सप्पल वाला स्वराज एक्सप्रेस बनाम त्रिपाठी वाला स्वराज एक्सप्रेस!

कल जब भड़ास पर खबर चली कि राज्यसभा टीवी लांच करने वाले गुरदीप सिंह सप्पल ने स्वराज एक्सप्रेस नाम से चैनल लांच कर दिया है तो कई लोग भ्रम में पड़ गए. कुछ ने कहा कि लगता है भोपाल वाले एसपी त्रिपाठी ने स्वराज एक्सप्रेस चैनल बेच दिया. कुछ का कहना है कि एक ही …

गुरदीप सिंह सप्पल ने लांच किया ‘स्वराज एक्सप्रेस’ चैनल

Gurdeep Singh Sappal Announcing the launch of the test run of our TV news channel ‘Swaraj Express’. Catch the live telecast on the following link. https://youtu.be/vhD4ymfORCg Also available on Hathway, In Cable, Nxt Cable. Will be available of Airtel DTH, TataSky etc. in a day or two. Will soon be with you with our full …

राज्यसभा टीवी के बाद गुरदीप सिंह सप्पल ने लांच किया नया वेंचर- ‘हिंद किसान’

गुरदीप सिंह सप्पल

आज के दौर में जब मुख्यधारा की मीडिया नान-इशूज पर फोकस कर जनता का ध्यान बुनियादी मुद्दों से हटाने के सत्ता-तंत्र के खेल में पूरी तरह लिप्त हो गया है, कुछ साहसी किस्म के लोग आम जन के प्रति मीडिया की प्रतिबद्धता को जीने में लगे हुए हैं. गुरदीप सिंह सप्पल के नेतृत्व में राज्यसभा टीवी लांच हुआ और देखते ही देखते यह चैनल पत्रकारिता के असल मानकों का प्रतीक बन गया. इंटरव्यूज हों या ग्राउंड रिपोर्टिंग… आदिवासियों का मसला हो या किसानों का जीवन हो… सब कुछ को बेहद संजीदगी और सरोकार के साथ चैनल पर प्रसारित किया गया. कई आईएएस सेलेक्ट हुए छात्रों ने कुबूल किया कि वे सिविल सर्विस की तैयारी के दिनों में न्यूज चैनलों में केवल राज्यसभा टीवी देखते थे.

राज्यसभा टीवी के सीईओ गुरदीप सिंह सप्पल निर्मित फिल्म ‘रागदेश’ का पोस्टर जारी, रिलीज 28 जुलाई को

राज्यसभा टीवी के सीईओ और एडिटर इन चीफ गुरदीप सिंह सप्पल के नाम एक और उपलब्धि जुड़ गई है. उन्होंने फिल्म निर्माण जैसा बड़ा काम कर दिखाया है. बतौर प्रोड्यूसर सप्पल ने जो फिल्म ‘रागदेश’ बनाई है, उसका निर्देशन जाने माने फिल्मकार तिग्मांशु धूलिया ने किया. फिल्म का पोस्टर जारी कर दिया गया है. फिल्म सिनेमाघरों में 28 जुलाई को पहुंचेगी.

The film is on Lal Quila Trial of officers of INA.

राज्यसभा टीवी के पांच साल होने पर चैनल के एडिटर इन चीफ गुरदीप सिंह सप्पल क्या कह रहे, पढ़िए

FIVE YEARS OF RSTV

Gurdeep Singh Sappal

Today we complete five years of Rajya Sabha Television. It’s been a satisfying journey. We have been able to set a benchmark in public broadcasting, despite all the usual constraints. In this journey, my colleagues, fellow editors, executive producers, anchors, guest participants and invisible faces working behind cameras and at the desk have contributed in equal measure. I thank all of them in persevering and working against odds and earning a name for the institution.