एनडीटीवी के मालिक प्रणय राय के घर पर इनकम टैक्स छापा

एक बड़ी खबर एनडीटीवी ग्रुप से आ रही है. चैनल के मालिक प्रणय राय के ठिकानों पर इनकम टैक्स का छापा पड़ा है. सीबीआई ने इस बात की पुष्टि की है. इस बाबत समाचार एजेंसी एएनआई ने जो ट्विटर पर न्यूज फ्लैश जारी किया है उसमें कहा गया है कि प्रणय राय के दिल्ली स्थित घर पर इनकम टैक्स विभाग ने रेड किया है और इसकी पुष्टि केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने की है.

Six newspapers protest survey results

The Times of India published a public statement ”What’s new? certainly not IRS 2014”, challenging the correctness of the Indian Readership Survey (IRS) 2014 report. The statement is issued by six dailies Dainik Jagran, Dainik Bhaskar, Amar Ujala, Dharitri, TOI and The Hindu. The IRS 2014 report has been condemned for three reasons: One, for presenting skewed readership numbers (towards the higher side) of the above mentioned six dailies; two, for re-publishing three fourth of the ‘flawed’ IRS 2013 report; and three, having based the survey on a dated sample (January – February 2014).

Newspapers readership IRS 2014 Download

Download Topline Newspapers Readership numbers… देश के बड़े अखबारों, मैग्जीनों आदि की लैटेस्ट या बीते वर्षों की प्रसार संख्या जानने के लिए नीचे दिए गए शीर्षकों या लिंक्स पर क्लिक करें…

See list of top publications / dailies, top language dailies, top english dailies and top magazines in india

IRS 2014 : Hindi remains the most popular language for physical publications and Dainik Jagran tops the chart with  a readership of over 16.6 million. Hindustan (14.7m) and Dainik Bhaskar (13.8m) round off the top 3 publications in India. Malayalam Manorama a Malayalam daily has a readership of 8.8 million, while Times of India, an English daily has a readership of 7.6 million. Here are the top publications in India. It is interesting to note that except Matrubhumi, who had slight dip in their readership all other publications have seen good growth in the number of readers.

All figures in 000’s, IRS 2014

Dainik Jagran Remains Top Publication With 16.6M Readership, ToI Tops English Dailies: IRS

The Indian Readership Survey 2014 is out and it shows that even in the age of Internet and mobile, the readership of physical dailies and magazines is still on the rise. Although, Internet as a news consumption medium is showing rapid growth, the physical paper still remains a popular with Indians. The Indian Readership Survey is the largest and most widely accepted platform to understand how Indian readers consume their news and through which channels. Let us look at some of the key findings of the report.

रीडर सर्वे : जागरण, हिंदुस्तान, भास्कर की शीर्ष अग्रता बरकरार, पत्रिका चौथे, अमर उजाला पांचवें पायदान पर

मुंबई : मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल (एमआरयूसी) के इंडियन रीडरशिप सर्वे (आईआरएस) 2014 के जारी आंकड़े के मुताबिक इस बार विभिन्न श्रेणियों के प्रकाशनों का क्रम जस का तस रहा है। सर्वे में पूरा सैम्पल 2.38 लाख पाठकों का रहा है। शीर्ष हिंदी समाचारपत्रों के रूप में दैनिक जागरण, हिंदुस्तान और दैनिक भास्कर की श्रेष्ठता बरकरार रही है। सभी श्रेणियों में मीडिया की खपत बढ़ने का दावा किया गया है। अपने-अपने प्रसार क्षेत्र में दैनिक जागरण (हिंदी), टाइम्स ऑफ इंडिया (अंग्रेज़ी) और मलयालम मनोरमा (क्षेत्रीय भाषाओं) पहले नंबर पर रहे। हरिभूमि अखबार सातवें नंबर से खिसक कर नौवें नंबर पर पहुंच गया है। शीर्ष की पत्रिकाओं में इंडिया टुडे (हिंदी) चौथे स्थान पर पहुंच गई है। सर्वे पीरिएड में प्रिंट मीडिया की खपत 197.4 लाख बढ़कर 3015.7 लाख पर और टेलिविज़न सेक्टर की खपत 185 लाख बढ़कर 6211.2 लाख पर पहुंच गई है। 

हिंदुस्‍तान ने लिखा – बड़े अखबारों का विरोध बेकार, इंडियन रीडरशिप सर्वे की रिपोर्ट सही

नई दिल्‍ली : इंडियन रीडरशिप सर्वे (2013) के आंकड़ों की सावधानीपूर्वक जांच तथा स्वतंत्र ऑडिट के बाद मीडिया इंडस्ट्री के चार प्रमुख संस्थाओं ने घोषित किया है कि नए तरीके से किया गया सर्वे सही था और यह सभी प्रयोग करने वालों के लिए उपलब्ध रहेगा। इस घोषणा के साथ ही पिछले छह माह से चल रही उन चर्चाओं पर विराम लग गया जिसमें कुछ रीडरशिप आंकड़ों में पिछले सर्वे की तुलना में बड़ी गिरावट दर्शायी गई थी।