हिंदुस्‍तान के बाद जागरण का भी फर्जीवाड़ा सामने आया, रजिस्‍ट्रेशन के लिए आवेदन

बिहार में हिंदुस्‍तान के बाद अब दैनिक जागरण के फर्जीवाड़े का भी पर्दाफाश होने लगा है. हिंदुस्‍तान के फर्जी एडिशनों के खुलासे के बाद अब जागरण के घोटाले का भी पोल खुलने लगा है.  इस बात की तस्‍दीक खुद जागरण का प्रिंट लाइन कर रहा है. इससे जाहिर हो रहा है कि जागरण पिछले बारह सालों से अवैध तरीके से बिहार में अखबार का प्रकाशन कर रहा है. श्रीकृष्‍ण प्रसाद द्वारा हिंदुस्‍तान की गड़बड़ी उजागर करने के बाद जागरण, मुजफ्फरपुर के पूर्व कर्मचारी रमण कुमार यादव भी जागरण के गोरखधंधे को उजागर करने में जी जान से जुट गए हैं.

जागरण भूल गया पत्रकारिता और कानून : बलात्‍कार पीडिता का नाम व पता तक छाप डाला

अब तो सही में लग रहा है कि जागरण समूह अपने पतनकाल की तरफ चल पड़ा है। नंबर एक होने का दावा करने वाला जागरण अपनी गलतियों के लिए तो जाना ही जाता है पर ताजा मामले में जागरण ने एसी घटिया हरकत की है, जिसे भूल तो कतई नहीं कहा जा सकता। जागरण के पंजाब संस्करण में होशियारपुर से एक ऐसी घिनौनी हरकत की गई है जो न तो कानून की नजर में सही है और न ही किसी भी तरह से पत्रकारिता के उसूलों के अनुरूप है।

प्रदीप सौरभ को लंदन में मिला 18वां अंतर्राष्‍ट्रीय इंदु शर्मा कथा सम्‍मान

: जो लेखक अपने समय के सत्‍य को संबोधित नहीं करता वह इतिहास के कूड़े में फेंक दिया जाता है – प्रदीप सौरभ : (लंदन) – ब्रिटेन की संसद के हाउस ऑफ़ कॉमन्स में उपन्यासकार प्रदीप सौरभ को उनके उपन्यास तीसरी ताली के लिये ‘अट्ठारहवां अंतर्राष्ट्रीय इन्दु शर्मा कथा सम्मान’ प्रदान करते हुए वैस्ट ब्रॉमविच के लॉर्ड किंग ने कहा कि लेखक ही समाज में बदलाव ला सकता है। उन्होंने आगे कहा कि कोई भी संस्कृति तभी बची रह सकती है यदि उसकी भाषा की ताक़त महफ़ूज़ रहे। इस अवसर पर उन्होंने सर्रे निवासी ब्रिटिश हिन्दी एवं उर्दू के शायर श्री सोहन राही को तेरहवां पद्मानंद साहित्य सम्मान भी प्रदान किया। ब्रिटेन में लेबर पार्टी के सांसद वीरेन्द्र शर्मा ने सम्मान समारोह की मेज़बानी की।

भास्‍कर, सागर से नरेंद्र सिंह अकेला का तबादला, विपुल गुप्‍ता नए आरई

दैनिक भास्कर प्रबंधन ने एक बड़ा निर्णय लेते हुए सागर संस्करण के स्थानीय संपादक नरेंद्र सिंह अकेला का तबादला अंबाला के लिए कर दिया है। उनके स्थान पर नेशनल न्यूज रूम टीम के विपुल गुप्ता को नया स्‍थानीय संपादक नियुक्त किया है। अकेला अंबाला की जिम्‍मेदारी संभालेंगे, जहां केवल 4 पेज का पुलआउट तैयार किया जाता है। जबकि सागर में सागर सिटी के अलावा छतरपुर-टीकमगढ, दमोह संस्करण स्वतंत्र रूप से छापे जाते हैं। 

31 जुलाई को होगा शिमला प्रेस क्‍लब का चुनाव

प्रेस क्लब शिमला के चुनाव 31 जुलाई 2012 को कराने का निर्णय ले लिया गया है। वरिष्ठ पत्रकार कृष्णभानु के सख्त रवैये को देखते हुए क्लब की संचालन परिषद की आपात बैठक में चुनाव कराने का फैसला हुआ। क्लब के चुनाव तीन साल बाद कराए जा रहे हैं। 13 अक्तूबर 2009 में क्लब के सालाना चुनाव हुए थे। कायदे से 13 अक्तूबर 2010 से पहले नए चुनाव हो जाने चाहिए थे, जो करीब तीन साल बीतने के बाद भी नहीं कराए गए।

न्‍यू मीडिया पर सेंसरशिप नहीं इंटरनेट वॉच की जरूरत

मीडिया से जुड़े लोगों ने ऑनलाइन मीडिया को नियंत्रित करने के सरकार के प्रयास की आलोचना की और आगाह किया कि जल्दबाजी में ऐसा कोई कदम नहीं उठाया जाए. नोएडा में बुधवार 27 जून को आयोजित ‘एस पी सिंह स्मृति समारोह 2012’ में मौजूद मीडिया के तमाम लोगों ने सरकार के ऐसे किसी भी प्रयास का विरोध किया. मीडिया खबर डॉट कॉम की ओर से आयोजित इस कार्यक्रम में ‘इंटरनेट सेंसरशिप और ऑनलाइन मीडिया का भविष्य’ विषय पर चर्चा हुई.

जागरण, कानपुर में यूनिट हेड, सीजीएम एवं आईटी हेड पर महिलाकर्मी ने लगाया यौन शोषण का आरोप

दैनिक जागरण अब नैतिकता की धरातल से भी गिरने लगा है. कानपुर से खबर है कि तीन वरिष्‍ठ अधिकारियों ने एक महिला कर्मचारी का यौन शोषण किया. महिला ने इस मामले की लिखित शिकायत कानपुर की महिला थाना में की है. पुलिस इस मामले की जांच कर रही है. सोमवार को इन चारों को पूछताछ के लिए थाने बुलाया जाएगा. 

स्‍वतंत्र राजस्‍थान ने दूसरे तथा आपणां अंदाज ने चौथे साल में प्रवेश किया

गुजरात के सूरत से प्रकाशित हिंदी साप्‍ताहिक स्‍वतंत्र राजस्‍थान ने दूसरे साल में प्रवेश किया है. 12 पेज के इस अखबार के संपादक राजसमंद जिले के रहने वाले मोती सिंह राजपूत हैं. वहीं कर्नाटक के हुबली से प्रकाशित हिंदी अखबार 'आपणां अंदाज' ने भी तीन वर्ष पूरे करके चौथे वर्ष में प्रवेश किया है. इस अखबार के प्रकाशक और संपादक सुरेंद्र के मेहता हैं. इस अखबार की लांचिंग 8 जून 2009 को हुई थी.

जागरण ने ज्‍यादा पैसे लेकर दिया कम का रसीद, वीरेंद्र दत्‍त का कमीशन भी मारा

दैनिक जागरण समूह पैसा के लिए भूखा भेडि़या बन चुका है. तमाम लोगों के पैसे हड़प रहा है. बनारस में जागरण ने अध्‍यापकों को मानदेय देने का वादा करके पैसे नहीं दिए तो देहरादून में वीरेंद्र दत्‍त गैरोला के विज्ञापन का कमीशन संस्‍थान ने मार लिया है. इतना ही नहीं उसने प्रत्‍याशियों द्वारा दिए गए धनराशि की बजाय कम राशि का रसीद पकड़ा दिया, जिससे प्रत्‍याशियों में भी नाराजगी है.

चलिए, मेरी तो लॉटरी खुली, डर का लाभ मिला

Om Thanvi – मेरे मित्र बड़े संवेदनशील हैं और मैं बेशर्म! न्यू योर्क यात्रा में सुपर स्पेशल सिक्योरिटी क्या झेली, मित्रों के यहाँ तक फ़ोन आ रहे हैं! मैं संग्रहालयों और सेन्ट्रल पार्क की हवाखोरी कर रहा हूँ. क्या मेरी भाषा से लगा कि कोई बड़ा हादसा हुआ? रात गयी, बात गयी. अरे भाई, मुसलमान दोस्तों को तो कदम-कदम पर इनसे जूझना पड़ता है. शाहरुख़ खान जैसे शख्स को घंटों बिठाकर पूछताछ करते हैं. अपने साथ यही किया कि एक्स-रे कुछ ज़्यादा कर दिया. दर्ज़ा बढाया ही है. बस उलझन रही तो यही कि मुझ शरीफ़ (?!) को उन्होंने छांटा कैसे? एक अधिकारी से यहाँ यों ही भेंट हुई एक कार्यक्रम में. ज़िक्र छिड़ा तो वह बोला लॉटरी की तरह कभी-कभी रेंडम चेक करते हैं, मशीनरी की सम्हाल के लिए! चलिए, तो मेरी लॉटरी खुली. किसी-न-किसी की ऐसे रोज़ खुलती होगी. कुल मिलाकर बात वही कि डरे हुए लोग हैं. सो इसका लाभ उन्हें दिया! फ़िक्र मत कीजिये, आज लन्दन के लिए निकल रहा हूँ; और इसमें किसी को भला क्या दिक्कत?

देश लाइव से इस्‍तीफा देकर टोटल टीवी पहुंचे सौरव मिश्रा

देशलाइव से खबर है कि सौरव मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर आउटपुट हेड थे. सौरव ने अपनी नई पारी टोटल टीवी के साथ शुरू की है. यहां भी उन्‍हें महत्‍वपूर्ण जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. सौरव पिछले ग्‍यारह सालों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं. इन्‍होंने करियर की शुरुआत ईटीवी से की थी. …

नदी में डूबे हॉकर की तलाश जारी, अब तक नहीं मिला शव

पूर्णिया : मोहनपुर ओपी क्षेत्र के समाचार पत्र विक्रेता ज्योतिष कुमार बुधवार को नाव दुर्घटना में भागलपुर जिला के ढोलबज्जा थाना क्षेत्र के निर्माणाधीन विजय घाट पुल के पास डूब गया था। जिसका पता घटना के दूसरे दिन भी नहीं चल सका। जबकि सामाजिक कार्यकर्ताओं सहित स्थानीय लोगों द्वारा लगभग आधा दर्जन नावों पर सवार होकर बुधवार से उसकी तलाश लगातार जारी है।

पंकज पचौरी से सिर्फ 30 हजार रुपये अधिक पाते हैं मनमोहन सिंह

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री की तनख्वाह उनके मीडिया सलाहकार से महज 30 हजार रुपए अधिक है। प्रधानमंत्री को हर माह मिलते हैं 1.60 लाख रुपए तो उनके मीडिया सलाहकार पंकज पचौरी को सैलरी के रूप में मिलते हैं 1.30 लाख रुपये। प्रधानमंत्री कार्यालय ने डॉ. मनमोहन सिंह समेत अपने सभी कर्मचारियों की आमदनी की जानकारी आम कर दी है। इसको सार्वजनिक करने के लिए हवाला दिया गया है कि इसे राजकाज में पारदर्शिता आएगी।

Journalism Vs Jingoism

The release of Indian national Surjeet Singh by Pakistan is considered as a forward move in normalising the extinct relation between the two neighbors. The development has been welcomed across the country but the Sarabjit– Surjeet fiasco, prior to latter’s release – evoked strong reactions and sentiments from the people.

… उस दिन लगा कि यहां बिक गए हैं कुछ मीडिया संस्‍थान

जब से प्रदेश में रमन सरकार आयी है तब से तो छत्तीसगढ में मीडिया का रोल ही खत्म हो गया है…अगर हम एक दो मीडिया संस्थानो को छोड़ दें तो यह भी कहा जा सकता है कि प्रदेश की मीडिया मैनेज है, लेकिन ऐसा नहीं है कि यहां के पत्रकार बिके हों, लेकिन यह जरूर है कि कलम उनकी है पर स्याही मालिक की, जो अखबार या न्यूज चैनल का मालिक कहे वही खबर चले। जहां प्रदेश की सरकार इन प्रदेशिक चैनलों को सालाना करोड़ों का विज्ञापन देती है तो वही कुछ प्राइवेट संस्थान भी विज्ञापन की मोटी रकम देते हैं और चैनल और संस्थान के बीच हो जाता है करार।

बीएस लाली को क्‍लीनचीट देने की तैयारी में सीबीआई

नई दिल्ली। सीबीआई ने राष्ट्रमंडल खेलों के प्रसारण अधिकार मामले में प्रसार भारती के पूर्व सीईओ बीएस लाली को क्लीनचिट देने की तैयारी कर ली है। शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने मामला जांच एजेंसी को सौंपा था। साल भर की जांच के बाद सीबीआई का कहना है कि आरोपों में कोई दम नहीं है और फैसले सामूहिक और विवेकपूर्ण तरीके से लिए गए।

बिना लाइव प्रोग्राम किए ही वापस लौट आई एबीपी न्‍यूज की टीम

जींद : आमिर खान के शो सत्यमेव जयते के 'असर' कार्यक्रम के तहत कवरेज के लिए पहुंची एबीपी न्यूज चैनल की टीम वापस लौट गई। तकनीकी कारणों के चलते यह कार्यक्रम रद कर दिया गया। हालांकि इस कार्यक्रम के रद होने कई और कारण स्‍थानीय लोगों द्वारा बताए जा रहे थे. बीते रविवार को आमिर खान ने अपने शो सत्यमेव जयते में पेस्टीसाइड के खिलाफ कार्यक्रम प्रस्तुत किया था। इसी के तहत निडाना गांव में हो रही जहर मुक्त खेती को लेकर यहां के किसानों से लाइव बातचीत करने के लिए चैनल की टीम ने कार्यक्रम बनाया था।

असांजे ने स्‍कॉटलैंड पुलिस के समर्पण की नोटिस को खारिज किया

लंदन। स्वीडिश वेबसाइट विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे ने स्कॉटलैंड पुलिस द्वारा समर्पण करने की नोटिस को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा है कि जमानत की शर्तो का उल्लंघन करने के बाद वह पुलिस स्टेशन में पेश नहीं होंगे। यह नोटिस उन्हें गुरुवार को लंदन स्थित एक्वाडोर दूतावास में भेजी गई थी, जहां उन्होंने स्वीडन प्रत्यर्पित किए जाने से बचने के लिए शरण ले रखी है। उन्होंने एक्वाडोर से राजनीतिक शरण देने के लिए आवेदन किया है।

ए2जेड न्‍यूज चैनल में सभी कर्मचारियों को मिला इंक्रीमेंट

ए2जेड न्‍यूज चैनल से खबर है कि यहां दस से लेकर बीस प्रतिशत का इंक्रीमेंट किया गया है. प्रबंधन ने सभी विभाग के कर्मचारियों को इंक्रीमेंट का तोहफा दिया है. काफी समय से कर्मचारियों को इंक्रीमेंट नहीं दिया गया था. प्रबंधन ने परफारमेंस के आधार पर एक हजार रुपये से लेकर तीन हजार रुपये तक का इंक्रीमेंट दिया है. इंक्रीमेंट के बाद कर्मचारी खुश हैं. हालांकि पु‍राने कर्मचारियों में इस बात को लेकर नाराजगी भी है कि प्रबंधन नए कर्मचारियों को भी इंक्रीमेंट दे दिया है.

बिजनेस भास्‍कर से आर्थिक संपादक हरवीर सिंह का इस्‍तीफा

बिजनेस भास्‍कर, दिल्‍ली से खबर है कि हरवीर सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे आर्थिक संपादक के पद पर कार्यरत थे. सूत्रों का कहना है कि भास्‍कर की एचआर हेड रचना कामना से मुलाकात के बाद उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा प्रबंधन को सौंप दिया. हरवीर सिंह के इस्‍तीफा देने के मूल कारणों का पता नहीं …

Fraud Nirmal Baba (101) : फैसला आने से पहले गिरफ्तार नहीं होंगे निर्मलजीत

अररिया : पूर्णिया के जिला एवं सत्र न्यायाधीश संजय कुमार ने चर्चित निर्मलजीत सिंह नरूला उर्फ निर्मल बाबा की दाखिल अग्रिम जमानत अर्जी पर निर्णय न आने तक उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दिया है। न्यायालय ने फारबिसगंज थानाध्यक्ष से उक्त लंबित मामले की केस डायरी भी मांगी है। पूर्णिया के जिला न्यायाधीश श्री कुमार ने उक्त आदेश 26 जून को अपने अररिया में आयोजित कैंप कोर्ट के दौरान सुनाया है।

संस्‍कारहीन जागरण, वाराणसी ने हड़प लिए दर्जनों अध्‍यापकों का मानदेय

शायद दूसरों के पैसे मारकर ही दैन‍िक जागरण समूह ने खुद को धनी संस्‍थान बनाया है. मामला चंदौली जिले से जुड़ा हुआ है. अपने कर्मचारियों का खून चूसने वाला जागरण अक्‍सर सरोकारों की नौटंकी करता रहता है. इसी क्रम में दैनिक जागरण, वाराणसी ने इस साल फरवरी महीने में संस्‍कारशाला परीक्षा का आयोजन किया था. इसमें छात्रों से संस्‍कार से संबंधित सवाल पूछे गए थे. कितनी विडम्‍बना है कि जिस समूह में खुद संस्‍कार नहीं है वो संस्‍कारशाला का आयोजन कर रहा है, ठीक उसी तरह जैसे विद्या की देवी सरस्‍वती पूजा पढ़े लिखे कम और अनपढ़ ज्‍यादा करते हैं.  

बरेली में सीकेटी का जनमोर्चा से समझौता, लांच करेंगे इवनिंग अखबार

बरेली से खबर है कि दैनिक जागरण के पूर्व सीजीएम चंद्रक्रांत त्रिपाठी नए इवनिंग अखबार के साथ कई पत्रिकाएं लांच करने की तैयारी कर रहे हैं. इसके लिए उन्‍होंने जनमोर्चा अखबार के मालिक सरदार कमलजीत सिंह से समझौता किया है. सीकेटी और कमलजीत सिंह का ज्‍वाइंट मीडिया वेंचर मार्निंग डेली जनमोर्चा के अलावा एक इवनिंग डेली, साप्‍ताहिक अखबार तथा स्‍वास्‍थ्‍य तथा महिलाओं पर आधारित पत्रिका का प्रकाशन करेगा.

डीएलसी ने कहा मजीठिया वेज बोर्ड लागू करने के बाद ही किए जाएं तबादले

दैनिक जागरण, बरेली में मजीठिया वेज बोर्ड लागू करने के मामले शुक्रवार को सुनवाई थी, परन्‍तु जागरण से कोई भी डिप्‍टी लेबर कमिश्‍नर के कार्यालय में नहीं पहुंचा. डीएलसी ने फोन पर सीजीएम एएन सिंह से इस मामले की प्रगति के बारे में पूछा, जिस पर उन्‍होंने सुप्रीम कोर्ट में मामला होने का हवाला दिया. डीएलसी ने जागरण के कर्मचारियों के तबादले को भी अवैध बताते हुए मजीठिया लागू करने को कहा.

जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ के ब्‍यूरो के कर्मचारियों को छह माह से नहीं मिला वेतन

जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ यूनिट के ब्‍यूरो और उनके स्‍टाफों को पिछले छह माह से वेतन नहीं मिला है. यह हालात तभी से पैदा हुए हैं, जब से सौरभ जैन की एनएचआरएम घोटाले में नाम आने के बाद से जनसंदेश टाइम्‍स से विदाई हुई है. उनके बाद आए एमडी अनुज पौद्दार सिर्फ आश्‍वासनों के सहारे अखबार की नाव खींच रहे हैं. उनके व्‍यवहार से भी कर्मचारी लगातार परेशान रहते हैं.

पीछे छूटता गांव और चकाचौंध में भटकते युवा

बड़े-बड़े तुर्रम खां गांवों में ही पैदा हुए। बहुत ऊँचे तक उड़े। आखिर दम गाँव में ही आकर लेना पड़ा। आज भी कई महाशय दिल्ली-मुम्‍बई में भले ही अटके हों, उनकी लेखनी में गाँव सांस नहीं ले तो उन्हें कोई सूंघे भी नहीं. समझदारी भी इसी में ही है कि हम महीने में एकाध चक्कर गाँव का दे मारे. सार-संभाल कर या इससे मिला-जुलता नाटक कर आयें। कई मर्तबा दिल बहलाने के लिए बहुत से काम मज़बूरी में करने पड़ते हैं। अफसोस जो हमारे दायित्व का हिस्सा है। वही अभिनय की विषयवस्तु बनती जा रही है। कई माँ-बाप तो बेचारे बेटे-बेटियों के अभिनय से ही अपना जी बहलाकर ज़िंदा है। बूढ़े लोग शहर जा बसी इस जवां पीढ़ी की वापसी हेतु अपनी बाप-दादा की सम्पत्ति के हक का क्या प्रलोभन देंगे ये पीढ़ी तो पहले से ही लाखों के पैकेज में उलझ गयी थी, जब उनके पिताश्री और माता श्री उन्हें पढ़ा-लिखाई के वक़्त पैसे देकर बसों-ट्रेनों में विदा करने जाया करते थे।

मुजफ्फरनगर में तीन टीवी पत्रकारों की कमरे में बंद करके पिटाई

मुजफ्फरनगर में प्रत्याशियों से उगाही करने गए तीन टीवी चैनलों के कैमरामैन को कमरे में बंद करके बुरी तरह से पीटे गए। हालांकि तीनों टीवी24 के कैमरामैन हैं, लेकिन ठुकाई के दौरान एक कैमरामैन अपने आपको ईटीवी का पत्रकार बता रहा था, जिसके पास से एक वैधता खत्म हो चुका ईटीवी का एक पहचान पत्र और कैमरा भी लोगों ने छीन लिया। हांलाकि बाद में 40 हजार रुपये देकर मामला निपटाया गया।

उत्‍तराखंड में कांग्रेस के लिए आसान, भाजपा के लिए प्रतिष्‍ठा बनी सितारगंज सीट

नैनीताल। सितारगंज की विधानसभा सीट के उपचुनाव में मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा फिलहाल बेहतर स्थिति में नजर आ रहे है। वोट डालने के रोज तक मौजूदा हालात कायम रहे तो मुख्यमंत्री बहुगुणा की जीत तकरीबन पक्की मानी जा रही है। उत्‍तराखण्ड क्रान्ति दल, बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के चुनाव नहीं लड़ने से बहुगुणा का पलडा़ भारी हो गया है। भाजपा बहुगुणा की जीत को रोकने के लिए पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ रही है। पर चुनावी गणित मुख्यमंत्री के हक में दिख रहा है।

चेतना मंच नहीं दे रहा है अपने दो पुराने कर्मचारियों का बकाया वेतन

नोएडा से प्रकाशित मिड डे अखबार चेतना मंच ने अपने कई कर्मचारियों के पैसे मार चुका है. ताजा सूचना है कि यहां काम करने वाले दो रिपोर्टरों के पैसा भी चेतना मंच प्रबंधन नहीं दे रहा है. बताया जा रहा है कि सीनियर रिपोर्टर अरुण सिन्‍हा और रिपोर्टर अनुराग सिंह ने पिछले दिनों चेतना मंच से इस्‍तीफा देकर दूसरे अखबारों में नौकरी शुरू की है. इन लोगों ने नौकरी छोड़ने की सूचना प्रबंधन को देते हुए अपने वेतन की मांग की, परन्‍तु प्रबंधन ने बाद में वेतन देने की बात कहकर मामले को टाल दिया.

राष्‍ट्रपति का विरोध करने वाले चैनल की संपत्ति जब्‍त करने का आदेश

वेनेजुएला के सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति ह्यूगो शावेज का विरोध करने वाली एक टेलीवीजन चैनल की 57 लाख डॉलर की संपत्ति को जब्त करने का आदेश दिया है. टेलीवीजन कंपनी ग्लोबोविजन पर कैदियों के दंगे को प्रसारित करने का आरोप लगाया गया था. साल भर पहले वेनेजुएला के बाहर काराकस में हुए दंगे का प्रसारण करने के आरोप में टेलीविजन कंपनी ग्लोबोविजन पर सरकार ने दो लाख डॉलर का जुर्माना लगा दिया गया था.

एनबीटी, मुंबई ने धूमधाम से मनाई अपनी 62वीं साल गिरह

यूं तो मुंबई की हर शाम दिलकश होती है, पर 26 जून को कफ परेड के पास सागर किनारे ढली शाम कुछ ज्यादा ही ग्रेसफुल हो चली थी। कफ परेड के ताज प्रेजिडेंट होटेल में एनबीटी की 62 वीं सालगिरह को सेलिब्रेट करने के लिए नेता, कॉर्पोरेट हस्तियां, अभिनेता और सामाजिक कार्यकर्ता मौजूद थे। मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण और गृहमंत्री आरआर पाटील ने इस मौके को मुंबई के लिए एक ऐतिहासिक क्षण बताया।

पत्रकार नताशा से पहले लारा के साथ भी हो चुका है मिस्र में यौन दुर्व्‍यवहार (देखें वीडियो)

मिस्र की राजधानी काहिरा में बीते रविवार को 21 वर्षीय युवा ब्रि‍टिश महिला के साथ हुए यौन दुर्व्‍यवहार एवं छेड़छाड़ के मामले ने तूल पकड़ लिया है. जब पूरा मिश्र मुर्सी के राष्‍ट्रपति बनने का जश्‍न मना रहा था तो उसी दौरान कुछ बहशियों ने पत्रकार नताशा स्मिथ के कपड़े फाड़ दिए तथा उनके साथ बहुत ही गंदे तरीके से छेड़छाड़ की. उनका यौन शोषण किया. यह पहला मामला नहीं है जब मिस्र में महिला पत्रकारों के साथ अभद्रता की गई हो.

ट्रक के धक्‍के से बाइक सवार पत्रकार शिवनाम की मौत

रमाबाई नगर : अकबरपुर कोतवाली क्षेत्र के कस्बा रनियां में तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार पत्रकार की मोटरसाइकिल को टक्कर मार दी, जिससे वे गंभीर रूप से घायल हो गए. सूचना पर पहुंची पुलिस ने उन्हें उपचार के लिए जिला अस्पताल भेजा, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. मृतक के पुत्र की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है. साथ ही टक्‍कर मारने वाले ट्रक को कब्‍जे में लेने के साथ ही चालक को भी गिरफ्तार कर लिया है.

हिंदुत्ववादी पीएम के मुद्दे पर मोहन भागवत को शम्सुल इस्लाम का खुला पत्र

: An open letter to RSS Sarsanghchalak, Shri Mohan Bhagwat on why a Hindutvadi should not be the Prime Minister of India :  To, Rashtriya Swayamsevak Sangh Sarsanghchalak, Shri Mohan Bhagwat ji, Namaskar, I was not surprised to read your comments in newspapers that it was not necessary to be a secular person to occupy the office of Prime Minister in a Democratic-Secular India. As per the press reports you wondered why a Hinduwadi could not become PM of India.[i] I am sure you understand better than me that being a Hinduwadi is not the same as professing Hindu religion.

भयभीत अमेरिकियों के जटिल कानून से अबकी ओम थानवी की हुई दुर्दशा

अमेरिका वाले बेहद डरे हुए रहते हैं. इसी कारण उन्होंने ऐसे ऐसे जटिल नियम कानून बना रखे हैं कि दूसरे देशों के लोगों का वहां पहुंचने पर कई बार कचूमर निकल जाता है. कलाम, शाहरुख आदि की बेइज्जती की खबरें हम लोग पढ़ते रहते हैं. जनसत्ता के संपादक व वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी के साथ जो ताजा मामला पेश आया है, उससे वे खुद भी स्तब्ध हैं और अमेरिका की इस बेचारगी पर चर्चा के मूड में हैं. तभी उन्होंने अपनी पूरी बात फेसबुक पर डाल दी है, टिकट की तस्वीर के समेत. वहीं से उनकी बात उन्हीं के शब्दों में यहां पेश कर रहे हैं. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

देखिए तस्वीर, मायावती के कमरे के बाहर मीडिया वालों के निकलवाए गए जूते-चप्पलों का ढेर

ये तस्वीर लखनऊ से एक पत्रकार ने मेल की है. तस्वीर मायावती के कमरे के बाहर की है. जो जूते और चप्पल दिख रहे हैं, वे पत्रकारों के हैं. मायावती ने मीडियावालों को बुलवाया लेकिन उन्हें जूते उतार कर ही अंदर आने का फरमान सुना दिया. इस फरमान का अक्षरणः पालन पत्रकारों ने किया. कहने वाले कहते हैं कि मायावती को डर था कि कहीं कोई पत्रकार जूता चप्पल इस्तेमाल करने की रणनीति बनाकर न आ जाएं. जरनैल सिंह वाला प्रकरण सबको याद होगा जिसमें उन्होंने चिदंबरम पर जूते फेंक दिए थे.

प्रदीप ठाकुर, आरिफ निसार, अमित गुप्ता कार्यमुक्त

दो पत्रकारों के बारे में सूचना है कि उन लोगों ने अपने अपने संस्थानों से विदा ले लिया है. प्रदीप ठाकुर पंजाब की शक्ति नामक नए लांच होने वाले अखबार में वरिष्ठ पद पर थे. अखबार अभी लांच भी नहीं हो पाया कि उन्हें प्रबंधन ने बाहर का रास्ता दिखा दिया. उनको लेकर कई तरह की चर्चाएं हैं. उधर, आरिफ निसार चैनल वन न्यूज में वरिष्ठ पद पर कार्यरत थे. उनके बारे में भी सूचना है कि वे अपने संस्थान से कार्यमुक्त हो चुके हैं. आरिफ को संस्थान से क्यों हटाया गया, यह पता नहीं चल पाया है. उनको लेकर कई तरह की चर्चाएं हैं. दैनिक जागरण, पानीपत से सूचना है कि रीजनल एरिया मैनेजर अमित गुप्ता का संस्थान से नाता टूट गया है. यह पता नहीं चल पाया है कि उन्होंने खुद इस्तीफा दिया है या फिर वे जागरण की छंटनी नीति के शिकार हुए हैं.

डा. उमाकांत मिश्रा बने इंडिया न्यूज मीडिया एकेडमी के हेड, सुषमा सिंह एचआर हेड

'आज समाज' अखबार और चैनल 'इंडिया न्यूज' को चलाने वाले ग्रुप की तरफ से इंडिया न्यूज मीडिया एकेडमी खोलने की घोषणा की गई है. इस शिक्षण संस्थान में पत्रकारिता की शिक्षा दी जाएगी. इस एकेडमी की जिम्मेदारी डा. उमाकांत मिश्रा को सौंपी गई है. ग्रुप के सीईओ राकेश शर्मा ने इस बारे में एक आंतरिक मेल जारी किया है. एक अन्य बदलाव के तहत सुषमा सिंह को आईटीवी और जीएमआई का एचआर हेड बनाया गया है. सुषमा 11 वर्षों से सहारा, आइडिया समेत विभिन्न कंपनियों में सक्रिय रही हैं.

उदय सिन्हा के सिर में गंभीर चोट, कई टांके लगे

वरिष्ठ पत्रकार और चैनल वन के मैनेजिंग एडिटर उदय सिन्हा गंभीर रूप से घायल हो गए हैं. उनके सिर में काफी जख्म आया है. उन्हें आधा दर्जन से ज्यादा टांके लगे हैं. शुगर लेवल अचानक गिरने के कारण चेतना के स्तर पर वे ब्लैक आउट हो गए और गिर पड़े. उनका सिर घर में रखी टेबल के एक कोने से टकराया और अंदर तक घुस गया. इस हादसे से घरवाले स्तब्ध हो गए. किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या किया जाए. चीखने चिल्लाने व रोने की प्रक्रिया में ही घरवालों ने ग्लूकान डी उदय सिन्हा को पिला दिया. इससे शुगर लेवल मेनटेन हुआ और स्थिति सुधरी.  घरवालों द्वारा ग्लूकान डी पिलाने का अचानक लिया गया यह फैसला उदय सिन्हा के लिए जीवनदायी साबित हुआ.

सहारा से इस्‍तीफा देकर तनवीर एवं राजकिशोर ने बंसल न्‍यूज ज्‍वाइन किया

तनवीर वारसी ने सहारा समय से इस्‍तीफा दे दिया है. वे राजगढ़ जिले में सहारा समय के ब्‍यूरोचीफ के रूप में अपनी जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. तनवीर ने अपनी नई पारी बंसल न्‍यूज के साथ शुरू की है. उन्‍हें तीन जिलों – राजगढ़, शाजापुर और गुना का ब्‍यूरो चीफ बनाया गया है. वे लम्‍बे समय से सहारा को अपनी सेवाएं दे रहे थे. सहारा समय से ही राजकिशोर सोनी ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. वे रायसेन जिले के ब्‍यूरोचीफ थे तथा पिछले नौ सालों से चैनल को अपनी सेवाएं दे रहे थे. राजकिशोर को बंसल न्‍यूज में मध्‍य प्रदेश के स्ट्रिंगरों का हेड बनाया गया है. उन्‍होंने अपनी जिम्‍मेदारी संभाल ली है.

पुलिस ने जर्मनी की महिला पत्रकार को कंधमाल जाने से रोका

भुवनेश्वर। जर्मनी की एक महिला पत्रकार को कंधमाल जिले के लांजीगढ़ जनजातीय इलाके में जाने से रोक दिया गया है, क्योंकि नक्सली क्षेत्र में चलाए जा रहे नक्सल विरोधी ऑपरेश ग्रीन हंट के विरोध में शुक्रवार से विरोध सप्ताह मना रहे हैं। नई दिल्ली में जर्मन रेडियो नेटवर्क की दक्षिण एशिया की संवाददाता सैंड्रा पीटर्समैन अपने भारतीय सहयोगी अनूप सक्सेना के साथ एक रपट तैयार करने के लिए भवानीपटना जिले में गई थीं।

जागरण में बंपर छंटनी (43) : अलीगढ़ में प्रबंधन ने दो लोगों को वापस बुलाया

दैनिक जागरण, अलीगढ़ से खबर है कि प्रबंधन ने अपने दो सहयोगियों को वापस बुला लिया है. हालांकि सूत्रों का कहना है कि जागरण इसे अपनी गलती मानकर इन लोगों को वापस नहीं बुलाया है बल्कि नोटिस भेजे जाने के बाद इन लोगों को वापस बुलाया गया है. वैसे कहा यह भी जा रहा है कि पिछले कुछ दिनों में हुए घटनाक्रम के बाद जागरण प्रबंधन के होश उड़े हुए हैं तथा वो छंटनी के शिकार बनाए गए कुछेक लोगों को वापस लेकर दूसरे विवादों से बचना चाहता है.

अंजना कश्‍यप पहुंचीं आजतक, एईपी के पद पर ज्‍वाइन किया

इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की तेज तर्रार एंकर अंजना कश्यप ने टीवी टुडे ग्रुप के आजतक चैनल में ज्वाइन कर लिया है। अंजना इससे पहले स्टार न्यूज/एबीपी न्यूज में थीं। स्टार न्यूज के एबीपी न्यूज में बदले जाने के प्रोमो में जब अंजना कश्यप नहीं दिख रही थीं, तभी से कयास लगाए जा रहे थे कि वो आजतक जा रही हैं।

दिल्‍ली पुलिस हेडक्‍वार्टर के पास पत्रकार को बदमाशों ने लूटा

नई दिल्‍ली: आईटीओ पर दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के सामने देर रात ऑटो में सवार पत्रकार समेत कुछ लोगों को बदमाशों ने लूट लिया. बदमाश इनोवा कार में सवार थे. वे अपनी इनोवा कार ऑटो के सामने खड़ी करके लूट की घटना को अंजाम दिया. इस ताजा वारदात ने एक बार फिर दिल्‍ली पुलिस के सुरक्षा के दावों पर प्रश्‍न चिन्‍ह लगा दिए हैं. बुधवार देर रात करीब डेढ़ बजे लूट की इस वारदात में एक पत्रकार समेत कुल तीन लोग शिकार हुए हैं.

युवा महिला पत्रकार नताशा पर टूटे बहशी, न्‍यूड कर बुरी तरह छेड़छाड़

लंदन : मिस्र की राजधानी काहिरा के तहरीर चौक पर एक ब्रिटिश पत्रकार के साथ भीड़ द्वारा जानवरों जैसा सुलूक करने का मामला सामने आया है। पत्रकार का शारीरिक शोषण उस दौरान हुआ, जब तहरीर चौक पर मिस्र के राष्ट्रपति चुनावों के परिणाम घोषित होने पर जश्न मनाया जा रहा था। डेली मेल की एक रिपोर्ट के मुताबिक 21 साल की नताशा स्मिथ ने बताया कि तहरीर चौक पर रिपोर्टिंग के दौरान उस पर कई पुरुषों ने हमला कर दिया। नताशा ने बताया कि हमलावरों ने जबरन उसके कपड़े फाड़ दिए और उसके साथ जानवरों जैसा सुलूक किया।

हिंदुस्‍तान विज्ञापन घोटाला : लड़ने वाले साथियों को आर्थिक एवं कानूनी सहयोग की जरूरत

मुंगेर। मेसर्स हिन्दुस्तान मीडिया वेंचर्स लिमिटेड के दैनिक हिन्दुस्तान के लगभग दो सौ करोड़ के कथित विज्ञापन फर्जीवाड़ा का मुकदमा लड़ रहे आरटीआई एक्टिविस्ट काशी प्रसाद और श्रीकृष्ण प्रसाद ने देश के क्रांतिकारी राष्‍ट्रभक्‍तों से आर्थिक सहयोग की अपील की है। दैनिक हिन्दुस्तान के विज्ञापन घोटाले में डीएसपी स्तर से पर्यवेक्षण रिपोर्ट जारी होने और एसपी स्तर से रिपोर्ट -टू जारी होने के बाद इस विज्ञापन फर्जीवाड़ा की कानूनी लड़ाई पटना उच्च न्यायालय पहुंच गई है।

हिंदुस्‍तान विज्ञापन घोटाला : शशि शेखर, अकु श्रीवास्‍तव, विनोद बंधु एवं अमित चोपड़ा भी पहुंचे पटना हाई कोर्ट

मुंगेर। राष्‍ट्रीय स्तर के दैनिक हिन्दुस्तान के लगभग दो सौ करोड़ के सनसनीखेज विज्ञापन घोटाले के नामजद आरोपी प्रधान संपादक ‘हिन्दुस्तान‘ शशि शेखर, पूर्व कार्यकारी संपादक ‘हिन्दुस्तान‘ पटना संस्करण अकु श्रीवास्तव, उप-स्थानीय संपादक ‘हिन्दुस्तान‘ भागलपुर संस्करण  बिनोद बंधु और प्रकाशक ‘हिन्दुस्तान‘ अमित चोपड़ा ने भी अब पटना उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश माननीय न्यायमूर्त्ति मिस रेखा एम दोशित के समक्ष दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 482 के तहत क्रिमिनल मिससेलिनियस, जिसकी संख्या- क्रि0मिस0- 16763/2012 है, दायर किया है।

प्रसार भारती में इस साल 3500 लोगों को मिलेंगी नौकरियां

: मंत्री ने बताया 14000 पद खाली : भारत की सार्वजनिक प्रसारण संस्‍थान प्रसार भारती कर्मचारियों के कमी से जूझ रहा है. प्रसार भारती में 14 हजार से ज्‍यादा पद खाली पड़े हुए हैं. सूचना एवं प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी ने यह जानकारी तिरुवंतपुरम में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान दी. श्रीमती सोनी ने बताया कि इन खाली पदों में से साढ़े तीन हजार पदों को इसी साल भर लिया जाएगा. इसके लिए तैयारियां की जा रही हैं.

शिमला प्रेस क्‍लब के साधारण अधिवेशन का सदस्‍यों ने किया बहिष्‍कार

शिमला प्रेस क्लब का विवाद लगातार गहराता जा रहा है। क्लब के साधारण अधिवेशन का क्लब के सदस्यों ने बहिष्कार कर दिया। कुल 160 सदस्यों में से 140 सदस्य बैठक में नहीं आए। नतीजतन ‘कोरम’ पूरा न होने के कारण बैठक स्थगित कर दी गई। क्लब के लगातार पांच बार अध्यक्ष रह चुके वरिष्ठ पत्रकार कृष्णभानु ने इस साधारण अधिवेशन को पहले ही ‘गैरकानूनी’ घोषित कर दिया था। उनका आरोप था कि साधारण अधिवेशन बुलाने की प्रक्रिया को अनदेखा किया गया। रजिस्‍ट्रेशन एक्ट (अधिनियम) की धारा 20 (3) और उपविधि की धारा 32 (1) के अनुसार यह अधिवेशन पूरी तरह अवैध था।

लॉटरी निकली : अजमेर के 34 पत्रकारों को आबंटित होंगे भूखंड

नरेन शाहनी भगत की अध्यक्षता में बुधवार को कोटड़ा स्थित पत्रकार कॉलोनी के तीसरे चरण की लॉटरी निकाली गई। इसमें 34 पत्रकारों को भूखंड आवंटित किए जाएंगे। न्यास अब चौथे चरण के लिए जल्द आवेदन आमंत्रित करेगा। न्यास अध्यक्ष नरेन शाहनी भगत ने बताया कि पत्रकारों के हितों का पूरा ध्यान रखा जाएगा। जानकारी के मुताबिक बुधवार को नरेन शाहनी भगत की अध्यक्षता में आवंटन समिति की बैठक हुई। इसमें न्यास सचिव पुष्पा सत्यानी व अन्य अधिकारियों के अलावा पत्रकारों के प्रतिनिधि दैनिक नवज्योति के प्रधान संपादक दीन बंधु चौधरी, दैनिक भास्कर के स्थानीय संपादक डॉ. रमेश अग्रवाल, राजस्थान पत्रिका के स्थानीय संपादक दौलत सिंह चौहान, अजयमेरू प्रेस क्लब के अध्यक्ष याद हुसैन कुरैशी शामिल हुए।

हेमचंद्र पांडे की दूसरी बरसी पर गौतम नवलखा बताएंगे पत्रकारिता की हालत

: 2 जुलाई को आयोजित है व्‍याख्‍यान : इस साल का हेमचंद्र पांडे मेमोरियल लेक्चर जाने-माने नागरिक अधिकार कार्यकर्ता और ईपीडब्ल्यू के संपादकीय सलाहकर गौतम नवलखा देंगे. दूसरा हेम चंद्र पांडे स्मृति व्याख्यान 2 जुलाई, 2012 को है. वक़्त है शाम 4.30 बजे. स्थान- जवाहर लाल नेहरू नेशनल यूथ सेंटर (जीपीएफ़ के नज़दीक), दीन दयाल उपाध्याय मार्ग, आईटीओ, दिल्ली. विषय: भारतीय लोकतंत्र, जनाधिकार और पत्रकारिता की हालत.

जूते उतारने के बाद ही पत्रकारों को मिली माया के दरबार में एंट्री

एक खबर कल की है लखनऊ से. जैसा आपको मालूम है कि राष्ट्रपति चुनाव होने वाला है और इसी सिलसिले में कल केंद्रीय संसदीय कार्य राज्य मंत्री राजीव शुक्ल उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती से मिलने उनके आवास 13 ए माल एवेन्यू लखनऊ पहुंचे. जाहिर सी बात है दादा के समर्थन के लिए मायावती को प्रस्तावक बनाया गया है, उसी की कवरेज हेतु लखनऊ के सभी बडे़ पत्रकार भी पहुंचे, अपनी सबसे बड़ी दुश्‍मन के घर यानी मायावती के निजी आवास.

सवालों से घिरे मीडिया के कई दिग्गज खीझे और झल्लाए

Mayank Saxena : दिल्ली में कल एसपी सिंह स्मृति समारोह का आयोजन हुआ. इसमें मीडिया के कई दिग्गज आए थे. ये लोग सवालों में घिरे और घेरे गए. कई बार लोगों, जूनियर पत्रकारों और छात्रों के सवालों ने घेरा. ठीक वैसे ही ये लोग सवालों से घिरे जैसे उनके शोज़ में अमूमन नेता और बाकी लोग घिरते हैं। आप यकीन मानिएगा कई बार इनमें से ज़्यादातर के पास नेताओं से बहुत अलग जवाब नहीं थे, कई बार ये नेताओं की ही तरह खीझे और झल्लाए, कई बार ये बचकाने स्पष्टीकरण देने लगे, कई बार सिर्फ सहमति दे कर चुप हो गए…

वयोवृद्ध पत्रकार-साहित्यकार डॉ. रुक्म त्रिपाठी सम्मानित

: ‘बाजार में खड़ी है पत्रकारिता, जो कीमत चुकाता है, उसकी बोली बोलने लगती है’ : कोलकाता : पिछले दिनों यहां भारतीय भाषा परिषद के सभागार में हिंदी पत्रकारिता के 186 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में स्थानीय हिंदी दैनिक ‘छपते छपते’ के तत्वावधान में ‘हिंदी पत्रकारिता की 186 वर्ष की यात्राः एक सिंहावलोकन’ विषय पर परिचर्चा और हिंदी के पांच वयोवृद्ध पत्रकारों के सम्मान का समारोह आयोजित किया गया। इसमें डॉ. रुक्म त्रिपाठी, संतन कुमार पांडेय, सुदामा प्रसाद सिंह, मोहम्मद इसराइल अंसारी व रामगोपाल खेतान को पत्रकारिता में उनकी सेवाओं के लिए सम्मानित किया गया।

आजतक से रिटायर होने के बाद फेसबुक के जरिए शुद्ध हिंदी-उर्दू सिखा रहे हैं नकवी

कहते हैं सीखने की उम्र नहीं होती. वरिष्ठ पत्रकार कमर वहीद नकवी को ही ले लीजिए. वैसे तो ये रिटायर हो गए हैं. पर आजकल ये छात्र और गुरु, दोनों भूमिकाओं में आ चुके हैं. छात्र इसलिए कि वे हिंदी में टाइपिंग सीख रहे हैं और काफी कुछ सीख चुके हैं. गुरु इसलिए कि वे फेसबुक के माध्यम से पत्रकारों व अन्य लोगों को शुद्ध हिंदी उर्दू लिखना सिखा-बता रहे हैं. उनकी इस पहल को लोग खूब पसंद कर रहे हैं और संशय में पड़े लोग उनसे अपनी शंका का निराकरण भी करा रहे हैं.

साधना टीवी को निलय सिंह एवं हिंदुस्‍तान को सुनील सिंह ने अलविदा कहा

: अजय यादव नए प्रभारी बनाए गए : साधना न्‍यूज, रांची से खबर है कि निलय सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे चैनल में ब्‍यूरोचीफ के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे. निलय ने अपनी नई पारी रांची में ही आर्यन टीवी के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. निलय साधना की लांचिंग के समय से जुड़े़ हुए थे. वे इसके पहले सहारा तथा बीएजी को भी लंबे समय तक अपनी सेवाएं दे चुके हैं. निलय पिछले बारह सालों से पत्रकारिता में सक्रिय हैं. उनकी गिनती झारखंड के तेजतर्रार पत्रकारों में की जाती है. निलय के आर्यन ज्‍वाइन करने की पुष्टि झारखंड स्‍टेट हेड सर्वेश सिंह ने भी की.

जागरण, इलाहाबाद से पवन सक्‍सेना का इस्‍तीफा

दैनिक जागरण, इलाहाबाद से वरिष्‍ठ पत्रकार पवन सक्‍सेना ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा दैनिक जागरण के प्रबंधक को फैक्‍स से भेज दिया है. इस्‍तीफे की मूल कॉपी रजिस्‍टर्ड डाक से भेजी है. पवन का स्‍थानांतरण कुछ समय पहले ही बरेली से इलाहाबाद के लिए किया गया था. वे एक दशक से ज्‍यादा समय से बरेली में जागरण को अपनी सेवा दे रहे थे. वे बरेली में सिटी चीफ के रूप में कार्यरत थे.

जयकांत शर्मा स्‍मृति फोटो प्रतियोगिता के लिए प्रविष्ठियां आमंत्रित

उदयपुर। मोहनलाल सुखाडिया विश्‍वविद्यालय उदयपुर के पत्रकारिता विभाग और लेकसिटी प्रेस क्‍लब उदयपुर के संयुक्‍त तत्‍वावधान में राज्‍य स्‍तरीय जयकान्‍त शर्मा स्‍मृति फोटो प्रतियोगिता के लिए राजस्‍थान के फोटो पत्रकारों से 15 जुलाई तक प्रविष्ठियां आमन्त्रित की गई है। सुखाडिया विश्‍वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के प्रभारी डा. कुंजन आचार्य ने बताया कि सुविवि के स्‍वर्ण जयन्‍ती वर्ष के उपलक्ष्‍य में आयोजित की जा रही इस प्रतियोगिता के लिए 1 जुलाई 2011 से 30 जून 2012 के बीच समाचार पत्रों में प्रकाशित छायाचित्रों को प्रवि‍ष्‍ठी के तौर पर भेजा जा सकता है।

गहलोत सरकार नियम ताक पर रखकर देती है अधिस्‍वीकरण

राजस्थान सरकार का सूचना और जनसंपर्क विभाग बेचारा पत्रकारों के अधिस्वीकरण के नियम और कायदे निर्धारित करता है और मुख्य मंत्री का कार्यालय इन नियम कायदों की धज्जियां उड़ाता है. दूसरा कार्यकाल संभालते ही गहलोत सरकार ने राज्य में पहली बार वर्ष 2009 में तीन ऐसे फोटो-पत्रकारों को “विशिष्ट प्रकरण” मान कर अधिस्वीकरण किया वो भी स्वतंत्र फोटो पत्रकार के रूप में और उसके बाद ये “एहसान”  अब 2012 तक किसी अन्य पर नहीं किया गया.

ब्रेकिंग न्‍यूज ने रुकवा दी सरबजीत की रिहाई?

विदेश मंत्रालय सोता रहा और नींद के आगोश में हमारे विदेश मंत्री एसएम कृष्णा ने पाकिस्तान को सरबजीत की रिहाई पर बधाई भी दे दी. सवाल ये है कि अगर हमारी सरकार को पाकिस्तानी सरकार की तरफ से सरबजीत की रिहाई के बारे में कोई आधिकारिक सूचना नहीं थी, तो विदेश मंत्री को बधाई देने की जल्दी क्यों थी? सरबजीत पाकिस्तान के लाहौर की कोटलखपत जेल में मनप्रीत नाम के किसी शख्स की सज़ा काट रहा है. अपने आप में ये बेहद हैरान कर देने वाला मामला है जिसमें एक शख्स किसी दूसरे के नाम से सज़ा काट रहा है. पाकिस्तानी सरकार और वहां का सुप्रीमकोर्ट सरबजीत को सरबजीत मानने के लिए ही तैयार नहीं है. वो तो उसे मनप्रीत मान कर सजा दे चुका है. तो फिर कैसे बदला सारा घटनाक्रम… कैसे अचानक हुई सरबजीत की रिहाई की घोषणा.. और उसके छह घंटे बाद कैसे पाकिस्तान पलट गया?

पिंक सिटी प्रेस क्‍लब में कर्मचारियों को पीटने वालों का सम्‍मान!

: कानाफूसी : देशभर में अपना अलग स्थान रखने वाला पिंक सिटी प्रेस क्लब जयपुर इन दिनों आपसी विवादों का अड्डा बन गया है। आलम यह यह हैं कि क्लब के पदाधिकारियों की मौजूदगी में बाहरी तत्वों ने क्लब के कर्मचारियों की धुनाई की। इससे नाराज कर्मचारी एक एक कर नौकरी छोड़कर जा रहे हैं। पीड़ित कर्मचारियों को डरा धमकाकर उल्टा फंसाने की बात की जा रही है।

यह जागरण के पतन की शुरुआत है या मानवीय गलती है

: अखबार ने प्रकाशित की दो माह पुरानी खबर : अब लग रहा है कि दैनिक जागरण के पतन की शुरुआत हो रही है. या फिर खबरों का टोटा होने लगा है. या फिर अब ऐसे ही लोग बचे रह गए हैं, जिन्‍हें खबरों से कोई लेना देना नहीं है बल्कि किसी तरह पेज भरने से मतलब है. मामला जागरण, रायबरेली का है. अखबार ने दो महीने पुराने खबर को प्रकाशित कर दिया है. खबर समस्‍यात्‍मक होती तो शायद चल जाता, पर खबर बड़े लोगों से जुड़ा हुआ है, लिहाजा पूरे रायबरेली में अखबार की छीछालेदर हो रही है.

सीरिया में न्‍यूज चैनल पर बंदूकधारियों का हमला, सात की मौत

दमिश्क : सीरिया में सरकार समर्थक टीवी चैनल अल-इखबरिया के कार्यालय पर बुधवार को बंदूकधारियों द्वारा किए गए एक हमले में सात लोग मारे गए हैं। सरकारी समाचार एजेंसी साना ने यह जानकारी दी। सीरिया की राजधानी दमिश्क के दक्षिणी इलाके में हुए इस हमले में पत्रकार एवं सुरक्षाकर्मी मारे गए हैं। इस घटना से कुछ ही समय पहले राष्ट्रपति बशर अल-असद ने कहा था कि सीरिया इस समय पूर्ण युद्ध की स्थिति से गुजर रहा है।

घनश्‍याम कौशिक एवं विवेक आनंद की नई पारी

घनश्‍याम कौशिक ने खबरें अभीतक न्‍यूज चैनल से इस्‍तीफा दे दिया है. वे एसोसिएट प्रोड्यूसर कम एंकर के रूप में चैनल को अपनी सेवाएं दे रहे थे. घनश्‍याम ने अपनी नई पारी 4रीयल न्‍यूज के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी एसोसिएट प्रोड्यूसर कम एंकर बनाया गया है. घनश्‍याम इसके पहले जनसंदेश न्‍यूज चैनल समेत ईएसपीएन, चैनल वन और पीटीसी को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

बौखलाए बिगड़ैल नशेड़ी ने मीडियाकर्मियों के कैमरे पर हाथ मारा

पहले तो जुहू रेव पार्टी में जमकर नशे पर थिरके और जब पुलिस छापा पड़ा और जांच रिपोर्ट पाजिटिव आई तो बिगडैड़ रईसजादे बौखला गए हैं. ऐसा ही एक मामला जुहू पुलिस थाने में देखने को मिला. मीडिया वालों के सवालों से नाराज एक बिगड़ैल नशेड़ी ने मीडिया के कैमरा पर हाथ मार दिया. मीडियाकर्मियों से बदतमीजी भी की.

हिंदुस्‍तान में किसने किया पांच-पांच लाख रुपये का सौदा?

: कानाफूसी : यशवंतजी, मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (एमसीआई) के पूर्व चेयरमैन केतन देसाई के खिलाफ सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल किया है, जिस पर 21 जुलाई को सभी आरोपियों को तलब किया गया है. मामला बरेली के एसआरएमएस मेडिकल कालेज और रुहेलखंड मेडिकल कालेज में हुए घपले को लेकर है. पूर्व स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री रामदास भी इसमें शक के दायरे में हैं. मामला सीबीआई का है इसलिए खबर लखनऊ से जारी हुई.

शिमला में अमर उजाला को एक और झटका, निक्‍का राम हिंदुस्‍तान पहुंचे

अमर उजाला, शिमला को लगातार झटके लग रहे हैं. पिछले कुछ समय में लगभग दस लोगों ने अखबार को बाय करके दूसरे अखबारों की तरफ रुख किया है. ताजा खबर है कि शिमला में तैनात सीनियर सब एडिटर निक्‍का राम ने अमर उजाला से इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी देहरादून में हिंदुस्‍तान के साथ शुरू कर रहे हैं. उन्‍हें यहां भी सीनियर सब बनाया गया है. निक्‍का रामपुर ऑफिस के इंचार्ज थे. वे अमर उजाला से लंबे समय से जुड़े हुए थे तथा अखबार को धर्मशाला, जालंधर समेत कई स्‍थानों पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

अपनी भूमिका का पुनर्निधारण करे मीडिया : धूमल

शिमला। मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने विश्वसनीयता के संकट में चुनौतियों के दृष्टिगत मीडिया से अपनी भूमिका के पुन: निर्धारण का आग्रह किया है। मुख्यमंत्री आज चम्बा के प्रेस कक्ष में पत्रकारों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान सूचना प्रौद्योगिकी के इस दौर में न केवल मीडिया बल्कि समूचा समाज बदलाव के दौर से गुजर रहा है। उन्होंने कहा कि कोई भी सूचना सच्चाई एवं तथ्यों पर आधारित रह कर ही लम्बे समय तक स्थाई बनी रह सकी है।

आईआईएमसी के एडमिशन में फिर चलेगी डायरेक्टर सुनीत टंडन की मनमानी!

देश के सबसे प्रतिष्ठित कहे जाने वाले भारतीय पत्रकारिता संस्थान यानी आईआईएमसी में एडमिशन की प्रक्रिया आखिरी चरण में है और डायरेक्टर की मनमानी की चर्चा भी पूरे शबाब पर है। खबर है कि 28 जून से होने वाले इंटरव्यू से ऐन पहले न्यूज़ जर्नलिज्म के विभागाध्यक्ष शिवाजी सरकार को ही बोर्ड से हटा दिया गया है। इंटरव्यू बोर्ड में अब एक दूसरे सदस्य हेमंत जोशी को रख दिया गया है। ग़ौरतलब है कि हेमंत जोशी शुरुआत से ही जुगाड़ के भरोसे इस संस्थान में आए बताए जाते हैं। पिछले साल उन्हें ऐतिहासिक ढंग से बिना किसी प्रक्रिया के प्रमोशन भी दे दिया गया था।

छंटनी के विरोध में पत्रकारों ने जंतर मंतर पर दिया धरना

दिल्‍ली पत्रकार संघ के बैनर तले दर्जनों पत्रकारों ने 25 जून को जंतर-मंतर पर धरना दिया. ये पत्रकार बिना कारण के संस्‍थानों से निकाले जाने के विरोध में धरना दे रहे थे. इस धरना में लांच होने जा रहे 4रीयल न्‍यूज समेत कई संस्‍थानों से निकाले गए पत्रकार शामिल थे. पत्रकारों की मांग थी कि उनके लिए जर्नलिस्‍ट प्रोटेक्‍शन एक्‍ट लाया जाए. पत्रकारों ने इस संदर्भ में नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्‍ट (एनयूजे) को भी शिकायती पत्र भेजा है.

अमरीश त्‍यागी की मौत के लिए जागरण को जिम्‍मेदार मान रहे हैं पत्रकार

देवबंद (सहारनपुर) : जागरण प्रबन्ध तंत्र की उत्पीड़नात्मक नीतियों ने वरिष्‍ठ पत्रकार अमरीश त्‍यागी की जान ले ली। जागरण अखबार ने लगभग दो दशक से संस्थान की सेवा कर रहे अमरीश त्यागी के निधन पर प्रकाशित समाचार में उनके जागरण से जुडने तक का जिक्र करना भी गंवारा नहीं किया। इस घटना से नगर के पत्रकारों तथा अमरीश को जानने वालों में जागरण समूह के प्रति रोष पनप रहा है। लोग इस समूह के नाश होने की कामना करने लगे हैं।

महुआ समूह की नाजुक हालत के बीच आरसी शुक्‍ला का इस्‍तीफा

महुआ की खबरों की खुशबू शायद अब खात्‍मे पर है। इस समूह की महुआ न्‍यूज और न्‍यूज लाइन नामक दोनों चैनल अब दम तोड़ गये हैं। महुआ न्‍यूजलाइन तो पूरे यूपी में गधे के सिर की सींग की तरह खत्‍म हो गया है, जबकि महुआ न्‍यूज अब पटना और रांची में यदाकदा और कहीं-कहीं दिख जा रहा है। खबर तो यहां तक है कि इन दोनों चैनलों के कर्मचरियों को पिछले मई महीने से वेतन तक के दर्शन नहीं हुए हैं। स्ट्रिंगर्स को तो डेढ़ साल से पारिश्रमिक भुगतान दिया ही नहीं गया है। वैसे चर्चा के मुताबिक इस समूह में दूसरे ओहदे पर माने जाते आरसी शुक्‍ला ने आंतरिक स्थितियों से तंग आकर इस्‍तीफा दे दिया है। कई दूसरे बड़े मोहरों को भी जल्‍दी ही दरवाजे से निकालने की चर्चाएं भी बनती बतायीं जा रही हैं।

पड़ोसी के नौकर ने की थी पत्रकार सलमा जैदी के घर में चोरी

नई दिल्ली : पिछले दिनों वरिष्ठ महिला पत्रकार सलमा जैदी के घर चोरी के मामले में वसंतकुंज उत्तरी थाना पुलिस ने पड़ोसी के नौकर विष्णु को गिरफ्तार किया है। उसे घर खरीदने के लिए पैसों की जरूरत थी। पुलिस ने चोरी का सामान बरामद कर लिया है। डीसीपी, दक्षिण जिला छाया शर्मा के मुताबिक सलमा जैदी वसंतकुंज उत्तरी थाना क्षेत्र में रहती हैं। बीते 14 जून को वे घर से बाहर गई थीं। शाम को जब घर पहुंची तो ताला टूटा मिला। लाखों के गहने, विदेशी मुद्रा, दो महंगे मोबाइल, डीवीडी प्लेयर, कैमरा और अन्य सामान गायब था।

अफगानिस्‍तान की राजकुमारी से प्‍यार करते हैं राहुल गांधी?

नई दिल्ली : क्या कांग्रेस के महासचिव राहुल गांधी अफगानिस्तान की राजकुमारी से प्यार करते हैं? 'द संडे गार्जियन' में छपी रिपोर्ट को सही मानें तो ऐसा ही है। रिपोर्ट में राहुल गांधी का नाम अफगानिस्तान के पूर्व शासक मोहम्मद जहीर शाह की पोती से जोड़ा गया है। लेकिन रिपोर्ट में अफगानी राजकुमारी का नाम नहीं दिया गया है। मशहूर पत्रकार एमजे अकबर के साप्ताहिक अखबार 'द संडे गार्जियन' ने यह दावा भी किया है कि अफगानी राजकुमारी ने धर्म परिवर्तन करते हुए ईसाई धर्म भी स्वीकार कर लिया है। अखबार का दावा है कि यह जोड़ा रविवार को सोनिया गांधी के आवास पर आयोजित होने वाली प्रार्थना सभा होम चैपल में भी साथ-साथ हिस्सा ले चुका है।

बरगड में पत्रकारों पर हमला करने वाले डाक्‍टर के खिलाफ सड़क पर उतरे मीडियाकर्मी

 भुवनेश्वर। बरगड जिले में डाक्टर द्वारा पत्रकारों की पिटाई के मामले में मीडिया युनिटी फार फ्रीडम आफ प्रेस के बैनर तले मीडियाकर्मिय़ों ने धरना दिया तथा आरोपी डाक्टर की गिरफ्तारी की मांग की है। एमयूपीएफ की ओर से वरिष्ठ पत्रकार प्रशांत पटनायक ने बरगड में पत्रकारों पर हमले को अभिव्य़क्ति की स्वतंत्रता पर हमला तथा मानवीय मूल्य पर सीधा हमला बताते हुए आरोपी डाक्टर व उनके परिवार को सदस्यों के खिलाफ कडी कार्रवाई की मांग की है।

लोकमत समूह से सीओओ ज्‍वलंत स्‍वरूप का इस्‍तीफा

लोकमत मीडिया समूह से खबर है कि ज्‍वलंत स्‍वरूप ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीओओ के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे. ज्‍वलंत लोकमत समूह से पिछले 21 सालों से जुड़े हुए थे. उनकी गिनती समूह के तेजतर्रार अधिकारियों में की जाती थी. उन्‍होंने इस्‍तीफा भले ही दे दिया है परन्‍तु …

और एशिया का दूसरा सबसे पुराना न्‍यूज पेपर है…

एशिया के दूसरे सबसे पुराना न्‍यूज पेपर प्रकाशित करने का श्रेय भारत के पास है. पिछले डेढ़ सौ साल से भी अधिक समय से यह अखबार मुंबई से प्रकाशित हो रहा है. यह अखबार इसी साल अपने 180वें वर्ष में प्रवेश किया है. बाम्‍बे बेस्‍ड इस पारसी अखबार का नाम है- जाम ए जमशेद. इस अखबार की संपादक हैं. सेरनाज इंजीनियर. 180वें साल में प्रवेश करने पर इस अखबार के संपादक से डेक्‍कन हेराल्‍ड के प्रभात शरण ने बातचीत की. नीचे डेक्‍कन में प्रकाशित बातचीत….

साक्षी के वरिष्‍ठ पत्रकार एवं पुलिस अधिकारी के खिलाफ एफआईआर

हैदराबाद। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के एक वरिष्ठ अधिकारी के फोन कॉल के आकड़े से सम्बंधित विवाद ने मंगलवार को एक नया मोड़ ले लिया। साइबराबाद पुलिस ने मंगलवार को एक महिला की शिकायत पर एक पत्रकार और एक पुलिस अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज किया। सीबीआई अधिकारी इस महिला के सम्पर्क में था। तेलुगू दैनिक 'साक्षी' के एक वरिष्ठ संवाददाता के यादगिरि रेड्डी, और नचराम पुलिस थाने के पुलिस निरीक्षक एम श्रीनिवास राव तथा अन्य के खिलाफ एक मामला साइबराबाद आयुक्तालय के साइबर अपराध पुलिस थाने में दर्ज किया गया। 'साक्षी' वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के नेता वाई एस जगनमोहन रेड्डी के स्वामित्व वाला अखबार है।

ऋषि के इस्‍तीफे के बाद समीर जैन के दामाद सत्‍यन बने टीआईएल के सीईओ

टाइम्‍स आफ इंडिया से खबर है कि टाइम्‍स इंटरनेट लिमिटेड के नए सीईओ सत्‍यन गजवानी होंगे. सत्‍यम को ऋषि खियानी की जगह सीईओ बनाया गया है. ऋषि टाइम्‍स समूह से इस्‍तीफा देकर खुद का वेंचर लाने की योजना पर काम कर रहे हैं. ऋषि ने 2009 में टाइम्‍स समूह के इंटरनेट डिविजन को ज्‍वाइन किया था. इसके पहले वे वेब18 से जुडे हुए थे. वे इन दिनों नोटिस पीरियड पर चल रहे हैं. सत्‍यन को तत्‍काल प्रभाव से इंटरनेट कंपनी का सीईओ बना दिया गया है. सत्‍यन टाइम्‍स समूह के मालिक समीर जैन के दामाद हैं.

मेरी वर्षों पुरानी प्रतिष्‍ठा को धूमिल करने का प्रयास है : विनय

संपादक, भड़ास4मीडिया. महोदय, मैं पिछले आठ वर्ष से छत्‍तरपुर में प्रमुख एमएसओ एवं केबल ऑपरेटर हूं. विगत 24 जून को मनोज कुमार नाम के व्‍यक्ति द्वारा हमारे व हमारे सिटी न्‍यूज चैनल पेप्‍टेक टाइम के विरुद्ध भ्रामक एवं आपत्तिजनक खबर पोस्‍ट की गई है. इस खबर के चलते पेप्‍टेक केबल नेटवर्क एवं पेप्‍टेक टाइम न्‍यूज चैनल की वर्षों पुरानी प्रतिष्‍ठा धूमिल हुई है. कृपया इस खबर को भेजने वाले मनोज कुमार की जानकारी लेकर उसके खिलाफ उचित कार्रवाई कराएं तथा हमारा पक्ष जानकर खबर का प्रकाशन रोकने की कृपा करें.

Fraud Nirmal Baba (100) : निर्मल बाबा के अग्रिम जमानत याचिका पर फैसला सुरक्षित

अररिया। बिहार के अररिया जिले की एक स्थानीय अदालत ने स्वयंभू आध्यात्मिक गुरु निर्मल बाबा की अग्रिम जमानत याचिका पर बहस पूरी करने के बाद अपना फैसला मंगलवार को अगले आदेश के लिए सुरक्षित रख लिया। जिला न्यायाधीश संजय कुमार के कैंप कोर्ट ने निर्मल बाबा उर्फ निर्मलजीत सिंह नरुला की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी करने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया। निर्मल बाबा के वकील देवनारायण सेन ने अग्रिम जमानत की अर्जी दी थी।

बाल काटने पर मुस्लिम महिला एंकर को सस्‍पेंड किया गया

कुआलालंपुर। मलेशिया में एक टीवी एंकर का अपने बाल काटकर कैंसर जनजागरूकता अभियान का समर्थन करने का फैसला उसे महंगा पड़ा और उसे नौकरी गंवानी पड़ी। चैनल ने शर्त रखी है कि अब बाल बड़े होने के बाद ही उसे नौकरी पर रखा जाएगा। स्थानीय मीडिया ने मंगलवार को खबर दी कि लोकप्रिय मलेशियाई चैनल एनटीवी 7 की प्रजेंटर और टेलीविजन हस्ती रास अदिबा मोहम्मद रदजी ने दावा किया कि महिलाओं को सिर मुड़ाने के फतवे का उल्लंघन करने को लेकर अज्ञात व्यक्तियों ने फोन कर उसे गालियां दीं।

जागरण की छंटनी के शिकार हुए अमरीश त्‍यागी का निधन

दैनिक जागरण से छंटनी के शिकार हुए एक और पत्रकार काल के गाल में समा गए. बताया जा रहा है कि निकाले जाने के सदमे से वे उबर नहीं पाए और हार्ट अटैक के चलते उनका निधन हो गया. मामला सहारनपुर का है. देवबंद में बरसों से जागरण के लिए काम करने वाले अमरीश त्‍यागी का निधन हो गया. वे 49 साल के थे. वे बीस सालों से दैनिक जागरण से जुड़े हुए थे. परन्‍तु जागरण ने उनके सेवाभाव को सम्‍मान देने की बजाय उनके हिस्‍से में संस्‍थान से बाहर करने का अपमान दिया, जिससे वे उबर नहीं पाए.

न्‍यूज चैनलों में स्‍टूडियो डिस्‍कशन भड़ैती से ज्‍यादा नहीं

टीवी चैनलों में समसामयिक मुद्दों पर होने वाले स्टूडियो डिस्कशन जनोपादेयता की कसौटी पर निरर्थक साबित हो रहे हैं। कॉमेडी के नाम पर घटिया टिप्पणी व स्तरहीन भावभंगिमा देखने के बाद कम से कम दर्शकों को किरदारों के भोंडेपन से ओछा ही सही कुछ मनोरंजन तो होता ही है लेकिन स्टूडियो डिस्कशन से शायद यह भी हासिल नहीं हो पाता। दरअसल स्टूडियो डिस्कशन की अवधारणा मीडिया की उस मूल भूमिका से आती है जिसके तहत जनता को मुद्दों के बारे में सूचित करना, शिक्षित करना मीडिया का मुख्य कर्तव्य होता है। लेकिन तथ्यों की बेहद कम जानकारी, तर्कशास्त्र की अल्प समझ और यह भाव कि “दूसरे पक्ष को बोलने नहीं दिया”, मीडिया के इस पूरे प्रयास को बेमानी कर देता है।

परीक्षा में अखिलेश को सौ नंबर यानी माई-बिटिया गौनहर, बाप-पूत बजनिया

वो किसी को भी हतप्रभ कर देने वाला वाकया था। यूपी बोर्ड परीक्षा के दौरान प्रतापगढ़ के एक परीक्षाकेंद्र में उड़नदस्ते की टीम ने छापा मारा तो वहां का नजारा देख दंग रह गए। ब्लैक बोर्ड पर लिखे परीक्षा के सवालों के जवाब परीक्षार्थी उत्तर पुस्तिका में हूबहू उतार रहे थे। टीम के मुखिया का चेहरा गुस्से से लाल। ब्लैक बोर्ड की तरफ तेज आवाज में केंद्र प्रभारी को डपटा-ये…आखिर हो क्या रहा है? उससे से भी कड़कती आवाज में केंद्र प्रभारी ने कहा- देख नहीं रहे हैं, बोर्ड की परीक्षा बोर्ड पर हो रही है (यूपी बोर्ड की परीक्षा ब्लैक बोर्ड पर)।

विनीत की न्‍यूजटाइम्‍स के साथ नई पारी, जागरण से अनिल को हटाया गया

न्यूजटाइम्स24×7 में दो लोगों ने अपनी नई पारी की शुरुआत की है। इसमें कोमल रॉय और वीनीत शामिल हैं। इन दोनों की संस्थान के साथ यह दूसरी पारी है। दोनों कुछ समय पहले संस्थान में की गई छटनी में शामिल थे। अब दोनों ने संस्थान दोबारा से ज्वाइन कर लिया है। दोनों को असिस्टेंट प्रोड्यूसर बनाया गया है। और आउटपुट डेस्क पर अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे।

आज न्‍यूज चैनल के कार्यालय पर गोलीबारी, दो घायल

पाकिस्तान के कराची में एक निजी टेलीविजन चैनल आज न्यूज़ के केंद्रीय कार्यालय पर अज्ञात बंदूकधारियों की गोलीबारी में दो लोग घायल हो गए हैं. प्रतिबंधित तालिबान पाकिस्तान के प्रवक्ता एहसान अल्लाह एहसान ने समाचार पर हमले की जिम्मेदारी ली है. किसी निजी टीवी चैनल पर तालिबान के हमले का यह पहला प्रकरण है. तालिबान के प्रवक्ता ने बीबीसी संवाददाता दलावर खान मंत्री को अज्ञात स्थान से टेलीफोन कर हमले की ज़िम्मेदारी स्वीकार करते हुए कहा कि आज समाचार तालिबान विरोधी टिप्पणी कर रहा था और उनका पक्ष सही ढंग से पेश नहीं कर रहा था.

Fraud Nirmal Baba (99) : भड़ास को बधाई, पर चैनल वाले तो चोर लगते हैं

नमस्कार, सबसे पहले में भड़ास टीम को हार्दिक बड़ाई देता हूँ कि यह पाखंडी निर्मल बाबा के बारे में लोगों को जागरूक कर रही है। इस में योगदान देने के लिए मैं भी सदैव तैयार हूँ। और आप जो ये सामाजिक कार्य कर रहे हैं तो वो भी अपने आप में एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। मैं भी निर्मल जैसे पाखंडियों के बारे में बहुत कुछ करना-कहना चाहता हूँ मगर मेरे पास इतना कुछ साधन नहीं हैं और समझ में नहीं आता कि क्या करूँ?

टीआरपी बनाम गुणवत्‍ता : बाजार के दबाव से परेशान है समूचे विश्‍व का मीडिया

भारत में मीडिया की भूमिका को लेकर तीखी बहस होती है.आलोचक कहते हैं कि मीडिया अपना काम जिम्मेदारी से नहीं कर रहा. सूचना देने के अलावा लोगों को शिक्षित करना भी मीडिया का काम है. जर्मन शहर बॉन में भी एक ऐसी ही बहस चल रही है जिसमें 'संस्कृति, शिक्षा और मीडिया–टिकाऊ दुनिया का निर्माण' पर बात करने के लिए लोग इकट्ठा हुए हैं. यह सम्मेलन उसी बिल्डिंग में हो रहा है जिसमें कभी जर्मनी की ससंद बैठा करती थी. तब बॉन शहर पश्चिमी जर्मनी की राजधानी हुआ करता था.

कवि और पत्रकार हरे प्रकाश उपाध्याय ने शुरू किया ”युग ज़माना”

लखनऊ से प्रकाशित हिंदी दैनिक डेली न्यूज एक्टिविस्ट से अभी हाल में ही फीचर एडिटर पद से इस्तीफा देने वाले कवि और पत्रकार हरे प्रकाश उपाध्याय ने नया प्रयोग शुरू किया है. उन्होंने युग जमाना नाम से इंटरनेट पर एक पत्रिका लांच की है. पूरा पता www.yugjamana.org है. कादंबिनी, दिल्ली से इस्तीफा देने के बाद हरे प्रकाश लखनऊ में जनसंदेश टाइम्स के साथ जुड़ गए थे. वहां जब हालात खराब होने लगे तो डीएनए, लखनऊ से जुड़ गए. यहां का भी माहौल जब रास नहीं आया तो उन्होंने नौकरी को बाय बोलकर अपने मन का काम शुरू किया है.

लोकमत समाचार में मैनेजर बने आलोक, कोमल की नई पारी

हिंदुस्‍तान, मेरठ से खबर है कि आलोक कुमार शर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सेल्‍स हेड के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे थे. आलोक ने अपनी नई पारी लोकमत समाचार के साथ औरंगाबाद में शुरू की है. उन्‍हें मैनेजर बनाया गया है. आलोक पिछले ग्‍यारह सालों से इस क्षेत्र में सक्रिय हैं. इसके पहले वे अमर उजाला के साथ बनारस तथा लखनऊ में भी काम कर चुके हैं. उनकी गिनती तेजतर्रार मैनेजरों में की जाती है.

यूपी में मंत्री ने करा दिया पुलिस-प्रशासन पर हमला!

एक मंत्री का समर्थक था लूट का आरोपित। सीधे तौर पर तो मंत्री प्रशासन पर कार्रवाई नहीं कर पाये, लेकिन मंत्री ने अपने समर्थकों को इशारा कर दिया। अभी जिले के आला अफसर मौके पर अपराधियों से पूछताछ में जुटे थे, कि अचानक मंत्री के समर्थकों ने अपने साथियों को छुड़ाने के लिए प्रशासन पर दबाव बनाने को थाने पर ही हमला करा दिया। अपराधियों को जेल बंद करने की कार्रवाई के दौरान करीब साढ़े तीन सौ समर्थकों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी और जिलाधिकारी की कार को पुल से फेंक कर गोमती नदी के हवाले कर दिया। अब यह कथित मंत्री इस मामले से अपना नाम हटाने की जुगत में है और बेबस प्रशासन मंत्री का नाम इस मामले से गोल करने की कवायद में है। प्रदेश पुलिस भी इस मामले में माझी का नाम बचाने में जुटी है।

सुरक्षा कानून की मांग को लेकर लखनऊ के पत्रकारों ने धरना दिया

लखनऊ। पत्रकारों की सुरक्षा के लिए अलग से कानून बनाये जाने की मांग को लेकर राजधानी के पत्रकार आज विधान भवन के सामने धरने पर बैठे। धरने में भारी संख्या में पत्रकार, छायाकार और मीडियाकर्मी शामिल हुए। धरने का आयोजन नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स (इण्डिया) की राज्य शाखा उ.प्र. जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (उपजा) ने किया।  धरने को सम्बोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि देश भर में पत्रकारों की सुरक्षा खतरे में है। पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने की परिस्थितियां दिन प्रतिदिन विषम होती जा रही हैं।

अमेरिका नहीं भेजे जाने की गारंटी चाहते हैं जूलियन असांजे

सिडनी। विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे ने सोमवार को इस बात की राजनयिक गारंटी दिए जाने की मांग की कि यदि उन्हें आपराधिक आरोपों का सामना करने के लिए स्वीडन भेजा जाता है तो गोपनीय दस्तावेजों के प्रकाशन को लेकर उन्हें अमेरिका के हवाले नहीं किया जाएगा। 40 साल के ऑस्ट्रेलियाई नागरिक असांजे ने कहा कि वह यौन शोषण आरोपों में बहस का सामना करने के लिए स्वीडन जाने को तैयार हैं लेकिन उन्हें डर है कि स्टॉकहोम उन्हें अमेरिका के हवाले कर देगा जहां उन पर विकीलीक्स द्वारा किए गए खुलासों के लिए जासूसी और साजिश रचने के आरोपों का सामना करना पड़ सकता है।

बिल्‍ड की बुराई कर सकते हैं, पर उसके बिना नहीं रह सकते

: विवादों के बीच अखबार के साथ साल पूरे : करीब आठ करोड़ की आबादी वाले जर्मनी में बिल्ड त्साइटुंग नाम के अखबार की 4.1 करोड़ कॉपियां बिकती हैं. अखबार अपनी 60वीं वर्षगांठ मना रहा है. अखबार आए दिन आलोचनाएं भी झेलता है लेकिन फिर भी सबको हिलाता रहता है. कई लोग बिल्ड त्साइटुंग को समचारों के लिए पढ़ते हैं और कई लोग इसमें छपने वाली निर्वस्त्र युवतियों की तस्वीरों के लिए अखबार खरीदते हैं. लेकिन इस बात से कोई इनकार नहीं करता कि बिल्ड की हेडलाइन गजब तीखी और जज्बाती होती है. अखबार छोटी और चटकारेदार हेडलाइन के लिए मशहूर है. 2005 में जब जर्मनी के योसेफ राटत्सिंगर पोप चुने गए तो बिल्ड त्साइटुंग ने हेडलाइन दी, "वियर सिंड पाप्स्ट" यानी 'हम पोप हैं.'

डीएलसी के आदेश पर जागरण, बरेली के पत्रकारों को मिली मई की सैलरी

दैनिक जागरण, बरेली से खबर है कि छंटनी की लिस्‍ट में शामिल किए गए पत्रकारों को प्रबंधन ने मई माह की सैलरी प्रदान कर दी है. प्रबंधन ने एक दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारियों से इस्‍तीफा मांगा था, जिसमें एडिटोरियल समेत कई विभाग के कर्मचारी शामिल थे. इन लोगों ने उप श्रमायुक्‍त का दरवाजा खटखटाया था. डीएलसी (उप श्रमायुक्‍त) एमएल चौधरी ने जागरण प्रबंधन को तीन दिन के भीतर मई माह का वेतन देने तथा 22 जून को कर्मचारियों का नियुक्ति पत्र तथा संस्‍थान का स्‍टैंडिंग आर्डर प्रस्‍तुत करने का आदेश दिया था. डीएलसी कोर्ट में ही मजीठिया वेज बोर्ड की सुनवाई भी चल रही है. 

मुंबई में एनबीटी के 62 साल पूरे, प्रसून जोशी, चित्रांगदा समेत कई होंगे सम्‍मानित

टाइम्‍स समूह के हिंदी दैनिक नवभारत टाइम्‍स के मुंबई में 62 वर्ष पूरे होने जा रहे हैं. इस अवसर प्रबंधन मुंबई में 'एनबीटी उड़ान अवार्ड' समारोह का आयोजन कर रहा है. 26 जून यानी कल मुंबई के ताज में आयोजित समारोह में अखबार मुंबई के प्रमुख हस्तियों को सम्‍मानित करेगा. एनबीटी पिछले पांच सालों से हिंदी भाषा में बेहतर काम करने वालों को सम्‍मानित करता आ रहा है. कार्यक्रम के मुख्‍य अतिथि महाराष्‍ट्र के सीएम पृथ्‍वीराज चव्‍हाण होंगे. इस बार गीतकार प्रसून जोशी, चित्रांगदा सिंह, मिलिंद देवड़ा समेत कई हस्तियों को एनबीडी उड़ान से सम्‍मानित किया जाएगा.

ईराक में बीबीसी समेत 44 मीडिया संस्‍थानों को बंद करने का आदेश

बगदाद : ईराक सरकार ने देश में संचालित हो रहे 44 मीडिया संस्थानों को बंद करने का आदेश दिया है, जिनमें ब्रिटिश ब्राडकास्टिंग कारपोरेशन (बीबीसी) और वायस आफ अमेरिका भी शामिल हैं। सूत्रों ने बताया कि इराक सरकार की प्रसारक नियमन संस्था कम्युनिकेशन्स एण्ड मीडिया कमीशन (सीएमसी) ने प्रसारण लाइसेंस की फीस जमा नहीं किये जाने की वजह से यह आदेश जारी किया है हालांकि अभी उसने अपनी तरफ से कोई अन्य कार्रवाई नहीं की है।

झारखंड में दैनिक भास्‍कर से कई के इस्‍तीफा देने की चर्चाएं

: कानाफूसी :  दैनिक भास्‍कर, झारखंड में इन दिनों चर्चाओं ने हलचल मचा रखा है. कुलदीप व्‍यास के झारखंड हेड बनाए जाने के बाद ही अनुमान लगाया जा रहा था कि तमाम बदलाव होंगे, किए जाएंगे, दिखाई पड़ेंगे. अब कई तरह की चर्चाएं हैं. संपादकों के बदले जाने की चर्चा है तो दूसरे विभागों से इस्‍तीफा दिए जाने की खबरें हैं. हालांकि आधिकारिक रूप से इस बात से इनकार किया जा रहा है, लेकिन जिस तरह की बातें हो रही हैं, उससे लगता है कि कहीं न कहीं अंदर खिचड़ी जरूर पक रही है.

जागरण में बंपर छंटनी (42) : हरियाणा में गैर बिहारी बनाए जा रहे छंटनी के शिकार

दैनिक जागरण, हरियाणा में इस समय जमकर क्षेत्रवाद चल रहा है. इस तरह की चर्चा हर यूनिट में है. इसको बल इसलिए भी मिला है कि अब तक दैनिक जागरण से जितने भी लोग छंटनी के शिकार बनाए गए हैं, वे हरियाणा या यूपी के हैं. बिहार के एक भी बंदे को बाहर नहीं किया गया है. इन यूनिटों में हर कोई बस यही चर्चा कर रहा है कि अगर आप हरियाणा में जागरण की नौकरी करना चाहते हैं तो आपकी पहली प्राथमिकता बिहारी होनी चाहिए और दूसरी ब्राह्मण. तीसरी आप किसी के रिश्‍तेदार हो तो सोने पर सुहागा है.

शिमला प्रेस क्‍लब का साधारण अधिवेशन भी विवादों में घिरा

विवादों में घिरे प्रेस क्लब शिमला का साधारण अधिवेशन भी विवादास्पद हो गया है। क्लब की संचालन परिषद की 2 जून की बैठक में 27 जून को साधारण अधिवेशन बुलाए जाने का फैसला लिया गया, लेकिन इसकी जानकारी 22 जून तक किसी को नहीं दी गई। 22 जून को सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के प्रेस रूम में लगे अखबार के बक्सों में पत्र डालकर साधारण अधिवेशन की सूचना दी गई। यानी ठीक पांच दिन पहले सदस्यों को साधारण अधिवेशन की सूचना देने के लिए यह नायाब तरीका खोजा गया, जिसने अपने आप में बॉयलाज और सरकारी अधिनियम की धज्जियां उड़ा दी हैं। यह साधारण अधिवेशन नियमानुसार नहीं बुलाया गया, नतीजतन सब कुछ ‘अवैध’ हो गया है।

भ्रष्‍टाचार के आरोप में भास्‍कर के रमेश अग्रवाल सहित 21 के खिलाफ कोर्ट में अर्जी

: 26 जून को होगी अगली सुनवाई : इंदौर। केंद्र सरकार द्वारा संचालित नागरिक सुविधा केंद्र (कॉमन सर्विसेस सेंटर) योजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए इंदौर की विशेष अदालत में एक अर्जी पेश कर धोखाधड़ी व भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा में आपराधिक केस दर्ज करने की मांग की गई है। अर्जी में दैनिक भास्कर के रमेशचंद्र अग्रवाल को राईटर्स एंड पब्लिशर्स लिमिटेड भोपाल के डायरेक्टर के नाते आरोपी बनाया गया है, मामले में एनजीओ संस्था नेटवर्क फॉर इनफार्मेशन एंड कम्प्यूटर टेक्नालॉजी (एनआईसीटी) के कर्ताधर्ताओं सहित कुल 21 लोगों को आरोपी बनाया गया है।

पूर्वी दिल्‍ली में कुछ नेताओं का मुखपत्र बन गया है दैनिक जागरण

पूर्वी दिल्ली में इनदिनों दैनिक जागरण कुछ नेताओं का मुखपत्र बनकर रह गया है. नेताओं के दौरे से लेकर दूसरे प्रोग्राम प्रमुखता से छापे जा रहे हैं. इतना ही नहीं कुछ नेताओं की प्रेस विज्ञप्ति तक जागरण कार्यालय से बनकर जा रही है. इसके अलावा कुछ नेताओं के कार्यक्रम तक जागरण कार्यालयों से तय हो रहे हैं. बात में कितनी सच्चाई है इसकी प्रमाणिकता पिछले एक माह के पूर्वी दिल्ली संस्कार को देख कर साफ लगाई जा सकती है.

पत्रकार डा. वेदप्रताप वैदिक के पिता का निधन

नई दिल्ली। प्रसिद्ध पत्रकार एवं राजनीतिक चिंतक डॉ. वेदप्रताप वैदिक के पिता जगदीश प्रसाद वैदिक का आज दोपहर इंदौर में निधन हो गया है। उनकी आयु 88 वर्ष थी। उनकी अंत्येष्टि कल सुबह इंदौर में की जाएगी। डॉ. वैदिक और उनके परिवार के सभी लोग कल सुबह विमान से इंदौर पहुंचेंगे। जगदीश प्रसाद वैदिक का संन्यासी नाम स्वामी वैदिकानंद था। उनका जन्म इंदौर में हुआ था। वे किशोरावस्था से ही समाज सुधार और राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते रहे। वे मध्यप्रदेश के आर्य समाज आंदोलन के सूत्रधारों में से एक थे। उन्होंने अपने जीवन को सदाचार, निर्भयता और सत्य के आग्रह का अनुपम उदाहरण बनाया था।

अजय शर्मा के उजाला कार्यालय में घुसने पर पाबंदी, नवीन का जागरण से इस्‍तीफा

अमर उजाला, मेरठ से खबर है कि अजय शर्मा के ऑफिस में घुसने पर पाबंदी लगा दी गई है. वे जूनियर सब के पद पर कार्यरत थे. इन दिनों बागपत डेस्‍क पर काम कर रहे थे. अजय पिछले चार सालों से अमर उजाला से जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है कि यह कार्रवाई अनुशासनहीनता के चलते की गई है. सूत्रों का कहना है कि उन्‍होंने एनई के साथ बदतमीजी की थी, जिसके बाद उनके कार्यालय में घुसने पर रोक लगा दी गई. समझा जा रहा है कि जल्‍द ही उनको बाहर किया जाएगा.

आखिर क्‍यों पत्रकारों के बूथ में प्रवेश पर पाबंदी लगाई गई?

बलिया। किसी चुनाव को सम्पन्न कराने में शासन व प्रशासन का अहम योगदान रहता हैं। वहीं मीडिया की भी अपनी महत्‍वपूर्ण भूमिका रहती हैं। लेकिन इस बार के निकाय चुनाव में समाचार संकलन के लिए प्रशासन ने जो प्रेस पास जारी किया वह पत्रकारों के लिए गले के पट्टे की कहावत चरितार्थ कर रहा है। साथ ही एक बारगी यह सोचने पर भी विवश कर रहा है कि कहीं चुनाव में गड़बड़ी करने या गड़बड़ी होने की आशंका तो प्रशासन को नहीं थी। कहीं इसीलिए प्रशासन ने पत्रकारों को जो प्रेस पास जारी उस पर बूथ पर जाने पर रोक लगा दिया।

पत्रकार सुरक्षा कानून के लिए पत्रकार लखनऊ में सोमवार को देंगे धरना

लखनऊ। पत्रकार सुरक्षा कानून बनाये जाने की मांग को लेकर नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स (इण्डिया) के आह्वान पर राजधानी के पत्रकार सोमवार को विधान भवन के सामने धरना देंगे। धरने का आयोजन एनयूजे की राय शाखा उ.प्र.जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (उपजा) ने किया है। उपजा के प्रदेश अध्यक्ष रतन कुमार दीक्षित ने जानकारी देते हुए बताया कि पत्रकारों का धरना पूर्वान्ह 11 बजे से अपरान्ह 2 बजे तक होगा। धरने पर बड़ी संख्या में राजधानी के पत्रकार, छायाकार एवं मीडियाकर्मी बैठेंगे। धरने के बाद उपजा के पदाधिकारी राजभवन जाकर महामहिम को ज्ञापन भेट करेंगे।

सरोज सम्‍मान से सम्‍मानित होंगे राजेश जोशी

भोपाल : साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्‍मानित प्रख्‍यात कवि राजेश जोशी को वर्ष 2012 के जनकवि मुकुट बिहारी सरोज सम्‍मान से नवाजा जायेगा। श्री सरोज जी के जन्मदिन 26 जुलाई को आयोजित गरिमामय समारोह में यह सम्‍मान प्रदान किया जायेगा। चैंबर ऑफ कामर्स भवन में आयोजित इस कार्यक्रम में श्री राजेश जोशी को श्रीफल शॉल सम्‍मान पत्र और 11 हजार रुपये की सम्‍मान निधि भेंट की जायेगी।

प्रभात खबर, पटना के पाठकों के दिन की शुरुआत आम की खुशबू के साथ

पटना : प्रभात खबर के पटना शहर के पाठकों की खातिर 23 जुलाई का दिन बहुत ही खास रहा. अपने पाठकों को चौंकाने के लिए बिहार में पहली बार सुंगधित अखबार पहुंचाने का प्रयोग प्रभात खबर ने किया. 23 जुलाई की सुबह प्रभात खबर अपने पाठकों के घर आम की भीनी खुशबू के साथ पहुंचा. अखबार के इस प्रयोग व प्रयास को पाठकों ने भी खूब सराहा. अखबार ने खुशबूदार अखबार पर पाठकों की राय को भी एसएमएस पर आमंत्रित किया था. सुबह से ही बड़ी संख्या में एसएमएस आने का दौर शुरू हुआ, जो दिन के 12 बजे तक जारी रहा. करीब 96 प्रतिशत पाठकों ने खुशबूदार अखबार के प्रयोग की काफी सराहना की है.

सिद्धार्थनगर में विवाद के बाद जर्नलिस्‍ट प्रेस क्‍लब का गठन

सिद्धार्थनगर प्रेस क्‍लब में भगदड़ की स्थिति मच गई है. इसी भगदड़ में कुछ लोगों ने प्रेस क्‍लब छोड़कर नया संगठन जर्नलिस्‍ट प्रेस क्‍लब का गठन कर लिया. मामला हिसाब-किताब के विवाद को लेकर पैदा हुआ. सिद्धार्थनगर प्रेस क्‍लब के वरिष्‍ठ उपाध्‍यक्ष संतोष कुमार पाण्‍डेय ने प्रेस क्‍लब के आय-व्‍यय का हिसाब मीटिंग में मांगा तो अध्‍यक्ष संतोष कुमार श्रीवास्‍तव तथा महामंत्री सलमान आमिर नाराज हो गए. मीटिंग करके दोनों ने संतोष कुमार पाण्‍डेय को निकाल दिया.

अनुराग कश्‍यप के निशाने पर पत्रकार पंकज शुक्‍ल

गैंग ऑफ वासेपुर से एक बार फिर चर्चा में आए अनुराग कश्‍यप का विवादों के साथ चोली और दामन का साथ है। हमेशा विवादों में रहने वाले अनुराग अपनी नकारात्‍मक खबरों पर पत्रकारों को गाली देने से भी बाज नहीं आते हैं। कुछ दिनों पहले वरिष्‍ठ पत्रकार सुभाष के झा को गधा तक कह चुके अनुराग के निशाने पर इनदिनों मुंबई के एक पत्रकार हैं।

दिनकर जी का जन्‍म दिन और छप्‍पन भोग

किसी चुनाव के दौरान अगर जन्‍मदिन पड़ जाए तो क्‍या कहना? और जन्‍मदिन पत्रकार का हो तो फिर तो सोने पर सुहागा है. मेरठ में दैनिक जागरण के एक वरिष्‍ठ पत्रकार के जन्‍मदिन मनाने की चर्चा चहुं ओर छाई हुई है. पचास से ज्‍यादा बसंत देख चुके इन पत्रकार महोदय को अचानक जन्‍मदिन मनाने की बात सूझ गई. सूझे भी क्‍यों नहीं निकाय चुनाव का दौर जो चल रहा है. फिर क्‍या था? इसके पहले के जन्‍म दिन भले ही न मने हों, पर इस बार जन्‍मदिन मनाने में इन्‍होंने बिल्‍कुल कोताही नहीं बरती. पर अजीब बात यह हो गई कि पत्रकार महोदय ने मेरठ भर के धन्‍ना सेठों को तो जन्‍मदिन की पार्टी में बुलाया पर अपने साथियों को भूल गए. 

पत्रिका समूह के डिप्‍टी एडिटर भुवनेश जैन को राष्‍ट्रीय पत्रकारिता पुरस्‍कार

भोपाल। माधवराव सप्रे स्मृति समाचार-पत्र संग्रहालय एवं शोध संस्थान भोपाल के 28 वें स्थापना दिवस के मौके पर शनिवार को लाल बलदेव सिंह राष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार पत्रिका समूह के डिप्टी एडीटर भुवनेश जैन को धारदार पत्रकारिता के लिए मिला। राज्यपाल रामनरेश यादव द्वारा दिए गए पुरस्कार को उनकी अनुपस्थिति में पत्रिका भोपाल के स्थानीय संपादक हरीश मलिक ने ग्रहण किया।

चर्तु‍थ लाडली मीडिया अवार्ड के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित

पॉपुलेशन फर्स्ट द्वारा जेंडर संवेदनीलता पर चतुर्थ लाडली मीडिया पुरस्कार 2011..12 के लिए मीडिया की प्रविष्टियां आमंत्रित की गई है। लाडली मीडिया राष्ट्रीय अवार्ड के तहत प्रिंट मीडिया, विज्ञापन, टेलीविजन, रेडियो, वेब मीडिया से संस्थागत अथवा स्वतंत्र रूप से जुडे वह सभी प्रतिभागी हिस्सा ले सकते हैं जिन्होंने न्यूज, फीचर, खोजपरक रिपोर्ट, संपादकीय, आलेख, विज्ञापन, ई मैगजीन, ब्लॉग, वेब ग्रुप्स, सोल मीडिया कैम्पेन, डाक्यूमेंट्री, धारावाहिक, रेडियो नाटक एवं मुद्दों पर आधारित कार्यक्रम के माध्यम से लिंग आधारित भेदभाव को चुनौती देते हुए विभि मुद्दों को उठाया तथा बालिकाओं की सकारात्मक छवि चित्रित की है।

अंग्रेजी अखबार के पत्रकारों ने संपादक से जबाब तलब किया

हांगकांग के एक अंग्रेजी अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के पत्रकारों ने अपने संपादक से जवाब तलब किया है कि लोकतंत्र समर्थक कार्यकर्ता ली वांगयांग की मौत को क्यों बेहद कम कवरेज दी गई. वो अस्पताल के कमरे में लटके हुए पाए गए थे. ली दृष्टिहीन थे और दो दशक जेल में गुजारे के बाद चलने फिरने के काबिल भी नहीं रह गए थे. चीनी अधिकारियों का कहना है कि उन्होंने आत्महत्या की है जबकि हांगकांग में बहुत से लोगों का मानना है कि उनकी हत्या की गई है.

आदित्‍याज प्रबंधन ने नौकरी ले ली, पर छह माह की सैलरी नहीं दी

श्रीमान भड़ास मीडिया प्रभारी यशवंत जी, सादर नमस्कार मैं कई बार अपने दिल की भड़ास आपकी लोकप्रिय वेबसाइट पर भेज चुका हूं, लेकिन मेरी दिल की बात आज तक प्रकाशित नहीं की गई। मुझ गरीब से ऐसी क्या गलती हो गई। हम ग्वालियर से प्रकाशित दैनिक हिन्दी समाचार पत्र दैनिक आदित्याज में काम करते थे। जिन्हें विगत माह नौकरी से एक साथ निकाल दिया गया। उसके मालिक दीपेन्द्र टमोटिया, जीएम दुबे जी, संपादक अरविन्द चौहान जी हैं।

डीएम के सामने ही आपस में भिड़ गए गोण्‍डा के पत्रकार

यूपी के गोण्‍डा जिले में शनिवार को पत्रकार जिलाधिकारी के सामने ही एक दूसरे भिड़ गए. एक दूसरे को देख लेने तक की धमकी दे डाली. किसी तरह बीच बचाव करके मामला शांत कराया गया. जिलाधिकारी ने निकाय चुनाव को लेकर प्रेसवार्ता बुलाई थी, इसमें जिले भर के मीडियाकर्मी बुलाए गए थे. इसी बीच एक पत्रकार डीएम से कुछ सवाल करने लगे. सवाल निकाय चुनाव से संदर्भित न होकर व्‍यक्तिगत हो गए. जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि अगर व्‍यक्तिगत सवाल पूछने हैं तो बाद में मिल लीजिएगा.

छत्‍तरपुर में खुलेआम वसूली कर रहा है साधाना न्‍यूज का पत्रकार

मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में पेप्टिक केबल नेटवर्क (एमएसओ) के दम पर साधना न्यूज़ एमपी/ सीजी में नियुक्त हुए लोकेश चौरासिया ने साधना न्यूज़ की माइक आईडी पकड़ते ही जिले में व्यापारियों, मेडिकल संस्थानों और शिक्षण संस्थानों के संचालकों से अवैध वसूली करना शुरू कर दी है. कक्षा दसवीं फ़ेल इस पत्रकार ने पहले शहर के दीपक किराना स्टोर से राजश्री नाम का गुटका पकड़कर उसे अधिकारियों के नाम पर धमकाने लगा.

क्‍लाउन टाइम्‍स के खिलाफ कोर्ट पहुंचे जी न्‍यूज के पूर्व स्ट्रिंगर रामसुंदर राजू

बनारस में जी न्‍यूज से जुड़ा विवाद अब कोर्ट में पहुंच गया है. जी न्‍यूज यूपी के पूर्व स्ट्रिंगर राम सुंदर राजू ने इस मामले में वेबसाइट क्‍लाउन टाइम्‍स को कोर्ट में घसीट लिया है. उन्‍होंने वेबसाइट पर मानहानि करने का आरोप लगाया है. इस मामले की अगली सुनवाई 28 जून को होगी. जी न्‍यूज बनारस में ब्‍यूरोचीफ विकास कौशिक एवं राम सुंदर राजू के बीच काफी लम्‍बे समय से शीत युद्ध चल रहा था. इसके चलते राम सुंदर अपने फीड कार्यालय से भेजने की बजाय अपने खर्चे पर दूसरे स्‍थानों से भेजते थे.

सुभाष राय ने डेली न्यूज एक्टिविस्ट का प्रधान संपादक पद छोड़ा

लखनऊ से सूचना है कि सुभाष राय ने हिंदी दैनिक डेली न्यूज एक्टिविस्ट का प्रधान संपादक पद छोड़ दिया है. वे कुछ महीने पहले ही इस अखबार से जुड़े थे. उससे पहले वे लखनऊ से प्रकाशित हिंदी दैनिक जनसंदेश टाइम्स के लांचिंग चीफ एडिटर थे. सुभाष राय अमर उजाला, आगरा में लंबे समय तक संपादक रहे हैं. बाद में वह अजय अग्रवाल के हिंदी दैनिक डीएलए के एडिटर बने. डेली न्यूज एक्टिविस्ट से सुभाष राय के साथ आए हरे प्रकाश उपाध्याय ने पहले ही इस्तीफा दे दिया है. यह पता नहीं चल पाया है कि सुभाष राय नई पारी कहां शुरू करने जा रहे हैं.

राज एक्‍सप्रेस से डीजीएम केके दुबे तथा टीवी9 से प्रदीप शुक्‍ला का इस्‍तीफा

राज एक्‍सप्रेस, जबलपुर से खबर है कि केके दुबे ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर मार्केटिंग और सेल्‍स विभाग में डीजीएम के पद पर कार्यरत थे. वे लगभग चार सालों से राज एक्‍सप्रेस को अपनी सेवाएं दे रहे थे. केके ने अपनी नई पारी मुंबई बेस्‍ड विज्ञापन एजेंसी कांसेप्‍ट कम्‍युनिकेशन के साथ अपनी नई पारी शुरू की है. उन्‍हें ब्रांच मैनेजर बनाया गया है. केके राज एक्‍सप्रेस में ब्रांडिंग इवेंट और प्रमोशन की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. 

एनबीटी में रामकृपाल सिंह बने नेशनल एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर, संजय खाती, दिलबर गोठी आरई बनाए गए

नवभारत टाइम्‍स में कई सीनियर जर्नलिस्‍टों का प्रमोशन किया गया है. प्रबंधन ने अपने तीन सीनियर जर्नलिस्‍टों को प्रमोट कर आरई बना दिया है. वहीं संपादक रामकृपाल सिंह का कद भी बढ़ा दिया गया है. उन्‍हें प्रबंधन ने प्रमोट करके नेशनल एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर बना दिया है. वरिष्‍ठ पत्रकार संजय खाती को प्रमोट करके एनबीटी के दिल्‍ली एडिशन का स्‍थानीय संपादक बनाया गया है.

बिहार में दैनिक जागरण के अवैध संस्‍करणों की पोल पीसीआई टीम के सामने खोली गई

: जागरण पर भी विज्ञापन फर्जीवाड़ा करने का आरोप : सीबीआई से जांच कराने की मांग : मुंगेर। भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्त्ति मार्कण्डेय काटजू के द्वारा भारतीय प्रेस परिषद के संविधान की धारा 13 के अधीन ‘‘बिहार में सच लिखने, दिखाने और बोलने की पत्रकारीय अभिव्यक्ति पर सरकारी दबाव‘‘ की जांच के लिए परिषद के सदस्य राजीव रंजन नाग की अध्यक्षता में गठित ‘जांच कमिटी‘ के समक्ष मुजफ्फरपुर और मुंगेर में क्रमशः 11 और 12 जून को दैनिक जागरण के सरकारी विज्ञापन के फर्जीवाड़ा को ससबूत उजागर किया गया।

सीपी ठाकुर के सामने भाजपा विधायक ने पत्रकार को पीटा, हत्‍या की धमकी भी दी

मुजफ्फरपुर। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सीपी ठाकुर के प्रेसवार्ता के दौरान शनिवार को मुजफ्फरपुर से भाजपा विधायक सुरेश शर्मा व उनके समर्थकों ने एक अंग्रेजी अखबार के पत्रकार की जमकर पिटाई कर दी। विधायक ने पत्रकार को दो दिनों के अंदर जान से मार देने की धमकी भी दी। पीडि़त पत्रकार अजय पांडेय ने विधायक सुरेश शर्मा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. सीपी ठाकुर एवं दो अज्ञात हमलावरों पर काजी मुहम्मदपुर थाना में जान से मारने की प्राथमिकी दर्ज करायी है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

सड़ता गेहूं और अखिलेश सरकार के सौ दिन!

प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सरकार के सौ दिन पूरे हो गये। शपथ लेने के बाद अखिलेश की सादगी और काम करने की लगन देखकर लगता था कि सौ दिन के बाद इस नौजवान को शाबाशी देने जैसी कई चीजें हम लोगों के पास होंगी। मगर सौ दिन पूरा होने पर एक बड़ी खबर और कई फोटो अखबार में दिखाई दी कि प्रदेश में हजारों कुंतल गेहूं पहली बरसात में ही सड़ गया क्योंकि कुछ नाकारा अफसर इस गेंहू को गोदामों में रखने की व्यवस्था नहीं कर पाये। यह खबर बेहद सदमा देने वाली है, साथ ही यह एहसास कराने वाली भी कि सिंहासन पर बैठने वाले लोग ही बदलते है व्यवस्थायें नहीं बदलतीं। अभी भी हालात ज्यों के त्यों हैं। गरीब को अनाज नहीं और तंत्र चलाने वालों के पास अनाज को रखने की जगह नहीं।

नेपाल के लिए आगे क्‍या है रास्‍ता?

जब डा. बाबू राम भटटराई नेपाल के प्रधानमंत्री बने थे तब नेपाली जनता में यह आशा जगी थी कि नेपाल में राजनीतिक गतिरोध जल्द ही समाप्त हो जायेगा। नया संविधान बनेगा। नया नेपाल नई रोशनी में तरक्की और खुशहाली की नई इबारत लिखेगा। इस सोच के पीछे कुछ जायज वजहें भी थीं। मसलन डा. बाबूराम भटटराई का उदारवादी चेहरा। राजनैतिक दूरदृष्टी। जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय की उनकी शैक्षणिक पूष्ठभूमि। यही नहीं माआवादियों के भूमिगत आन्दोलन के दौरान जो कुछ जानकारी उनके बारे में छनकर आती थी उससे भी उनके विराट राजनैतिक व्यक्त्वि का ही पता चलता था। संविधान सभा के चुनाव में गोरखा से वे सभासद चुने गये थे। वे सर्वाधिक 82 प्रतिशत मत हासिल करने वाले वे नेपाल के पहले सभासद थे। जो रिकार्ड मतों से जीते थे।

पाकिस्‍तानी एफएम रेडियो बनेगा भारतीय सुरक्षा के लिए खतरा!

बाड़मेर। बाड़मेर के सीमावर्ती इलाकों में पाकिस्तानी मोबाइल नेटवर्क मिलने की समस्या से भारत सरकार अब तक मुक्ति नहीं पा सकी हैं और बाड़मेर जिला कलेक्टर को अंत में थार एक्सप्रेस में आने वाले यात्रियों से मोबाइल सिम कार्डस और मेमोरी कार्ड पर प्रतिबंध लगा कर इसका समाधान करने का प्रयास किया गया, लेकिन एक नई समस्या अब पाकिस्तान सरहदी इलाको में रेडियो के माध्यम से भारत के सामने खड़ी कर रहा है।

पत्रकार के खिलाफ एकतरफा कार्रवाई की निंदा

बिलासपुर। पत्रकारों की बैठक हिमाचल प्रदेश राज्‍य पत्रकार महासंघ के राज्‍य अध्‍यक्ष की अध्‍यक्षता में सर्किट हाउस में हुई, जिसमें हिमाचल प्रदेश यूनियन ऑफ जर्नलिस्‍ट के राज्‍य महामंत्री भी उपस्थित थे. बैठक में सर्वसम्‍मति से निर्णय लिया गया कि एक पत्रकार के खिलाफ प्रदेश सरकार के बिलासपुर खेल होस्‍टल में तंत्र मंत्र प्रकरण की कवरेज के दौरान जो झूठे पुलिस केस बनाए गए, उसकी सभी पत्रकार एक स्‍वर से निंदा करते हैं.

हफ्तावसूली के आरोप में गिरफ्तार कर पत्रकार की निर्मम पिटाई

: पुलिस-ठेकेदार के गठजोड़ ने दिया काम को अंजाम : मुंबई में एक पत्रकार को पुलिस ने बेरहमी से पीटा. उस पत्रकार की गलती बस इतनी थी कि वो मुंबई के धारावी इलाके में होने वाले अवैध निर्माणों के खिलाफ मोर्चा खोल रखा तथा जिसके चलते कई निजी ठेकेदारों का अवैध निर्माण नगर निगम ने तुड़वा दिया था. पत्रकार को पुलिस ने हफ्तावसूली के आरोप में गिरफ्तार करके के बाद उसके परिवार वालों से बात भी नहीं करने दिया. कोर्ट में जब उन्‍हें पेश किया गया तो जज ने मामला संदिग्‍ध पाते हुए उन्‍हें जमानत दे दिया.

मिहिर एस शर्मा ने लिखा – गूगल सर्च इंजन का बढि़या इस्‍तेमाल करते हैं पी साईनाथ

अंग्रेजी अखबार द हिंदू के वरिष्‍ठ पत्रकार तथा ग्रामीण मामलों के संपादक पी साईनाथ अपने लेखों के माध्‍यम से हमेशा चर्चा में रहते हैं. ग्रामीण समस्‍याओं पर लिखे गए उनके लेखों की अक्‍सर सराहना होती है. इसके लिए उन्‍हें मैगसेसे पुरस्‍कार भी मिल चुका है. वे खुलकर किसी पर निशाना साधते हैं. पर इस बार उन पर बिजनेस स्‍टैंडर्ड के ओपिनियन पेज के संपादक तथा हावर्ड शिक्षित पत्रकार मिहिर एस शर्मा ने निशाना साधा है. 

झा जी कहिन (5) : ये पत्रकार हैं और इनकी अपने प्रदेश में बहुत चलती है

कल शाम एक पुराने दोस्त के घर बैठा था. एक लम्बे अरसे के बाद उनसे ताबदलाए-ख्याल का मौका था. कई मसलों पर हमारी गुफ्तगू हुई. चाय पानी का दौर चला और उसके बाद एक बड़े ही लम्बे-चौड़े डील डौल वाले जनाब से मेरा तार्रुफ़ कराया गया कि ये भी पत्रकार हैं और अपने प्रदेश में इनकी बहुत ही "चलती है". मेरे दोस्त का अंदाज़े-बयां कि "भाई, ये नए दौर के सहाफी है. साथ में तमंचा लिए चलते हैं. गाडी हैं, ड्राईवर हैं और कभी कभार एक गार्ड भी साथ होता है." और भी हैरान कर गया.

…और दादा नाराज हो गए

दादा… यानि की कमर वहीद नकवी। उनके साथी और शिष्य उन्हें इसी नाम से पुकारते हैं। शांत और सौम्य दादा को बहुत कम लोगों ने ही नाराज देखा होगा। उनमें से हम कुछ लोग हैं। गलती हमारी ही थी। असल में, आईआईएमसी (२००७-०८) के दिनों की बात है। आनंद सर… की मनुहार पर दादा हिन्दी पत्रकारिता की कक्षाएं लेने को तैयार हुए थे। पहली कक्षा में टेलीविजन पत्रकारिता के गूढ़ तत्वों की जानकारी देने के पश्चात उन्होंने हमें कुछ गृहकार्य दिया था। अगले दिन हम पहुंचे तो ३९ विद्यार्थियों में से कुछ श्रेष्ठ और विज्ञ विद्यार्थियों ने ही गृहकार्य को अंजाम दिया था।

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (11) : 1.11 लाख पाठकों के साथ बरेली में हिंदुस्‍तान नम्‍बर वन

हिंदुस्‍तान यूपी में अपने नए संस्‍करणों के साथ लगातार बढ़ता जा रहा है. बरेली में हिंदुस्‍तान की पाठक संख्‍या एक लाख ग्‍यारह हजार तक पहुंच गई है. अखबार में किए गए दावे के अनुसार हिंदुस्‍तान बरेली का नम्‍बर एक अखबार हो गया है. इसके साथ ही मेरठ में सात फीसदी, आगरा में 17 फीसदी और अलीगढ़ में भी 45 फीसदी बढ़ोत्‍तरी के साथ अपने प्रतिद्वंद्वी अखबारों को पीछे छोड़ दिया है. नीचे अखबार में प्रकाशित खबर.  

खबर भारती में पिकअप और ड्रांपिंग सुविधा बंद

खबर भारती के हालात लगातार बिगड़ते चले जा रहे हैं. जैसे जैसे समय गुजर रहा है चैनल से कई खबरें आने लगी हैं. एक वक्‍त जो चैनल मध्‍य प्रदेश, छत्‍तीसगढ़ और राजस्‍थान में बुलंदियों के झंडे गाड़ने के दावे करता था, छह महीने में ही धराशायी होने लगा है. अब खबर है कि चैनल के भीतर की स्थितियां लगातार खराब होती जा रही हैं. मंदी के चलते कर्मचारियों के लिए शुरू की गई पिक अप और ड्रापिंग की सुविधा बंद कर दी गई है. 

न्‍यूज24 के पत्रकार ने दुकान दिलाने के नाम पर ठग लिए ढाई लाख रुपये!

करनाल के हरविंदर सिंह एक पत्रकार के कृत्‍य से बुरी तरह परेशान हैं. उन्‍होंने उसके खिलाफ कोर्ट में भी मुकदमा कर रखा है पर यह पत्रकार कोर्ट में भी उपस्थित नहीं हो रहा है. बकौल हरविंदर सिंह – तेजेंद्र मोहन मेहता नाम का पत्रकार उनसे एक दुकान का सौदा करने के नाम पर ढाई लाख रुपये चार साल पहले ले लिए, इसके बाद न तो उसने दुकान दिलाई और ना ही पैसे वापस कर रहा है. हरविंदर परेशान हैं. पुलिस भी इनका सहयोग नहीं कर रही है. 

टीओआई ने 22 दिन बाद प्रकाशित की अपने पूर्व संपादक के निधन की खबर

पत्रकारिता संस्‍थानों में बनते-बिगड़ते-बदलते दौर में अब अपने पुराने वरिष्‍ठ सहयोगियों के बारे में खबर रखने की जरूरत नहीं रह गई है. कुछ ऐसा ही वाकया टाइम्‍स ऑफ इंडिया के वरिष्‍ठ पत्रकार रहे अल्‍फ्रेड डी क्रूज के साथ हुआ है. टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने इस अखबार के संपादक रहे क्रूज के निधन की खबर 22 दिन बाद प्रकाशित की है. भारत के पहले एडिटोरियल इम्‍पलाई बनने वाले डी क्रूज का निधन बीते 1 जून को मुंबई में हो गया था. वे अपने पीछे एक पुत्र और तीन पुत्रियों का भरापूरा परिवार छोड़ गए हैं.

दिवंगत चार पत्रकारों के परिजनों को पेंशन प्रदान किया गया

संबलपुर : मंगलवार की शाम, स्थानीय नगरपालिका कार्यालय के सभा कक्ष में आयोजित एक समारोह में, दिवंगत चार मीडिया कर्मियों के विधवाओं को मासिक पेंशन प्रदान किया गया। इस समारोह का आयोजन ओड़िशा पत्रकार संघ के संबलपुर शाखा की ओर से किया गया। जिसमें जिलाधीश डॉ.मृणालिनी दर्शवाल मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहीं। जबकि प्रभारी नगरपाल सिद्धार्थ साहा सम्मानित अतिथि के रूप में मंचासीन रहे।

फिल्म पत्रकार करंजिया का निधन, रविवार को अंतिम संस्कार

पुणे, एजेंसी : प्रसिद्ध फिल्म पत्रकार और राष्ट्रीय फिल्म विकास निगम (एनएफडीसी) के पूर्व अध्यक्ष बर्जर के करंजिया का शनिवार को निधन हो गया। यह जानकारी उनके एक पारिवारिक मित्र ने दी है। वह 92 वर्ष के थे। उनका अंतिम संस्कार रविवार सुबह किया जाएगा। करंजिया का शुक्रवार देर शाम निधन हुआ। वह अपने पीछे दो पुत्रियां और एक पुत्र छोड़ गए हैं। क्वेटा में पैदा हुए और पले-बढ़े करंजिया का परिवार विभाजन के बाद भारत आ गया था। क्वेटा इस समय पाकिस्तान का हिस्सा है।

जागरण, जमशेदपुर में फिर पुरानी खबर नई बनाकर परोसी गई

स्‍वयं को दुनिया का सबसे अधिक पढ़ा जाने वाले अखबार के रूप में प्रचारित करने वाला दैनिक जागरण पाठकों को किस प्रकार दिन के उजाले में बेवकूफ बना रहा है इसकी एक और बानगी जमशेदपुर में सामने आयी है। पुरानी खबर को चोरी करके बिना अतिरिक्‍त इनपुट उसे पुनर्प्रकाशित कर पाठकों को गुमराह करने वालों में इस बार नाम जुडा है दैनिक जागरण जमशेदपुर के एक और वरिष्‍ठ पत्रकार का। इन्‍होंने एक माह पूर्व 20 मई को सभी अखबार में छपी पुरानी खबर को पाठकों के सामने नये अंदाज में ऐसे परोस दिया मानों ख्‍ाबर कल की ही हो। हालांकि जागरण के इस पत्रकार की चोरी भी गूगल ने ही पकड ली है। इस तरह जागरण जमशेदपुर के संपादकीय प्रभारी जितेन्‍द्र शुक्‍ला का एक और नौरत्‍न बेनकाब हो गया है।

TDSAT fines Star, MSM, Zee for aiding ‘illegal’ MSO in Himachal

New Delhi, PTI : Broadcast tribunal TDSAT has pulled up channel distributing firms – Star Den, MSM Discovery and Zee Turner – for letting their signals be distributed illegally by a Punjab-based leading MSO (multiple system operator) in Himachal Pradesh, without getting necessary approvals. It has said that the three "shall also pay a sum of Rs 25,000 each to the petitioner", the MSOs of Himachal, which had brought the case before it. Besides, the TDSAT has asked the Telecom Regulatory Authority of India (TRAI) to probe, if possible, the three firms' role apprehending that without their "connivance" the MSO, Fastway, could not have become a dominant player with 65 per cent market share in Himachal Pradesh.

अब तो यह स्पष्ट है, राजदीप-आशुतोष-पुगलिया की कमान अंबानी के हाथ

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग ने साफ कह दिया है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) का नेटवर्क18 और टीवी18 पर अप्रत्यक्ष नियंत्रण है. ईटीवी के चैनल्स भी रिलायंस के इशारे पर राघव बहल ने खरीदे थे. राघव बहल नेटवर्क18 और टीवी18 के चेयरमैन हैं. यह ग्रुप सीएनबीसी आवाज जिसके एडिटर इन चीफ संजय पुगलिया हैं, सीएनएन आईबीएन जिसके एडिटर इन चीफ राजदीप सरदेसाई हैं, आईबीएन7 जिसके मैनेजिंग एडिटर आशुतोष हैं आदि चैनलों को संचालित करता है.  पूरी खबर इस प्रकार है…. : RIL controls Network18 group indirectly, says CCI : Regulator says subsidiary as protector of holding trust gives it control media group says RIL or the trust not acquiring control : N Sundaresha Subramanian / New Delhi Jun 23 :

भास्‍कर में अरविंद सैनी का तबादला दिल्‍ली से गुडगांव

दैनिक भास्‍कर, दिल्‍ली से खबर है कि अरविंद सैनी का तबादला गुडगांव कर दिया गया है. अरविंद दिल्‍ली में पिछले दो सालों से क्राइम रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. अरविंद की गिनती तेज तर्रार क्राइम रिपोर्टरों में की जाती है. वे दिल्‍ली आने से पहले गुडगांव में ही भास्‍कर को अपनी सेवाएं दे रहे …

समाचार प्लस चैनल में राहुल डबास सीनियर करेस्पांडेंट बने

खबरें अभी तक न्यूज चैनल में कार्यरत स्पेशल करेस्पांडेंट राहुल डबास नई पारी की शुरुआत समाचार प्लस चैनल के साथ करने जा रहे हैं. वे समाचार प्लस में सीनियर करेस्पांडेंट बनाए गए हैं. वे समाचार प्लस के साथ काम 15 जुलाई से शुरू कर देंगे. राहुल एनएनआई, जनसंदेश न्यूज, सीएनईबी न्यूज, पी7, आंखों देखी आदि चैनलों-कंपनियों के साथ काम कर चुके हैं.

राजेश शर्मा ने हरियाणा न्यूज के न्यूज डायरेक्टर पद से इस्तीफा दिया

राजेश शर्मा ने हरियाणा न्यूज़ के न्यूज़ डायरेक्टर के पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपना इस्तीफा कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर और हरियाणा के गृह मंत्री गोपाल कांडा को भेज दिया है. राजेश शर्मा ने इस्तीफे का कराण निजी वजह बताया है. उनका कहना है वे जल्दी ही अपने प्रोजेक्ट और भविष्य से जुड़ी कुछ योजनाओ को शुरू करने वाले है. राजेश शर्मा ने हरियाणा न्यूज़ के सभी साथियों का धन्यवाद देते हुए उनके सुखद भविष्य की कामना की और चैनल में बिताए गए वक्त को यादगार करार दिया. उल्लेखनीय है कि राजेश शर्मा कई न्यूज चैनलों में वरिष्ठ पदों  पर रह चुके हैं. उन्हें हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, दिल्ली-एनसीआर के मार्केट का एक्सपर्ट माना जाता है.

टीवी9 ग्रुप में इंटरटेनमेंट हेड बने पंकज शुक्‍ल

मुंबई के जाने मान पत्रकार पंकज शुक्‍ल ने नेशनल दुनिया से इस्‍तीफा दे दिया है. वे नेशनल दुनिया के मुंबई ब्‍यूरो के हेड थे. पंकज ने अपनी नई पारी टीवी9 नेटवर्क के साथ शुरू की है. उन्‍हें इंटरटेनमेंट हेड बनाया गया है. वे टीवी9 समूह के सभी चैनलों की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. पंकज शुक्‍ल ने अपने …

पत्रकार काजमी की न्‍यायिक हिरासत 3 जुलाई तक बढ़ी

 नई दिल्ली : इजरायली दूतावास कार विस्फोट मामले में आरोपी बनाए गए पत्रकार सैयद मोहम्‍मद अहमद काजमी की न्यायिक हिरासत कोर्ट ने बढ़ा दी है. न्‍यायिक हिरासत अवधि खत्म होने पर पुलिस ने उन्‍हें शुक्रवार को तीसहजारी कोर्ट में पेश किया. मुख्य महानगर दंडाधिकारी विनोद यादव ने पुलिस की दलील को सुनने के बाद पत्रकार …

पत्रिका-नईदुनिया की अर्जियां कोर्ट से खारिज

इंदौर। भोपाल के बहुचर्चित शेहला मसूद हत्याकांड की मुख्य षड़यंत्रकारी जाहिदा परवेज से विशेष मुलाकात करनेवाले पत्रिका के स्टेट हेड व नईदुनिया के एक रिपोर्टर की अर्जियां इंदौर में सीबीआई की कोर्ट ने 22 जून को खारिज कर दी है। पत्रिका के स्टेट हेड अरुण चौहान की ओर से 11 जून को सीबीआई की स्पेशल मजिस्‍ट्रेट डा. शुभ्रा सिंह के न्यायालय में पेश कर जाहिदा से जेल में विशेष मुलाकात के लिए एक अर्जी दी थी, जिस पर जाहिदा ने भी ऐतराज नहीं उठाया था और न्यायालय के समक्ष खुद भी उनसे मिलने की मंशा जताई थी।

एसपी साहब को पत्रकारों से परहेज, एक समय में एक पत्रकार को मिलने की इजाजत

शाहजहांपुर। सपा शासन में मीडिया को काफी अहमियत दी जाती है। पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह ने तो अपने शासनकाल में पत्रकारों के हित के लिए काफी कुछ किया था। बसपा की सरकार आई तो अफसरों ने शासन की मंशा के अनुरूप मीडिया से दूरियां बढ़ा लीं, जिसका बसपा को खामियाजा भी भुगतना पड़ा। अब फिर सपा की सरकार है। तीन महीने हो गए सपा की सरकार बने हुए, लेकिन अफसरों पर अभी भी बसपा का ‘रंग’ उतरा नहीं है। खुद सपा सरकार भी कई बार अफसरों को हिदायत दे चुकी है कि वह सुधर जाएं।

मीडियाकर्मियों के कैमरों से डरते हैं डीएम साहब!

श्रीगंगानगर। भारत-पाकिस्तान सीमा से सटे श्रीगंगानगर के जिला कलेक्टर अम्बरीश कुमार को लगता है मीडियाकर्मियों से डर है। यहां तक कि मीडियाकर्मियों के कैमरे से भी उन्हें बहुत बड़ी परेशानी है। तभी तो जिला कलेक्टर द्वारा बुलाई गई प्रेस कांफ्रेंस में जब मीडियाकर्मियों ने कैमरे निकाले, तो कलक्टर साहब ऐसे चमके जैसे मीडिया कर्मियों के हाथों में कैमरे ना होकर चप्पल हो, जो कभी भी उन पर फेंक सकते हैं। उन्होंने मीडियाकर्मियों से तत्काल कैमरे बंद करने का कह दिया।

श्रीगंगानगर में पत्रकार ही बना पत्रकारों का दुश्मन

श्रीगंगानगर। राजस्थान सरकार ने रियायती दरों पर भूखंड देने की योजना चला रखी है, तो जरूरतमंद पत्रकार इस योजना का लाभ उठाने के लिए प्रयासरत हैं। अब जब गंगानगर में नगर विकास न्यास ने 62 भूखंड पत्रकारों के लिए आरक्षित कर दिये, तो एक पत्रकार, जो प्रिंट मीडिया से लम्बे समय से जुड़ा हुआ है तथा एक राष्ट्रीय समाचार पत्र में कार्यरत है। इसके अलावा वह अपने आप को इलेक्ट्रानिक मीडिया का रिपोर्टर भी बताता है, यही पत्रकार अन्य पत्रकारों का दुश्मन बन गया है।

शिमला में 27 जून को सम्‍मानित होगा भड़ास4मीडिया

मीडियाकर्मियों की आवाज बेबाकी से उठाने वाले न्‍यूज पोर्टल भड़ास4मीडिया को 27 जून को शिमला में सम्‍मानित किया जाएगा. भड़ास को यह सम्‍मान हिमाचल प्रदेश के सीआईडी एवं जेल निदेशक आईडी भंडारी सम्‍मानित करेंगे. भड़ास4मीडिया को यह सम्‍मान सिटी चैनल के सौजन्‍य से पत्रकारों की आवाज को बड़े ही बेबाक ढंग से उठाने के लिए दिया जाएगा. यह पुरस्‍कार भड़ास4मीडिया के सीईओ-एडिटर यशवंत सिंह ग्रहण करेंगे.

जेल की चहारदीवारी के भीतर से लांच होगा साप्‍ताहिक ”डेमोक्रेसी पोस्‍ट”

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला से प्रकाशित होने जा रहे राष्‍ट्रीय हिन्दी सप्ताहिक समाचार पत्र ‘‘डेमोक्रेसी पोस्ट’’ का आगाज़ उन चहारदीवारी के अन्दर से होगा जहां कैदियों के अन्दर नई विचार धारा विकसित करके फिर से समाज का एक हिस्सा बनाने की हर मुमकिन कोशिश की जा रही है। जहां भले ही कैदी चहारदीवारी के गुलाम हों लेकिन उनकी सोच आज़ाद है। आज वो बेहतर समाज का एक मजबूत अंग बनने के लिए उस तरह तैयार हो रहे हैं, जैसे किसी लोहे को पक्का कर तैयार किया जाता है। जेल प्रशासन चाहता है कि आने वाली समय में इन्हें किसी का मोहताज न होना पड़े, जो कभी अपराधी बनकर जेल में आए थे। वो जब बाहर जाए तो समाज को भी आईना दिखाएं, साथ ही समाज का एक मजबूत हिस्सा बन कर सामने आएं।

शिवपाल सिंह यादव इतनी स्‍पीड में क्‍यों हैं?

अखिलेश सरकार के कबीना मंत्री शिवपाल सिंह यादव इतनी स्पीड में क्यों हैं? पीडब्ल्यूडी और सिंचाई विभाग उनके जिम्मे हैं। दोनों ही अति महत्वपूर्ण। सबसे ज्यादा इन्हीं विभागों में हडकंप मचा हुआ है। देखने में तो लगता है कि पीडब्ल्यूडी को गर्मियों में ही ज्यादातर सड़कें बनानी होती हैं। सिंचाई विभाग को इसी मौसम में बाढ़-सूखा नहरें-बांध-नलकूप सबकी व्यवस्था दुरुस्त करनी होती है इसीलिए वह बहुत तेजी के साथ अपने विभागों से काम ले रहे हैं। जो देखने में लगता है वह सही भी है, मगर है यह कि शिवपाल सिंह सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई व मुख्यमंत्री अखिलेश के सगे चाचा हैं। अखिलेश से सीनियर कद्दावर, ताकतवर हर तरह से।

अमर उजाला, गुडगांव के ब्‍यूरोचीफ विकास त्रिपाठी सस्‍पेंड!

अमर उजाला, गुडगांव से खबर है कि ब्‍यूरोचीफ विकास त्रिपाठी को सस्‍पेंड कर दिया गया है. फिलहाल वे छुट्टी पर चल रहे हैं. अभी प्रबंधन ने उन्‍हें बाहर नहीं किया है. विकास पर कुछ आरोप लगे थे, जिसके बाद प्रबंधन ने यह कदम उठाया है. इस मामले में उनके खिलाफ जांच चलने की भी खबरें …

दादा ने आजतक की सफलता को कभी अपने सिर चढ़ने नहीं दिया

दादा आखिरकार रिटायर हो गए. दादा यानि कमर वाहिद नकवी. मीडिया में बहुत दिन नहीं हुए. १० साल में इतना कुछ देखा, सुना और जाना कि अब और ज्यादा जानने की तमन्ना नहीं है. कोई पत्रकार दिल से इज्जत हासिल कर पाया हो, ऐसा भी नहीं है. जरनैल सिंह को दिल से प्यार करता हूँ. हमेशा उस खुद्दार आदमी से कहा भी कि भाई हर वक़्त तुम्हारे साथ हूँ, लेकिन जरनैल ने कभी बेहद मुश्किल वक़्त में भी मदद का एक लफ्ज नहीं बोला. पक्का सरदार. अच्छा इंसान और शानदार पत्रकार, लेकिन जरनैल को सफलता के पैमाने पर आंकें तो शायद बहुत बड़े ''असफल'' करार दिए जाएँ.

हिंदुस्‍तान, नोएडा के एनई ने ली आठ महीने में ग्‍यारह की बलि, बारहवें को लेकर चर्चा!

हिंदुस्‍तान के नोएडा ब्‍यूरो के एनई सुनील द्विवेदी बड़ी तेज रफ्तार से बलि ले रहे हैं. नोएडा में आए आठ महीने ही हुए हैं लेकिन वे अब तक नोएडा से ग्‍यारह कर्मियों की बलि ले चुके हैं. समझा जा रहा है कि और लोगों की बलि अभी ली जाएगी. आरोप यह भी लगाया जा रहा है कि यह बलि काम के आधार पर नहीं बल्कि अपने लोगों को सेट करने के लिए ली जा रही है. पिछले कुछ समय में नोएडा में हुई नियुक्तियां इसकी चुगली भी कर रहे हैं. जो भर्तियां हुई हैं वे कानपुर और गोरखपुर से हुई हैं, जहां वे पहले काम कर चुके हैं.

इलना प्रतिनिधिमंडल ने अपर निदेशक को ज्ञापन दिया

मेरठ । देश भर के समाचार पत्र संचालकों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रयासरत भारतीय भाषाई समाचार पत्र संगठन इलना के एक प्रतिनिधि मंडल द्वारा बीते 18 जून को उत्तर प्रदेश सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के अपर निदेशक डाक्टर अनिल कुमार से राष्‍ट्रीय जनरल सेकेट्री अंकित विश्नोई के नेतृत्व में मुलाकात की गई। सायं लगभग 4 बजे सूचना भवन लखनऊ स्थित अपर निदेशक के कार्यालय कक्ष में हुई मुलाकात के दौरान श्री अंकित विश्नोई द्वारा राष्‍ट्रीय उपाध्यक्ष रवि कुमार विश्नोई राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य राजीव वशिष्ठ एवं विपिन मोहन शर्मा की मौजूदगी में उन्हें 15 मांगों से संबंधित अलग-अलग ज्ञापन सौंपकर उनके समाधान का आग्रह किया गया। सारी बाते गंभीरता पूर्वक सुनकर डा. अनिल कुमार ने नियमानुसार सभी बिन्दुओं का निदेशक /सचिव से विचार विमर्श कर समाधान कराने का आश्वासन दिया।

उत्तराखंड में सहारा समय और नेटवर्क टेन का दबदबा बढ़ा, ईटीवी पिछड़ा

हाल के दिनों में उत्तराखंड की पत्रकारिता में कुछ सकारात्मक बदलाव के लक्षण नजर आ रहे हैं। ईटीवी का दबदबा अब खत्म हो रहा हैं। उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में सहारा समय ने ईटीवी को काफी पीछे छोड़ दिया है। अब सहारा समय पर यदि कोई खबर आती है तो उसकी चर्चा अक्सर कभी फोन तो कभी आपसी बातचीत में आ जाती है। दरअसल ईटीवी की साख उसी समय खत्म होनी शुरु हो गई थी जब रमेश पोखरियाल निशंक राज्य के मुख्यमंत्री थे।

कर्मचारियों को निकालने के कई तरीके आजमा रहे अखबार प्रबंधन, पत्रिका ने पासपोर्ट मांगा

एक नई खबर आई है. जैसे-जैसे वेजबोर्ड की देनदारी का समय नजदीक आ रहा है, कुछ अखबारी संस्थान इसका तोड़ ढूंढ़ रहे हैं. उसका सबसे बेहतर तरीका है, कर्मचारियों को किसी भी बहाने से परेशान कर चलता कर देना. कर्मचारी अगर काम में खरा है तो उसे किसी और तकनीकी तरीके से चलता करने का तरीका अखबार के आफिसों में बैठे खटमल किस्म के गैर पत्रकार लोग मालिकों को सुझा रहे हैं. नई दुनिया जैसे सम्मानित संस्थानों ने अपने बाप दादाओं का नाम तो बेच दिया, अब जिसे बेचा है वे लोग कर्मचारियों से वेजबोर्ड की कोई सुविधा नहीं मांगने का एग्रीमेंट साइन करा रहे हैं.

झा जी कहिन (4) : क्‍या भैंस किसी चैनल मालिक के स्‍वीमिंग पूल में नाज नखरे दिखाएगी?

कुछ दिनों पहले एक खबरिया पोर्टल पर एक बहुत ही तेज-तर्रार खबरिया चैनल की भैंस भरी दोपहर में ही डूबते देखक लगा कि वाकई सहाफत एक भद्दा मजाक सा बनकर रह गया है। न्यूज रूम के चंडूखाने से लेकर आसातरीन अफसरान भी राई का पहाड़ बनाने में लगे हुए हैं। एंकर के लफ्ज़ थे कि ‘भैंस बेरहमी से डूब रही है बिल्कुल शीशे की तरह कान में जा घुसा’ अरे भाई भैंस अगर पानी में नहीं डूबेगी और उतराएगी तो क्या किसी चैनल मालिक के स्वीमिंग पूल में अपनी अदाएं या नाज़ नखरे दिखाएगी? और वैसे भी भैंस जब बाढ़ में भी कई कोस तैर कर अपना थन झाड़ लेती है तो ससुरी तालाब में अपना प्राण क्यों गंवायेगी?

”अपना घर” केस की बेचैनी की देन है दिल्‍ली में पानी की कलह!

ऐसा क्यों नहीं माना जाए कि हुड्डा सरकार की "अपना घर सेक्स स्कैंडल केस" की बेचैनी की देन है दिल्ली की पानी कलह? यदि हम घटनाओं का तारीखवार विश्लेषण करते हैं तो साफ़ नज़र आता है कि दिल्ली की पानी की किल्लत 9 मई 2012 को अपना घर सेक्स स्कैंडल की पहली रिपोर्ट के बाद ही इतनी गंभीरता से खड़ी हुई है. मीडिया रिपोर्टों पर नज़र डालें तो और साफ़ हो जाता है कि पानी का मुद्दा इस केस के साथ ही जवान हुआ है. हो सकता है कि सौदेबाजियों का दौर जारी हो.

टीवी9 : प्रदीप शुक्‍ला का दिल्‍ली तथा निशिथ का भावनगर तबादला

टीवी9 से खबर है कि गुजरात में भावनगर के रिपोर्टर प्रदीप शुक्‍ला का तबादला दिल्‍ली के लिए कर दिया गया है. प्रदीप पिछले पांच सालों से टीवी9 को भावनगर में अपनी सेवाएं दे रहे थे. समझा जा रहा है कि जल्‍द ही प्रदीप दिल्‍ली में अपना काम संभाल लेंगे. प्रदीप की जगह अहमदाबाद से ट्रेनी रिपोर्टर निशिथ राजगुरु को भावनगर का रिपोर्टर बनाकर भेजा गया है.

भीमताल से ताल गायब, सिर्फ तबला से क्या होगा

तालों के जिले नैनीताल की एक और झील भीमताल के वजूद पर खतरे के बादल मड़राने लगे है। नैसर्गिक सौन्दर्य से मालामाल भीमताल झील में पानी का स्तर कम होने से झील का करीब एक चौथाई हिस्सा इन दिनों मिट्टी के सूखे मैदान में तब्दील हो गया है। पानी से लबालब भरी रहने वाली इस झील के मल्लीताल वाले छोर में करीब चार सौ मीटर से ज्यादा लम्बा, करीब दो सौ मीटर से ज्यादा चौड़ा और करीब डेढ़ से दो मीटर ऊँचा मिट्टी-मलवे का बदसूरत टापू उभर आया है।

शराबी युवकों ने किया पत्रकारों के साथ बदसलूकी

फरीदकोट के जैतो में बिजली कटौती को लेकर चल रहे ग्रामीणों के धरने में पत्रकारों के साथ बदसलूकी की गई तथा उन्‍हें जान से मारने की धमकी भी दी गई. शराबियों ने पुलिस वालों को भी नहीं बख्‍शा, जिससे मामला तनावपूर्ण हो गया, पुलिस को लाठीचार्ज भी करना पड़ा. पत्रकारों की शिकायत पर पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है.

पेड न्‍यूज : प्रत्‍याशी एवं पत्रकार ने एक दूसरे के विरुद्ध दर्ज कराई रिपोर्ट

पीलीभीत : पेड न्यूज को लेकर अब प्रत्‍याशी भी उकता गए हैं. बरेली में जागरण के लोगों पर पेड न्‍यूज को लेकर हमला हुआ तो अब पीलीभीत में एक महिला उम्‍मीदवार ने एक अखबार के पत्रकार के खिलाफ मामला दर्ज कराया है. पेड न्‍यूज को लेकर ही निकाय चुनाव की अध्यक्ष पद की एक महिला उम्मीदवार और दैनिक समाचार पत्र के पत्रकार की कहासुनी हुई. घटना की जानकारी होते ही कोतवाली पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्थिति को काबू किया. दोनों पक्षों की तहरीर पर पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की है.

महुआ ग्रुप में बंपर छंटनी!

छंटनी के इस दौर में पत्रकारों के लिए कहीं से भी अच्‍छी खबरें नहीं आ रही हैं. बताया जा रहा है कि इस बार महुआ ग्रुप में बंपर छंटनी की योजना बनाई गई है. कुछ अपुष्‍ट खबरों में पता चला है कि महुआ के लाइट, कैमरा, प्रोमो तथा मार्केटिंग सेक्‍शन से कम से कम सवा दर्जन लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखाया गया है. सूत्रों का कहना है कि जल्‍द ही महुआ न्‍यूज लाइन में भी छंटनी किए जाने की तैयारी की जा रही है.

बनारस की डा. उषा गुप्ता से बचिए, ये शैतान हैं

: काशी की नामचीन डाक्टर की दिल दहला देने वाली शैतानी करतूत : पिछले दिनों 17 जून की शाम टीवी चैनल IBN7 पर सिटिजन जर्नलिस्ट कार्यक्रम में एक हृदय विदारक घटना देख कर दहल गया. एक बारगी विश्वास ही नहीं हुआ कि जो मैं देख रहा हूँ वो सच्चाई है या किसी हिंदी मूवी का अंश. जुड़वां बच्चे पैदा होते हैं, और ग्यारह दिनों के बाद प्रसूता और उसके पति को यह कह कर टरका दिया जाता है कि बच्चा मर गया. घटना भी चूंकि अपने ही शहर बनारस की थी, इसलिए उत्सुकता और भी बढ़ गयी थी. एक लब्धप्रतिष्ठ नामचीन डाक्टर अपने पेशे की शपथ को आखिर कैसे इस तरह कलंकित कर सकती है. कार्यक्रम ज्यों ज्यों आगे बढ़ता गया, बतौर दर्शक मेरा खून भी खौलता चला गया. पैसे और संबंधों की खातिर 'धरती के भगवान'  का दर्जा प्राप्त कोई ऐसा घृणास्पद कुकृत्य कर सकता है, जिसने भी यह प्रोग्राम देखा होगा उसे विश्वास नहीं हुआ होगा मगर यह एक सच्चा दर्दनाक अफसाना है.

और ये है भड़ास के एकाउंट में 2100 रुपये ट्रांसफर किए जाने के सुबूत

बेंगलोर से एक साथी ने पहले भी भड़ास के एकाउंट में पैसे डाले थे, और भड़ास के चार वर्ष पूरे होने के मौके पर भी 2100 रुपये डाले हैं. इन्होंने एक पत्र लखकर सूचित किया है. उनका अनुरोध है कि उनका नाम व पहचान कहीं न आए, इसलिए उनकी भावना का सम्मान करते हुए सिर्फ उनका पत्र दे रहे हैं, और आनलाइन ट्रांसफर का स्क्रीनशाट, जो उन्होंने भेजा है. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

भड़ास4मीडिया के संचालन के लिए एक लाख पैंतीस हजार रुपये की आर्थिक मदद

: और दारू की एक बोतल भी : भड़ास का जब चौथा बर्थडे था तो उस दिन तीन साथियों ने मुझे लिफाफे थमाए, कुछ वैसे जैसे बिटिया का ब्याह कर रहा होऊं. उस भीड़भाड़ भरे और थोड़े नर्वस सी मनःस्थिति में मैंने किसी से कोई बहस नहीं किया, थैंक्यू बोलकर किसी प्रोफेशनल बेगर या मुखिया, जो जैसा समझे, की तरह लिफाफे हाथ में लेकर पाकेट में रख लिया. एक युवा पत्रकार साथी ने एक पर्ची पर प्यार भरे कुछ शब्द लिखे थे जिसमें भड़ास व मेरे सपोर्ट की बात कही गई थी.

भड़ास को समर्थन दें, भड़ास को मजबूत करें

अगर आप आजतक भड़ास के सिर्फ पाठक रहे हैं, पर लिखने और कहने का कुछ मन करता है तो अभी लिख दीजिए अपने मन की बात और भेज दीजिए bhadas4media@gmail.com पर. इस मेल आईडी को अपने यहां सेव कर लें. इसी मेल आईडी पर आप मीडिया से जुड़ी कोई भी सूचना, खबर, जानकारी, एवार्ड, किताब आदि के बारे में लिख भेज सकते हैं. भेजने वाले ने अगर अपने नाम व पहचान को गोपनीय रखने का अनुरोध किया तो उनके अनुरोध का हर हाल में सम्मान किया जाएगा और पूरी गोपनीयता बनाए रखी जाएगी.

त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका ”बहुवचन” के संपादक बने अशोक मिश्र

वरिष्ठ सांस्कृतिक पत्रकार अशोक मिश्र की नियुक्ति महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा की त्रैमासिक साहित्यिक पत्रिका ''बहुवचन'' के संपादक पद पर हुई है। इससे पहले वे इंडिया न्यूज साप्ताहिक के सहायक संपादक पद पर कार्यरत थे। मिश्र ने वर्धा पहुंचकर ''बहुवचन'' संपादक की जिम्मेदारी संभाल ली है। अशोक मिश्र पिछले बीस बरसों से अधिक समय से प्रिंट मीडिया से जुड़े हुए थे। वे राष्ट्रीय सहारा, डेली हिंदी मिलाप, दैनिक जागरण, अमर उजाला और आज समाज दैनिक व इंडिया न्यूज साप्ताहिक के संपादकीय विभागों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके हैं। अशोक दिल्ली के प्रमुख सांस्कृतिक पत्रकारों में हैं।

‘न्यूज एक्सप्रेस’ को नजर लगने से बची, मुकेश कुमार का पावर बरकरार

जब कोई न्यूज चैनल जम जाता है तो कई ऐसे लोग मालिकानों को सलाह देने के लिए प्रकट हो जाते हैं जिनके खुद के नाम कई चैनल व अखबार बर्बाद करने की कहानी दर्ज होती है. ऐसा ही कुछ न्यूज एक्सप्रेस के साथ हुआ. मुकेश कुमार के नेतृत्व में चुपचाप यह चैनल शुरू हुआ और देखते ही देखते अपने बढ़िया कंटेंट, क्वालिटी व रीच के बल पर अच्छे राष्ट्रीय न्यूज चैनलों में शुमार हो गया. निर्मल बाबा कांड में सबसे पहले इसी न्यूज चैनल ने बाबा के पाखंड का पर्दाफाश करना शुरू किया जिसके बाद स्टार न्यूज समेत कई चैनल सामने आए. कई बड़ी खबरें इस न्यूज चैनल ने ब्रेक की. चैनल देखते ही देखते सबकी जुबान पर आ गया.

कोलकाता की पत्रिका साहित्यनामा मुंबई में लोकार्पित

मुंबई : कोलकाता की हिंदी मासिक पत्रिका "सदीनामा" द्वारा प्रकाशित "साहित्यनामा-11" नामक साहित्य विशेषांक का लोकार्पण व काव्य गोष्ठी का आयोजन पिछले दिनों चर्नी रोड स्थित हिन्दुस्तानी प्रचार सभा की ओर से किया गया। वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. सुशीला गुप्ता ने साहित्यनामा का लोकार्पण किया और अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने साहित्यनामा के माध्यम से हिंदी साहित्य का प्रचार प्रसार कोलकाता के साथ ही देश के अन्य भागों में करने के लिए पत्रिका के संपादक जितेंद्र जितांशु को बधाई दी।

मुंबई विवि में उर्दू पत्रकारिता प्रवेश प्रक्रिया 25 जून से

मुंबई : मुंबई विश्वविद्यालय द्वारा उर्दू माध्यम से संचालित, स्नातकोत्तर पत्रकारिता एवं जनसंचार डिप्लोमा पाठ्यक्रम के लिए प्रवेश प्रक्रिया 25 जून से प्रारंभ हो जाएगी। उर्दू पत्रकारिता में नौकरी के अच्छे अवसर प्राप्त करने के लिए विश्वविद्यालय के उर्दू विभाग की ओर से पिछले कई वर्षों से यह पाठ्यक्रम सफलतापूर्वक संचालित किया जा रहा है। इस पाठ्यक्रम में पत्रकारिता का इतिहास, सभी प्रकार की रिपोर्टिंग, संपादन, प्रूफ रीडिंग, लेखन कला, भाषा ज्ञान, प्रेस कानून, समसामयिक ज्वलंत विषय, कंप्यूटर, मुद्रण, प्रकाशन आदि का प्रशिक्षण, योग्य एवं अनुभवी प्राध्यापकों द्वारा प्रदान किया जाता है। पाठ्यक्रम के दौरान समाचारपत्रों, चैनलों, प्रिंटिंग प्रेस, आदि के कार्यालयों में जाकर वहां होने वाले कामकाज का अवलोकन और अभ्यास कराया जाता है। साथ ही, सेमिनार आदि के माध्यम से कई प्रकार के प्रोजेक्ट तैयार करवाए जाते हैं।

इंडिया टीवी के रिपोर्टर का घटिया सवाल

Mayank Saxena : गुड़गांव में एक बच्ची बोरवेल में गिर गई है…घर पर कुछ चैनल्स स्वैप कर रहा था…4 साल की बच्ची अपने जन्मदिन की दावत के दौरान बोरवेल में गिर जाए…ये वाकई मार्मिक खबर है…रेस्क्यू चल रहा है…तमाम चैनल्स उसी खबर पर हैं…लेकिन इंडिया टीवी से गुज़रते वक्त बच्ची की मां को बोलते देखा…वहां रुका…आप को जान कर गुस्सा आएगा…कि संवाददाता जो शायद कोई नया लड़का था…उसने बच्ची की मां से पूछा…कि कल घर पर जन्मदिन की पार्टी थी…कौन कौन आया था…कैसा माहौल था…क्या गिफ्ट मांगा था माही ने आप से…आप सोच सकते हैं…कि किस कदर निर्मम सवाल था ये एक मां से जिसकी 4 साल की बच्ची रात से बोरवेल में फंसी है…इंडिया टीवी सिर्फ एक उदाहरण है, ये पूरी एक लॉबी है…जो इसी ढर्रे पर काम करती है…मैनेजमेंट को कंटेंट का सी नहीं पता…और चम्पादकों की मंडली कंटेंट को यहां ले आई है…चम्पादक जी, आप खुद तो पाप कर ही रहे हैं…आपने सीनियर रिपोर्टरों की एक पूरी जमात को पापी बना दिया है…और साथ साथ नए लड़कों को भी उसी रास्ते पर धकेल रहे हैं…

Fraud Nirmal Baba (98): देहरादून में भी बाबा पर मामला दर्ज

 

देहरादून : अपनी कथित कृपा तथा अजीबो-गरीब निदान बताकर समस्‍याओं से निदान दिलाने वाले निर्मल बाबा की खुद की समस्‍या कम नहीं हो रही है. देश के कई भागों में मुकदमा झेल रहे निर्मल बाबा पर एक और मामला दर्ज हुआ है. यह मामला देहरादून के सीजेएम अदालत में दर्ज कराया गया है. एक व्‍यक्ति ने निर्मल बाबा पर धार्मिक आस्‍थाओं से खिलावाड़ करने का आरोप लगाया है.

आर्यन टीवी से आधा दर्जन लोग आउट

 

आर्यन समूह से पिछले दिनों कई लोगों की छंटनी की गई है. आर्यन संदेश से तो कई लोग बाहर किए गए तो आर्यन टीवी से भी कम से कम आधा दर्जन लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखाया गया है. आर्यन टीवी में जिन लोगों की छंटनी की गई है उनमें संजय सिंह, अमरजीत, विकास, पवन, श्‍वेता, शहजाद तथा अमित वर्मा के नाम शामिल हैं. 

सीएम हुड्डा के मीडिया सलाहकार सुंदरपाल सिंह राणा का इस्‍तीफा

 

चंडीगढ़। हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के मीडिया सलाहकार सुंदरपाल सिंह राणा ने आज अपने पद से इस्तीफा दे दिया। सरकारी सिस्टम से खुद को आहत मानते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री को अपना त्याग पत्र भेजा। सूत्रों का कहना है कि सरकार ने सिंह का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। हालांकि इससे पूर्व इस तरह की चर्चाएं भी थीं कि सुंदरपाल के साथ बातचीत चल रही है और उन्हें मनाने की कोशिशें हो रही हैं। उनके इस्तीफे के बाद से ही सुंदरपाल के तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने की चर्चाओं से जोर पकड़ लिया है।

जागरण के पत्रकार बृजेश के खिलाफ कोर्ट ने दिया मुकदमा दर्ज करने का आदेश

कोर्ट ने दैनिक जागरण, मऊ के पत्रकार बृजेश कुमार के ऊपर जालसाजी का मुकदमा दर्ज करने का निर्देश दिया है. हालांकि पुलिस ने दैनिक जागरण के दबाव में कोर्ट के आदेश के बाद भी अब तक मुकदमा दर्ज नहीं किया है. ब्रृजेश यादव ने ब्रह्मखोज के संपादक ब्रह्मानंद पांडेय के जान से मारने की धमकी दी थी, जिसके बाद ब्रह्मानंद ने पुलिस की शरण ली थी. पुलिस द्वारा कोई कार्रवाई नहीं किए जाने के बाद ब्रह्मानंद कोर्ट चले गए थे, जिसके बाद कोर्ट ने बृजेश पर मामला दर्ज करने का आदेश दिया है.

कभी भी गिरफ्तार हो सकते हैं जूलियन असांजे!

लंदन : विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को गिरफ्तार किया जा सकता है। पुलिस का कहना है कि इक्वाडोर दूतावास में राजनीतिक शरण लेने वाले असांजे को जमानत की शर्तों का उल्लंघन करने के चलते गिरफ्तार किया जा सकता है। महानगर पुलिस ने बताया कि जमानत के तहत शर्त थी कि वह रात 10 बजे से सुबह आठ बजे तक जमानत में बताए गए पते पर ही रहेंगे। इक्वाडोर दूतावास से राजनीतिक शरण मांगने के बाद असांजे ने कल इस शर्त का उल्लंघन कर दिया। पुलिस के बयान में कहा गया है कि उन्हें पता है असांजे कि इक्वाडोर दूतावास में हैं।

साधना से इस्‍तीफा देकर इस्‍पात मेल पहुंचे संजय समर, राकेश की नई पारी

 

साधना न्‍यूज से खबर है कि वरिष्‍ठ पत्रकार संजय समर ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे झारखंड में चैनल के स्‍टेट न्‍यूज कोआर्डिनेटर के पद पर कार्यरत थे. संजय ने अपनी नई पारी रांची में हिंदी दैनिक इस्‍पात मेल के साथ शुरू की है. उन्‍हें अखबार में एक्‍जीक्‍यूटिव मैनेजिंग एडिटर बनाया गया है. वे रांची में ही बैठेंगे. संजय पिछले दो दशक से बिहार, झारखंड और असम की पत्रकारिता में सक्रिय हैं. इन्‍होंने करियर की शुरुआत जेवीजी टाइम्‍स से की थी. इसके बाद पायनियर, हिंदुस्‍तान, अमर उजाला, जनसत्‍ता, मिशन इंडिया जैसे अखबारों से होते हुए साधना न्‍यूज पहुंचे थे. संजय की झारखंड की राजनीतिक पत्रकारिता में काफी अच्‍छी पकड़ है. 

आजसमाज, दिल्‍ली में सैलरी न मिलने से नाराज कर्मचारी हड़ताल पर

 

आजसमाज, दिल्‍ली से खबर है कि सैलरी न मिलने से नाराज कर्मचारियों ने काम बंद करके हड़ताल करना शुरू कर दिया है. प्रबंधन उन्‍हें समझाने की कोशिश कर रहा है. वरिष्‍ठों के हाथ-पांव फूले हुए हैं. सभी कर्मचारियों को सैलरी जल्‍द दिए जाने का आश्‍वासन दिया जा रहा है. खबर है कि पिछले कई दिनों के आश्‍वासन के बाद अब कर्मचारी आंदोलन के रास्‍ता अख्तियार कर लिए हैं. 

आजतक, मुंबई के क्राइम रिपोर्टर आरिफ चंद्रा को फील्ड में ब्रेन हैमरेज, आईसीयू में भर्ती

न्यूज चैनल्स खबरों पर खेलते खेलते अब अपने रिपोर्टरों की जान पर खेलने लगे हैं. दिन प्रतिदिन बढ़ती होड़ के कारण बड़े न्यूज चैनलों के रिपोर्टरों को हर पल चौकन्ना रहना पड़ता है. रात हो या दिन, उन्हें कभी मोबाइल आफ नहीं करना होता और हर आ रही काल को उठाने के लिए तत्पर रहना पड़ता है. ऐसे में रिपोर्टर ठीक से सो नहीं पाते. हर रोज होने वाली सैकड़ों घटनाओं को सबसे अच्छे तरीके से कवर करने का प्रेशर अलग और उसे सबसे पहले भेज देने का दबाव भी अलग.

वेश्‍याओं से भी बदतर है पत्रकारों की जिंदगी… पीसीआई जांच कमेटी के सामने सुनाया दुखड़ा

मुंगेर।‘‘माई लार्ड, बिहार के मुंगेर मुख्यालय में एक वेश्यालय है। यह लालबत्ती क्षेत्र के नाम से जाना जाता है। वेश्याएं देह बेचकर अच्छी-अच्छी साड़ियां पहनती हैं, दरवाजे पर खड़ा होकर ग्राहकों को लुभाती हैं और अर्जित कमाई से अपने बच्चों को उंची शिक्षा दे रही हैं। ठीक विपरीत, बिहार में प्रायः सभी प्रिंट मीडिया, न्यूज एजेंसियों और न्यूज चैनलों के राज्य मुख्यालय, प्रमंडल मुख्यालय, जिला मुख्यालय, अनुमंडल मुख्यालय और प्रखंड मुख्यालय के संवाददाता/ स्ट्रिंगर (कुछ को छोड़कर) अपना ईमान बेचकर भी वेश्याओं से बद्तर जिन्दगी जी रहे हैं। इन स्ट्रिंगर/संवाददाताओं को न पहनने को अच्छा वस्त्र है, न भरपेट भोजन की व्यवस्था। बाल-बच्चों को अच्छी और उंची शिक्षा देने की बात महज सपना है। मीडिया जगत के नियोजकों ने आजादी के बाद से अबतक प्रजातंत्र के इस मजबूत और शक्तिशाली स्तंभ को‘भ्रष्ट‘और ‘बेहद कमजोर‘बना दिया है। उद्देश्य है राष्ट्र को कमजोर करना और अपनी पूंजी में वृद्धि करना।‘‘

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (10) : टाप टेन अंग्रेजी दैनिकों में ईटी एक पायदान उपर उठा

टाप टेन अंग्रेजी अखबारों की बात करें तो दी न्यूज इंडियन एक्सप्रेस सबसे तेजी से बढ़ता हुआ अंग्रेजी दैनिक है. दस में से सात अखबारों के हिस्से ग्रोथ आई है. बाकी तीन के पाठक घटे हैं. मीडिया रिसर्च यूजर्स कौंसिल (एमआरयूसी) ने इंडियन रीडरशिप सर्वे (आईआरएस) 2012 की पहली तिमाही के जो आंकड़े जारी किए हैं, उसमें अंग्रेजी दैनिकों के बारे में बताया गया है कि इकानामिक टाइम्स ने नए पाठक जोड़कर नंबर सात की पदवी फिर हासिल कर ली है. पिछली बार इस अखबार के पाठक घट जाने से यह नंबर सात से नंबर आठ पर लुढ़क गया था. विस्तृत रिपोर्ट इस प्रकार है…

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (9) : टाप 10 रीजनल अखबारों में से 9 उदास, गुजरात समाचार की जय, मलयाला मनोरमा नंबर

रीजनल अखबारों की बात करें तो टाप टेन में से 9 अखबारों का पतन दिख रहा है. इनमें घटाव हुआ है. सिर्फ गुजरात समाचार ने नए पाठक जोड़े हैं. वैसे, मलयाला मनोरमा नंबर वन की पदवी पर कायम है पर इसकी भी पाठक संख्या घटी है. गुजरात समाचार ने नए पाठक जोड़ते हुए नंबर आठ की पदवी हासिल कर ली है. उसने दिनाकरन को धक्का देते हुए नंबर नौ पर कर दिया है. पूरी रिपोर्ट इस प्रकार है…

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (8) : टाप टेन हिंदी और अंग्रेजी डेली का चार्ट

नीचे इस बार के टाप टेन हिंदी और अंग्रेजी डेली के चार्ट दिए जा रहे हैं. साथ ही उनकी पिछली तिमाही का डाटा भी पेश है. इसके जरिए तुलनात्मक अध्ययन कर अखबारों की वास्तविक स्थिति का अध्ययन किया जा सकता है… पहले टाप टेन हिंदी डेली का चार्ट है, उसके ठीक बाद अंग्रेजी दैनिकों का….

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (7) : ग्रोथ रेट के मामले में प्रभात खबर और पत्रिका की बल्ले-बल्ले, दैनिक जागरण और भास्कर के पाठक टूटे

आईआरएस 2012 की पहली तिमाही के नतीजे टाप दस हिंदी दैनिकों में से सात के लिए खुशखबरी लेकर आए हैं. ग्रोथ रेट के मामले में प्रभात खबर और पत्रिका (ध्यान दें, राजस्थान पत्रिका और पत्रिका, दो अलग अलग अखबार हैं जिनका मालिक और समूह एक है, इस बार के आईआरएस से पता चलता है कि राजस्थान पत्रिका की हालत पतली हुई है जबकि पत्रिका फर्राटा ले रहा है) की बल्ले बल्ले है. इन दोनों ने सबसे ज्यादा ग्रोथ रेट दर्ज की है. दैनिक जागरण ने नंबर वन की पोजीशन मेनटेन तो की है पर सिर्फ 2000 पाठक जोड़ पाया है.

1 से 10 तक तो मेहंदी हसन हैं, 11वें पर जिसे रखना है रख दें

: मुझे हैरानी होती रही कि दुनिया में इतना अधिक सुने जाने वाले फनकार की माली हालत खस्ता कैसे हो सकती है : जैसा ठहराव उनके सुरों में था, उतने ही इत्मीनान से उन्होंने दुनिया-ए-फानी से कूच किया। अपने चाहने वालों को मानसिक रूप से तैयार होने का पूरा मौका दिया। यों ‘‘किताबे-चेहरा’’ के कुछ बाशिंदो ने पहले ही उनके जाने की खबर उड़ा दी थी। जाना तो था ही। रहने जैसा कुछ रह भी नहीं गया था। देहांत अभी हुआ, प्राणांत तो पहले ही हो चुका था। उनके प्राण गायकी में बसते थे और गायकी एक अरसे से बंद थी। उनकी आवाज में आखिरी गाना लता मंगेशकर के साथ सुना था।

अमर उजाला, वाराणसी के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत

सेवा में, मुख्य निर्वाचन अधिकारी, उत्तर प्रदेश (लखनऊ) महोदय, उत्तर प्रदेश में हो रहे नगर निकाय चुनाव-2012 में वाराणसी नगर निगम के 90 वार्ड के पार्षद और महापौर पद के लिए 24 जून, 2012 को मतदान होना है| सभी प्रत्याशी चुनाव प्रचार में लगे हैं| समाचार पत्रों के लिए निर्वाचन आयोग ने चुनावी समाचारों के प्रकाशन के बाबत आदर्श आचार संहिता के मानक निर्धारित कर रखे हैं| दृष्टव्य है समाचार पत्र अमर उजाला-वाराणसी संस्करण के पृष्ठ संख्या 8 का समाचार ‘महापौर की जंग में सपाई कनफ़्यूज़’|

सपा विधायक के सगे भाई की गुंडई- युवक और उसकी मां को सड़क पर फिर अस्पताल में जमकर पीटा

: पुलिस वाले चुपचाप खड़े रहे, जो पिटा उसी के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज : कल बाराबंकी जनपद में सड़क पर गाड़ी को रास्ता ना देने के विवाद के चलते दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो गयी. दोपहर 11 बजे के करीब लखनऊ के डॉ लोहिया अस्पताल से अपने रिश्तेदार मरीज को देखकर अपनी निजी मारुती कार से लौट रहे कोठी उस्मानपुर निवासी राजू सिंह पुत्र ब्रिजेश सिंह और उनकी माता श्रीमती विनोद सिंह का सफेदाबाद में धर्मेन्द्र यादव -बीडीसी, बंकी जो कि समाजवादी पार्टी के बाराबंकी सीट के विधायक धर्मराज यादव उर्फ़ सुरेश यादव के अनुज भी हैं व उनके दो अन्य साथियों से ओवर टेकिंग को लेकर वाद विवाद, गाली गलौज व अंततोगत्वा मार पीट तक हो गई.

झा जी कहिन (3) : काश मैंने प्रोमो नहीं देखा होता तो खबरिया चैनलों के इस छलावे से बच जाता

मैंने ''विशेष'' को खासतौर पर से समझने के लिए बहुत जी-तोड़ और आँख-फोड़ कोशिश की और उसके बाद जो कुछ समझ पाया उसका सरमाया पेश कर रहा हूं. ''विशेष'' जैसा कार्यक्रम दिखाने की परंपरा 1955 से प्रारंभ हुई थी और 70 के दशक तक आते आते उसका प्रचलन बीबीसी के अलावा ऑस्ट्रेलिया के एबीसी चैनल और अमेरिका के एनबीसी चैनल में हो गया था। वियतनाम युद्ध के बाद बीबीसी के अलावा एक और ऑस्ट्रेलियाई चैनल ने उस युद्ध से जुड़े विशेष मुद्दों को लेकर 20 मिनट से आधे घंटे तक के कार्यक्रम बनाए थे जिनमें खबरों के भीतर की खबर का विश्लेषण किया गया था।

झा जी कहिन (2) : भैया, एक नए चैनल में काम करोगे, मालिक तो गाय है!

कल सुबह ही एक बुजुर्ग-से सहाफी बंधु ने फ़ोन पर दो लाइन का फरमान सुनाया- "भैया, एक नए चैनल में काम करोगे? मालिक तो गाय है, मगर बहुत कुछ पलस्तर करना है". वो मेरे बुजुर्ग रहे हैं और मैं उनका बड़ा ही अदाबो-एहतराम करता हूँ. लिहाज़ा, मैं कुछ कह नहीं पाया. मगर थोड़ी हैरानी ज़रूर हुई कि ये क्या बात हो गयी? पहला ये कि आजकल टेलीविजन चैनलों में रिपोर्टर, एंकर की जगह क्या पलस्तर का काम आ गया है या फिर सहाफियों के पेशे को कोई नया नाम दे दिया गया है. सहाफी लोग तो कलम और माइक्रोफोन का इस्तमाल करते थे. अब क्या एक राजगीर या दस्तगीर की तरह करनी और तगाड़ लेकर जाना पड़ेगा? खबरों के ऊपर तप्सरा-के बदले क्या नयी उम्र की नयी खबर के तगाड़ में पीटीसी और लाइव वाक थ्रू को चूना और सीमेंट की तरह मिलाना पड़ेगा?

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (6) : भारतीय अखबारों में नंबर-2 की स्थिति को और मजबूत किया ‘हिंदुस्तान’ ने

नई दिल्ली । आईआरएस की वर्ष 2012 की पहली तिमाही के परिणामों में दैनिक ‘हिन्दुस्तान’ ने भारतीय समाचारपत्रों में नंबर-2 की अपनी स्थिति को और भी मजबूत कर लिया है। अखबार की कुल पाठक संख्या अब 3.84 करोड़ हो गई है जो वर्ष 2011 की पहली तिमाही के मुकाबले 17.60 लाख की वृद्धि दर्शाती है। पिछले चार सालों से ‘हिन्दुस्तान’ नए पाठकों को लगातार जोड़ता रहा है। आईआरएस के पिछले 14 दौर में हर बार पाठक संख्या में वृद्धि ने ‘हिन्दुस्तान’ को देश का सर्वाधिक तेजी से बढ़ता ऐसा अखबार बना दिया है जिसने सबसे अधिक पाठकों को अपने साथ जोड़ा।

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (5) : हिंदी के टाप 4 अखबारों में आया राजस्थान पत्रिका

मुम्बई। भारतीय पाठक सर्वेक्षण (आईआरएस) की मुम्बई में जारी ताजा सर्वेक्षण रिपोर्ट के मुताबिक पत्रिका समूह एक पायदान चढ़कर एक करोड़ 97 लाख 9 हजार कुल पाठक संख्या के साथ हिन्दी के पहले 4 समाचार पत्रों में आ गया है। इस रिपोर्ट के मुताबिक समूह ने वर्ष 2012 की प्रथम तिमाही में 2 लाख 75 हजार कुल पाठक जोड़े हैं। राजस्थान पत्रिका लगातार राजस्थान का सिरमौर तो बना हुआ ही है उसी की पत्रिका ने पिछली तिमाही में करीब 1 लाख 56 हजार कुल पाठक जोड़ते हुए मध्यप्रदेश में सर्वाघिक तेज बढ़त वाले अखबार का गौरव बरकरार रखा है।

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (4) : प्रभात खबर फिर सबसे तेज बढ़ता हिंदी अखबार

: झारखंड-बिहार में भी सबसे तेज वृद्धि दर : बिहार में 35.24% नये पाठक जोड़े : धनराज (धनबाद, रांची व जमशेदपुर) में नंबर एक पर कायम : रांची : प्रभात खबर ने एक बार फिर शीर्ष 10 हिंदी अखबारों में सबसे ज्यादा पाठक वृद्धि दर दर्ज की है. आइआरएस (इंडियन रीडरशिप सर्वे) द्वारा जारी 2012 की पहली तिमाही के सर्वेक्षण के मुताबिक, प्रभात खबर ने 2011 की चौथी तिमाही के मुकाबले कुल पाठक संख्या में 7.25 फीसदी और औसत इश्यू पाठक संख्या में 11.43 फीसदी की वृद्धि दर्ज की है. औसत इश्यू पाठक संख्या में दैनिक जागरण मात्र 0.01 फीसदी की वृद्धि और हिंदुस्तान मात्र 0.93 फीसदी की वृद्धि दर्ज कर पाया, जबकि दैनिक भास्कर की औसत इश्यू पाठक संख्या में 0.34 फीसदी की कमी आयी है.

Fraud Nirmal Baba (97) : चैनलों पर से पूरी तरह गायब हो गया निर्मल दरबार

खबर है कि टेलीविजन के सामने बैठनेवाले भक्तों पर अब निर्मल बाबा की किरपा (कृपा) नहीं होगी. भारत में टीवी चैनलों पर निर्मल दरबार के समागम का प्रसारण बंद हो गया है. निर्मल बाबा की आधिकारिक वेबसाइट पर इसकी जानकारी दी गयी है. वेबसाइट पर लिखा गया है. babaji’s programmes are not coming on channels as of now. You can watch letest videos on this website. मध्यप्रदेश की एक अदालत और इंडिया ब्रॉडकास्टिंग फेडरेशन ने भी चैनलों से अंधविश्वास फैलानेवाले इस कार्यक्रम को तत्काल बंद करने का निर्देश दिया था.

ब्लैकमेलिंग करने के आरोप में चीन में 89 वेबसाइट बंद

बीजिंग : चीन ने चैरिटी समूहों या सरकारी संगठनों के नाम से फर्जीवाड़े में शामिल होने के आरोप में 89 वेबसाइटों को बंद कर दिया है. स्टेट इंटरनेट इंफोर्मेशन आफिस ने आज एक बयान में इसकी जानकारी दी. इन वेबसाइटों पर ब्लैकमेलिंग में भी शामिल होने का आरोप था. बयान के अनुसार कई वेबसाइट अपने को भ्रष्टाचार विरोध और कानून प्रवर्तन एजेंसियों से संबद्ध बताती थीं. ऐसी वेबसाइटें चलाने वाले लोग नकारात्मक खबरों में छेडछाड कर विभिन्न लोगों और संगठनों से पैसे मांगते और उन्हें धमकी देते. सरकारी संवाद एजेंसी शिन्हुआ के अनुसार कई वेबसाइटें आपस में मिलकर संयुक्त रुप से पैसे की मांग करती.

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (3) : अमर उजाला के पाठकों की संख्या तीन करोड़ के पार

नई दिल्ली/ब्यूरो । अपनी श्रेष्ठता का परचम लहराते हुए अमर उजाला के विस्तार का सिलसिला जारी है। अखबार उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में नंबर-1 के स्थान पर बरकरार है। आईआरएस 2012 की पहली तिमाही के लिए जारी कुल पाठक संख्या (टीआर) आंकड़ों के मुताबिक, इस अवधि में अमर उजाला के पाठकों की संख्या देश भर में तीन करोड़ पहुंच गई है। जबकि उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अमर उजाला के पाठकों की संख्या में एक लाख नौ हजार की वृद्धि दर्ज की गई।

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (2) : दैनिक भास्कर 1.90 करोड़ पाठकों वाला देश का सबसे बड़ा अखबार समूह

मुंबई. इंडियन रीडरशिप सर्वे (आईआरएस) ने अखबारों की पाठक संख्या के नए आंकड़े जारी किए हैं। ये आंकड़े मौजूदा साल की पहली तिमाही के हैं। इसके मुताबिक दैनिक भास्कर समूह 1.90 करोड़ पाठकों वाला देश का सबसे बड़ा अखबार समूह है। भास्कर के पाठक 13 राज्यों के 65 संस्करणों के माध्यम से 4 भाषाओं में इस ग्रुप के अखबार पढ़ रहे हैं। इन आंकड़ों में पिछले साल लॉन्च किए गए दिव्य मराठी की पाठक संख्या शामिल नहीं है।

आईआरएस 2012 पहली तिमाही (1) : दैनिक जागरण लगातार 22वीं बार शिखर पर

नई दिल्ली। आपका पसंदीदा समाचार पत्र दैनिक जागरण लगातार 22वीं बार देश का नंबर वन समाचार पत्र का दर्जा हासिल करने में कामयाब रहा है। 2012 की पहली तिमाही में जागरण ने 16.3 लाख नए पाठक जोड़े। इसे मिलाकर पहली तिमाही में दैनिक जागरण की कुल पाठक संख्या 5.63 करोड़ पर पहुंच गई है। इंडियन रीडरशिप सर्वे [आइआरएस] 2012 के मुताबिक दैनिक जागरण के पाठकों की संख्या अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी से 1.8 करोड़ ज्यादा है। दैनिक जागरण समाज के उच्च मध्यम वर्ग में भी सबसे ज्यादा पाठक संख्या वाला समाचार पत्र बना है।

आस्ट्रेलिया में अरबपति महिला की मीडिया में बढ़ती हिस्सेदारी सरकार के लिए सिरदर्द

कैनबरा। आस्ट्रेलिया सरकार ने आशंका जताई कि देश की सबसे अमीर महिला गीना रिनेहार्ट ने एक प्रमुख अखबार में बढ़ती अपनी हिस्सेदारी का इस्तेमाल अपने व्यावसायिक हितों को पूरा करने में इस्तेमाल करने की योजना बनाई है। फोर्ब्स पत्रिका ने मार्च में खनन उद्यमी रिनेहार्ट की संपत्ति 18 अरब डालर आंकी थी। वह एक जुलाई से लौह अयस्क तथा कोयला खदानों के बढ़ते मुनाफे पर 30 प्रतिशत कर लगाने की मध्य-वामपंथी सरकार की योजना की मुखर आलोचक हैं।

पाकिस्तान में दो टीवी एंकरों पर पाबंदी की याचिका पर पीईएमआरए को नोटिस

लाहौर। पाकिस्तान की एक अदालत ने रियल इस्टेट उद्योगपति रियाज हुसैन से साक्षात्कार के मामले में दो टीवी एंकरों पर प्रतिबंध लगाने की मांग संबंधी रिट याचिका पर देश के इलेक्ट्रानिक मीडिया पर निगरानी रखने वाली संस्था को नोटिस जारी किया है। लाहौर हाई कोर्ट ने मलिक गुलाम मुस्तफा द्वारा दाखिल याचिका पर पाकिस्तान इलेक्ट्रानिक मीडिया नियामक प्राधिकरण (पीईएमआरए) के अध्यक्ष को नोटिस भेजा है।

अमर भारती की खबर से रेल विभाग के अधिकारियों में हड़कम्प

अभी पिछले दिनों रेल परिसरों में सफाई को लेकर एक सर्वेक्षण आया था जिसमें कहा गया था कि स्टेशन परिसरों और ट्रेनों में सफाई सबसे बड़ी चुनौती है क्योंकि ट्रेनों और रेलवे परिसरों में गंदगी भरी होती है। इसी सर्वेक्षण की सत्यता की जांच के लिए जब अमर भारती की टीम ने दिल्ली के सभी प्रमुख स्टेशनों के साथ आगरा और लखनऊ के स्टेशनों का जायजा लिया तो सर्वेक्षण की रिपोर्ट को सही पाया।

एनडीटीवी ने ट्विटर पर एक पाठक को ब्लाक कर दिया, विरोध में प्रणय राय को मेल

एनडीटीवी ने ट्विटर पर अपने आफिसिअल एकाउंट से पहली बार एक मजेदार खेल करते हुए एक पाठक को ब्लाक कर दिया है. किसी चैनल द्वारा किसी पाठक को ट्विटर पर ब्लाक करने का संभवतः यह पहला मामला है. इसके विरोध में कई लोगों ने ट्विटर पर कैम्पेन चला रखा है और प्रणय रॉय को बड़ी संख्या में लोग कमेन्ट – मेल भी भेज रहे हैं. अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पे जायें…

देशाभिमानी अखबार ने वेतनबोर्ड की सिफारिशें लागू करने का फैसला किया

तिरूवनंतपुरम। प्रमुख मलयाली अखबार और माकपा के मुखपत्र ‘देशाभिमानी’ ने पत्रकार और गैरपत्रकार कर्मचारियों के लिए गठित न्यायमूर्ति मजीठिया वेतन बोर्ड की सिफारिशें लागू करने का फैसला किया है। देशाभिमानी पत्रकार संघ के सचिव पीवी जीजो ने कहा कि सोमवार को अखबार के पत्रकारों, गैरपत्रकारों के प्रतिनिधियों और इसके महाप्रबंधक ईपी जयराजन के बीच विचार विमर्श के बाद यह फैसला किया गया। जीजो ने कहा कि फैसले के अनुसार, कर्मचारियों को इस साल जुलाई से वेतन बोर्ड की सिफारिशों के मुताबिक वेतन तथा भत्ता मिलेगा।

हिंदुस्तान, नोएडा में एनई खा गये अब तक चार की नौकरी, अगली किसकी बारी?

हिंदुस्तान के नोएडा ब्यूरो में आठ महीने पहले शशिशेखर ने एनई बनाकर सुनील द्विवेदी को नियुक्त किया. आठ महीने के कार्यकाल में सुनील एडीटोरियल स्टाफ से अब तक चार लोगों की बलि ले चुके हैं. हाल में ही उनसे परेशान होकर तेजतर्रार रिपोर्टर बंटी त्यागी ने भी रिजाइन कर दिया. सिलसिला अभी यहीं नहीं थमा. बताया जाता है कि क्राइम रिपोर्टर सुशांत समदर्शी भी सुनील द्विवेदी के टारगेट पर हैं.

कवरेज करने गए पत्रकार की पिटाई, मोबाइल छीना

पिछले दिनों दिल्ली में कोंडाली सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में दो कर्मचारियों की मौत और पाच गंभीर घायल की खबर टीवी पर ब्रेकिंग न्यूज़ के रूप में सुनकर दैनिक जागरण यमुना पार के वरिष्ठ संवाददाता राजीव अग्रवाल ने हाल ही में वेस्ट दिल्ली से ट्रांसफर होकर आये नीरज वर्मा को जबरन खबर का कवरेज करने के लिए मौके पर जाने को कह दिया. नीरज वर्मा को अपराध बीट से जुडी खबरों को कवर करने का कोई तजुर्बा नहीं है. फोटोग्राफर का वीकली आफ होने की वजह से नीरज अकेले ही कोंडली का पता पूछते पूछते मौके पर पहुंच गया.

पाणिनी आनंद ने आउटलुक इंग्लिश ज्वाइन किया, जनसंदेश टाइम्स से श्रीधर अग्निहोत्री का इस्तीफ़ा

पाणिनी आनंद ने दिल्ली में आउटलुक इंग्लिश में प्रिंसिपल करेस्पांडेंट के बतौर ज्वाइन किया है. वे इसके पहले बीबीसी, सहारा आदि जगहों पर वरिष्ठ पदों पर रह चुके हैं. हाल फिलहाल तक वे सीएसडीएस की मीडिया फेलोशिप के तहत कार्य कर रहे थे. पाणिनी वेब फील्ड में भी काफी सक्रिय रहे हैं.

पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की मांग को लेकर यूपी में धरना 25 को

: आई नेक्स्ट के कार्यक्रम में कांग्रेस प्रत्याशी के हमले की उपजा ने निंदा की : लखनऊ : बरेली में आई नेकस्ट के कार्यक्रम ओपन फोरम में कांग्रेस के मेयर प्रत्याशी द्वारा किये गए हमले की उ.प्र.जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन (उपजा) ने कड़ी निंदा की है। मीडिया ग्रुप के कार्यक्रम में उपद्रव और पत्रकारों पर हमले को लोकतंत्र पर कुठाराघात बताते हुए उपजा के प्रदेश अध्यक्ष अध्यक्ष रतन कुमार दीक्षित ने सरकार से मांग की है कि मामले में हस्तपेक्ष कर दोषियों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए तथा पत्रकारों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए।

दि प्रैसवार्ता डॉट कॉम हैक व डाटा रिमूव

सिरसा : न्यूज एजेंसी प्रैसवार्ता की न्यूज वेबसाईट दि प्रैसवार्ता डॉट कॉम को किसी अज्ञात व्यक्ति ने हैक कर उसका डाटा रिमूव कर दिया है, जिस कारण साईट खुलनी बंद हो गई है और पुलिस प्रशासन द्वारा जांच शुरू कर दी गई है। पुलिस प्रमुख सिरसा दवेंद्र यादव को दी शिकायत में प्रैसवार्ता के सीईओ मनमोहित ग्रोवर ने कहा है कि 18 जून की प्रात: करीब 10.15 बजे किसी अज्ञात व्यक्ति ने किसी साजिश के तहत न्यूज एजेंसी प्रैसवार्ता की वेबसाइट हैक कर उसका डाटा रिमूव किया है, जिस कारण वेबसाइट बंद हो गई है।

डिंपल की जीत पर कन्नौज के पत्रकारों को सीएम अखिलेश ने दी पार्टी

: न बुलाए जाने से कानपुर के पत्रकार हुए दुखी : पीड़ितों की लाइन लगी थी लेकिन सिर्फ कन्नौज के लोगों को अंदर जाने दिया गया : सेवा में, श्रीमान् संपादक महोदय, भडास मीडिया डाट काम, विषयः- पत्नी की निर्विरोध जीत पर अपने आवास पर अखिलेश यादव ने दी कन्नौज के पत्रकारों को दावत। महोदय, आपको अवगत करा रहा हूं कि कन्नौज लोकसभा उपचुनाव के दौरान डिम्पल यादव के निर्विरोध चुने जाने के उपलक्ष्य में माननीय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कन्नौज के पत्रकारों को व्यक्तिगत रूप से अपने लखनऊ स्थित कालीदास मार्ग आवास में दिनांक 18 जून 2012 को बुलाकर चाय, नाश्ते और खाने के साथ ही भेंट की।

हेमंत तिवारी पर हमले का आरोपी दुर्गेश चौरसिया मुरादाबाद में गिरफ्तार

लखनऊ के पत्रकार हेमंत तिवारी पर हमले के आरोपी युवक दुर्गेश चौरसिया को यूपी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. खबर है कि दुर्गेश की गिरफ्तारी मुरादाबाद से की गई है. यह गिरफ्तारी लखनऊ पुलिस और एसटीएफ ने संयुक्त रूप से की है. हालांकि इसके पहले दुर्गेश भड़ास4मीडिया से बातचीत में यह कह चुका था कि वह जल्द ही कोर्ट के सामने सरेंडर कर देगा. दुर्गेश पुलिस के सामने सरेंडर करने से डर रहा था. उसे आशंका थी कि कहीं पत्रकारों व बड़े अफसरों के दबाव में पुलिस उसका उत्पीड़न न करने लगे.

शौकत पर लश्कर का ठप्पा लगाने की फिराक में यूपी एटीएस

आने वाले दिनों की खतरनाक आहट, जेल की काल कोठरी या पुलिस प्रताड़ना से उसे डर नहीं लगता। उसे फिक्र हैं अपनी ग्यारह साल की बच्ची हाजरा का जो सेरिब्रल पालिसी से पूरी तरह से मानसिक और शारीरिक रूप से विकलांग है और फिक्र है अपने उस भाई वाहिद अली (25 वर्ष) का जो हर अनजान व्यक्ति की आहट सुनके डर जाता है। और उसकी इस हालत का जिम्मेवार वो अपनी खामोशी को मानता है। पर अब उसने अपनी खामोशी तोड़ने का फैसला किया है। इस पूरी दास्तान से यह बात हमारे सामने आएगी कि कैसे लश्कर-ए-तैयबा, इंडियन मुजाहिदीन, हुजी और न जाने किन-किन संगठनों के नाम पर बेगुनाह मुसलमानों को कभी एरिया कमाण्डर तो कभी मास्टर माइण्ड कहा जाता है, पर असल के मास्टर माइण्ड कौन हैं?

”अधिकतर न्यूज चैनल सिर्फ काम लेते हैं, दाम नहीं देते हैं”

भड़ास पर ''लखनऊ के दस नंबरी पत्रकार'' की सीरिज को पढ़कर यूपी में हमीरपुर जिले के एक पत्रकार ने एक तल्ख टिप्प्णीनुमा खुलासा किया है। इस पत्रकार का नाम है रवींद्र निगम। कई अखबार और चैनलों में कई बरस तक घिसने-पिटने-लुटने के बाद आखिरकार रवींद्र निगम ने पत्रकारिता की सुनहरी सच्चाई के पीछे की गंदगी को समझ लिया है और इसका बयान करने लगे हैं। इस गंदगी में केवल सड़ांध और तबाही ही भरी हुई है। कुमार सौवीर के इस आलेख पर रवींद्र निगम ने सवाल किया है कि:-

अमर उजाला, बहराइच की नजर में ये महाशय हैं जंगल का हीरो!

: कानाफूसी : अखबारों के जिला कार्यालयों में कार्यरत पत्रकारों द्वारा किसी अपने खास परिचित के पक्ष में खबर लगवा लेना तो आम हो ही चुका है और जब यह खास परिचित कुछ खास तरह की सुविधाएं पत्रकारों को मुहैया कराता हो तब तो इसकी जमकर चरण वंदना की ही जायेगी. मामला है बहराइच जनपद के अमर उजाला अखबार का. यहाँ के लोकल पेज पर जब भी बहराइच में स्थित प्रसिद्ध कतर्नियाघाट जंगलों की खबर की जायेगी तो उसमे वन्य जीवों के लिए काम करने वाली संस्था डब्लूडब्लूएफ के एक तथाकथित प्रोजेक्ट आफिसर के वर्जन का होना एक अनिवार्य तत्व के रूप में जरूर मौजूद होगा.

दैनिक जागरण, रांची में कास्ट कटिंग, बंद किया लैंडलाइन फोन

दैनिक जागरण ने रांची में लैंडलाइन फोन का इस्तेमाल बंद कर दिया है। यह आदेश एकाउंटेंट पुरूषोत्तम मिश्रा ने जारी किया है। इसका कड़ाई से पालन भी किया जा रहा है। यह अलग बात है कि पुरूषोत्तम मिश्रा की सेवाटहल में कर्मचारी के साथ-साथ जागरण के कार्यालय के काम आने वाली गाड़ियां अनवरत लगी रहती हैं। इसे कंट्रोल कर दिया जाए तो काफी पैसा बचाया जा सकता है। अखबार के दफ्तर से इनके घर की दूरी मुश्किल से सौ कदम है लेकिन बगैर गाड़ी के ये नहीं आ सकते।

‘अपना घर’ वीभत्स बलात्कार कांड का असली अपराधी हुड्डा है, इसे बर्खास्त करो

हरियाणा के रोहतक में संरश्रण गृह 'अपना घर' में जो कुछ हुआ, और जो कुछ पता चल रहा है उससे स्पष्ट होता जा रहा है कि इस पूरे कांड का असली नेता, असली सरगना मुख्यमंत्री हुड्डा है. हुड्डा की पत्नी ने अपना घर की संरक्षिका को कई बार सम्मानित कराया था. हुड्डा खानदान से करीबी ताल्लुकात रखने वाली अपना घर संरक्षिका जो कुछ कर रही थी, जाहिर है उसमें आकाओं के दिशानिर्देश शामिल होंगे. मामले की भले ही सीबीआई जांच हो रही हो लेकिन जब तक हुड्डा सीएम पद पर बने रहेंगे, इस मामले की जांच निष्पक्ष नहीं हो सकती. अपना घर का पूरा प्रकरण क्या है और क्या क्या हुआ, जानने के लिए विभिन्न अखबारों-साइटों पर छपी रिपोर्टों का अध्ययन किया जा सकता है. नीचे उन रिपोर्ट्स को कंपाइल करके दिया जा रहा है ताकि आप असलियत जान सकें. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

जागरण प्रबंधन की हठधर्मिता के शिकार बन गए शाहिद, लू लगने से निधन

 दैनिक जागरण के वरिष्‍ठ पत्रकार मोहम्‍मद शाहिद का रविवार को निधन हो गया. वे 52 वर्ष के थे. वे दैनिक जागरण, कौशाम्‍बी के ब्‍यूरोचीफ थे. उनका शव कौशाम्‍बी स्थित उनके किराए के घर में मिला. बताया जा रहा है कि वे जागरण प्रबंधन की हठधर्मिता के शिकार बन गए. मोहम्‍मद शाहिद के निधन से जागरण के बनारस और इलाहाबाद यूनिट के पत्रकार अंदर से बहुत ही दुखी हैं. 

अमर उजाला आगरा से तीन पत्रकार जुड़े, आकाश शर्मा ने इंडिया टीवी छोड़ा

अमर उजाला, आगरा से खबर है कि आज तीन पत्रकारों ने अपने संस्‍थानों को टाटा करके अमर उजाला आगरा में अपनी ज्‍वाइनिंग दे दी है. सम्‍भवत: कल से इनको बीट भी एलाट कर दी जायेगी. धर्मेन्‍द्र त्यागी ने कल्‍पतरू एक्‍सप्रेस आगरा से नाता तोडकर अमर उजाला को अपनी सेवायें दी है. प्रशांत शर्मा आई-नेक्‍सट आगरा को छोडकर अमर उजाला पहुंच गये हैं. जितेन्‍द्र पाण्‍डेय ने दैनिक जागरण फरूर्खाबाद से नाता तोड़कर अमर उजाला से नाता जोड़ा है. जल्‍दी ही एक और ज्‍वाइनिंग की उम्‍मीद है.

हेमंत तिवारी के साथ मेरे होने की बात गलत : देवकीनंदन मिश्रा

यशवंत जी, ''झगड़े की शुरुआत हेमंत तिवारी और उनके लोगों ने की : दुर्गेश चौरसिया (सुनें टेप)'' स्टोरी को भड़ास4मीडिया पोर्टल पर लगाया है. इस स्टोरी में मेरा नाम भी हेमंत तिवारी के नाम के साथ जोड़ा गया है. बताया गया है कि मैं भी विवाद के समय हेमंत तिवारी के साथ था. यह पूरी तरह से गलत और बकवास है. इस बारे में बगैर मुझसे बात किये ही मेरा नाम प्रकाशित किया गया है. यह पूरी तरह से गलत है. अगर आपके पास झगड़े के दौरान हेमंत तिवारी के साथ मेरे रहने का कोई सबूत हो तो उसे सामने रखें. जो खुद ही आरोपी हो उससे बात करके इस तरह किसी की छवि को खराब करना ठीक बात नहीं है.

कई पुरस्कारों से सम्मानित जाने-माने कथाकार अरुण प्रकाश का निधन

नई दिल्ली : हिन्दी के जाने माने कथाकार अरुण प्रकाश का सोमवार को यहां लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह करीब 64 वर्ष के थे। सूत्रों ने बताया कि प्रकाश का आज दोपहर करीब एक बजे दिल्ली के पटेल चेस्ट अस्पताल में निधन हो गया। वह यहां काफी लंबे समय से सांस की बीमारी का इलाज करा रहे थे। अरुण प्रकाश का जन्म 18 जुलाई 1948 को बेगूसराय (बिहार) के नितनिया गांव में हुआ था।

इन मस्त कार्टून को देखिए और सोचिए

भाषण, विचार, लेख, विश्लेषण के जरिए जो बात हम आम लोगों को समझाना चाहते हैं, वह बात एक कार्टून बड़ी आसानी से कह देता है. फेसबुक पर इन दिनों देश के हालात को लेकर तरह तरह के कार्टून अपलोड शेयर किए जा रहे हैं. उन्हीं में से कुछ को यहां प्रकाशित किया जा रहा है. हालांकि आजकल के नेता अपने कार्टूनों से भी चिढ़ जाते हैं और अपलोड करने वालों को जेल भिजवा देते हैं पर अभिव्यक्ति के खतरे तो उठाने ही होंगे. इन कार्टूनों के जरिए अगर कोई मैसेज आप पा रहे हों, चेहरे पर मुस्कराहट आ रही हो तो समझिए कार्टूनिस्टों का मकसद हल हो गया. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

आर्यन टीवी की तरफ से बच्चों की मौत पर बिहार के मुख्यमंत्री के नाम खुला पत्र

बिहार में एक बीमारी डेढ़ सौ से ज़्यादा बच्चों की जान ले चुका है, जबकि सरकार को अभी तक यही नहीं पता कि ये बीमारी कौन सी है। कभी वो इसे इनसेफलाइटिस कहती है, कभी मेनिन्जाइटिस, कभी एक्यूट इनसेफलोपैथी सिंड्रोम, कभी अज्ञात बीमारी। ये हाल तब है जबकि ये बीमारी पिछले कई साल से ग़रीब परिवारों में पैदा हुए छोटे-छोटे बच्चों को लील रही है। आर्यन टीवी ने इस बीमारी से बच्चों को बचाने के लिए सरकार की नींद तोड़ने के मकसद से पिछले कई दिनों से मुहिम छेड़ रखी है। सरकार में बैठे अलग-अलग लोगों की संवेदना में कुछ कमी महसूस कर आखिरकार हमने कल यानी 12 जून 2012 को मुख्यमंत्री के नाम खुला पत्र भी अपने चैनल पर जारी किया।

लखनऊ के अलग-अलग दो अखबारों में एक ही संपादकीय छप गया!

लखनऊ के दो अखबारों में एक ही संपादकीय छपा है. यह कारनामा हुआ है तरुण मित्र और राहत टाइम्स अखबारों में. मजेदार है कि दोनों में एक  ही संपादकीय एक ही दिन छप गया. 12 जून को. एक पाठक ने दोनों अखबारों के संपादकीय की कटिंग भड़ास4मीडिया के पास भेजा है. नीचे दोनों संपादकीय प्रकाशित किए जा रहे हैं. यहां एक सवाल पैदा हो रहा है कि इन दोनों ने किस तीसरे अखबार से यह संपादकीय उठाया है?

पत्रिका अखबार में प्रकाशित हुई भास्कर के पत्रकारों की करतूत, ब्यूरो चीफ हटाए गए

राजस्थान पत्रिका, उदयपुर के दस जून 2012 के अंक में पेज आठ पर एक समाचार में दैनिक भास्कर राजसमंद के ब्यूरो चीफ व एडिटोरियल के लोगों की कारगुजारी सामने आई है। पुलिस में मामला दर्ज हुआ है। पत्रिका ने प्रमुखता से खबर छापी है। इस घटनाक्रम के बाद उदयपुर भास्कर से रिपोर्टर नरेन्द्र पुरबिया को ब्यूरो चीफ राजसमन्द बनाया गया है. पत्रिका अखबार में प्रकाशित खबर इस प्रकार है-

धनंजय जी, जो आरोप मैंने आप पर लगाए हैं, मैं उन पर कायम हूँ : कृष्णभानु

शिमला प्रेस क्लब का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। क्लब के सालाना चुनाव 13 अक्तूबर 2009 को हुए थे। कायदे से नए चुनाव 13 अक्तूबर 2010 से पहले हो जाने चाहिए थे। अब अढ़ाई साल से ऊपर हो चले हैं और चुनावों पर प्रश्नचिन्ह बरकरार है। इसी बीच क्लब में वित्तीय व अन्य अनियमितताओं के साथ-साथ हजारों रूपयों के गबन के आरोप भी सामने आए। इन सबको लेकर शिमला प्रेस क्लब के लगातार पांच बार अध्यक्ष रह चुके वरिष्ठ पत्रकार कृष्णभानु ने दो अलग-अलग पत्र लिखकर मामला पत्रकार समाज के सामने उठाया। पत्र मौजूदा अध्यक्ष धनंजय शर्मा को लिखे गए, जिसके जवाब में उन्होंने कृष्णभानु को क्लब से निकालने की धमकी दे डाली। नतीजतन कृष्णभानु ने धंनजय शर्मा पर एक और ‘खतबम’ दाग दिया। नीचे प्रस्तुत है, कृष्णभानु द्वारा धनंजय शर्मा को लिखा पत्र:-

इंदौर प्रेस क्लब त्रिवार्षिक निर्वाचन : खारीवाल अध्यक्ष एवं तिवारी महासचिव बने

इंदौर, १८ जून : इंदौर प्रेस क्लब के त्रि-वार्षिक निर्वाचन १७ जून को इंदौर प्रेस क्लब इंदौर के राजेंद्र माथुर सभागृह में सम्पन्न हुए। मुख्य चुनाव अधिकारी पीके शुक्ला ने नतीजों की घोषणा की। अध्यक्ष- प्रवीण कुमार खारीवाल निर्विरोध, उपाध्यक्ष (दो पद)- अजीज खान (२६९), अमित सोनी (६६१), धर्मेश यशलहा (१२०), सुनील जोशी (५१३), महासचिव- अरविंद तिवारी (५६९), नवनीत शुक्ला (३९७), सचिव- संजय लाहोटी (७५२), आदित्य सिंह परमार (१२८), कोषाध्यक्ष- कमल कुमार कस्तुरी (६२१), अशोक समन (१५६) को मत मिले।

बीकानेर में चार दिनों से चल रहा पत्रकारों का धरना खत्म

बीकानेर : बीकानेर कले€क्ट्रेट परिसर में चार दिनों से चल रहा पत्रकारों का धरना हटा लिया गया है। जिला कले€क्टर डॉ. पृथ्वीराज ने पत्रकारों के प्रतिनिधियों से बातचीत कर उन्हें आश्वस्त किया कि उनकी मांग पर राज्य सरकार गंभीरता से विचार कर रही है और शीध्र ही परिणाम सामने आएंगे। ऐसे में मीडियाकर्मी अपना धरना समाप्त कर कलमकार के रूप में अपने उतरदायित्व का निर्वहन करें। डॉ.पृथ्वी से पत्रकारों के प्रतिनिधि श्याम मारू, अपर्णेश गोस्वामी, रवि बिश्नोई व जय नारायण बिस्सा ने बातचीत की।

दो सौ रुपये प्रति माह दीजिए और सहारा प्रेस की नेम प्लेट लगाकर घूमिए!

उन्नाव से सूचना है कि यहां दो दो सौ रुपये प्रति माह में सहारा प्रेस की नेम प्लेट बिक रही है. चोर, उचक्के और लुटेरे दो सौ रुपये देकर आराम से सहारा प्रेस लिखवा कर घूम रहे हैं. पिछले दिनों उन्नाव पुलिस ने तीन लुटेरों को गिरफ्तार किया जिनके पास से राष्ट्रीय सहारा प्रेस लिखी मोटरसाइकिल मिली. इसी बाइक से वे लूट की घटनाओं को अंजाम देते थे. पुलिस ने इस बाइक को भी जब्त कर लिया है.

शरद दत्त, उर्मिलेश, ऋचा सूद समेत कई सम्मानित

नईदिल्ली- अखिल भारतीय सर्वभाषा संस्कृति समन्वय समिति का दिल्ली में आयोजित द्विदिवसीय राष्ट्रीय अधिवेशन का 16 जून को राजभाषा संसदीय समिति के उपाध्यक्ष सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी ने भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के सभागार में उदघाटन किया। इस अवसर पर संस्था के प्रतिवर्ष दिये जानेवाले साहित्यशिरोमणी पंडित दामोदरदास चतुर्वेदी स्मृति सम्मान-2012 से डॉक्टर ऋचा सूद को शिक्षा एवं साहित्य में उनकी उल्लेखनीय सेवाओं के लिए सम्मानित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुविख्यात हिंदी कवि पंडित सुरेश नीरव ने की।

महाराष्ट्र के अखबार जागरूक टाइम्स का उदयपुर संस्करण बंद

महाराष्ट्र के प्रमुख हिंदी दैनिक जागरूक टाइम्स ने राजस्थान से प्रकाशित चार वर्ष पुराने अपने उदयपुर के संस्करण को बंद कर दिया है. अभी कुछ ही समय पूर्व नारायण पब्लीकेशन ग्रुप ने सिरोही में अपनी प्रिंटिंग मशीन भी लगाई थी लेकिन पता लगा है कि ग्रुप सिरोही से उदयपुर अख़बार भेजने के अपने अधिभार और कर्मचारियों के भारी भरकम वेतन को सहन नहीं कर पाया और उन्होंने बंदी का निर्णय लिया है.

झा जी कहिन (1) : 90 फीसदी एंकर और रिपोर्टर उर्दू ज़ुबान के साथ बदसलूकी करने के गुनहगार

: उर्दू की फजीहत : बिहार के ग्रामीण परिवेश से आए एक मंत्री महोदय को अंग्रेज़ी में चंद लाइन का संदेश पढ़ने को कहा गया तो वो नेचर को ‘नेटूरे' पढ़ गए। उनके पीए ने टोका कि सर ये गलत है। फिर क्या था, मंत्री जी झल्लाते हुए बोले कि नाक पर एक घूंसा मारूंगा तो ‘बिल्डिंग’ हो जाएगा। पीए बोला मेरे पास पहले से ही दो बिल्डिंग है सर। मगर इसी नेटूरे के चक्कर में कहीं आपका ‘फुटूरे' (फ्यूचर) न ख़राब हो जाए…

भोजपुरी पंचायत पत्रिका का विमोचन मारीशस में

बिहार-झारखंण्ड, यूपी और भोजपुरी भाषा-साहित्य एवं कला-संस्कृति पर केन्द्रीत मासिक पत्रिका ''भोजपुरी पंचायत'' का विमोचन प्रथम अंतरराष्ट्रीय भोजपुरी फिल्म अवार्ड समारोह में किया गया. इस अवसर पर  मारीशस सरकार के कई मंत्रीगण सहित भारत से गए समाज सेवी, राजनेता, साहित्यकार व फिल्मी हस्तिया मौजूद थीं. पत्रिका के संपादक कुलदीप कुमार, लीगल एडवाइजर अशोक चौबे एवं साहित्यक संपादक डॉ. रविकांत दूबे ने मुख्य अतिथि के साथ पत्रिका का विमोचन किया.

पत्रकारों को गिफ्ट में घड़ी मिली, जागरणकर्मी पत्नी की हत्या में नामजद

दो जानकारियां भड़ास4मीडिया को मेल के जरिए मिली हैं. एक में बताया गया है कि यूपी के जनपत ज्योतिबाफुले नगर में सभी पत्रकारों को एक एक घड़ी गिफ्ट के रूप में दी गई. दिल्ली के प्रसिद्ध समाजसेवी चौधरी कंवर सिंह तंवर ने मोबाइल डिस्पेंसरी के उदघाटन समारोह से पूर्व गजरौला हाइवे पर स्थित मोगा तड़का होटल में एक सदभावना भोज का आयोजन किया. इस भोज में जनपद ज्योतिबाफुले नगर के लगभग सभी पत्रकारों को एक एक घड़ी उपहार के रूप में प्रदान किया गया है. किसी ने टिप्पणी की कि एक एक घड़ी में सभी पत्रकार बिक गए!

उस मुस्लिम कांटेस्टबल ने दंगाइयों की बजाय अपने सीनियर पर गोली चला दी!

यशवंत जी, कुछ दिनों पहले मैंने आपकी प्रतिष्ठित साईट पर प्रत्रकार शेष नारायण सिंह का लेख पढा था… " सपा द्वारा दरोगा भर्ती मे १८% आरक्षण देना एक क्रन्तिकारी कदम" | मुझे लगता है कि शेषनारायण सिंह जी की मंशा सपा से कोई मलाईदार पद लेने की है इसलिए वो तथ्यों से परे जाकर सपा की चमचई कर रहे हैं | क्या आरक्षण देने से मुसलमानों का कल्याण हो जायेगा ? क्या इनकी सोच बदल जायेगी ? फिर सीरिया में तो सिर्फ मुसलमान ही हैं फिर भी रोज हजारों की संख्या में मुसलमान ही मुसलमानों का कत्लेआम क्यों कर रहे है ?

एनबीटी का कमाल, एजेंसी की न्यूज पर रिपोर्टर की बाइलाइन

पिछले दिनों न्यूज एजेंसी वार्ता ने एक रिलीज की. ''1100 प्रतिशत मुनाफा कमा रही हैं दवा कंपनियां'' शीर्षक से. यह खबर अगले दिन नवभारत टाइम्स, मुंबई में फर्स्ट पेज पर नन्द किशोर भारतीय की बाइलाइन से छपी है. यह तो वही बात हो गयी अंडा दे मुर्गी, आमलेट खाए फकीर. दूसरों की न्यूज़ पर कुछ किये धरे बैगर क्रेडिट लेने को क्या कहेंगे. एनबीटी में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. अक्सर ऐसा होता है. दूसरे अखबारों में छपी खबरों पर बाइलाइन रहती है. नीचे वार्ता की मूल खबर और उसके बाद एनबीटी में प्रकाशित खबर है… खुद देखिए और सोचिए…

बाराबंकी में टीवी जर्नलिस्ट बना खनन माफिया का गुर्गा!

अभी हाल ही में उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जनपद में प्रशासनिक अधिकारियों की मिलीभगत से चल रहे अवैध खनन को उजागर करने गए आधा दर्जन टीवी चैनलों के पत्रकारों पर खनन माफिया के गुर्गों द्वारा हमला करके उनका कैमरा छीनने की घटना हुई थी. इस सम्बन्ध में पीड़ित पत्रकारों की शिकायत पर पुलिस ने एक दर्जन से ज्यादा आरोपियों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया था. ये और बात है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद भी खनन माफिया की गिरफ़्तारी नहीं हुई और वो आज भी अवैध तरीके से बालू का खनन कर सरकार को लाखों के राजस्व का चूना लगा रहा है.

नई दुनिया रायपुर से शैलेन्द्र शुक्ला और ईटीवी आगरा से अनुपम पांडेय का इस्तीफा

नई दुनिया रायपुर से खबर है कि शैलेन्द्र शुक्ला (सब एडिटर) ने इस्तीफा दे दिया है। शैलेन्द्र ने दिल्ली में एनटीआई मीडिया प्रोडक्शन हाउस में बतौर प्रोड्यूसर ज्वाइन कर लिया है। एनटीआई मीडिया चैनलों के लिए प्रोग्राम बनाती है। ईटीवी उत्तर प्रदेश न्यूज चैनल में ''वोट करेगा यूपी'' प्रोग्राम की प्रस्तुति एनटीआई मीडिया की ही थी।

अजमेर में राजस्थान पत्रकार सम्मेलन में कई पत्रकारों-मंत्रियों ने की शिरकत

सरकारी मुख्य सचेतक डा. रघु शर्मा ने पत्रकारों को विश्वास दिलाया कि राज्य सरकार उन्हें सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए दृढ़ संकल्पित है और पत्राकारों के कल्याण के लिए भी अनेक महत्वपूर्ण कार्य किये जा रहे हैं। डा. रघु शर्मा कल अजमेर में राजस्थान मीडिया एक्शन फोरम द्वारा आयोजित “राजस्थान पत्रकार सम्मेलन“ को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले पत्रकारों को भी भूखण्ड देने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता आज मिशन की जगह व्यापार बन गया है. समाज के हर क्षेत्र में गिरावट आई है.

हिंदुस्तान अखबार ने जिसे मरा बताया वह अभी जिंदा है

आगरा से प्रकाशित दैनिक हिन्दुस्तान अखबार के एटा एडिशन में एक खबर छपी है जिसमें एक जिंदा व्यक्ति को मरा बताया गया है. घटना एटा में कोतवाली देहात क्षेत्र के ग्राम नगला केवल की है. यहां का निवासी अमित कुछ दिनों से बरसाती की बेटी से इश्क करने लगा था. बरसाती को जब यह बात पता चली तो उसे ठीक नहीं लगा, उसने इस पर ऐतराज किया. इससे खफा प्रेमी अमित ने 14 जून, 2012 को बरसाती को गोली मार दी. ग्रामीणों ने जिला चिकित्सालय में बरसाती को भर्ती कराया. बाद में उसको आगरा एसएन में रैफर कर दिया.

मीडियाकर्मियों पर हमला करने वालों से मिल गई है पुलिस, कृपया न्याय दिलाएं

श्रीमान, संपादक महोदय, भड़ास फॉर मीडिया,  विषय :- घटनाक्रम के संदर्भ में सूचनार्थ ! महोदय/ महोदया, संदर्भित विषय में निवेदन है कि कल दिनाँक १६/०६/२००९ को मुरार ७ नंबर चौराहे पर स्थित ज्ञानगंगा कॉलेज में छात्र छात्राओं को परीक्षाओं में खुलकर नक़ल कराये जाने की सूचना हमारे चैनल को प्राप्त हुई | जब इस संदर्भ में हमारे रिपोर्टर कवरेज के लिए पहुंचे तो कॉलेज प्रबंधन की शह पर छात्रों ने मीडियाकर्मीयों के साथ जमकर मारपीट की और कैमरा एवं माइक तोड़ दिया साथ ही कैमरामेन का मोबाइल एवं पर्स छीनकर भाग निकले और हमले के बाद जान से मारने की धमकी देते हुए चुपचाप रहने को कहा |

मनमौजी मालिक का मनमौजी फैसला – कई पत्रकारों को दिखाया बाहर का रास्ता

दो महीना पहले भड़ास में आर्यन चैनल में छंटनी की आशंका की खबर आई थी और जून में इसे प्रबंधन ने लागू कर दिया. इस बार इसके संध्याकालीन पेपर आर्यन सन्देश के डेस्क से मयंक, आशा वर्मा, नीतू सिन्हा, रिपोर्टर अभिजीत पाण्डेय और कार्टूनिस्ट पंकज को निकाल दिया गया. न कोई तर्क नहीं कोई कारण. कोई आरोप भी नहीं. मनमौजी मालिक का मनमौजी फैसला. कोई भी प्रबंधन कामचोरी का ही बहाना बना सकता है. वो भी नहीं. जो कामचोर हैं वे इस बार भी बच गए. प्रबंधन ने लिखित एक्जाम भी लिया था लेकिन ये सब अच्छा नंबर लाने वाले थे. कम या शर्मनाक नम्बर लाने वाले तो अभी भी काम कर ही रहे हैं.

कोई बलात्कारी नहीं हैं नारायणदत्त तिवारी, साझी धरोहर हैं हमारी

महाभारत की बहुत सारी कथाएं हमारे समाज में आज भी कही सुनी जाती हैं। इसमें एक किस्सा बहुत मशहूर है। दुर्योधन और अर्जुन का कृष्ण के पास समर्थन मांगने जाने का। जिसमें अर्जुन का पैताने बैठना और दुर्योधन का सिरहाने बैठने और फिर कृष्ण द्वारा अर्जुन को पहले देखे जाने और बतियाने का किस्सा बहुत सुना सुनाया जाता है। पर इस पूरे घटनाक्रम में एक घटना और घटी थी जो ज़्यादा महत्वपूर्ण थी पर बहुत कही सुनी नहीं जाती। लोक मर्यादा कहिए या कुछ और। बहरहाल हुआ यह कि दुर्योधन जाहिर है कि पहले ही से पहुंचे हुए थे। और अर्जुन बाद में आए। कृष्ण जैसा कि कहा जाता है कि सोए हुए थे। तो दुर्योधन ने ही अर्जुन के आने पर अर्जुन को संबोधित करते हुए कहा कि, 'आइए इंद्र पुत्र! कहिए कैसे आना हुआ?'

दैनिक भास्कर के दिल्ली आफिस और नेशनल ब्यूरो के कई पत्रकारों पर गिरी गाज, हड़कंप

दैनिक भास्कर प्रबंधन ने अपने नेशनल ब्यूरो और दिल्ली आफिस में छंटनी की शुरुआत कर दी है. इसके तहत दूरदराज तबादले की रणनीति बनाई गई है. नेशनल ब्यूरो के ब्यूरो चीफ व पोलिटिकल एडिटर संजय सिंह, नेशनल ब्यूरो में कार्यरत शिशिर सोनी, स्पेशल इनवेस्टिगेटिंग एडिटर अभिषेक उपाध्याय, एक्जीक्यूटिव एडिटर आलोक भदौरिया, अरुण श्रीवास्तव का तबादला अलग अलग प्रदेशों के जिलों में कर दिया गया है. संजय सिंह का तबादला रायपुर किया गया है. आलोक भदौरिया को भटिंडा भेजा गया है. शिशिर सोनी को पाली भेज दिया गया है. अभिषेक उपाध्याय को राजस्थान के किसी जिले में भेजा गया है.

झगड़े की शुरुआत हेमंत तिवारी और उनके लोगों ने की : दुर्गेश चौरसिया (सुनें टेप)

जिस दुर्गेश चौरसिया पर लखनऊ के पत्रकार हेमंत तिवारी को पीटने का आरोप लगा है, उसने खुद को पाक-साफ बताया है. दुर्गेश ने भड़ास4मीडिया को फोन कर अपना पक्ष रखा. दुर्गेश के मुताबिक उस रात हेमंत तिवारी ने इतनी ज्यादा पी रखी थी कि वे बोल नहीं पा रहे थे. उनके ड्राइवर ने जब गाड़ी बैक की तो उसे हम लोगों ने सावधान किया कि पीछे हम लोगों की गाड़ी है, देखकर बैक करें ताकि टक्कर न हो जाए. लेकिन ड्राइवर ने जानबूझ कर गाड़ी बैक करते हुए हम लोगों की गाड़ी में टक्कर मार दी. जब इस पर हम लोगों ने विरोध जताया तो हेमंत के ड्राइवर ने कहा कि अभी तो गाड़ी पर टक्कर मारी है, अब तुम्हें मारेंगे. इस तरह झगड़े की शुरुआत हुई.

मीडियाकर्मी ने मुझसे छह लाख रुपये की मांग की थी : अमजद सलीम (सुनें टेप)

बरेली में मेयर पद के कांग्रेस प्रत्याशी अमजद सलीम का कहना है कि उनसे एक मीडियाकर्मी ने छह लाख रुपये की मांग चुनाव कवरेज के लिए की थी. जब उन्होंने इतना रुपये देने में असमर्थतता जताई तो उस कर्मी ने मेयर पद के एक अन्य प्रत्याशी तोमर के पक्ष में पचास लाख रुपये लेकर बैठ जाने को कहा. सलीम के मुताबिक वह मीडियाकर्मी आई-नेक्स्ट का था. उसका नाम तो वो नहीं जानते पर सामने आने पर पहचान लेंगे. दैनिक जागरण और आई-नेक्स्ट के संपादकों व मैनेजरों पर हमला करने के आरोपी अमजद सलीम से भड़ास4मीडिया के एडिटर यशवंत सिंह से बातचीत में कई बातें बताईं. पूरी बातचीत का ब्योरा नीचे दिए गए टेप में है.

पेड न्यूज व चुनावी पैकेज की मांग के कारण हुआ दैनिक जागरण और आई-नेक्स्ट के लोगों पर हमला!

बरेली में होटल डिप्लोमेट में आई-नेक्स्ट के चुनावी कार्यक्रम ओपेन फोरम के दौरान कांग्रेस प्रत्याशी और उनके समर्थकों द्वारा किए गए हमले को लेकर जो कुछ बातें सामने आ रही हैं उनमें एक पेड न्यूज व चुनावी पैकेज की मांग भी है. मेयर पद के कांग्रेस प्रत्याशी अमजद सलीम ने भड़ास4मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि उनसे एक मीडियाकर्मी ने छह लाख रुपये की मांग की चुनावी कवरेज के लिए. उन्होंने खुद को गरीब आदमी बताते हुए इतनी रकम देने से इनकार कर दिया. इस पर उस मीडियाकर्मी ने कहा- 'तो फिर डाक्टर ने कहा है आपको चुनाव लड़ने के लिए.' अमजद सलीम के मुताबिक उन्होंने उसे बताया कि लोकतंत्र में गरीब अमीर सभी के लिए चुनाव लड़ने का बराबर का अधिकार है.

बरेली में दैनिक जागरण और आई-नेक्स्ट के संपादकों व मैनेजरों को जमकर पीटा गया

बरेली से एक बड़ी खबर आ रही है. दैनिक जागरण और आई-नेक्स्ट के मैनेजरों-संपादकों को जमकर पीटा गया है. जागरण के लोगों का आरोप है कि हमला करने वाला कांग्रेस का मेयर पद का प्रत्याशी है. मामला निकाय चुनाव से संबंधित है. आई-नेक्स्ट की तरफ से निकाय चुनाव पर ओपेन फोरम नामक एक कार्यक्रम का आज आयोजन किया गया था. इस कार्यक्रम के लिए इंट्री निमंत्रण पत्र के माध्यम से रखा गया था और कार्यक्रम के लिए चुनाव आयोग से अनुमति भी ली गई थी. आई-नेक्स्ट प्रबंधन ने जिला प्रशासन से सुरक्षा की भी मांग की थी.