दो बड़े अफसरों ने मतंग सिंह की गिरफ्तारी को रोकने का प्रयास किया था, जांच शुरू

: मतंग सिंह की गिरफ्तारी में अधिकारियों की भूमिका की जांच : केंद्रीय गृह मंत्रालय में एक शीर्ष नौकरशाह और सीबीआई में एक संयुक्त निदेशक जांच के दायरे में हैं जिन्होंने सारदा घोटाला मामले में कुछ दिनों पहले गिरफ्तार हुए पूर्व कांग्रेसी मंत्री मतंग सिंह की गिरफ्तारी को कथित रूप से रोकने का प्रयास किया था . एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि समझा जाता है कि सीबीआई ने इस सिलसिले में प्रधानमंत्री कार्यालय को एक रिपोर्ट भेजी है.

शीर्ष सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्री राजनाथ सिंह को अधिकारियों ने इन खबरों से अवगत कराया है कि मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने सिंह की गिरफ्तारी को कथित रूप से रोकने का प्रयास किया था. सिंह को सीबीआई ने शनिवार को कोलकाता में गिरफ्तार किया. सूत्रों ने बताया, ‘‘गृह मंत्री को मामले की जानकारी है और अधिकारी से उसकी स्थिति स्पष्ट करने को कह सकते हैं.’’

समझा जाता है कि गृह मंत्री ने संकेत दिए हैं कि अगर कोई भी व्यक्ति किसी भी खराब आचरण में संलिप्त पाया जाता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. सीबीआई के संयुक्त निदेशक (नीति) आर. एस. भट्टी ने इस सिलसिले में सवालों का जवाब नहीं दिया. वह मीडिया मामलों के प्रभारी भी हैं. बाद में सीबीआई प्रवक्ता से मीडिया को बताने को कहा गया कि मामले की जांच चल रही है और इसलिए एजेंसी कोई टिप्पणी नहीं करेगी.

गृह राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने कहा कि अभी तक अधिकारी के खिलाफ कोई ठोस मामला नहीं दिख रहा है और मीडिया में जो खबरें आई हैं वे ‘‘अफवाह’’ हैं. रिजिजू ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘अभी तक कुछ भी ठोस नहीं है, केवल अफवाह है . अगर कुछ ठोस दिखता है तो हम उस मुताबिक काम करेंगे.’’ मुद्दे के बारे में पूछने पर सीबीआई निदेशक अनिल सिन्हा ने कुछ भी कहने से मना कर दिया. सिन्हा ने कहा, ‘‘क्या मैं इस तरह के विषय पर कभी बात करता हूं.’’

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

मतंग सिंह की बुढ़ौती वैसे ही खराब हो गई जैसे महुआ वाले तिवारी जी की खराब हुई….

Yashwant Singh : तभी तो कहूं कि ये कथित राजा साहब उर्फ मतंग सिंह इतना मौज कइसे मारता रहा लाइफ में. एक लाइन शुद्ध हिंदी बोल न पाने वाला मतंग सिंह अपने करामाती हरामी दिमाग से अरबों खरबों अपने चरणों में गिराता रहा और सत्ता के बड़े बड़े लोगों को अपने कोठे पर बुलाकर ओबलाइज करता कराता रहा… इसने अपने घर आफिस हरम में तब्दील कर रखा था.. दर्जनों लड़कियों महिलाओं पर इसकी नजरें एक साथ होती थी.. गंदी गंदी बातें करता था … अंदरखाने राजनीति इस कदर खेलता कि बड़े बड़े खिलाड़ियों को पसीना छूटने लगता… अब पता चला है कि इसने काफी काला पीला किया था… चलो, जवानी तो इस बंदे ने लूटते हुए हंसी खुशी काट दी लेकिन बुढ़ौती बेचारे की बर्बाद हो गई… कुछ कुछ वैसे ही जैसे महुआ चैनल वाले तिवारी जी आजकल बुढ़ौती में तिहाड़ की रोटी खा रहे हैं… मीडिया के पापियों का नाश होने लगा है… सचमुच.

कई चैनलों के मालिक पूर्व केंद्रीय मंत्री मतंग सिंह सारधा घोटाले में अरेस्‍ट
https://bhadas4media.com/article-comment/3530-matang-arrest

Yashwant Singh : ऐसे-ऐसे पालतू जानवर जब न्यूज चैनलों का झंडा ढोएंगे तो डंडा आखिरकार कहीं तो घुसेगा गिरेगा पड़ेगा… कभी लोकतंत्र के पिछवाड़े तो कभी जनता-जनार्दन के कपार पर … कभी मीडिया के मस्तक पर तो कभी समाज के सिर पर… पापों का साइड इफेक्ट देर तक होता है… और, होता दिख भी रहा है… भ्रष्ट राजनीति ने नौकरशाही को भ्रष्ट किया, फिर मीडिया को अपने में मिलाया और अंत में न्यायपालिका को अपने चंगुल में ले लिया… चारों खंभे मिलकर महालुटेरा संप्रदाय में तब्दील हो चुका है.. ये संप्रदाय हर पल जनता के खून को जूंक की तरह पी रहा है और आपस में एक दूसरे को प्रोटेक्ट कर रहा है…

मंत्री के चरणों में बैठ गया आजतक एवं समाचार प्‍लस का स्ट्रिंगर!
https://bhadas4media.com/tv/3532-sit-on-minister-s-foot

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

वरिष्ठ पत्रकार ललित पत्ताजोशी पर सीबीआई को शक है…

: सारदा घोटाले की आंच पहुंची मीडिया तक, सीबीआई ने की पूछताछ : भुवनेश्वर। सारदा चिट फंट में सीबीआई जांच की आंच अब पत्रकारों तक भी पहुंच गयी है। वरिष्ठ मीडियाकर्मी ललित पत्ताजोशी के घर सीबीआई ने छापा मारा। सीबीआई ने इस दौरान घंटों तक पत्रकार से पूछताछ की। सीबीआई के इस छापेमारी के बाद मीडिया की भी कलई खुलने लगी है। वरिष्ठ पत्रकार ललित पत्ताजोशी पर सीबीआई को शक है कि उनके सारदा चिट फंड घोटाले में आरोपी सुभांकर नायक से करीबी संबंध हैं।

सुभांकर नायक को कुछ दिनों पहले ही सीशोर ग्रुप के घोटाले के आरोपी के तौर पर गिरफ्तार किया गया है। सूत्रों का कहना है कि सीबीआई ने पत्रकार के घर कई दस्तावेजों को अपने कब्जे में ले लिया। साथ ही नेपल्ली में स्थिन उनके आलीशान घर को भी सीज कर दिया है। सीबीआई के सूत्रों की माने तो नायक पर सीशोर ग्रुप के साथ मिलकर नामी लोगों को प्रभावित करने का आरोप है। इनमें आईएस, आईपीएस अधिकारियों सेमेत कई नेता व व्यापारिक घराने भी हैं। सीबीआई अधिकार का कहन है कि, पूछताछ के दौरान हमे पता चला कि नायक पत्ताजोशी के साथ गहरे संबंध हैं। नायक का कहना है कि वह रुपयों के लेन-देन में पत्ताजोशी की मदद करता था। पत्ताजोशी और नायक के बैंक खाते की भी जांच की जा रही है। हालांकि पत्ताजोशी ने इस बारे में कुछ भी कहने से मना कर दिया। सारदा चिट फंट घोटालें में जांच के घेरे में सिर्फ पत्ताजोशी ही नहीं बल्कि कई अन्य मीडियाकर्मी भी हैं।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: