हे कमाल खान जी, संविधान में ‘दफा’ नहीं होती बल्कि अनुच्छेद यानि Article होता है

Chandan Srivastava : अभी कैंटीन में देखा एनडीटीवी चैनल पर आ रहा था कि मुख्यमंत्री अखिलेश यादव राज्यपाल से मिलने पहुंचे जिसके बारे में विस्तृत जानकारी चैनल के पत्रकार कमाल खान लाइव दे रहे थे। उन्होंने बताया कि मिलने की वजह हाईकोर्ट का कल का आदेश हो सकता है जिसमें कहा गया है कि प्रदेश में क्यों न “दफा 156” के तहत राष्ट्रपति शासन की अनुशंसा कर दी जाए।

जहां तक मुझे जानकारी है कमाल खान यूपी में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के वरिष्ठ पत्रकार हैं। इन वरिष्ठ पत्रकार महोदय को कोई बता दे कि पहली बात संविधान में ‘दफा’ नहीं होती बल्कि अनुच्छेद यानि Article होता है। दूसरी बात अनुच्छेद- 156 राज्यपाल के पदावधि यानि Term of office of Governor के सम्बंध में है। राष्ट्रपति शासन की व्यवस्था अनुच्छेद- 356 में है। धत् तेरे की। इन पत्रकारों पर हमें जानकारियां देने का दारोमदार है।

लखनऊ के वकील और पत्रकार चंदन श्रीवास्तव की इस एफबी पोस्ट पर आए कुछ प्रमुख कमेंट्स इस प्रकार हैं :

Mahendra Yadav कुछ पत्रकारों ने अपनी ब्रांडिंग इतनी जोरदार की है कि अब वो कूड़ा करकट कुछ भी फैलाएं, लोग वाह वाह करने लगते हैं। कमाल भी ऐसे ही हैं।

Vivek Singh संयोग से मैं भी टीवी के पास बैठा था.. एक बार 156 कहा था दूसरी बार 356 ही कहा था। शायद त्रुटि हो गई हो। वैसे पत्रकार से गलती पर कोई आश्चर्य नहीं होता मुझे।

Anil Dwivedi चन्दन भाई, दिक्कत यही है कि ज्यादातर पत्रकार अपडेट नही रहते।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Blunder by HT : Mitali is not the only women gallantry awardee…

Dear Mr Singh,

Hope you doing well!

This mail is in regards to the misinterpretation of facts by HT which has defamed an army officer (Capt CR Leena) from being the first Indian lady to get a gallantry award in the Indian Army.

I came to know about this blunder by HT when i met Major Sanjay Dhadhwal, office manager for an MNC in India and also  defamed officer’s husband. He showed me the article written by Bhadra Sinha of Hindustan times on oct 16th 2015 stating “Lt Col Mitali Madhumita is the Army’s only woman gallantry awardee in the country”.  If going according to facts she is not the only women gallantry awardee in our country in-fact she is second to Capt (Miss)C R Leena.

Mails have been already sent to HT and also to the journalist seeking corrigendum but they are not replying back. I would be highly obliged if you can be of any help in this matter.

I am attaching with mails the link of the article by HT and some facts, which proves that Capt C R Leena was felicitated with the award before Lt Col Mitali.

Hope you will be help the officer in getting back her pride.

Thanks and Regards,

Darshan Pandey

dp1495@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Shame on you TOI its NIT (An Institute of National Importance), not NIIT

 

Since the time I remember, one thing that comes to my mind is the newspaper vendor flinging Times of India at the main gate of my house. I was an avid reader of prominent national daily, The Times of India. The exclusive coverage of issues of national importance always fascinated me. The idea of switching loyalty to any other national daily didn’t even cross my mind. I would have labelled that an exceedingly absurd thought. Today, in the hustle and bustle of college life, I somehow carve out time to login Times Of India on my laptop and go through the electronic version of it. It was my love for Times Of India that drove me crazy.

One fine morning on 27th September 2015, I was reading TOI’s article on “Single Test for IITs”. The issue was of special interest to me because I had also gone through the competitive engineering exams last year. The crux of the article was that the government is mulling over the idea of common entrance test for IITs and NIITs. Surprised…? Same was my reaction when I read this line. A literate Indian can easily figure out by virtue of his common sense that the government wants to table the proposal of a common examination for IITs and NITs. Sadly, third largest newspaper daily, The Times Of India, doesn’t even know the difference between NITs and NIITs, let alone the claim of being the trendsetter that adheres to the highest standards of journalism. The error was not at a single place. TOI has committed this gaffe three times in an article of barely 400 words. The word NIT did not even feature in the article. They have simply assumed that NIITs are equivalent to NITs.

As a responsible citizen of India, let me clearly draw a line between the NITs and NIITs so that heedless Indians and Times Of India don’t make a blunder in future. NITs are institutes that are funded by the central government of India. They are “Institutes of National Importance” declared by the Ministry of Human Resources and Development. To name a few, courses like Computer Engineering, Mechanical Engineering, and Electrical Engineering are dealt with here. The courses in NITs are accredited by National Board of Accreditation. The labs here are funded by World Bank. The students here belong to top 0.5 percentile of India. The teachers in NITs are globally acclaimed. On the other hand, NIIT is a private computer institute for training people so that software firms can hire them. Here only courses such as Java, C# are offered. Even though both institutes are differentiated by a letter “I” there is a world of difference between them.

Times of India should realise that NITs feature in the best colleges of India. I hold no grudges against NIIT, but it is unethical to link two institutes of completely different stature. Indian society believes that IITs are the only premier institutes of India. Times of India has unfortunately contributed to this myth. If professionals working in Times of India don’t know this, it would be a crime to expect a positive response from 13.5 million readers of Times Of India. NITians have proved that this notion is wide of the mark. NITians are at par with the society labelled prodigious IITians. NITians fetch placements in the elite companies of the world. Many of them are successful entrepreneurs. There is only one NIT in a state and a student is expected to burn the midnight oil to get into it. Combating for a seat in it takes a toll on the mental level of a student. In return, NIT is compared with nascent NIIT which is an insult to NITs and the setup which is more than half a decade old.

So, as a NIT student from the platform of “Proud To Be An NITian” on the behalf  of NIT fraternity comprising of 50000 students presently studying in them and thousands who have passed in the last 50 years, I would request you to not use this in future. Confusion between NIT and NIIT just shows your utter ignorance about technical education institutes in India. Had Times Of India added the letter “I” in IIT and printing it as IIIT, massive protests would have erupted. The Times Group would have tendered an apology. But no outrage was observed after TOI committed this blunder. It doesn’t give Times Of India a leeway. We expect an apology from the Times Group. It would, in fact, be a step by TOI towards regaining the confidence in NITians and its readers. (साभार- ptbn.org)

ptbn.org में प्रकाशित श्याम कौशिक की रिपोर्ट.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दूरदर्शन की नजर में अब भी प्रधानमंत्री के पद पर मनमोहन सिंह हैं (देखें वीडियो)

दूरदर्शन न्यूज वाले सुधरने का नाम नहीं ले रहे. अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के भारतीय दौरे के दौरान लाइव प्रसारण में दूरदर्शन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जगह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह बोल दिया गया. यह काम किसी और ने नहीं बल्कि यहां के वरिष्ठ एंकर अशोक श्रीवास्तव ने किया. सोशल मीडिया पर डीडी न्यूज की इस गलती का वीडियो वायरल हो चुका है.

डीडी न्यूज में लगातार गल्तियां हो रही हैं लेकिन कोई इसकी जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है. कुछेक मामलों में कार्रवाई तो हुई लेकिन अंततः नतीजा सिफर रहा. आप भी देखिए कि एंकर महोदय बोलते बोलते प्रधानमंत्री मनमोहन बोल गए. संबंधित वीडियो का लिंक यूं है….

https://www.youtube.com/watch?v=fYPu6H4TyyU


इन ताजातरीन वीडियोज को भी देख सकते हैं….

प्रिंटिंग प्रेस : मशीन और इंसान के काम की शुद्धता में फर्क बताइए
https://www.youtube.com/watch?v=bmcFPDnPA44

xxx

डीएम साब सोते रहे, मंत्री जी भाषण देते रहे
https://www.youtube.com/watch?v=QRVxOXWp__4

xxx

जी संगम के प्रतिनिधि ने हत्यारोपी को ‘साहब’ कहा
https://www.youtube.com/watch?v=OKwtz3bqhK0

 

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भगवान करें ऐसा किसी महिला एंकर के साथ न हो जो इस बिचारी के साथ हुआ (देखें वीडियो)

कोई एंकर खबर पढ़ रही हो और अचानक उसके सिर के पीछे वो बोर्ड गिर जाए जिस पर चैनल व शो का लोगो नाम आदि लिपा पुता लगा हो. इस गैर हिंदी-भाषी न्यूज चैनल के महिला एंकर को देखिए. बेचारी कितनी बढ़िया ढंग से खबर पढ़ रही थी कि अचानक जब खोपड़ी पर पीछे से बोर्ड गिरा तो माताजी को याद करने लगी.

ऐसा किसी दूसरे एंकर के साथ न हो, और, महिला एंकर के साथ तो कतई न हो क्योंकि महिला एंकर इतना तैयारी करके खबर पढ़ने आती हैं कि ऐसे किसी हादसे के लिए मानसिक रूप से बिलकुल तैयार नहीं होतीं. सो, माताजी का याद आना स्वाभाविक है. चैनल 8 न्यूज के एंकर के साथ आखिर हुआ क्या और कैसे, देखें इस वीडियो को…

https://www.youtube.com/watch?v=OPJGRvJeI8U


इन ताजातरीन वीडियोज को भी देख सकते हैं….

प्रिंटिंग प्रेस : मशीन और इंसान के काम की शुद्धता में फर्क बताइए
https://www.youtube.com/watch?v=bmcFPDnPA44

xxx

डीएम साब सोते रहे, मंत्री जी भाषण देते रहे
https://www.youtube.com/watch?v=QRVxOXWp__4

xxx

जी संगम के प्रतिनिधि ने हत्यारोपी को ‘साहब’ कहा
https://www.youtube.com/watch?v=OKwtz3bqhK0

 

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पाठकों से खुलेआम चीटिंग : सीबीएसई का नाम लेकर एक निजी इंस्टीट्यूट की वेबसाइट को प्रमोट कर रहा है दैनिक जागरण

आदरणीय यशवंत जी, एक ओर दैनिक जागरण खुद को देश का नंबर एक अखबार होने का दावा करता है दूसरी ओर जागरण के संपादक व कार्यकारी अधिकारी समाचार पत्र को उतनी गंभीरता से नही लेते। इसकी बानगी 20 जनवरी 2015 के जागरण के बागपत संस्करण में देखने को मिली। हालाकि दी गई खबर मेरठ के एक पत्रकार ने लिखी है तो जाहिर है कि खबर मेरठ यूनिट के अन्य संस्करणों में भी गई होगी।

20 जनवरी के जागरण के बागपत संस्करण में पेज नंबर 6 पर प्रकाशित समाचार जिसका शीर्षक ‘सीबीएसई बनी है हर परीक्षार्थी की गाइड’ में बताया गया है कि सीबीएसई ने छात्रों की सुविधा के लिए एक वेबसाइट बनाई है (www.mycbseguide.com) जहां कक्षा 3 से 12 तक की सभी सुविधाएं उपलब्ध कराई गई है। यह पत्रकार अमित तिवारी की बाईलाइन खबर है। मुझे हैरानी तब हुई जब पता चला कि जिस वेबसाइट का समाचार में जिक्र किया जा रहा है उसका सीबीएसई से कोई संबंध नही। वेबसाइट पर दिया गया पता दिल्ली के द्वारका के सेक्टर आठ का है। जोकि एलपिस टैक्नोलॉजी सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड द्वारा चलाई जा रही है।

सवाल यह है कि क्या जागरण जैसे प्रसिद्ध बैनर अपने पाठकों को बिना पड़ताल किए ऐसे भ्रामक समाचार मुहैया कराता है। यह वास्तव में जागरण परिवार के लिए सोचनीय प्रश्न है।

भड़ास को भेजे गए एक पत्र पर आधारित.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

दैनिक भास्कर : राजस्थान में अखबार ने मृत्यु के शोक संदेश पर दे दी बधाई!

राजस्थान का सबसे बड़ा अखबार होने का दावा करने वाला दैनिक भास्कर अब भगवान भरोसे ही चल रहा है। अखबार के हर संस्करण में खबरों में तो खामियों की भरमार है ही, मगर अब तो विज्ञापनों में भी ये लोग कुछ भी छाप दे रहे हैं। ताजा मामला भास्कर के चितौड़गढ़ संस्करण का है जिसमें 11 दिसंबर को चितौड़गढ़ भास्कर में पेज नंबर 2 पर एक शोक संदेश का विज्ञापन छपा था।

इस विज्ञापन में श्री एम.एल.मेहता जी के आकस्मिक निधन पर उनके परिवारजनों ने श्रद्धांजलि संबंधी मैटर छपवाया था और वह छपा भी, मगर ज्यों ही विज्ञापन की हैडिंग पर जायें तो सिर चकरा जाये। जिस व्यक्ति का आकस्मिक निधन हुआ है और परिवारजनों ने उन्हे श्रद्धांजलि दी है, उसे भास्कर वालों ने हार्दिक बधाई दे दी। इस विज्ञापन से तो मानों यूं लग रहा है जैसे श्री मेहता के जाने से उनके परिवारजनों को खुशी हुई हो और इसी खुशी के मारे उन्होंने अखबार में हार्दिक बधाई का विज्ञापन बुक करवाया हो…. हद हो गई ये तो यार….

राजस्थान से आर.पी. की रिपोर्ट.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

जिंदल के चैनल ‘फोकस’ ने राहुल गांधी को बीजेपी उपाध्यक्ष घोषित किया

लाइव इंडिया नामक न्यूज चैनल अपने मालिक के घर के पार्टी फंक्शन को लाइव प्रसारित करने के कारण बदनाम है तो फोकस नामक चैनल नवीन जिंदल के निजी खेल, समारोह, चुनाव आदि को दिन भर लाइव दिखाने के लिए कुख्यात हो चुका है. इसी जिंदल के फोकस नामक चैनल ने अब तो राहुल गांधी को भारतीय जनता पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष घोषित कर दिया है. इतनी बड़ी गलती फोकस टीवी पर लाइव चली लेकिन किसी वरिष्ठ पत्रकार की नजर इस पर नहीं पड़ी.

लाखों रुपये सेलरी लेने वाले नामधारी पत्रकारों ने भी मान लिया है कि फोकस तो जिंदल के जिद पर चल रहा है इसलिए यहां पत्रकारिता करने या पढ़ने-लिखने से कोई मतलब नहीं है, सो जो कुछ चैनल पर चल दिख रहा है, उसे चलने दिखने दो. पर दर्शकों के पास कई आंख नाक कान होते हैं. भड़ास के पास कई दर्शकों ने मेल करके फोकस टीवी की गलती को मय तस्वीर भेजा है जिसे यहां प्रकाशित किया जा रहा है.

कहीं ऐसा तो नहीं कि आजकल टीवी चैनल वाले बीजेपी से इतने अधिक प्रभावित हैं कि चैनलों ने राहुल गांधी तक को भी बीजेपी का उपाध्यक्ष दिखाना शुरू कर दिया है. पिछले दिनों राहुल गांधी ने झारखंड में एक चुनावी रैली को संबोधित किया था लेकिन कांग्रेसी सांसद रहे और इन दिनों परेशान घूम रहे नवीन जिंदल के चैनल फोकस टीवी ने राहुल गांधी का परिचय बीजेपी उपाध्यक्ष के रूप में करा दिया. अब सवाल ये है कि जिस पार्टी से नवीन जिंदल संबंध रखते हैं अगर उसी पार्टी के मालिक का नाम ही सही नहीं दिखा सकते हैं तो इस चैनल में काम करने वाले लोग किसी काम के नहीं हैं.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

टाइम्स आफ इंडिया के पत्रकारों का गणित ज्ञान कमजोर, मोदी के गुणगान में आंख मूंद छाप दे रहे हैं कुछ भी

Abhishek Srivastava : ये है टाइम्‍स ऑफ इंडिया की खबर, जो वैसे तो कई अख़बारों में छपी है लेकिन जस यहां है तस कहीं नहीं है। खबर का शीर्षक देखें और पूरी खबर पढ़ें। इसके मुताबिक प्रधानजी बनारस में रोहनिया के जिस गांव को गोद लेने वाले हैं, उसने  ‘450’  साल पहले औरंगज़ेब की फौज को हराकर भगा दिया था। औरंगज़ेब 1618 में पैदा हुआ था यानी आज से 396 साल पहले, लेकिन टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने 450 साल पहले बनारस पर उसका हमला करवा दिया है।

खबर के भीतर “nearly 450 years” भी आसपास नहीं बैठता।  दिलचस्‍प यह है कि इसी परिवार के दूसरे अखबार इकनॉमिक टाइम्‍स में संबंधित ख़बर में औरंगज़ेब का संदर्भ गायब है। Dilip Khan ठीक कहते हैं कि पत्रकारों को थोड़ा-बहुत गणित का ज्ञान होना बहुत ज़रूरी है। The Times of India की खबर का शीर्षक है- ”450 years ago, Modi village stopped Aurangzeb’s army

टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने औरंगज़ेब का हमला बनारस पर 450 साल पहले करवाया तो हिंदी का पतरकार कैसे पीछे रहता। ये देखिए, दैनिक जागरण ने ”प्रधानजी के गांव” पर सीधे अकबर का ही हमला करवा दिया है। दैनिक जागरण में प्रकाशित खबर का शीर्षक है: ”कभी अकबर को दी मात, आज खुद वक्त से हारा”।

मीडिया विश्लेषक और एक्टिविस्ट अभिषेक श्रीवास्तव के फेसबुक वॉल से.

उपरोक्त स्टेटस पर आए ढेर सारे कमेंट्स में से अंकित अग्रवाल का कमेंट इस प्रकार है…

Ankit Agrawal : इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर के मुताबिक संघ 2002 से ही इस गाँव का विकास कर रहा है और वो मोदी द्वारा इसे हथिया लिया जाने से खुश नहीं है। वैसे इस गाँव से जुडा एक रोचक तथ्य ये भी है की यहाँ एक भी मुस्लिम नहीं है ऐसा एक स्वयंसेवक ने बड़े उत्साह के साथ पत्रकार को बताया। ये सिम्बोलिज्म कितना भयावह है!

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: