आशीष खेतान भी छोड़ चले, ‘आप’ अब चाटुकारों का समूह!

Anurag Anant : अरविंद केजरीवाल ने सिद्ध कर दिया है, जनभावनाओं को वो अनाथ खेत मानते हैं और जब मन करता जोत लेते हैं, जब मन करता है। कुछ बो देते हैं, फसल काट लेते हैं, गाय-भैंस छोड़ देते हैं चरने के लिए। विकास की थोथी अभिधारणा रचने में लगे हुए बौनों आदमियों का समूह बन गयी है आप आदमी पार्टी। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

केजरीवाल ने बीस घंटे में अस्सी हजार रुपये की शराब पी ली!

Vivek Kumar : सिर्फ 20 घंटे में केजरीवाल ने खर्च किए 1.85 लाख.. इसमें खाने-पीने का बिल आया 76 हजार… मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पिछले दिनों कर्नाटक मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी के शपथग्रहण समारोह में शामिल होने पहुंचे.. कुमारस्वामी के सात मिनट के शपथ ग्रहण समारोह पर कर्नाटक सरकार का कुल 42 लाख रुपये का खर्चा आया..

Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अरविंद केजरीवाल ने किस्सा सुनाने के बहाने कह दिया- ”टीवी चैनल वालों को तो मोदी ने खरीद रखा है”

Arvind Kejriwal : अभी अभी बिहार गए हुए एक रिपोर्टर से बात हुई। उसने एक बड़ा दिलचस्प किस्सा सुनाया। रिपोर्टर ने बिहार के एक गाँव में एक रिक्शा वाले से बात की। दोनों के बीच हुई बात इस प्रकार है –

रिपोर्टर – बिहार में कौन चुनाव जीतेगा?
रिक्शा वाला – नीतीश जीतेगा।
रिपोर्टर – अरे तुम झूठ बोल रहे हो। मोदी जीतेगा।
रिक्शा वाला – आप दिल्ली से आये हैं?
रिपोर्टर – हाँ
रिक्शा वाला – टीवी चैनल में काम करते हैं?
रिपोर्टर – हाँ
रिक्शा वाला – तो आप तो बोलोगे ही। टीवी चैनल वालों को तो मोदी ने खरीद रखा है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

स्वतंत्रता दिवस या ARVIND KEJRIWAL दिवस!

पूरा देश आज स्वतंत्रता दिवस मना रहा था लेकिन अरविंद केजरीवाल खुद आज अपना दिवस मनाने में जुटे थे, वह भी स्कूली बच्चों और सरकारी पैसों के जरिए. स्वाधीनता दिवस के मौके पर दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में सीएम अरविंद केजरीवाल ने जनता को संबोधित किया. लेकिन, इस मौके पर स्टेडियम में कुछ ऐसा भी हुआ, जिससे केजरीवाल विवादों में घिर गए. स्टेडियम की दर्शक दीर्घा में बच्चों को इस तरह बिठाया गया था, जिससे इंग्लिश में ‘ARVIND KEJRIWAL‘ लिखा दिखाई दे रहा था.

अब इसके पीछे अरविंद केजरीवाल की मंशा जो भी रही हो, लेकिन सोशल मीडिया पर लोगों ने इसे आड़े हाथों लिया. लोगों की शिकायत यह रही कि स्वाधीनता दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में ‘जय हिंद’ या ‘वंदेमानतरम’ या किसी और देशभक्ति वाले संदेश के बजाय स्टेडियम में अरविंद केजरीवाल का नाम लिखा गया. ये वही अरविंद केजरीवाल हैं जो कहते फिरते हैं अभिमान, अहंकार, आत्ममुग्धता से ‘आप’ के नेताओं और कार्यकर्ताओं को बचना चाहिए. फिलहाल इस हरकत के लिए सोशल मीडिया पर अरविंद केजरीवाल को जमकर गालियां पड़ रही हैं. देखें ये दो नमूने:

Vyalok Pathak : मैं इस ख़बर की सत्यता के बारे में नहीं जानता, लेकिन अगर यह सच है, तो अरविंद केजरीवाल के ऊपर राष्ट्रीय अवमानना का मामला क्यों नहीं चलाया जाए?? यदि कजरी ने सचमुच ही आत्ममुग्धता और टुच्चई की इन हदों को छू लिया है, तो क्यों नहीं उसे तुरंत ही उसकी जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया जाए। उसके बाद अवमानना के मामले में इस Megalomaniac पर कार्रवाई की जाए। वैसे, दिल्ली वालों, मेरे बुलबुले सरीखे बुद्धिजीवी मित्रों, जनता के स्वयंभू पत्रकार महोदय, इसमें आपको तानाशाही की, भयानक व्यक्तिवाद की आहट नहीं मिलेगी न। कजरी के समर्थकों….मैं जानता हूं, इस पर भी कुछ होने का है नहीं। बहुत होगा, तो किसी निचले स्तर के कर्मचारी की ग़लती (?) ठहराकर गाज़ उस पर गिरा दी जाएगी….. जमूरों बजाओ ताली…जय हिंद।

Rahul Kaushik : Difference Evident, I told you this Delhi! At Red Fort, students were made to sit in a sequence which reflects ‘जय भारत’ when seen from a distance. At Delhi State Function in Chhatrasal Stadium, students were made to sit in a sequence that reflects ‘ARVIND KEJRIWAL’ from distance. Nothing more, Nothing less to say! Vande Mataram!

सोशल मीडिया में यह फोटो शेयर कर सीएम अरविंद केजरीवाल और ‘आप’ सरकार का मजाक उड़ाया जा रहा है. सोशल मीडिया यूजर्स एक तरफ केजरीवाल के कार्यक्रम की तस्वीर और दूसरी तरफ लाल किले पर हुए पीएम के कार्यक्रम की तस्वीर की तुलना कर रहे हैं. पीएम के कार्यक्रम में स्कूली बच्चों की सिटिंग फॉर्मेशन से ‘JAI BHARAT’ लिखा गया था जबकि केजरीवाल के कार्यक्रम में ‘ARVIND KEJRIWAL’ लिखा गया था. स्टेडियम की दर्शक दीर्घा में हरे, सफेद और केसरिया रंगों के कपड़े पहने स्कूली बच्चों को इस तरह बिठाया गया था, जिससे अंग्रेजी में अरविंद केजरीवाल (ARVIND KEJRIWAL) लिखा दिखाई दे रहा था.  सोशल मीडिया पर लोगों ने केजरीवाल पर खुद का प्रमोशन करने का आरोप लगाते हुए उन्हें अहंकारी बताया. केजरीवाल पर बहस इसलिए भी बढ़ गई, क्योंकि लाल किले पर पीएम मोदी के आयोजन में तिरंगे में ‘जय भारत’ लिखा हुआ था. लोगों ने इस बात को भी मुद्दा बनाया कि पीएम मोदी के संबोधन में देशभक्ति का संदेश दिया गया, जबकि केजरीवाल खुद का प्रचार करते रहे.


संशोधन…

मालूम चला है कि नाम लिखने की बीमारी केजरीवाल के पहले से चली आ रही थी और यह एक परंपरा बन गई थी. शीला दीक्षित रहीं हों या नजीब जंग, सबके कार्यकाल में नाम लिखे गए. पर बदनाम किए जा रहे हैं अरविंद केजरीवाल. यह सब केजरीवाल के संज्ञान के बिना मान्य परंपरा के तहत किया गया. केजरीवाल के जब संज्ञान में आया तो उन्होंने इस परंपरा को बंद करने के निर्देश दिए और बाकायदा ट्वीट किया. नीचे एक तस्वीर जिससे साबित हो रहा है कि शीला दीक्षित और नजीब जंग के कार्यकाल में भी 15 अगस्त के दिन उनके नाम की आकृति बच्चों द्वारा बनाई गई थी.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दिल्ली राज्य में पत्रकारों के लिए मजीठिया वेज बोर्ड की लड़ाई लड़ेंगे अरविंद केजरीवाल, श्रम विभाग को दिया आदेश

अरविंद केजरीवाल का ट्वीट…

Arvind Kejriwal @ArvindKejriwal
Many journos from different media houses met me today complaining that their owners not paying them due wages as per SC order. I assured them that Delhi govt will do everything possible to get them their legitimate rights.

आशुतोष मिश्रा का ट्वीट…

Ashutosh Mishra @ashu3page
Delhi govt to appoint special officer to supervise implementation of MAJITHIA WAGE BOARD FOR journalists and other employees of print media. Congratulations to all my freinds in print media. Delhi AAP govt to ensure implementation of Majithia Wage Board for journalists. Delhi CM Arvind Kejriwal directs labour dept to submit status repot of implementation beneficial to thousands media employees. Delhi govt bring “ache din” for print journalists, orders implementation of Majithia Wage Board for print media journalists in Delhi.

एनडीटीवी डाट काम पर प्रकाशित खबर…

Kejriwal Government to Supervise Majithia Wage Board Implementation for Journalists

New Delhi:  Delhi government on Friday decided to appoint a special officer to supervise the implementation of Justice GR Majithia Wage Board recommendations concerning journalists and other employees of print news organizations. The decision was taken following a meeting of the delegation of Majithia Wage Board Implementation Sangharsh Samiti with Chief Minister Arvind Kejriwal and Deputy Chief Minister Manish Sisodia.

The chief minister has directed the department of labour to submit a report to him on the status of implementation of the report, which would benefit thousands of employees working in different news organisations. The chief minister has also directed the department of labour to immediately set-up a monitoring committee for regular supervision of the wage board implementation. The chief minister has assured the delegation that he will consider their demand of Delhi government’s intervention in the ongoing case on the issue in Supreme Court. Mr Kejriwal said his government is committed for the effective implementation of labour laws in the national capital and will adopt a policy of zero tolerance against organizations which are harming the interests of employees. He directed the concerned department to probe the allegations that some organisations had forced their employees to sign on documents against them and coerced them to accept lesser salaries.

इसे भी पढ़ें….

पीड़ित पत्रकारों का साथ दूंगा, मीडिया घरानों की नाराजगी की परवाह नहीं : केजरीवाल

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: