धरनास्थल पर ही बेहोश होकर गिर पड़ीं जगेंद्र सिंह की पत्नी सुमन

शाहजहांपुर (उ.प्र.) के पत्रकार जगेंद्र सिंह हत्याकांड के आरोपी राज्यमंत्री राममूर्ति सिंह वर्मा और आरोपी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हुए सपरिवार धरने पर बैठीं सुमन धरना स्थल पर ही बेहोश होकर गिर पड़ीं। आनन-फानन में पास के डॉक्टरो की टीम बुलाकर उन्हें ग्लूकोज चढ़ाया गया, लेकिन उनकी हालत में सुधार नहीं हुआ। पल्स रेट डाऊन होने से उनकी हालत बिगड़ गई। डॉक्टर ने अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी, लेकिन परिवारवाले राजी नहीं हुए और धरनास्थल पर ही इलाज करने की जिद पर अड़े रहे। उधर, मंत्री के विरोधी एवं सपा से निष्कासित पूर्व विधायक और देवेंद्र पाल सिंह भी धरने पर बैठ गए हैं।

शाहजहाँपुर की डीएम ने कहा – जगेन्द्र के घर जाने से विवादित हो जाऊंगी

कल आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर तथा सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर ने पत्रकार जगेन्द्र सिंह के गाँव खुटार जा कर उनके परिवार वालों से मिल कर मौजूदा स्थिति, विवेचना और उनकी सुरक्षा के बारे में जानकारी ली. स्थितियों पर उन्होंने पूरी तरह असंतोष जाहिर करते हुए मुआवज़े और घटना की सीबीआई जांच की मांग की. 

जगेंद्र के लिए इंसाफ की लड़ाई जारी, शाहजहांपुर में कैंडल मार्च

शाहजहांपुर (उ.प्र.) : ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन शाहजहांपुर के आह्वान पर जगेन्‍द्र सिंह के परिजनों को न्‍याय, दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा, जगेन्‍द्र सिंह के बच्‍चों के लिये शासन से 50 लाख रूपये का मुआवजा, एक बेटे या बेटी को नौकरी दिलाने की मांग करते हुए पत्रकारों ने कैंडिल जुलूस निकाला। 

विनोबा आश्रम की छात्रा के साथ रेप हुआ था लेकिन ताकतवर शख्स ने दुर्घटना का रूप दे दिया!

शाहजहांपुर। चार वर्ष पूर्व बंडा थाना इलाके में मिली लडकी की अर्धनग्‍न लाश की शिनाख्‍त शाहजहांपुर के विनोबा आश्रम में रहकर पढाई करने वाली रन्‍जना के रूप में हुई थी। उस वक्‍त पीएम रिपोर्ट में रन्‍जना की मौत का कारण दुर्घटना आया था। लेकिन अब मामले में कुछ और ही निकलकर सामने आ रहा है। यह दुर्घटना नहीं बलात्‍कार था। यह खुलासा किसी और का नहीं बल्कि विनोबा आश्रम में काम करने वाले एक कर्मचारी का है।