बेगाने की शादी में अब्‍दुला दीवाना बना जागरण समूह

जागरण एक तरफ तो अपने तमाम राज्‍यों के संस्करणों से कर्मचारियों की छंटनी कर रहा है, दूसरी तरफ अपने नए खरीदे गए अखबार नईदुनिया का ६५वां स्थापना दिवस 'जश्न ए मालवा' मनाने की तैयारी मै लगा है, जिसे मनाने का उसे कोई नैतिक अधिकार नहीं बनता। विश्वास की जिस परंपरा का इन दिनों ढिंढोरा पीटा जा रहा है, उससे तो जागरण समूह का कोई लेना-देना ही नहीं है। १ से ५ जून तक होने वाले  आयोजन 'जश्न ए मालवा' के कार्यक्रम भी घोषित हो गये हैं, जो जनता को भरमाने से ज्यादा कुछ नहीं है।

जागरण में बंपर छंटनी (23) : दैनिक जागरण, मेरठ से भी तीन बाहर गए

दैनिक जागरण, मेरठ से भी चार लोगों की छंटनी किए जाने की सूचना है. सभी ने इस्‍तीफा दे दिया है. यहां मैनेजमेंट ने नोएडा के आदेश की कोरमपूर्ति करने की लिए मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए छंटनी लिस्‍ट में उन नामों को भी शामिल कर लिया, जो हाल फिलहाल खुद अखबार छोड़ गए हैं. प्रबंधन ने जिन लोगों से इस्‍तीफे लिए हैं उनमें मुजफ्फरनगर के ब्‍यूरोचीफ बनाकर भेजे गए वरिष्‍ठ पत्रकार नरेश उपाध्‍याय तथा करधना के ब्‍यूरोचीफ राकेश त्‍यागी शामिल हैं. इसके अलावा अशोक त्रिपाठी से भी इस्‍तीफा ले लिया गया है.

जागरण में बंपर छंटनी (22) : गोरखपुर के चार पत्रकारों का दूरदराज तबादला किया गया

दैनिक जागरण, गोरखपुर से खबर है कि छंटनी के शिकार बनाए जाने की लिस्‍ट में शामिल एक वरिष्‍ठ पत्रकार के आत्‍मदाह की चेतावनी से बौखलाए प्रबंधन ने उनके समेत चार लोगों का तबादला दूर दराज के यूनिटों में कर दिया है. प्रबंधन ने इन लोगों की छंटनी की लिस्‍ट तैयार की थी. इनसे इस्‍तीफे की मांग की गई, जिसके बाद जागरण के वरिष्‍ठ सहयोगी ने प्रबंधन को सख्‍त चेतावनी दी थी. मामला फंसते देख प्रबंधन ने त‍बादले की रणनीति अपनाई और चार लोगों को दूसरे यूनिटों में जाने का फरमान सुना दिया.  

शराब पीकर हंगामा करने वाले जी न्‍यूज के तीन कर्मियों के विरुद्ध जांच

जी न्‍यूज, बरेली से खबर है कि शराब पीकर हंगामा करने के आरोप में तीन कर्मचारियों के विरुद्ध प्रबंधन जांच करा रहा है. हालांकि यह मामला हंगामा करने से ज्‍यादा अंदरूनी राजनीति का भी बताया जा रहा है. सूत्रों के अनुसार कुछ दिन पहले जी न्‍यूज के इंजीनियर अमरेंद्र, रंजन डे तथा कैमरामैन मनोज पर आरोप लगा कि वे लोग शराब पीकर हंगामा मचा रहे थे. स्‍थानीय ब्‍यूरो ने इसकी जानकारी प्रबंधन को दी. कुछ और लोगों ने भी प्रबंधन से शिकायत की.

प्रमोशन न होने से नाराज प्रमोद पांडये ने इस्‍तीफा दिया

हिंदुस्‍तान, देहरादून से खबर है कि प्रमोद पांडेय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे सीनियर सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे. प्रमोद के इस्‍तीफे के बारे में बताया जा रहा है कि वे इंक्रीमेंट और प्रमोशन को लेकर असंतुष्‍ट थे. आज प्रमोशन लिस्‍ट में अपना नाम ना देखकर वो नाराज हो गए तथा प्रबंधन …

कोर्ट ने दैनिक जागरण एवं निशिकांत ठाकुर पर ठोंका 1500 रुपये का जुर्माना

कुकुडडूमा कोर्ट ने दैनिक जागरण के सीजीएम निशिकांत ठाकुर एवं अखबार पर 1500 रुपये का जुर्माना लगाया है. कोर्ट ने यह आदेश एक मामले में पांच सुनवाइयों के बाद भी जवाब दाखिल नहीं करने पर दिया है.  जागरण प्रबंधन को कोर्ट ने चेतावनी भी दी है. इसके बाद से ही निशिकांत ठाकुर और उनके लोगों में दहशत है. मामला साल भर से चल रहा है. जागरण के पुराने कर्मचारी अरुण कुमार राघव ने ही जागरण को कोर्ट में घसीटा है.

हिंदुस्‍तान विज्ञापन घोटाला : पुलिस ने प्रेस रजिस्‍ट्रार से पूछा – मुंगेर संस्‍करण वैध या अवैध?

मुंगेर। सनसनीखेज 200 करोड़ के दैनिक हिन्दुस्तान के विज्ञापन घोटाले में चल रहे जांच में उस समय नया मोड़ आ गया जब पुलिस अधीक्षक पी. कन्नन के निर्देश पर पुलिस उपाधीक्षक एके पंचालर ने इस आर्थिक अपराध के बड़े मामले में भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के प्रेस रजिस्ट्रार कार्यालय, नई दिल्ली को भी जांच के दायरे में शामिल कर लिया है। देश की आजादी के बाद संभवतः यह पहली घटना है जब किसी आर्थिक अपराध के बड़े मामले में प्रेस रजिस्ट्रार कार्यालय को भी जांच के दायरे में शामिल किया गया हो।

साहित्‍य एवं पत्रकारिता समाज के दर्पण : पुण्‍य प्रसून बाजपेयी

हरिद्वार। हरिद्वार की जानी-मानी संस्था प्रेस क्लब के आचार्य किशोरी दास वाजपेयी सभागार में हिन्दी पत्राकारिता दिवस कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान मुख्य अतिथि के रूप में जाने माने लेखक एवं पत्राकार पुण्य प्रसुन वाजपेयी उपस्थित हुए। इस अवसर पर अपने संबोधन में वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसुन वाजपेयी ने कहा कि पत्रकारिता एवं साहित्य दोनों ही समाज के आईने हैं। उन्होंने कहा कि दोनों ने एक दूसरे का साथ क्या छोड़ा दोनों का पैनापन ही खत्म हो गया।

जागरण में बंपर छंटनी (21) : अलीगढ़ में भी चार लोगों को बाहर करने की कोशिश

दैनिक जागरण में छंटनी की तलवार अब अलीगढ़ यूनिट पर भी चली है. यहां से भी चार लोगों से इस्‍तीफे मांगे गए हैं. हालांकि अभी किसी ने इस्‍तीफा नहीं दिया है लेकिन प्रबंधन ने लगातार दबाव बनाया हुआ है. सबसे बुरी स्थिति तो यह है कि एक ऐसे वरिष्‍ठ पत्रकार से भी इस्‍तीफा मांग लिया गया है, जो लम्‍बे समय से दैनिक जागरण को अपनी सेवाएं दे रहे हैं तथा अगले एकाध सालों में रिटायर भी होने वाले हैं.

कानूनी जंग जीते राजेश कपिल, कोर्ट के आदेश पर भास्‍कर ने दोबारा ज्‍वाइन कराया

जालंधर : आज से करीब 2 साल पहले भास्कर प्रबंधन की आंतरिक राजनीति का शिकार बने जालंधर के सीनियर रिपोर्टर राजेश कपिल कानूनी जंग जीत गए हैं। कोर्ट के आदेश पर राजेश कपिल को प्रबंधन ने पुन: ज्वाइन करवा लिया गया है, वहीं राजेश कपिल पर दवाब बनाने के उद्देश्य से भास्कर प्रबंधन की ओर से दर्ज करवाई गई झूठी एफआईआर को कोर्ट पहले ही खारिज कर चुकी है। कपिल की कानूनी वापसी से जहां भास्कर प्रबंधन के साजिशकर्ता सकते में हैं, वहीं कर्मचारी वर्ग में खासा उत्साह है क्योंकि सभी को अपने सेवा से जुड़े अधिकारों की पहचान हो गई है।

हिंदुस्‍तान, बरेली में आधा दर्जन लोगों को मिला प्रमोशन, बिजेंद्र डीएनई बने

हिंदुस्‍तान बरेली में भी संपादक ने लोगों को प्रमोशन लेटर बांट दिया है. जिन लोगों को प्रमोट किया गया है, उनमें सिटी इंचार्ज पंकज मिश्रा को सीनियर सब एडिटर से चीफ सब एडिटर, बृजेंद्र निर्मल को चीफ सब एडिटर से डीएनई, तौकीर हैदर को रिपोर्टर से सीनियर रिपोर्टर, पीयूष मिश्रा को सीनियर रिपोर्टर से चीफ रिपोर्टर, सुनील मिश्रा को सीनियर रिपोर्टर से चीफ सब एडिटर तथा बरेली से रामपुर भेजे गए संतोष सिंह को सीनियर रिपोर्टर से चीफ रिपोर्टर बना दिया गया है.

जागरण में बंपर छंटनी (20) : बरेली में तीन और लोगों से मांगे गए इस्‍तीफे

दैनिक जागरण, बरेली से खबर है कि पांच संपादकीय सहयोगियों से इस्‍तीफा मांगे जाने के प्रबंधन ने तीन अन्‍य से भी इस्‍तीफा मांगा है. इनमें एक विज्ञापन विभाग, एक सर्कुलेशन विभाग तथा एक पेजीनेटर शामिल है. लगातार छंटनी का क्रम जारी रहने से यहां काम करने वाले कर्मचारी नाराज तो हैं साथ ही उनके भीतर असंतोष भी फैल रहा है. वे काम करने से ज्‍यादा यूनिट में चल रही उठापटक में दिलचस्‍पी ले रहे हैं. हालांकि इन नौ लोगों में से अभी तक किसी ने इस्‍तीफा नहीं दिया है बल्कि प्रबंधन ने इनके कार्यालय आने पर रोक लगा दिया है.

हिंदुस्‍तान के आगरा, अलीगढ़ और देहरादून में सत्रह लोगों का प्रमोशन

हिंदुस्‍तान के यूनिटों में इक्रीमेंट और प्रमोशन लेटर बंटना शुरू हो गया है. कल लखनऊ, बनारस और इलाहाबाद में प्रमोशन पाने वालों को लेटर कल ही दे दिया गया था, तो आज ज्‍यादातर यूनिटों में लेटर बांटे जा रहे हैं. आगरा, अलीगढ़ और देहरादून में सत्रह लोगों के प्रमोशन होने की सूचना है. आगरा में नौ लोगों को प्रमोशन दिया गया है. अलीगढ़ में चार लोग तरक्‍की पाने में सफल रहे वहीं देहरादून में भी चार लोग प्रमोट किए गए हैं. हालांकि इंक्रीमेंट को लेकर कर्मचारियों में नाराजगी है. 

अमिताभ एवं सोनी टीवी को कोर्ट ने दिया नोटिस

उत्तर प्रदेश के झांसी जिले की एक अदालत ने एक निजी टेलीविजन चैनल सोनी के कार्यक्रम में इस्लाम के पवित्र ग्रंथ कुरान शरीफ को रचित कहे जाने के मामले में अभिनेता अमिताभ बच्चन तथा चैनल प्रबंधक को नोटिस जारी किया है। आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यहां बताया कि खुशीपुरा क्षेत्र के रहने वाले मुदस्सिर उल्ला खां नामक व्यक्ति ने जिला जज की अदालत में एक याचिका दायर कर आरोप लगाया है कि अमिताभ ने पिछले साल एक निजी चैनल सोनी के कार्यक्रम ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में एक प्रश्न के दौरान कुरान शरीफ को ‘रचित’ बताया था जबकि अल्लाह के वचनों का यह दस्तावेज आसमान से अवतरित हुआ था।

जागरण में बंपर छंटनी (19) : अपनों को बचाने के लिए छंटनी में भी घालमेल

हिसार : भले ही दैनिक जागरण देशभर में अपने आप को नंबर वन कहने व विश्वसनीयता का परिचय देने के लिए ढिढ़ोरा पीटता हो। लेकिन यहां सच्‍चाई कुछ और ही बंया कर रही है। अगर आप हिसार यूनिट में हुई कर्मियों की छंटनी लिस्ट पर नजर डाले तो जागरण की सारी विश्वसनीयता का पता लग जाएगा। डेस्क सूत्र बता रहे हैं कि मैनजमेंट ने जो छंटनी लिस्ट मांगी थी उसमें अजय सैनी को शिकार बना लिया गया।

अब मोबाइल पर फ्री में देख सकेंगे ईटीवी के 12 चैनल

जेंगा टीवी एक एप्प जो मोबाइल वीडियो और टीवी चैनलों को 2जी तथा 3जी नेटवर्क पर भेजता है, अब ई टीवी के सभी 12 चैनल मुफ्त में पेश करेगा। जेंगा टीवी ने दावा किया है कि उसके पास 12 मिनट औसत व्युअरशिप की दर से प्रतिमाह 55 मिलियन विडियो व्युज हैं। जेंगा टीवी के चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर शबीर मोमिन ने कहा यह हमारे लिए एक गर्व का क्षण है क्योंकि ईटीवी समूह के 12 चैनलों को जोड़ने से हमारी पेशकश अब लगभग 100 चैनलों की हो गई हैं।

न्‍यूज ऑफ द वर्ल्‍ड के संपादक कल्‍सन गिरफ्तार

लंदन : ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के पूर्व मीडिया सलाहकार और न्यूज ऑफ द व‌र्ल्ड अखबार के संपादक रह चुके एंडी कल्सन बुधवार को गिरफ्तार कर लिए गए। उन पर फोन हैकिंग मामले में झूठी गवाही देने का आरोप है। कल्सन ने अदालत में गवाही दी थी कि न्यूज ऑफ द व‌र्ल्ड में संपादक के तौर पर कार्य करते हुए उन्हें फोन हैकिंग के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली। कानूनी विशेषज्ञों की राय में झूठी के आरोप सिद्ध होने पर कल्सन को उम्रकैद भी हो सकती है। उनकी गिरफ्तारी से ब्रिटिश प्रधानमंत्री कैमरन एक बार फिर मुसीबत में घिरते दिखाई दे रहे हैं।

आपत्तिजनक सामग्री नहीं हटाने पर संपादक को जेल

बैंकाक : थाइलैंड में एक वेबसाइट की संपादक को आठ महीने की सजा सुनाई गई है। उन्हें यह सजा देश की राजशाही के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणियों को वेबसाइट से जल्द न हटाने के मामले में दी गई है। चिरानुच प्रेमछेपोर्न के अपराध को कंप्यूटर अपराध की श्रेणी में रखा गया है। मीडिया रिपोर्टो के मुताबिक …

सुप्रीम कोर्ट में स्‍वीडन प्रत्‍यर्पण के खिलाफ मुकदमा हारे अंसाजे

लंदन : अमेरिकी दस्तावेजों को सार्वजनिक कर दुनियाभर में तहलका मचाने वाली स्वीडिश वेबसाइट विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को ब्रिटेन के सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को स्वीडन प्रत्यर्पित करने की मंजूरी दे दी। शीर्ष अदालत के प्रेसिडेंट निकोलस फिलिप्स ने कहा, असांजे के प्रत्यर्पण के विरुद्ध अपील खारिज की जाती है। जजों ने 5-2 के बहुमत से यह फैसला सुनाया। असांजे को फैसले के खिलाफ अपील करने के लिए 14 दिन का समय दिया गया है। इसके मुताबिक 13 जून तक असांजे का प्रत्यर्पण नहीं होगा।

एसएसपी आशुतोष ने धर्मवीर का पैर छूकर कहा : माफ कर दीजिए

: गोरखपुर में अमर उजाला के पत्रकार की सरेआम पिटाई का मामला : स्‍थानीय संपादक ने कहा, एसएसपी इस मसले पर आपस में बात करें : पांव छूकर माफी मांगना और सार्वजनिक पिटाई अलग-अलग बातें हैं : गोरखपुर : पत्रकार की सरेआम पिटाई करने के भड़के विवाद को सुलझाने की कवायद के तहत गोरखपुर के एसएसपी आशुतोष ने आखिर गिरगिट की तरह रंग बदल लिया। अमर उजाला के स्‍थानीय संपादक के चैम्‍बर में आशुतोष पहुंचा और धर्मवीर सिंह के पैर छूकर उनसे सॉरी बोल दिया। लेकिन धर्मवीर इस मसले पर अब झुकने के मूड नहीं है।

कांग्रेस नहीं मानती की उत्‍तराखंड और गोवा में निजाम बदल गया है!

नई दिल्ली। पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के नतीजे आए तीन महीने होने को जा रहे है लेकिन कांग्रेस यह मानने को तैयार नहीं कि गोवा उसके हाथ से निकल चुका है और उसे यह यकीन नहीं हो रहा है कि उत्तराखंड में अब उसका अपना शासन है। चुनाव नतीजों के मुताबिक गोवा में भाजपा ने कांग्रेस को बेदखल कर अपनी सरकार बनाई तो उत्तराखंड की सत्ता भाजपा से छीन कांग्रेस उस पर काबिज हो गई। लेकिन मजे की बात यह है कि कांग्रेस आज भी गोवा को अपना शासित प्रदेश मानती है जबकि उत्तराखंड में उसकी सरकार है, फिर भी वह उसे अपना मानने को तैयार नहीं है।

भाषाई पत्रकारिता के सामने अंग्रेजी टिक नहीं सकती : केदारनाथ सिंह

देश के जाने-माने साहित्यकार डा. केदार नाथ सिंह ने पेड न्यूज को हिन्दी पत्रकारिता के लिये सबसे बड़ा खतरा करार देते हुए दावा किया है कि भाषाई पत्रकारिता के सामने आज भी अंग्रेजी पत्रकारिता टिक नहीं सकती। उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की बलिया इकाई के बैनर तले टाउन हाल के क्रांतिकारी सभागार में हिन्दी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर जनोन्मुख पत्रकारिता-उत्कर्ष एवं क्षरण विषयक गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश की आम जनता तक जो अखबार पहुंचे, वहीं नेशनल मीडिया है। अंग्रेजी अखबारों को कृत्रिम तरीके से नेशनल मीडिया बताया जाता है।

रामदेव और बालकृष्‍ण के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए याचिका

बदायूं। धर्म के नाम पर लोगों की भावनाओं का दुरुपयोग करने एवं लोकतंत्र के विरुद्ध वातावरण तैयार करने का आरोप लगाते हुए स्वामी रामदेव और बालकृष्ण के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत कराने का निवेदन करते हुए न्यायालय में प्रार्थना पत्र दिया गया है। सीजेएम पवन प्रताप सिंह ने प्रार्थना पत्र स्वीकार करते हुए पुलिस को आख्या देने का आदेश देते हुए सुनवाई की अगली तारीख 16 जून निश्चित की है।

ग़ज़ल यानी दूसरों की ज़मीन पर अपनी खेती (दो)

पहली किश्त पढ़कर लंदन से शायर  प्राण शर्मा ने रोचक जानकारी दी…फ़िल्म उमराव जान में ज्ञानपीठ अवार्ड से सम्मानित शायर शहरयार की ग़ज़ल का मतला  है -दिल चीज़ क्या है आप मेरी जान लीजिये / बस एक बार मेरा कहा मान लीजिये। इस मतला के दोनो मिसरे क्रांतिकारी शायर राम प्रसाद `बिस्मिल` की ग़ज़ल से उठाये गए थे। उनकी उस ग़ज़ल के दो शेर देखिए-

जागरण में बंपर छंटनी (18) : संस्‍थान के कर्मचारी कोर्ट जाने की तैयारी में

11 फीसदी मुनाफे का दम भरने वाले जागरण ने अपने उन कर्मियों को ही ठिकाने लगा दिया, जिसके दम पर उसने यह मुकाम हासिल किया. निकाले गए कर्मचारी कोर्ट की शरण में जाने की तैयारी कर रहे हैं, जिससे जागरण प्रबंधन परेशान हो गया है. सूत्रों के मुताबिक जो लोग स्‍वेच्‍छा से रिजाइन नहीं कर रहे हैं, उन्‍हें प्रबधन छल से बाहर करने की तैयारी कर रहा है. इसके लिए उनसे पहले ट्रांसफर लेटर और फिर त्‍याग पत्र पर हस्‍ताक्षर कराए जाने की तैयारी है. और ये हस्‍ताक्षर धोखे से लिए जा सकते हैं. इसके लिए हाल ही में एक मीटिंग भी हो चुकी हैं. कोर्ट जाने की धमकी से तिलमिलाए एडिटर साहब ने अपने चम्‍मचों से इस समस्‍या से निपटने को कहा है. 

जागरण में बंपर छंटनी (17) : गोरखपुर के वरिष्‍ठ पत्रकार ने दी कार्यालय के सामने आत्‍मदाह करने की चेतावनी

दैनिक जागरण, गोरखपुर से खबर है कि छंटनी के शिकार बनाए जाने वाले एक वरिष्‍ठ पत्रकार के चेतावनी से प्रबंधन के हाथ-पांव फूल गए हैं. प्रबंधन ने छंटनी के लिए चार-पांच कर्मचारियों की लिस्‍ट बनाई हुई है, जिसमें एक वरिष्‍ठ पत्रकार भी शामिल हैं. इनकी गिनती गोरखपुर में जागरण के सीधे-सरल और साख वाले पत्रकारों में की जाती है. ये पिछले बाइस सालों से दैनिक जागरण को गोरखपुर में अपनी सेवाएं दे रहे हैं. इनकी ना तो किसी से दोस्‍ती है ना किसी से बैर, इसके चलते ही प्रबंधन के निशाने पर आ गए हैं.

जी न्‍यूज यूपी से टूट जाएगा रामसुंदर का नाता, शरण की नई पारी

जी न्‍यूज यूपी-उत्‍तराखंड से खबर है कि बनारस के स्ट्रिंगर रामसुंदर मिश्र राजू का कांट्रैक्‍ट प्रबंधन ने आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया है. इसके साथ ही रामसुंदर और जी न्‍यूज का संबंध समाप्‍त हो जाएगा. जी यूपी को लम्‍बे समय से अपनी सेवाएं दे रहे रामसुंदर के बारे में बताया जा रहा है कि एक न्‍यूज पोर्टल को लीगल नोटिस भेजने को गंभीरता से लेते हुए प्रबंधन ने उनके कांट्रैक्‍ट को आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया है. नोएडा के वरिष्‍ठों ने भी ऑफ द रिकार्ड बताया कि रामसुंदर का कांट्रैक्‍ट फिलहाल रिन्‍यूवल नहीं किया जा रहा है. यह 31 मई को समाप्‍त हो जाएगा. हालांकि जी न्‍यूज से संबंध विच्‍छेद के बारे में राम सुंदर मिश्र राजू से बात की गई तो उन्‍होंने बताया कि वे अब भी जी न्‍यूज यूपी के साथ जुड़े हुए हैं.

हिंदुस्‍तान के लखनऊ, इलाहाबाद और बनारस यूनिट में आठ लोगों का प्रमोशन

हिंदुस्‍तान अखबार में अब प्रमोशन लेटर बंटना शुरू हो गया है. फिलहाल जो सूचना आ रही है उसमें पूर्वी यूपी के तीन यूनिटों में प्रमोशन लेटर बंटने की सूचना मिल रही है. संभावना जताई जा रही है कि कल से सारे यूनिटों में प्रमोशन लेटर मिलना शुरू हो जाएगा. लखनऊ, बनारस तथा इलाहाबाद में कुल आठ लोगों के प्रमोशन की जानकारी मिली है. लखनऊ से खबर है कि एनई के रूप में कार्यरत नीलमणि को प्रमोट करके सीनियर एनई बना दिया गया है. आलोक उपाध्‍याय को चीफ रिपोर्टर से प्रिंसिपल करेस्‍पांडेंट तथा अजीत को सीनियर रिपोर्टर से चीफ रिपोर्टर बनाया गया है.

जागरण में बंपर छंटनी (16) : नोएडा में चार और लोगों से इस्‍तीफा मांगा गया

दैनिक जागरण, नोएडा से खबर है कि मंगलवार को चार और लोगों को छंटनी का शिकार बनाया गया. इनमें एक डेस्‍क पर कार्यरत थे जबकि तीन रिपोर्टिंग से जुड़े हुए हैं. इन सभी से एचआर ने इस्‍तीफा मांग लिया. इन पत्रकारों को बताया गया कि सीजीएम का निर्देश है कि आप लोगों से इस्‍तीफा मांगा जाए. डेस्‍क पर कार्यरत पत्रकार ने अपना इस्‍तीफा सौंप दिया, जबकि संभावना है कि रिपोर्टिंग से जुड़े लोग भी जल्‍द ही अपना इस्‍तीफा दे सकते हैं. नोएडा में छंटनी को लेकर तनाव है. इसके पहले भी नौ से दस लोगों को छंटनी का शिकार बनाया जा चुका है.

ओम थानवी का शिकार करने को आए थे, शिकार होकर चले गए!

अभिषेक श्रीवास्‍तव ने भड़ास को एक स्‍टोरी भेजी थी, जिसमें उन्‍होंने जनसत्‍ता के संपादक ओम थानवी को कटघरे में खड़ा किया था. इस मामले में भड़ास के हाथ ओम थानवी का एक पत्र लगा है, जिसे उन्‍होंने अभिषेक श्रीवास्‍तव को भेजा था. इस पत्र और तथ्‍यों को समझने के बाद कथित तौर पर अभिषेक श्रीवास्‍तव ने अपनी गलती मानी थी तथा खेद जताते हुए कहा था कि
ओम जी ने जो तारीखों वाली बात कही है, वह सही है। मुझसे तारीखों को लेकर गफ़लत हुई, इसे मैं मान रहा हूं. इसके बाद भी अभिषेक श्रीवास्‍तव ने ओम थानवी को कटघरे में खड़ा कर डाला. नीचे ओम थानवी द्वारा अभिषेक श्रीवास्‍तव को भेजा गया पत्र, जिसमें उन्‍होंने बातों को क्‍लीयर किया है.  

आरएसएस के प्रशिक्षण शिविर में सात पत्रकार भी शामिल

नागपुर में चल रहे आरएसएस के तृतीय वर्ष प्रशिक्षण शिविर में एक हजार से अधिक स्‍वयंसेवक शामिल हुए हैं. इनमें चाटर्ड एकाउंटेंट, पत्रकार, वकील, इंजीनियर से लेकर तमाम पेशा अपनाने वाले लोग शामिल हैं. रेशमबाग स्थित डॉ. हेडगेवार स्मृति भवन परिसर में चल रहे प्रशिक्षण शिविर में विदेशों से 7 स्वयंसेवक शामिल हुए हैं। जो लोग इस शिविर में शामिल हुए हैं उनमें 5 डॉक्टर, 224 नौकरीपेशा, 1 सीए, 12 अभियंता, 10 वकील, 192 शिक्षक, 90 किसान व 7 पत्रकार शामिल हैं. अमेरिका व नेपाल से 2-2 व मलेशिया से 1 स्वयंसेवक शामिल हुआ है.

रिलायंस को राघव बहल के नेटवर्क18 में निवेश को मिली हरी झंडी

कम्‍पटीशन कमिशन ऑफ इंडिया यानी सीसीआई ने मुकेश अंबानी के स्‍वामित्‍व वाली कंपनी रिलायंस इंडस्‍ट्रीज को राघव बहल के मीडिया फर्म नेटवर्क18 और टीवी18 ब्राडकास्‍ट में स्‍टेक खरीदने को हरी झंडी दे दी है. रिलायंस इंडस्‍ट्रीज के मालिक मुकेश अंबानी ने नेटवर्क18 के माध्‍यम से मीडिया में बड़ी राशि निवेश की है. नेटवर्क18 के माध्‍यम से रिलायंस ने 1700 करोड़ रुपये का निवेश किया है. इस निवेश के तहत रिलायंस ने रामोजी राव के इनाडु टीवी का एक बड़ा हिस्‍सा खरीदा है. नीचे बिजनेस लाइन में प्रकाशित खबर.

दैनिक जागरण की परीक्षा : केवल दो पास, समाचार सम्पादक समेत सारे फेल

पिछले दिनों दैनिक जागरण जालन्धर यूनिट में उप समाचार सम्पादकों की एक लिखित परीक्षा ली गयी. देश का नम्बर एक अख़बार होने का दंभ भरने वाले इस अख़बार की अंदरूनी हालत यह है कि केवल दो उप समाचार सम्पादक ही पास हो सके. समाचार सम्पादक शाहिद रज़ा समेत सारे फेल हो गए. वैसे एक और बात भी खूब चर्चा में होती है कि अपने आका कमलेश रघुवंशी से ही हर बात पूछ कर राज काज चलाने वाले रज़ा की स्थिति आजकल वैसे ही खराब चल रही है.

वरिष्‍ठ पत्रकार केएन सिंह बने राजस्‍थान में एडवाइजर टू द यूनिवर्सिटी

वरिष्‍ठ पत्रकार कुमार नरेंद्र सिंह उर्फ केएन सिंह ने पाक्षिक पत्रिका हलचल हालचाल से इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने नईदुनिया से इस्‍तीफा देने के बाद इस पत्रिका के संपादक के रूप में ज्‍वाइन किया था. एके‍डमिक इंटरेस्‍ट रखने वाले केएन सिंह अब राजस्‍थान में इंस्‍टीट्यूट फार एडवांस स्‍टडीज एंड एजुकेशन से जुड़ गए हैं. उन्‍हें इस डीम्‍ड विश्‍वविद्यालय का एडवाइजर टू द यूनिवर्सिटी बनाया गया है. केएन सिंह के जिम्‍मे पत्रकारिता संस्‍थान के स्‍थापना की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है.

जागरण में बंपर छंटनी (15) : हिसार में छह की छंटनी, परीक्षा में असफल को अभयदान

जागरण में टॉपर को सजा मिलने की बात आखिरकार सबके सामने आ ही गई। बीती देर शाम मैनजमेंट से हिसार दैनिक जागरण यूनिट में आई छंटनी लिस्ट में अनिल, शशि, ध्यानी, मनीष पांडेय, संजय योगी सहित एक अन्य कर्मचारी से यहां से खुद छोड़ जाओ, या फिर हम निकाल देंगे, यह कहकर बाहर का रास्ता दिखा दिया। हैरत की बात तो यह है कि जागरण की परीक्षा में फेल हुए वरिष्ठ संवाददाता सुरेन्द्र सोढ़ी को इस छंटनी लिस्ट से दूर रखा गया।

इंटरनेट ने हिंदी पत्रकारिता को वैश्विक पहचान दी है : एलवीके

जौनपुर : वीर बहादुर सिंह पूर्वाचल विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग के तत्वाधान में हिंदी पत्रकारिता दिवस की पूर्व संध्या पर संकाय भवन में 'हिंदी पत्रकारिता की वर्तमान स्थिति' विषयक गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस मौके पर बतौर मुख्य वक्ता वरिष्ठ पत्रकार एलवीके दास ने कहा कि हिंदी पत्रकारिता के क्षेत्र में नित नए प्रयोग हो रहे हैं। आज इंटरनेट के माध्यम से हिंदी पत्रकारिता की पहुंच वैश्विक हो गई है। इसमें चुनौतियों के साथ ही साथ अवसरों की भी वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि हिंदी समाचार पत्र एवं पत्रिकाओं की प्रसार संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। यह शुभ संकेत है कि आगे इसका भविष्य उज्ज्वल है।

अगस्त में यूपी में लांच होगा पत्रिका ‘समाचार विस्फोट’

हिंदी मासिक पत्रिका समाचार विस्फोट अपनी पहली वर्षगांठ पर अन्य हिन्दी भाषी राज्यों की तरह उत्तर प्रदेश में भी अपना विस्तार करने जा रही है। पत्रिका मुख्यत: ग्रामीण पृष्ट भूमि को फोकस करेगी। समाचार विस्फोट की संपादक सुनीता ने बताया कि नागपुर से प्रकाशित होने वाली समाचार विस्फोट पत्रिका वतर्मान में तकरीबन 10 राज्यों में कुछ खास क्षेत्रों में पहुंच रही है। अगस्त में पहली वर्षगांठ के अवसर पर उत्तर प्रदेश में लॉन्च करने की योजना हैं। हमारी योजना है कि पूरे उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में अपना प्रतिनिधि नियुक्त करके वहां के मुद्दों को बहस में शामिल करने की है। उद्देश्य पत्रिका में वैचारिक सामग्री और न्यूज विश्लेषण देना होता है।

पत्रकार हरीशचंद्र बर्णवाल की कहानियों का संग्रह ‘सच कहता हूं’ लोकार्पित

वरिष्ठ टीवी पत्रकार हरीश चंद्र बर्णवाल की कहानियों का संग्रह “सच कहता हूं” को देश की की जानी मानी हस्तियों ने मंगलवार को लोकार्पण किया। ये लोकार्पण समारोह दिल्ली से सटे फिल्म सिटी के मारवाह स्टूडियो में किया गया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि जहां राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष सुश्री ममता शर्मा थीं। वहीं वरिष्ठ लेखक और हंस के संपादक राजेंद्र यादव, मशहूर लेखिका मैत्रेयी पुष्पा, आज तक न्यूज चैनल के न्यूज डायरेक्टर कमर वाहिद नकवी, आईबीएन7 के मैनेजिंग एडिटर आशुतोष, न्यूज 24 के मैनेजिंग एडिटर अजित अंजुम, महुआ के ग्रुप एडिटर राणा यशवंत, आज तक के वरिष्ठ एंकर सईद अंसारी, सीनियर आईपीएस अफसर और दिल्ली के ज्वाइंट कमिश्नर ऑफ पुलिस तेजेंदर लुथरा और बच्चों के मशहूर डॉक्टर रवि मलिक ने भी शिरकत की। कार्यक्रम के मॉडरेटर रहे मारवाह ग्रुप के डायरेक्टर संदीप मारवाह।

”यशवंतजी, खबर दिखाने से नाराज भभुआ पुलिस ने फर्जी मुकदमे में फंसा दिया”

कैमूर (भभुआ)। यशवंतजी, 9 मई 2012 की देर शाम भभुआ बाजार के नो इंट्री जोन में एक ड्राइवर अपना ट्रक लेकर चला गया। इस ट्रक ड्राइवर को भभुआ थाने के दो दरोगा पकड़ लिए तथा पैसे की मांग करने लगे। ड्राइवर द्वारा पैसा नहीं देने पर उसकी इतनी पिटाई की गई कि उसका दाहिना हाथ टूट गया तथा बायें कान का पर्दा भी फट गए। सूचना मिलने पर हम तीन-चार पत्रकार सदर अस्पताल भभुआ पहुंचे, जहां उसका इलाज चल रहा था। मेरे द्वारा इस पूरे प्रकरण को कवरेज किया गया।

दैनिक भास्‍कर के मालिकाना हक को लेकर कोर्ट में बहस

जबलपुर। दैनिक भास्कर के खिलाफ प्रकाशन और मालिकाना हक से संबंधित फर्जी घोषणा पत्र के मामले में सोमवार को जोरदार बहस हुई। भास्कर की ओर से प्रारंभिक आपत्ति दर्ज कर इस मामले को कलेक्टर के समक्ष दायर करने को चुनौती दी गई। सभी पक्षों को सुनने के बाद एडीएम अक्षय कुमार सिंह ने मामले की अगली सुनवाई 15 जून नियत की है।

इस विकास से आम आदमी का क्‍या लेना-देना है?

यह रास्ता जंगल की तरफ जाता जरुर है लेकिन जंगल का मतलब सिर्फ जानवर नहीं होता। जानवर तो आपके आधुनिक शहर में हैं, जहां ताकत का एहसास होता है। जो ताकतवर है उसके सामने समूची व्यवस्था नतमस्तक है। लेकिन जंगल में तो ऐसा नहीं है। यहां जीने का एहसास है। सामूहिक संघर्ष है। एक-दूसरे के मुश्किल हालात को समझने का संयम है। फिर न्याय से लेकर मुश्किल हालात से निपटने की एक पूरी व्यवस्था है। जिसका विरोध भी होता है और विरोध के बाद सुधार की गुंजाइश भी बनती है। लेकिन आपके शहर में तो जो तय हो गया चलना उसी लीक पर है। और तय करने वाला कभी खुद को न्याय के कठघरे में खड़ा नहीं करता। चलते चलिये। यह अपना ही देश है। अपनी ही जमीन है। और यही जमीन पीढ़ियों से पूरे देश को अन्न देती आई है। और अब आने वाली पीढ़ियों की फिक्र छोड़ हम इसी जमीन के दोहन पर आ टिके है।

अमर उजाला के संपादक बताएं – ऑफिस क्‍यों नहीं आ रहे धर्मवीर?

अमर उजाला के तेज तर्रार पत्रकारों में शुमार धर्मवीर की आईपीएस अधिकारी आशुतोष द्वारा की गयी पिटाई और अखबार में दो लाइन की खबर भी नहीं छपने से दुखित पत्रकार के सम्बन्ध में लोग संपादक मृत्‍युंजय से जानना चाहते हैं कि -आफिस क्यों नहीं आ रहे धर्मवीर सिंह. संपादक में नैतिक साहस हो तो वे इस बात का खुलासा करें. धर्मवीर सिंह छात्र जीवन से ही सरल स्वभाव और मान सम्मान के साथ जीने वाले युवक हैं. अमर उजाला जैसे टिमटिमाते हुए अखबार के जुझारू पत्रकार हैं.

जनसंदेश टाइम्‍स, कानपुर के कर्मचारियों को नहीं मिली अपैल की सैलरी

जनसंदेश टाइम्‍स, कानपुर से खबर है कि कई पत्रकारों की अप्रैल माह की सेलरी अभी नहीं मिली है. इसके चलते पत्रकार तथा गैर पत्रकार कर्मचारियों का बुरा हाल है. पत्रकारों का कहना है कि ज्‍यादातर लोगों की सेलरी अभी रुकी हुई है, जबकि प्रबंधन की तरफ से कहा जा रहा है कि अधिकांश लोगों की सैलरी दी जा चुकी है. उन्‍हीं लोगों के पैसे रोके गए हैं, जिन्‍होंने अपने कमिटमेंट पूरे नहीं किए हैं. जिन कर्मचारियों की सेलरी नहीं आई है, वे परेशान हैं. इधर उधर से पैसे लेकर काम चला रहे हैं.

आई नेक्‍स्‍ट से रोहित का इस्‍तीफा, आशुतोष नए एजीएम बने

आई नेस्‍क्‍ट से खबर है कि रोहित मेहरोत्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे एजीएम मार्केटिंग के पद पर कार्यरत थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. माना जा रहा है कि बिजनेस में कमजोर परफारमेंस के चलते प्रबंधन ने उनसे इस्‍तीफे की मांग …

स्‍टार न्‍यूज : पत्रकार नाम बदलने से पहले चैनल बदलने की तैयारी में

: नाम बदलने से बदल जाएगा बहुत कुछ : ब्रांड नेम क्‍या होता है यह आनंद बाजार पत्रिका को समझ में आ चुका है. करोड़ों खर्च करने के बाद भी प्रबंधन की धुकधुकी चल रही है. स्‍टार ब्रांड से अलग होने के बाद एबीपी को ही ब्रांड बनाने की तैयारी में जुटा आनंद बाजार पत्रिका समूह एक जून के बाद मार्केट की स्थिति को लेकर परेशान है. एक जून से ब्रांड तो बदलेगा ही, ऑन स्‍क्रीन भी बहुत कुछ बदल जाएगा. पर इतने सालों से जिस स्‍टार न्‍यूज ने अपना झंडा गाड़ रखा था, उसके ब्रांडिंग उसके साये से इतना जल्‍द बाहर निकल पाना कोई हंसी-खेल नहीं दिख रहा है.

भास्‍कर ने बताया – ललित नारायण मिश्र थे बिहार के मुख्‍यमंत्री

ललित नारायण मिश्र बिहार के मुख्‍यमंत्री थे. यह कहना है दैनिक भास्‍कर का. अखबार के मंगलवार के अंक में गुरुचरन दास के लेख में इस बात पर चिंता व्‍य‍क्‍त की गई है कि बिहार के मुख्‍यमंत्री रहे एलएन मिश्र यानी ललित नारायण मिश्र की हत्‍या का मुकदमा अभी तक चल रहा है. भास्‍कर की यह गलती अक्ष्‍मय तो है ही साथ ही इस बात को भी रेखांकित करता है कि अखबारों में किस कदर संपादक का पद अप्रासंगित होता जा रहा है. आगे भी इस लेख में कहा गया है कि मुख्‍यमंत्री रहे व्‍यक्ति की हत्‍या के मुकदमे का यह हाल है तो…!

लोकतंत्र को बचाने के लिए सच्‍ची पत्रकारिता समय की जरूरत : वेद प्रताप

सिरसा : अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त राजनीतिक विश्‍लेषक वेद प्रताप वैदिक ने कहा है कि देश में लोकतंत्र को बचाने के लिए सच्ची पत्रकारिता आज के समय की सबसे बड़ी जरूरत है इसलिए पत्रकारों को ऐसी पत्रकारिता करके अपनी महती भूमिका निभानी चाहिए। श्री वैदिक मंगलवार को हरियाणा पत्रकार संघ की जिला इकाई द्वारा स्थानीय पंचायत भवन में हिंदी पत्रकारिता दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित विचार गोष्ठी में जिला भर से आए हुए पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे।

जस्टिस काटजू के पत्र पर पाकिस्‍तानी पत्रकार ने की सरबजीत के रिहाई का समर्थन

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक सरबजीत सिंह की रिहाई के लिए सीमापार से समर्थन मिला है। पाकिस्तान की प्रेस परिषद के सदस्य ने इस संबंध में दाखिल याचिका का समर्थन किया है। भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कंडेय काट्जू ने पिछले दिनों पाकिस्तान सरकार से सिंह की रिहाई के लिए कई बार अपील की है। काटजू की अपील पर अधिकारियों की तरफ से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है, लेकिन लेकिन पाकिस्तान के जाने-माने पत्रकार और वहां की प्रेस परिषद के सदस्य सईद फासेह इकबाल ने भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष के पत्र में रखी गई मांग का समर्थन किया है।

अब आगरा में नहीं दिल्‍ली में जिम्‍मेदारी संभालेंगे कल्‍याण कुमार

आगरा से जोरदार शुरुआत करने वाले सी न्‍यूज चैनल के बारे में खबर है कि प्रबंधन ने कल्‍याण कुमार को अब दूसरे मोर्चे पर लगा दिया है. सूत्रों का कहना है कि उन्‍हें अब मार्केटिंग हेड बनाया गया है, परन्‍तु प्रबंधन इस बात से इनकार कर रहा है. प्रबंधन का कहना है कि कल्‍याण कुमार अब भी चैनल हेड हैं. उन्‍हें समूह की कुछ और जिम्‍मेदारियों को अंजाम देने के लिए आगरा से दिल्‍ली भेजा गया है. कल्‍याण कुमार अब दिल्‍ली में बैठकर अपनी जिम्‍मेदारी संभालेंगे. माना जा रहा है कि प्रबंधन उनका पर कतरने की तैयारी कर रहा है. हालांकि इस संबंध में पूछे जाने पर सी समूह के समाचार निदेशक विवेक जैन कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है. कल्‍याण कुमार को कंपनी के कुछ नई जिम्‍मेदारियों को मूर्त रूप देने के लिए दिल्‍ली भेजा गया है.

वरिष्‍ठ पत्रकार ने बार लाइब्रेरी को दान कर दी अपनी किताबें

मोग। बुजुर्ग पत्रकार एवं एडवोकेट सरदार अमर सिंह धीमान के 53 साल की वकालत पूरी करने पर अपनी किताबें जिला बार एसोसिएशन के पुस्तकालय को दान कर दी। इस उपलक्ष्य में जिला बार एसोसिएशन की ओर से सोमवार को कोर्ट परिसर में सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। समागम की प्रधानगी डीसी अर्शदीप सिंह थिंद और जिला सेशन जज मोगा कर्मजीत सिंह कंग ने की। पुलिस के आईजी ईश्वर चंद्र समागम में मुख्य मेहमान रहे।

ब्रिजेश चौहान का तबादला, बालेंदु एवं राजेंद्र की नई शुरुआत

देर से मिली सूचना के अनुसार अमर उजाला, मुजफ्फरनगर से खबर है कि ब्रिजेश चौहान का तबादला फिरोजाबाद के लिए कर दिया गया है. वे मुजफ्फरनगर के ब्‍यूराचीफ थे. फिरोजाबाद में भी उन्‍हें यही जिम्‍मेदारी दी गई है. चीफ सब एडिटर ब्रिजेश लगभग एक दशक से अमर उजाला को अपनी सेवाएं दे रहे हैं. वे लम्‍बे समय से मेरठ यूनिट के बागपत, सहारनपुर आदि जिलों में ब्‍यूरोचीफ रह चुके हैं. ब्रिजेश की गिनती अमर उजाला के तेजतर्रार पत्रकारों में की जाती है.

बिहार में मीडिया की स्‍वतंत्रता के लिए मुहिम चलाएंगे लालू प्रसाद

पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने सोमवार को आरोप लगाया कि बिहार में वर्तमान नीतीश सरकार मीडिया की स्वतंत्रता का गला घोंटने का प्रयास कर रही है और वह इसके खिलाफ मुहिम चलाएंगे। लालू ने यहां संवाददाताओं से कहा कि नीतीश सरकार सरकारी विज्ञापनों के नाम पर बिहार में प्रेस की आजादी का गला घोंटने का प्रयास कर रही है। राजद इसके खिलाफ मुहिम चलाएगा। पार्टी विभिन्न अखबारों के संपादकों से मिलकर स्वतंत्र और निष्पक्ष रूप से काम करने का अनुरोध करेगी। भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष मार्कण्डेय काटजू ने इसकी छानबीन के लिए एक समिति भी बनाई है।

अंजना कश्‍यप स्‍टार न्‍यूज से इस्‍तीफा देकर आजतक जाएंगी!

  स्‍टार न्‍यूज से खबर है कि चैनल की स्‍टार एंकर अंजना कश्‍यप एबीपी न्‍यूज का हिस्‍सा नहीं बनेंगी. चर्चा है कि अंजना जल्‍द ही आजतक जाने वाली हैं. हालांकि अभी उनके नजदीकी सूत्रों का कहना है कि अभी ये शुरुआती खबर है, परन्‍तु इस बात को बल उसी समय से मिलने लगा था, जब …

आजतक चैनल के नए हेड होंगे सुप्रिय प्रसाद

 

आजतक से खबर है कि सुप्रिय प्रसाद को चैनल का नया हेड बनाया जा रहा है. नकवी जी के जाने के बाद सुप्रिय यह जिम्‍मेदारी संभालेंगे. सुप्रीय अभी तक आजतक में आउटपुट हेड की जिम्‍मेदारी निभा रहे थे. हालांकि उन्‍हें नकवी जी की तरह न्‍यूज डाइरेक्‍टर नहीं बनाया जा रहा है. नकवी जी के पास न्‍यूज डाइरेक्‍टर के रूप में टीवी टुडे ग्रुप के चारों चैनलों की जिम्‍मेदारी थी. वे चारो चैनलों का सुपरविजन कर रहे थे, परन्‍तु सुप्रिय के जिम्‍मे केवल आजतक की जिम्‍मेदारी रहेगी.

आगरा में लुट गई इंग्‍लैंड की पत्रकार

आगरा : भीषण गर्मी में सड़कों पर पसरा सन्नाटा इंग्‍लैड की जर्नलिस्ट के लिए घातक साबित हुआ। फूल सैय्यद चौराहे पर बाइक सवार दो लुटेरों ने इंग्लैंड की जर्नलिस्ट का गले में लटका पर्स लूट लिया। वह रिक्शे से गिर पड़ी, लेकिन पर्स नहीं बचा पाई। घटना से महिला दहशत में आ गई। पर्स में हजारों की नगदी, पासपोर्ट, क्रेडिट कार्ड और कैमरा आदि थे। पर्यटक ने पर्यटन थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

‘दलित दस्‍तक’ की लांचिंग तस्‍वीरों की जुबानी

मासिक पत्रिका दलित दस्‍तक की लांचिंग के दौरान पत्रकारिता जगत की कई जानी मानी हस्तियां पहुंची. वरिष्‍ठ पत्रकार एवं चौथी दुनिया के संपादक संतोष भारतीय, वरिष्‍ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह, इंडिया टुडे के संपादक दिलीप मंडल, भड़ास4मीडिया के संपादक यशवंत सिंह, वरिष्‍ठ पत्रकार अशोक वानखेड़े, महुआ न्‍यूज के वरिष्‍ठ पत्रकार उमेश चतुर्वेदी, जय प्रकाश कर्दम, अनिता भारती, सुशील कुमार, नीतिन नेतराम, सुनील कुमार सुमन समेत कई जानी मानी हस्तियों ने लांचिंग समारोह में शिरकत की. लांचिंग की कुछ तस्‍वीरें.

जोरदार तरीके से लांच हुई अशोक दास की पत्रिका ‘दलित दस्‍तक’

दलित-पिछड़ों की आवाज को उपर तक पहुंचाने का लक्ष्‍य लेकर चलने वाली मासिक पत्रिका 'दलित दस्‍तक' की भव्‍य लांचिंग रविवार को हुई. गांधी शांति प्रतिष्‍ठान में आयोजित लांचिंग समारोह में पत्रकारिता से जुड़ी कई नामचीन हस्तियां पहुंचीं. सैकड़ों लोगों की उपस्थिति में दलित-पिछड़ा हित के संघर्ष को मंच देने का वादा किया गया. पत्रिका के संपादक-प्रकाशक अशोक दास हैं. अशोक दास पिछले छह सालों से पत्रकारिता करते हुए अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे हैं.

दैनिक भास्‍कर के पत्रकार पर हमला, कैमरा-मोबाइल लूटा

: पुलिस ने जबरिया लिखवाया राजीनामा : भिंड जिले के फूप कस्बे के दैनिक भास्कर संवाददाता अरविंद शर्मा को फूप गल्ला मंडी में चल रही गेंहू की सरकारी खरीद के दौरान किसानों के बीच विवाद की सूचना मिली. किसान पहले गेहूं तौलवाने को लेकर एक-दूसरे से उलझे हुए थे. इस सूचना के बाद कवरेज को पहुंचे अरविंद शर्मा जब फोटो खींच रहे थे, उसी समय गल्ला मंडी में मौजूद छोटल्ले, चीने व भरत जाटव ने पत्रकार का कैमरा छीन लिया. इसके बाद उनसे मारपीट करते हुए उनका मोबाइल भी छीन लिया.

कारखाना बनता जा रहा है इंडिया टीवी : सुविधाएं नदारद पर काम पूरा चाहिए

न्‍यूज चैनल इंडिया टीवी अब मीडिया संस्‍थान कम फैक्‍टरी ज्‍यादा बनता जा रहा है. पिछले दिनों एचआर व एडमिन हेड पुनीत टंडन ने मेल जारी करके कर्मचारियों को ऑफिस टाइम में चाय पीने बाहर ना जाने कहा था तो अब एक और मेल जारी करके वो मीडिया संस्‍थान को कारखाना-फैक्‍टरी बनाने की कोशिश करते दिख रहे हैं. पुनीत ने कर्मचारियों को मेल जारी करके कहा है कि ऐसा महसूस किया जा रहा है कि तमाम कर्मचारी अपनी शिफ्ट पूरी नहीं कर रहे हैं. अब लेट आने वाले तथा शिफ्ट पूरी न करने वालों का नाम हाइलाइट किया जाएगा.

जागरण में बंपर छंटनी (14) : बरेली में एक तरफ छंटनी-तबादला तो दूसरी तरफ भर्ती

दैनिक जागरण में चल रहे छंटनी के दौर में अपने लोगों को सेट भी किया जा रहा है. बरेली से खबर है कि प्रबंधन एक तरफ से सरप्‍लस स्‍टाफ बताकर तमाम लोगों की छंटनी कर रहा है तो दूसरी तरफ नए सिरे से भर्तियां भी की जा रही हैं. प्रोडक्‍शन विभाग में कार्यरत चार कम्‍प्‍यूटर ऑपरेटरों का तबादला कर दिया गया था, जिसमें तीन लाल प्रभाकर, विजय सिंह यादव व छेदा लाल को मुरादाबाद तथा महिपाल यादव को हल्‍द्वानी भेजा गया था. 

प्रभात खबर बिहार से भी लांच करेगा टैबलाइड ‘पंचायतनामा’

प्रभात खबर ग्रामीण इलाके के पाठकों को लक्ष्‍य करके लांच किए गए अपने पाक्षिक अखबार 'पंचायतनामा' का विस्‍तार अब बिहार में भी लांच करने जा रहा है. झारखंड में इस अखबार को मिली सफलता से गदगद प्रबंधन अगले महीने से इस अखबार को बिहार से भी प्रकाशित करेगा. बिहार में इस अखबार का संपादक मानवेंद्र कुमार को बनाया गया है. इस अखबार की ब्रांडिंग शुरू कर दी गई है. प्रभात खबर में इसका विज्ञापन भी प्रकाशित किया जा रहा है.

दैनिक जागरण में एक और रिपोर्टर निकला गूगल चोर

: 25 दिन पुरानी खबर को उडाकर फिर से छापा : जमशेदपुर दैनिक जागरण में एक और गुगल चोर सामने आया है। जागरण के इस संवाददाता की चोरी भी गुगल ने ही पकड ली है। यह खबर 25 दिन पुरानी है जिसे दूसरे अखबार से उडाकर दोबारा प्रमुखता से जागरण में प्रकाशित किया गया है। खबर है बिना डाटाकार्ड रहिए आन लाइन। रेल में इंटरनेट सेवा को लेकर इसरो की अनापत्ति मिलने के बाद 2 मई को पूरे देश भर में इस खबर को सभी समाचार पत्रों ने छापा था। लेकिन 25 दिन बाद 27 मई को जमशेदपुर दैनिक जागरण ने इसी खबर प्रमुखता से फिर से छापा गया।

किशनगढ़ में दो मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट

किशनगढ़ में मुख्य चौराहे पर अवैध निर्माण की सूचना पर कवरेज करने गए मीडिया कर्मियों के साथ रविवार दोपहर को चार-पांच युवकों ने बदसलूकी करते हुए मारपीट की। मारपीट के दौरान युवकों ने मीडिया कर्मियों का कैमरा तोड़ दिया और गले से सोने की चेन छीन ली। मौके पर मौजूद लोगों ने मीडिया कर्मियों को युवकों के चंगुल से बचाया। मौका देखकर युवक फरार हो गए। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है।

महादेवी वर्मा के रामगढ़ आवास पर आलोक तोमर की याद में एक जुटान

२६ मई को सुविख्यात कवियत्री स्व. महादेवी वर्मा के रामगढ़ आवास पर जनसत्ता के वरिष्ठ पत्रकार अम्बरीश कुमार ने एक छोटे से कार्यक्रम के लिए बुलावा भेजा. वहां जाकर मालूम हुआ कि ये आयोजन दबंग पत्रकार अलोक तोमर की याद में किया जा रहा है, जो कि अक्सर यहाँ आते रहते थे. उन्होंने यहाँ बसने का इरादा भी कर लिया था, पर वो कहीं और जा बसे. अम्बरीश जी की कोशिशों से यहाँ, साहित्यकार विभूति नारायण, न्यूज़ २४ के अजीत अंजुम, आउटलुक की गीता श्री, सीएनबीसी के अलोक जोशी, संतोष, मयंक सक्सेना, आशुतोष, नैनीताल से प्रयाग पांडे, छतीसगढ़ से राजकुमार सोनी आदि ने अलोक तोमर को अपनी अपनी दिल की गहराइयों से याद किया.

ओम थानवी का अनंतर या धोखे का लोकतंतर???

जनसत्‍ता में 20 अप्रैल को संपादक ओम थानवी ने अपने स्‍तम्‍भ 'अनन्‍तर' में जब 'आवाजाही के हक में' आधा पन्‍ना रंगा था, उसी दिन इस लपकी गई बहस के मंतव्‍य से 'कुछ गर्द हट' गई थी। 14 अप्रैल को मंगलेश डबराल का इंडिया पॉलिसी फाउंडेशन के मंच पर जाना, 16 अप्रैल से मेरे और विष्‍णु खरे के बीच शुरू हुई मेला-मेली, 20 अप्रैल को बहस का जनसत्‍ता में शिफ्ट हो जाना और 27 मई को 'अनन्‍तर' से ही बहस का पटाक्षेप- पूरे डेढ़ महीने की इस कवायद में आखिर हिंदी के बड़े लेखकों, एक हिंदी अखबार के संपादक और खुद इस बहस में शामिल स्‍टेकहोल्‍डर्स ने वास्‍तव में किया क्‍या? आइए, ज़रा फ्लैशबैक में चलते हैं।

सिंगर मिलन सिंह पहुंची देशबंधु के गाजियाबाद कार्यालय

गाजियाबाद। आवाज की जादूगर तथा विश्व प्रसिद्व बॉलीवुड डयूल वायस सिंगर सुश्री मिलन सिंह अपने व्यस्त कार्यक्रम से फुर्सत के कुछ क्षण निकालकर नई दिल्ली से प्रकाशित राष्ट्रीय हिंदी दैनिक देशबंधु के गाजियाबाद राजनगर डिस्ट्रीक सेंटर स्थित प्रादेशिक कार्यालय पहुंची, जहां उहोंने सम्पादकीय, प्रसार तथा मार्केटिंग विभाग के कर्मयोगियों से न केवल तफसील से मुलाकात की बल्कि अखबार के प्रकाशन तकनीक के बारे में भी जानकारी हासिल की।

जागरण में बंपर छंटनी (13) : गीता डोगरा को निकालकर संवेदना शब्‍द की भी हत्‍या कर डाली प्रबंधन ने

अपनी निर्लज्जता का क्रूर प्रदर्शन करते हुए जालंधर जागरण के समाचार संपादक शाहिद रजा ने 'छंटनी बंपर' के तहत जालंधर यूनिट की संस्थापक टीम की सदस्य तथा वरिष्ठ पत्रकार, कवयित्री गीता डोगरा का शिकार कर दिया है। उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। महज तीन महीने पहले श्रीमती गीता डोगरा के पति इंजीनियर मनमोहन शर्मा का निधन हो गया था और उन्हें अभी नौकर की सख्‍त जरूरत थी। अभी तो उनके पति की पेंशन भी शुरू नहीं हुई थी कि उनकी नौकरी खा ली गई है।

आरोप-प्रत्‍यारोप, कहासुनी के बीच 21 जून तक चुनाव कराने का निर्णय

: यूपी मान्‍यता प्राप्‍त संवाददाता समिति के चुनाव को लेकर मचा घमासान : यूपी के बड़े पत्रकारों की बैठक में लात-जूता तो नहीं चला, मगर यह होने से बस कुछ पायदान ही बच पाया। तल्‍ख आलोचना, तनाशाही और दलाली के गंदे आरोप, बहिर्गमन और परस्‍पर शर्म-शर्माना जैसी कवायदों के बीच विधानसभा भवन के प्रेसरूम में दो घंटा तक चली इस बैठक में चौथी बार तय किया गया अब 21 जून तक उप्र मान्‍यताप्राप्‍त संवाददाता समिति का चुनाव हर हाल में करा लिया जाएगा। बैठक के बीच में ही एक धड़े ने इस बैठक को अवैध करार देते हुए बैठक से खुद को अलग कर दिया।

हिंदुस्‍तान विज्ञापन घोटाला : पुलिस ने डीएवीपी से मांगा कई सवालों के जवाब

मुंगेर। 200 करोड़ के दैनिक हिन्दुस्तान के विज्ञापन घोटाले में आरक्षी अधीक्षक पी. कन्नन के निर्देशन में आरक्षी उपाधीक्षक (मुख्यालय) अरुण कुमार पंचालर की ओर से दी गई पर्यवेक्षण रिपोर्ट में बिहार पुलिस ने भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के ‘‘विज्ञापन एवं प्रचार निदेशालय (डीएवीपी)'', नई दिल्ली को भी जांच के दायरे में अब ले लिया है। उच्च पदस्थ पुलिस सूत्रों ने आज बताया कि पुलिस उपाधीक्षक ने डीएवीपी से निम्नवर्णित कानूनी बिन्दुओं पर प्रतिवेदन प्राप्त करने का लिखित आदेश जांचकर्ता को जारी कर दिया है।

दैनिक भास्‍कर में सोमेश, अशोक एवं धर्मेंद्र की जिम्‍मेदारियां बदली

दैनिक भास्‍कर, हरियाणा से खबर है कि तीन पत्रकारों की जिम्‍मेदारियों में बदलाव करते हुए उन्‍हें इधर से उधर किया गया है. भिवानी में रिपोर्टर के रूप में कार्यरत सोमेश चौधरी का तबादला चरखी दादरी के लिए कर दिया गया है. सोमेश को ब्‍यूरोचीफ की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. चरखी दादरी के ब्‍यूरोचीफ अशोक कौशिक …

जागरण में बंपर छंटनी (12) : गोरखपुर से तीन की विदाई, दस अन्‍य निशाने पर

दैनिक जागरण में बम्पर छंटनी अभियान में गोरखपुर में भी तीन पत्रकारों की बलि दे दी गयी. अभी दस और पत्रकारों को बाहर का रास्ता दिखाने की कार्रवाई जारी है. खबर है कि आरडी दीक्षित, बनमाली त्रिपाठी, जितेन्द्र शुक्ल से इस्‍तीफा लिया गया है. आरडी दीक्षित, गोरखपुर में समीक्षा का कार्य देखते थे. बनमाली त्रिपाठी महाराजगंज में थे और जागरण के धुरंधर पत्रकारों में शुमार थे. जितेन्द्र शुक्ल संत कबीर नगर में रिपोर्टर थे. कहा जा रहा है कि दीक्षित रिटायरमेंट के बाद एक्सटेंशन पर थे. जागरण उन्हें समीक्षा के लिए रखा था. महराजगंज में बनमाली त्रिपाठी लिखाड़ रिपोर्टर थे. वहां के ब्यूरो प्रभारी ने अपनी कुर्सी बचाने में बनमाली की बलि दिलवा दी.

आई नेक्‍स्‍ट को मिला वैन इफ्रा अवार्ड

नई दिल्ली । जागरण समूह का बाईलिंगुअल काम्पैक्ट साइज डेली आई नेक्स्ट ने व‌र्ल्ड यंग रीडर न्यूजपेपर आफ द ईयर-2012 का खिताब हासिल कर नया इतिहास रच दिया है। व‌र्ल्ड एसोसिएशन ऑफ न्यूज पेपर्स एंड न्यूज पब्लिशर्स [वैन इफ्रा] की तरफ से आई नेक्स्ट को युवाओं के बीच सबसे बेहतरीन काम करने के लिए इस अवार्ड से नवाजा जाएगा। वैन इफ्रा 120 देशों के 18,000 से प्रकाशन और 15,000 से ज्यादा वेबसाइट्स का संगठन है। आई नेक्स्ट को यह अवार्ड 10 जुलाई को बैंकाक में एशिया पैसिफिक यंग रीडर सम्मिट के दौरान दिया जाएगा।

चोरी के आरोप में फर्जी पत्रकार समेत आधा दर्जन पुलिस गिरफ्त में

रायपुर। तेलघानी नाका इलाके में चोरी के लैपटॉप को बेचने की फिराक में घूम रहे दो इंजीनियरिंग छात्र सहित कुल छह आरोपियों को क्राइम ब्रांच की टीम ने धर दबोचा। पकड़े गए आरोपियों के कब्जे से लैपटॉप, सोने के जेवरात व घरेलू गैस सिलेण्डर जब्त किया गया है, जिसकी कीमत डेढ़ लाख रुपए बताई गई है। वहीं गिरफ्त में इंजीनियरिंग छात्र से फर्जी प्रेसकार्ड जप्त किया गया है, जिसे अपराध छिपाने के लिए प्रयुक्त कर रहा था।

शेषनागी संतुलन के साधक नकवी जी

सितंबर 2010, अयोध्या पर लखनऊ बेंच का अहम फैसला आना था। आजाद भारत में ये अपनी तरह का सबसे संवेदनशील और महत्वपूर्ण मामला था। ऐसे मौके पर खबर को सबसे पहले औऱ साहुल सूते में दुरुस्त रखने की चुनौती खबरिया चैनलों के सामने सबसे बड़ी कसौटी थी । आजतक इकलौता चैनल था जिसने प्रोड्यूसरों औऱ रिपोर्टरों की एक टीम बनाई औऱ उनका वर्कशॉप लगाया । सबको पुलिंदा थमाया गया पढने के लिये औऱ ये बताया भी गया कि मामला क्या है, कितनी पार्टियां हैं औऱ पेंच कहां कहां है।

हिंदुस्‍थान समाचार में छह महीने में चार संपादक बदले, पांचवें एडिटर बने हेमंत

हिंदी भाषा सहित 12 क्षेत्रीय भाषाओं में अपनी सेवाएं दे रही हिन्दुस्थान समाचार एजेंसी में पिछले छह महीने में चार संपादक आये और गये। डा. अमित जैन की जगह अब नवभारत टाइम्स के पूर्व सम्पादक हेमंत विश्नोई को समाचार एजेंसी का कार्यकारी संपादक बनाया गया है। विश्नोई चार जून से अपना कार्यभार संभालेंगे। लेकिन संपादकों के आने और जाने की सुपरफास्ट गति से नहीं लगता है कि विश्नोई साहब भी बहुत दिनों तक टिक पाएंगे।

यहां कुछ भी करने की आजादी है!

समय बहुत कठिन है। जिनके पास अधिकार है, वे और ज्यादा अधिकार पाने की होड़ में हैं। जिनके पास शक्ति है, वे अपनी मुश्कें और मजबूत कर लेना चाहते हैं। और धन? वह तो केंद्रीय भूमिका में है। धन ही शक्ति और अधिकार दोनों का सृजन करने की सामर्थ्‍य रखता है। अगर किसी केंचुए के पास भी संयोगवश धन-संपदा आ गयी तो उसके लिजलिजे शरीर में हड्डियाँ उग आती हैं, उसमें मिट्टी की जगह पत्थर निगलने की ताकत पैदा हो जाती है। धन से ही आज सामाजिक मर्यादा तय होती है, धन ही नायकत्व का कारक बन गया है।

शाहजहांपुर में एक पत्रकार पर दूसरे पत्रकार ने किया हमला

यूपी में पत्रकारों पर हमले रूकने का नाम नहीं ले रहे हैं। शाहजहांपुर में भी आज एक पत्रकार पर हमला किया गया। हमला करने वाला व्‍यक्ति भी कथित तौर पर पत्रकार है तथा खबरें छपने से नाराज था। हमलावर ने पत्रकार को धमकी भी दी कि यदि खबरें लिखना बंद नहीं करोगे तो तुम्हे जान से भी हाथ धोना पड़ेगा। घटना का शिकार हुए पत्रकार ने मामले की तहरीर सीओ सिटी को दे दी है। एसपी को भी इस घटना की जानकारी दी दी गई है। सीओ ने कोतवाल को रिपोर्ट दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।

जागरण में बंपर छंटनी (11) : ब्‍याज की राशि चुकाने के लिए मीडियाकर्मी किए जा रहे हैं बाहर!

: कानाफूसी : दैनिक जागरण में अभी छंटनी का दौर चल रहा हैं, लेकिन शायद किसी को यह नहीं पता कि आखिर यह क्यों चल रहा है. लेकिन असल मायने में बात यह है कि यह जागरण की एक ख़ास रणनीति है, जिसमें उसे 1 करोड़ की तनख्वाह पूरी हो जाने तक कर्मचारी निपटाने हैं, क्योंकि जागरण ने अभी हाल में नई दुनिया का अधिग्रहण किया हैं, जिसमें उसे नई दुनिया को खरीदने के लिए दिए गए 300 करोड़ के ब्याज से पार पाना है.

बिहार विरोधी है टाइम्‍स ऑफ इंडिया का मालिक साहू-जैन समूह

पटना : बिहार की राजधानी पटना का स्काई लाइन टाइम्स ऑफ इंडिया के होर्डिंगों से पटा पड़ा है। कहा जा रहा है टीओआई पटना संस्करण की रिलांचिंग की जा रही है। इसी वजह से यह ब्रांड प्रमोशन का प्रचार यज्ञ चलाया जा रहा है। इसी संदर्भ में 27 मई, 2012 रविवार को राजधानी के न्यू पटना क्लब में शाम 7:30 बजे से ब्रांड प्रमोशन के मुतल्लिक बालीवुड के गायक जावेद अली का लाइव कंसर्ट कराया जा रहा है। शुक्रवार को टाइम्स के पटना संस्करण में बिहार को औद्योगिक विकास की तरफ ले जाने वाले राइजिंग बिहार का सपना दिखलाने वाले एक पूरे पेज का आलेख प्रस्तुत किया गया है। विगत कई दिनों से राइजिंग बिहार के नाम पर टीओआई के पन्ने पर पन्ने रंगे जा रहे हैं। बताया जाता है कि इस सारे उपक्रम के पीछे टाइम्स ऑफ इंडिया के ब्रांड-प्रमोशन की मंशा है।

सुल्‍तानपुर में पुलिस ने की पत्रकारों के साथ बदसलूकी

उत्तर प्रदेश के युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सूबे की सत्ता संभालते ही प्रदेश की जनता से यह वादा किया था कि सपा के शासन में कानून व्यवस्था के साथ किसी को खिलवाड़ नहीं करने दिया जाएगा, फिर चाहें वो कोई नेता हो या पुलिस अधिकारी, लेकिन प्रदेश में ऐसा कुछ भी होता नज़र नहीं आ रहा है। हर बार कोई न कोई अखिलेश की साख पर बट्टा लगाता नज़र आ जाता है। अखिलेश सरकार जिन वर्दी वालों के दम पर प्रदेश में कानून का राज कायम करना चाहती है। वही पुलिस कर्मी कवरेज करने गए मीडिया कर्मियों पर ही अपनी खाकी का दम दिखाने लगी है।

जागरण में बंपर छंटनी (10) : चंदौली व आजमगढ़ में प्रबंधन ने किया दो पत्रकारों का शिकार

दैनिक जागरण, वाराणसी में छंटनी का दौर लगातार जारी है. अब तक कई लोग इस छंटनी के शिकार हो चुके हैं. इस बार दो और लोगों को बाहर किया गया है. संवेदनहीन मालिक खुद शीशे के महलों में रहते हुए रुट लेबल के काम करने वाले पत्रकारों को बाहर का रास्‍ता दिखा रहा है, जबकि जमीन सहित तमाम दलालियों में हाथ आजमाने वाले प्रबंधन के चहेते बने हुए हैं. खबर है कि चंदौली में कार्यरत रहे दिलीप सिंह से इस्‍तीफा ले लिया गया है. दिलीप पिछले डेढ़ दशक से दैनिक जागरण को चंदौली जिले में अपनी सेवाएं दे रहे थे. प्रबंधन ने उनका पक्ष जाने-सुने बिना उनसे इस्‍तीफा ले लिया.

आंतरिक राजनीति में फंसा ‘पुष्‍प सवेरा’, काम करने वाले हतोत्‍साहित

चाटुकारिता पसंद और 'कान के कच्चे' प्रबंध तंत्र की वजह से आगरा से प्रकाशित दैनिक पुष्प सवेरा शुरुआती दिनों में बुरे हाल की ओर अग्रसर होने लगा है। बेहतरी में जुटे लोग हथियार डाल रहे हैं और अखबार की क्वालिटी दिन-प्रतिदिन गिर रही है। सत्ता की कमान जातिवादी, नाकारा और चमचागिरी पसंद लोगों ने झटक ली है। हाल इस तरह का हो गया है कि धन उगाही के लिए कुख्यात रिपोर्टर बीटों की सीमाएं लांघ कर लिख रहे हैं। तभी तो रविवार के अंक में राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की खबर कमजोर छापी गई।

जागरण में बंपर छंटनी (9) : बरेली में इस्‍तीफा नहीं देने वाले पत्रकारों को कार्यालय में घुसने से मना किया गया

दैनिक जागरण, बरेली से खबर है कि छंटनी की तलवार भांज रहा प्रबंधन अब सीनाजोरी का रास्‍ता अपना लिया है. बरेली में जिन छह लोगों से इस्‍तीफे मांगे गए थे, उन लोगों को मौखिक आदेश देकर कार्यालय आने से मना कर दिया गया है. इन लोगों ने इस्‍तीफा देने से इनकार कर दिया था, जिसके बाद इन लोगों के कार्यालय आने पर रोक लगा दी गई है. छंटनी के शिकार बनाए जा रहे लोग लेबर कोर्ट जाने की तैयारी कर रहे हैं. समझा जा रहा है अन्‍य यूनिटों के कर्मचारी भी जागरण को कोर्ट में खींचने से पीछे नहीं हटेंगे.

ट्रिब्‍यून ट्रस्‍ट, गुडगांव के मैनेजर की मनमानी से कर्मचारी परेशान

: कानाफूसी : गुड़गांव। ट्रिब्यून ट्रस्ट के गुड़गांव प्लांट में मैनेजर की मनमानी के सामने शायद ट्रस्टियों ने भी घुटने टेक दिए हैं। 20 कर्मचारियों के स्टाफ में से अब तक तीन कर्मचारियों को सस्पेंड करा चुके मैनेजर की सारी बातों पर प्रबंधन यकीन भी कर रहा है। तीन कर्मचारी उनकी मनमानी का शिकार होकर नौकरी छोड़ चुके हैं जबकि पांच लोगों को चार्जशीट कर परेशान कर चुका है।

जागरण में बंपर छंटनी (8) : अपनों को बचाने में जितेंद्र शुक्‍ला ने चंद्रमा पांडे की चढ़ा दी बलि

दैनिक जागरण, जमशेदपुर बडे़ संकट में पडता दिख रहा है। प्रबंधन के निर्देश के आलोक में आदमी कम करने के नाम पर संपादकीय प्रभारी जितेन्‍द्र शुक्‍ला निजी खुन्‍नस निकाल वैसे लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखा रहे है जिन्‍हें सिर्फ अपने काम और संस्‍थान के नाम से मतलब है। नाकाबिल साबित हो चुके और चाटुकारिता का पर्याय बने अपने लोगों को बचाने के लिए वे जागरण के निष्‍ठावान लोगों की विदाई सुनिश्चित करा रहे हैं। पहले उच्‍च प्रबंधन को अंधेरे में रखकर राष्‍ट्रीय पुरस्‍कार विजेता का तबादला आदेश जारी कराया और फिर जमशेदपुर के संस्‍थापक सम्‍पादकीय प्रभारी संत शरण अवस्‍थी द्वारा चयनित कामर्स डेस्‍क के इंचार्ज चंद्रमा पांडे को चलता कर दिया गया है।

डीएसपी ने हिंदुस्‍तान पर ठोंका मानहानि का मुकदमा

मुंगेर। जिले के हवेलीखड़गपुर अनुमंडल के आरक्षी उपाधीक्षक कृष्ण चन्द्र ने मुंगेर के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मनोज कुमार सिन्हा के न्यायालय में दैनिक ‘हिन्दुस्तान‘ के प्रधान संपादक शशिशेखर, भागलपुर संस्करण के स्थानीय संपादक विश्वेश्वर कुमार, संवाददाता आदित्यनाथ झा, भागलपुर कार्यालय, मुंगेर कार्यालय के ब्‍यूरो चीफ मोहन कुमार मंगलम, संवाददाता, वरियारपुर संजय कुमार और मेसर्स जीवन टाइम्स प्रा लिमिटेड, नाथनगर, भागलपुर के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धाराएं 469 (प्रतिष्ठा हननके उद्देश्य से जालसाजी), 499 (मानहानि), 500 (मानहानि के लिए सजा), 504(शांति भंग करनेके इरादे से प्रयास) और 505 (सार्वजनिक बदसलूकी) के तहत परिवाद-पत्र 23 मई, 2012 को दायर किया है।

कहीं अनुपमा के कांधे पर बंदूक रखकर तो नहीं चला रहे कुछ लोग?

इस थ्रिल-स्‍टोरी के केंद्र में है एक अकेली महिला अनुपमा सिंह, जबकि उसके चारों कोनों पर लपलपाते खड़े हैं नेता, ठेकेदार, गुंडे और बेलगाम आला अफसर। बसपा सरकार में अनुपमा की जमकर छीछालेदर हो चुकी है। इन्‍हीं चौगड़ी के चलते ही अनुपमा को नौकरी से निकाला गया, पति का दो बार हृदयाघात हुआ, बेटे पर जानलेवा हमला किया गया। लेकिन हौसलामंद अनुपमा ने अपनी लड़ाई जारी रखी।

भारतीय राजनीति नया चरित्र : समर्थन भी और उसी सांस में विरोध भी

क्या कांग्रेस या केंद्र सरकार में साहस नहीं है कि वह इन मुद्दों को लेकर 1969 की तरह जन अदालत में जाये. आखिरकार देश के प्रमुख आर्थिक सलाहकार डॉ कौशिक बसु तो यही संकेत दे चुके हैं कि 2014 के चुनावों के बाद शायद अर्थनीति पटरी पर आये? ऐसी स्थिति में अब कांग्रेस या केंद्र सरकार अर्थ चुनौतियों के प्रति गंभीर और ईमानदार है, तो ये भ्रष्टाचार से लेकर अराजकता बढ़ानेवाले हर कदम को सख्ती से रोके, कठोर कदम उठाये या चुनावों में जाये.

सीबीआई ने आईबीएन7 से सेना प्रमुख के इंटरव्‍यू की प्रति मांगी

सीबीआई ने एक मामले की जांच के सिलसिले में एक टीवी चैनल से सेना प्रमुख वीके सिंह के साक्षात्कार की प्रति मांगी है. यह मामला सेना प्रमुख को 14 करोड़ रुपये रिश्वत की पेशकश किये जाने के आरोप से जुड़ा हुआ है. सीबीआई सूत्रों ने बताया कि वे टीवी चैनल आईबीएन7 के साथ साक्षात्कार में सेना प्रमुख की ओर से दी गई किसी भी अतिरिक्त सूचना का विश्लेषण करेगी. उल्‍लेखनीय है कि सीबीआई ने रिश्‍वत प्रस्‍ताव के मामले में प्रारंभिक जांच का मामला दर्ज किया है.

मनोज दुबे बने सी न्‍यूज में यूपी के हेड

सहारा समय चैनल में एसएनबी हेड (टीवी) रहे मनोज दुबे के बारे में खबर है कि उन्‍होंने अपनी नई पारी आगरा से प्रसारित सी न्‍यूज के साथ की है. उन्‍हें चैनल में यूपी का हेड बनाया गया है. अब यूपी में चैनल की जिम्‍मेदारी मनोज के कंधों पर होगी. स्‍वतंत्र मिश्रा के करीबी माने जाने …

हाईकोर्ट का स्‍टे, इंदौर प्रेस क्‍लब का चुनाव स्‍थगित

: रजिस्ट्रार फर्म्स एंड सोसायटी ने प्रेस क्लब को मोहलत दी : इंदौर। इंदौर प्रेस क्लब के त्रिवार्षिक निर्वाचन के तहत 27 मई 2012 को होने वाला मतदान स्थगित कर दिया गया है। मध्य प्रदेश उच्च न्यायलय की इंदौर खंडपीठ के स्थगन आदेश की वजह से मतदान पर रोक लग गई है। प्रेस क्लब के नए सदस्यों को मताधिकार देने संबंधी एक याचिका पर यह स्थगन आदेश जारी हुआ है। तीन वर्ष पूर्व हुए चुनाव के वक्त प्रेस क्लब में करीब 1000 सदस्य थे, जिनकी संख्या बढ़कर इस बार करीब 1300 हो गई।

रिजवान अहमद बने एसएमबीसी चैनल के एमपी-सीजी हेड

जीएनएन न्‍यूज में मध्‍य प्रदेश के स्‍टेट हेड रिजवान अहमद सिद्दीकी ने इस्‍तीफा दे दिया है. रिजवान ने अपनी नई पारी जबलपुर से प्रसारित हो रहे न्‍यूज चैनल एसएमबीसी के साथ शुरू की है. उन्‍होंने चैनल में एमपी-सीजी हेड के रूप में ज्‍वाइन किया है. रिजवान इसके पहले ईटीवी, सहारा समय, टाइम टुडे (भारत समाचार) …

जागरण की नीतियों से नाराज सासाराम के ब्‍यूरोचीफ ने इस्‍तीफा दिया

दैनिक जागरण, सासाराम से खबर है कि राजेश कुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अखबार में ब्‍यूरोचीफ का दायित्‍व निभा रहे थे. राजेश लम्‍बे समय से जागरण से जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है कि जागरण में चल रहे छंटनी के क्रम में प्रबंधन सासाराम कार्यालय में कार्यरत चार लोगों में से किंन्‍ही दो लोगों को निकालने के लिए राजेश से सूची मांगी थी. राजेश स्‍टाफ की संख्‍या कम बताते हुए किसी को भी बाहर करने का विरोध किया.

जागरण प्रकाशन की आमदनी में 134 करोड़ की बढ़ोतरी

नई दिल्ली : दुनिया में सबसे अधिक पढ़ा जाने वाला अखबार दैनिक जागरण प्रकाशित करने वाली जागरण प्रकाशन लिमिटेड (जेपीएल) ने बीते वित्त वर्ष 2011-12 के रेवेन्यू में 11.02 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की है। इस अवधि में कंपनी का रेवेन्यू 1221.09 करोड़ रुपये से बढ़कर 1355.66 करोड़ रुपये हो गया है। कंपनी को विज्ञापन से मिलने वाला रेवेन्यू इस अवधि में 9.89 प्रतिशत बढ़ा है। कंपनी के निदेशक मंडल ने शेयरधारकों के लिए 3.50 रुपये प्रति शेयर लाभांश का प्रस्ताव किया है।

यशवंतजी, आपके सहयोग से ही हिंदुस्‍तान प्रबंधन ने अपनी गलती स्‍वीकारी

यशवंत जी, नमस्कार, आपको ढेर सारी बधाई देते हुये अवगत कराना चाहूंगा कि मेरे हक की लड़ाई के लिये आपने जिस प्रकार मेरे लेख को प्रमुखता से प्रकाशित कर दुनिया के सामने रखा, उससे आज मुझे आपके सहयोग से इंसाफ मिल रहा है। जानकारी देना चाहूंगा कि हिन्दुस्तान उत्तराखण्ड यूनिट हेड स्नेहाशील मुखर्जी द्वारा गलत व्यक्ति को किच्छा में विज्ञापन प्रतिनिधि बनाये जाने के बाद मेरे द्वारा अप्रैल माह में हिन्दुस्तान से इस्तीफा दे दिया गया था।

देहरादून में पत्रकार नहीं ब्‍लैकमेलर भी हैं

मुझे अपने पत्रकार होने का बहुत दुःख हुआ खास तौर पर इलेक्ट्रानिक मीडिया में होने का फक्र नहीं रहा मुझे.. आप लोग जानना चाहेंगे क्यों? तो सुनिये, वो इसलिए क्योंकि आज मुझे एक व्यक्ति ने पत्रकारिता के घिनौने चेहरे को दिखाया है, जो पत्रकारिता नहीं करते सिर्फ दलाली करते हैं.  आज मैं आप को बतात हूं कि क्या हुआ जब उस व्यक्ति ने मुझसे कहा कि…आप इलेक्ट्रानिक मीडिया से हैं?

सोनीपत में वीरेंद्र, नवीन, हिमांशु एवं मुरली हुए इधर से उधर

आज समाज, सोनीपत से खबर है कि ब्‍यूरोचीफ वीरेंद्र दुहान ने इस्‍तीफा दे दिया है. इन्‍होंने ने अपनी नई पारी दैनिक हरिभूमि के साथ शुरू की है. वीरेंद्र को सोनीपत में अखबार को ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. वीरेंद्र लम्‍बे समय से पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं. वे आज समाज के अलावा कई अन्‍य संस्‍थानों को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. 

भड़ास ने ही पत्रकारों के घाव पर मरहम लगाया

यशवंतजी, सबसे पहले आपको कांटों की डगर पर अनवरत चार साल तक चलते रहने के लिए बधाई…। मेरी शुभकामना भी है कि आगे भी ‘भड़ास’ इसी तरह पत्रकारों का भड़ास निकालने में मदद करती रहेगी। ‘भड़ास4मीडिया’ का नियमित पाठक होने के नाते मुझे समझ में आता है कि जिस तरह पत्रकार, अपनी पत्रकारिता धर्म का निर्वहन करता है और लोगों की समस्याओं व उनके दर्द को सामने लाता है, मगर अपनी ही कसक को पत्रकार छुपाए बैठे रहते हैं। ऐसे हालात में अपना दर्द बयां करने का एक बड़ा माध्यम ‘भड़ास4मीडिया’ के रूप में मिला।

रेसलिंग का मैदान बन गया देहरादून में सचिवालय का मीडिया सेंटर

देहरादून : रेसलिंग रिंग में मुक्केबाजी का खेल देखने के लिए हजारों रुपये चुकाने पड़ते हैं, लेकिन इन दिनों उत्तराखण्ड सचिवालय स्थित मीड़िया सेंटर पत्रकारों की आपसी लड़ाई के चलते रेसलिंग बना हुआ है। एक सप्ताह के भीतर ही यहां पत्रकारों के कई गुट आपस में भिड़ चुके हैं और मारपीट के साथ-साथ गाली-गलौज की बातें भी आम हो गई हैं। सचिवालय स्थित बनाए गए मीड़िया सेंटर में पत्रकारों को समाचार भेजने के लिए सभी सुविधाएं राज्य सरकार ने उपलब्ध कराई हैं और इलेक्ट्रानिक चैनलों के साथ-साथ प्रिंट मीड़िया के कई मीडियाकर्मी यहां से समाचारों को भेजने का काम करते हैं, लेकिन पिछले कुछ समय से सचिवालय स्थित मीड़िया सेंटर बाहरी लोगों के प्रवेश के चलते दागदार होता जा रहा है और यहां आने वाले किसी भी व्यक्ति का कार्ड तक चेक करने की कोशिश नहीं की जा रही। जिस कारण कई ऐसे बाहरी लोग मीड़िया सेंटर में आकर यहां रखे कम्प्यूटरों पर आपत्तिजनक दृश्य भी देखते हुए नजर आ रहे हैं और बाहरी लोगों के प्रवेश के कारण यहां लगातार असमाजिक तत्वों का तांता लगना शुरू हो गया है।

जागरण में बंपर छंटनी (7) : मुजफ्फरपुर, जालंधर और धर्मशाला में भी दर्जनों पत्रकार बाहर

यूपी में कई यूनिटों से कर्मचारियों को बाहर करने के बाद अब जागरण प्रबंधन बिहार, पंजाब एवं हिमाचल प्रदेश से भी पत्रकारों को बाहर करने का काम शुरू कर दिया है. दैनिक जागरण, मुजफ्फरपुर से खबर है कि प्रबंधन ने 11 लोगों को बाहर का रास्‍ता दिखाने की तैयारी कर चुका है. इन सभी लोगों से इस्‍तीफे मांगे गए हैं. तीन लोग टेक्निकल विभाग से, चार लोग एडिटोरियल से तथा चार जिलों के ब्‍यूरो में कार्यरत हैं. इस फरमान के बाद से यूनिट में हड़कम्‍प मचा हुआ है.

दलित दस्‍तक की लांचिंग आज, पहुंचें गांधी शांति प्रतिष्‍ठान

देश में दलित-पिछड़ों की आवाज को मंच देने तथा इस समाज के दबे-छुपे नायकों को सामने लाने के लक्ष्‍य के साथ 27 मई को मासिक पत्रिका 'दलित दस्‍तक' की लांचिंग की जा रही है. लांचिंग समारोह का आयोजन गांधी शांति प्रतिष्‍ठान में दिन में दो बजे से किया गया है. इसमें कई वरिष्‍ठ पत्रकार भाग लेंगे. पत्रिका के संपादक-प्रकाशक अशोक दास हैं. अशोक दास पिछले छह सालों से पत्रकारिता करते हुए अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा रहे हैं.

जागरण में बंपर छंटनी (6) : मेरठ में ग्‍यारह लोगों की लिस्‍ट तैयार

कर्मचारियों के बेगार करने के क्रम में दैनिक जागरण, मेरठ में भी इसकी सुगबुगाट शुरू हो गई है. मेरठ में सीधे छंटनी करने या इस्‍तीफा मांगे जाने की बजाय तबादला नीति पर काम किए जाने की संभावना जताई जा रही है. सूत्रों का कहना है कि स्‍थानीय डाइरेक्‍टरों ने कर्मचारी सरप्‍लस ना होने की बात कही है इसके बावजूद नोएडा प्रबंधन संख्‍या करने करने को कह चुका है. सूत्रों का कहना है कि प्रबंधन ने कुछ लोगों को शनिवार को बुलाया था, परन्‍तु मौके की नजाकत को देखते हुए ये लोग नहीं पहुंचे.

उत्‍तर प्रदेश हिंदी संस्‍थान की दुर्दशा पर विश्‍वनाथ तिवारी ने सीएम को लिखा पत्र

साहित्‍य अकादमी, नई दिल्‍ली के उपाध्‍यक्ष तथा दस्‍तावेज के संपादक विश्‍वनाथ प्रसाद तिवारी ने उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को पत्र लिखकर उत्‍तर प्रदेश हिंदी संस्‍थान, लखनऊ की उपेक्षा की तरफ उनका ध्‍यान आकृष्‍ट कराया है. श्री तिवारी ने सीएम को लिखे गए पत्र में कहा है कि पिछली मायावती सरकार के कार्यकाल के दौरान हिंदी संस्‍थान की उपेक्षा तो की ही गई, कई पुरस्‍कारों को भी समाप्‍त कर दिया गया.

”माधुरी बहन को नहीं जिला प्रशासन को जिला बदर किया जाए”

जागृत आदिवासी संगठन की प्रमुख कार्यकत्री माधुरी देवी को बड़वानी जिला प्रशासन ने जिलाबदर का नोटिस भेजा है. नोटिस में प्रशासन ने आरोप लगाया है कि माधुरी देवी का संगठन सरकारी कार्यों में बाधा पैदा करता है. जिला प्रशासन के इन आरोपों से पूरा आदिवासी समुदाय गुस्‍से में है. जागृत आदिवासी दलित संगठन ने पत्र लिखकर माधुरी देवी को नहीं बल्कि भ्रष्‍टाचार करने वाले जिला प्रशासन के अधिकारियों को भी जिलाबदर करने की मांग की है. नीचे संगठन द्वारा लिखा गया पत्र.

भड़ास की कामयाबी के लिए मुबारकबाद के हकदार यशवंत नहीं कोई और…

फैज़ाबाद, बस्ती, गोंडा लखनऊ के कई दिनों के सफर के बाद ग़ाज़ियाबाद लौटा, तो लगा कि बहुत कुछ मिस हो रहा था। सबसे बड़ी बात ये कि भड़ास फॉर मीडिया अब चार साल का समझदार बच्चा बन गया और हम अपने यशवंत को ना बधाई दे पाए और ना ही चार लाइन लिख कर उनकी हरकतों का पोस्टमॉर्टम (क्योंकि ख़ुद यशवतं जी को पोस्टमार्टम ही करने में मज़ा आता है) तक ही कर पाए। भड़ास पढ़ा तो लगा कि मेरे कई साथियों ने भड़ास के चार साल पूरे होने पर इतना सुंदर और इतना सटीक लिखा कि अब मेरे लिए लिखने को कुछ बचा ही नहीं।

शिमला नगर निगम पर 25 वर्षों से काबिज कांग्रेस का कोई नाश कर पाएगा या नहीं?

शिमला : नाक का सवाल बन गए राजधानी शिमला के नगर निगम के चुनाव में प्रचार थमने के बाद कांग्रेस, भाजपा और माकपा के कार्यकर्ता अब व्यक्तिगत तौर से एक-एक मतदाता से संपर्क साधने में लग गए हैं. 25 पार्षदों वाले राजधानी के इस प्रतिष्ठित नगर निगम के लिए बनाये गए 150 मतदान केन्द्रों में जहाँ  27 मई को राजधानी शिमला के निवासी मतदान करेंगे वहीँ मेयर और उप मेयर का चुनाव भी राजधानी वासी प्रथम बार सीधे तौर से करेंगे यानि कि इस बार मेयर और उप मेयर का चुनाव निर्वाचित पार्षदों द्वारा नहीं बल्कि मतदाताओं द्वारा सीधे किया जायेगा. वैसे तो परंपरागत कांग्रेस के बहुमत वाले  इस स्थानीय निकाय के चुनावों में मुकाबला कांग्रेस और भाजपा में ही रहता है, परन्तु इस बार मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के पूरे दमखम से चुनाव में उतरने के कारण, गत 25 वर्षों से कब्ज़ा जमाये कांग्रेस के लिए कुछ मुश्किलें पैदा हो सकती हैं.

”…अभी आपको मीडिया का अनुभव कम है”

मित्तल सर, आपको बार-बार परेशान करने में संकोच होता है। आपने कहा- “वेट फॉर वीक एंड सो” मैं रविवार को इलाहाबाद जा रहा हूं। वीक तो इस बीच पूरा हो जाएगा, लेकिन ये “…एंड सो” की सीमा शायद न आपको मालूम है और मुझे तो बिल्कुल भी नहीं मालूम। आपसे मुलाकात किए भी ये तीसरा हफ्ता ही तो बीत रहा है। इतना सब कुछ जानने के बावजूद मैं आपको फिर लिख रहा हूं। क्यों कि सब्र साथ छोड़ रहा है। मुलाकात के दौरान आपने एक चैनल और उनके कर्ता-धर्ता का जिक्र किया था। उसकी कहानी आपको सुनाई तो आपने फिर से ट्राई करने की सलाह दी।

एडीजी बोले- उपर से आई इस सूची को जारी कर दो… यह सुन आईजी संदीप छुट्टी पर चले गए

: कब रुकेगी जंग बड़े अफसरों की : बसपा सुप्रीमो मायावती ने आंकड़ों के साथ कहा कि अखिलेश सरकार कानून व्यवस्था के मोर्चे पर विफल हो गई है। सभी को अंदाजा था कि चौबीस घंटे के भीतर पुलिस अथवा शासन के आला अफसर इस बात का खंडन करेंगे कि जितनी घटनायें पूर्व मुख्यमंत्री बता रही हैं उससे आधी घटनायें भी प्रदेश में नही घटीं। मगर जब पूरा सप्ताह बीत गया तब पता चला कि आखिर सरकार की ओर से कोई भी यह आंकड़ा बताने को तैयार क्यों नही है। दरअसल शुरुआती दौर से ही गृह विभाग और पुलिस महानिदेशक कार्यालय के बीच सब कुछ सामान्य नहीं चल रहा।

बाबा रामदेव उर्फ एक दयनीय संन्यासी जो शहर के होर्डिंगों पर टंगा है

Rajen Todariya : कल मैं हरिद्वार था। हरिद्वार में जाते ही आपका ध्यान जगह-जगह लगे बाबा रामदेव के होर्डिंगों पर जाता है। ऐसा आत्मप्रचार, ऐसी आत्म मुग्धता और छवि का ऐसा व्यापार किसी संन्यासी में मैने नहीं देखा। एक दयनीय संन्यासी जो शहर के होर्डिंगों पर टंगा है। शुक्ल यजुर्वेद में संन्यासियों के लिए प्रावधान किए गए हैं कि वे सांसारिक चीजों से दूर रहेंगे। भोग विलास नहीं बल्कि त्याग का आदिम जीवन जियेंगे। गेरुआ वस्त्र की आचार संहिता है कि गेरुआधारी व्यक्ति किसी गृहस्थ की दहलीज में अंदर नहीं जायेगा।

बैंक से रिटायर होने के बाद कथाकार सूरज प्रकाश साहित्यशिल्पी डाट काम से जुड़े

प्रिय मित्र, बीते दिनों 30 मार्च को मैं अपनी बैंक की नौकरी से रिटायर हो गया।  इन दिनों आराम के मूड में हूं और खूब पढ़ रहा हूं, संगीत  सुन रहा हूं, फिल्‍में देख रहा हूं और अपने वक्‍त को अपने तरीके से जीने के नये तरीके तलाश रहा हूं। पिछले दिनों मित्रों ने एक साप्‍ताहिक वेब पत्रिका www.sahityashilpi.com के संपादन का काम मुझे सौंप दिया है। चौथा अंक आ गया है। तीसरा अंक मंटो पर था जिसे खूब पसंद किया गया। हर पत्रिका को हर दिन लगभग 1500 लोग देख रहे हैं। इस पत्रिका में मैंने कई नये कालम  शुरू किये हैं। एक है – मेरे पाठक। इसमें रचनाकार अपने पाठकों के बारे में बात करते हैं कि किस तरह से लम्‍बे लेखन के दौरा पाठकों से रिश्‍ते बनते चलते हैं।

भिंड के पीआरओ की दादागिरी, पत्रकार को दो घंटे तक बना कर रखा बंधक

नईदुनिया भोपाल के भिंड ब्यूरो प्रमुख गुणाकेश पारासर जब पीआरओ आफिस अखबार का पेमेंट लेने पहुंचे तो पीआरओ जेपी धोलपुरिया ने अखबार का भुगतान तो नहीं किया अलबत्ता बेइज्जत करके दो घंटे तक अपने आफिस में बंधक बनाये रखा. दो घंटे बाद देहात थाना पुलिस के पहुंचने पर पुलिस हस्तक्षेप के बाद रिहा कराया गया. जब पारासर बाहर निकले तो पत्रकारों के साथ देहात थाना पहुंच कर पीआरओ जेपी धोलपुरिया के खिलाफ शिकायत दर्ज करवायी.

किशोर वाधवानी के काले धंधों को आड़ देने के लिए पब्लिश किया गया है ‘दबंग दुनिया’

यशवंत जी, दबंग दुनिया के निकालने के पीछे का कारण कोई समाज सेवा नहीं है बल्कि किशोर वाधवानी के काले धंधों को आड़ देना है. साथ ही उसके खिलाफ जितने केस इनकम टैक्स विभाग और एक्साइज में चल रहे हैं उनको सुलटवाना है. 18 महीने बीत गये पर अभी भी मशीन का दूर-दूर तक पता नहीं है. कर्मचारियों में यह कानाफूसी चलती रहती है कि पता नहीं सेठ कब घोषणा कर दे कि बस आज से अख़बार बंद.

आई नेक्स्ट के संपादक को प्रेस काउन्सिल ने दिखाया आईना

: नूतन ठाकुर का अखबार में पक्ष रखने देने का निर्देश संपादक को दिया : “यह हैं property के सबसे बड़े शौक़ीन” नाम से 20 अक्टूबर 2011 को आई नेक्स्ट, लखनऊ संस्करण के पृष्ठ 03 तथा 21 अक्टूबर 2011 को मेरठ संस्करण में छपे समाचार के सम्बन्ध में  मैंने प्रेस काउन्सिल ऑफ इंडिया को 31 अक्टूबर 2011 को पत्र प्रेषित कर के उस समाचार के एकपक्षीय होने और इसमें मेरे द्वारा अपना पक्ष प्रस्तुत करने के बाद भी उसे प्रकाशित नहीं करने के बारे में शिकायत की थी.

लखनऊ तबादला होने पर जीवन जोशी को दैनिक जागरण, मेरठ की ओर से समारोहपूर्वक विदाई

दैनिक जागरण और आई-नेक्स्ट मेरठ ने अपने ब्रांड मैनेजर जीवन जोशी को सम्मानित करने हेतु मार्केटिंग विभाग में समारोह आयोजित किया. जीवन जोशी पिछले लगभग 5 वर्षों से मेरठ में कार्यरत थे एवं मेरठ, आगरा, देहरादून, अलीगढ़ यूनिटों में ब्रांड विभाग के हेड थे. दैनिक जागरण प्रबंधन ने उनकी कार्यकुशलता को सम्मानित करने के लिए उनका तबादला बेहद महत्वपूर्ण लखनऊ यूनिट में कर दिया है. कार्यक्रम में महाप्रबंधक अखिल भटनागर सहित मृदुल त्यागी, विकास चुघ, राकेश राय, पुष्पेंदर सिंह, सत्येंद्र चौधरी, राजीव चौहान, शरद त्रिपाठी आदि मौजूद थे. इन सभी लोगों ने उन्हें उज्ज्वल भविष्या की शुभकाकामना दी. समारोह की कुछ तस्वीरें यूं हैं…

अमिताभ बुधौलिया दैनिक भास्‍कर एवं आकाश सक्‍सेना पत्रिका से जुड़े

मध्यप्रदेश के युवा पत्रकार अमिताभ क. बुधौलिया (फरोग) दैनिक भास्कर डॉट काम जुड़ गए हैं. उन्हें भोपाल लोकल वेबसाइट का प्रभारी बनाया गया है. उल्लेखनीय है कि दैनिक भास्कर ने हाईपर सिटी कान्सेप्ट के साथ देशभर के प्रमुख शहरों चंडीगढ़, जयपुर, इंदौर, रायपुर, अहमदाबाद आदि में स्थानीय खबरों को प्रमुखता देने के मकसद से लोकल वेब सेक्शन शुरू किया है, जिसे भास्कर की प्रमुख साइट से लिंकअप किया गया है.

चाय छाप हो या बड़े बैनर वाला सभी को चुन-चुन कर सम्‍मान दिया

यशवंत, एक अच्छा कार्यक्रम क्या होता है ये तुमने बता दिया और एक लेखक चाहे चाय छाप हो या बड़े बैनर वाला सभी को चुन-चुन कर सम्मान दिया. ये ही मीडिया सोशलिज्‍म है. इस कार्यक्रम में जिन लोगों को अवार्ड दिया वो इस बात के हकदार थे और ये वो सम्मानित लेखक थे, जिन्होंने किसी ना किसी रूप में अपने संस्थान के खिलाफ अपने हक़ की लड़ाई की थी या कर रहे हैं, बाकि अनूप भटनागर ने जो अपना किस्सा बताया तो कई मीडिया के स्टुडेंट इस सम्मानित पेशे को बड़ी हिकारत की दृष्टि से देखने लगे हैं.

जागरण में बंपर छंटनी (5) : नोएडा में आठ की विदाई, कई और निशाने पर

: सीनियर अपने लोगों को बचाने में दूसरों की ले रहे हैं बलि : दैनिक जागरण में छंटनी का क्रम जारी है. कई यूनिटों से छंटनी किए जाने और इस्‍तीफा मांगे जाने के बाद अब नोएडा से भी कर्मचारियों को बाहर करने का क्रम जारी हो गया है. हालांकि इसके लिए कोई क्राइटिरिया तय नहीं किया गया है. संस्‍थान में जिनके माई-बाप नहीं हैं उनको एक झटके में बाहर करने की कवायद की जा रही है. बताया जा रहा है कि अब तक नोएडा से पीटीएस और एडिटोरियल से आठ से ज्‍यादा लोगों को हटाया जा चुका है. आज भी कुछ लोगों से इस्‍तीफा मांगे जाने की संभावनाएं हैं.

साहित्य का कौमी एकता अवार्ड-2012 डॉ. जगदीश्वर चतुर्वेदी को

कोलकाताः ऑल इंडिया कौमी एकता मंच की ओर से प्रतिवर्ष दिया जाने वाला कौमी एकता अवार्ड स्थानीय कला मंदिर सभाकार में आयोजित एक भव्य समारोह में प्रदान किया गया। विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान करने वालों को यह सम्मान प्रदान किया जाता है। सन 2012 का साहित्य का चौथा कौमी एकता सम्मान हिन्दी के साहित्यकार डॉ.जगदीश्वर चतुर्वेदी को प्रदान किया गया। इसके पूर्व यह सम्मान डॉ. अभिज्ञात, मुनव्वर राना, डॉ. विजय बहादुर सिंह को प्रदान किया जा चुका है। इसके अलावा फिल्म निर्देशक गौतम घोष, सामाजिक कार्यकर्ता तिस्ता शीतलवाड़, टीवी समाचार चैनल आज तक के पत्रकार आलोक श्रीवास्तव, शिक्षाविद् लौरिन मिर्जा को प्रदान किया गया।

वरिष्‍ठ पत्रकार युसूफ अंसारी की मां का निधन

वरिष्‍ठ पत्रकार, एक्टिविस्‍ट तथा जी न्‍यूज समेत कई चैनलों संस्‍थानों में वरिष्‍ठ पदों पर रह चुके युसूफ अंसारी की मां हमीदा बेगम का शुक्रवार को बिजनौर में निधन हो गया. वे लगभग 62 साल की थीं तथा ओवरी कैंसर से पीडि़त थीं. उनका 2010 में ऑपरेशन कराया गया था, जिसके बाद वे ठीक थीं, परन्‍तु पिछले साल नवम्‍बर से उनकी बीमारी फिर बढ़ गई. दिल्‍ली में ही उनका इलाज चल रहा था. कुछ समय पहले ही वे बिजनौर गई थीं, जहां उन्‍होंने अपनी अंतिम सांसें लीं.

शशांक शेखर सिंह व नवनीत सहगल समेत चार के विरुद्ध हजरतगंज थाने में मामला दर्ज

लखनऊ : उत्तर प्रदेश से बड़ी खबर आ रही है. पिछली मायावती सरकार के दो बड़े और कद्दावर अधिकारियों- शशांक शेखर सिंह और नवनीत सहगल समेत चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. मामला लखनऊ के हरजतगंज थाने में दर्ज किया गया है. इन लोगों पर एक महिला ने धमकाने का आरोप लगाया है. ताज कोरिडोर मामले की याचिकाकर्ता अनुपमा सिंह ने इन पर आरोप लगाया है कि इन लोगों ने केस वापस लेने के लिए अपने पद का दुरुपयोग कर उन्हें डराया-धमकाया. साथ ही अपने पदों का नाजायज फायदा उठाते हुए केस वापस लेने के लिए कहा.

कराची के पत्रकार ने कहा- शिवसेना प्रमुख से डरता है पाकिस्‍तान

मुंबई : शिवसेना प्रमुख बाल ठाकरे से पाकिस्‍तान को डर लगता है. ऐसा कहना है भारत दौरे पर आए पाकिस्‍तानी पत्रकार का. कराची के इस पत्रकार ने कहा कि शिवसेना प्रमुख एवं शिवसेना को लेकर पाकिस्‍तान प्रेशर में रहता है. शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में पाकिस्‍तानी पत्रकारों के हवाले से छपी रिपोर्ट में ऐसा बताया …

पूंजी के हाथ में आम आदमी को नोंचने की ताकत थमाकर सरकार असहाय है

: पेट्रोल की कीमतें बढ़ाकर सरकार ने मंहगाई के एक तूफ़ान को दावत दी है : अभी १० साल पहले जो पेट्रोल ३० रुपये प्रति लीटर के हिसाब से बिकता था, अब वही ८० रुपये प्रति लीटर के आस पास पंहुच गया है. कुछ इलाकों में ८० से थोडा कम है तो कुछ इलाकों में ८० पार कर गया है. पेट्रोल की कीमतें बढ़ने से खाने की हर चीज़ महंगी होगी इसमें दो राय नहीं है. अगर यह बढ़ोतरी कायम रह गयी तो महंगाई का एक और तूफ़ान पक्के तौर पर आने वाला है. सन २००२ के आसपास ही सरकार ने निजी सेक्टर को पेट्रोल और डीज़ल की मार्केटिंग में कंट्रोलिंग मुकाम दे दिया था. उसके बाद से पेट्रोल की कीमतों में हर साल बढ़ोतरी होती रही है. केवल मार्च २००३ में पेट्रोल २५ रुपये के आस पास आया था लेकिन तीन महीने बाद ही ३५ रुपये के ऊपर पंहुच  गया था.

यह काम यशवंत और भड़ास ही जज्बा बनाकर कर पा रहे हैं

प्रिय यशवंत भाई नमस्कार, काफी दिनों बाद भड़ास खोलकर पढ़ा तो पाया कि भड़ास मीडिया सम्मान पुरस्कारों आयोजन की रिपोर्टें-तस्वीरें चल रही हैं। उत्कर्ष सिन्हा की रिपोर्ट भी पढ़ी। अतीत के कई दृश्य चेहरे स्मृतियां वर्तमान में आकर ताजा हो गईं। जिन लोगों को पुरस्कृत या सम्मानित किया गया, वे लोग इस काबिल हैं, थे और हमेशा रहेंगे। आज सबसे बड़ा सवाल यह है कि ऐसे लोगों को कौन याद कर रहा है और क्यों याद कर रहा है। मुझे तो लगता है कि यह काम फिलहाल तो यशवंत और भड़ास ही जज्बा बनाकर कर पा रहे हैं।

अखिलेश सरकार में बोलने लगी है एक पत्रकार की तूती

: बिना इनके इशारे के पत्रकारों का काम होना मुश्किल : यूपी में सरकार क्‍या बदली, एक पत्रकार साहब की तो बल्‍ले-बल्‍ले ही हो गयी। समाजवादी पार्टी के साथ घरेलू रिश्‍ते के चलते इन साहब की दुकान सचिवालय से लेकर विधानसभा के गलियारे तक में चकाचक चल रही है। पत्रकारों के मामले में तो इन साहब का नाम ही पर्याप्‍त माना जानता है। आला अफसर भी कम से कम पत्रकारों के किसी भी काम में इन साहब का इशारा बिना कोई हस्‍तक्षेप नहीं करते।

इंडियन एक्‍सप्रेस को लीगल नोटिस भेजेंगे अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली : टीम अन्ना में एक और बड़ा विवाद सामने आया है. इस बार अरविंद केजरीवाल पर सवाल उठाए हैं अन्‍ना टीम की वरिष्‍ठ सहयोगी खुद किरण बेदी ने और इस विवाद का खुलासा खुद किया है अन्ना हजारे ने. ऐसा कहना है अखबार इंडियन एक्‍सप्रेस का. इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक किरण बेदी ने अरविंद केजरीवाल के एनजीओ पर पैसों के रखरखाव को लेकर सवाल खड़े करते हुए अन्ना को ईमेल भेजा है.

कहां से मिलता है कश्मीरी अखबारों को धन?

जम्मू-कश्मीर पर केन्द्र द्वारा नियुक्त वार्ताकारों ने राज्य में चल रहे अखबारों के वित्तपोषण का स्रोत पता लगाने के लिए उचित नियामक संस्था से जांच कराने का सुझाव दिया है। वार्ताकारों की रपट सार्वजनिक की गई, उन्होंने कहा कि अखबारों के वित्तपोषण का स्रोत पता करने के लिए भारतीय प्रेस परिषद अकेले यदि कार्रवाई करे तो मुद्दे का समाधान निकल सकता है। रपट में प्रकाशकों और सरकार के आरोपों पर विचार करने के लिए प्रेस परिषद या एडीटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया जैसी संस्थाओं को शामिल करने की सिफारिश की गई है। प्रकाशकों का आरोप होता है कि जो लोग सरकार के मन माफिक काम नहीं करते, उन्हें विज्ञापन नहीं दिए जाते। दूसरी ओर सरकार आरोप लगाती है कि कुछ अखबार आधी अधूरी खबरें देते हैं।

सहारा चैनल के नाम पर ठगी करने वाला फर्जी पत्रकार पकड़ा गया

फीरोजाबाद : एक न्यूज चैनल में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला फर्जी पत्रकार पुलिस के चंगुल में फंस गया। आरोप है कि वह अब तक कई लोगों को नौकरी का झांसा देकर हजारों रुपये ठग चुका है। दक्षिण कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत सुहाग नगर सेक्टर संख्या एक में राजकुमार की पत्नी शोभा रहती है। कुछ माह पहले उसकी मुलाकात पचोखरा निवासी ओमप्रकाश के पुत्र संजीव चौहान से हुई। संजीव ने खुद को एक न्यूज चैनल का पत्रकार बताते हुए नौकरी लगवाने की बात कही।

Fraud Nirmal Baba (90) : दिल्‍ली हाईकोर्ट ने पूछा – निर्मल बाबा के भ्रामक प्रचार पर चुप क्‍यों है सरकार?

दिल्ली हाईकोर्ट ने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और न्यूज़ ब्रॉडकास्ट स्टैंडर्ड ऑथारिटी को नोटिस जारी कर पूछा है कि थर्ड आई ऑफ निर्मल बाबा का अंधविश्वास भरा विज्ञापन- ‘थर्ड आई ऑफ निर्मल बाबा’ देश भर के चैनलों पर कैसे प्रसारित हो रहा है? अदालत ने टेलीविज़न कार्यक्रमों की रेटिंग करने वाली संस्था टैम से भी पूछा है कि उसने इस विज्ञापन को अपनी सूची में कैसे जगह दे दी? ये नोटिस पत्रकार-संपादक धीरज भारद्वाज की रिट याचिका पर ज़ारी किए गए हैं।

पीढि़यों के लिए धन अर्जित करने के बाद भी कांग्रेसियों की भूख खतम नहीं होती!

मई के तीसरे सप्ताह में जब कांग्रेस नीत सरकार अपनी दूसरी पारी के तीसरे साल पूरे करने जा रही है तब मनमोहन सिंह जी के पास ऐसा कुछ भी नहीं है जिसे वो अपनी उपलब्धि के रूप में प्रचारित कर सकें. फिर भी अगर कुछ उपलब्धि बताना ही पड़े तो आप दो चीज़ों की चर्चा कर सकते हैं. पहली उपलब्धि ये कि खुद सरकार इतनी तरह के अन्याय-अत्याचार के बावजूद कायम है और दूसरा इन सबके बावजूद यह देश भी कायम ही है, फिर भी रहा है बांकी नामोंनिशा हमारा. अन्यथा सोनिया जी की इस सरकार ने देश को रसातल में पहुंचाने का कोई भी प्रयास छोड़ा नहीं है. वास्तव में यह समझ पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है कि अपने ही मतदाताओं से आखिर कैसी दुश्मनी है इस पार्टी को?

”मेरे पास जेल जाने का दूसरा कोई विकल्‍प नहीं था”

यशवंत जी, कुछ लोग वैचारिक मतभेद को दुश्मनी और नफ़रत का रूप देते समय इतने गुस्से में होते हैं कि उनको सामनेवाले को नष्ट करने के लिए झूठ की कोई भी सीमा लांघना मंज़ूर होता है. दिमाग से अंधे लोग कहानियाँ गढ़ लेते हैं और किसी को बदनाम कर देते हैं. मुझे अफसोस है कि ऐसे ही किसी ने भड़ास फॉर मिडिया के माध्‍यम से मुझे खलनायक बना दिया है. पर सच कुछ और है मित्र..

क्या बड़े व्‍यक्ति के खिलाफ अवमाना याचिका दायर करना अपराध है?

मैंने माह में दो समाचार पत्रों (इंडियन एक्सप्रेस तथा द संडे गार्जियन) में प्रकाशित भारतीय सेना के बिना बताए दिल्ली कूच करने तथा यह खबर केन्द्र सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री द्वारा साजिशन छपवाए जाने सम्बंधित अलग-अलग समाचारों के सम्बन्ध में उच्चस्तरीय जांच कराये जाने के लिए इलाहाबाद हाई कोर्ट, लखनऊ बेंच में पीआइएल दायर किया गया.

अखबारों को विज्ञापन देकर नीतीश सरकार ने किया पथराव के दर्द का पुख्ता इलाज

पटना : बुधवार को बक्सर जिले के चौसा इलाके के नरबतपुर ग्रामवासियों द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफ़िले पर हमला किये जाने से उन्हें फ़ायदा होगा या नुकसान, यह तो आने वाला समय ही बतायेगा। लेकिन फ़िलहाल इस घटना ने बिहार के अखबारों को जबर्दस्त फ़ायदा करा दिया है। बुधवार को बिहार के अखबारों को औसतन 4 पेज का विज्ञापन दिया गया है। हिन्दुस्तान, प्रभात खबर और दैनिक जागरण के अलावा बिहार सरकार ने विज्ञापन की रेवड़ी आज, राष्ट्रीय सहारा जैसे कम सर्कुलेशन वाले अखबारों को भी दिया है।

फेसबुक से शुरू हुआ ‘लोकल इंदौर’ वेबसाइट बना

सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिए शुरू हुए प्रयास ने अब वेबसाइट का रूप ले लिया है. प्रयोग के तौर पर विकास कुमार द्वारा फेसबुक पर शुरू किया गया लोकल इंदौर नाम का पेज देखते ही देखते हिट होता चला गया, इसी के साथ इस पर विचारों का आदान प्रदान होने लगा. विश्‍वसनीय खबरें प्रकाशित होने लगीं. इसका ही परिणाम रहा कि लोकल इंदौर की खबरों को स्‍थानीय अखबारों ने भी प्रमुखता से छापना शुरू कर दिया.

पत्रिका में फेरबदल : अरुण चौहान स्‍टेट हेड तथा हरीश मलिक भोपाल के संपादक बने

पत्रिका, मध्‍य प्रदेश से खबर है कि प्रबंधन ने कई संपादकों की जिम्‍मेदारियों में फेरबदल किया है. ये फेरबदल अखबार को मजबूती प्रदान करने के लिए किए गए हैं. इस फेरबदल में कई लोगों के कद को भी बढ़ाया गया है. इंदौर के स्‍थानीय संपादक अरुण चौहान को प्रमोट करके स्‍टेट हेड बना दिया गया है. अब वे पूरे एमपी की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. भोपाल के स्‍थानीय संपादक विनोद पुरोहित को इंदौर का नया स्‍थानीय संपादक बनाया गया है. उनकी जगह वरिष्‍ठ पत्रकार हरीश मलिक को भोपाल का नया संपादक बनाया गया है. हरीश मलिक ग्‍वालियर के स्‍थानीय संपादक के रूप में दायित्‍व निभा रहे थे.

एचटी के रेडियो फीवर से रितेश का इस्‍तीफा, प्रतीक को नई जिम्‍मेदारी

एचटी मीडिया वेंचर लिमिटेड से खबर है कि रितेश हांडा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे ग्रुप के रेडियो फीवर एफएम में सीएफओ थे. वे अपनी नई पारी कहां से शुरू करने जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. रितेश की जगह प्रतीक चंद्रा को नया सीएफओ बनाया गया है. प्रतीक एचटी ग्रुप …

चार जून को हिसार और पानीपत से लांच होगा डीबी स्‍टार

दैनिक भास्‍कर समूह जल्‍द ही अपने सब ब्रांड डीबी स्‍टार की लांचिंग हरियाणा के हिसार और रोहतक से करने जा रहा है. फिलहाल इस अखबार को दैनिक भास्‍कर के साथ ही पाठकों के पास पहुंचाया जाएगा. रिस्‍पांस मिलने के बाद प्रबंधन इस पर अलग रणनीति तैयार करेगा. खबर है कि इन दोनों सेंटरों से चार जून को डीबी स्‍टार की लांचिंग होगी. चार जून को दैनिक भास्‍कर का वर्षगांठ मनाया जाता है, इसलिए प्रबंधन ने डीबी स्‍टार की लांचिंग के लिए भी यही तिथि तय की है.

लाशों पर बनते महल और केंद्र सरकार का जश्‍न

यूपीए सरकार के तीन साल पूरे हो गए। प्रधानमंत्री बहुत खुश थे। सोनिया गांधी समेत कांग्रेस के बाकी नेता भी कम फूले नहीं समा रहे थे। केन्द्र की उपलब्धियों का बखान करते हुए एक किताब भी प्रकाशित की गई। इसमें सरकार का गुणगान किया गया था। लब्बो लुआब यह कि सभी मान रहे थे कि सरकार ने बहुत अच्छा काम किया है और देश के सभी लोग इस सरकार से बहुत खुश हैं। प्रधानमंत्री की खुशी जायज भी लगती है। वह बीते आठ सालों से देश के प्रधानमंत्री है। भारत का प्रधानमंत्री बनना यूं भी कम गौरव की बात नहीं है। उस पर लगातार आठ साल तक सत्ता संभालना किसी के लिए भी खुशी की बात होगी।

नेपाल के बाद मौर्य टीवी का अगला पड़ाव पश्चिम बंगाल

मौर्य टीवी के बारे में खबर है कि वो अपना अगला पड़ाव पश्चिम बंगाल में बनाने जा रहा है. बिहार-झारखंड बेस्‍ड मौर्य टीवी ने कुछ दिन पहले ही नेपाल में डीटीएच के माध्‍यम से प्रसारण शुरू किया है. यूपी के लिए भी चैनल बुलेटिन चला रहा है. हालांकि पहले यूपी में चैनल को पूरी तरह लांच करने की योजना थी, परन्‍तु रणनीतिक कारणों से बाद में इसे वापस ले लिया गया. अब खबर है कि प्रबंधन पश्चिम बंगाल में चैनल को लांच करने की योजना बना रहा है.

हिंदुस्‍तान : प्रमोशन लेटर यूनिटों में पहुंचे, 31 मई के बाद खोलने के निर्देश

हिंदुस्‍तान प्रबंधन ने संपादकों द्वारा रिकमंड किए गए ज्‍यादातर पत्रकारों का प्रमोशन कर दिया है. ज्‍यादातर यूनिटों में संपादकों द्वारा भेजे गए नामों को प्रमोशन दे दिया गया है. पर खबर है कि अभी इन लोगों को प्रमोशन का पत्र नहीं दिया गया है. सूत्रों का कहना है कि प्रमोशन लेटर सभी यूनिटों में 31 मई के बाद बांटा जाएगा. किसी भी यूनिट का लेटर अभी सार्वजनिक रूप से बांटा नहीं गया है, पर अंदरुनी तौर पर यह ज्‍यादातर लोगों को हो गई है कि किन किन लोगों का प्रमोशन हुआ है.

हिंदुस्‍तान, मुरादाबाद ने एक खबर दो पेजों पर लगाई

मुरादाबाद में अपनी पहचान बनाने तथा प्रतिद्वंद्वी अखबारों को पीछे छोड़ने के बाद ऐसा लग रहा है कि प्रबंधन अत्‍यधिक खुश हो गया है या उसे खबरों का अकाल पड़ गया है. इसका उदाहरण 24 मई के अंक में देखने को मिला. एक ही खबर को दो पेज पर शीर्षक बदलकर लगाया गया. इससे ना सिर्फ पाठक कन्‍फ्यूज हुए बल्कि अखबार में कार्य करने की शैली पर भी सवाल उठाए गए. जिस खबर को पेज नम्‍बर सात पर लगाया गया, उसी खबर को शीर्षक बदलकर पेज नम्‍बर आठ पर भी लगा दिया गया. नीचे दोनों पेजों पर प्रकाशित खबरों की कटिंग.

उन्‍नाव में बाल-बाल बचे मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव

यूपी के सीएम अखिलेश यादव घायल होने से बाल बाल बच गए. गिरती गेहूं की बोरियों से बचने के लिए अखिलेश यादव को दौड़ लगानी पड़ी अन्‍यथा उन्‍हें चोट लग सकती थी. अखिलेश यादव शुक्रवार को अचानक उन्‍नाव पहुंच गए. वहां पहुंचने के बाद वे गेहूं खरीद केंद्र गए तथा आवश्‍यक जानकारी लेने लगे. अखिलेश के गेहूं खरीद केंद्र पहुंचने की सूचना मिलने पर काफी संख्‍या में लोग वहां पहुंच गए तथा सीएम को नजदीक से देखने की कोशिश करने लगे.

एक जून को लांच होगा न्‍यूज चैनल समाचार प्‍लस

रीजनल खबरिया चैनलों की दुनिया में जल्‍द ही एक और बड़ा नाम लोगों के टीवी स्‍क्रीन पर दिखने वाला है. ये नाम है 'समाचार प्‍लस' का. इस चैनल को एक जून को लांच किया जाएगा. सारी तैयारियां पूरी की जा चुकी हैं. पीसीआर-एमसीआर पूरी तरह तैयार हो चुका है. चैनल ड्राई रन पर चल रहा है. इनपुट, आउटपुट, एसाइनमेंट एवं सभी टेक्निकल विभागों में भर्तियां पूरी कर ली गई हैं. प्रबंधन ने एक मजबूत टीम तैयार कर लिया है, जिसमें आजतक, आईबीएन7, स्‍टार न्‍यूज, इंडिया टीवी, इंडिया न्‍यूज, सहारा जैसे बड़े चैनलों में काम करने वाले लोग भी अपने संस्‍थानों से इस्‍तीफा देकर 'समाचार प्‍लस' के साथ जुड़े हैं. 

पाकिस्तान में पत्रकारिता के क्षेत्र में हिंदू बहुत कम हैं (इंटरव्यू : महेश कुमार)

: भारत दौरे पर आए पाकिस्तानी पत्रकार महेश कुमार से बातचीत : पाक में हिंदुओं को नहीं मिल सकता सर्वोच्च पद : टार्गेट किलिंग का हो रहे शिकार : एक दूसरे को लेकर गलतफहमी ज्यादा : मुंबई : हिंदुस्तान में यह अच्छी बात है कि यहां का अल्पसंख्‍यक मुस्लिम समुदाय के लोग भी देश का राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री बन सकते हैं पर, पाकिस्तान के संविधान की वजह से हिंदू इस सर्वोच्च पद तक कभी नहीं पहुंच सकते. सांप्रदायिक लोग यहां भी हैं और वहां (पाकिस्तान) भी, जिसकी वजह से पाक में कभी-कभी हिंदुओं को परेशानी उठानी पड़ती है. यह कहना है मुंबई दौरे पर आए पाकिस्तानी पत्रकारों के दल में शामिल एकमात्र हिंदू पत्रकार महेश कुमार का.

पत्रकार पिटाई कांड : पुलिस ने लिया यू टर्न, पत्रकारों के खिलाफ ही दर्ज किया मुकदमा

पश्चिम बंगाल के डिबुडीह चेकपोस्ट में मसाला व पोस्तू तस्करों द्वारा पत्रकारों की पिटाई के मामले में पुलिस का रवैया पत्रकारों के खिलाफ ही आक्रामक हो गया है. चार पत्रकारों के खिलाफ रंगदारी व छिनतई की प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है तथा उनके घर में गिरफ्तारी के लिए छापेमारी भी की जा रही है. इधर सहायक पुलिस आयुक्त (वेस्ट) के आवास पर ज्ञापन देने गये पत्रकारों के खिलाफ भी गैरजमानतीय धारा के तहत प्राथमिकी की तैयारी चल रही है. मेयर व आसनसोल दुर्गापुर विकास प्राधिकार (अड्डा) के चेयरमैन तापस बनर्जी ने पुलिस आयुक्त अजय नंद से इस मामले में हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है.

बठिंडा में मंडी के कर्मचारियों ने पत्रकार पर हमला किया

बठिंडा के मौड़ मंडी में एक हिंदी दैनिक के पत्रकार पर टीएमसी मंडी के कर्मचारियों ने जानलेवा हमला कर दिया। ये कर्मचारी मंडी में हो रही अनियमितताओं को उजागर करने के चलते पत्रकार से नाराज थे। जिस दौरान पत्रकार विजय कुमार पर हमला किया गया, वे वहां खबर कवरेज करने गए हुए थे। पुलिस ने घायल पत्रकार के बयान पर मामले की जांच शुरू कर दी है। हालांकि अभी तक इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पत्रकार के पिता पर हमला, शिकायत के बाद भी पुलिस मौन

: थानेदार उल्‍टे केस करवाने की धमकी देता है : यशवंत भैया, नमस्कार, मैं पंकज कुमार साव नवभारत, बिलासपुर में काम करता हूँ. पिछले महीने की पहली तारीख को मेरे पिताजी पर कुछ लोगों ने जानलेवा हमला कर दिया था. जिस थानेदार ने पिताजी को हॉस्पीटल भिजवाया उसी ने एफआईआर दर्ज करने से इनकार दिया. पुलिस के टाल-मटोल से तंग आकर थोड़ा स्वस्थ होने पर पिताजी ने एसपी और डीआईजी तक से गुहार लगाई, पर हुआ कुछ नहीं. ऊपर से थाना प्रभारी ने घटना को सांप्रदायिक रंग देते हुए उसे अपना कवच बना लिया.

यूपी के दो जिलों में पत्रकारों पर हमला, आरोपी पुलिस पकड़ से बाहर

गाजियाबाद जिले के सिहानी गेट कोतवाली क्षेत्र में स्थानीय दैनिक अखबार के पत्रकार पर एक होटल के मालिक और उसके स्टाफ ने हमला कर दिया। हमले में पत्रकार गंभीर रुप से घायल हो गया। खबर मिलते ही शहर में कार्यरत अन्य पत्रकार घटनास्‍थल पर पहुंच गए। इस मामले की जानकारी पुलिस को दी गई। पुलिस ने  और पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मामले की कार्रवाई शुरू कर दी है।

जागरण में बंपर छंटनी (4) : इलाहाबाद में भी छह को ऑफिस नहीं आने का फरमान सुनाया गया

: प्रबंधन की नजर में नम्‍बर बढ़ाने के लिए जीएम ने तैयार की लिस्‍ट : दैनिक जागरण प्रबंधन का अपने कर्मचारियों पर छंटनी की तलवार भांजने का क्रम जारी है. मेरठ, बनारस, बरेली, मुरादाबाद और हल्‍द्वानी के बाद अब इलाहाबाद की बारी है. खबर है कि यहां से प्रबंधन ने अपने छह वरिष्‍ठ सहयोगियों को ऑफिस आने से मना कर दिया है. इन लोगों से जबरिया इस्‍तीफा मांगा जा रहा है. प्रबधंन ने इनके पूछे जाने पर बताया कि ये लोग नान परफार्मर हैं. कहा जा रहा है कि संपादकीय प्रभारी एवं यूनिट के जीएम गोविंद श्रीवास्‍तव ने ये लिस्‍ट तैयार की है. सूत्रों का कहना है कि गोविंद श्रीवास्‍तव ने तो इन सभी लोगों को अंदर ना घुसने देने का फरमान भी जारी कर दिया है. 

एगो रिक्वेस्ट है सर, यूपीए का नाम बदल के अब खूनपीए कर दीजिए… (पेट्रोल बम पर चार कार्टून)

देश में यूपीए सरकार ने पेट्रोल बम क्या गिराया, जनता हाहाकार कर चुकी है. महंगाई के बोझ तले दबी भारत की जनता पर पेट्रोल के दामों इतनी ज्यादा वृद्धि सहन से बाहर की चीज है. जनता की भावना को अभिव्यक्त किया है कार्टूनिस्टों ने. फेसबुक पर पेट्रोल मूल्य वृद्धि को लेकर कई तरह के कार्टून लोग शेयर अपलोड कर रहे हैं. सबसे ज्यादा शेयर अगर किसी का कार्टून किया गया है तो वो है पवन का कार्टून. नीचे सबसे पहले पवन का कार्टून है जो भोजपुरी टोन में जबरदस्त कार्टून बनाते आए हैं. इस प्रतिभाशाली कार्टूनिस्ट को इस नायाब कार्टून के लिए ढेर सारी बधाइयों के साथ बाकी कार्टून भी नीचे प्रकाशित किया जा रहे हैं. यहां एक तथ्य की जानकारी देना चाहेंगे कि इंडियन आयल कारपोरेशन के चेयरमैन का कहना है कि एक लीटर पेट्रोल पर केंद्र सरकार को पंद्रह रुपये और राज्य सरकार को 10 से 20 रुपये (हर राज्य का अलग अलग हिसाब है) टैक्स के रूप में मिलते हैं. आखिर ये सरकारें जनता के हित में ये टैक्स लेना क्यों नहीं बंद कर देतीं. इससे सीधे सीधे लगभग पच्चीस रुपये पेट्रोल का दाम घट जाएगा. अगर आप पेट्रो पदार्थों के दाम को बाजार के हवाले कर चुके हैं तो फिर टैक्स किस बात का ले रहे हैं. इस तथ्य को लोगों को जानना चाहिए ताकि वे नेताओं और नौकरशाहों से सवाल पूछ सकें.

जागरण में बंपर छंटनी (3) : प्रबंधन ने अब बरेली, मुरादाबाद और हल्‍द्वानी के दस पत्रकारों से इस्‍तीफा मांगा

अपने आप को नम्‍बर वन बताने वाला अखबार दैनिक जागरण संवेदनहीनता में भी नम्‍बर वन होता जा रहा है. अपने कर्मचारियों के खून को पीकर मीडिया संस्‍थान से कारपोरेट संस्‍थान बनते जा रहे जागरण ग्रुप के बेरहमी का आलम यह है कि इस अखबार के यूनिटों में बंपर छंटनी की जा रही है. मेरठ, बनारस यूनिट से कई लोगों को इस्‍तीफा देने का फरमान सुना चुका अखबार प्रबंधन अब बरेली, मुरादाबाद एवं हल्‍द्वानी यूनिट में कर्मचारियों पर गाज गिराने जा रहा है.

Send entries for The Laadli Media Awards for Gender Sensitivity 2011-12 (Northern Region)

The Laadli Media Awards were instituted in March 2007 as a Mumbai centric event and were subsequently taken to the national level with the support of the UNFPA. The Awards have been instituted to acknowledge, highlight and celebrate the commendable efforts undertaken by Print and Electronic media (TV, Radio and Web) and Advertising, to support gender-just perspectives. News features, articles, editorials, investigative reports from print and electronic media and ads and jingles from the advertising agencies for products, services and public service announcements are considered for the awards.

ब्लैकमेलर है चंदन झा, उसकी कहानी पूरी तरह फर्जी है : जनता टीवी

Dear Yashwant ji, I have read what chandan wrote to you. It is total self cooked story ! Big Blackmailer Chandan Sent a letter to CM, therefore as a protocal CM forwarded his letter to Department of Information & Public, Uttarakhand. This stands a general produre of CM office. NOW This does not claims any direction of CM to any department against Janta TV. Therefore all what he says is total Wrong. Secondly He sent a letter to Labor Authority, and as a rule, Labour authourity asked the viability of his complaint from us. This is their general work procedure.

‘दबंग दुनिया’ में दो शर्माओं की दबंगई, संपादक ने मौन धारण किया

: कानाफूसी : इंदौर के 'दबंग दुनिया' अखबार में भी इन दिनों भागमभाग का दौर शुरू हो गया है क्योंकि जिस उत्साह से ये अखबार शुरू हुआ था वो अब ठंडा पड़ने लगा है. अखबारों की दुनिया में तो इस अखबार ने कोई दबंगता नहीं दिखाई पर स्टाफ भरने में इस अखबार का कोई मुकाबला नहीं. दबंग दुनिया में आज इतना स्टाफ है कि तीन अखबार निकाले जा सकते हैं. इसके बावजूद यहां काम का कोई तरीका नहीं बन पाया! यही कारण है कि अब यहाँ से लोग भागने लगे हैं.

जनता टीवी के स्ट्रिंगर रहे चंदन झा ने चैनल के खिलाफ उत्तराखंड के सीएम को भेजा शिकायती पत्र

दिल्ली के कीर्तिनगर से संचालित जनता टीवी के खिलाफ उत्तराखण्ड के स्ट्रिंगर चंदन झा ने मुख्यमंत्री को एक पत्र लिखा है. इसमें उन्होंने जनता टीवी की शिकायत की है. बताया जाता है कि शिकायत को संज्ञान लेने हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री ने जनता टीवी को ब्लैक लिस्ट करने संबंधी अनुरोध के बारे में आवशयक छानबीन हेतु निर्देश सूचना एवं प्रशासन विभाग उत्तराखण्ड देहरादून को दिया है

क्या माधवकांत के चलते दिशा टीवी का दुर्दिन शुरू हो गया है!

: कानाफूसी : दिशा टीवी को लेकर कई तरह की कानाफूसी मार्केट में है. अपुष्ट जानकारी के मुताबिक दिशा टीवी के प्रमोटर डायमंड ग्रुप के चेयरमैन ने सीईओ माधवकांत मिश्रा की कार्यशैली से नाराज होकर दिशा में अब कोई पैसा लगाने से मना कर दिया है. डायमंड ग्रुप ने दिशा में अपने प्रतिनिधि वाइस प्रेसीडेंट पंकज अग्रवाल को वापस कोलकाता बुला लिया है. 23 मई को पंकज अग्रवाल ने दिशा को बाय कह दिया. सूत्रों के मुताबिक डायमंड ग्रुप ने माधवकांत को यहां तक कह दिया है कि अगर उन्हें कोई फाइनेंसर मिलता है तो वे ढूंढ ले और डायमंड का जो इनवेस्टमेंट है वह उसे वापस करा दें. अगर यही हाल रहा तो दिशा चैनल या तो बिक जाएगा या बंद हो जाएगा.

मुर्गे-बकरे काटने वालों, होटल चलाने वालों को समाजसेवक बताकर सम्‍मानित किया अमर उजाला ने

अमर उजाला समाचार पत्र के लोकल पुल आऊट माई सिटी की पहली वर्षगांठ पर रविवार को कुरुक्षेत्र के केसल मॉल में सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया और जिले के कई लोगों को समाजसेवा के नाम पर सम्मानित किया गया। उसे भी जिनका समाजसेवा के क्षेत्र में रत्‍तीभर भी योगदान नहीं रहा। कहने को तो अमर उजाला बोर्डों पर बड़ा-बड़ा 'जोश सच का' लिखता है और समाज को सही दिशा दिखाने की बात करता है, लेकिन कल कुरुक्षेत्र के कार्यक्रम में अमर उजाला की कथनी और करनी में साफ अंतर नजर आया।

”साथ छोड़ते ही मुझे फर्जी पत्रकार बता दिया डा. सर्वेश ने”

सेवा में, श्रीमान् सम्पादक जी, भडास 4 मीडिया डाट काम। विषय- अपनी संस्था/सा0 समाचार पत्र में एक वर्ष से ज्यादा कार्य कराने के बावजूद भी प्रशासन को बताया फर्जी पत्रकार। महोदय, बडे़ दुख के साथ आपको अवगत कराना चाहता हूं कि मैं प्रार्थी प्रशांत सक्सेना वर्तमान ब्यूरो चीफ, आवाज प्लस कानपुर नगर में सन् 2006 से पत्रकारिता का कार्य कर रहा हूं। मैंने 2010 तक निजी अखबारों/पत्रिका/न्यूज चैनलों में कार्य किया जिसकी सूचना मैंने जिलाधिकारी/उपपुलिस महानिरीक्षक/सूचना विभाग कानपुर को लिखित दी थी। पत्रकारिता के इस गन्दे माहौल में घुसने के बाद 2009-2010 में जन शिक्षण संस्‍थान, कानपुर (मानव संसाधन विकास मंत्रालय भारत सरकार) से पत्रकारिता सर्टिफिकेट का एक वर्ष का कोर्स किया। बडे़ अखबारों/चैनलों में काफी प्रयास किया परन्तु कोई मौका नहीं मिला, यदि मौका मिला तो मैं चैनल की आईडी खरीदने में असमर्थ रहा। सम्पादकों व न्यूज हेड से जान-पहचान न होने के कारण आज मैं बडे़ बैनर से बहुत दूर हूं।

अपडेट… अपने अधीनस्थ से आफिस के अंदर फिर भिड़े अमर उजाला, लखनऊ के स्थानीय संपादक इंदुशेखर पंचोली

अमर उजाला, लखनऊ के स्थानीय संपादक इंदुशेखर पंचोली फिर आफिस के अंदर अपने ही अधीनस्थ से भिड़ गए. करीब दर्जन भर लोगों से बदतमीजी, लड़ाई, झगड़ा कर चुके और बदले में ऐसा ही कुछ पा चुके पंचोली की लड़ाई इस बार अमर उजाला, लखनऊ के जनरल डेस्क इंचार्ज धर्मेंद्र सिंह से हो गई. बताया जाता है कि पंचोली अचानक धर्मेंद्र के पास आए और बोलने लगे कि तुम ठीक से काम नहीं कर पा रहे हो, आफिस से बाहर निकल जाओ. यह सुनकर धर्मेंद्र सन्न रह गए. उन्होंने जानना चाहा कि आखिर ऐसा क्या हो गया, कि अचानक वे काम लायक नहीं लग रहे हैं. इस पर पंचोली ने कहा कि बहस न करो, आफिस से बाहर जाओ.

भास्‍कर ने अंग्रेजी दैनिक डीएनए का अपना हिस्‍सा एस्‍सेल को बेचा

: अखबार पर सुभाष चंद्रा की कंपनी का मालिकाना हक : मुंबई समेत कई शहरों से छपने वाले अंग्रेजी दैनिक डीएनए से भास्कर ग्रपु ने अपना हिस्सा जी न्यूज की कंपनी एस्सेल ग्रुप को बेच दिया है. इस तरह अब डीएनए का पूरा मालिकाना हक एस्सेल ग्रुप के पास आ गया है. इस अंग्रेजी अखबार की शुरुआत भास्कर और जी ने मिलकर 2005 में ज्‍वाइंट वेंचर के तहत की थी. इस डील की ज्‍यादातर फार्मेलिटीज पूरी हो चुकी हैं. अब बस इस डील की आधिकारिक घोषणा होनी बाकी है. संभावना जताई जा रही है कि सारी प्रक्रियाएं पूरी होते ही अगले कुछ दिनों में कंपनी इसकी आधिकारिक घोषणा कर देगी.

Fraud Nirmal Baba (89) : निर्मल बाबा ने मानहानि के लिए भड़ास4मीडिया से 21 लाख रुपये मांगा

: हाईकोर्ट की शरण में निर्मल बाबा : भड़ास4मीडिया पर छपे लेखों को आपत्तिजनक बताया : हाईकोर्ट ने भड़ास4मीडिया और इसके संचालक यशवंत सिंह को नोटिस जारी कर 30 मई को तलब किया : भड़ास4मीडिया को लीगल नोटिस भेज चुके निर्मल बाबा अब सीधे हाईकोर्ट की शरण में गए हैं. उनके वकील ने हाईकोर्ट से अनुरोध किया है कि भड़ास4मीडिया को निर्मल बाबा के खिलाफ खबर छापने से रोका जाए और अब तक छपी खबरों को हटाने के लिए कहा जाए. साथ ही भड़ास4मीडिया डाट काम के कारण हुई मानहानि के चलते 21 लाख रुपये का मुआवजा दिलाया जाए. हाई कोर्ट ने निर्मल बाबा के वकील से कहा है कि वह उन तमाम एफआईआर और शिकायत की कॉपी अदालत में पेश करें जो उनके खिलाफ दर्ज कराई गई है. साथ ही कोर्ट ने भड़ास4मीडिया और यशवंत सिंह को भी नोटिस जारी कर 30 मई को बुलाया है. इस प्रकरण की खबर आज कई हिंदी अंग्रेजी अखबारों में प्रकाशित हुई है. पेश है कुछ अखबारों में प्रकाशित खबरों का टेक्स्ट…

प्रेस एनक्लेव मार्ग का नाम बदलने से नाराज पत्रकारों ने शीला दीक्षित को ज्ञापन सौंपा

नई दिल्ली : दक्षिणी दिल्ली के साकेत क्षेत्र में रहने वाले पत्रकार नाराज हैं। दरअसल ये पत्रकार जिस कॉलोनी में रहते हैं उसे जोड़ने वाली सड़क का नाम प्रेस एनक्लेव मार्ग से बदलकर पंडित त्रिलोक चंद शर्मा रोड कर दिया गया है। मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को बुधवार को सौंपे गए एक ज्ञापन में कहा गया है, ''यह हमारी कल्पना से परे की बात है कि आप सड़कों के बरसों पुराने व स्वीकृत नाम बदल रहे हैं।'' ज्ञापन में इस बात पर आश्चर्य व्यक्त किया गया है कि दशकों से जिस सड़क का नाम प्रेस एनक्लेव मार्ग प्रचलित रहा है, उसे अचानक बिना कोई नोटिस जारी किए बदल दिया गया। प्रेस एसोसिएशन कोऑपरेटिव ग्रुप हाउसिंग सोसायटी ने ज्ञापन में कहा है कि यह बदलाव अनुचित है।

नूतन ठाकुर पर हाईकोर्ट ने लगाया एक लाख रुपये का जुर्माना

: नूतन बोलीं- हाईकोर्ट का जुर्माना उचित नहीं : इलाहबाद उच्च न्यायालय के लखनऊ बेंच में जस्टिस डीके अरोरा की बेंच ने आज मेरे द्वारा दायर सिविल अवमानना याचिका संख्या 1170/2012 में मुझ पर एक लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. यह अवमानना याचिका यू के वर्मा, सचिव, सूचना और प्रसारण, मार्कंडेय काटजू, अध्यक्ष, प्रेस काउन्सिल ऑफ इंडिया एवं अन्य के विरुद्ध दायर किया गया था. मैंने अपने याचिका में कहा था कि जस्टिस उमानाथ सिंह और जस्टिस वी के दीक्षित की बेंच द्वारा 10 अप्रैल 2012 को पारित आदेश की अवमानना हुई है.

जीडीए आफिस में पत्रकारों के आने पर लगाई रोक

गाजियाबाद। गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष संतोष कुमार यादव ने बुधवार से पत्रकारों के कार्यालय में प्रवेश पर रोक लगा दी है। हालांकि पत्रकारों के व्यवहार के वजह से जीडीए के होमगार्ड से लेकर अधिकरियों ने रोका नहीं। सूत्रों की माने तो पत्रकारों की जीडीए से अंदर की खबरें निकालने की वजह से वीसी को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, जिसके वजह से वीसी ने यह फरमान जारी किया है। वीसी का कहना है कि पत्रकारों को सिर्फ प्रेस रिलीज ही भेजी जाएं और अखबार में वही खबरें छपे जो खबर वीसी साहब छपवाना चाहते हैं।

इंदौर प्रेस क्लब का निर्वाचन 27 मई को ही, हाईकोर्ट का स्थगन आदेश खारिज

इंदौर। इंदौर प्रेस क्लब का त्रिवार्षिक निर्वाचन रविवार, 27 मई 2012 को ही सम्पन्न होगा। मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की इंदौर खंडपीठ और रजिस्ट्रार, फर्म्स एंड सोसायटी, मध्यप्रदेश के स्थगन आदेश से प्रेस क्लब का निर्वाचन कार्यक्रम प्रभावित नहीं हो रहा है। मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय की इंदौर खंडपीठ में शुक्रवार, 18 मई 2012 को श्री अतुल पाठक व श्री हेमंत शुक्ला द्वारा दायर याचिका में माननीय न्यायाधीश न्यायमूर्ति श्री एन.के. मोदी ने स्थगन आदेश जारी किया था।

भिवानी में मेरा ट्रांसफर जागरण की संपादकीय नीति के अनुरूप : डा. संदीप कुमार सैनी

संपादक, भड़ास4मीडिया, आपकी साइट पर प्रकाशित ''जागरण में टॉपर को सजा, नकलची फेलिहर को इनाम!'' समाचार बिल्‍कुल एकतरफा है. इस समाचार में मेरा जिक्र है, पर इस संबंध में मुझसे बात करने की भी जहमत नहीं उठाई गई. मीडिया को लेकर आपकी साइट बहुत बेहतर है परंतु मुझे यह जानकर बहुत ही दुख व क्षोभ हुआ है कि आपने बिना तथ्‍यों को जाने व परखे ऐसा समाचार प्रकाशित किया है जिसमें बेवजह मेरा नाम भी घसीटा गया है. इसकी वजह से मुझे मानसिक परेशानी का सामना करना पड रहा है.

आरूषि-हेमराज को सेक्स करते देखकर राजेश और नुपूर तलवार ने मार डाला था!

सीबीआई ने बुधवार को एक विशेष अदालत को बताया कि राजेश और नुपुर तलवार ने अपनी बेटी आरूषि और नौकर हेमराज को आपत्तिजनक स्थिति में पाया और गुस्से में उनकी हत्या कर डाली.  दंत चिकित्सक दंपति ने जांच एजेंसी की इस दलील का जोरदार खंडन किया. तलवार दंपति ने सीबीआई के दावे का विरोध किया और कहा कि अभिजात्य समाज में सेक्स कोई बड़ी बात नहीं और यह हत्या की वजह नहीं हो सकती.

पूर देश में पेट्रोल बम और इलाहाबाद में देसी बम फटा

केंद्र की कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने पेट्रोल के दाम में इस कदर इजाफा कर दिया है लोग इसे पूरे देश की आम जनता पर छोड़ा गया पेट्रोल बम कहने लगे हैं. बहाना बनाया गया है डॉलर के मुकाबले रुपये में तेजी से आ रही गिरावट को. पेट्रोल के दाम में प्रति लीटर 7.50 रुपए का इजाफा किया गया है. बढ़े हुए दाम आज आधी रात से लागू होंगे. दाम बढ़ने से पेट्रोल अब कोलकाता में 77.53 रुपए प्रति लीटर, दिल्ली में 73.14 रुपए प्रति लीटर, बंगलूरू में 81 रुपए प्रति लीटर और मुंबई में 78.16 रुपए प्रति लीटर हो गया है. इससे पहले केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री जयपाल रेड्डी ने कहा था कि रुपये में तेजी से आ रही गिरावट के कारण तेल कंपनियों का आयात खर्च बेहिसाब रफ्तार से बढ़ा है. इसलिए एलपीजी, पेट्रोल और डीजल के दामों में तत्काल बढ़ोतरी जरूरी हो गई है.

हिंदुस्तान के मार्केटिंग विभाग में कई लोग इधर-उधर, अमित चोपड़ा ने जारी किया मेल

Dear All, In line with our commitment towards building a stronger team to drive the Hindi business, we are pleased to announce the following organization changes in Jharkhand; Pankaj Yaduka moves out from Jharkhand to take over as Unit Head, Lucknow. Pankaj has been associated with the company ever since May 2000 and has played a stellar role in building Jharkhand – initially as a UFC and Sales head and thereafter as Head – Circulation and Business Operations, Jharkhand.

मध्य प्रदेश में पत्रकार को पीटकर थूक चटाने के मामले में एसडीओपी निलंबित

मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले में पत्रकार अरुण त्रिपाठी की पिटाई के मामले में आरोपी एसडीओपी केएल बंजारे को निलंबित किया. निलंबन की कार्रवाई गृहमंत्री के आदेश पर हुआ. शहडोल के दौरे पर आए गृहमंत्री उमा शंकर गुप्ता के निर्देश पर एसडीओपी पर यह कार्रवाई की गई. मामला अनूपपुर के कोतमा का है जहां कुछ रोज पहले हुई नवविवाहिता सीमा चौहान की आत्महत्या के मामले की जांच चल रही है.

Fraud Nirmal Baba (88) : निर्मल बाबा ने आईबीएन पर अपना प्रसारण जारी रखने के लिए राघव बहल, राजदीप और आशुतोष को कितने पैसे दिए?

आईबीएन7 न्यूज चैनल पर निर्मल बाबा के पाखंड का प्रसारण जारी है. इस प्रसारण के दौरान कहीं भी विज्ञापन या स्पांसर्ड प्रोग्राम या पेड प्रोग्राम नहीं लिखा होता. अंधविश्वास फैलाने और नागरिकों की चेतना कुंद करने वाले इस कार्यक्रम के खिलाफ ढेर सारी बहस, विवाद, विरोध के बावजूद आईबीएन7 पर प्रसारण जारी रखना दर्शाता है कि नेटवर्क18 समूह अब पूरी तरह जनविरोधी हो चुका है. सीएनएन-आईबीएन, आईबीएन7 समेत इसके कई चैनल कहने को मीडिया हाउस हैं लेकिन दरअसल ये पैसे कमाने के लिए खुली हुई फैक्ट्रियां हैं.

सड़क हादसे में ‘एशियन एज’ का पत्रकार घायल

नई दिल्ली। दक्षिण दिल्ली में तेज रफ्तार एसयूवी कार की टक्कर से एक पत्रकार घायल हो गया। पुलिस ने कहा कि घटना चिराग दिल्ली की है और पीड़ित की पहचान ‘एशियन एज’ अखबार के जहांगीर अली के रूप में हुई है। वह चिराग दिल्ली जा रहे थे तभी एक एसयूवी कार ने रात साढे बारह …

गोरखपुर पत्रकार पिटाई कांड : लखनऊ के पत्रकारों ने प्रकरण को सीएम अखिलेश तक पहुंचाया

: एडीजी बीपी सिंह कहते हैं- थोड़ी नोंकझोक हो गई थी, पर अब सब खत्म हो चुका है :  उ.प्र. मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति ने मसला मुख्यमंत्री के पास पहुंचाया : सपा के प्रदेश प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी को घटना की जानकारी ही नहीं है : सूर्यप्रताप सिंह शाही और हृदयनारायण दीक्षित ने इस कांड की कड़ी निंदा और भर्त्‍सना की : अमर उजाला के रिपोर्टर की सरेआम गोरखपुर के एसएसपी द्वारा लाठियों से की गयी पिटाई की वारदात को पुलिस महानिदेशक ने मैनेज कर लिया है लेकिन पत्रकारों ने इस प्रकरण को मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव तक पहुंचा दिया है। यह दीगर बात है कि प्रदेश समाजवादी पार्टी के प्रवक्‍ता को इस हादसे तक की जानकारी नहीं है। और तो और, इस खबर की जानकारी न तो किसी राजनीतिक नेता को है और न ही ज्‍यादातर पत्रकार-नेता को। अब यह सब लोग इस हादसे की निंदा जरूर कर रहे हैं। इस प्रकरण का पता न चलने का एक बड़ा कारण अमर उजाला द्वारा इस खबर को प्रकाशित न करना है।

राजुल माहेश्वरी जी, आई-नेक्स्ट अखबार से भी सबक ले सकते हैं…

: गोरखपुर के डीएम ने आई-नेक्स्ट के रिपोर्टर को धमकी दी तो अखबार ने डीएम की पूरी धमकी और पूरी कहानी को प्रकाशित कर डीएम की कारस्तानी को बेनकाब कर दिया : गोरखपुर में अमर उजाला का रिपोर्टर धर्मवीर वहां के एसएसपी आशुतोष के हाथों बुरी तरह पिटा गया, सिर्फ इस अपराध में कि बाइक सड़क पर क्यों खड़ी की है, और अमर उजाला अखबार में एक लाइन खबर तक नहीं छपी. वहीं, गोरखपुर में ही जागरण समूह के शिशु अखबार आई-नेक्स्ट के रिपोर्टर को वहां के डीएम ने एक खबर के मामले में धमकी दी तो कलक्टर साहब की पूरी धमकी को आई-नेक्स्ट अखबार ने प्रमुखता से प्रकाशित कर ब्यूरोक्रेसी के गाल पर जोरदार तमाचा रसीद किया.

जागरण में टॉपर को सजा, नकलची फेलिहर को इनाम!

: कानाफूसी : दैनिक जागरण ने विशेषकर संपादकीय कर्मियों की प्रतिभा को परखने के लिए हाल ही में अंतर विभागीय परीक्षा का आयोजन किया था। देशभर में आयोजित हुई इस परीक्षा में लगभग 100 से अधिक रिपोर्टर से लेकर डेस्क के वरिष्ठ उप संपादक तक न केवल फेल हुए थे, बल्कि उन पर परीक्षा में नकल करने का केस भी बनाया गया था। इस परीक्षा को विभागीय पदोन्नति ओर सालाना वेतन वृद्धि के रूप में देखा जा रहा है। परीक्षा में फेल हुए एवं नकल का केस बने संपादकीय कर्मियों में दशहत का माहौल है। क्योंकि दैनिक जागरण समूह ने इन दिनों छटनी के नाम पर संपादकीय विभाग के भी कर्मचारियों की यूनिट स्तर से सूची मांगी है। सूची मांगे जाने की सूचना यूनिट स्तर पर पहुंचते ही देशभर के दैनिक जागरण कार्यालयों में इन दिनों दशहत का माहौल है।

Channel 4 editor suffering from severe stress caused by her job was found dead ‘after mental health centre missed opportunities to save her’

: Her father attacked both rehab clinics that tried to help the TV executive : He said doctors at the first clinic 'rejected' the 35-year-old demanded she get out of the first centre 'in 20 minutes' : Amy Winehouse was treated at the £10,000 retreat, which had now shut : Psychiatrist said Sarah Mulvey was a 'narcissist' : Second crisis centre saw her a day before she overdosed at her flat : A high-flying Channel 4 executive who was found dead at her home could have been saved by a mental health centre she visited, her father claimed today. Sarah Mulvey overdosed in her north London flat after being treated for post-traumatic stress disorder related to the 'extreme pressures' of her job and a grievance procedure at work.

सामाजिक कार्यों में उल्लेखनीय योगदान के लिए कई पत्रकार सम्मानित

नई दिल्ली। रफी मार्ग स्थित कांस्टीट्यूशन क्लब के डिप्टी स्पीकर हॉल में 21 मई को परिवर्तन जन कल्याण समिति ने पत्रकारिता के साथ सामाजिक कार्यों में उल्लेखनीय योगदान देने के लिए किरण चोपड़ा (पंजाब केसरी), पंकज मिश्रा फरीदाबाद (दैनिक भास्कर), मोहम्मद शम्स शहानवाज (आज समाज), जमुना राम कुंदन (दिल्ली प्रेस), रुपेश कुमार सिंह (सांध्य दैनिक उत्तरांचल दर्पण) को श्रमश्री सम्मान से सम्मानित किया।

मेढक तौलना व बलिया के पत्रकारो को एक मंच पर लाना बेहद मुश्किल है

अपने क्रांतिकारी तेवर के लिये अलग पहचान रखने वाले यूपी के बलिया जिले के पत्रकारों के बारे में एक जुमला अमूमन हर बातचीत में कहा जाता है कि मेढक को तौलना व बलिया के पत्रकारों को एक मंच पर लाना बेहद मुश्किल है। इस जुमला को पिछले दिनो राजस्व मंत्री अम्बिका चौधरी की एक टिप्पणी से और बल मिला। काबिना मंत्री बनने के बाद पहली बार अपने गृह जिले में आये अम्बिका ने अपने पैतृक ग्राम कपूरी में पत्रकारों को दावत दिया तथा बातचीत की। इस दौरान एक वरिष्ठ पत्रकार ने बलिया में प्रेस क्लब स्थापना का मुद्दा उछाला। इस पर अम्बिका ने कहा कि पहले पत्रकार एक मंच पर आयें, वह इसके बाद प्रेस क्लब के लिये भवन आवण्टित कराने में कदापि विलम्ब नही करेंगे।

इंडिया टीवी में अभिव्यक्ति की आजादी के पहरेदारों के लिए गुलामी का फरमान

न्यूज चैनल इंडिया टीवी से एक बुरी खबर है. यहां के एचआर और एडमिन के हेड पुनीत टंडन ने एक मेल जारी कर कर्मियों से कहा है कि वे आफिस टाइम में चाय पीने के लिए भी आफिस से बाहर न जाएं. मेल में यह भी कहा गया है कि बाहर की चाय स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है इसलिए लोग इससे परहेज करें और आफिस टाइम में आफिस से बाहर न जाएं. इस आदेश के जारी होने के बाद इंडिया टीवी कर्मियों में हलचल मच गई है. इंडिया टीवी के कुछ कर्मियों का कहना है कि इंडिया टीवी बिग बास के घर जैसा हो गया है जहां से बाहर नहीं निकला जा सकता.

वरिष्ठ पत्रकार एएल प्रजापति को पैरालिटिक अटैक, गंभीर हालत में आईसीयू में भर्ती

दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकार एएल प्रजापति के बारे में एक बुरी खबर है कि उन्हें कल शाम पैरालिटिक (लकवा) अटैक पड़ गया जिससे उनकी हालत गंभीर हो गई. वे गाजियाबाद के वसुंधरा में रहते हैं. वहीं घर पर शाम छह बजे के करीब अटैक पड़ा. परिजन उन्हें वसुंधरा के सेक्टर 15 स्थित अस्पताल में ले गए जहां वे आईसीयू में भर्ती हैं. डाक्टर उनकी हालत क्रिटिकल बता रहे हैं. पता चला है कि पांच साल पहले भी उन्हें अटैक पड़ा था तब वह रिकवर कर ले गए थे. उनके जानने वालों ने फिर से उनके पूरी तरह स्वस्थ होने की कामना की है.

राजुल माहेश्वरी शर्म करो, अजय अग्रवाल और उनके अखबार ‘डीएलए’ से सबक लो

कभी राजुल माहेश्वरी, अजय अग्रवाल, अशोक अग्रवाल आदि एक हुआ करते थे. सभी अमर उजाला अखबार के मालिक हुआ करते थे. स्व. अतुल माहेश्वरी ने अपने जिंदा रहते हुए जाने क्या सोचा कि सब छिन्न भिन्न हो गए. पहले अजय अग्रवाल फिर अशोक अग्रवाल को अमर उजाला से अलग कर दिया गया. बाद में अतुल माहेश्वरी का निधन हो गया. अब सिर्फ राजुल माहेश्वरी हैं जो अमर उजाला के सर्वेसर्वा हैं. कहने को तो यह राजुल माहेश्वरी के लिए निजी तौर पर बहुत बड़ी उपलब्धि है कि वे इतने बड़े अखबार के अकेले मालिक हैं लेकिन पत्रकारिता और मीडिया के लिहाज से देखा जाए तो यह अमर उजाला के बुरे दिन की शुरुआत भी है.

तस्वीर देखिए और पत्रकार पर पुलिस उत्पीड़न की बर्बरता की कल्पना करिए

इसे अश्लीलता न समझा जाए। ये घटना अनुपपुर जिले के कोतमा थाने पर एस.डी.ओ. पुलिस एवं 10 स्टाफकर्मियों ने मिलकर इस कारगुजारी को अंजाम दिया है ! कोतमा एस.डी.ओ. पुलिस एवं 10 स्टाफकर्मियों ने मिलकर पत्रकार अरूण को बेरहमी से पीटा है, जिससे समस्त पत्रकारों में रोष व्याप्त है। इस बर्बरता पूर्वक किये गए कृत्य से देश की देशभक्ति एवं जनसेवा की नीति शर्मशार होती है ! पत्रकार साथियों ने इस कृत्य की भर्त्सना करते हुए उच्चस्तरीय जाच की भी मौखिक मांग की है।

अक्षय तृतीया पर ‘द हिंदू’ का जैकेट और वरिष्ठ पत्रकार प्रमोद जोशी की टिप्पणी

भारत के अखबारों के पास शानदार अतीत है और आज भी अनेक अखबार अपने पत्रकारीय कर्म का बखूबी इस्तेमाल कर रहे हैं। इनमें मैं 'द हिन्दू' को सबसे आगे रखता हूँ। पहले भी और आज भी। अखबार के सम्पादकीय दृष्टिकोण की बात छोड़ दें तो उसकी किसी बात से असहमति मुझे कभी नहीं हुई। हाल के वर्षों में हिन्दू व्यावसायिक दौड़ में भी शामिल हुआ है और बहुत से ऐसे काम कर रहा है, जो उसने दूसरे अखबारों की देखादेखी या व्यावसायिक दबाव में किए होंगे। पर ऐसा मैने नहीं देखा कि सम्पादक अपने अखबार की व्यावसायिक नीतियों और सम्पादकीय नीतियों के बरक्स अपनी राय पाठकों के सामने रखे।

जागरण में बंपर छंटनी (2) : मेरठ और वाराणसी में लिस्ट तैयार, कर्मियों में दहशत

खुद को नंबर वन अखबार बताने वाला दैनिक जागरण दिन प्रतिदिन बेरहम होता जा रहा है. ताजी सूचना ये है कि यह ग्रुप एक बार फिर बंपर छंटनी करने जा रहा है. मेरठ और बनारस यूनिट से जो सूचनाएं और जो नाम आएं हैं, उससे पता चल रहा है कि पुराने कर्मियों पर ज्यादा बड़ी संख्या में गाज गिर रही है. ये वो लोग हैं जिन्होंने दैनिक जागरण के अलावा किसी दूसरे संस्थान के बारे में सोचा तक नहीं. मेरठ से मिली सूचना के अनुसार पिछले दिनों अपनी स्थापना का सिल्वर जुबली मनाने वाले मेरठ दैनिक जगरण ने तीन साल बाद फिर से छंटनी करने का फैसला कर लिया है.

बिहार में चैनल व मैग्जीन लांच करने की बात कहने वाली इस कंपनी की असलियत क्या है?

सेवा में, सम्पादक महोदय, भड़ास, आजकल पटना में गिरिराज मीडिया नेटवर्क के नाम से एक कम्पनी आई है जो कहती है की 5 जून को टीवी चैनल तथा हंगामा नाम से मैग्जीन को लांच कर रही है और बिहार, झारखण्ड के सभी जिलों मे रिपोर्टरों को रख रही है. सभी जिलों के रिपोर्टर को 19000 हजार रुपये महीने देने का दावा कर रही है. इसके बदले वो जिला रिपोर्टर को निर्देश दिया है कि वो अपने जिला के सभी अनुमंडल, ब्लाक, पंचायत स्तर तक अपना रिपोर्टर बना ले, इसके बदले में अनुमंडल रिपोर्टर को 2500, ब्लाक रिपोर्टर को 2000 हजार तथा पंचायत रिपोर्टर को 1000 हजार रूपये देगी.

ओमप्रकाश अश्क का रांची तबादला, धनबाद के नए संपादक बने मनोरंजन सिंह

हिंदुस्तान अखबार से सूचना है कि मनोरंजन सिंह को धनबाद यूनिट का नया स्थानीय संपादक बना दिया गया है. अब तक संपादक रूप में काम देख रहे ओमप्रकाश अश्क का तबादला रांची किए जाने की सूचना है. हालांकि ये दोनों सूचनाएं अभी तक पुष्ट नहीं हो पा रही हैं क्योंकि कुछ लोगों का कहना है कि ओमप्रकाश अश्क पिछले दिनों आफिस में अचानक गश खाकर गिर पड़े थे, जिसके बाद उनका रांची में इलाज चल रहा है. इस कारण उनकी अनुपस्थिति में कामकाज देखने के लिए मनोरंजन सिंह को रांची से भेजा गया है. एक चर्चा यह भी है कि हिंदुस्तान में गुपचुप तरीके से कई फेरबदल किए गए हैं जिसके तहत कई लोगों को इधर से उधर किया जा रहा है, उसी क्रम में यह बदलाव भी हुआ है.

क्या पता था कि चचा अब नहीं लौटेंगे

: जाना एक जिन्दादिल का : चाचा का रिश्ता ऐसा होता है जिसमें ढेर सारे रिश्तों की खूबियाँ एक साथ होती हैं….. पिता का कड़ा अनुशासन और मार्गनिर्देशन, माँ सा प्यार-दुलार, बड़े भाई का सुरक्षात्मक साथ, बहन सी ध्यान रखने की आदत, दोस्त की तरह राजदां…… चंदोला चचा और मेरा रिश्ता भी इन्ही खूबियों से लबरेज था. 1992 में जब मैं वाराणसी में रिपोर्टर थी तब रोज तमाम मुश्किलें मेरे सामने खड़ी होती. लोगों के कमेन्ट से मैं परेशान हो जाती. चचा से मिलती तो पहले चाय पिलाते फिर प्यार से समझाते.

नितिन राठी श्रीएस7न्यूज में मार्केटिंग व ब्रांडिंग के रीजनल चैनल हेड बने

श्रीमीडिया वेंचर्स के सीनियर एचआर मैनेजर आदित्य एलेक्स की तरफ से जारी एक मेल में जानकारी दी गई है कि नितिन राठी ने रीजनल चैनल हेड (मार्केटिंग एंड ब्रांडिंग) के बतौर श्रीएस7 न्यूज ज्वाइन किया है. राठी एफएम, प्रिंट व इलेक्ट्रानिक मीडिया में काम करने का लंबा अनुभव रखते हैं. वे दैनिक जागरण, रेडियो मिर्ची, आईनेक्स्ट, ईटीवी, न्यूज एक्सप्रेस, इंडिया न्यूज आदि के साथ काम कर चुके हैं. नितिन राठी के ज्वाइन करने पर ग्रुप एमडी मनोज द्विवेदी, सीईओ आलोक अवस्थी, डायरेक्टर शरद केसरवानी ने उम्मीद जताई है कि वे दिए गए लक्ष्यों को सफलता पूर्वक प्राप्त कर सकेंगे.

इंडिया टुडे में हिंदी अखबारों की आपसी मार-प्रसार पर पठनीय रिपोर्ट

आमतौर पर मीडिया वाले मीडिया को बहस का बिंदु बनाने से बचते हैं. यदा कदा ही मीडिया के नए ट्रेंड्स पर मैग्जीनों में बात होती है. इंडिया टुडे हिंदी में इस बार मीडिया पर बात हुई है. विषय चुना गया है कि हिंदी अखबारों के आपसी प्रसार, अधिग्रहण के युद्ध का. नई दुनिया को दैनिक जागरण द्वारा खरीदे जाने और राजस्थान पत्रिका समूह का पत्रिका नाम से राजस्थान के बाहर पैर फैलाने का जिक्र करते हुए बताया गया है कि अब शीर्ष पर रहने के लिए लड़ाई काफी तेज हो गई है. इंडिया टुडे में प्रकाशित संतोष कुमार की रिपोर्ट में अखबार मालिकों से भी बातचीत है और उनके वक्तव्य आदि दिए गए हैं. इंडिया टुडे की रिपोर्ट को नीचे इस उद्देश्य से दिया जा रहा है कि मीडिया से जुड़े साथी अपना अपना तथ्यगत ज्ञान बढ़ा लें. रिपोर्ट को पढ़ते हुए एक चीज जरूर खटक रही है कि इसमें अमर उजाला, हिंदुस्तान, प्रभात खबर आदि का कोई जिक्र नहीं है.

पत्रकार को पीटने और थूक चटाने के मामले में छह पुलिसकर्मी निलंबित

शहडोल (म.प्र.) से सूचना आई है कि अनूपपुर जिले के कोतमा में पुलिस द्वारा एक हिंदी दैनिक के पत्रकार अरूण त्रिपाठी के साथ मारपीट किए जाने और थूक चटाने के मामले में आईजी अरूण प्रताप सिंह ने छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है. आईजी सिंह ने रविवार दोपहर हुई मारपीट का पता चलने के बाद शहडोल एएसपी रसना ठाकुर को प्रकरण की जांच के निर्देश दिए थे. एएसपी ठाकुर ने देर शाम आईजी को सौंपे प्रतिवेदन में मारपीट करने वाले छह पुलिसकर्मियों की शिनाख्त कर दी.

स्टडी टूर पर मुंबई आ पहुंचे पाकिस्तान के 14 पत्रकार

मुंबई। पाकिस्तान के 14 पत्रकारों का एक दल आज जब मुंबई के सहार स्थित छत्रपति शिवाजी अंतरराष्ट्रीय विमानतल पर उतरे तो यहां उनका तुतारी बजाकर परंपरागत मराठी अंदाज में स्वागत हुआ। यह दल एक सप्ताह की अध्ययन यात्रा भारत आया है। मुंबई प्रेसक्लब के निमंत्रण पर भारत आए इन 14 पत्रकारों में सभी प्रमुख पाकिस्तानी अखबारों के नधि शामिल हैं। यह मुंबई और पुणे में एक सप्ताह रहेंगे। आजाद भारत के इतिहास में भारत आनेवाला यह पाकिस्तानी पत्रकारों का यह पहला आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल हैं।

सेक्स रैकेट में पकड़े गए निजी चैनल के ब्यूरो प्रमुख की जमानत नामंजूर

बालाघाट (मप्र) : बालाघाट के विशेष न्यायाधीश पीसी शर्मा ने देह व्यापार और ब्लैकमेलिंग के संबंध में चंदोरी में पकडे़ गए सेक्स रैकेट के सदस्य एवं एक निजी चैनल के ब्यूरो प्रमुख की जमानत के आवेदन को खारिज कर दिया। सेक्स रैकेट के संबंध में पकड़े गए एक निजी चैनल के ब्यूरो प्रमुख शशांक माहुले द्वारा अपने अधिवक्ता के माध्यम से शर्मा की अदालत में कल जमानत के लिए दिए गए आवेदन में कहा गया था कि उसे इस मामले में जबरन फंसाया गया है तथा वह एक प्रतिष्ठित व्यक्ति है और उसका कोई आपराधिक रिकार्ड भी नहीं है।

एमपी में अफसर ने पत्रकार को पीटा और थूक चटाया!

पत्रकारों के प्रति पुलिस वालों के अमानवीय व्यवहार की कहानियां आए दिन सुनने को मिल जाती हैं. गोरखपुर में अमर उजाला के पत्रकार धर्मवीर को वहां के एसएसपी आशुतोष ने सरेराह बुरी तरह पीटा. सबने देखा. फोटो भी खिंची. लोगों में क्षणिक उबाल भी आया. लेकिन कुछ नहीं हुआ. अमर उजाला प्रबंधन चूड़ियां पहनकर बैठ गया. बाकी पत्रकार नौकरी करने में जुट गए. पीड़ित पत्रकार ने अपना मोबाइल स्विच आफ कर लिया. लखनऊ में प्रशासन व मीडिया दोनों हलकों में चुप्पी छाई रही. मामला ठंडा पड़ता दिख रहा है.

मेरी एसपी सिंह से मुलाकात संतोष भारतीय के माध्यम से हुई : कमर वहीद नकवी

: आजतक चैनल एस.पी.सिंह का ही चमत्कार था :  शुरुआत में सुरेन्द्र प्रताप सिंह से परिचय 'रविवार' पत्रिका के माध्यम से हुआ. उन दिनों मैं बनारस में था. बनारस के अखबारों में छपे विज्ञापनों से यह पता चला कि हिन्दी की एक नई पत्रिका 'रविवार' नाम से छपने वाली है. उस समय की बड़ी पत्रिका 'दिनमान' थी और प्रायः सभी बुद्धिजीवी और पत्रकार दिनमान को ही पढ़ते थे. रविवार के बारे में जानने के बाद मैंने यह देखने के लिए पहला अंक ख़रीदा कि देखें कौन सी और कैसी पत्रिका है. रविवार के पहले अंक में बतौर संपादक एम.जे.अकबर का नाम था. लेकिन उसके बाद के अंकों में सुरेन्द्र प्रताप सिंह का नाम आया और फिर वह पत्रिका अच्छी लगने लगी.

31 मई को आजतक से रिटायर हो जाएंगे न्यूज डायरेक्टर नकवी जी

न्यूज चैनलों के लिए 31 मई की तारीख ऐतिहासिक है. इस दिन स्टार न्यूज आखिरी बार दिखेगा, अगले दिन से यह एबीपी न्यूज हो जाएगा. और इसी 31 मई को कमर वहीद नकवी का आजतक न्यूज चैनल में आखिरी कार्यदिवस होगा. वे 31 मई को रिटायर हो जाएंगे. न्यूज डायरेक्टर के रूप में लंबे समय से कार्यरत कमर वहीद नकवी वो शख्स हैं जिन्होंने आजतक नाम को जन्म दिया. तब एसपी सिंह संपादक हुआ करते थे और नकवी उनके सहायक. नए न्यूज चैनल का नाम क्या हो, इस पर माथापच्ची चल रही थी. नकवी जी ने आजतक नाम सुझाया जिसे सभी ने कुबूल कर लिया.

बहुत बड़ा फ्राड है ब्रजेश निगम, ‘देश लाइव’ और ‘द न्यूज’ के नाम पर कइयों को ठगा

: पढ़िए एक पीड़ित का पत्र… : Dear yashwant ji, mera nam vijay sonwane hai or me indore ka rahne wala hu. mene febuary mahine me 8.2.2012 ko Desh Live news channel ko as a bureau chief joine kiya tha jiske liye mene channel ke Director (Managing Editor bhi) Brajesh nigam ko 2 lakh rupee check se diya or 50000 under table brajesh nigam ko diya tha. brajesh nigam apne ap ko channel ka director or malik dono batate hai. jis tarha se brajesh nigam ne mujhse 2 lakh check or 50000 hajar cash liya tha thik usi tarha unhone mp ke or logo se bureau banane ke nam par lakho rupee le liye hai.

नेशनल दुनिया में छपा- सांसद मूत मूल्य तय करने का सूत्र!

ये शुद्ध रूप से मानवीय गलती है. प्रूफ की गलती है. ऐसी गल्तियां अक्सर अखबारों में हो जाया करती. इसलिए यह कोई मुद्दा या खबर नहीं है. पर हां, इसमें से कुछ गल्तियां मनोरंजक हो जाती हैं जिसे पढ़ देखकर हंसा जा सकता है और हंसने से सेहत ठीक रहती है सो हंसने का मौका क्यों चूके.. देखिए, नेशनल दुनिया अखबार में प्रकाशित एक स्टोरी में हुई प्रूफ की गलती. इसे पढ़ने के बाद सांसद लोग अपने मूत्र को यूं ही जाया नहीं करेंगे बल्कि एक जगह इकट्ठा करने लगेंगे कि क्या पता, उसका भी मूल्य लग जाए…. 🙂

your reporting is based on some misinformation : jyoti pachnanda

Dear Sir, Your reporting is not correct and I completely and vehemently deny as reported by you. It appears that your reporting is based on some confusion/misinformation. We all are helping the Police to maintain the law and order in the society. No one can ever compell/induce me to deviate me from my lawful duties. The question of hiring me does not arise at all. Therefore, pl. verfy the correct position and inform accordingly.

एसपी का तबादला हुआ तो पत्रकार के घर पर विदाई समारोह आयोजित

उत्तर प्रदेश श्रमजीवी पत्रकार यूनियन की बलिया इकाई के अध्यक्ष अनूप कुमार हेमकर के बलिया जिले के बिल्थरा रोड के पैतृक निवास पर रविवार को पुलिस अधीक्षक लव कुमार को भावभीनी विदायी दी गयी। यूनियन से सम्बद्ध प्रेस क्लब बिल्थरा रोड के बैनर तले इस कार्यक्रम में सभी समाचार पत्रों के तहसील के प्रभारी संवाददाता भी उपस्थित हुए। सभी समाचार पत्र के पत्रकारों के उपस्थित होने पर पुलिस अधीक्षक लव कुमार भी आश्चर्यचकित रह गये तथा टिप्पणी किया कि काफी सुखद नजारा है।

कितनों का कैरियर तबाह करेगा दैनिक जागरण, मेरठ के हिटलर राजकुमार शर्मा का फ़रमान

पत्रकारिता जगत में अपनी ताकत का अहसास कराने के लिए कुछ लोग सारी सीमाओं को तोड़ देते हैं. दैनिक जागरण मेरठ में ऐसे ही एक सज्जन हैं श्री राजकुमार शर्मा. इन्होंने संस्थान द्वारा दिए गए अधिकारों के दुरूपयोग और अपनी तानाशाही कायम करने के नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं. बात बस इतनी होनी चाहिए कि उन्हें नागवार लग जाए, फिर तो बस एक ही फ़रमान ज़ारी होता है- "आपकी सेवाएं तत्काल प्रभाव से समाप्त की जाती हैं".

साधना न्यूज के तीनों चैनलों को वेबसाइट पर देख सकेंगे लाइव

साधना समूह के तीनों न्यूज चैनल साधना न्यूज बिहार झारखंड, साधना न्यूज एमपी सीजी और साधना न्यूज यूपी, यूके, एचपी को अब वेबसाइट पर भी लाइव देखा जा सकता है. तीनों चैनलों को इंटरनेट पर लाकर एक नया दर्शक वर्ग जोड़ने की कोशिश साधना प्रबंधन ने की है. इस बारे में एक आंतरिक मेल जारी करके साधना के सभी लोगों को सूचित किया गया है. इस मेल के मुताबिक- ''Sadhna News Channels Live on Website… Dear All, Now Our 3 News Channels Sadhna News Bihar/Jharkhand, Sadhna News MP/CG and Sadhna News UP/UK/HP  is available live on internet on following of our  websites- www.sadhnanewslive.com & www.sadhnanewstv.com …'''

नई दुनिया, रायपुर के जयप्रकाश पहुंचे सन्मार्ग, कोलकाता

दैनिक जागरण, कोलकाता से पत्रकारिता की शुरुआत करने वाले जयप्रकाश ने नईदुनिया, रायपुर को गुडबाय बोलकर सन्मार्ग, कोलकाता के साथ नई पारी की शुरुआत की है. वे यहाँ नेशनल डेस्क की जिम्मेदारी संभालेंगे. जयप्रकाश दैनिक हिन्दुस्तान, कोलकाता में भी रहे. नईदुनिया, रायपुर में नईदुनिया स्टेट ब्यूरो में वे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी संभाल रहे थे. जागरण द्वारा नईदुनिया को ख़रीदे जाने के बाद जेपी का तबादला बस्तर हुआ था लेकिन बस्तर जाने के बजाय वे कोलकाता लौट गए. जेपी कोलकाता जागरण ज्वाइन कर घर वापसी करना चाहते थे. जागरण की बात पक्की हो गयी थी लेकिन नईदुनिया से इस्तीफा नहीं देने के कारण जागरण में वापसी नहीं हो पाई.

भास्कर, रायपुर के आरई बिनवाल का इंदौर ट्रांसफर, ताराचंद गुप्ता ने जागरण ज्वाइन किया

दैनिक भास्‍कर रायपुर के स्‍थानीय संपादक मनोज बिनवाल का तबादला इंदौर के लिए कर दिया गया है। उन्‍हें यहां डीबी स्‍टार का संपादक बनाया गया है। वर्तमान डीबीस्‍टार प्रभारी और समाचार संपादक मुकेश माथुर को राजस्‍थान भेजने की तैयारी कर ली गई है।  बिनवाल ने इंदौर ज्‍वाइन में कर लिया है। रायपुर से पहले वे सूरत में दिव्‍यभास्‍कर और भोपाल में दैनिक भास्‍कर के संपादक रह चुके हैं। यह तबादला नए समीकरण बनाएगा, ऐसी उम्‍मीद है। खबर है कि नेशनल एडिटर कल्‍पेश याग्निक इंदौर के वर्तमान संपादक से खुश नहीं  हैं।

टीवी9, मुंबई के दो रिपोर्टरों ने जौनपुर के बालक विकास को मुंबई में खोई उसकी मां से मिलाया

ग्यारह साल का विकास आखिरकार अपनी मां के पास सही सलामत पहुंच गया.. जौनपुर से विकास अपनी मां की तलाश में अकेले ही मुंबई के कुर्ला टर्मिनस पहुंच गया था.. लेकिन मुंबई की भीड़ को देखकर घबरा गया और मां का अता पता ना होने की वजह से कुर्ला स्टेशन के बाहर खड़ा होकर रो रहा था.. तभी इस पर एक समाज सेवी सुरेश मंडल की नज़र गई और विकास को लेकर वो जुहू अपने घर पहुंचे और विकास को अपने पास रखा.. सुरेश ने विकास की मां को बहुत खोजा लेकिन जब मां का पता नहीं चला तो टीवी9 से संपर्क किया…

बनारस के वयोवृद्ध पत्रकार आनंद चंदोला का अंतिम संस्कार मंगलवार को दिल्ली में

वाराणसी। वयोवृद्ध पत्रकार व अपने जमाने के धाकड़ खिलाड़ी आनंद चंदोला का सोमवार को नयी दिल्ली के मूलचंद अस्पताल में निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार मंगलवार को पूर्वाह्न 11 बजे दिल्ली के ही लोधी कालोनी स्थित विद्युत शवदाह गृह में होगा। 76 वर्षीय चंदोला गत 14 मई को दिल्ली में रह रहे अपने छोटे बेटे प्रशांत के घर गये थे। 18 मई की रात घर में आईपीएल का मैच देखते वक्त पैर फिसलने से उनकी कूल्हे की हड्डी टूट गयी थी। रविवार को उन्हें मूलचंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां सोमवार के दिन में कूल्हे का आपरेशन हुआ था। लेकिन बेहोशी की हालत में ही पहले उनका ब्लडप्रेशर गिरा और अपराह्न लगभग 4.30 बजे हृदयाघात के बाद उनकी सांस टूट गयी।

रवीश को गांव से फोन आया- बबुआ प्राइमवा टइमवा से हटा देलन स का तोहरा के

Ravish Kumar : गांव से फोन आया था। बबुआ प्राइमवा टइमवा से हटा देलन स का तोहरा के। न त । त तू आवत नइखे आजतक। गांवों में पिछले एकाध साल में डिश के पहुंचने से नया संकट पैदा हो गया है। मेरी इस बात पर आदरणीय ने कहा कि न रभीस के रिपोर्टवा न बंद क देलल सन। त हमनी के सोचनी सन कि इहो गइल। चल जाइ त का हो जाइ। तू काहे दिमाग खराब कइले बाड़। एक दिन प्राइम टाइम में अपने गांव का नाम ले लिया तो लोग खुश हो गए। एक फोन और आया। देख न हो कौनो तहार गेटवा ढाह देले बा। लीजिए और कीजिए गांव गांव, कांव कांव। धांय धांय तो नहीं कर सकते न। ज़ब्त करो सलीम। ज़ब्त करो। (भोजपुरी पढ़ने में दिक्कत हो तो कोशिश मत कीजिएगा। इस बात को हिन्दी में नहीं लिखा जा सकता था। फ्लेवर चला जाता)

दैनिक लोकदशा, जयपुर से सहायक संपादक संतोष निर्मल व फीचर संपादक सुरजीत सिंह का इस्तीफा

दैनिक लोकदशा, जयपुर के सहायक संपादक संतोष कुमार निर्मल ने अखबार से त्यागपत्र दे दिया है. उन्होंने जयपुर से ही प्रकाशित एजुकेशन ग्रुप के अखबार दैनिक राज वैभव को बतौर संपादक ज्वॉइन किया है. वे नई पारी से काफी खुश बताए जाते हैं. इसी तरह दैनिक लोकदशा के फीचर संपादक सुरजीत सिंह ने भी रिजाइन कर दिया है. उनके दिल्ली में एक एड एजेंसी में ज्वॉइन करने की सूचना है. दोनों की अखबार को स्थापित करने में महत्वपूर्ण भूमिका बताई जाती है.

छात्र संगठनों के गुंडों ने टाइम्स आफ इंडिया के रिपोर्टर के कपड़े फाड़ डाले

हरियाणा में रविवार को हई घटना में एक पत्रकार गुंडागर्दी का शिकार हुआ. सोनीपत की महिला यूनिवर्सिटी में एक छात्रा के साथ गैंगरेप का मामला सुर्खियों में है. इस मामले के बहाने कई राजनीतिक दल और इन राजनीतिक दलों के डमी छात्र संगठन अपनी राजनीति चमकाने में लगे हैं.बस इसी बात पर टाइम्स आफ इंडिया के रोहतक संवाददाता दीपेंद्र देशवाल की नजर पड़ गई. रविवार को यूनिवर्सिटी में आंदोलन के दौरान जमा राजनीतिक दलों के प्रेमियों से ये सवाल पूछने पर राजनीतिक दलों के बिगड़ैल गुर्गों ने दीपेंद्र के कपड़े फाड़ डाले और उस पर हमला बोला. यहां तक की कुछ महिला कार्यकर्ताओं के कंधे पर बंदूक रखते हुए मीडिया विरोधी नारे लगाए.

नई दुनिया, रायपुर के स्थानीय संपादक पद से रवि भोई का इस्तीफा

खबर है कि नई दुनिया, रायपुर के स्थानीय संपादक रवि भोई ने इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपना इस्तीफा प्रबंधन को 18 मई को भेज दिया. 1984 में देशबंधु रायपुर से पत्रकारिता की शुरुआत करने वाले रवि भोई शुरुआत में बिजनेस रिपोर्टर रहे. बाद में 1989 से 1984 तक देशबंधु भोपाल में राजनीतिक एवं प्रशासनिक रिपोर्टर व मुख्य संवाददाता के रूप में दायित्व संभाला. 1995 से 96 तक राष्ट्रीय हिंदी मेल भोपाल में विशेष संवाददाता रहे. सितंबर 1996 में दैनिक भास्कर भोपाल में प्रशासनिक और राजनीतिक रिपोर्टर के रूप में जुड़े.

प्रवीण कुमार खारीवाल इंदौर प्रेस क्लब के निर्विरोध अध्यक्ष निर्वाचित

इंदौर प्रेस क्लब के 50 साल के इतिहास में प्रवीण कुमार खारीवाल पहली बार निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए हैं। वे पीपुल्स समाचार के स्थानीय संपादक भी हैं। मुख्य निर्वाचन अधिकारी पीके शुक्ला ने बताया कि इंदौर प्रेस क्लब के त्रैवार्षिक चुनाव 27 मई को होंगे। गुरुवार को उम्मीदवारों की अंतिम सूची की घोषणा कर दी गई। अध्यक्ष पद के एकमात्र प्रत्याशी होने से श्री खारीवाल अध्यक्ष घोषित किए गए हैं।

4रीयल न्यूज का प्रसारण भारत सहित 18 देशों में होगा : यश मेहता

न्यूज चैनल '4रीयल न्यूज' की लांचिंग की तैयारियां जोरशोर के साथ चल रही हैं. इस चैनल के सीईओ यश मेहता हैं. यह चैनल 28 अप्रैल से टेस्ट सिग्नल पर चल रहा है. खबरों की दुनिया में 4 रीयल न्यूज विधिवत तरीके से जल्द ही दस्तक देने जा रहा है. सीईओ यश मेहता भड़ास4मीडिया से बातचीत में कहते हैं कि ये 4 रीयल न्यूज नई सोच के साथ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की दुनिया में कदम रख रहा है.

कार्तिक कुमार चटर्जी की अन्तिम यात्रा में उमड़ा जन सैलाब, पुत्र समीर चटर्जी ने मुखाग्नि दी

गाजीपुर। गाजीपुर पत्रकार एसोसिशन के संरक्षक व उत्तर प्रदेश पत्रकार मान्यता समिति के पूर्व सदस्य और उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोसिएशन (उपजा) के पूर्व संस्थापक कार्तिक कुमार चटर्जी ‘दादा’ की शवयात्रा में पत्रकारों साहित जनपद के गणमान्य लोग शामिल रहे। यह शवयात्रा उनके निवास स्थान नवापुरा मुहल्ले से चल कर नवापुरा गंगाघाट पर पहुंची जहा पर बंगाली रीति रिवाज के साथ शव का अन्तिम संस्कार किया गया। इसमें उनके इकलौते पुत्र समीर चटर्जी ने मुखाग्नि देकर अपने कर्तव्यों का पालन किया। ज्ञातव्य हो कि दादा की हृदय गति अचानक रुक जाने से दिल्ली में कल निधन हो गया था।

वरिष्ठ ब्लागर, आयुर्वेद के डाक्टर और समाजसेवी डा. रुपेश श्रीवास्तव का मुंबई में हार्ट अटैक से निधन

भड़ास ब्लाग के शुरुआती सक्रिय सदस्यों में से एक डा. रुपेश श्रीवास्तव का मुंबई में निधन हो जाने की सूचना मिली है. उनका निधन 9 मई को मुंबई के पनवेल स्थित एक स्थानीय अस्पताल में हुआ. बताया जाता है कि डा. रुपेश श्रीवास्तव को हार्ट अटैक आया. 8 मई को हार्ट अटैक के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया. अगले दिन उनका निधन हो गया. ब्लागिंग से लेकर समाजसेवा तक में सक्रिय रहे रुपेश श्रीवास्तव की उम्र करीब 40 साल के आसपास थी. वे आयुषवेद समेत कई ब्लाग संचालित करते थे.

बनारस की पत्रकारिता के युग पुरूष आनन्द चन्दोला उर्फ “चाचा चन्दोला” नहीं रहे

बनारस की पत्रकारिता के युग पुरूष आनन्द चन्दोला उर्फ “चाचा चन्दोला” के गुजर जाने की मर्मातंक पीड़ा पहुंचाने वाली यह खबर आज शाम को मिली। पता लगा की चचा बड़े बेटे के पास दिल्ली गये हुए थे। उन्हें हड्डी रोग की शिकायत हुई। अस्पताल में भर्ती हुए। हफ्ते भर से उनका इलाज चल रहा था। अन्ततः नहीं बचे। हम पत्रकारों के बीच चिर युवा समझा जाने वाला शख्स इतना जल्दी साथ छोड़ जायेगा, यकीन नहीं होता। पत्रकारिता में हम लोगों ने जब से होश संभाला, चचा वट वृक्ष की तरह साथ खड़े थे।

अमर उजाला के रिपोर्टर के मुंह में एसएसपी आशुतोष ने डंडा डाल दिया था, तस्वीर स्वतंत्र भारत में छपी

गोरखपुर अमर उजाला के पत्रकार धर्मवीर सिंह के साथ बड़े कप्तान की बदसलूकी और मारपीट की घटना और गोरखपुर के बड़े अखबारों में खबर न छपना कितना दुर्भाग्यपूर्ण है. यहाँ तक कि अमर उजाला ने खुद ही खबर नहीं छापी. क्या किसी अखबार का संपादक यदि लातियाया गया होता तो ऐसे ही खबर व घटना को मैनेज करने का खेल होता? गोरखपुर में आज अखबार, स्वतन्त्र चेतना, स्वतंत्र भारत और जन सन्देश ने धर्मबीर के साथ हुयी घटना को अपने अखबार में जगह देकर पत्रकारिता की मशाल को जलाये रखा.

अमरउजाला वालों, डर कर जीना, वरना पीटे गए तो राजुल माहेश्वरी पूछेंगे तक नहीं, छापना लड़ना दूर की बात है…

प्रिय यशवंत भाई, नमस्कार, आपने अमर उजाला के पत्रकार भाई धर्मवीर सिंह के मामले को जिस हिसाब से उठाया है, निःसंदेह बधाई के पात्र हैं. अमर उजाला के स्थानीय संपादक मृत्युंजय ने गोरखपुर के पत्रकारिता के अधाय्य में एक स्याह पन्ना जोड़वा दिया है. जाहिर है, उन्होंने यह काम अपने मन से नहीं बल्कि अपने मालिक राजुल माहेश्वरी के इशारे पर किया है. अमर उजाला के पत्रकार धर्मवीर की लड़ाई में भड़ास4मीडिया के योगदान की सराहना पूर्वांचल का हर कलमकार कर रहा है. लोग अमर उजाला के स्थानीय संपादक को भला बुरा कहने में परहेज नहीं कर रहे हैं.

मैं परेशान परेशान परेशान परेशान…. हीरोइन बहुत परेशान है बेचारी (सुनें तीन गाने)

फिल्मेरिया का पुराना रोगी हूँ. लगभग सभी हिन्दी फ़िल्में देखता हूँ. ताज़ा फिल्म 'इशकज़ादे' में प्रेम को नये ही रूप में दिखाया गया है. एकदम हिंसक और उत्तेजना वाला रूप. नयी पीढ़ी के निर्देशक को शायद यही पसंद हो, पर मैं यहाँ इस फिल्म के एक गाने के बारे में बात कर रहा हूँ. बरसों बाद किसी फिल्म का कोई रोमांटिक गाना पसंद आया. इस फिल्म की हीरोइन बहुत परेशान है बेचारी. परेशानी में भी खुश होती है और गाना गाती है. बरसों बाद कोई इतना रोमांटिक गाना आया है. जिसकी हीरोइन का दिल फूलों से झड़ता है और काँटों में मन लगता है. गलियाँ  गश खाकर मुड जाती हैं, मीलों के मारे चौबारे पता पूछते हैं, हीरोइन (बेचारी) बे बात खुद पे मरती है और बेबाक आहें भरने लगती हैं. उसका दिल फितरत से बदलता है और किस्मत बदलने लगता है. बेचारी बहुत परेशान है..

बिकाऊ पेपर और बिकाऊ खबरें उर्फ हिंदुस्तान और हिंदुस्तान टाइम्स!

: कांग्रेसी सांसद शोभना भरतिया के अखबारों 'हिंदुस्तान टाइम्स' और 'हिंदुस्तान' के फर्जी सर्वे में राहुल गांधी की जय-जय पर सोशल मीडिया में हंगामा, कोसे जा रहे हैं ये दोनों अखबार : फेसबुक पर एक लहर सी आई हुई है. हिंदुस्तान टाइम्स और हिंदुस्तान अखबार में आज जो एक सर्वे छपा हुआ है उसे फर्जी करार देते हुए फेसबुक पर कहा जा रहा है कि हिंदुस्तान टाइम्स और हिंदुस्तान अखबार कांग्रेस से पैसे खाकर और ओबलाइज होकर यह सर्वे प्रकाशित करता है क्योंकि कांग्रेस के साथ इन अखबारों के मालकिन का हित जुड़ा हुआ है. नीचे वो वक्तव्य है जिसे फेसबुक पर करीब दौ सौ से ज्यादा जगहों पर शेयर किया गया है. इसमें हिंदुस्तान अखबार की एक तस्वीर भी दी गई है जिसमें उसे बिकाऊ अखबार और बिकाउ खबरों वाला अखबार बताया गया है. नीचे है वो पोस्ट व तस्वीर जिस पर लोग खूब कमेंट कर रहे हैं और इसे जमकर शेयर कर रहे हैं….

लखनऊ में श्रीएस7 न्यूज चैनल की रीलांचिंग की असली खबर : कई पत्रकार पिटे-गिरे-लड़े-डरे-भागे

: जमकर पीटे गए दर्जन भर मीडियाकर्मी : लखनऊ में एक रीजनल न्‍यूज चैनल के री-लांचिंग मौके पर जमकर हंगामा हुआ. बड़े नेताओं-मंत्रियों के बीच वहां मौजूद कुछ पत्रकारों को इतना पीटा गया कि वे अधमरा हो गये. किसी का सिर तोड़ा गया तो किसी की टांग टूट गयी. घायल साथियों को बचाने आये पत्रकारों को भी होटल के सुरक्षाकर्मियों ने नहीं बख्‍शा. हादसे के बावजूद पुलिस मौके पर नहीं पहुंची. बाद में थाने पर पहुंचे घायलों की तहरीर पुलिस ने दर्ज जरूर कर लिया. उधर इस स्‍तब्‍ध करने वाली घटना पर लखनऊ के धाकड़ समझे जाने वाले पत्रकार और उनकी एसोसियेशनें भी दमसाधे चुप बैठी हैं.

गाजीपुर के वरिष्ठ पत्रकार कार्तिक कुमार चटर्जी ‘दादा’ का दिल्ली में हार्ट अटैक से निधन

पूर्वी यूपी के गाजीपुर जिले के वरिष्ठतम पत्रकार, गाजीपुर पत्रकार एसोसिएशन के संरक्षक, उत्तर प्रदेश मान्यता प्राप्त पत्रकार समिति के पूर्व सदस्य और उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट एसोसिएशन (उपजा) के संस्थापक रहे कार्तिक कुमार चटर्जी दादा का आज दिल्ली में निधन हो गया. वे दिल्ली में अपने पुत्र और पत्रकार समीर चटर्जी की बिटिया के बर्थडे में शामिल होने के लिए सपत्नीक आए हुए थे. पत्रकार समीर चटर्जी आईबीएन7 न्यूज चैनल में कार्यरत हैं. समीर की पुत्री के बर्थडे में दादा, दादी, नाना, नानी सभी आए हुए थे. कार्तिक कुमार चटर्जी दादा सुगर के पेशेंट थे. उनकी रुटीन में इलाज व टेस्ट अपोलो में होता रहा है. उन्हें जब कल प्राब्लम हुई तो उनके पुत्र समीर ने अपोलो के एक्सपर्ट डाक्टर को फोन किया, जो बनारस गए हुए थे.

TV Today Q4 net down 23% at Rs 7.3 cr

TV Today Network Ltd today posted 22.84% decline in net profit at Rs 7.33 crore for the fourth quarter ended March 31, 2012. The company's net profit for the January-March period of 2011 stood at Rs 9.50 crore. TV Today Network's total expenditure increased to Rs 78.32 crore during the fourth quarter of 2011-12, as against Rs 73.52 crore, the company said in a filing to the BSE.

राज्यसभा टेलीविजन पर दुष्यंत कुमार

नई दिल्ली । राज्यसभा टेलीविजन का लोकप्रिय शो -उनकी नज़र, उनका शहर- इस बार हिन्दी ग़ज़ल के राजकुमार दुष्यंत कुमार पर केन्द्रित है | दुष्यंत के ग़ज़ल संग्रह – साए में धूप ने अस्सी के दशक में करोड़ों लोगों को उनका दीवाना बना दिया था | दुष्यंत उत्तर प्रदेश में जन्मे ,लेकिन बाद में भोपाल आकर बस गए | सारी उमर उन्होंने भोपाल में ही काटी | भारतीय हिंदी टेलीविजन में पहली बार दुष्यंत कुमार पर इतना शोधपरक और दिलचस्प कार्यक्रम तैयार हुआ है | एक घंटे के इस टीवी शो के निदेशक और एंकर जाने माने टीवी पत्रकार राजेश बादल हैं | वे राज्यसभा टेलीविजन चैनल के कार्यकारी निर्देशक भी हैं |

यह वही एबीपी ग्रुप है जिसने मजीठिया वेज बोर्ड का सुप्रीम कोर्ट में विरोध किया

: Comment on Star news Ab ABP Ban Gaya, is prachar me 40 crore kharcha ho gaye : Dear Sir, ABP- Anand Bazar Patrika ne newspaper employees ke wage revision ke liye bana Majithia Wage Board ka Supreme Court me virodh kiya hai. Isse newspaper ke hajoro employees prabhavit huye hai. Last 13 salose newspaper employees ka wage revision ruk gaya hai. TImes of India bhi Majithia Wage Board ka virodhi  hai, parntu TOI Nagpur city me apne employees ko salary ka payment above Wage Bord De raha hai, 50thousandm pm  se 1 lakh pm tak salary de raha hai. Aur SC me majithia wage board ko virodh kar raha hai. Isse Baki ke newspaper employers bhi wage board ka implementation nahi kar rahe hai.

यूपी पुलिस का एक और कारनामा- युवक के शव को इंस्पेक्टर ने जूते से धकेला

यूपी पुलिस का एक वो चेहरा सामने आया है जिसे पढ़कर और देखकर आपकी आत्मा कांप जाएगी. यूपी पुलिस के एक इंसपेक्टर ने वो किया है जो सभ्य समाज का कोई भी इंसान कभी नहीं करेगा. यूपी पुलिस की यह तस्वीर आपको तकलीफ देगी लेकिन आपके लिए इस हकीकत से रूबरू होना जरूरी है. यूपी के अमरोहा में दिनदहाड़े 24 साल के युवक दीपक की गोली मार कर हत्या कर दी गई.

जय गुरुदेव सतयुग तो नहीं ला पाए, खुद के लिए अरबों की संपत्ति बना गए

Anand Pradhan : मथुरा के एक चर्चित बाबा जय गुरुदेव कल गुजर गए…ये वही जय गुरुदेव हैं जिन्होंने ८० के दशक में दूरदर्शी पार्टी बनाई थी और लोगों को ‘सतयुग’ लाने का सपना दिखाते थे…१९८० के आसपास गाजीपुर में उनके नारे गांव-गांव और कस्बों दिखते थे और टाट पहने उनके भक्त भी…वे सत्ता में पहुँचने का सपना देखने लगे थे…१९८० से १९९७ तक उन्होंने चुनावों में अपने सैकड़ों प्रत्याशी उतारे…वे कहा करते थे कि जो अपने भक्तों को टाट पहना सकता है, वह उनसे कुछ भी करा सकता है…लेकिन सतयुग तो नहीं आया, अलबत्ता जय गुरुदेव ने अपने लिए ‘सतयुग’ का इंतजाम कर लिए…सुबूत है उनका आश्रम और अरबों की संपत्ति… बाबा रामदेव से कम भक्त नहीं थे उनके…फिर किस मुगालते में रहते हैं बाबा रामदेव?

‘न्यूज एक्सप्रेस’ के स्टिंग आपरेशन ‘असत्यमेव जयते’ का असर, छापे के बाद अल्ट्रासाउंड सेंटर सील

कन्या भ्रूण हत्या का काला सच स्टिंग के जरिए दिखाने वाले न्यूज एक्सप्रेस चैनल का ऑपरेशन "असत्यमेव जयते" का असर सरकारी मशीनरी पर होने लगा है। दिल दहला देने वाले खुलासे के बाद उत्तर प्रदेश सरकार की नींद टूटी है। सूबे के स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन ने इस ऑपरेशन को देखने के बाद मातहतों को तुरंत सख्त कदम उठाने का निर्देश 18 मई 2012 को दे दिया। ऑपरेशन असत्यमेव जयते के खुलासे से जब स्वास्थ्य मंत्री हिले, तो कुंभकर्णी नींद से अधीनस्थों का जागना मजबूरी थी।

अमर उजाला प्रबंधन ने बनियागिरी दिखाई, रिपोर्टर पर हमले की खबर नहीं छपी

अमर उजाला में काम करने वाले पत्रकारों-मीडियाकर्मियों के लिए आज का दिन काला दिन की तरह है. एक अमरउजालाकर्मी को एक आईपीएस अधिकारी सड़क पर गिराकर पीटता है और इसकी एक लाइन खबर किसी एडिशन में प्रकाशित नहीं होती है. किसी आम आदमी को भी अगर कोई आईपीएस इस तरह सड़क पर गिराकर पीटता है तो खबर बनती है और छपती है लेकिन अमर उजाला जैसे जनपक्षधर माने जाने वाले अखबार ने अपने ही कर्मी की बुरी तरह पिटाई की खबर नहीं छापी. बताया जाता है कि गोरखपुर के एसएसपी आशुतोष कल शाम अमर उजाला गोरखपुर के आफिस पहुंचे. उन्हें कई दलाल पत्रकार अपने साथ समझौता कराने के लिए ले गए.

पत्रकार पिटाई प्रकरण : लखनऊ के पत्रकारों, मुलायम-अखिलेश-शिवपाल को जगाओ

गोरखपुर में जो कांड हुआ है वह सपा के शासनकाल में काले धब्बे की तरह है. एक आईपीएस, जो एसएसपी के पद पर तैनात है, आपा खो बैठता है, सिर्फ इस बात पर कि इस पत्रकार की बाइक सड़क पर क्यों खड़ी है. बस, पत्रकार को बुलाया और पीटना शुरू कर दिया. आईपीएस आशुतोष ने पत्रकार को पीटते हुए पूछा कि बाइक पर प्रेस क्यों लिखा रखा है, तो पीड़ित ने बताया कि वह अमर उजाला में रिपोर्टर के पद पर काम करता है, यह सुनकर आईपीएस का दिमाग और ज्यादा खराब हो गया और लाठी निकालकर गिरा गिरा कर पीटना शुरू कर दिया.

उप श्रमायुक्त बरेली ने नोटिस जारी कर अखबारों के प्रतिनिधियों को दस्तावेज के साथ बुलाया

उप श्रमायुक्त बरेली परिक्षेत्र सुश्री कल्पना श्रीवास्तव ने अमर उजाला, दैनिक जागरण, दैनिक हिंदुस्तान सहित समस्त अखबारों को एक नोटिस जारी किया है. इस नोटिस में उन्होंने अखबारों के प्रबंधकों और रुहेलखंड मीडिया वर्कर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेंद्र शर्मा को फिर से दस्तावेजों और प्रमाणों के साथ बुलाया है. इन लोगों को उप श्रमायुक्त ने 14 मई को बुलाया था पर अखबारों की तरफ से कोई भी दस्तावेज लेकर नहीं आया. इसके बाद ही दुबारा नोटिस जारी किया गया है. मुद्दा है असम, त्रिपुरा, बिहार की तरह यूपी में भी मजीठिया वेज बोर्ड स्वीकार करने की मांग. आसाम, त्रिपुरा और बिहार राज्यों में मजीठिया वेज वोर्ड स्वीकार कर लिया गया है. पर यूपी में नहीं.

विज्ञप्ति देने गए नेता ने मिठाई मांगने पर जागरण के ब्यूरो चीफ को गरियाया

सहारनपुर के दैनिक जागरण दफ्तर में शनिवर को जो कुछ हुआ वह पत्रकारों को शर्मसार करने के लिए काफी है.  विधानसभा चुनाव लड़ चुके अतुल फंदपुरी जागरण ऑफिस पहुंचे. वहां उन्होंने एक विज्ञप्ति दी. बताया जाता है कि इसे छपने के एवज में इंचार्ज अवनींद्र कमल ने उनसे मिठाई मांगी तो अतुल नाराज हो गये. हालांकि कुछ लोगों का कहना है कि अवनींद्र ने मजाक में मिठाई खिलाने की बात कही थी पर अतुल के नाराज होने से अवनींद्र कमल भी भड़क गए और अतुल को आफिस से निकल जाने को कह दिया.

पैसे की जगह स्ट्रिंगरों को धमकी भरा पत्र भेज रहे हैं महुआ वाले

एक चैनल है महुआ. इन्हीं का महुआ न्यूज लाइन नाम से यूपी में न्यूज चैनल चलता है. बिहार में भी महुआ न्यूज है. इस चैनल के स्ट्रिंगरों को कई महीने से सेलरी के नाम पर फूटी कौड़ी नहीं मिली है पर नोएडा से धमकी भरा पत्र इन स्ट्रिंगरों को जरूर मिल जा रहा है. ताजा पत्र महुआ के किन्हीं अनुराग त्रिपाठी ने भेजा है और स्ट्रिंगरों से कहा है कि राणा यशवं, भूपेंद्र भुप्पी और उन्हें खबरों की मेल भेजा करें, बड़ी खबरें ब्रेक किया करें, दिन भर जुटे रहें…

अखिलेश जी, पत्रकार को पीटने वाले गोरखपुर के एसएसपी आशुतोष को निलंबित करिए

गोरखपुर में जो शर्मनाक वाकया हुआ है उससे उत्तर प्रदेश के पत्रकारों में काफी रोष है. हर कोई स्तब्ध है कि आखिर कैसे एक आईपीएस अफसर अमर उजाला जैसे अखबार के पत्रकार को सरेआम बुरी तरह पीट सकता है. वह भी सिर्फ इसलिए कि उस पत्रकार की गाड़ी सड़क पर खड़ी थी. एसएसपी गाड़ी का चालान कटवा सकते थे, मुकदमा दर्ज करा सकते थे. लेकिन वे कानून को हाथ में लेकर पत्रकार को पीटने लगे और यह सुनकर कि मार खा रहा शख्स पत्रकार है, उन्होंने लाठियों से जोर जोर से पिटाई शुरू कर दी.

आगरा के पुष्प सवेरा अखबार के बिल्डर मालिक की बिल्डिंग सील

आगरा में अभी हाल में ही प्रारंभ किये गए पुष्पांजलि समूह के अख़बार पुष्प सवेरा की एक बिल्डिंग जो कि आगरा के दयालबाग में स्तिथ है, पर आगरा विकास प्राधिकरण ने सील लगा दी है. इससे बिल्डर को तगड़ा झटका लगा है. बताया गया है कि यह कार्रवाई अख़बार निकालने के चलते की गयी है. अखबार निकाले अभी केवल 16 दिन ही प्रारंभ हुए हैं. बताया जाता है कि बिल्डर अख़बार निकाल कर प्रसाशन पर दबाव बना रहा था. सो, प्रशासन के लोगों ने बिल्डर को तगड़ा झटका दे दिया है.

अरुण पुरी और कुमार मंगलम बिड़ला के बीच 350 करोड़ रुपये की डील हुई!

: कानाफूसी : लीविंग मीडिया इंडिया लिमिटेड के मालिक अरुण पुरी ने अपनी कंपनी का लगभग एक चौथाई हिस्सा कुमार मंगलम बिड़ला के हाथों सौंप दिया. इसके बदले में अरुण पुरी को करीब साढ़े तीन सौ करोड़ रुपये बिड़ला ने दिए हैं. यह दावा बिजनेस स्टैंडर्ड अखबार का है. डील कितने में हुई है, इस बारे में दोनों अरुण पुरी और कुमार मंगलम बिड़ला चुप हैं. पर मीडिया विश्लेषक अपने अपने हिसाब से अनुमान लगा रहे हैं. इंडिया टुडे ग्रुप के सीईओ आशीष बग्गा ने भी अपने आंतरिक मेल में रकम के बारे में कोई जानकारी नहीं दी है.

स्टार न्यूज अब एबीपी न्यूज बन गया, इस प्रचार में चालीस करोड़ से ज्यादा खर्च!

स्टार ग्रुप और आनंद बाजार पत्रिका समूह के बीच अलगाव होने के बाद एबीपी समूह अब स्टार न्यूज को एबीपी न्यूज कर रहा है. इस बात का प्रचार करने के लिए करीब चालीस करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं. यह जानकारी एक भरोसेमंद सूत्र ने दी. सोचिए, चालासी करोड़ रुपये सिर्फ इस बात के लिए खर्च किए जा रहे हैं कि ''स्टार न्यूज अब एबीपी न्यूज बन गया'' और ''नाम बदलने से कुछ नहीं बदलता''. स्टार न्यूज के कुछ एंकरों और पत्रकारों की ग्रुप फोटो की होर्डिंग्स लगाई जा रही हैं. इन चेहरों के नीचे लिखा गया है कि नाम बदलने से कुछ नहीं बदलता.

इंडिया टुडे ग्रुप के सीईओ आशीष बग्गा ने मेल कर आदित्य बिड़ला ग्रुप के निवेश की जानकारी दी

इंडिया टुडे ग्रुप के सीईओ आशीष बग्गा ने एक आंतरिक मेल जारी कर आदित्य बिड़ला ग्रुप के साथ कंपनी के टाइअप के बारे में जानकारी दी है. उन्होंने यह मेल 18 मई को रात नौ बजकर दस मिनट पर सभी को भेजा. मेल में बताया गया है कि इंडिया टुडे ग्रपु में आदित्य बिड़ला ग्रुप द्वारा 27.5 फीसदी निवेश किया जा रहा है. पूरा पत्र इस तरह है…

आशा खोसा साधना न्‍यूज में एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर बनीं, महेंद्र का तबादला

फोकस टीवी से खबर है कि आशा खोसा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे फोकस टीवी के साथ बतौर नेशनल ब्‍यूरोचीफ जुड़ी हुई थीं. आशा खोसा अपनी नई पारी साधना न्‍यूज ग्रुप के साथ शुरू करने जा रही हैं. उन्‍हें साधना ग्रुप के जल्‍द लांच होने जा रहे जम्‍मू कश्‍मीर चैनल का एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर बनाया गया है. वरिष्‍ठ पत्रकार आशा खोसा इसके पहले टाइम्‍स ऑफ इंडिया, इंडियन एक्‍सप्रेस एवं बिजनेस स्‍टैंडर्ड समेत कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुकी हैं. आशा खोसा न्‍यूज एजेंसी आईएएनएस के राजनीतिक संपादक रहे स्‍व. जार्ज जोसेफ की पत्‍नी हैं. जार्ज का कुछ महीने पहले ही निधन हो गया था.

अगवा पत्रकार की हत्‍या, सड़क किनारे मिला शव

मेक्सिको सिटी। मेक्सिको में एक दिन पहले अगवा किए गए एक पत्रकार का शव उत्तरी सोनोरा प्रांत में सड़क किनारे पड़ा मिला है। अधिकारियों के मुताबिक मार्को एंटोनियो अविला गार्सिया का शव कल सिउदाद ओबरेगन शहर से 110 किलोमीटर साउथ में स्थित एमपाम शहर के पास एक काले रंग के प्लास्टिक बैग में मिला। उसका उसी शहर से अपहरण कर लिया गया था। पुलिस को एक गिरोह के साइन वाला संदेश भी मिला है। संदेश का अभी खुलासा नहीं किया गया है।

ममता को आया गुस्सा, न्यूज़ शो छोड़ कर बाहर निकलीं

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शुक्रवार को एक न्यूज चैनल के कार्यक्रम में आपा खो बैठीं। ममता दर्शकों में मौजूद छात्रों को माओवादी व सीपीएम कार्यकर्ता बताकर कार्यक्रम बीच में ही छोड़ कर चली गई। यह कार्यक्रम पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस के शासन के एक वर्ष पूरा होने पर आयोजित किया गया था। दरअसल दर्शकों ने ममता से जादवपुर यूनिसर्सिटी के प्रोफेसर अंबिकेश महापात्र की गिरफ्तारी तथा राज्य में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों पर सवाल पूछा था। ममता ने प्रोफेसर पर सीपीएम का सदस्य होने का आरोप लगाते हुए कहा, यह कार्टून नहीं है। हम कार्टून को प्यार करते हैं लेकिन कार्टून अलग चीज है। वे सीपीएम के सदस्य हैं। उन्होंने वह कार्टून 60 लोगों को ई-मेल किया।

बिड़ला समूह लिविंग मीडिया में हिस्सा खरीदेगा

मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी के बाद अब कुमार मंगलम बिड़ला ने भी मीडिया कारोबार में दस्तक दे दी है। उनके आदित्य बिड़ला समूह ने इंडिया टुडे मैगजीन निकालने वाली कंपनी लिविंग मीडिया में 27.5 फीसदी हिस्सा खरीदेगी। बिड़ला समूह लिविंग मीडिया में यह हिस्सा अपनी प्राइवेट इन्वेस्टमेंट कंपनी के जरिए खरीदेगा। हालांकि अभी तक ये पता नहीं चल पाया है कि ये सौदा कितने रुपये में हुआ है, वहीं सूत्रों के मुताबिक आदित्य बिड़ला समूह लिविंग मीडिया में इस हिस्से के लिए 600-800 करोड़ रुपये का निवेश कर रहा है।

HT Media Q4 net down 58% at Rs 22 cr on expenses

New Delhi: HT Media Ltd today reported 57.78 percent decline in consolidated net profit for the fourth quarter ended 31 March 2012 at Rs 22.62 crore, mainly on account of higher overall expenses. The company had posted net profit of Rs 53.58 crore in the same period previous fiscal. Total income from operations during the fourth quarter stood at Rs 494.1 crore as against Rs 467.27 crore in the corresponding period previous fiscal, HT Media Ltd said in a BSE filing.

गोरखपुर में अमर उजाला के रिपोर्टर को एसएसपी ने सरेराह पीटा, पत्रकारों में रोष

गोरखपुर में माहौल सरगर्म है. पत्रकार अब एसएसपी के खिलाफ ही एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी कर रहे हैं. मनबढ़ एसएसपी ने अमर उजाला के रिपोर्टर को सरेआम थप्‍पड़ मारा और पता चलने पर कि ये पत्रकार हैं, उसने अपनी कार से डंडा निकाला और जमकर पीटा. पत्रकार ने मेडिकल करा लिया है. प्रेस क्‍लब में आगे की रणनीति को लेकर मंथन चल रहा है. एसएसपी के इस तानाशाही व्‍यवहार से पत्रकारों में जबर्दस्‍त गुस्‍सा है.

जागरण, गोरखपुर से सीजीएम चंद्रकांत त्रिपाठी का इस्‍तीफा

दैनिक जागरण, गोरखपुर से खबर है कि सीजीएम चंद्रकांत त्रिपाठी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे गोरखपुर में अगली व्‍यवस्‍था होने तक अपनी जिम्‍मेदारी संभालते रहेंगे. अपने बत्‍तीस साल के करियर में चंद्रकांत त्रिपाठी लगभग ढाई दशक से भी ज्‍यादा समय से दैनिक जागरण से जुड़े हुए हैं. उन्‍होंने बाइस सालों तक बरेली में दैनिक जागरण को अपनी सेवाएं दीं. लम्‍बे समय तक इस यूनिट के सीजीएम रहे. लगभग एक साल पहले सीकेटी का तबादला प्रबंधन ने गोरखपुर के लिए कर दिया था. इसके बाद से ही सीकेटी प्रबंधन से बहुत खुश नहीं चल रहे थे. उन्‍होंने कानपुर पहुंच कर अपना इस्‍तीफा दे दिया.

ग़ज़ल यानी दूसरों की ज़मीन पर अपनी खेती

हमारे एक दोस्त का कहना है कि ग़ज़ल दूसरों की ज़मीन पर अपनी खेती है। बतौर शायर आप भले ही दावा करें कि आपने नई ज़मीन ईजाद की है मगर सच यही है कि आप दूसरों की ज़मीन पर ही शायरी की फ़सल उगाते हैं। कोई ऐसा क़ाफ़िया, रदीफ़ या बहर बाक़ी नहीं है जिसका इस्तेमाल शायरी में न हुआ हो। कोई-कोई ज़मीन तो ऐसी है जिसका बहुत ज़्यादा इस्तेमाल हो चुका है और लगातार होता रहेगा। मसलन शायद ही कोई ऐसा शायर हो जिसने मोमिन साहब की इस ज़मीन पर ग़ज़ल की फ़सल न उगाई हो-

लखनऊ से रीलांच हुआ श्रीएस7 न्‍यूज चैनल

रीयल एस्‍टेट कंपनी श्री इंफ्राटेक के मीडिया वेंचर का चैनल श्रीएस7 न्‍यूज की रीलांचिंग शुक्रवार को लखनऊ के होटल ताज वेदांता में हुई. चैनल की रीलांचिंग मुख्‍य अतिथि एवं विधानसभा अध्‍यक्ष माता प्रसाद पांडेय ने किया. जल्‍द ही इस चैनल का नाम बदल कर श्री न्‍यूज कर दिया जाएगा. इस दौरान समूह के अखबार श्री टाइम्‍स के नए लोगो की भी लांचिंग की गई. चार घंटे तक आयोजित रंगारंग कार्यक्रम ने सभी लोगों का मन मोह लिया.

हिंदुस्‍तान, देहरादून के नए यूनिट हेड होंगे अविनाश झा, स्‍नेहाशीष बरेली जाएंगे

हिंदुस्‍तान, देहरादून से खबर है कि अविनाश झा को यहां का नया यूनिट हेड बनाया जा रहा है. वे अगले महीने से अपना कार्यभार ग्रहण कर लेंगे. अविनाश फिलहाल अहमदाबाद में दैनिक भास्‍कर समूह से जुड़े हुए थे. अविनाश ने झारखंड में दैनिक भास्‍कर को स्‍टेट हेड के रूप में ज्‍वाइन किया था. झारखंड में अखबार की लांचिंग के बाद उनका तबादला अमदाबाद गुजरात के लिए कर दिया गया था.

भास्‍कर, लोहरदग्‍गा के ब्‍यूरोचीफ संजय ने पूरी टीम के साथ इस्‍तीफा दिया

दैनिक भास्‍कर, लोहरदग्‍गा से खबर है कि रिपोर्टरों को सेलरी ना मिलने से नाराज ब्‍यूरोचीफ संजय कुमार ने पूरी टीम के साथ इस्‍तीफा दे दिया है. संजय अखबार के लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है कि प्रबंधन ने पहले सभी पत्रकारों को एक निर्धारित राशि देने का वादा किया, परन्‍तु अपने वादे पर खरा नहीं उतरा. पिछले पांच छह महीनों से पत्रकारों को सेलरी नहीं दी जा रही थी. साथ ही ब्‍यूराचीफ की सेलरी भी घटा दी गई थी.

जागरण में बंपर छंटनी (1) : तबादले के सहारे पत्रकारों को बाहर का रास्‍ता दिखाएगा जागरण

: मेरठ यूनिट में तबादलों की सुगबुगाहट शुरू : दैनिक जागरण समूह में दस फीसदी छंटनी की खबर से पूरे ग्रुप के पत्रकारों में हड़कम्‍प मचा हुआ है. हालांकि प्रबंधन सीधी छंटनी नहीं कर रहा है. बल्कि तबादला करके इस तरह का माहौल पैदा किया जा रहा है कि वे खुद ही इस्‍तीफा देकर संस्‍थान का काम हल्‍का कर दें. बनारस यूनिट में कुछ इसी तरह का शस्‍त्र इस्‍तेमाल किया गया और कई लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया. अब खबर है कि इसी तबादले की जद में अब मेरठ यूनिट भी आने वाला है.

जागरण, मुरादाबाद से अनुपम मार्कंडेय का इस्‍तीफा, प्रदीप शुक्‍ला बने प्रभारी

दैनिक जागरण, मुरादाबाद से खबर है कि संपादकीय प्रभारी अनुपम मार्कंडेय ने प्रबंधन को अपना इस्‍तीफा सौंप दिया है. वे कहां जा रहे हैं इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. अनुपम के जाने के बाद प्रबंधन ने वरिष्‍ठ पत्रकार प्रदीप शुक्‍ला को मुरादाबाद का नया संपादकीय प्रभारी बना दिया है. प्रदीप लम्‍बे समय से जागरण …

सिद्धार्थ माल्‍या ने दी पत्रकार को गालियां

नई दिल्ली। आईपीएल लगातार विवादों में घिरता जा रहा है। पहले स्‍पॉट फिक्सिंग के आरोप, फिर शाहरुख खान विवाद और अब पत्रकार को गाली। अपनी टीम के खिलाड़ी के छेड़छाड़ और मारपीट जैसे संगीन मामले में फंसने से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के मालिक सिद्धार्थ माल्या बौखला गए हैं। पहले उन्‍होंने पीडि़ता के चरित्र पर उंगली उठाई तथा कहा कि वो उनके भी पीछे पड़ी थी और जब पत्रकारों ने इस मुद्दे पर उनसे सफाई मांगी तो उन्होंने मीडिया को गाली दिया फिर कार में बैठने के बाद भद्दे इशारे किए।

हिंदुस्‍तान : अंजीव का तबादला, दीपक बने इलाहाबाद यूनिट के हेड

हिंदुस्‍तान, इलाहाबाद से खबर है कि यूनिट हेड अंजीव श्रीवास्‍तव का तबादला चंडीगढ़ कर दिया गया है. उन्‍हें प्रमोट करके नार्थ रीजन का मीडिया मार्केटिंग हेड बना दिया गया है. वे चंडीगढ़ में बैठेंगे तथा पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश एवं जम्‍मू एवं कश्‍मीर की जिम्‍मेदारी देखेंगे. अंजीव की जगह दीपक माहेश्‍वरी को इलाहाबाद यूनिट …

IGNOU-DW ‘Train the Trainer’ Programme

: Admission Notification : Application is invited for Train the Trainers Programme to be conducted by Indira Gandhi National Open University (IGNOU) in collaboration with DW-AKADEMIE of Germany. The programme is scheduled to be conducted from 6th -14th of August 2012 at IGNOU campus, Maidan Garhi, New Delhi. The fees the programme is Rs. 7,500/- and Rs. 10,000/-(residential)

माखनलाल पत्रकारिता विश्वविद्यालय में शैक्षणिक सत्र 2012-13 के लिए प्रवेश प्रारम्भ

: प्रिंटिंग एवं पैकेजिंग, मीडिया शोध, वेब टेक्नालोजी तथा विकास प्रबंधन में नए पाठ्यक्रम :  माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल में शैक्षणिक सत्र 2012&2013 में संचालित होने वाले विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश प्रक्रिया प्रारम्भ हो गई है. विश्वविद्यालय द्वारा मीडिया मैनेजमेंट, विज्ञापन एवं विपणन संचार, मनोरंजन संचार, कॉर्पोरेट संचार, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी संचार तथा विकास प्रबंधन में एम.बी.ए. पाठ्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं.

हिंदी दैनिक डीएनए को यूपी के हर जिले में मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव चाहिए

लखनऊ और इलाहाबाद से प्रकाशित हिंदी दैनिक डेली न्यूज एक्टिविस्ट (डीएनए) को यूपी के प्रत्येक जिले में मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव की जरूरत है. इस बाबत अखबार ने एक विज्ञापन प्रकाशित किया है. विज्ञापन में मार्केटिंग एक्जीक्यूटिव के लिए योग्यता, आवेदन भेजने का पता व मेल आईडी के बारे में विस्तार से बताया गया है. पूरी विज्ञापन इस प्रकार है…

कन्या भ्रूण हत्या पर न्यूज़ एक्सप्रेस का स्टिंग ऑपरेशन- ‘असत्यमेव जयते’

न्यूज़ एक्सप्रेस ने एनसीआर में चल रहे कन्या भ्रूण हत्या के घिनौने खेल का पर्दाफाश किया है। चैनल के स्टिंग ऑपरेशन असत्ममेव जयते में कोख के बेरहम कातिलों के असली चेहरे बेनकाब हुए हैं। करीब एक महीने की मशक्कत के बाद न्यूज-एक्सप्रेस की टीम ने राजधानी दिल्ली में मौजूद इन कोख के कातिलों का पता लगाया। दलालों के ज़रिए न्यूज़ एक्सप्रेस के क्राइम एडिटर संजीव चौहान उन डॉक्टरों तक पहुंचे जो मरीज़ों की सेवा के नाम पर कोख में ही बच्चियों को मारने का धंधा चला रहे हैं।

क्लैट इंट्रेंस में गड़बड़ी के खिलाफ संडे को दिल्ली में हल्ला बोल

देश भर के 14 लॉ विश्वविद्यालयों में ऐडमिशन के लिए आयोजित कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (क्लैट) में सिलेबस से बाहर के सवाल पूछे जाने को लेकर छात्रों ने रविवार को इंडिया गेट पर हल्ला बोलने का फैसला किया है। मजे की बात ये है कि ये सारे छात्र फेसबुक के जरिए इकट्ठा हुए हैं। फेसबुक पर इन छात्रों ने प्रोटेस्ट अगेन्स्ट क्लैट नाम की प्रोफाइल बनाई है। इस पर 2200 से ज्यादा छात्रों ने अपना नाम दर्ज करवा लिया है। देश के अलग अलग जगहों से चलकर ये सभी छात्र दिल्ली पहुंच रहे हैं और रविवार को इंडिया गेट पर इकट्ठा होंगे।

भड़ास चौथे बर्थडे आयोजन की तस्वीरें (5) : सौवीर, अनूप, अनिल, आशुतोष, दीपक, कृष्ण, संजय को भी भड़ास सम्मान

अनूप भटनागर नई दुनिया, दिल्ली में थे. जब उन्हें सबसे ज्यादा जरूरत तनख्वाह व संस्थान की थी तो उन्हें बेरोजगार कर दिया गया. यह कार्य किया आलोक मेहता ने. इससे भी पेट नहीं भरा तो आलोक मेहता ने एक मीटिंग में कहा कि किसी की किडनी खराब हो तो वह बैठाकर सेलरी नहीं दे सकते. उनका इशारा अनूप भटनागर की तरफ था. यह बात जब अनूप भटनागर तक पहुंची तो उन्होंने सच सच सब कुछ बता देने का ऐलान किया. उन्होंने भड़ास को एक इंटरव्यू देकर आलोक मेहता और आज की पत्रकारिता के सच को उजागर कर दिया. सच कहने के इस साहस को भड़ास ने सम्मानित किया. अनूप ने मंच पर आकर अपने साथ हुए पूरे वाकये का विस्तार से वर्णन किया.

भड़ास चौथे बर्थडे आयोजन की तस्वीरें (4) : चाय बेचने वाले लक्ष्मण राव को भड़ास अदभुत आदमी सम्मान

सम्मान क्या होता है? मेरी नजर में इससे ज्यादा कुछ नहीं होता कि आप किसी के अच्छे काम को रिकागनाइज करें और उस काम के बारे में कई लोगों के बीच तारीफ करें और इसके लिए हौसलाअफजाई करें. पर इस देश में सम्मान और एवार्ड अच्छे खासे धंधे का रूप ले चुका है. ढेर सारे संगठन और कंपनियां इस सम्मान और एवार्ड के खेल से करोड़ों अरबों की लाइजनिंग कर पाने में सफल होती हैं. इस धंधेबाजी के उलट भड़ास ने बिना किसी स्वार्थ सम्मान का एक ऐसा दौर शुरू किया है जिसमें वाकई उन लोगों को सम्मान दिया जाना शुरू हुआ है जो हमारी आपकी सबकी नजरों में अपने किसी अच्छे काम के कारण सम्मान के काबिल हैं. ये रीयल लाइफ के हीरोज हैं.

भड़ास चौथे बर्थडे आयोजन की तस्वीरें (3) : प्रो. निशीथ राय को भड़ास जुझारू मीडिया मालिक सम्मान

प्रो. निशीथ राय का नाम हिंदी मीडिया में तब चर्चा में आया जब मायावती के जमाने में यूपी सरकार ने उनके अखबार, उनके लोगों और खुद उनका उत्पीड़न करना शुरू कर दिया. डेली न्यूज एक्टिविस्ट उर्फ डीएनए के नाम से प्रो. निशीथ राय के निर्देशन में लखनऊ और इलाहाबाद से यह दैनिक अखबार निकलता है. मायावती के राज में इस अखबार का डिक्लयेरशन तक नहीं होने दिया गया, नतीजा डीएवीपी नहीं हो पाया. प्रो. निशीथ राय का अखबार माया के जंगलराज की सच्चाई का लगातार खुलासा करता रहा और बदले में माया का क्रूर तंत्र उन्हें प्रताड़ित करने में जुटा रहा. उनके घर का सारा सामान सड़क पर फेंक दिया गया और उनके परिवार को बेघर कर दिया प्रशासन ने.

भड़ास चौथे बर्थडे आयोजन की तस्वीरें (2) : उमेश कुमार को भड़ास सतत संघर्ष सम्मान

नए लांच होने जा रहे समाचार प्लस न्यूज चैनल के मालिकों में से एक उमेश कुमार को भड़ास सतत संघर्ष सम्मान दिया गया. उनकी तरफ से चैनल के मैनेजिंग एडिटर अमिताभ अग्निहोत्री ने यह पुरस्कार ग्रहण किया. पुरस्कार वरिष्ठ पत्रकार संतोष भारतीय के हाथों उन्हें दिया गया. उमेश कुमार के पीछे उत्तराखंड की तत्कालीन निशंक सरकार इसलिए हाथ धोकर पीछे पड़ी थी क्योंकि उन्हें सरकार के कई करप्ट कारनामों का खुलासा कर दिया था. सरकारी तंत्र के दबाव के बावजूद उमेश झुके नहीं. पूरा परिवार उनका प्रताड़ित किया जाता रहा पर उमेश ने अपना संघर्ष जारी रखा. उमेश के इस पूरे संघर्ष का गवाह भड़ास भी रहा. उनके इस अदम्य जज्बे और सत्ता तंत्र के आगे न झुकने के साहस के कारण उन्हें यह सम्मान दिया गया. ये हैं कुछ तस्वीरें….

भड़ास चौथे बर्थडे आयोजन की तस्वीरें (1) : जहां मंच पर कोई नहीं था, पूरा हाल मंच था

करीब ढाई सौ लोग आयोजन में पहुंचे. बैठने की व्यवस्था एक सौ तीस लोगों की थी. लोग आते और जाते रहे. प्रोग्राम खत्म होने के बाद भी लोग आते रहे. विष्णु नागर, बीरेंद्र सेंगर, आलोक समेत कई वरिष्ठ कनिष्ठ साथी प्रोग्राम खत्म होते होते पहुंचे थे. बेहद अनप्लांड किस्म का आयोजन था. पहले से कुछ भी तय नहीं, सिवाय मोटामोटी जुबानी यह तय करने के कि ये ये होना है और इन इन लोगों को इसमें शामिल करना है. व्याख्यान भी हुआ. सम्मान भी हुआ. और सूफी संगीत भी. सबने अपने अपने तरीके से इस आयोजन को लिया. कई साथियों को कमियां दिखीं, तो ज्यादातर ने कमियों के बावजूद आयोजन के तेवर व कंटेंट को सराहा.

भड़ास4मीडिया के चौथे बर्थडे आयोजन पर उत्कर्ष सिन्हा की रिपोर्ट

ये अपना यशवंत भाई भी गज़ब का मौलिक है. कल शाम मैं दिल्ली में था, bhadas4media के चौथे जन्मदिन पर यशवंत ने एक कार्यक्रम रखा था. मैं और चितरंजन सिंह जब वहाँ पहुचे तो प्रभात खबर वाले हरिवंश जी का व्याख्यान चल रहा था. गज़ब का रेफेरेंस सेक्शन हैं भाई उनका. आज के दौर के एक संपादक को कीन्स और दूसरे फिलोसफेर्स के कोट के साथ सुनना अदभुत अनुभव था.

साक्षी समूह के सरकारी विज्ञापनों पर लगाए गए रोक को कोर्ट ने हटाया

आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट ने आंध्रप्रदेश सरकार के उस फैसले को खारिज कर दिया जिसमें उसने वाईएसआर कांग्रेस अध्यक्ष एवं कडप्‍पा सांसद जगनमोहन रेड्डी के समाचार पत्र एवं चैनलों को सरकारी विज्ञापन देने पर रोक लगा दिया था. साक्षी समूह की याचिका पर जस्टिस बी सेशासयना रेड्डी और जस्टिस के जी शंकर की बेंच ने यह फैसला सुनाया है. जगन साक्षी समाचार पत्र व चैनल के मालिक हैं. 

दैनिक जागरण, जमशेदपुर से दो का तबादला, कई की जिम्‍मेदारी बदली

दैनिक जागरण, जमशेदपुर से दो लोगों को तबादला कर दिया गया है जबकि कई लोगों को जिम्‍मेदारियों में भी फेरबदल किया गया है। कोलकाता डेस्‍क का काम पटना किये जाने के बाद यहां अंचल डेस्‍क का काम देख रहे अभय कुमार और ओडिशा डेस्‍क देख रहे प्रमोद कुमार का तबादला पटना और सिलीगुडी कर दिया गया है। जबकि रिपोर्टिंग से भादो माझी और क्राइम रिपोर्टर अन्‍वेष अंबष्‍ट को हटाकर उन्‍हें डेस्‍क पर लाया गया है।

हिंदी-राजस्‍थानी गीतकार गजानन वर्मा का निधन

झुंझुनु। राजस्थानी भाषा के सुप्रसिद्ध गीतकार, संगीतकार गजानन वर्मा का गुरुवार सुबह दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार शक्रवार को उनके पैतृक गांव रतनगढ़ में किया गया। 23 मई 1926 को रतनगढ़ में जन्में गजानन वर्मा 86 वर्ष के थे। गजानन पिछले 2-3 वर्षों से कैसंर से पीडि़त होने के बावजूद अपने जन्म स्थान रतनगढ़ में रहते हुए साहित्य की सेवा करते रहे। गजानन वर्मा राजस्थानी लोक शैली के प्रख्‍यात कवि-गीतकार थे जिनके लिखे गीत उनके जीवन काल में ही लोकगीत हो गए। बहुमुखी प्रतिभा के धनी गजानन वर्मा मंचीय कविता पाठ द्वारा राजस्थान व प्रवासी राजस्थानियों के चहेते गीतकार हो गए। आज भी राजस्थान के लोकगीतों के रूप में उनके लिखे गीत बाजरे की रोटी पोई, फुलियै री मां, भंवर म्‍हारौ सोने रो गलपटियौ, चिमक च्यानणी रातां में, फागण आयो रे हठीला, आभै चमके बीजली, आओ जी परदेशी म्‍हारा, पिया थे परदेस बसौ तो जन-मानस में रचे बसे है।

32 साल बाद मिली धमकी – जिंदगी प्यारी है या कौल सिंह ठाकुर?

 

सक्रिय पत्रकारिता में लगभग तीन दशक से ज्यादा समय हो गया। बहुत कुछ लिखा पर कभी जान से मारने की धमकी नहीं मिली। कस्बाई पत्रकारों को जब कोई धमकी देता, अखबारों में खबर छपती तो जीवन बेकार सा लगने लगता। सोचता, टनों के हिसाब से लिखने के बाद भी कोई जान से मारने की धमकी क्यों नहीं आती? पूर्व संचार मंत्री पंडित सुखराम के खिलाफ 1982 में अखबार में भविष्यवाणी की थी- ‘‘तुम्हारी तहजीब अपनी खंजर से आप ही खुदकशी करेगी।’’ अखबार में चार किश्तों में छपी खबर का यह सब हैडिंग था। यानी अप्रैल 1982 में पंडित सुखराम को चेतावनी दे दी थी। जेल उनको बेशक कई सालों बाद जाना पड़ा। उन दिनों हिमाचल प्रदेश के मण्डी नगर के सारे गुंडे और जेबकतरे पंडित जी के साथ थे। पंडित जी प्रदेश सरकार में तत्कालीन मुख्यमंत्री रामलाल ठाकुर के बाद शक्तिशाली मंत्री (नम्बर दो) थे। सब जानते हुए भी चार किस्तों में पंडित सुखराम के ‘भ्रष्टाचार’का खुलासा किया, पर मौत की धमकी उस समय भी नहीं मिली। बुधवार, 16 मई की रात 8 बजकर 47 मिनट पर आखिरकार हसरत पूरी हो गई। जान से मारने की धमकी मोबाइल पर सुनी तो जीवन सार्थक लगने लगा। आखिर किसी ने तो कद्र जानी।

न्‍यूज चैनल, अज्ञानता और आस्‍था का कारोबार

 

दो साल पहले मेरे ऑफिस के एक चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी ने कहा कि एक दिन की छुट्टी चाहिए। मैंने कारण पूछा तो उसने बताया कि बेटी की तबियत खराब है और उसे दिखाने ले जाना है। मैंने उत्सुकतावश जानना चाहा- किस डॉक्टर से दिखा रहे हो तब उसने बताया कि डॉक्टर से नहीं एक ओझा से दिखा रहे हैं। मैंने चौंक कर पूछा- ओझा से क्यों? उसका विश्वास से भरा जबाब था, “सर ये डॉक्टर का मामला नहीं है हमारे पड़ोसी ही ने‘कुछ’करवा दिया है”। लगभग ठीक इसी समय में हमारे एक अधिकारी मित्र ने मुझसे न्यूज़ चैनलों पर चलने वाले एक बाबा का पता पूछा क्योंकि वह अपने लड़के की एक गंभीर बीमारी के बारे में उस बाबा से सलाह लेना चाहते थे और उनका मानना था कि आधुनिक चिकित्सा की अपनी सीमाएं हैं जबकि “पहुंचे हुए”बाबाओं का ज्ञान सीमा से परे होता है।

अमर उजाला से नीरज वशिष्‍ठ एवं मैजिक टीवी से राकेश रंजन का इस्‍तीफा

 

अमर उजाला, दिल्‍ली से नीरज वशिष्‍ठ ने इस्‍तीफा दे दिया है. नीरज दिल्‍ली ब्‍यूरो डेस्‍क पर अपनी जिम्‍मेदारी निभा रहे थे. नीरज अब अपनी पारी अहमदाबाद में किसी संस्‍थान से करने जा रहे हैं. वे अमर उजाला में आने से पहले जागरण से जुड़े हुए थे. इन्‍होंने अपने करियर की शुरुआत एक लाइफस्‍टाइल मैगजीन से की थी. फिलहाल वे नोटिस पीरियड पर चल रहे हैं.

नईदुनिया, ग्‍वालियर में डैमेज कंट्रोल रोकने के लिए भेजे गए ऋषि पांडे

 

नईदुनिया, ग्वालियर से स्थानीय संपादक डॉक्टर राकेश पाठक के इस्‍तीफा देने के बाद तात्‍कालिक तौर पर ग्वालियर की जिम्‍मेदारी ऋषि पांडे को सौंपी गई है।  ऋषि पांडे इससे पहले जागरण के नेशनल एडीशन के भोपाल ब्‍Žयूरो के चीफ थे। जागरण के हाथों नईदुनिया के बिकने के बाद समूह संपादक श्रवण गर्ग ने पहला काम भोपाल ब्‍Žयूरो को बंद करने और फिर ऋषि पांडे को इंदौर तबादला करने का किया। ऋषि पांडे पिछले डेढ़ माह से इंदौर में नईदुनिया को सेवाएं दे रहे थे। गुरुवार की शाम अचानक नईदुनिया, ग्वालियर से संपादक डॉक्टर राकेश पाठक को नए प्रबंधन ने नमस्कार कर दिया। डॉक्टर राकेश पाठक की विदाई की पटकथा लिखने के लिए बुधवार की शाम को ही श्री टंडन और मनीष शर्मा ग्वालियर पहुंच चुके थे।