Naukari planet और Varchashav adventure नामक दो धोखेबाज कंपनियों से रहें सावधान

श्री मान सम्पादक महोदय, मैं रमाशंकर यादव हूं. मेरे पिता का नाम श्री जयराम यादव है. ग्राम- छिवर चक, पो.-धुरियापार, जिला-गोरखपुर का निवासी हूं. मैं इस भ्रष्ट व्यवस्था से त्रस्त हूं. यहॉं जिसको मौका मिलता है वह लूट ही लेता है. कई सारी फर्जी कम्पनियां कंटिया लगाए बैठी हैं. कोई न कोई मछली फंस ही जाती है. ऐसी दो कम्पनियों के बारे मे मैं लिखने जा रहा हूं जिसने हजारों लोगों को करोड़ों रुपये का चूना लगाया है…

१: Naukari planet नामक कम्पनी नौकरी दिलाने के नाम पर फोन कर के लोगों को ट्रैक करती है. मैने भी तीन बार में २०००० रुपये दिया. इस कंपनी से ठगे जाने के एहसास के बाद यू. पी. सरकार की जन सुनवाई पोर्टल पर शिकायत की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई.     

२: Varchashav adventure pvt. Ltd.नामक कम्पनी जॉर्जिया और कनाडा भेजने के नाम पर कई लोगों का ५५ से ८०हजार रुपये लेकर कोलकाता से मुम्बई भाग गई. इसमें मैंने भी ५५ हजार रुपए जमा किया था. इसकी शिकायत हमने कोलकाता पुलिस में, गोरखपुर पुलिस में तथा प्रधन मंत्री के पी जी पोर्टल पर दे रखी है. इसका कोड नं. PMOPG/E/2017/0277477 है. कोई सुनवाई नहीं हुई.

मेरे पास कुछ प्रार्थना पत्र हैं जिसे मैं आप को भेज रहा हूं. वैसे तो किसी के पास सुनने का समय नहीं है लेकिन फिर भी पढ सकते हैं तो पढ लीजिएगा. अगर गरीब पर दया आ जाए तो जो भी कर सकते हैं वह कर लीजिएगा.

Ramashankar Yadav

rmshankaryadav@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पत्रकार बन कर नकली तेल बेचने वाले कारोबारी से हर माह करते थे लाखों की वसूली

आजकल गलत काम करने वालों से कुछ लोग पत्रकार बनकर जमकर वसूली करते हैं और गलत काम करने वाला मजबूरी में कुछ बोल भी नहीं पाता है. आगरा में एक ऐसे ही मामले का भंडा़फोड़ हुआ है जिसमें करीब दस लोग पत्रकार बनकर हर महीने नकली खाद्य तेल बेचने वाले एक कारोबारी से लाखों रुपये वसूलते थे. न देने पर कैमरा लेकर आते और रिकार्डिंग करने लग जाते. फिर धमकी देते कि वह शासन प्रशासन को दिखाकर नकली तेल के कारबोरा की पोल खोल देंगे. इससे डरा कारोबारी उन्हें मुंहमांगी रकम दे देता.

इस प्रकरण के बारे में आगरा के अखबारों में विस्तार से खबरें छपी हैं जिसकी कटिंग नीचे दी जा रही है…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

बैंक वाले, सीबीआई और सिस्टम की कृपा से एक और छोटा-मोटा विजय माल्या जनता का धन हड़पने को तत्पर, जानिए पूरी कहानी

To,
THE EDITOR-IN-CHIEF
Bhadas4Media
India

SUBJECT : SCAM/ECONOMIC OFFENCE IN LOAN DEPARTMENT BY CONSORTIUM BANK AGAINST THE LOAN ACCOUNT OF SHREE SHYAM PULP & BOARD MILLS LIMITED

Respected Sir,

A company namely Shree Shyam Pulp & Board Mills Limited having its manufacturing plant in Kashipur (Uttarakhand) (here-in-after SSPBML) was established by Mr. Naresh Kumar Gupta and presently running by Mr. Naresh Kumar Gupta and his son Amit Kumar alias Amit Gupta. SSPBML is engaged in manufacturing of various kinds of writing and printing papers as well as cardboards, copier and other papers. During their regular course of business, SSPBML applied for loan before the consortium of bank; led by UCO Bank, 5 Sansad Marg, New Delhi, with the heading to EXPAND THEIR PLANT and on this ground the bank passed their loan application and passed their loan without the complete verification of their papers. It is pertinent to mention here that the loan which was granted is of more than Rs. 700 Crores (Seven Hundred Crores Only) but the complete worth of machines are not more than Rs. 200 crore (Rupees Two Hundred Crores) and therefore the disbursed amount is much more than the worth value of the machines.

Sometimes in the year 2013, the company SSPBML failed to repay and seeking some time to repay their loan EMI and bank granted. After sometimes, the consortium again asked to SSPBML to repay their loan EMI but SSPBML refused to repay their loan EMI with a very interested reason i.e. “Due to suffering from the cloud burst in the Uttarakhand, he is not in the condition to repay their loan EMI and therefore SSPBML seeking some time to establish their plant to repay their loan EMI and referred the notification of Indian Bank Association (here-in-after IBA)”. It is pertinent to mention here that from the perusal of the governments records, it is too much obvious that SSPBML was never been affected by the cloud burst in Uttarakhand but without any enquiry, the consortium granted time to repay the loan EMI. It is also pertinent to mention here that SSPBML is also defaulter for their EPF and ESIC account though deducted the amount from their employees salary and instead to take action by the EPF and ESIC department, both the departments are only granting the time to SSPBML with the reason known to himself only. It is also pertinent to mention here SSPBML is also not disbursing the salary of their employes since long long time and no one is ready to take appropriate action against the SSPBML.

That after the completion of IBA notification time period, the consortium again asked to repay the loan EMI but SSPBML started to make excuses on one pretext to another and the consortium granted the time to SSPBML. Sometimes in the year 2014, when the consortium felt that SSPBML is cheating them, the consortium declares the account of SSPBML as NPA and proceeded to audit the account of SSPBML through Anil Shalini & Company. During the audit, an interesting fact has been come out that the company have misused the disbursed loan amount. No any machine or other machinery is existing at ground for which the complete loan amount was disbursed even the submitted bills of the machineries are false and fabricated. It is pertinent to mention here that during the submission of the adutior’s report, the auditor clearly stated that they have not found any machine at ground and the claim of the company that they are affected from the natural calamity, is completely false and fabricated as during the audit, the company could not show any paper or document in support of their claim. In their report, the auditor clearly stated that the company is fully involved in illegal activities. The directors of SSPBML misused the letter head, address and signatures of the genuine companies and prepared false and fabricated documents to avail the loan facility. The directors and their family members are involved in illegal activities as they incorporate the false and fabricated to avail the loan facility. The auditor submitted their report to the consortium of the bank with the complete documents which was confirming the diversion of funds. They further said that SSPBML is engaged in diversion of funds and after the finalization of the report, the auditor clearly written that there is a diversion of Rs. 390.94 Crores (Rupees Three Hundred Ninety Crores Ninety Four Lacs Only), done by the company SSPBML but the bank did not take any action against the concerned person. Sometimes in the year 2015, when the consortium came to know that there are two FIR has been lodged against Mr. Naresh Kumar Gupta and Mr. Amit Kumar alias Mr. Amit Gupta and Mr. Amit Kumar and their family members and Mr. Amit Kumar alias Mr. Amit Gupta has already been arrested by the police and sent to the jail, the consortium immediately lodged a complaint before the CBI in the month of September, 2015 with the complete documents.

After the registration of the complaint, the CBI remain silent till date and the complaint has not been converted into the FIR which is completely violation of the guidelines of the Hon’ble Supreme Court of India. It is pertinent to mention here that the bank consortium has also not been take care of the complaint and till date the complaint is still pending with the CBI and the CBI is also saving themselves to take any further action against the accuseds because the accuseds.

Now the condition is this that having ulterior motive and malafide intention, the consortium is ready to settle the loan amount only in Rs. 300-400 crores which is completely wrong and cheating with the tax payers of the nation. It is also pertinent to mention here that the consortium filed a recovery case before the Debt Recovery Tribunal, New Delhi and the tribunal passed the order that SSPBML cannot sell or create an third party interest in the properties but without informing to the tribunal, SSPBML selling/transferring/creating third party interest with the consent of the tribunal which is a crime but the consortium is neither ready to consider the fact nor ready to follow the law. It is also pertinent to mention here that SSPBML is also in the defaulter’s list of the Hon’ble Supreme Court of India but The Consortium has no fear of law and doing as per their wishes. If the consortium settled the loan amount only in Rs. 300-400 crores which is only 40-50 percent of the loan amount instead of 100% i.e. more than Rs. 800 Crores (Rupees Eight Hundred Crores Only), it shall be a big hit on our economy as well as cheating with the tax payers of our country.

By this letter, I humbly request you to kindly consider my letter and highlight this fraud and the corporate scam/economic offence which is a type of scam/economic offence by which the amount of tax payers is going in vein and the government is not doing anything to recover the NPA debt. It is also pertinent to mention here that the company SSPBML has also been in wilful defaulter’s list of Hon’ble Supreme Court of India and still the silence of government is a surprise to the public. I think that the present government is again waiting for the another Vijay Malya case and thereafter they(The government) will show that they are very serious to recover the amount because the government is busy to use The CBI to settle their political rivals which is showing their interest of the public benefits. It is also pertinent to mention here that the CBI has neither been informed to The Enforcement Director about this huge diversion of public money nor taken any action themselves against the concerned persons.

Thanking You.

Regards :-

Amrit Anand

amrit001anand@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

dealzkart नामक धोखेबाज आनलाइन कंपनी से कोई सामान न खरीदिएगा!

Yashwant Singh : पिछले दिनों फेसबुक पर एक विज्ञापन देखा. 998 रुपये में सैमसंग पावर बैंक (25000MAH का) और साथ में सोनी का एक MDR-ZX110A Headphones फ्री. मुझे इन दोनों की जरूरत थी. नाम ब्रांडेड. दाम बेहद कम. फौरन क्लिक कर आनलाइन प्रासेस पूरा किया. जब ये हाथ में आया तो तीसरे दिन तक पता चल गया कि हम लोग बुरी तरह ठगे जा चुके हैं. पावर बैंक पर कहीं सैमसंग नहीं लिखा था. कोई बेहद लोकल और घटिया माल था. आधे घंटे में पावर बैंक दम तोड़ देता था.

उसी तरह हेडफोन भी किसी दूसरी कंपनी का निकला. वह भी सस्ता और घटिया वाला. दोनों का दाम मिलाकर मेरे हिसाब से तीन सौ रुपये से ज्यादा नहीं था. पर सैमसंग का पावर बैंक और सोनी का हेडफोन बताकर बंदे ने हजार रुपये लेकर ठग लिया. इस तरह आनलाइन खरीदारी से भरोसा उठता जा रहा है. सोचा कंप्लेन करूं लेकिन लगा कि उससे पहले लिख कर सबको सचेत कर दूं कि भाइयों, dealzkart नाम की कंपनी जो dealzkart.com नाम से धंधा करती है, इन दिनों फेसबुक पर विज्ञापन देकर कस्टमर फांस रही है, बेहद ही धोखेबाज है. इनके दावों और लुभावने आफर के चक्कर में न पड़िएगा. dealzkart नामक धोखेबाज आनलाइन कंपनी से कोई सामान न खरीदिएगा.

अभी-अभी कंपनी को मेल से अपनी शिकायत भेज दी है, जो इस प्रकार है-

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से. संपर्क : yashwant@bhadas4media.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पत्रकारिता के इस ‘प्रोफेशनल बेगर’ को पहचान लीजिए

Yashwant Singh : (पार्ट-1) यह राजीव शर्मा है. यह शख्स पत्रकारिता में है. सहारा, साधना, न्यूज24 समेत कई न्यूज चैनलों में नौकरी कर चुका है. अपनी सनकपन और धूर्तता के कारण यह अक्सर बेरोजगार ही रहता है. इसका प्रिय शगल है अपने सबसे करीबी की जेब काट लेना. वो भांति भांति की मजबूरियां-दिक्कतें बताकर कर्ज के रूप में पैसे लेता रहता है और जब उसे लगता है कि सामने वाला अब उसे उधार नहीं देगा तो वह रिश्ता तोड़कर गायब हो जाता है. जब उससे उधारी लौटाने की बात की जाती है तो वह फोन उठाना बंद कर लेता है या फिर जवाब ही नहीं दता है. इसके चक्कर में मैं भी बुरी तरह फंसा और कई साल तक इसे उधार देता रहा.

https://3.bp.blogspot.com/-TzPkFjA_bDs/WZCROwSUabI/AAAAAAAAMVc/v_hh7I1dIpMM41ClEDErnVRJS2FDNYDIACLcBGAs/s1600/20776424_1469189739832761_1286747278155380000_o.jpg

यह राजीव शर्मा जब बेरोजगार था तो मकान किराया चुकता करने के लिए पैसे मांगता था। इसकी मदद मैं खुद तो करता ही था, दूसरों से भी कराता था। Prasoon Shukla और Sheetal P Singh जी से भी पैसे दिलवाए। मैंने एटीएम कार्ड तक दे दिया था, ये कह कर कि ज़रूरत के हिसाब से निकाल लिया करो। हां, ये क्लीयर कर दिया था, उधार दे रहा हूँ, नौकरी मिलते ही लौटा देना।

नौकरी मिली। ऑप्शन यहां तक दिया कि हर महीने हजार दो हजार ही लौटाते रहो ताकि मुझे ये फील होता रहे कि तुम लौटा रहे हो। पर यह ‘प्रोफेशनल बेगर’ लौटाना तो छोड़िए, मेरे मित्रों से चुपके से उधार लेता रहा और उनको भी लौटाने के नाम पर अंगूठा दिखाता रहा। इंदौर से लेकर इलाहाबाद तक के दर्जनों लोगों को इसी तरह चूना लगा चुका है। ये गर्व से कहता है- ”सच्चा पंडित कभी भूखा नहीं मर सकता”। सही कहता है भाई, नौकरी करते हुए भी उधार मांगते रहने की जो कला जानता हो वो कैसे भूखा मर सकता है। भूखे तो वो मरेंगे जो करुणावान हैं, जो दूसरों का दुख देख कर पैसे उधार दे देते हैं लेकिन जब मुश्किल पड़ने पर वापस मांगते हैं तो कोरे आश्वासन और झूठे वादे पाते हैं।

इस चोटी दाढ़ी वाले राजीव शर्मा से सावधान रहिएगा। दोस्ती ये इसलिए करता है ताकि उधार मांग सके। उधार तब तक ये मांगेगा जब तक आपकी देने की औकात रहेगी। हर बार बिल्कुल नया बहाना होगा और एक बहाने पर कई लोगों से उधार मांग लेगा। जब आप लौटाने की बात करेंगे तो या तो फोन उठाना बन्द कर देगा या आपसे झगड़ने लगेगा। खुद को नंगा घोषित कर देगा, ले सको तो ले लो टाइप।

इसको दर्जनों बार हजार दो हजार इसलिए देता रहा कि बेरोजगार है। इस पैसे को उधारी में गिना भी नहीं। खिलाना पिलाना टहलाना पर खर्च गिना नहीं। पर जो उधार के नाम पर लिए हो, वो तो लौटा दो। ये काफी समय से न्यूज़24 के डिजिटल विंग में है, लेकिन खुद से कभी पैसे लौटाने का नाम नहीं लिया। आज दस हजार रुपए ट्रांसफर करने का वादा किया था इसने। अब बोल रहा है- ”मेरे पास क्या, न देने को पैसा, न कहने को शब्द, न दिखाने को कोई दृश्य… नंगा क्या नहायेगा क्या निचोड़ेगा!”

मतलब साफ है। मेरे पैसे डूब गए।

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

इस ठग पत्रकार की कहानी का अगला हिस्सा पढ़िए…

महिला पत्रकार और बीएसएफ इंस्पेक्टर को भी चूना लगा चुका है ठग पत्रकार राजीव शर्मा!

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

जुझारू पत्रकार के संघर्ष के चलते ट्रैफिक पुलिस की मिलीभगत से ठगी करने वालों पर दर्ज हो सका मुकदमा

ढाई साल पहले घटी एक घटना ने मुझे बेहद आघात पहुंचाया था। शहर के यातायात चौराहे पर यातायात पुलिस बूथ में बैठे वृन्दावन महिला कल्याण समिति के कर्मचारी ने आपके साथी से 80 रुपये लेकर उसे फर्जी ग्रीन कार्ड पकड़ा दिया। यह फ्राड हुआ तो हजारों के साथ लेकिन बात मुझे खल गई। इतनी पढ़ाई लिखाई करने और पत्रकार होने का क्या मतलब, अगर कोई बीच चौराहे पर आपको पुलिस की संरक्षण में ठग ले। मैंने हास, परिहास और उपहास की परवाह किये बिना इस ठगहाई के खिलाफ लड़ने की ठान ली। मेरे दोस्तों, मीडिया के कुछ साथियों, कई अपने लोगों और यहां तक की यातायात पुलिस ने भी मुझे समझाने का प्रयास किया लेकिन मैंने सिर्फ अपने दिल की सुनी।

लड़ाई का आगाज हुआ 21 फरवरी 2015 को। मैंने आईजी जोन गोरखपुर से शिकायत की। मामले की जांच एसपी ट्रैफिक गोरखपुर को मिली। फर्जीवाड़े की यह घटना ज्यादातर मीडियाकर्मियों को थी लेकिन कलम चली तो सिर्फ शान-ए-पूर्वांचल इवनिंग तूफान के पत्रकार साथियों की। खासतौर से अतुल मुरारी तिवारी जी ने बगैर हित-अहित की परवाह किये इस मुद्दे पर बेबाकी से लिखा। चूंकि फ्राड करने वाली संस्था समाजवादी पार्टी की रसूखदार नेता से जुड़ी थी लिहाजा राजनीतिक दबाव में एसपी ट्रैफिक रमाकान्त प्रसाद जी ने मामला मैनेज कर दिया। दो साल बाद मैं आरटीआई से जान पाया कि मेरे प्रकरण में कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

महंत योगी आदित्यनाथ सीएम बने और जनता दरबार लगाने लगे तो थोड़ी आस बढ़ी। 01 मई 2017 को मैंने योगी से मिलकर इस प्रकरण की शिकायत की थी। एसपी ट्रैफिक श्रीप्रकाश द्विवेद्वी को जांच मिली लेकिन यहां भी मामला मैनेज हो गया। सीएम से मिलना बेकार हो गया। मन बहुत दुखी हुआ लेकिन फिर भी हिम्मत नहीं हारी। फेसबुक और ट्विटर के जरिये वर्तमान एसपी ट्रैफिक श्री आदित्य प्रकाश वर्मा जी की जानकारी में मैं पूरा प्रकरण लाया।

मुख्यमंत्री के एकीकृत शिकायत निवारण प्रणाली (आईजीआरएस) के जरिये आईजी जोन महोदय, डीआईजी रेंज महोदय और एसएसपी गोरखपुर महोदय से शिकायत भी की। इस बार जांच एक ईमानदार कार्यशैली वाले अफसर श्री आदित्य प्रकाश वर्मा जी के हाथ में थी। उन्होंने मामले की निष्पक्षता से जांच की और उनके निर्देश पर कैंट थाने में आरोपियों के खिलाफ आईपीसी की धारा 419, 420 के तहत मुकदमा कायम हुआ है। इस मुकदमे को मैं देर से ही सही अपनी प्राथमिक जीत मानता हूं। अगर निष्पक्षता से विवेचना हुई तो लाखों का खेल उजागर होगा और दोषी जेल जाएंगे, ऐसा मुझे विश्वास है।

वेद प्रकाश पाठक
मजीठिया क्रांतिकारी
स्वतंत्र पत्रकार व सोशल मीडिया एक्टिविस्ट
मोबाइल 8004606554
मेल cmdsewa@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

स्टार इंडिया के सीईओ उदय शंकर समेत दस के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा

Star India CEO Uday Shankar (File Photo)

NSTPL v. Star India Pvt. Ltd. & Ors

Hon’ble Court of Chief Metropolitan Magistrate, Patiala House, New Delhi, has order FIR to be registered against broadcaster Star India, Uday Shankar and 9 other senior officers of Star for cheating under Section 418 and 420 of IPC.

24st July 2017, New Delhi : Noida Software Technology Park Ltd. (NSTPL) filed a Criminal Complaint along with an application under Section 156 (3) of CrPC on 20.03.2017 against Star India Pvt. Ltd. (SIPL),  and its top Management.

The said application under Section 156 (3) for registration of FIR was listed before the Ld. Chief Metropolitan Magistrate, Patiala House Courts for pronouncement of Order today i.e. 21.07.2017. The Ld. Chief Metropolitan Magistrate has, through an order pronounced in open court, allowed the said application and directed that an FIR may be registered against the Accused for the offences punishable under Section 418 and 420 of the IPC.

NSTPL had filed a complaint against Star India and it 10 top officials including Udey Shankar in February with the Economic offences Wing (EOW) of the Delhi police. When the police failed to take any action in the matter NSTPL moved the court of CMM Patyala house.
NSTPL has alleged that STAR has cheated them and caused financial loss of over 350 crores. According to NSTPL’s lawyer Aditya Wadhwa, “STAR had induced NSTPL into making huge financial commitments by first offering attractive rates which they had no intention to finally offer and later denying signals and making NSTPL blead 8 crores a month.

Accoding to Vaibhav Sethi, NSTPL’s other lawyer, “STAR had published a false RIO (mandatory rate card) and falsly assured NSTPL that it provides these rates to all digital servies providers including MSOs and DTH.

Later on in a landmark judgemetn on 7th December 2015, Telecom Dispute Settlement Appalat Tribunal (TDSAT) ruled in favour of NSTPL  declaring STAR’s ratecard to be illegal and asking them to publish a new ratecard. STAR has challenged this order in Hon’ble Delhi High Court and then Hon’ble Supreme Court. However Hon’rable Supreme Court also upheld the order of Hon’ble TDSAT.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

‘नेशन लाइव’ न्यूज चैनल के नाम पर ठगी का धंधा जोरों पर, कइयों के पैसे फंसे

Avnish Jain : राजेश तिवारी, जो ठीक से चल भी नहीं सकते हैं, दिव्यांग हैं, को पत्रकार बनाने के सपने दिखाये. चैनल डिपोजिट के नाम पर 10,000 लिए. ऊंचे सपने दिखाये. मगर Nation live के बंटी और बबली ने सारी मानव संवेदना को ताक पर रखकर एक दिव्यांग के साथ ठगी कर ली. 10,000 मे सिर्फ एक identity card दिया गया. हद कर दी दानवता की. ऐसे लोगों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए.

Kumar Amitesh से मगध ब्यूरो बनाए जाने के नाम पर ठगी. Amit Singh से बिहार ब्यूरो बनाने के नाम पर ठगी. Vikas Aggarwal से मथुरा ब्यूरो के नाम पर ठगी. बंटी और बबली कब तक ठगी करेंगे. Mib के लोग कब करेंगे Nation live news channel के खिलाफ कार्रवाई..

अवनीश जैन की एफबी वॉल से.

Kumar Amitesh : Nation Live News channel के बिहार cordinetor राजीव रंजन ने बीते माह अमित सिंह को बिहार ब्यूरो दिलवाया, channel लेट चालू होने के कारण हमारे कुछ ज़िले के पत्रकार बंधु से पैसे की मांग की. राजीव रंजन ने ब्यूरो को पैसा देने को कहा. हमने चार ज़िले से पैसा दिलवा दिया. आज channel ने मुझे बाहर का रास्ता दिखाया. लेकिन आज चार ज़िले के पत्रकारों को भी इन लोगों ने हटा दिया. आज मुझे बेगुनाह होते हुये भी जान से मारने व अपहरण करने की धमकी मिल रही है. राजीव रंजन ने मेरी कोई मदद करने से इनकार कर दिया है… राजीव रंजन ने मुझे बुरी तरह से फंसाया है… क्या यही है लोकतंत्र का चोथा स्तंभ…

कुमार अमितेश की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

फर्जी ब्रांड ikall से सावधान… खराब प्रोडक्ट्स भेजकर ग्राहकों से कर रही है ठगी

इंडियन कम्पनी iball से मिलते जुलते नाम वाली एक कम्पनी ikall ऑनलाइन मार्केट के जरिये लोगों से ठगी कर रही है। आपको बता दें कि यह कम्पनी दूसरे कॉमन प्रोडक्ट्स को अपना बताकर यानी पैकेजिंग में ikall वाला हॉलमार्क लगाकर कई गुना दामों पर बेच रही है। इसके लिए यह homeshop18 और इस जैसी अन्य ऑनलाइन सेलिंग वेबसाइट्स की मदद ले रही है।

इतना ही नहीं यह प्रोडक्ट्स पर गारंटी/वारंटी देने और कस्टमर केयर होने का भी दावा करती है। लेकिन मध्यप्रदेश से जो केसेज मिले हैं उनके मुताबिक पैसे मिलने के बाद यह कम्पनी तड़ीपार हो जाती है। इन्होंने छोटे दुकानदारों को अपना सर्विस सेंटर दे रखा है जिनको यह ऑथराइज्ड बताते हैं लेकिन हकीकत में यह उनके द्वारा बनाई गई जॉब शीट तक ओपन नहीं करते। जिसके चलते खरीददार महीनों-महीनों सर्विस सेंटर के चक्कर काटता है।

फ़िलहाल इस फर्जी कम्पनी के खिलाफ एक कस्टमर ने कंज्यूमर फोरम में केस करने की तैयारी कर ली है। कस्टमर के मुताबिक उसने एक स्मार्टवाच मंगवाई थी जो डिफेक्टिव निकली। शिकायत करने के बाद से महीनों तक उसे सर्विस सेंटर भटकाया गया जिसके बाद उसने homeshop18 और ikall के nikon systems privet ltd (Delhi) के खिलाफ नोटिस भेजकर कंज्यूमर फोरम की कार्रवाई करने की बात कही है।

Ashish Chouksey
Journalist
ashishchouksey0019@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अखबार में फर्जी विज्ञापन देकर लाखों रुपये की ठगी करने वाले हुए गिरफ्तार (देखें वीडियो)

