एनडीटीवी के मालिक प्रणय राय के घर पर इनकम टैक्स छापा

एक बड़ी खबर एनडीटीवी ग्रुप से आ रही है. चैनल के मालिक प्रणय राय के ठिकानों पर इनकम टैक्स का छापा पड़ा है. सीबीआई ने इस बात की पुष्टि की है. इस बाबत समाचार एजेंसी एएनआई ने जो ट्विटर पर न्यूज फ्लैश जारी किया है उसमें कहा गया है कि प्रणय राय के दिल्ली स्थित घर पर इनकम टैक्स विभाग ने रेड किया है और इसकी पुष्टि केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने की है.

ज्ञात हो कि मोदी सरकार के निशाने पर एनडीटीवी मीडिया समूह शुरू से है. 2जी स्कैम के पैसे को चिदंबरम के साथ मिलकर ब्लैक से ह्वाइट करने के मामले में प्रणय राय इनकम टैक्स की जांच में आरोपी हैं. मनमोहन सरकार के कार्यकाल में आईआरएस अधिकारी एसके श्रीवास्तव ने अपनी जांच रिपोर्ट में इस स्कैम और इसमें चिदंबरम और प्रणय राय की मिलीभगत को लेकर सनसनीखेज खुलासा किया था जिसके बाद इस आईआरएस अधिकारी को तरह तरह से प्रताड़ित किया गया.


ये भी पढ़ें :

1-

2-


मोदी सरकार बनने के बाद जांच आगे बढ़ी और कई नोटिस एनडीटीवी और अन्य को भेजे गए. अब इनकम टैक्स ने छापा डालकर इस मामले के कई पहलुओं की पड़ताल शुरू की है. यह भी कहा जाता है कि एनडीटीवी समूह मोदी सरकार को रास नहीं आता इस कारण भी इस ग्रुप के खिलाफ जांच को तेज किया गया है वहीं दूसरे मीडिया समूह जैसे जी ग्रुप और पंजाब केसरी आदि मोदी राज में सरकार की गुणगान में लगे हैं या फिर भाजपा से इनके मालिकान जुड़े हैं, इसलिए इन्हें हर तरह से खुली छूट दी गई है.

ताजा छापों के मामले में बताया जा रहा है कि यह प्रकरण बैंक लोन न चुकाने का है. आईसीआईसीआई बैंक का करोड़ों रुपये हड़पने के मामले को लेकर सीबीआई ने एनडीटीवी के मालिक प्रणय राय, राधिका राय, एक प्राइवेट कंपनी और अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है. दिल्ली, देहरादून समेत कई शहरों में एनडीटीवी और प्रणय राय के ठिकानों पर सीबीआई व इनकम टैक्स विभाग की छापेमारी जारी है.

इसे भी पढ़ें…

xxx

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Six newspapers protest survey results

The Times of India published a public statement ”What’s new? certainly not IRS 2014”, challenging the correctness of the Indian Readership Survey (IRS) 2014 report. The statement is issued by six dailies Dainik Jagran, Dainik Bhaskar, Amar Ujala, Dharitri, TOI and The Hindu. The IRS 2014 report has been condemned for three reasons: One, for presenting skewed readership numbers (towards the higher side) of the above mentioned six dailies; two, for re-publishing three fourth of the ‘flawed’ IRS 2013 report; and three, having based the survey on a dated sample (January – February 2014).

Among the skewed readership number and anomalies are Dainik Jagran’s 7%  growth in readership, Dainik Bhaskar’s 8% growth, Amar Ujala growth by 10%, Dharitri by 9%, TOI by 5% and The Hindu by 10%. On the flip side, it showed that the Hindu Business Line is having thrice as many readers in Manipur as in Chennai; Hitavada, the leading English newspaper of Nagpur with a certified circulation of over 60,000, not having a single reader – these two results, one must note, are word for word from IRS 2013 report.

In 2013, 18 major media houses stated, “The IRS survey is riddled with shocking anomalies, which defy logic and commonsense. They also grossly contradict audited circulation figures (ABC) of long standing,”. 

Following this, The Media Research Users Council Board (MRUC) and the Readership Survey Council of India (RSCI) had temporarily deferred the Indian Readership Survey (IRS) 2013 till 31 March 2014 and said that subscribers and members should refrain from using the IRS 2013 data. This year, the media houses have gone a step further to withdraw their memberships from the IRS till such a date when ‘indisputably unflawed ‘survey results are published.

Excerpts from the public statement 

…The fact is, three-fourth of the survey is the same as the discredited IRS 2013; only one-fourth of the sample is fresh. 

…Many media houses have subsequently withdrawn from the IRS membership. Given that IRS 2013 was riddled with biases and errors, it is obvious that many of the mistakes will be carried over to the new round, since three-fourths of the data used is the same. 

… Indeed, we are at a loss to understand what possible reason a reputed organization like MRUC could have for releasing such stale data at this point of time even though it must surely be fully aware of its numerous shortcomings. 

We look forward to a time when the IRS will actually produce a survey that is indisputably unflawed. Till then, we will continue to point out anomalies in their findings and not attach any credence to their numbers — even if they show us in a favourable light…

प्रिंटवीक डॉट इन में प्रकाशित तान्वी पारेख का विश्लेषण.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Newspapers readership IRS 2014 Download

Download Topline Newspapers Readership numbers… देश के बड़े अखबारों, मैग्जीनों आदि की लैटेस्ट या बीते वर्षों की प्रसार संख्या जानने के लिए नीचे दिए गए शीर्षकों या लिंक्स पर क्लिक करें…

IRS 2014 Topline Findings
https://bhadas4media.com/pdf/irs2014.pdf

xxx

IRS 2013 Topline Findings
https://bhadas4media.com/pdf/irs2013.pdf

xxx

IRS 2012 Q4 Topline Findings
https://bhadas4media.com/pdf/irs2014q4.pdf


इन्हें भी पढ़ें….

कई दिन चुप्पी साधे रहे जागरण और अमर उजाला का आज एक साथ आईआरएस रिपोर्ट पर अटैक, निशाने पर ‘हिंदुस्तान’

xxx

See list of top publications / dailies, top language dailies, top english dailies and top magazines in india

xxx

रीडर सर्वे : जागरण, हिंदुस्तान, भास्कर की शीर्ष अग्रता बरकरार, पत्रिका चौथे, अमर उजाला पांचवें पायदान पर

xxx

अमर उजाला ने लखनऊ में दैनिक जागरण को पटका, बना नंबर वन

xxx

हिंदुस्‍तान ने लिखा – बड़े अखबारों का विरोध बेकार, इंडियन रीडरशिप सर्वे की रिपोर्ट सही

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

See list of top publications / dailies, top language dailies, top english dailies and top magazines in india

IRS 2014 : Hindi remains the most popular language for physical publications and Dainik Jagran tops the chart with  a readership of over 16.6 million. Hindustan (14.7m) and Dainik Bhaskar (13.8m) round off the top 3 publications in India. Malayalam Manorama a Malayalam daily has a readership of 8.8 million, while Times of India, an English daily has a readership of 7.6 million. Here are the top publications in India. It is interesting to note that except Matrubhumi, who had slight dip in their readership all other publications have seen good growth in the number of readers.

All figures in 000’s, IRS 2014

Top Language Dailies

Among top local language dailies (excluding Hindi and English), Malayalam Manorama has highest readership for Malayalam, Daily Thanthi for Tamil, Lokmat for Marathi, AnandaBazar Patrika for Bengali, Eenadu for Telugu and Gujarat Samachar for Gujarati. Here is the list of Top 10 language dailies in India.

Top English Dailies

Times of India by all counts is not only the most read English daily newspaper in India, but also in the world. With a readership of close to 7.6 million, they are more than double of US Today, which has circulation of close to 3.5 million, also the most circulated newspaper in America. Hindustan Times, with 4.5 million readership is the 2 most circulated english newspaper in India followed by The Hindu at 1.6 million. Here too, out of the Top 10 English dailies, except for Deccan Herald, all others have been able to post positive growth. The universal growth in readership of physical newspapers show that even with onslaught of  Internet and mobile devices, people still prefer reading real physical newspapers.

Top Magazines

Even when it comes to magazines, local hindi is the most preferred language, with 6 out of top 10 magazines being Hindi. Vanitha, a fortnightly Malayalam magazine tops the list with readership of 2.8 million. India Today is the most read English weekly magazine with readership of 1.63 million. One of the reasons, why India is seeing surge in physical newspaper/magazine readership is because internet penetration is still not high in India, as compared to other countries. Once, that scenario changes, the demand will start becoming lower!

इन्हें भी पढ़ें…

Dainik Jagran Remains Top Publication With 16.6M Readership, ToI Tops English Dailies: IRS

xxx

रीडर सर्वे : जागरण, हिंदुस्तान, भास्कर की शीर्ष अग्रता बरकरार, पत्रिका चौथे, अमर उजाला पांचवें पायदान पर

xxx

मजीठिया देने में तो अखबारों की घिग्घी बंध जा रही मगर आईआरएस रिपोर्ट आने के बाद पढ़ने लगे ‘नंबर-1’ होने का पहाड़ा

xxx

‘प्रभात खबर’ का दावा : वह झारखंड और बिहार में सबसे तेज बढ़ता अखबार

xxx

अमर उजाला ने लखनऊ में दैनिक जागरण को पटका, बना नंबर वन

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Dainik Jagran Remains Top Publication With 16.6M Readership, ToI Tops English Dailies: IRS

The Indian Readership Survey 2014 is out and it shows that even in the age of Internet and mobile, the readership of physical dailies and magazines is still on the rise. Although, Internet as a news consumption medium is showing rapid growth, the physical paper still remains a popular with Indians. The Indian Readership Survey is the largest and most widely accepted platform to understand how Indian readers consume their news and through which channels. Let us look at some of the key findings of the report.

According to the survey, Indian consumers are steadily growing more affluent. the lower strata of the society is decreasing, and consumers are moving up on the affluence scale. In 2014, about 24% Indian consumers owned a Two-wheeler and 22 percent owned a refrigerator. Consumers owning a PC/Laptop (9%) and Car (5%) has also seen a rapid rise. Check out graph (see top) that shows how Indian consumers are slowly moving from bottom half to upper half. The A1 stands for maximum affluence, which E3 stands for lowest affluence. See the shift from year 2013 to year 2014.

इसे भी पढ़ें…

See list of top publications / dailies, top language dailies, top english dailies and top magazines in india

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

रीडर सर्वे : जागरण, हिंदुस्तान, भास्कर की शीर्ष अग्रता बरकरार, पत्रिका चौथे, अमर उजाला पांचवें पायदान पर

मुंबई : मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल (एमआरयूसी) के इंडियन रीडरशिप सर्वे (आईआरएस) 2014 के जारी आंकड़े के मुताबिक इस बार विभिन्न श्रेणियों के प्रकाशनों का क्रम जस का तस रहा है। सर्वे में पूरा सैम्पल 2.38 लाख पाठकों का रहा है। शीर्ष हिंदी समाचारपत्रों के रूप में दैनिक जागरण, हिंदुस्तान और दैनिक भास्कर की श्रेष्ठता बरकरार रही है। सभी श्रेणियों में मीडिया की खपत बढ़ने का दावा किया गया है। अपने-अपने प्रसार क्षेत्र में दैनिक जागरण (हिंदी), टाइम्स ऑफ इंडिया (अंग्रेज़ी) और मलयालम मनोरमा (क्षेत्रीय भाषाओं) पहले नंबर पर रहे। हरिभूमि अखबार सातवें नंबर से खिसक कर नौवें नंबर पर पहुंच गया है। शीर्ष की पत्रिकाओं में इंडिया टुडे (हिंदी) चौथे स्थान पर पहुंच गई है। सर्वे पीरिएड में प्रिंट मीडिया की खपत 197.4 लाख बढ़कर 3015.7 लाख पर और टेलिविज़न सेक्टर की खपत 185 लाख बढ़कर 6211.2 लाख पर पहुंच गई है। 

सर्वे के पिछले संस्करण में आंकड़े जुटाने की पद्धति में बदलाव की वजह से कुछ बड़ी उठापटक हुई थी। यह तथ्य आईआरएस के फील्डवर्क के दौरान चल रहे आम चुनावों के प्रचार अभियानों के प्रभाव को दर्शाता है। एमआरयूसी के मुताबिक उसके आंकड़ों की पुष्टि अंदरूनी स्तर के साथ-साथ बाहर के ऑडिट से भी कराई गई है। 

मीडिया खपत आईआरएस 2013 की तुलना में 2014 के आंकड़ों के मुताबिक ‘कोई मीडिया’ खपत 211.8 लाख बढ़कर 6774.3 लाख पर पहुंच गई। इसमें प्रिंट मीडिया की खपत 197.4 लाख बढ़कर 3015.7 लाख पर पहुंच गई, जबकि टेलिविज़न सेक्टर की खपत 185 लाख बढ़कर 6211.2 लाख पर चली गई। वहीं इस दौरान रेडियो की खपत 152.9 लाख बढ़कर 989.7 लाख, डिजिटल 78.5 लाख बढ़कर 585.2 लाख और फिल्मों की खपत 15.4 लाख बढ़कर 779.4 लाख हो गई। शीर्ष पर दैनिक जागरण, हिंदुस्तान और दैनिक भास्कर हिंदी के तीन शीर्ष दैनिक अखबारों के रूप में उभरे हैं। शीर्ष के दस के क्रम में एकमात्र बदलाव यह आया है कि हरिभूमि सातवें स्थान से खिसककर नौवें स्थान पर पहुंच गया। बाकी अन्य सभी हिंदी दैनिक अखबारों की प्रति अंक पाठ संख्या (एआईआर) में वृद्धि दर्ज की गई है। 

शीर्ष अंग्रेजी अखबारों में केवल डेक्कन हेराल्ड के पाठकों में मामूली गिरावट आई है। टाइम्स ऑफ इंडिया, हिन्दुस्तान टाइम्स और हिंदू शीर्ष के तीन स्थानों पर बने हुए हैं। इस दौरान उनके एआईआर में इजाफा हुआ है।

शीर्ष के क्षेत्रीय दैनिक अखबार क्षेत्रीय भाषा के दैनिक समाचार पत्रों में भी यही स्थिति पाई गई है। संदेश (गुजराती) और मातृभूमि (मलयालम) को छोड़कर ज्यादातर अखबारों की प्रति अंक पाठकों की संख्या (एआईआर) में वृद्धि हुई है। थोड़ी गिरावट के बावजूद मातृभूमि, तीसरा सबसे बड़ा क्षेत्रीय दैनिक बना रहा, जबकि संदेश पिछले आईआरएस के आठवें स्थान से खिसककर इस बार नौवें स्थान पर पहुंच गया।

शीर्ष की पत्रिकाओं में ऊपर-नीचे के क्रम में थोड़ी फेरबदल हुई है। हालांकि मनोरमा थोज़िल वीधि (मलयालम) इकलौती पत्रिका है जिसके एआईआर में ज्यादा कमी आई है। मसलन, इंडिया टुडे (अंग्रेज़ी) और सरस सलिल (हिंदी) के एआईआर में थोड़ा इजाफा हुआ है लेकिन दोनों ही एक स्थान नीचे खिसक गई हैं। प्रतियोगिता दर्पण (हिंदी) अब दूसरे स्थान और इंडिया टुडे (हिंदी) चौथे स्थान पर पहुंच गई हैं।

एमआरयूसी की ओर से बताया गया है कि 2013 की तरह ही आईआरएस 2014 एक बार ही जारी होगा। सर्वे के लिए तेलंगाना को अलग राज्य के रूप में जोड़ दिया गया है और अखिल भारतीय स्तर के सर्वे में पूरा सैम्पल 2.38 लाख पाठकों का रहा है। उसने यह भी कहा कि ताज़ा रिपोर्ट निकालने के लिए एमएटी (मूविंग सालाना योगफल) पद्धति का इस्तेमाल किया गया। सर्वे में 1.62 लाख प्रतिभागी शहरी भारत के थे, जबकि 76,000 घर ग्रामीण भारत के रहे। साथ ही आईआरएस 2014 के अनुमानों को 2011 की जनगणना को आधार बनाकर आबादी में वृद्धि दर के हिसाब के व्यापक स्वरूप दिया गया।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

हिंदुस्‍तान ने लिखा – बड़े अखबारों का विरोध बेकार, इंडियन रीडरशिप सर्वे की रिपोर्ट सही

नई दिल्‍ली : इंडियन रीडरशिप सर्वे (2013) के आंकड़ों की सावधानीपूर्वक जांच तथा स्वतंत्र ऑडिट के बाद मीडिया इंडस्ट्री के चार प्रमुख संस्थाओं ने घोषित किया है कि नए तरीके से किया गया सर्वे सही था और यह सभी प्रयोग करने वालों के लिए उपलब्ध रहेगा। इस घोषणा के साथ ही पिछले छह माह से चल रही उन चर्चाओं पर विराम लग गया जिसमें कुछ रीडरशिप आंकड़ों में पिछले सर्वे की तुलना में बड़ी गिरावट दर्शायी गई थी।

इसकी वजह से कुछ प्रकाशकों ने आईआरएस सर्वे के सटीक होने पर सवाल खड़े कर दिए थे। जबकि तथ्य यह है कि चार प्रमुख संस्थाओं मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल (एमआरयूसी), रीडरशिप स्टडीज काउंसिल ऑफ इंडिया (आरएससीआई), ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन (एबीसी) तथा  इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी (आईएनएस) सभी ने इन नतीजों को स्वीकार किया है जो आईआरएस 2013 को लेकर इंडस्ट्री में व्यापक सहमति और समर्थन को दर्शाता है।

एनआरयूसी की प्रेस विज्ञप्ति में समीक्षा प्रक्रिया के चरणों के बारे में विस्तार से बताया गया है। सर्वे के सटीक न होने की बात उठने पर एमआरयूसी तथा एबीसी द्वारा संस्थापित आरएससीआई ने एक पुनर्वैधता प्रक्रिया अपनाने का फैसला किया था तथा सब्सक्राइबर्स से अनुरोध किया कि स्थगन तक सर्वे के नतीजों का इस्तेमाल न करें।

प्रकाशकों तथा विज्ञापन एजेंसियों का प्रतिनिधित्व करने वाली दो सदस्यीय उप समिति का गठन किया गया और उस संस्था ने फैसला दिया कि इस सर्वे को करने का तरीका सही था। एक बयान में कहा गया कि उसने उसने एक प्रोसेस ऑडिट शुरू किया और इस कार्य को श्री प्रवीण त्रिपाठी को सौंपा जो मीडिया कंजप्शन बिहेवियर के क्षेत्र में बड़े स्तर का अध्ययन करने वाले भारत के अग्रणी विशेषज्ञों में से एक हैं।

इस ऑडिट को दो चरणों में पूरा किया गया। पहले चरण में सर्वे में जवाब देने वाले घरों में फिर से जाकर आंकड़ों की जांच करना शामिल था वहीं दूसरे चरण में एक व्यापक तथा गहन फॉरेंसिक सांख्यिकीय विश्लेषणात्मक प्रक्रिया थी जिसमें आंकड़े जुटाने में होने वाली चूकों तथा जवाब देने वाले के साक्षात्कार रिकॉर्ड में होने वाली असामान्य प्रकाशन की गलतियों को दोहराया जाना दोनों तरह की कमियों को पहचाना गया और दूर किया गया।

ऑडिट में निष्कर्षात्मक रूप से तथा एक स्वर से यह नतीजा निकला कि आंकड़ों में होने वाले हेरफेर से अध्ययन के परिणाम तथा महत्वपूर्ण रीडरशिप के आंकड़ों पर कोई असर नहीं पड़ा है। ऑडिट रिपोर्ट के गहन अध्ययन और व्यापक विचार-विमर्श के बाद चेयरमैन-एमआरयूसी, चेयरमैन-आरएससीआई, अध्यक्ष-आईएनएस तथा चेयरमैन-एबीसी इंडियन रीडरशिप सर्वे 2013 के प्रकाशन पर लगे स्वैच्छिक स्थगन को खत्म करने के स्पष्ट और एकमत फैसले पर पहुंचे हैं।

मार्केटिंग और मीडिया जगत ने इस घोषणा पर राहत महसूस की है चूंकि पिछले आंकड़े इस तरह के व्यापक फील्ड वर्क के बिना इस्तेमाल हो रहे थे और जिन्हें दो वर्ष पहले जुटाया गया था जो वर्तमान संदर्भ में बेमानी हो जाते हैं। कई मीडिया एजेंसियों ने हिन्दुस्तान टाइम्स से बात करते हुए कहा है कि वे आरएससीआई से इस तरह की घोषणा का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे ताकि नए आईआरएस का इस्तेमाल कर सकें।

नया सर्वे रीडरशिप का निर्धारण करने में स्वर्णिम मानक स्थापित करने के उद्देश्य से किया गया था। इन सभी उपायों को सभी मीडिया हाउस का समर्थन था क्योंकि वे इस प्रक्रिया को ज्यादा प्रभावशाली और वैज्ञानिक बनाने के लक्ष्य में भागीदार थे। इसमें वे भी शामिल थे जो बाद में इनका विरोध करने लगे।

इस सर्वे के लिए एक अग्रणी ग्लोबल रिसर्च एजेंसी की सेवाएं ली गई थीं और एक नया तरीका अपनाया गया। पिछले मॉडल की तुलना में इसमें चार बड़े बदलाव किए गए थे। पेन और पेपर के जरिये सर्वे करने के बजाय एक अनूठा डबल स्क्रीन कंप्यूटराइज्ड सिस्टम पेश किया गया। शहरों और नगरों की 2001 की जनगणना के आधार पर जनसंख्या के आकंड़े प्रयोग करने के स्थान पर 2011 की जनगणना के वास्तविक आंकड़ों का इस्तेमाल किया गया।

पाठकों से यह पूछने के बजाय कि पिछले वर्ष आप क्या पढ़ते थे उनसे यह पूछा गया कि पिछले महीने आपने क्या पढ़ा और इसके अलावा इस सर्वे में प्रतिनिधित्व सैम्पल साइज काफी बड़ा था। जो लोग इस कदम को लेकर सबसे आगे थे उनका सुझाव था कि इस नए सर्वे की तुलना पुराने सर्वे से करना सही नहीं होगा बल्कि इसे एक नई शुरुआत की तरह देखा जाए और भविष्य के सर्वे में तुलनात्मक अध्ययन के लिए इस तरीके का प्रयोग किया जाए। उम्मीद है अगला दौर सितम्बर की शुरुआत में होगा।

इस उद्योग के पुराने जानकार मानते है कि पूरी मीडिया इंडस्ट्री को इस प्रक्रिया और तरीके की प्रामाणिकता का सम्मान करना चाहिए। एक नया वैज्ञानिक तरीका अपनाया गया है और इसके आंकड़ों की वैधता की फिर से जांच की गई है और इसे सब कुछ गंवा देने वाली प्रक्रिया न मानते हुए सभी मीडिया कंपनियों को एक नए टेम्पलेट के रूप में देखना चाहिए जो पाठकों, विज्ञापनदाताओं, विज्ञापन एजेंसियों तथा मीडिया प्लानरों को उनकी वरीयता तय करने में स्वस्थ मानक प्रदान करेगा।

कोई भी सर्वे पूरी तरह से त्रुटिहीन नहीं हो सकता वह भी जब उसका उद्देश्य एक बड़ी दुनिया के बारे में आंकलन करना हो। लेकिन यह उम्मीद की जा सकती है कि उसके आंकड़े परिपक्व होंगे, सुधारों को शामिल किया जाएगा और सर्वे बाजार की सही तस्वीर पेश कर पाने में पूरी तरह से सही साबित होगा।

रीडरशिप लाख में
             ऑल इंडिया –  उत्तर प्रदेश
दैनिक जागरण    155         87
हिन्दुस्तान        142        72
दैनिक भास्कर     129        —
             दिल्ली एनसीआर  मुंबई
एचटी            22.7       13.6
टीओआई         16.5        21.5
डीएनए            —         2.1

साभार : हिंदुस्‍तान

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: