स्वर्गीय पत्रकार विनोद मिश्रा के पत्नी-बच्चों को मदद की तुरंत जरूरत

हिंदुस्तान गाजीपुर के ब्यूरो चीफ विनोद मिश्रा के कैंसर से निधन के बाद उनके पत्नी-बच्चों पर आफत का पहाड़ टूट पड़ा है.  इन्हें अभी तक किसी किस्म की कोई मदद नहीं मिल पाई है. फिलहाल विनोद जी की पत्नी निधि मिश्रा अपने तीनों बच्चे के साथ कानपुर से गाजीपुर पहुंच गई हैं और अपने पहले वाले किराए के मकान में रह रही हैं. इसकी एक बड़ी वजह बच्चों की पढ़ाई है. उनका अभी एक्जाम वगैरह होना बाकी है. कुछ शुभचिंतक कोशिश में हैं कि निधि मिश्रा की कहीं नौकरी का इंतजाम हो जाए. साथ ही बच्चों की आगे की पढ़ाई का फ्री में इंतजाम कराया जाए.

जौनपुर के फोटोजर्नलिस्ट अनिल विश्वकर्मा को हुआ कैंसर, मदद की अपील

अनिल विश्वकर्मा
साथियों, तरुणमित्र अखबार के जौनपुर के फ़ोटो ग्राफ़र अनिल विश्वकर्मा कैंसर जैसी गम्भीर बीमारी के ईलाज के लिये आज मुम्बई के लिये रवाना हो गये. उनकी अभी कच्ची गृहस्थी है. पत्नी व तीन बेटियों का भरा पूरा परिवार है. ईलाज के साथ साथ परिवार के भरण पोषण की भी जिम्मेदारी अनिल जी के ही कन्धों पर है. उनकी आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं है. हमेशा मुस्कुराने वाले अनिल जी कर्मठ, ईमानदार एवं व्यवहार कुशल रहे हैंं.

एम्स दिल्ली में एडमिट झारखण्ड के वरिष्ठ पत्रकार फैसल अनुराग को मानसिक और आर्थिक मदद की जरूरत

झारखंड के वरिष्ठ पत्रकार फैसल अनुराग

झारखण्ड के वरिष्ठ पत्रकार फैसल अनुराग जी, दिल्ली के एम्स अस्पताल में किडनी रोग से पीड़ित अपने इलाज के लिए अकेले ज़िन्दगी की जंग लड़ रहे है। ये जानकारी मुझे संतोष मानव जी (पूर्व संपादक – हरिभूम एवं दैनिक भास्कर) के फेसबुक वाल से प्राप्त हुई। संतोष सर के द्वारा ये जानकारी पोस्ट करने के बाद हालाँकि कुछ ही देर बाद में देश के कई मीडियाकर्मियों तक पहुँच गयी लेकिन फिर भी शायद अभी तक यह खबर सही रूप से मीडियाकर्मियों उनके आन्दोलन के दिनों के साथियों तक नहीं पहुँच पाई है।

कैंसर पीड़ित देवघर के वरिष्ठ पत्रकार आलोक संतोषी को मदद की जरूरत

झारखण्ड के देवघर जिला के एक वरिष्ठ पत्रकार आलोक संतोषी गंभीर रूप से बीमार हैं। कैंसर से पीड़ित हैं। साल भर पहले पैंक्रियाज कैंसर की सर्जरी हुई थी। उसके बाद रिकवर कर रहे थे। फिर यकायक बीमार ही गए। लखनऊ के पीजीआई में साल भर से ईलाज करा रहे आलोक संतोषी अब टूटने लगे हैं, हारने लगे है। अपनी उदासी और बेबसी को उन्होंने अपने फेसबुक के माध्यम से उकेरा है। साथ ही इस बुरे दौर में पत्रकारों के साथ नहीं देने का दुःख भी प्रकट किया है।