IPS Ajay Pal Sharma का ये वीडियो भड़ास के यूट्यूब चैनल पर बना नंबर वन, 32 लाख बार देखा गया

Yashwant Singh : जैसे आदमी को कुछ पता नहीं होता कि उसकी तकदीर, भाग्य, नियति में क्या लिखा-छिपा है… वैसे ही यूट्यूब पर चैनल चलाने वालों को पता नहीं होता कि व्यूवर किस वीडियो को सिर माथे पर लेकर उसे सरताज बना देगा और किन अच्छे खासे वीडियोज को ठुकरा कर किनारे लगा देगा…भड़ास के यूट्यूब चैनल पर एक बड़ा उलटफेर हुआ है. Continue reading

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

भड़ास4मीडिया की खबरें अब यूट्यूब पर भी मिलेंगी, करें चैनल को सब्सक्राइब

अगले कुछ दिनों में भड़ास4मीडिया की खबरें वीडियो फार्मेट में यूट्यूब पर भी मिला करेंगी. इसके पीछे तीन कारण हैं. अगर कोई बड़ी खबर है और उसे तुरंत शेयर करना है तो यूट्यूब के जरिए लाइव उसे ब्राडकास्ट कर दिया जाए. बाद में इत्मीनान से उसे भड़ास4मीडिया पर लिखा-पढ़ा जाए. दूसरा कारण है यूट्यूब के जरिए लाइव ब्राडकास्ट के एक बेहतरीन विकल्प का इस्तेमाल बढ़ाना ताकि इस माध्यम से उन खबरों को सामने लाया जाए जिसे आम तौर पर टीवी / चैनल वाले इग्नोर करते हैं.

तीसरा कारण है यूट्यूब एक मानेटाइज्ड प्लेटफार्म है जिसकी तकनीकी से लेकर सर्वर तक का सारा खर्च खुद यूट्यूब यानि गूगल वाले वहन करते हैं, सो इसमें निवेश लगभग शून्य है और चैनल के वीडियोज हिट होने पर बतौर पार्टनर भड़ास4मीडिया यहां से रेवेन्यूज जनरेट कर सकता है.

अगर आप यूट्यूब पर भड़ास4मीडिया के चैनल को सब्सक्राइव कर लेंगे तो लाइव ब्राडकास्ट होते ही या नया वीडियो अपलोड होते ही आपके पास नोटिफिकेशन आ जाएगा जिसके बाद आप तुरंत लाइव या ताजा अपलोड वीडियोज को वॉच कर सकेंगे. नीचे भड़ास4मीडिया के यूट्यूब चैनल का स्क्रीनशाट है. इस पर क्लिक करते ही आप यूट्यूब पर भड़ास4मीडिया के पेज पर पहुंच जाएंगे जहां टॉप में दाएं तरफ लाल रंग से चौकोर घेरे में सफेद रंग से लिखा SUBSCRIBE दिखेगा.

इस पर क्लिक करते ही आप चैनल सब्सक्राइव कर लेंगे. इसका प्रमाण होगा अब तक लाल दिख रहे सब्सक्राइव बटन का ग्रे रंग में तब्दील हो जाना. साथ ही इसके ठीक बगल में एक घंटा जैसा आइकन दिखेगा. इस घंटा पर भी क्लिक करना है यानि घंटा बजा देना है. इस पर क्लिक करने से आपको भड़ास के चैनल की गतिविधि का नोटिफिकेशन मिलने लगेगा.

 

 

उपर क्रम से चारों अवस्थाओं के स्क्रीनशाट हैं. सबसे पहले भड़ास4मीडिया के यूट्यूब चैनल का नार्मल टॉप लोगो है जहां दाहिने तरफ लाल रंग के चौकोर घेरे में सफेद रंग से SUBSCRIBE लिखा है. अगले स्क्रीनशाट में SUBSCRIBE को काले घेरे में इसलिए दिखाया गया है ताकि आप जान सकें कि आपको कहां क्लिक करके सब्सक्राइब करना है. सब्सक्राइब करते ही SUBSCRIBE का रंग लाल से ग्रे हो जाएगा. साथ ही इसके बगल में एक घंटा दिखने लगेगा. देखें तीसरे नंबर का स्क्रीनशाट. उपर आखिरी यानि चौथे स्क्रीनशाट में गोल घेरे में घंटे को दिखाया गया है जिस पर आपको क्लिक करना है.

ध्यान रखें, ये एक जरूरी काम है, जिसके जरिए आप अपने स्मार्टफोन से भड़ास के यूट्यूब चैनल से कनेक्ट रहेंगे और यूट्यूब पर भड़ास4मीडिया की हर एक गतिविधि से वाकिफ रहेंगे. संभव है, यूट्यूब पर भड़ास4मीडिया के चैनल से खबरों के प्रसारण का पहला प्रयोग आज या कल में शुरू कर दिया जाए.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

अलीगढ के लड़के को मिला Youtube से सिल्वर प्ले बटन

सर मेरा नाम बबलू राघव है. मैं एक यूट्यूबर हूँ. जाहरवीर नगर बरौला बाई पास का रहने वाला हूँ. यूट्यूब पे मेरा चैनल है जिसका नाम है ‘टेक्निकल राघव’. इस चैनल के 2 लाख 92 हजार सब्सक्राइबर हैं. करीब 2 करोड़ व्यू हैं. यूट्यूब पर मेरे चैनल के एक लाख से ज्यादा सब्सक्राइबर होने के उपलक्ष्य में यूट्यूब ने मुझे सिल्वर प्ले बटन अवार्ड से नवाजा है. यूट्यूब की शुरुआत मैंने आज से एक साल पहले की थी.

तब यूट्यूब से रूपये कमाने की बात का लोग मजाक उड़ाते थे. अब लोग मुझसे सीखने आते हैं. मेरी हर महीने की इनकम यूट्यूब से 30 से 40 हजार है। मैं अलीगढ में इस स्मार्ट वर्क के बारे में बहुत लोगों को सिखाता हूं. अब मैं एप्प बनाना भी सीख गया हूँ और उससे अच्छी इनकम कर रहा हूं. मैं अब अलीगढ में लोगो को ये सिखाना चाहते हैं की वो अपने मोबाइल से हर महीने बहुत अच्छी इनकम कर सकते हैं.

बबलू राघव
8279631185
technicalraghav11@gmail.com


ये वीडियो देखें :

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

यशवंत ने निदा फ़ाज़ली को कुछ इस तरह दी श्रद्धांजलि (देखें वीडियो)

Yashwant Singh : निदा फ़ाज़ली साहब के न रहने पर उनकी वो नज़्म याद आती है जिसे उन्होंने अपने पिता के गुजर जाने पर लिखा था… ”तुम्हारी कब्र पर मैं, फ़ातेहा पढ़ने नहीं आया, मुझे मालूम था, तुम मर नहीं सकते.” इस नज़्म को आज पढ़ते हुए खुद को मोबाइल से रिकार्ड किया. इसी नज़्म की ये दो लाइनें:

तुम्हारी मौत की सच्ची खबर, जिसने उड़ाई थी, वो झूठा था,
वो तुम कब थे? कोई सूखा हुआ पत्ता, हवा मे गिर के टूटा था।

पूरी नज़्म यूट्यूब पर डाल दिया. अच्छा तो नहीं पढ़ पाया लेकिन बस दिल कर रहा था कि इसे पढ़ूं और निदा साहब को श्रद्धांजलि दूं.

असल में निदा साहब नहीं गए हैं. हमारे और आपके भीतर से क्रिएटिविटी का थोड़ा थोड़ा हिस्सा खत्म हो गया है. एक आदमी इतना अच्छा इतना सारा लिख सकता है, यकीन नहीं होता. कमाल की संवेदना और समझ वाले शख्स थे निदा साहब.

यकीन नहीं होता, बस गर्व होता है कि हम सब उस दौर में थे जब निदा साहब सशरीर मौजूद थे. मैं उनसे भले न मिला और न उन्हें देखा हो पर लगता है जैसे बेहद करीबी थे हम. संवेदना और समझ की उदात्तता हो तो जुड़ाव, प्रेम, अपनापा जैसी चीजें निजी मुलाकातों का मोहताज नहीं होतीं.

इसी सोच और भाव से लबरेज होकर मैंने निदा साहब की रचना का आज दोपहर पाठ किया. रिकार्ड किया. और, यूट्यूब पर डाला. आप भी सुनिए.

लिंक ये है:

https://goo.gl/URuIP5

भड़ास के एडिटर यशवंत सिंह के फेसबुक वॉल से.


इसे भी पढ़ सुन सकते हैं:

वीरेन दा की कविता ‘इतने भले न बन जाना साथी’ का यशवंत ने किया पाठ, देखिए वीडियो

xxx

तीसरे रीटेक में निदा फ़ाज़ली बिफर गए और कुर्सी से उठते हुए चिड़चिड़ाकर बोले- मैं नहीं करता…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

यूट्यूब की तरह फेसबुक भी वीडियो अपलोड करने वालों को देगा कमाई करने का मौका

जैसे यूट्यूब पर लोग वीडियो अपलोड करके पैसे कमाते हुए, उसी तरह फेसबुक पर भी ओरिजनल वीडियो अपलोड करने वाले कमाई कर सकते हैं. फेसबुक एक नया फीचर जोड़ने जा रहा है. इसके तहत अगर आप अपनी टाइमलाइन या फेसबुक पेज पर कोई वीडियो अपलोड करते हैं तो फेसबुक उस पर एड चलाएगा और इससे होने वाली आमदनी को आपके साथ शेयर भी करेगा. वीडियो ओरिजनल होना चाहिए और उस पर किसी का कॉपीराइट नहीं होना चाहिए.

फेसबुक का नया फीचर ‘सजेस्टेड वीडियो’ फिलहाल आईफोन पर टेस्ट किया जा रहा है. इसका फायदा कंटेट क्रिएटर और मीडिया हाउस को भी होगा. इसका रेवन्यू मॉडल वैसा ही है जैसा कि यूट्यूब का है. फेसबुक के अनुसार 10 सेकेंड्स या उससे ज्यादा समय तक एड देखने पर ही विज्ञापन देने वाले से चार्ज किया जाएगा. यानी कि किसी वीडियो एड पर रेवन्यू तभी जनरेट होगा जब कोई सर्फर उस एड को कम से कम 10 सेकेंड्स तक देखेगा.

इस फीचर के लाइव होने के बाद आपको अपनी न्‍यूज फीड पर सजेस्‍टेड वीडियो फीड दिखाई देगी. आप जिस वीडियो को क्लिक करेंगे फेसबुक उससे संबंधित दूसरे वीडियोज़ भी आपको सजेस्‍ट करेगा. यही नहीं फेसबुक अपनी न्यूज फीड एल्‍गोरिदम में बदलाव कर रहा है. इससे सर्फर अपनी फीड में वीडियो देख सकेगा और उसे अपने अनुसार फीड में सहेज भी सकेगा. फेसबुक अपने वीडियो एड से हासिल रेवन्यू का 55 फीसदी इसके कंटेट क्रिएटर के साथ शेयर करेगा.

सबसे पहले यूट्यूब ने वीडियो पर एड देने शुरू किए थे. वीडियो अपलोड करने के मामले में यूट्यूब इस वक्‍त दुनिया की नंबर वन सोशल मीडिया साइट है. फेसबुक के इस कदम से अब उसे कड़ी टक्‍कर मिल सकती है. अभी फेसबुक को सबसे ज्‍यादा रेवन्यू मोबाइल से मिल रहा है और इसमें और तेजी आने की संभावना है. इस साल फेसबुक को पूरी दुनिया से होने वाली आमदनी में से 73 फीसदी यानी 70 हजार करोड़ रुपये (10.90 बिलियन डॉलर) सिर्फ मोबाइल एड के जरिए हासिल होंगे. मोबाइल पर फेसबुक एप्लीकेशन किसी दूसरे एप्प की तुलना में काफी सफल है. भारत में फेसबुक का इस्‍तेमाल करने वालों की संख्या 12 करोड़ से ज्यादा है.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

इंडिया टुडे वालों के फर्जी सर्वे की खुली पोल, केजरीवाल ने पूछा- क्या यही है पत्रकारिता?

इंडिया टुडे समूह के फर्जी सर्वे और घटिया पत्रकारिता से अरविंद केजरीवाल नाराज हैं. अरविंद केजरीवाल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्टवीट करके लोगों से पूछा है कि क्या इसे ही पत्रकारिता कहते हैं? साथ ही केजरीवाल ने एक वीडियो लिंक दिया है जिसमें इंडिया टुडे के फर्जी सर्वे की असलियत बताई गई है. अरविंद केजरीवाल के पेज पर शेयर किए गए लिंक से यू-ट्यूब पेज पर जाने पर एक वीडियो मिलता है. इस वीडियो में दिखाया गया है ‌कि देश का नामी इंडिया टुडे ग्रुप द्वारा न्यूजफिल्क्स डाट काम नामक एक वेबसाइट के जरिए एक सर्वे कराया रहा है जिसमें लोगों से पूछा गया है कि वह केजरीवाल को कितना नापसंद करते हैं और ये कि क्या आप केजरीवाल को दोबारा मौका देंगे?

चौंकाने वाली बात ये है जैसे ही इस सर्वे में आप भाग लेते हैं आपसे एक एक कर सात सवाल पूछे जाते हैं लेकिन कोई भी सवाल केजरीवाल से जुड़ा हुआ नहीं होता. लेकिन जब रिजल्ट बताया जाता है तो कहा जाता है कि आपने केजरीवाल को नापसंद कर दिया है. सवालों का जवाब देते हुए जब आप आगे बढ़ते हैं तो आपको शाहरूख खान की पसंदीदा फिल्म से लेकर आपके फेवरेट स्वतंत्रता सेनानी के बारे में पूछा जाता है. अंत में सर्वे आपको बताता है कि आप केजरीवाल को पसंद नहीं करते हैं.

शेयर किए गए वीडियो में दिखाया गया है कि देश का नामी मीडिया ग्रुप इंडिया टुडे फर्जी सर्वे कराकर अरविंद केजरीवाल को नापसंद करने वालों की संख्या के बारे में बता रहा है. साथ ही इस वीडियो के अंत में बताया गया है कि कैसे केजरीवाल पर भरोसा करने पर दिल्ली की जनता को निराशा हाथ लगी. इस वीडियो में बताया गया है कि सर्वे में शामिल होने वाले से कुल सात सवाल पूछे जाते हैं लेकिन उनमें से कोई भी सवाल न तो केजरीवाल से संबंधित हैं और न ही उनका कोई संबंध देश या दिल्ली की राजनीतिक व्यवस्‍था से है.

अरविंद केजरीवाल का ट्वीट और सर्वे के डिटेल के बारे में वीडियो लिंक यूं है….

Arvind Kejriwal       

✔ @ArvindKejriwal

Is this journalism? I am shocked:

https://www.youtube.com/watch?v=trx4YevdcpE

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें: