाई-लिखाई में प्रोफेशनलिज्म का बहुत महत्व रहा है। जिसे जो काम करना है, ठीक से करे, ईमानदारी से करे, निष्ठा से करे, काम को अपना काम समझ कर करे। यही प्रोफेशनल तरीका है। वह कार्यशैली में हाईटेक हो, पर व्यवहार में पारंपरिक हिंदुस्तानी। सबके प्रति आदर का भाव। अफसरी नहीं। कोई भी किसी दफ्तर में अपना काम लेकर जाय, तो उसका अपनेपन केसाथ स्वागत हो, उसे दुत्कारा न जाय, अफसरी न झाड़ी जाय। आफ्टर आल सभी जनता की सेवा के लिए हैं, कर्मचारी, अफसर और सरकार भी। जनता सबसे ऊपर है, आम आदमी सबसे ज्यादा ध्यान दिये जाने योग्य व्यक्ति है। अखिलेश कुछ ऐसी ही कार्य संस्कृति चाहते हैं। लगे कि सरकार कोई तोप चीज नहीं है, वह जनता के द्वारा, जनता की और जनता के लिए है।

‘जस्टिस फॉर एसपी राहुल शर्मा’ करेगा 2 अप्रैल को अनशन

बिलासपुर : दिवंगत एसपी राहुल शर्मा द्वारा की गयी आत्महत्या के लगभग एक पखवाड़ा बीत जाने के बाद भी सुसाइड नोट में जिम्मेदार ठहराए गए लोगों के खिलाफ प्रशासन द्वारा एफआईआर न किये जाने के विरोध स्वरुप 'जस्टिस फॉर एसपी राहुल शर्मा' द्वारा एक बैठक का आयोजन स्थानीय कम्पनी गार्डेन में मंगलवार शाम 4 बजे किया गया. बैठक में शहर के कई पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं बुद्धिजीवी मौजूद थे.

हिंदुस्‍तान, बरेली की लुटिया डुबो दी आशीष व्‍यास ने, सर्कुलेशन हुआ आधा

यशवंतजी, अक्‍टूबर 2009 में जब हिंदुस्‍तान, बरेली लांच हुआ था तो बुकिंग के कारण उसका सर्कुलेशन 90 हजार कापियों से शुरू हुआ था. संपादक अनिल भास्‍कर के स्‍थान पर जब अमर उजाला से केके उपाध्‍याय ने हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन किया तो उनके साथ अमर उजाला की बड़ी टीम भी आ गई. और सर्कुलेशन बढ़कर एक लाख 18 हजार को पार कर गया. इसमें बरेली सिटी में तो 54 हजार का रिकार्ड बना.

खबर पक्‍की, नेशनल दुनिया लांच करेंगे आलोक मेहता

नईदुनिया में दिल्‍ली एडिशन का आखिरी अंक 31 मार्च को प्रकाशित होगा. यह अखबार इसके बाद दैनिक जागरण प्रबंधन के हवाले हो जाएगा यह भी लगभग फाइनल हो चुका है. पर जिस बिल्डिंग में आलोक मेहता एंड कंपनी नईदुनिया के सहारे अपनी दुनिया चला रही है, उसमें चहल-पहल कम नहीं होगी. इस बिल्डिंग से नईदुनिया का अंत होगा तो एक नया अखबार नेशनल दुनिया इसमें जन्‍म लेगा. और इसे धरातल पर लाएंगे आलोक मेहता. पैसा और फाइनेंसर जैसी दिक्‍कतें तो आलोक मेहता को कभी नहीं रही हैं. अखबार भले ही भाड़ में जाए पर ये लोग कभी इससे प्रभावित नहीं हुए.

सरकार के दबाव में जागरण के प्रबंधकों ने ली नवीन गौतम की बलि

दैनिक जागरण, देश का नम्‍बर एक अखबार, सबसे ज्‍यादा प्रसारित अखबार. पर इस अखबार का नाम लेते ही दिमाग में एक ऐसे अखबार की छवि बनने लगती है, जो अपनी सुविधानुसार कुछ भी कर सकता है. थूक कर चाट भी सकता है. इस अखबार के लिए जान की बाजी लगाकर काम करने वाले पत्रकारों को भी कभी भी दूध की मक्‍खी की तरह निकाल कर फेंक सकता है. यानी हर वो रास्‍ता अपना सकता है जिससे इस अखबार को किसी भी प्रकार की तकलीफ ना हो.

कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस से कन्‍हैया और बबलू का इस्‍तीफा

कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस, मथुरा से खबर है कन्‍हैया उपाध्‍याय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर डेस्‍क इंचार्ज के पद पर कार्यरत थे. कन्‍हैया ने अपनी नई पारी सी एक्‍सप्रेस के साथ शुरू की है. उन्‍हें मथुरा का ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. बताया जा रहा है कि कन्‍हैया ने अपने ब्‍यूरोचीफ से नाराज होकर इस्‍तीफा …

पुण्य प्रसून बाजपेयी ने दिवंगत शाहू जी को यूं याद किया

प्रसून जी गुड मॉर्निंग..लोकमत समाचार में आज छपा विश्लेषण "गडकरी का बीजेपी खेल" अच्छा है, पर सवाल यह है कि बीजेपी ही कोई पहली बार "कांग्रेस की लीक"पर नहीं चल रही, कांग्रेस भी यही करती रही है। बाबरी मस्जिद के समय नरसिंह राव ने जो किया वह भाजपाई कदम ही था और मुसलमानों के सामने इस "एतिहासिक चूक" को धोने की कोशिश कांग्रेस लगातार कर रही है। एक "सांपनाथ" तो दूसरा "नागनाथ" हमेशा रहे हैं। बीजेपी को हमेशा व्यापारियों की पार्टी कहा जाता है। आपने संचेती, अंशुमान जैसे उद्योगपतियों ने नाम तो गिनाये लेकिन पूर्ती उद्योग समूह के मालिक गडकरी कैसे कम हैं। और यह वैश्वविक पूंजी है जो संघ और कांग्रेस दोनों की राजनीति तय करेगी।

हमवतन को मिला बेस्‍ट वीकली न्‍यूजपेपर ऑफ द ईयर का अवार्ड

राजधानी दिल्ली के फिक्की सभागार में 24 मार्च की शाम एक भव्य रंगारंग कार्यक्रम के बीच मीडिया फेडरेशन आफ इंडिया की ओर से आयोजित छठे एक्सीलेंस अवार्ड समारोह में राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक ‘हमवतन’ को ‘बेस्ट वीकली न्यूजपेपर आफ द ईयर अवार्ड’ से नवाजा गया। यह पुरस्कार समाचार पत्र के प्रधान संपादक निर्मलेंदु साहा ने ग्रहण किया। हिंदी की साप्ताहिक पत्रिका ‘रविवार’ से शुरुआत करने वाले और देश के प्रमुख हिंदी दैनिक नवभारत टाइम्स में दो बार ‘इंद्रधनुष’ तथा ‘हैलो दिल्ली’ मैगजीन का संपादन कर चुके श्री साहा ने इस मौके पर अपने पत्रकारीय अनुभव साझा करते हुए बताया कि पत्रकारिता को नए आयाम देने वाले स्व. एसपी सिंह और प्रख्यात पत्रकार एमजे अकबर के साथ रहकर बहुत कुछ सीखा और समझा।

सिद्धार्थनगर प्रेस क्‍लब के अध्‍यक्ष बने संतोष श्रीवास्‍तव, सलमान महामंत्री

सिद्धार्थनगर प्रेस क्लब के चुनाव में मठाधीशों के मंसूबे ध्वस्त हो गए. पत्रकारिता के नाम पर ठेकेदारी और दुकानदारी करने वाले करारी हार के शिकार हुए. दैनिक जागरण का जलवा इस बार भी कायम हुया. चुनाव में दैनिक जागरण के संतोष श्रीवास्तव अध्यक्ष बने. अन्य अखबारों से संतोष पांडेय वरिष्ठ उपाध्यक्ष, सलमान आमिर महामंत्री, अरुण कुमार वरिष्ठ संगठन मंत्री निर्वाचित घोषित किए गए, जबकि चार पदों पर निर्वाचन निर्विरोध हुआ.

भंवरी की स्टोरी न भेजे जाने से खफा श्रीपाल एंप्लोई आफ द इयर बनने से खुश

पी7न्‍यूज के राजस्‍थान हेड श्रीपाल शक्‍तावत को चैनल ने 'एम्‍पलॉई ऑफ द ईयर 2011' के अवार्ड से नवाजा है. कंपनी ने श्रीपाल के काम को देखते हुए उन्‍हें इस सम्‍मान के लिए चयन किया है. वैसे चैनल की आंतरिक राजनीति के चलते वरिष्‍ठों ने श्रीपाल की भंवरी देवी वाली रिपोर्ट एनटीए अवार्ड के इनवेस्‍टीगेटिव जर्नलिज्‍म के लिए नहीं भेजी थी. बताया जा रहा है कि इनपुट-आउटपुट के लोगों की इन कारगुजारियों से श्रीपाल काफी खफा थे.

देर आए दुरुस्त आये, उदय शंकर जी धन्यवाद

स्टार सीजे अलाइव चैनल से ऑर्डर किये गये प्रिंटर की कार्टरेज, डाटा केबल और पॉवर कॉर्ड आखिरकार एक महीने से ज्यादा वक्त के इंतज़ार के बाद मुझे मिल ही गई। मैंने फरवरी महीने में एक कैनन का प्रिंटर स्टार सीजे चैनल से मंगाया था, जिसके साथ मुझे ये तीन चीज़े नहीं मिली थीं। मैंने कई बार चैनल की हेल्पलाइन पर फोन किया था लेकिन हर बार मुझे ढांक के तीन पात बताए जा रहे थे। हारकर मैंने स्टार इंडिया के सीईओ श्री उदय शंकर जी को ईमेल कर अपनी व्यथा सुनाई और फौरी कार्रवाई के तौर पर उनके पर्सनल ऑफिस से मुझे फोन आया और लगातार स्टार सीजे वाले मेरे संपर्क में रहे और आखिरकार आज मुझे ये सारा सामान डिलीवर कर दिया गया।

इंडिया न्‍यूज के बेचारे

हर तरफ अंधी सियासत है/ बताओं क्या करें/ रेहन में पूरी रियासत है/ बताओ क्या करें/ झुंड पागल हाथियों का/ रौंदता है शहर को/ और अंकुश में महावत है/ बताओ क्या करें। इन पक्तियों जैसे ही रवीन ठुकराल दुबारा जब से इंडिया न्यूज के हेड बन कर आये तो उनके चम्‍मचों और चम्‍मचियों के चेहरे पर चमक लौट आई और आये भी क्यों न, आखिर में ठुकराल और ज्यादा ताकतवर बन कर लौटे और वो उनके अंकुश में पहले से ही हैं।

‘बुक्‍स ओ सांसद’ में जुटे दिग्‍गज सांसद व पत्रकार

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में बुधवार की शाम आयोजित कार्यक्रम 'बुक्स ओ सांसद' के दौरान जनोक्ति.कॉम द्वारा कराई गयी परिचर्चा में कई दिग्गज पत्रकार और नामी सांसद शामिल हुए। कार्यक्रम में वरिष्ठ संसद लालकृष्णा आडवाणी, सतपाल महाराज, शशि थरूर, केन्द्रीय मंत्री केबी थॉमस, केन्द्रीय राज्य मंत्री डॉक्टर राज कुमार वेरका, मंगनि लाल मंडल, तरुण मंडल, वीरेंदर कश्यप, राजेंद्र भाई राणा, असरारुल हक, मोइनुल हसन, अनु टंडन, गोपाल व्यास, चौधरी लाल सिंह, अनिरुध्द संपत, एन के सिंह सहित पचास से अधिक सांसद  शामिल हुए।

दारुकुट्टई और उपहारउठाई के दौर में दीदी की सेंसरशिप

किस नपुंसक समय में जिंदा रहने के लिए मुर्दा बने हुए हैं हम। आपातकाल और बिहार प्रेस विधेयक के वक्त पत्रकारिता का जो तेवर दिखा था,​​ आज वह प्रेस क्लबों में दारुकुट्टई और बाजार से मुफ्त कूपन और उपहार बीनने की औकात में समाहित हो गया है। बंगाल से तीन पत्रकार दीदी की कृपा से इस बार सांसद बन गये हैं तो इसका अंजाम यह हुआ कि उन्होंने पाठकों पर ही सेंसर लगा दी। दिल्ली में रेल मंत्री बदलने गयी दीदी ने पत्रकारों को​ वेतन सिफारिशें लागू करने की मांग कर दी तो प्रेस इतना कृतज्ञ हो गया कि कहीं कोई प्रतिक्रिया नहीं है। वाह!

आलोक मेहता निकालेंगे नेशनल दुनिया!

: कानाफूसी : नई दिल्ली में नई दुनिया के बंद होने के बाद अब आलोक मेहता खुद का अखबार निकालने की तैयारी कर रहे हैं। सूत्रों के अनुसार ३१ मार्च को नई दुनिया का अंतिम संस्करण प्रकाशित होगा, जिसके बाद अगले दिन उसी बिल्डिंग से आलोक मेहता एक नया अखबार निकालेंगे। इसका नाम नेशनल दुनिया रखे जाने की सूचना है। बताया जा रहा है कि यह कदम नई दुनिया के मैनेजमेंट को सबक सिखाने के साथ ही अगले विधानसभा चुनावों को ध्यान में रखकर उठाया गया है।

‘हरियाणा न्यूज’ के सही रास्ते पर आने से ‘टोटल टीवी’ व ‘इंडिया न्यूज हरियाणा’ में खलबली

जो 'हरियाणा न्यूज' कुछ वक्त पहले अंदरुनी राजनीति में बिग बॉस का भी बाप हुआ करता था, उसने आजकल कई चैनलों का बैंड बजा दिया है। हरियाणा से जुड़े कई चैनलों का दम निकल गया है। टोटल टीवी के कई पत्रकार और टैक्निकल स्टाफ हरियाणा न्यूज पहुंच गए हैं। टोटल में हरियाणा देखने वाले प्रवीण गौतम, आउटपुट के अनुभवी सीनियर पत्रकार ओम सिंह और अमित शुक्ला, एंकर कुमकुम बिनवाल और प्रोड्यूसर अमित सिंह जैसे कई पत्रकार हरियाणा न्यूज के साथ जुड़ गए हैं।

रामदेव का सहयोगी बालकृष्‍ण एक पत्रकार पर भड़का

विवादों में रहने वाला बाबा रामदेव का सहयोगी आचार्य बालकृष्‍ण फिर बौखला गया है. कर चोरी के आरोप में पूछे गए सवाल पर बालकृष्‍ण ने एक पत्रकार को भला-बुरा कह डाला. मामला वाणिज्‍य कर अफसरों द्वारा रामदेव की कंपनी के दवाओं को ले जाते ट्रक को पकड़े जाने का था. एक पत्रकार ने जब बालकृष्‍ण से पूछा कि बाबा की कंपनी की दवाओं से लदे ट्रक के साथ काई रसीद क्‍यों नहीं थी तो बालकृष्‍ण ने कहा कि तुम मेरे वकील नहीं हो. उसने पत्रकार को और भी खरी-खोटी सुनाई.

एडिशनल डाइरेक्‍टर ने डीबी स्‍टॉर के पत्रकारों से की बदतमीजी, कैमरा भी तोड़ा

एक खबर में अधिकारी का पक्ष लेना डीबी स्‍टार, भोपाल के फोटो जर्नलिस्‍ट और रिपोर्टर को भारी पड़ गया. भ्रष्‍टाचार के मामले में पूछा गया सवाल उस अधिकारी को इतना नागवार गुजरा कि उसने इन दोनों लोगों से बदतमीजी तो की ही, कैमरा भी तोड़ दिया. उसने टूटा हुआ कैमरा भी अपने पास रख लिया. काफी हो हुज्‍जत के बाद पुलिस ने इस अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज किया है, परन्‍तु अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है. 

समस्‍तीपुर का जिला सूचना अधिकारी पत्रकारों से कर रहा भेदभाव, मंत्री को लिखा पत्र

बिहार के समस्‍तीपुर जिले के पत्रकार जिला सूचना जन संपर्क अधिकारी दिलीप कुमार देव के रवैये से परेशान हैं. जिले दस पत्रकारों ने राज्‍य के सूचना मंत्री को पत्र भेजकर सूचना अधिकारी के खिलाफ जांच कराने की मांग की गई है. पत्रकारों ने आरोप लगाया है कि दिलीप कुमार की वजह से पत्रकारों को शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है. सूचना अधिकारी फर्जी पत्रकारों तथा हत्‍या के आरोपियों को एग्रीडेशन कार्ड देकर उसका दुरुपयोग कर रहा है, जबकि असली पत्रकारों से भेदभाव किया जा रहा है. 

कौशाम्‍बी में चार पत्रकार एवं मजिस्‍ट्रेट पर मुकदमा

कौशाम्बी : परीक्षा केंद्र में नकल कराने के मामले में स्टेटिक मजिस्ट्रेट के खिलाफ बलवा व हरिजन उत्पीड़न का मुकदमा कायम किया गया जबकि मजिस्ट्रेट की तहरीर पर इलेक्ट्रानिक चैनल के चार पत्रकारों के खिलाफ मारपीट, बलवा व सरकारी कार्य में बाधा डालने का मुकदमा दर्ज हुआ। सिराथू तहसील के तुलसीपुर स्थित एक परीक्षा केंद्र पर बोल-बोलकर नकल कराया जा रहा था। इलेक्ट्रानिक चैनल के कुछ रिपोर्टरों ने इस खबर को कवर किया तो वहां रहे स्टेटिक मजिस्ट्रेट ने उनसे दु‌र्व्यवहार किया।

पुस्‍तकालयों में पढ़ने होंगे ममता की मर्जी के अखबार

: हिंदी का केवल एक समाचार पत्र : पश्चिम बंगाल में अखबार वही जो ममता बनर्जी की सरकार पढ़ाए. जी हां, राज्य में अब सरकार तय कर रही है कि सरकारी पुस्तकालयों में लोग कौन सा अखबार पढ़ेंगे और कौन सा नहीं. पश्चिम बंगाल सरकार ने एक सर्कुलर जारी कर कहा है कि सरकारी या सरकार से सहायताप्राप्त पुस्तकालयों में कोलकाता से छपने वाले महज आठ अखबार ही खरीदे जाएंगे. इनके इतर दूसरा अखबार खरीदने पर उसके पैसे नहीं दिए जाएँगे. इन अखबारों की सूची में बांग्ला के पांच, हिंदी का एक और उर्दू के दो अखबार हैं. यह तमाम अखबार वही हैं जो ममता सरकार के साथ खड़े रहे हैं.

अब नईदुनिया, रायपुर में भी छंटनी शुरू

दैनिक जागरण समूह द्वारा नईदुनिया को खरीदने की मिल रही खबरों को रायुपर एडिशन से छंटनी आदेश जारी होने के साथ ही बल मिलने लगा है। नईदुनिया रायपुर एडिशन से सभी ब्यूरो के लिए छंटनी आदेश जारी कर दिया गया है। सभी ब्यूरो का काम को सीधे रायपुर कार्यालय से जोड़ दिया गया है। विभागीय सूत्रों की माने तो रायपुर एडिशन से सभी ब्यूरो सहित लगभग 30 लोगों को तीन महीने की सेलरी देकर घर बैठने को कह दिया गया है।

जस्टिस काटजू के सामने लखनऊ के पत्रकारों ने खोली एक दूसरे की दलाली की पोल

: आपस में ही भिड़ गए हिसाम और अनिल : शर्मसार हुई पत्रकारिता : प्रेस काउंसिल के अध्यक्ष मारकंडेय काटजू के सामने लखनऊ के वरिष्ठ पत्रकारों ने जो शर्मनाक हरकत की उससे पूरे प्रदेश में पत्रकारों की खासी फजीहत हो रही है। एनेक्सी के मीडिया सेंटर में काटजू के सामने ही पत्रकारों ने न सिर्फ अभद्र भाषा का प्रयोग किया बल्कि मारपीट तक उतारू हो गए। राज्य मान्यता प्राप्त पत्रकार समिति के अध्यक्ष हिसामुल सिद्दीकी की जितनी फजीहत सार्वजनिक रूप से हुई उतनी शायद उनके पत्रकारिता के जीवन में कभी नहीं हुई होगी। काटजू सहित प्रेस काउंसिल के बाकी सदस्यों ने कहा कि इस आचरण की वह कल्पना भी नहीं कर सकते थे।

साधना में न्‍यूज कोआर्डिनेटर बने संजय समर, प्रीति तिवारी अंजन टीवी पहुंची

साधना न्‍यूज से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार संजय समर ने झारखंड में स्‍टेट न्‍यूज कोआर्डिनेटर के पद पर ज्‍वाइन किया है. संजय पिछले दो दशक से बिहार, झारखंड और असम की पत्रकारिता में सक्रिय रहे हैं. संजय जेवीजी टाइम्‍स, पायनियर, हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, जनसत्‍ता जैसे अखबारों में काम कर चुके हैं. झारखंड की पत्रकारिता में उनकी अच्‍छी पकड़ है. संजय इन दिनों मिशन इंडिया अखबार से जुड़े हुए थे. 

महुआ के स्ट्रिंगरों के पैसे से मिला कर्मचारियों को इक्रीमेंट

अभी कुछ ही दिन पहले महुआ न्यूज के कर्मचारियों को इंक्रीमेंट का तोहफा मिला। मगर यह जानकर ताज्जुब होगा कि यह इंक्रीमेंट स्ट्रिंगरों की बदौलत है। जी हां, निरीह स्ट्रिंगरों के पैसे में कटौती और घपले करके सेलरी बेस्ड कर्मचारियों को इंक्रीमेंट दिया गया। यह बात सही है कि इसमें ग्रुप एडिटर राणा यशवंत की खास भूमिका है। उनके द्वारा ही स्ट्रिंगरों के पेट पर लात मारने जैसी हरकत महुआ ग्रुप में किया गया है। रही बात पुराने स्टाफ को 3 से 5 हजार का इंक्रीमेंट देने की, तो यह गलत है। महुआ में लांचिंग के समय से जुडे कर्मचारियों में से कुछ एक को ही 1 से 2 हजार का इंक्रीमेंट मिल पाया है। 3 से 5 हजार की बढ़ोतरी महुआ के बडे़ अधिकारियों के चापलूसों के लिए हुई है।

जब संपादक दलाल बन गए हैं तो अखबार में गालियां तो छपेंगी ही!

आज दोपहर को अचानक वाराणसी से मेरे एक पत्रकार मित्र का फोन आया, मैं अपनी पत्रिका को अंतिम ले आउट देने में लगा था, फिर भी फोन रिसीव किया. उसने कहा यार भड़ास साइट आज देखी क्या? मैंने कहा क्यू…कहा की देखो…सहारा में मायावती के खिलाफ गाली लिखी है..बड़ा बवाल हो रहा है.. मैंने सोचा कि माननीय यशवंत जी सिर्फ बवाल ही करवाते हैं.. सारे अखबार वालों ने इनकी साइट बंद करके रखी…फिर भी भास्कर वालों की पञ्च लाइन ….जिद करो..आगे बढ़ो..का फार्मूला अपनाये हुए है. अपने ऑफिस में मैंने इसकी चर्चा की..संपादक लेबल के कुछ बड़े अखबारों के पत्रकार भी बैठे थे… सबने कहा कि जागरण वाला मामला फिर सामने आया है.

