दैनिक जागरण, नारनौल में ऑफिस ब्‍वॉय से प्रभारी बने राजेंद्र

: देवेंद्र को किया गया दरकिनार : दैनिक जागरण अखबार में नित नए कारनामें देखे जाते हैं। अब नया कारनामा नारनौल हरियाणा में सामने आया है। यहां पर जागरण प्रबंधन ने योग्यता को दरकिनार कर स्टाफर को छोड़ आफिस ब्वाय को प्रमोट करके आफिस का इंजार्च बना दिया। जिसकी स्थानीय मीडिया में भी काफी चर्चा है। माना जा रहा है कि यह योग्‍यता से ज्‍यादा चाटुकारिता का परिणाम है।

राज समूह का न्‍यूज चैनल ‘राज टीवी’ 8 जुलाई को होगा लांच

अरुण सहलोत की कंपनी का टीवी चैनल 'राज टीवी' आठ जुलाई को लांच होने जा रहा है. सहलोत मध्य प्रदेश के जाने माने बिल्डर हैं और राज एक्सप्रेस नामक अखबार का प्रकाशन करते हैं. काफी समय से इस चैनल की तैयारियां चल रही थीं. पिछले दिनों इस चैनल में भर्तियों के लिए विज्ञापन निकाला गया था.

मजीठिया वेज बोर्ड लागू करने के लिए मीडियाकर्मियों ने निकाली रैली

HYDERABAD : Journalists from various parts of the State on Wednesday took out a rally here to highlight the problems faced by them in mofussil areas. The procession that began from Sundaraiah Vignana Kendram ended at Indira Park where a meeting was addressed by trade union leaders, including former Minister Nayani Narasimha Reddy.

महाराष्‍ट्र में 3 जुलाई को आंदोलन की रणनीति बनाएगा पत्रकार हमला विरोधी कृती

महाराष्ट्र में पत्रकारों के उपर बढ़ते हमले और इस विषय पर महाराष्ट्र सरकार द्वारा साधी हुई चुप्पी के विरोध में राज्य व्यापी आंदोलन छेड़ने के लिए पत्रकार हमला विरोधी कृती समिति पर बढ़ते दबाव के चलते समिति की बैठक 3 जुलाई को मुंबई में होने जा रही है. दोपहर दो बजे मराठी पत्रकार परिषद के सीएसटी स्थित दफ्तर में इस मीटिंग का आयोजन किया गया है. समिति के कन्वेनर एसएम देशमुख मीटिंग की अध्यक्षता करेंगे.

बरेली में छंटनी मामले में दैनिक जागरण को मिला हाई कोर्ट से स्‍टे

बरेली में दैनिक जागरण ने छंटनी के शिकार हुए कर्मचारियों द्वारा लेबर कोर्ट में किए गए केस में हाई कोर्ट से स्‍टे ले लिया है. कोर्ट ने लेबर कमिश्‍नर तथा पूर्व कर्मचारियों ने जुलाई के दूसरे सप्‍ताह तक अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया है. खबर है कि कोर्ट ने यह स्‍टे टेक्निकल आधार पर दिया है.

सामूहिक बलात्‍कार मामले के गवाहों की पुलिस ने दी धमकी

नवी मुंबई :  तुर्भे में दस वर्षीय नाबालिक लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार और इलाज के दौरान मृत मामले की गवाह लड़कियों को धमकाए जाने का आरोप मृत लड़की के घर वालों ने लगाया है। इस के साथ ही गिरफ्तार युवकों में तीन युवकों के बालिग होने की जानकरी लड़की के घर वालों ने देते हुए इस मामले में चारों युवकों का मेडिकल जांच कर फांसी की सजा देने की मांग की है।

बिजली कंपनियों की लाटरी निकल आयी कोयला नियामक फैसले से!

अल्लाह मेहरबान तो गधा पहलवान! बिजली कंपनियों की लाटरी निकल आयी कोयला नियामक फैसले से! भारत सरकार और राज्य सरकारें बिजली कंपनियों के हक में है। जिन्हें बिजली कंपनियों की ओर से बार-बार बिजली दरें बढ़ाये जाने पर कोई खास ऐतराज नहीं होता। लेकिन जबर्दस्त कारपोरेट लाबिइंग के असर में पूरी राजनीतिक जमात कोल इंडिया के खिलाफ लामबंद हो गयी। जो यूनियनें कोल इंडिया के विनिवेश और विभाजन के खिलाफ आंदोलन कर रही हैं, उनके पीछे भी राजनीतिक दल हैं। जो यूनियनों के विपरीत कोल इंडिया के खिलाफ बिजली कंपनियों के ही हित साध रहे हैं।

उत्‍तराखंड को आपदा से बचा सकता है ‘नैनीताल माडल’

नैनीताल : कहते हैं कि आपदा और कष्ट मनुष्य की परीक्षा लेते हैं और समझदार मनुष्य उनसे सबक लेकर भावी और बड़े कष्टों से स्वयं को बचाने की तैयारी कर लेते हैं। ऐसी ही एक बड़ी आपदा नैनीताल में 18 सितंबर 1880 को आई थी, जिसने तब केवल ढाई हजार की जनसंख्या वाले इस शहर के 151 लोगों और नगर के प्राचीन नयना देवी मंदिर को लीलने के साथ नगर का नक्शा ही बदल दिया था, लेकिन उस समय उठाए गए कदमों का ही असर है कि यह बेहद कमजोर भौगोलिक संरचना का नगर आज तक सुरक्षित है।

उत्‍तराखंड आपदा में मीडिया की हीरोइक्‍स

केदारनाथ मंदिर के पास सेना का हेलीकॉप्टर उतरा और उसका चालक उतर कर बाहर आया तो एक अंग्रेजी चैनल की रिपोर्टर ने उसका नाम उसकी कमीज पर लिखा देख पहला सवाल किया-आप मुसलमान हैं.

जिंदल से उगाही मामले में जी न्‍यूज के खिलाफ आरोप पत्र तैयार

जी न्‍यूज द्वारा जिंदल पावर एंड स्टील लिमिटेड से कथित कोल आवंटन घोटाले की आड़ में 100 करोड़ रुपये की उगाही के प्रयास के मामले में पुलिस ने जांच पूरी कर ली है। पुलिस ने रिपोर्ट पर कानूनी राय भी ले ली है। उम्मीद है कि इस मामले में जुलाई के पहले सप्ताह में आरोप पत्र दायर कर दिया जाएगा।

यूपी में आरटीआई पर पल्‍ला झाड़ रहे हैं कई विभाग

एक ही बिंदु पर गृह विभाग और डीजी ऑफिस से मांगी गयी सूचना में दिये गए उत्तर से उत्तर प्रदेश में आरटीआई को लेकर विभागों का रवैया स्पष्ट हो जाता है. आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने 02 नवंबर 2004 को हुई मुख्यमंत्री समीक्षा से सम्बंधित कुछ सूचनाएं उत्तर प्रदेश सरकार के गृह विभाग और डीजीपी कार्यालय से माँगा. सूचना यह मांगी गयी थी यह समीक्षा बैठकें कब-कब और कहाँ आयोजित की गयीं, इनमे किन-किन आईपीएस अधिकारियों को दंड या चेतावनी दी गयी आदि.

उदयपुर में भास्‍कर के रिपोर्टर ने एक खबर की 12 बजा दी!

किसी रिपोर्टर की किसी से बनती नहीं हो तो क्‍या खबर की 12 बजा देनी चाहिए, नहीं ना! लेकिन उदयपुर भास्‍कर में ऐसा ही होता है। नीचे भास्‍कर वेबसाइट की खबर की स्‍क्रीन शॉट दे रहा हूं, उसमें आपको साफ दिख जाएगा कि क्‍या खेल खेला गया है। इस खबर को लिखने में पत्रकारिता की बजाय निजी खुन्‍नस को प्राथमिकता दी गई है।

4रीयल न्‍यूज में इनपुट हेड बने प्रदीप श्रीवास्‍तव

4रीयल न्‍यूज से खबर है कि प्रदीप श्रीवास्‍तव ने इनपुट हेड के पद पर ज्‍वाइन किया है. प्रदीप इसके पहले लंबे समय तक स्‍टार न्‍यूज में रह चुके हैं तथा इन दिनों अपना मोबाइल न्‍यूज स्‍टार लाइव 24 का संचालन कर रहे थे. प्रदीप ने अपने करियर की शुरुआत करेंट न्‍यूज के साथ की थी. इसके बाद वीर अर्जुन, न्‍यूज एजेंसी ईएमएस तथा बीएजी को लंबे समय तक अपनी सेवाएं दीं. प्रदीप बीएजी के रेड एलर्ट और सनसनी टीम के शुरुआती दौर के साथी रहे हैं.

बौखलाए सीडीओ ने संवाददाता के सामने फाड़ा अख़बार

North India Times : नार्थ इण्डिया टाइम्स समाचार पत्र में २३ जून के अंक में प्रकाशित हुई खबर को लेकर बौखलाए पीलीभीत जनपद के मुख्य विकास अधिकारी विजय कुमार सिंह ने जिला संवाददाता के सामने अपने खिलाफ प्रकाशित खबर को लेकर बातों ही बातों में अख़बार को फाड़ दिया। इस घटना को लेकर स्थानीय पत्रकारों में रोष व्याप्त है एवं पत्रकारों ने जिलाधिकारी से मांग की है कि उपरोक्त मामले की निष्पक्ष जाँच कराकर दोषियों पर उचित कार्यवाही करें.

हिंदुस्‍तान के ब्‍यूरो प्रभारी के पितृशोक पर पत्रकारों ने जताया शोक

हिन्दुस्तान के बलिया ब्यूरो कार्यालय के प्रभारी व श्रमजीवी पत्रकार यूनियन के जिला कोषाध्यक्ष धनन्जय पाण्डेय को पितृ शोक पर पत्रकारों ने अपनी शोकांजलि अर्पित किया है। पाण्डेय के पिता चन्द्र दीप पाण्डेय का पिछले दिनों देहावसान हो गया। इनके निधन पर श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की शोक बैठक हुई, जिसमें मृतात्मा की शांति हेतु प्रार्थना की गयी तथा दो मिनट तक मौन रहा गया।

औरंगाबाद में आईबीएन-लोकमत के पत्रकार तथा कैमरामैन पर हमला

आईबीएन-लोकमत न्यूज चैनल के आौरंगाबाद ब्यूरो चीफ सिध्दार्थ गोदाम और वीडियो जर्नलिस्ट सुधीर जाधव पर शुक्रवार की दोपहर औरंगाबाद में एक शिक्षा संस्थान के डाइरेक्‍टर ने हल्ला बोल दिया. वाई एस खेडकर इंटरनेशनल स्कूल में छात्रों की तरफ से पनिशमेंट के तौर पर गैरकानूनी तरीके से शुल्क वसूला जाता था. इस से छात्रों के परिजन काफी नाराज थे. आईबीएन-लोकमत ने इस के विरोध में आवाज उठाया था. जिसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी ने स्‍कूल में चल रहे इस गोरखधंधे की इंक्‍वायरी शुरू की थी.

पत्रकारों का काम सबसे मुश्किल और चुनौतीपूर्ण : करीना

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री करीना कपूर पत्रकारों के पेशे को काफी चुनौतीपूर्ण मानती हैं। उनका कहना है कि पत्रकारिता करना बहुत मुश्किल काम है। करीना ने अपना यह अनुभव प्रकाश झा की फिल्‍म सत्‍याग्रह में एक टीवी रिपोर्टर की भूमिका निभाने के बाद साझा किया है। करीना ने कहा मीडिया में काम करना काफी कठिन है। काम के अलावा भी पत्रकारों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

बिजनेस भास्‍कर से चार की छंटनी, अखबार बंद किए जाने की चर्चा

दैनिक भास्कर समूह के बिजनेस अखबार बिजनेस भास्कर को लग रहा है प्रबंधन द्वारा बंद किये जाने की योजना है। लगातार छंटनी के दौर से गुजर रहे बिजनेस भास्कर के पांच साल पूरे होते होते इसकी टीम एक चौथाई भी नहीं रह गई है। इसी महीने में इसके मुंबई प्रमुख अजय कुमार, राजेश विक्रांत, अजीत सिंह की तीन सदस्यीय टीम को अखबार से बाहर कर दिया गया है। 

राहुल बारपुते स्‍मरण का आयो‍जन 14 जुलाई को इंदौर में, जुटेंगे दिग्‍गज पत्रकार

इंदौर। इंदौर प्रेस क्लब के संस्थापक अध्यक्ष स्व. राहुल बारपुते की स्मृति में ‘राहुल स्मरण’ कार्यक्रम १४ जुलाई को आयोजित किया जाएगा। आयोजन में देश के वरिष्ठ साहित्यकार एवं संपादक शामिल होंगे। २६ जून को राहुल बारपुते की जन्मतिथि के अवसर पर इंदौर प्रेस क्लब में आयोजित कार्यक्रम के दौरान यह निर्णय लिया गया।

‘मोदी मंत्र’ से भाजपा की अंदरूनी बाधाएं नहीं हो पा रही हैं छूमंतर!

भाजपा चुनाव अभियान समिति की कमान मिलने के बाद नरेंद्र मोदी का पार्टी के अंदर रुतबा बढ़ गया है। अब वे नियोजित रणनीति के तहत राज्यों में संगठन के ढीले पड़े ‘नट-बोल्ट’ कसने में जुट गए हैं। अपने कुछ राजनीतिक ‘मंत्रों’ के जरिए वे अंदरूनी उठापटक को भी थामने की जुगत में लगे हैं। उनकी कोशिश यही है कि आपस में होड़ लगाने वाले गुटों में एकता का मंत्र फूंक दिया जाए। ताकि, अगले साल होने वाले लोकसभा के चुनाव में पार्टी का ढांचा मजबूती से चुनावी चुनौती के लिए तैयार हो सके।

छत्‍तीसगढ़ सरकार ने वरिष्‍ठ पत्रकारों के लिए लागू की सम्‍मान योजना

छत्तीसगढ़ सरकार ने वरिष्ठ मीडिया कर्मी सम्मान योजना को लागू करने की मंजूरी प्रदान कर दी है. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में राज्य मंत्रिमंडल की हुई बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की दी. इस योजना की घोषणा राज्य सरकार ने चालू वित्त वर्ष के बजट में की थी. योजना के तहत पत्रकारों को पांच हजार रुपए प्रति माह की सम्मान राशि प्रदान की जायेगी.

राष्‍ट्रीय सहारा, देहरादून के ब्‍यूरो प्रभारी मनोज कंडवाल सस्‍पेंड

राष्‍ट्रीय सहारा, देहरादून से खबर है कि मनोज कंडवाल का सस्‍पेंड कर दिया गया है. वे ब्‍यूरो प्रभारी के पद पर कार्यरत थे. बताया जा रहा है कि प्रबंधन को उनके खिलाफ कई शिकायतें मिली थी. इस बीच आपदा की रिपोर्टिंग में सही काम नहीं कर पाने का आरोप लगाते हुए उन्‍हें सस्‍पेंड कर दिया …

मेरठ में अनिल भास्‍कर ने ग्रहण किया अपना कार्यभार

वाराणसी के संपादक रहे अनिल भास्‍कर ने मेरठ में ज्‍वाइन कर लिया है. उन्‍हें पश्चिम यूपी के हेड के तौर पर यह जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. अनिल भास्‍कर ने प्रधान संपादक की मौजूदगी अपना कार्यभार ग्रहण किया. सूर्यकांत द्विवेदी स्‍थानीय संपादक के रूप में अपनी जिम्‍मेदारी निभाते रहेंगे. पहले खबर आ रही थी कि स्ट्रिंगर से कथित तौर पर पैसे लेने के मामले में उन्‍हें दिल्‍ली अटैच किया जा सकता है लेकिन प्रबंधन ने जांच के बाद उन्‍हें क्‍लीन चिट दे दिया.

नोएडा, दिल्ली के बाद अब गाजियाबाद में भी डीएलए आफिस में लगेगा ताला!

प्रिंट मीडिया में अपनी पहचान बना चुके डीएलए अखबार का बोरिया बिस्तर दो माह पहले नोएडा से दिल्ली स्थित आईएनएस आफिस में शिफ्ट कर दिया गया था। एक सप्ताह पहले दिल्ली आफिस में ताला लग गया। वहां से 13 रिपोर्टर्स को एक दिन पहले ही आने के लिए मना कर दिया गया था। उसके बाद से गाजियाबाद कार्यालय पर संकट के बादल मंडराने लगे थे। कई तरह की चर्चा होने लगी थी।

कमाल खान ने अनुसूचित जातियों पर की अभद्र टिप्‍पणी, अमिताभ पहुंचे थाने

फिल्म निर्माता, निर्देशक, अभिनेता कमाल आर खान द्वारा राँझना फिल्म की रिव्यू में दो अनुसूचित जातियों के प्रति अत्यंत ही निंदनीय आपराधिक टिप्पणी की गयी है. 20 जून 2013 को यूट्यूब पर लोड हुए 9.40 मिनट के इस वीडियो रिव्यू पर फिल्म के हीरो धनुष के लिए अत्यंत ही अमर्यादित टिप्पणियाँ तो की ही गयी हैं, साथ ही यह भी कहा है- “सर, पता नहीं आप यूपी से हैं या नहीं हैं, पर मैं यूपी से हूँ. पूरे यूपी में जैसा धनुष है वैसे आपको #@$ मिलेंगे, #$^@ मिलेंगे, (दो अनुसूचित जाति भंगी और चमार शब्द यहाँ प्रयोग किये गए हैं) पर एक भी इतना सड़ा हुआ पंडित आपको पूरे यूपी में कहीं नहीं मिलेगा.”

अरुणिमा सिन्‍हा से कौन सी दुश्‍मनी थी दैनिक जागरण की?

छोटों की गलती को कोई भी नजरअंदाज कर देता है लेकिन वहीं गलती अगर विश्व के नम्बर एक कहने वाले से हो तो कोई भी नजरअंदाज नही कर सकता है। नया मामला एवरेस्ट विजेता अरुणिमा सिन्हा के सम्मान कार्यक्रम का है। विचारणीय है कि अरुणिमा सिन्हा अंतर्राष्ट्रीय स्तर की शाख्सियत बन चुकी है और सुल्तानपुर में ही इनका जन्म भी हुआ है। एक ओर जहां हिन्दुस्तान एवं अमर उजाला से लेकर लगभग पत्रों द्वारा इस जिले के लिए ऐसे विशिष्ट कार्यक्रम का कवरेज किया गया वहीं दैनिक जागरण में इसके बारे में एक शब्द भी नहीं दिखा। इसे आखिर क्या कहा जा सकता है?

नीतीश क्या बनेंगे, किंग या किंगमेकर?

एनडीए और बीजेपी से नाता तोड़ने के बाद से नीतीश कुमार ने बहुत कुछ कहा है। तमाम पत्र-पत्रिकाओं और टीवी चैनलों में उनके लंबे-लंबे इंटरव्यू प्रकाशित-प्रसारित हुए हैं, मगर उन्होंने इसका कोई संकेत नहीं दिया है कि आख़िर वे अब करना क्या चाहते हैं, उनका लक्ष्य क्या है? उन्होंने अपने सारे पत्ते सीने से लगाकर रखे हैं और सबको कयास लगाने के लिए खुला छोड़ दिया है।

अपने कर्मचारियों को सैलरी दे चुका है क्रिएटिव नेस्‍ट मीडिया : डीएन पटेल

Dear Mr.Yashwant, Editor, Bhadas4Media. This is here in reference of online news (Bhadas4media) about "Creative Nest Media Pvt Ltd." You have spread a wrong news on your website that Creative Nest Media has shut down and did not release any salary of employees.

61 टीवी चैनलों के लाइसेंस रद्द, 38 को कारण बताओ नोटिस

नई दिल्ली : सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने 61 टीवी चैनलों के लाइसेंस रद्द कर दिए हैं. इन चैनलों के लाइसेंस जांच में मानकों पर खरे नहीं उतरने के बाद रद्द किए गए. साथ ही मंत्रालय ने 38 प्रसारकों को कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

भूख की चिंता छोड़ लोगों की मदद के लिए जूझ रही है बूंद की टीम

Mayank Saxena : बूंद की 14 लोगों की एक टीम अगस्त्यमुनि इलाके के चंद्रपुरी में कैम्प कर रही है…चंद्रपुरी 12 दिन पहले तक केदारनाथ यात्रा का मुख्य रूट था…हाईवे सरीखा, जहां बड़े मार्केट थे..ठहरने के लिए रेसॉर्ट और होटल थे…खाना खाने के लिए रेस्टोरेंट थे…खूबसूरत नज़ारे थे…भीड़ थी…गाड़ियां थीं…चहल पहल थी…इस इलाके में दो पुल थे…एक पुल बाढ़ में बह गया है.

वरिष्‍ठ पत्रकार कमल नयन का लखनऊ में निधन

बनारस के वरिष्‍ठ पत्रकार कमल नयन का शुक्रवार को लखनऊ में निधन हो गया. वे 75 वर्ष के थे. उनका निधन लखनऊ में गोमतीनगर स्थित उनके पुत्र के आवास पर हुआ. कमल नयन लंबे समय तक धर्मयुग के साथ काम किया. इसके बाद लगभग ढाई दशक तक बनारस में गांडीव अखबार के साथ वरिष्‍ठ संवाददाता के रूप में जुड़े रहे.

मृतकों को श्रद्धांजलि देने के लिए पत्रकारों ने किया हवन

उत्‍तराखंड में आई प्राकृतिक आपदा में असमय काल के गाल में समा गए लोगों को श्रद्धांजलि देने के लिए मुगलसराय के पत्रकारों ने स्‍थानीय दुर्गा मंदिर में विधि विधान से हवन पूजन किया गया. साथ ही लापता लोगों की कुशलता के लिए भी पत्रकारों ने प्रार्थना की. इस दौरान पत्रकारों ने दो मिनट का मौन रखकर मृत लोगों की आत्‍मा की शांति तथा उनके परिजनों को शक्ति देने की प्रार्थना की.

विकास संवाद का सातवां मीडिया सम्‍मेलन इटारसी में 29 जून से

विकास संवाद के तत्‍वावधान में 29 जून से 1 जुलाई तक सातवां मीडिया सम्‍मलेन इटारसी के सुखतवा (केसला) में आयोजित किया जा रहा है. तीन दिन तक चलने वाले इस आयोजन में देश भी के तमाम पत्रकार भाग लेंगे. इसके पहले यह सम्‍मेलन पचमढ़ी, बांधवगढ़, चित्रकूट, महेश्वर, छतरपुर, पचमढ़ी में हो चुका है. सातवां सम्‍मेलन सुखतवा (केसला) में आयोजित किया जा रहा है.

अंधविश्‍वास का समर्थन करती पेड न्‍यूज भास्‍कर की अंग्रेजी वेबसाइट पर

आज के युग में भले ही मीडिया कितना हाईटेक हो जाए, लेकिन जहां कमाई का जरिया हो तो वह अंधविश्‍वास की खबरों को भी बढ़ा-चढ़ाकर प्रकाशित/प्रसारित करने से नहीं चूकता। और अगर बात दैनिक भास्कर समूह की हो, तो उसके तो क्या कहने। कुछ ऐसा ही वाकया हुआ है दैनिक भास्कर की अंग्रेजी वेबसाइट डेली भास्कर डाट कॉम पर।

क्रिएटिव नेस्‍ट मीडिया ने बं‍द किया पब्लिकेशन, कर्मचारी सड़क पर

Dear mr Yashwant, I am informing you that CREATIVE NEST MEDIA, publisher of ATELIER and DIVA magazines has closed down the business without prior notice to employees. Company pichale 2 saal se ghate mei chal rahi thi. 17th june ko achanak shaam ko ARPITA MD of Creative Nest Media ne elan ker diya ki kal se koi bhi office na aaye publication band ker diya gaya hai.

कोयला दाम निर्धारण में कोल इंडिया के वर्चस्व का जमाना खत्म

: राजनीतिक और कारपोरेट लाबिइंग ने रंग दिखाया, कोयला मंत्रालय ने नहीं दिया साथ : कोयला दाम निर्धारण में कोल इंडिया के वर्चस्व का जमाना खत्म हुआ। यूनियनों के प्रबल विरोध के चलते विनिवेश और विभाजन का फैसला टलते जाने के मद्देनजर केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कोयला नियामक यानि कोल रेगुलेटरी बोर्ड की स्थापना के प्रस्ताव को मंजूर कर दिया है। अब कोयला नियामक कोयला मूल्य निर्धारण की प्रक्रिया तय करेगा। कोल इंडिया एकतरफा तौर पर कोयले का दाम न बढ़ाये, इसके लिए जोरदार राजनीतिक और कारपोरेट लाबिइंग चल रही थी।

समाचार प्‍लस में अमितेश का प्रमोशन, बने सीनियर रिपोर्टर

समाचार प्‍लस चैनल से खबर है कि अमितेश श्रीवास्‍तव का प्रमोशन कर दिया गया है. लखनऊ में रिपोर्टर के रूप में चैनल को अपनी सेवा दे रहे अमितेश को सीनियर रिपोर्टर बना दिया गया है. यह प्रमोशन एक जुलाई से प्रभावी होगा. इसके लिए प्रबंधन ने लेटर भी जारी कर दिया है.

गोपीनाथ मुंडे ने कहा- चुनाव में खर्चे 8 करोड़, जो करना हैं कर लें

नई दिल्ली। बीजेपी नेता गोपीनाथ मुंडे का एक बयान उन पर ही भारी पड़ सकता है। गोपीनाथ मुंडे ने एक सभा के दौरान कहा कि उन्होंने चुनाव में 8 करोड़ रुपये खर्च किए। मुंडे ने ये भी कहा कि अगर इस कबूलनामे के चलते उन पर कोई कानूनी कार्रवाई होती है तो उन्हें कोई परवाह नहीं है। वैसे भी अब लोकसभा चुनाव होने में बस कुछ ही महीने बचे हैं। गौरतलब है कि एक सांसद के लिए चुनाव खर्च की सीमा सिर्फ 40 लाख रुपये है।

केदारनाथ से रामबाड़ा तक पड़े हुए हैं 2000 शव!

केदार घाटी से रामबाड़ा के बीच करीब 2000 शव अब भी पड़े हुए हैं। इनमें से कई खुले में हैं, तो कई मलबे में दबे हुए हैं। केदारनाथ में बचाव अभियान के बाद लौटे आईटीबीपी व उत्तराखंड पुलिस की टीम ने गुरुवार को आंखों-देखा हाल बयां किया।

अब फिजिक्स का पेपर भी हिंदी और संस्कृत की तरह कम्युनल होने लगा है!

Shambhunath Shukla : दिल्ली विश्वविद्यालय में साइंस फैकल्टी में प्रवेश के लिए आई पहली सूची में कट ऑफ सौ प्रतिशत अंकों की है। सीबीएसई की परीक्षा शुरू होने के एकाध रोज पहले दिल्ली से निकलने वाले एक अखबार के एक स्थानीय संपादक और मल्टी मीडिया प्राडक्ट बेचने वाली कंपनी की दिल्ली से निकलने वाली मैगजीन ने हर वर्ष की भांति कुछ अलग-अलग टिप्स छापे थे। इन टिप्स के मुताबिक फिजिक्स की परीक्षा देने के पहले विद्यार्थी महामृत्युंजय मंत्र पढ़कर निकलें।

पत्रकारिता के स्‍वर्णयुग में किस संपादक ने नेहरू के नीतियों के खिलाफ लिखा था

पत्रकारिता के तथाकथित स्वर्ण युग और यशस्वी संपादकों के दौर में किस महान अखबार और संपादक ने प्रधानमंत्री नेहरू की नीतियों के खिलाफ संपादकीय लिखा. कितने अखबारों ने लाल बहादुर शास्त्री की नेतृत्व वाली सरकारी की किसी भी तरह की आलोचना की. दो अखबारों को छोड़ दें तो 1977 तक किसने इंदिरा गांधी के खिलाफ कुछ भी लिखा.

मीडिया प्रत्यक्ष तौर पर अराजकता मानसिकता के हिरोईज्म का प्रोमोट करता है

: उत्‍तराखंड आपदा : तसवीर का दूसरा एवं ‘सही पहलू’ यह है कि यह हेलीकॉप्टर आपदा का जायजा लेने आया था और पहले उतर नहीं पा रहा था. चारों ओर मलबा फैला था. पहले यह देखना था कि हेलीकॉप्टर सुरक्षित उतारे जा सकते हैं या नहीं. रिस्क लेकर पायलट ने उतारा और एक टीम इलाके की स्थिति का जायजा लेकर तुरंत वापस गयी.

साधना न्‍यूज से प्रतीक और मुकेश का इस्‍तीफा

साधना न्‍यूज से खबर है कि प्रतीक मिश्रा और मुकेश कुमार ने इस्‍तीफा दे दिया है. ये लोग लंबे समय से इस चैनल के साथ जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है कि प्रतीक अपनी नई पारी जिया न्‍यूज के साथ शुरू करने जा रहे हैं. वहीं मुकेश ने अपनी नई पारी हरियाला के चैनल …

भारत में आपदा प्रबंधन किसकी जिम्मेदारी है?

भारत में लोगों को आपदा से बचाना या तत्काल राहत देना किसकी जिम्मेदारी है? ..हमें नहीं मालूम! हमारी छोड़िए.. पांच दशकों से सरकार भी इसी यक्ष प्रश्न से जूझ रही है। दरअसल आपदा प्रबंधन तंत्र की सबसे बड़ी आपदा यह है कि लोगों को कुदरती कहर से बचाने की जिम्मेदारी अनेक की है और किसी एक की नहीं।

राजस्‍थान रॉयल्‍स लांच करेगा अपना चैनल ‘आरआर टीवी’

मुंबई : दुनिया की हाई प्रोफाइल फुटबॉल टीमें जैसे मैनचेस्टर यूनाइटेड और एफसी बार्सिलोना के पास अपने ब्रांड जैसे ‘बार्सा टीवी’ और ‘एमयू टीवी’ प्रोमोट करने के लिए अपने मीडिया मंच हैं, इसी की तर्ज पर राजस्थान रॉयल्स ‘आरआर टीवी’ लांच करेगा।

महाराष्‍ट्र में नहीं रूक रहा मीडिया पर हमला, बीड़ में एक और पत्रकार को पीटा गया

महाराष्ट्र में पत्रकारों के उपर हो रहे हमले रूकने का नाम नही ले रहे हैं. कल बुधवार को बीड जिले के तालखेड में एक और पत्रकार पीटा गया. बीड से प्रसिध्द होने वाले दैनिक झुंजार नेता के रिपोर्टर अरविंद वाव्हल इस हमले मे बुरी तरह से घायल हो गये. उनके सिर और हाथ पर चोट आय़ी है. ग्राम पंचायत चुनाव में विरोध में खबरें देने का आरोप लगाकर भूतपूर्व सरपंच ने यह हमला किया है. इस वारदात की एफआईआर माजलगांव पुलिस में दे दी गई है.

यूके आपदा : 50 करोड़ में मैनेज हुआ नेशनल मीडिया, कई पत्रकारों को अलग से राहत!

उत्‍तराखण्‍ड की आपदा की गूंज पूरे देश तथा विदेश में है तथा इसके लिए उत्‍तराखण्‍ड का आपदा प्रबन्‍धन मंत्रालय तथा चार धाम यात्रा समिति व मुख्‍यमंत्री की आलोचना पूरे देश में हो रही है, उत्‍तराखण्‍ड की आपदा का विपरीत असर कांग्रेस पर पड़ना तय माना जा रहा है, वहीं मुख्‍यमंत्री को अपनी कुर्सी सलामत रहने की चिंता सताने लगी है, इसके लिए नेशनल मीडिया को मैनेज किये जाने का खेल शुरू किया गया.

क्‍या उत्‍तराखंड में सही थी टीवी न्‍यूज चैनलों की रिपोर्टिंग?

अपनी मशहूर पुस्तक “पावर्टी एंड फेमिंस” (गरीबी और दुर्भिक्ष) में विश्व के प्रख्यात अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन ने लिखा था “क्रियाशील प्रजातंत्र में दुर्भिक्ष (अनाज ना मिलने से होने वाली भूखमरी) नहीं हो सकता”। उनका मानना था कि क्रियाशील प्रजातंत्र में मीडिया सक्रिय भूमिका निभाती है। ऐसे में मीडिया की रिपोर्टिंग से पैदा हुए जनमत का दबाव इतना अधिक होता है कि तत्कालीन सरकार मजबूर हो जाती है, अनाज को तत्काल किसी भी तरह से संकट में आये क्षेत्र में पहुंचाने के लिए, भले हीं उसके लिए उसे कुछ भी उपक्रम करना पड़े। 

राष्‍ट्रीय सहारा ने मकान मालिक को नहीं दिया किराया, तालाबंदी की चेतावनी

राष्‍ट्रीय सहारा, बनारस यूनिट जुड़े चंदौली जिले के मुगलसराय कार्यालय से खबर है कि पांच महीने का किराया बकाया होने पर मकान मालिक ने तालाबंदी करने की चेतावनी दी है. उन्‍होंने प्रबंधन को फैक्‍स भेजकर चेताया है कि 24 घंटे में अगर पांच महीने के बकाया पैसे का भुगतान नहीं किया गया तो वे ताला बंद करने के लिए मजबूर होंगे. बताया जा रहा है कि भागवत नारायण चौरसिया के मकान में लंबे समय से राष्‍ट्रीय सहारा का कार्यालय है.

मैंने खुशी खुशी टीवी100 से इस्‍तीफा दिया है : गौरव गुप्‍ता

यशवंत जी प्रणाम, हां ये सच है कि मैंने जैन टीवी में अपनी नई पारी का आगाज किया है. यहां मुझे कुमाऊं की पूरी कमान दी गई है और पूरे अधिकार दिए गए हैं, लेकिन जैसा कि भड़ास पर भेजे गए किसी पत्रकार के पत्र में बताया गया है उसमें कई तथ्‍य सही नहीं हैं. हां ये भी सच है कि पिछले कई सालों में बहुत से रिपोर्टर ने टीवी100 छोड़ दिया.

अपराधियों की सूचना देने वाले पत्रकार को सिपाही ने बंधक बनाकर धमकाया, मामला दर्ज

लखनऊ : क्या आप पुलिस की मदद करना चाहते हैं? क्या आप चाहते हैं कि आपके क्षेत्र में रह रहे संदिग्ध लोगों से पुलिस पूछताछ करे?  यदि आप देश और समाज के दुश्मनों के बारे में कुछ जानते हैं और उसे पुलिस को बता कर किसी अप्रिय घटना को घटने से पहले पुलिस को होशियार करना चाहते हैं तो आप को भी बहुत होशियारी से काम लेना होगा. कहीं ऐसा न हो कि अराजक तत्वों से सांठ गांठ रखने वाले कुछ पुलिस कर्मी आप को ही निशाना बनाने का प्रयास न कर दें. यही सच है जो अपराधियों की सूचना देने वाले एक पत्रकार के सामने आया. 

एचटी, जयपुर के संपादक बने हिमाचल प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन के चेयरमैन

हिंदुस्‍तान टाइम्‍स, जयपुर के एडिटर केएस तोमर को हिमाचल प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन का चेयरमैन नियुक्‍त किया गया है. केएस तोमर लंबे समय से पत्रकारिता में सक्रिय हैं. उनकी नियुक्ति की जानकारी सरकार की तरफ से दी गई है.

उत्तराखंड से बर्बादी की रिपोर्ट (1) : श्रीनगर जल विद्युत परियोजना हुई तबाह

अलकनन्दा नदी में आयी विनाशकारी बाढ़ ने श्रीनगर में भी अपना तांडव दिखाया। नगर के एक बड़े हिस्से को पूरी तरह से बरबाद कर दिया। बाढ़ ने एसएसबी अकादमी का परिसर, आईटीआई परिसर बुरी तरह तबाह हो गया। 70 आवासीय भवनों में रहने वाले सौ से अधिक परिवार बेघर हो गये हैं। इन मकानों में दस से बारह फीट तक मिट्टी भर गयी है। घर का कोई भी सामान काम का नहीं रह गया है। 1970 में बेलाकूची की बाढ़़ की रिर्पोटिंग करने वाले वरिष्ठ पत्रकार डा. उमाशंकर थपलियाल का कहना है कि उस समय भी श्रीनगर में अलकनंदा नदी में लगभग इतना ही उफान था लेकिन तबाही इतनी नहीं हुई थी।

खंडित होता हमारा लोकतंत्र

: 26 जून को इमरजेंसी पर विशेष : 26 जून 1975 को देश में आंतरिक आपातकाल लागू किया गया था। उसके 38 साल बीत गये। तब से गंगा व गोमती में बहुत पानी बह चुका है। देश और दुनिया में बड़े बदलाव आये हैं। पर आज जब भी भारतीय लोकतंत्र की चर्चा होती है इमरजेंसी के दौर को काले अध्याय के रूप में याद किया जाता है।

थाने के मुंशी ने पत्रकार से किया दुर्व्‍यवहार, नाराज मीडियाकर्मी एएसपी से मिले

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर स्थित विभिन्न समाचार पत्रों के मीडिया कर्मचारी बुधवार को एएसपी हमीरपुर अरविन्द चौधरी से मिले और सुजानपुर थाने के मुंशी द्वारा एक पत्रकार से किए गए दुर्व्‍यवहार के बारे अवगत करवाया। हमीरपुर के मीडिया कर्मचारी एक सम्मानीय अखबार के पत्रकार से मुंशी द्वारा सही व्यवहार न करने की घटना की कड़ी निन्दा करते हैं। वहीं मीडिया कर्मचारियों ने एएसपी अरविन्द चौधरी द्वारा इस बारे में सन्तोष जनक उत्तर न देने और सुजानपुर थाने के मुंशी के व्यवहार को सही ठहराए जाने के मामले को मुख्यमंत्री हिमाचल प्रदेश व डीजीपी के पास उठाए जाने का निर्णय लिया है।

पत्रकार सतीश का पशु तस्‍करी में लिप्‍त पुलिस का स्टिंग, पूरी चौकी लाइन हाजिर

23 जून की रात 12 बजे मैं मुण्डेरवा थाना क्षेत्र के खजौला चौकी के पास नेशनल हाईवे 28 पर पहुंचा। जैसे ही 12 बजकर 5 मिनट हुये खजौला चौकी के दो सिपाही एक मोटर साइकिल पर सवार होकर टोल प्लाजा की तरफ भागे। यह सारी तस्वीरें मैं गोपनीय कैमरे से कैद रहा था। कुछ ही देर बाद मैंने देखा दोनों सिपाही भैंसों से लदी एक ट्रक को रोक लिया। दोनों में से एक सिपाही ट्रक के अंदर जाकर सेटिंग में जुट गया। 10 मिनट के बाद वह सिपाही ट्रक से उतरा और अपने साथी सिपाही के साथ चौकी वापस चला गया।

पत्रकारिता में एमफिल करने वाले उज्‍जवल को मिला गोल्‍ड मेडल

एक दशक तक सक्रिय पत्रकारिता से जुड़े रहे उज्‍जवल को एमफिल में गोल्‍ड मेडल प्राप्‍त हुआ है. पत्रकारिता छोड़कर वे महात्‍मा गांधी अंतराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय से एमफिल कर रहे थे. उज्‍जवल के शोध का विषय था 'स्ट्रिंगर की चुनौतियां'. उज्‍जवल ने दस साल पहले केबल चैनल से अपने पत्रकारिता की शुरुआत की थी.

हिंदुस्‍तान ने छापी गलत खबर, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी ने जताई आपत्ति

इलाहाबाद में हिंदुस्‍तान अखबार ने बीते 20 जून को एक खबर प्रकाशित की, जिसमें लिखा गया कि दिनांक 19 जून को भारत के राष्‍ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने टेली कांफ्रेसिंग के माध्‍यम से इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय के कुलपति के साथ बातचीत की तथा हाल पूछा. इस खबर के प्रकाशन के बाद यूनिवर्सिटी ने नाराजगी जताई है.

पीआर कंपनी से मिलकर झूठी खबर के जरिए मोदी को रैंबो बनाने वाले टीआओई के खिलाफ प्रेस काउंसिल को पत्र

Chairperson, Press Council of India: Inquire into serious violation of media ethics by Times of India, Dear Sir,  As per Times of India report (http://timesofindia.indiatimes.com/india/Narendra-Modi-lands-in-Uttarakhand-flies-out-with-15000-Gujaratis/articleshow/20721118.cms) Narendra Modi flies in Uttarakhand, goes in a huddle with his crack team and then sends 15000 Gujaratis back to safety in one night.  How, I ask, when even the Army has been able to rescue just 20000 in a week. The questions are-

Forget Modi, even Rambo can’t save 15,000 pilgrims, experts say

AHMEDABAD: Narendra Modi's spin doctors came in for some harsh criticism on Sunday for giving out an impression that the Gujarat chief minster had transformed into Rambo and helped rescue 15,000 Gujarati pilgrims stranded in the Uttarakhand floods. Experts said it was practically impossible to move 15,000 people in a short span of time even by the armed forces, whose personnel are trained for such massive tasks. The government's own records showed that of the 2,000-odd people who have returned to Gujarat till Saturday, about 1,200 had used arrangements made by the state government. The 400-plus pilgrims that reached Ahmedabad railway station on Sunday morning had made their own arrangements to return home.

अमिताभ ठाकुर के कदम से सहमत नहीं हैं आईपीएस महेंद्र नाथ तिवारी

यूपी कैडर के आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर का मानना है कि आईपीएस एसोसिएशन का निर्माण और संचालन गलत है क्योंकि ऐसे किसी एसोसिएशन के निर्माण की छूट कानून में नहीं है. इसी आधार पर उन्होंने इस एसोसिएशन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की अर्जी थाने में दी. अमिताभ का मानना है कि अगर एसोसिएशन बने तो उसमें सारे के सारे पुलिस वाले शामिल हों, सिर्फ आईपीएस एसोसिएशन क्यों रहे, और बाकी पुलिसवालों को आप एसोसिएशन बनाने की छूट न दें. इस दोहरे रवैये के खिलाफ अमिताभ ठाकुर ने लड़ाई शुरू की है. उनकी इस मुहिम को कई आईपीएस अफसर पचा नहीं पा रहे. आईपीएस महेंद्र नाथ तिवारी ने अमिताभ ठाकुर की इस पहल पर टिप्पणी की. तब अमिताभ ने तिवारी जी की टिप्पणी को लिखते हुए उन्हें अपना जवाब अपने फेसबुक वॉल पर दिया. लीजिए, पढ़िए…

ढंग से समझ लीजिए, बादल फटने जैसी कोई चीज़ नहीं होती

Rajiv Nayan Bahuguna : ढंग से समझ लीजिए . बादल फटने जैसी कोई चीज़ नहीं होती . एक ही जगह पर घनीभूत बारिश को लोग बादल फटना समझ बैठते हैं . इस तरह समुद्र तटीय क्षेत्रों में दिन में बीसियों बार बादल फटते हैं . जैसे गंजी खोपडी पर ओले की मार तगड़ी पड़ती है , वैसे ही वृक्ष और वनस्पति विहीन भूमि की नंगी त्वचा बारिश को नहीं झेल पाती और रपट जाती है . पत्थर और मिट्टी निकालने के लिए किये गए गड्ढे इसमें कोढ़ में खाज का काम करते हैं

आजतक पर प्रकट हो गए विनोद दुआ!

Zafar Irshad : क्या मशहूर पत्रकार विनोद दुआ ने एनडीटीवी छोड़ दिया है .?.यह सवाल इस लिए मन में आया की आज न्यूज़ पेपर में एक विज्ञापन निकला है, जिसमे बताया गया है विनोद दुआ के प्रोग्राम आप इस समय दिल्ली आजतक और दूरदर्शन पर देखिये, और आकशवाणी और आजतक के रेडियो ऍफ़ एम पर सुनिए…अगर यह खबर सही है, तो दुर्भाग्य पूर्ण है, क्योंकि प्रणव रॉय और विनोद दुआ को बचपन में ब्लैक वाइट टीवी पर देखता आ रहा हूँ, और आज भी दुआ जब अपने "ज़ायका इंडिया का " प्रोग्राम में यह कहते थे की एक एकलौते हम ही है जो देश के लिए खाते है, तो बरबस चेहरे पर मुस्कान आ जाती थी…एनडीटीवी मैं केवल विनोद दुआ और रविश कुमार की वजह से ही देखता था…अच्छा नहीं लगा दुआ का यूँ एनडीटीवी से जाना…पता नहीं क्या कारण है.?.जो रॉय और दुआ की कम से कम 20 साल पुरानी दोस्ती टूट गयी….

क्या एचटी ने अभिजीत मजूमदार से पेड न्यूज वाली स्टोरी कराई है?

Himanshu Kumar : इस रिपोर्ट में पत्रकार महोदय लिखते हैं की दंतेवाडा में कैटरीना कैफ का कोका कोला पीते हुए होर्डिंग लगा हुआ है इससे सिद्ध होता है की अब वहाँ सामान्य स्तिथि बहाल हो रही है. इन पत्रकार बन्धु ने बस्तर जाने से पहले मुझ से कई बार बात की थी. और मैंने इन्हें पुलिस द्वारा आदिवासियों पर होने वाले कई ज़ुल्मों की घटनाओं के बारे में बताया था. ऐसी घटनाएँ आज भी जारी हैं. लेकिन इन पत्रकार महोदय ने अपनी इस रिपोर्ट में उन घटनाओं का कोई ज़िक्र नहीं किया है. इन पत्रकार महोदय को मैंने साम सेट्टी गाँव की छह बलात्कार पीड़ित लड़कियों के बारे में बताया गया था जिनके साथ पुलिस ने दो बार सामूहिक बलात्कार किया है और अभी पिछले महीने ही उन लड़कियों को ज़बरदस्ती अपनी शिकायत वापस लेने के लिए पीटा गया था.

तो क्या ऐसे निकाल ले गए नरेन्द्र मोदी अपने गुजरातियों को?

Dinesh Mansera : मुझे बद्रीनाथ से, विकास जुगरान ने बताया की यहाँ निजी कंपनियों के हेलीकाप्टर आते थे, उनके पास लिस्ट होती थी और वो अपनी सूची अनुसार लोगो को बैठा के ले जाते थे. विकास खुद बद्रीनाथ में हवाई सेवा बुकिंग का काम भी करते है. वे कहते हैं उनके विमान भी ऐसा सब कुछ हेड ऑफिस के आदेश पर कर रहे थे… तो क्या ऐसे निकाल ले गए नरेन्द्र मोदी अपने गुजरातियों को?

“आप” ललितपुर के जिला संयोजक ब्रिजलाल और उनके मित्र की निर्मम हत्या

Aam Aadmi Party :  भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में खड़े होने वालों के दुश्मनों की कमी नही है. जबसे हम इस लड़ाई में आये हैं, हमारे कार्यकर्ताओं पर हमले होते रहे हैं. बड़े दुःख के साथ बताना पड़ रहा है कि, "आप" ललितपुर के जिला संयोजक ब्रिजलाल और उनके मित्र की निर्मम हत्या कर दी गयी है.

यहां पर आकर आरएसएस फेल हो जाता है

स्वप्निल कुमार : आर.एस. एस. ने इस देश की सेवा की है इस बात में संदेह नही है । मै भी कभी स्वयं सेवक रह चुका हूँ, स्वयं सेवको के समर्पण, सेवाभावना, उत्साह आदि को जानता हूँ । और उसका आज भी तहे दिल से सम्मान करता हूँ. लेकिन, किसी भी संस्था की आत्मा होती है उसका 'एजेंड़ा' । वह किन उद्देश्यो के लिये काम कर रही है, समाज में किन मूल्यों को स्थापित करना चाहती है ?

शाजी जमां और विनोद कापड़ी को लेकर कानाफूसी

दो चर्चाएं तेज हैं. पहली तो ये कि एक बड़ा समूह दो चैनल लेकर आ रहा है जिसमें एक नेशनल न्यूज चैनल होगा. इस समूह की कोशिश न्यूज चैनल्स के स्थापित नामों को तोड़ने की है. इस कड़ी में चर्चा है कि उस ग्रुप ने एबीपी न्यूज के संपादक शाजी जमां से संपर्क किया है. चर्चा यहां तक है कि शाजी जमां इस नए न्यूज चैनल में एडिटर इन चीफ के रूप में ज्वाइन कर सकते हैं. हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है.

मंत्रीजी के नाम पर सौ करोड़ रुपये उगाही का टारगेट!

भड़ास को कुछ ऐसे तथ्य पता चले हैं जिसके आधार पर कहा जा सकता है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में तैनात एक मंत्री के नाम पर उनके अधीनस्थ लोग लगभग सौ करोड़ रुपये उगाही का टारगेट बनाए हुए हैं और इस टारगेट को पूरा करने के लिए पैसा वसूलो अभियान पर कई लोग निकल चुके हैं.

राजस्‍थान के छह पत्रकारों को कप्‍तान दुर्गाप्रसाद चौधरी पत्रकारिता पुरस्‍कार

राजस्‍थान के सबसे पुराने राज्‍य स्‍तरीय समाचार पत्र दैनिक नवज्‍योति के संस्‍थापक संपादक एवं स्‍वतंत्रता सेनानी कप्‍तान दुर्गाप्रसाद चौधरी पत्रकारिता पुरस्‍कार 2013 के लिए छह पत्रकारों को चयन हुआ है। ये पुरस्‍कार राजस्‍थान की झीलों की नगरी उदयपुर में 29 जून को आयोजित समारोह में दिए जाएंगे।

कल का दिन मेरे टीवी करियर का सबसे अच्छा दिन था : निशांत चतुर्वेदी

निशांत चतुर्वेदी न्यूज एक्सप्रेस चैनल के हेड हैं. कल उन्होंने उत्तराखंड के हर्षिल में राहत कैंप में इंतजार कर रहे लोगों की जब तस्वीर दिखा रहे थे तो उसी वक्त कानपुर के एक सज्जन का फोन आया और उन्होंने बताया कि अभी अभी जो तस्वीर चैनल पर चली है, उसमें उनका भाई दिख रहा है, प्लीज उससे बता करा दीजिए. और, देखते ही देखते निशांत के प्रयास से उस कानपुर के शख्स का अपने बिछड़े भाई से संपर्क हो गया.

वितरक आवाज के सात साल पूरे, वर्षगांठ पर 29 जून को गाजियाबाद में महाधिवेशन

मीडिया तथा अखबार वितरकों की खबरों पर आधारित न्‍यूज पेपर 'वितरक आवाज' के प्रकाशन की सातवीं वर्ष गांठ पर 29 जून को गाजियाबाद में एक बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है. गाजियाबाद समाचार पत्र वितरक संघ के बैनर तले यह कार्यक्रम लोहिया नगर के अग्रसेन भवन में आयोजित किया गया है.

ईमानदार नेता बनने का मादा होता तो आप कमांडेंट को नहीं सीएम को सस्‍पेंड करते राहुल

सुनीता भास्कर : राहुल गांधी के न्याय का भी कोई जवाब नहीं….उत्तराखंड के दौरे से लौटते ही उन्होंने एनडीआरऍफ़ के कमान्डेंट को हटाकर उनके मूल विभाग आईटीबीपी में भेज दिया.. हवाला रेस्क्यू में देरी का…गोकि देरी का सारा जिम्मा एकमात्र एनडीआरऍफ़ का हो..एनडीआरफ़ दूसरे दिन से ही वायुसेना के साथ कदम से कदम मिला के जी जान से रेस्क्यू में जुटा है..हेलीकॉप्‍टर क्रेश में उसने अपने नौ जवान खोये हैं. वैसे ही जवानों का मोरल डाउन है.

कितने भी पुल टूट जाएं, इंसानों को इंसानों से जोड़ने वाले पुल कभी नहीं टूटते

Mayank Saxena : इस जगह न फोन काम कर रहे हैं…और न ही बिजली है…सड़कें बह चुकी हैं…बाहरी दुनिया से जोड़ने वाला एकमात्र पुल बह चुका है…न राशन बचा है और न दवाईयां…हमारी एक टीम उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग के अगस्त्यमुनि इलाके के विजयनगर, गंगानगर और चंद्रपुरी इलाके में है…जान पर खेल कर ये टीम, बेहद मुश्किल सड़क से होते हुए, फिर पैदल एक कमज़ोर बचे पुल को पार कर के इस इलाके में आई, जहां पर सब बह चुका है और सड़की की जगह एक खाई बची है.

इंडियन एक्‍सप्रेस ने भी छापी असंवेदनशील पत्रकार की खबर

न्‍यूज एक्‍सप्रेस चैनल के रिपोर्टर रहे नारायण परगाई की बाढ़ पीडित के कंधे पर चढ़कर की गई पीटूसी की खबर इंडियन एक्‍सप्रेस ने भी प्रकाशित की है. नारायण की इसी गलती के कारण प्रबंधन ने भी उन्‍हें चैनल से बाहर कर दिया था. इंडियन एक्‍सप्रेस में प्रकाशित खबर में भी इस शर्मनाक बताया गया है, हालांकि रिपोर्टर का कहना है कि उसे इसके जरिए बदनाम करने की कोशिश की गई है. नीचे पढि़ए इंडियन एक्‍सप्रेस में प्रकाशित खबर.. 

कात्यायनी ने चार लोगों को भेजा मानहानि का नोटिस

प्रति, 1. अजय प्रकाश, नई दिल्ली, 2. सत्येन्द्र कुमार, लखनऊ, 3. ओम प्रकाश सिन्हा, लखनऊ, 4. मुकुल श्रीवास्तव, गोरखपुर, 5. देवेन्द्र प्रताप, मेरठ (प्रतिवादीगण)

बिजनेस भास्‍कर के पांच साल पूरे, संपादक ने गिनाई चुनौतियां

दैनिक भास्कर समूह का 'बिजनेस भास्कर' अपने प्रकाशन के पांच वर्ष पूरे कर चुका है। आज से यह छठे वर्ष में प्रवेश कर रहा है। बिजनेस भास्कर ने हिंदी बिजनेस पत्रकारिता में जब पहला कदम रखा, तभी दुनियाभर में आर्थिक सुस्ती की शुरुआत हुई थी।

संत समीर, अजीत वेडनेरकर एवं विश्‍वनाथ सचदेव को राष्‍ट्रीय पत्रकारिता पुरस्‍कार

माधवराव सप्रे स्मृति समाचारपत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान, भोपाल के प्रतिष्ठित ‘महेश गुप्ता राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार’, ‘लाल बलदेव सिंह राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार’ तथा ‘माधवराव सप्रे राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार’ इस वर्ष हिन्दी पत्रकारिता के तीन विशिष्ट शब्दकर्मियों ‘कादम्बिनी’ (दिल्ली) के मुख्य कॉपी सम्पादक व समाजकर्मी सन्त समीर, ‘अमर उजाला’ (बनारस) के सम्पादक ‘अजीत वेडनेरकर’ और ‘नवभारत टाइम्स’ (मुम्बई) के पूर्व सम्पादक विश्वनाथ सचदेव को प्रदान किए गए।

जनसंदेश टाइम्‍स, महाराजगंज के दफ्तर में लगा ताला

महारागंज से खबर है कि वहां जन्संदेश टाइम्स के दफ्तर में ताला लग गया है. दफ्तर में एक नहीं तीन-तीन ताले लगे हैं. पहला ताला मकान मालिक का है, दूसरा ताला जिला प्रभारी का है और तीसरा ताला फोटोग्राफर का है. मकान मालिक किराए के लिए और फोटोग्राफर अपने वेतन के लिए दफ्तर में ताला जड़ दिए हैं. जिलाप्रभारी अपने लिए दूसरे अखबार में ठौर के जुगाड़ में लग गए हैं.

जी समूह लांच करेगा अपना रीजनल चैनल जी न्‍यूज राजस्‍थान

जी न्‍यूज ग्रुप जल्‍द ही एक और रीजनल चैनल लांच करने जा रहा है. राजस्‍थान में विधानसभा चुनाव को देखते हुए जी समूह जी न्‍यूज राजस्‍थान जल्‍द लांच करने जा रहा है. इसके लिए नियुक्तियां भी आखिरी दौर में है. हाल ही में चैनल गोयल समूह से अलग होने के बाद एमपी-सीजी रीजनल चैनल लांच किया है.

उत्‍तराखंड त्रासदी पर सोनिया और बहुगुणा के हंसते फोटो को लेकर बवाल

उत्तराखंड त्रासदी से पूरे देश में शोक की लहर है वहीं देश के माननीय नेताओं के राहत पहुंचाने के दावों के मुस्कुराते हुए विज्ञापन हैं. जी हां ऐसा वाक्या पेश आया है उत्तराखंड सरकार ने छवि सुधारने के लिए लाखों खर्च करके अखबारों में जो विज्ञापन छपवाए हैं उनमें सोनिया गांधी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा की मुस्कुराती हुईं तस्वीरें छापी गईं.

राष्‍ट्रीय शोक है यह आपदा, 30 जून को पहुंचे जंतर-मंतर

भूकंप से लाटूर में 20 हजार मौतें हुईं- कोई राष्‍ट्रीय शोक नहीं। कच्‍छ और भुज में वर्ष 2000 में आए जलजले ने बीस हजार लोगों को बेवजह लील लि‍या, 'राष्‍ट्र' की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ा। सुनामी में तकरीबन साढ़े दस हजार लोग अकाल मौत के शि‍कार हो गए, उसे राष्‍ट्रीय आपदा घोषि‍त कि‍या गया, फि‍र भी सत्‍ता प्रति‍ष्‍ठान का कलेजा नहीं पि‍घला।

उस दिन दोपहर में ही ‘आज’ अखबार का बंडल उतरते देखकर अजीब लगा

Shambhunath Shukla : सावधान! आपातकाल लागू है। साल 1975 तारीख 26 जून। दोपहर के ढाई बज रहे थे। अपना अखबारी बुलेटिन नया मोर्चा छोड़ने का समय हो रहा था। इसे हम चार पांच एमएल के विचारों के हामी लेकिन डेमोक्रेटिक मूल्यों में यकीन करने वाले साथियों ने निकाला था। इसमें एक लघु उद्यमी अजय सहगल, मजदूरों के बीच काम कर रहे पीयूषकांत सूर उर्फ मोना दा, कामरेड सुमनराज और साथी दिनेश चंद्र बंधु ने निकाला था।

मंगल कलश की एच आर हेड बनीं दीपिका शर्मा, नईदुनिया से कृष्‍णपाल का इस्‍तीफा

धार्मिक चैनल मंगल कलश में कई तब्दीलियों की खबर आ रही है। मैनेजमेन्ट चैनल को रफ्तार देने में लग गया है। इसके लिए एचआर हेड के तौर पर दीपिका शर्मा को लाया गया है। दीपिका इससे पहले कई चैनलों के साथ काम कर चुकी हैं। टोटल टीवी, टीवी-100, मनोरंजन टीवी आदि चैनलों में उन्होंने वरिष्ठ पदों पर काम किया है।

सीजेएम ने सहारा क्‍यू शॉप के डाइरेक्टर खिलाफ केस में रिपोर्ट मंगाई

सीजेएम लखनऊ प्रमोद कुमार ने सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर द्वारा सहारा क्यू शॉप यूनिक प्रोडक्ट्स रेंज लिमिटेड, मुंबई के डाइरेक्टर के खिलाफ थाना गोमती नगर, लखनऊ में धारा 500 आईपीसी में दर्ज मानहानि सम्बंधित एनसीआर में रिपोर्ट मंगवाई है. मामले की अगली सुनवाई 01 जुलाई को होगी.

न्यूज़ एक्सप्रेस के टेक्निकल सेटअप की दुनिया भर में धूम

देश का पहला राष्ट्रीय हाई डेफ्नीशियन यानी एचडी चैनल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा का विषय बना हुआ है। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में इसमें इस्तेमाल की गई टेक्नाल़ॉजी और उपकरणों को लेकर प्रशंसात्मक लेख प्रकाशित हो रहे हैं। चैनल की तारीफ़ की मुख्य वजह बहुत कम कीमत पर एचडी टेकनालॉजी से उसका लैस होना है।

दैनिक जागरण ने छापी सनसनी फैलाने वाली खबर!

दैनिक जागरण का बदायूं कार्यालय बड़े लोगों से जुड़ी खबरों में भले ही खेल करता हो, लेकिन सनसनी फैलाने में कोई कसर नहीं छोडता। बिना किसी आधार के बदायूं के तार हैदराबाद बम धमाके से जोड़ दिये, जिससे अधिकांश लोग आश्चर्यचकित हैं कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर के आतंकवादी बदायूं में भी हैं। खबर का कोई आधार नहीं है, इसलिए संपादक ने अंदर के पेज पर भी खबर को लीड नहीं बनाया, लेकिन खबर में हैदराबाद धमाके का फाइल फोटो छाप कर सनसनी फैलाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है।

हिंदुस्‍तान, चंदौली के विज्ञापन एजेंट तथा उसकी पत्‍नी पर पिता ने किया जानलेवा हमला

चंदौली जिले से खबर है कि हिंदुस्‍तान के जिला विज्ञापन एजेंट रहमान तथा उनकी बीबी पर उनके पिता ने ही जानलेवा हमला किया है. चापड़ से किए गए हमले पति-पत्‍नी गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. बताया जा रहा है कि यह हमला घरेलू विवाद में किया गया है. रहमान तथा उनकी बीबी का इलाज सकलडीहा में चल रहा है. लोगों में चर्चा है कि आखिर ऐसा कौन सा कारण पैदा हो गया कि बाप को अपने इकलौते पुत्र पर जानलेवा हमला करने की नौबत आ गई. हालांकि रहमान की तरफ से एफआईआर दर्ज नहीं कराए जाने के चलते पुलिस ने आरोपी पिता के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है.

उपमा सिंह एवं सौरभ त्रिपाठी ने लखनऊ में नभाटा ज्‍वाइन किया

दैनिक भास्‍कर, लुधियाना से खबर है कि उपमा सिंह एवं सौरभ त्रिपाठी ने इस्‍तीफा दे दिया है. दोनों लोग अपनी नई पारी लखनऊ में नवभारत टाइम्‍स के साथ शुरू कर चुके हैं. उपमा दैनिक भास्‍कर में सीनियर सब एडिटर के पद पर कार्यरत थीं. नभाटा में उन्‍होंने सीनियर करेस्‍पांडेंट के पद पर ज्‍वाइन किया है. वे इसके पहले लंबे समय तक लखनऊ में अमर उजाला को अपनी सेवाएं दे चुकी हैं.

Chief editor, reporter held for Rs 1 lakh extortion

MUMBAI: The chief editor and the reporter of a local magazine from Mira Road were arrested for extorting Rs 1 lakh from a hotelier in Borivali East on Monday. The reporter, AmitPanvar (29), was caught red-handed while accepting the sum. Police said Panvar and his editor, NityanandPandey, 40, had filed complaints against the hotelier, Rahat Khan, for running illegal activities.

”कांग्रेसी नेताओं पर नक्‍सली हमला राजनीतिक साजिश”

रायपुर : केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने पिछले महीने दरभा क्षेत्र में कांग्रेस परिवर्तन यात्रा पर नक्सली हमले को राजनीतिक साजिश करार देते हुए कहा कि कुछ लोग कांग्रेस की सरकार बनने नहीं देना चाहते हैं। यह हमला न केवल नक्सली हमला था बल्कि सोची-समझी राजनीतिक साजिश का हिस्सा था।

पंजाब केसरी से इस्‍तीफा देकर अमर उजाला पहुंचे राकेश एवं सौरभ

हिमाचल में पंजाब केसरी से दो लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया है. पालमपुर में तैनात राकेश ठाकुर और सौरभ सूद ने संस्‍थान को बाय कर दिया है. राकेश सब एडिटर तथा सौरभ रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे. दोनों लोगों ने अपनी नई पारी अमर उजाला, शिमला के साथ शुरू की है.

कैग ने हुड्डा के दो मीडिया एडवाइजरों की नियुक्ति पर उठाया सवाल

चंडीगढ़ : सरकार के खर्चे का लेखा-जोखा रखने वाली संस्था, नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की टेढ़ी नजर इस बार मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के दो एडिशनल मीडिया एडवाइजरों पर है। कैग के प्रिंसिपल अकाउंट जनरल (ऑडिट) ने सरकार को पत्र लिखकर ये बताने के लिए कहा है कि आखिर इन नियुक्तियों की जरूरत क्या थी?

नरेंद्र मोदी के चारण में लगा हुआ था आजतक

Vineet Kumar : कल दिनभर देश का नंबर वन और सबसे तेज चैनल आजतक नरेन्द्र मोदी के चारण में लगा हुआ था. वो जमकर सरकार की आलोचना करते हुए नरेन्द्र मोदी की तारीफ में कसीदे पढ़ रहा था. दिनभर चली इस स्टोरी में जीरो पर्सेंट रिपोर्टिंग थी और दरअसल अमेरिका की उसी apco worldwide पीआर कंपनी की तैयार की गई स्क्रिप्ट पर नाच रहा था और आपको सबसे भोथरा कर रहा था जिसे कि नरेन्द्र मोदी अपनी छवि दुरुस्त करने के लिए करोड़ों रुपये देते आए हैं.

न्‍यूज एक्‍सप्रेस से नारायण परगाई बर्खास्‍त

न्‍यूज एक्‍सप्रेस से खबर है कि देहरादून के रिपोर्टर नरायण परगाई को बर्खास्‍त कर दिया गया है. उन पर गलत वीडियो भेजने का आरोप था. बताया जा रहा है कि चैनल हेड निशांत चतुर्वेदी ने इसे संस्‍थान के साथ धोखाधड़ी मानते हुए उन्‍हें हटा दिया. इसके पहले भी एक बच्‍चे के कंधे पर बैठकर पीटूसी देते नारायण विवादों में आ गए थे.

दारोगा ने पत्रकार को अखबार से निकलवाया!

झांसी में पुलिस और पत्रकारों की बीच चल रहे विवाद के बीच खबर है कि पत्रकारों का साथ देने वाले एक क्राइम रिपोर्टर को प्रभारी दारोगा ने अखबार से निकलवा दिया. यह अखबार जमीन का धंधा करने वाला एक व्‍यक्ति निकालता है, लिहाजा दारोगा ने उसे फंसाने की धमकी देते हुए रिपोर्टर को निकलवा दिया. क्राइम रिपोर्टर इस घटना से बुरी तरह दुखी है. इस घटना से मीडिया की औकात भी पता चल जाती है.

जयपुर से प्रकाशित होगा नेशनल न्‍यूज!

जयपुर से नेशनल न्यूज प्रकाशित होने की जबरदस्त चर्चाओं के बीच इस अखबार से राजधानी के कई पत्रकारों के जुड़ने की खबरें आ रही हैं। राजस्थान में इस साल के अंत तक चुनाव होने हैं। चुनावों की तैयारियों के बीच कई अखबारों और न्यूज चैनलों के आने की भी चर्चाएं हैं।

जनसत्ता को 65000 कॉपी तक पहुंचा दिया तो मेरी कोठी खाली करा ली गई

Shambhunath Shukla : कोलकाता में तीन साल बिताए। मुझे कोलकाता दिल्ली की तुलना में सदैव पसंद आया। पर वहां जिस जनसत्ता अखबार का संपादक मैं था उसका सरकुलेशन बढ़ाने को इंडियन एक्सप्रेस का प्रबंधन राजी नहीं था और एक दिन तो वह आया जब मैंने प्रसार कोलकाता जैसे अहिंदीभाषी शहर में जनसत्ता को ६५००० कॉपी तक पहुंचा दिया। बस यही बात इंडियन एक्सप्रेस के प्रबंधन को खल गई। और कोलकाता में मुझे रहने के लिए अलीपुर की जो कोठी दी गई थी वह तत्काल खाली करा ली गई।

विनीता ने जी न्‍यूज तथा सुशांत ने अमर उजाला ज्‍वाइन किया

शगुन टीवी से इस्‍तीफा देकर विनीता त्रिपाठी ने अपनी नई पारी जी न्‍यूज राजस्‍थान के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां पर असिस्‍टेंट प्रोड्यूसर बनाया गया है. विनीता इसके पहले हमार टीवी, मौर्य टीवी को भी अपनी सेवाएं दे चुकी हैं. इन चैनलों में वे एंकर के रूप में काम कर चुकी हैं. माना जा रहा है कि जी न्‍यूज में भी उन्‍हें यह जिम्‍मेदारी सौंपी जा सकती है. 

धीरे-धीरे टूट रही है टीवी100 की टीम, जिम्‍मेदार कौन?

उत्तराखंड के एक और रीजनल चैनल की डूबने की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है। जिस तरह की जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक टीवी 100 न्यूज चैनल को बहुत जल्द ही बैसाखियों के सहारे की जरूरत पड़ने वाली है। टीवी 100 के कुमाउं मंडल से ब्यूरो चीफ गौरव गुप्ता ने इस्तीफा दे दिया है। गौरव गुप्ता टीवी 100 के साथ पिछले कई सालों से जुड़े हुए थे। कहा जा रहा है चैनल प्रबंधन के मनमाने रवैये से तंग आकर गौरव गुप्ता ने चैनल को अलविदा कह दिया है, गौरव ने जैन टीवी के साथ अपनी नई पारी शुरू की है।

सेना का एमआई17 हेलीकॉप्‍टर दुर्घटनाग्रस्‍त, आठ लोगों की मौत

देहरादून। गौरीकुंड में राहत-बचाव काम में लगा एक हेलीकॉप्टर गिर गया है। वायुसेना के MI-17 हेलीकॉप्टर में सवार सभी आठ लोगों की मौत हो गई है। मरने वालों में 5 एयरफोर्स के जवान और 3 आम नागरिक थे। ये हादसा गौरीकुंड से उत्तर दिशा में हुआ। इस हेलीकॉप्टर को पिछले साल ही खरीदा गया था।

सिटी एसपी की प्रेसवार्ता में पत्रकार कुनाल का मोबाइल चोरी

टीवी पत्रकार कुनाल जायसवाल का मोबाइल पुलिस की नाक के नीचे से गायब हो गया. कुनाल के साथ यह घटना उस वक्‍त हुई जब वे नोएडा फेस 2 थाने में एसपी सिटी की प्रेस वार्ता कवर कर रहे थे. इस दौरान सीओ सिटी और थानाध्‍यक्ष भी मौजूद थे, लेकिन इसके बावजूद चोरों ने कुनाल के …

जिला होम्योपैथी अधिकारी सहित तीन स्वास्थ्य कर्मियों के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज

देवरिया। होम्योपैथी विभाग में हुए अस्सी लाख रुपए के घोटाले के मामले में जिला प्रशासन दोषियों के खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने के मामले में टाल मटोल कर रहा था कि इस बीच मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के निर्देश पर कोतवाली पुलिस ने जिला होम्योपैथी अधिकारी (डीएचओ) समेत तीन स्वास्थ्य कर्मियों के विरूद्ध मुकदमा दर्ज किए जाने का आदेश दिया है।

“उसका रिश्‍तेदार आईएएस है, कंप्रोमाइज कर लो ठीक रहेगा”

आम तौर पर देखा गया है कि एक सीनियर जर्नलिस्ट अपने जूनियर की हर संभव मदद करता है और उसका उत्साह बढ़ाता है। लेकिन उत्तर प्रदेश की राजधानी में तो दृश्य कुछ और है। हुआ यूं कि एक अंग्रेज़ी दैनिक के युवा पत्रकार की बेटी लखनऊ के एक बड़े गर्ल्स कॉलेज में पढ़ती है।

मध्‍य प्रदेश एवं छत्‍तीसगढ़ में चैनलों के स्ट्रिंगरों की चांदी

मध्‍यप्रदेश में इन दिनों रीजनल टेलीविजन चैनल के स्ट्रिंगर्स की चांदी है.. एक-एक स्ट्रिंगर हाथ में दो-दो तीन-तीन चैनलों की माइक आईडी पकड़े घूम रहा है.. इसका कारण यह है कि हाल ही में तीन नए चैनल्‍स ने मप्र में दस्‍तक दी है.. इनमें जी चौबीस घंटे, पर्ल और आईबीसी 24 शामिल है.

टीवी100 से इस्‍तीफा देकर जैन टीवी पहुंचे गौरव और अजीम

उत्‍तराखंड के टीवी100 से खबर है कि कुमांऊ ब्‍यूरोचीफ गौरव गुप्‍ता ने चैनल से इस्‍तीफा दे दिया है. वे चैनल के लांचिंग के समय से जुड़े हुए थे. गौरव के पहले रुड़की ब्‍यूरोचीफ मोहम्‍मद अजीम ने भी टीवी100 से इस्‍तीफा दिया है.

सीजेएम ने यूपी आईपीएस एसोसियेशन पर रिपोर्ट मंगाई

सीजेएम लखनऊ श्री प्रमोद कुमार ने आज उत्तर प्रदेश आईपीएस एसोसियेशन के विधिविरुद्ध होने पर एफआईआर कराने मेरे प्रार्थनापत्र पर मेरे अधिवक्ता श्री त्रिपुरेश त्रिपाठी की बहस सुन कर थाना महानगर, लखनऊ से रिपोर्ट मंगवाई है. मामले की अगली सुनवाई 04 जुलाई को होगी.

अजय प्रकाश भास्‍कर समूह की पत्रिका ‘अहा जिंदगी’ से जुड़े

युवा पत्रकार अजय प्रकाश ने दैनिक भास्कर, जयपुर से अपनी नई पारी शुरू कर ली है। उन्होंने वहां दैनिक भास्कर के मैगजीन डिवीजन "अहा जिंदगी" में चीफ सब एडिटर के पद पर ज्वाइन किया है। इससे पहले वे लंबे समय से दिल्ली में पाक्षिक समाचार पत्रिका द पब्लिक एजेंडा में नौकरी कर रहे थे।

लूट के लिए प्रेस छायाकार पर जानलेवा हमला

वाराणसी। हिन्दी के सबसे पुराने अखबार के छायाकार अनिल मिश्रा पर कुछ लोगों ने जानलेवा हमला कर उनकी बाइक, मोबाइल, कैमरा, सोने की चेन और नगदी छीन लिया। हमले में अनिल को चोट आयी है। बताया जाता है कि रविवार की रात प्रेस का काम खत्म होने के बाद रात 1.30 बजे के करीब वो अपने घर संथवा जा रहे थे। कीटगंज वाटर प्लांट के पास जैसे ही अनिल पहुंचे अचानक सामने से आ रहे बाइक पर तीन युवकों ने अनिल को रोक लिया इससे पहले कि अनिल कुछ समझ पाते युवकों ने उनपर हमला कर दिया।

मुरादाबाद में अमर उजाला के रिपोर्टर ने छाप दी फर्जी खबर!

उत्तराखंड में ८ दिन के बाद हालात थोड़े बेहतर हुए हैं. हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया गया है. और जो मौत के मुंह में समा गए हैं उनका अंतिम संस्कार वहीं पर किया जा रहा है. ऐसे में हमारे समाज में कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो अपनी रोटियां सेंकने से बाज नहीं आ रहे हैं. चाहे वो साधुओं के वेश में लुटेरे हों या लाशों पर राजनीति करते नेता. लेकिन हैरत की बात है कि मुरादाबाद का एक पत्रकार, जो अमर उजाला जैसे प्रतिष्ठित अखबार से जुडा है, ऐसी फर्जी खबरे छाप कर सनसनी फैलाने से बाज नहीं आ रहा और उत्तराखंड के पीडितों के जख्मों पर नमक छिड़क रहा है.

रसाज टाइम्‍स के संपादक के विरुद्ध एफआईआर की खबर जागरण ने क्‍यों नहीं छापी?

रईस अहमद बदायूं के मूल निवासी हैं और मुंबई में रहते हैं, वहाँ इनका बड़ा कारोबार बताया जाता है. पिछले कुछ दिनों से इनकी गतिविधियां बदायूं में बढ़ गई हैं. राजनीति में भी रुचि दिख रही है. लोकसभा क्षेत्र बदायूं से विभिन्न दलों से टिकट मांगने की चर्चा होती रही है. सामाजिक कार्यों में भी बढ़ कर भाग लेते दिख रहे हैं. पिछले दिनों हुये बदायूं महोत्सव में सह-संयोजक थे. चर्चा है कि लाखों रुपए देकर यह पदवी मिली थी, साथ ही मीडिया में भी आ गए हैं.

डीएलए के दिल्‍ली एडिशन पर लगेगा ताला!

एनसीआर से प्रकाशित मिड डे अखबार डीएलए के बारे में खबर आ रही है कि इस अखबार को बंद किया जा रहा है. कई लोगों को काम करने से मना कर दिया गया है. सूत्रों का कहना है कि दिल्‍ली ऑफिस में मौजूद ज्‍यादातर मशीनरी को मेरठ भेज दिया गया है. खबर आ रही है कि घाटे की स्थिति में चल रहे इस अखबार के कार्यालय पर भी जल्‍द ताला लगने वाला है. दो दिन पहले तमाम कर्मचारियों को आने से मना कर दिया गया.

महाराष्‍ट्र में एक और पत्रकार पर हमला

पश्चिम महाराष्ट्र के इचलकरंजी से प्रकाशित होने वाले दैनिक "महासत्ता" के वरिष्ठ पत्रकार बाल मकवाना के घर पर शनिवार रात स्थानीय पार्टी "आवाडे कांग्रेस" के कुछ कार्यकर्ताओं ने हमला बोल दिया और जमकर पत्‍थरबाजी की गई. इससे बाल मकवाना जी के मकान को काफी नुकसान पहुंचा है. मकवाना के घर जब पत्थर फेंके जा रहे थे उसी वक्त किसी ने पुलिस को फोन कर इस बात की जानकारी दी. सूचना के बाद घटनास्‍थल पर पुलिस पहुंच गई, जिसके बाद हमलावार भाग खड़े हुए.

समाचार प्‍लस के ग्रुप एडिटर उमेश कुमार उत्‍तराखंड के 20 गांवों को लेंगे गोद

उत्‍तराखंड में आई भयानक तबाही से हर भारतीय दुखी है, वहीं उत्तराखंड के रहने वालों को इस आपदा ने झकझोर कर रख दिया है. पहाड़ पर आई तबाही के बाद पहाड़ पर फिर से जिंदगी आसान बनाने के लिए तमाम उत्‍तराखंडी अपना छोटा बड़ा योगदान दे रहे हैं. इसी क्रम में उत्‍तराखंड से ताल्‍लुक रखने वाले पत्रकार तथा समाचार प्‍लस चैनल के समूह संपादक उमेश कुमार ने भी पहल की है. उन्‍होंने जरूरत के सामानों के साथ एक ट्रक उत्‍तराखंड के लिए भेजा है.

क्‍या सच सामने आने के डर से टैम से दूर भाग रहे हैं चैनल?

यह आप पर निर्भर करता है कि भारतीय मीडिया और मनोरंजन (एमऐंडई) कारोबार में छाई निराशा, असंतुष्टि और बेचैनी के बीच आप सबसे पहले किन चीजों पर गौर करेंगे। आप इन बदले हालात पर हंस सकते हैं, चीख सकते हैं, घबरा सकते हैं या नजर फेर भी सकते हैं। बड़े पैमाने पर कई टेलीविजन प्रसारणकर्ताओं ने एक साथ टेलीविजन दर्शकों की रेटिंग मापने वाली एजेंसी टैम की सेवाएं लेनी बंद कर दी जो बेहद हास्यास्पद सी बात लगती है।

काबुल में राष्‍ट्रपति भवन पर आतंकी हमला, 20 पत्रकार भी फंसे

काबुल : अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में तालिबानी आतंकवादियों ने आज राष्ट्रपति भवन और राष्ट्रीय सीआईए कार्यालय पर हमला किया है। इसमें कई पत्रकार भी फंस गए। राष्‍ट्रपति आज सुबह संवाददाता सम्‍मलेन आयोजित करने वाले थे। पत्रकार इसके लिए ही राष्‍ट्रपति भवन पहुंच रहे थे। आतंकवादियों ने स्थानीय समयानुसार सुबह 6.30 बजे काबुल के उच्च सुरक्षा वाले इलाके में विस्फोट किए और गोलीबारी की जो एक घंटे तक जारी रही। इस इलाके में कई दूतावास और आधिकारिक इमारतें भी हैं।

आशीष बाम की नई पारी, निहार रंजन का तबादला

दबंग दुनिया, इंदौर से खबर है कि आशीष बाम ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपनी नई पारी इंदौर में ही नईदुनिया के साथ की है. उन्‍हें डेस्‍क पर लाया गया है. आशीष इसके पहले भी कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

कवरेज के नाम पर हवाई यात्रा और हवाखोरी कर रहे हैं पत्रकार!

आशीष कुमार 'अंशु' : टीवी के उन पत्रकारों को समझना चाहिए जो उत्तराखंड की इस तबाही को अपने चैनल के लिए कवर कर रहे हैं, यह वक्त हेलीकाप्टर में खबर के नाम पर हवाई यात्रा या हवाखोरी का नहीं है. वास्तव में खबरिया चैनल के रिपोर्टर खबर के नाम जिस तरह के बाईट कलेक्ट कर रहे हैं, वह तो वे पीड़ितों के आने के बाद भी कर सकते हैं। इसके लिए हेलीकाप्टर में एक पीड़ित की जगह घेरने की क्या जरूरत है? इस वक्त एक व्यक्ति की जगह घेरने का अर्थ है, एक व्यक्ति की जान दांव पर लगाना।

चुनाव आया, चलो दंगा-दंगा खेले

विश्व हिंदू परिषद ने ऐलान किया है कि अगामी मानसून सत्र में अगर राममंदिर निर्माण के लिए कानून नहीं बना तो वह देश भर में व्यापक आंदोलन शुरू करेगी। अगस्त माह से अयोध्या में साधु संतों को इकट्ठा करके इसके लिए माहौल बनाने की शुरुआत की जायेगी। यह कुछ नया नहीं है। जब-जब चुनाव पास आते हैं तब-तब विहिप जैसे संगठन अपने नापाक इरादों को पूरा करने के लिए ऐसा ड्रामा करते रहते हैं। इस बार भी पूरे प्रदेश में यही माहौल बनाने की तैयारी की जा रही है। दुःख की बात यह है कि देश के साधु-संत भी राजनेताओं की तरह यह घिनौना आचरण करने लगे हैं।

समाज में मुख्यधारा नामक कोई धारा नहीं होती : अनिल चमाडि़या

‘फारवर्ड प्रेस’ एक मासिक पत्रिका भर नहीं है। यह पत्रकारिता का नया प्रयोग है। उपेक्षा को स्वर देने का घोषित स्तर पर इतना बड़ा प्रयास कुछ गुस्से में और कुछ प्रतिक्रिया में आज तक नहीं हुआ। व्यापक दायरे की सामग्री देने की जो कोशिश ‘फॉरवर्ड प्रेस’ के जरिए की जा रही है, उसे ना केवल निरंतर जारी रखने बल्कि तेजी से विकसित करने की जरूरत है। यह निष्कर्ष भारत की पहली हिन्दी-अंग्रेजी द्विभाषी मासिक पत्रिका ‘फॉरवर्ड प्रेस’ के पत्रकारों की दो दिवसीय कार्यशाला में सामने आया। कार्यशाला 21 व 22 जून 2013 को नई दिल्ली के गांधी शांति प्रतिष्ठान में सम्पन्न हुई। कार्यशाला में देशभर के 30 से अधिक पत्रकारों ने भाग लिया।

समाचार प्‍लस की राहत सामग्री के साथ हरिद्वार पहुंचे डा. कुमार विश्‍वास

Dr. Kumar Vishwas : डा कुमार विश्वास कल उत्तराखंड पंहुचे। समाचार एजेंसी 'समाचार प्लस' के साथ साझा रेस्क्यू ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए डॉक्टरों के दल और राहत सामग्री की एक खेप ले कर डा कुमार विश्वास कल देर शाम हरिद्वार स्थित रिलीफ़ कैम्प पंहुचे, और आज भोर से राहत कार्य में पहले से जुटे कार्यकर्ताओं के साथ दुर्गम गावों तक पंहुचने की कोशिश में दल के साथ निकले हैं।

विज्ञापन में गड़बड़ी करने वाले कर्मी को बाथरूम में बंद किया

बनारस से खबर है कि हिंदी दैनिक 'आज' के प्रबंधन से जुड़े अधिकारियों ने अखबार के विज्ञापन विभाग में कार्य करने वाले कर्मचारी शिव कुमार पाण्डेय को घंटों तक ऑफिस के बाथरूम में बंद रखा। बताया जा रहा है कि शिव कुमार पर विज्ञापन के भुगतान में कुछ गड़बड़ी करने का आरोप था। जब इस गड़बड़ी की शिकायत प्रबंधन के उच्‍च अधिकारियों को मिली तो उन्‍होंने शिव कुमार को ऑफिस में बुलाया तथा बाथरूम में बंद कर दिया।

पत्रकार हरेंद्र शुक्‍ला के घर से लाखों की चोरी

वाराणसी। लंका थाना क्षेत्र के बालाजी कालोनी निवासी लखनऊ से प्रकाशित समाचार पत्र के पूर्वांचल के ब्यूरोचीफ हरेंद्र शुक्ला के मकान का ताला तोड़कर बदमाशों ने गुरुवार को दिनदहाड़े 80 हजार रुपये नगद और लाखों रुपये मूल्य का आभूषण चुरा ले गए। चोरों ने इस अपार्टमेंट के दूसरे तल पर स्थित स्टेट बैंक के एक सहायक मैनेजर के घर को भी खंगालने में कोई संकोच नहीं किया।

‘आप’ से जुड़ेंगी डा. नूतन ठाकुर

Nutan Thakur : मैंने आम आमदी पार्टी में शामिल होने का निर्णय लिया. कुछ ने सही कहा कुछ ने गलत. आप दोनों अपनी जगह सही हैं. प्रश्न पार्टी का नहीं है. प्रश्न वास्तव में देश और समाज के लिए कुछ कर सकने का है. यदि ऐसा कुछ भी कर पायी तो अच्छा, यदि सिर्फ दूसरी पार्टियों को भला-बुरा कहने में सारी उर्जा लगा दी तो बहुत बुरा.

जनसंदेश टाइम्‍स, कानपुर के आरई आलोक पांडेय का इस्‍तीफा

जनसंदेश टाइम्‍स, कानपुर के स्‍थानीय संपादक आलोक पांडेय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अखबार के साथ लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है कि प्रबंधन के अनदेखी के कारण उन्‍होंने इस्‍तीफा दिया है. बताया जा रहा है कि आर्थिक दिक्‍कतों से जूझ रहे इस अखबार में पत्रकारों तथा कर्मचारियों की कमी है, जिसके चलते यह अखबार अपने प्रतिद्ंवद्वी अखबारों से टक्‍कर लेने में मुश्किल हो रही थी. इसके साथ अन्‍य अखबार कानपुर यूनिट से जुड़े जिलों के लिए अलग से एडिशन प्रकाशित कर रहे थे, वहीं जनसंदेश टाइम्‍स इस यूनिट से जुड़े सभी जिलों के लिए एक ही एडिशन निकाल रहा था.

जानिए.. कैसे गरीबी-मुसीबत के बीच अखबार निकालते हैं ये 15 बच्‍चे!

बाजारवाद में अखबार निकालना बच्चों का खेल नहीं है लेकिन गरीब, अनाथ और फुटपाथ के बच्चों के लिए तो अखबार निकालना मानो बच्चों का खेल जैसा ही हो गया है। झोपड-पट्टी और सड़कों के किनारे रहने वाले गरीब एवं अनाथ बच्चे करीब 15 साल से हर महीने 'हमारा अखबार' निकालते हैं। यह अखबार अपराध, खेलकूद, मनोरंजन केसाथ बालपन को प्रभावित करने वाली हर खुशी और गम की घटनाओं से भरा रहता है।

जय प्रकाश ने खबर मंत्र तथा सुरजीत ने प्रभात खबर ज्‍वाइन किया

प्रभात खबर, धनबाद से जय प्रकाश ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे. जयप्रकाश ने अपनी नई पारी की शुरुआत वरिष्‍ठ पत्रकार हरिनारायण सिंह के अखबार खबर मंत्री के साथ की है. उन्‍हें यहां भी सीनियर सब एडिटर बनाया गया है. जय प्रकाश कई अन्‍य संस्‍थानों को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

पत्रकार को मिली जान से मारने की धमकी, मीडियाकर्मी एसपी से मिले

नीमच। नीमच में पत्रकारों को धमकाने की घटनाएं बढ़ रही है। शनिवार को पत्रकार जगत ने कड़े शब्दों में निंदा की। एसपी रुडोल्फ अल्वारेस से मिले। एसपी ने कठोर कार्रवाई का आश्वासन दिया। शनिवार को मीडियाकर्मियों पर बढ़ रहे हमला और धमकी की घटनाओं को लेकर पत्रकार सड़कों पर उतर गए। जिले भर के पत्रकार एकजुट होकर दोपहर को एसपी निवास पहुंचे। वहां पर एसपी को ज्ञापन सौंपा।

आईपीएस एसोसियेशन के पदाधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने थाने पहुंचा आईपीएस अफसर

Amitabh Thakur : अभी कुछ देर पहले मैं यूपी आईपीएस एसोसियेशन के पदाधिकारियों के विरुद्ध धारा 3(1) पुलिस बल (अधिकारों का निषेध) अधिनियम 1966, जिसके अनुसार कोई भी पुलिसकर्मी बिना सरकार के अनुमति के कोई एसोसियेशन नहीं बना सकता, के उल्लंघन पर एफआईआर दर्ज कराने थाना महानगर, लखनऊ गया. थाने पर मेरा प्रार्थनापत्र रख लिया गया और मुझे एक पीली पर्ची (रसीद) दे दी गयी जबकि धारा 154(1) सीआरपीसी के अनुसार इसमें एफआईआर दर्ज होना चाहिए था. अब मैं धारा 154(3) सीआरपीसी के अंतर्गत एसएसपी लखनऊ को एफआईआर के लिए पोस्ट द्वारा प्रार्थनापत्र भेज रहा हूँ.

Odisha Chit Fund Scam and the Human face

Carlo Pietro Giovanni Guglielmo Tebaldo Ponzi or simply Charles Ponzi. It is the name of a con artist who in the 1920s did something similar to what you find in the oft-mentioned Chit fund scam presently in news across Odisha and beyond. The art of tempting investors to invest their funds for highly profitable early returns while actually paying the early investors with the funds from the later investors was the con-artistry of Ponzi and such fraudulent schemes have been termed as Ponzi schemes in the dubious memory of Charles Ponzi. Unfortunately Odisha today boasts of not one but allegedly several Ponzis.

राशन विक्रेता से चौथ वसूली के आरोप में दो पत्रकार हिरासत में

मथुरा। अपराधियों, पुलिस, तथाकथित नेताओं के साथ-साथ अब मीडिया में पत्रकारिता के हथियार का इस्तेमाल कर अवैध धन वसूली करने के मामले भी आये दिन उजागर हो रहे हैं। अभी कुछ दिन पूर्व गोवर्धन सेक्स रैकेट में पकड़े गये पत्रकार का मामला ठण्डा भी नहीं हुआ था कि राशन कालाबाजारी के नाम पर विक्रेता से धन वसूली करने के प्रयास में दो कथित पत्रकारों की पिटाई सामने आ गई है। इन कथित पत्रकारों को पकड़कर गोवर्धन पुलिस के हवाले कर दिया गया है। समाचार लिखे जाने तक पुलिस जांच पड़ताल में जुटी हुई थी।

उत्तराखंड आपदा के बाद शुरू हुई राजनीति पर तीन कार्टून (देखें)

उत्तराखंड आपदा को लेकर राजनीति तेज हो गई है. यह राजनीति कई चेहरों के साथ सामने है. मीडिया से लेकर नेता, नौकरशाह सब राजनीति के हिस्से हैं. इसी पर तीन कार्टून पेश हैं..

ठगे जा रहे केबल उपभोक्‍ता, 30 जून को केबल ऑपरेटर करेंगे हड़ताल

केबल टीवी सर्विसेज के डिजिटाइजेशन के बहाने उपभोक्ताओं को खुलेआम लुटा जा रहा है। पहले तो सेट टाप बाक्स लगाने की मुहिम चली और अब कस्टमर एप्लीकेशन फॉर्म (सीएएफ) जमा कराने की मुहिम है। पसंदीदा चैनल देखने के लिए पसंद के मुताबिक जेबें खाली करनी होंगी। समाचार चैनलों को देखने के लिए भी ज्यादा भुगतान करना होगा। यहां तक कि विदेशी समाचार चैनल बीबीसी और सीएनएन को देखने के लिए पापुलर पैकेज काफी नहीं होगा।

उत्तराखंड जैसी आपदा में फंस जाएं तो इन बातों को जरूर ध्यान रखें…

Rajiv Nayan Bahuguna : भविष्य में यदि आप उत्तराखंड जैसी आपदा में फंस जाए तो क्या करें….

1- घबराएं नहीं. विमान दुर्घटना में हताहतों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साबित होता है कि कई यात्री विमान के भूलुंठित होने से पहले ही आकाश में सदमे से मर जाते हैं. घबराहट में आप उचित निर्णय नहीं ले सकते.

2- तेज बारिश होने की स्थिति में चट्टान य गुफा के नीचे शरण लेने की बजाय किसी मज़बूत पेड़ के नीचे खड़े हो जाएँ या खुले में.

न्यायमूर्ति काटजू हैं कहां? बीमार हैं या विदेश में या कहीं पहाड़ पर फंसे…???

Sanjaya Kumar Singh : मुझे लगता है न्यायमूर्ति काटजू बीमार हैं या विदेश में। या फिर मुमकिन है वे भी कहीं पहाड़ पर फंसे हों। मीडिया वालों को इसका पता लगाना चाहिए। कुछ भी बोलकर मीडिया में बने रहने की इच्छा और प्रतिभा रखने वाला वह व्यक्ति इतने मौके यूं ही जाने देगा। मुझे यकीन नहीं हो रहा है। कुछ तो बात है। मीडिया में किस्म – किस्म की रिपोर्टिंग हो रही है कोई आदमी को गधा बना रहा है और अपने गधा होने का सबूत बिना मांगे दे रहा है और ऐसे में मीडिया वालों की योग्यता का रिकार्ड रखने के लिए भी काटजू साब को सामने आना चाहिए। पता नहीं वे यह काम पर्दे के पीछे से तो नहीं कर रहे हैं। वाकई चिन्ता हो रही है।

इस संवदेनहीन ‘इंडिया न्यूज’ चैनल को कब अकल आएगी (देखें तस्वीरें)

उत्तराखंड में राहत और बचाव कार्य में न्यूज चैनल वाले बाधा बनने लगे हैं. इन्हें हेलीकाप्टर से दौरा कराने, इनकी आवभगत करने, इनको वीडियो शूट कराने के लिए इनकी मदद और मिजाजपुर्सी के लिए राहत-बचाव में लगे कर्मियों को लगा दिया गया है. आपको अगर यकीन न हो तो नीचे दी गई तस्वीरें देखें. इंडिया न्यूज चैनल की जर्नलिस्ट शीतल राजपूत की मदद में एक एनडीआरएफ कर्मी जुटा है. वह माइक आईडी का वायर हाथ में पकड़े हुए है ताकि शीतल राजपूत ठीक से रिपोर्टिंग कर सकें.

बंसल न्‍यूज से पंकज, शिवेंद्र एवं वाहिद का इस्‍तीफा, आईबीसी24 पहुंचे

बंसल न्‍यूज से पत्रकारों का लगातार मोहभंग होता चला जा रहा है. मौका मिलते ही पत्रकार संस्‍थान को बाय कर चले जा रहे हैं. खबर है कि बंसल न्‍यूज से कई पत्रकार इस्‍तीफा देकर आईबीसी24 चले गए हैं. जिन पत्रकारों ने इस्‍तीफा दिया है उनमें नरसिंहपुर से पंकज गुप्‍ता, छत्‍तरपुर से शिवेंद्र परमार और सिवनी से वाहिद कुरैशी शामिल हैं.

प्रकाशन से पूर्व ही दम तोड़ गया ‘देशबन्धु’, विनायक विजेता ने दिया इस्‍तीफा

बीते अक्टूबर माह से ही पटना से प्रकाशित होने का दावा करने वाला हिन्दी दैनिक ‘देशबन्धु’ ने प्रकाशन के पहले ही दम तोड़ दिया। अब तो हालात ये हो गए हैं कि कई माह से यहां काम करने वाले दर्जनों पत्रकार और कर्मचारी वेतन न मिलने के कारण कार्यालय में रखे लगभग तीन दर्जन कम्प्यूटर और अन्य कीमती सामान उठा ले जाने की तैयारी में हैं। इस अखबार ने पूर्व में पूरे पटना सहित बिहार के विभिन्न क्षेत्रों में पूरे तामझाम से अखबार के प्रकाशन का प्रचार व प्रसार किया।

फोटो खींच रहे पत्रकार को हाथी ने मार डाला

कोलार (कर्नाटक) : कर्नाटक में हाथी की चपेट में आ जाने से एक कन्नड़ दैनिक के पत्रकार की मौत हो गयी। पुलिस के अनुसार होसकोटे जिला में एक दैनिक का पत्रकार मंजूनाथ गौड़ा (30) सोमवार को तस्वीर खींचने के चक्कर में हाथी के काफी करीब चला गया। हाथी ने उसे सूंड से पकड़ कर उठा …

आम जीवन से जुड़े विषयों का चुनाव करना आज की जरूरत है : राजीव रंजन श्रीवास्तव

आगरा। कल्पतरु एक्सप्रेस द्वारा हर माह आयोजित कार्यक्रम मीडिया विमर्श के तहत हिन्दी दैनिक 'देशबन्धु' के समूह संपादक राजीव रंजन श्रीवास्तव आगरा आए और उन्होंने 'कल्पतरु एक्सप्रेस' के पत्रकारों के समूह को संबोधित किया।

पत्रकार रीमा, प्रणिता, राखी, श्‍वेता समेत 21 बेटियां सम्‍मानित

जयपुर। मानसरोवर युवा मंच एवं श्री जी सेवा संस्थान की ओर से स्टेच्यू सर्किल स्थित बिरला सभागार में बेटियां सम्मान समारोह का अयोजन किया गया। इसमें समारोह संरक्षक राष्ट्र संत स्वामी श्री प्रज्ञाननंन्द जी महाराज उपस्थित थे। इसमें मुख्य अतिथि राजस्थान महिला आयोग की अध्यक्षा लाड कुमारी जैन व राजस्थान हाईकोर्ट के न्यायधिपति पी.के अग्रवाल उपस्थित थे।

न्‍यूज नेशन से राजस्‍थान ब्‍यूरोचीफ नीरज शर्मा का इस्‍तीफा

: कोलकाता के कैमरामैन दीपांकर ने भी चैनल को बाय किया : न्‍यूज नेशन से खबर है कि राजस्‍थान के ब्‍यूरोचीफ नीरज शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. बताया जा रहा कि प्रबंधन ने उनका तबादला दिल्‍ली कर दिया था, जिसके बाद नीरज ने इस्‍तीफा दे दिया. अपने इस्‍तीफे की पुष्टि करते हुए नीरज ने कहा कि वे राजस्‍थान से बाहर जा पाने की स्थिति में नहीं थे, साथ ही कंपनी ने अपनी कमिटमेंट पूरी नहीं की, जिसके बाद उन्‍होंने इस्‍तीफा दे दिया. नीरज कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

मदारी की डपट, जमूरे का ठहाका, जनता बोली- वाह भाई वाह

इलाहाबाद में घंटाघर चौक त्रिमुहानी के पास नीम का दरख्त। आकाश में बदली, चटक तीखी धूप के बीच चिपचिपाती गर्मी वाली उमस। ऐसे में नीम की दरख्त के नीचे ठंडी-ठंडी छांव में जमूरा-मदारी का खेल-तमाशा चल रहा था। वहां जुटी तमाशबीनों की भीड़ आनंद रस में डूब-उतरा रही थी। तमाशबीन, जो भीड़ का एक हिस्सा थे, खुश होकर कभी ताली बजाते तो कभी मुंह से वाह-वाह करने लगते। वे खुश थे, पूरी तरह मगन। और जमूरा, चूंकि वो जमूरा था, इसलिए चादर ओढ़े जमीन पर लेटा पड़ा था।

न्‍यूज एक्‍सप्रेस में झारखंड के स्‍टेट हेड बने दीपक अंबष्‍ठ

न्‍यूज एक्‍सप्रेस ने वरिष्‍ठ पत्रकार दीपक अंबष्‍ठ को झारखंड का स्‍टेट हेड नियुक्‍त किया है. वे लंबे समय से झारखंड की पत्रकारिता में सक्रिय हैं. कुछ समय पहले उन्‍होंने नक्षत्र न्‍यूज के संपादक के पद से इस्‍तीफा दिया था. न्‍यूज एक्‍सप्रेस झारखंड में अपनी टीम को मजबूत करने के लिए दीपक अंबष्‍ठ को अपने साथ जोड़ा है.

कुछ पत्रकार बहुगुणा को राजनीतिक सुनामी से उबारने में जुटे

Arvind K Singh : उत्तराखंड की इस आपदा में हमारे कुछ पत्रकार साथी पीड़ितों के बीच हैं…तो कुछेक देहरादून में मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा को भविष्य की आपदा से बचाने में लगे हैं…जो श्रेय सेना के जवानों और आईटीबीपी और सीमा सड़क संगठन के मजदूरों को देना चाहिए वह वे विजय बहुगुणा को दे रहे हैं…पता नहीं मुख्यमंत्री के मीडिया प्रबंधन के लिए इतना समय कहां से निकल आया है…उनको तो लोगों के बीच रहना चाहिए.

सेबी ने सहारा के 52 करोड़ की नगदी जब्‍त की

: 450 एकड़ जमीन के विवरण भी कब्‍जे में लिया : नई दिल्ली : बाजार नियामक सेबी ने सहारा समूह के संस्थापकों के अब तक 52 करोड़ रुपए के नकद और कुल निवेश व 450 एकड़ जमीन के विवरण को कब्जे में लेने सफल रहा है। सहारा की दो कंपनियों को बांडधारकों का 24,000 करोड़ रुपये से अधिक धन वापस लौटाना है। न्यायालय के आदेश के तहत सहारा द्वारा समय से पैसा न जमा कराये जाने पर सेबी ने फरवरी में विभिन्न संपत्तियों एवं खातों पर रोक लगाने के लिए कुर्की और खातों की जब्ती के आदेश पारित किए थे।

उगाही पर दो पत्रकारों को बारह घंटे रहना पड़ा हवालात में

शाहजहांपुर : एक न्यूज चैनल के नाम पर अवैध वसूली करने में दो कथित पत्रकारों 12 घंटे हवालात में बिताने पड़े। शनिवार को एक स्थानीय टिम्बर मर्चेन्ट ने ट्रक से बरेली के लिए यूकेलिप्टिस की जड़ें भरवाकर रवाना की। शारदा नहर मकसूदापुर पुल के पास दो बाइक सवारों ने ओवरटेक कर ट्रक को रोक लिया और चालक से कागजात मांगे। चालक ने कागजात न होने का बहाना बनाकर उसका कारण जानना चाहा। इस पर कथित पत्रकारों ने चालक से मोटी रकम की मांग की।

टीम मोदी अब नीतीश को ‘निपटाने’ की मुहिम के लिए तैयार

बिहार के मुख्यमंत्री एवं जदयू के अग्रणी नेता नीतीश कुमार के खिलाफ टीम मोदी अब आक्रामक मुहिम चलाने की तैयारी कर रही है। कोशिश की जा रही है कि भाजपा को ठेंगा दिखाने वाले जदयू नेतृत्व को अच्छी तरह से सबक सिखा दिया जाए। 29 जून से 2 जुलाई तक जदयू विधायकों के विधानसभा क्षेत्रों में नीतीश कुमार के खिलाफ खासतौर पर राजनीतिक अभियान चलाने की योजना बनाई गई है।

महाराष्ट्र में गेहूं की अवैध बिक्री की खबर छापने पर पत्रकार को गुंडों ने पीटा

नांदेड जिले के मुक्रमाबाद में आज और एक पत्रकार पिट गया. पिछले छह महीने मे पत्रकार पर हमले की यह 37वीं वारदात है. मुक्रमाबाद के पुण्यनगरी के संवाददाता संतोष हेसे ने शुक्रवार के इश्यू में मुक्रमाबाद के सरकारी अनाज के गोडाऊन से हो रही गेहूं की अवैध बिक्री कब रुकेगी, शीर्षक से खबर में गेहूं की अवैध बिक्री पर विस्तार से प्रकाश डाला था. इस खबर से क्रोधित बालाजी खंकरे, राम खंकरे और अन्य दो गुंडों ने गांव के भवानी चौक में संतोष पर हमला बोल दिया. हमले के दौरान काफी लोक मौजूद थे.

15वां आचार्य निरंजननाथ सम्मान उपन्यास विधा पर, प्रविष्टियां आमन्त्रित

आचार्य निरंजननाथ स्मृति सेवा सँस्थान के सहयोग  से सुप्रसिद्ध साहित्यकार एवं राजस्थान साहित्य अकादमी अध्यक्ष आचार्य निरंजननाथ की स्मृति में साहित्यिक पत्रिका ‘सम्बोधन’ द्वारा प्रति वर्ष दिया जाने वाला सम्मान इस बार उपन्यास विधा पर दिया जायेगा। पुरस्कृत रचनाकार  को इक्यावन हजार रुपये  नगद, शाल, स्मृति चिन्ह एवं  प्रशस्ति पत्र भेंट किया जायेगा।

महिला ने इस भाजपा नेता को माकानाका करते हुए चप्पलों से पीटा (देखें वीडियो)

: खिसियाए नेता ने भी चप्पलों से महिला को पीटा : पुलिस खड़ी देखती रही तमाशा : डिण्डौरी के कलेक्ट्रेट में उस समय हड़कंप मच गया जब एक महिला ने जिला पंचायत के उपाध्यक्ष की चप्पलों से पिटाई कर दी. जिला पंचायत उपाध्यक्ष का नाम कृष्णा परमार है, जो जिला भाजपा के बड़े नेताओं में गिने जाते हैं. बताया जाता है कि जिला पंचायत उपाध्यक्ष और उस महिला के बीच जमीन संबंधी विवाद चल रहा है.

गरीब के कंधे पर बैठकर रिपोर्टिंग करते पत्रकार नारायण परगईं (देखें वीडियो)

संपादक, भड़ास4मीडिया. महोदय आपके संज्ञान में लाना चाहता हूं कि देहरादून के एक पत्रकार नारायण परगईं ने रिपोर्टिंग करने के दौरान मानवता को तार-तार कर दिया. बाढ़ की रिपोर्टिंग करने के दौरान वह एक गरीब, दुबले-पतले इंसान के कंधे पर जबरन सवार हो गया.

शमी कुरैशी ने नईदुनिया, इंदौर से इस्तीफा दिया

इंदौर। एक बार फिर कर्मचारियों का नईदुनिया से नाता तोड़ने का सिलसिला शुरू हो गया है। शनिवार 22 जून को शाजापुर जिले के ब्यूरो प्रमुख शमी कुरैशी ने इस्तीफा दिया। वे बीते 6 साल से इंदौर नईदुनिया में सिटी हेड थे। हाल ही में 5 माह पुर्व उन्हें शाजापुर जिले में ब्यूरो प्रमुख की जवाबदारी सौंपी गई थी।

मुरैना से खबरें : अनिल का तबादला, सतेंद्र की नई पारी

दैनिक भास्कर, मुरैना में करीब चार साल से ब्यूरो चीफ के पद पर जमे अनिल तोमर का ट्रांसफर ग्वालियर किया गया है. प्रबंधन द्वारा अनिल तोमर को एक जुलाई से ग्वालियर ज्वाइन करने को कहा गया है, तब तक वे छुट्टी पर चल रहे हैं.  नई दुनिया में करीब चार साल तक नौकरी करने वाले सतेन्द्र विद्यार्थी ने भास्कर ज्वाइन किया है.

भास्कर ग्रुप की कंपनी डीबी पावर के भू-अर्जन अधिकारी को जेल

दैनिक भास्कर अखबार समूह की बिजली कंपनी है डीबी पावर लिमिटेड. छत्तीसगढ़ के धरमजयगढ़ में कोल ब्लाक के लिए पर्यावरणीय अनुमति के लिए जन सुनवाई में एक भी सहमति के प्रस्ताव नहीं मिलने के बाद भी यह कंपनी वही सब कर रही है जो वे लोग सिंगरौली में कर रहे हैं. किसानों से फर्जी तरीके से जमीने हथियाई गई हैं. नियम-कानून को ताक पर रख दिया गया है. इसी प्रकरण से संबंधित एक खबर ये पढ़िए…

झूठ बोलने वाले और लापरवाह आदमी हैं मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा

Jitendra Dixit : विजय बहुगुणा पर्वत की प्रलय लीला का आंकलन करने में चूक गए। इसी चूक के चलते बचाव और राहत में देरी हुई। सेना ने मोर्चा संभाला तो लोगों को बचाकर सुरक्षित निकालने का काम शुरू हुआ। याद कीजिए पहले दिन मुख्यमंत्री जी बोले-पहाड़ में संचार व्यवस्था ठप हो गई। अगले दिन बयान था कि सभी जिलाधिकारियों को वीडियो कांफ्रेंसिंग से निर्देश दिए गए।

राष्ट्रीय दामाद जी की हवाई कंपनी लाशों को निकालने के लिए लाखों रुपये ले रही!

Rising Rahul : उत्‍तराखंड आपदा: राष्‍ट्रीय दामाद रॉबर्ट वढेरा ने 1 नवंबर 2007 में सीधे बद्रीनाथ-केदारनाथ की हवाई सेवा शुरू की थी। ब्‍लू ब्रि‍ज ट्रेडिंग प्राइवेट लि‍मि‍टेड के बैनर तले इस कंपनी का रजिस्‍ट्रेशन नंबर U52100DL2007PTC170055 है।

मंदिरों में जमा पैसा देवभूमि के पुनर्निर्माण में लगाएं

Prem Chand Gandhi : अगर देश के तमाम मंदिरों में बेवजह जमा पड़े सोने और चांदी के आभूषणों को नीलाम कर देवभूमि उत्‍तराखण्‍ड के पुनर्निर्माण लगा दिया जाए तो किसी के सामने हाथ फैलाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी। आखिर देवी-देवताओं का धन देवी-देवताओं के ही काम नहीं आएगा तो फिर किसके काम आएगा… आस्‍थावान लोगों को भी इससे शायद ही कोई आपत्ति होगी… यह बात मैं इसलिए कह रहा हूं कि पिछले दिनों राजस्‍थान के एक प्रसिद्ध मंदिर के प्रबंधन से जुड़े व्‍यक्ति ने बताया कि मंदिर के पास हज़ारों टन सोना-चांदी है, लेकिन सरकार इसे बेचने नहीं देती।

राहत के नाम पर कपड़े, पैसे, खाना न भेजें, वह जरूरतमंदों तक नहीं पहुंच रहा

Rajiv Nayan Bahuguna : वस्तु स्थिति को समझिए… आप यदि राहत के नाम पर कोई खाद्य सामग्री या वस्त्र भेज रहे हैं, तो वह ज़रूरतमंदों तक नहीं पहुंच रहा. जब वहां के रास्ते ही बंद हैं तो पंहुच कैसे सकती है? उसकी कहीं बीच में ही बन्दरबाँट हो रही है… इसलिए किसी को भी पैसा न भेजें. कई एनजीओ का धंधा ही यही है. उनकी मौज आ जाती है. जब रास्ते खुलेंगे, तो खुद जाकर आकलन कीजिए और फिर किसी गाँव य परिवार को गोद लें..

रणबीर कपूर और राहुल गांधी में कई समानताएं और विषमताएं

Shambhunath Shukla : राहुल गांधी और रणबीर कपूर में कई समानताएं हैं और उतनी ही विषमताएं भी। दोनों की नामराशि एक ही है। दोंनों अपने-अपने क्षेत्र में पिछली चार पीढिय़ों से है। दोनों के चौथी पीढ़ी का पुरखा बहुत बड़ा आदमी था। इतना बड़ा कि आज तो ऐसे आदमी की कल्पना मुश्किल है।

Fenku की गणित – गलत या सही, खुद आकलन करें

Yogesh Garg : #Fenku की गणित… एक इनोवा में कितने लोग बैठ सकते है ? सामान्य तौर पर 6, अधिकतम 10 एक लक्जरी बस में कितने लोग बैठ सकते है ? सामान्य 52 अधिकतम 80

कुल इनोवा 80 (कथित तौर पर) 80 *10= 800
कुल बस 25( ( कथित तौर पर ) 25*80= 2000

मिड टर्म रिवार्ड से ”न्यूज़ नेशन” चैनल में जश्न का माहौल

न्यूज़ चैनलों की जमात में नए नवेले न्यूज़ नेशन में जश्न का माहौल है। मैनेजमेंट ने कर्मचारियों को अचानक मिड टर्म रिवॉर्ड देकर खुशी का मौका दे दिया है। अप्रत्याशित रूप से 22 जून को न्यूज़ रूम में बंटी चिट्ठियों से यहां काम करने वाले पत्रकारों और तकनीकी स्टॉफ काफी उत्साहित हैं। वेतन में 10 से 20 फ़ीसदी की बढ़ोतरी की गई है। ये बढोतरी 1 अप्रैल 2013 से ही लागू होगी। माना जा रहा है कि जुलाई का वेतन दो महीने के एरियर के साथ दिया जाएगा। ये कर्मचारियों के लिए किसी बोनस से कम नहीं है।

ईटीवी से अंकुर पारीक का इस्‍तीफा

ईटीवी झालावाड़ से खबर है कि अंकुर पारीक का इस्‍तीफा हो गया है. हालांकि प्रबंधन ने उनसे इस्‍तीफा लिया है या उन्‍होंने खुद इस्‍तीफा दिया है इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. सूत्रों का कहना है कि प्रबंधन को उनके खिलाफ कुछ शिकायतें मिली थी, जिसके बाद प्रबंधन ने उनसे इस्‍तीफा ले लिया. अंकुर लगभग …

फेसबुक, ट्विटर को जल्‍द पीछे छोड़ देगा ‘वर्ल्डफ्लोट’!

हर महीने लगभग 30 लाख नए यूजर्स को जोड़ने वाली भारतीय नेटवर्किंग साइट 'वर्ल्डफ्लोट' के जल्द ही दुनिया की शीर्ष नेटवर्किंग साइटों फेसबुक और ट्विटर से आगे निकल जाने की उम्मीद है। एक साल के भीतर वर्ल्डफ्लोट के यूजर्स की संख्या एक करोड़ हो गई है। इस साल के अंत यानी दिसंबर तक यह संख्या तीन करोड़ तक पहुंच जाने की उम्मीद है।

राष्‍ट्रीय सहारा की नई खोज : कश्‍मीर से कन्‍याकुमारी तक जाता है जीटी रोड

राष्‍ट्रीय सहारा में ऊपर से लेकर नीचे तक उठापटक का दौर रहा है. इस असर अखबार पर तो पड़ता ही है कि संस्‍थान की छवि भी खराब होती है. ताजा मामला चंदौली जिले में है. यहां लंबे समय से उठापटक चल रही है. ब्‍यूरोचीफ की कुर्सी एक और दावेदार तीन लिहाजा यहां हमेशा एक दूसरे को सलटाने की कोशिशें जारी रहती हैं. जो हेड ऑफिस में अपने समीकरण सही ढंग से फिट करता है वो कुछ दिन के लिए अखबार में, समीकरण गड़बड़ाते ही बाहर.

नीतीश ने 2003 में सिद्धांतों से समझौता क्‍यों कर लिया था?

भारत की गठबन्धन-राजनीति के गलियारों मे अक्सर ‘गठबन्धन की मजबूरी’ का जुमला सुनने को मिल ही जाता है. इस जुमले का सहारा लेकर आये दिन राजनेता गंभीरतम बातों की भी हवा निकाल देते है. अब सवाल यह उठता है कि क्या गठबन्धन किसी सिद्धांत पर बनाये जाते हैं अथवा सत्ता का स्वाद चखने हेतु समझौते किये जाते हैं? हमे ध्यान रखना चाहिये कि सिद्धांत और समझौता दो अलग-अलग बाते हैं. राजनैतिक-समझौते को हम कर्नाटक की राजनीति से समझ सकते हैं.

उत्‍तराखंड में फंसे 15000 गुजरातियों को निकाल ले गए मोदी

देहरादून। उत्तराखंड में बरपे कुदरत के कहर के बाद अपनी स्पेशल 'रेस्क्यू टीम' संग देहरादून पहुंचे गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी 'रैंबो' स्टाइल में दो दिन में करीब 15 हजार गुजराती श्रद्धालुओं को वहां से ले गए। उत्तराखंड में इन दो दिनों में मोदी अपनी खास वर्किंग स्टाइल से कांग्रेस की विजय बहुगुणा सरकार और आपदा में लगे प्रदेश के अधिकारियों को चिढ़ा गए।

आम्‍बेदकर ने ओबीसी को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाया!

भारतीय शासन व्यवस्था में बौद्धिक जगत के हस्तक्षेप का लंबा इतिहास रहा है। ब्राह्म्णवादियों द्वारा रचित धर्म ग्रंथ इसके प्रत्यक्ष उदाहरण हैं। जब देश में अंग्रेजों का शासन का दौर चल रहा था तब महात्मा जोतिराव फ़ूले ने पहली बार बौद्धिक जगत में ओबीसी का हस्तक्षेप पूरी मजबूती से स्थापित किया और नतीजतन अंग्रेजों को शिक्षा नीति में मौलिक परिवर्तन करते हुए शुद्रों को पढ़ने का अधिकार देना पड़ा। यह एक बहुत बड़ी जीत थी। लेकिन बाद के दिनों में ओबीसी जागरुकता का यह आंदोलन कुंद पड़ने लगा।

विज्ञापन की मलाई ने बंद कर दिए उत्‍तराखंड के चैनलों के मुंह!

उत्तराखंड में आयी तबाही में मरनेवालों की संख्या हजारों में है लेकिन टेलीविजन स्क्रीन पर और अखबारों में यह संख्‍या शुरुआती दौर में बहुत ही कम बताई जा रही थी. आपदा प्रबंधन में असफल बहुगुणा सरकार की पोल खोलने की बजाय तमाम टीवी चैनल दूसरी खबरों पर फोकस कर रहे थे. तो इसके पीछे कारण कुछ और नहीं बल्कि विज्ञापन का लॉलीपाप था. सरकार ने पंद्रह और सत्रह जून को 16 न्‍यूज चैनलों को विज्ञापन जारी किए.

ज्ञानदर्पण से खबरें चोरी करता है भास्‍कर डॉट कॉम!

दैनिक भास्कर की वेबसाइट पर अक्सर चोरी के लेख प्रकाशित होते रहते हैं. ज्ञान दर्पण डॉट कॉम के पाठक कई बार इस बारे में सूचित करते हैं कि ज्ञान दर्पण.कॉम से चोरी कर लेख भास्कर की वेबसाइट पर प्रकाशित किये हैं. इस संबंध में कुछ माह पूर्व भास्कर की वेबसाइट को अपडेट करने वाली मैडम से जयपुर में फोन द्वारा बात की गई तो उन्होंने इसकी जाँच कर आगे से ऐसा नहीं करने का वचन दिया.

डिहरी में सिंचाई विभाग के आवास पर जागरण के पत्रकार का अवैध कब्‍जा

पत्रकार और पत्रकारिता का प्रमुख कार्य है गलत चीजों को सबके सामने लाना, परन्‍तु अब इस पेशे का स्‍वरूप बदल गया. पत्रकार अब गलत और गैरकानूनी तथ्‍यों को सामने लाने की बजाय इसी तरह के कार्य में संलिप्‍त होते जा रहे हैं, जिसके चलते पत्रकारिता ही बदनाम हो रही है. ऐसा ही एक मामला डिहरी ऑन सोन में सामने आया है. सिंचाई विभाग के आवास पर बाहरी लोगों का अवैध कब्‍जा है. इस पर सेवानिवृत्‍त कर्मचारियों और पुलिसकर्मी का कब्‍जा तो है ही, दैनिक जागरण के एक पत्रकार ने भी इस पर कब्‍जा कर रखा है.

वरिष्‍ठ पत्रकार हरीश पाठक को बाबूराव विष्‍णु पराड़कर पत्रकारिता पुरस्‍कार

महाराष्‍ट्र राज्‍य हिंदी साहित्‍य अकादमी का वर्ष 2011-12 के बाबूराव विष्णु पराड़कर पत्रकारिता पुरस्कार वरिष्‍ठ पत्रकार, कथाकार हरीश पाठक को प्रदान किया जाएगा. श्री पाठक का चयन उनकी पुस्तक त्रिकोण के तीनों कोण (प्रभात प्रकाशन) के लिए  हेतु किया गया. इनके चयन की घोषणा 20 जून 2013 को की गई. उनको यह पुरस्कार 14 सितम्बर (हिंदी दिवस) पर मुंबई में आयोजित एक समारोह में प्रदान किया जाएगा. इस पुरस्‍कार के लिए हरीश पाठक का चयन निर्णायकों की एक उच्चस्तरीय समिति ने किया.

जर्नलिस्‍ट अरविंद सिन्‍हा का निधन, पत्रकारों ने जताया शोक

राष्‍ट्रीय सहारा से लंबे समय तक जुड़े रहे पत्रकार अरविंद सिन्‍हा का शुक्रवार की रात में मुगलसराय के मानस नगर स्थि‍त आवास पर निधन हो गया. वे 53 वर्ष के थे तथा पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे. बीएचयू में उनका इलाज चल रहा था. परिजन कुछ दिन पहले ही उन्‍हें बीएचयू से दिखाकर वापस घर लाए थे. इस बीच बीती रात अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई. परिजन डाक्‍टर के पास ले जाते उससे पहले ही उनका निधन हो गया.  

अमर उजाला एवं दैनिक भास्‍कर से इस्‍तीफा देकर अंशु एवं नवदीप जागरण से जुड़े

अमर उजाला, लखनऊ से खबर है कि अंशु दीक्षित ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे सीनियर रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे तथा रेलवे बीट कवर करते थे. अंशु ने अपनी नई पारी लखनऊ में ही दैनिक जागरण के साथ शुरू की है. वे पिछले छह सालों से अमर उजाला को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

प्रदीप और शिव के परिजन भी लापता है अब तक

उत्‍तराखंड में आई आपदा में हजारों परिवार के लोग फंसे हुए हैं. परिवार वाले अपने परिजनों से संपर्क भी नहीं कर पा रहे हैं. इस स्थिति में वे लोग अन्‍य वैकल्पिक माध्‍यमों की सहायता ले रहे हैं. अहमदाबाद के भौतिक पटेल व प्रदीप पटेल के परिजन तथा उदयपुर के शिव उपाधयाय के परिजन भी उत्‍तराखंड में लापता है. इन्‍होंने लोगों से गुहार लगाई कि इन लोगों के बारे में जिसको जानकारी मिले, उन्‍हें उपलब्‍ध कराए. नीचे इन लोगों के परिजनों की फोटो तथा नम्‍बर है, जिसे भी जानकारी मिले इन्‍हें सहयोग करे…

डिकी के जाने से वाकई गरीब हो गई क्रिकेट पत्रकारिता

Padampati Sharma : सुबह की शुरुआत दिल तोड़ने वाली मनहूस खबर के साथ हुई. साढ़े आठ के लाइव शो के लिए हर दिन की तरह चैनल जा रहा था और रास्ते में नेट पर यह खबर पढ़ कर सन्न रह गया- डिकी रुत्‍नागर नहीं रहे- शूल की माफिक चुभ गईं ये पंक्तियां. आज की पीढ़ी यह पढ़ कर चौंक रही होगी- यह डिकी कौन …!! सोच कहीं से अस्वा्भाविक भी नहीं, क्योंकि किसी भी देश की याददाश्त बहुत कमजोर होती है न.

ऊफ! इस गांव की सारी महिलाएं हो गईं विधवा

देहरादून। उत्तराखंड में बरपे कुदरत के कहर की हर रोज नई दर्दनाक कहानियां सामने आ रही हैं। जैसे-जैसे लोग बचकर ऋषिकेश, देहरादून और अपने घर पहुंच रहे हैं, दर्द की दास्तां उनकी जुबां से फूट रही हैं। पढ़िए कुछ ऐसी ही दर्द भरी कहानियां…

दैनिक जागरण के क्राइम रिपोर्टर के खिलाफ रंगदारी का मामला दर्ज

बुलंदशहर से खबर है कि दैनिक जागरण के क्राइम रिपोर्टर गौरव दीक्षित के खिलाफ कोतवाली नगर तथा कोतवाली देहात में रंगदारी मांगने का मामला दर्ज किया गया है. हालांकि गौरव का कहना है कि उनको पुलिस के कमियां के बारे में लिखने की कीमत चुकानी पड़ रही है. यह मामला एक होटल मालिक की शिकायत पर दर्ज हुआ है.

गाजीपुर से हटने के बाद अब दैनिक जागरण से भी हटना पड़ा राजकमल राय को

गाजीपुर : जागरण को अलविदा कहना पड़ा गाजीपुर के चर्चित पत्रकार राजकमल राय को। राजकमल ने जागरण कार्यालय में अपना इस्तीफा भेज दिया है और यह बताया जा रहा है कि बीमारी के चलते छुट्टी पर चले गये हैं। चर्चा है कि राय आजकल फिर से हिन्दुस्तान व अमर उजाला के वरिष्ठों का चक्कर लगाना शुरू कर चुके हैं। ज्ञात हो कि 15 से 18 वर्ष पूर्व आज अखबार से जिले में पत्रकारिता शुरू करने वाले राजकमल जनपद के गरूआं मकसुदपुर गांव के रहने वाले हैं। इनकी दूसरी पारी वर्ष 2002 में हिन्दुस्तान गाजीपुर कार्यालय में स्टिंगर के रूप में शुरू हुई। एक साल में ही इनको वाराणसी कार्यालय में अटैच होना पड़ा।

महिला पत्रकार को चाहिए किराए का घर, दिलाने वालों की लग गई लाइन

नवभारत टाइम्‍स, लखनऊ में ज्‍वाइन करने वाली एक महिला पत्रकार शशि पांडेय मिश्रा को यहां रहने के लिए किराए पर घर, फ्लैट या कमरा चाहिए. आज के दौर के इस सबसे बड़ी समस्‍या से निपटने के लिए उन्‍होंने फेसबुक पर एक पोस्‍ट डाला. उन्‍होंने अपने पसंद की जगहों की लिस्‍ट भी गिना दी. इसके बाद एफबी पर उनको कमरा/घर दिलाने वालों की लाइन लग गई. दिलचस्‍प है कि ऐसे मामलों में पुरुषों की शायद ही कोई मदद करता है. आप भी देखिए मदद करने वालों की उदारता…  

उत्‍तराखंड त्रासदी पर चैनलों का बेहूदा तमाशा, निर्लज्‍ज रिपोर्टिंग

उत्तराखण्ड त्रासदी के जरिये टीवी चैनलों ने एक्सक्लूसिव की नई परिभाषा गढ़ दी है। टीवी चैनलों के कर्ता-धर्ता, उनके रिपोर्टर गला फाड़-फाड़ कर बता रहे हैं कि वे ही सबसे पहले केदारनाथ पहुंचे और उन्होंने ही अपनी जान जोखिम में डालकर इतनी जनसेवा का रिस्क उठाया। वे उत्तराखंड को बचाने के लिए यहां दौड़े चले आए हैं। हालांकि, यह बात अलग है कि इन टीवी चैनलों को मौके पर पहुंचने में छह दिन लगे और वो भी हेलीकॉप्टर जैसी सवारी मिलने पर।

पत्रकारिता कोई फेसबुक नहीं है : ओम थानवी

Om Thanvi : वे जनतांत्रिकता की बातें करते हैं। फिर भी इस बात को समझ नहीं पाते (या समझना नहीं चाहते?) कि तमाम असहमतियों के बावजूद रवीन्द्रनाथ ठाकुर पर विष्णु खरे का लेख मैं जनसत्ता में कैसे दे देता हूँ, जिसमें अशोक वाजपेयी (जिनसे मेरे घनिष्ठ संबंध हैं) के खिलाफ भी कटु उक्तियाँ लिखी हों! ऐसे ही, वे बड़ी हैरानी प्रकट करते हैं जब कवि कमलेश पर विष्णु खरे का पत्र मैं अपनी वाल पर उत्साह से साझा कर लेता हूँ, जिसमें उनकी कविता की तारीफ, लेकिन शख्सियत पर छींटाकशी की गई हो!

अखबार के प्रति निष्ठा दिखाने का इससे अच्छा तरीका कोई हो सकता है! (देखें तस्वीर)

यशवंत भाई, नमस्कार, नया रुचिकर मामला भेज रहा हूं। जैसा कि आपको तो पता ही है कि भारत के बड़े हिंदी दैनिक ''दैनिक भास्कर'' में संस्थान के प्रति निष्ठा का प्रदर्शन कितना मायने रखता है। इस प्रदर्शन की सीढिय़ों से कई लोग संपादक की कुर्सी के चौबार पर जा बैठे। पाठकों के लिए दोबारा दोहराता हूं कि भास्कर में संस्थान के प्रति लॉयल्टी मायने नहीं रखती, लॉयल होने का प्रदर्शन मायने रखता है। लोग नए नए तरीके से इसका प्रदर्शन करते रहते हैं।

सीबीआई ने खंगाली जिंदल की आलमारियां

नई दिल्ली : सीबीआई ने शुक्रवार रात विदेश से लौटे कांग्रेस सांसद नवीन जिंदल के घर की जांच की. जिंदल को उनकी कंपनी जिंदल स्टील एवं पावर लिमिटेड को कोयला ब्लॉक के आवंटन की जांच में शामिल होने को कहा गया था. इससे पहले सीबीआई ने 11 जून को जिंदल के सरकारी निवासी छह, पृथ्वीराज रोड पर छापा मारा था. 11 जून को छापेमारी पूरी न होने की वजह से उन्हें दोबारा ऐसा करना पड़ा.

आखिर सीएम क्‍यों बचा रहे हैं सेल्‍स टैक्‍स विभाग के भ्रष्‍ट अधिकारियों को?

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव लगातार भ्रष्टाचार मिटाए जाने की बात कह रहे हैं पर स्वयं उनके अधीन सेल्स टैक्स विभाग में उनके स्तर से भ्रष्टाचार की शिकायतें अनदेखी की जा रही दिखती है. आरटीआई कार्यकर्ता डा. नूतन ठाकुर द्वारा प्राप्त नोटशीट से दिखता है कि किस प्रकार उनके विभाग के अधिकारी तरीके निकाल कर तकनीकी आधार पर भ्रष्टाचार के आरोपी अधिकारियों को लगातार बचा रहे हैं.

क्‍या गौतम और गौरव के परिजनों के बारे में किसी को जानकारी है?

उत्‍तराखंड में आई आपदा में हजारों परिवार के लोग फंसे हुए हैं. परिवार वाले अपने परिजनों से संपर्क भी नहीं कर पा रहे हैं. इस स्थिति में वे लोग अन्‍य वैकल्पिक माध्‍यमों की सहायता ले रहे हैं. गौतम पूर्वे तथा गौरव नटानी के परिजन भी उत्‍तराखंड में लापता है. इन्‍होंने लोगों से गुहार लगाई कि इन लोगों के बारे में जिसको जानकारी मिले, उन्‍हें उपलब्‍ध कराए. नीचे गौतम के परिजनों के फोटो हैं. साथ ही गौतम तथा गौरव के नम्‍बर हैं.

जनसंदेश टाइम्‍स ने छापी गलत खबर, एसएसपी ने भेजा नोटिस!

बनारस से खबर है कि एसएसपी अजय पांडेय ने व्‍यापारियों की शिकायत पर जनसंदेश टाइम्‍स अखबार को नोटिस जारी किया है. संपादक को भेजे गए नोटिस में बताया गया है कि जनसंदेश टाइम्‍स ने व्‍यपारियों से जुड़ी एक खबर फर्जी तरीके से छापी है. साथ ही एसएसपी ने मामला सही होने पर संपादक को दोषी पत्रकार के उत्‍तरदायित्‍व निर्धारित करने के साथ ही खंडन छापने का निर्देश दिया है.

जिंदल को जेल भेजने की नहीं, जिंदल को क्लीन चिट दिलाने की मुहिम हुई शुरू

नवीन जिंदल इस सिस्टम के दोगलेपन के सबसे बड़े उदाहरण हैं. उन्हें जिन मामलों में जेल भेजा जाना चाहिए, उन्हें उन मामलों में क्लीन चिट दिलाने के लिए मुहिम शुरू कर दिया गया है. कोलगेट स्कैम को लेकर नवीन जिंदल के खिलाफ एफआईआर, उनके घर पर सीबीआई का सर्च आदि खबरों को मीडिया ने पी लिया. जी न्यूज को छोड़कर किसी मीडिया हाउस ने इस पर स्पेशल शो नहीं किया, कोई डिबेट आयोजित नहीं की, नवीन जिंदल के कारनामों को उजागर करने का बीड़ा नहीं उठाया.

Coalgate scam: CBI conducts raid in Naveen Jindal’s residence

New Delhi: CBI on Friday opened cupboards of Congress MP Naveen Jindal, who returned last night from abroad, after he was asked to join its probe in the allocation of a coal block to his company Jindal Steel and Power Ltd. During the searches conducted on June 11, CBI was unable to complete its operation at Jindal’s 6-Prithviraj Road residence here as some of the cupboards and almirahs were locked and they could only be unlocked by the MP who was out with his family at that time.

वॉयस आफ लखनऊ से सुभाष, विक्रम एवं अनुराग का इस्‍तीफा, अमितांशु बने रिपोर्टिंग हेड

वॉयस आफ लखनऊ से खबर है कि तीन लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया है. ये तीनों लोग अपनी नई पारी श्री टाइम्‍स के साथ शुरू कर रहे हैं. बताया जा रहा है कि प्रबंधन से मनमुटाव के बाद इन लोगों ने इस्‍तीफा दिया है.

”आयदान हर उस स्त्री की जीवन-कथा है, जो जाति-उत्पीड़न और पुरुष सत्ता का शिकार होती रही है”

मुंबई में पहली बार आयोजित मुंबई पुस्तक मेला, पवई के आठवें दिन साहित्य उपक्रम के स्टाल पर हिन्दी और मराठी की चार लेखिकाओं की पुस्तकों का लोकार्पण हुआ, जिनमें हिन्दी की सूर्यबाला, सुधा अरोड़ा और मधु कांकरिया की ‘दस प्रतिनिधि कहानियाँ’ श्रृंखला की तीन किताबें तथा मराठी की प्रसिद्ध लेखिका उर्मिला पवार की आत्मकथा ‘आयदान’ (हिंदी अनुवाद) शामिल थीं।

1860 की दंड प्रणाली वकीलों-जजों के लिए लाभदायक है, मुजरिमों-मजलूमों के लिए नहीं

“निर्दोष हंस को बचाना है नृशंस शिकारी को नहीं”- यह बात लखनऊ से मुंबई पुस्तक मेले में 18 अप्रैल 2013 को आईं श्री शालिनी माथुर ने अपने आलेख “ज़ुर्म और सज़ा” के द्वारा कही और स्त्री के प्रति हर तरह की हिंसा और उससे जुड़े हुए सभी न्यायिक मुद्दों पर विस्तार से अपनी बात रखी। शालिनी ने कहा कि हमें वह समाज बनाना है जहाँ निर्दोष निरपराध लोग भी चैन से जी सकें, जहाँ बच्चियाँ स्कूल जा सकें, पार्कों में खेल सकें, जहाँ माँ-बाप और बच्चों को हर समय बलात्कार और हत्या के ख़ौफ़ के साए में न जीना पड़े।

अब शहरों में नहीं मिलती साहित्‍य की पुस्‍तकें : विकास नारायण

मुंबई पुस्तक मेले के अवसर पर आई.आई.टी. मुंबई के सभागार में “पुस्तक संस्कृति क्यों नष्ट हो रही है”- विषय पर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें जाने-माने साहित्यकार विकास नारायण राय, सुधा अरोड़ा, सूर्यबाला, ओमा शर्मा, रामजी यादव, सत्यदेव त्रिपाठी, रवीन्द्र कात्यायन, अर्जुन महतो, सुमन सारस्वत, जनार्दन गौड़, विकास पाण्डेय आदि उपस्थित हुए।

दैनिक जागरण ने छापा फर्जी विज्ञापन, चाइना से करिए एमबीबीएस!

देश के लोगों को अपने फर्जी विज्ञापनों से भरमाने का कार्य कर रहा है दैनिक जागरण। चाइना से एमबीबीएस की डिग्री का विज्ञापन इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री गुलाम नबी़ आजाद ने राज्य सभा में बताया था कि एमबीबीएस की कोई भी डिग्री भारत में मान्य नहीं है। जब कि अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन, आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैण्ड इन 5 अंग्रेजी भाषी देशों से मिली एमडी के डिग्री को ही मान्यता दी गयी है।

ब्रेबरी अवार्ड से सम्‍मानित किए गए ब्रिजेश सिंह, श्रीवर्धन त्रिवेदी समेत कई लोग

आगरा : पिछले दिन माउंट लिट्रा जी स्कूल के समर कैंप के समापन के अवसर पर ब्रेबरी अवार्ड की शुरुआत की गयी, जिसमें देश के नामचीन हस्तियों को सम्मानित किया गया. यह अवार्ड जिन लोगों ने अपने क्षेत्र में किये गए अभूतपूर्व कार्य के योगदान के लिए दिया गया. इसी के तहत आगरा के ANI के ब्‍यूरो चीफ ब्रिजेश कुमार सिंह को दिया गया. ब्रिजेश सिंह ने 1998 में पंचायत चुनाव के दौरान फतेहपुर सीकरी के गांव जाजाऊ में बूथ कैप्चरिंग कर रहे लोगों को अपने कैमरे में कैद कर लिया था. 

पुलिसकर्मी की दबंगई, फोटो खींच रहे संपादक पर उठाया हाथ

सिवनी  रेलवे में यात्रा करने के नाम पर भारतीय रेल द्वारा तत्‍काल की स्‍कीम लोगों की सुविधा के बजाए उनके गले की फांस ज्यादा बन रही है। दलालों द्वारा टिकट विंडो पर जाकर टिकट बनवाए जा रहे हैं और आम जनता मुंह देखती रह रही है। पुलिस की दबंगई की फोटो खींचने पर एक पुलिसकर्मी ने राष्ट्र चंडिका के संपादक अखिलेश दुबे के साथ हाथापाई कर डाली।

ये पत्रकार और नेता अब लाशों को लेकर राजनीति कर रहे हैं

Shambhunath Shukla : टीवी और अखबार वाले पिछले हफ्ते भर से सिर्फ बाढ़ और विनाश को ही दिखाए चले जा रहे हैं। कुछ सीमित फुटेज हैं और फोटो हैं। बस उन्हीं को बार-बार रिपीट करते हैं। मेरी पांच साल की नातिन दिन भर टीवी पर वही दृश्य देखा करती है, यहां तक कि वो खेलने भी नहीं जाती न उसकी अब अपने पीएसपी में दिलचस्पी बची है। बस न्यूज चैनल, अखबार वह पढ़ भी नहीं पाएगी। उसे टीवी न्यूज के एडिक्ट होने का रोग लग गया है।

टॉक शो पर बिफरीं ममता ने कहा- पोर्नोग्राफी से जुड़े हैं रेप पर चर्चा करने वाले

गलसी (कोलकाता) : पश्चिम बंगाल में हाल के दिनों में हुई बलात्कार एवं हत्या की घटनाओं पर विपक्ष एवं बुद्धिजीवियों के निशाने पर आईं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आरोप लगाया है कि कुछ स्थानीय समाचार चैनलों पर रेप पर चर्चा करने वाले पोर्नोग्राफी से जुड़े हुए हैं।

एचटी के पूर्व खेल पत्रकार डिकी रत्‍नागर का निधन

लंदन। मशहूर खेल पत्रकार और कमेंटेटर डिकी रत्नागर का शुक्रवार को लंदन में निधन हो गया। वे 82 वर्ष के थे। रत्नागर का जन्म 28 फरवरी 1931 को हुआ था। उन्होंने अपने शानदार करियर में 300 टेस्ट मैच कवर किए।

बाइक सवार बदमाशों ने मारी पत्रकार को मारी गोली

भोगांव : बीती रात्रि बाइक सवार दो बदमाशों ने एक पत्रकार को गोली मारकर घायल कर दिया। घायल को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया। नगर के मुहल्ला मुहम्मद सईद निवासी पत्रकार गुलजार अहमद गुरुवार की रात्रि लगभग 12:55 बजे मित्र भूरा पुत्र संतोष कुमार एवं गुलजार पुत्र जावेद के साथ बाइक से जीटी रोड पर स्थित गंगा ढ़ाबा से खाना खाकर वापस घर आ रहे थे।

विधूना विधायक प्रमोद यादव सपा से छह साल के लिए निष्‍कासित

लखनऊ : समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रान्तीय अध्यक्ष एवं मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने दल के खिलाफ बयान देने वाले सपा विधायक प्रमोद कुमार गुप्ता को आज पार्टी से छह साल के लिये निष्कासित कर दिया। सपा के प्रान्तीय प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने यहां बताया कि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश यादव की अनुमति से औरेया जिले के विधूना क्षेत्र से सपा विधायक प्रमोद कुमार गुप्ता को पार्टी विरोधी कार्यों में लिप्त होने तथा अनुशासनहीनता के आरोप में सपा से छह साल के लिये निष्कासित कर दिया है।

दुनिया के अंत तक एलजी अपना यह प्रोडक्ट बाजार में लाएगा!!!

देखिए, वेब दुनिया वालों का हाल. इनकी साइट पर एक खबर में बताया गया है कि एलजी वाले अपना यह प्रोडक्ट दुनिया के अंत तक ले बाजार में लाएंगे … 🙂 भइया, अइसा प्रोडक्ट बनाते काहे हो जिसको दुनिया के अंत तक बाजार में लाया जाएगा. आखिर उस प्रोडक्ट को खरीदेगा कौन जब दुनिया ही न रहेगी…

जिंदल पर रहम, जी वालों पर जुल्म… इस अंधेरगर्दी पर बाकी मीडिया वाले चुप क्यों?

नवीन जिंदल की शिकायत के बाद पुलिस और सिस्टम इतना सक्रिय हुआ कि सुधीर चौधरी पर देखते ही देखते तीन मुकदमें लाद दिए गए. पहला एक्सटार्शन वाला. दूसरा गैंगरेप विक्टिम के दोस्ता इंटरव्यू जी न्यूज पर चलाने पर और तीसरा कोलगैट स्कैंडल प्रकरण में जिदंल को लेकर चलाई जा रही खबर में फर्जी दस्तावेज दिखाने के आरोप पर. मजेदार यह है कि दिल्ली पुलिस ने जिन दस्तावेजों को फर्जी बताते हुए सुधीर चौधरी के खिलाफ शिकायत दर्ज की है, उन दस्तावेजों को सही मानते हुए सीबीआई ने नवीन जिंदल के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

तो नवीन जिंदल के खिलाफ मुकदमें को इसलिए तूल नहीं दिया न्यूज चैनलों ने!

नवीन जिंदल ने जी ग्रुप के लोगों के खिलाफ जो शिकायत की थी, उस पर तो दिल्ली पुलिस से लेकर मीडिया वाले खूब सक्रिय हो गए थे और पूरे प्रकरण को खूब उछाला गया. बहसें हुईं. बयान जारी हुए. ब्राडकास्ट एडिटर्स एसोसिएशन सक्रिय हो गया. पर जब नवीन जिंदल पर ज्यादा गंभीर आरोप लगे, उनका खिलाफ सीबीआई ने रिपोर्ट दर्ज की तो इस बात की मीडिया में कोई चर्चा नहीं है. केवल फटाफट खबरों और टाप हंड्रेड खबरों में एक एक लाइन पढ़कर चैनलों ने निपटा दिया. इस पर कोई गंभीर डिस्कशन और विमर्श नहीं हुआ. कोई स्पेशल शो नहीं चला.

नवीन जिंदल के भारत लौटते ही उनके घर में घुसी सीबीआई, कागजात ले गए

खबर है कि कांग्रेस सांसद और उद्योगपति नवीन जिंदल भारत लौट आए हैं. उनके अपने घर पहुंचते ही सीबीआई की टीम भी पीछे पीछे उनके घर में घुस गई. सीबीआई वालों ने पिछली बार जिन आलमारियों, लाकरों आदि को सील किया था, उन्हें जिंदल के सामने खोला और वहां से सारे कागजात अपने साथ ले गए. बताया जा रहा है कि सीबीआई वालों ने जिंदल को पूछताछ करने के लिेए बुलाने की तैयारी की है.

न्यूज24 के रिपोर्टर और कैमरामैन केदारनाथ धाम पहुंचे, लाशें अब भी वहीं पर

न्यूज24 संभवतः पहला न्यूज चैनल है जिसके लोग केदारनाथ धाम पहुंच गए हैं. रिपोर्टर कुमार कुंदन और कैमरामैन प्रकाश बिष्ट पैदल चलते हुए जंगल के रास्ते गुप्त काशी पहुंचे. फिर वहां से हेलीकाप्टर से केदारनाथ धाम गए. केदारनाथ धाम के मुख्य मंदिर के आसपास लाशें अभी भी पड़ी हुई हैं. लाशों की बदबू से रिपोर्टर व कैमरामैन का हाल बेहाल है. इन लोगों ने वहां की पूरी रिपोर्ट दी है. ढेर सारे लोग अगल बगल अब भी फंसे हुए हैं और निकलने का इंतजार कर रहे हैं. सेना के लोग पीड़ितों की मदद कर रहे हैं. 

दूसरे विश्‍वयुद्ध के बाद सुर्खियों में आया संरचनावाद

फ्रांस में द्वित्तीय विश्व युद्ध (WWII) के बाद और विशेष रूप से 1960 के दशक में संरचनावाद सुर्खियों में आया. फ्रांस में संरचनावाद की आरंभिक लोकप्रियता ने इसे दुनिया भर में प्रसारित कर दिया. सामाजिक विज्ञान इससे बहुत अधिक प्रभावित थे. 1940 और 1950 के दशकों में जीन पॉल सार्त्र द्वारा प्रतिपादित अस्तित्ववाद प्रमुख भाव था.

लखीमपुर में बसपा के ब्राह्मण सम्‍मेलन से दूर रखे गए मुस्लिम पत्रकार!

लखीमपुर खीरी के वाईडी डिग्री कालेज में ब्राह्मण महासम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है, जिसकी तैयारी पिछले कई दिनों से चल रही है. साथ ही पत्रकारों को मैनेज करने का भी प्रयास जारी है, जो अक्सर हर जिले में ऐसे आयोजनों पर दिखता ही है.. इस क्रम में यहां के मुख्यालय स्थित पत्रकारों को एक भव्य भोज दिया गया, जिसमें खाने के साथ पीने का भी इन्तजाम जोर-शोर से था. अखबारों में बड़े-बड़े विज्ञापन भी इसी तैयारी का एक हिस्सा है. शुक्रवार यानी आज के लगभग सभी हिंदी अखबारों में विज्ञापन है.

जमीन बेचकर 4000 करोड़ जुटाएगा प्रसार भारती

नई दिल्ली। पब्लिक ब्रॉडकास्टर प्रसार भारती ने देश भर में अपने लैंड पार्सल बेचने के जरिए 4,000 करोड़ रुपए जुटाने का प्रस्ताव बनाया है। इससे मिले पैसे से प्रसार भारती, दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो का टेक्निकल अपग्रेडेशन करना चाहता है।

पॉश इलाके में चल रहा था हाई प्रोफाइल सेक्‍स रैकेट, पांच टीवी एक्‍ट्रेस अरेस्‍ट

मुंबई : मुंबई पुलिस ने पॉश इलाका लोखंडवाला में स्थित एक आईएएस के अपार्टमेंट में चल रहे सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने पांच हाई प्रोफाइल कॉर्ल गर्ल को दबोचा है। पूछताछ में पुलिस को पता चला है कि पांचों लड़कियां नामी टीवी एक्ट्रेस हैं। इनमें से कुछ ने सास बहू जैसे टीवी सीरियलों में काम किया है तो कुछ अन्य भोजपुरी और सी ग्रेड फिल्मों में काम कर चुकी हैं।

एबीपी न्यूज की तरह एनडीटीवी ने भी उत्तराखंड की त्रासदी बताकर कहीं दूसरे जगह का वीडियो चला दिया!

क्या एनडीटीवी वालों ने भी उत्तराखंड की त्रासदी दिखाने के लिए फर्जी वीडियो दिखाए? नीचे दी गई तस्वीर तो कुछ ऐसा ही बयान कर रही है. अगर यह सच है तो एबीपी न्यूज वालों की तरह घृणित अपराध एनडीटीवी वालों ने भी किया है. दुर्घटना, हादसा कहीं का और वीडियो कहीं का. यह तो दर्शकों के साथ छल है.

राष्‍ट्रीय सहारा, गोरखपुर में चल रही है समीक्षा तो जागरण ने छह पत्रकारों को कर दिया स्‍थाई

राष्‍ट्रीय सहारा में चार सदस्‍यीय टीम यूनिटों का दौरा कर रही है. इस टीम में समूह संपादक रणविजय सिंह, दिल्‍ली के संपादक राजीव सक्‍सेना, एडमिनिस्‍ट्रेटिव हेड सीबी सिंह एवं पर्सलन हेड जैदी शामिल हैं. यह टीम लखनऊ के बाद गोरखपुर पहुंची है. यहां समीक्षा की जा रही है. इसी समीक्षा का नतीजा रहा कि लखनऊ से दो लोगों को जयपुर भेज दिया गया है. संभावना है कि गोरखपुर से भी कुछ लोग इधर उधर किए जाएंगे. इसके बाद यह टीम किसी अन्‍य यूनिट की समीक्षा करेगी.

इस समय मध्‍य प्रदेश और छत्‍तीसगढ़ टीवी के पत्रकारों और तकनीकी कर्मचारियों के लिए जन्नत बन गए हैं

उत्‍तर प्रदेश की तरह मध्‍यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में भी चैनल्‍स के बीच कड़ी प्रतिस्‍पर्धा है.. हाल ही में मैदान में कूदे स्‍थापित समूहों के चैनल्‍स ने इस स्‍पर्धा की जलती आग में और घी डाला है.. जी चौबीस घंटे ने छत्‍तीसगढ़ और आईबीसी 24 ने मध्‍यप्रदेश में अपने अपने प्रतिस्‍पर्धियों को चौकन्ना कर दिया है.. इस समय मध्‍यप्रदेश और छत्‍तीसगढ़ टीवी के पत्रकारों और तकनीकी कर्मचारियों के लिए जन्नत  बन गए हैं..

सीबी सिंह बने सहारा मीडिया के एडमिनिस्ट्रेटिव हेड, रमन शुक्‍ला ने दैनिक जागरण ज्‍वाइन किया

सहारा मीडिया से खबर है कि सीबी सिंह को पूरे समूह का एडमिनिस्‍ट्रेटिव हेड बना दिया गया है. अब तक अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी के रूप में यह प्रभार अजय शर्मा संभाल रहे थे. सीबी सिंह की इस पद पर दुबारा वापसी हुई है. वे इसके पहले भी एडिमिनिस्‍ट्रेटिव हेड रह चुके हैं. उपेंद्र राय ने उनको टीवी डिविजन में भेजकर अजय शर्मा को यह अतिरिक्‍त जिम्‍मेदारी सौंप दी थी. अब सीबी सिंह की एक बार फिर से वापसी हो गई है.

जावेद के बच्‍चों को स्‍कूल से निकालने वाले पूर्व सांसद के खिलाफ एनसीआर दर्ज

वाराणसी। बीते एक साल से अपने बच्चों के शिक्षा के अधिकार और खुद के साथ हुए बदसलूकी के विरोध में इंसाफ के लिए प्रशासनिक संवेदनहीनता और लालफीताशाही से लड़ रहे जावेद की आखिरकार अदालत ने सुन ली। अदालत के आदेश के बाद पूर्व सांसद और एमजेआरपी पब्लिक स्कूल के संचालक पूर्व सांसद जगदीश कुशवाहा के खिलाफ दफा 424, 500, 504, 506 आईपीसी के तहत गाजीपुर कोतवाली में एनसीआर दर्ज कर लिया गया है।

गोपनीयता भंग करने वाले आईबी, सीबीआई निदेशक को हटाएं

इशरत जहाँ केस में आईबी अधिकारी राजेन्द्र कुमार से पूछताछ मामले में एजेंसियों द्वारा जानबूझ कर गोपनीयता भंग करने की जांच कराये जाने की मांग उठ रही है. प्रधान मंत्री और गृह मंत्री को भेजे अपने पत्र में लखनऊ स्थित आरटीआई कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर ने कहा है कि राजेंद्र कुमार की पूछताछ से जुडी कई अतिगोपनीय सूचनाएं बाहर आयीं जबकि सीबीआई ने उन्हें आरुषि कांड में मांगी सामान्य सूचना गोपनीयता के नाम पर देने से इनकार कर दिया था. सबसे गंभीर बात है कि गृह सचिव की मीटिंग, जिसमे उनके अलावा मात्र आईबी निदेशक, सीबीआई निदेशक और एक पूर्व सीबीआई निदेशक शामिल हुए थे, की पूरी बातचीत अनधिकृत ढंग से लोगों तक पहुँच गयी.

भारी वर्षा की सूचना को नजरअंदाज न करती उत्तराखंड सरकार तो हजारों जाने बच सकती थी

उत्तराखण्ड राज्य सरकार यदि मौसम विभाग द्वारा आपदा के एक सप्ताह पूर्व जारी भारी वर्षा की सूचना का संज्ञान लेकर यात्रा को कुछ समय के लिए यात्रा को स्थगित कर देती तो देवताओं के दर्शन को आए हजारों लोग दैवीय आपदा का शिकार बनने से बच जाते लेकिन सरकार अपनी राजनीतिक उठापटक में इतनी मशगूल थी कि मौसम विभाग की भारी वर्षा की चेतावनी की रिपोर्ट को रद्दी की टोकरी में डाल दिया और उसका खामियाजा तीर्थाटन को राज्य में आए देष भर के लोगों को अपनी जान देकर चुकानी पड़ी।

शुरुआत है केदारनाथ की घटना

वन, जीव और पर्यावरण की रक्षा का संदेश देने वाली कहानी, नाटक और फिल्में बनती रहती हैं। अधिकांश लोग बचपन से ही सुनते, पढ़ते और देखते आ रहे हैं। भारत के अधिकांश धार्मिक पर्व प्रकृति और पर्यावरण से ही जुड़े हैं, इसके बावजूद प्रकृति के विरुद्ध क्रियाकलाप लगातार बढ़ते जा रहे हैं। शाहरुख खान और करण जौहर ने वर्ष 1995 में काल नाम की फिल्म बनाई थी, जिसे सोहम शाह ने लिखा था और उन्होंने ही निर्देशित किया था, इस फिल्म में काली नाम के पात्र का अभिनय अजय देवगन ने किया था।

नौकरशाही बन जाएगी अखिलेश सरकार की कब्रगाह

उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर सवाल तो पिछले एक साल से खड़े हो रहे थे पर हर बार अखिलेश सरकार इसे विपक्ष और मीडिया की साजिश बताकर विषय से अपना पल्ला झाड लेती थी। लेकिन कहावत है कि यदि किसी मर्ज की दवा समय रहते न की जाये तो उस मर्ज को नासूर बनते देर नहीं लगती। कुछ ऐसी ही तस्वीर इस समय उतर प्रदेश की है जहाँ कानून व्यवस्था को समय से मजबूत न करने की चलते अब स्थिति विकराल होती जा रही है। आलम ये कि हत्या, डकैती और लूट की वारदातें आम बातें हो गयी है। उस पर सोने पर सुहागा ये कि खुद सदाकार की मंत्री भी लचर कानून व्यवस्था के लिए सरकार को घेर रहे है।

पत्रकार सुरक्षा अधिनियम के लिए बनारस में हजारों ने किए हस्‍ताक्षर

पत्रकार सुरक्षा अधिनियम बनाए जाने के सर्मथन में प्रतापगढ़ की ऐतिहासिक धरती से शुरू हुआ हस्ताक्षर अभियान आध्यात्मिक नगरी काशी पहुंचा। सर्किट हाउस के बाहर आयोजित हस्ताक्षर अभियान की शुभारम्भ वरिष्ठ साहित्यकार विनय कपूर ग़ाफिल एवं जिर्याउरहमान अंसारी ने संयुक्त रुप से किया।

नभाटा, लखनऊ में नब्बे फीसदी पंडित पत्रकारों की भर्ती, इनमें भी पिच्चानबे फीसदी मिश्रा!

कुछ लोगों ने आरोप लगाया है कि नवभारत टाइम्स, लखनऊ में बड़े पैमाने पर पंडित पत्रकारों की भर्तियां की गई हैं. बताया जाता है कि टोटल एडिटोरियल स्टाफ में नब्बे फीसदी से ज्यादा पंडित पत्रकार हैं. इन पंडितों में पिच्चानबे फीसदी 'मिश्रा' हैं. ऐसा संभवतः इसलिए क्योंकि यहां के संपादक मिश्रा जी बनाए गए हैं जिनका पूरा नाम सुधीर मिश्रा है.

डीएलए का नोएडा एडिशन बंद होगा, यूपी एडिशन लांच होगा

अजय अग्रवाल के अखबार डीएलए से कई सूचनाएं आ रही हैं. चर्चा है कि इस अखबार का नोएडा एडिशन बंद होने वाला है. साथ ही यहां लगी प्रिंटिंग मशीन की बिक्री होने वाली है. हालांकि इन दोनों सूचनाओं का डीएलए प्रबंधन ने खंडन किया है पर अखबार से जुड़े लोगों का कहना है कि डीएलए, नोएडा के हालात ठीक नहीं हैं.

जेके वर्मा का पत्रकारिता से मोहभंग, साहित्‍य ट्रस्‍ट किया स्‍थापित

भिवानी। लगभग आठ साल तक दैनिक भास्कर, भिवानी व चरखी दादरी में बतौर ब्यूरो चीफ सेवाएं देने वाले तथा बाद में भिवानी शहर में हरियाणा की आवाज जैसे दैनिक समाचार पत्र को बतौर मुख्य संपादक सेवा देने वाले तथा इसके बाद एक कदम आगे जैसे अखबार में बतौर ब्यूरो चीफ सेवाएं देने वाले वरिष्ठ पत्रकार जे.के. वर्मा का पत्रकारिता से मोह भंग हो गया है। उन्होंने पत्रकारिता को अलविदा कह कर जे.के. साहित्य ट्रस्ट, हरियाणा की स्थापना की है।

कोई बता सकता है कि IIMC किस बीमारी से ग्रस्‍त है?

Abhishek Srivastava : किसी पत्रिका को अंग्रेज़ी और हिंदी जानने वाले एक समझदार पत्रकार की ज़रूरत थी। उसी सिलसिले में एक मित्र ने सलाह दी कि क्‍यों न IIMC से कैम्‍पस कर लिया जाय। अचानक याद आया कि सबसे ज्‍यादा बिकने वाली हिंदी की पत्रिका इंडिया टुडे और नील्‍सन के संयुक्‍त सर्वे में शीर्ष दस जनसंचार कॉलेजों में IIMC कहीं है ही नहीं। गोकि ऐसे सर्वेक्षणों की विश्‍वसनीयता संदिग्‍ध होती है, बावजूद इसके अगर फैशन डिज़ाइनिंग में NIFT और इंजीनियरिंग में शीर्ष पांच Indian Institutes of Technology जैसे सरकारी स्‍वायत्‍त संस्‍थान हो सकते हैं, तो आखिर भारतीय जनसंचार संस्‍थान में कौन सी दीमक लग गई है कि उसका कोई नामलेवा भी नहीं? ऊपर से पिछले कुछ वर्षों के दौरान इंडस्‍ट्री में आए IIMCians अनौपचारिक बातचीत में तूमार ऐसा बांधते हैं कि पिछला पुलित्‍ज़र पुरस्‍कार उन्‍हें ही मिला हो। क्‍या कोई साफ-साफ बता सकता है कि IIMC किस बीमारी से ग्रस्‍त है?

जनसत्ता निकलने के करीब दस साल बाद तक जनसत्ता का पर्यायवाची आलोक तोमर होता था

Shambhunath Shukla : कुछ यादें आलोक तोमर की! जनसत्ता ज्वाइन करने हम और राजीव शुक्ला एक अगस्त सन् १९८३ को गोमती एक्सप्रेस से दिल्ली आ गए। एक नई जगह और जानने वाला कोई नहीं। कहने को तो जनसत्ता डेस्क पर सबसे सीनियर श्री देवप्रिय अवस्थी कानपुर के ही थे लेकिन उनके अंदर कनपुरियों को लेकर कोई उत्साह नहीं था। उनसे हमने कहा कि कहीं सस्ते में ठहरने का इंतजाम करवा दीजिए तो उन्होंने कह दिया कि दिल्ली में सस्ते में तो खाना भी नहीं मिलता। लेकिन प्रभाष जी ने राजघाट के गेस्ट हाउस में पांच रुपये प्रति आदमी के हिसाब से कमरा दिलवा दिया।

गोविंदघाट में फंसे हैं हजारों लोग, नहीं पहुंच रही है सरकार की राहत

उत्तराखंड इस समय भीषण विभीषिका की चपेट में है. विगत तीन दिनों से, जब से भारी बारिश शुरू हुई हम लगातार जोशीमठ में आपदा की जानकारी लेने, सुझाव देने और नागरिकों की ओर से मदद करने तक, स्थानीय प्रशासन से निरन्तर संपर्क बनाए हुए थे. लेकिन प्रशासन की तरफ से आपदा के संदर्भ में जितनी आधी-अधूरी, कच्ची-पक्की जानकारी मिल रही थी, उससे हम संतुष्ट नहीं हो पा रहे थे इसलिए 19 जून 2013 को भाकपा (माले) के गढ़वाल कमेटी के सदस्य कामरेड अतुल सती, मैं और आइसा के साथी महादीप पंवार नजदीक से हालात का जायजा लेने के निकल पड़े.

राजस्‍थान के दो ब्राह्मणों के राजनीतिक उत्थान का मतलब

गिरिजा व्यास और सीपी जोशी। दोनों ब्राह्मण। दोनों डॉक्टर। दोनों विश्वविद्यालय के प्रोफेसर। दोनों दिमागदार। दोनों सांसद। दोनों कांग्रेस में। दोनों केंद्र में। दोनों राजस्थान के। दोनों ताकतवर। दोनों मेवाड़ी। दोनों आलाकमान के चहेते। और आखरी बात यह कि दोनों अशोक गहलोत की उपज। लेकिन अब, सीपी राहुल गांधी के तो सुश्री व्यास सोनिया गांधी की खासमखास। गिरिजा व्यास केंद्र में कैबीनेट मंत्री बन गई हैं और सीपी जोशी को मंत्री पद से इस्तीफा दिलवाकर कांग्रेस महासचिव बना दिया गया है।

जम्‍मू में हॉकरों को बहिष्‍कार जारी, दैनिक जागरण का सर्कुलेशन गड़बड़ाया

समाचार-पत्र वितरकों के लिए चलाया जा रहा 'कर्मयोगी' अभियान जम्मू में बुरी तरह फ्लाप होने के बाद स्थानीय दैनिक जागरण प्रबंधतंत्र बुरी तरह बौखला गया है. यहाँ के समाचार-पत्र वितरकों को सबक सिखाने के लिए आज जागरण ने शहर के कई इलाकों में अपने पाठकों तक अख़बार पहुंचाने के लिए स्वयं के स्टाल खोले. परन्तु ग्राहकों के रूचि न लेने से उनका यह "शो" भी फ्लाप साबित हो गया.

उत्तराखंड में ‘जल प्रलय’: विकास के नाम पर विनाश को दिया जा रहा है ‘न्यौता’!

अचानक हुई बरसात ने उत्तराखंड के नौ जिलों में भारी तबाही मचा दी है। खासतौर पर केदारनाथ धाम और उसके आस-पास तो ‘जल प्रलय’ जैसी ही विनाशलीला का मंजर देखने को मिल रहा है। सेना की तमाम मुस्तैदी के बाद भी हजारों यात्री जीवन-मौत के बीच जूझ रहे हैं। इनके बचाव की युद्ध स्तर पर कोशिशें जरूर हो रही हैं, लेकिन खराब मौसम के चलते बचाव के कामों में भी भारी दिक्कतें आ रही हैं।

केके उपाध्‍याय बनेंगे लखनऊ के संपादक, सूर्यकांत द्विवेदी को अभयदान!

: अनिल भास्‍कर बनेंगे पश्चिमी यूपी हेड : हिंदुस्‍तान में सीनियर लेबल पर बदलाव को लेकर बहुत सुगबुगाहट है. कई सीनियरों की जिम्‍मेदारियां बदली जा रही हैं. हालांकि अभी इसके लिए लेटर जारी नहीं हुए हैं क्‍योंकि प्रधान संपादक शशि शेखर देश से बाहर हैं. संभावना है कि उनके आने के बाद ही इन बदलावों को लेकर लेटर जारी किए जाएंगे. पिछले दिनों ही कुछ यूनिटों के संपादकों की जिम्‍मेदारियां बदली गई हैं. इसलिए कयास लगाया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव से पहले टीम मजबूत करने के लिए यह बदलाव किए जाएंगे.

ओ गंगा तुम, ओ गंगा बहती हो क्यों..?

उत्तराखंड में कुदरत के इस कहर से हर कोई हैरान है…शासन-प्रशासन बेबस है…हर किसी के जुबान पर यही सवाल है कि आखिर ये तबाही क्यों..? तबाही का ये मंजर दर्दनाक और दिल को दहला देने वाला जरूर है लेकिन आज नहीं तो कल ये होना ही था..! कुदरत अपना हिसाब खुद बराबर करती है…उसे न तो जेसीबी मशीन की जरुरत है न ही किसी विस्फोटक की..! उसने तो एक झटके में सब तहस नहस कर दिया..!

रोली जाएंगी अमर उजाला, सूरज ने ए2जेड से इस्‍तीफा दिया

दैनिक जागरण, लखनऊ से इस्‍तीफा देने वाली पत्रकार रोली खन्‍ना अपनी नई पारी अमर उजाला के साथ शुरू करेंगी. इन्‍होंने कुछ दिन पहले ही दैनिक जागरण को अलविदा कहा था. बताया जा रहा है कि जल्‍द ही रोली लखनऊ में अमर उजाला से जुड़ जाएंगी. वे कई अन्‍य संस्‍थानों को भी अपनी सेवाएं दे चुकी हैं. उनकी गिनती अच्‍छे पत्रकारों में की जाती है. हालांकि इस संबंध में रोली से संपर्क नहीं हो पाया.

डाक्‍टर को ब्‍लैकमेल करने वाले दो कथित पत्रकार अरेस्‍ट

लुधियाना : अपने आपको एक न्यूज चैनल का पत्रकार बताकर एक सरकारी डाक्टर को ब्लैकमेल करके पैसे मांगने वाले एक पुरूष व महिला को थाना डिवीजन नं. 7 की पुलिस ने अरेस्‍ट किया है। सरकारी डिस्पेंसरी में सेवारत डाक्टर द्वारा लोगों से पैसे लेकर इलाज करने की शिकायत मिलने पर तथाकथित पत्रकारों ने न्यूज चैनल पर खबर चलाने की धमकी देकर 10 हजार रुपए की मांग की थी।

वयोवृद्ध पत्रकार बलराज मेहता का निधन

अंग्रेजी भाषा के जाने माने पत्रकार बलराज मेहता का लंबी बीमारी के बाद बुधवार को निधन हो गया। वे 92 वर्ष के थे तथा काफी समय से गुर्दा रोग से पीड़ित थे। उनका इलाज चल रहा था। मेहता ने अंग्रेजी दैनिक 'पैट्रियट' से कॅरियर की शुरुआत की थी।

दैनिक जागरण, रांची के संपादकीय प्रभारी मुकेश भूषण का इस्‍तीफा

दैनिक जागरण, रांची से खबर है कि संपादकीय प्रभारी मुकेश भूषण ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे समूह में सीनियर एनई के पद पर कार्यरत थे. मुकेश का इस्‍तीफा जागरण के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. हालांकि वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. पर सूत्रों का कहना है कि जल्‍द ही वे किसी मीडिया संस्‍थान से बड़े पद पर जुड़ने वाले हैं. उनकी जागरण के साथ यह दूसरी पारी थी.

I’m victim of online fraud, pls help

Respected Sir, I am a software Developer from ahmedabad. I am seeking your guidance and help in the case of Online fraud. I had bought pen drive for the cost of 600 rs from the site shopjii.com on 15/04/2013 .Now they have not delivered the product and not returning mone. What is more frustrating is that they have closed their web site and not replying even if I have mailed them number of times.

सत्‍येंद्र बने ग्रापए सकलडीहा ईकाई के तहसील अध्‍यक्ष, बजरंगी महामंत्री

चंदौली : ग्रामीण पत्रकार एसोसियेशन (ग्रापए) के सकलडीहा तहसील इकाई का चुनाव 19 जून को देढ़ावल स्थित प्राथमिक विद्यालय के प्रांगण में बैठक के बाद हुआ, जिसमें सर्वसहमति से तहसील इकाई अध्यक्ष हेतु सत्येन्द्र यादव व महामंत्री पद हेतु बजरंगी प्रसाद का चयन किया गया।

संगठन और सरकार में बदलाव के निहितार्थ

लोकसभा के चुनाव सिर्फ 11 महीने दूर (यदि तय समय पर हुए) हैं। ऐसे में, कांग्रेस नेतृत्व ने संगठन और सरकार का चेहरा चमकाने की कवायद तेज कर दी है। नेतृत्व को खासतौर पर चिंता मनमोहन सरकार पर लगे अनगिनत ‘दाग-धब्बों’ की है। यूपीए-2 सरकार का पूरा कार्यकाल विवादों की आफत में ही फंसा रहा है। 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले से सरकार बचाव की मुद्रा में आने लगी थी। 1.76 लाख करोड़ रुपए के इस महाघोटाले की तमाम परतें धीरे-धीरे खुलती रहीं।

पेड न्यूज पर कड़ी नजर रखेगा चुनाव आयोग

भोपाल। चुनाव के दौरान भारत के निर्वाचन आयोग चुनौती बन चुके पेड न्यूज को हर हाल में रोकने की पूरी कोशिश करेगा। प्रिंट और विजुअल माध्यम में चुनाव के दौरान मतदाताओं को आकर्षित करने के लिए प्रकाशित और प्रसारित की जाने वाली पेड न्यूज को रोकने के लिए आयोग ने दिशा निर्देश बनाए हैं और अब सोशल साइटों को लेकर भी वह गंभीर हैं।

भोपाल में एसपी के नाम पर वसूली का खेल!

भोपाल. मध्य प्रदेश की राजधानी में धड़ल्ले से खुलेआम वसूलीबाजों की गुण्डागर्दी और जबरिया वसूली चल रही है। आश्चर्य जनक पहलू ये है कि इस वसूली में बेहिचक राजधानी के एम.पी. नगर क्षेत्र में जो पुलिस अधीक्षक कार्यालय से मात्र आधा एक किलोमीटर की दूरी पर है। यहां पर थाना एम.पी. नगर के कुछ पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर फाइनेंस कम्पनी के रसूखदार गुण्डों ने हडक़म्प मचा रखा है। वहीं सीधे कर्जदारों से पुलिस अधीक्षक के नाम पर वसूली की कार्यवाही की जा रही है। इस वसूली में कुछ पुलिस वाले अंजाम देकर मोटी रकम कमा रहे हैं।

उत्‍तराखंड में तबाही, लेकिन अखबार और चैनलों को मलाई की उम्‍मीद

उत्तराखंड में आयी तबाही में मरनेवालों की संख्या हजारों में है लेकिन टेलीविजन स्क्रीन पर और अखबारों में यह संख्या सैकड़े के आसपास ही सिमटी हुई है. उत्‍तरकाशी में जितनी बड़ी तबाही हुई है उस सच्‍चाई को तमाम अखबार एवं चैनल नहीं दिखा रहे हैं. उत्‍तराखंड के कई बड़े अखबार जहां नाकाम सरकार और संवेदनहीन मुख्‍यमंत्री के खिलाफ मोर्चा खोलने से घबरा रहे हैं वहीं आई नेक्‍स्‍ट अकेले ही सरकार के काले चेहरे को दिखा रहा है.

सहारा मीडिया, लखनऊ से पवन मिश्रा एवं राजेश सिंह जयपुर भेजे गए

सहारा मीडिया से खबर है कि लखनऊ ब्‍यूरो से दो लोगों का तबादला जयपुर के लिए कर दिया गया है. सहारा लखनऊ में एसएनबी हेड के रूप में काम देख रहे पवन मिश्रा को जयपुर भेज दिया गया है. उन्‍हें वहां क्‍या जिम्‍मेदारी दी गई है इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. पवन नोएडा में स्ट्रिंगरों के हेड हुआ करते थे. बाद में इन्‍हें लखनऊ भेज दिया गया. इनके अलावा सहारा टीवी में लखनऊ ब्‍यूरो के रिपोर्टर के रूप में कार्यरत राजेश सिंह का भी तबादला जयपुर के लिए कर दिया गया है.

इंडियन मुस्लिम पेज पर “राम” नाम को लेकर भड़काने वाला भ्रामक प्रचार

ऐसा लगता है कि कुछ मतान्ध और कट्टर मुस्लिमों ने फेसबुक पर मिथ्या-प्रचार का अभियान छेड़ रखा है. इनमें इंडियन मुस्लिम नामक पेज सबसे आगे है. ऐसे ही अपने एक पोस्ट (https://www.facebook.com/IndMuslim/posts/417529895027279#!/IndMuslim/posts/417529895027279) में ये पेज "राम" नाम पर हिन्दू आस्था पर भ्रामाकपूर्ण तथ्यों के जरिये भड़काने वाला चोट करता है.

पेड न्‍यूज में कई अखबारों की शिकायत, पढि़ए स्‍टैंडिंग कमेटी की रिपोर्ट

संसद की स्‍टैंडिंग कमेटी ने पिछले महीने पेड न्‍यूज को लेकर तैयार की गई अपनी 130 पन्‍नों की रिपोर्ट संसद के दोनों सदनों में प्रस्‍तुत की, लेकिन यह रिपोर्ट किसी अखबार या चैनल की खबर नहीं बन सकी. इस खबर को केवल हिंदू ने अपने अखबार के पन्‍ने में जगह दी. अन्‍य बड़े अखबारों से यह खबर गायब रही. राव इंद्रजीत सिंह की अध्‍यक्षता वाली कमेटी ने इस रिपोर्ट को लोकसभा में 6 मई तथा राज्‍य सभा में 7 मई को पेश किया था.

I&B Ministry has done little to curb paid news : parliamentary panel

In a comprehensive 100-page report covering issues across the print and electronic media landscape, a parliamentary standing committee has documented the trend of ‘paid news’ in its various forms and recommended content regulation by an empowered mechanism. It has also strongly criticised the Ministry of Information and Broadcasting (I&B) for “failing to discharge its responsibility”.

भारत में बहुत खुल गई हैं मीडिया की दुकानें!

दुनिया को जोड़ने में मीडिया का अहम रोल है, लेकिन क्या मीडिया वे बातें आप तक पहुंचा रहा है जिन्हें जानना जरूरी है? विकास की खबरें तो ठीक हैं लेकिन इसके बदले क्या कुर्बान हो रहा है, यह बता रहा है कोई?

संसदीय समिति ने पेड न्‍यूज पर दी रिपोर्ट, पर मीडिया से गायब रही यह खबर

भारतीय मीडिया में पेड न्यूज़ पर एक बड़ी नई रिपोर्ट, बामुश्किल बड़ी खबर बन रही है। पिछले महीने सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी स्थायी समिती द्वारा संसद में जमा की ये रिपोर्ट एक मनोहर विषय-वस्तु है। रिपोर्ट में विस्तारपूर्वक बताया गया है कि कैसे अखबार, टेलीविज़न चैनल और रेडियो स्टेशन सकारात्मक खबरों की कवरेज लिए कथित तौर पर पैसा लेते हैं। ये इस बात के लिए नियामक इकाईयों की पिछली रिपोर्टों और मीडिया प्रतिनिधियों, नियामकों और सरकारी अधिकारियों की व्यापक श्रेणी के ताज़ातरीन साक्ष्यों पर निर्भर रही।

नकारा और भ्रष्‍ट है उत्‍तराखंड की सरकार : अरविंद सिंह

Arvind Kumar Singh : उत्तराखंड की तबाही… कश्मीर में था तो खबर मिली कि उत्तराखंड में आपदा आ गयी है..लगा कि ऐसा विकराल नहीं होगा..आज दिल्ली लौटने पर और उत्तराखंड के अपने कई दोस्तों से बात करने के बाद तबाही की कहानी की पूरी कहानी जानी…सुनामी से लेकर उत्तरकाशी के भूकंप से हुई तबाही को करीब से देखा है…उत्तराखंड से मेरा गहरा जुड़ाव-लगाव रहा और अमर उजाला में रहने के बाद पूरा इलाका देखा है.

दस बनाम पचास लाख का मुआवजा सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन

सामाजिक कार्यकर्ता नूतन ठाकुर ने शहीद पुलिसकर्मी राहुल ढाका (मुजफ्फरनगर), अनिरुद्ध यादव (बरेली), सतीश परिहार (आगरा) और राजेश प्रसाद द्विवेदी (इलाहाबाद) के परिजनों को दी गयी दस लाख की आर्थिक सहायता और एक नौकरी को जिया मामले में दिये मुआवजे के सन्दर्भ में संविधान की धारा 14 और सुप्रीम कोर्ट द्वारा इन रे द स्पेशल कोर्ट्स बिल (1978 (1979) 1 SCC 380) में पारित आदेशों का उल्लंघन होने के नाते विधि विरुद्ध बताया है.

लखनऊ में नवभारत टाइम्‍स से जुड़ेंगे दिनेश चंद्र मिश्र

वरिष्‍ठ पत्रकार दिनेश चंद्र मिश्र अपनी नई पारी लखनऊ से प्रकाशित होने जा रहे नवभारत टाइम्‍स से करने जा रहे हैं. उन्‍हें किस पद पर लाया जा रहा है इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. इन दिनों वे श्री मीडिया से जुड़े हुए हैं. वे बनारस से लेकर जम्मू-कश्मीर, दिल्ली से दार्जिलिंग तक अमर उजाला, हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण के साथ काम कर चुके हैं.

सतह पर नजर आया भाजपा के विरोध का सच

कल विधानसभा में नीतीश कुमार ने विश्वास का मत हासिल कर लिया। भाजपा ने अपनी दोस्ती निभाते हुए लड़ने के पहले ही हथियार डाल दिया। तारीफ़ करनी होगी राजद के 22 विधायकों और दो निर्दलीय दिलीप वर्मा और ज्योति रश्मि का जिन्होंने नीतीश कुमार को विधानसभा में औकात दिखा दी। औकात दिखाने का मतलब यह कि इन दोनों निर्दलीय विधायकों को खरीदने के लिए नीतीश कुमार ने एड़ी चोटी का जोर लगाया। तरह-तरह के प्रलोभन दिये मगर इन दोनों विधायकों ने अपना जमीर नहीं बेचा।

बहुगुणा सरकार की दिलचस्‍पी आम लोगों को बचाने में नहीं है

Shambhunath Shukla : उत्तराखंड की तबाही प्राकृतिक आपदा कम सरकार की लाई हुई आपदा ज्यादा है। विकास के नाम पर पहाड़ों को तोडऩे और लगातार खुदाई करने का यही हश्र होना था। मरने वालों की संख्या यकीनन हजारों में रही होगी। ऋषिकेश में यात्री बसों का रजिस्ट्रेशन तो होता है पर यात्रियों की संख्या का नहीं पता चलता। इसके अलावा जो लेाग अपने वाहनों से जाते हैं उनका कोई रिकार्ड नहीं है।

क्‍या ऐसे ही रहेंगे आई नेक्‍स्‍ट, लखनऊ के हालात?

आई नेक्‍स्‍ट, लखनऊ के हालात दिन-ब-दिन खराब होते जा रहे हैं. संपादक शर्मिष्‍ठा शर्मा के खास बनने के चक्‍कर में संस्‍थान का नुकसान किया जा रहा है. इसी माहौल के चलते पिछले कुछ दिनों में रिपोर्टिंग और डेस्‍क से कई लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया है. कई दिन तो डेस्‍क पर एक कर्मचारी भी मौजूद नहीं रहा. पेजीनेटरों के सहारे ही अखबार प्रकाशित हो रहा था. खबर है कि बुधवार को एक वरिष्‍ठ पेजीनेटर से बदतमीजी के बाद बचे खुचे लोगों में नाराजगी है.

हिंदुस्‍तान, अलीगढ़ से शिवम एवं अतुल का इस्‍तीफा

हिंदुस्‍तान, अलीगढ़ से खबर है कि दो लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया है. इन दोनों ने नए संस्‍थानों से अपनी नई पारी शुरू की है. बताया जा रहा है कि कम इंक्रीमेंट तथा प्रमोशन के चलते इन लोगों ने संस्‍थान को बाय किया है. सब एडिटर के पद पर कार्यरत शिवम पाठक ने अपनी नई पारी जयपुर में राजस्‍थान पत्रिका के साथ शुरू की है. इन्‍हें यहां सब एडिटर बनाया गया है. शिवम अच्‍छे पैकेज पर गए हैं.

ईटीवी को पछाड़कर जी न्‍यूज पहले नम्‍बर पर, समाचार प्‍लस नम्‍बर तीन

यूपी के रीजनल चैनलों की 24वें सप्‍ताह की टीआरपी आ गई है. यूपी में पिछले कई सप्‍ताहों से तीन चैनलों के बीच जमकर प्रतिस्‍पर्धा हो रही है. पिछली बार पहले नम्‍बर रहा ईटीवी इस सप्‍ताह दूसरे नम्‍बर पर पहुंच गया है. जी न्‍यूज यूपी-उत्‍तराखंड में पहले नम्‍बर पर है. वहीं कुछ दिन पहले एक साल पूरा करने वाला समाचार प्‍लस चैनल तीसरे स्‍थान पर बना हुआ है. वह ईटीवी के काफी नजदीक पहुंच गया है. इन तीन चैनलों के बीच पहले-दूसरे तथा तीसरे स्‍थान के लिए चूहे-बिल्‍ली की दौड़ चल रही है.

भास्कर के अंबाला संपादक की तानाशाही के खिलाफ दो ने दिया इस्तीफा

दैनिक भास्कर, अंबाला के संपादक नरेंद्र सिंह अकेला के खिलाफ अंबाला भास्कर में विरोध का स्वर गूंज रहा है। मात्र बीस पच्चीस दिन के अंतराल पर दो प्रमुख लोगों ने उनसे तंग आकर इस्तीफा लिखते हुए अखबार को नोटिस दे दिया। गत माह अंबाला भास्कर के ब्यूरो प्रमुख और हरियाणा में भास्कर के सबसे पुराने पत्रकार उज्ज्वल शर्मा ने इस्तीफा सौंपते हुए भास्कर छोडऩे के लिए एक माह का नोटिस दे दिया।

एबीपी न्यूज में बोलीविया आपदा की तस्वीरें उत्तराखंड की तबाही बता कर किसने चलाया?

Himanshu Bajpai : बोलीविया में आई प्राकृतिक आपदा की तस्वीरें उत्तराखंड की तबाई की बता कर चला दो. साथ में ये भोकाल भी टाइट कर दो कि ये एक्सक्लूसिव माल हमारे संवाददाता ने जान की बाज़ी लगाकर अपने दर्शकों तक पहुंचाया है. दर्शक तो लल्लू-पंजू टाइप होते हैं, आप जो कहेंगे मान लेंगें और आपको गोदी में उठा लेंगें और अगर बदकिस्मती से एक आध लोग सयाने भी निकले तो उनके लिए 5 सेकेण्ड का एक खेद प्रदर्शन चला दो. 'नैतिकता और खेद' के टूल इसी वक्त पर तो काम आते हैं… हाय उस जूद पशेमां का पशेमां होना…

धीरेंद्र सिंह, तृप्ति शुक्‍ला एवं अंकित पाल की नई पारी

हिंदुस्‍तान, बलिया में लंबे समय तक कार्यरत रहे धीरेंद्र सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपनी नई पारी लखनऊ में अमर उजाला के साथ शुरू की है. धीरेंद्र की गिनती बलिया के अच्‍छे पत्रकारों में की जाती थी. वे हिंदुस्‍तान के अलावा भी कई संस्‍थानों से जुड़े रहे हैं.

शर्मनाक… एबीपी न्यूज ने बोलिविया में हुई दुर्घटना के वीडियो को उत्तराखंड का बताकर चला दिया

सबसे पहले खबरे दिखाने के चक्कर मे न्यूज़ चैनल वाले कितना झूठ हमारे सामने प्रस्तुत करते हैं, इसका सबसे बड़ा उदाहरण आपके सामने ये है। एबीपी न्यूज़ ने बोलिविया मे एक साल पहले हुई एक बस दुर्घटना का वीडियो यह कहकर दिखा दिया कि ये उत्तराखंड के जोशीमठ मे हुई दुर्घटना है।

विधायक पुत्र की खबर छापने पर भास्‍कर के ब्‍यूरोचीफ पर हमला तथा कार्यालय में तोड़फोड़

मेड़ता सिटी। मेड़ता सिटी से भाजपा विधायक सुखाराम नेतडिय़ा के समर्थकों ने मंगलवार को उनके पुत्र के बारे में छप रहे समाचारों से बौखला कर मेड़ता स्थित दैनिक भास्कर कार्यालय में तोडफ़ोड़ कर ब्यूरो चीफ पर जानलेवा हमला कर दिया। सोमवार को कोर्ट में हुए एक लड़की के बयान में विधायक पुत्र पर दुष्कर्म के आरोप संबंधी समाचार अखबारों में प्रकाशित हुए थे। मंगलवार को कुछ लोगों ने मेड़ता सिटी कार्यालय पर तोडफ़ोड़ की और भास्कर ब्यूरो चीफ से मारपीट कर कैमरा व दो हजार रुपए छीन लिए।

मीडिया में नंबरों की लडाई बनाम साड़युद्ध : (मृत्युलोक से औपमन्यव) :

वत्स, मीडिया में नंबरों की लडाई ने भी विधि-विधान का जनाजा निकाल रखा है। मारम-मार का दौर ऐसा चल रहा है कि कभी-कभी साडयुद्ध सा होता दिखाई देता है। कोई हुनर के बूते कागज झपट नंबर 1 बनता है तो कोई बढता अखबार। सही बात ये कि उनमें से ज्यादातर पाठक के सिर चढते ही दिखाई देते हैं। पाठक की जेब ढीली करने को सट्टा-लाटरी, रिश्वत, क्रिक्रेट की तरह फिक्सिंग की शिक्षा देने में कोई कसर नहीं छोड रहा।

शराबखोरी में फंसा बिहारी जी का धाम : (मृत्युलोक से औपमन्यव) :

मथुरा-वृंदावन : वत्स, बिहारी का धाम गैरकानूनी कार्यों के लिये खूब प्रसिद्ध हो चुका है। उसमें कथित पत्रकारों का बडा हाथ है। इसी तीर्थ में एक ऐजेंट कम पत्रकार हुआ करता था। उसकी बिगडैल औलाद की शराबखोरी, अय्यासी, तस्करी के कारनामे यूं बहुत पुराने हैं, हौसला इतना कि एक दिन वह कुख्यात कई हमसफरों को लेकर कोतवाली से चंद कदमों की दूरी और रंग जी, कात्यायनी मंदिर के सामने मैदान में जा पहुंचा। मोमबत्ती रोशन की और पैग-दर-पैर चढाता रहा।

मीडिया पर संकट और ठग साधु के कारनामे : (मृत्युलोक से औपमन्यव) :

मथुरा-वृंदावन : पत्रकार बिरादर इन दिनों संकट में है। इसका एक कारण भ्रष्टाचार है तो दूसरा जनता का उठ रहा विश्वास। इसकी नतीजा है कि जिस देश में मिशनरी पत्रकारों ने आजादी हासिल करने में सफलता प्राप्त की उसी में अब मनमाफिक इज्जत नसीब नहीं हो रही। चंद ईमानदार संग भाग्यशाली पत्रकारों को छोड दें तो अधिकांश उपेक्षा और परेशानी झेल रहे हैं। उनमें वह तबका भी शामिल है, जो मीडिया को ग्लेमर समझकर लाखों रूपये देकर थाने-चौकी जाने का अधिकार हासिल करता है।

सिटी केबल के इंप्लाइज की सेलरी रुकी, छंटनी की तैयारी, राजेश व धन इस्तीफा देकर हेथवे से जुड़े

इंदौर। सिटी केबल लिमिटेड के आला अफसरों ने सीनियर स्टाफ की सैलरी रोक दी है। कई लोगों को अगले महीने अपना इंतजाम करने का संकेत भी दे दिया है। पिछले तीन-चार दिनों में सिटी केबल के भोपाल यूनिट हेड राजेश सोनी और इंदौर टेक्निकल हेड धनसिंह ने इस्तीफा देकर हेथवे केबल एंड डाटा से नाता जोड़ लिया है। सूत्रों के मुताबिक सिटी केबल लिमिटेड के कर्ताधर्ताओं को सब्जबाग दिखाना सेंटर इंडिया हेड महिपालसिंह रावत को भारी पड़ रहा है। डीजी केबलनेट से हटाने एवं आपराधिक प्रकरण दर्ज होने के बाद महिपालसिंह रावत ने खुन्नस में इंदौर से सिटी केबल लिमिटेड की शुरुआत कराई।

अमर उजाला, गोरखपुर में उथल-पुथल, कई इधर-उधर हुए

अमर उजाला, गोरखपुर में जबर्दस्‍त उथल-पुथल मचा हुआ है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि यहां के माहौल से परेशान होकर चीफ रिपोर्टर अजय चतुर्वेदी और चीफ सब एडिटर राजीव सक्‍सेना ने पिछले दिनों अपना तबादला गोरखपुर से अन्‍यत्र कर दिए जाने की गुहार प्रबंधन से लगाई थी. बताया जा रहा है कि इन दोनों लोगों को नोएडा तलब करने के बाद कारण पूछा गया तथा समझाया-बुझाया गया. इन लोगों को कुछ दिन रुकने को कहा गया है.

उत्तराखंड सरकार मरने वालों की संख्या कम बताने पर क्यों तुली हुई है?

प्रदेश में आई त्रादसी में अभी भी सरकारी आंकड़े मरने वालों की संख्या को छुपाने की कोशिश में लगे हुए हैं। सरकार द्वारा जो आंकड़े जारी किए जा रहे हैं वे विश्वास से परे हैं। केदार घाटी में रहने वाले और जो बचे तीर्थ यात्री हैं, ने जो हालात बताए हैं, वे बेहद भयावाह हैं।

दस दिनों में आई-नेक्स्ट, लखनऊ से पांच लोगों ने इस्तीफा दिया

इस वक्त पूरा जागरण ग्रुप परेशान है। जागरण को नभाटा ने डैमेज कर रखा है तो आईनेक्स्ट को अमरउजाला ने। आईनेक्स्ट का डाउन फाल थमने का नाम नहीं ले रहा। पिछले दस दिनों में आईनेक्स्ट लखनऊ से पांच लोगों ने इस्तीफा दे दिया। इन पांच में से तीन लोगों को अमर उजाला ने अपने पाले में कर लिया है। लखनऊ में आईनेक्स्ट को न्यूज एडिटर ढूंढे नहीं मिल रहे और इम्पलाई एक के बाद एक आईनेक्स्ट का साथ छोड़ रहे हैं।

दहशत समाजवादी शब्‍द और झंडे बैनर की!

वाक्या कुछ पुराना है, लेकिन जब चुनावी समर आता है तो लोगों और नेताओं की जुबान इसे समय-बेसमय ताजा कर देती है। 2007 के विधान सभा चुनाव में बसपा ने सपा को जबर्दस्त पटकनी दी थी। उस समय बसपा के एक नारे ने काफी धूम मचाई थी और वह नारा था, ‘जिस गाड़ी में सपा का झंडा होगा, उसमें बैठा गुंडा होगा।‘ यह नारा लोगों की जुबान पर ऐसा चढ़ा कि वर्षों बाद भी कोई इसे भुला नहीं पाया।

खुद को परेशान और बेसहारा बता रहा आदमी डीएम के सामने हुआ नंगा

डिण्डौरी। कलेक्टर कार्यालय भवन में जनसुनवाई चल रही थी। अंदर कक्ष में उपस्थित अधिकारी आवेदकों की समस्याओं को सुन रहे थे और बाहर फरियादियों का जमावड़ा लगा हुआ था तभी अचानक वहां एक शख्स नग्न अवस्था में पहुंचा तो माहौल में सन्नाटा छा गया। जवान और स्वस्थ व्यक्ति को नग्न अवस्था में देखकर लोग अचंभित रह गये।

भिवानी में रोजगार समाचार पत्र ‘नौकरी दर्पण’ का लोकार्पण

भिवानी। रविवार को भिवानी में कॅरियर और रोजगार के साप्ताहिक समाचार पत्र नौकरी दर्पण का लोकार्पण समारोह के मुख्य अतिथि स्थानीय विधायक घनश्याम सर्राफ ने किया। इस मौके पर श्री सर्राफ ने कहा कि यह पहला समाचार पत्र है जिसमें प्रदेश के युवाओं को रोजगार और कॅरियर से संबधित संपूर्ण जानकारी मिलेगी। ऐसे समाचार पत्र की काफी समय से जरूरत थी। अब युवाओं को नौकरी और कॅरिअर से संबंधित जानकारी के लिए भटकना नहीं पड़ेगा।

चित्रकूट में मुख्यमंत्री अखिलेश दे गये फर्जी योजना का लालीपाप

चित्रकूट : मुख्यमंत्री अखिलेश यादव लैपटॉप वितरण के बाद जिले में उन योजनाओ को भी हवा के झोंके में लोकार्पण करके चले गए जिनका लोकार्पण विरोधी पार्टी की मुखिया व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अपने कार्यकाल में दिनांक १२ नवम्बर २ ० १ १ को किया था।

गठबंधन में बंधन खुलने पर हंगामा क्यूँ?

१७ वर्षों तक साथ रहे नीतीश और शरद यादव की जेडीयू का एनडीए के गठबंधन से बंधनमुक्त होने पर इतना हंगामा क्यों? बिहार में नीतीश कुमार के नेतृत्व में अभी तक चल रही एनडीए की सरकार के भंग होने व भाजपा के सरकार से बाहर होने की घटना चिरप्रतीक्षित थी. यह कोई ऐसी घटना नहीं है जिस पर देशवासी अचंभित रह गए हों. २०१४ के लोकसभा के चुनावों से पूर्व या तत्काल बाद, एनडीए और यूपीए गठबंधन से कई दलों के बाहर निकलने व नए दलों के सम्मिलित होने की सम्भावना तो हम पहले भी जता चुके हैं.

अभय ओझा बने न्‍यूज नेशन के नेशनल सेल्‍स हेड

न्यूज नेशन चैनल से खबर है कि यहां अभय ओझा ने सेल्स एंड मार्केटिंग टीम के नेशनल हेड के रूप में ज्‍वाइन किया है. न्यूज नेशन ज्वाइन करने से पहले ओझा रिलायंस ब्रॉडकॉस्ट नेटवर्क लिमिटेड के साथ नेशनल सेल्स हेड के रूप में जुड़े हुए थे. न्‍यूज नेशन के लिए ओझा सेल्‍स और रिवेन्‍यू जनरेट करने की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. 

दैनिक जागरण से इस्‍तीफा देकर विजय एवं अतुल ने शुरू की नई पारी

दैनिक जागरण, लुधियाना से खबर है कि विजय मौर्या ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे. विजय ने अपनी नई पारी लुधियाना में ही दैनिक भास्‍कर के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां पर चीफ सब एडिटर बनाया गया है. वे इसके पहले भी कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

आई नेक्‍स्‍ट से जुड़े गुलशन द्विवेदी एवं श्‍याम सिंह

आई नेक्‍स्‍ट, लखनऊ से खबर है कि कर्मचारियों के इस्‍तीफे से जूझ रहे प्रबंधन को थोड़ी राहत मिली है. यहां जनसंदेश टाइम्‍स और कैनविज टाइम्‍स से इस्‍तीफा देकर दो लोगों ने अपनी नई पारी शुरू की है. जनसंदेश टाइम्‍स में डेस्‍क पर कार्यरत गुलशन द्विवेदी ने अपनी नई पारी आई नेक्‍स्‍ट के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां डेस्‍क पर लाया गया है. ये जनसंदेश टाइम्‍स के अलावा भी कुछ संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

महाराष्‍ट्र में लोकमत के पत्रकार पर हुआ जानलेवा हमला

पिछले छह महीनों में महाराष्‍ट्र में पत्रकारों पर हमला लगातार बढ़ता जा रहा है. उत्‍तरी महाराष्ट्र के जलगांव से प्रकाशित होन वाले दैनिक लोकमत के जलगांव शहर प्रतिनिधि सुधाकर जाधव पर बुधवार की दोपहर जलगांव महापालिका के कुछ कर्मचारियों ने हमला कर दिया. इस हमले में जाधव गंभीर रूप से घायल हुए हैं. उनका इलाज चल रहा है. 

फर्जी फंसाए गए पत्रकार शकील हाशमी को मिली जमानत

झांसी में पुलिसिया साजिश के शिकार हुए आईबीएन7 से जुड़े शकील हाशमी को जमानत मिल गई है. जज ने शकील के अधिकवक्‍ता की दलील सुनने के बाद उन्‍हें जमानत दे दी. जबकि इसी मामले में उनके साथ गिरफ्तार किए गए दोनों अन्‍य पत्रकारों को कोर्ट ने जमानत नहीं दी. शकील 18 दिन बाद जेल से बाहर आए हैं. उल्‍लेखनीय है कि झांसी में आजतक के पत्रकार अमित श्रीवास्तव को फर्जी मामले में फंसाए जाने का विरोध कर रहे शकील को पुलिस साजिश के तहत अरेस्‍ट कर लिया था.

एबीपी न्‍यूज ने इंडिया टीवी को तीसरे नम्‍बर पर ढकेला

24वें सप्‍ताह की टीआरपी आ गई है. आजतक नम्‍बर एक पर कायम है. जबकि पिछले सप्‍ताह एबीपी न्‍यूज के साथ संयुक्‍त रूप से दूसरे स्‍थान पर रहा इंडिया टीवी फिसलकर तीसरे नम्‍बर पर पहुंच गया है. साथ ही एबीपी और इंडिया टीवी के बीच लगभग तीन अंकों का फासला हो गया है. पिछले सप्‍ताह जोरदार बढ़त के साथ पांचवें स्‍थान पर पहुंचा डीडी न्‍यूज फिर गिरकर वापस अपनी जगह पर पहुंच गया है.

पुराने लोगों को क्‍यों दरकिनार किया जा रहा है अमर उजाला, लखनऊ में?

‘अमर उजाला’ लखनऊ में बीते तीन वर्षों से बेइज्जती व उत्पीड़न का दंश झेल रहे लोगों ने अपने अलग रास्ते चुनने शुरू कर दिये हैं। सम्पादक डा. इन्दू शेखर पंचोली ने संस्थान के निष्ठावान व पुराने लोगों को या तो बाहर का रास्ता दिखाया या उन्हें किनारे कर दिया और नये लोगों को उनसे डेढ़ गुना वेतन पर लाकर उन्हें स्थापित करने का हर संभव प्रयास किया, लेकिन जिन लोगों पर उन्होंने ऐतबार जताया उन्होंने भी मौके का फायदा उठाने के बाद उन्हें ठेंगा दिखाया और दूसरी जगहों पर मौका मिलते ही चले गये।

न्यूज़ चैनलों में सुरक्षित क्यों नहीं है नौकरी?

हाल ही में नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट के 17वें अधिवेशन में शामिल होने का न्यौता मिला…देशभर से आए बुद्धिजीवी पत्रकारों से रूबरू होने का मौका मिला.. मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति श्री हामिद अंसारी के भाषण से प्रभावित हुआ.. उन्होंने एक ऐसी मीडिया काउंसिल बनाने की बात कही जिसमें इलेक्ट्रानिक मीडिया भी शामिल हो… इसके अलावा एक औऱ महत्वपूर्ण बात कही कि ग़ैर मीडिया घरानों के प्रवेश से मीडिया की कार्यशैली बुरी तरह से प्रभावित हुई है.

टीआरपी के चक्‍कर में गुमराह कर रहे हैं कई टीवी चैनल!

कई दिन से देख रहा हूं उत्तराखंड में कुदरत का कहर, दहशत में देवभूमि, दर्द में देवभूमि, आफत में उत्तराखंड ऐसे ही जाने कितने नाम देकर न्यूज चैनल वाले अपने अपने तरीके से प्रोग्राम प्रसारित कर रहे हैं। अलग अलग तरीके से स्टोरी बनाई जा रही है। कोई कुदरत की विनाशलीला का जिक्र कर रहा है, तो कोई चला रहा है अनाथ हो गए केदारनाथ। न्यूज चैनल वाले ऐसे ऐसे शब्द ढूंढकर ला रहे हैं, जिसे देखकर ही एक पल के लिए दर्शक टीवी पर चिपककर रह जाए।

देखिए! हरदोई में हिन्दुस्तान की चमचागिरी

सेवा में, संपादक महोदय, भड़ास4मीडिया। निवेदन के साथ कहना है कि आपका यह मीडिया पोर्टल खबर नवीसों की खबर छापता है, इसीलिए आपको दिल में चुभ रही एक खबर के बारे में बता रहा हूं। हरदोई में पत्रकारिता किस तरह राजनैतिक घराने के तलवे चाट रही है। उसका ताजा तरीन यह मामूली सा उदाहरण है। उत्तर प्रदेश शासन के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राज्यमन्त्री नितिन अग्रवाल के पुत्र पैदा हुआ तो हरदोई में हिन्दुस्तान अखबार को खबर मिल गई।

क्या किसी पत्रकार ने यह औसत निकाला?

Anand Pradhan : कांग्रेस पार्टी में फेरबदल के बाद न्यूज मीडिया में हर जगह यह खबर छपी/दिखाई गई कि पार्टी पदाधिकारियों की औसत उम्र घटकर ५२ साल हो गई है. इसे राहुल गाँधी का प्रभाव बताया गया. क्या कोई बताएगा कि इससे पहले औसत उम्र क्या थी? दूसरे, यह कैसे पता कि औसत उम्र ५२ साल है? क्या किसी पत्रकार ने यह औसत निकाला?

जयपुर के अश्‍लील क्लिपिंग कांड में कई पत्रकारों के नाम?

जयपुर के जवाहर सर्किल स्थित एक होटल रॉयल गेस्ट हाउस में पिछले दिनों पकड़े गए अश्‍लील क्लिपिंग कांड में राजधानी से निकलने वाले प्रमुख अखबारों के कुछ क्राइम रिपोर्टरों का नाम भी सामने आ रहा है। इस बात को लेकर पत्रकारों में जहां चर्चाओं का बाजार गर्म है वहीं इस खबर के फॉओअप को जानबूझकर उपेक्षित किया जा रहा है।

उर्दू दैनिक पासबां के संपादक उबेदुल्‍लाह बने अजमेर शरीफ दरगाह के अध्‍यक्ष

बेंगलुरु से प्रकाशित उर्दू दैनिक पासबां के मुख्य संपादक मोहम्मद उबेदुल्लाह शरीफ अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा गरीब नवाज चिश्‍ती की दरगाह कमेटी के सदर यानि अध्यक्ष चुने गए हैं। यह पहली बार है कि इस पद पर किसी पत्रकार को मौका मिला है। केंद्र सरकार ने दरगाह मैनेजमेंट के लिए एक कमेटी गठित की हुई है, जिसमें आठ सदस्य सरकार ही नियुक्त करती है। ये आठों सदस्य अपने में से एक अध्यक्ष और उपाध्यक्ष का चुनाव करते हैं।