एक और आईएएस की रंगमिजाजी का पर्दाफाश, नाजायज बच्चे का पिता होने का आरोप, जांच डीजीपी के हवाले

चंडीगढ़ : अगर हमारे समाज का सबसे प्रतिभाशाली वर्ग महिलाओं के प्रति ऐसी घिनौनी हरकरतें करने लगे तो इस सिस्टम का भगवान ही मालिक है। हरियाणा के रंगमिजाज ब्यूरोक्रेट्स किस प्रकार से महिलाओं का शारीरिक शोषण करते हैं, यह आज किसी से छिपा नहीं है। अब पता चला है कि हरियाणा के एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी एसएन रॉय पर पंचकुला की एक महिला ने शादी का झांसा देकर शोषण करने तथा उनसे एक बच्चा भी होने का आरोप लगाया है। रॉय फिलहाल हरियाणा के अर्बन लोकल बॉडी विभाग में प्रिंसिपल सैक्रेटरी जैसे महत्वपूर्ण पद पर हैं।

पुस्तक समीक्षा : सत्य की खोज – डॉ. पी. श्रीराम

इन शब्दों को पढ़ते हुए जरा शब्दों की बनावट पर गौर करिए। अपने इर्दगिर्द के माहौल के प्रति सतर्क हो जाइए। अपनी श्वांस की गति पर जरा नजर दौड़ाइये। जरा अपने विचारों को देखने का प्रयास कीजिए। कुछ देर के लिए वर्तमान के प्रति सजग हो जाइए। विचारों को देखिए। कोई विवेचना नहीं। कुछ देर रुकिए और वर्तमान को महसूस कीजिए। जैसे ही आप वर्तमान के प्रति सजग होते हैं एक नवीन और बेहतर दुनिया आपके सामने होती है। आज के वक्त की सबसे बड़ी दिक्कत है मनुष्य का एक काल्पनिक दुनिया में जीना। वो जहां है उस पल को छोड़कर अपने विचारों से पूरी दुनिया का भ्रमण कर रहा है। वर्तमान के प्रति सजगता ही उसे सत्य जीवन के दर्शन करा सकती है। व्यव्हारिक जीवन में वह कई चुनौतियों को अपने समक्ष पाता है। इनमें चिंताएं, प्रतियोगितावादी संसार की भागदौड़, रिश्तों में कड़वाहट और अधिक पाने की दौड़, अप्राप्त परिस्थिति का चिंतन प्रमुख हैं। इस तरह का चिंतन किया गया है डॉ.पी.श्रीराम की पुस्तक ‘सत्य की खोज’ में।

यूपी में महिला आईएएस पर डीएम की बुरी नजर, सीएम तक पहुंची बात, आईएएस एसोसिएशन भी गंभीर

लखनऊ/दिल्ली : उत्तर प्रदेश में तैनात एक ट्रेनी महिला आईएएस की आपबीती ने गोरखपुर के जिलाधिकारी रंजन कुमार के आचरण को संदिग्ध बना दिया है। आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर और सामाजिक कार्यकर्ता डॉ.नूतन ठाकुर के मुताबिक महिला अफसर ने उनसे मिलकर अफसर की बदनीयती की सारी हरकत खोल दी है। एक अखबार ने इस पूरे मामले का रहस्योदघाटन किया है। मामला मुख्यमंत्री तक पहुंच चुका है। सेंट्रल आईएएस एसोसिएशन के सचि‍व संजय भूस रेड्डी और यूपी आईएएस एसोसिएशन के सचिव भुवनेश कुमार ने भी इस मामले को गंभीरता से लिया है। 

दैनिक जागरण ने लिखा – आइन्स्टीन ने की थी गुरुत्वाकर्षण की खोज !

अब तक हमने पढ़ा था कि गुरुत्वाकर्षण की खोज ‘न्यूटन’ ने की थी लेकिन 25-मार्च को दैनिक जागरण के आगरा संस्करण के माध्यम से पाठकों को जानकारी दी गयी कि “पेड़ के नीचे बैठे ‘आइन्स्टीन’ के सिर पर सेब गिरा तो गुरुत्वाकर्षण की खोज हुयी”|

प्रबंधन और यूनियन की मिलीभगत से यूएनआई को ठिकाने लगाने की कोशिश

भारतीय मीडिया जगत में कभी यूएनआई /वार्ता एक सशक्‍त एजेंसी हुआ करती थी। चम्‍मच पीटीआई / भाषा को आगे बढ़ाने के लिए यूएनआई /वार्ता का कुंडा कैसे पिटा, उसकी कहानी कभी बाद में । अभी बस ये कि इस एजेंसी में कैसे मैनेजमेंट वहां के कर्मचारियों को परेशान कर रही है। साथ में बोनस ये कि वहां की यूनियन प्रबंधन के साथ मिलकर कैसे संस्‍था को खत्‍म करने में लगी है। 

पत्रकारों की फांकाकशी पर संपादक कुछ तो शर्म करो

रांची : इससे बड़ा शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता कि एक पत्रकार अपना और अपने परिवार का पेट पालने के लिए वेटर का काम करे। वह भी दो दिन फांका करने के बाद। पत्रकार और उसके परिवार वालों ने दो दिन हलवा बना कर खाया। वह पत्रकार भी इतना खुदगर्ज कि स्वयं भूखा रहा, लेकिन चेहरे की हंसी नहीं गयी। हां, जब खबर मन्त्र में को-ऑडिर्नेटर एडिटर नीरज सिन्हा ने पूछा, तो उसकी आंखें छलछला गयीं। 

दो माह से सिर्फ बिस्कुट खाकर जी रहे सहारा के असिस्टेंट प्रोड्यूसर ने दम तोड़ा

सहारा के न्यूज चैनल ‘समय’ उत्तर प्रदेश/उत्तराखंड में असिस्टेंट प्रोड्यूसर के पद पर कार्यरत अमित पांडेय (35) की अकाल मौत हो गई। सहारा संस्थान में काम कर रहे किसी कर्मी की हाल के दिनो में ये दूसरी दुखद मौत है। इससे पहले लखनऊ में सहारा कोआपरेटिव के डिप्टी मैनेजर ने छत से कूद कर जान दे दी थी। पता चला है कि सैलरी नहीं मिलने के कारण दो महीने से अमित पांडेय बिस्कुट खा कर चैनल के दफ्तर आ-जा रहे थे। इससे वह कमजोर और लगातार बीमार चल रहे थे। आखिरकार मल्टी आर्गन फेल हो जाने से उन्होंने दम तोड़ दिया। जब उनकी जान चली गई, उसके बाद सहारा ने उनकी तीन महीने की बकाया सैलरी परिजनों को जारी की। 

‘विषबाण’ की महफिल में सारी रात हंसी-ठहाके और वाह-वाह

मथुरा (उ.प्र.) : ‘विषबाण’ साप्ताहिक की ओर से प्रायोजित अखिल भारतीय हास्य कवि सम्मेलन में उमड़े सैकड़ों श्रोताओं ने पूरी रात हंसी-ठहाकों में गुजार दी। इस दौरान साप्ताहिक की ओर से कई हस्तियों को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में जादूगर आकाश के हैरतअंगेज करतबों से हर कोई दांतों तले उंगली दबाने पर मजबूर हो गया।

विद्यार्थीजी के शहर कानपुर में गिफ्ट और डग्गे की पत्रकारिता

कलम की ताकत हमेशा से ही तलवार से अधिक रही है और ऐसे कई पत्रकार हैं, जिन्होंने अपनी कलम से सत्ता तक की राह बदल दी। गणेशशंकर विद्यार्थी का नाम ऐसे ही पत्रकारों में गिना जाता है। देश के तमाम बुद्धिजीवी विद्यार्थी जी को कानपुर शहर की पहचान का प्रतीक मानते हैं। लेकिन उनकी कर्मस्थली पर अब गिफ्ट और डग्गे की पत्रकारिता हो रही है। डंके चोट पर अखबार मालिक तक जमीनों के सौदे में लिप्त हैं और ज्यादातर पत्रकारों के पास खेमेबाजी के चटखारों के सिवा जैसे पत्रकारिता से रत्तीभर वास्ता नहीं।

सेक्शन 66 ए : ‘अभिव्यक्ति की आजादी’ पर पत्रकारों की अभिव्यक्ति

दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने आईटी ऐक्ट के सेक्शन 66 ए को रद्द कर दिया है। इस फैसले पर कई वरिष्ठ पत्रकारों ने ट्विटर के माध्यम से अपनी प्रतिक्रियाएं व्यक्त की हैं। उनका कहना है कि इस संबंध में दिशानिर्देश तो होने चाहिए लेकिन सोशल मीडिया पर अभिव्यक्ति की आजादी पर प्रतिबंध नहीं होना चाहिए।

गांधी की टेक

भारतीय समाज में पिता की मौजूदगी जितनी जरूरी होती है, शायद उनका नहीं रहना उन्हें और भी जरूरी बना देता है. ऐसे ही हैं हमारे बापू. बापू अर्थात महात्मा गांधी. आज बापू को हमसे बिछड़े बरसों-बरस गुज़र गये लेकिन जैसे जैसे समय गुजरता गया, उनकी जरूरत हमें और ज्यादा महसूस होने लगी. एक आम आदमी के लिये बापू आदर्श की प्रतिमूर्ति बने हुये हैं तो राजनीतिक दल वर्षों से उन्हें अपने अपने लाभ के लिये, अपनी अपनी तरह से उपयोग करते दिखे हैं. अब तो गांधी के नाम की टेक पर सब नाम कमा लेना चाहते हैं. मुझे स्मरण हो आता है कि कोई पांच साल पहले कोई पांचवीं कक्षा की विद्यार्थी ने सूचना के अधिकार के तहत जानना चाहा था कि महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता का दर्जा किस कानून के तहत दिया गया? बच्ची का यह सवाल चौंकाने वाला था लेकिन तब खबर नहीं थी कि उसने अपने एक बेहूदा सवाल से पूरे समाज को गांधी की एक ऐसी टेक दे दी है जिसे सहारा बनाकर नाम कमाया जा सकता है अथवा विवादों में आकर स्वयं को चर्चा में रखा जा सकता है. 

बिजनेस टेलिविजन इंटरनेशनल की संपत्ति कुर्क करने का आदेश

दिल्ली : एडीशनल डिस्ट्रिक्ट जज जी. के. गौर ने बिजनेस टेलिविजन इंटरनेशनल लिमिटेड की दक्षिण दिल्ली के उदय पार्क स्थित संपत्ति कुर्क करने का आदेश दिया है।  कंपनी सन 2000 में बंद हो गई थी। बाद में उसने कर्मचारियों को वेतन देने के आदेश का ठुकरा दिया था।

पत्रकारों का चुनाव और ‘कत्ल की रात’ !

आपने अखबारों में अक्सर पढ़ा होगा, फलां चुनाव में बंटने के लिए आई दारू पकड़ी गई… मतदाताओं को रिझाने के लिए उम्मीदवारों ने दारू बांटा… कंबल बांटा…साड़ी, बिछिया और न जाने क्या क्या बांटे..। हर खबर के बाद चिंतन करने का मन भी किया होगा कि क्या हो गया है, लोकतंत्र का? मतदान के एक दिन पहले यह सारा खेल होता है…. इस एक रात को ‘कत्ल की रात’ कहा जाता है!

असांज को मौत की सज़ा का डर, स्वीडन का रुख बदला

विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन असांज से स्वीडन के अभियोजक लंदन में पूछताछ करने को तैयार हो गए हैं. असांज पर यौन उत्पीड़न और बलात्कार के आरोप हैं. अभियोजक पहले असांज से स्वीडन में पूछताछ करना चाहते थे. लेकिन असांज ने आरोपों को खारिज करते हुए 2012 से लंदन स्थित इक्वेडोर के दूतावास में शरण ले रखी है. स्वीडन 2010 से असांज को गिरफ़्तार कर अपने देश में पूछताछ करना चाह रहा है. असांज को डर है कि अगर उन्हें प्रत्यर्पित किया जाता है तो स्वीडन पहुंचते ही उन्हें गिरफ़्तार कर अमरीका भेज दिया जाएगा, जिसके बाद उन्हें मौत की सज़ा तक सुनाई जा सकती है.

आरोपी मंत्री को बचाने पर सीएम की राज्यपाल से शिकायत

लखनऊ : सामाजिक कार्यकर्ता एवं अधिवक्ता डॉ. नूतन ठाकुर ने प्रदेश के राज्यपाल राम नाइक से शिकायत की है कि तीन साल की सजा पाने के बावजूद मंत्री कैलाश चौरसिया को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हटाया नहीं है। उनका कहना है कि कैलाश चौरसिया अब कानूनन मंत्री नहीं हैं। 

पत्रकार की गोली मार कर हत्या

प्रतापगढ़ : जिले में आसपुर देवसर थाने क्षेत्र के रानीपुर में बाइक सवारों ने ‘दैनिक हिन्दुस्तान’ के रिपोर्टर और शिक्षक देवेन्द्र पाण्डेय की गोली मारकर हत्या कर दी। हमले के दौरान वह बाइक से स्कूल जा रहे थे। 

‘बीबीसी की गाइडलाइन के अनुरूप है डॉक्यूमेंट्री’

बीबीसी-4 ने दिल्ली गैंगरेप के दोषी मुकेश सिंह के इंटरव्यू वाली लेज़्ली उडविन की डॉक्यूमेंट्री लंदन में 4 मार्च को प्रसारित कर दी। बीबीसी का कहना है, “डॉक्यूमेंट्री हमारे एडिटोरियल गाइडलाइन के अनुरूप है और इस संवेदनशील मुद्दे को पूरी जिम्मेदारी के साथ पेश करती है। इसलिए ‘बीबीसी-4 ने इसका प्रसारण ब्रिटेन में किया है।”