सड़क दुर्घटना में लोकमत के पत्रकार की मौत

सांगली : महाराष्ट्र के सांगली जिले के कुंदाल फाटा के समीप पुलिस वैन और कार की टक्कर में दैनिक समाचार पत्र लोकमत के एक पत्रकार की मौत हो गयी, जबकि तीन लोग घायल हो गये। जानकारी के अनुसार लोकमत के पत्रकार बाबा धोंड्रम वीरकर (30 वर्ष) कार से अपने दो अन्य साथियों के साथ सतारा जिले के मासवद से कोल्हापुर जा रहे थे। वे लोग कुंदाल फाटा के समीप पहुंचे ही थे कि दूसरी तरफ से आ रही पुलिस वैन ने कार को टक्कर मार दी।

ये है दिल्‍ली पुलिस का असली घिनौना चेहरा

 दिल्‍ली। 'दिल्‍ली पुलिस सदैव आपके साथ' का नारा देने वाली पुलिस की तस्‍वीर कुछ अलग ही हैं, हाथी के दांत खाने के और दिखाने के और होते हैं। हुआ यूं आज दिनांक 27 मार्च, 2012 को करीब सुबह 10:55 पर गोल मार्केट सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के सामने सड़क की पटरी पर खड़े मारुती सुजुकी कार, जिसका नंबर डीएल 5सीएच 6160 था, के पास कूड़े के ढेर के में आग लग गई।

बिहार में दैनिक भास्‍कर की लांचिंग ठंडे बस्‍ते में

: अर्थवस्‍था में सुधार के बाद कंपनी लांच करेगी प्रोजेक्‍ट : टेलीवीजन न्यूज चैनल और इंटरनेट पर खबरों की शीघ्र पहुंच ने अखबारों की दुनिया को कहीं ना कहीं बड़ा धक्का दिया है। खबरों के आधुनिकीकरण के इस दौर में प्रिंट मीडिया संस्थान पीछे छूटते नजर आ रहे हैं, तो ऐसे भी कई संस्थान देखे गए जिन्होंने खबरों की इस दौड़ में पीछे छूटने की वजह से अपने संस्थानों पर ताला लटका दिया।

पत्रकार के पुत्र का अपहरण, एसओजी जांच में जुटी

छिबरामऊ : अपहृत पत्रकार के पुत्र की तलाश में एसओजी टीम जुट गई है। शासन के निर्देश पर मामले के खुलासे के लिये पुलिस अधीक्षक ने एसओजी टीम को मास्टर माइंड अभय सिंह को गिरफ्तार करने की जिम्मेदारी सौंपी है। अभी तक युवक का कोई पता नहीं चल सका है। सोमवार को एसओजी प्रभारी सुदीप मिश्रा की टीम सौरिख रोड स्थित पत्रकार देवेंद्र चतुर्वेदी के घर पहुंची जहां उन्होंने अपहृत पुत्र विकास चतुर्वेदी की मोबाइल काल डिटेल का अवलोकन किया। इसके अलावा उन्होंने मामले की मास्टर माइंड अभय सिंह के बारे में भी जानकारी हासिल की।

सहारा के मीडियाकर्मी को बदमाशों ने अगवा कर लूटा

: नशे का इंजेक्‍शन भी लगाया : नोएडा में 'सहारा' के आगरा विज्ञापन प्रतिनिधि पंकज राठौर को कुछ बदमाशों ने नोएडा स्टेडियम के पास से एसेंट कार में अगवा कर लिया. बदमाशों ने उनके साथ कार में जमकर मारपीट की तथा उन्‍हें नशे का इंजेक्‍शन लगा दिया. बदमाश पंकज को करीब ढाई घंटे तक कार में ही बैठाकर सड़कों पर घुमाते रहे. बाद में उन्‍हें दिल्‍ली के खिचड़ीपुर इलाके में कार से नीचे फेंक दिया तथा फरार हो गए.

सपा नेता की धमकी- नकल की खबरें छापी तो हाथ काट लूंगा

दो पत्रकारों ने दो सूचनाएं भड़ास4मीडिया के पास भेजी हैं. धर्मवीर सिंह चौहान ने बताया है कि बोर्ड परीक्षा में ठेके पर होने वाली नकल के खिलाफ खबरें छपवाने वाले पत्रकारो को धमकाया गया है. मिर्जापुर थाने में खुद को दबंग सपा नेता बताने वाले स्कूल प्रबंधक ने पत्रकारों के हाथ काट लेने व जान से मारने की धमकी दी है. इससे भयभीत होकर पत्रकारों ने तहसील मुख्यालय जाकर सीओ व एसङीएम जलालाबाद को ज्ञापन देकर उक्त स्कूल प्रबधंक के खिलाफ कार्रवाई कर सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की है. एसङीएम व सीओ जलालाबाद ने कार्रवाई का आश्वासन दिया है.

नईदुनिया में चला छंटनी का चाबुक, सैकड़ों लोगों की छुट्टी

बड़ी दुखद खबर है. सैकड़ों मीडियाकर्मियों को सड़क पर आना पड़ा है. नईदुनिया के जागरण के हाथों बिकने की कवायद के क्रम में छंटनी का काम किया जा रहा है. इस क्रम में मध्य प्रदेश और दिल्ली की यूनिटों के सैकड़ों लोगों को तीन-तीन महीने का चेक थमा कर पहली अप्रैल से घर बैठने के लिए बोल दिया गया है. दिल्ली में दिनेश सेठिया आए हुए थे. उन्होंने दिल्ली वाले पत्रकारों को बुलाकर बताया कि आप सभी के लिए तीन तीन महीने का चेक लेकर आया हूं, इसे थाम लीजिए और इस माह के आखिरी तारीख को विदा ले लीजिए.

लखनऊ में काटजू बोले- डीएनए लगातार हैरेसमेंट का शिकार होता रहा है

: काटजू की अदा, बातें कम और फैसले ज्यादा : डेली न्यूज ऐक्टिविस्ट के मामले में लगातार उत्पीड़ित करने वाले अधिकारियों के बारे में ताजा ऐप्लिकेशन मांगी : लखनऊ। न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू को विवादों में रहना शायद पसंद है। वे किसी भी मुद्दे पर खुलकर बोलते हैं, अपनी स्थापनाओं के साथ। यह तो मानना पड़ेगा कि उन्होंने जब से प्रेस परिषद के अध्यक्ष का काम संभाला है, परिषद में सक्रियता आयी है लेकिन प्रेस की या प्रेस के खिलाफ शिकायतें सुनते समय वे पूरे अरिस्टोक्रेट के अंदाज में रहते हैं। ज्यादा सुनना नहीं चाहते, फैसला सुनाने की जल्दी में रहते हैं, बिल्कुल अपने अदालती अंदाज में। खुद को बार-बार उद्धृत करने में भी शायद उन्हें आनंद मिलता है। लेकिन कई बार वे काम की चीजें होती हैं। जाहिर है, एक न्यायाधीश के रूप में  उन्होंने बहुत सारे फैसले दिये होंगे और उनमें लोकहित के तत्व जरूर होंगे।

दिल्ली की वरिष्ठ महिला पत्रकारों के साथ महाराष्ट्र में हुआ दुर्व्यवहार

: महाराष्‍ट्र की संत्रास यात्रा की कहानी, वरिष्ठ पत्रकार इरा झा की जुबानी : यह सम्मान था या संत्रास ? महाराष्‍ट्र सरकार प्रायोजित पुणे से मुंबई तक दस दिनों की बेतरतीब यात्रा से लौटे महिला पत्रकारों के जत्थे को तो यही अहसास हुआ है. दिल्ली की महिला पत्रकारों को महाराष्‍ट्र सरकार की नजरों में अपनी असल औकात का अहसास लंबी, थकाऊ और अनियोजित यात्रा के बाद मुंबई स्टेशन पहुंचने पर हुआ. वहां पता लगा कि पांच करोड़ लोगों की सरकार अपने करीब दर्जन भर मेहमानों का ट्रेन रिजर्वेशन ही कंफर्म नहीं करा पाई जबकि दिल्ली में रेल भवन में पत्रकारों के टिकट यूं भी कंफर्म हो जाते हैं. इंतिहा सूचना विभाग के वरिष्ठ अधिकारी कांबडे का दुर्व्‍यवहार रहा.

यूपी में सौ से ज्यादा आईपीएस अफसर बदले, ये है लिस्ट

उत्तर प्रदेश सरकार ने सोमवार मध्यरात्रि के बाद पुलिस प्रशासन में बडा़ फेरबदल करते हुए भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के 112 अधिकारियों का तबादला कर दिया। पुलिस महानिदेशक पीएसी देवराज नागर को वर्तमान पद के साथ-साथ उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड के अध्यक्ष का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। पुलिस महानिदेशक (मानवाधिकार) आयोग बीएम सारस्वत को पुलिस महानिदेशक प्रशिक्षण मुख्यालय नियुक्त किया गया है।

इंडिया प्राइम को मिला मीडिया एक्‍सीलेंसी अवार्ड

राजस्थान जयपुर से प्रकाशित होने वाले साप्ताहिक समाचार पत्र इंडिया प्राइम को दिल्ली में मीडिया फडरेशन आँफ इंडिया की ओर से 6ठा मीडिया एक्‍सीलेंसी अवार्ड प्रदान किया गया. ये आवार्ड बेस्ट स्माल न्यूज पेपर की श्रेणी में हिन्दी भाषी क्षेत्र में अखबार के उल्लेखनीय कार्यो के चलते प्रदान किया गया है. इंडिया प्राइम की ओर से उनके सम्पादकीय प्रतिनिधि और राजस्थान के जाने माने टीवी पत्रकार देवेद्र सिंह ने अवार्ड प्राप्त किया.

‘बुक्‍स ओ सांसद’ का आयोजन 28 मार्च को, परिचर्चा में जुटेंगे दिग्‍गज पत्रकार व सांसद

पिछले कुछ समय में सांसदों के प्रति आम जनमानस में नकारात्मक भाव पैदा हुआ है। राजनीति और राजनेताओं को एक ही डंडे से हांकने की कवायद में संसद का बौद्धिक और रचनात्मक पक्ष पीछे छूट रहा है। ऐसे वातावरण में 'बुक्स ओ सांसद' कार्यक्रम के माध्यम से जनप्रतिनिधियों के सकारात्मक पक्ष को देश-दुनिया के सामने लाने की पहल की जा रही है। भारत की संसद (राज्य सभा/लोक सभा) में मौजूद विभिन्न संसदीय क्षेत्र से निर्वाचित, मनोनीत संसद सदस्य केवल राजनीति के जानकार भर नहीं हैं। राजनीति से इतर सामाजिक जीवन के अन्य  दूसरी विधाओं में भी सांसदों की दखल है।

महुआ न्‍यूज के कर्मचारियों को मिला इंक्रीमेंट का तोहफा

महुआ ग्रुप के अलसाए माहौल में एक खबर ताजा हवा के झोंके की तरह आई है. अर्से बाद कर्मचारियों में उत्‍साह का संचार हुआ है. कंपनी ने लांचिंग के समय से जुड़े तथा एक औसत से नीचे वेतन पाने वालों की सेलरी में इंक्रीमेंट किया है. सूत्रों का कहना है कि ग्रुप हेड राणा यशवंत के प्रसास की बदौलत दस हजार के आसपास सेलरी पाने वाले सभी कर्मचारियों को इंक्रीमेंट का तोहफा मिला है. अब उनकी सेलरी थोड़ी सम्‍मानजनक हो गई है.

गाजीपुर से भेजी गई खबर में गाली नहीं थी, बनारस में किसी ने जोड़ा!

राष्ट्रीय सहारा अखबार में मायावती को मां की गाली प्रकाशित हो जाने के प्रकरण में ताजी जानकारी ये है कि गाली लिखने का काम बनारस आफिस में किसी ने किया. गाजीपुर आफिस से जो खबर भेजी गई, उसमें गाली नहीं थी. यह जानकारी राष्ट्रीय सहारा से जुड़े एक जिम्मेदार शख्स ने दी. नाम न छापने की शर्त पर इन्होंने बताया कि गाजीपुर से जो खबर गई थी, वह बिलकुल ठीक थी. उसमें कहीं कोई गाली नहीं थी. इस खबर में गाली को जोड़ने का काम बनारस आफिस के किसी शख्स ने किया. प्रत्येक ब्यूरो अपनी खबर अपने डेस्क इंचार्ज के पास भेजता है.

मायावती को मां की गाली छपने के बाद सहारा ने अपने स्थानीय संपादक को हटाया

राष्ट्रीय सहारा हिंदी दैनिक के बनारस एडिशन के अधीन गाजीपुर ब्यूरो के अखबार में मायावती को मां की गाली प्रकाशित हो जाने के बाद सहारा मीडिया में हड़कंप मच गया है. प्रबंधन ने जानकारी मिलते ही डैमेज कंट्रोल की कवायद शुरू कर दी. गाजीपुर में भेजे गए अखबार की प्रतियों को वापस लौटाने की कोशिश शुरू हुई लेकिन काफी अखबार बंट चुका था. उधर, इस गलती को अक्षम्य मानते हुए सहारा प्रबंधन ने बनारस के स्थानीय संपादक स्नेह रंजन को लखनऊ मुख्यालय से अटैच कर दिया है. उनकी जगह दयाशंकर राय को नया स्थानीय संपादक बनाकर बनारस भेजा गया है.

अगर यही मीडि‍या है तो, नि‍:संदेह मीडि‍या भटक गया है : काटजू

सिर्फ नाम ही काफी है..कुछ ऐसा ही है जस्‍टि‍स मार्कण्‍डेय काटजू के साथ..। लोगों से बहुत सुना था और पढ़ा था उनके बारे में.. कल पहली बार उनको सुनने का मौका मि‍ला। कॉलेज के अवॉर्ड फंक्‍शन का सबसे अच्‍छा पक्ष यही था। मीडि‍या पर जमकर बोले.. और अच्‍छा ये कि‍ वि‍द्वता का प्रदर्शन करने के लि‍ए नहीं बल्‍कि‍ समझाने और समझने के लि‍ए बोले। अमूमन कॉलेज के अवॉर्ड फंक्‍शन में स्‍पीच देने वालों के आते ही स्‍टूडेंट रि‍क्‍वेस्‍ट करने लग जाते हैं कि‍ यार ये जल्‍दी जाए.. लेकि‍न काटजू ने बोलना शुरू कि‍या तो हॉल का सन्‍नाटा तालि‍यों की गूंज के साथ ही टूटा।

‘समाचार प्लस’ ब्रांड के छह रीजनल चैनल खुलेंगे, प्रवीण साहनी और श्वेता रंजन जुड़े

नोएडा : रीज़नल मार्केट के ख़बरिया चैनलों की दुनिया में एक और बड़ा नाम एन्ट्री कर रहा है. ये नाम है ‘समाचार प्लस’. पैरेंटल कंपनी "बेस्ट न्यूज कंपनी प्राइवेट लिमिटेड" के बैनर तले "समाचार प्लस" ब्रांड की लॉन्चिग की जा रही है. इसके तहत 6 रीज़नल चैनल खोले जाएंगे. सबसे पहला चैनल उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के दर्शकों के लिए होगा. इसके बाद राजस्थान, मध्यप्रदेश-छत्तीसगढ़, फिर बिहार-झारखंड के लिए अलग-अलग चैनल्स लाए जाएंगे. सेकेन्ड फेज़ में पंजाब-हिमाचल-हरियाणा और दिल्ली-NCR के दर्शकों के लिए क्षेत्रीय चैनल खोले जाएंगे.

राष्ट्रीय सहारा अखबार की खबर में मायावती को मां की गाली

सहारा समूह में काम करने वालों के बारे में कहा जाता था कि वे सरकारी नौकरी करते हैं. उनकी नौकरी जानी मुश्किल है. इसी दौर में इस संस्‍थान में ऐसे लोग भर गए जो काम कम राजनीति ज्‍यादा करते हैं. और दुर्भाग्‍य से ये सहारा के किसी एक यूनिट का नहीं सभी का ऐसा ही हाल है. फिलहाल अभी खबर राष्‍ट्रीय सहारा बनारस की. बनारस यूनिट में तो लग रहा है कि भांग घोल दिया गया है, हर कोई नशे में लग रहा है, तभी तो अखबार में क्‍या जा रहा है क्‍या नहीं जा रहा है, इसे देखने वाला कोई नहीं है.

दयाशंकर राय होंगे राष्‍ट्रीय सहारा, बनारस के नए आरई

: स्‍नेह रंजन को हटाया जाएगा : सहारा समूह की रीति नीति को समझना भगवान के लिए भी आसान नहीं है. यहां की दुनिया हर पल रंग बदलती रहती है. हालांकि सहारा की रंग बदलती दुनिया में साफ दिखने लगा है कि स्‍वतंत्र मिश्रा के दिन अब लदते जा रहे हैं. अभी तक उपेंद्र राय के पॉवर में आने की आधिकारिक सूचना नहीं है, पर पिछले दिनों जिस तरीके से बदलाव हुए हैं, उसको देखकर लग रहा है कि अब पर्दे के पीछे से वे सक्रिय हो चुके हैं.

डीएम के तुगलकी फरमान पर सूचना विभाग सख्‍त, कहा – पत्रकारों से समन्‍वय बनाएं

बिहार के कटिहार के डीएम के महुआ न्‍यूज और इंडिया न्‍यूज के रिपोर्टरों से किसी अधिकारी के बात न करने के तुगलकी फरमान को बिहार राज्‍य सूचना एवं जनसंपर्क विभाग ने गंभीरता से लिया है. सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के प्रधान सचिव राजेश भूषण ने कटिहार के डीएम को कड़ा पत्र लिखा है तथा कहा है कि वे पत्रकारों से समन्‍वय बनाएं क्‍योंकि सरकार के कार्यों को आम जनता तक पहुंचाने के लिए मीडिया सशक्‍त माध्‍यम है.

अमर उजाला के फोटो जर्नलिस्‍ट ने दिखाई दिलेरी, धरा गया स्‍नैचर

लखनऊ मे मुख्यमंत्री कार्यालय के बाहर रविवार दोपहर अमर उजाला के फोटो जर्नलिस्ट की दिलेरी से एक वृद्ध महिला से चेन लूटकर भाग रहा बदमाश पकड़ लिया गया. हालांकि बाइरक पर सवार स्नेचर का दूसरा साथी फरार होने में सफल रहा. पुलिस उसकी तलाश कर रही है. पकड़ा गया बदमाश कानपुर का निवासी है. महिला ने बदमाश के खिलाफ कोई रिपोर्ट नहीं लिखाई है.

हॉकर बन गया क्षेत्रीय फिल्‍मों का हीरो

धनबाद : अखबार बेचते-बेचते धनबाद का एक छोरा क्षेत्रीय भाषा की फिल्मों का हीरो बन गया है। नया बाजार निवासी समाचार पत्र विक्रेता जयश्री राम का सुपुत्र करमदेव उर्फ केडी एलबम और फिल्मों के चर्चित सितारे के रूप में उभर रहा है। मौजूदा समय में केडी, राज द्वारा निर्देशित फिल्म जूरी हिजवा में बतौर हीरो काम कर रहे हैं। केडी की आनेवाली भोजपुरी फिल्म प्रेम बंधन है।

फोकस टीवी से भूपेंद्र, तरूणा और अजीत का इस्‍तीफा

: कंचन व सारिका जुड़ीं : फोकस टीवी से खबर है कि आंतरिक परिस्थितियों से तंग आकर तीन पत्रकारों ने इस्‍तीफा दे दिया है. ये लोग चैनल की लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे. जिन लोगों ने इस्‍तीफा दिया है उनमें एसोसिएट प्रोड्यूसर भूपेन्‍द्र सिंह, रिपोर्टर तरूणा भाटी तथा प्रोड्क्‍शन एसोसिएट अजीत कुमार सिंह शामिल हैं. ये लोग अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. बताया जा रहा है कि चैनल के अंदर राजनीति और अनियमित वेतन मिलने के चलते इस्‍तीफा दिया है.

सन् 2025 : कुछ लोक भाषाएं भी हुआ करती थीं

बाजार के दबाव में तिल-तिल कर मरती हुई भोजपुरी भाषा की दुर्दशा को लेकर मैं ने कुछ समय पहले एक उपन्यास लिखा – लोक कवि अब गाते नहीं। इंडिया टुडे में इस उपन्यास की समीक्षा लिखते हुए प्रसिद्ध भाषाविद अरविंद कुमार ने तारीफों के पुल बाँधते हुए एक सवाल भी लिख दिया कि अगर लेखक को भोजपुरी से इतना ही लगाव है और भोजपुरी कि उसे इतनी ही चिंता है तो यह उपन्यास भोजपुरी में ही क्यों नहीं लिखा? हिंदी में क्यों लिखा?

प्रतिभा, मेहनत और अध्‍ययन के सहारे शिखर पर पहुंचे थे आलोक तोमर : प्रदीप सिंह

: आलोक तोमर परम्‍परापीठ ने आयोजित की व्‍याख्‍यानमाला : ग्वालियर : देश के जाने-माने हिंदी पत्रकार प्रदीप सिंह ने कहा कि सरल और संतुलित भाषा, खबर की समझ और ख़बरों का फ़ॉलो-अप करने के प्रति आतुर रहना, यही गुण है जो किसी पत्रकार को निखारते हैं और इसके लिए सबसे जरूरी चीज है निरंतर अध्ययनशील रहने की प्रवृति। खबर से समझौता न करने का माद्दा, चाहे वह किसी को भी प्रभावित करती हो। यही बातें हैं जो किसी पत्रकार को शिखर पर पहुंचाती हैं।

आईबीएन7 से इस्‍तीफा देकर जयप्रकाश सिंह इंडिया टीवी पहुंचे

: श्‍याम शरण ने दैनिक जागरण ज्‍वाइन किया : आईबीएन7, मुंबई से सूचना है कि जयप्रकाश सिंह उर्फ जेपी ने संस्‍थान से इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे. जेपी ने अपनी नई पारी इंडिया टीवी के साथ शुरू की है. उन्‍हें चैनल में मुंबई का ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. जेपी लम्‍बे अरसे से आईबीएन7 को अपनी सेवाएं दे रहे थे. वे बीएजी और सहारा समय से भी जुड़े रहे हैं. जेपी की गिनती मायानगरी के तेजतर्रार पत्रकारों में की जाती है.

सपा नेता ने झांसी में बीडीओ को गोली मारी, हालत गंभीर

: आरोपी के खिलाफ अभी तक कोई कार्रवाई नहीं : यूपी में सपा को बहुमत मिलने के बाद से शुरू गुंडागर्दी अब भी चालू है. मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव के दावों के इतर सपाई अपनी गुंडई-दबंगई छोड़ने को तैयार नहीं हैं. आज सपा के पूर्व ब्‍लाक प्रमुख के पति ने एक बीडीओ को गोली मार दी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उनकी स्थिति गंभीर बनी हुई है. पुलिस ने अब तक आरोपी सपाई पर कोई कार्रवाई नहीं की है.

बिहार में मीडिया पर दबाव : सूचना निदेशक ने लिखा पत्र संतुष्‍ट नहीं हैं सूचना मंत्री

जस्टिस मार्कंडेय काटजू का बयान गलत नहीं है कि बिहार में मीडिया की आजादी पर पहरा है. बिहार में सरकार के खिलाफ खबर लिखने वालों को परेशान किया जाता है. अर्से से यहां के पत्रकार कहते चले आ रहे हैं कि नीतीश सरकार ने मीडिया को पंगु बना रखा है. जो पत्रकार या अखबार इन लोगों के खिलाफ आवाज उठाता है उसके तरीके से निपटा दिया जाता है. प्रबंधन पर दबाव डालकर पत्रकार को हटवा दिया जाता है या फिर उसका तबादला ऐसी जगह करवा दिया जाता है, जो उसके लिए काला पानी की सजा जैसा होता है.

साधना न्‍यूज एमपी-सीजी के स्ट्रिंगरों को नहीं मिला छह महीने से पैसा

साधना न्यूज एमपी-सीजी अपने स्ट्रिंगरो को बेवकूफ़ बना रहा है. जुलाई 2011 के बाद स्टोरी का कोई पैसा नहीं मिला है. दिसम्बर माह में एमपी के सभी ब्यूरो पर स्ट्रिंगरों की मीटिंग की गई. इस मीटिंग में भोपाल ब्यूरो के संजीव श्रीवास्तव आये थे. बड़े-बड़े सपने दिखाते हुए बड़ी-बड़ी बातें की गई और कहा गया कि जनवरी माह से आप सभी को नियमित रूप से भुगतान मिलेगा और सभी को रिपोर्टर बना कर फिक्स सेलरी दी जाएगी, लेकिन मार्च माह ख़तम होने को है कुछ भी आज तक नहीं मिला.

बनारस में लखनऊ का आरएनआई नम्‍बर प्रकाशित कर रहा है जनसंदेश टाइम्‍स

क्या यह संभव है कि बनारस से प्रकाशित किसी अख़बार की प्रिंट लाइन में आरएनआई नंबर व डाक पंजीयन नंबर लखनऊ का डाला जाये और वह भी भूलवश किसी एक दिन नहीं बल्कि अपने प्रकाशन के पहले दिन से ही। जी हाँ, जनसंदेश टाइम्स बनारस की प्रिंट लाइन में लगभग डेढ़ महीने पहले से लगातार लखनऊ का आरएनआई नंबर यूपीएचआईएन/ 2010/32745 व डाक पंजीयन नंबर जीपीओएलडब्ल्यू/एनपी -78/2011-13 प्रकाशित किया जा रहा है।

प्रभात खबर में पहले पन्‍ने पर प्रकाशित हुई थी आयकर छापेमारी की खबर

मनीष द्वारा लिखा गया लेख 'बिहार में किस्‍सा वही दोहराया गया, नीतीश से जुड़ी निगेटिव खबर को दबाया गया' न सिर्फ आधा-अधूरा सत्‍य है बल्कि यह पूरी तरह से भ्रामक भी है. मनीष बिना अखबार को पढ़े या तथ्‍यों को जाने-समझे लिखा है कि नीतीश को बचाने के लिए कुछ अखबारों ने खबर प्रकाशित नहीं की है जबकि हिंदुस्‍तान और प्रभात खबर ने इसे अंदर के पन्‍नों पर लिया है. खबर से लग रहा है कि मनीष या तो अखबार पढ़ते नहीं या किसी दुर्भावना से ग्रसित होकर उन्‍होंने यह लेख लिखा है.

अंबाला भास्कर में लीड हेडिंग- अम्बाला शहर में सम्पूर्ण इलैक्ट्रोनिक्स शौरूम सरगम का उदघाटन कल….

जी हां. बात दैनिक भास्कर की हो रही है. अंबाला में लोकल पेज अंबाला भास्कर के नाम से निकलते हैं. लोकल के पहले पेज पर लीड हेडिंग आठ कालम में है- अम्बाला शहर में सम्पूर्ण इलैक्ट्रोनिक्स शौरूम सरगम का उदघाटन कल…. इसके नीचे दो चार हेडिंग और हैं. एक हेडिंग है- 1 घंटे रूकी रही सदा ए सरहद. यह हेडिंग चार कालम में है. सिटी और कैंट में 41 केंद्रों पर सिविल सेवा परीक्षा आज. यह सिंगल कालम है. बलजिंद्र के हत्यारोपियों को पनाह देने वाला काबू. यह हेडिंग दो कालम में है. शुरुआती पहले कालम में नवरात्रि के तृतीय चंद्रघंटा के बारे में वर्णन है.

स्टार न्यूज वालों, तुम किस चीज से सहमत हो, लिस्ट जारी कर दो

लोकसभा में लोकपाल बिल पर शरद यादव के संबोधन की पुरानी क्लीपिंग आज जब जंतर मंतर पर दिखाई गई तो आखिर में टीम अन्ना के मनीष सिसोदिया ने नारा लगाया- इसे कहते हैं चोर की दाढ़ी में… और जनता ने इस मुहावरे को समवेत स्वर में पूरा किया-… तिनका. बस, टीवी वालों को मिल गया मसाला. स्टार न्यूज वालों ने तो हद कर दी. वे डिस्क्लेमर दिखाने के बाद इस खबर को दिखा रहे हैं. डिस्क्लेमर के दौरान स्टार न्यूज की तरफ से कहा जाता है कि हम टीम अन्ना के बयानों से सहमत नहीं हैं, हम सिर्फ ये खबर रिपोर्ट कर रहे हैं, हम सांसदों का सम्मान करते हैं. कुछ इसी टाइप की बात कहने के बाद स्टार न्यूज पर शरद यादव – मनीष सिसोदिया नारेबाजी प्रकरण को दिखाया जा रहा है.

चंडीगढ़ प्रेस क्‍लब के अध्‍यक्ष बने सुखबीर सिंह बाजवा, नलिन आर्चाय महासचिव

प्रतिष्ठित चंडीगढ़ प्रेस क्‍लब के लिए हुए चुनाव में सुखबीर सिंह बाजवा ने अध्‍यक्ष पद पर अपना परचम फहराया है. सुखबीर ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी विनय मलिक को 233 मतों से पराजित किया. विनय को मात्र 52 वोट ही प्राप्‍त हुए. बाकी पदों पर निर्विरोध चयन हुआ. सीनियर वाइस प्रेसिडेंड पद पर मानवीर सिंह सैनी, वाइस प्रेसिडेंट (रिजर्व) पर निशा शर्मा,  वाइस प्रेसिडेंट द्वितीय पर जसवंत सिंह राना चुने गए.

प्रभात खबर की पत्रकार अलमास फातमी को एसपी सिंह पुरस्‍कार मिला

प्रभात खबर, पटना की महिला पत्रकार अलमास फातमी को एसपी सिंह पुरस्‍कार से नवाजा गया. शनिवार को पटना पुस्‍तक मेले में आयोजित कार्यक्रम में कवि अशोक वाजपेयी ने प्रदान किया. अलमास को यह पुरस्‍कार पत्रकारिता में उनके द्वारा किए गए योगदान के लिए दिया गया है. उनके अलावा विद्यापति साहित्‍य पुरस्‍कार भोजपुर के युवा साहित्‍यकार समालोचक अभिषेक अवतंस को तथा भिखारी ठाकुर रंगकर्म पुरस्‍कार पटना के रंगकर्मी उदय कुमार को दिया गया. 

मीडिया से देश को खतरा!

ये बात जो लोग मीडिया में हैं उन्हें अटपटा सा लगे, या वो मानने को तैयार न हो, पर सच्चाई यहीं हैं कि आज मीडिया से देश को खतरा उत्पन्न हो गया हैं, ऐसे में जरुरी हैं कि सरकार मीडिया पर लगाम लगाये, उन्हें नियंत्रित करे अथवा कुछ ऐसे उपाय ढूंढे ताकि देश व समाज को मीडिया की खतरों से बचाया जाये। मीडिया से देश व समाज को कैसे खतरा उत्पन्न हो गया हैं। उसका एक नहीं अनेक उदाहरण हैं। जिस पर मीडिया के लोगों को ही खुद आत्ममंथन करने की जरुरत हैं।

‘हिंदुस्‍तान’ ने दिखाई ताकत और आईजी साहब बन गए डीआईजी

अब ये धमकी का असर है या कि फिर सीएम से प्‍यार जताने का पर बिहार में अपने को सर्वाधिक लोकप्रिय और प्रसार वाला समाचार पत्र बताने वाले दैनिक हिंदुस्तान ने बड़ी गड़बड़ कर दी है। अखबार के पटना संस्करण ने रविवार के अपने प्रकाशित अंक में इतनी बड़ी भूल की है कि बिहार का पुलिस महकमा और पाठक असमंजस में हैं। हिन्दुस्तान ने अपने अखबार के प्रथम पृष्ठ पर बिहार में हुए 58 आईपीएस अधिकारियों के तबादले की खबर प्रकाशित की है।

राघवन जी, आखिर ये वादा तोड़ा किसने है?

वरिष्‍ठ पत्रकार और कन्‍नड दैनिक विजया कर्नाटक के संपादक ई राघवन का शनिवार को निधन हो गया है. वे 61 साल के थे. वे पिछले चार दशक से पत्रकारिता में सक्रिय थे. राघवन ने अपने करियर की शुरुआत 1971 में इंडियन एक्‍सप्रेस, मैसूर के साथ की थी. वे लम्‍बे समय तक इस अखबार से जुड़े और बंगलुरू में अखबार के ब्‍यूरोचीफ भी बने. वे टाइम्‍स ऑफ इंडिया और इकोनामिक टाइम्‍स के भी संपादक रहे. रिटायरमेंट के बाद भी वे टाइम्‍स ग्रुप से जुड़े हुए थे.

नोएडा से रीजनल चैनल श्रीएस7 लांच

श्री ग्रुप का चैनल श्रीएस7 न्‍यूज की लांचिंग हो गई. ग्रुप के चेयरमैन मनोज दुबे ने चैनल की लांचिंग की. लांचिंग के बाद मनोज दुबे ने कहा कि यह चैनल उन खबरों और मुद्दों को उठाया जाएगा, जिसे दूसरे चैनल नहीं उठाते हैं. चैनल यूपी में केबल चैनलों पर दिखने भी लगा है. इसका मुख्‍य फोकस यूपी पर रहेगा. बाद में इसके विस्‍तार की योजना पर का किया जाएगा.

”शाहजहांपुर के एसपी ने दी मुझे एनकाउंटर की धमकी”

यशवंतजी, शाहजहांपुर के पुलिस अधीक्षक रमित शर्मा ने फोन पर मुझे जान से मारने की धमकी दी है। श्री शर्मा शाहजहांपुर समाचार नाम की फेसबुक आईडी पर अपराध से जुड़ी खबरें लिखे जाने से नाराज हैं। बीती 24 मार्च को रात के ठीक 2 बजकर 20 मिनट पर एसपी श्री शर्मा ने अपने बंगले के लैंड लाइन नंबर 222415 से मेरे मोबाइल नंबर 7376061960 पर काल की। एसपी श्री शर्मा ने काल करते ही धमकियां देनी शुरू कर दी। वह फेसबुक पर किसी खबर पर आए कमेंट को लेकर नाराज थे।

जी को अलविदा कर सहारा टीवी ज्‍वाइन करेंगे वाशिन्‍द्र मिश्र!

जी न्‍यूज यूपी-उत्‍तराखंड से खबर है कि चैनल हेड वाशिन्‍द्र मिश्र यहां से जल्‍द ही रुखसत होने वाले हैं. बसपा के नजदीकी रहे वाशिन्‍द्र को जी न्‍यूज से जाना उसी समय तय माना जा रहा था जब यूपी में सपा की सरकार आ गई थी. खबर है कि वे जल्‍द ही सहारा नमस्‍कार करते दिखाई देंगे. सहारा समूह के टीवी डिविजन में वे वरिष्‍ठ पद पर ज्‍वाइन करने वाले हैं. हालांकि अभी उन्‍होंने सहारा ज्‍वाइन नहीं किया है, पर सहारा में सब कुछ फाइनल हो चुका है.

डा. मुरली मनोहर जोशी की शर्मनाक हरकत, इलाहाबाद के पत्रकार स्तब्ध (पार्ट तीन)

भाजपा और उनके नेताओं से नजदीकी रिश्‍ता रखने वाले एनआरआई अंशुमान मिश्रा ने वरिष्‍ठ भाजपा नेता एवं बनारस के सांसद मुरली मनोहर जोशी पर गंभीर आरोप लगाए हैं कि वे 2जी घोटालों के आरोपियों से घर पर मिले. इन लोगों ने डा. जो‍शी को फंडिंग की. डा. जोशी इस आरोप से बौखलाए हुए हैं. इस पर जवाब देना वो अपनी इज्‍जत के खिलाफ समझ रहे हैं, लेकिन जब पत्रकारों ने उनसे इस मुद्दे पर सवाल किया तो उनको पत्रकारों की इज्‍जत का जरा भी ख्‍याल नहीं आया.

अब अन्ना को दौड़ाया काटजू ने

: अन्ना ईमानदार आदमी लेकिन उनमें वैज्ञानिक दृष्टिकोण की कमी है : भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम चलाने वाले सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे में वैज्ञानिक दृष्टिकोण का अभाव है, जबकि भ्रष्टाचार की समस्या के हल के लिए यह आवश्यक है.  न्यायमूर्ति काटजू ने एक कार्यक्रम में कहा, 'अन्ना हजारे के इस आंदोलन के बारे में मैंने अबतक कुछ नहीं बोला है क्योंकि मीडिया मुझपर हमला करता जैसे कि न्यायमूर्ति काटजू कोई दुष्टात्मा है. मैं अन्ना हजारे का एक ईमानदार व्यक्ति के रूप में आदर करता हूं और इसमें कहीं कोई विवाद नहीं है. लेकिन उनका वैज्ञानिक दृष्टिकोण क्या है? मुझे नहीं लगता कि उनका कोई वैज्ञानिक दृष्टिकोण है.'

(इंटरव्यू) कैलाश खेर ने पंकज शुक्ल से कहा- मैं एक अचंभा गाऊं…

कैलाश खेर की गायिकी की दुनिया दीवानी है। उनके गाए अल्लाह के बंदे को संगीतकार ए आर रहमान तक अपना पसंदीदा गीत मानते हैं। उनके कैलासा बैंड ने पिछले आठ साल में दुनिया भर में 800 से ऊपर कंसर्ट किए हैं। वह नौजवानों में एक हौसला, एक विचार, एक संस्कृति पनपती देखना चाहते हैं। एक ऐसी परंपरा जिसमें देश सर्वोपरि हो। लेकिन, खुद कैलाश खेर को कितने लोग जानते हैं? कितने लोग जानते हैं उस बच्चे कैलाश के बारे में जो अपने पिताजी के साथ साइकिल के डंडे पर बैठकर गांव गांव गाने जाया करता था? और कितने जानते होंगे, उस युवा कैलाश के बारे में जिसने कभी ऋषिकेश में कर्मकांड सीखकर अमेरिका में पंडिताई को अपना करियर बनाने का फैसला किया था? नई दुनिया, महाराष्ट्र के रेजीडेंट एडिटर और वरिष्ठ पत्रकार पंकज शुक्ल ने कैलाश खेर से बातचीत की. पेश है इंटरव्यू का अंश…

आई नेक्‍स्‍ट का जलवा : कुणाल वर्मा और विश्‍वनाथ गोकर्ण की टीम को कई पुरस्‍कार

: जागरण पुरस्‍कार समारोह : जागरण जर्नलिज्‍म अवार्ड में आई नेक्‍स्‍ट की टीम ने झंडा गाड़ दिया है. जागरण समूह के दैनिक जागरण, आई नेक्‍स्‍ट, जोश, मिड डे समेत सभी 57 यूनिटों में आई नेक्‍स्‍ट, देहरादून और बनारस ने अपना वर्चस्‍व जमाया है. देहरादून यूनिट को चार पुरस्‍कार मिले हैं. ये सभी पुरस्‍कार कुणाल वर्मा और उनकी टीम के लोगों को मिले हैं, जिनका तबादला कुछ समय पहले बरेली के लिए कर दिया गया था. बनारस में विश्‍वनाथ गोकर्ण और उनकी टीम ने तहलका मचाया है.

कैदी को उलटा लटका कर तलवे पर लाठियां मार रहा जेलर, देखें तस्वीर

Mahesh Jaiswal : मित्रों यह फोटो 6 माह पुरानी है. जब देश में एक तरफ भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना की आंधी चल रही थी तो दूसरी तरफ भदोही जिले के उप कारागार में कानून की धज्जियां उड़ाई जा रही थी. इस तस्वीर को ध्यान से देखें. इसमें एक डिप्टी जेलर एक कैदी को उल्टा लटका कर उसके तलवे पर लाठियों की बरसात कर रहा है. इस तरह के तालिबानी खेल को हमेशा से जेल में खेला जा रहा था. पर एक दिन हमारे साथी फोटो पत्रकार के कैमरे की नज़र से जेलर साहब बच न सके.

पत्रिका के खिलाफ अवमानना का मामला दर्ज, पत्रकारों का पास भी निरस्‍त

 छत्तीसगढ़ विधानसभा की कार्यवाही को विकृत रूप स्वरुप में प्रकाशित करने पर दैनिक समाचार पत्र ‘पत्रिका’ के खिलाफ विधानसभा की अवमानना का मामला विशेषाधिकार समिति के हवाले कर दिया गया है. साथ ही पत्रिका के पत्रकारों को जारी किये गए पत्रकार दीर्घा के प्रवेश-पत्रों को भी निरस्त कर दिया गया है. छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष धरमलाल कौशिक ने शनिवार को सदन में यह व्यवस्था दी.

बिहार में किस्‍सा वही दोहराया गया, नीतीश से जुड़ी निगेटिव न्यूज को दबाया गया

सौ साल (बिहार शताब्दी वर्ष समारोह) की आड़ में नीतीश सरकार ने एक बार फिर अपने छह साल के ‘उपलब्धियों‘ का बखान करने की पूरी तैयारी कर रखी थी. लेकिन इससे पहले कि 22 मार्च को मुख्य कार्यक्रम शुरू होता सरकार के मुखिया नीतीश कुमार का मूड जरा कसैला हो गया. मंगलवार, 20 मार्च, को उनके करीबी व स्वजातीय और उनके पार्टी के वर्तमान कोषाध्यक्ष विनय कुमार सिन्हा के घर और कार्यालय पर आयकर का छापा पड़ा. छापेमारी के दौरान लगभग 5 करोड़ एक बोरे में ठूंसे हुए मिले.

सहारा मीडिया में राय टीम फिर पंडितों पर भारी!

सहारा मीडिया में उपेंद्र राय की वापसी अगले कुछ दिनों के भीतर होने की संभावना है, इस संबन्ध में चर्चा आम है और एक के बाद एक हो रही राय टीम के लोगों की वापसी भी इसी ओर इशारा कर रही है. वंदना भार्गव को मीडिया की ज़िम्मेदारी दिये जाने के बाद से स्वतंत्र मिश्रा की छाती पर मूंग दलने की प्रक्रिया राय टीम के लोगों ने शुरू कर ही दी है. पहले विजय राय, फिर रमेश अवस्थी और अब बारी है उपेंद्र राय की जो गाजे बाजे के साथ सहारा का दामन पुन: थामेंगे.

पाकिस्तान की तरफ से भारतीय मीडिया और प्रेस काउंसिल को संदेश

: No: 15(2)/2012-PCP : Islamabad: March 21, 2012 : Subject: Message to the Indian Media and Members of the Press Council of India : His Excellency, Mr. Justice Markandey Katju, Chairman, Press Council of India, New Delhi : Mr. Chairman!, May I avail of this opportunity to express my gratitude for your email and letter sent through Syed Faseih Iqbal, Member, Press Council of Pakistan. Thank you for expressing good wishes / sentiments and acknowledging the role of Pakistani media and Press Council of Pakistan. I feel obliged on being updated about certain developments taking place in the field of media in India.

डा. मुरली मनोहर जोशी की शर्मनाक हरकत, इलाहाबाद के पत्रकार स्तब्ध (पार्ट दो)

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्‍ठ नेता, पूर्व केंद्रीय मंत्री, सांसद, पीएसी के अध्‍यक्ष डा. मुरली मनोहर जोशी के व्‍यवहार से इलाहाबाद का हर पत्रकार स्‍तब्‍ध है. क्‍या राष्‍ट्रीय स्‍तर का नेता इस तरह की बात कर सकता है? क्‍या वो अपना सयंम खो सकता है? इलाहाबाद में आजतक के पत्रकार विमल श्रीवास्‍तव भी उस प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद थे. विमल भी डा. जोशी के इस व्‍यवहार से सन्‍न रह गए. इस बारे में विमल का कहना है कि डा. जोशी ने पत्रकारों के साथ जिस तरह का व्‍यवहार किया वो कतई उचित नहीं था. एक वरिष्‍ठ राजनेता को इस तरह से आपा नहीं खोना चाहिए था और ना ही पत्रकारों पर झूठी हंसी हंसनी चाहिए थी.

‘I noted with regret that many regional languages of India, especially Urdu, are dying out’

My dear Justice Markandey Sahab, I hope this letter finds you in best of health and spirit. It gives me pleasure to recall meeting your good self during my recent visit to India. The meeting indeed provided us with a good interaction and an invaluable exchange of ideas on a host of issues including relations between our two countries. Your perspective on the issues was encouraging and I took a lot of positives out of the meeting. I was also pleased to know about your sound verdicts as Justice and courageous actions as Chairman Press Council of India and would like to tell you that your verdicts are held in high esteem in Pakistan.

डा. मुरली मनोहर जोशी की शर्मनाक हरकत, इलाहाबाद के पत्रकार स्तब्ध (पार्ट एक)

राज्यसभा के पर्चा भरने वाले पूर्व उम्मीदवार एनआरआई अंशुमान मिश्रा द्वारा लगाए गए गंभीर आरोपों पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता और संसद की पब्लिक एकाउंट कमेटी (पीएसी) के चीफ मुरली मनोहर जोशी को अब जवाब देते नहीं बन रहा है. इलाहाबाद की प्रेस कांफ्रेंस में पत्रकारों ने जब जोशी से इन आरोपों पर उनका पक्ष जानना चाहा तो वह तिलमिला उठे. प्रेस कांफ्रेंस में वह न सिर्फ आगबबूला होते हुए अपना आपा खो बैठे बैठे बल्कि सवाल पूछने वाले पत्रकारों से बदसलूकी भी की.

सहारा के छह पत्रकारों समेत कई चैनलों के लोग सम्‍मानित

मीडिया के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्यों के लिए सहारा इंडिया मीडिया के छह पत्रकारों को अलग-अलग श्रेणियों में सम्मानित किया गया. मीडिया के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्यों के लिए न्यूज चैनल सहारा समय के हेड मनोज मनु और प्रोग्रामिंग हेड संतोष राज समेत सहारा इंडिया मीडिया के छह पत्रकारों को अलग-अलग श्रेणियों में सम्मानित किया गया.

अनुष्का शंकर के एलबम Traveller में आलोक श्रीवास्तव का गीत

सितार के सरताज पंडित रविशंकर की बेटी अनुष्का शंकर का नया एलबम Traveller रिलीज़ हुआ है. US से दुनिया भर में रिलीज़ हुए Traveller के ट्रैक नं. 9 : Ishq को आलोक श्रीवास्तव ने लिखा है. आलोक आजतक न्यूज चैनल में कार्यरत हैं. उन्होंने अपने ब्लाग पर इस गीत के बनने की कहानी बयां की है और गीत सुनने का लिंक भी दिया है. आलोक के ब्लॉग लिंक  www.aalokshrivastav.itzmyblog.com है. उन्होंने अपने ब्लाग पर जो कुछ लिखा है, वो इस प्रकार है…

Dr MM Joshi met Balwa and Goenka : Anshuman Mishra

: Balwa has been a long time friend of BJP : New Delhi: NRI businessman Anshuman Mishra, who withdrew from the Rajya Sabha race from Jharkhand at the last moment, exclusively reveals to STAR News that the senior BJP leader Dr Murli Manohar Joshi met key 2G spectrum case accused Vinod Goenka and Shahid Balwa in his presence. In an exclusive interview to STAR News’ programme Shakshaat,  Anshuman Mishra said that Joshi had friendly relations with 2G accused Shahid Balwa and Vinod Goenka. “I went to Joshi’s home one day and there came Vinod Goenka who was involved in the 2G scam. After some time Shahid Balwa also came. They both met Dr Joshi. I do not deny that they were my friends as well," said Mishra.

पत्रकारों के खिलाफ दिग्विजय सिंह ने रची थी साजिश : के. विक्रमराव

भोपाल : इंडियन फेडरेशन आफ वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष के. विक्रमराव और राष्ट्रीय महासचिव परमानंद पांडेय लंबे अंतराल के बाद राजधानी पहुंचे। यहां उन्होंने अपनी भोपाल इकाई के आधिपत्य वाले पत्रकार भवन में नए कार्यालय भवन का उद्घाटन किया। श्री विक्रमराव ने अपने भाषण में पत्रकारों की इस राय से सहमति जताई कि पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ही मध्यप्रदेश के पत्रकारों के खिलाफ गहरे षड़यंत्र करवाए जिससे पूरे देश में मध्यप्रदेश की भारी बदनामी हुई।

यौन शोषण का आरोपी आईपीएस अफसर नौकरी से बर्खास्त

रांची से खबर है कि यौन शोषण के आरोपी आईपीएस अधिकारी पीएस नटराजन को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है. नटराजन इसी साल मई महीने में रिटायर होने वाले थे. बर्खास्तगी की वजह से आईपीएस नटराजन को पेंशन एवं ग्रेच्युटी का लाभ नहीं मिलेगा. इसके साथ ही उन्हें बर्खास्तगी की अधिसूचना जारी करने की तिथि से निलंबित रहने के दौरान दिए जाने वाला खर्च भी नहीं दिया जाएगा. इनकी बर्खास्तगी की सिफारिश झारखंड सरकार ने केंद्र सरकार और यूपीएससी से पहले ही कर रखी थी. इसके बाद राष्ट्रपति के आदेश पर इस आईपीएस को बर्खास्त कर दिया गया.

अतुल अग्रवाल ‘समाचार प्लस’ के साथ, ‘जनसंदेश टाइम्स’ का साथ शेष नारायण ने छोड़ा

दो सूचनाएं हैं. वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह ने यूपी के हिंदी अखबार जनसंदेश टाइम्स से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अखबार के एमडी अनुज पोद्दार को अपना इस्तीफा एसएमएस के जरिए भेजा. वे जनसंदेश टाइम्स के दिल्ली ब्यूरो चीफ थे. बाद में रोविंग करेस्पांडेंट के रूप में काम कर रहे थे. शेष नारायण अब छत्तीसगढ़ के हिंदी दैनिक दैनिक देशबंधु के साथ राजनीतिक संपादक के रूप में काम कर रहे हैं. एनडीटीवी समेत कई बड़े चैनलों अखबारों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके शेष नारायण स्तंभकार और विश्लेषक भी हैं. पिछले दिनों यूपी चुनाव के समय उन्होंने प्रमुख अंग्रेजी न्यूज चैनल टाइम्स नाऊ पर चुनाव विशेषज्ञ के रूप में कई दिनों तक परिचर्चा के एक्सपर्ट पैनल में शामिल रहे.

सहारागंज मॉल में एक बेबस परिवार को मैंने देखा

मॉल ट्रेंड ने हम भारतीयों को बहुत से वि‍कल्‍प दि‍ये हैं..प्रेमी युगल को समय बि‍ताने का एक ठौर…दोस्‍तों को मस्‍ती का एक हब…पैसे वालों को फुर्री उड़ाने का एक ठीकाना और नौकरीपेशा लोगों को महीने के पहले सप्‍ताह में 3-4 दि‍न खुश होने की एक वजह। एसी में रहने के सपने देखने वालों के लि‍ए कुछ पल ठंडक में बि‍ताने का आसरा..मनचलों के लि‍ए नयन सुख और नामी कंपनि‍यों को अपने प्रोडक्‍ट बेचने के लि‍ए बाजार… ।
लखनऊ से लौटते वक्‍त कुछ घंटे सहारागंज मॉल में बि‍ताये। कुछ खरीदने के लि‍ए नहीं..र्सि‍फ समय बि‍ताने के लि‍ए…ट्रेन लेट थी…।

नई दुनिया के ग्रुप एडिटर उमेश त्रिवेदी का ये है पांच पेजी इस्तीफानामा

आपने नई दुनिया से उसके ग्रुप एडिटर उमेश त्रिवेदी के इस्तीफे की खबर पढ़ ली. अब पढ़िए उनका लिखा इस्तीफानामा. यह एक ऐतिहासिक इस्तीफानामा है. जिस शख्स ने नई दुनिया जैसे अखबार के साथ 38 साल काम किया हो और ट्रेनी से लेकर ग्रुप एडिटर तक की यात्रा एक ही बैनर के साथ कर ली हो, जिसने कई महान संपादकों के सानिध्य में पत्रकारिता के ढेर सारे रंगरूप देखे हों, जिसने अखबार को बढ़ते फलते फूलते और अब बिकते हुए देखा हो, उसका इस्तीफानामा ऐतिहासिक होगा ही. लेकिन इसके ऐतिहासिक होने के कई और कारण हैं. उमेश त्रिवेदी ने अपने इस्तीफे में माना है कि नई दुनिया के सामने काफी बड़ा संकट है.

नईदुनिया के समूह संपादक उमेश त्रिवेदी का इस्‍तीफा

नईदुनिया के समूह संपादक उमेश त्रिवेदी ने इस्‍तीफा दे दिया है. नईदुनिया समूह के बिकने समेत तमाम तरह के कयासों के बीच उमेश त्रिवेदी का इस्‍तीफा एक महत्‍वपूर्ण घटनाक्रम माना जा रहा है. इसके साथ ही इस अखबार के भविष्‍य को लेकर चल रही चर्चाएं और तेज हो गई हैं. उमेश त्रिवेदी ने अपने पत्रकारीय करियर के साढ़े तीन दशक इस अखबार को दे दिए. उमेश ने अपने करियर की शुरुआत 35 साल पहले नईदुनिया से की थी. तब से लेकर अब तक वे नईदुनिया के साथ ही बने रहे.

इटावा में ही कानून-व्‍यवस्‍था को चुनौती, सिपाही की गोली मारकर हत्‍या

: पुलिस एसोसिएशन के अध्‍यक्ष ने प्रमुख सचिव को लिखा पत्र : इटावा। जिले में खाकी का इकबाल पूरी तरह खत्म हो चुका है। जनता की रक्षा करने वाली खाकी स्वयं ही सुरक्षित नहीं है पिछले दिनों कई स्थानों पर खाकी बेइज्जत हुई और रात एक सिपाही की गोली मारकर हत्या कर दी गई। इस घटना से पूरे जिले में सनसनी फैल गई। खाकी स्वयं भय के बीच जी रही है, तो आम जनता की क्या बिसात।

2जी घोटाले के आरोपियों से संबंध हैं डा. जोशी के : अंशुमान

: अरुण जेटली के कई राज मेरे पास हैं : पांच राज्‍यों के विधानसभा चुनाव में खट्टा-मीठा अनुभव करने वाली भाजपा के मुंह को एनआरआई अंशुमान मिश्रा ने तीखा कर दिया है। उन्‍होंने कई मोर्चे पर घिरी भाजपा की मुश्किलें और बढ़ा दी हैं। अंशुमान मिश्र ने कहा है कि 2जी घोटालों के आरोपी शाहिद बलवा और विनोद गोयनका का भाजपा के वरिष्‍ठ नेता व पूर्व मंत्री मुरली मनोहर जोशी से गहरा रिश्‍ता है। अंशुमान ने कहा है कि पीएसी के अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी ने उनकी उपस्थिति में 2 जी घोटाले के अभियुक्तों से अपने घर पर मुलाकात की जिनमें स्वान टेलीकॉम के प्रमोटर शाहिद बलवा भी शामिल हैं।

पीटीआई के पूर्व अध्‍यक्ष एवं वरिष्‍ठ पत्रकार पीके रॉय का निधन

पीटीआई के पूर्व अध्‍यक्ष एवं वरिष्‍ठ पत्रकार पीके रॉय का शनिवार को कोलकाता में निधन हो गया. वे 91 वर्ष के थे. वे अपने पीछे पत्‍नी और दो पुत्रियां तथा उनका भरा पूरा परिवार छोड़ गए हैं. श्री रॉय पीटीआई के चेयरमैन, आईएनएस और एबीसी के अध्‍यक्ष भी रह चुके थे. रॉय ने बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय से भौतिक विज्ञान में एमएससी किया था. इसके बाद उन्‍होंने इंग्‍लैंड से प्रिटिंग टेक्‍नॉलाजी का कोर्स किया.

FIPB defers Network18’s proposal to get FDI for publishing biz ‎

NEW DELHI: Network18's proposal to get foreign direct investment (FDI) for publish business has been deferred by the Foreign Investments Promotions Board (FIPB). The FIPB has also put on hold Cellcast Interactive India's proposal to set up three non-news and current affairs television channels in Hindi, Tamil and Telugu in India. Recently, Cellcast launched social TV channel, MyTV.

भास्‍कर से धीरेंद्र अवस्‍थी का इस्‍तीफा, आज समाज में सीनियर एनई बने

दैनिक भास्‍कर, औरंगाबाद से खबर है कि धीरेंद्र अवस्‍थी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर स्‍थानीय संपादक थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी आज समाज, अंबाला से शुरू की है. इन्‍हें यहां सीनियर एनई बनाया गया है. पिछले सत्रह सालों से मुख्‍य धारा की पत्रकारिता में सक्रिय धीरेंद्र को कई यूनिट लांच कराने का श्रेय है. वे अमर उजाला, मुरादाबाद के एनई पद से इस्‍तीफा देकर औरंगाबाद पहुंचे थे.

राज्‍यसभा टीवी का आउटपुट बना वर्चस्‍व के जंग का अखाड़ा

यशवंतजी, राज्‍यसभा टीवी वर्चस्‍व की भेंट चढ़ता नजर आ रहा है. बात यहां तक पहुंच गई है कि संसदीय परम्‍पराओं के प्रचार-प्रसार के लिए शुरू किए गए इस चैनल में संसदीय गरिमा का ही पालन नहीं किया जा रहा है. लोग एक दूसरे से भिड़ने को तैयार बैठे हैं. पिछले एक महीने में ही आउटपुट में मारपीट और गाली-ग्‍लौज की आधा दर्जन घटनाएं सामने आई हैं. सारा मामला वर्चस्‍व को लेकर है.

‘कन्‍या बचाओ अभियान’ के बहाने धन कमाओ अभियान में जुटा है भास्‍कर

पैसा कमाने के लिए ना जाने क्‍या-क्‍या करना पड़ता है. किस तरीके से रंगा सियार बनना पड़ता है. लोगों की आंखों में धूल झोंकना पड़ता है. बेवकूफ बनाना पड़ता है. उनके भावनाओं को उभारना पड़ता है, तब जाकर मिलता है पैसा. ऐसा ही कुछ हरियाणा में दैनिक भास्‍कर कर रहा है. राज्‍य में 'कन्‍या बचाओ अभियान' के नाम पर यह अखबार पैसा कमाओ अभियान चला रहा है.

लाइव प्रोग्राम में एक ने दूसरे के ऊपर पानी का गिलास फेंका

भारतीय न्‍यूज चैनलों में तमाम मुद्दों को लेकर होने वाले डिबेटों में अलग-अलग विचारधारा के लोगों के बीच बहस होती रहती है. लोग एक दूसरे से ऊंची आवाज में भी बात करते हैं. अभी बहुत समय नहीं हुआ, जब आशुतोष ने कांग्रेस के सांसद संजय निरुपम को लाइव प्रोग्राम से जाने के लिए कह दिया था. चैनलों पर इस तरह के बहस के प्रोग्राम पंसद भी किए जाते रहे हैं. पाकिस्‍तान में भी एक्‍सप्रेस न्‍यूज पर ऐसे ही लाइव कार्यक्रम के दौरान गालियां तथा धमकियां सुनने को मिली थीं.

मुख्‍यमंत्री के गृह जनपद में ही अवैध खनन का काला कारोबार

इटावा : यमुना नदी में खनन माफिया व पुलिस की मिलीभगत से करोड़ों रुपए कीमत की बालू (रेत) का अवैध खनन कर सरकार को लाखों रुपए राजस्व का चूना लगाया जा रहा है।  पुलिस की मिलीभगत के चलते खनन माफिया इतने दबंग हो गए है कि खुलेआम वन विभाग की जमीन पर पचासों लाख रूपए कीमत की बालू का डंप किये हैं और खनन विभाग से लेकर आला अधिकारी तक आँखों पर पट्टी बांधे हुए हैं। यमुना नदी में विगत कई वर्षों से अवैध खनन का काला कारोबार निरंतर जारी है जबकि यमुना नदी में खनन करने पर पूर्णतः रोक लगी  हुई है।

बीबीसी की अगली डाइरेक्‍टर जनरल होंगी हेलेन बॉडेन!

बीबीसी की अगली बॉस कोई महिला हो सकती है। जी हां, बीबीसी ने हाई प्रोफाइल महानिदेशक के पद के लिए किसी महिला को नियुक्त करने का मन बनाया है। बीबीसी ट्रस्ट के पूर्व चेयरमैन सर माइकल लियोंस ने इस बात का खुलासा किया है। बीबीसी के वर्तमान डाइरेक्‍टर जनरल मार्क थॉम्‍पसन ओलम्पिक खेलों के बाद रिटायर हो जाएंगे। वे पिछले आठ सालों से इस पर पर कार्यरत हैं। उनके रिटायरमेंट को देखते हुए नए डाइरेक्‍टर जनरल की तलाश शुरू कर दी गई है।

इंडिया न्‍यूज से सुमित का इस्‍तीफा, उमाशंकर की नई पारी

इंडिया न्‍यूज यूपी-उत्‍तराखंड से खबर है कि सुमित शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. बताया जा रहा है कि सुमित अपनी पत्‍नी की बीमारी की वजह से चैनल हेड राशिद से छुट्टी मांगी थी, परन्‍तु राशिद ने छुट्टी देने की बजाय कह दिया कि नौकरी चुनो या तो बीबी चुनो. बताया जा रहा है कि इस बात से नाराज होकर सुमित ने इस्‍तीफा दे दिया. वे यहां पर स्‍पेशल स्‍टोरी देख रहे थे. सुमित अपनी नई पारी कहां से शुरू करेंगे इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. 

प्रेस फोटोग्राफर को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, कैमरा भी लूटा

अलीगढ़ के अतरौली इलाके में शुक्रवार को एक मीडिया फोटोग्राफर को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया. उस बेचारे की गलती इतनी थी कि उसने नकल करने-कराने वालों लोगों की तस्‍वीर खींचने की हिमाकत कर दी थी. हमलावरों ने फोटोग्राफर को पीटने के साथ उनका कैमरा व मोबाइल भी लूट लिया. फोटोग्राफर ने मामले की नामजद रिपोर्ट दर्ज करा दी है. पर अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

‘ब्रांड को जियो’ के साथ जागरण का वार्षिक सम्‍मेलन शुरू

आगरा : सामाजिक सरोकार, सकारात्मक सोच और कौशल विकास। अखबार की सफलता के तीन मूल मंत्र हैं। जागरण प्रकाशन लिमिटेड के चेयरमैन एवं प्रबंध संपादक महेंद्र मोहन गुप्त और संपादक संजय गुप्त ने शुक्रवार को पत्रकारों, प्रबंधकों और ब्रांड प्रबंधकों को यह सीख दी। अवसर था जागरण समूह के वार्षिक सम्मेलन का उद्घाटन समारोह। मुगल शेरेटन होटल में तीन दिन के इस सम्मेलन का विषय है ब्रांड को जियो।

काजमी पर दर्ज होगा मनी लांड्रिंग का केस

नई दिल्ली : इजरायली राजनयिक पर हमले के आरोपी सैयद मोहम्मद अहमद काजमी के खिलाफ मनी लांड्रिंग का शिकंजा कस गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने काजमी के खिलाफ मनी लांड्रिंग रोकथाम कानून (पीएमएलए) के तहत केस दर्ज कर उनकी पत्नी को समन भेजकर पूछताछ के लिए बुलाया है। वहीं हमले के आरोपी चार ईरानी नागरिकों के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कार्नर नोटिस जारी कर दिया है।

जज बनने की कोशिश न करें पत्रकार : उमर

: जम्‍मू में 'द ट्रिब्‍यून' की लांचिंग : जम्मू : समाचार पत्रों में सही तथा सटीक खबरें छापने की वकालत करते हुए मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने पत्रकारों को समाज की सही तस्वीर लोगों के आगे पेश करने की सलाह दी। उमर पत्रकारों के रवैये से खुश नहीं दिखे। शुक्रवार को अंग्रेजी समाचार पत्र 'द ट्रिब्‍यून' की लांचिंग पर पहुंचे उमर ने पत्रकारों से कहा कि वह वकील के तौर पर मामले को जनता के सामने रखें न कि जज की भांति अपना फैसला सुना दें।

बालीवुड से बोल्ड भोजपुरी सिनेमा

मुंबई : बालीबुड की फिल्मों के बोल्ड होने का सिलसिला जारी है. जिस तरह बोल्ड विषय वाली फिल्में दर्शकों को आकर्षित कर रही हैं, उसके कारण निर्माताओं को अपनी फिल्मों के 'ए' (केवल वयस्कों के लिए) सर्टिफिकेट लेने से परहेज नहीं रहा. हिंदी की अपेक्षा भोजपुरी में अधिक बोल्ड फिल्में बन रही हैं. पिछले साल सेंसर से पास आधी से अधिक भोजपुरी फिल्में ए सर्टिफिकेट वाली थी.

यूपी में सपा के गुंडाराज की आहट, पत्रकार ने फेसबुक पर बयां की हकीकत

Dilnawaz Pasha : उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था का क्या हाल है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि गुरुवार को प्रदेश की राजधानी लखनऊ के हजरतगंज इलाके में समाजवादी पार्टी के एक विधायक के बेटे ने नशे में धुत्त होकर एक अधिवक्ता की बेरहमी से पिटाई की। इस वारदात में उसके कई गुर्गे भी शामिल थे। लखनऊ हाईकोर्ट का यह 29 वर्षीय वकील एफआईआर दर्ज कराने थाने पहुंचा। मामला विधायक के बेटे के खिलाफ था इसलिए सिर्फ शिकायत में बदल कर वकील को वापस घर भेज दिया गया।

स्वामी नित्यानंद पर विदेशी पुरुष भक्त का आरोप- बाबा ने मेरे साथ कई बार कुकर्म किया

Sunita Journo : The Karnataka CIDfiled an additional charge sheet in the Ramanagaram court, claiming that besides several women, Nithyananda alias A.Rajasekhara forced a man to have sex with him on a number of occasions both at his Bidadi ashram as well as in some cities in the US.CID have confirmed that evidence has emerged that Nithyananda was indulging in unnatural sex.The man, whose identity is not being revealed, complained to the State CID some time ago over Skype and his statement was video-recorded after due permission from the court.

मीडिया के मालिक, मीडिया के कर्मी और मीडिया के पाठक-श्रोता-दर्शक जरूर पढ़ें इसे

अपने समय के पेचीदा सवालों से दो-चार होने का काम संपादक का होता है. बहुत गिने चुने ऐसे संपादक रह गए हैं जो बेहद ईमानदारी से अपना काम करते हैं, सोचते हैं और लिखते-पढ़ते-पढ़ाते हैं. हम लोग गर्व कर सकते हैं कि हम लोग जिस वक्त में जी रहे हैं उस समय में हिंदी में हरिवंश जैसे शख्स संपादक के रूप में हम लोगों के पास हैं. हरिवंश दिल्ली, मुंबई में नहीं बल्कि रांची में रहते हैं. हिंदी अखबार प्रभात खबर में वे प्रधान संपादक हैं. इस अखबार का मुख्यालय रांची में है. यहीं पर हरिवंश पाए जाते हैं.

जनसंदेश टाइम्‍स के पत्रकार सम्‍पूर्णानंद को पुत्रशोक

उत्‍तर प्रदेश के मऊ जिले में जनसंदेश टाइम्‍स से जुड़े वरिष्‍ठ पत्रकार सम्‍पूर्णानंद दुबे के पुत्र अमन का असामयिक निधन हो गया. वो नौ वर्ष का था. सम्‍पूर्णानंद के तीन बच्‍चों में अमन बीच का था. अमन का अंतिम संस्‍कार गाजीपुर जिला में गंगा तट पर किया गया. मुखाग्नि सम्‍पूर्णानंद ने ही दी. इस दौरान काफी संख्‍या में परिजन, शुभचिंतक तथा पत्रकार मौजूद रहे.

दैनिक भास्‍कर, उदयपुर में फेरबदल, जागरण से अजय का इस्‍तीफा

दैनिक भास्‍कर, उदयपुर से खबर है कि संपादकीय टीम में फेरबदल किया गया है. वरिष्‍ठ पत्रकार संजय गौतम को प्रमोट करते हुए चीफ रिपोर्टर बना दिया गया है. डेस्‍क पर तैनात विपिन गांधी को एक फिर से रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. अब तक क्राइम की जिम्‍मेदारी संभाल रहे नरेंद्र पुर्बिया को जिला परिषद की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. नरेंद्र अब ये बीट कवर करेंगे. वहीं इस बीट पर काम कर रहे नारीश्‍वर राव को क्राइम की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. संभावना जताई जा रही है कि अभी कुछ और बदलाव किए जा सकते हैं.

जनसंदेश टाइम्‍स से जितेंद्र पाण्‍डेय एवं हिंदुस्‍तान से कुलदीप का इस्‍तीफा

जनसंदेश टाइम्‍स, गोरखपुर से खबर है कि स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट पद पर नियुक्‍त होने वाले जितेंद्र पाण्‍डेय का बोरिया बिस्‍तर बंध गया है. गोरखपुर के सांसद योगी आदित्‍यनाथ के खिलाफ खबर लिखकर सुर्खियों में आए जितेंद्र क्‍यों हटाए गए हैं या इस्‍तीफा दिया है इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. जितेंद्र अमर उजाला से इस्‍तीफा देकर जनसंदेश टाइम्‍स पहुंचे थे. बताया जा रहा है कि इन्‍होंने फिर से अमर उजाला में वापसी कर ली है. हालांकि इस खबर की पुष्टि नहीं हो पाई. जितेंद्र राष्‍ट्रीय सहारा, दैनिक जागरण को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

ईमानदार पत्रकार उमेश को भगोड़ा कहने वाला है कौन?

हजारीबाग सन्मार्ग कार्यालय के पूर्व प्रभारी उमेश प्रताप ने अपने साथियों के शोषण और प्रबंधन की मनमानी के खिलाफ खुला बगावत करते हुए अपने पद से त्याग पत्र दिया है। आपके न्यूज साइट पर कथित भ्रष्टाचार विरोधी मंच के माध्यम से एक खबर दी गयी है कि सन्मार्ग अखबार का कार्यालय रातोंरात बंद हो गया और पूर्व ब्यूरो चीफ समान लेकर भाग गये। हरिनारायण सिंह के संपादक बनने के बाद खलबली मची है।

सड़क हादसे में हिंदुस्‍तान के क्राइम रिपोर्टर घायल, अब तक होश नहीं

पीलीभीत में हुए एक सड़क हादसे में हिंदुस्‍तान के पत्रकार गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. उनके एक साथी भी घायल हुआ है. बताया जा रहा है कि पीलीभीत में हिंदुस्‍तान के क्राइम रिपोर्टर रामनिवास शर्मा गुरुवार की रात कार्यालय का काम खतम करके अपने घर जा रहे थे. कार में उनके साथ उनका एक साथी भी थी. बताया जा रहा है कि स्‍टेट हाइवे पर वे पूरनपूर के पास पहुंचे ही थे कि किसी को बचाने में रास्‍ते में खड़ी एक ट्रक से टकरा गई.

जावेद अख्‍तर बने प्रभात खबर के अतिथि संपादक

हमलोग अक्सर कहते हैं कि हिंदुस्तान सोने की चिड़िया थी. इसके अपने अर्थ हैं. आखिर वह भारत के कौन से हिस्से थे, जिसे सोने की चिड़िया कहा जाता था. आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु तो काफ़ी दूर थे. उन इलाकों से तो भारत के बाकी लोग वाकिफ़ भी नहीं थे. सोने की चिड़िया यही थी-यही हिंदीभाषी प्रदेश (मगध-अवध प्रदेश). यहीं सब कुछ हुआ. सभी देवी-देवताओं का संबंध यहीं से रहा है. ईस्ट इंडिया कंपनी का भी केंद्र यही इलाका रहा. आज भले ही इसे आप बिहार, यूपी के रूप में राजनीतिक रूप से अलग कर देखें, उस वक्त तो सब एक ही थे.

नईदुनिया का पराभव (अंतिम) : सफल होने के लिए चाहिए साक्षी जैसी पूंजी व सरकारी समर्थन

नई दुनिया के बहाने दो किस्तों में आपने पढ़ा, छोटे व मझोले क्षेत्रीय अखबारों की चुनौतियां. इन चुनौतियों में बढ़ती कर्ज की कीमत (यानी सूद) मारक है. फ़िर सबसे घातक है, न्यूज प्रिंट की लगातार बढ़ती कीमतें. कागज की मिलों का बंद होना, डॉलर के मुकाबले रुपये का कमजोर होना. एक छोटे अखबार में कुल टर्न ओवर का 70 फ़ीसदी सिर्फ़ न्यूज प्रिंट पर खर्च होता है. विज्ञापन बाजार भी अनेक संस्करण वाले अखबारों के पक्ष में है. इस तरह क्षेत्रीय पत्रकारिता के सामने कई मारक चुनौतियां हैं. भविष्य में कोई अखबार ताकतवर बनना चाहता है, तो उसे कैसा सपोर्ट चाहिए, पढ़िए अंतिम किस्त में.

नईदुनिया, ग्‍वालियर के स्‍टॉफ को डरा रही है गिनती

: कानाफूसी : नईदुनिया बिक गया? नईदुनिया को जागरण वाले टेकओवर कर रहे हैं? नईदुनिया की बागडोर एक अप्रैल से जागरण वाले संभाल लेंगे? इन सभी चर्चाओं के बीच जो एक नई बात नईदुनिया के ग्वालियर संस्करण से जुड़े लोगों को सताने लगी है वह है संस्थान में रखी संपत्ति की गिनती होना। पिछले दो दिनों से नईदुनिया ग्वालियर के संस्थान में इस बात की गिनती हो रही है कि कितने कंप्यूटर हैं। कितनी ट्यूबलाइटें हैं। कितने पंखें हैं। कितनी टेबल और कितनी कुर्सियां हैं?

पीपुल्‍स समाचार, इंदौर के कर्मचारियों को नहीं मिला फरवरी का वेतन

पीपुल्‍स समाचार, इंदौर के कर्मचारी परेशान हैं. उन्‍हें अब तक फरवरी महीने का वेतन नहीं मिला है, जबकि मार्च का महीना भी खतम होने के कगार पर पहुंच गया है. कर्मचारियों को ये भी नहीं बताया जा रहा है कि उनकी सेलरी कब आएगी. इंदौर यूनिट के किसी भी विभाग की सेलरी नहीं आई है. पूछने पर प्रबंधन के लोग कर्मचारियों से सीधे मुंह बात तक नहीं कर रहे हैं. कर्मचारी कहते हैं कि सेलरी के बारे में पूछे जाने पर उन्‍हें कहा जा रहा है कि दरवाजा खुला है, जिसे जाना हो जा सकता है.

टीवी चैनल की एंकर पर जानलेवा हमला, अस्‍पताल में भर्ती

हैदराबाद में चैनल स्‍टूडियो एन की एंकर पर जानलेवा हमला किया गया. हमला करने वाला कोई और नहीं बल्कि उसका पति है. एंकर का श्रु‍ति उर्फ मेघना रेड्डी है. महिला एंकर पर यह हमला उस समय किया गया, जब वह न्‍यू भोइगुडा स्थित अपने पति के घर सामान लेने गई थी. उसके साथ दो महिला पुलिस कांस्‍टेबल भी थीं. इन्‍हें भी चोट आई है. मेघना को इलाज के लिए गांधी हास्‍पीटल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत खतरे से बाहर है.

जनसंदेश चैनल के स्ट्रिंगरों को महीनों से पैसे का इंतजार

यशवंतजी, जनसंदेश चैनल के स्ट्रिंगरों का हाल बुरा है. चैनल ने पिछले साल जुलाई माह के बाद से अब तक स्ट्रिंगरों का पैसा नहीं दिया है. आश्‍वासन रोज मिलता है कि इस महीने कर दिया जाएगा, उस महीने कर दिया जाएगा, परन्‍तु साल भर होने को आ रहा है अब तक हिसाब-किताब नहीं किया गया. इक्‍का-दुक्‍का खुशनसीब या कहिए प्रबंधन के चहेते स्ट्रिंगरों के अलावा किसी भी स्ट्रिंगर का पूरा हिसाब क्‍लीयर नहीं हुआ है.

कैमूर जिला स्‍थापना वर्ष कार्यक्रम से दूर रखे गए इलेक्‍ट्रानिक मीडिया के पत्रकार

: मीडिया पर अघोषित पाबंदी : बिहार में कैमूर जिला का स्‍थापना दिवस 17 मार्च को स्‍थानीय जगजीवन राम स्‍टेडियम में मनाया गया, परन्‍तु इससे इलेक्‍ट्रानिक मीडिया के लोगों को दूर रखा गया. अधिकारियों ने जनप्रतिनिधियों को भी बुलाने की जहमत नहीं उठाई. जिले के चार विधानसभा के ना तो विधायक बुलाए गए थे और ना ही स्‍थानीय सांसद और लोकसभा स्‍पीकर मीरा कुमार को आमंत्रित किया गया था. अधिकारियों ने टीवी मीडिया के लोगों को आयोजन से पूरी तरह दूर रखा.

अनिल दीक्षित की नई पारी, रतन का इस्‍तीफा

करियर पत्रिका 'प्रतियोगिता साहित्‍य' से अनिल दीक्षित ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी आगरा से प्रकाशित होने जा रहे राष्‍ट्रीय दैनिक 'पुष्‍प सवेरा' से शुरू करने जा रहे हैं. अनिल पिछले डेढ़ दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं. उन्‍होंने करियर की शुरुआत दैनिक आज से की थी. इसके बाद अमर उजाला, दैनिक जागरण, आई नेक्‍स्‍ट होते हुए प्रतियोगिता साहित्‍य पहुंचे थे.

नई दुनिया कांग्रेस के हाथों कबका बिक चुका है!

Pankaj Jha : नयी दुनिया अखबार भले जागरण के हाथ आज-कल में बिका हो लेकिन कांग्रेस के हाथ तो कब का न ये दैनिक बिक चुका है. आज का ही अंक देखिये. जहां देश के लगभग सारे अखबारों ने सोनिया-मनमोहन द्वारा किये गए दस लाख करोड के घोटाले को प्रमुखता से प्रकाशित किया है वहीं …

इस बार राज्‍यसभा में चार पत्रकारों की भी इंट्री

संसद के उच्‍च सदन में राजनेताओं के साथ इस बार चार पत्रकार भी पहुंचे हैं. चारो निर्विरोध चुनकर गए हैं. तीन पत्रकार तृणमूल कोटे से तथा एक पत्रकार कांग्रेस के कोटे से राज्‍यसभा में आए हैं. तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल से जिन तीन पत्रकारों को राज्‍यसभा भेजा है उसमें कुणाल घोष, नदिमुल हक और विवेक गुप्‍ता शामिल हैं वहीं कांग्रेस ने आंध्र प्रदेश से रापोलू आनंद भास्‍कर को उच्‍च सदन पहुंचाया है.

राज्यसभा यानि धंधेबाजी के लिए धंधेबाजों का अड्डा

झारखंड में बीजेपी की आत्मा जागी और उसने तय किया कि राज्यसभा चुनाव में विधायकों की खरीद-फरोख्त को देखते हुये वह चुनाव में वोट भी नहीं डालेगी। यानी झारखंड में राज्यसभा की दो सीटों के लिये पांच उम्मीदवारों की होड़ में उसके विधायक किसी को वोट नहीं डालेंगे। तो क्या यह मान लिया जाये कि चुनाव का बायकॉट बिगड़ी चुनावी व्यवस्था में सुधार का पहला कदम है। और आत्मा जगाकर खामोश बैठी बीजेपी का सच तो यही है कि जब चुनाव आयोग ने ही राइट टू रिजेक्ट का सवाल यह कहकर खड़ा किया कि ईवीएम में आखरी कालम खाली छोड़ा जाये तो ससंद के भीतर आडवाणी समेत संसद ने एक सुर में इसे नकारात्मक वोटिंग करार दिया था। इसके बाद मामला ठस हो गया।

पीत-पत्रकारिता का चरम आप इस बिहारी ‘हिंदुस्तान’ में घटित होता देख सकते हैं

Musafir Baitha : पटना से प्रकाशित अखबार 'हिंदुस्तान' में या तो कोई ऐसा इतिहासकार बैठा है जो दैवी गुणों से युक्त है और उसके हाथ में चमत्कारी कुदाल है जिससे वह नए ऐतिहासिक तथ्यों का उत्खनन कर डालता है. आज के अंक में (पृष्ठ-०८) इसमें बताया गया है कि 'शेरशाह की मस्जिद का निर्माण १५४१ में हुआ था'. आपके बाल-बच्चे यदि यही अखबार पढते हैं तो वे इतिहास पुस्तक में 'शेरशाह की मस्जिद' नहीं वरन 'शेरशाह का मकबरा' पढ़ कर अपना बाल नोचेंगे.

सेवा में संपादक, भड़ास, खबर है कि हजारीबाग में सन्मार्ग अखबार का आफिस बंद हो गया है….

सेवा में संपादक, भड़ास, खबर है कि हजारीबाग में सन्मार्ग अखबार का आफिस बंद हो गया है. रातोंरात सभी सामान लेकर पहले के ब्यूरो चीफ भाग गए. गुरु गोविन्द सिंह स्थित कार्यालय के मकान मालिक को भी किराया नहीं दिया है. हरिनारायण सिंह के संपादक बनते ही खलबली चालू हो गयी है. शैलेश शर्मा जो 5 अखबारों को छोड़ चुके हैं, उनको नया ब्यूरो चीफ बनाया गया है.  फिलहाल संपादक और ब्यूरो चीफ दोनों एक ही रास्ते के मुसाफिर हैं. अभी ऑफिस न्यूज़11 के प्रमंडलीय प्रभारी मिथिलेश कुमार के आवास में चल रहा है.

अरुण अशेष दैनिक जागरण पटना से जुड़े, ईटीवी रायपुर के नए ब्यूरो चीफ मनोज बघेल

ईटीवी बिहार-झारखंड में बिहार के ब्यूरो चीफ के पद से इस्तीफा देने वाले वरिष्ठ पत्रकार अरुण अशेष ने पटना से प्रकाशित होने वाले दैनिक जागरण में राजनीतिक संपादक के तौर पर नई पारी शुरू की है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के करीबी पत्रकार माने जाने वाले अरुण अशेष ने गोरखपुर ऑफिस में ज्वॉयन किया…बाद में उन्हें पटना भेज दिया गया। अरुण अशेष, इससे पहले दैनिक आज, दैनिक हिन्दुस्तान, ईटीवी समेत कई संगठनों में सीनियर पदों पर काम कर चुके हैं। जानकारी के अनुसार लेखनी के धनी अरुण अशेष को हिन्दुस्तान प्रबंधन भी वापस लेने को तैयार था।

उल्फा ने दी टेलीविजन चैनल मालिक को प्रदेश से चले जाने की धमकी

गुवाहाटी। उग्रवादियों के निशाने पर रहे असम के मीडिया घरानों पर एक बार फिर उग्रवादी संगठन उल्फा ने आंखे त़रेरी है। अलग संप्रभु राज्य की मांग के लिए पिछले तीन दशक से सशस्त्र जंग छेड़ चुके इस संगठन ने प्रदेश के एक अग्रणी निजी टेलीविजन चैनल डीवाई-365 को प्रदेश से बोरिया बिस्तर समेट लेने की धमकी दी है।

देवेंद्र अरोड़ा बने 4रीयल न्‍यूज के प्रोग्रामिंग हेड

पिछले दिनों हमार टीवी से इस्‍तीफा देने वाले देवेंद्र अरोड़ा के बारे में खबर है कि वे अब 4रीयल न्‍यूज से जुड़ गए हैं. उन्‍हें यहां पर प्रोग्रामिंग हेड बनाया गया है. देवेंद्र एक दशक से ज्‍यादा समय से प्रोग्रामिंग डिवीजन की जिम्‍मेदारियां संभाल रहे हैं. वे एनडीटीवी, प्रज्ञा, सहारा एवं हमार टीवी जैसे संस्‍थानों …

गलत खबर छापने पर भास्‍कर के एमडी, संपादक समेत पांच को समन

बठिंडा की एक अदालत ने गलत खबर प्रकाशित करने के मामले में दैनिक भास्कर के मैनेजिंग डायरेक्टर (एमडी) सुधीर अग्रवाल सहित पंजाब के संपादक कमलेश सिंह, अभिजीत मिश्रा, हिमांशु घिल्डियाल व बठिंडा यूनिट के सिटी इंचार्ज नरिंदर शर्मा को समन जारी किया है। अतिरिक्त सीजेएम हरिंदर कौर सिद्धू की अदालत से उक्त समन आईपीसी की धारा 499/500/211के तहत जारी हुए हैं। इसमें अगली पेशी की तिथि 25 मई 2012 मुकर्रर की गई है।

सियासत में उलझकर रह गई अदम गोंडवी को पद्म विभूषण देने की संस्‍तुति

गोण्डा। हिन्दुस्तान के कोने-कोने में समाज के दबे, कुचले एवं कमजोर वर्ग की आवाज को ताजिंदगी बुलंद करते रहने वाले जनकवि राम नाथ सिंह ‘अदम गोण्डवी’ को पद्म विभूषण दिए जाने की तत्कालीन जिलाधिकारी राम बहादुर की सिफारिश सियासत में उलझकर रह गई है। बसपा शासनकाल में यह पत्रावली आगे इसलिए नहीं बढ़ सकी क्योंकि तत्कालीन सरकार ने उन्हें सपाई माना। प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद अदम गोण्डवी को मरणोपरान्त पद्म विभूषण मिलने की उम्मीद बलवती हुई है।

पत्रकारों पर हमला करने वालों पर नहीं हुई कारवाई, डीएम को ज्ञापन सौंपा

आमतौर पर फरियादियों का दुःख-दर्द पूछने वाले पत्रकार झाँसी में खुद फरियादी बनकर जिलाधिकारी की चौखट पर पहुंचे. पत्रकार छह मार्च को मतगणना के दिन हुए हमले और मारपीट के आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं. पत्रकारों पर हुए हमले के मामले में पुलिस अब तक एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं कर सकी है. पुलिस की कार्यशैली से नाराज झाँसी के प्रिंट और इलैक्ट्रानिक मीडिया के पत्रकारों ने कलेक्ट्रेट पहुंच कर जिलाधिकारी को ज्ञापन दिया.

मैथ्यू साहब, केवल खबरों का खंडन ही होगा, कार्यवाही कौन करेगा?

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देश पर हाल ही राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव सी. के. मैथ्यू ने अब सभी विभागों को नकारात्मक खबरों का नियमित रूप से खंडन जारी करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए सभी विभागों में विभागाध्यक्ष अथवा वरिष्ठतम उप शासन सचिव को नोडल अधिकारी बनाया जा रहा है। सरकार का मानना है कि राज्य सरकार की रीति-नीति और कार्यक्रमों के क्रियान्वयन के संबंध में नकारात्मक समाचार छपने से जनता में सरकार के बारे में गलत संदेश जाता है। साथ ही लोगों में भ्रम की स्थिति भी बनती है।

सहारा में रमेश अवस्‍थी की वापसी, हिंदुस्‍तान से नीरज शर्मा का इस्‍तीफा

स्‍वतंत्र मिश्रा के स्‍वर्णकाल में सस्‍पेंड किए गए रमेश अवस्‍थी की सहारा में वापसी हो गई है. उपेंद्र राय के दौर में राष्‍ट्रीय सहारा, कानपुर के यूनिट हेड रहे रमेश अवस्‍थी को स्‍वतंत्र मिश्रा ने सस्‍पेंड कर दिया था. उनकी जगह बनारस में तैनात अमर सिंह को कानपुर का यूनिट हेड बना दिया गया था, जबकि अमर सिंह की जगह महेशचंद लोहानी को बनारस का यूनिट हेड बना दिया गया था. उपेंद्र राय के खास माने जाने वाले रमेश अवस्‍थी की वापसी नोएडा में हुई है. इसको लेकर सहारा में कई तरह की सुगबुगाहट भी होने लगी है.

गलत रिपोर्टिंग के लिए ‘द हिंदू’ ने मांगी माफी

लीगल रिपोर्टिंग के मामलों में हड़बड़ी कभी-कभी भारी पड़ जाती है. ऐसा ही हुआ अंग्रेजी के जाने माने अखबार 'द हिंदू' के साथ. अखबार के सुप्रीम कोर्ट बीट को कवर करने वाले करेस्‍पांडेंट जे वेकंटेशन ने एक खबर प्रकाशित कर दी थी कि पाकिस्‍तानी नागरिक डा. मोहम्‍मद कलिल चिश्‍ती पर भारत सरकार ने दयालुता दिखाते हुए रिहा कर दिया तथा उन्‍हें पाकिस्‍तान भेज दिया.

जेवीएम के विधायक ने प्रभात खबर पर विशेषाधिकार हनन का आरोप लगाया

रांची। झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के विधायक समरेश सिंह ने अपने खिलाफ खबर प्रकाशित करने वाले प्रभात खब पर झारखंड विधानसभा में अपने विषेशाधिकार हनन का आरोप लगाया और उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। झारखंड विधानसभा ने आज प्रश्नकाल के बाद समरेश सिंह ने स्थानीय अखबार में अपने खिलाफ छपी एक खबर का मामला उठाया और कहा कि अखबार ने उनके खिलाफ मनगढ़ंत खबर प्रकाशित की है, जो उनके विषेशाधिकारों का हनन है। लिहाजा, विधानसभा इसका संज्ञान लेकर अखबार के खिलाफ कार्रवाई करें।

डीजीपी ने कहा- नहीं बनने दिया जाएगा पुलिस यूनियन, सुबोध यादव ने सीएम को पत्र लिखा

यूपी में उत्‍तर प्रदेश पुलिस एसोसिएशन के गठन की मांग वर्षों से चली आ रही है. यूपी सरकार में विचाराधीन इस संगठन को लेकर डीजीपी ने दैनिक जागरण अखबार में बयान दिया है कि प्रदेश में किसी भी कीमत पर पुलिस यूनियन का गठन नहीं होने दिया जाएगा. इसी मामले को लेकर उत्‍तर प्रदेश पुलिस एसोसिएशन के संस्‍थापक अध्‍यक्ष सुबोध यादव ने मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को पत्र लिखा है तथा पूछा है कि क्‍यों नहीं राज्‍य के वरिष्‍ठ पुलिस अधिकारी इस एसोसिएशन का गठन होने देना चाहते हैं.

बिहार में पत्रकारों पर दबाव बनाने की जांच शुरू, विज्ञापन प्रकाशित

: अपनी शिकायत भेज सकते हैं जर्नलिस्‍ट : बिहार में अघोषित रूप से प्रेस की स्‍वतंत्रता पर सेंसरशिप लागू होने के आरोप के मामले में पीसीआई यानी प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने एक विज्ञापन निकाला है, जिसमें पत्रकारों से अपील की गई है कि वे बिना डर भय के अपने आरोप मेल कर सकते हैं. गौरतलब है कि पीसीआई अध्‍यक्ष काटजू ने वरिष्‍ठ पत्रकार राजीव रंजन नाग की अध्‍यक्षता में अरुण कुमार एवं कल्‍याण बरुआ की तीन सदस्‍यीय कमेटी गठित की है, जो बिहार में पत्रकारिता की आजादी की जांच कर रही है.

कालाबाजारियों ने पत्रकार को पीटा, लूट का मामला भी दर्ज कराया

: हालत गंभीर : अहमदाबाद शहर के नरोडा इलाके मे मंगलवार को सरकारी राशन के कालाबाजारियों ने एक पत्रकार को अपने मिल के अन्दर बंधक बनाकर डंडे व रबर के बेल्ट से जमकर पिटाई कर दी। पिटाई के दौरान उन्हें गंभीर चोटें आई हैं। घायल पत्रकार का नाम अमित भावसार है और वह अहमदाबाद शहर से निकलने वाले मेट्रो मीडिया साप्ताहिक समाचार पत्र से लंबे समय से जुडे थे। अमित सरकारी राशन के कालाबाजारियों के खिलाफ एक स्टोरी कर रहे थे। इसी के चलते राशन के कालाबाजारियों ने न ही सिर्फ उन पर हमला करवाया बल्कि उन्हें फर्जी लूट के केस में फंसवा दिया। फिलहाल उन्हें इलाज के लिए सरकारी अस्पताल मे भर्ती किया गया है, जहां उनही हालत नाजुक बनी हुई है।

फोन पर धमकी देने का मामला : पत्रकार राकेश शुक्‍ला ने दी अनशन की चेतावनी

: एसपी गंगापार ने पत्रकारों से किया अभद्र व्‍यवहार : इलाहाबाद में पत्रकार को जान से मारने की धमकी के बाद पुलिस के रवैये के मामले ने नया मोड़ ले लिया है। पांच दिनों तक पत्रकारों के संगठनों से लेकर सपा के नवनिर्वाचित विधायक और एसपी गंगापार से गुहार लगाने के बावजूद कोई नतीजा नहीं निकला। अब पत्रकार राकेश शुक्ला ने खुद अपनी लड़ाई लड़ने का फैसला लिया है। वह जल्द ही सूबे की राजधानी लखनऊ में विधानसभा के सामने भूख हड़ताल करने जा रहे हैं।

असमय मौत मरने के कगार पर हिंदी दैनिक स्‍वतंत्र वार्ता

आंध्र प्रदेश का सर्वाधिक प्रसार वाला हिन्दी दैनिक स्वतंत्र वार्ता कर्मचारियों को वेतन न दे पाने की वजह से आईसीयू में जाता नजर आ रहा है। सूरते हाल यह है कि विगत 03 मार्च को संपादक मण्डल समेत समस्त कर्मचारियों के सामूहिक इस्तीफे के बाद स्टाफ की कमी से जूझता अखबार तालाबन्दी का शिकार हो गया। आनन-फानन में अखबार के मालिक गिरिश संघी ने पुणे से प्रकाशित दैनिक ‘आज का आनन्द’ के मालिक श्‍याम अग्रवाल से विशेष आग्रह कर चीफ रिपोर्टर ओमकारमणि त्रिपाठी को दस-पन्द्रह दिनों के लिए विगत 5 मार्च को बुलाया।

वरिष्‍ठ पत्रकार नवलकिशोर शर्मा का निधन

जोधपुर। सुमेरपुर के वरिष्‍ठ पत्रकार नवलकिशोर शर्मा का मंगलवार सुबह असामयिक निधन हो गया। श्री शर्मा पिछले पांच साल से भी अधिक समय से दैनिक मरूलहर में चीफ ब्यूरो पद पर अपनी सेवायें दे रहे थे। मृदुभाषी, मिलनसार, सेवाभावी और सरल व्यक्तित्व के धनी श्री शर्मा के परिवार मे उनकी पत्नि के अलावा दो पुत्र एवं दो पुत्रियां हैं। श्री शर्मा के निधन का समाचार सुनने के बाद उनके निवास और अस्पताल में बड़ी संख्‍या मे परिचित और गणमान्य लोग उनके अंतिम दर्शनार्थ पहुंचे। जोधपुर स्थित मरूलहर कार्यालय में उपस्थितजनों ने दो मिनट का मौन रखते हुए उन्हें श्रद्वांजलि अर्पित की।

EMFA condemns attack on media persons

Guwahati : Electronic Media Forum Assam (EMFA) has expressed serious concern at the increasing rate of assaults on media persons in the recent past and urged the authority to take stern action against them, who are involved with the incidents. The television journalist forum also appeals to the civil society group and general populace to support the media persons to perform their duties without interferences.

अन्‍ना ने किया आशुतोष के किताब का लोकार्पण

नई दिल्ली : गांधीवादी समाजसेवी अन्ना हजारे ने कहा कि अगस्त में रामलीला मैदान में उन्होंने अकेले लोगों को नहीं जगाया, बल्कि लोगों की भ्रष्टाचार सहने की क्षमता समाप्त हो गई है, इसलिए वे स्वत: उठ खड़े हुए। अन्ना बुधवार को इंडिया हैबिटेट सेंटर में टीवी पत्रकार आशुतोष की किताब ‘अन्ना : 13 डेज देट अवेकेंड इंडिया’ का लोकार्पण करते हुए बोल रहे थे। अन्ना ने इस मौके पर एक बार फिर गांधी का हवाला देते हुए गांव के विकास पर जोर देते हुए अपने विचार रखे।

अभय बंग पत्रिका के संपादक जगदीश यादव को मातृशोक

कोलकाता से प्रकाशित हिंदी मासिक पत्रिका अभय बंग पत्रिका व ए टीवी के संपादक जगदीश यादव की माता राजकुमारी देवी का निधन हो गया. वे 80 वर्ष की थीं. वे कुछ दिनों से बीमार चल रही थीं. उनका निधन कोलकाता में उनके आवास पर हुआ. उनका अंतिम संस्‍कार कालीघाट आदि गंगा तट पर किया गया. …

कपड़े उतारने की परम्‍परा तो खबर है, फिर क्‍यों नहीं चला पाए समाचार

बाबा गंगा दास जी का आश्रम आस्था व भाईचारे की मिशाल है और इस पावन स्थान पर जाकर लोग मनन और चिंतन के साथ साथ अपना सबकुछ न्योछावर करने को तैयार रहते हैं। उस पवित्र सिद्धपीठ के अन्दर जाने के लिए अलग वस्त्र पहने जाते हैं। यह अपने आप में खबर है। बावजूद इसके अनिल भाई अपने चेलों के समूह में गए, आईबीएन7, जीन्यूज, एनएनआईएस, जनसंदेश जैसे कई चैनलों की माइक आईडी लगाकर इन्टरव्यू भी किये। कपडे़ निकालकर बाबा का दर्शन भी किया और गिफ्ट पैक व लिफाफे पाकर भावविभोर भी हो गए थे। लेकिन उपर्युक्त किसी चैनल में इन्टरव्यू और यहां के कपडे़ की परम्परा का कोई भी समाचार नहीं चला पाए। यह तो धर्म के साथ-साथ विश्वासघात है। और यही बात मैंने लोगों के सामने रखने की कोशिश की। मेरे हिसाब से उन्होंने यह साबित भी कर दिया कि स्थान कोई भी हो गिफ्ट लेने में कोई ऐतराज नहीं है।

अश्‍वनी कुमार के हाथों ‘आज की दिल्ली’ पत्रिका का विमोचन

नई दिल्ली। दिल्ली से प्रकाशित राष्ट्रीय मासिक पत्रिका आज की दिल्ली अब नए कलेवर में पाठकों के सामने मौजूद है। मैग्जीन के इस नए स्वरुप को पंजाब केसरी दिल्ली के संपादक अश्विनी चोपड़ा जी ने री-लांच किया। पत्रिका के नए स्वरुप के विमोचन के मौके पर श्री चोपड़ा ने मैग्जीन के कंटेंट और साज सज्जा दोनों की तारीफ करते हुए इसके सफल प्रकाशन के लिए मैग्जीन के संपादक योगराज शर्मा को शुभकामना व आशीर्वाद दिया।

टीवी99 से मोहित एवं रितेश तथा इंडिया न्‍यूज से प्रदीप का इस्‍तीफा

टीवी99 राजस्‍थान से खबर है कि आईटी डिपार्टमेंट में तैनात मोहित शर्मा और रितेश सेन ने इस्‍तीफा दे दिया है. बताया जा रहा है कि दोनों लोगों को प्रबंधन ने तीन महीने से सेलरी नहीं दी थी, जिसके चलते इन दोनों ने इस्‍तीफा दिया है. दोनों एक्‍जीक्‍यूटिव के तौर पर जुड़े हुए थे. दोनों लोग अब 'लोगान आईटी साल्‍यूशन' नाम की आईटी कंपनी शुरू की है. रीतेश इसके पहले रिलायंस टेलीकॉम से भी जुड़े रहे हैं. वे पिछले दो सालों से टीवी99 को अपनी सेवाएं दे रहे थे. मोहित स्‍काईनेट और नेटवर्क एडमिनिस्‍ट्रेटर के साथ काम कर चुके हैं. वे भी पिछले डेढ़ साल से टीवी99 से जुड़े हुए थे. 

प्रभात खबर, भागलपुर के मॉडम सेंटर के पत्रकारों का वेतन बंद!

भड़ास4मीडिया को एक मेल के जरिए बताया गया है कि प्रभात खबर, भागलपुर यूनिट के अंतर्गत पड़ने वाले मॉडम सेंटर के पत्रकारों का पिछले चार-पांच माह से वेतन बंद है. प्रखंड रिपोर्टरों का भी ऐसा ही हाल है. कारण बताया जा रहा है कि विज्ञापन की राशि इन सेंटरों में बकाया है. एक तरफ कंपनी विज्ञापन का बकाया राशि भुगतान करने का दवाब डाल रही है तो दूसरी ओर हर आयोजन पर नए विज्ञापन वसूलने का और लक्ष्य पूरा करने का फरमान जारी करती है.

हिंदुस्‍तान, मुंगेर से संतोष की छुट्टी, मोहन नए प्रभारी

हिंदुस्‍तान, मुंगेर से खबर है कि ब्‍यूरोचीफ संतोष सहाय को छुट्टी पर भेज दिया गया है. संतोष की जगह जमुई के ब्‍यूरोचीफ मोहन कुमार मंगलम को मुंगेर का नया प्रभारी बनाया गया है. वहीं जमुई में मोहन के बाद सेकेंड मैन रहे अमरेश सिंह को ब्‍यूरोचीफ की जिम्‍मेदारी सौंप दी गई है. बताया जा रहा है कि संतोष सहाय पर कई गंभीर आरोप लगाए गए थे. प्रबंधन का मानना था कि उनके नेतृत्‍व में अखबार की स्थिति भी जिले में दिन पर दिन खराब होती जा रही है.

राज्‍यसभा चुनाव : झारखंड के गंदे लोगों की गंदी पसंद?

: स्‍थानीय उम्‍मीदवार की बजाय धनपशुओं को प्रमुखता दे रहे भाजपाई : एक विज्ञापन देखा था- उंचे लोग, उंची पसंद, फलना चंद। हमारे झारखंड में यह उल्टा है- गंदे लोग, गंदी पसंद, फलना चंद। राज्यसभा को सभ्य लोगों का सदन माना जाता है। लेकिन झारखंड से गंदे लोगों की गंदी पसंद के कारण लोकतंत्र के इस मंदिर में गंदगी के उदाहरण पहले भी देखे गये हैं। इस बार भी यही हो रहा है। झारखंड में भाजपा नीत सरकार है। वर्तमान 80 विधायकों में 45 का समर्थन इस सरकार को प्राप्त है।

दैनिक जागरण, मेरठ में कई जिला प्रभारी इधर से उधर

: तहसील प्रभारी भी बदले गए : दैनिक जागरण, मेरठ में कई लोग इधर से उधर किए गए हैं. अखबार को और तेवर तथा गति देने के लिए सहारनपुर को छोड़कर सभी जिलों के प्रभारी बदले गए हैं. तहसील स्‍तर भी अखबार को मजबूत करने के लिए संपादकीय प्रभारी मनोज झा ने कई लोगों की जिम्‍मेदारियां बदली हैं. मुजफ्फरनगर के जिला प्रभारी नीरज गुप्‍ता को वहां से हटाकर बुलंदशहर भेजा गया है. नीरज की जगह मेरठ में सिटी रिपोर्टिंग में तैनात नरेश उपाध्‍याय को ब्‍यूरोचीफ बनाकर मुजफ्फरनगर भेजा गया है.

प्रकाश झा के मौर्य टीवी का यूपी बुलेटिन बंद, स्ट्रिंगरों को भी नहीं मिला पैसा

सामाजिक मुद्दों पर फिल्‍म बनाकर वाहवाही और पैसा दोनों कमाने वाले मशहूर फिल्‍म निर्देशक प्रकाश झा के चैनल मौर्य टीवी में ही यूपी के स्ट्रिंगरों का शोषण हो रहा है. चैनल अब यूपी से बोरिया बिस्‍तर भी समेटने की तैयारी कर रहा है. इसकी शुरुआत भी हो चुकी है. मौर्य टीवी पर चलने वाला यूपी बुलेटिन बंद कर दिया गया है, जिससे यह कयास लगाया जा रहा है कि मौर्य टीवी को केवल यूपी के विधानसभा चुनाव में कमाई करने के लिए लांच किया गया था.

कारपोरेट होती मीडिया और मार्केटियर होते संपादकों के दौर में आलोक तोमर की याद

दिल्ली में कई बरस रहने के बाद भी और रफी मार्ग स्थित कांस्टीट्यूशन क्लब कई बार जाने के बाद भी कल इस जगह पहुंचने के लिए मुझे इसके इर्द-गिर्द की सड़कों पर डेढ़ घंटे तक चक्कर लगाने पड़े. बार-बार जंतर-मंतर रोड पर पहुंचूं और कहीं और निकल जाऊं. कांस्टीट्यूशन क्लब की सड़क पकड़ने से जैसे कार ने इनकार कर दिया हो. किससे नहीं पूछा. आटो वाले, ट्रैफिक वाले, सिपाही, पैदल यात्री आदि इत्यादि से पूछता रहा, हे भइया, रफी मार्ग पर कांस्टीट्यूशन क्लब जाना है, कैसे जाएं? और वो अपने हिसाब से दाएं बाएं आगे पीछे रेड लाइट टी प्वाइंट आरबीआई आईएनएस आदि समझाते और मैं चल देता. लेकिन हर जगह पहुंच जाता, सिर्फ कांस्टीट्यूशन क्लब नहीं पहुंच पाया.

रविसंकरा पगला गया है, पढ़िये, इसने कैसा बयान दिया है

एक श्रीश्री श्रेणी के रविशंकर हैं, जो खुद को श्री श्री रविशंकर कहते कहलाते हैं. इन्होंने बड़ा भद्दा बयान दिया है. इसने कहा है कि सरकारी स्कूलों से निकलते हैं नक्सली. इस कथित आध्यात्मिक गुरू श्री श्री रविशंकर का कहना है कि सरकारी स्कूल नक्सली पैदा कर रहे हैं. समाचार एजेंसियों ने इस बाबा का बयान जारी किया है. आर्ट आफ लीविंग सिखाने वाले इस आदमी ने जयपुर में कहा कि अक्सर देखने में आता है कि सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले लड़के नक्सलवाद और हिंसा की राह पर चल पड़ते हैं.

सहारनपुर में दूसरे पक्ष के तीन पत्रकारों के खिलाफ भी एनसीआर

सहारनपुर में पत्रकारों के दो गुटों के बीच हुई मारपीट में पुलिस ने एक पक्ष का एनसीआर दर्ज किया था. पुलिस ने 20 मार्च को दूसरे पक्ष की शिकायत पर भी तीन पत्रकारों के खिलाफ एनसीआर दर्ज किया था. खबर है कि जांच के बाद पुलिस ने इसे खारिज कर दिया है. जबकि दूसरे पक्ष की जांच अभी चल रही है.

गुलाब कोठारी एवं प्रो. गोपीचंद नारंग को मूर्तिदेवी पुरस्‍कार

राजस्‍थान पत्रिका के संपादक एवं हिंदी के रचनाकार गुलाब कोठारी को 2011 के 24वां तथा उर्दू के विद्वान प्रो. गोपीचंद नारंग का वर्ष 2010 के 23वें मूर्तिदेवी पुरस्कार प्रदान किया जाएगा.  वर्ष 2009 का मूर्तिदेवी पुरस्कार अक्किथं (मलयालम) को दिया गया था. गुलाब कोठारी को यह पुरस्‍कार उनकी कविता 'मैं ही राधा मैं ही कृष्ण' के लिए तथा प्रो. गोपीचंद नारंग को उनकी आलोचनात्मक कृति 'उर्दू गजल और हिन्दुस्तानी जहनो-तहजीब' के लिए यह पुरस्कार देने का निर्णय लिया गया.

नईदुनिया का पराभव (दो) : स्‍वनाम-धन्‍य पत्रकारों की योग्यता क्या है? उनकी कुल संपत्ति क्या है?

: अखबारों का अर्थशास्त्र समझें : पूरे मीडिया उद्योग की तनख्वाह में बेशुमार इजाफ़े को अगर देश की अर्थव्यवस्था से जोड़ कर देखें, तो उत्पादन लागत और आय के आधार पर आंकें, तो यह कृत्रिम अर्थप्रणाली है. यह किसी भी दिन भहरायेगी. ध्वस्त होगी. भारत की पेट्रोलियम कंपनियों को देख लीजिए. उनके यहां मैनपावर कॉस्ट से लेकर स्टेब्लिशमेंट कॉस्ट इतने अधिक हैं कि हम पाकिस्तान, बांग्लादेश से भी प्रति लीटर 30 रुपये अधिक पर पेट्रोल बेचते हैं. ओएनजीसी जैसी महारत्न कंपनियों में चपरासी की भी तनख्वाह 60 हजार से अधिक है.

नईदुनिया का पराभव (एक) : सिर्फ़ चापलूसों की फ़ौज डुबा सकती है?

एक समय हिंदी पत्रकारिता का स्कूल कहे जानेवाले अखबार नई दुनिया का पराभव, पूरे हिंदी भाषी समाज के लिए चिंता का विषय होना चाहिए. इसकी स्थितियों, कारकों व कारणों को हम सबको समझना चाहिए. पत्रकारिता, पत्रकारिता के वित्तपोषण और बाजारवाद के इस दौर की प्रतिस्पर्धा में मुनाफ़े के अर्थशास्त्र पर स्वस्थ बहस शुरू होनी चाहिए. किसी भी लोकतांत्रिक समाज के लिए इन सवालों से कतराना घातक ही साबित होता है. यह आलेख श्रृंखला इसी विमर्श को शुरू करने का प्रयास है.

का हो अखिलेश, कुछ बदली उत्तर प्रदेश!

प्रिय अखिलेश जी, आप जानते ही हैं कि हमारे देश के लोग और खास कर उत्तर प्रदेश के लोग साक्षरता से ले कर रोजगार तक में फिसड्डी हैं। विकास की बात करना तो खैर जले पर नमक छिड़कना ही हो जाता है। यह विकास की ही मार है कि राहुल गांधी उत्तर प्रदेश के लोगों को भिखारी शब्द से सुशोभित कर जाते हैं और फ़र्जी कागज़ फाड़ते-फाड़ते आप की ताजपोशी के लिए लाल कालीन बिछा जाते हैं। आप ने हालां कि तभी कह भी दिया था कि चुनाव परिणाम के बाद वह और भी बहुत कुछ फाड़ेंगे। और देखिए न कि हार स्वीकार करने के बाद वह देश की लोकसभा में भी दिखे नहीं हैं अभी तक।

जनसंदेश टाइम्‍स से कारपोरेट एडिटर संजय तिवारी का इस्‍तीफा, अमर उजाला पहुंचे

जनसंदेश टाइम्‍स से खबर है कि कारपोरेट एडिटर संजय तिवारी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे फिर से अमर उजाला में वापस लौट गए हैं. उन्‍होंने बरेली में एनई के पद पर ज्‍वाइन कर लिया है. बताया जा रहा है कि संजय तिवारी को जनसंदेश टाइम्‍स की कार्य पद्धति रास नहीं आई, जिसके चलते उन्‍होंने जनसंदेश टाइम्‍स को बाय कर दिया. संजय पिछले ढाई दशक से नोएडा, लखनऊ व गोरखपुर की पत्रकारिता में सक्रिय हैं.

अब की गुजरात विस में पोर्न तस्‍वीर देखते पकड़े गए बीजेपी विधायक!

कर्नाटक विधानसभा के बाद अब गुजरात विधानसभा में भी दो विधायकों पर पोर्न देखने का आरोप लगा है. हालांकि इस मुद्दे पर कोई शिकायत दर्ज नही की गई और ना ही कोई कार्रवाई ही की गई है. बीजेपी के महामंत्री व विधायक शंकर चौधरी और विधायक जेठा बरवाड पर अश्लील फोटोग्राफ देखने का आरोप लगा है. मामला सामने आने के बाद विपक्ष सरकार को विधानसभा में घेरने की कोशिश में है. दूसरी ओर, जिन विधायकों पर अश्‍लील तस्‍वीर देखने का आरोप लगा है वो इससे इनकार कर रहे हैं.

झारखंड के पत्रकार को पितृशोक, एमपी के पत्रकार को मातृशोक

झारखंड के गिद्दी के पत्रकार नंदकिशोर पाठके पिता राम सुरेश पाठक का मंगलवार को निधन हो गया. वे 75 वर्ष के थे तथा कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे. उनका अंतिम संस्‍कार डालटनगंज जिले में स्थित उनके पैतृक गांव पंजरी खुर्द लालगढ़ में किया गया. इस दौरान काफी संख्‍या में उनके शुभचिंतक, परिजन एवं पत्रकार शामिल रहे. पत्रका के पिता के निधन पर बैठक कर शोक भी व्‍यक्‍त किया गया, जिसमें मिथिलेश सिंह, बैजनाथ मिस्त्री, पच्चु राणा, पुरुषोत्तम पांडेय, मारकंडेय सिंह, करुण सिंह, अरुण उपाध्याय, पुरुषोत्तम सिंह विल्ला, गुडू यादव, अजय सिंह, रविशंकर उपाध्याय, राजकुमार सिंह, राकेश पांडेय, अशोक मेहता, अजय कुमार, मनोज तिवारी, अजय शर्मा, श्याम ठाकुर, अरविंद उपाध्याय, मुरताक, गुडू व रंजीव सिंह आदि लोग शामिल रहे.

हाई कोर्ट ने अमिताभ के मामले में दायर यूपी सरकार की याचिका खारिज की

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के लखनऊ बेंच द्वारा आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर से जुड़े एक प्रकरण में उत्तर प्रदेश शासन द्वारा दायर रिट याचिका को सिरे से ख़ारिज कर दिया गया. ठाकुर के खिलाफ एसपी देवरिया के रूप एक विभागीय जांच 2004 में शुरू की गयी थी और 25 मई 2007 को उन्हें चेतावनी देते हुए यह जांच समाप्त कर दिया गया. इसके दो साल बाद शासन द्वारा 26 मई 2009 को यह जांच फिर शुरू कर दी गयी.

पर्दाफाश टीम की गाड़ी पर ट्रक चढ़ाने की कोशिश, मामला दर्ज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पिछली सरकार के कई मंत्रियों और अफसरों के भ्रष्टाचार का खुलासा करने वाली टीम पर्दाफाश की गाड़ी पर मंगलवार की शाम जानलेवा हमला हुआ। हमलावरों ने इस हमले को सड़क हादसे का रूप देने का प्रयास किया, लेकिन वे अपनी इस योजना में नाकामयाब रहे। घटना के समय गाड़ी में पर्दाफाश के संवाददाता नितीश कपूर व गाड़ी का ड्राइवर मौजूद था।

विधायक ने फोटोग्राफर को इसलिए पीटा कि उसने सोते हुए फोटो खींच लिया था

गुवाहाटी। ऐसा लगता है कि विधानसभा या विधायकों को कवर करने के लिए जाने वाले फोटोग्राफरों को अपने साथ सुरक्षा गार्ड लेकर जाना होगा। कम से कम मेघालय विधानसभा में एक विधायक द्वारा फोटोग्राफर की जम कर पिटाई तो इसी तरह का संकेत दे रहा है।

ईडी ने पत्रकार काजमी के खातों में विदेश से आए 22 लाख रुपये की जांच शुरू की

नई दिल्ली : इजराइली राजनयिक पर हमले के मामले गिरफ्तार पत्रकार अहमद काजमी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन कानून (फेमा) के उल्लंघन की जांच शुरू कर दी है। दिल्ली पुलिस को काजमी की पत्नी को 18,78,500 रुपये और काजमी को 3.80 लाख रुपये की विदेशी मुद्रा मिलने के सबूत मिले हैं। काजमी इस धन के स्रोत के बारे में संतोषजनक जबाव नहीं दे पा रहे हैं।

नेत्रहीन हैं तो क्‍या हुआ? ‘दृष्टि’ में पढ़ लेंगे सारी खबरें

नई दिल्ली : देश में नेत्रहीन लोगों को समाचार जानने का माध्‍यम सिर्फ रेडिया और टीवी रहा है. रेडियो-टीवी पर खबरें सुनकर नेत्रहीन देश-दुनिया का हाल जानते हैं. पर अब उन्‍हें केवल इन्‍हीं माध्‍यमों पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा, बल्कि वे अब खबरों को पढ़ भी सकेंगे. नेत्रहीन पाठकों को ध्‍यान में रखकर जल्‍द ही राष्‍ट्रीय एवं अंतर्राष्‍ट्रीय खबरों के लिए ब्रेल में एक पाक्षिक हिंदी समाचार पत्र का प्रकाशन शुरू हो जा रहा है.

मजीठिया वेज बोर्ड लागू करने के लिए जयपुर में प्रदर्शन

जयपुर। पत्रकारों और गैर पत्रकारों ने मजीठिया वेतन बोर्ड लागू करने की मांग को लेकर कनफेडरेशन ऑफ न्यूज पेपर्स ऐंड न्यूज एजेंसी एम्पलॉइज ऑर्गेनाइजेशन के आह्वान पर जयपुर में स्टेच्यू सर्कल पर प्रदर्शन किया और राज्यपाल को एक ज्ञापन सौंपा। राजस्थान जर्नलिस्ट्स यूनियन, राजस्थान श्रमजीवी पत्रकार संघ, पीटीआई एम्पलॉइज यूनियन जयपुर, राजस्थान समाचार पत्र कर्मचारी महासंघ, नवज्योति कर्मचारी महासंघ के बैनर तले पत्रकार और गैर पत्रकार स्टेच्यू सकर्ल पर प्रदर्शन करने के बाद राजभवन पंहुचे और राज्यपाल शिवराज पाटिल की गैरमौजूदगी में उनके सहायक को ज्ञापन सौंपा।

कोयला माफिया के हमले में पत्रकार बुरी तरह घायल

शिवसागर। असम के शिवसागर जिले में एक निजी न्‍यूज चैनल के रिपोर्टर पर कोयला माफिया ने हमला कर उसे बुरी तरह घायल कर दिया। पुलिस ने कहा कि रिपोर्टर बिपिन हजारिका अवैध कोयला खनन पर रिपोर्टिंग के लिए गेलेकी शहर गए थे, जहां लोगों के एक समूह ने उन पर हमला किया। समझा जाता है कि ये लोग कोयला माफिया से संबद्ध थे।

रिमोट फेंकिए, अब आपकी आवाज से चलेगा टीवी

टीवी चलाने के लिए रिमोट कंट्रोल का दौर खत्म होने की कगार पर है। अब कहने पर टीवी न केवल खुलेगा और बंद होगा बल्कि आपके निर्देश सुनकर चैनल बदलेगा और पसंदीदा कार्यक्रम स्क्रीन पर होगा। टेलीविजन को मनोरंजन के दौर से आगे ले जाते हुए दुनिया की नामी इलेक्ट्रानिक्स कंपनी सैमसंग ने स्मार्ट टीवी के रूप में टीवी का नया अवतार लाने की घोषणा की है। इस इंटर एक्टिव स्मार्ट टीवी के जरिया सैमसंग भारतीय और एशिया प्रशांत क्षेत्र के टीवी बाजारों में हलचल मचाने को तैयार है। स्मार्ट टीवी के साथ सैमसंग ने स्मार्ट फोन, टेबलेट से लेकर फ्रिज और वाशिंग मशीन सरीखे अपने तमाम उपकरणों की नई रेंज को भी बाजार में उतारने का फैसला किया है।

पाक न्यूज चैनल जियो न्यूज के कराची आफिस में गोलीबारी

इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रमुख समाचार चैनल जियो न्यूज के कराची स्थित कार्यालय में मंगलवार को कुछ बंदूकधारियों ने गोलीबारी कर दी और वहां मौजूद चैनल की उपग्रह वैन की खिड़कियां तोड़ दीं। मंगलवार को आई मीडिया रपटों में यह खबर दी गई। जियो न्यूज की रपट में हमले में किसी को चोटे आने का जिक्र …

पत्रकार पर ब्लैकमेलिंग करने का आरोप लगाकर प्रदर्शन किया

खरगोन : सात से अधिक शिक्षक व कर्मचारी संगठन एक पत्रकार के विरुद्ध लामबंद हो गए हैं। सोमवार को उस पर ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाते हुए बड़ी संख्या में शिक्षक व कर्मचारी रैली के रूप में कलेक्टर कार्यालय पहुँचे और उसके खिलाफ नारेबाजी की। पत्रकार के विरुद्ध कार्रवाई की माँग करते हुए डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। पदाधिकारियों ने कलेक्टर से भी मुलाकात की। ज्ञापन में शिकायत की गई है कि यह पत्रकार सूचना के अधिकार अधिनियम का दुरुपयोग करते हुए एक कंपनी की सदस्यता के लिए दबाव बनाता है।

वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यकार राजेंद्र शंकर भट्ट का निधन

जयपुर : वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार राजेन्द्र शंकर भट्ट का सोमवार यहां निधन हो गया। वह 94 साल के थे। पारिवारिक सूत्रों ने बताया कि भट्ट के पार्थिव शरीर को आदर्श नगर मोक्षगृह में मुखाग्नि दी गई। इस मौके पर काफी संख्या में पत्रकार, साहित्यकार, प्रशंसक मौजूद थे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार और इतिहासकार राजेन्द्र शंकर भट्ट को उनके निवास पर जाकर श्रद्धासुमन अर्पित किए। मुख्यमंत्री भट्ट के निधन का समाचार मिलने पर तुरंत म्यूजियम रोड स्थित उनके निवास पर पहुंचकर उनकी पार्थिव देह पर पुष्पचक्र चढाकर उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की।

एनएनआई वाले उमेश ला रहे हैं ‘समाचार प्लस’ न्यूज चैनल

एनएनआई न्यूज एजेंसी के कर्ताधर्ता उमेश कुमार समाचार प्लस नामक एक न्यूज चैनल लाने जा रहे हैं. इस चैनल का आफिस सेक्टर 63 में तैयार हो चुका है. लांचिंग अगले महीने के आखिर तक होने की संभावना है. चैनल के लिए नियुक्तियों का क्रम लगभग पूरा हो चुका है. इस चैनल से कई वरिष्ठ पत्रकार जुड़ रहे हैं. अमिताभ अग्निहोत्री समेत कई पत्रकार इस चैनल को अपनी सेवाएं देंगे.

मरघट भी जाऊंगा तो पैदल ही : आलोक तोमर

पिछले साल आज के ही दिन आलोक तोमर के अचानक चले जाने के बाद बहुतों ने बहुत तरीके से आलोक तोमर को याद किया. मीडिया से लेकर बालीवुड तक और राजनीति से लेकर साहित्य तक के लोगों ने आलोक तोमर के चले जाने को पत्रकारिता के लिए बहुत बड़ा झटका बताया. घरानों वाली पत्रकारिता से अलग, आलोक तोमर खुद के घराना बन गए थे. इस घराने की पहचान थी सिर्फ सच और खुला व कड़वा सच बोलना. आलोक तोमर के पत्रकारीय घराने से दीक्षित बहुत सारे लोग आज पत्रकारिता में अच्छा खासा मुकाम बना चुके हैं. लेकिन कोई दूसरा आलोक तोमर नहीं बन सका.

मुकेश कपिल ने इंडिया टीवी के साथ नई पारी शुरु की

पी7 के एंकर के तौर पर रहे मुकेश कपिल ने पी7 से इस्तीफा देने के बाद अपनी नई पारी इंडिया टीवी के साथ शुरू की है। मुकेश कपिल ने इंडिया टीवी में बतौर एसोसिएट प्रोड्यूसर ज्वाइन किया है। इससे पहले ये खबर आई थी कि पी7 में पंजाबी विभाग में शिफ्ट करने से नाराज मुकेश ने इस्तीफा दिया है, लेकिन अब ये साफ हो गया है कि उन्होंने भविष्य की योजनाओं के तहत पी7 छोड़ कर इंडिया टीवी के साथ नई पारी की शुरुआत की है।

पुण्य स्मरण : आलोक तोमर के बगैर एक वर्ष

आलोक तोमर को इस दुनिया से विदा हुए पूरा एक वर्ष बीत गया. बीते वर्ष ठीक होली के रोज कैंसर ने उन्हें हरा दिया था और कभी किसी से हार नहीं मानने वाले सरस्वती के इस जांबाज सिपाही को काल की क्रूर नियति ने छलपूर्वक पराजित कर दिया था. हालांकि आलोक तोमर के नहीं होने के बाद भी सूरज वैसे ही निकला जैसे पूर्ववत निकलता था. सांझ भी वैसे ही ढली. टीवी पर खबरें भी वैसे ही आयीं और अखबार के पन्ने भी पहले की तरह ही काले और रंगीन होकर पाठकों के पास पहुंचे. तब क्या बीते वर्ष में किसी को इस बेबाक पत्रकार की कमी नहीं अखरी?

ये कौन खुशकिस्मत है जिसने ओम थानवी का कान पकड़ लिया?

फेसबुक पर जयप्रकाश मानस ने जो स्टेटस अपडेट किया है, उसमें उन्होंने लिखा है- '''वरिष्ठ लेखक व पत्रकार ओम थानवी को यात्रा-संस्मरण 'मुअनजोदड़ो' के लिए लखनऊ में सार्क लेखक सम्मान प्रदान किया गया। एक रोचक चित्र के साथ उन्हें बधाई।'' इस स्टेटस अपडेट के साथ उन्होंने ओम थानवी की एक फोटो भी अपलोड की है जिसमें एक सज्जन उनका कान पकड़कर खींच रहे हैं और ऐसा हाल बनाए जाने पर विनम्र ओम थानवी साहब आंखें मूंद रहे हैं।

महुआ न्यूजलाइन में टेक्निकल टीम के साथ अन्याय

आप सभी को बताना चाहता हूं कि महुआ में अभी तक तनख्वाह नहीं आई है. इनपुट और आउटपुट टीम की तनख्वाह भी बढ़ा दी गई है मगर पिछले दो साल से टेक्निकल टीम की तनख्वाह नहीं बढ़ाई गई है. पूछने पर जवाब मिलता है कि कंपनी घाटे में है. टीम के हेड भी हाथ पर हाथ रखकर बैठे हैं.

ये लोग शामिल होंगे विजय बहुगुणा की टीम में

देहरादून : विजय बहुगुणा ने ऐलान कर दिया है कि मंगलवार को वे मंत्रिमंडल का गठन करेंगे…लेकिन कांग्रेस में मचे बवाल के बाद बहुगुणा के लिए ये काम हरगिज आसान नहीं होगा…ऐसे में कौन कौन शामिल होगा बहुगुणा की टीम में, इसको लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। सीएम की कुर्सी की लड़ाई के बाद बहुगुणा के लिए ये काम सबसे बडी मुश्किल है…एक तरफ हरीश रावत समर्थक विधायक बगावत का झंडा बुलंद करके बैठे हैं और दूसरी तरफ हरक सिंह रावत की नाराजगी जग जाहिर हो चुकी है तो दोनों खेमों को बहुगुणा कैसे संतुष्ट कर पाएंगे।

साधना ग्रुप पर इनकम टैक्‍स विभाग का छापा!

साधना न्‍यूज चैनल ग्रुप की मूल कंपनी प्रभातम पर सोमवार को इनकम टैक्‍स का छापा पड़ा. लगभग एक दर्जन की संख्‍या में आईटी आफिसर प्रभातम के झंडेवालान कार्यालय पहुंचे तथा वहां तमाम कागजातों को खंगाला. अधिकारियों ने एकाउंट विभाग में रखी गईं तमाम फाइल तथा कम्‍प्‍यूटरों की गहन जांच-पड़ताल की. एकाउंटेंट एवं अन्‍य कर्मचारियों से पूछताछ भी की गई. इस दौरान प्रभातम के कार्यालय में अफरा-तफरी तथा हड़कम्‍प की स्थिति रही. बताया जा रहा है कि अधिकारी अपने साथ कुछ महत्‍वपूर्ण कागजात भी ले गए हैं.

चैनल पर लाइव : गधा, बेवकूफ, स्‍टूपेड, शराबी-कबाबी, दो टके का आदमी…

गधे… बेवकूफ… स्‍टूपेड… दो टके का आदमी… मैं तेरा कत्‍ल करवा दूंगा. हो सकता है ये सारी गालियां-शब्‍द कल भारतीय न्‍यूज चैनलों पर भी सुनने को मिल जाए. रोज शाम भारतीय न्‍यूज चैनलों पर जिस तरीके से तमाम मुद्दों पर पैनल बुलाकर म‍हफिल जमाई जाती है, उसमें टीआरपी के लिए यह सब भी संभव हो सकता है. जिस तरीके से न्‍यूज चैनलों के एंकर अपने पैनल में बुलाए गए मेहमानों को छेड़ते हैं कि बहस गरमागरम हो जाए तो उनके लिए ये ''एक्‍सप्रेस न्‍यूज'' का ये लाइव कार्यक्रम एक सबक हो सकता है.

‘न्यूज एक्सप्रेस’ को मुकेश कुमार ने इस तरह रफ्तार पकड़ाया (वीडियो इंटरव्यू)

मुकेश कुमार एक जमाने में उस टीम में भी थे, जिसके कंधों पर वायस आफ इंडिया को लांच करने और जमाने की जिम्मेदारी थी. रामकृपाल सिंह समेत कई लोग वीओआई से जुड़े थे. पर वीओआई नहीं चला. बहुत बवाल हुए. बहुत सारी चीजें हुईं. मुकेश कुमार को भी वहां से इस्तीफा देना पड़ा था क्योंकि उन्हें अपनी टीम के लोगों से पेड न्यूज कराने को कहा गया और मुकेश ने ऐसा करने से इनकार करते हुए इस्तीफा दे दिया था. वीओआई के बहुत लोग बेरोजगार हुए. जितने लोग वीओआई से जुड़े थे, वे ज्यादातर अच्छे चैनलों से आए थे. वीओआई के पतित होने और बंद होने से मार्केट रेट हर पत्रकार का डाउन हुआ. ब्रांड इमेज सबकी गिरी.

इंटरनेट को सेंसर करने का ख्वाब देखने वाले कपिल सिब्बल संग मनाएं अप्रैल फूल्स डे

: सेव योर वॉयस ने शुरू किया अभियान : फर्स्ट अप्रैल नज़दीक है और आप सब सोच रहे होंगे कि इस बार का अप्रैल फूल्स डे किसे विश किया जाये. ज़रा सोचिये, समूचे इंटरनेट को सेंसर करने का बेवकूफाना ख्वाब देखने वाले सिब्बल जी से बेहतर कौन हो सकता है इस बार के अप्रैल फूल्स डे के लिए. तो आइये हम सब मिलकर कपिल सिब्बल जी के साथ मूर्ख दिवस सेलिब्रेट करें, और तन मन धन से उन्हें अप्रैल फूल्स डे की बधाइयाँ भेजें.

दस साल में उदयपुर के दस हॉकरों ने की आत्‍महत्‍या

: कमिशन बढ़ाने की मांग लेकर आंदोलनरत हैं अखबार विक्रेता : उदयपुर में अंधेरी रात में घर-घर तक चुपचाप अखबार पहुंचाने वाले और गरीब तबके से ताल्लुक रखने वाले उदयपुर के हॉकरों का दर्द सुनने वाला कोई नहीं है। मुफलिसी और तंगहाली में जीने वाले हॉकरों के लिए यह हड़ताल भारी पड़ रही है लेकिन विज्ञापनों और अन्य गोरखधंधों से लाखों के वारे-न्यारे करने वाले अखबार मालिकों का दिल नहीं पसीज रहा है। पिछले दस साल में उदयपुर में एक के बाद एक कुल दस हॉकरों ने आर्थिक तंगी के चलते मौत को गले लगा लिया। हड़ताल के बाद अब पूरा शहर कह रहा है कि हॉकरों की कमीशन बढ़ाने की मांग जायज है। क्या अखबार मालिक इस ओर ध्यान देंगे?

पत्रकार सुभाष त्रिपाठी ने अखिलेश यादव से पूछा था- किस स्कूल में पढ़ते हो?

एक जमाना था जब बाप यानि पिता मुलायम सिंह यादव अंग्रेजी के खिलाफ अभियान चला रहे थे और उनके सुपुत्र अखिलेश यादव अंग्रेजी माध्यम के स्कूल में शिक्षा ले रहे थे. उन दिनों अखिलेश को अंग्रेजी शिक्षा दिलाने के कारण मुलायम को हिन्दी समर्थकों की आलोचना का शिकार होना पड़ा था. तब छात्र के रूप में अखिलेश यादव एक दफा इटावा के पत्रकार सुभाष त्रिपाठी से टकरा गए. और, सुभाष त्रिपाठी ने मुलायम के बेटे का इंटरव्यू कर डाला. पहला सवाल पूछा- किस स्कूल में पढ़ते हो?

कुशवाहा के सीबीआई चंगुल में फंसने के बाद जनसंदेश टाइम्‍स का संकट गहराया

: इस महीने देर से मिली कर्मचारियों को सेलरी : अखबार के पन्‍ने भी हुए कम : लखनऊ समेत गोरखपुर, बनारस और कानपुर से प्रकाशित हिंदी दैनिक जनसंदेश टाइम्‍स का संकट गहराने लगा है. कुशवाहाजी के सीबीआई के चंगुल में जाने के बाद अखबार संचालन में आर्थिक कठिनाइयां भी आने लगी हैं. इस महीने लखनऊ के लोगों की सेलरी देर से आई है. पहले लखनऊ एडिशन के सारे 20 पेज रंगीन होते थे, परन्‍तु आर्थिक दुश्‍वारियों ने इसे 16 पेज करने पर मजबूर कर दिया. रंगीन पन्‍नों की संख्‍या भी घटा दी गई. अब खबर है कि अखबार के 14 पन्‍ने ही प्रकाशित हो रहे हैं.

माफिया बृजेश सिंह के भतीजे सुशील सिंह ने की अखिलेश के लिए सीट छोड़ने की पेशकश

यूपी के चन्दौली जिले के सकलडीहा विधानसभा क्षेत्र से निर्दल विधायक के रूप में जीते माफिया डान बृजेश सिंह के भतीजे सुशील सिंह ने प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के लिए अपनी सीट छोड़ने की पेशकश की है. सुशील सिंह ने कहा कि वे मुख्यमंत्री अखिलेश से मिलकर सकलडीहा से चुनाव लड़ने के लिए निवेदन करेंगे. इसके पीछे सुशील सिंह का मकसद है कि अगर अखिलेश यादव यहाँ से चुनाव लड़ेंगे तो उनके जीतने के बाद मेरे विधानसभा क्षेत्र के साथ-साथ पूर्वांचल का भी विकास होगा.

5th KC Kulish Award for Excellence in Print Journalism

Dear All, As Patrika Group of Newspapers enters into its 56th Year we are expanding in reach, editorial campaigning for core issues and focusing on Development Intervention through newspaper strength. Recognizing Good work in print media across the globe is a gesture to pay homage to our founder father Sh Karpoor Chandra Kulish and promote Value laden Journalism. Kindly encourage fellow journalists to send best of their works and also stay prepared with
better planning and works for the coming awards.

पत्रकारों की कुश्ती का मैदान न बन जाए भड़ास

जो खबर जैसे आए छप जाए और आपको कुछ कहना है तो कमेंट बॉक्स में लिखिए या लिखकर भेज दीजिए वह भी छप जाएगा – का आपका सिद्धांत निराश कर रहा है। आपने संपादकीय दायित्व लगभग छोड़ दिया है और हर लेखक या पाठक संपादक हो गया है। किसी भी अखबार पत्रिका या अब नए माध्यम में संपादक की भूमिका होती है और वही पाठक बनाता है। आपने जब भड़ास शुरू किया था तो संपादक के रूप में जो काम किए, जो विचार जताए उससे इसकी लोकप्रियता बनी और इसे पाठकों का इतना बड़ा आधार मिला।

यूपी में पंद्रह जिलों के डीएम समेत तीस आईएएस इधर-उधर

उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव की सरकार ने रविवार रात किए एक बडे़ प्रशासनिक फेरबदल में नोएडा के अध्यक्ष मोहिन्दर सिंह और 15 जिलों के जिलाधिकारियों के साथ 30 आईएएस अधिकारियों के तबादले कर दिए है जिनमें अभी एक दिन पहले मुख्यमंत्री सचिवालय से हटाए गए अधिकारियों की नियुक्तिया भी शामिल हैं. नियुक्ति विभाग से देर रात जारी विज्ञप्ति के अनुसार नोएडा के साथ ही उत्तर प्रदेश निर्यात निगम यमुना एक्सप्रेस वे औद्योगिक विकास प्राधिकरण एवं निवेश आयुक्त के पद पर तैनात रहे मोहिन्दर सिंह को उनके पद से हटा कर प्रतीक्षा सूची में डाल दिया गया है जबकि ग्राम्य विकास विभाग में अपर आयुक्त के पद पर तैनात रहे अनुराग यादव को लखनऊ का नया जिलाधिकारी तैनात किया गया है.

एसी शर्मा यूपी के नए डीजीपी, दर्जनों आईपीएस अफसरों के तबादले

लखनऊ से सूचना है कि उत्तर प्रदेश का नया डीजीपी अंबरीश चंद्र शर्मा को बनाया गया है. वे अभी तक मुरादाबाद स्थित पुलिस अकादमी में पोस्टेड थे. फिलहाल डीजीपी के रूप में कार्य देख रहे अतुल को होमगार्ड्स में महासमादेष्टा के पद पर भेजा गया है. अभी तक महासमादेष्टा होमगार्डस का काम देख रहे देवराज नागर को पीएसी का डीजी बनाया गया है. 26 आईपीएस अफसरों के तबादले की भी खबर है. ये सारे तबादले रविवार की देर रात किए गए. डीजीपी रह चुके और वर्तमान में पुलिस महानिदेशक पीएसी का काम देख रहे बृजलाल को भीमराव अंबेडकर पुलिस अकादमी, मुरादाबाद भेज दिया गया है. पुलिस महानिदेशक नागरिक सुरक्षा मुख्यालय सुब्रत त्रिपाठी को डीजीपी कार्यालय से अटैच किया गया है, जबकि एसके मिश्रा को पुलिस महानिदेशक उप्र पावर कारपोरेशन से हटाकर डीजी नागरिक सुरक्षा बनाया गया है.

मीडिया पर मासिक शोध पत्रिकाओं जनमीडिया और मासमीडिया के सदस्य बनें

मीडिया स्टडीज़ ग्रुप जनसंचार से जुड़े शोधों पर आधारित मासिक शोध पत्रिका जनमीडिया (हिन्दी) और मास मीडिया (अंग्रेजी) का प्रकाशन कर रहा है। यह आवश्यकता महसूस की जा रही थी कि मीडिया स्टडीज़ ग्रुप की गतिविधियों (विशेषकर शोध और सामाजिक मुहिम) तथा जनसंचार से संबन्धित विषयों पर विश्वविद्यालयों, संस्थानों और स्वतंत्र रूप से किए जा रहे शोधों को पत्रकारों, लेखकों सामाजिक कार्यकर्ताओं, बुद्धिजीवियों के दायरे को विस्तारित कर आम लोगों के बीच ले जाया जाए। जन मीडिया औऱ मास मीडिया इसी समझ की उपलब्धि है। ये दोनो जर्नल, मीडिया के क्षेत्र में गम्भीर शोध की कमी को पूरा करने की दिशा में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकेंगे।

उत्तराखण्ड मुक्त विश्वविद्यालय शुरू करेगा मीडिया के दो नये पीजी पाठ्यक्रम

: बोर्ड आफ स्टडीज की बैठक में बनी सहमती, नये सत्र से कोर्स होंगे शुरू : हल्द्वानी। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय (यूओयू) का पत्रकारिता एवं जनसंचार विभाग अगले सत्र से दो नए स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम शुरू करेगा। ये पाठ्यक्रम हैं, '''विज्ञापन एवं जनसंपर्क’’ व ''ब्राडकास्ट जर्नलिज्म एवं न्यू मीडिया’’। दोनों पाठ्यक्रम एक-एक साल के होंगे। प्रत्येक कोर्स दो सेमेस्टरों का होगा। आज विवि में हुई अध्ययन बोर्ड की बैठक में यह सहमति बनी। बैठक में इग्नू के स्कूल आफ जर्नलिज्म एंड न्यू मीडिया के निदेशक प्रो. सुभाष धूलिया, वरिष्ठ टेलीविजन पत्रकार एवं सूचना आयुक्त, उत्तराखंड प्रभात डबराल, पंजाब नेशनल बैंक के भूतपूर्व मुख्य प्रबंधक जनसंपर्क देवेन्द्र मेवाड़ी के साथ यूओयू के पत्रकारिता विभाग के प्रो. गोविंद सिंह, सहायक प्राध्यापक डा. सुबोध अग्निहोत्री व अकादमिक परामर्शदाता डा. राकेश रयाल शामिल हुए।

प्रवीन और सुनील को उमेश डोभाल युवा पत्रकारिता पुरस्कार

इस बार के उमेश डोभाल पत्रकारिता पुरस्कारों की घोषणा हो गई है। प्रिंट मीडिया के लिए इस बार देहरादून के प्रवीन कुमार भट्ट (इंडिया टुडे) को जबकि इलेक्ट्रानिक मीडिया के लिए कोटद्वार के सुनील नवप्रभात (ईटीवी) को यह पुरस्कार दिया जाएगा। उत्तराखंड के कोटद्वार में हुई चयन समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया। तीन अन्य पुरस्कारों की घोषणा उमेश डोभाल ट्रस्ट पहले ही कर चुका है। 24 व 25 मार्च को रुद्रप्रयाग जिले के अगस्त्यमुनि में होने जा रहे दो दिवसीय समारोह में यह पुरस्कार दिए जाएंगे।

रायपुर से सांध्य दैनिक ‘जनदखल’ का प्रकाशन शुरू

: पहले ही अंक में छत्तीसगढ़ सरकार पर प्रहार : रायपुर। बिना किसी ताम झाम के आज छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से सांध्य दैनिक जनदखल ने अपनी पारी शुरू की। आरकेएस इम्प्रैसिव मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के बैनर तले पहली बार दस्तक देते ही 'जनदखल' ने अपने नाम के मुताबिक जनता के दिलों को झकझोरने की कोशिश की। जिस राज्य में सारा मीडिया सत्ता के गुणगान करने में मस्त है वहां जनदखल ने पहले दिन दो खबरों को पेज एक पर तरजीह दी। लीड खबर रही- ''नेकी या बदी: रमन ने बेची महानदी''।

सिद्ध पीठ में धोती पहनकर जाने का रिवाज है, इसलिए पत्रकारों ने पैंट उतारा

: खीझ निकालने के लिए पत्रकारों की तस्‍वीर को गलत तरीके से पेश किया गया : आप सभी ने ''गिफ्ट-पैसा पाने के लिए पैंट तक उतार दी पत्रकारों ने'' शीर्षक की खबर को पढ़ा होगा और पढ़ने के बाद इन पत्रकारों के बारे में अपने अपने मुताबिक नजरिया बनाया होगा। हर व्यक्ति को अपने-अपने तरीके से सोचने की आजादी है। मैं इस प्रकरण के बारे में कुछ तथ्य रखना चाहता हूं। मेरा पहला सवाल आप सभी पाठकों से ये है कि क्या आप किसी मंदिर या मस्जिद में जूता पहनकर जा सकते है?

जस्टिस काटजू ने संपादकों की ली क्लास, मीडिया का मतलब बताया

जो लोग परसों इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के कांफ्रेंस हॉल में शैलेश-ब्रजमोहन लिखित किताब 'स्मार्ट रिपोर्टर' के विमोचन समारोह में पहुंचे थे, वे एक ऐसे घटनाक्रम के गवाह बने जो ऐतिहासिक था. जस्टिस काटजू मीडिया के कई संपादकों एनके सिंह साधना, आशुतोष आईबीएन, शशिशेखर हिंदुस्तान, नकवी आजतक, उर्मिलेश राज्यसभा टीवी, राणा यशवंत महुआ आदि इत्यादि और दर्जनों वरिष्ठ कनिष्ठ पत्रकारों रिपोर्टरों को मीडिया का असल मतलब समझाते रहे, घंटे भर से ज्यादा वक्त तक वे बोलते रहे.

दलित-पिछड़ों के घुसपैठ के बाद ही बदलेगा मीडिया का चरित्र

वैश्‍वीककरण के इस दौर में जनपक्षीय पत्रकारिता गुम होती जा रही है। बाजारवाद ने राष्ट्रीय मीडिया के स्वरूप को बदल डाला है। आरोपों में घिरा, यह संपूर्ण भारतीय समाज का माध्यम नहीं बन पाया है। तथाकथित एक वर्ग तक सिमट कर यह रह गया है। सामाजिक पहलुओं को लगातार दरकिनार करते हुए, राष्ट्रीय मीडिया के उपर सवर्ण मानसिकता का होने का आरोप पहले ही लग चुका है। आज जो सबसे बड़ा सवाल है, वह है, मीडिया का जनपक्षीय नहीं होना?

स्ट्रिंगरों को तनख्वाह न दिए जाने के मुद्दे पर कदम उठाएंगे : जस्टिस काटजू

जाने माने जज रहे और इन दिनों प्रेस काउंसिल आफ इंडिया के चेयरमैन के रूप में कार्यरत जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने एक कार्यक्रम में स्ट्रिंगरों के शोषण और तनख्वाह न दिए जाने के मुद्दे को गंभीर बताते हुए इस पर सार्थक कदम उठाने की बात कही. जस्टिस काटजू वरिष्ठ पत्रकार शैलेश और डा. ब्रजमोहन द्वारा लिखित किताब 'स्मार्ट रिपोर्टर' के विमोचन के मौके पर पत्रकारों से रूबरू थे.

अमर उजाला, इलाहाबाद से बनारस लौट आए अजय राय

अमर उजाला, इलाबाद से खबर है कि सीनियर सब एडिटर अजय राय फिर से बनारस लौट आए हैं. पिछले साल सितम्‍बर में उनका तबादला बनारस से इलाहाबाद के लिए किया गया था. उन्‍हें बनारस में रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. अजय राय ने बारह साल पहले आगरा में अमर उजाला ज्‍वाइन किया था. इसके बाद उनका तबादला वाराणसी के लिए कर दिया गया था. एक साल तक वे अखबार के गाजीपुर के ब्‍यूरोचीफ भी रहे.

सहारनपुर में आपसी मारपीट मामले में दो पत्रकारों के खिलाफ नामजद एनसीआर दर्ज

सहारनपुर में इंडिया टीवी एवं न्‍यूज 24 के पत्रकारों के साथ दूसरे गुट के पत्रकारों के मारपीट करने के मामले में पुलिस ने एनसीआर दर्ज कर ली है. इंडिया न्‍यूज के पत्रकार खालिद हसन और न्‍यूज24 के पत्रकार गौरव मिश्रा के साथ फैजल खान और आजम खान ने मारपीट की थी. सरेआम सड़क पर यह मारपीट हुई तथा लोग तमाशाई बनकर पत्रकारों की मारपीट का मजा लेते रहे. इस मामले में कोतवाली पुलिस ने खालिद तथा गौरव की लिखित शिकायत पर दोनों के खिलाफ नामजद एनसीआर दर्ज कर लिया है.

गोरखपुर के सातवें फिल्म फेस्टिवल में आपका स्वागत है

प्रिय मित्रों, प्रतिरोध का सिनेमा अभियान के 22 वें और गोरखपुर के 7वें फिल्म फेस्टिवल में आपका स्वागत है. डाक्यूमेंटरी, लघु फिल्में, फीचर फिल्में, नाटक, व्याख्यान प्रदर्शन और बहुत सारी चीजों का आनंद आप इस उत्सव में उठा सकेंगे. फेस्टिवल का उदघाटन 23 मार्च को शाम  4.30 बजे निपाल क्लब के सर्वोदय हाल में होगा. निपाल क्लब सिविल लाइंस में गोरखपुर के आर टी ओ आफिस के सामने है.

काटजू का सुझाव- प्रेस काउंसिल और बीईए की संयुक्त कोआर्डिनेशन कमेटी बने

: शाजी और एनके सिंह के लिखा पत्र : Dear Shazizji and N.K. Singhji, I suggest that a co-ordination committee be formed between the Press Council of India and the BEA consisting of 3 or more representatives of both bodies. This is to my mind necessary because media freedom has of late been imperilled in many parts of the country, and we should jointly fight against this dangerous trend,otherwise the situation may grow worse. In many parts of India physical attacks have taken place against media persons, while in many places media feedom has been jeopardized in other ways e.g by the government pressurizing the proprietor of the media to sack or transfer journalists who write or speak against the government or its Ministers or officers, etc.

वरिष्‍ठ पत्रकार निरंजन परिहार ने राष्‍ट्रपति को ‘एक राष्‍ट्र, एक संत’ भेंट की

मुंबई। जाने-माने राजनीतिक विश्लेषक और मीडिया विशेषज्ञ निरंजन परिहार द्वारा विख्यात जैन संत आचार्य चंद्रानन सागर सूरीश्वर महाराज पर लिखित पुस्तक ‘एक राष्ट्र, एक संत’ की पहली प्रति महामहिम राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा पाटिल को भेंट की गई। मुंबई के राजभवन में आयोजित एक भव्य समारोह में देश भर से आए करीब सवा सौ से भी ज्यादा प्रतिष्ठित एवं जाने माने लोगों की उपस्थिति में प्रति युवा समाजसेवी प्रवीण शाह और निरंजन परिहार ने राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल को य‍ह प्रति सौंपी।

क्या इसीलिए इतनी पढ़ाई करके आईपीएस बना था?

Mukesh Kumar 'Gajendra' : ‎''यार, यहां बहुत बेगार करवाते हैं। कोई सेल्फ रिस्पेक्ट ही नहीं है। इलेक्शन के खर्चों का टारगेट अभी से दे दिया है। क्या इसलिए इतनी पढ़ाई करके आईपीएस बना था? ये लोग वर्दी वालों से ही उगाही करवा रहे हैं। अब नौकरी छोड़ दूंगा।'' खुदकुशी से ठीक पहले बिलासपुर (छत्‍तीसगढ़) के एसपी राहुल शर्मा ने अपना यह दुख अपने दोस्त के साथ साझा किया था। अधिकांश मां-बाप अपने बेटे-बेटी को आईपीएस या आईएएस बनाना चाहते हैं। तैयारी में उनकी आधी उम्र निकल जाती है। सलेक्शन के बाद पोस्टिंग के लिए जुगाड़ लगाना पड़ता है। उसके बाद यदि ऐसा हश्र हो तो दिल फटने लगता है। सपने टूट जाते हैं। दुनिया से मोह खत्म हो जाता है। और उसकी परिणति कुछ ऐसी ही होती है।

बिना रजिस्‍ट्रेशन के हिंदुस्‍तान ले रहा है सरकारी विज्ञापन!

मुंगेर। बिहार में आर्थिक अपराधियों के विरुद्ध युद्ध शुरू कर चुके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कदम को कमजोर करने का काम बिहार के सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय (पटना) के वरीय पदाधिकारी और भागलपुर के जिलाधिकारी नर्मदेश्वर लाल संयुक्तरूप से कर रहे हैं। जिन हाथों से जिलाधिकारी (भागलपुर) नर्मदेश्वर लाल को आर्थिक अपराध में डूबे दैनिक हिन्दुस्तान के प्रकाशन की नवीनतम स्थिति की जानकारी बिहार सरकार और सूचना एवं जनसम्पर्क निदेशालय (पटना) को देनी चाहिए थी और बिना रजिस्‍ट्रेशन के छप रहे हिन्दुस्तान अखबार को सरकारी विज्ञापन बंद करने की सिफारिश करनी चाहिए थी, उस जिला पदाधिकारी के हाथ दैनिक हिन्दुस्तान के बैनर तले भागलपुर में 17 मार्च को आयोजित ‘‘रोड शो‘‘ को हरी झंडी दिखाने में उपयोग हो रहे हैं।

जस्टिस काटजू ने किया शैलेश एवं ब्रजमोहन के ‘स्‍मार्ट रिपोर्टर’ का विमोचन

नई दिल्ली। आईबीएन7 के वरिष्ठ पत्रकार ब्रजमोहन और अल्फा मीडिया ग्रुप के सीईओ शैलेश की पुस्तक स्मार्ट रिपोर्टर का दिल्ली में शनिवार को इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में विमोचन किया गया। इस मौके पर प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े तमाम हस्तियां मौजूद थीं। इस पुस्तक की खासियत ये है कि इसमें इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के सभी पहलुओं को दर्शाया गया है और एक स्मार्ट रिपोर्टर में क्या खूबियां होनी चाहिए इसके बारे में विस्तार से जानकारी दी गई हैं। रिपोर्टिंग के दौरान पत्रकारों को किन-किन बातों पर संयम बरतना चाहिए किताब में इसका भी ज़िक्र किया गया है।

जागरण समूह के एनई सुशील खन्‍ना को मातृशोक

जालंधर : जागरण समूह के अखबार पंजाबी जागरण के न्‍यूज एडिटर सुशील खन्‍ना की मां स्‍वर्णलता का रविवार को निधन हो गया. वे 70 साल की थीं तथा पिछले काफी समय से बीमार चल रही थीं। उनका अंतिम संस्‍कार जालंधर के माडल टाउस श्‍मशानघाट पर किया गया. वे अपने पीछे पति शाम दास खन्‍ना समेत भरापूरा परिवार छोड़ गई हैं. स्‍वर्णलता के निधन पर पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल, उपमुख्‍यमंत्री सुखबीर बादल, कांग्रेस के प्रदेश अध्‍यक्ष कैप्‍टन अ‍मरिंदर सिंह सहित तमाम विधायक एवं मत्रियों ने शोक व्‍यक्‍त किया है.

हिंदुस्‍तान, बदायूं से अमित मिश्रा कार्यमुक्‍त

हिंदुस्‍तान, बदायूं से खबर है कि विज्ञापन प्रभारी अमित मिश्रा को कार्यमुक्‍त कर दिया गया है. अमित पर चुनाव के दौरान विज्ञापन को लेकर कुछ आरोप लगे थे, जिसकी प्रबंधन ने जांच कराई थी. जांच में आरोप सही पाए  गए थे. नई सूचना है कि अमित की जगह प्रबंधन ने बरेली से अमित यादव को …

यौन उत्पीड़न का आरोपी धूर्त स्वामी चिन्मयानंद सपा सरकार और अखिलेश को पटाने में जुटा

भापजा का दामन थाम कर राजनीति तथा मंत्री पद का स्‍वाद चखने वाले स्‍वामी चिन्‍मयानंद अब यूपी के नए नवेले सीएम अखिलेश यादव के स्‍वमभू भक्‍त हो गए हैं। आखिर ऐसा क्‍या हो गया है कि स्‍वामी को अखिलेश का गुणगान करना पड़ रहा है। विधानसभा चुनाव में उमा भारती के नाम की बांसुरी बजाने वाले चिन्‍मयानंद उत्‍तर प्रदेश में उनके अलावा कोई योग्‍य नेता नहीं दिख रहा था, पर अब ऐसा क्‍या हो गया कि उनके सुर-ताल-लय सब कुछ बदल गए हैं। और अखिलेश इनकी बांसुरी थामने वाले कृष्‍ण हो गए हैं। 

हिन्दुस्तान में ब्लंडर, शीर्षक अलग, खबर कोई और

शनिवार 17 मार्च को हिन्दुस्तान के मेरठ संस्करण में भारी गलती देखने को मिली, जब 19 नम्बर पेज पर बोल्ड फॉंट में शीर्षक लगा था – ‘पाकिस्तान पैनल जिरह का इच्छुक, भारत का ऐतराज’, संभवतः यह उस खबर से सम्बन्धित था, जिसमें मुम्बई बम विस्फोट में जांच के लिये भारत आये पाकिस्तानी प्रतिनिधिमण्डल के चश्‍मदीद गवाहों से जिरह करने पर हुए विवाद का जिक्र था। लेकिन खबर पढ़ने पर पता लगा कि इसमें वित्त मंत्री ने आम बजट में संकटग्रस्त विमानन कंपनियों को विदेशी कर्ज लेने की अनुमति देने का प्रस्ताव रखा था।

खेल के नाम पर 25 लाख का चंदा खा जाते हैं ग्‍वालियर के तनखैया पत्रकार

ग्वालियर में कुछ पत्रकार गिरोह है, जिन्होंने नगर निगम पर कब्ज़ा कर रखा है. सबसे खास बात यह है कि नगर निगम कुछ भी करे पत्रकारों का भाग्य वे पत्रकार तय करते हैं, जिनके अपने अखबार शहर में सैकड़ा में भी नहीं दहाई में आते हैं. इन्होंने नगर निगम को अपनी लूट का अड्डा बना रखा है. इस गिरोह के लोग प्रभारी मन्त्री की दलाली करते हैं. पहले यह लोग अटल बिहारी बाजपेयी के भांजे अनूप मिश्रा के पीछे साए की तरह लगे रहते थे, लेकिन जैसे ही उनके सितारे गर्दिश में आये इस गैंग ने उनसे न केवल किनारा कर लिया बल्कि संकट की बेला गाँव में पत्रकारों को ले जाकर हर वह जतन किया कि अनूप के केस में फर्जी तौर पर उनके परिजन फंस जाएँ.

गाजीपुर पत्रकार एसोसिएशन के अध्‍यक्ष बने राजेश दुबे, अनिल महामंत्री

गाजीपुर पत्रकार एसोसिएशन का द्विवार्षिक चुनाव रविवार को  सम्पन्न हुआ। आज के चुनाव में कुल 15 प्रत्याशियों ने नामांकन किया था, जिसमें अध्यक्ष पद के लिए निवर्तमान अध्यक्ष उधम सिंह, राजेश दुबे व उपाध्यक्ष के दो पद के लिए सूर्यवीर सिंह, विनोद गुप्ता, गुलाब राय, वेदप्रकाश श्रीवास्तव व अजय शंकर तिवारी शामिल थे। महामंत्री पद के लिए अनिल कुमार, अशोक श्रीवास्तव, आय-व्यय निरीक्षक पद के लिए लल्लन यादव तथा श्याम सिन्हा नामांकन दाखिल किया था।

31 मार्च को जागरण को अलविदा कह देंगे सीकेटी!

: बरेली में मेयर का चुनाव लड़ने की तैयारियों की चर्चा : दैनिक जागरण के चर्चित लोगों में एक चंद्रक्रांत त्रिपाठी उर्फ सीकेटी के बारे चर्चा है कि अब उनका मन जागरण से भर गया है. गोरखपुर में यह खबर एक दूसरे से होते तमाम लोगों तक पहुंच रही है कि सीकेटी 31 मार्च को जागरण को अलविदा कहने जा रहे हैं. बरेली में दो दशक से ज्‍यादा समय तक जागरण पर एकछत्र राज करने वाले सीकेटी को पिछले साल प्रबंधन ने गोरखपुर भेज दिया था. कहा जा रहा है कि जागरण को अलविदा कहने की जानकारी उन्‍होंने अपने खास लोगों को दे दी है.

पत्रकार की शिकायत पर फर्जी पत्रकार गिरफ्तार

साकेत थाना पुलिस ने निगम चुनाव में एक पार्षद से पेड न्यूज के नाम पर पैसे मांगने वाले विज्ञापन एजेंट को गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान उत्तम नगर निवासी मनोज कुमार (43) के रूप में हुई है। उसके पास से एक मोबाइल और मेट्रो न्यूज डॉट कॉम नाम के संस्थान का क्राइम रिपोर्टर का आइकार्ड व विजिटिंग कार्ड बरामद हुआ है। पुलिस ठगी का मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। यह कार्रवाई एक नामी न्यूज चैनल के पत्रकार की शिकायत पर की गई है।