गलत वकालतनामा लगाने पर एमजे अकबर की लॉ फर्म को लीगल नोटिस

पूर्व केन्द्रीय मंत्री एम जे अकबर द्वारा दिल्ली के पटियाला हाई कोर्ट में दायर मानहानि के मुकदमे में खुद उनके लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं. 27 अक्टूबर को दिल्ली बार कौंसिल ने उनके वकील को नोटिस जारी करते हुए गलत वकालतनामे के लिए दो सप्ताह में जवाब माँगा है. गौरतलब है कि पूर्व विदेश मंत्री …

मीटू में फंसे विनोद दुआ की जांच के लिए वायर वालों ने सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज समेत पांच की टीम बनाई

Brijesh Singh : सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस करेंगे विनोद दुआ के ख़िलाफ़ यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच…. द वायर द्वारा विनोद दुआ के ख़िलाफ़ लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस आफताब आलम की अध्यक्षता में एक स्वतंत्र समिति का गठन किया गया है, जिसके …

metoo में फंसे विनोद दुआ की ‘द वायर’ ने जांच अवधि तक के लिए कर दी छुट्टी!

Rana Yashwant : विनोद दुआ दो दिनों से द वॉयर से गायब हैं. २३ तारीख को लौटेंगे ये बताने कि उस रोज उनका एपिसोड आखिरी है या फिर ये सिलसिला आगे जारी रहेगा. विनोद दुआ के वीडियो पोस्ट को सुनने और पसंद करनेवालों की अपनी एक जमात है, लेकिन मी टू अभियान के दौरान उनपर …

एमजे अकबर को आखिरकार इस्तीफा देना ही पड़ा

तो आखिरकार ‘मी टू’ के विवाद में घिरे विदेश राज्य मंत्री एम जे अकबर का इस्तीफा हो गया। अदालत में 97 वकीलों से लैश होकर मुकदमे की धौंस काम नहीं आ सकी। हालांकि वह अपनी बेगुनाही के दावे पर कायम है जिसका फैसला अब अदालत में ही होगा।  कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद …

चड्ढी पहने खड़ा था अकबर, जबरन जकड़ कर चूम लिया!

पत्रकार तुशिता पटेल बोलीं- तुझसे अदालत में भी निपट लेंगे अकबर! प्रिया रमानी ने लिखा है कि अकबर ने कुछ “किया” नहीं। इसी आधार पर अकबर कह रहे हैं कि कुछ किया नहीं तो यह सब (मीटू) काहे का। अवमानना हो गई। प्रिया रमानी के खिलाफ अदालत में अवमानना का मामला दाखिल किए जाने से …

#metoo पर निष्पक्ष रिपोर्टिंग करें

#metoo क्यों अच्छा है  हमारे समाज में यौन अभिव्यक्ति या यौन प्रताड़ना जैसे विषय हमेशा से taboo रहे हैं. कुछ व्यभिचारी इसका फायदा उठाते हैं और तमाम तरह से महिलाओं का शोषण करते हैं. यह हमारी सामाजिक आवश्यकता है कि महिलाएं इसके खिलाफ आवाज़ उठायें, ताकि इस तरह की घटनाओं में कमी आये.  यह एक …

विशेष संपादकीय : अब तुम्हें घर तो कोई नहीं बुलाएगा अकबर…

Hemant Sharma तो वही हुआ जिसकी आशंका जताई जा रही थी। एक के बाद एक चौदह महिलाओं द्वारा मोबाशर जावेद अकबर (एमजे अकबर) पर यौन दुर्व्यवहार का आरोप लगाए जाने के बावजूद देश के कई प्रतिष्ठित अखबारों का संपादक रहा यह व्यक्ति भारत सरकार के विदेश राज्यमंत्री के पद पर काबिज़ रहेगा। इन महिलाओं में …

‘गोदी मीडिया’ छाप अखबारों ने अकबर के बचाव में लिखना जारी रखा, देखें आज का कवरेज

मोदी सरकार के लिए छवि निर्माण और ‘ब्रांडिंग’ में हिन्दी अखबारों की भूमिका… मीटू अभियान के तहत लगाए जाने वाले आरोपों पर कई दिनों तक चुप रहने वाले हिन्दी अखबारों ने विदेश मंत्री एमजे अकबर के स्वदेश लौटने पर उनके बचाव और उनकी कार्रवाइयों को प्रमुखता से छापना शुरू कर दिया है। कल अदालत जाने …

अकबर असल में अवमानना कानून का दुरुपयोग कर रहे हैं!

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री का खंडन पढ़ रहा था और यह समझने की कोशिश कर रहा हूं कि 97 वकीलों की लॉ-फर्म की ताकत एक महिला पर क्यों? या बाकी पर क्यों नहीं? हिन्दी अखबारों में छपा नहीं और शिकायत अंग्रेजी में है तो शायद आपने पढ़ा न हो या ध्यान नहीं दिया हो – …

97 वकील लेकर कोर्ट पहुंचे अकबर ने मानहानि का मुकदमा उस लॉ फ़र्म से कराया जो ख़ुद metoo आरोपी है!

Samar Anarya : विडंबना: 11 स्त्रियों द्वारा यौन हिंसा के आरोपी मोदी के छुटभैये मंत्री एम जे अकबर ने बस एक के ख़िलाफ़ आपराधिक मानहानि का मामला दाखिल किया- प्रिया रमानी के जो पहली थीं। बड़ी विडंबना: यह उसने उस राजन करंजवाला की लॉ फ़र्म द्वारा किया जो ख़ुद मी टू में फँसा है! कृपया …

ये है मोदी राज : आरोपी अकबर लड़ेगा ‘Metoo महिलाओं’ से युद्ध!

लगता है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर को खुल्ला छोड़ दिया है. इससे उत्साहित एमजे अकबर ने आरोप लगाने वाली पत्रकार प्रिया रमानी पर मानहानि का केस करर दिया है. अकबर ने अपने वकील कंजरवाला एंड कंपनी के माध्यम से दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में रमाणी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा …

अकबर पर लगे आरोप न बताने वाले अखबारों ने उनका जवाब छाप ‘गोदी मीडिया’ का धर्म निभाया

केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर के खिलाफ आरोप नहीं छापने वाले हिन्दी अखबारों ने आज उनका जवाब पूरे विस्तार से और पूरी प्रमुखता से छापा है। नवभारत टाइम्स में आज पहला पेज पूरा विज्ञापन है पर मास्टहेड के बगल में ईयर पैनल में अकबर की फोटो के साथ लिखा है, दरबार में बने रहेंगे अकबर, जवाब …

अकबर की लपलपाती जीभ पर एक युवती ने यूं मिर्च पाउडर उड़ेल दिया!

Swatantra Mishra : अकबर की लपलपाती जीभ पर मिर्च पाउडर उड़ेला… सेंट स्टीफंस कॉलेज में ग्रेजुएशन में मेरे साथ पढ़ने वाली एक लड़की जर्नलिज्म में कैरियर बनाना चाहती थी तब वह एशियन ऐज में एम जे अकबर के पास नौकरी के लिए गई. अकबर ने इंटरव्यू के लिए उसे कमरे में बुलाया और दो—एक बातचीत …

सीरियल मालेस्टर को बचा लिया छप्पन इंच सीने वाले ने!

वो कहता है कि छप्पन इंच का सीना है उसका. लेकिन उसकी हरकतें बता रही हैं कि वह अब नंगा हो चुका है. उसके हर झूठ का पर्दाफाश हो चुका है. सीरियल मालेस्टर एमजे अकबर को क्लीन चिट मिल गई है. वह केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा नहीं देगा. एमजे अकबर अब उन महिलाओं से लड़ेगा …

रवीश कुमार ने पूछा- हिंदी अख़बारों और न्यूज चैनलों से ग़ायब क्यों है अकबर पर लगे आरोपों के डिटेल?

Ravish Kumar 14 महिला पत्रकारों ने मुबशिर जावेद अकबर पर संपादक रहते हुए शारीरिक छेड़छाड़ के आरोप लगाए हैं। ये सारे लेख अंग्रेज़ी में लिखे गए हैं और अंग्रेज़ी की वेबसाइट पर आए हैं। हफिंग्टन पोस्ट, मीडियम, दि वायर, वोग, फर्स्टपोस्ट, इंडियन एक्सप्रेस। ग़ज़ाला वहाब, कनिका गहलौत, प्रिया रमानी, प्रेरणा बिंद्रा सिंह, शुमा राहा, प्रेम …

विनोद दुआ का भी मीटू हो गया… पढ़िए निष्ठा जैन की आपबीती

Nishtha Jain  It was June 1989. I still remember the day because it was my birthday. There was extended family at home and mom was preparing for a little celebration in the evening. I was a recent graduate from Jamia Mass Communication Centre. I put on my favourite saree and left home with a fair …

इन ‘हिंदुस्तानियों’ का हो गया #metoo

गुड़गांव। सोशल मीडिया पर चल रहे अभियान ने बॉलीवुड से लेकर मीडिया मुगलों तक की पोल खोल कर रख दी है। बड़े से लेकर छोटे महत्वपूर्ण पदों पर बैठे पत्रकार भी महिलाओं का शोषण कर रहे हैं। #metoo अभियान के तहत हिन्दुस्तान टाइम्स की पत्रकार लीना धनखड़ ने अब मोर्चा खोला है। कृपया हमें अनुसरण …

सात महिला पत्रकारों ने #metoo किया तो TOI हैदराबाद के संपादक को देना पड़ा इस्तीफा

टाइम्स आफ इंडिया, हैदराबाद के स्थानीय सम्पादक केआर श्रीनिवास ने इस्तीफा दे दिया है. उन पर #MeToo कैंपेन के तहत सात महिला पत्रकारों ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे. ऐसा पहली बार हुआ है जब मीटू कैंपेन के कारण वरिष्ठ पत्रकार और शीर्ष संपादक ने इस्तीफा दिया है. कृपया हमें अनुसरण करें और हमें …

…और मानसी सोनी नरेंद्र मोदी के लिए #metoo लिखने लायक बनने से चूक गईं!

एमजे अकबर का पाप ज्यादा है या कम यह कैसे तय होगा… या इस्तीफा देना ही हो तो कौन किसे दे? आईएएस अधिकारी प्रदीप शर्मा भुज में काम कर रहे थे। उन्होंने 2004 में आर्किटेक्ट मानसी सोनी से एक गार्डन की लैंडस्केपिंग कराई। इस गार्डन का उद्घाटन नरेंद्र मोदी ने किया। इस समारोह के दौरान …

रवीश कुमार ने पूछा- ‘प्रधानमंत्रीजी जवाब दीजिए, एमजे अकबर अभी तक क्यों आपके साथ है?’

Ravish Kumar मेरा अकबर महान ! कारनामा ऐसा कि कायनात शर्मा जाए… सवाल अकबर के इस्तीफ़े का नहीं है। इस्तीफ़ा लेकर कोई महान नहीं बन जाएगा। वो तो होगा ही। मगर जवाब देना पडेगा कि इस अकबर में क्या ख़ूबी थी कि राज्य सभा का सदस्य बनाया, बीजेपी का सदस्य बनाया और मंत्री बनाया। इसके …

एमजे अकबर तो महा ठरकी आदमी निकला, पढ़िए उसके बारे में 7 महिला पत्रकारों का #metoo

मोदी सरकार के विदेश राज्य मंत्री और पूर्व संपादक एमजे अकबर के ठरकीपने के किस्से इन दिनों पूरे देश में गूंज रहे हैं. आधा दर्जन महिला पत्रकारों ने इस महा बदमाश आदमी की हकीकत को उजागर किया है. अब तक 6 महिला पत्रकारों ने #metoo लिखकर पत्रकारिता करने के दौरान एमजे अकबर को सीरियल यौन …

#metoo अभियान : लखनऊ की इस महिला पत्रकार ने आई-नेक्स्ट के तत्कालीन इंचार्ज की ‘गंदी बात’ का किया खुलासा

Shashi Pandey : आजकल #Meetoo अभियान ने हर तरफ भूचाल मचा रखा है। सोचा मैं भी इस अभियान का हिस्सा बन जाती हूं…. अनुभव की पहली किस्त….. बात 2010 की है। तब मैं आईनेक्स्ट अखबार (दैनिक जागरण) में रिपोर्टर थी। हमारे यहां एक नया इंचार्ज आया था मुशाहिद। महिला रिपोर्टर्स के साथ गंदी-गंदी बातें करता …

देखें, #MeToo की चपेट में कौन-कौन मीडियाकर्मी आया और कितनों की गई नौकरी

#MeToo कैंपेन ने मीडिया इंडस्ट्री के कई वरिष्ठों की बलि ले ली. टाइम्स ऑफ इंडिया, हैदराबाद के सीनियर एडिटर के.आर श्रीनिवास भी मीटू में फंसे. उन्हें टीओआई प्रबंधन ने फोर्स लीव पर भेज दिया है. श्रीनिवास जांच होने तक आफिस नहीं आ सकेंगे. मीटू कैंपेन के चलते डीएनए, मुंबई के एडिटर-इन-चीफ रहे गौतम अधिकारी ने …

जो बलात्कारी हैं उनको वामपंथ के नाम पर अबाध रक्षण और प्रतिरक्षण कब तक देंगे/देंगी कॉमरेड?

Swami Vyalok : बोया पेड़ बबूल का, आम कहां से पाए…. वामपंथ के पाठ्यक्रम में है महिला-विरोध और प्रतारणा…. डिस्क्लेमरः मेरी 36 पार की अवस्था और इस महान आर्यावर्त की दशा ने मुझे अब आश्चर्य या दुख के परे कर दिया है, मैं मानता हूं कि इस देश में कुछ भी …मतलब, कुछ भी हो …

‘टेलीग्राफ’ ने अपने संस्थापक संपादक एमजे अकबर पर यौन शोषण के आरोपों को प्रमुखता से छापा

मीटू का असर मुंबई, मीडिया से मंत्रिमंडल तक… मीटू के तहत केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर उंगली उठने के बाद सवाल था कि अंग्रेजी दैनिक दि टेलीग्राफ इस खबर को कैसे पेश करेगा। आम अखबारों की तरह प्रतिकूल खबर को पी जाएगा या एक अच्छे मीडिया संस्थान के रूप में पूरी खबर विस्तार से देगा। …

DUJ Gender Council Welcomes the #MeToo Movement in Media

The Gender Council of the Delhi Union of Journalists welcomes the #MeToo movement initiated on social media by several young women journalists. They have spoken up about sexual harassment at the workplace, citing personal experiences and in some cases naming and shaming senior journalists, including editors of various newspapers. We recognize their courage in doing …

#metoo अटैक : दो महिला पत्रकारों का आरोप- कैलाश खेर ने हम दोनों की जांघों पर हाथ फेरा!

आजकल #metoo कैंपेन के कारण ढीले लंगोट वाले पुरुष परेशानी में हैं. तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया. अब कैलाश खेर पर कुछ महिला पत्रकारों ने छेड़छाड़ का आरोप जड़ा है. मस्कट की एक विदेशी महिला पत्रकार ने भारतीय पत्रकार संध्या मेनन को एक संदेश भेजकर बताया कि कैलाश खेर …

इस पत्रकार की नौकरी तो हमेशा लड़कियों ने ही ली! पढ़िए क्या-क्या घटित हुआ

Abhishek Srivastava ये जो #MeToo वाला ट्रेंड चल रहा है, थोड़ा विचलित करता है। लगे हाथ सोचा कुछ फर्स्‍ट हैंड कहानियां कह दी जाएं। पहली कहानी यूएनआइ समाचार एजेंसी की- वर्ष 2003। एक दिन एक एक बालिका संपादक के कमरे से निकल कर न्‍यूज़रूम में आई। पता चला इनटर्न है। उसे मेरे सुपुर्द कर दिया …

‘मिरर नाऊ’ की पत्रकार सांतिया ने लिखा- ‘मुंबई का वो ब्यूरो चीफ लगातार मेरे स्तन घूरे जा रहा था!’

Ravish Kumar : सांतिया ‘मिरर नाऊ’ की पत्रकार हैं। कई चैनलों में काम कर चुकी हैं। उनका पोस्ट पढ़िए और ख़ुद में झांकिए। ख़ासकर वो लोग जो नौकरी देने के ओहदे में रहे हैं। बैंकों पर सीरीज़ के दौरान वहाँ काम करने वाली औरतों ने इस तरह के और इससे भी भयानक अनुभव बताए थे। …