पत्रकार बरखा दत्त लेकर आ रही हैं नया अंग्रेजी न्यूज चैनल!

Barkha

खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार बरखा दत्त अपना अंग्रेजी न्यूज़ चैनल लेकर आ रही हैं। इस चैनल का नाम हार्वेस्ट न्यूज़ चैनल होगा। बताया जा रहा है कि कई बड़े न्यूज़ चैनल के रिपोर्टर्स ने हार्वेस्ट चैनल ज्वाइन भी कर लिया है। इस चैनल के रिपोर्टर्स ने अपनी-अपनी बीट पर काम शुरू कर दिया है और खबरें तलाशने के काम में लग गए हैं। Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

बरखा दत्त ने फिर किया धमाका, एनडीटीवी और प्रणय रॉय के कारनामों का किया खुलासा

बरखा दत्त ने एनडीटीवी और प्रणय राय की असलियत बताना जारी रखा हुआ है. उन्होंने फेसबुक पर अपने ताजे धमाके से एनडीटीवी प्रबंधन को बुरी तरह घेर लिया है. प्रणय राय को जरूर जवाब देना चाहिए क्योंकि ये बड़े और गंभीर सवाल कोई भाजपाई या संघी या बाहरी टाइप प्राणी नहीं उठा रहा बल्कि उनके यहां कई दशक तक काम कर चुकीं जानी पहचानीं बरखा दत्त लिखित में उठा रही हैं. एनडीटीवी के घपलों-घोटालों के बारे में ताजे खुलासे में बरखा दत्त ने काफी कुछ जानकारी दी है. पढ़िए बरखा की एफबी पोस्ट….

Barkha Dutt : So since I went public with my earlier battles inside NDTV and called out the hypocrisy of ranting at the Press Club as Anti – Establishment crusaders while desperately seeking help of the BJP ministers and party leaders privately, many of the responses of support have been overwhelming : thank you. Some questions were also raised which I would like to address here along with some points of my own.

1. Why didn’t I speak earlier? Oh But I certainly did- on many emails (my hacked emails capture some of these fights ironically) and via multiple verbal arguments. In fact I spoke so much that by October neither the owners nor the key editors were talking to me any more ! It’s just that while I worked there I did so within the confines of the newsroom as I thought going public was indecorous. Yet, the management told me.that my not batting for them in public in defence of their decision to drop Interviews was a “betrayal.” So is the suggestion that I should have done what a former colleague just did : dissent in public , embarrass the organization, claim the high moral ground and yet conveniently stay on ?! I prefer my route : fight ferociously within and when staying gets untenable because they actively punish you for fighting – you quit. I speak as an ex employee. I am free to do so. Puzzled that my internal argument was a betrayal but a former colleagues public lashing is acceptable! Or is it that the organization is in such a dire place today that it cannot afford to reprimand him in the way it did me ?!

2. The most tired cliched response I’ve heard – when folks can’t come up with anything else is – “But they defended you during Radia tapes controversy”. I have spoken multiple times on that issue -in my book, in interviews, and guess what, even on TV , when I faced a panel of tough questioners for over an hour! Now, did NDTV owners and management subject themselves to a similar one hour grilling by peers from the industry on how they managed their books and on allegations of financial skulduggery – charges way more serious than the ones against me? If not, why not ?. Secondly, while we are on the tapes how many people know that Ms Radia speaks on the tapes of helping NDTV owners – the nearly 400 crores loan came thereafter. The Caravan story on NDTV sought to credit / blame me for this loan when I argued that all I spoke to her about was a news story and I gained nothing more than information. Caravan was wrong: I knew nothing about that loan till much much later when news media reported it. And since I have never held a management position or a financial one ever, even while being a full time employee, I was never going to be made part of any such negotiation. So when we speak of the Radia issue, let’s also examine her role in the financial help she speaks of offering NDTV owners. Haven’t heard much debate on that have we ? I wonder why.

3. Other places are much worse say some:; NDTV tries more than others : SURE. I am adult enough to know that stories are killed in many newsrooms. I am also adult enough to know that in times of existential crisis we would all reach out for help – to govt or to whoever could offer it. The difference is others don’t pretend; they don’t act morally superior and smug and above everyone else. They don’t claim to be something they are not. They don’t stand at Press Club and saw Don’t Crawl while seeking appointments with BJP head honchos by night. This has not been denied by NDTV simply because there are enough witnesses to these meetings and phone calls and they can’t deny them. I am not suggesting any help was offered – the best I know , pleas for help have been soundly rejected. But what’s important is the help was sought while the public pretence carried on.

4. All my life I have lived by what I believe in: sometimes it makes me popular ; sometimes deeply unpopular. So too with this decision. I strongly stand by every word and am open to a no – holds barred debate with any former colleague provided they talk specifics and not in breezy generalisations about legacy and mentoring. many other examples have come to memory since then : how NDTV initially disallowed and dropped the story on National Herald : how it made me edit portions of a Taslima Nasreen interview- the list is endless. And the paranoia with which PC interview was made to vanish – so that even traces of it do not exist on the website today. No lawyers were vetting that one were they ?!  So where did it vanish ? And why ? In all these cases no defamation suits we’re involved !

5. Finally for me this is not a right wing or left wing issue. The examples I have detailed involve both the Congress and the BJP and speak to hypocrisy. I am not an activist who is going to cover some things in a shroud of silence because one or the other side could benefit. That is not my concern. I say what I think and what I feel. I would have spoken a lot earlier but when NDTV was raided by the CBI thought my comments would be seen to hit them when they are down. So I was quiet for a bit. But the recent post by a former colleague quoting censorship as an abberation- a knowing falsehood- triggered me to speak my mind. And I am very very glad I did.

By the way – for those caught in the notion of some enforced loyalty- after two decades of work at NDTV – the Owners did not meet me to tell me to my face that I was being punished for being argumentative – maybe they were embarrassed or uncomfortable or didn’t care – that’s their right; they sent their CEO instead to offer me a non daily news role. Even a request by me to buy at market rates my footage from the Kargil war was turned down. So forgive me for being done with this whole notion of loyalty as mouth- silencer. Somewhere along our journey our scores definitely evened out.

I recall two of my peers and friends from the industry had a lot to say when they exited their erstwhile channel a few years ago. So it’s not as if others in the media have not had their say about their experiencences. I fully intend to have mine – without apology or defensiveness and with standing by every syllable. Neither approval nor criticism would steer my mind. Thanks for reading. over and out. 

इसे भी पढ़ें….

xxx 

xxx

xxx

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

बरखा दत्त ने एनडीटीवी और प्रणय राय की पोल खोलते हुए फेसबुक पर जो कुछ लिखा है, उसे हू-ब-हू पढ़ें…

I certainly don’t see NDTV as either victim or crusader…

Barkha Dutt : For the last few days I have observed with cynical amusement a public debate around NDTV taking down a story related to Amit Shah. I am not getting into the specifics of the story here and whether the story was right or wrong but I did point out when I first heard the controversy that the axing of stories at NDTV is hardly new and those seeking the higher moral ground today remained absolutely silent when some of us fought with the owners and management over these issues.

So when a former colleague calls this an “aberration” surely that is a knowing falsehood. The said former colleague and some others who have lately tried to claim the mantle of free speech crusaders- are all aware of the many different times stories were taken down or simply disallowed at NDTV. All of these people were totally silent then or rationalized the management decisions. An interview Nitin Gokhale did with the outgoing Navy Chief was taken down. There were other guests we were instructed not to call on the channel but the management did not want to put this in writing lest the mail leak. I was disallowed from pursuing a story on what was called the Jayanti Tax controversy.

I was given hell for a story I did on Robert Vadra; the only reason that story was not taken down is because it was already published on the website and at the time the management was convinced that it would draw too much attention to take it down Later. Then an innocuous bread and butter interview I did with Chidambaram was taken off air during the aftermath of the surgical strikes. An internal memo was circulated to justify this and went so far as to say that no politician should be given air time – a diktat that lasted all of a day. Already on the wrong side of the network for my argument over the Vadra story I protested this censorship.

I said while I worked at NDTV I could not criticise them in public but there was no way I could defend this strange axing either. When asked in public I would simply say it was a management decision above my pay grade. Over the next two months , for the stand I took, I was clearly punished with a hostile newsroom environment that sought to push me out of any big news story that the top bosses were anchoring. It was later told to me that my protest was seen as a “betrayal” and that I argued too much about the news.

I was then offered a non daily- news arrangement at NDTV and was told that they – the owners -did not want to hear arguments of the kind I had on News stories like the Vadra issue or the PC axing or other stories. I said that a lack of engagement with the news or elections that were imminent did not suit me and I would rather exit….since my mails had just been hacked ( you can read the fight over the axed PC interview in them) I said I did not want my parting to be linked to that and we agreed I would leave a month later.

What I do know is this : 1. I was punished for taking a stand and speaking my mind on news – censorship. The fights I had applied to both BJP & Congress stories. 2. NDTV wanted me off daily news so that no one would question it’s arbitrary decisions 3. Maybe at that stage NDTV was trying to make peace with the BJP. Incidentally it’s Senior folks have approached a slew of govt ministers for help in the last few months while pretending to fight the BJP at Press Club and so on..so utterly fake. 4. Am adult enough to know that stories are censored in other newsrooms too but who else pretends to be this self righteous and morally Superior. It’s the humbug and hypocrisy that really gets me : say one thing and do another. So forgive me if I laugh at the narrative the company is trying to claim as an anti establishment crusader. Even through this entire period they have repeatedly sought help from the BJP.
I took a stand on censorship and paid a price. So be it. But I don’t see ex colleagues doing that. Nor did they speak up earlier though all were aware of these facts.

And I certainly don’t see NDTV as either victim or crusader. Oh please. This is what is fake liberalism.

चर्चित टीवी पत्रकार बरखा दत्त की एफबी वॉल से.

पूरे प्रकरण को समझने के लिए इन्हें भी पढ़ें…

xxx

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

एनडीटीवी को अलविदा कहने के बाद बरखा दत्त ‘द क्विंट’ से जुड़ीं, पढ़िए उनका बयान

एनडीटीवी की लंबी पारी के बाद बरखा दत्त अब द क्विंट से जुड़ गई हैं. मोदी की मार से मुश्किल में फंसे प्रणय राय को कई बड़े नामों को अपने यहां से रुखसत करना पड़ रहा है. बरखा इन्हीं में से एक हैं. द क्विंट नामक डिजिटल मीडिया कंपनी के मालिक राघव बहल ने बरखा को अपने मीडिया कंपनी से जोड़ लिया है. खासकर यह तो तय हो चुका है कि विधानसभा चुनावों में बरखा दत्त द क्विंट के लिए काम करेंगी. इस बारे में खुद बरखा दत्त ने फेसबुक पर जो लिखा है, वह इस प्रकार है :

Barkha Dutt : Delighted to announce a new partnership with Raghav Bahl Ritu Kapur & The Quint to do what I love most- being #OnTheRoad in the electoral heartland covering the elections in a brand new medium-the medium that matters the most today. I was among the first journalists to embrace social media; I fully intend being among the first journalists of my generation to embrace the digital medium. I invite all of you to follow my journey through U.P. Travel with me; send me your thoughts, ideas and comments. Let’s have a lot of fun together.

बरखा के द क्विंट से जुड़ाव को लेकर द क्विंट वेबसाइट में एक खबर का प्रकाशन भी किया गया है, जो इस प्रकार है….

The Quint and Barkha Dutt Get Together For UP Elections 2017

What happens when you put an award-winning news platform, a renowned journalist, and the power of digital media together? This election season, Barkha Dutt is partnering with The Quint to cover the Uttar Pradesh Assembly polls to bring you the most ‘hatke’ stories from the ground.

On The Road with Barkha will map the UP elections in a crisp new way for the modern viewer. With mobile phone cameras replacing broadcast vans, On The Road with Barkha will go directly to the people to explore fresh stories and provide a platform to voices that are seldom heard. It will criss-cross the state to talk to voters and political players across villages, dhabas, colleges and farms to bring you extensive ground reports from the political cradle of the country.

“I am really excited to collaborate with The Quint on this, and push the boundaries of this new and exciting digital medium,” said Dutt.

Quintillion Media, a digital media company, was co-founded by Network 18 founder Raghav Bahl and his wife Ritu Kapur.

“The combination of Barkha Dutt and The Quint is a powerful one. It will bring a completely new brand of journalism and media experience to India’s increasingly sophisticated digital consumer. This combination of immersive journalistic story-telling, social media and the interactive user will redefine this space,” Ritu Kapur said.

Together with Barkha Dutt, The Quint hopes to combine speed and depth to take innovation in mobile journalism to new heights.

About Quintillion Media

Quintillion Media is India’s first truly diversified digital content company. Its flagship products are TheQuint.com in English and Hindi.thequint.com in Hindi. The Quint is media with intelligence – it is among India’s leading and the fastest-growing digital content platforms. The Quint is media for mobile consumption – quickly, visually and socially. A smooth blend of video, audio, graphics and text, The Quint offers a modern, sharp take on the world, and guides people through topics ranging from politics, policy, and entertainment to sports, business, food and everything else that matters. A compelling combo of content, tech, and distribution, it is high-value digital journalism, storytelling, and advertising at scale.

BloombergQuint, a partnership between Bloomberg Media and Quintillion Media, is India’s premier multi-platform business and financial media company. BloombergQuint harnesses the unrivalled global resources of Bloomberg with Quintillion’s deep market experience in its platform straddling broadcast, digital, and live events to serve high-quality business news, insights and trends to consumers.

Quintillion Media has also co-founded Quintype Inc, a state-of-the-art digital publishing and ad tech platform spread across Bengaluru and the Silicon Valley. It supports several Indian and international publishers, including BloombergQuint.com.

Quintillion Media has significant minority stakes in The News Minute (a leading digital platform for south Indian regional content), Youth Ki Awaaz (a popular digital platform for the youth) and Sheroes (a growing digital platform targeted at women). Quintillion Media also has a strategic stake of 50% in, and operational control over, Da Vinci Quint, an international edutainment TV channel targeted at kids and parents.

About Barkha Dutt

Journalist and author Barkha Dutt has won multiple accolades, including the Padma Shri. She is the only Indian journalist to be nominated for an Emmy for her ground reporting.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

बरखा दत्‍त ने अरनब गोस्‍वामी के लिए कहा- ”क्‍या यह आदमी पत्रकार है? शर्मिंदा हूं”

एनडीटीवी 24×7 की सलाहकार संपादक बरखा दत्‍त ने टाइम्‍स नाऊ के प्रमुख संपादक अरनब गोस्‍वामी के लिए एक ट्वीट में लिखा, ‘‘टाइम्‍स नाऊ मीडिया के दमन की बात करता है, वो जर्नलिस्‍ट्स पर मामला चलाने और उन्‍हें सजा दिलाने की बात करता है, क्‍या यह शख्‍स जर्नलिस्‍ट है? उस शख्‍स की तरह ही इस इंडस्‍ट्री का हिस्‍सा होने के लिए शर्मिंदा हूं.’’

बरखा दत्‍त ने सीधे अरनब का नाम तो नहीं लिया लेकिन निशाना अरनब ही थे. अरनब गोस्‍वामी ने एक दिन पहले अपने शो ‘न्‍यूज ऑवर’ में pro pak doves silent विषय पर चर्चा की. इसमें बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा, आर्मी रिटायर्ड अफसर जनरल जीडी बक्‍शी, मेजर गौरव आर्या, कश्‍मीर के नेशनल पैंथर्स पार्टी के अध्‍यक्ष भीम सिंह, सुप्रीम कोर्ट की वकील मिहिरा सूद, पॉलिटिकल एक्‍ट‍िविस्‍ट जॉन दयाल मौजूद थे. मेजर गौरव आर्या वही शख्‍स हैं, जिनका कश्‍मीरियों को लिखा ओपन लेटर हाल ही में वायरल हुआ था. चर्चा के दौरान जीडी बक्‍शी ने मीडिया पर सवाल उठाते हुए कहा कि आखिर क्‍यों कुछ बड़े अखबारों ने बुरहान वानी की लाश की फोटो छापी? ऐसा करना क्‍यों जरूरी था? जीडी बक्‍शी ने कहा, ‘यह इन्‍फॉर्मेशन वॉरफेयर (सूचना के जरिए जंग) का युग है। हम मीडिया के हमले का शिकार हो रहे हैं।’

बक्‍शी ने कहा कि कुछ मीडिया वाले कश्‍मीरी लोगों को अलगाव के लिए भड़का रहे हैं। इस दौरान अरनब ने कहा कि वे इससे पूरी तरह सहमत हैं। कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए अरनब गोस्‍वामी कहते हैं, ”जब लोग खुलेआम भारत का विरोध और पाकिस्‍तान व आतंकवादियों के लिए समर्थन जाहिर करते हैं तो ऐसे लोगों के साथ कैसा बर्ताव करना चाहिए?” अरनब ने कहा कि वे ऐसे लोगों को स्‍यूडो लिबरल्‍स (छद्म उदारवादी) कहते हैं। चर्चा के दौरान अरनब गोस्‍वामी ने कहा कि ऐसे लोगों का ट्रायल होना चाहिए। चर्चा के दौरान अरनब गोस्‍वामी ने एक जगह कहा यह भी कहा कि मीडिया में कुछ खास लोग बुरहान वाणी के लिए हमदर्दी दिखाते हैं। यह वही ग्रुप है जो अफजल गुरु के लिए काम करता है और उसकी फांसी को साजिश बताता है। अरनब ने कहा कि मीडिया में छिपे ऐसे लोगों पर बात होनी चाहिए।

चर्चा के दौरान बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा ने बरखा दत्‍त पर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा कि मुझे पता है कि हाफिज सईद यहां  कुछ लोगों को पसंद करता है और उसका वीडियो भी आजकल चर्चाओं में है। संबित का इशारा बरखा दत्‍त की ओर ही था। इंटरनेट पर वायरल हो रहे इस वीडियो में हाफिज सईद बरखा दत्‍त की तारीफ करते नजर आता है। सबसे आखिर में देखें वीडियो

बरखा ने किया यह ट्वीट..

Times Now calls for gagging of media & for journalists to be tried &punished. This man is journalist?Ashamed to be from same industry as him.
— barkha dutt (@BDUTT) July 27, 2016

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पत्रकारिता के रंगरूटों, भक्त पत्रकारों… पहले बरखा पर आरोप तो जान लो!

Sanjaya Kumar Singh : बरखा दत्त के पक्ष में… पत्रकारिता के रंगरूटों, भक्त पत्रकारों – बरखा पर आरोप जान लो… संस्कारी सरकार के भक्तों के संस्कार इतनी बदबू फैला रहे हैं कि नए बने शौंचालयों का कोई फायदा ही नहीं हुआ। कहीं चिट्ठी बह रही है तो कहीं आरोप। स्वच्छता अभियान का जो हो, बदबू तो बढ़ रही है। इसके लिए रोहित सरदाना जैसे लोगों को बताना होगा कि सवाल खुले में ना करें – बदबू बहुत ज्यादा हो गई है। वैसे तो रोहित की हैसियत नहीं है कि बरखा दत्त के बारे में रवीश से पूछते पर भक्तों की मंडली सोशल मीडिया पर रोहित को कंधे पर बैठाकर जिस ढंग से नाच रही है उसमें भक्तों को बताना जरूरी है कि मुद्दा है क्या और बरखा पर शोर मचाने वाले, उसपर आरोप लगाने वालों को सच बता दिया जाए।

कल मैंने स्मृति ईरानी को लिखी उनकी चिट्ठी की भाषा, शैली, संयम, शब्दों के चयन और रुख की तारीफ की तो एक मित्र ने पूछा, “क्या इससे बरखा के पाप धुल जायेंगे या उनकी पत्रकारिता की खोई साख अब वापस आएगी!” मैंने पूछा, “आप बरखा के किस ‘पाप’ की बात कर रहे हैं? उसपर कोई एफआईआईर है? जेल गई? जिनलोगों पर एफआईआर है, जेल हो आए, तड़ी पार हैं पहले उनकी बात कीजिए। बरखा पर ही करनी है तो पहले एक एफआईआर करवाइए। फिर बात कीजिए। अच्छा लगेगा।”

उन्होंने लिखा, “जब किसी की साख ही न बची हो तो उसकी बातों की मार्केट वैल्यू कुछ नहीं होती जनता के बीच (खास जमात के समर्थकों और पिछलग्गुओं के अलावा)। नीरा राडिया से लेकर गुजरात और कारगिल की रिपोर्टिंग के सबूत ही काफी हैं और टेलीविजन की दुनिया की गन्दगी और बातों को मैं भी बेहतर जनता हूं। अगर आप पूर्वाग्रही होकर बात करना चाहते हैं तो वाद बेकार है, साथ ही आपसे विवाद करने का भी मेरा कोई मंतव्य नहीं क्योंकि मैं आपका सम्मान करता हूं, भले ही कहीं पर मतभिन्नता होती हो।”

इन्होंने मुझे असमंजस में डाल दिया। मेरे सवाल का जवाब तो नहीं दिया आरोप यह कि, “अगर आप पूर्वाग्रही होकर बात करना चाहते हैं।” इसी पोस्ट पर एक अन्य मित्र ने लिखा, “बरखा का कैरेक्टर पता है तुम्हे? दलाली तथाकथित पत्रकारों का असली पेशा हो गया है आजकल”। जुमलों की सरकार और भक्ति के जमाने में जब प्रधानमंत्री मन की बात कर रहे हैं तो कोई भी अपने मन की बात को “खबर” बना दे रहा है। मैंने बरखा के चरित्र पर सवाल उठाने वाले से कहा, “मेरी उम्र 52 साल है और ये फेसबुक पर लिखा है। आप मुझे तुम कह रहे हैं तो सीनियर और अनुभवी होंगे। किसी महिला का कैरेक्टर कैसे मालूम करते हैं और उसपर आरोप लगाने के लिए कोई सबूत चाहिए होता है या यूंही मोदी जी की तरह कह दिया तो मान लूं?

बरखा पर लगे आरोपों का पता लगाने के लिए गूगल सर्च करने पर एक ब्लॉग http://sins-of-barkha.blogspot.in मिला। मुझे लगा सारे मामले एक ही जगह मिल जाएंगे काम आसान हो जाएगा पर यहां एक नया आरोप मालूम हुआ कि बरखा को पिछले वित्त मंत्री ने 300 करोड़ रुपए का कर्ज दे रखा है। एक प्रतिशत के मामूली ब्याज पर। यह एक अप्रैल 2011 की पोस्ट है। इसमें लिखा है आरटीआई कार्यकर्ताओं को इस मामले पर आरटीआई लगाना चाहिए पर आरटीआई और दिल्ली विश्वविद्यालय में तो अब कोई अंतर रह नहीं गया है तो आगे कुछ नहीं है। ना इस ब्लॉग पर कोई दूसरा आरोप। हां, ब्लॉग लेखक ने यह जरूर कहा है कि बरखा को जानने के लिए राडियागेट या बरखागेट गूगल कर लिया जाए। मैंने ऐसा ही किया। अब मुझे http://barkhagate.blogspot.in मिला। इस पर जो लिखा मिला सो इस प्रकार है…

So what the heck is ‪#‎Barkhagate‬?

Its a scam involving journalist @bdutt and a lobbyist for leading Telcos and Industrialists by name Radia, in connection to the support to UPA government in 2009 between Congress and DMK. The transcript of the whole conversation was put up on the website of the Open The Magazine….

…”As talks between the DMK and Congress (‘them’) broke down over joining the Government in May 2009, Radia was actively involved in opening channels between the two parties through, among others, television journalist Barkha Dutt”

ध्यान दीजिए इसमें बरखा दत्त अकेले नहीं हैं। लेकिन नाम उनका ही लिया जाता है। इसके अलावा, यहां चार वॉयस ट्रांसक्रिप्ट पोस्ट किया होना दिखाई दे रहा है। पर ये चारो नहीं चले। देखें पहली तस्वीर। यह मामला 2010 से सार्वजनिक जानकारी में है। कोई एफआईआर या कार्रवाई की सूचना ना मुझे है ना इस ब्लॉग पर इसलिए यह माना जा सकता है कि सरकार को इस मामले में कोई मतलब नहीं है या सरकार की राय में यह अपराध नहीं है। राडियागेट मैं नहीं देख रहा क्योंकि अभी मुद्दा राडिया नहीं बरखा हैं। अगर किसी को राडिया से बरखा के और कनेक्शन की जानकारी हो तो लिख सकता है। मुझे नहीं पता है। मैंने नहीं सुना और मैं ऐसा कुछ नेट पर ढूंढ़ नहीं पाया।

बरखा पर तीसरा गंभीर आरोप कारगिल युद्ध के दौरान उनकी लाइव रिपोर्टिंग से कार्रवाई की जगह मालूम हो जाना और पाकिस्तानी हमले में भारतीय सैनिकों के घायल होने का आरोप है। मुझे लगता है कि यह मामला पूरी तरह सच और जैसा बताया जा रहा है वैसा ही हो तो भी यह गलती सिर्फ बरखा की नहीं है। पूरी एनडीटीवी टीम और लाइव प्रसारण से जुड़े नियमों, देख-रख और निगरानी करने वालों के साथ-साथ इस संबंध में नियम बनाने वालों की चूक का मामला है। बरखा तो युदस्थल से रिपोर्ट कर रही थीं और बहादुरी का काम कर रही थीं उसे लाइव दिखना और देखने वालों द्वारा इसका का दुरुपयोग किया जाना बहुत ही विस्तृत मामला है और बरखा की दिलेरी की जगह उसे इसके लिए दोषी ठहराना अनुचित है। यह मामला मई – जून 1999 का है।

इसके बाद मुंबई पर आतंकवादी हमला अप्रैल 2012 में हुआ था। तब भी टीवी के सीधे प्रसारण से समस्या हुई थी। और तब यह गलती बरखा ने नहीं, देश के कई नामी-गिरामी टीवी चैनलों और पत्रकारों ने की थी। एक बार गलती और उसका खामियाजा जानने के बाद ना किसी ने सावधानी बरती ना किसी को इसकी जरूरत लगी ना ऐसा कोई नियम बनाया गया, पूरे तीन साल तक और देश की मीडिया या कहिए देश ने वही गलती दोहराई जो बरखा औऱ एनडीटीवी ने की थी। इससे सीख लेने की जरूरत नहीं है? क्या इस संबंध में नियम अब स्पष्ट घोषित हैं? दिशा निर्देश स्पष्ट हैं? कभी किसी ने पूछा? सोचा? लेकिन बरखा दत्त दोषी है।

जनसत्ता अखबार में लंबे समय तक कार्यरत रहे वरिष्ठ पत्रकार संजय कुमार सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

खुद को और बरखा दत्त को सोशल मीडिया पर गाली देने वाले को रवीश कुमार ने अपनी कलम के जरिए दिखाया आइना

आपकी गाली और मेरा वो असहाय अंग

कुछ ही तो वाक्य हैं बाज़ार में
जिन्हें तल कर
जिनसे छन कर
वही बात हर बार निकलती है
बालकनी के बाहर लगी रस्सी पर
जहाँ सूखता है पजामा और तकिये का खोल
वहीं कहीं बीच में वही बात लटकती है
जिन्हें तल कर
जिनसे छनकर
वही बात हर बार निकलती है
बातों से घेर कर मारने के लिए
बातों की सेना बनाई गई है
बात के सामने बात खड़ी है
बात के समर्थक हैं और बात के विरोधी
हर बात को उसी बात पर लाने के लिए
कुछ ही तो वाक्य हैं बाज़ार में
जिन्हें तल कर
जिनसे छनकर
वही बात हर बात निकलती है
लोग कम हैं और बातें भी कम हैं
कहे को ही कहा जा रहा है
सुने को ही सुनाया जा रहा है
एक ही बात को बार बार खटाया जा रहा है
रगड़ खाते खाते बात अब बात के बल पड़ने लगे हैं
शोर का सन्नाटा है, तमाचे को तमंचा बताने लगे है
अंदाज़ के नाम पर नज़रअंदाज़ हो रहे हैं हम सब
कुछ ही तो वाक्य है बाज़ार में
जिन्हें तल कर
जिनसे छनकर
वही बात हर बार निकलती है ।
बात हमारे बेहूदा होने के प्रमाण हैं
वात रोग से ग्रस्त है, बाबासीर हो गया है बातों को
बकैती अब ठाकुरों की नई लठैती है
कथा से दंतकथा में बदलने की किटकिटाहट है
चुप रहिए, फिर से उसी बात के आने की आहट है।

अब भाषण सुनिये मित्रों, मैं इन दिनों लंबी छुट्टी पर हूँ । लेकिन उन्हें छुट्टी नहीं मिली जो सोशल मीडिया पर इस न्यूज उस न्यूज के बहाने हमारी अग्निपरीक्षा लेने के लिए आतुर रहते हैं । मुझे खुशी है कि जो लोग वर्षों तमाम चैनलों पर भूत प्रेत से लेकर वहशीपना फैला गए वो आज समादरित हैं । उनसे पत्रकारिता की शान है । वैसे तब भी वही समादरित रहे और आगे भी वही रहेंगे । लोग उन्हीं को देख रहे हैं । वो कब किसी खबर के गुमनाम पहलू को छूकर सोना बन जाते हैं, यह चमत्कार मुझे प्रेरित करने लगा है।

हमें गाली देने वालों को जो तृप्ति मिलती है उससे मुझे खुशी होती है । कम से कम मैं उनके किसी कम तो आता हूँ । अगर किसी को गाली देना संस्कार है तो इसकी प्रतिष्ठा के लिए मैं लड़ने के लिए तैयार हूँ । इसीलिए गाली का एक नमूना लगा दिया । कविता पहले लिखी जा चुकी थी । वर्ना  ये किसी भदेस गाली के सम्मान में लिखी गई कविता हो सकती थी । पहली है या नहीं, पता नहीं । फिर भी मैंने गाली को कविता से पहले रखा है । गाली को साहित्यिक सम्मान भी मैं ही दिलाऊँगा।

जो मित्र मेरे एक खास अंग को तोड़ कर पीओके भेजना चाहते हैं कम से कम अख़बार तो पढ़ लेते । पीओके से जो आ जाते हैं उन्हें तो मारने में चार दिन लग जाते हैं, लिहाज़ा हमारे अंगों को क्षति पहुँचाकर पीओके भेजने वाले मित्र अगर नवाज़ भाई जान से इजाज़त ले ले तो अच्छा रहेगा । कहीं क्षतिग्रस्त अंगों को लेकर सीमा पर इंतज़ार न करना पड़ जाए और उनसे मल न टपकने लगे !  टूटे अंग को डायपर में ले जाइयेगा।

अरे बंधु इतनी घृणा क्यों करते हैं । आपसे गाली देने के अलावा कुछ और नहीं हो पा रहा है तो नवीन कार्यों के चयन में भी मदद कर सकता हूँ । मैं स्वयं और उस अंग की तरफ से भी माफी माँगता हूँ जिसे आप तोड़ देना चाहते हैं । हालाँकि मेरे बाकी अंग स्वार्थी साबित हुए । वे ख़ुश हैं कि बच गए । मैं आपके सामने शीश झुका निवेदन करना चाहता हूँ । आप उस अंग को न सिर्फ मेरे शरीर से, जो सिर्फ भारत को प्यार करता है, अलग करना चाहते हैं  बल्कि मेरी मातृभूमि से भी जुदा करना चाहते हैं । प्लीज डोंट डू दिस टू माई… । आप तो एक सहनशील  मज़हब से आते हैं । वही मेरा धर्म है । इसलिए आप तोड़े जाने के बाद मेरे उस अंग को उस अधिकृत क्षेत्र में न भेजें जो अखंड भारत के अधिकृत नहीं है।

अब तो मुस्कुरा दो यार। गाली और धमकी आपने दी और माफी मैं मांग रहा हूँ । इसलिए कि कोई आपके मेरे धर्म पर असहिष्णुता के आरोप न लगा दे । ट्वीटर पर आपकी इस धमकी भरी गाली ने मुझे कितना साहित्यिक बना दिया । अगर मैं आपके ग़ुस्से का कारण बना हूँ तो अफ़सोस हो रहा है । आशा है आप माफ कर देंगे और वो नहीं तोड़ेंगे जो तोड़ना चाहते हैं।

जाने माने टीवी जर्नलिस्ट और एंकर रवीश कुमार के ब्लाग से साभार.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

फेसबुक अपनी तरफ से कर रहा मेरा प्रचार, मैंने एक पैसा खर्च नहीं किया : बरखा दत्त

बरखा दत्त के स्पांसर्ड फेसबुकी पेज के बारे में भड़ास4मीडिया पर छपी खबर को लेकर ट्विटर पर बरखा दत्त ने अपना बयान ट्वीट के माध्यम से जारी किया. उन्होंने लोगों के सवाल उठाने पर अलग-अलग ट्वीट्स के जरिए जवाब देकर बताया कि उनकी बिना जानकारी के फेसबुक उनके पेज को अपने तरीके से प्रमोट कर रहा है. उन्होंने बताया कि फेसबुक की तरफ से उनके पास फोन आया था जिसमें ट्विटर की तरह एफबी पर भी सक्रिय होने के लिए अनुरोध किया गया. तब मैंने उन्हें कहा कि कोशिश करूंगी. ऐसे में एक भी पैसा देने का सवाल ही नहीं उठता. बिलकुल निराधार खबर भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित हुई है. 

 

बरखा दत्ता का कहना है कि उन्हें बताया गया कि फेसबुक कई पब्लिक पर्सनाल्टीज जिनमें पत्रकारों भी शामिल हैं, को अपनी तरफ से प्रमोट करता है, जैसे राहुल कंवल, शेखर गुप्ता, फिल्म स्टार्स शाहरुख खान, आमिर खान आदि. बरखा दत्त ने अपने फेसबुक पेज पर उनके नाम के नीचे स्पांसर्ड लिखे होने को लेकर उठाए गए सवाल पर भी जवाब दिया. इस संबंध में बरखा दत्त के जितने भी ट्वीट्स हैं, नीचे दिए जा रहे हैं.

barkha dutt ‏@BDUTT

rubbish. I have not paid anyone a single paisa. what are you talking about?

xxx

FB team asked me to be active on FB like on Twitter & I said sure, would try. No question of Money. Rubbish story.

xxx

It’s Facebook’s call  to underline our presence on its medium. I am owed an apology NOW.

xxx

FB promoting our presence – many of us who are journalists. Check it out.

xxx

It is appplicable to ALL public personalities being promoted by them including many journalists. These include, I am told many journos- rahul, Shekhar, me, film stars, SRK, Aamir.

xxx

just asked facebook why it says sponsored. They say Facebook is promoting public personalities.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पैसे वाली पत्रकार हैं बरखा दत्त, फेसबुक लाइक तक खरीद लेती हैं!

Yashwant Singh : बरखा दत्त इन दिनों फेसबुक पर खूब सक्रिय हो गई हैं. उन्होंने अपने फेसबुक पेज पर इस बाबत लिखा भी है. साथ ही कई कहानियां किस्से विचार शेयर करना शुरू कर दिया है. बरखा समेत ज्यादातर अंग्रेजी पत्रकारों की प्रिय जगह ट्विटर है. लेकिन सेलेब्रिटी या बड़ा आदमी होने का जो नशा होता है, वह फेसबुक पर भी ले आता है, यह जताने दिखाने बताने के लिए यहां भी मेरे कम प्रशंसक, फैन, फालोअर, लाइकर नहीं हैं. सो, इसी क्रम में अब ताजा ताजा बरखा दत्त फेसबुक पर अवतरित हुई हैं और अपने पेज पर लाइक बढ़ाने के लिए फेसबुक को बाकायदा पैसा दिया है. यही कारण है कि आजकल फेसबुक यूज करने वाले भारतीयों को बरखा दत्त का पेज बिना लाइक किए दिख रहा है. पेज पर Barkha Dutt नाम के ठीक नीचे Sponsored लिखा है.

इस Sponsored लिखे होने का मतलब हमको आपको सबको पता है. फेसबुक को पैसा देकर उसके जरिए जबरन पेज लाइक कराया जाना. सो, लगभग एक लाख लाइक के करीब पहुंचने वाला है बरखा का पेज. 84 हजार से ज्यादा लाइक तो उपरोक्त स्क्रीनशाट में दिख रहा है. अब जब आप ये पढ़ रहे होंगे, हो सकता है लाइक का आंकड़ा काफी आगे निकल गया होगा. अब ये नहीं पता मुझे कि उन्होंने पांच लाख लाइक खरीदने के लिए फेसबुक को पैसा दिया है या सिर्फ दो चार लाख. जो भी हो. हम हिंदी वाले तो इतने पैसे में कई दिन सुकून से खा पी सकते थे, घूमघाम सकते थे, घर परिवार को घुमा सकते थे. छुट्टी लेकर अपने ओरीजनल घर-गांव-देहात जा सकते थे क्योंकि हम हिंदी वाले थोड़ा कम कमाते हैं, इसलिए थोड़ा कम खर्च कर पाते हैं. कम ही हिंदी वाले होंगे जो फेसबुक पेज पर लाइक खरीदते होंगे, हां- दलालों, मालिकों, लायजनरों आदि इत्यादि की आधुनिक कैटगरी को छोड़कर.

फेसबुक पर कुछ रोज पहले अपनी सक्रियता बढ़ाने के दौरान बरखा की लिखी गई वो शुरुआती पोस्ट जिसे फेसबुक को पैसा देकर Sponsored करवाने के बाद लाइक हासिल करने हेतु एफबी के जन-जन तक घुमवाया, ये है: ”प्रभा दत्त (बरखा दत्त की मां) के युद्ध मोर्चे पर रिपोर्टिंग हेतु जाने के अनुरोध को एचटी प्रबंधन ने ठुकरा दिया था”

फिलहाल अभी तक मैंने बरखा दत्त का फेसबुक पेज लाइक नहीं किया है जबकि पिछले कई रोज से फेसबुक बार बार मेरे आगे इस प्रायोजित विज्ञापन को मौलिक तरीके से पेश कर लाइक करने के लिए लपलपाते हुए ललचा रहा है. अगर ये पेज स्पांसर्ड न होता तो शायद मैं लाइक कर लेता, लेकिन खरीदे हुए या बिके हुए, जो कह लीजिए, पेज को लाइक देने का मतलब होता है कि आप फेसबुक की दुकान को पैसा देकर भारतीय मुद्रा को विदेश तो भेज ही रहे हैं, फर्जी तरीके से खुद को नामवर बताने जताने दिखाने के ट्रेंड को भी बढ़ावा दे रहे हैं.

वैसे बहुत सारे हिंदी पट्टी वाले कह सकते हैं कि पैसा बरखा दत्त ने इमानदारी से कमाया है, उसे चाहे वो लाइक खरीदने में खर्च करें या घर में रखकर माचिस मारकर जला दें, आपको जलन कुढ़न खुजन क्यों है? तो भइया, मेरा जवाब भी सुनते जाइए. बरखा दत्त अगर कोई कंपनी होतीं, किसी कंपनी की मालिकन होतीं, कोई कारपोरेट होतीं, कोई पीआर एजेंसी होतीं, कोई प्रोडक्ट होतीं तो उनके प्रचार प्रसार पर मुझे कोई आपत्ति न होती. फेसबुक पर साड़ियों से लेकर योगासन तक के खूब स्पांसर्ड पेज टहलते रहते हैं और हम आप सब जाने-अनजाने उसे लाइक मारकर फेसबुक वाले से लेकर उसके क्लाइंट तक को खुश किया करते हैं.

पर जब कोई पत्रकार ऐसा करता है तो उससे यह अपेक्षा नहीं की जाती. कल को कोई जज साहब लाइक खरीदने लगें तो फिर हो गया काम. जिन चार स्तंभों की हम बात करते हैं, उसमें से प्रत्येक की गरिमा होती है. विशेषकर मीडिया तो ज्यादा जिम्मेदारी वाला या यूं कहिए ज्यादा जनता के करीब खंभा होता है. पर अगर इसी खंभे के लोग कारपोरेट सरीखा व्यवहार करने लगे तो रिलायंस के कस्टमर केयर एक्जीक्यूटिव और हमारे पत्रकारों के बीच फर्क क्या बचेगा. अंतत: जब दोनों का मकसद अपना हित साधन है, अपने कंपनियों का हित साधन है, तो काहे को एक खुद को चौथा खंभा माने और दूसरा देश का कारपोरेट घराना. सोचिए सोचिए. वइसे, पइसा प्रधान इस दौर में सोचने विचारने लिखने का काम भी आजकल पैसे ले देकर ही होते हैं, ऐसे में अगर आप नहीं सोचते हैं तो हम बुरा बिलकुल नहीं मानेंगे. 🙂   

भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से. संपर्क: yashwant@bhadas4media.com


उपरोक्त पोस्ट पर बरखा दत्त ने अपनी तरफ से ट्वीटर पर सफाई दी / जवाब दिया. इस प्रकरण से संबंधित उनके सारे ट्वीट और उनकी सफाई का भड़ास4मीडिया पर प्रमुखता से प्रकाशन किया गया है जिसे आप नीचे दिए गए शीर्षक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं:

फेसबुक अपनी तरफ से कर रहा मेरा प्रचार, मैंने एक पैसा खर्च नहीं किया : बरखा दत्त

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

प्रभा दत्त (बरखा दत्त की मां) के युद्ध मोर्चे पर रिपोर्टिंग हेतु जाने के अनुरोध को एचटी प्रबंधऩ ने ठुकरा दिया था

(बरखा दत्त फाइल फोटो)

बरखा दत्त की सोशल मीडिया के नाम पर पूरी सक्रियता ट्विटर पर हुआ करती थी लेकिन अब वह फेसबुक पर भी सक्रिय रहेंगी. ऐसा उन्होंने फेसबुक के अपने पेज पर प्रकाशित एक पोस्ट में बताया है. इसी पोस्ट में उन्होंने अपने निजी जीवन के बारे में बताया है और इसकी शुरुआत अपनी मां के बारे में बताने से की है.

उन्होंने अपनी मां की तस्वीर भी डाली है. उन्होंने एक रोचक किस्सा बताया है कि किस तरह जब एचटी प्रबंधन ने उनकी मां के युद्ध के मोर्चे पर जाने का अनुरोध ठुकरा दिया तो उन्होंने छुट्टी लेकर और मां-पिता से मिलने का बहाना करके युद्ध के मोर्चे पर पहुंच गईं. पूरी कहानी बरखा दत्त के फेसबुक पेज पर है.

बरखा दत्त के फेसबुक पेज पर प्रकाशित ताजा स्टेटस, जिसमें उनकी मां की कहानी है, को पढ़ने के लिए नीचे दिए गए 2 या Next पर क्लिक करें>>

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: