चंदन बंगारी ने अमर उजाला और अंकित सैनी ने हिंदुस्तान को अलविदा कहा

उत्तराखंड के काशीपुर में अमर उजाला को झटका लगा है। ब्यूरो चीफ चन्दन बंगारी ने अखबार को अलविदा कह दिया है। चर्चा है कि ख़बरों को लेकर हुए मनमुटाव के बाद उन्होंने ये कदम उठाया है। चन्दन की गिनती तेज़तर्रार और ईमानदार पत्रकार के रूप में की जाती है। पिछले साल ही उन्हें बेहतर काम …

‘नेशनल वायस’ यूपी का नंबर वन चैनल बना! (देखें वीडियो)

लखनऊ से खबर है कि वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश मिश्र के नेतृत्व में संचालित किए जा रहे न्यूज चैनल नेशनल वायस ने टीआरपी में सारे न्यूज चैनलों को पछाड़ दिया है. ‘नेशनल वायस’ चैनल की तरफ से जारी एक वीडियो के जरिए बताया गया है कि यह चैनल हाल के चुनावों के दौरान कई सिगमेंट में …

मनोज सिंह बघेल बने ‘स्वराज एक्सप्रेस’ के छत्तीसगढ़ के एडिटर

ईटीवी में लंबी पारी खेलकर पायोनियर के साथ प्रिंट मीडिया में हाथ आज़माने वाले मनोज सिंह बघेल फिर से टीवी मीडियम में आ गए हैं. मनोज सिंह का जाना पायोनियर के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. मनोज सिंह बघेल को प्रिंट मीडिया रास नहीं आया. उन्होंने करीब साल भर पयोनियर में काम किया.

नंबर वन ‘आजतक’ को सबसे ज्यादा फायदा, ‘जी न्यूज’ अब ‘इंडिया टीवी’ के सिर तक पहुंचा

इस साल के दसवें हफ्ते के टीआरपी आंकड़े देखने से पता चलता है कि आजतक न्यूज चैनल ने नंबर वन की अपनी कुर्सी काफी मजबूत कर ली है. यह चैनल इस हफ्ते टीआरपी में सबसे ज्यादा उछाल पाने वाला चैनल दिख रहा है. उधर, जी न्यूज ने भी तगड़ी छलांग भरी है और अब वह दो नंबर की कुर्सी से कुछ ही पीछे है. इंडिया टीवी के सिर पर तगड़ा खतरा मड़रा रहा है. ढेर सारे न्यूज चैनलों की टीआरपी गिरी है. जैसे इंडिया न्यूज, न्यूज18 इंडिया, न्यूज नेशन, न्यूज24 समेत कई न्यूज चैनलों की टीआरपी में कम से लेकर ज्यादा तक गिरावट आई है. देखें टीआरपी आंकड़े…

‘आजतक’ निष्पक्ष है तो भाजपा की जबरदस्त जीत पर इस चैनल के न्यूज रूम में क्यों बंटी मिठाई? (देखें वीडियो)

Mayank Saxena : इस वीडियो में एक समाचार चैनल है, एक पत्रकार है; जिसको निष्पक्ष होना चाहिए…वह जाहिल एक राजनैतिक दल के जीतने पर कभी बेहद पवित्र और निष्पक्ष रही न्यूज रूम जैसी जगह पर मिठाई बांट रहा है…एक पत्रकार जिसका निष्पक्ष होने का दावा है; जिसको संघी गुंडों ने क्या-क्या न कहा, बेशर्मी से कैमरा पर मिठाई खा कर, अमित शाह को अपनी निष्ठा की दुहाई दे रहा है…10 और पत्रकार ताली बजा रहे हैं…और बजाय अपने न्यूज़रूम में मिठाई बांट रहे इस पत्रकार को नौकरी पर रखने के लिए शर्मिंदा होने के; चैनल इस वीडियो को गर्व से अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित कर रहा है।

अखिलेश यादव को मेरी आह लग गई : नूतन ठाकुर

Nutan Thakur : मैंने 18 दिसंबर 2016 को लिखा था-

“मुख्यमंत्री अखिलेश यादव सत्ता में होने के नाते अभी अपनी जितनी भी तारीफ कर लें, पर उन्हें मेरी आह जरूर लगेगी. उन्होंने मेरे पति के खिलाफ लगातार फर्जी आधार पर कार्रवाई की. ईश्वर उन्हें इस बात का दंड अवश्य देगा.” मैंने कहा था-“अखिलेश के आगे पीछे घूम रहे जो अफसर मेरे पति को प्रताड़ित कर रहे हैं, कल सत्ता जाने के बाद वे कहीं नजर नहीं आएंगे. तब अखिलेश को अपने किये पर पछतावा होगा.”

अखिलेश यादव को चेग्‍वारा बताने वाले ‘सोशलिस्‍ट फैक्‍टर’ के संपादक फ्रैंक हुजूर का अब क्या होगा!

Abhishek Srivastava : पेड़े कटहर ओठे तेल…! अभी मुख्‍यमंत्री तय हुआ नहीं और जनता सेटिंग-गेटिंग में जुट गई। लखनऊ में मार मची है पत्रकारों की। कोई मनोज सिन्‍हा की उम्‍मीद में डेरा डाले हैं तो कोई राजनाथ रामबदन का बगलगीर होने की फि़राक़ में है। किसी को ज़मीन छ़ुड़वानी है, किसी को ज़मीन लिखवानी है, किसी को विज्ञापन लेना है, किसी को ठेका चाहिए, कोई गैस एजेंसी और पेट्रोल पंप का मारा है तो कोई अपने स्‍कूल की मान्‍यता के लिए छटपटा रहा है।

बीईए जैसी संस्‍थाओं को अब भंग कर दिया जाना चाहिए

Abhishek Srivastava : 14 सितंबर को समाचार चैनलों पर दो दिलचस्‍प हेडलाइनें चल रही थीं। एक में बताया जा रहा था कि सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस को गोवा के मसले पर ‘फटकार’ दिया है। संवैधानिक व्‍यवस्‍था कहती है कि राज्‍यपाल सबसे पहले सबसे बड़ी पार्टी को बुलाएगा सरकार बनाने के लिए। सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस की याचिका पर उससे पूछा है कि उसने अपनी लिस्‍ट राज्‍यपाल को पहले क्‍यों नहीं दी। सब इसे सुप्रीम कोर्ट की ‘’डांट’ या ‘फटकार’ बताकर चला रहे थे। आजतक पर रिपोर्टर अहमद अज़ीम ने डांट-फटकार की कोई बात नहीं कही, लेकिन ऐंकर सईद लगातार ‘डांट-फटकार’ बोले जा रहे थे।

सीनियर कापी एडिटर राजेश्वर ने भी हिंदुस्तान बरेली पर ठोंका श्रम न्यायालय में क्लेम

बरेली से बड़ी खबर आ रही है कि हिंदुस्तान की बरेली यूनिट में मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक वेतनमान और बकाया एरियर को लेकर चीफ कॉपी एडिटर सुनील मिश्रा की अगुवाई में शुरू हुई लड़ाई दिनोंदिन तेज होती जा रही है। हालाँकि सुनील ने प्रबंधन के मनाने पर भले ही अपने कदम पीछे खींच लिए मगर मजीठिया की लड़ाई उनके अन्य साथी पूरी ताकत से लड़कर हिंदुस्तान प्रबंधन की नींद हराम किये हैं।

मैं तो अपने कप्तान के खिलाफ भी एफआईआर लिखने से न झिझकता : अमिताभ ठाकुर

Amitabh Thakur : जब मैं 1996 में एसपी सिटी मुरादाबाद था तो मैं एक मामले में एफआईआर दर्ज करने की बात कह रहा था क्योंकि कोई व्यक्ति खुद को पीड़ित बता कर अपनी एफआईआर लिखवाना चाहता था. मेरे सीनियर एसएसपी मुरादाबाद एफआईआर नहीं चाहते थे, कहीं से कोई दवाब था.

मोदी और नीतीश जैसों ने हर स्तर पर लोकतंत्र का बैंड बजा रखा है…

Pushya Mitra : मनोहर पर्रिकर और राजनाथ सिंह जैसे ताकतवर मंत्रियों का राज्य में मुख्यमंत्री की कुर्सी थामने के लिये उतावलापन बता रहा है कि हाल के दिनों में किस तरह बहुत तेजी से सत्ता का केंद्रीकरण हो रहा है। PMO और CMO जैसी संस्थाओं में आजकल पूरी सरकार केंद्रित हो जा रही है। सारा काम वहीँ से निर्देशित हो रहा है। मंत्रियों के पास अब कोई काम नहीं रहा है, फाइलों पर दस्तखवत करने के सिवा। उनके पास अब इतना ही पॉवर रहा है कि अपने कुछ लोगों को लाभ दिला सकें। कुछ टेंडर वगैरह पास करवा सकें।

आजतक की अहमदाबाद ब्यूरो चीफ गोपी घांघर को पता था यूपी में भाजपा 300 से उपर सीट लाएगी!

Vikas Mishra : ये हैं गोपी घांघर। अहमदाबाद में हमारे चैनल की ब्यूरो चीफ। लंबे वक्त से गुजरात की राजनीति को करीब से देख रही हैं। पिछले दिसंबर महीने में एजेंडा आजतक में आई थीं, तब गोपी ने उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सीटों का आकलन किया था। गोपी ने कहा था कि मोदी और अमित शाह यूपी में करामात करने वाले हैं, बीजेपी को तीन सौ के आसपास सीटें मिलेंगी।

आलोक तोमर स्मृति विमर्श : 19 मार्च चार बजे कांस्टीट्यूशन क्लब पहुंचिए

Supriya Roy : आलोक तोमर को गये हुये 6 बरस हो रहे हैं। प्रति वर्ष सब मित्रगणों की ओर से आलोक की स्मृति में एक विषय पर विमर्श आयोजित होता है। इस बार यह कार्यक्रम रविवार 19 march अपरान्ह ठीक चार बजे स्पीकर हॉल, कॉंस्टीट्यूशन क्लब एनेक्सि, रफ़ी मार्ग पर हो रहा है।

‘गोरख धंधा’ शब्द का इस्तेमाल करने पर एबीपी न्यूज को भेजा नोटिस

सेवा में,
श्री मान मुख्य सम्पादक महोदय जी,
ABP न्यूज़ चैनल

विषय :- ‘गोरख धंधा’ शब्द का इस्तेमाल ना करने और इस संबंध में स्पष्टीकरण प्रसारित करने के बारे में.

श्री मान जी,

उपरोक्त विषय में आपको सूचित किया जाता है कि आपके चैनल द्वारा पंजाब के मनसा की खबर “पेट्रोल पम्प पर गोरख धंधा” (समाचार क्लिप संलग्न है) दिखाई गई जिसमें कई बार आपके चैनल के रिपोर्टर / वायस ओवर करने वाले ने गोरखधंधा शब्द का प्रयोग किया है और इसके साथ-साथ मनसा पुलिस के प्रवर पुलिस अधीक्षक ने भी ‘गोरख धन्धा’ शब्द का प्रयोग किया है.

इस सीट पर ईवीएम से छेड़छाड़ न कर सके तो हार गई भाजपा!

Ashwini Kumar Srivastava : यह है मेरठ की उसी सीट से जुड़ी खबर, जिस पर भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी इस भयंकर मोदी तूफ़ान में भी हार गए थे। ईवीएम के साथ वीवीपीएटी की चाक चौबंद व्यवस्था में यहाँ 11 फ़रवरी को मतदान हुआ। इसके बाद जहाँ ईवीएम मशीन रखी गयी, वहां हर समय मौजूद रहने वाले व्यक्ति की लाश गटर में मिली। यानी इस बात की पूरी सम्भावना है कि मतदान के बाद यहाँ रखी ईवीएम से छेड़छाड़ की कोशिश की गयी, जिसे इस व्यक्ति ने देख लिया और इसी के चलते यह हत्या हो गयी।

विपक्ष के हर मुद्दे और आरोप पर जवाब देने के लिए न्यूज चैनल एड़ी-चोटी का जोर लगा देते हैं!

Ashwini Kumar Srivastava : भाजपा को ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती… विपक्ष के हर मुद्दे और आरोप पर जवाब देने के लिए मीडिया ही एड़ी-चोटी का जोर लगा देता है… अब देखिये, जैसे ही मायावती ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके ईवीएम पर अपने आरोपों को दोहराया, ऐन उसी वक्त टीवी चैनलों पर ईवीएम को अभेद्य साबित करने के लिए होड़ मच गयी…

ब्राम्हणवादी मीडिया… वाशिन्द्र मिश्र को उस दिन की अपनी फुटेज जरूर दिखानी चाहिए!

NEW DELHI: लक्ष्मीकान्त वाजपेई की जगह जब 2016 में ओबीसी नेता केशव प्रसाद मौर्य को बीजेपी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था तो ब्राम्हणवादी मीडिया ने उन्हें न जाने क्या क्या कहा था. अमित शाह के फैसले पर सवाल उठाये थे. जी न्यूज़ के एक रीजनल चैनल के संपादक वाशिन्द्र मिश्र को उस दिन की अपनी फुटेज जरुर दिखानी चाहिए जिन्होंने ब्राम्हण होने के नाते केशव को कमजोर दिखाने की पूरी कोशिश की.

Re-open the case against Dr. B. N. Goswami and Chabi Bardhan

atrocity, conspiracy, harassment, robbery of my salary… Misuse of government property and Power

To,
The Commissioner of Police,
Near Pune Station, Pune 411001

Subject: Re-open the case against Dr. B. N. Goswami (retired director of IITM, Pune) and Chabi Bardhan for atrocity, conspiracy, harassment, robbery of my salary, Misuse of government property and Power

Respected sir,

मजीठिया वेज बोर्ड मांगने वाले पत्रकार को एमपी पुलिस ने 31 घंटे तक अवैध हिरासत में रखा

प्रति,
श्रीमान् प्रधान संपादक महोदय
भड़ास मीडिया

पत्रकार के साथ पुलिस की गुंडागर्दी का मामला आपके संज्ञान में लाना चाहता हूं… मैं पत्रकार विपिन नामदेव बताना चाहूंगा कि मेरे पिताजी को पुलिस वाले 04/03/2017 को सुबह 04:10 मिनट पर उठा के ले गये. घर की महिलाओं के साथ गाली गलौज की. इसका कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है. मैं पुलिस के पास शाम 05:30 पर पहुंचा तो मुझे बिठाकर पिताजी को छोड़ दिया गया.

Cheating and harassment by travel agent in delhi

Dear Sir,

My name is Charanjeet Singh resident of New Delhi. I had applied for Canada Permanent Residency from Aptech Global Immigration Services Pvt Ltd. In New Delhi on 9th May 2016. Aptech Global Immigration Services Pvt Ltd. Address (408, 4th Floor, Westend Mall, Janakpuri West, New Delhi-110058).

Mr. Aman mobile number: 7503832132
Landline: 011-46254693

पहले प्रदीप संगम, फिर ओम प्रकाश तपस और अब संतोष तिवारी का जाना….

एक दुर्भाग्यपूर्ण संयोग या दुर्योग, जो कहिए… मेरे ज्यादातर प्रिय पत्रकारों का समुदाय धीरे-धीरे सिकुड़ता छोटा होता जा रहा है… दो-तीन साल के भीतर एकदम से कई जनों का साथ छोड़कर इस संसार को अलविदा कह जाना मेरे लिए स्तब्धकारी है… पहले आलोक तोमर, फिर प्रदीप संगम, उसके बाद ओमप्रकाश तपस और अब संतोष तिवारी… असामयिक रणछोड़ कर चले जाना या जीवन के खेल में आउट हो जाना हर बार मुझे भीतर तक मर्माहत कर गया… सारे पत्रकारों से मैं घर तक जुड़ा था और प्यार दुलार का नाता बहुत हद तक स्नेहमय सा बन गया था… इनका वरिष्ठ होने के बाद भी यह मेरा सौभाग्य रहा कि इन सबों के साथ अपना बोलचाल रहन-सहन स्नेह से भरा रसमय था… कहीं पर कोई औपचारिकता या दिखावापन सा नहीं था… यही कारण रहा कि इनके नहीं होने पर मुझे खुद को समझाने और संभलने में काफी समय लगा…

उर्दू अख़बारों का फर्ज़ीवाड़ा

डीएवीपी में अपने अख़बार को इम्पैनल कराने के लिए उर्दू अख़बार वाले तबियत से झूठ का सहारा लेते हैं

डीएवीपी में फर्ज़ीवाड़ा करने वालों पर शिकंजा कैसे जाने की ख़बर से बहुत खलबली है. काग़ज़ों पर चलने वाले अख़बारों और अपने समाचारपत्र का सर्कुलेशन दसों हज़ार में बताने वालों में बैचेनी है. अगर ईमानदारी से कार्रवाई हुई तो दर्जनों अख़बारी घपलेबाज़ों को रिकवरी के नाम पर अपने मकान बेचने पड़ जायेंगे. वेसे तो फर्ज़ीवाड़ा करके सरकारी विज्ञापन का पैसा हड़पने में सभी भाषाओँ के अख़बारों का हिस्सा है लेकिन इसमें उर्दू अख़बार किसी से काम नहीं हैं.

‘इंडियन एक्सप्रेस’ अखबार ने गोवा-मणिपुर के राज्यपालों और सुप्रीम कोर्ट की आलोचना की

Om Thanvi : इंडियन एक्सप्रेस का आज दो टूक सम्पादकीय…. गोवा और मणिपुर में राज्यपालों को पहले सबसे बड़ी पार्टी के नाते कांग्रेस को सरकार बनाने को आमंत्रित करना चाहिए था। गोवा की राज्यपाल का आचरण प्रश्नाकुल है। उन्होंने समर्थन के जिन पत्रों के आधार पर पर्रिकर को मुख्यमंत्री पद की शपथ का न्योता दे दिया, वे भाजपा के साथ किसी गठबंधन में शरीक़ नहीं थे। बल्कि उनमें एक पार्टी गोवा फ़ॉर्वर्ड पार्टी ने भाजपा के ख़िलाफ़ अभियान छेड़ा था।

पीटीआई यूनियन लीडर एमएस यादव की कारस्तानी : फेडरेशन की एक करोड़ की संपत्ति बेटे को सौंपा!

देश की जानी मानी न्यूज़ एजेंसी प्रेस ट्रस्ट ऑफ़ इंडिया की फेडरेशन ऑफ़ पीटीआई एम्प्लाइज यूनियंस के महासचिव महाबीर सिंह यादव पर कई गंभीर किस्म के आरोप लगे हैं. महाबीर सिंह यादव उर्फ एमएस यादव की मनमानी के कई किस्से सामने आ रहे हैं. लगभग एक करोड़ रूपये से अधिक कीमत की फेडरेशन की प्रॉपर्टी को इन महाशय ने गलत तरीके से अपने बेटे के नाम पर करा दिया. एमएस यादव की हरकतों से पीटीआई इंप्लाइज फेडरेशन का अस्तित्व खतरे में है.

मायावती का दलित वोट बैंक क्यों खिसका?

हाल में उत्तर प्रदेश में हुए विधान सभा चुनाव में मायावती और उनकी बहुजन समाज पार्टी की बुरी तरह से हार हुयी है। इस चुनाव में उसके बहुमत से सरकार बनाने के दावे के विपरीत उसे कुल 19 सीटें मिली हैं जिनमें शायद केवल एक ही आरक्षित सीट है। उसके वोट प्रतिशत में भी भारी गिरावट आयी है। एनडीटीवी के विश्लेषण के अनुसार इस चुनाव में उत्तर प्रदेश में बसपा को दलित वोटों का केवल 25% वोट ही मिला है जबकि इसके मुकाबले में सपा को 26% और भाजपा को 41% मिला है। दरअसल 2007 के बाद बसपा के वोट प्रतिशत में लगातार गिरावट आयी है जो 2007 में 30% से गिर कर 2017 में 22% पर पहुँच गया है। इसी अनुपात में बसपा के दलित वोटबैंक में भी कमी आयी है। अभी तो बसपा के वोटबैंक में लगातार आ रही गिरावट की गति रुकने की कोई सम्भावना नहीं दिखती। मायावती ने वर्तमान हार की कोई ईमानदार समीक्षा करने की जगह ईवीएम में गड़बड़ी का शिगूफा छोड़ा है। क्या इससे मायावती इस हार के लिए अपनी जिम्मेदारी से बच पायेगी या बसपा को बचा पायेगी?

Privacy Policy

Privacy policy – Bhadas4Media

Please read this Privacy Policy very carefully. This contains important information about Your rights and obligations. This Privacy Policy sets out the manner in which Bhadas4Media.com (hereinafter referred to as “Bhadas4Media”, “We”, “Us”) collects, uses, maintains and discloses information collected from the users of our mobile or desktop application (hereinafter referred to as ‘You’, ‘Your’, ‘User’). This Privacy Policy applies to the Bhadas4Media mobile or desktop application software/ technology (hereinafter referred as “App”) which is owned by Bhadas4Media. By downloading, installing or using or by registering Your profile with the App, You are consenting to the use, collection, transfer, storage, disclosure and other uses of Your information in the manner set out in this Privacy policy.

होली में हुड़दंग की सूचना पुलिस को देना भारी पड़ गया पत्रकार को

वाराणसी। पत्रकार विनय कुमार मौर्य के साथ शिवपुर के कार्यकारी थानाध्यक्ष अनिल कुमार सिंह द्वारा दुर्ब्य्वाहर एवं फर्जी तरीके से 151 की कार्रवाई कर चालान किये जाने के मामले में आक्रोशित पत्रकार प्रेस परिषद् वाराणसी के दर्जनों पत्रकार सिटी एसपी श्री राजेश यादव से मिले। इन्होंने मामले को गंभीरता से लेते हुए सीओ कैंट राजकुमार यादव को तत्काल प्रभाव से मामले की जाँच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिए। एसपी सिटी ने कहा कि पत्रकार के खिलाफ दुर्व्यवहार करने वाले दारोगा अनिल कुमार सिंह के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

महिला पत्रकार और उनकी बहन से बनारस में खुलेआम पांच लफंगों ने की छेड़छाड़, 100 नंबर काम न आया

Arundhati Pal : वाह रे बनारस की व्यवस्था.. वाह रे बनारस के लोग… शर्म आ गयी आज बनारसी होने पर. बड़े गर्व के साथ बनारस का नाम लेती थी लेकिन आज जब होली के मौके पर बनारस आई तो शर्म आ गयी। आज करीब 8.30 बजे लंका के पास मेरे और मेरी बहन के साथ कुछ 5 लड़कों ने मिल कर सरेआम छेड़खानी शुरू कर दी.. वहाँ मौजूद मेरे पुरुष मित्र के मना करने पर उन्होंने मारपीट गालीगलौज शुरू कर दी..

‘श्री न्यूज’ चैनल का लाइसेंस रद्द

केंद्र सरकार ने श्री न्यूज नामक हिन्दी न्यूज चैनल का लाइसेंस रद्द कर दिया है. इस बाबत सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने आदेश जारी किया है. श्री न्यूज चैनल का संचालन ‘सॉफ्टलाइन मीडिया’ नामक कंपनी के बैनर तले किया जा रहा था. इस कंपनी में ईश्वर प्रकाश गुप्ता डायरेक्टर और शरद केसरवानी एवं ऋषि अरोरा एडिशनल डायरेक्‍टर हैं.

फागुन में गाली के रंग अनेक…

प्रवीण कुमार सिंह

‘गाली के जवाब में गोली चल जाती है।’ ये पान सिंह तोमर में इरफान खान बोलते हैं। एक और पुरानी कहावत है कि बोली पर गोली चल जाती है। बोली कोई भी हो। वो बिना गाली के नहीं हो सकती है। जैसें बोली से पता चलता है। कि इंसान सभ्य है कि असभ्य है। पढ़ा-लिखा है कि बिना पढ़ा-लिखा है। ये वर्गीय विभाजन गाली में भी है। पढ़ा लिखा षुद्ध भाषा में गाली देगा। जबकि बिना पढ़ा-लिखा बेचारा ठेठ देसज अंदाज में गाली देता है।

माया बुआ भी सोचतै रहिगै बबुआ के संग होरी खेलब…

आवा हो भइया होली मनाई

अब तो गावन कै लड़िका भी पप्पू टीपू जानि गएन,
‘यूपी को ये साथ पसन्द है’ ऐह जुम्ला का वो नकार दहेन,
माया बुआ भी सोचतै रहिगै बबुआ के संग होरी खेलब,
पर ‘मुल्ला यम ‘ कै साइकिलिया का लउड़ै हवा निकार देहेन,
बूढ़ी हाथी बैठ गई और साइकिल भी पंचर होइ गै,
जिद्दी दूनौ लड़िकै मिलिके माया मुलायम कै रंग अड़ाय गै,
राजनीति छोड़ा हो ननकऊ आवा हम सब गुलाल लगाई,
फगुनाहट कै गउनई गाय के आवा हो भइया होली मनाई,

प्रशांत किशोर की उस्तादी खतरे में, धंधा बंद होने की कगार पर

-निरंजन परिहार-

देश के राजनीतिक पटल पर चुनाव प्रबंधन के उस्ताद के रूप में अचानक प्रकट हुए प्रशांत किशोर की उस्तादी खतरे में है। उनके चुनावी फंडे फालतू साबित हुए और खाट बिछाने के बावजूद कांग्रेस की खटिया खड़ी खड़ी हो गई। आनेवाले दिन प्रशांत किशोर के लिए भारी संकट से भरे होंगे। कांग्रेस की करारी हार के बाद अब चुनावों में उन्हें कोई काम मिल जाए, तो उनकी किस्मत। 

सारे न्यूज़ चैनल भाजपा के जरखरीद गुलाम बन गए हैं!

Dayanand Pandey : कि पेड न्यूज़ भी शरमा जाए…. आज का दिन न्यूज़ चैनलों के लिए जैसे काला दिन है, कलंक का दिन है। होली के बहाने जिस तरह हर चैनल पर मनोज तिवारी और रवि किशन की गायकी और अभिनय के बहाने मोदियाना माहौल बना रखा है, वह बहुत ही शर्मनाक है। राजू श्रीवास्तव, सुनील पाल आदि की घटिया कामेडी, कुमार विश्वास की स्तरहीन कविताओं के मार्फ़त जिस तरह कांग्रेस आदि पार्टियों पर तंज इतना घटिया रहा कि अब क्या कहें।

यशवंत का विकास, ब्रह्मांड और अध्यात्म चिंतन

Yashwant Singh : ब्रह्मांड में ढेर सारी दुनियाएं पृथ्वी से बहुत बहुत बहुत पहले से है.. हम अभी एक तरह से नए हैं.. हम अभी इतने नए हैं कि हमने उड़ना सीखा है.. स्पीड तक नहीं पकड़ पाए हैं.. किसी दूसरे तारे पर पहुंचने में हमें बहुत वक्त लगेगा.. पर दूसरी दुनियाएं जो हमसे बहुत …

बैंक ट्रांजैक्शन चार्ज के खिलाफ 6 अप्रैल को बैंक से कोई ट्रांजैक्शन न करें

कृपया सपोर्ट करें… बैंक ट्रांजैक्शन चार्ज के खिलाफ आवाज उठायें… 06 अप्रैल 2017 को कृपया बैंक से कोई ट्रांजेक्शन ना करें ताकि बैंक को पब्लिक का पावर पता चल सके. इस विरोध के कारण शायद बैंक चार्जेज हटा भी दें जो बैंकों ने अभी अभी नया लगाया है. अगर आज हम लोग एक साथ नहीं आये तो आने वाले दिनों में बैंक नए चार्जेज लगाने से नहीं डरेगी. पैसा अपना है तो फिर पैसा लेते वक़्त हम किस बात का चार्ज दें?

संजय निधि बने दैनिक जागरण सोनीपत के ब्यूरो चीफ

सोनीपत दैनिक जागरण का ब्यूरो चीफ संजय निधि को बनाया गया. संजय निधि वर्ष 2011 में सोनीपत में वरीय संवाददाता पद पर थे. उन्होंने बाद में प्रभात खबर भागलपुर में ज्वाइन किया था. प्रभात खबर में लगातार काम करने के बाद वर्ष 2015 में उन्होंने भागलपुर में ही दैनिक भास्कर ज्वाइन कर लिया था. वहां उनके मित्र राजेश रंजन स्थानीय संपादक बने थे.

यूपी में भाजपा विधायक ने सीओ को धमकाया

यूपी में भारी बहुमत पाने वाली भाजपा की छवि पर पलीता लगाने का काम उसके कुछ नए बने विधायकों ने शुरू कर दिया है. सत्ता के नशे में चूर इन विधायक महोदय को मर्यादा का खयाल नहीं है. इस आडियो में सुनिए एक भाजपा विधायक (सवायजपुर, हरदोई) की सीओ (शाहाबाद, हरदोई) से बातचीत. लोग इस …

मायावती का खेल खत्म ही समझो : कंवल भारती

याद कीजिये मेरी 26 जनवरी की इस पोस्ट को…

”आज बसपा के एक जमीनी नेता से बात हुई, वह बहिन मायावती से बहुत नाराज दिखे. उन्होंने अपनी नाराजगी में दो सवाल तुरंत दाग दिए- 1. जब बहिन जी ने अंसारी बंधुओं को टिकट देने में कोई संकोच नहीं किया तो स्वामी प्रसाद मौर्य को तीन टिकट क्यों नही दिए, जबकि वह बीस साल से उनके साथ था? 2. मुसलमानों को 97 टिकट किस राजनीति के तहत दिए, जबकि यह स्पस्ट है कि वे मुस्लिम वोट ही डिवाइड करेंगे, और उसका लाभ भाजपा को होगा. मैंने कहा, आप कहना क्या चाहते हैं? उन्होंने जवाब दिया, बहिन जी भाजपा के दबाव में हैं. और वह अपने भाई को बचाने के लिए भाजपा की तरफ से खेल रही हैं. उन्होंने यहाँ तक कहा कि भाजपा ने सुरक्षित सीटों पर सबसे ज्यादा जाटव और चमार जाति के लोगों को ही टिकट दिए हैं. बोले, पूछो क्यों? मैंने कहा, क्यों? वह बोले, इसलिए कि बसपा का वोट डिवाइड हो, और वह कमजोर हो. मैंने कहा, फिर? वह बोले, फिर क्या, बसपा खत्म.”

2009 में कांग्रेस जीती थी तो बीजेपी के बड़े नेताओं ने EVM का रोना रोया था, देखें सुबूत

Abhishek Srivastava : सबसे ऊपर बीजेपी के प्रवक्ता जी वी एल नरसिम्हा राव हैं जिन्हें आप दिन रात टीवी पर देखते हैं। नीचे एक किताब का कवर है जो इन्होंने लिखी है और उस किताब की भूमिका लालकृष्ण आडवाणी ने, जो अब मार्गदर्शक मंडल का हिस्सा हैं पार्टी में।

सच ये है कि मोदी अब एक ब्रैंड में बदल गए हैं : राणा यशवंत

उत्तर प्रदेश से जो जनादेश है उसका चाहे जितना पोस्टमार्टम कर लें, खुद बीजेपी के लिये भी ये समझ पाना मुश्किल है कि ऐसा हुआ कैसे! लेकिन सुनामी आई और इसने कई जकड़बंदियों, राजनीतिक रिवाजों, फरेब के हवाईकिलों और बेहूदगियों-बदज़ुबानियों को ध्वस्त कर दिया. सामाजिक न्याय के नाम पर जातियों को अपनी जागीर बनानेवाले नेताओं …

दीपक गंभीर ने ईटीवी, जबलपुर से दिया इस्तीफा

खबर है कि ईटीवी, जबलपुर ब्यूरो से दीपक गंभीर ने इस्तीफा दे दिया है. सूत्रों का कहना है कि उनकी एमपी के नए संपादक प्रवीण दुबे से नहीं पट रही थी. नए संपादक प्रवीण दुबे अपनी टीम बनाने में लगे हैं. ज़ी न्यूज़ के स्ट्रिंगर प्रतीक अवस्थी को ज्वाइन कराया है रिपोर्टर के तौर पर. …

अब कैडर परिवर्तन नहीं चाहते आईपीएस अमिताभ ठाकुर

यूपी कैडर आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर अब उत्तर प्रदेश से अपना कैडर परिवर्तन नहीं चाहते हैं. आज उन्होंने सचिव, गृह मंत्रालय, भारत सरकार को पत्र भेज कर कहा कि उन्होंने पूर्व में मुलायम सिंह धमकी के बाद उन्हें और उनके परिवार को कई अत्यंत ताकतवर लोगों से जान को वास्तविक खतरा होने की बात कहते हुए कैडर परिवर्तन हेतु प्रेषित प्रत्यावेदन दिया है.

लखनवी ठग मैक मलिक मोहम्मद की कारस्तानी थाईलैंड में गूंज रही (देखें वीडियो)

आरोपी मैक मलिक की तस्वीर पर ठगी की कहानी को लिखकर भड़ास के पास भेजा है पीड़ित प्रणव ने.

मैक मलिक मोहम्मद नामक लखनऊ का एक ठग थाईलैंड में ऐसा कुछ कर भागा है कि वहां के लोग उसकी ठगी की कहानी सुनाते फिर रहे हैं. प्रणव नामक एक युवक और उनकी टीम को थाईलैंड में मिस इंडिया और मिस्टर इंडिया कंपटीशन कराने का जिम्मा दिया गया. यह काम सौंपा मैक मलिक मोहम्मद ने. इवेंट खत्म होने पर प्रणव और उसकी टीम के हिस्से का पैसा हड़प कर मैक मलिक मोहम्मद भाग गया. प्रणव के पास ढेर सारे चैट, स्क्रीनशाट आदि हैं जिससे साबित होता है कि उनका बकाया दिए बगैर मिस इंडिया और मिस्टर इंडिया कंपटीशन से मिले अच्छे खासे पैसे को लेकर मैक मलिक भाग गया.

हाथ पर प्लास्टर चढ़ाए नीरज पटेल पहुंचे उरई कोतवाली (देखें तस्वीरें)

न्यूज़ नेशन चैनल में यूपी इनपुट पर कार्यरत रहे नीरज पटेल हाथ पर पलस्तर चढ़ाए बीते दिनों यूपी के उरई कोतवाली पहुंच गए. वहां उन्होंने कोतवाली उरई के निरीक्षक संजय गुप्ता को बताया कि उनका हाथ प्रिंस कुशवाहा ने तोड़ा है, उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की जाए. नीरज पटेल पूरी तैयारी से आए थे. वे …

दिल्ली की श्रम अदालत ने दैनिक जागरण पर ठोंका दो हजार रुपये का जुर्माना

जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड मामले से जुड़े दिलीप कुमार द्विवेदी बनाम जागरण प्रकाशन मामले में दिल्ली की कड़कड़डूमा श्रम न्यायालय ने दैनिक जागरण पर दो हजार रुपये का जुर्माना ठोंक दिया है। इस जुर्माने के बाद से जागरण प्रबंधन में हड़कंप का माहौल है। बताते हैं कि गुरुवार को दिल्ली की कड़कड़डूमा श्रम न्यायालय में दैनिक जागरण के उन 15 लोगों के मामले की सुनवाई थी जिन्होंने मजीठिया बेज बोर्ड की मांग को लेकर जागरण प्रबंधन के खिलाफ केस लगाया था। इन सभी 15 लोगों को बिना किसी जाँच के झूठे आरोप लगाकर टर्मिनेट कर दिया गया था। गुरुवार को जब न्यायालय में पुकार हुयी तो इन कर्मचारियों के वकील श्री विनोद पाण्डे ने अपनी बात बताई।

एक औघड़ की आह से तबाह होना ही था अखिलेश राज को!

यूपी में रक्तहीन क्रांति पर भड़ास एडिटर यशवंत की त्वरित प्रतिक्रिया- ‘मीडियाकर्मियों का अंतहीन उत्पीड़न करने वाले अखिलेश राज का खात्मा स्वागत योग्य’

Yashwant Singh : यूपी में हुए बदलाव का स्वागत कीजिए. सपा और बसपा नामक दो लुटेरे गिरोहों से त्रस्त जनता ने तीसरे पर दाव लगाया है. यूपी में न आम आदमी पार्टी है और न कम्युनिस्ट हैं. सपा और बसपा ने बारी बारी शासन किया, लगातार. इनके शासन में एक बात कामन रही. जमकर लूट, जमकर झूठ, जमकर जंगलराज और जमकर मुस्लिम तुष्टीकरण. इससे नाराज जनता ने तीसरी और एकमात्र बची पार्टी बीजेपी को जमकर वोट दिया ताकि सपा-बसपा को सबक सिखाया जा सके.

चैनलों पर नजर रखने वाले केंद्र सरकार के दर्जनों मीडियाकर्मी उतरे सड़क पर (देखें वीडियो-तस्वीरें)

देश भर के चैनलों, खासकर न्यूज चैनलों पर नजर रखने के लिए सूचना एवं प्रसारम मंत्रालय के अधीन गठित इलेक्ट्रानिक मीडिया मानीटरिंग सेंटर (EMMC) में कार्यरत दर्जनों मीडियाकर्मियों की हालत पर किसी की नजर नहीं है. ये अन्याय और शोषण के शिकार हैं. इनकी नौकरी हर वक्त खतरे में रहती है क्योंकि इन्हें ठेके पर रखकर बंधुआ मजदूर की तरह काम लिया जाता है और हमेशा आतंकित रखा जाता है.

महिला पत्रकार ने अपने स्टेट हेड पर लगाए कई गंभीर आरोप

छत्तीसगढ़ में चैनल और अखबार बने उगाही का जरिया… न्यूज चैनल /अखबारों के रिपोर्टर व पत्रकार हो रहे शोषण के शिकार… पत्रकार संगठनों की भूमिका पर भी उठे सवाल..

आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने अखिलेश यादव के संरक्षण में हुए एक बड़े घोटाले का किया भंडाफोड़

Surya Pratap Singh : उद्योग मंत्री/ मुख्य मंत्री के संरक्षण में उत्तर प्रदेश में UPSIDC बना एक घोटालों का अड्डा…. मुख्यमंत्री/उद्योग मंत्री अखिलेश की नाक के नीचे UPSIDC में रु. २०,००० करोड़ का भूमि घोटाला हुआ हैं….मनमाने ढंग से साक्षात्कार के माध्यम से भू आवंटन किया गया है …. साक्षात्कार का मतलब रिश्वत की सौदागिरी !!!
मुख्यमंत्री/ उद्योग मंत्री अखिलेश यादव ने अपने मित्र के नाम पर ‘स्टील प्लांट’ लगाने के लिए UPSIDC के सिकंदराबाद औद्योगिक क्षेत्र में 111 ऐक़ड भूमि बिना किसी टेंडर पर वर्ष २०१३-२०१४ में औने-पौने मूल्य/बहुत सस्ते में वर्ष २०१४ में आवंटित की गयी है ….. जिसकी जाँच आने वाली सरकार क्या जाँच कराएगी ? मेरे इस सम्बंध में निम्न प्रश्न हैं:

बहुत उदार और उदात्त है यूपी पुलिस, थाने से भाग जाने देती है लफंगों को (देखें वीडियो)

यूपी की बहादुर पुलिस खुद भले चोर बदमाश न पकड़ पाए लेकिन जब कोई दूसरा पकड़ कर पुलिस को सौंपता है तो पुलिस वाले पूरी उदारता बरतते हुए उसे चले जाने देते हैं… शायद इसीलिए कहा जाता है चोर पुलिस मौसेर भाई.. नीचे कमेंट बाक्स में दिए गए एक वीडियो को देखिए…

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के प्रभाग EMMC में मीडियाकर्मियों ने किया कार्य बहिष्कार

खबर आ रही है कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीन इलेक्ट्रॉनिक मीडिया मॉनिटरिंग सेन्टर यानि ईएमएमसी के कर्मचारियों ने हड़ताल कर दिया है. ये लोग अपनी दयनीय स्थिति सुधारने के लिए काफी समय से लड़ रहे हैं लेकिन उनकी कहीं सुनवाई तो हो नहीं रही, उल्टे अफसर कई किस्म का शिकंजा कसते जा रहे हैं. कर्मचारी हित के कई मामलों को लेकर जब अधिकारियों ने नकारात्मक रवैया अपनाए रखा तो अंत में ईएमएमसी के कर्मियों ने काम करने से इनकार कर दिया.

शिकायत वापस लेने वाले भी डीएलसी से बोले- नहीं मिल रहा मजीठिया का लाभ

बरेली से खबर आ रही है कि हिंदुस्तान के जिन तीन कर्मचारियों से 7 जनवरी को प्रबंधन ने डीएलसी कार्यालय ले जाकर केस फाइल पर गुपचुप तरीके से शिकायत वापसी के लिए लिखवा के चस्पा करा दिया था, उन तीनों को डीएलसी के सख्त रुख के चलते प्रबंधन को पेश करना पड़ गया।

दुनियादारी की हाय हाय में कुछ पल संगीत, भजन, बुद्धत्व, मोक्ष, मुक्ति के नाम…

Yashwant Singh : आज मोबाइल से फोटो वीडियो डिलीट कर रहा था तो एक वीडियो बचा लिया. यह वीडियो मैंने अपने मोबाइल से इंदौर में बनाया था. मौका था वरिष्ठ पत्रकार रवींद्र शाह की स्मृति में आयोजित कार्यक्रम का. इस वीडियो को यूट्यूब पर अपलोड किया.

जी न्यूज नंबर तीन पर पहुंचा, डीडी न्यूज ग्यारहवें नंबर पर लुढ़का

केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद कहा गया कि डीडी न्यूज अब प्रोफेशनली काम करेगा और वह प्राइवट न्यूज चैनलों को भी मात देगा. इसके लिए ढेर सारी कवायद की गई. बजट से लेकर स्टाफ तक में वृद्धि की गई. लेआउट, डिजाइन, कंटेंट, प्रसारण अधिकार तक को ठीकठाक किया गया लेकिन डीडी न्यूज का कुछ भला नहीं हुआ.

इस ग़ज़ब की खबर के लिए भास्कर के महान मालिकों और संपादकों को एक सलाम तो बनता है :)

दैनिक भास्कर अखबार के मालिक और संपादक लोग महानता की ऐसी राह पर चल पड़े हैं जहां उन्हें लगता है कि वे जो भी कह कर देंगे, वही दुनिया फालो करेगी, उसी राह पर चलेगी और उसी को पत्रकारिता मानेगी. तभी तो इस अखबार के मालिक और संपादक ऐसी ऐसी खबरें छापने लगे हैं जिसे पढ़ देखकर लोग कहते हैं क्या अब ऐसी ही खबरें छापने के लिए अखबार बचे रहेंगे? इससे अच्छा तो है कि ये अखबार बंद हो जाएं ताकि पेड़ पर्यावरण बचे और झूठ की दुकान का कारोबार कम हो जाए.

संजय द्विवेदी द्वारा संपादित पुस्तक ‘मीडिया की ओर देखती स्त्री’ का लोकार्पण

भोपाल। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल में जनसंचार विभाग के अध्यक्ष संजय द्विवेदी द्वारा संपादित किताब ‘मीडिया की ओर देखती स्त्री’ का लोकार्पण ‘मीडिया विमर्श’ पत्रिका की ओर से गांधी भवन, भोपाल में आयोजित पं. बृजलाल द्विवेदी स्मृति अखिल भारतीय साहित्यिक पत्रकारिता सम्मान समारोह में निशा राय (भास्कर डाटकाम), आर जे अनादि …

एक लाख रुपये वाला ‘कुलदीप नैयर सम्मान’ पत्रकार रवीश कुमार को देने की घोषणा

Om Thanvi : भाषाई पत्रकारिता के लिए स्थापित पहला कुलदीप नैयर सम्मान संजीदा पत्रकार रवीश कुमार को दिया जाएगा। प्रेस क्लब, दिल्ली में इसकी घोषणा आज सम्मान समिति के अध्यक्ष आशीष नंदी ने की। इस मौक़े पर कुलदीप नैयर भी मौजूद थे। सम्मान में प्रशस्ति के साथ एक लाख रुपए की राशि दी जाएगी।

काक्रोच क्लब आफ इंडिया में तब्दील हो गया पीसीआई! (देखें वीडियो)

प्रेस क्लब आफ इंडिया को अगर काक्रोच क्लब आफ इंडिया भी कह लें तो कोई बुरा न मानेगा क्योंकि एक तो वैसे ही होली नजदीक है और दूजे प्रेस क्लब की टेबल पर सरेआम काक्रोच घूमते टहलते और आपके खाने में मुंह मारते मिल जाएंगे. सबकी दुर्व्यवस्था की खोज खबर रखने वाले पत्रकारों के अपने ही क्लब का क्या हाल है, इसे देखने लिखने वाला कोई नहीं.

सूरज ने कई न्यूज चैनलों का प्रसारण रोका (देखें वीडियो)

ऐसा साल में दो बार होता है जब सूरज महाशय कई टीवी चैनलों का प्रसारण रोक देते हैं. असल में जब सैटेलाइट और धरती पर स्थित अर्थ स्टेशन दोनों ही सूरज के एक सीध में आ जाते हैं तो सूरज के जबरदस्त विकिरण और आग के कारण प्रसारण का काम रुक जाता है. उस दौरान …

…तो इसलिए लोग ब्रजेश मिश्रा को ‘ब्रेकिंग मिश्रा’ कहते हैं!

यूपी में सर्वाधिक खबरें ब्रेक करने का अगर किसी को श्रेय जाता है तो वो हैं ब्रजेश मिश्रा. ईटीवी यूपी को अपने कुशल नेतृत्व और धारदार खबरों के जरिए नंबर वन न्यूज चैनल बनाने वाले ब्रजेश इन दिनों ‘नेशनल वायस’ चैनल के एडिटर इन चीफ हैं. ‘नेशनल वायस’ चैनल को ब्रजेश मिश्र न छू क्या लिया, चैनल के अचानक भाग्य फिर गए. यह अनजान-सा चैनल देखते ही देखते सुर्खियों में आ गया. खबरों के मामले में सबसे ज्यादा यूपी की रीजनल ब्रेकिंग खबरें इसी चैनल पर दिखने लगीं.

‘अनारकली आफ आरा’ का क्लाइमेक्स 28 बार री-राइट किया गया : अविनाश दास

(फिल्म ‘अनारकली आफ आरा’ की हीरोइन स्वरा भास्कर के साथ फिल्म लेखक और निर्देशक अविनाश दास. फाइल फोटो)

‘अनारकली आफ आरा’ देश भर में 24 मार्च को रीलीज़ हो रही है। ‘नील बटे सन्नाटा’ के बाद स्वरा भास्कर की यह महत्वाकांक्षी सोलो फिल्म है। प्रोमोडोम कम्युनिकेशन्स के बैनर तले बनी इस फिल्म में उसने एक सड़कछाप गायिका का किरदार निभाया है। फिल्म का निर्देशन किया है अविनाश दास ने। अनारकली की कहानी भी उन्होंने ही लिखी है। इससे पहले अविनाश दास प्रिंट और टीवी के पत्रकार रहे हैं। उन्होंने आमिर ख़ान की ‘सत्यमेव जयते’ के लिए भी रिपोर्टिंग की है। ‘अनारकली’ में स्वरा भास्कर के अलावा संजय मिश्रा, पंकज त्रिपाठी और इश्तियाक़ ख़ान महत्वपूर्ण भूमिकाओं में हैं। फिल्म का अनोखा संगीत रचा है रोहित शर्मा ने, जिन्होंने ‘शिप आफ थिसियस’ में भी संगीत दिया था।

राजस्थान पत्रिका को लगा चूना

राजस्थान पत्रिका समूह अपने कर्मियों को मजीठिया वेज बोर्ड देने में आनाकानी कर उनका हक मार रहा है तो बदले में पत्रिका वालों का हक किसी दूसरे ने मार दिया है. किसने हक मारा, और कितना मारा, यह विस्तार से खुद पत्रिका अखबार ने बताया है, अपने यहां लंबा चौड़ा विज्ञापन छापकर… आप भी पढ़िए और दुआ करिए कि पत्रिका प्रबंधन को बुद्धि आ जाए जिससे वह दूसरों का हक खुद मारना बंद करे…..

‘नो नेगेटिव’ के नाम पर झूठे तथ्य पढवा रहा लुधियाना भास्कर

एक रोज सुबह सैर के बाद हम दोस्त पार्क में चाय पी रहे थे. तभी दैनिक भास्कर अखबार आया. हम सब नियमित पाठक हैं. खासकर सोमवार ‘नो नेगेटिव’ एडिशन के. लेकिन बड़ा अफसोस हुआ पढके. लुधियाना भास्कर में मुख्य खबर लगी कि सिंधवा नहर में विश्व का पहला सोलर‌ प्लांट‌ लग रहा है. हमने जब यह पढा तो गुजरात में कारोबार के सिलसिले में जाने वाला मेरा दोस्त बोला कि ये तो गलत है, गुजरात में तो नर्मदा नदी पर ऎसे‌ अनेक सोलर‌ प्लांट लग चुके हैं वो भी तब जब प्रधानमन्त्री नरेंदर मोदी वहां के मुख्यमंत्री थे. अब तो वो तीन साल से पीएम हैं.

लखनऊ की दलाल, शरणागत और चरणपादुका संस्कृति की पत्रकारिता का एक ताजा अनुभव

विष्णु गुप्त

क्या लखनऊ की पत्रकारिता अखिलेश सरकार की रखैल है? लखनऊ की पत्रकारिता पर अखिलेश सरकार का डर क्यों बना हुआ रहता है? अखिलेश सरकार के खिलाफ लखानउ की पत्रकारिता कुछ विशेष लिखने से क्यों डरती है, सहमती है? अखिलेश सरकार की कडी आलोचना वाली प्रेस विज्ञप्ति तक छापने से लखनऊ के अखबार इनकार  क्यों कर देते हैं? अब यहां प्रष्न उठता है कि लखनऊ के अखबार अखिलेश सरकार के खिलाफ लिखने से डरते क्यों हैं? क्या सिर्फ रिश्वतखोरी का ही प्रश्न है, या फिर खिलाफ लिखने पर अखिलेश सरकार द्वारा प्रताडित होने का भी डर है?

बिहार के कोसी क्षेत्र के छह वेब पोर्टल के संपादकों ने बनाया अपना संगठन

मधेपुरा : भारत में सोशल मीडिया और न्यूज पोर्टल्स के बढ़ते असर व चुनौतियों को देखते हुए बिहार के कोसी क्षेत्र से चलने वाली ऑनलाइन मीडिया ग्रुप के लोगों ने एक फोरम तैयार कर एकजुट होने की पहल की है. ऐसा होना कोसी की पत्रकारिता के लिए एक सुखद सन्देश है. जिन छह न्यूज पोर्टल के संपादकों ने मिलकर मंच तैयार किया है, उन पोर्टल के नाम इस प्रकार हैं-

अमर उजाला में पहले पेज पर छपी फर्जी खबर, हाजी महबूब को दिखाया मरहूम

अमर उजाला में पहले पेज पर छपी फर्जी खबर… हाजी महबूब को दिखाया मरहूम… हाजी महबूब ने जताई कड़ी आपत्ति… कहा कि फर्जी खबर का करें खण्डन नहीं तो करेंगे मान हानि का दावा… मामला फैज़ाबाद का है… अमर ऊजाला अखबार के प्रथम पेज पर बाबरी मस्जिद के मुद्दई हाजी महबूब को मरहूम/ मृतक दिखाये जाने पर हाजी महबूब ने जताई कड़ी आपत्ति…

महोबा में कई पत्रकारों के खिलाफ छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज

यूपी के महोबा से खबर है कि कई पत्रकारों के खिलाफ आईपीसी के सेक्शन 354 के तहत मुकदमा लिख दिया गया है. आरोप है कि आरोपी पत्रकार एक महिला पत्रकार के साथ अभद्रता करते थे और इसके घर तक पीछा कर गाली गलौच आदि करते थे. उल्टी सीधी हरकतें करना इन पत्रकारों पर भारी पड़ गया है और पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है.

Doordarshan celebrates International Women’s Day by deploying women officers as Operational Head

New Delhi : Doordarshan celebrates International Women’s Day by deploying women officers as Operational Head. Director General, Doordarshan plans to make this International Women’s Day memorable by deploying women officers as Operational Heads at thirty-three Doordarshan Kendras in five zones across India.

मजीठिया वेतनमान पाने के लिए संगठन के माध्यम से करें क्लेम

मजीठिया वेतनमान पाने के लिए सबसे पहले आपको श्रम विभाग में आवेदन करना पड़ेगा। इसके लिए सीए रिपोर्ट तो और अच्छी बात है नहीं तो खुद ही अपना शेष बकाया निकाल कर श्रम विभाग में निवेदन कर सकते हैं। हालांकि 17 (1) के तहत आवेदक को कही-कही श्रम विभाग निर्धारित प्रारूप में आवेदन मांगता है। कोशिश करें कि यहां प्रकरण का निराकरण हो जाए, कोर्ट ना जाए। कोर्ट प्रकरण तब जाता है जब किसी बात ऐसा विवाद हो जाता है जिससे क्लेम की विश्वसनियता या कर्मचारी ना होने या किसी अनसुलझे मुद्दे पर विवाद हो जाता है।

मोनिका शेखर ने लंबी पारी के बाद दैनिक जागरण को गुडबॉय बोला

नोएडा से खबर है कि मोनिका शेखर ने लंबी पारी के बाद दैनिक जागरण को टाटा बाय बाय कर दिया है. मोनिका करीब साढ़े दस साल से जागरण समूह के साथ कार्यरत थीं. बिहार के सीवान जिले की मूल निवासी मोनिका ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण, लुधियाना से बतौर ट्रेनी जर्नलिस्ट के रूप में की. 2008 में लुधियाना से नोएडा ट्रांसफर किया गया और उन्हें जागरण डाट काम में कामकाज की जिम्मेदारी दी गई जिसे उन्होंने करीब 7 साल तक निभाया.

मोदी का रोड शो और प्रसारण के अड्डों पर कब्जा

Uday Prakash : अभी सारे चैनलों में बनारस के रोड शो की कवरेज़ देख रहा था. जैसा इतालो काल्विनो ने कहा था कि सत्ताधारी हमेशा इस भ्रम में रहते हैं कि अगर उन्होंने सूचना-संचार माध्यमों के ‘प्रसारण के अड्डे’ (ट्रांसमिटिंग पॉइंट) पर कब्ज़ा जमा लिया है और अपने मन मुताबिक़ समाचार या सूचनाएं अपने जरखरीद मीडिया कर्मचारियों से प्रसारित-प्रचारित करवा रहे हैं, तो इससे ‘प्रसारण के लक्ष्य समूहों (यानी दर्शक, श्रोता) के दिमाग को प्रभावित और नियंत्रित कर रहे हैं।

बनारस में हो रही राष्ट्रीय पत्रकारिता का एक मजमून…

Ajay Prakash : बनारस में हो रही राष्ट्रीय पत्रकारिता का एक मजमून…

इन दिनों कई संपादक संवाददाता बन गए हैं। वह बनारस में जमे हुए हैं। उन्हीं में से किसी एक को मेरे एक जानकार से मेरा नंबर मिला।

उनका फोन आया, अब बात सुनिये…

सुभाष चंद्रा ने केजरीवाल पर मानहानि का मुकदमा ठोंका, कोर्ट ने नोटिस भेजा

Sheetal P Singh : सुभाष चन्द्रा ‘जी’ टेलिविज़न के विभिन्न अवतारों के मालिक हैं। इसके अलावा इनके तरह तरह के बिज़नेस हैं! पता चला कि उत्तर प्रदेश महाराष्ट्र हरियाणा और कुछ अन्य जगहों पर इनकी कंपनियाँ बड़ी सड़कों के निर्माण का काम भी करती हैं जो आजकल की मंदी के दौर में दुधारू गाय है! वे ख़बरों के जरिये ब्लैकमेल के एक आरोपी भी हैं पर देश के उन समर्थ लोगों में हैं जिन्हे क़ानून पकड़ने से पहले परिभाषा बदल लिया करता है!

राष्ट्रवाद एक मूर्खतापूर्ण विचार है : श्रीकांत अस्थाना

Shrikant Asthana : फिर दोहराना पड़ रहा है कि राष्ट्रवाद एक मूर्खतापूर्ण विचार है जो सिर्फ मनुष्य को बांटता है। कुछ अतिवादी समूह खुद को राष्ट्रवादी घोषित कर दूसरों को हीन, बाहरी या राष्ट्रविरोधी घोषित करने और उनके विरुद्ध अपनी शक्ति भर कुछ भी करने का प्रयत्न राष्ट्र के नाम पर करते हैं। भारत, अमेरिका, न्यूजीलैंड या मध्यपूर्व — हर जगह यही जहर फैल रहा है।

कई अखबारों में संपादक रहे वरिष्ठ पत्रकार श्रीकांत अस्थाना की उपरोक्त एफबी पोस्ट पर आए ढेरों कमेंट्स में से कुछ प्रमुख यूं हैं :

संतोष तिवारी की प्रतिभा को अंकुरित-पल्लवित होते बहुत निकट से देखा था मैंने

Rajendra Rao : दैनिक ट्रिब्यून के संपादक और मेरे अजीज संतोष तिवारी का असमय प्रस्थान स्तब्ध और उदास कर गया। सत्तर के दशक में मैंने उनकी प्रतिभा को अंकुरित और पल्लवित होते बहुत निकट से देखा था। तब वे इंटर में पढ़ते थे। लेखन का जुनून सवार था और अपनी प्रारंभिक रचनाएं दिखाने लाल कालोनी (किदवई नगर) से मेरे घर (अर्मापुर) नियमित रूप से आते थे। उनकी पहली ही कहानी धर्मयुग में छपी और फिर उन्होंने मुड़ कर नहीं देखा।

जब उदय प्रकाश के इस ‘खेल’ को नंदन जी ने कवर पेज पर जाने दिया!

Uday Prakash : आज से लगभग सत्ताईस साल पहले. ‘संडेमेल’ का जब सहायक सम्पादक हुआ करता था और इस फीचर पत्रिका का सम्पादक. तब एक बार रंगीन पेन्सिल से मकबूल फ़िदा हुसैन का ये चित्र इसलिए तुरत बनाया क्योंकि लाइब्रेरी में था नहीं और तब तक गूगल का आगमन नहीं हुआ था. एक छोटा-सा चित्र मिला भी तो उसके रिज़ोल्यूशन ऐसे नहीं थे कि उसे पत्रिका के कवर पर प्रिंट किया जा सकता. स्व. कन्हैयालाल नंदन तब ‘संडेमेल’ के प्रधान सम्पादक थे.

जनसंचार विभाग में विशेष व्याख्यान : इंडिया वॉइस चैनल के यूपी हेड बृजेश सिंह बने मुख्य वक्ता

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग में सोमवार को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विविध आयाम विषय पर विशेष व्याख्यान का आयोजन किया गया। व्याख्यान में बतौर वक्ता इंडिया वॉइस चैनल के उत्तर प्रदेश प्रमुख एवं विभाग के पूर्व छात्र बृजेश सिंह ने कहा आज के दौर में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का चरित्र काफी बदल गया है। मीडिया जगत में कार्य करने के लिए हमेशा नई—नई जानकारियों के साथ अपडेट रहना पड़ता है। एक अच्छा इलेक्ट्रानिक मीडिया का पत्रकार बनने के लिए प्रिण्ट मीडिया के अच्छे पत्रकार का गुण जरूरी है। क्योंकि प्रिण्ट, मीडिया जगत की रीढ़ है। प्रिण्ट मीडिया में कार्य करने से शब्दों पर अच्छी पकड़ हो जाती है। मीडिया के विद्यार्थी को हमेशा सक्रिय रहना चाहिए।

दैनिक जागरण देवरिया में भारी उलटफेर, अपराध संवाददाता श्रीशचंद्र मिश्र उर्फ राजन ने छोड़ा जागरण

गोरखपुर यूनिट में गोलबंदी का परिणाम कहा जा रहा उलटफेर… जागरण की गोरखपुर यूनिट के इनपुट हेड संजय मिश्र ने धृतराष्ट्र की भूमिका का निर्वाह कर रहे यूनिट के संपादकीय प्रभारी उमेश शुक्ल की आंख में धूल झोंकते हुए देवरिया के अपराध संवाददाता श्रीशचंद्र मिश्र उर्फ राजन को संस्थान छोड़ने पर मजबूर कर दिया। बताया जाता है कि राजन मिश्र बीते पांच वर्ष से क्राइम रिपोर्टर की भूमिका का निर्वाह कर रहे थे।

गोरखपुर प्रेस क्लब द्वारा आयोजित स्मृति समारोह में शिरकत करने दिल्ली से पहुंचे संजय और विनीता

गोरखपुर। कवि व समालोचक प्रो अनन्त मिश्र ने कहा है कि  रावण ने पूरी दुनिया से बटोरकर सोने की लंका बनाई थी। अन्तत: उसका दहन हुआ। आज भी होड़ सोने की लंका बनाने की है। मनुष्य को नजरअंदाज करते हुए हो रहा विकास दुनिया के अस्तित्व के लिए खतरनाक है। प्रो मिश्र शुक्रवार को स्व़ …

दैनिक जागरण ने रैली की पुरानी तस्वीर छापकर मोदी को तेल लगाने का नया कीर्तिमान बनाया!

Deshpal Singh Panwar : दैनिक जागरण जैसा सबसे बड़ा कहलाने वाला अखबार अगर सबसे खराब हरकत करे तो पत्रकारिता कहां जाएगी.. वैसे तो सब जानते हैं कि ये अखबार जिसकी सरकार हो उसका पक्ष लेता है लेकिन जबसे मोदी सरकार आई है तबसे से तो ये मोदी सरकार की पब्लिसिटी में भाजपा को भी पीछे छोड़ गया है। बनारस में कल मोदी रोड़ शो कर रहे थे और ये अखबार सबको पछाड़ने की तैयारी कर रहा था… दैनिक जागरण के समझदार मीडिया साथियों ने 2014 की मोदी की तस्वीर लगाकर दिखा दिया कि हम सबसे आगे। बहुत खूब…

वरिष्ठ पत्रकार देश पाल सिंह पंवार की एफबी वॉल से.

टीवी जर्नलिस्ट और चर्चित एंकर नवीन कुमार को हिंदी अकादमी पत्रकारिता सम्मान

सुलोचना वर्मा : वर्ष 2016-17 के हिंदी अकादमी पत्रकारिता सम्मान की घोषणा हो चुकी है और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए यह सम्मान नवीन को दिया जाना सुखद है| कार्यक्रम “ये है इण्डिया” में अल्पसंख्यकों, दलितों, पिछड़ों, स्त्री अधिकारों जैसे मुद्दों को लगातार उठाते रहने के कारण आज नवीन को लोग आमजन के पत्रकार के रूप …

सुभाष चंद्रा के कार्यक्रम में नईदुनिया के पत्रकार को जान से मारने की धमकी

छिन्दवाड़ा। जी समूह के मालिक और भाजपा के राजसभा सदस्य सुभाष चंद्रा के पातालकोट दौरे के बाद उनके जत्थे में छिंदवाड़ा के बड़े कांग्रेसी नेताओं की मौजूदगी रही. रविवार शाम को तामिया वन विभाग के रेस्टहाउस में सुभाष चंद्रा की जिला कलेक्टर श्री जैन और अन्य अधिकारियों से सीएसआर के तहत पातालकोट के विकास को लेकर चर्चा चल रही थी. इस दौरान बैठक की जानकारी देने से रोकने के लिए बाहर बैठे कांग्रेसी नेता अशोक चौकसे ने पत्रकार नितिन दत्ता से अभद्रता कर जान से मारने की धमकी दी।

राष्ट्रीय सहारा उर्दू के सभी पदों से सैयद फैसल अली बर्खास्त, नए लोगों की नियुक्ति

रोज़नामा राष्ट्रीय सहारा के समूह संपादक सैयद फ़ैसल अली को राष्ट्रीय सहारा उर्दू की सारी जिम्मेदारियों से हटा दिया गया है और उनकी जगह नए लोगों को बहाल किया गया है. उनकी जगह प्रिंट संस्करण की जिम्मेदारी वरिष्ठ पत्रकार सैयद परिष्कृत आब्दी और चैनल की जिम्मेदारी वरिष्ठ अधिकारी सैयद लईक रिजवी को दी गई है।

अंबानी के मैनेजरों ने ईटीवी चैनल्स के एडिटर्स को 180 करोड़ के विज्ञापन जुटाने के टारगेट दिए!

देश के मीडिया इतिहास की अभूतपूर्व घटना… देश के मीडिया इतिहास में एक अभूतपूर्व घटनाक्रम में सहारा की तरह अब रिलायंस ग्रुप ने नेटवर्क18 के तहत 18 राज्यों में संचालित 13 ईटीवी न्यूज़ चैनल्स के एडिटर्स को एक अप्रैल से शुरू हो रहे अगले वित्तीय वर्ष के दौरान कुल 180 करोड़ रुपए के विज्ञापन जुटाने का टारगेट दिया है। रिलायंस के इस फैसले से सभी बड़े न्यूज़ चैनल्स में हड़कंप मच गया है। देश के सबसे बड़े औद्योगिक घराने रिलायंस के इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि एडिटर्स को विज्ञापन लाने के लिए टारगेट दिए गए हैं।

दैनिक ट्रिब्यून के संपादक संतोष तिवारी की मृत्यु से पत्रकारों में शोक की लहर

संपादक संतोष तिवारी अब हमारे बीच नहीं रहे. उनके निधन से पत्रकारों में शोक की लहर है. पत्रकार और सोशल एक्टिविस्ट पुष्परंजन ने कहा है कि दैनिक ट्रिब्यून के संपादक संतोष तिवारी की मृत्यु की अप्रत्याशित खबर मिली है. चंडीगढ़ के अस्पताल में वो भर्ती थे. Multi Organ Failure उनकी मृत्यु का कारण बताया गया है. उनका पार्थिव शरीर चंडीगढ़ से दिल्ली लाया गया है. दैनिक हिंदुस्तान में साथ काम करते समय संतोष जी को मैंने एक संवेदनशील इंसान और प्रोफेशनल पत्रकार के रूप में जाना था. बाद में उन्होंने इंडिया टीवी और दैनिक जागरण में भी महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारियाँ सम्हाली थीं.

वरिष्ठ पत्रकार और संपादक संतोष तिवारी का निधन

Shambhu Nath Shukla : आज दोपहर रोहतक से पुरषोत्तम शर्मा का फोन आया और उसने जब बताया कि भाई साहब संतोष तिवारी जी नहीं रहे तो शॉक्ड रह गया। जेहन में 41 साल पहले का 1976 यूं घूम गया जैसे कल की ही बात हो। हम तब सीपीआई एमएल के सिम्पैथाइजर थे। हम यानी मैं और दिनेशचंद्र वर्मा। हमने तब श्रीपत राय की कहानी पत्रिका में एक कहानी पढ़ी जिसके लेखक का पता दिनेश के पड़ोस वाले घर का था। वह लेखक थे संतोष तिवारी। हम उस पते पर घर पहुंचे। संतोष के पिताजी ने दरवाजा खोला तो हमने पूछा कि तिवारी जी हैं?

संतोष तिवारी

संजय तिवारी ने ईटीवी एमपी ज्वाइन किया

एमपी में लगातार गिरती हुई टीआरपी को पटरी पर लाने के लिए नेटवर्क18 कोशिश कर रहा है। ईटीवी एमपी भोपाल में संजय तिवारी ने बतौर एसोसिएट एडिटर ज्वाइन किया है। यहाँ उनको असाइनमेंट हेड बनाया गया है। ईटीवी एमपी में नए सीनियर एडिटर प्रवीण दुबे आए हैं। फिर भी ईटीवी एमपी से लोगों के जाने का सिलसिला जारी है। ईटीवी भोपाल से शैलेंद्र अजारिया और अखिलेश सोलंकी ने प्रवीण दुबे के आने के बाद ही ईटीवी को बाय-बाय बोल दिया।

यूपी के मंत्री ने डीएलसी से पूछा- आपने हिंदुस्तान को नोटिस कैसे भेज दिया?

यूपी सरकार के एक मंत्री मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक कर्मचारियों को वेतनमान और उनका बकाया एरियर न देने पर अड़े हिंदुस्तान अख़बार के पक्ष में खुलकर आ गए हैं। उन्होंने हिंदुस्तान के तीन कर्मचारियों के मजीठिया क्लेम के मामले की सुनवाई कर रहे एक डीएलसी को फ़ोन करके नाराजगी जताते हुए पूछा कि आपने हिंदुस्तान को नोटिस कैसे दिया?

सागरिका घोष ने मुख़्तार परिवार के महिमामंडन वाला लेख लिखा!

ये एक दिन में नहीं हुआ है। और, ये स्थापित करने में सबसे बड़ी भूमिका बड़का टाइप के सरोकारी साबित पत्रकार, लेखकों ने निभाई है। ताज़ा सागरिका घोष का मुख़्तार परिवार का महिमामंडन वाला लेख पढ़ लीजिए या किसी हरिशंकर तिवारी, रघुराज प्रताप सिंह जैसों के बारे में दिल्ली लखनऊ से इन आरोपी अपराधियों के इलाक़े में गए पत्रकारों की रिपोर्टिंग पढ़िए। सब राबिनहुड छवि बनाने का ठेका लिए दिखते हैं।

वरिष्ठ पत्रकार रमेश शर्मा और डॉ. मयंक इस साल फिर केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड में

भोपाल । सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अंतर्गत चलचित्र अधिनियम 1952 के तहत जारी किये गए प्रावधानों के अनुसरण फिल्मों के सार्वजनिक प्रदर्शन को नियंत्रित करनेवाली संस्था केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड में मध्यप्रदेश से वर्ष 2017 के लिए वरिष्ठ पत्रकार रमेश शर्मा और डॉ. मयंक चतुर्वेदी को फिर एक बार अपनी एडवाइजरी कमेटी में लिया गया है। इसके पहले वे पिछले वर्ष की कमेटी में भी थे। उन्हें बोर्ड ने अपने मुंबई रीजन के लिए चुना है।

States to go by Delhi model in implementing Wage Board wages for scribes, non-scribes

New Delhi : President of the Indian Federation of Working Journalists K Vikram Rao has urged the state governments to follow the Delhi government in implementing of the Wage Board wages for journalists and non-journalists, already endorsed by the Supreme Court.

क्या विस चुनावों के बाद मीडिया के लिए बुरे दिन आएंगे?

यूपी चुनाव खत्म होने के बाद मीडिया में छाई गंदगी का सफाया तेजी से हो सकता है। बताया जाता है कि यूपी चुनाव में भाजपा बहुमत की उम्मीद कर रही थी लेकिन लाख कोशिशों के बाद त्रिशंकु विधानसभा जैसी स्थिति बनने की आशंका व्यक्त की जा रही है। और इसका ठीकरा न्यूज़ चैनलों पर फोड़ा जा सकता है। कभी दो नंबर की पायदान बनाए रखने वाले न्यूज चैनल को बंद होने की भविष्यवाणी मोदी भक्त अभी से कर रहे हैं।

अमेरिका से काटजू ने मोदी को लिखा पत्र- ‘न विकास हुआ, न अच्छे दिन आए’

To

The Hon’ble Shri Narendra Modi

Prime Minister of India

Dear Modiji,

I would have liked to personally deliver this letter to you, but unfortunately ( or fortunately ) I am presently in America, and likely to be here for some time. So I am posting it on fb, with the hope that someone will forward it to you.

कई न्यूज चैनलों के लाइसेंस कैंसल

इस साल जनवरी महीने में सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने कुल 13 टीवी चैनलों के लाइसेंस कैंसल कर दिए हैं. इनमें आठ तो न्यूज चैनल हैं. बाकी पांच नॉन न्यूज चैनल हैं. सबसे ज्यादा दिल्ली की कंपनी ‘त्रिवेणी मीडिया’ के कुल सात लाइसेंस कैंसल किए गए हैं.

कर्मचारी एचटी डिजिटल स्टीम्स लिमिटेड के, वेतन अभी भी दे रही एचएमवीएल

कई कर्मचारियों से त्यागपत्र लेने के बाद भी नहीं दिया गया पुराना बकाया… शोभना भरतिया के स्वामित्व वाले अखबार हिन्दुस्तान से खबर आ रही है कि यहां कर्मचारियों को पुरानी कंपनी से इस्तीफा दिलाकर नयी कंपनी में भले ही ज्वाईन करा लिया गया है मगर पटना सहित कई जगह रिजाईन लेने के बाद भी कई कर्मचारियों को उनका पुराना हिसाब नहीं दिया गया है। यही नहीं, हिंदुस्तान अखबार की कंपनी का नाम कल तक हिन्दुस्तान मीडिया वेंचर्स लिमिटेड था मगर अब एक नयी कंपनी खोलकर अखबार प्रबंधन ने उसका नाम रख दिया एचटी डिजिटल स्टीम्स लिमिटेड। इस नई कंपनी में जबरिया कर्मचारियों को पुरानी कंपनी से त्यागपत्र दिलाकर 1 जनवरी 2017 से ज्वाईन करा दिया गया है।

केजरीवाल के इस काम ने वरिष्ठ पत्रकार डा. वेद प्रताप वैदिक का दिल खुश कर दिया

दिल्ली की केजरीवाल सरकार के एक विज्ञापन और एक खबर ने मेरा दिल खुश कर दिया। विज्ञापन यह है कि दिल्ली के किसी भी निवासी को यदि एमआरआई, सीटी स्केन और एक्स रे जैसे दर्जनों टेस्ट करवाने हों तो वह सरकारी अस्पतालों और पोलीक्लिनिकों में जाए। यदि एक माह में उसका टेस्ट हो जाए तो ठीक वरना वह अपना टेस्ट निजी अस्पतालों में भी करवा सकता है। वह मुफ्त होगा, जैसा कि सरकारी अस्पतालों में होता है।

पिंक सिटी प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष विश्वास कुमार का निधन

जयपुर से खबर है कि पिंक सिटी प्रेस क्लब के पूर्व अध्यक्ष विश्वास कुमार जी का आज सुबह 9:30 बजे निधन हो गया. उनकी शव यात्रा उनके गांधी नगर स्थित आवास से 2:00 बजे रवाना हुई और लाल कोठी श्मशान घाट पर अंतिम संस्कार किया गया. इस मौके पर शहर के गणमान्य लोग मौजूद थे.

छत्तीसगढ़ में मयखाने के लिये खोद दिया कब्रिस्तान

छत्तीसगढ़ को प्रकृति ने अपनी विशेष संपदाओं से नवाजा है. यही कारण है कि प्रदेश में प्रचुरमात्रा में खनिज संपदा का भण्डार है जिसका जमकर दोहन हो रहा है… प्रदेश में कई बड़े उद्योगों की स्थापना हुई है.. यदि बात की जाये यहाँ की सरकार की तो प्रदेश में हुये पहले चुनाव के बाद से ही यहाँ भाजपा का दबदबा रहा और प्रदेश में डॉ रमन सिंह ने तीन पारी पूरी की.. मुख्यमंत्री ने आई.आई.टी., आई.आई.एम. जैसे विभिन्न शैक्षणिक संस्थानों की सौगात प्रदेश के स्टूडेंट्स को दी जिन्हें अब उच्चशिक्षा के लिये प्रदेश के बहार नहीं जाना होगा…

डीएलसी बरेली ने हिंदुस्तान प्रबंधन से कहा- ”सुप्रीम कोर्ट से बढ़कर कोई नहीं”

बरेली में मजीठिया वेज बोर्ड के वेतनमान के अनुसार एरियर के दाखिल क्लेम (हिंदुस्तान समाचार पत्र के सीनियर कॉपी एडिटर मनोज शर्मा के 33,35,623 रुपये, सीनियर सब एडिटर निर्मल कान्त शुक्ला के 32,51,135 रुपये, चीफ रिपोर्टर डॉ. पंकज मिश्रा के 25,64,976 रुपये) पर शुक्रवार को सुनवाई के दौरान उप श्रमायुक्त बरेली रोशन लाल ने हिंदुस्तान प्रबंधन की ओर से मौजूद बरेली के एचआर हेड व विधि सलाहकार को चेताया कि सुप्रीम कोर्ट से बढ़कर कोई नहीं है।

रायपुर भास्कर डॉट कॉम का सेटअप ठप्प, सभी कर्मियों ने दिया इस्तीफा…

ये तेरा सगा वाला ये मेरा सगा वाला के फेर में रायपुर भास्कर डॉट कॉम का भट्ठा बैठ गया है। मिली जानकारी के मुताबिक मनमुटाव, अव्यवस्था और कम इन्क्रीमेंट के चलते डॉट कॉम देखने वाले सारे पत्रकार एक-एक कर संस्था को टाटा बॉय-बॉय कर गये हैं। अभी हालात ऐसे बने हुये हैं कि भोपाल से खबरें लगाई जा रही हैं।

‘न्यूज24’ के पत्रकार कामता सिंह का हार्टअटैक से निधन

हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज24’ में एसोसिएट प्रोड्यूसर के तौर पर कार्यरत पत्रकार कामता सिंह का हर्टअटैक से निधन हो गया. इसके पहले ‘इंडिया टीवी’ चैनल में कार्यरत थे. पत्रकार Himanshu Singh ने फेसबुक पर लिखा है : ”दोस्त कहां चले गए तुम, अभी रात को ही तो कहा था कल मिलूंगा, जब मैंने तुमसे कहा …

वह चुनाव जीत जाएंगे और आप पत्रकारिता हार जाएंगे!

Ajay Prakash : मीडिया कहती है हम काउंटर व्यू छापते हैं। बगैर उसके कोई रिपोर्ट नहीं छापते। कल आपने विकास दर की रिपोर्ट पर कोई काउंटर व्यू देखा। क्या देश के सभी अर्थशास्त्री मुजरा देखने गए थे? या संपादकों को रतौंधी हो गयी थी? या संपादकों को ‘शार्ट मीमोरी लॉस’ की समस्या है, जो ‘एंटायर पॉलि​टिक्स का विद्यार्थी’, ‘वैश्विक अर्थशास्त्र’ का जानकार बना घूम रहा है और संपादक मुनीमों की तरह राम—राम एक, राम—राम दो लिख और लिखवा रहे हैं।

कोई माई का लाल पैदा नहीं हुआ जो मुझे खरीद सके : प्रदीप सिंह

Pradeep Singh : दैनिक जागरण में छपे मेरे लेख पर संजय सिंह की गालीनुमा प्रतिक्रिया आई है। उनके मुताबिक यह पेड न्यूज या भाजपा प्रायोजित है। संजय को मैं करीब तीस दशक से जानता हूं। पारिवारिक संबंध रहे हैं। यह अलग बात है कि पिछले कई सालों से ज्यादा मेल मुलाकात नहीं होती। उनके टिप्पणी पर आश्चर्य तो नहीं हुआ पर दुख जरूर हुआ। किसी और ने ऐसी टिप्पणी की होती को शायद ध्यान नहीं देता।

पत्रकार कामता प्रसाद के साथ स्कूल प्रबंधन ने की बदतमीजी, मीडिया वाले साथी मदद करें

साथियों,

दूसरे तमाम माता-पिता की तरह इन दिनों मैं भी अपनी 12वीं में पढ़ने वाली बेटी के अगले शैक्षणिक सत्र में दाखिले के सिलसिले में परेशान हूँ। मेरी परेशानी का बड़ा कारण यह है कि उसकी दसवीं की मार्कशीट में उसके नाम की स्पेलिंग स्कूल स्टाफ की मेहरबानी से गलत प्रिंट हो गई है और स्कूल का प्रिंसिपल है कि हद दर्जे का घटिया व्यवहार कर रहा है, पैरेंट्स के साथ कपूर नामक का उसका हिंदी टीचर गुंडे के जैसा पेश आता है। मेरे साथ उसने धक्कामुक्की की।

डीएवीपी विज्ञापनों के लिए फर्जीवाड़ा, दिल्ली-लखनऊ के 277 पब्लिकेशन फंसे

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने सरकारी विज्ञापनों के लिए आवंटित राशि हासिल करने की खातिर कथित तौर पर ‘फर्जीवाड़े और गबन’ में शामिल होने को लेकर 277 प्रकाशनों के खिलाफ प्राथमिकियां दर्ज कराने और कानूनी कार्रवाई शुरु करने का फैसला किया है. विज्ञापन एवं दृश्य प्रचार निदेशालय (डीएवीपी) द्वारा मौके पर की गयी जांच में प्रकाशन एवं प्रसार संबंधी आंकड़ों में व्यापक अनियमितताएं मिलने के बाद लखनऊ और दिल्ली के करीब 277 प्रकाशन मंत्रालय के निशाने पर हैं.

Mumbai Press Club condemns attack on ZEE media team

Demands a law to protect working journalists

The Mumbai Press Club strongly condemns the attack on a female reporter and a videographer of Marathi news channel ZEE 24 Taas. The two were covering action against illegal structures in Digha in Navi Mumbai on Tuesday, February 28, 2017, when they were mercilessly assaulted.

पत्रकार के घर हमला, भाजपा विधायक और उसके 25 समर्थकों के खिलाफ मामला दर्ज

मुंबई से सटे भाइंदर से खबर आ रही है कि यहां महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस का कार्टून प्रकाशित करने पर ‘राजसत्ता’ नामक एक समाचार पत्र के संपादक वसन्त माने के घर पर हमला और घर में जबरन घुसकर धमकी देने के प्रकरण में भाइंदर पुलिस ने भाजपा विधायक नरेंद्र मेहता, भाजपा जिलाध्यक्ष हेमंत म्हात्रे, मुन्ना सिंह, नीलेश सोनी सहित २५ पदाधिकारियो और २०० से २५० अज्ञात कार्यकतार्ओं के खिलाफ भादवि की धारा १४३, १४७, १४९, ४५२, ५०४, ५०५, ४४७ और मुंबई पुलिस अधिनियम १९५१ की कलम ३७ (१), १३५ के तहत मामला दर्ज किया है।

आजतक ने इंडिया टीवी को दूर तक खदेड़ा, एबीपी न्यूज ने जी न्यूज को पीट कर वापसी की

इस साल के आठवें हफ्ते की टीआरपी में कई उठापटक की खबरें हैं. आजतक लगातार कुछ हफ्तों से नंबर दो पर रहने के बाद पूरे दमखम के साथ नंबर एक की अपनी पुरानी कुर्सी पिछले हफ्ते यानि साल के सातवें हफ्ते में हासिल करने में कामयाब तो रहा लेकिन उसने इस आठवें हफ्ते में इंडिया टीवी को दूर तक खदेड़ कर अपने से काफी फासला बना लिया है. उधर, एबीपी न्यूज ने भी वापसी करते हुए तीसरे नंबर की अपनी पुरानी कुर्सी हथिया ली है.

‘नेशनल वॉयस’ नोएडा से इस्तीफा देकर ‘News 24’ पहुंचे विनय कुमार

नोएडा : ‘नेशनल वॉयस’ न्यूज़ चैनल से इस्तीफा देकर विनय कुमार ने अपनी नयी पारी की शुरुआत ‘न्यूज़ 24’ के साथ की है। विनय ने पिछले सप्ताह ही ‘नेशनल वॉयस’ को अलविदा कहा था, उसके बाद से ही इनकी नयी पारी के बारे में तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही थी।

मनीषा भल्ला ने आउटलुक हिंदी मैग्जीन से इस्तीफा दिया

मनीषा भल्ला ने ‘आउटलुक’ हिंदी मैग्जीन से इस्तीफा दे दिया है. वे स्पेशल करेस्पांडेंट के पद पर कार्यरत थीं. वे करीब नौ वर्षों से आउटलुक के साथ थीं. मनीषा दैनिक भास्कर, चंडीगढ़ और दिल्ली में कार्य कर चुकी हैं. वे जमीनी रिपोर्टिंग और धारधार पत्रकारिता के लिए चर्चित हैं.

हाईकोर्ट ने मथुरा जवाहर बाग कांड की सीबीआई जांच के आदेश दिए

लखनऊ : आल इण्डिया पीपुल्स फ्रंट (आइपीएफ) ने मथुरा के जवाहर बाग प्रकरण की सीबीआई से जांच कराने के इलाहाबाद उच्च न्यायालय के आदेश का स्वागत किया है। प्रेस को जारी विज्ञप्ति में आइपीएफ के राष्ट्रीय प्रवक्ता व पूर्व आईजी एस0 आर0 दारापुरी ने कहा कि यदि उच्च न्यायालय अपने अधीन गठित जांच टीम से जांच कराता जिसमें मुख्यमंत्री और उनके कार्यालय की संवैधानिक-प्रशासनिक भूमिका की भी जांच होती तो बेहतर होता।