न्यूज चैनल की हरकत से टॉपर छात्रा पहुंची अस्पताल, पिता ने की पुलिस से शिकायत

आखिर मीडिया राजस्थान बोर्ड की इस टॉपर छा़त्रा की मार्कशीट पर लाल घेरा फेर कर क्या साबित करना चाहता है?

माखनलाल यूनिवर्सिटी के छात्रों ने लड़ाई के लिए कमर कसी

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय का आंतरिक विवाद गहराता जा रहा है। कभी फर्जी नियुक्ति का मामला, कभी छात्र विरोधी स्थितियां तो कभी शिक्षकों के शोषण का मसला। इस तरह के एक नहीं बल्कि सैकड़ों प्रकरण उलझे हुए हैं। ऐसा लगता है, जैसे माखनलाल विश्वविद्यालय और विवादों का आपस में चोली-दामन का साथ है। विगत पांच सालों से लागातार छात्र हित की अनदेखी की जा रही है। छात्रों ने अपने हित की लड़ाई के लिए कमर कस ली है।

ओ मेरे अत्याचारी, तुमसे हार नहीं मानूंगी, यौन शोषित ऑक्सफोर्ड छात्रा का खत मीडिया की सुर्खियों में

लंदन : विगत 11 अप्रैल की रात ज्यादती की शिकार हुई ऑक्सफोर्ड की छात्रा इयॉन वेल्स ने चुप बैठने के बजाए यूनिवर्सिटी के अखबार में आरोपी के खिलाफ एक चेतावनी भरा मार्मिक पत्र लिखा, जो अब विश्व मीडिया और सोशल मीडिया की सुर्खियों में है। ज्यादती करने वाले आरोपी के खिलाफ वेस्ल ने अपने अखबारी पत्र में लिखा – 

मंजुनाथ फैसले का स्वागत, पद्म विभूषण की मांग

लखनऊ : आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने आईआईएम लखनऊ के पूर्व छात्र और पारदर्शिता से काम करने वाले व्यक्ति के रूप में मंजुनाथ मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हार्दिक स्वागत किया है। साथ ही उन्होंने पारदर्शिता के क्षेत्र में उनके द्वारा स्थापित उच्चतम आदर्शों के मद्देनज़र मंजुनाथ और सत्येन्द्र दुबे के लिए द्वितीय सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्म विभूषण …

Save Scholar’s Career from Dictatorship of VC Prof. B.K. Kuthiala

: Mental torture being faced by Mass Communicaton Ph.D. Scholars : Student Forum of Makhanlal Chaturvedi National University of Communication and Journalism would like to bring to your notice that mental torture being faced by Mass Communicaton Ph.D. Scholars in University. As we would like to tell you that Application for Ph.D. were invited in the 2011, entrance examination was conducted on 29th January 2012, Entrance Exam was held at the University campus. Result  of Which came on 16 May 2012. The Course work commence on 13th February 2013 and the Result of course work was announced on 23rd December 2013.

उत्तराखंड में पीएचडी पर पकोड़े खाइए

: 2009 से पहले के पीएचडी धारकों के साथ हो रहा अन्याय : सरकारी कालेजों में रिटायर्ड प्रोफेसरों की जगह पर पीएचडी बेरोजगारों को लें : यूजीसी के बेतुके फरमान से हजारों उच्चशिक्षित बेरोजगारों का भविष्य चौपट : नियम बनाया 2009 में और लागू कर दिया इससे पहले के वर्षों से :

देहरादून: उत्तराखंड के महाविधालयों में प्राध्यापकों के पदों पर भर्ती की आस लगाए बैठे उत्तराखंड के उच्च शिक्षित बेरोजगार मायूस हो गए हैं। 2009 से पहले के पीएचडी वालों की सुध नहीं ली जा रही है। विश्वविधालय अनुदान आयोग यानी यूजीसी के रेगुलेशन-2009 नामक फरमान के बाद इन लोगों का भविष्य एक प्रकार से चौपट हो चुका है। इनमें से अनेक की उम्र काफी हो चुकी है। कर्इ राज्यों में 2009 से पहले की पीएचडी वालों को नेट-स्लेट से छूट प्रदान की जा चुकी है, लेकिन उत्तराखंड सरकार ने अभी तक इस पर विचार नहीं किया है। अब ये लोग आंदोलन के लिए हुंकार भरने लगे हैं।

मुलायम के जन्मदिन जश्न के लिए स्कूली बच्चों को घंटों खड़ा रखा, बाल अधिकार आयोग को शिकायत

रामपुर में मुलायम सिंह के जन्मदिन समारोह के लिए स्कूलों की बंदी और बच्चों को मुलायम सिंह के नारे लगाने के लिए घंटों खड़ा रखने को बाल अधिकारों का खुला उल्लंघन बताते हुए सामाजिक कार्यकर्त्ता डॉ नूतन ठाकुर ने इस सम्बन्ध में राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग को शिकायत भेजी है. शिकायत संख्या 201400001016 पर दर्ज इस ऑनलाइन शिकायत में कहा गया है कि एक नेता, जिन्हें ये बच्चे संभवतः जानते तक नही थे, के लिए नारे लगाने को इन बच्चों को घंटों खड़ा रखना आईपीसी की धारा 342 में अपराध है.