डीएम हो तो इन मैडम की तरह, करप्ट अफसरों को पब्लिक के सामने ही औकात में ला दिया (देखें वीडियो)

राहुल गोयल ‘बुलंदशहर एक्सप्रेस’ नामक वेबसाइट चलाते हैं. इन्होंने भड़ास को पत्र लिखकर सूचित किया है बुलंदशहर की डीएम बी. चंद्रकला का जो वीडियो वायरल हुआ है, दरअसल वो ओरीजनली उन्होंने यूट्यूब पर अपलोड किया था जिसे बाद में बड़ी मीडिया कंपनियों ने डाउनलोड कर अपने अपने पोर्टलों पर अपलोड कर लिया. राहुल का कहना है कि उनकी मेहनत का रिकागनाइज किया जाना चाहिए. राहुल का पत्र इस प्रकार है…

बंद हुआ सरकारी खर्चे पर अखिलेश यादव के निजी एफबी और ट्विटर का प्रचार

पिछले एक लम्बे समय से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रकाशित किये जा रहे विज्ञापनों में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के निजी ट्विटर एकाउंट twitter.com/yadavakhilesh और फेसबुक एकाउंट facebook.com/yadavakhilesh का लगातार हो रहा प्रचार अब बंद कर दिया गया है. मैंने 06 नवम्बर को सरकारी पैसे पर इस प्रकार से निजी सोशल साईट एकाउंट और उसमे लिखी गयी तमाम राजनैतिक बातों का प्रचार करने के बारे में श्री यादव को शिकायत की थी, जिसमे इन एकाउंट में समाजवादी पार्टी का वेबसाइट samajwadiparty.in  दर्शाये जाने और समाजवादी पार्टी को वोट देने, पार्टी के कार्यक्रम और राजनैतिक भाषण होने की बात कहते हुए इन व्यक्तिगत एकाउंट को सरकारी प्रचार सामग्री से तत्काल हटाये जाने और चापलूस अफसरों पर कार्यवाही करने की मांग की थी.

भड़ास के जरिए मैंने जिंदगी में पहली बार न्यू मीडिया / सोशल मीडिया की शक्ति का अनुभव किया

जानिब ए मंजिल की ओर अकेला चला था मगर
लोग मिलते गए, कारवां बनता गया!!!

यशवंतजी की ओर से देशभर के पत्रकारों के नाम भड़ास पर पोस्ट हुआ संदेश न्याय की लड़ाई में उबाल ला चुका है। भड़ास के जरिए मैंने जिंदगी में पहली बार न्यू मीडिया / सोशल मीडिया की शक्ति का अनुभव किया। भड़ास की पूरी टीम को मेरा धन्यवाद! धन्यवाद देने का एक बड़ा कारण यह भी है कि मजीठिया के मामले में देश के पत्रकारों को एकजुट होने का मंच भी मिला है। भड़ास के यशवंतजी का मेरे को लेकर लेख आने के बाद मेरे पास पिछले दो दिनों से देशभर से बड़ी संख्या में पत्रकारों के फोन आ रहे हैं। अधिकांश पत्रकार मजीठिया की लड़ाई में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाना चाहते हैं।

मीडिया ने मेरे खिलाफ खूब खबरें छापी पर मैंने इसे अपनी सहज आलोचना माना : मुलायम सिंह यादव

लखनऊ : बदलते दौर में सोशल मीडिया की प्रासंगिकता बढ़ रही है। आज के दौर में इसे नजरअंदाज कर न तो राजनीति संभव है और न ही सरकार चलाना। पूर्व रक्षा मंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने यह विचार इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट (आईएफडब्लूजे) की ओर से ‘सोशल मीडिया-वरदान या अभिशाप’ विषय पर आयोजित राष्ट्रीय परिसंवाद में व्यक्त किए। राजनीति के शुरुआती दिनों को याद करते हुए श्री यादव ने कहा कि कई बार कहा कि मीडिया ने उनके खिलाफ खबरें छापी पर उन्होंने इसे अपनी सहज आलोचना के रूप में ही लिया।

सोशल मीडिया के मित्रों ने मुझे मोदी विरोधी कहते हुए हमला बोल दिया : अमोल पालेकर

हां, मैंने नोटा का बटन दबाया और बूथ के बाहर खड़े मीडिया को अपनी स्याही लगी बायें हाथ की उंगली उठा कर दिखा दिया. जी हां, मेरे विचार इन स्वार्थी लोगों से नहीं मिलते! मेरी ऐसी इच्छा भी नहीं है कि मेरे बारे में छोटी-छोटी बात दूसरे लोग जानें. शायद यही वजह है कि मुझे सोशल मीडिया और मोदी विरोधी मान लिया गया. आज ‘ब्रांडिंग’ के दौर में एक खास विचारधारा के लोग मुझ पर ठप्पा लगाने से नहीं चूक रहे. ये गजब है. या तो आप मोदी के समर्थक हैं या फिर मोदी विरोधी हैं. जिस समय मैंने ये कहा कि मोदी की आलोचना उनके कद को और ऊंचा कर देगी, मेरे आजाद ख्याल दोस्तों ने मुझे  मोदी का पक्षकार मान लिया और जिस क्षण मैंने ‘सेकुलर’ पर बात की, मेडिसन स्क्वायर से सोशल मीडिया के मित्रों ने मुझे  मोदी विरोधी कहते हुए हमला बोल दिया.

IBN7 के कंटेंट से छेड़छाड़ के आरोपी की पहचान, गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम सक्रिय

नई दिल्ली। सोशल मीडिया का दुरूपयोग कर भ्रम फैलाने वाले अब टीवी चैनलों को भी अपना निशाना बना रहे हैं। ऐसे ही एक मामले में IBN7 के कंटेंट के साथ छेड़छाड़ कर और चैनल के लोगो का दुरुपयोग कर सोशल मीडिया में दुष्प्रचार करने के मामले में नोएडा पुलिस ने राजस्थान के तपन मेघावत के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। पुलिस ने आईटी एक्ट और कॉपीराइट एक्ट के तहत उस शख्स को इस मामले में आरोपी बनाया है। सोशल मीडिया में चैनल के नाम के दुरूपयोग की बात सामने आने के बाद आईबीएन7 ने इसकी शिकायत नोएडा पुलिस से की थी।