अखबारों में लुभावने विज्ञापन देकर लोन कराने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का आगरा की पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। इस गिरोह का खुलासा करते हुए आगरा पुलिस ने चार लोगों को हिरासत में लिया। इन आरोपियों के पास एक 99 लाख का फर्जी डीडी और एसबीआई का फर्जी आई कार्ड भी बरामद हुआ। पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

मुन्नीदेवी नामक पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उन्होंने अख़बार में पढ़कर लोन के लिए अप्लाई किया। उन्होंने विज्ञापन में दिए गए नंबर से गिरोह के सरगना सागर शर्मा से भगवती सेवा समिति हल्द्वानी के लिए 1 करोड़ रूपए कर्जा लेने हेतु संपर्क किया था। आरोपियों ने पीड़िता को अपने को बैंक कर्मी बताया। आरोपियों ने पीड़ितों को बताया गया कि एक करोड़ का लोन लेने पर दस लाख रुपए कमीशन के देने होंगे।

पीड़िता ने आरोपियों के झांसे में आकर उनके बैंक खातों में 6 लाख रुपए डलवा दिए। जब पीड़िता को मालूम पड़ा कि यह आरोपी बैंक कर्मी नहीं है तो उन्होंने पुलिस से संपर्क किया और मुकदमा लिखवा दिया। आरोपियों ने पीड़िता को 99 लाख का डीडी देने के लिए आगरा बुलाया। एएसपी श्लोक कुमार ने बताया कि पीड़िता की निशानदेही पर आरोपियों को हरिपर्वत थाना क्षेत्र से गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद आरोपियों से पूछताछ के दौरान पता चला कि यह लोग महाराष्ट्र उत्तराखंड छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश तथा यूपी के अलीगढ़ से अपना फर्जी लोन नेटवर्क चलाते हैं। पुलिस ने चारों आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। फरार सरगना सागर शर्मा की तलाश शुरू कर दी है।

संबंधित वीडियो देखने के लिए नीचे क्लिक करें :

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Vastu Vihar Scam (4) : पटना में भी भाजपा सांसद मनोज तिवारी के खिलाफ दर्ज हो चुकी है एफआईआर

वास्तु विहार घोटाले में अलग-अलग जगहों पर मुकदमों का क्रम साल भर पहले से शुरू हो गया लेकिन इस घोटाले पर मीडिया वाले रहस्यमय चुप्पी साधे हुए हैं. इस स्कैम का सबसे पहले भड़ास ने खुलासा किया. किसी भी मुख्यधारा के अखबार और चैनल ने वास्तु विहार घाटाले पर एक लाइन नहीं छापा न दिखाया. ऐसा माना जा रहा है कि मीडिया वाले भाजपा के शीर्ष नेताओं और केंद्र-राज्य की सरकारों के दबाव / प्रलोभन के कारण मनोज तिवारी के खिलाफ कुछ नहीं छाप रहे हैं. मनोज तिवारी की जगह अगर यही आरोप आम आदमी पार्टी के किसी नेता पर लगा होता तो सारे चैनल पूरे दिन इसी घोटाले के गड़े मुर्दे खोदते रहते. इसे ही कहते हैं मीडिया का नंगा और दोगला चेहरा.

दरभंगा में भाजपा नेता मनोज तिवारी के खिलाफ चीटिंग व फ्राड का केस फाइल होने के पहले भी एक एफआईआर दर्ज हो चुकी है. यह एफआईआर पटना साल भर पहले मनोज तिवारी के खिलाफ दर्ज हुई. पटना वाले एफआईआर में मनोज तिवारी समेत कुल नौ लोगों के नाम हैं जो आरोपी वास्तु विहार कंपनी से संबद्ध हैं. मुकदमा एक वकील की पत्नी ने दर्ज कराया जिसने वास्तु विहार कंपनी से एक प्लाट बुक कराया था लेकिन कंपनी अपने अन्य कस्टमर्स की तरह इस महिला को भी न तो प्लाट दे रही और न ही पैसे लौटा रही है.

पटना के गांधी मैदान पुलिस स्टेशन में दर्ज एफआईआर में शिकायतकर्ता रानी देवी ने कहा है कि उसने 2013 में वास्तु विहार कंपनी में 7.86 लाख रुपये निवेश कर दो हजार स्क्वायर फीट का एक प्लाट बुक कराया. उसने यह कदम मनोज तिवारी द्वारा वास्तु विहार कंपनी के ब्रांड एंबेसडर होने और इनके द्वारा वास्तु विहार कंपनी के प्रोजेक्ट का प्रचार प्रसार किए जाने के कारण उठाया. कंपनी ने प्लाट की रजिस्ट्री तो की लेकिन कभी भी प्लाट हैंडओवर नहीं किया. उन्होंने पैसा भी नहीं लौटाया. रानी देवी, जो खुद शिक्षिका हैं और एक वकील की पत्नी हैं, ने बताया कि मनोज तिवारी का नाम एफआईआर में इसलिए डाला गया क्योंकि उन्होंने एक फ्राड कंपनी को प्रमोट किया जिसके कारण हजारों निर्दोष लोगों का पैसा फंस गया.

बनारस से सुजीत सिंह प्रिंस की रिपोर्ट. संपर्क : 9451677071

पूरे प्रकरण को जानने-समझने के लिए इसे भी पढ़ें….

xxx

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Vastu Vihar Scam (3) : भाजपा सांसद मनोज तिवारी के खिलाफ फ्राड और चीटिंग का केस दर्ज

वाराणसी : जनता के अरबों रुपये लेकर चंपत होने वाली कंपनी वास्तु विहार के ब्रांड अंबेसडर रहे मनोज तिवारी, जो सांसद तो हैं ही, भाजपा दिल्ली के अध्यक्ष भी हैं, के खिलाफ फ्रॉड और चीटिंग का केस दर्ज कर लिया गया है. यह केस एक पीड़ित उपभोक्ता ने बिहार के दरभंगा जिले में दर्ज कराया है.

दरभंगा के चीफ मजिस्ट्रेट विद्यासागर पांडेय की अदालत में मुन्ना चौधरी नामक एक व्यक्ति ने मनोज तिवारी पर चीटिंग और फ्राड का केस दर्ज कराया है. मुन्ना चौधरी का कहना है कि उसने वास्तु विहार कंपनी से एक फ्लैट बुक कराया था लेकिन उसे न तो फ्लैट मिला और न ही कंपनी पैसे वापस दे रही है. मुन्ना चौधरी ने शिकायत में कहा है कि मनोज तिवारी वास्तु विहार कंपनी के ब्रांड अंबेसडर रहे हैं और उनकी शकल देखकर ही उन लोगों ने पैसा लगाया. अगर मनोज तिवारी जैसा शख्स इस प्रोजेक्ट से न जुड़ा होता और फ्लैट बुक करने की अपील न करता तो वो इस प्रोजेक्ट में निवेश नहीं करते.

पीड़ित मुन्ना चौधरी के मुताबिक मनोज तिवारी का चेहरा सामने होने के कारण वह वास्तु विहार कंपनी पर भरोसा कर बैठे और यह मान लिया कि यह कंपनी धोखाधड़ी इसलिए नहीं करेगी क्योंकि इसमें मनोज तिवारी की इज्जत भी दांव पर है. पर ऐसा हुआ नहीं. कंपनी ने न सिर्फ धोखा दिया बल्कि मनोज तिवारी भी चुप्पी साध गए हैं और इस प्रोजेक्ट से पल्ला झाड़ने की कोशिश कर रहे हैं जबकि सभी को पता है कि कई राज्यों में वास्तु विहार घोटाले को फलने-फूलने का पूरा काम मनोज तिवारी के चेहरे को आगे रखकर किया गया है.

मुन्ना चौधरी ने बताया कि उन्होंने वर्ष 2013 में वास्तु विहार कंपनी से फ्लैट बुक कराया. कंपनी ने एक साल में फ्लैट देने का वादा किया था. इसके बदले उसने आठ लाख रुपये लिए. अभी तक न तो कंपनी ने पैसा लौटाया और न ही फ्लैट बनाकर दिया. अब जब वो कंपनी से अपना मूल धन वापस मांग रहे हैं तो कंपनी के लोग नए नए बहाने कर रहे हैं.

ज्ञात हो कि वास्तु विहार घोटाला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र बनारस में भी खूब फला फूला है. यहां भी सैकड़ों लोग करोड़ों रुपये गंवा कर बैठे हैं और कंपनी से अपना मूल धन वापस पाने के लिए लड़ रहे हैं लेकिन उन्हें न तो मीडिया का समर्थन मिल रहा है और न ही पुलिस प्रशासन कोई सहयोग दे रहा क्योंकि हर जगह भाजपा का राज है और मनोज तिवारी इन दिनों भाजपा के चर्चित चेहरों में से एक हैं.

बनारस से सुजीत सिंह प्रिंस की रिपोर्ट. संपर्क : 9451677071

पूरे प्रकरण को विस्तार से जानने-समझने के लिए इसे भी पढ़ें :

xxx

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Vastu Vihar Scam (2) : ठगी का यह कारोबार भाजपा सांसद मनोज तिवारी के संरक्षण में फला-फूला!

वाराणसी : भाजपा के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी के नाम पर वास्तु विहार कंस्ट्रक्शन कंपनी लगातार ठगी का खेल जनता के साथ खेल रही है… लोग मनोज तिवारी का चेहरा देखकर फंस रहे हैं और ठग कंपनी मालामाल होती जा रही है.. आपको बता दें उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड समेत देश के कई हिस्सों में इस ठग कंपनी ने अपना जाल बिछा रखा है और लगातार भोले भाले लोगों को शिकार बनाया जा रहा है.

मिली जानकारी के मुताबिक विनय तिवारी के स्वामित्व वाली इस ठग कंपनी ‘वास्तु विहार कंस्ट्रक्शन’ ने 10 अलग-अलग जगहों पर अपना दफ्तर खोलकर लोगों की मेहनत की कमाई पर डाका डाला है. कंपनी कम कीमत पर फ्लैट देने का झांसा देकर उगाही का खेल खेलती है लेकिन तय वक्त गुजर जाने के बाद भी किसी को आशियाना नसीब नहीं हुआ.. पीड़ित जनता जब फ्लैट मांगने या फिर अपनी जमा रकम पाने के लिए कंपनी के दफ्तर पर पहुंचती भी है तो उन्हें झूठे आश्वासन के सिवाय कुछ नहीं मिलता है..

इस फ्रॉड कंपनी के झांसे में आने वाले कहते हैं कि वो तो कंपनी के ब्रांड एंबेस्डर मनोज तिवारी के लगे पोस्टर और उनके नाम-शोहरत को देखकर एक अदद आशियाने की आस में धोखे का शिकार हो गए.. असल में शिकार हुए लोग मनोज तिवारी को ही वास्तुविहार का मालिक समझ बैठे और विनय तिवारी की इस ठग कंपनी का छलावा देखिए कि ये महज एक रुपये में ही बुकिंग का दावा करती है.. लोग कहते हैं कि भले ही विनय तिवारी कंपनी चला रहे हों लेकिन कंपनी में जरूर अघोषित हिस्सा मनोज तिवारी का है. तभी तो वह तन मन से कंपनी के हर काम में शामिल रहते हैं और इसके दस्तावेजी प्रमाण भी हैं.. उदाहरण के तौर पर मनोज तिवारी के द्वारा बकायदा भूमि पूजन भी कराया जाता है.. भूमिपूजन उस तस्वीर को कंपनी अपने पोर्टल पर शेयर करती है…

मनोज तिवारी ने खुद को आगे करके वास्तु विहार कंस्ट्रक्शन को अरबों-खरबों दिलाए लेकिन जो निवेशक फ्लैट मांगने जाता है या पैसा वापस चाहता है तो उसे टका सा जवाब मिलता है और इंतजार करने को कहा जाता है. ऐसे में वह ठगा सा निवेश सोचता है कि उसे मनोज तिवारी और उनके गुर्गों ने लूट लिया… इस कंपनी में कोई निवेशक जब फंस जाता है तो वह कंपनी का शिकार हो चुका होता है… जब शिकार फंस जाता है तो उसके पास तिल-तिल घुटने के सिवाय कोई और चारा नहीं बचता है..

इस संदर्भ में जब भी पीड़ित कंपनी के सीएमडी विनय तिवारी को पीड़ित फोन करते हैं तो वे फोन तक नहीं उठाते हैं.. मान लीजिए अगर कभी गल्ती से फोन उठा भी लें तो झूठा भरोसा देकर फोन काट देते हैं.. वैसे वास्तुविहार की धोखाधड़ी के शिकार लोगों ने मनोज तिवारी से भी कई बार संपर्क किया तो वो अब ये कह कर पल्ला झाड़ गए कि कंपनी उनकी नहीं है, वो तो सिर्फ ब्रांड एंबेस्डर हैं.. लेकिन सवाल उठता है कि अगर कोई कंपनी उनके नाम का इस्तेमाल कर मजबूरों को ठग रही है, वे खुद कंपनी के भूमिपूजन में शामिल हो रहे हैं और उसकी तस्वीर कंपनी अपने पोर्टल से लेकर होर्डिंग तक में प्रकाशित कर रही है तो वो कैसे किनारा कर सकते हैं.. कैसे वो अपने नाम का इस्तेमाल करने दे रहे हैं…

क्या भ्रष्टाचार मुक्त देश का दावा करने वाले प्रधानमंत्री मोदी के वादे का वो माखौल नहीं उड़ा रहे हैं… या वो खुद को सबसे उपर समझ रहे हैं… सवाल उठता है कि यदि उनके नाम का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है तो वो खुद को बेदाग कैसे कह सकते हैं… आखिर तिवारी अपनी नैतिक जिम्मेदारी से क्यों भाग रहे हैं… उन्होंने कंपनी से अपना नाता क्यों नहीं तोड़ा और छले गए निवेशकों को फ्लैट या पैसे क्यों नहीं दिला रहे हैं… अभी हाल में ही मोदी सरकार ने संसद में कानून पारित किया है जिसमें विज्ञापन करने वालों को भी ठगी के दायरे में मानने की बात कही गई है… तो क्या मनोज तिवारी एक तरह से ठगों के संरक्षक के रूप में नजर नहीं आ रहे हैं…

बनारस के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि वे बीएचयू के पढ़े हैं और मनोज तिवारी का पोस्टर देखकर मान लिया कि यह प्रोजेक्ट ठीकठाक रहेगा, इसलिए निवेश कर दिया. उनका काफी पैसा फंस गया है… वे जब कंपनी से फ्लैट देने या पैसे लौटाने की बात करते हैं तो वे लोग टालते रहते हैं… उन्होंने भड़ास4मीडिया टीम से अपील की कि पूरे प्रकरण को मनोज तिवारी के समक्ष ले जाया जाए ताकि वे पीड़ित निवेशकों को न्याय दिला सकें.

देखिए कुछ तस्वीरें…

बनारस से सुजीत सिंह प्रिंस की रिपोर्ट. संपर्क : 9451677071


अगर आप भी वास्तु विहार कंस्ट्रक्शन कंपनी और इसके प्रवर्तकों / संरक्षकों द्वारा ठगे गए हैं तो पूरी जानकारी bhadas4media@gmail.com पर मेल कर दें. आपके अनुरोध करने पर आपका नाम पहचान पूरी तरह गोपनीय रखा जाएगा. -संपादक, भड़ास4मीडिया

इसे भी पढ़ें…

xxx

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

हिन्दुस्तान अखबार ने किया पीएफ-डीए घोटाला, पीएम से शिकायत

हिन्दुस्तान अपने हजारों कर्मचारियों को महंगाई भत्ता न देकर पीएफ के अपने हिस्से के करोड़ों रुपये डकार गया। कर्मचारियों के पीएफ का जो बाजिब पैसा उसे भविष्यनिधि खाते में जमा होने चाहिए, वह आज तक हिन्दुस्तान अख़बार के प्रबंधन ने जमा ही नहीं किया है। केंद्र सरकार को ठेंगा दिखाकर हिन्दुस्तान अखबार अपने किसी भी कर्मचारी को डीए(महंगाई भत्ता) नहीं दे रहा है। ताकि पीएफ का पैसा पूरा न देना पड़े, इस घोटाले का खुलासा मजीठिया के योद्धा हिन्दुस्तान बरेली के चीफ रिपोर्टर पंकज मिश्रा, सीनियर कॉपी एडिटर मनोज शर्मा, सीनियर सब एडिटर निर्मल कान्त शुक्ला, सीनियर कॉपी एडिटर राजेश्वर विश्वकर्मा ने किया है।

चारों कर्मचारियों ने हिन्दुस्तान के सभी कर्मचारियों व केंद्र सरकार के साथ खुल्लमखुल्ला धोखाधड़ी का मामला बताकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के केन्द्रीय भविष्य निधि आयुक्त दिल्ली को वेतन पर्ची के साथ शिकायत भेजकर मामले की उच्चस्तरीय जांच कराकर दोषियों को जेल भेजने और कर्मचारियों को उनका वाजिब हक़ दिलाने की मांग की है।                   

हिन्दुस्तान मीडिया वेंचर्स लिमिटेड द्वारा वेतनमान में हेराफेरी के संबंध में भेजी गई शिकायत में कहा गया कि हिन्दुस्तान दैनिक समाचार पत्र प्रकाशित करने वाली कंपनी हिन्दुस्तान मीडिया वेंचर्स लिमिटेड ने भविष्य निधि अंशदान बचाने के लिए लगातार वेतनमान मनमाने ढंग से निर्धारित किए। किसी भी कर्मचारी को डीए नहीं दिया जाता है, जो नियमतः दिया जाना अनिवार्य है।

पंकज मिश्रा ने शिकायत में  कहा कि उनकी नियुक्ति हिन्दुस्तान मीडिया वेचर्स लिमिटेड के दैनिक समाचार हिन्दुस्तान की बरेली यूनिट में 22 मार्च, 2010 को वरिष्ठ संवाददाता के पद पर हुई थी। इस दौरान प्रार्थी को बेसिक भुगतान के रूप में रू. 5,667 मासिक का भुगतान किया गया। इसी दौरान रू. 9,081 मासिक स्पेशल एलाउंस के रूप में भुगतान किए गए। बेसिक सेलरी घटाकर स्पेशल एलाउंस के रूप में प्रति माह रू. 9,081 का भुगतान करके प्रबंधन ने सेलरी को मैनेज करने की कोशिश की, जिससे कि उन्हें भविष्य निधि अंशदान अधिक न देना पड़े। शिकायत में आगे कहा गया कि प्रबंधन स्पेशल एलाउंस देकर उनको लंबे समय तक भ्रम में रखकर भविष्य निधि में हेरफेर करता रहा। उल्लेखनीय यह है कि इस दौरान किसी भी तरह का डीए उनको भुगतान नहीं किया गया। डीए न देने से उनको भविष्य निधि के साथ बड़ा नुकसान हुआ है।

पंकज ने शिकायत में कहा कि वर्ष 2016 में प्रबंधन ने स्पेशल एलाउंस की जगह पर्सनल पे के रूप में रू. 16043 का भुगतान मासिक करने लगा जबकि पर्सनल पे की कोई वजह ही नहीं बनती थी। इस दौरान बेसिक पे के रूप में रू. 7376 मासिक भुगतान किया जबकि डीए के रूप में कोई भुगतान नहीं किया गया।

मनोज शर्मा, निर्मल कान्त शुक्ला, राजेश्वर विश्वकर्मा ने शिकायत में कहा कि हिन्दुस्तान मीडिया वेचर्स लिमिटेड बरेली ने डीए न देकर उन लोगों का नुकसान किया है और भविष्य निधि अंशदान में भी गलत तरीके से कटौती की है। इन लोगों ने प्रधानमंत्री से अनुरोध किया है कि प्रकरण में जांच कराके उचित कार्यवाही की जाए और शिकायतकर्ताओं के हित में भुगतान कराया जाए।

इसे भी पढ़ें…

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Vastu Vihar Scam (1) : भाजपा सांसद मनोज तिवारी के ‘संरक्षण’ में एक ठग कंपनी ने जनता से की अरबों की लूट

Yashwant Singh : बीजेपी दिल्ली के अध्यक्ष और बीजेपी सांसद मनोज तिवारी ने किस तरह अपने खास लोगों को वास्तुविहार कंस्ट्रक्शन कंपनी के जरिए जनता को लूटने की छूट दी, किस तरह वे लूट के इस खेल में अप्रत्यक्ष तौर पर शामिल रहे, इसका खुलासा जल्द भड़ास पर होगा. मनोज तिवारी द्वारा ‘संरक्षित’ वास्तुविहार कंस्ट्रक्शन कंपनी के जाल में लोग मनोज तिवारी का चेहरा देखकर फंस रहे हैं और ठग कंपनी मालामाल होती जा रही है.

इस ठग कंपनी ने उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड समेत देश के कई हिस्सों में जाल बिछा रखा है और लगातार भोले भाले लोगों को शिकार बनाया जा रहा है. अगर आपके संपर्क में भी किसी व्यक्ति का धन इस कंपनी में डूबा हो तो कृपया सामने आएं. डिटेल लिख कर bhadas4media@gmail.com पर भेज दें, उसे भी भड़ास पर आने वाली खबर में शामिल किया जाएगा.

याद रखिए, इस खुलासे को कोई चैनल या अखबार नहीं दिखाएगा… वजह आप खुद जानते होंगे… लगभग सारे चैनल और लगभग सारे अखबार जब धंधा बिजनेस लाभ स्वार्थ के लिए भगवा रंग में हर हर हो चुके हों तो सच्चाई सामने लाने का काम सोशल मीडिया और वेब माध्यमों को ही करना पड़ेगा… खोजी पत्रकारों के लिए बनारस की वास्तु विहार कांस्ट्रक्शन कंपनी और वास्तु विहार प्रोजेक्ट शोध का विषय है.. लग जाएं…

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह की एफबी वॉल से.

पूरे प्रकरण का खुलासा पढ़ने के लिए नीचे दिए शीर्षकों पर क्लिक करें :

xxx

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Cheating and harassment by travel agent in delhi

Dear Sir,

My name is Charanjeet Singh resident of New Delhi. I had applied for Canada Permanent Residency from Aptech Global Immigration Services Pvt Ltd. In New Delhi on 9th May 2016. Aptech Global Immigration Services Pvt Ltd. Address (408, 4th Floor, Westend Mall, Janakpuri West, New Delhi-110058).

Mr. Aman mobile number: 7503832132
Landline: 011-46254693

Aptech Global Marketing executive Miss Palak told me that you need to get necessary technical evaluation else your case can get rejected, so we need to evaluate your case before accepting it. Trusting her words, I Paid Indian Rupees 1145/- as Technical Evaluation Fees to Aptech Global Immigration services Pvt Ltd, New Delhi for Canada P.R.

Paid Indian Rupees 68000/- for case fee for Canada P.R. to start the process. On the very first day, before joining Aptech Global for my Canada Immigration, I informed their sales executive Miss Palak that I had already appeared for IELTS on 20th February 2016 and I got overall band score of 6.5

I clearly informed their marketing executive that I cannot get anything more than 6.5 overall band score, as I attempted IELTS several times before getting band score of 6.5 on 20th February 2016, now that was my last attempt. On this Miss Palak agreed to accept my case and she said that your IELTS score is okey and you can apply. She immediately asked me to deposit Rupees 68,000/- as cash. I did the same based on their words.

Next, Miss Ekashi met me as coordinator in Aptech and she informed that I will handle your case from now onwards since Miss Palak was from our marketing team.

Since 20th January 2016, I am chasing Aptech Global to refund back my money. I met Miss Monika, supervisor in their office, She informed me that your case cannot be accepted and you need to get extra score for IELTS.I asked them that you can say the same thing to me when I paid extra money for technical evaluation which confirms that you can apply for canada and submitted rupees 68000/- as cash to Mr. Aman(Operation Head of Aptech Global). They did not inform me of any such thing while first meeting and even after evaluation.

I also asked them that before 2-3 years there was no process of special technical evaluation, Miss Palak said that this is to ensure your case should have 100% chance of acceptance. Now they are saying that your case cannot be accepted as your ielts score is less, they why they took evaluation. I have receipt for evaluation as well.

I still believed her words and paid for service of Rs. 1145/- to confirm my case and remove any doubt in future of any kind of rejection of my case. Last update from Aptech Global on my case was on 23rd July 2016 from Miss Ekashi. Later it was transferred to Miss Daljeet. Miss Daljeet sent me an email on 27th July confirming she will handle my case, now onwards.

Since 137 days, I did not get any revert from Aptech Global Immigration. It was on 14th December 2017, I personally visited Aptech Global Immigration and told Miss Monika (supervisor) about their poorest services and same was informed to Mr. Aman(Operation head) as well.

On 10th February 2017, I email Aptech Global to refund my money back. Below mentioned is their revert to my email.

Charanjeet Singh
emailcharanjeetsingh@gmail.com

On Friday, February 10, 2017 11:04 AM, Legal – Aptech Global Group <legal@aptechvisa.com> wrote:

Hi Charanjeet Singh,,

As I received mail from your end regarding Voluntary Withdrawal or back out of your process because Now you are not interested in migration  due to IELTS part. As you are unable to provide IELTS documents  or not able to score require bands in IELTS. so that you want refund.

And after discussion with admin team and analysis of your case, and agreement. I came to know  as per agreement clause number  32. (e)  in Voluntary Withdrawal situation, company is not liable any refund  in this case. We would like to advice you continue you services. If Not then you will get Legal notice shortly.

Best Regards
Legal Team
Aptech Global immigration services Pvt Ltd.

Add:- 706,707 8th Floor westend mall Janakpuri
West New Delhi 110058
Email- legal@aptechvisa.com

Aptech Global is now blackmailing me by getting my sign on government agreement and threatening me by showing the clauses. On the clause its written that “I also aware of the required IELTS bands as per review report and it is time to provide report card as well”

They did not done follow up on my case and did cheating with me on the very first day informing me that my designation is in their list and you can easily get Canada Visa. I am getting harassed everyday due to their pathetic service and false promises.

Just to achieve their sales target , Miss Palak trapped me in her words and showed me dreams of reaching Canada.

I can keep quite like other victims of Aptech Global. Being a vigilant citizen, I am raising my voice against cheating and harassment.

They are continuously threatening me that if you want refund you can talk to our high court lawyer sitting in our legal office in a chamber in high court.

I request you to get my refund back of rupees 69,145/- and help me in shutting down this cheating immigration agent from India so that they cannot do cheating and threat other innocent customers.

They also told me that if you pay in cash you 68000/- we will charge you less. That time I did not understand. Later I realized they want to avoid paying tax to the government.

Kindly audit their bank account and statements as well. I belong to a poor family and I am jobless since one year. I am going through mental torture because of their cheating act. I do have the receipts of payment and will be presented to you if required.

Thanking you.

With gratitude

Charanjeet Singh
9560728263

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

पीटीआई यूनियन लीडर एमएस यादव की कारस्तानी : फेडरेशन की एक करोड़ की संपत्ति बेटे को सौंपा!

देश की जानी मानी न्यूज़ एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया की फेडरेशन ऑफ़ पीटीआई एम्प्लाइज यूनियंस के महासचिव महाबीर सिंह यादव पर कई गंभीर किस्म के आरोप लगे हैं. महाबीर सिंह यादव उर्फ एमएस यादव की मनमानी के कई किस्से सामने आ रहे हैं. लगभग एक करोड़ रूपये से अधिक कीमत की फेडरेशन की प्रॉपर्टी को इन महाशय ने गलत तरीके से अपने बेटे के नाम पर करा दिया. एमएस यादव की हरकतों से पीटीआई इंप्लाइज फेडरेशन का अस्तित्व खतरे में है.

आप सभी लोगों को मालूम है कि ‘पीटीआई फेडरेशन’ न्यूज़ पेपर इंडस्ट्री में सबसे प्रभावशाली और ताकतवर यूनियन रही है जिसके बदौलत न सिर्फ वेज बोर्ड की लड़ाइयां लड़ी गईं बल्कि मीडियाकर्मियों के हक-हित की सतत दावेदारी की जाती रही. इन्हीं जैसी यूनियनों के कारण मणिसाना और अब मजीठिया वेजबोर्ड का गठन हुआ. ये वेज बोर्ड लागू हुए और जहां नहीं हुआ उसकी लड़ाई जारी है.

लेकिन इसी पीटीआई फेडरेशन के महासचिव एमएस यादव ने अनैतिक रूप से फेडरेशन की संपत्ति और बैंक में रखे पैसे का दुरूपयोग किया है. इनकी कारस्तानी से फेडरेशन में दरार पैदा हो चुका है. इन सब कुकृत्यों के कारण महासचिव को फेडरेशन प्रेसीडेंट जॉन गोनसाल्वेस ने महासचिव के पद से सस्पेंड करते हुए शो कॉज नोटिस जारी किया. इनसे जवाब माँगा गया. इसका जवाब यादव ने दिया. लेकिन उस जवाब से फेडरेशन प्रेसीडेंट और अन्य पदाधिकारी संतुष्ट नहीं दिखे. प्रेसीडेंट ने फेडरेशन की मीटिंग में महासचिव द्वारा प्रॉपर्टी और पैसों का हिसाब न देने पर कानूनी कार्यवाही करके सारा पैसा वसूलने की तैयारी की है.

पढ़ें-देखें कुछ संबंधित दस्तावेज….


गुरु दास की रिपोर्ट. संपर्क : gurudas929@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

T H Tiger Holidays से सावधान! इस Fraud Holiday Tour Operator Company ने कइयों को लूटा

Santosh Singh : दोस्तों, हमे आपकी मदद की जरूरत है. एक कम्पनी T H Tiger Holidays नाम की है. इसकी वेबसाइट THTigerHolidays.com नाम से है. कहने को तो यह कम्पनी एक हॉलिडे टूर ऑपरेटर कम्पनी है पर जैसा इन लोगों ने मेरे साथ किया है, इसे फ्रॉड कम्पनी कहना ज्यादा ठीक रहेगा. अपने नार्थ-ईस्ट टूर के लिए कानपूर से गुवाहाटी जाने और आने का टिकट तो मैंने खुद बुक किये थे पर वहां 11 दिनों के लिए मैं अपने और अपने परिवार के रहने और घूमने के लिए होटल तथा टैक्सी किराया के पैसे इस कम्पनी को दिए थे. इस कम्पनी ने पैसे तो ले लिए (बैंक-ट्रांसफर का प्रूफ मेरे पास मौजूद है) पर सर्विसेज नही दी.

होटल के पांच दिन के पेमेंट किये पर छः दिन के नही. इसी तरह टैक्सी का भी एक-तिहाई पेमेंट किया पर दो-तिहाईं मेरे को करना पड़ा…इस पुरे प्रोसेस में मैं और मेरे परिवार को न केवल आर्थिक रूप से नुकसान पहुंचा बल्कि काफी कष्ट भी उठाना पड़ा.. दोस्तों, इस सबके बाद मैं इन चिटर्स को छोड़ने तो नही जा रहा हूँ चाहे मुझे कंज्यूमर्स-फोरम, कोर्ट या पुलिस ही क्यों न जाना पड़े.. पर यहां इस बात को शेयर करने के पीछे मेरा उद्देश्य यह है कि हम सब इस और इस जैसी अन्य ट्रैवेल-एजेंसीज के बारे में जानें कि ये कैसे अपने ग्राहकों को ठगती हैं!

यहां मीडिया के दोस्तों से आग्रह है कि वे उचित फोरम पर इसे उठायें, थोड़े और पड़ताल के बाद इस कम्पनी और अन्य कम्पनियों के गोरखधंधे पर एक पूरी स्टोरी तैयार हो सकती है! कोई पुलिस या विधिक मामलों का साथी हैं तो मुझे ये सलाह दे सकता है कि मामले को कैसे फॉलो करना है ताकि मेरा पैसा वापस मिल सके और उन्हें सबक भी मिले कि आगे वो ये धोखेबाजी अन्य ग्राहकों से न करें. और, अन्य सभी दोस्तों से आग्रह रहेगा कि वे इस पोस्ट को शेयर करें, इन आईडी पर मेल भी करें ताकि इस फ़र्ज़ी कम्पनी को अपनी गलती का अहसास हो सके!

ये है कंपनी के कर्ताधर्ताओं को मेरी तरफ से भेजी गई कंप्लेन…

Subject : Refund the money for unfulfilled itinerary of Santosh Kumar Singh for 11 nights & 12 days package of North-East

To: sales@thtigerholidays.com , info@thtigerholidays.com , support@thtigerholidays.com , contact@thtigerholidyas.com , quick@thtigerholidays.com , feedback@thtigerholidays.com 

Cc: tourismminister@nic.in , tuntuni.chowdhury@nic.in , kim.chongloi@gov.in , contact@tripcrafters.comasianholidaysexpedition@gmail.com

Date: 02.01.2017

Dear MR Rakesh Singh /Mr Kuldeep /Mr Akash /Mr Raj,

M/s T H Tiger Holidays

Website: thtigerholidays.com

Address: 2nd Floor, Mega Mall,

DLF, -122022, DLF City,

Gudgaon / Guru Gram (Har.)

Plz do respond as it’s a serious issue & I will follow this case to suitable authority of G.O.I., Court, Media &/or Police as deemed fit

1.  I, Santosh Kumar Singh (Age-39 years, Profession-Govt service, Contact no 9793125556) along with my family of 03(Wife of 39 years, Daughter of 11 years & Son of 4 years) planned for a North-East India Tour for 11 nights & 12 days in the month of December 2016.

2.  For this, I personally booked flights tickets from Kanpur (my place of posting) to Guwahati, to & from. However, I opted for online holiday package booking for hotel-stay & taxi transportation for sight-seeing at North-Eastafter reaching Guwahati.

3.  I contacted “TripCrafter Travel Online LLP” (online link http://www.tripcrafters.com/) – for travel agents & they recommended me “T H Tiger Holidays”(Delhi) with contact details of sales@thtigerholidays.com & 7452021761 on 31.10.16. (Copy of your recommendation is attached).

4.  Then Mr. Rakesh Singh(contact no-8192963223) of M/s T H Tiger Holidays (online link- http://www.thtigerholidays.com/) contacted me through e-mail & confirmed the itinerary of 11 nights & 12 days for North-East India Tour on 31st October itself.(copy of your mail attached)

5.  Later, He (Mr Rakesh Singh) amended the itinerary on Nov 11 2016 vide your mail (copy attached). He confirmed the inclusion of Hotel accommodation (1 room with extra bed) for 11 nights, Daily Breakfast, Pick-Up & Drop by AC TATA Indigo, Parking & Toll Tax, Elephant Safari at Kaziranga National Park, Jeep Safari at Kaziranga National Park, Boating Charges.

6.  He quoted an all-inclusive charge of Rs 74,500/-+GST of 4.6% which amounts to  Rs 77,927/- in total & requested to make advance payment in your “AXIS Bank account no-916020021757374, with IFSC Code of “UTIB0001804 of Account name of “T H Tiger Holidays”.

7.  I confirmed the package to you(Mr Rakesh Singh) via mail on same date 11.11.2016.

8.  Late, I paid an advance payment of Rs 30,500/- vide Bank transfer from Axis Bank Account of 007010100629591(copy of transfer-proof attached) on 17.11.16 i.e. 40% of cost of package, as desired by you.

