मातृश्री पुरस्कार या दलालश्री एवार्ड! : साधना के मालिक गौरव गुप्ता और पंजाब केसरी के मालिक आदित्य नारायण चोपड़ा को किस काम के लिए पुरस्कार?

मातृश्री पुरस्कार या दलालश्री एवार्ड? यह सवाल अब उठेगा. साधना टीवी और पंजाब केसरी अखबार के मालिकों के बेटों को किस बात के लिए किस काम के लिए पुरस्कार देने की घोषणा की गई है? गौरव गुप्ता और आदित्य नारायण चोपड़ा ने आखिर पत्रकारिता क्षेत्र में क्या इतना बड़ा योगदान कर दिया है कि इन्हें भरी जवानी में पुरस्कृत किया जा रहा है? कहने का आशय ये कि जिन्हें अपने खानदान के मीडिया बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए आए हुए जुम्मा जुम्मा दो ही दिन हुए हों, उन्हें एवार्ड देने की जल्दी क्यों?  

अरुण पुरी को ‘एडिटर ऑफ द ईयर’ अवॉर्ड, पुण्य प्रसून बाजपेयी को बेस्ट न्यूज एंकर का सम्मान

आईएए (लीडरशिप अवॉर्ड्स फॉर एक्सीलेंस) ने इंडिया टुडे ग्रुप के चेयरमैन और एडिटर इन चीफ अरुण पुरी को ‘एडिटर ऑफ द ईयर अवॉर्ड’ घोषित किया है। आज तक के ही एंकर पुण्य प्रसून वाजपेयी को बेस्ट न्यूज एंकर का अवॉर्ड मिला है.

डा. शशिभूषण को लाइफ टाइम मीडिया अचीवमैंट अवार्ड

शिमला (हिमाचल प्रदेश) : बेहतर मीडिया तालमेल के लिए ईटीवी के हिमाचल के सम्पादक डॉ.शशिभूषण को लाइफ टाइम मीडिया अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित किया गया है। उन्हें गत दिनो नई दिल्ली में मीडिया फैडरेशन ऑफ इंडिया ने अपने नौवें मीडिया एक्सीलैंस अवार्ड समारोह में सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के निदेशक डा. एमपी सूद के हाथों यह सम्मान प्रदान किया।

इंदौर प्रेस क्लब के स्थापना दिवस पर पत्रकारों का सम्मान

इंदौर। अस्सी का दशक प्रिंट मीडिया और नब्बे का दशक इलेक्ट्रानिक मीडिया के लिए स्वर्णिम काल रहा। अब पत्रकारिता अंधी सुरंग से गुजर रही है, लेकिन उम्मीद की किरण अभी भी बाकी हैं। यह उदगार राज्यसभा टेलीविजन के संपादक और वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल ने व्यक्त किए। श्री बादल इंदौर प्रेस क्लब के 54वें स्थापना दिवस समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि एक समय में इंदौर पत्रकारिता का गढ़ रहा। इंदौर से राहुल बारपुते, प्रभाष जोशी और राजेंद्र माथुर जैसे मूर्धन्य संपादकों ने पत्रकारिता की एक ऐसी पीढ़ी तैयार की जिसने देशभर में इंदौर घराने का नाम रोशन किया।

लखनऊ के डा. सुरेश को मुंबई में चौथा अनुष्का सम्मान देकर सम्मानित किया गया

मुंबई : ”जिस देश में हर बच्चे का मां से लोरी सुनना शाश्वत सत्य है, वहां कविता कितनी भी प्रगतिशील हो जाय, गीत को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता. छंद का पताका फहरानेवाली अनुष्का जैसी पत्रिकायें अपने आपमें एक आंदोलन हैं जिनमें भाग लेकर हमें अपना कर्तव्य निभाना चाहिये.” उक्त बातें नवनीत के संपादक विश्वनाथ सचदेव ने हिन्दी के वरिष्ठ गीतकार डॉ.सुरेश (लखनऊ) को चौथा अनुष्का सम्मान प्रदान करते हुये कही.

हम नसीब वाले हैं कि रजत शर्मा जैसा महान साहित्यकार और शिक्षाविद हमारे समय में पैदा हुआ!

Abhishek Srivastava :  मैं रजत शर्मा को ‘शिक्षा और साहित्‍य’ के लिए मिले पद्म पुरस्‍कार का तहे दिल से स्‍वागत करता हूं। प्रधानजी से मेरा अनुरोध है कि अगले पद्म पुरस्‍कारों में सामाजिक परिवर्तन के लिए ज़ी न्‍यूज़ के सुधीर चौधरी, साहित्‍य के लिए डॉ. नरेश त्रेहान, चिकित्‍सा के लिए कुमार विश्‍वास, अमन-चैन के लिए श्री प्रवीण तोगडि़या, विज्ञान के लिए साक्षी महाराज आौर पत्रकारिता के लिए सुश्री स्‍मृति ईरानी के नामों पर विचार किया जाए। इसके अलावा हिंदी भाषा में साहित्‍य अकादमी का पुरस्‍कार चेतन भगत और अमीश त्रिपाठी को संयुक्‍त रूप से दिया जाए तथा अंग्रेज़ी में साहित्‍य अकादमी का पुरस्‍कार श्री सुधीश पचौरी को दिया जाए। अगर संभव हो तो मैग्‍सेसे पुरस्‍कार के लिए भारत की ओर से राष्‍ट्रीय गोरक्षा समिति को नामित किया जाए तथा शांति के नोबेल पुरस्‍कार के लिए भारत सरकार की ओर से श्री अजित डोभाल का नाम प्रस्‍तावित किया जाए। दरअसल, मेरी हार्दिक इच्‍छा है कि दुनिया के तमाम पुरस्‍कारों पर से तमाम लोगों का भरोसा धीरे-धीरे उठ जाए।

‘उमेश डोभाल पत्रकारिता पुरस्कार’ चयन का नहीं रहा कोई मापदंड!

उत्तराखंड में हर वर्ष 25 मार्च को प्रिंट और इलैक्ट्रॉनिक मीडिया के एक-एक युवा पत्रकार को उमेश डोभाल पत्रकारिता पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है लेकिन पिछले कुछ वर्षों में ऐसे पत्रकारों को पुरस्कार से नवाजा जा रहा है, जिनका उत्तराखंड की पत्रकारिता में कोई खास योगदान ही नहीं है। हैरानी इस बात है कि कई पत्रकारों को मात्र दो या फिर तीन साल की पत्रकारिता करने पर ये पुरस्कार दिया जा चुका है, जबकि आयोजक इसे राज्य का सबसे बड़ा पुरस्कार करार देते हैं। प्रिंट के मुकाबले इलैक्ट्रानिक में ज्यादा बुरी स्थिति है। इलैक्ट्रानिक मीडिया में साल 2009 से ये पुरस्कार देने की परम्परा शुरू हुई थी।

विभिन्न पुरस्कारों के लिए पत्रकार महेश चांडक, मनीष, किशन, लक्ष्मीनारायण, संजय, सुधीर, प्रेमशंकर, दिनेश का चयन

छिन्दवाड़ा : राज्य शासन द्वारा गठित जूरी ने राज्य स्तरीय एवं आंचलिक ग्रामीण पत्रकारिता पुरस्कारों के लिये पत्रकारों का चयन कर लिया है। इन पुरस्कारों का चयन वर्ष 2008 से वर्ष 2014 तक के लिये किया गया है। राज्य स्तरीय पुरस्कार के रूप में प्रत्येक को एक लाख रुपये एवं आंचलिक पत्रकारिता पुरस्कार में 51 हजार रुपये और स्मृति चिन्ह भेट किया जायेगा। चयनित पत्रकारों को राज्य स्तरीय समारोह में पुरस्कृत किया जायेगा।

13 गुजराती पत्रकारों को मोदी ने किया पुरस्कृत, शेखर गुप्ता व रजत शर्मा को राष्ट्रीय पुरस्कार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को 13 गुजराती पत्रकारों को बतुकभाई दीक्षित पुरस्कार से सम्मानित किया। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को 13 गुजराती पत्रकारों को सूरत शहर पत्रकार कल्याण निधि का सालाना बतुकभाई दीक्षित पुरस्कार प्रदान किया। इस पुरस्कार जीतने वाले सभी विजेताओं को मोदी ने बधाई दी। इस मौके पर सी.आर.पाटिल सहित कुछ संसद सदस्य भी उपस्थित थे।

जेटली देंगे फोटोग्राफी पुरस्कार

नयी दिल्ली : सूचना एवं प्रसारण मंत्री अरुण जेटली प्रख्यात फोटोग्राफरों को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उनके उल्लेखनीय योगदान के लिये राष्ट्रीय फोटोग्राफी पुरस्कार से सम्मानित करेंगे। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने आज एक विज्ञप्ति में बताया कि चौथा राष्ट्रीय फोटोग्राफी पुरस्कार तीन श्रेणियों में दिया जायेगा। ‘बेस्ट फोटोग्राफर आफ द ईयर’, पेशेवर एवं …

आंचलिक पत्रकारिता पुरस्कार के लिए गोविन्द बड़ोने का चयन

राजगढ़ (म.प्र.) : राज्य शासन द्वारा गठित जूरी द्वारा आंचलिक ग्रामीण पत्रकारिता पुरस्कार के लिए जिला प्रेस क्लब के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार गोविन्द बड़ोने का चयन किया गया है. पुरस्कार का चयन वर्ष 2009 के लिए किया गया है. आंचलिक पत्रकारिता पुरस्कार में 51 हजार रुपए और स्मृति-चिन्ह भेंट किया जायगा. चयनित पत्रकार गोविन्द बड़ोने को राज्य–स्तरीय समारोह में पुरस्कृत किया जायगा.

‘अमर उजाला’ के आशुतोष मिश्र और टीम को केसी कुलिश अवार्ड

‘अमर उजाला’ कानपुर के सीनियर रिपोर्टर आशुतोष मिश्र और उनकी टीम को केसी कुलिश इंटरनेशनल मेरिट अवॉर्ड देने की घोषणा की गई है। मेरिट अवार्ड के लिए ‘अमर उजाला’ की ओर से भेजी गई दोनों एंट्रीज को चुन लिया गया है। टीम को यह अवार्ड 14 मार्च को जयपुर राजस्थान में होने वाले कार्यक्रम में दिया जाएगा। अंतरराष्ट्रीय पुल्तिजर पुरस्कार जैसे ख्यातिलब्ध केसी कुलिश इंटरनेशनल अवार्ड का प्रथम पुरस्कार 11 हजार यूएसए डॉलर है। इसके अलावा दस मेरिट अवॉर्ड भी दिए जाते हैं। अंतरराष्ट्रीय समाचार जगत में उल्लेखनीय पत्रकारिता के लिए यह पुरस्कार राजस्थान पत्रिका समूह की ओर से दिया जाता है।

गोइन्का साहित्यिक पुरस्कार 2015 के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित

कमला गोइन्का फाउण्डेशन के प्रबंध न्यासी श्री श्यामसुन्दर गोइन्का ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके वर्ष 2015 के लिए “बाबूलाल गोइन्का हिन्दी साहित्य पुरस्कार” एवं हिन्दीतर भाषी हिन्दी युवा लेखकों के लिए “प्रो. एन. नागप्पा युवा साहित्यकार पुरस्कार” (वय सीमा 35 वर्ष) तथा “रामनाथ गोइन्का पत्रकारिता शिरोमणि पुरस्कार” के साथ-साथ हिन्दी से तमिल व तमिल से हिन्दी एवं मलयालम से हिनदी व हिन्दी से मलयालम अनुवाद के लिए सद्य घोषित “बालकृष्ण गोइऩ्का अनूदित साहित्य पुरस्कार” के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित की हैं।

सफलता के मुहावरे गढ़ते हैं आईआईएमसीएन… कभी इश्क़ की बात कभी खबरों से मुलाक़ात…

Amarendra A Kishore : बात की शुरुआत करने के पहले राजकमल प्रकाशन परिवार को बधाई– आज उसकी प्रकाशन यात्रा के ६६ वर्ष पूरे करने पर। जब भी किसी बड़े पुरस्कार या सम्मान की घोषणा होती है तो अमूमन भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) का नाम उभर कर सामने आता है– चाहे गणेश शंकर विद्यार्थी पुरस्कार की बात हो या रामनाथ गोयनका सम्मान की– आईआईएमसी एक अनिवार्यता बन जाता है।

मुंबई प्रेस क्लब ने पत्रकारिता में पुरस्कार के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित की

मुंबई प्रेस क्लब ने पत्रकारिता के क्षेत्र प्रतिष्ठित रेडइंक अवार्ड के लिए 10 श्रेणियों में बेहतरीन 10 खबरों के लिए देश भर से पत्रकारों से प्रविष्टियां आमंत्रित की है. यहां जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि पुरस्कार के लिए 28 फरवरी से प्रिंट, टेलीविजन और डिजिटल मीडिया से प्रविष्टियां आमंत्रित की गयी है और इसके लिए कुल 20 लाख रुपया पुरस्कार दिया जाएगा. 

मालचन्द तिवाड़ी व रवीश कुमार को सृजनात्मक गद्य के लिए पुरस्कार

विश्व पुस्तक मेले के आठवें दिन राजकमल प्रकाशन समूह द्वारा राजकमल प्रकाशन सृजनात्मक गद्य सम्मान (वर्ष 2014-15) के लिए चयनित कृतियों के नामों की घोषणा की गयी। इस साल 28 फरवरी को राजकमल प्रकाशन के 66वें स्थापना दिवस के अवसर पर यह पुरस्कार संयुक्त रूप से मालचन्द तिवाड़ी की कथेतर कृति ‘बोरूंदा डायरीः अप्रतिम बिज्जी का विदा-गीत’ व रवीश कुमार के नैनो फिक्शन के सचित्र चयन ‘इश्क़ में शहर होना’ को दिया जाएगा।

‘हिंदुस्तान एक्सप्रेस’ के एएन शिब्ली को एयू आज़मी अवार्ड

नयी दिल्ली।  नयी दिल्ली में आयोजित एक प्रोग्राम के दौरान पत्रकारिता में उनकी सेवा के लिए हिंदुस्तान एक्सप्रेस से बयूरो चीफ और आज़ादएक्सप्रेस डॉट कॉम के संपादक ए एन शिब्ली को ए यू आज़मी अवार्ड से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर शिबली के अलावा नवभारत टाइम्स के राहुल आनंद , मुस्लिम मिरर के अब्दुल बारी मसूद, ड्रग टुडे के खाजा रशीदुद्दीन, दैनिंक जागरण के अमित कसना भी सम्मानित किये गए।

कृष्ण मुरारी किशन के नाम पर ‘फोटो जर्नलिस्ट एवार्ड’ शुरू करने के लिए मुख्यमंत्री मांझी को पत्र लिखा

सेवा में, श्री जीतन राम मांझी, माननीय मुख्यमंत्री,

बिहार सरकार, पटना

विषय- राज्य सरकार की ओर से पटना निवासी प्रख्यात छायाकार स्व.कृष्ण मुरारी किशन जी के नाम पर प्रति वर्ष ‘के एम किशन पत्रकारिता/छायाकार सम्मान एवार्ड’ देने के आग्रह के संदर्भ में,

मान्यवर,

स्वप्न दासगुप्ता, रजत शर्मा और रामबहादुर राय को पद्म पत्रकारिता के नाम पर मिलता तो खुशी होती

Shambhunath Shukla : जिन तीन पत्रकारों को पद्म पुरस्कार मिला है उनका योगदान साहित्य व शिक्षा क्षेत्र में बताया गया है। मगर तीनों में से किसी ने भी जवानी से बुढ़ापे तक कोई चार लाइन की कविता तक नहीं लिखी। यहां तक कि नारे भी नहीं। ये तीन पत्रकार हैं स्वप्न दासगुप्ता, रजत शर्मा (दोनों को पद्म भूषण) और रामबहादुर राय को पद्म श्री। पत्रकारों को पद्म पत्रकारिता के नाम पर मिलता तो खुशी होती।

वरिष्ठ पत्रकार शंभूनाथ शुक्ल के फेसबुक वॉल से.

सुलतानपुर के पत्रकार राज खन्ना को भारत भारती ने किया सम्मानित

नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की जयन्ती के मौके पर राष्ट्रीय स्तर पर पहचान रखने वाली सुलतानपुर की संस्था भारत भारती ने वरिष्ठ पत्रकार राज खन्ना समेत विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाले लोगो को उनके विशिष्ट कार्यों को लिए सम्मानित किया। श्री खन्ना को ‘सुलतानपुर रत्न’ के सम्मान से नवाजा गया। सुलतानपुर की जिलाधिकारी अदिति सिंह को लोकभूषण, एशियाड 2014 में कांस्य पदक विजेता मोहम्मद आजाद को सुलतानपुर रत्न, हवा से चलने वाले इंजन के आविष्कारक बंदायू के देवेन्द्र कुमार को लोकमणि, छह लोगो को लोकरत्न तथा दो लोगो को लोकदीप रत्न से संस्था द्वारा सम्मनित किया गया।

दैनिक भास्कर के विजय सिंह कौशिक को अभियान पुरस्कार

मुंबई। महानगर की जानीमानी सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था अभियान द्वारा आयोजित 27 वे उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस समारोह में उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने दैनिक भास्कर (मुंबई) के प्रमुख संवाददाता विजय सिंह कौशिक को राजेश मिश्र युवा पत्रकारिता पुरस्कार प्रदान किया। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष अमरजीत मिश्र, वरिष्ठ पत्रकार प्रेम शुक्ल, सुप्रसिद्ध गायक व भाजपा सांसद मनोज तिवारी, भाजपा के राष्ट्रिय प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी व महाराष्ट्र भाजपा के उपाध्यक्ष जयप्रकाश ठाकुर आदि मौजूद थे। इस मौके पर सुप्रसिद्ध टीवी अभिनेता सिद्धार्थ शुक्ल को उत्तर कला श्री पुरस्कार प्रदान किया गया। पिछले 27 सालो से मुंबई में यह कार्यक्रम आयोजित करने वाली संस्था अभियान हर साल उत्तरप्रदेश स्थापना दिवस पर विभिन्न क्षेत्रो में उल्लेखनीय उपलब्धी हासिल करने वाले उत्तरप्रदेश मूल की हस्तियों को सम्मानित करती है।

पत्रकारिता के लिए उमेश चतुर्वेदी को सम्मनित किया गया

नई दिल्ली। वरिष्ठ गांघीवादी चिंतक और गांधी स्मारक निधि के मंत्री रामचंद्र राही ने कहा है कि साहित्य का मकसद संवेदना जगाना है। आज जब समाज में संवेदना मर रही है ऐसे समय में साहित्यकारों की अहम् भूमिका है। वे गांधी हिन्दुस्तानी साहित्य सभा और विष्णु प्रभाकर प्रतिष्ठान की ओर से सन्निधि सभागार में काकासाहव कालेलकर सम्मान समारोह की अघ्यक्षता कर रहे थे। यह समारोह काकासाहेव कालेलकर के जन्मदिवस के उपलक्ष्य पर आयोजित किया गया था। समारोह में नए रचनाकारों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि आज के युवा वर्ग में एक वेचैनी एक विचार को लेकर है। वह वैचारिक उ​हापोह की स्थिति में है। नफरत के वोये जा रहे बीज ने सामाजिक वातावरण को कलुषित किया है तो दूसरी ओर उदाकरणीकरण के प्रभाव से विषमता की खाई पटने की जगह बढ़ती जा रही है।

डॉ संतोष मानव को लाल बलदेव सिंह सम्मान

डॉ संतोष मानव को लाल बलदेव सिंह सम्मान से नवाजा जाएगा। माधव राम सप्रे स्मृति समाचार पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान की ओर से यह पुरस्कार दिया जा रहा है जो कि बेहतर पत्रकारिता को प्रोत्साहित करने के लिए दिया जाता है। संतोष मानव इस समय भोपाल से प्रकाशित दैनिक हरिभूमि में संपादक हैं।

प्रसून शुक्ला के व्यक्तित्व के बारे में क्या कहा वैदिक, यशवंत, रुबी, विकास आदि ने, आप भी सुनिए…

पिछले दिनों न्यूज एक्सप्रेस चैनल के सीईओ और एडिटर इन चीफ प्रसून शुक्ला का सम्मान उनके गृह जनपद बस्ती में एक संगठन ‘बस्ती विकास मंच’ द्वारा किया गया. इस मौके पर दिल्ली से गए कई पत्रकारों ने प्रसून शुक्ला के जीवन, करियर और सोच को लेकर अपने अपने विचार व्यक्त किए. डा. वेद प्रताप वैदिक, योगेश मिश्र, यशवंत सिंह, रुबी अरुण, सुधीर सुधाकर, विकास झा, बृजमोहन सिंह आदि ने प्रसून की पर्सनाल्टी के विविध पक्षों को उकेरा.

जनसत्ता के वरिष्ठ पत्रकार प्रसून लतांत को रचनात्मक कार्यों के लिए स्वामी प्रणवानंद शांति पुरस्कार

नई दिल्ली । जनसत्ता के वरिष्ठ पत्रकार प्रसून लतांत को रचनात्मक कार्यों के लिए स्वामी प्रणवानंद शांति पुरस्कार देने का फैसला किया गया है। राष्ट्रीय स्तर पर दिए जाने वाले इस पुरस्कार से महाराष्ट्र के मोहन हीरा बाई, केरल के टीपी आर नाथ और उत्तराखंड के गोपाल लोधियाल भी नवाजे जाएंगे। यह फैसला गांधी शांति प्रतिष्ठान संचालित स्वामी प्रणवानंद पुरस्कार न्यास ने किया है। अब तक इस पुरस्कार से गुजरात के वरिष्ठ सर्वोदयी नेता चुन्नीलाल वैद्य, उत्तराखंड के बिहारीलाल भाई, तमिलनाडु के डा जयप्रकाशम, एस कुलैंदे सामी, पोलैंड की अनिता सोनी, दिल्ली के एके अरुण और आगरा के कृष्णचंद्र सहाय नवाजे जा चुके हैं।

वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय को मिलेगा जगदगुरु रामानंदाचार्य पुरस्कार

वाराणसी : श्रीमठ, काशी की ओर से प्रतिवर्ष दिया जाने वाला एक लाख रुपये का जगदगुरु रामानंदाचार्य पुरस्कार इस वर्ष देश के जाने-माने पत्रकार औऱ राजनीतिक विश्लेषक रामबहादुर राय को दिया जाएगा। स्वामी रामानंद जयंती के अवसर पर वाराणसी के नागरी नाटक मंडली सभागार में 12 जनवरी को संध्या समय राय साहब को एक लाख रुपये नकद, अंग वस्त्रम्, प्रशस्ति पत्र आदि प्रदान कर सम्मानित किया जाएगा।

तो, मैं अब चला अपने गांव, सबको राम राम राम….

Yashwant Singh : कल और परसों जिला बस्ती (उत्तर प्रदेश) में रहूंगा. अपने घनिष्ठ मित्र Prasoon Shukla के सम्मान समारोह में. पेड और प्रायोजित पुरस्कारों की भीड़ में जब कोई अपनी ही माटी के लोगों के हाथों अपनी ही जमीन पर सम्मानित किया जाता है तो उसका सुख सबसे अलग और अलहदा होता है. बस्ती के रहने वाले हैं प्रसून शुक्ला. शुरुआती पढ़ाई लिखाई के साथ-साथ लड़ने भिड़ने जूझने और अंतत: जीत जाने की ट्रेनिंग भी इसी धरती ने दी है.

पत्रिका ग्रुप ने अपने कई पत्रकारों को सम्मानित किया

जयपुर। प्रतिवर्ष होने वाली पंडित झाबरमल्ल स्मृति व्याख्यानमाला का आयोजन रविवार सुबह 10.30 बजे राजस्थान पत्रिका के के सरगढ़ कार्यालय में किया गया। इस अवसर पर पत्रिका की ओर से सृजनात्मक साहित्य व पत्रकारिता पुरस्कार दिया गया। इस अवसर पर पत्रिका समूह के प्रधान संपाधक गुलाब कोठारी ने लोकतंत्र में मीडिया के घटते प्रभाव पर अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दल चुनावों के समय मीडिया को सिर-आंखों पर चढ़ा लेते हैं लेकिन इसके बाद वह उन्हें बोझ लगने लगता है। जनता के लिए बना लोकतंत्र अब सरकार के लिए हो गया है। सरकारें मीडिया को दबंगई दिखाने लगी हैं।

पंजाब केसरी के पत्रकार संदीप मलिक ‘महाराजा सूरजमल अवार्ड’ से सम्मानित

रोहतक : भारत सरकार के केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री बिरेन्द्र सिंह ने महाराजा सूरजमल के 251वें बलिदान दिवस पर उत्कर्ष्ठ पत्रकारिता के लिए पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार संदीप मलिक को महाराजा सूरजमल अवार्ड से सम्मानित किया। इस अवसर पर केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री बिरेन्द्र सिंह ने कहा कि  पत्रकार हमारे देश के लिए रीढ़ की हड्डी हैं जो धरातल पर रहकर सर्दी-गर्मी इत्यादि  की प्रवाह किये बगैर हर प्रकार की विकट से विकट स्थिति  का मुकाबला क्र अपनी लेखनी से आम लोगों को सजग क्र देश के लिए प्रहरी की भूमिका निभाते हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब केसरी ग्रुप में रहते हुए संदीप मलिक ने पत्रकारिता के शेत्र में काफी उत्कर्ष्ठ, निर्भीक एवं पीत पत्रकारिता की है, जिसके लिए वो ही इस अवारड के पात्र हैं।