9.  Then you provided me an Invoice with no #TH753035 dated 19.11.16 for this advance payment(copy attached).

10.  Here, Mr Akash (with mobile no of 7452021761) came into picture as he only provided the invoice details through your mail ID “thtigerholidays@gmail.com”. He assured me that you(you & your concern) will book the rooms at Hotel for entire stay after getting the 1st instalment & thereafter requested me to proceed for further payment.

11.  On my regular insistence, you provided me the booking details at Hotels from 23.11.16 to 25.11.16 through your mail ID “thtigerholidays@gmail.com” (copy of your confirmation is attached).

12.   Later while my stay from the 1st day of the Tour, I got to know from the Hotel-management that all these booking were done on “To be Paid by the guest” mode which reflects your intention to cheat from the very beginning.

13.  However, as I was not aware about your intention, I believed you & paid you 2nd instalment of Rs 30,000/- on 26.11.16(copy of transfer-proof attached)

14. You provided me a 2nd Invoice with no #TH753035 dated 26.11.16 against the payment of 2nd instalment.

15. Your total package cost was also quoted in that invoice only which was Rs 77,927/-(inclusive of Tax. It implied that out of total Rs 77,927/-, Rs 60,500/- was paid to you & 17,427/- was remaining.

16. Again, you assured me that you will provide the Taxi details for sightseeing & transportation from one location to other location during entire tour. But, your response was poor.

17. When you started the delaying tactics & flip-flops, I got susceptible to your motive. I insisted that I will transfer the balance amount of Rs 17,427/- only when you will provide the Taxi-details.

18. But, you had not provided then taxi details till I reached the Guwahati despite my numerous calls to Mr Rakesh & Mr Akash.

19. I along with my family reached Guwahati Airport at 16:00 of 17.12.2016 by Indigo flight & was stuck for more than 1 hr there as there was no taxi at Airport. I called Mr Rakesh & Mr Akash at your cell no with no avail.

20. There, I was stuck with my family at Airport(alien location for us) & there was no one to service us despite making advance payment was a horrible experience. Finally, I booked a Private taxi at a cost of Rs 1,000/- & reached the Hotel (Palacia Inn, Guwahati).

21. While I started the travel from Airport to Hotel, I kept talking you & finally one Mr Kuldeep (with mobile no of 7088990919) came into picture who seems to be responsible person in the beginning.

22. Mr Kuldeep provided me a number of Taxiwala for local transportation at Guwahati through sms which was no use for me as I already started my journey to the hotel after waiting at Airport for more than one hr.

23. After reaching hotel, we got to know that booking for our stay is done by M/s T H Tiger Holidays but payment was not made to the hotel which was surprising for us.

24. However, we keep talking with Mr Kuldeep (with mobile no of 7088990919) & MR Raj (with mobile no of 7452021766) & finally payment was made to Hotel Palacia Inn on 17.12.16 after lot of talking & reminders.

25. From next day of 18.12.16, we had to embark on our North-East Tour of Shillong, Kaziranga, Bomdila, Tawang, Dirnag, Tezpur(Nameri) & back to Guwahati from 18 to 27 December. For this, one taxi was needed which was shockingly not pre-arranged by the tour operator M/s T H Tiger Holidays.

26. Again after lot of persuasion, MR Kuldeep hired & provided the details of Mr Hari Singha (contact no 9854080052) of “M/s Asian Holidays & Expeditions” who are supposed to provide the vehicle for our tour.

27. Mr Hari Singha provided an Taxi vehicle(Sumo) with no of ASG01-GC-4979 for my entire tour.

28. MR Hari Singha was assured payment by Mr Kuldeep as you had only hired them as a Taxi-operator for my tour. However, that was not the case as you have only made a payment of Rs. 10,000/- to them. When you had not payment to the taxi vendor, I had to make a payment of rs 28,200/- to them (Rs 20000/- via Bank-transfer to their account of 31723077926, SBI, Madgharia Branch(Assam) and rest amount of 8206/- through Diesel-expenses throughout my tour. The copy of bill & bank transfer is attached. I have got the copy of bills of Diesel purchase for the vehicle which may be produced if needed.

29. Clarification of taxi-Vendor (Mr Hari Singha) is also attached wherein he has clarified that taxi was hired by Mr Kuldeep of M/s T H Tiger Holidays, but payment was not made by them. Hence, they are constrained into a position to take the payment from the guest i.e. from me.

30. Again for our stay at Shilong, Kaziranga & Bomdila, the same story was continued i.e booking was made on “To be Paid by the guest” basis. However the payment for these 4 days stay was released by you to hotels after lot of persuasion & follow-ups.

31. But from our stay at Tawang (Hotel Zax Star) on 22.12.16 & 23.12.16(6th & 7th day of tour), you stopped paying hotels completely. All these persons of M/s T H Tiger Holidays (Mr Kuldeep: 7088990919, Mr Raj: 7452021766, Mr Rakesh Singh: 08192963223, Mr Akash: 7452021761) stopped responding to my calls & messages. This was not a case of cheating, but a harassment too as I was stuck up with my family in alien condition & practically begging from you for releasing the payment but with no avail.

32.  On daily basis, I requested to release the payment through my calls, message & WhatsApp to you as you had taken advance payments. But, either you didn’t pick my calls or mislead me.

33. Consequently, I had to pay for 2 day stays at Hotel Zax Star at Tawang ( 6th & 7th day of the tour), 1 day stay at Awoo Resort at Dirang (8th day of the tour), 1 day stay at Parshanti Cottage  Bhakulpong (9th day of the tour) & 02 days (10th & 11th day of tour) stay of me along with my family at Guwahati.

34.  If we consider your entire payment of 10,000/- to taxi operator & approx. 14000/- for my initial 05 days stay at hotels during tour, you owe me a Rs 36,500/-, as I had made a advnace payment of rs 60,500/- to you.

35. I had to pay Rs 45,445/- for confirmed services (Rs 28200/- for Taxi & permits + Rs 5000/- for Jeep & Elephant Safari at Kaziranga + Rs 12,245 for Hotel stay for 6th day till 11th days) of tour-itinerary from my pocket despite paying you 60,500/- in advance.

36. I already communicated all this to all of you 04 Gentlemen of M/s T H Tiger Holidays through SMS messages & WhatsApp messages , but you are not responding to my grievance. This clearly shows your malafide   intention.

37.  Moreover, when I returned from the tour & searched for the review for M/s T H Tiger Holidays, I have read a similar harrowing narratives of cheating & forgery from your client Ms Debalina Banik, Ms Swati Chaudhary & Mr Deepak Patwardhan at your page at www.justdial.com. These reviews can be viewed at this link: “https://www.justdial.com/Delhi-NCR/T-H-Tiger-Holidays-Dlf-City-DLF/011PXX11-XX11-160511213009-M5A7_BZDET”. It imoplies that you are habitual offender.

38. I am a Govt officer in Navratna PSU ”Container Corporation of Inida Ltd.” If you are able to cheat me, it can be easily understood that you must have cheated many common citizens in the past which is evident from above para no 37.

Form the above, it is clearly evident that all of you four Gentlemen(Mr Rakesh Singh, Mr Akash, Mr Kuldeep & Mr Raj) along with your company-M/s T H Tiger Holidays have malafide intention of cheating from the very beginning, you did not provided the assured service despite taking advance money through bank-transfer from me, not explained the reason for this breach of faith & your failure, harassed me & my family during entire tour in the process. I hold you responsible for the financial damage as well as mental harassment to me & my family.

Now, I request all of you to please refund my due amount on you as explained in point no 34 & 35. Pleas refund my money at earliest as assured service are not provided by you & your concern and payment is not made by you for my entire tour itinerary as explained above. Failing which I reserve my right to lodge a Police FIR against all of you four Gentlemen & your concern M/s T H Tiger Holidays under suitable section of Indian Penal Code 415-424 which deal with this type of act of fraud & cheating. I will take this matter to my Government, Court & suitable media.

This is for information & urgent necessary action.

Yours Truly,

Santosh Kr Singh
Shastri Nagar, Kanpur
Contact no-+91-9793125556
E-mail ID: santoshconcor@gmail.com

CC to :
Dr. Mahesh Sharma jee, Hon’ble Minister of Tourism(Ind), G.O.I. : to please see & take necessary action plz so that these types of tour-operators & people can’t commit such type of fraud & cheating in Tourism Sector & can’t tarnish the image of the brand “Incredible India”.
CC: The TripCrafters Travel Online” as they had only recommended this operator to me on 31.10.16(recommendation copy attached)
CC : M/s Asian Holidays & Expeditions(Mr Hari Singha) as taxi for mentioned tour was hired from them by M/s T H Tiger Holidays, full payment not made. Finally, I had to make them payment. So, they are the witness as per attached clarification also

कंटेनर कारपोरेशन आफ इंडिया लिमिटेड में वरिष्ठ पद पर कार्यरत संतोष कुमार सिंह की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: