टीवी टुडे समूह अपने चैनलों में करेगा बंपर छंटनी!

: कानाफूसी : टेलीविजन न्‍यूज इंडस्‍ट्री के सबसे बड़े खिलाडि़यों में से एक टीवी टुडे समूह को लेकर चल रही चर्चाओं से काम करने मीडियाकर्मियों के होश उड़े हुए हैं. टीवी टुडे समूह से खबर आ रही है कि इस समूह अपने खर्च में कटौती करने की तैयारी कर रहा है. इसके लिए बड़ी छंटनी की लिस्‍ट तैयार की जा रही है. समूह के चारों चैनल आजतक, हेडलाइंस टुडे, तेज और दिल्‍ली आजतक से एक मुश्‍त ढाई से तीन सौ लोगों को बाहर करने की तैयारी चल रही है. इसमें एडिटोरियल समेत सभी विभागों के लोग शामिल होंगे.

अरुणोदय की किताब ‘आंदोलन : संभावनाएं और सवाल’ का लोकार्पण 2 मई को

अरुणोदय प्रकाश द्वारा संपादित किताब 'आंदोलन : संभावनाएं और सवाल' का लोकार्पण 2 मई को होगा. इंडिया टुडे समूह के हॉर्परकॉलिंस ने इस किताब का प्रकाशन किया है. इंडिया इंटरनेशनल सेंटर के हॉल नम्‍बर दो और तीन में शाम सात बजे से आयोजित कार्यक्रम में कांग्रेसी नेता मणिशंकर अय्यर, भाजपा नेता बीसी खंडूडी, टीम अन्‍ना …

टीवी टुडे समूह में ऑपरेशन हेड बने राहुल कुलश्रेष्‍ठ

टीवी टुडे के पुराने साथी राहुल कुलश्रेष्‍ठ एक बार फिर वापस लौट आए हैं. राहुल को ग्रुप का ऑपरेशन हेड बनाया गया है. वे एक मई को अपना कार्यभार ग्रहण करेंगे. राहुल टीवी टुडे ग्रुप के सीईओ जॉय चक्रवर्ती को रिपोर्ट करेंगे. राहुल टीवी टुडे समूह के लांचिंग टीम के सदस्‍यों में शामिल रहे हैं. …

दैनिक प्रभात, मेरठ के सिटी इंचार्ज बने संतराम पांडे

: अम्‍बरीश को हटाया गया : दैनिक प्रभात, मेरठ से सिटी इंचार्ज अम्बरीश पाठक को इस जिम्‍मेदारी से हटा दिया गया है. अम्‍बरीश को मार्केटिंग विभाग में भेज दिया गया है. उनकी जगह संत राम पांडे को सिटी इंचार्ज बनाया गया है. अम्‍बरीश को तीन महीने पहले ही सिटी इंचार्ज बनाया गया था. तब से …

न्‍यूज एक्‍सप्रेस ने दिखाया शिक्षा माफिया का भयावह चेहरा, छह सलाखों के पीछे

देश के सर्वश्रेष्ठ 10 हिंदी चैनलों में से एक न्यूज़ एक्सप्रेस टीवी चैनल ने 29 अप्रैल को देश की सबसे प्रतिष्ठित इंजीनियंरिंग प्रवेश परीक्षा AIEEE में धांधली का खुलासा किया… टीवी चैनल के स्टिंग ऑपरेशन में खुलासा हुआ कि कैसे संगठित गिरोह लाखों रुपये वसूलकर होनहार छात्रों का हक मारते हैं और फर्जी स्टूडेंट बैठा कर ऐसे लोगों को दाखिला दिला देते हैं जो इसके हकदार नहीं। न्‍यूज एक्‍सप्रेस की पहल पर यूपी एसटीएफ ने आगरा में छापा मारा और दूसरों की जगह परीक्षा दे रहे चार फर्जी छात्रों को गिरफ्तार किया। इन फर्जी छात्रों से ये गलत काम करानेवाले दो मास्टर माइंड भी गिरफ्तार किए गए।

प्रभात खबर से यूनिट हेड शंभुनाथ पाठक का इस्‍तीफा, जागरण ज्‍वाइन करेंगे

प्रभात खबर, मुजफ्फरपुर से खबर है कि शंभुनाथ पाठक ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर यूनिट हेड थे. खबर है कि वे अपनी नई पारी मुजफ्फरपुर में ही दैनिक जागरण से शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें मुजफ्फरपुर में संजय सिंह की जगह लाया जा रहा है, जिन्‍होंने हाल ही में दैनिक जागरण …

मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव से हेमंत तिवारी ने मांगा पत्रकारों के लिए सस्‍ता भूखंड

यूपी मान्‍यता प्राप्‍त संवाददाता समिति के पूर्व पदाधिकारी हेमंत तिवारी ने मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव को पत्र भेजकर पत्रकारों की कई समस्‍याओं के निदान की मांग की है. कभी बसपा नेताओं के नजदीकी रहे हेमंत तिवारी ने अपने पत्र में लिखा है कि मान्‍यता प्राप्‍त पत्रकारों की संख्‍या बढ़ने से उनके समक्ष आवास की दिक्‍कतें उपस्थित हो गई हैं, लिहाजा उनके सस्‍ते दर पर भूखंड उपलब्‍ध कराया जाए. उन्‍होंने बसपा शासन में पंचम तल पर आने जाने में लगाए गए प्रतिबंध को भी हटाने की मांग की है. चिकित्‍सा सुविधा का दायरा भी बढ़ाने की मांग की है. नीचे हेमंत द्वारा लिखा गया पत्र. 

रिलायंस लांच करेगा ‘थ्रिल’, स्‍टार लाएगा ‘मूवीज ओके’

लग्जमबर्ग स्थित आरटीएल ग्रुप एसए के साथ संयुक्त उद्यम सौदे पर हस्ताक्षर करने वाली अनिल अंबानी समूह की कंपनी रिलायंस ब्रॉडकास्टिंग नेटवर्क (आरबीएन) इसी तिमाही में अपना पहला मनोरंजन चैनल थ्रिल पेश करने की तैयारी कर रही है। आरटीएल यूरोप की सबसे बड़ी मीडिया फर्म बर्टेल्समैन एजी की इकाई है और इसकी कुल बाजार पूंजी 15.5 अरब डॉलर (69,900 करोड़ रुपये) है। कंपनी यूरो के 10 देशों में 40 से अधिक टेलीविजन चैनलों और 33 रेडियो स्टेशनों का संचालन कर रही है।

इस सीएम को देखकर लगा कोई वीआईपी नहीं, आम आदमी चढ़ रहा है

बड़ी चुनौतियों का अगर बड़ा हल या बड़ा सपना या बड़ा रिस्पांस होगा, तो सभ्यता-संस्कृति शिखर पर पहुंच जायेगी. पर जो सभ्यताएं अपने अंदर की चुनौतियों का जवाब, अंदर से तलाश नहीं पातीं या उत्पन्न मुसीबतों-कठिनाइयों का सार्थक और जरूरी हल नहीं ढ़ूंढ़ पातीं, वे पीछे छूट जाती हैं. खत्म हो जाती हैं. इस कसौटी पर अगर आप-हम देखें, तो भारत के सामने आज बड़ी चुनौतियां हैं. बड़े सवाल हैं. संकट बड़ा है. भीतरी और बाहरी, दोनों मोरचों पर.

भास्‍कर, सत्‍येंद्र, आनंद, निशाद एवं तरुण की नई पारी

लाइव इंडिया से खबर है कि भास्‍कर प्रतीक ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एसोसिएट प्रोड्यूसर थे. भास्‍कर ने अपनी नई पारी श्रीएस7 न्‍यूज चैनल के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां पर प्रोड्यूसर बनाया गया है. उन्‍हें आउटपुट में लाया गया है. वे इसके पहले भी कई संस्‍थानों को अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

इंडिया टीवी से इस्‍तीफा देकर निशांत न्‍यूज24 पहुंचे

इंडिया टीवी से खबर है कि निशांत चतुर्वेदी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एंकर कम रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे. निशांत ने अपनी नई पारी न्‍यूज24 से की है. उन्‍हें यहां भी एंकर कम रिपोर्टर पद पर लाया गया है. निशांत ने करियर की शुरुआत सन 2000 में जी न्‍यूज से …

राजस्‍थान पत्रिका ने राजकुमार को जयपुर से इंदौर भेजा

राजस्‍थान पत्रिका, जयपुर से खबर है कि समूह के अखबार डेली न्‍यूज में कार्यरत राजकुमार शर्मा का तबादला इंदौर के लिए कर दिया गया है. राजकुमार रिपोर्टर थे तथा क्राइम बीट एवं सचिवालय के रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. इंदौर में भी उन्‍हें रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. राजकुमार लम्‍बे समय से पत्रिका …

वीओएन के मालिक मनीष गुप्‍ता के खिलाफ मुकदमा, चैनल बंद होने की चर्चाएं

हर रोज कुकुरमुत्‍तों की तरह उगते और बंद होते चैनलों के बीच देहरादून से संचालित वीओएन के भविष्‍य पर भी सवालिया निशान खड़ा हो गया है। इस चैनल के मालिक और नारायण स्‍वामी हास्‍पीटल एवं डेंटल कॉलेज के निदेशक मनीष वर्मा के खिलाफ लगभग एक दर्जन मुकदमे दर्ज होने के बाद इसके बंद होने की आशंका जताई जा रही है। कोर्ट के आदेश पर देहरादून की कैंट पुलिस ने मनीष के खिलाफ 11 मुकदमे दर्ज किए हैं। यह मुकदमे छात्र-छात्राओं के साथ धोखाधड़ी एवं जालसाजी करने के आरोप में लगाए गए हैं।

अपने तहसील कार्यालयों को बंद करेगा अमर उजाला!

: कानाफूसी :अमर उजाला अपने नॉन प्राफिटेबल तहसील कार्यालयों को समेटने की योजना पर काम शुरू कर दिया है. खबर है कि इसकी शुरुआत मेरठ के सरधना से की जा चुकी है. अमर उजाला ने सरधना से स्‍टाफर हटा लिए गए हैं. ऑफिस भी जल्‍द ही बंद किया जाना है. अब तक तहसील स्‍तर तक अपने कार्यालय खोलकर अखबार को कंटेंट और आर्थिक लेबल पर मजबूत बनाने की शुरुआत करने वाले अमर उजाला ने अब इन्‍हें समेटना शुरू कर दिया है. जबकि इसके उलट दैनिक जागरण अब अपने तहसील कार्यालयों को मजबूत करने की प्रक्रिया शुरू कर चुका है.

पुलिस कार्रवाई के नाराज हिंदुस्‍तान ने नीतीश की यात्रा को पहले पन्‍ने से हटाया

मुंगेर। विश्व के मीडिया हाउस के सबसे बड़े आर्थिक अपराध (हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाला) के मामलेमें मुंगेर (बिहार) पुलिस के द्वारा नामजद अभियुक्तों के विरूद्ध ठोस कानूनी कार्रवाई किए जाने के बाद बिहार के मेसर्स हिन्दुस्तान मीडिया वेन्चर्स लिमिटेड के हिन्दी अखबार दैनिक हिन्दुस्तान के तेवर अब बदले-बदले नजर आने लगे हैं। आम पाठक अब खुले रूप में कहने लगे हैं कि आर्थिक भ्रष्टाचार में डूबे इस मीडिया समूह ने अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आंख दिखाना भी शुरू कर दिया है।

न्‍यूज एक्‍सप्रेस ने किया एआईईईई प्रवेश परीक्षा में गड़बड़ी का पर्दाफाश

न्यूज़ एक्सप्रेस ने ऑल इंडिया इंजीनियरिंग एंट्रेस एग्जामिनेशन (एआईईईई) की प्रवेश परीक्षा में हो रही बड़ी गड़बड़ी का पर्दाफाश किया है। न्यूज़ एक्सप्रेस ने ऑपरेशन मुन्नाभाई के जरिए एआईईईई में पास करवाने वाले बड़े रैकेट का खुलासा किया है। यूपी एसटीएफ ने आगरा में छापामारी कर इस रैकेट के दो मास्टर माइंड समेत छह सदस्यों को गिरफ्तार किया है। हर साल तकरीबन 10 लाख छात्रों के लिए परीक्षा का आयोजन करने वाला सीबीएसई भी इस गोरखधंधे को नहीं पकड़ पाता है, लेकिन  न्यूज़ एक्सप्रेस ने इस चक्रव्यूह को तोड़ दिया है।

निरुपमा पाठक की मौत के दो साल : हत्‍या एवं आत्‍महत्‍या के बीच उलझ गई गुत्‍थी

कोडरमा : देश को झकझोर देने वाली निरुपमा पाठक की मौत को दो साल पूरे हो गए, पर अब तक हत्‍या और आत्‍महत्‍या के बीच की गुत्‍थी नहीं सुलझ पाई है। इस बहुचर्चित मौत की कड़ी आज तक कोडरमा पुलिस नहीं जोड़ पाई है। गंभीर मामलों के प्रति झारखंड पुलिस की शिथिल कार्रवाई की बानगी है निरुपमा की मौत का रहस्य। दिल्ली के एक दैनिक अखबार में कार्यरत पत्रकार निरुपमा पाठक की मौत 29 अप्रैल 2010 को उसके झुमरीतिलैया चित्रगुप्त नगर स्थित उसके आवास में संदिग्ध परिस्थितियों में हो गई थी।

पत्रकार पर गलत केस दर्ज करने वाला सब इंस्‍पेक्‍टर सस्‍पेंड

अमृतसर : महानगर के एक पत्रकार पर झूठा केस दर्ज करने वाले सब इंस्पेक्टर चंद्रभूषण को पुलिस कमिश्नर ने सस्पेंड कर दिया है। चंद्रभूषण थाना मोहकमपुरा का पूर्व एसएचओ है। उल्लेखनीय है कि एक हिंदी समाचार पत्र के पत्रकार सुरेश से एक ऑटो एजेंसी वाले ने मारपीट की थी। पुलिस ने ऑटो एजेंसी वाले के खिलाफ केस दर्ज करने के बजाय पत्रकार के खिलाफ ही झूठा केस दर्ज कर लिया। बाद में, पत्रकार को गिरफ्तार भी कर लिया गया। इस मामले की शहर के पत्रकारों ने कड़ी निंदा की थी।

पीपुल्स समाचार आर्थिक संकट में, तीन माह से नहीं मिला वेतन

भोपाल : इस समय पीपुल्स समाचार आर्थिक संकट के दौर से गुज़र रहा है. हालत यह है कि पिछले तीन माह से सम्पादकीय विभाग के लोगों को वेतन तक नहीं मिला है. पिछले एक माह में एक दर्जन से आधिक लोगों के पीपुल्स समाचार छोड़ के जाने की पुष्टि हो चुकी है. चर्चा तो यह भी है कि अखबार के मालिकान पीपुल्स समाचार को बंद करने कि घोषणा किसी भी समय कर सकते हैं. यही कारण है कि पीपुल्स समाचार से जुड़े पत्रकार नए ठिकाने कि तलाश में जुट गए है.

खोजी महिला पत्रकार की उनके ही घर में हत्‍या

मैक्सिको। मैक्सिको की एक मशहूर समाचार पत्रिका प्रोसेस्को की एक पत्रकार का शव वेराक्रुज प्रात में उनके घर में पाया गया। प्रशासन का मानना है कि नशीले पदार्थो की तस्करी के बारे में अक्सर खबरें लिखने की वजह से उनकी हत्या हुई है। प्रात के अटार्नी जनरल कार्यालय ने एक बयान में कहा है कि रेगीना मार्टिंज का शव प्रात की राजधानी जालपा में उनके घर के बाथरूम में पाया गया। शव तथा उनके चेहरे पर गहरी चोट के निशान भी पाए गए।

देहरादून में अशोक पांडेय ने किया चढदींकला टाइम टीवी के कार्यालय का उद्घाटन

चढदींकला टाइम टीवी ने रविवार को देहरादून के करगी ग्रांट बन्ज़रावाला में उत्तराखंड कार्यालय का उद्घाटन किया। कार्यालय का उद्घाटन नेटवर्क 10 के दिग्गज पत्रकार अशोक पाण्डेय और चढदींकला टाइम टीवी के स्टेट हेड/स्टेट कोआर्डिनेटर नईम खान ने फीता काटकर किया। अशोक पाण्डेय ने चढदींकला टाइम टीवी को नई बुलंदियां छूने और मीडिया को नई …

शाहजहांपुर में दो पत्रकारों पर सपाइयों का जानलेवा हमला, गिरफ्तारी नहीं

शाहजहांपुर के बंडा थाना क्षेत्र निवासी दैनिक जागरण के पत्रकार श्रीधर श्रीवास्‍तव तथा उनके पत्रकार साथी रमेश तिवारी पर सपाइयों ने जानलेवा हमला किया. पहले पत्रकार पर फायर किया गया. फायर मिस हो जाने पर आरोपी सपाइयों ने दोनों पत्रकारों पर पिस्‍टल के बट और डंडों से हमला किया. हमलावर इतने दबंग थे कि उन्‍होंने बंडा थाने के गेट पर हमला को अंजाम दिया. दोनों पत्रकार थाने के भीतर भागकर अपनी जानी बचाई. पत्रकारों की तहरीर पर पुलिस ने चार आरोपियों के खिलाफ जालनेवा हमला समेत कई धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है. पर सपा के दबाव में अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है.

वरिष्‍ठ पत्रकार विराज शर्मा के पिता का निधन

शिमला के वरिष्ठ पत्रकार व केन्द्रीय मंत्री वीरभद्र सिंह के मीडिया प्रवक्ता विराज शर्मा के पिता श्याम लाल शर्मा का अकस्मात देहांत हो गया है। उनकी उम्र 78 साल थी। एकाएक हृदय गति रूकने के कारण उनका अर्की के गाहर गांव में देहावसान हो गया। शनिवार को शिमला के अर्की के बातल गांव के श्मशानघाट …

हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग और सोशल मीडिया एकदूसरे के पूरक बन चुके हैं

नई दिल्‍ली : भारत की राजधानी के दिल कनॉट प्‍लेस के द एम्‍बेसी रेस्‍तरां में एक हिंदी ब्‍लॉगर संगोष्‍ठी लखनऊ से पधारे हिन्‍दी के मशहूर ब्‍लॉगर सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी के सम्‍मान में सामूहिक ब्‍लॉग नुक्‍कड़डॉटकॉम द्वारा शनिवार को आयोजित की गई। इस मौके पर हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के प्रभाव के सबने एकमत से स्‍वीकारा। देश विदेश में हिंदी के प्रचार प्रसार में हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग के महत्‍व को सबने स्‍वीकार किया और इसकी उन्‍नति के मार्ग में आने वाली कठिनाइयों पर व्‍यापक रूप से विचार विमर्श किया गया। संगोष्‍ठी में दिल्‍ली, नोएडा, गाजियाबाद के जाने माने हिंदी ब्‍लॉगरों से शिरकत की। सोशल मीडिया यथा फेसबुक, ट्विटर को हिंदी ब्‍लॉगिंग का पूरक माना गया। एक मजबूत एग्रीगेटर के अभाव को सबसे एक स्‍वर से महसूस किया और तय किया गया कि इस संबंध में सार्थक प्रयास किए जाने बहुत जरूरी है। फेसबुक आज एक नेटवर्किंग के महत्‍वपूर्ण साधन के तौर पर विकसित हो चुका है। इसका सर्वजनहित में उपयोग करना हम सबकी नैतिक जिम्‍मेदारी है।

”साहित्यकार सीवान में भौंकता कुत्ता है, जिसकी बात कोई नहीं सुनता”

काशीनाथ सिंह ने कोई गलतबयानी नहीं की। साहित्यकार सीवान में भौंकता कुत्ता है, जिसकी बात कोई नहीं सुनता। इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए। यह केवल विवाद पैदा करके खबरों में आने जैसी बात नहीं है, न ही किसी तरह की जल्दबाजी में कही गयी हल्की बात है। काशी हमेशा सहज परंतु गंभीर रहते हैं। उनका कोई एक वाक्य भी बगैर अनुभव के नहीं होता, परखे-जांचे बगैर वह कुछ कहते नहीं। तमाम लोग लगातार साहित्य और उसके प्रभाव संबंधी सवालों से जूझते रहते हैं। कुत्ते का भौंकना साहित्यकार के निजी व्यक्तित्व की ओर संकेत भर नहीं है, यह उसके लिखे हुए, उसकी रचनाओं की ओर भी इंगित करता है। यह बहुत स्पष्ट नहीं हुआ कि उन्होंने यह टिप्पणी केवल वर्तमान लेखन को लेकर की या फिर इसका अतीत की ओर भी विस्तार है लेकिन जिस संदर्भ में उन्होंने यह बात कही, उससे समझा जा सकता है कि उनकी इस बात का संबंध साहित्य की अद्यतन दुनिया से है।

दिनेश गुप्ता बने पीपुल्स समाचार के समूह संपादक

वरिष्ठ पत्रकार दिनेश गुप्ता पीपुल्स समाचार पत्र के नये समूह संपादक बनाए गए है। शुक्रवार की रात एनके सिंह के इस्तीफे के बाद पीपुल्स प्रबंधन ने ताबड़तोड़ नये समूह संपादक के लिए तलाश शुरू कर दी थी। शनिवार को गुप्ता के नाम को हरी झंडी दे दी गई। रविवार के अंक की प्रिंट लाइन में …

पहले पेज पर खबर छपने पर पांच सौ रुपये का इनाम पाएंगे हिंदुस्‍तानी रिपोर्टर

: बरेली में कंपनी को चूना लगा रहे हैं कुछ पत्रकार : जब से हिन्दुस्तान ने पहले पेज पर खबर छपने पर रिपोर्टर को इनाम देने की स्कीम शुरू की है, तभी से बरेली हिन्दुस्तान में लूट मच गई है। सेटिंगबाज पत्रकार जमकर चांदी काट रहे हैं। हालत यह हो चुकी है कि दूसरे अखबारों में छपी पुरानी खबरों को भी कुछ दिनों के बाद अपने अखबार में हिन्दुस्तान ब्रेकिंग न्यूज बताकर पहले पेज पर छापा जा रहा है ताकि इनाम के ढाई या पांच सौ मिल सकें।

हिंदुस्‍तान, बरेली में बीट बंटवारे से नाराजगी, संजीव गंभीर के पर कतरे गए

हिंदुस्‍तान, बरेली के स्‍थानीय संपादक आशीष व्‍यास ने बरेली सिटी टीम के बीटों का नए सिरे से बंटवारा कर दिया है. यह कवायद टीम को मजबूत करने के लिए की गई है, लेकिन इसको लेकर रिपोर्टरों में नाराजगी है. बीट बंटवारे से साफ हो गया है कि पंकज मिश्रा रिपोर्टिंग टीम के इंचार्ज हो गए हैं. नए बीट से रिपोर्टिंग के चर्चित चेहरे आरबी लाल का नाम गायब है. आरबी लाल तीन महीने से ऑफिस नहीं आ रहे हैं. माना जा रहा है कि अब से हिंदुस्‍तान के हिस्‍सा नहीं रहे.

करनी किसी और की, जिम्‍मेदार ठहराए गए गिरीश गुरनानी जी

यशवंत जी नमस्कार के साथ ही पत्रकारों का दर्द उठाने के लिए ढेर सारी बधाई भी। उम्मीद भी कि आप हर बार की तरह खबर को जगह देंगे। मैं उत्तराखंड हिन्दुस्तान अखबार के एक शहर में स्ट्रिंगर के रूप में बीते पांच साल से कार्यरत हूं। तीन संपादकों के साथ काम करने कर चुका हूं। भड़ास में नए संपादक गिरीश गुर्रानी के बारे में छपे लेख से थोड़ा व्यथित था तो सोचा मन की बात वहीं कह दूं जहां से मुझे परेशानी हुई। चापलूसी नहीं कर रहा अपने मन की बात कह रहा हूं।

बिजली बिल बकाया होने पर जनसंदेश टाइम्‍स का कनेक्‍शन कटा

: विभाग को दिया गया चेक हुआ बाउंस : जनसंदेश टाइम्‍स, लखनऊ से खबर है कि बिजली बिल बकाया होने के चलते कानपुर रोड पर स्थित प्रिंटिंग यूनिट की बिजली काट दी गई है. अखबार की प्रिंटिंग अब जनरेटर चलाकर की जा रही है. अखबार प्रबंधन पर बिजली विभाग का लगभग साढ़े आठ लाख रुपए का बिल बकाया था. एमडी अनुज पौद्दार ने इस बकाया बिल को चुकाने के लिए विभाग को साढ़े आठ लाख रुपये का चेक काटकर दे दिया था, परन्‍तु चेक बाउंस हो गया यानी किसी कारण पैसा बिजली विभाग के खाते में ड्रा नहीं हो पाया. इसके बाद बिजली विभाग ने प्रिंटिंग यूनिट का कनेक्‍शन गुरुवार को काट दिया. तब से लेकर अब तक जनरेटर के सहारे ही अखबार छापा जा रहा है.

अमर उजाला बस्ती के ब्यूरो चीफ कोर्ट में तलब

अमर उजाला, गोरखपुर यूनिट के बस्ती जिले के ब्यूरो चीफ पुष्कर पाण्डेय को न्यायालय ने तलब किया है. बस्ती के बेसिक शिक्षा अधिकारी देवी सहाय तिवारी ने पुष्कर पांडेय, संपादक मृत्युंजय झा, प्रबंध निदेशक राजुल माहेश्वरी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर कराया था और बीएसए के अधिवक्ता द्वारा सिविल और फौजदारी का वाद दाखिल कराया था. अब दस मई 2012 को पुष्कर पाण्डेय को मुख्य न्यायिक मजिस्टेट द्वारा तलब किया है.

मीडिया वालों को किडनैप करके ले जाएंगे आसाराम बापू!

भदोही में स्‍टार न्‍यूज के पत्रकार को थप्‍पड़ मारने के मामले में एफआईआर दर्ज होने के बाद लग रहा है आसाराम बापू का दिमाग ठिकाने पर आ गया है. सुल्‍तानपुर में प्रवचन कार्यक्रम में उन्‍होंने मीडिया वालों को मंच पर बुलाया, माला पहनाया तथा हल्‍के-फुल्‍के अंदाज में कहा कि इलेक्‍ट्रानिक मीडिया वालों को बापू आसाराम से बड़ा खतरा हो गया है. बापू इन मीडिया वालों को किडनैप करके ले गए तो कोई कुछ नहीं कर सकेगा. इसके बाद खुद हंसने लगे. 

एडिटर्स गिल्‍ड के फिर अध्‍यक्ष बने टीएन नैनन, विजय नायक महासचिव

नई दिल्ली : दैनिक सकाल के सलाहकार संपादक विजय नायक को एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया का महासचिव चुना गया है। शुक्रवार को एडिटर्स गिल्ड की साधारण सभा की वार्षिक बैठक में संपन्न चुनावों में बिजनेस स्टैंडर्ड के टीएन नैनन को लगातार दूसरे कार्यकाल के लिए अध्यक्ष व नईदुनिया के सुरेश बाफना को फिर कोषाध्यक्ष चुना गया। देश के संपादकों के इस प्रमुख संगठन के सारे पदाधिकारियों का चुनाव सर्वसम्मति से किया गया।

अखिलेश यादव की सरकार के खिलाफ लामबंद हो रहे हैं दिल्‍ली दरबार के कुछ पत्रकार

: सीएम को मायावती जैसा साबित करने की हो रही है कोशिश : करीब डेढ़ महीने पहले उत्तर प्रदेश में नई सरकार ने शपथ ली थी. इन पैंतालीस दिनों में बहुत कुछ बदला है. लेकिन अजीब बात है कि उस परिवर्तन के बारे में कुछ भी लिखा नहीं जा रहा है. दिल्ली के सत्ता के गलियारों में जहां कहीं भी एकाध लोग यह कहते पाए जाते हैं कि उत्तर प्रदेश में हालात पहले से बेहतर हैं, उन्हें फ़ौरन नकेल लगाने की कोशिश की जाती है. उन्हें डांट दिया जाता है कि सरकार की चापलूसी करने की ज़रूरत नहीं है. पत्रकार के रूप में हमारा कर्त्तव्य है कि हम सरकारों के खिलाफ लिखते रहें, उनको हमेशा चौकन्ना रहने के लिए मजबूर करते रहें. यह उपदेश देने वालों में वे लोग भी शामिल होते हैं जो राहुल गांधी के दलित प्रेम के बारे में टेलीविज़न पर राग दरबारी में राहुल रासो गाया करते थे. दिल्ली में एक अजीब माहौल बन रहा है कि उत्तर प्रदेश की मौजूदा सरकार के खिलाफ कुछ न कुछ लिखना ज़रूरी है वरना निष्पक्ष पत्रकार के रूप में पहचान नहीं बन पायेगी.

खनन माफियाओं ने दो पत्रकारों पर किया जानलेवा हमला, एक की हालत गंभीर

करनाल के करना घरौंडा क्षेत्र के मूनक गांव के पास शनिवार की शाम दो पत्रकारों पर करीब एक दर्जन मोटरसाइकिल पर सवार दो दर्जन से अधिक बदमाशों ने जानलेवा हमला बोल दिया। उनका गला घोंटने का प्रयास किया गया। हमले के बाद बदमाश दोनों का कार में अपहरण कर ले गए और बाद में सड़क किनारे खेतों में फेंक दिया। बदमाश पत्रकारों के मोबाइल व कैमरे आदि लूट कर  भाग निकले। करीब दो घंटे के बाद होश में आए पत्रकारों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही करनाल व पानीपत, मूनक, घरौंडा व बल्ला पुलिस घटनास्थल पर पहुंची। गंभीर अवस्था में दोनों पत्रकारों को अस्पताल भर्ती करवाया।

बंगारू को बेनकाब करने वाले अनिरुद्ध बहल की हो रही जय-जय

नोट गिनते दिखने वाले बंगारू लक्ष्मण जेल गए. भाजपा नेता बंगारू की इस करतूत को जनता के सामने लाने वाले पत्रकार का नाम है अनिरुद्ध बहल. ऐसी साहसिक पत्रकारिता करने वाले अनिरुद्ध बहल को हर तरफ से बधाइयां मिल रही हैं. खासकर फेसबुक ट्विटर पर लोग उन्हें भरपूर समर्थन देते हुए इस करनी के लिए सलाम कह रहे हैं. पर इसी के साथ यह सवाल भी उठ रहा है कि आखिर अब कोई अनिरुद्ध बहल जैसा काम क्यों नहीं करता? करप्शन कम नहीं हुआ बल्कि बढ़ा है, पर मीडिया हाउसेज में ताकत नहीं कि वे किसी बड़े नेता का स्टिंग करें, क्योंकि ज्यादातर चैनलों के मालिकों की बड़े नेताओं से फटती है या फिर फंसी हुई है. ऐसे में वे अब बड़े नेताओं के करप्शन को बचाते हुए उनके करप्शन के धन में हिस्सेदार बन जा रहे हैं.

Abhishek Manu Singhvi Sex CD (9) : आइए, सिंघवी को राहत देने वाली अदालत / जज की मंशा पर सवाल खड़ा करें

Mayank Saxena : ये मुद्दा मैं फिर से उठा रहा हूं कि आखिर कैसे अभिषेक मनु सिघवी को दिल्ली हाईकोर्ट से इतनी आसानी से राहत दे दी गई, आखिर अदालत / जज की मंशा पर सवाल क्यों न खड़े किए जाएं…कुछ सहज जिज्ञासाएं…

सहारा में वेब एवं पोर्टल डिविजन के एडिटर बनाए गए दुर्गेश उपाध्‍याय

सहारा मीडिया से बड़ी खबर आ रही है. इस खबर के साथ ही होई गई है उपेंद्र राय की दमदार वापसी की घोषणा भी. उपेंद्र राय के कोर टीम के सदस्‍य एवं खास माने जाने वाले दुर्गेश उपाध्‍याय सहारा मीडिया के वेब एवं पोर्टल डिविजन का एडिटर बना दिया गया है. सहारा के न्‍यू मीडिया डिविजन को दुर्गेश उपाध्‍याय ही हेड करेंगे. उपेंद्र के करीबी माने जाने वाले दुर्गेश सहारा के टीवी डिविजन के इनपुट हेड हुआ करते थे. सहारा के सभी चैनलों का एसाइनमेंट इनके जिम्‍मे ही था, परन्‍तु सत्‍ता मिलते ही स्‍वतंत्र मिश्र ने उपेंद्र के करीबी रजनी‍कांत सिंह, विजय राय की तरह दुर्गेश को भी शंटिंग लाइन में डाल दिया था. परन्‍तु वापसी के साथ ही उपेंद्र ने सबसे पहला बदलाव दुर्गेश को सहारा के वेब एवं पोर्टल डिविजन का हेड बनाकर किया है. इसके लिए आदेश भी जारी कर दिया गया है.

सी न्‍यूज एक्‍सप्रेस के एनई डा. भानु के पिता का निधन

आगरा से खबर है कि समाचार पत्र सी न्‍यूज एक्‍सप्रेस के न्‍यूज एडिटर डा. भानु प्रताप सिंह के पिता जेपी वर्मा का शनिवार को निधन हो गया. उनके निधन की खबर सुनते ही जानने वालों में शोक की लहर दौड़ गई. उनकी शव यात्रा शास्‍त्रीपुरम निवास से शाम को ताजगंज श्‍मशान घाट के लिए रवाना …

पीपुल्‍स समाचार से ग्रुप एडिटर एनके सिंह का इस्‍तीफा

पीपुल्स समाचार के समूह संपादक एवं वरिष्ठ पत्रकार एनके सिंह ने बीती रात अपने पद से त्यागपत्र दे दिया। सिंह ने आज सुबह सभी सहयोगियों को एसएमएस भेज कर अपने इस्तीफे की सूचना दी। सिंह ने लगभग १० माह पूर्व अवधेश बजाज के स्थान पर समूह संपादक का पदभार ग्रहण किया था। सिंह की कार्यशैली से पीपुल्स समाचार के अधिकांश स्थानीय संपादक खिन्न थे। इंदौर संस्करण के स्थानीय संपादक प्रवीण खारीवाल ने तो सिंह की ज्यादतियों का विरोध करते हुए इस्तीफा दे दिया था।

हिंदुस्‍तान विज्ञापन घोटाला : जज के सामने श्रीकृष्‍ण प्रसाद ने उठाया करोड़ों की हेराफेरी से पर्दा

मुंगेर। विश्व के सनसनीखेज दैनिक हिन्दुस्तान के लगभग दो सौ करोड़ के विज्ञापन घोटाले में मुंगेर (बिहार) पुलिस की ओर से अभियोजन के पक्ष में दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 164 में न्यायालय में दर्ज किए गए तीसरे गवाह के बयान ने विज्ञापन घोटाले पर से पर्दा पूरी तरह उठा दिया है। गवाह ने भंडाफोड़ कर दिया है कि देश के शक्तिशाली मीडिया हाउस ने सरकारी विज्ञापन पाने के लिए किन-किन कारणों से जालसाजी और फर्जीवाड़ा किया और उस फर्जीवाड़ा में कौन-कौन से सरकारी पदाधिकारी शामिल थे।

बिजली चोरी में फंसे अखबार-चैनल के मालिक, मामला दर्ज

आगरा में सी न्‍यूज एक्‍सप्रेस तथा सी न्‍यूज चैनल समेत कई चैनलों को चलाने वाले जैन बंधुओं पर बिजली चोरी का आरोप लगा है. आगरा में बिजली आपूर्ति करने वाली प्राइवेट कंपनी टोरंट ने सी ग्रुप के दो डाइरेक्‍टरों के खिलाफ आगरा के शाहगंज में बिजली चोरी और कर्मचारियों से मारपीट करने का मुकदमा दर्ज कराया है. खबर है कि तीनों डाइरेक्‍टर फरार हैं. पुलिस इन लोगों की तलाश कर रही है. सी ग्रुप पर बारह लाख रुपये का बिजली चोरी का जुर्माना लगाया गया है.

कांग्रेस मुद्दों से ध्यान भटकाना जानती है

कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गाँधी से मुलाक़ात के बाद जिस तरह से अचानक क्रिकेट की दुनिया के भगवान सचिन तेंदुलकर को उच्च सदन भेजने बाबत राष्ट्रपति ने अधिसूचना जारी की और सचिन ने भी इस पर अपनी मूक सहमति दी; उससे राजनीति का सियासी पारा गर्मा गया है. अब सचिन भी सांसद पद पर आरूढ़ हो उच्च सदन की शोभा बढ़ाएंगे. यह वही उच्च सदन है जहां धनाढ्य वर्ग के अरबपति अपने हितों की पूर्ति हेतु जोड़-तोड़ कर यहाँ की कुर्सियां तोड़ते नज़र आते हैं. कहते हैं कि राज्यसभा में सांसद पद की बोली तक लगाई जाती है और येन-केन प्रकरेण राजनीतिक दल अपने प्रत्याशी को यहाँ का सदस्य मनोनीत करवाने की जुट भिड़ाते नज़र आते हैं. हालांकि सचिन का चयन इस आधार पर तो कतई नहीं हुआ है.

Keep it up Master Vijay Singh, We are proud to have people like you

: Longest One man agitator is extremely thankful to Media : The Limca Book of records says about him- “Longest dharna'' : The one-man agitation of Master Vijay Singh, a school teacher from Chausana village in Muzaffarnagar, UP entered its 16th year on Feb 26, 2011. He has been sitting on satyagraha in front of the office of District Magistrate, Muzaffarnagar since 1996. It all started once after he unearthed a fraud-illegal possession of about 400 acres of farmland and other public properties worth Rs 90 crore – by land mafias in his village. He is determined to continue the fight for justice till the entire grabbed land is restored to the government or distributed among the landless poor.”

(इंटरव्यू – अनूप भटनागर) : आलोक मेहता की कार्यशैली किसी भी संस्थान का भट्टा बिठाने की क्षमता रखती है

अनूप भटनागर. दिल्ली में कई दशक से कई बड़े मीडिया संस्थानों के साथ पत्रकारिता की अलख जगाते रहे. सुप्रीम कोर्ट कवर करने वाले हिंदी के पहले और वरिष्ठतम पत्रकार हैं. सहज सरल स्वभाव वाले वरिष्ठ पत्रकार अनूप भटनागर इन दिनों ज़िंदगी की कई कड़वी हकीकत से दो-चार हैं. उन्हें जिस समय उनके संस्थान की सबसे ज्यादा समर्थन की जरूरत थी, अचानक उन्हें अकेले छोड़ दिया गया. जिन पर उन्होंने सबसे ज्यादा भरोसा किया और हर मुश्किल अच्छे वक्त में उनके खड़े रहे, उन्होंने अनूप के मुश्किल वक्त में नाता तोड़ लिया. चुपचाप अपना काम करते रहने में भरोसा करने वाले अनूप भटनागर इन दिनों स्वतंत्र पत्रकार के रूप में सक्रिय हैं. लेकिन कुछ माह पहले तक वह आलोक मेहता के नेतृत्व वाले नई दुनिया में लीगल एडिटर के रूप में कार्यरत थे.

86 लाख रुपये देकर ट्विटर पर निंदा करने की कीमत चुकाएगा भारतीय पत्रकार

कुआलालंपुर : मलेशिया की एक अदालत ने एक वरिष्ठ भारतीय पत्रकार को एक व्यापारी को ट्विटर पर उसे बदनाम करने के एवज में 86 लाख रूपए हर्जाने के तौर पर देने का आदेश दिया है। मलेशिया में इस तरह का यह पहला मामला है जब निंदात्मक ट्विट्स के लिए किसी को हर्जाना दिया गया है। …

अनिल गुप्‍ता ने दैनिक भास्‍कर एवं मनोजीत ने समाचार प्‍लस ज्‍वाइन किया

पत्रिका, भोपाल से खबर है कि अनिल गुप्‍ता ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर विशेष संवाददाता थे. अनिल पत्रिका के भोपाल में लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी भोपाल में दैनिक भास्‍कर के साथ शुरू की है. ये भास्‍कर के साथ इनकी दूसरी पारी है. ये भास्‍कर को जयपुर में भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. भास्‍कर में भी इन्‍हें विशेष संवाददाता बनाया गया है. 

नईदुनिया, इंदौर से एसोसिएट एडिटर हेमंत पाल का इस्‍तीफा

नईदुनिया के बिकने के बाद वहां की व्‍यवस्‍था बिगड़ती नजर आने लगी है. इस अखबार को ब्रांड बनाने वाले पुराने लोग अब इससे किनारा करने लगे हैं. सबसे पहले नईदुनिया के ग्रुप एडिटर उमेश त्रिवेदी ने नईदुनिया से इस्तीफा दिया था, अब इंदौर के एसोसिएट एडिटर हेमंत पाल ने भी प्रबंधन को इस्तीफ़ा सौप दिया है. खास बात यह रही कि अंदर की अव्‍यवस्‍था से नाराज हेमंत पाल ने एक महीना का नोटिस देने की बजाय एक महीने का वेतन जमा करके इस्‍तीफा दे दिया.

जोहरा सहगल की इस जिंदादिली को पक्का सलाम कहेंगे आप, देखिए तस्वीर

फेसबुक पर Swarnim Prabhat ने एक तस्वीर चस्पा की है. वो तस्वीर यहां नीचे भी है. इसमें जोहरा सहगल अपने सौवें जन्मदिन पर केक काटते दिखाई दे रही हैं. पर उनकी मुख मुद्रा व हाथ मुद्रा कुछ ऐसी है कि बरबस आप मुस्कराये बिना नहीं रह सकते, जैसे वे केक नहीं, आदमी काटने वाली हों… हिंदी फिल्मों की इस महान अदाकारा की इस जिंदादिली को सलाम.

ये आसाराम बापू साधु वेश में चलने वाला दूसरा निर्मल बाबा है, देखिए तस्वीर

नीचे एक तस्वीर है. लालबत्ती लगी गाड़ी में आसाराम बापू. लाल बत्ती लगाकर चलने का अधिकार किसने दे दिया आसाराम बापू को? इन स्वयंभू खुदाओं को क्या हो गया है, क्या ये देश संविधान सबसे उपर हैं… इसी गाड़ी की तस्वीर उतारते वक्त आसाराम बापू ने भदोही में एक पत्रकार थप्पड़ मार दिया था. कल्पना कर सकते हैं आप कि कोई साधु किसी को भला थप्पड़ मार सकता है… साधु का तो काम होता है साधुता के जरिए सबको जीतना… पर ये आसाराम बापू व्यापारी है, निर्मल बाबा टाइप व्यापारी… इस आसाराम बापू के मुद्दे पर फेसबुक पर Mahesh Jaiswal ने बातचीत शुरू की है.

देशबंधु ने हापुड़ एवं साहिबाबाद में ब्‍यूरो कार्यालय खोला

: प्रदीप शर्मा एवं कुलदीप चौहान बनाए गए प्रभारी : नई दिल्ली से प्रकाशित राष्ट्रीय हिंदी दैनिक देशबंधु ने गाजियाबाद के साहिबाबाद तथा जिला पंचशीलनगर के हापुड में अपना ब्यूरो कार्यालय खोल दिया है। साहिबाबाद का प्रभारी कुलदीप चौहान को बनाया गया है, जबकि हापुड की कमान अनुभवी पत्रकार प्रदीप शर्मा को सौंपी गयी है। श्री चौहान तथा शर्मा को प्रिंट तथा इलैक्ट्रानिक मीडिया में लगभग 10 वर्ष का अनुभव है। कुलदीप चौहान रफ्तार टाइम न्यूज चैनल से देशबन्धु में आये हैं। जबकि प्रदीप शर्मा दैनिक हिंट, दैनिक जागरण, अभीतक जैसे पत्रों में काम कर चुके है।

कई चैनलों में काम करता हूं पर पांच हजार से ज्यादा नहीं मिलते..

एक बार फिर से कुछ लिखने का मन हुआ.. खबर है कि न्यूज़ चैनेल्स इन दिनों खर्च कम करने में लगे हैं. कस्‍बों में उनके लिए काम करने वालों के लिए ये बुरी खबर है. आज तक, स्टार न्‍यूज और अन्य ने स्ट्रिंगर से काम लेना करीब-करीब बंद कर दिया है. मजबूरी में ही स्ट्रिंगर को याद किया जाता है कि ये शॉट्स भेज दो या ये बाईट भेज दो. बाकी सब एएनआई से ले रहे हैं… इस न्यूज़ एजेंसी ने हजारों स्ट्रिंगर्स के पेट में लात मार दी है.

हमार टीवी को स्‍वाति, वीना एवं पूजा ने अलविदा कहा

पॉजिटिव मीडिया ग्रुप के चैनल हमार टीवी से खबर है कि अंदर के माहौल से परेशान कर्मचारी अब संस्‍थान में आना बंद कर रहे हैं. प्रोग्रामिंग में कार्यरत स्‍वाति राय, वीना सिंह एवं पूजा प्रसाद ने पिछले कई दिनों से कार्यालय आना बंद कर दिया है. खबर है कि इन लोगों ने संस्‍थान को बॉय …

दैनिक जागरण, मुजफ्फरपुर से यूनिट हेड संजय सिंह का इस्‍तीफा

दैनिक जागरण, मुजफ्फरपुर से खबर है कि यूनिट हेड संजय सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे काफी समय से यहां तैनात थे. बताया जा रहा है कि उन्‍होंने पारिवारिक कारणों से दैनिक जागरण को अलविदा कहा है. मूल रूप से पटना के रहने वाले संजय सिंह का परिवार रांची में रहता है. संभावना जताई जा रहा है कि वे अपनी नई पारी रांची में ही दैनिक सन्‍मार्ग से शुरू कर सकते हैं. अखिलेश सिंह के इस्‍तीफा देने के बाद से ही सन्‍मार्ग में जीएम का पद खाली चल रहा है.

तहलका स्टिंग ऑपरेशन : भाजपा के पूर्व अध्‍यक्ष बंगारू लक्ष्‍मण दोषी करार

आज से 11 साल पहले तलहका के स्टिंग ऑपरेशन में फंसे बीजेपी अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण रिश्वत लेने के दोषी करार दिए गए। अदालत के फैसले के तुरंत बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। सीबीआई की विशेष अदालत आज उन्हें सजा सुनाएगी। इस रिश्वत कांड में बंगारू लक्ष्मण को अधिकतम 5 साल की सजा हो सकती है। अपने पूर्व अध्यक्ष और राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मौजूदा सदस्य के दोषी करार दिए जाने के बाद चाल चरित्र और चेहरे की दुहाई देने वाली बीजेपी का रंग उड़ा हुआ है।

अमर उजाला, गोरखपुर में चार लोग इधर से उधर

अमर उजाला, गोरखपुर में तीन जिलों के ब्‍यूरोचीफों समेत चार लोगों को इधर से उधर किया गया है. जिन जिलों के ब्‍यूरोचीफों को बदला गया है वे हैं देवरिया, कुशीनगर और सिद्धार्थनगर शामिल है. देवरिया के ब्‍यूरोचीफ दिव्‍य प्रकाश त्रिपाठी को गोरखपुर यूनिट बुला लिया गया है. दिव्‍य अमर उजाला के साथ लांचिंग के समय से ही रिटेनर के रूप में जुड़े थे. केके उपाध्‍याय के कार्यकाल में दिव्‍य समेत 13 लोगों को सब एडिटर बना दिया गया था.

फेसबुक पर टिप्‍पणी के बाद मीडियाकर्मी आपस में भिड़े

: दोनों पक्षों ने दर्ज कराया मुकदमा : रुद्रपुर : फेसबुक पर कथित आपत्तिजनक टिप्पणी लिखने पर मीडिया कर्मी आपस में भिड़ गए। दोनों पक्षों में जमकर मारपीट हुई। इसमें एक पत्रकार गंभीर रूप से घायल हो गया। उसका जिला अस्पताल में उपचार चल रहा है। सूचना पर अस्पताल पहुंचे दोनों पक्ष के समर्थकों में पहले कोतवाली और बाद में अस्पताल में हाथापाई हुई। गुरुवार देर रात मीडिया कर्मी आपस में भिड़ गए।

एए तन्‍हा ने हिंदुस्‍तान से इस्‍तीफा दिया

यशवंत जी नमस्कार, मैं वर्ष 2009 से अभी तक हिन्दुस्तान में किच्छा जिला उधम सिंह नगर, उत्तराखण्ड में रिपोर्टर के पद पर तैनात हूं। परन्तु प्रबंधन द्वारा किच्छा क्षेत्र में विज्ञापन प्रतिनिधि के रूप में सरकारी भूमि पर कब्जा जमाये बैठे और उस पर ढाबा चला रहे व्यक्ति को तैनात किये जाने से तथा उसे विज्ञापन के लिये सहयोग देने का दबाब डालने पर नाराज होकर मैं अपने पद से इस्तीफा दे रहा हूं। वास्तविकता जानने के बाबजूद प्रबंधन द्वारा ऐसे व्यक्ति की पैरवी किया जाना हिन्दुस्तान समाचार पत्र जैसे बड़े समूह के लिये एक शर्मनाक उदाहरण है।

तब कहां चले जाते हैं ये अर्णव गोस्वामी टाइप लोग (स्वामी अग्निवेश का इंटरव्यू)

देश में नक्सलवाद गहन चिंता का विषय बनता जा रहा है। प्रधानमंत्री इसे आंतरिक सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा खतरा बताते हैं। नक्सल प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठकें होती हैं। माओवाद का कड़ाई से मुकाबला करने का प्रण लिया जाता है। सरकार कभी शांति प्रक्रिया की बात करती है, तो कभी आपरेशन ग्रीनहंट चलाती है। इधर माओवादी पहले से ज्यादा आक्रामक होते दिख रहे हैं। उड़ीसा के अपहरण प्रकरणों के बाद छत्तीसगढ़ में भी कलेक्टर का अपहरण कर लिया जाता है। माओवादियों की अपनी मांगें हैं और सरकार की अपनी नीतियां। अपहृतों की रिहाई के लिए दोनों ओर से मध्यस्थों के नाम तय होते हैं। लेकिन यह सिलसिला कहां जा कर थमेगा, यह आज का बड़ा सवाल है।

इटावा में सपा के हिस्‍ट्रीशीटर कार्यकर्ता ने पत्रकार का कैमरा छीना

: पुलिस ने दिखाया सत्‍ता प्रेम – पत्रकारों के विरुद्ध भी दर्ज किया मुकदमा : इटावा समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सपा कार्यकर्ताओं से कानून की हद में रहने और अनुशासन न तोड़ने के निर्देश दिए हैं. उसके बाद भी आये दिन सपा कार्यकर्ताओं की गुंडई रुकने का नाम नहीं ले रही. इटावा के ऊसराहार में किसानों द्वारा गेहूं खरीद केंद्र पर बिचौलियों के माध्यम से गेहूं की खरीद होने की शिकायत पर पत्रकारों की टीम गेहूं खरीद केंद्र पर पहुंची.

अमर उजाला में नीरज एवं मुकेश का तबादला, अमित प्रभात खबर से जुड़े

अमर उजाला, गाजियाबाद से खबर है कि यहां पर तैनात नीरज गुप्‍ता को बुलंदशहर भेज दिया गया है. नीरज ब्‍यूरोचीफ बनाए गए हैं. वहीं बुलंदशहर में अब तक ब्‍यूरोचीफ की जिम्‍मेदारी निभा रहे मुकेश उपाध्‍याय को गाजियाबाद बुला लिया गया है. नीरज गुप्‍ता इसके पहले भी बुलंदशहर और बागपा के प्रभारी के रूप में काम कर चुके हैं. वे लम्‍बे समय से अमर उजाला से जुड़े हुए हैं.

आज समाज प्रबंधन के दबाव में दस पत्रकारों ने छोड़ी नौकरी, पंचायत एडिशन भी बंद

शीर्षस्‍थ पदों पर भारी बदलाव करने के बाद भी आज समाज की नैया पार लगाने के बजाए डूबती ही जा रही है. तय समय-सीमा में सै‍लरी नहीं देने से खफा होकर अंबाला संस्‍करण के कई पत्रकार प्रबंधन को आंखें दिखा चुके हैं. इन्‍होंने इस तरह आंखें तरेरी कि प्रबंधन को दिल्‍ली से लाखों का कैश लेकर अंबाला जाना पड़ा और कर्मियों को नकद भुगतान करना पड़ा. इसके बाद प्रबंधन को अपनी शक्ति दिखानी ही थी. प्रबंधन के खिलाफ आवाज उठाने वालों को सबक सिखाने का प्रपंच रचा जाने लगा, जिसके बाद कुछ पत्रकारों ने अपनी मर्जी से तो कुछ ने दबाव में नौकरी छोड़ दी. ऐसे पत्रकारों की संख्‍या 10 से ज्‍यादा बताई जा रही है.

मुझे साइटों से खबर चोरी करके अपनी साइट अपडेट करने का काम मिला

यशवंतजी नमस्कार, दिसंबर में मैंने खबर24 नामक न्यूज़ चैनल, जो कि मुझे बताया गया था, में ज्वाइन किया था, पर ज्‍वाइनिंग के ठीक एक हफ्ते के अन्दर मुझे पता चला क़ि अभी ये चैनल नहीं सिर्फ और सिर्फ एक वेब पोर्टल है. परन्तु मीडिया में काम करने का जोश और जूनून मेरे सर पर हावी था तो सोचा क़ि चैनल ना सही तो वेब पोर्टल ही सही. पर खुशी तब हुई जब मेरी ऐसी सोच गलत निकली और पता लगा क़ि चैनल कुछ समय बाद आएगा. मैं मन लगाकर वहां काम करने लगा.

मेरे खिलाफ दर्ज मामला पूरी तरह फर्जी है

यशवंत जी नमस्कार, मेरे खिलाफ जो मामला दर्ज हुआ है वो पूरी तरह से फर्जी है. जिस नगर पालिका के अभिलेख के आधार पर पुलिस ने यह मामला दर्ज किया है वो भी कूट रचित है और मेरे पास जिला पंचायत अध्यक्ष का वर्तमान पत्र है, जिसमें साफ तौर पर लिखा है कि जो आबंटन हुआ है वो सही है और उस पत्र पर उनके ही हस्ताक्षर हैं. यह पत्र भी संलग्न है. इस मामले में जो भी दोषी है वो तो वह नगरपालिका का बाबू है और उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गयी है.

मुरादाबाद में अखबार के संपादक की गोली मारकर हत्‍या

मुरादाबाद से खबर है कि मूवीज टाइम्‍स नामक अखबार का प्रकाशन करने वाले नासिर कुरैशी की बीती रात गोली मारकर हत्‍या कर दी गई. नासिर समाजवादी पार्टी से भी जुड़े हुए थे. यह पता नहीं चल पाया है कि हत्‍या किन कारणों से की गई है. पर आशंका जताई जा रही है कि जमीन के रंजिश के चलते इनकी हत्‍या की गई है. हत्‍या मुरादाबाद के मुगलपुरा थाना क्षेत्र में की गई. पुलिस मामले की जांच कर रही है.

मालिकों! ब्‍यूरो में बैठे दलालों से सहारा को बचाओ

"दिल में फफोले पड़ गए सीने की आग से, इस घर को आग को लग गयी घर के चिराग से" उक्त पंक्तियाँ फिलहाल राष्ट्रीय सहारा दैनिक समाचार पत्र को तो चरितार्थ करती ही हैं। बताता चलूँ कि मैं नियमित रूप से लगभग पांच अखबार मंगाता एवं पढ़ता भी हूँ। बाकी बचे अखबारों को इ-पेपर के माध्यम से जरुर पढ़ता हूँ, जिनमे मेरा प्रथम फोकस गोरखपुर संस्‍करण पर होता है (वहीँ का होने के कारण). पिछले बहुत दिनों से ऐसा देखने को मिल रहा है कि जन समस्याओं एवं जन सरोकार से जुडी तमाम खबरों पर राष्ट्रीय सहारा चुप्पी मार कर बैठ जाता है है।

क्या काटजू लाल को उनके ‘हसीन सपने’ में राष्ट्रपति भवन नज़र आ रहा है? (पार्ट तीन)

सोशल नेटवर्किंग साइटों पर लगाम कसने के जस्टिस मार्कंडेय काटजू के इरादों को लोग बेशक पागलपन मान रहे हों, लेकिन राजनीतिक विश्लेषक इसे बेहद सोचा-समझा और मौके पर उठाया कदम मान रहे हैं। बताया जाता है कि छोटे कद के जस्टिस काटजू अब छोटी-मोटी कुर्सी से संतुष्ट नहीं हैं और उनका सपना राष्ट्रपति भवन की तरफ कूच करने का है।

‘भ्रष्‍टाचार का कड़वा सच’ : एक राजनेता से लड़ता साहित्‍यकार

भ्रष्टाचार के खिलाफ यकायक एक बुजुर्ग गांधीवादी अन्ना हजारे जिद ठान लेता है कि अनशन से हलचल मचा दूंगा और इरादे इतने अटल की 13 दिनों के उपवास में सत्ता के शिखर पर बैठे लोग उसकी मांग मान लेने को मजबूर हो जाते हैं। हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वर्तमान राज्यसभा सांसद शांता कुमार की नई किताब का विषय भी भ्रष्टाचार है और वह भ्रष्टाचार के खिलाफ कलम से लड़ते दिखते हैं। 'भ्रष्टाचार का कड़वा सच' उनका भोगा नहीं तो करीब से देखा हुआ सच प्रतीत होता है। तीन साल पहले उन्होंने हिमप्रस्थ के दिसंबर अंक में एक साक्षात्कार में कहा था कि जीवन में कई बार कुछ घटनाएं इतनी गहरी चोट करती और अमिट छाप छोड़ती हैं, उन्हीं से मन प्रेरित होता है और लिखने की इच्छा पैदा होती है। 'राजनीति की शतरंज' में राजनीति की सत्यकथाएं लिखने पर अपने ही कई समकालीन नेताओं के निशाने पर रहे शांता कुमार की प्रखरवादिता 'भ्रष्टाचार का कड़वा सच' से भी उनके दुश्मनों संख्या में हरगिज इजाफा ही करेगी।

बनिया की नौकरी करो, पर बनिये से कभी मत डरो

: तब दांव पर होता दिलीप मंडल की तरह हमारी प्रतिबद्धता भी : अखबार को अपना अखबार कभी मत समझो और हमेशा उससे अपनी पहचान अलग रखो : अश्लीलता पर घमासान को लेकर कुछ सवाल : वैकल्पिक मीडिया के फोरम में इंडिया टुडे के ताजा अंक की अश्लीलता को लेकर घमासान मचा हुआ है। हमारे प्रिय मित्र, अगर वे हम जैसे नाचीज को मित्र मान लेने की उदारता दिखायें तो, आपस में भिड़े हुए हैं मूल्यबोध और प्रतिबद्धता के सवाल पर। मैं १९७३ से दैनिक पर्वतीय से जुड़ गया था​​ नैनीताल में। छात्रजीवन में दिनमान के लिए भी पत्रकारिता की। १९७८ से नैनीतील समाचार की टीम के साथ लग गया। सितारगंज में केवल​ ​कृष्ण ढल के साथ मिलकर साप्ताहिक लघुभारत भी चलाया। थोड़े वक्त के लिए इलाहाबाद और दिल्ली से फ्रीलांसिंग भी की। १९८० से पत्रकारिता​​ मेरा पेशा है। १९९१ में जनसत्ता कोलकाता आ गया।

लोकल बिजनेस की खबरों पर आधारित बिजनेस रिपोर्टर डॉट इन लांच

स्वर्णिम न्यूज नेटवर्क भोपाल द्वारा लोकल बिजनेस की खबरों पर आधारित हिन्दी न्यूज वेबसाइट बिजनेस रिपोर्टर डॉट इन (www.businessreporter.in) लांच किया गया है। बिजनेस रिपोर्टर डॉट इन में प्रारंभिक तौर पर भोपाल (मध्यप्रदेश) में संचालित समस्त लोकल व्यवसायिक गतिविधियों को विषयवार (सेंगमेंट वाइज) खबरों के माध्यम से प्रसारित किया जा रहा है। भोपाल के बाद देश के प्रमुख शहरों की व्यवसायिक गतिविधियों की खबरें शामिल की जाएगी।

रांची में गैंगरेप, मर गई अबला, खबर नहीं चलाने का फरमान

: अपडेट : चुल्लू भर पानी में क्यों नहीं डूब मरते न्यूज 11 के कर्ताधर्ता : जी, 21सदी की पत्रकारिता का यह काला सच है। घिन्‍न आ रही है। क्या झुकने को कहने पर हम तलवे चांटने को तैयार हो जाएंगे। लेकिन बेचारे रिपोर्टर से एक धंधेबाज बने अरूप चटर्जी क्या जाने कि किस हसरत से पत्रकारिता की डिग्री लेकर हम आते हैं कि कम से कम समाज की सेवा करेंगे। इसी से दाल-रोटी भी चलेगी। चलिए मूल बात पर आते हैं। 23 अप्रैल को रांची में एक अधेड़ उम्र की महिला के साथ गैंगरेप हुआ। बेचारी महिला ने दम तोड़ दिया लेकिन न्यूज 11 के मालिक अरूप चटर्जी ने हुक्म दिया कि यह खबर नहीं चलेगी।

इस कांग्रेसी काटजू पर अब बात हो ही जानी चाहिए (भाग दो)

Yashwant Singh : इस कांग्रेसी काटजू पर अब बात हो ही जानी चाहिए…. संभव है नीचे जो लिंक दिया है, उस लेखन से आप सहमत नहीं हों लेकिन उम्मीद करता हूं कि बहस को आप आगे बढ़ाएंगे. आखिर कैसे एक आदमी की उन साजिशों पर चुप रहा जा सकता है जहां वह सोशल व न्यू मीडिया माध्यमों को कानून द्वारा नियंत्रित कराने की कोशिश रहा हो. पहले से ही आईटी एक्ट के तहत तमाम कानून हैं. फिर भी यह शख्स केंद्रीय मंत्रियों से गुहार लगाता फिर रहा है कि सोशल मीडिया पर थोड़ी पाबंदी लगा दो… पूरे प्रकरण पर मैंने अपना विचार रखा है, कुछ चिट्ठियां पेश की हैं.. इन चिट्ठियों को काटजू ने मंत्रियों को भेजा है. आप इसे पढ़ें, पढ़वाएं और जहां भी संभव हो प्रकाशित कराएं ताकि कारपोरेट मीडिया का कुछ न उखाड़ सकने वाले काटजू की अब सोशल मीडिया पर डंडा बरसाने की कोशिशों का पर्दाफाश किया जा सके. पूरे लेख का लिंक नीचे है.

http://bhadas4media.com/print/4010-abhishek-manu-singhvi-sex-cd-8.html

अखबार के कार्यालय पर आत्‍मघाती हमला, 40 की मौत

लागोस: नाइजीरिया की राजधानी अबूजा में स्थित एक अग्रणी समाचार पत्र के कार्यालय पर आत्मघाती हमलावरों ने विस्फोटकों से लदे वाहन को उड़ा दिया। इस विस्फोट में कम से कम 37 लोग मारे गए जबकि 100 अन्य घायल हो गए। अखबार के कडूना राज्य स्थित कार्यालय में भी विस्फोट हुआ, जिसमें तीन लोग मारे गए।

दैनिक भास्‍कर, उदयपुर के संपादक होंगे सुधीर मिश्रा

दैनिक भास्‍कर से खबर है कि प्रबंधन ने सुधीर मिश्रा को उदयपुर का स्‍थानीय संपादक बना दिया है. सुधीर इस समय कलस्‍टर एडिशन के संपादक के पद पर कार्य कर रहे थे. सुधीर को हरिश्‍चंद्र सिंह की जगह संपादक बनाया गया है. श्री सिंह भास्‍कर से इस्‍तीफा देकर अमर उजाला से जुड़ने वाले हैं. संभावना …

संसद को और नकारा मत बनाओ सचिन!

सचिन तेंदुलकर अब राज्य सभा के सदस्य बनेंगे। राज्य सभा यानी संसद का उपरी सदन, जहां बिना चुनाव लड़े लोग घुस सकते हैं। माननीय सांसद बन के। अजीब लगा। अजीब इसलिए कि- संसद और सांसद का मतलब क्या है? लोकतांत्रिक अधिकारों के तहत देश की सेवा, समाज की सेवा- जी हाँ! लोग ऐसा ही कहते हैं और हम भी ऐसा ही मानते हैं। पर इस सेवा का रास्ता – यकीनन क्रिकेट के मैदान में चौके-छक्के लगा कर, बेशुमार दौलत इकट्ठा कर, न ही अपने बोली लगवाकर (आई.पी.एल. में) तय किया जाता है। जो लोग ज़मीन से जुड़ कर नेता बनते हैं – ज़रा उनसे पूछिए कि कठिन मेहनत, लोगों की गालियाँ, नाराज़गी झेलने के बाद भी उन्हें कितना अवसर मिलता है (ना विश्वास हो तो, उत्तर-प्रदेश के चुनाव में, कड़ी मेहनत कर हार का स्वाद चखने वाले राहुल गांधी जी से पूछिए)।

फोन हैकिंग मामले में मर्डोक ने खुद को बताया पीडि़त

लंदन : रूपर्ट मर्डोक ने न्यूज ऑफ द व‌र्ल्ड में फोन हैकिंग मामले में सही समय पर हस्तक्षेप कर पाने में नाकाम रहने पर खेद जताया और अपनी कंपनी के बंद हो चुके अखबार में कुछ कर्मियों की लीपापोती का खुद को पीडि़त बताया। लेविसन आयोग के समक्ष अपनी दूसरी पेशी में 81 साल के मर्डोक ने कहा कि उन्हें न्यूज ऑफ द व‌र्ल्ड में इतने बड़े पैमाने पर अनैतिक तरीकों से खबर जुटाने की जानकारी नहीं थी।

मीडिया को उसकी सीमा समझाने के लिए गाइड लाइन

नई दिल्ली : अदालती कार्यवाही की रिपोर्टिग के लिए दिशा-निर्देश तय करने के लिए सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संवैधानिक पीठ ने गुरुवार को कहा कि यह मामला संवैधानिक प्रावधानों के तहत पत्रकारों की सीमाओं को स्पष्ट करने से संबंधित है। केंद्र ने इसका समर्थन करते हुए कहा कि न्यायिक कार्यवाहियों पर रिपोर्टिग को नियमित करने को लेकर उच्चतम न्यायालय पर कोई संवैधानिक रोक नहीं है।

उपेंद्र राय पहुंचे सहारा कार्यालय, नीचे की केबिन में भेजे गए स्‍वतंत्र मिश्रा

 

सहारा में स्‍वतंत्र मिश्रा के राज का खात्‍मा तो काफी समय पहले ही हो गया था, अब उन्‍हें गद्दी से भी उतार दिया गया. यानी अब उन्‍हें उस केबिन से बाहर कर दिया गया, जिसमें वे अपने शासनकाल में बैठकर सहारा की सत्‍ता संचालित करते थे. पूरी ताकत के साथ वापस लौटे उपेंद्र राय अब इसी केबिन में अपनी गद्दी संभाल चुके हैं. उपेंद्र आज स्‍वतंत्र मिश्रा से खाली कराए गए केबिन में कुछ देर के लिए बैठे.

आलोक तोमर की मां उर्मिला तोमर का भिंड में निधन

दिवंगत पत्रकार आलोक तोमर की मां उर्मिला तोमर का भिंड में निधन हो गया. वे 71 वर्ष की थीं. वे भी काफी समय से ओवरी के कैंसर से पीडि़त थीं. गुरुवार की शाम साढ़े सात बजे उन्‍होंने घर पर ही आखिरी सांस लीं. घर पर ही अचानक उनकी तबीयत बिगड़ गई. जब तक परिजन उन्‍हें हास्‍पीटल ले जाते उनका निधन हो गया. 

भास्‍कर के पत्रकार राजेश गाबा को यूथ ऑफ जर्नलिस्‍ट अवार्ड देंगे शिवराज सिंह चौहान

भोपाल। वर्किग जर्नलिस्ट एसोसिएशन फॉर यूथ ने सिटी भास्कर के रिपोर्टर राजेश गाबा (प्रिंस गाबा) को उत्तम रिपोर्टिग और साहित्यिक कला क्षेत्र में श्रेष्ठ योगदान के लिए 'यूथ ऑफ जर्नलिस्ट अवार्ड के लिए चुना है। शहीद भवन में 27 अप्रैल को होने वाले समारोह में शाम साढ़े चार बजे उन्हें यह सम्मान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, जनसंपर्क एवं संस्कृति मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा के हाथों प्रदान किया जाएगा। इससे पूर्व राजेश गाबा को पत्रकारिता के क्षेत्र में अनेक सम्मानों से नवाजा जा चुका है।

हिंदुस्‍तान विज्ञापन घोटाला : काशी प्रसाद ने कोर्ट में दर्ज कराया बयान, कई राज खोले

मुंगेर। विश्व के सनसनीखेज दैनिक हिन्दुस्तान के कथित दो सौ करोड़ के विज्ञापन घोटाले में जांच की आंच अब बिहार प्रबंधन के शीर्ष पदाधिकारियों के द्वार तक पहुंच गई है। अभियोजन के समर्थन में पुलिस के गवाह ने न्यायालय में धारा 164 के तहत दिए बयान में विज्ञापन घोटाले में कंपनी के बिहार राज्य के उपाध्यक्ष योगेश चन्द्र अग्रवाल के शामिल होने की बात उजागर की है। बयान में गवाह ने इस बड़े घोटाले में प्रबंधन के अन्य वरीय सहयोगियों और संपादकों की मिलीभगत को भी उजागर किया है।

अमर उजाला, देहरादून से हल्‍द्वानी भेजे गए गंगा उनियाल, पवन बने ईएमएस के विशेष संवाददाता

अमर उजाला, देहरादून से खबर है कि गंगा उनियाल का तबादला हल्‍द्वानी के लिए कर दिया गया है. वे यहां पर चीफ सब एडिटर थे. वे पिछले एक दशक से देहरादून में तैनात थे. वे पिछले काफी समय से गढ़वाल डेस्‍क के प्रभारी के रूप में काम देख रहे थे. इससे पहले वे मेरठ और ऋषिकेश में भी तैनात रह चुके हैं. बताया जा रहा है कि तबादले की सूचना मिलने के बाद उनियाल छुट्टी पर चले गए हैं.

आसाराम बापू ने यूपी के भदोही में टीवी जर्नलिस्ट को मारा थप्‍पड़

: अपने सहयोगियों से भी पिटवाया : आसाराम बापू और विवादों का चोली दामन का साथ रहा है. आसाराम को अपनी ताकत पर इतना घमंड है कि वो पत्रकारों से पहले भी अभद्रता कर चुका है. पर आज तो इसने हद करते हुए एक पत्रकार को ना सिर्फ गाली दी बल्कि उसे खुद थप्‍पड़ मारा और अपने चम्‍मचों से भी पिटवाया. पत्रकार का कैमरा भी छीन लिया गया. घटना यूपी के भदोही जिले की है. पत्रकारों के धरने के बाद आशाराम के लोगों ने कैमरा तो वापस कर दिया परन्‍तु टेप वापस नहीं किया.

अब फ्रंट पेज पर विज्ञापन प्रकाशित नहीं करेगा ‘द हिंदू’!

अंग्रेजी के प्रतिष्ठित अखबार 'द हिंदू' का फ्रंट पेज पर प्रकाशित एक विज्ञापन भूत की तरह पीछा नहीं छोड़ रहा है. अखबार के संपादक सिद्धार्थ वरदराजन ने भी माना है कि इस विज्ञापन से अखबार की छवि को धक्‍का लगा है. उन्‍होंने इसके लिए पॉलिसी बनाने की बात भी कही है. उल्‍लेखनीय है कि इस साल एक जनवरी को तमिलनाडु के एक कांग्रेसी नेता ने हिंदू में विज्ञापन प्रकाशित कराया था.

संजय गुप्‍ता का आदेश : जागरण के सिटी ऑफिस में नहीं चलेगा एसी!

: कानाफूसी : दैनिक जागरण समूह कर्मचारियों को कम पैसे देने तथा कर्मचारी हितों में कंजूसी दिखाने के लिए भले ही कुख्‍यात हो, पर अपने कार्यालयों में सुविधा उपलब्‍ध कराने में यह ग्रुप पीछे नहीं रहता है. इस अखबार समूह के कार्यालय नई तकनीक और सुविधाओं से पूरी तरह लैस रहते हैं. पर संजय गुप्‍ता के एक फरमान ने नए बहस को जन्‍म दे दिया है. यह फरमान कास्‍ट कटिंग के नाम पर जारी किया गया है या फिर कर्मचारियों से नाराजगी पर, कहना थोड़ा मुश्किल है, परन्‍तु कर्मचारी इस फरमान के बाद से परेशान हैं.

इंडिया टीवी नंबर वन, न्यूज एक्सप्रेस ने कई चैनलों को पछाड़ा

कई सप्‍ताह बाद एक बार फिर इंडिया टीवी ने सोलहवें हफ्ते में आजतक को नम्‍बर एक की कुर्सी से उतार दिया है. मामूली अंकों की बढ़त के साथ इंडिया टीवी नम्‍बर एक पर पहुंच गया है. ऐसा लग रहा है कि निर्मल बाबा के खिलाफ साफ्ट कार्नर रखने के चलते दर्शकों ने आजतक को दूसरे पायदान पर पहुंचा दिया है, वहीं अपने स्टिंग ऑपरेशन के जरिए बाबा की पोल खोलने का लाभ इंडिया टीवी को मिल गया है. जी न्‍यूज भी न्‍यूज24 को झटका देकर पांचवें पायदान पर पहुंचा दिया है.

आलोक तिवारी बने नेशनल दुनिया के बिजनेस एडिटर

जनसंदेश टाइम्‍स, कानपुर से आलोक तिवारी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर बिजनेस एडिटर थे. आलोक ने अपनी नई पारी नेशनल दुनिया, दिल्‍ली के साथ की है. उन्‍हें यहां भी बिजनेस एडिटर बनाया गया है. आलोक ने करियर की शुरुआत 1994 में दैनिक जागरण, कानपुर से की थी. लगभग दस सालों तक यहां …

इस साहसिक संपादक ने रामनाथ गोयनका को ‘ना’ कह दिया था

आज जब पत्रकारिता और संपादकीय नाम की संस्‍था में आए बदलाव को लेकर बहस जारी है. संपादक नाम की संस्‍था लगातार कमजोर होती जा रही है, संपादक मालिक के सामने सिर हिलाने के अलावा कुछ कर पाने की स्थिति में नहीं है तो कुछ पुराने संपादकों की नैतिकता, ना झुकने की प्रवृत्ति वाली कहानियां और किस्‍से मन को शांति देते हैं. कुलदीप नैयर ने सीनियर जर्नलिस्‍ट एवं इंडियन एक्‍सप्रेस, ट्रिब्‍यून समेत कई अखबारों के संपादक रह चुके वीके नरसिम्‍हन को याद करते हुए उनकी न झुकने की प्रवृत्ति को डेक्‍कन हेराल्‍ड में लिखे अपने लेख के माध्‍यम से श्रद्धांजलि दी है.

‘उभार’ के चलते दिलीप मंडल को चहुंओर गालियां, दिलीप बोले- नहीं सुधरूंगा

Avinash Das : दिलीप मंडल बड़े साहसी हैं लेकिन… ईटी हिंदी और इंडिया टुडे के बीच कॉरपोरेट पत्रकारिता को अंडरवर्ल्‍ड कहते हुए उसे खारिज भी करते हैं और ढेर सारे पिछड़ों-वंचितों का सपोर्ट भी पा लेते हैं… और धीरे से अपने चाहने वालों की आकांक्षाओं से समझौता करते हुए अंडरवर्ल्‍ड की राह भी पकड़ लेते हैं। वहां उनके जाने से भी हमें कोई एतराज नहीं अगर जैसा वे सोचते हैं, वैसी पत्रकारिता के लिए वहां जाकर स्‍टैंड ले लेते हैं … एतराज तब है, जब अंडरवर्ल्‍डनुमा पत्रकारिता के भीतरी एजेंडे को खुल्‍लम खुल्‍ला लागू करने की कोशिश करते हैं। इंडिया टुडे का ताजा अंक इसका उदाहरण है। कल Ajit Anjum ने इस ओर हमारा ध्‍यान दिलाया था, आज हमारा मन भी उस पर बात करने के लिए मचल रहा है। जो लिंक नीचे दिया जा रहा है, उसके हिंदी अनुवाद को हिंदी इंडिया टुडे में कवर स्‍टोरी के रूप में जगह मिली है। बहरहाल, इस नये ज्ञानदान के लिए दिलीप जी का शुक्रिया… और बधाई कि उम्‍दा पत्रकार के रूप में अभी अभी फारवार्ड प्रेस ने उनका सम्‍मान किया है।
Breast surgery is the new rage in India : India News – India Today
indiatoday.intoday.in
Women want them perfect. Men want less flab. Breast surgery is the new rage.

http://indiatoday.intoday.in/story/breast-implant-surgeries-in-india/1/185295.html

‘उभार की सनक’ में दिलीप जी का दलित उभार किधर गया?

Ashish Maharishi : बात बहुत पुरानी नहीं है। पत्रकारिता में नए-नए कदम रखे ही थे कि कई दिग्गजों का नाम सुनने को मिलता था। इसमें से एक थे पत्रकारिता, खासतौर से दबे, कुचले, दलितों के सबसे बड़े समर्थक दिलीप मंडल जी। कॉरपोरेट मीडिया और बाजार के सबसे बड़े विरोधी। वो वरिष्ठ पत्रकार और हम नए-नवेले। अच्छा लगता था उनके ब्लॉग को पढ़कर। उनकी राय जान कर। उनके विचार को जानकर। लेकिन एक दिन सबकुछ बदल गया। वो इंडिया टुडे हिंदी के संपादक हैं। संपादक बनने के साथ ही इनकी पत्रकारिता भी बदल गई। अब वह बड़े संपादकों में शुमार हो गए। खैर..पिछले दिनों इंडिया टुडे ने एक कवर स्टोरी की। जहां तक मैं दिलीप जी को जानता हूं, वो कभी भी ऐसी स्टोरी और कवर पेज के पक्ष में नहीं रहे होंगे लेकिन क्या करें बेचारे दिलीप जी। आखिर कॉरपोरेट मीडिया का जमाना है। कहां उनकी चलती होगी..तभी तो उभार की सनक के आगे दिलीप जी का दलित उभार कहीं खो सा गया।

नरेंद्र मोदी को करिश्माई कहने वालों, अभी उनका पाप नहीं धुला

Nadim S. Akhter : गुजरात दंगों के लिए 'दोषी' जिस नरेन्द्र मोदी को फेसबुक के हमारे एक वरिष्ठ पत्रकार साथी और एक प्रतिष्ठित हिन्दी चैनल के हेड ने करिश्माई कहा था, उसी नरेन्द्र मोदी को अमेरिका ने एक बार फिर वीजा देने से इनकार कर दिया है. लगता है अमेरिकी पत्रिका टाइम मैगजीन के कवर पर छपकर भी मोदी अपने 'पाप' नहीं धो पाए. दुनिया भर में अमेरिका की जो नीतियां हैं, उससे मैं सहमत नहीं हूं लेकिन मोदी के मामले में अमेरिका ने एक सुलझा फैसला लिया है. यह एक सांकेतिक फैसला है और राजनेताओं के लिए ऐसे फैसलों के बड़े मायने होते हैं. कारण ये है कि न तो मोदी अमेरिका जाने के लिए मरे जा रहे हैं और न ही इससे उनकी कुर्सी को कोई खतरा है लेकिन मोरल ग्राउंड पर नरेन्द्र मोदी और बीजेपी बैक फुट पर जरूर है. हालांकि कुछ लोग इसके लिए बराक हुसैन ओबामा के नाम में भी कुछ ढूंढ रहे हैं.. अमेरिका की विदेश नीति अलग है और मोदी पर उसका स्टैंड विदेश नीति का हिस्सा नहीं है…

दिल्‍ली में नवभारत की ब्‍यूरोचीफ बनीं इरा झा

वरिष्ठ महिला पत्रकार इरा झा ने नई पारी हिंदी दैनिक नवभारत से शुरू की है. उन्‍हें अखबार में दिल्‍ली का ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. इरा की गिनती देश की तेजतर्रार महिला पत्रकारों में की जाती है. वे पिछले ढाई दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं. इरा ने अपने करियर की शुरुआत 1985 में …

आमिर खान के पीछे पगलाये हुए अखबारों-चैनलों, जरा ये भी पक्ष सुन लो

Bhavesh Nandan : कल हुए एक “अदभुत खगोलीय घटना” में एक सितारा पटना के जमीन पर एक ढ़ाबे पर उतर आया, सबसे बड़ी बात कि सितारे ने लिट्टी-चोखा भी खाया… है न कमाल कि खबर…. अब इतनी बड़ी और दुर्लभ घटना हुई तो न्यूज तो बनता है.. न्यूज चैनल, "सोशल साइट्स" और आज अखबारों में यह छाया है… क्या ये पत्रकारों का “महानता” भर है या हमारी गुलाम मानसिकता या फिर पेड न्यूज का मामला.. क्योंकि यह सबको पता था कि वो अपने सीरियल के प्रचार के लिए पटना आये थे और आगे जा रहे हैं.. उस खबर को प्रायोजित तरीके से दिखाया जा रहा है, जो कि खबर ही नही है ….आमिर कि महानता …निभायी दोस्ती… रिक्शे वाले के यहाँ बने बाराती.. ये वही महान आमिर खान हैं, जिन्होंने अपनी फिल्म "पीपली लाईव" के गाने “महंगाई डायन……” के 20 लोक गायकों को एकमुश्त 1500 रुपये में ही निबटा दिया था (जबकि उन्हें पता था कि महंगाई डायन सबको खा रही है..).. ये मनरेगा की मजदूरी से भी कम था.. जबकि उसी फिल्म के प्रचार में आठ करोड़ फूंके गए थे.. पत्रकारों और संस्थानों को अपना इस्तेमाल होने देने से बचना चाहिए…

‘उभार’ वाले अंक को अरुण पुरी अपनी मां-बहन-बेटी को कैसे दिखाते होंगे?

Girish Pankaj : हिंदी पत्रकारिता का पतन तो साफ़ नज़र आ रहा है, मगर यह इतनी गिर जायेगी, कल्पना नहीं थी. दिल्ली से निकलने वाली एक समाचार पत्रिका के नए अंक में महिलाओं के उभारों पर केन्द्रित एक अंक निकलना है. आवरण पर अश्लील चित्र चस्पा किया और लिखा है ''उभार की सनक'' यह पत्रिका इसके पहले भी अश्लीलता की हदें पार करने वाले विशेषांक निकलती रही है. समझ नहीं आता कि ऐसे अश्लील अंक निकालने के बाद इनके मालिक अपने घर में अपनी अपनी बीवी, पिता, माँ, अपनी बहन का किस तरह सामना करते होंगे?. बाजारवाद का जय, जिसने नैतिकता के प्रश्न को निकाल बाहर कर दिया है.

‘दिव्‍य हिमाचल’ को नुकसान पहुंचाने के लिए पांच मई को लांच होगा ‘हिमाचल दस्‍तक’!

तिब्बती धर्मगुरु 17वें करमापा उग्येन त्रिनले दोरजे को विदेशी करेंसी प्रकरण में राहत मिल गई है। राज्य सरकार ने अदालत में विचाराधीन मामले में करमापा का नाम हटाने की सिफारिश की है। अदालत ने आरोप तय कर दिए हैं, लेकिन अब चार्जशीट से करमापा का नाम हट जाएगा। इस प्रकरण में करमापा समेत कुल दस लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई थी, जिनमें एक के.पी. भारद्वाज भी शामिल हैं।

धीरेंद्र व शब्‍हत अवधनामा तथा चंचल दैनिक प्रभात से जुड़े

लोकमत, लखनऊ से खबर हैं धीरेंद्र अस्‍थाना ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे लांचिंग के समय से ही अखबार के साथ जुड़े हुए थे. वे यहां पर संस्‍कृति संवाददाता के पद पर कार्यरत थे. धीरेंद्र ने अपनी नई पारी अवधनामा के साथ शुरू की है. धीरेंद्र इसके पहले आज, युनाइटेड भारत, जनसंदेश टाइम्‍स को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं. धीरेंद्र के साथ शब्‍हत विजेता ने भी अवधनामा ज्‍वाइन किया है. 

अजब-गजब पत्रकारिता : नोएडा में पंजाब केसरी के दो-दो कार्यालय, दो-दो ब्‍यूरोचीफ

अपने अखबार में नैतिकता को लेकर लम्‍बी-लम्‍बी भाषणबाजी करने वाले अश्‍वनी कुमार के अखबार में ही सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. बड़ा अजीब अखबार है पंजाब केसरी. अक्‍सर इसके ब्‍यूरोचीफ बदलते रहते हैं तो एक ही प्रेस कांफ्रेंस में पंजाब केसरी के कई पत्रकार पहुंच जाते हैं. आयोजक चकरा जाता है कि असली कौन है और नकली कौन है. किसे रोके किसे भगाए. कोई नियम कानून न होने से गुटबाजी हावी हो जाती है. ऐसा ही मामला पंजाब केसरी, नोएडा में है.

स्‍वतंत्र वार्ता का निजामाबाद व विशाखापत्‍तनम एडिशन बंद, संपादक प्रदीप श्रीवास्‍तव का इस्‍तीफा

दक्षिण भारत के प्रमुख हिंदी अखबार दैनिक स्‍वतंत्र वार्ता का निजामाबाद एवं विशाखापत्‍तनम एडिशन पर ताला लग गया है. संघी ग्रुप के अखबार का प्रकाशन एजीए पब्लिकेशन के बैनर तले किया जा रहा है. अखबार के संपादक प्रदीप श्रीवास्‍तव ने भी इस्‍तीफा दे दिया है. वे पिछले एक दशक से इस अखबार से जुड़े हुए थे. कुछ दिन पहले अखबार के प्रमुख संपादक समेत कई लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया था. बताया जा रहा है कि अखबार की आर्थिक स्थिति खराब है, कई महीने से कर्मचारियों को सेलरी नहीं मिली है.

एक सप्‍ताह बाद भी ब्‍लैक आउट की कालिख से रंगा है पॉजिटिव मीडिया

: मतंग सिंह की कंपनी का बुरा हाल : पॉजिटिव मीडिया ग्रुप के सभी छह चैनल लगभग एक सप्‍ताह बाद भी ब्‍लैक आउट पड़े हुए हैं. ग्रुप के किसी भी चैनल पर प्रसारण नहीं हो रहा है. पूर्व मंत्री मतंग सिंह का पॉजिटिव मीडिया ग्रुप कंगालियत के दौर में पहुंच चुका है. ट्रांशमिशन का किराया नहीं देने पर इस ग्रुप के चैनलों की फ्रिक्‍वेंसी रोक दी गई है. दूसरी तरफ इंडियन ओवरसीज बैंक का कर्ज सिर पर है और हमार टीवी के नीलाम होने की तलवार लटक रही है. कर्मचारियों को फरवरी माह के बाद से सेलरी भी नहीं मिली है.

न्‍यूज टाइम में मई में होगी सीनियरों की छंटनी, लिस्‍ट तैयार!

इसी महीने तीन दर्जन से ज्‍यादा कर्मचारियों की छंटनी करने वाले चैनल न्‍यूज टाइम (जनसंदेश) से खबर है कि मई महीने में भी कई लोगों की बलि ली जाएगी. सूत्रों का कहना है कि इसके लिए लिस्‍ट भी फाइनल कर ली गई है. इस बार की लिस्‍ट में सीनियर लोग शामिल हैं. इस सभी को भी कास्‍ट कटिंग के नाम पर चैनल से बाहर किया जाएगा. पिछले कुछ समय से न्‍यूज टाइम अपने कर्मचारियों के लिए कत्‍लगाह बन गया है. इस महीने संपादकीय से 15, एडिटिंग से 9, कैमरा सेक्‍शन से 5 एवं टेक्निकल विभाग से 3 लोग शहीद कर दिए गए हैं. 

श्रीनिवास हत्‍याकांड : माफिया के लिए काम करता था कैमरामैन!

: एसपी ने प्रेस काउंसिल को भी लिखा पत्र : रामगढ़ : न्‍यूज11 के कैमरामैन श्रीनिवास की हत्‍या के मामले में पुलिस के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं. पुलिस को श्रीनिवास उर्फ बुदुल के घर से जांच में एक सिम और चिप मिला है, जिसमें आपत्तिजनक बातचीत रिकार्ड है. जांच में यह भी सामने आया है कि बुदुल हजारीबाग के माफिया डॉन सुशील श्रीवास्‍तव के लिए काम करता था. पूछताछ में सुशील ने भी स्‍वीकार किया है कि बुदुल उनकी टीम के साथ था.

आगरा से लांच हुआ दैनिक ‘पुष्‍प सवेरा’

आगरा के अखबार जगत में अब "पुष्प सवेरा" ने भी दस्तक दी है। समाचार पत्र बाजार में उपलब्ध है। प्रतिदिन बीस रंगीन पृष्ठ और सप्ताह में चार-चार पृष्ठों के दो परिशिष्ट लेकर यह अखबार पाठकों को रिझाने में शुरुआती तौर पर कामयाब रहा है। समाचार पत्र प्रसिद्ध कंस्ट्रक्शन कंपनी पुष्पांजलि ग्रुप का है। समाचार पत्र की डमी कई माह से प्रकाशित की जा रही थी, अब इसे रंगीन गेटअप में प्रस्तुत किया गया है। माहभर प्रतिदिन तीन रुपये मूल्य का यह समाचार पत्र विभिन्न आकर्षक स्कीमों के साथ लांच किया गया है।

अमर उजाला में दिलीप सिंह का तबादला, लोकमत से रजा हुसैन का इस्‍तीफा

अमर उजाला, बरेली से खबर है कि दिलीप सिंह का तबादला इलाहाबाद के लिए कर दिया गया है. वे डेस्‍क पर तैनात थे. इसके पहले वे अमर उजाला, बनारस में तैनात थे. संपादक डा. तीरविजय सिंह से कुछ मनमुटाव होने के बाद उन्‍हें बरेली भेज दिया गया था. अब जब डा. तीरविजय का तबादला बरेली के लिए कर दिया गया है तो प्रबंधन किसी संभावित टकराव से बचने के लिए दिलीप को इलाहाबाद भेज दिया है. 

संपादक ने कहा खाली मिठाई से क्‍या होगा, रंडी और लवंडा का नाच करवाओ!

हिंदुस्‍तान, भागलपुर में संपादक विशेश्‍वर कुमार की अजीबोगरीब हरकतों से काम करने वाले पत्रकार परेशान हैं. कर्मचारियों का तनाव बढ़ गया है. अब वे किस को कब क्‍या कह दें उन्‍हें ही पता नहीं रहता. नौकरी से निकाल देने की धमकी तो बात बात पर दी जाती है. कल उन्‍होंने आफिस में ही रंडी की नाच और लवंडा नाच कराने की बात कह डाली. सूत्रों का कहना है कि हिंदुस्‍तान, भागलपुर का माहौल खराब हो गया है. कानपुर में भी हिंदुस्‍तान की ऐसी तैसी करने के बाद विशेश्‍वर कुमार को भागलपुर भेजा गया था. इस तबादले से विशेश्‍वर कुमार परेशान हैं और इस परेशानी की खीज अपने कर्मचारियों पर निकाल रहे हैं.

डेहरी ऑन सोन में राष्‍ट्रीय सहारा के पत्रकार के साथ पुलिसकर्मियों ने की मारपीट

: ब्‍यूरोचीफ नरेंद्र सिंह समेत कई पत्रकार एसपी से मिलकर जताई नाराजगी : डेहरी ऑन सोन में राष्‍ट्रीय सहारा का एक पत्रकार पुलिस की गुंडागर्दी का शिकार हो गया. पुलिसकर्मियों ने ना केवल पत्रकार के साथ मारपीट की बल्कि उसको फर्जी मामलों में फंसाने की कोशिश भी की. पत्रकार के पास मौजूद रुपये तथा सोने की सिकड़ी भी छीने जाने का आरोप है. पत्रकार ने एसडीजीएम कोर्ट में थाना प्रभारी सहित चार पुलिसकर्मियों के खिलाफ याचिका दायर किया है. 

हिंदुस्‍तान के विज्ञापन घोटाले की जांच दायरे में तीन पूर्व संपादक भी आए

मुंगेर। विश्व के सनसनीखेज हिन्दुस्तान के दौ सौ करोड़ के विज्ञापन घोटाले में पुलिस जांच में उस समय नाटकीय मोड़ आ गया जब जांच कर रही मुंगेर पुलिस ने विज्ञापन घोटाला में दैनिक हिन्दुस्तान के तीन अन्य भूतपूर्व संपादकों को पुलिस जांच के दायरे में ले लिया है। अब पुलिस हिन्दुस्तान विज्ञापन घोटाले में मेसर्स एचटी मीडिया लिमिटेड, जो अभी मेसर्स हिन्दुस्तान मीडिया वेन्चर्स लिमिटेड के नाम से जाना जाता है, के दैनिक हिन्दुस्तान के भूतपूर्व संपादक महेश खरे, विजय भास्‍कर एवं अन्य संपादकों की भूमिका की जांच करेगी।

देवरिया में आईबीएन7 के पत्रकार एवं परिजनों के विरुद्ध चार सौ बीसी का मामला दर्ज

देवरिया से खबर है कि एएनआई तथा आईबीएन7 के पत्रकार संदीप तिवारी व उनके परिवार के तीन सदस्‍यों पर सदर कोतवाली में फर्जीवाड़ा एवं चार सौ बीसी का मुकदमा दर्ज हुआ है. यह मुकदमा कोर्ट के आदेश के बाद दर्ज किया गया है. मामला उनके चाचा की तरफ से दर्ज कराया गया है. खबर है कि संदीप तिवारी एवं उनके परिजनों के पास एक दुकान थी. यह दुकान इनके चाचा के नाम से दर्ज थी. परन्‍तु इस दुकान का इस्‍तेमाल संदीप एवं उनके परिवार के लोग कर रहे थे.

दैनिक प्रभात, गाजियाबाद के ब्‍यूरोचीफ बने अभिनव

: कई अन्‍य भी टीम में शामिल : दैनिक प्रभात, गाजियाबाद से खबर है कि स्‍थानीय संपादक अवनींद्र ठाकुर ने अभिनव अग्रवाल को प्रमोट करके गाजियाबाद का ब्‍यूरोचीफ बना दिया है. अभिनव अखबार से लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे. इसके अलावा इनके टीम में भी कई लोगों को जोड़ा गया है. अभिनव के अलावा अभिषेक सिंह, दिनेश गौड़, विनोद कुमार पाण्‍डेय, शेखर चौधरी को भी गाजियाबाद की टीम में शामिल किया गया है.

वरिष्‍ठ पत्रकार यूसुफ अंसारी का पीस पार्टी से इस्‍तीफा

वरिष्‍ठ पत्रकार एवं पीस पार्टी के वरिष्‍ठ सदस्‍य यूसुफ अंसारी ने इस्‍तीफा दे दिया है. पार्टी में दूसरे नम्‍बर की हैसियत रखने वाले यूसुफ पार्टी के अंदर की गतिविधियों से नाराज थे. पीस पार्टी का जाना पहचाना चेहना माने जाने वाले यूसुफ कई सामाजिक संगठनों से भी जुड़े हुए हैं. लम्‍बे समय तक जी न्‍यूज को अपनी सेवा देने वाले यूसुफ लगभग दो साल पहले जी न्‍यूज से इस्‍तीफा देकर चैनल वन के हेड बन गए थे.

राजनीतिक संवाददाता की गोली मारकर हत्‍या

रियो डी जनेरियो। ब्राजीलियाई राजनीतिक संवाददाता व ब्लॉगर डेसियो सा की मारानहाओ प्रांत की राजधानी साओ लुइस के एक बार में गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी। सूत्रों के मुताबिक इंटर अमेरिकन प्रेस एसोसिएशन (आईएपीए) की ओर से ब्राजील में प्रेस को खतरे की चेतावनी जारी किए जाने के एक दिन बाद ही 'ओ इस्टाडो डू मारान्हो' समाचार पत्र के संवाददाता सा की हत्या का मामला सामने आया है। इस साल ब्राजील में तीन पत्रकारों की उनकी रिपो‌र्ट्स के लिए हत्या कर दी गई।

नवभारत को डुबोने वाले प्रफुल्‍ल माहेश्‍वरी अब यूएनआई को बरबाद करेंगे!

प्रफुल्ल माहेश्वरी जी अब यूएनआई संभालेंगे, पढ़ कर आश्चर्य हुआ. अच्छे खासे चल रहे नवभारत को मध्यप्रदेश में डुबाने का श्रेय उन्हें ही जाता है. वे पहले से डूबी हुई यूएनआई को किस तरह उबारेंगे यह मूल प्रश्न है. एनबी प्लांटेशन के नाम पर निवेशकों के करोड़ों डुबाने वाले, मध्यप्रदेश वित्त निगम के करोड़ों डुबोने वाले और अपने ही स्थानीय समाज में अपनी प्रतिष्ठा डुबो चुके प्रफुल्ल जी से यूएनआई के कर्मचारी आस लगाकर झूठे ही प्रफुल्लित हो रहे हैं.

Abhishek Manu Singhvi Sex CD (8) : कांग्रेसियों के बीच नंबर बढ़ाने के लिए सोशल मीडिया पर किटकिटाने लगे काटजू

: सच में कांग्रेसी एजेंट लगने लगे हैं मिस्टर काटजू : कारपोरेट मीडिया का कुछ उखाड़ नहीं पाए, अब कांग्रेसियों के आंख का तारा बनने के लिए बेवजह सोशल मीडिया को दुश्मन मान रहे : मिस्टर काटजू, हम आपको उन नब्बे फीसदी भारतीयों में शुमार करते हैं जिन्हें आप मूर्ख कहते हैं : जस्टिस काटजू के पिछले कुछ महीनों की गतिविधियों को अगर आपने ध्यान से देखा होगा तो उसके कई नतीजे निकाल सकते हैं. जैसे, अन्ना के आंदोलन के बाद कांग्रेस सरकार ने मीडिया पर निशाना साधा तो कांग्रेस के प्रवक्ता की तरह काटजू भी उस अभियान को चलाते बढ़ाते दिखे. टीवी वालों से आमतौर पर लोग नाखुश रहते हैं इसलिए कोई भी चैनलों के खिलाफ बोलता है तो लोग उसका समर्थन ही करते हैं. सो, काटजू का समर्थन हुआ.

वाह रे लाश के धंधेबाज जागरण वालों!

मेरी बातें सुनने/पढ़ने से पहले दैनिक जागरण, गोरखपुर एडिशन के कुशीनगर के लोकल पेज पर 17 मार्च 2012 को प्रकाशित खबर को जरूर पढ़ें. खबर पढ़ने के बाद ये मसला आपको जरूर समझ में आ जाएगा. सारांश मैं आपको बता देता हूँ कि मरने वाली लड़की मंजरी मेरे एक रिश्तेदार की बिटिया थी, जिसे अपना वैवाहिक जीवन दो माह भी पूरा करना नसीब नहीं हुआ. क्यों हुआ, कैसे हुआ, क्या हुआ, पुलिस की इनवस्टीगेशन में काफी कुछ सामने आ रहा है और बाकी न्यायलय में साफ़ हो ही जायेगा. फिलहाल जागरण में प्रकाशित इस खबर पर मैं चर्चा करना चाहता हूँ. 

एक एसडीएम, जो कानून, डीएम और न्‍यायालय के आदेशों पर भी भारी है!

गोरखपुर में एक तहसील है बांसगांव। इस के एसडीएम हैं अमरनाथ राय। बांसगांव में वह अमर होने की ठान कर बैठे हैं। प्रमोटी हैं। बरास्ता तहसीलदार एसडीएम हुए हैं। लेकिन दिमाग सातवें आसमान पर। पैसा मिल जाए तो कानून क्या किसी भी को भी बेंच खाएं। किस्से तो इन के कई हैं पर यहां बानगी के तौर पर बांसगांव तहसील के एक गांव बैदौली के एक वाकए का जायजा लें। रामधारी पांडेय अपनी ही ज़मीन पर 6 महीने से दीवार बना कर बैठे हैं पर अमरनाथ राय उन्हें लिंटर नहीं लगाने दे रहे हैं। रामधारी पांडेय के पक्ष में दीवानी न्यायालय की डिक्री उन्हों ने कूड़ेदान में डाल दी है। ज़िलाधकारी का आदेश उन के लिए कोई मायने नहीं रखता। जैसे कानून उन की जागीर हो। यह सब दो लाख रुपए रिश्वत और बसपा के एक माफ़िया नेता की सिफ़ारिश का नतीज़ा है।

हिंदुस्‍तान से संजीव गर्ग का इस्‍तीफा, ललित मोहन की एचबीसी से छुट्टी

हिंदुस्‍तान से खबर है कि संजीव गर्ग इस्‍तीफा दे दिया है. वे प्रमुख संवाददाता के रूप में कार्यरत हैं तथा खेल डेस्‍क पर अपनी जिम्‍मेदारी निभा रहे थे. संजीव लगभग ढाई दशक से हिंदुस्‍तान के साथ जुड़े हुए थे. बताया जा रहा है कि वे अपनी नई पारी दैनिक जागरण के साथ वरिष्‍ठ पद पर शुरू करने जा रहे हैं. संजीव ने करियर की शुरुआत 1986 में हिंदुस्‍तान के साथ फोटो कंपोजिंग ऑपरेटर के रूप में की थी. बाद में अपनी मेहनत तथा काबिलियत के बल पर प्रमुख संवाददाता के पद पर पहुंचे थे. उनकी कई बाइलाइन स्‍टोरियां हिंदुस्‍तान के अलावा हिंदुस्‍तान टाइम्‍स में भी प्रकाशित हुईं. उनकी गिनती हिंदुस्‍तान के अच्‍छे खेल पत्रकारों में की जाती है.  

इंडिया टीवी के सीएफओ बने गुलाब मखीजा, प्रदीप, सुभ्रा, रोहित एवं प्रशांत भी जुड़े

इंडिया टीवी ने टीवी टुडे को झटका देते हुए कई लोगों को अपने साथ जोड़ा है. इंडिया टीवी ने गुलाब मखीजा को कंपनी का सीएफओ (चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर) बनाया है. मखीजा इसके पहले टीवी टुडे ग्रुप को इस पद पर अपनी सेवाएं दे रहे थे. इसके पहले इंडिया टीवी में संदीप खोसला सीएफओ और सीओओ दोनों की जिम्‍मेदारी निभा रहे थे. मखीजा कंपनी की वित्‍तीय सुधारों की जिम्‍मेदारी निभाएंगे.

तरुण गोगोई असम में लांच करेंगे सरकारी चैनल

गुवाहाटी। ममता बनर्जी की तरह असम के मुख्यमंत्री तरुण गोगोई भी एक सरकारी टेलीविजन चैनल लाने जा रहें हैं। दरअसल, "हम कुछ भी करेगा' के तर्ज पर चल रहे असम के इलेक्ट्रानिक मीडिया की भूमिका से मुख्यमंत्री तरुण गोगोई खासे नाराज चल रहे हैं। गोगोई ने आज प्रदेश के इलेक्ट्रानिक मीडिया की निरंकुश भूमिका पर सवाल खड़ा करते हुए एक नया सरकारी टीवी चैनल खोलने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि यहां की प्रिंट मीडिया इलेक्ट्रानिक मीडिया की वनिस्पत काफी अच्छी भूमिका का निर्वाह कर रहा है।

वसूली करने वाले दो फर्जी पत्रकारों की जमकर पिटाई, पुलिस को सौंपा

सहारनपुर : कुतुबशेर थाना क्षेत्र के मानकमऊ में एक व्यापारी से वसूली को पहुंचे दो फर्जी पत्रकारों को स्थानीय लोगों ने दबोच लिया। इसके बाद जूते-चप्पलों से जमकर पिटाई की। पीटते हुए थाना कुतुबशेर ले गए। स्‍थानीय लोगों ने दोनों के खिलाफ अवैध वसूली की तहरीर पुलिस को दी। पुलिस ने दोनों को अपने कस्‍टडी में ले लिया। इसके पहले भी यह दोनों आरटीओ आफिस में अवैध वसूली करते पकड़े जा चुके हैं।

मजिस्‍ट्रेट ने नवभारत के मालिक प्रफुल्‍ल माहेश्‍वरी व संपादक सत्‍यभूषण पर जुर्माना ठोंका

इंदौर। मानहानिकारक खबर छापने पर इंदौर की मजिस्‍ट्रेट कोर्ट ने 23 अप्रैल को ‘नवभारत’ समाचार पत्र के मालिक प्रफुल्ल माहेश्वरी व प्रकाशक सत्यभूषण शर्मा के खिलाफ फैसला सुनाते हुए उन्हें फरियादी को 5-5 हजार का मुआवजा देने का आदेश दिया है। फरियादी अरूण कुमार जैन के मुताबिक उन्होंने एक निजी परिवाद 10 साल पहले इंदौर की मजिस्‍ट्रेट कोर्ट में लगाया था, जिसमें कहा गया था कि उन्हें तत्कालीन मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के कार्यकाल में द्वेषभाव के चलते धार के विधायक करण सिंह पंवार ने सीएसपी पीथमपुर के रूप में पदस्थ रहते निलंबित कर दिया गया था।

चैनल वन वाले कानपुर मंडल में कइयों से लाखों लेकर चंपत

सेवा में, श्रीमान् सम्पादक, भडास 4 मीडिया डाट काम। विषय- बेरोजगारों को पत्रकार बनाने का झासा देकर कानपुर मण्डल से चैनल वन न्यूज के मार्केटिंग हेड ने ठगे लोगों से लाखों रुपये। महोदय, विधानसभा चुनाव के दौरान कानपुर में लान्च हुआ चैनल वन न्यूज ने कानपुर नगर व मण्डल के अन्य जनपदों व तहसील स्तर के लोगों से आई.डी. देकर रुपये वसूलने व हफ्ते के भीतर अथारिटी लेटर व आई.कार्ड. देने का वादा कर किसी से नगद किसी से चेक किसी से डी.डी. लेकर लाखों रुपये अपनी जेब मोटी कर चले गये बल्कि चुनाव कवरेज करने के दौरान आई ओ.वी. वैन का डीजल व स्टाफ का खर्चा भी इन बेरोजगारों को अपनी जेब से करना पड़ा। चुनाव खत्म होने के बाद समय गुजरता गया।

नेटवर्क10 बिका, नए-पुराने मालिकों ने दो महीने की सेलरी मारी

उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से जोरशोर से शुरू हुआ नेटवर्क10 अब खुद खबर बन गया है. अब खबर ये है कि राजीव गर्ग जो नेटवर्क10 के मालिक हैं, ने अपने चैनल का 50 प्रतिशत हिस्सा यूपी के बीजेपी के किसी नेता रामानंद यादव कानपुर वाले को बेच दिया है. दो महीने से सेलरी की बाट जोह रहे नेटवर्क 10 के कर्मचारियों ने जब अपनी दो महीने की सेलरी नए मालिक से मांगी तो नए मालिक रामानंद यादव ने पिछली सेलरी के लिए राजीव गर्ग से संपर्क करने को कहा. उधर राजीव गर्ग ने दो महीने की सेलरी देने से कर्मचारियों को साफ साफ मना कर दिया है.

हरिश्चंद्र सिंह बनेंगे अमर उजाला कानपुर के संपादक, भाषा सिंह फिर पहुंचीं आउटलुक हिंदी

हिंदी मीडिया जगत के कंटेंट फील्ड से आवाजाही की दो सूचनाएं हैं. अभी तक दैनिक भास्कर, राजस्थान में सेवा दे रहे हरिश्चंद्र सिंह के बारे में सूचना मिल रही है कि वे संस्थान से नाता तोड़कर अमर उजाला समूह के साथ जुड़ने वाले हैं. चर्चा है कि हरिश्चंद्र सिंह अमर उजाला, कानपुर के संपादक बनाए जाएंगे. दिनेश जुयाल का तबादला नोएडा में कांपैक्ट के प्रभारी के रूप में किए जाने से कानपुर में संपादक की कुर्सी अभी तक खाली पड़ी हुई है. कई लोगों का नाम संपादक के रूप में उछला पर किसी का फाइनल नहीं हुआ.

”अगर यही पत्रकारिता है तो आलोक मेहता और इस तरह की खबरें गढने वाले धन्य हैं”

यशवंत जी, ''हद के कांग्रेसी चाटुकार हो गए हैं आलोक मेहता'', शीर्षक वाले लेख में लेखक के विचार बेहद मौजू हैं। यह कोई नया बदलाव नहीं है। अगर आलोक मेहता के पिछले एक दशक की पत्रकारिता पर नजर दौड़ाएं तो आपको मिलेगा कि पत्रकारिता के मानदंडों और नैतिकता के मूल्यों को आलोक जी ने आउटलुट पत्रिका के दौरान ही त्याग दिया था। आलोक मेहता ने कुछ साल पहले ''पत्रकारिता की लक्ष्मणरेखा'' नाम से एक पुस्तक लिखी थी। ऐसा लगता है कि इस पुस्तक का उद्देश्य पत्रकारों की नई पीढी को भ्रम में रखना और उन्हें आलोक मेहता जैसे स्वनामधन्य पत्रकारों की कारगुजारियों से अनभिज्ञ रखने का कुत्सित प्रयास था।

पश्चिम में एक चलन है, आप सेलेब्रिटी हैं तो आपका एक सेक्स वीडियो होना मांगता, है तो उसको लीक होना मांगता

यश जी प्रणाम, कैसे हैं. भइ, जब भरी दुपहरी में किरकिट खेल रहे हैं तो ठीक ही होंगे. बढ़िया. बढ़िया. हमने सोचा चलो हमई खटखटा लें. सिद्ध तो व्यस्त हैं. तो सिद्ध महोदय निर्मल बाबा की आपने अच्छी ऐसी-तैसी करवा दी. बेचारा ठीक ठाक कमा खा रहा था, आपने सब चौपट कर दिया. वैसे ये आदमी बाबा बनने के लायक नहीं है. बहुत कमजोर निकला. अब पट्ठे को समझ में आएगा के बेटा महीन काटना चाहिए, इतना मोटा नहीं. वर्ना तो देखिये कितने बाबा हुए और हैं जो डटे हुए हैं और अपनी पूरी पारी खेल के ही विदा हुए और होंगे.

4रियल न्‍यूज : चैनल है या बंधुआ मजदूरों की फैक्‍ट्री, दी जाती है पीटने की धमकी!

रोज नए-नए चैनल खुल रहे हैं. चार लोग मिलकर कहीं से एक आसामी पकड़ लिया. उन्‍हें सब्‍ज बाग दिखाए और खोल लिया एक चैनल. कुछ लोग तो इस खेल में बन जाते हैं पर इन सब के बीच नुकसान पत्रकारों का हो रहा है. ऐसा ही एक चैनल खुलने जा रहा है 4रियल न्‍यूज. इस चैनल में ऐसी अराजकता है कि यह पत्रकारों का संस्‍थान ना होकर मजदूरों का संस्‍थान बन गया है. चैनल में बारह-बारह घंटे की शिफ्ट, पिक अप-ड्रापिंग की कोई सुविधा नहीं और थोड़ी देर लेट हुए तो आधे दिन की सेलरी खतम. अब ताजा खबर है कि न्‍यूज हेड पत्रकारों की पीटने की धमकी दे रहा है. 

पुत्र के साथ मिलकर महिला ने पत्रकार पर किया हमला, मामला दर्ज

: कैमरा भी तोड़ डाला : भोपाल : एक खबर के सिलसिले में कोलार स्थित शालीमार पार्क गए डीबी स्टार के पत्रकार से एक महिला और उसके बेटे ने धक्का-मुक्की की तथा उनका कैमरा तोड़ डाला. डीबी स्‍टार के पत्रकार भीम सिंह मीणा अपने साथी फोटो जर्नलिस्ट जाहिद मीर के साथ रविवार दोपहर न्यूज कवरेज के लिए शालीमार पार्क में रहने वाली महिला एवं वित्त विकास निगम की अध्यक्ष सुधा जैन के घर गए थे. यहां पूछने पर पता चला कि सुधा जैन घर पर नहीं हैं. इस पर भीम एवं उनके साथी फोटोग्राफर ने उनके मकान तथा वाहन का फोटो लेने के बाद बाहर निकलने लगे.

मातृश्री पुरस्‍कार से नवाजे जाएंगे कई मीडिया संस्‍थानों के दर्जनों पत्रकार

पत्रकारों और कलाकारों को उनके क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान के लिए दिये जाने वाले 36वें मातृश्री मीडिया पुरस्कारों की आज घोषणा की गई. प्रेस ट्रस्ट आफ इंडिया के ई टी वी शिव प्रियन और पीटीआई भाषा के नेत्रपाल शर्मा, यूएनआई के कमलेश कुमार एवं यूनीवार्ता के सुरेश तिवारी को इस पुरस्कार के लिए चुना गया है. इसके अलावा एक धावक से डकैत बने खिलाड़ी की पीड़ा दर्शाती फिल्म पान सिंह तोमर को सर्वश्रेष्ठ फीचर फिल्म घोषित किया गया.

अवनींद्र ठाकुर बने दैनिक प्रभात, गाजियाबाद के संपादक

 दैनिक प्रभात से खबर है कि समूह के जीएम अवनींद्र ठाकुर को अखबार के गाजियाबाद एडिशन का संपादक भी बना दिया गया है. पिछले दिनों ही इस एडिशन के संपादक अशोक निर्वाण ने इस्‍तीफा दे दिया था, तब से इस पद पर किसी की नियुक्ति नहीं की गई थी. चीफ सब एडिटर के रूप में काम कर रहे दिलीप झा को प्रमोट करके अखबार का न्‍यूज एडिटर बना दिया गया है. दिलीप लम्‍बे अर्से से दैनिक प्रभात से जुड़े हुए हैं. मेरठ से उनका तबादला गाजियाबाद किया गया था.

ट्रां‍समिशन किराया न देने पर पॉजिटिव समूह के हमार, फोकस समेत सभी चैनलों में ब्‍लैक आउट

: कर्मचारी परेशान : पूर्व मंत्री मतंग सिंह के पॉजिटिव मीडिया ग्रुप के छह चैनल ब्‍लैक आउट पड़े हुए हैं. किसी भी चैनल पर प्रसारण नहीं हो रहा है. इस ग्रुप के चैनल फोकस टीवी, हमार टीवी, एनई बांग्‍ला, एचवाई टीवी, हाई फाई, एई टीवी ब्‍लैक आउट है. तीन दिनों से चैनल पर कुछ भी प्रसारित नहीं हो रहा है. सूत्रों का कहना है कि मैनेजमेंट की ओर ट्रांसमिशन का किराया ना चुकाने की वजह से इस ग्रुप के सारे चैनलों को ब्‍लैक आउट कर दिया गया है. 

एबीपी न्‍यूज ने जारी किया अपना लोगो, स्‍टार न्‍यूज जैसा आभास

आनंद बाजार पत्रिका समूह और स्‍टार समूह के अलग होने के बाद स्‍टार न्‍यूज के एबीपी न्‍यूज बनने की आधिकारिक घोषणा पहले ही की जा चुकी है. इस बार आनंद बाजार पत्रिका समूह ने एबीपी न्‍यूज चैनल का लोगो भी जारी कर दिया है. नए लोगो को देखकर साफ लग रहा है कि एबीपी ग्रुप स्‍टार के ब्रांड लुक को भुनाने की कोशिश कर रहा है. नया लोगो स्‍टार न्‍यूज से मिलता जुलता नजर आ रहा है. 

हद के कांग्रेसी चाटुकार हो गए हैं आलोक मेहता!

संपादक आलोक मेहता की कांग्रेस के 'अघोषित प्रवक्‍ता' के तौर पर लम्‍बे समय से छिछालेदर होती रही है. पर इस बार मेहता ने चाटुकारिता की सारी हदें पार करते हुए निष्‍पक्ष पत्रकारिता को भी नीचा दिखाने का काम किया है. 22 अप्रैल को प्रकाशित नेशनल दुनिया के प्रथम पृष्‍ठ पर मेहता ने अपनी विशेष टिप्‍पणी में बेशर्मी की हद पार करते हुए लिखा है, ''अग्नि की सफलता पर राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री के बधाई संदेश अवश्य पढ़ने-सुनने को मिले, लेकिन भारतीय जनता पार्टी के किसी शीर्ष नेता का बधाई संदेश देखने को नहीं मिला.'' जबकि वास्‍तविकता यह है कि 19 अप्रैल को ही भाजपा अध्‍यक्ष नितिन गडकरी ने अपने बधाई संदेश जारी कर दिए थे.

चैनल के रिपोर्टर को ही अपना साथी बताने से इनकार किया कल्‍याण कुमार ने

: पत्रकार रविकांत सिंह से अभद्रता करने के बाद एसपी सोनभद्र  ने हेड से मांगी थी जानकारी : दलाली करने वाले पत्रकार संगठन भी नहीं खड़े हुए रवि के साथ :  अपने अपने चैनलों के लिए जूझने वाले पत्रकारों की हैसियत क्‍या है ये किसी से छिपी हुई नहीं है. पत्रकारों को प्रबंधन टीसू पेपर की तरह इस्‍तेमाल करता है. जब जरूरत हुई यूज कर लिया जब जरूरत हुई थ्रो कर दिया. खबरों के लिए तो चैनल इनको किसी भी हद तक जाने को कहता है, पर जब ये किसी परेशानी में फंसते हैं तो चैनल और वरिष्‍ठ पत्रकार अपने हाथ खड़े कर लेते हैं. ऐसा ही हुआ है सी न्‍यूज सोनभद्र के रिपोर्टर रविकांत सिंह के साथ. जिसने पत्रकारों को सोचने को मजबूर कर दिया है.

इन्‍कलाब के नम्‍बर एक होने पर सहा उर्दू में हड़कंप

उर्दू दैनिक इन्‍कलाब को शुरू हुए अभी एक साल का समय भी नहीं हुआ है लेकिन उस ने दिल्ली और यूपी के कई शहरों में पहला स्थान बना लिया है. इस कारण सहारा उर्दू में हड़कंप मच गया है. हर दिन वहां इन्‍कलाब में छपने वाली एक्‍सक्‍लूसिव खबरों को ले कर चर्चा होती है और फिर उन्हीं ख़बरों का फालोअप प्रकाशित करने की कोशिश की जाती है. स्थानीय समाचारों में बुरी तरह पिछड़ जाने की वजह से उर्दू सहारा ने कई लोगों को डेस्क से हटा कर रिपोर्टिंग में लगा दिया है.

नब्बे फीसदी भारतीय मूर्ख हैं (पार्ट दो) : काटजू

: The 90% – Part II : by Justice Markandey Katju : After my article ‘The 90%’ was published, I got a call from the Delhi correspondent of the Wall Street Journal asking me on what basis I had mentioned the figure 90% when I said that 90% Indians are fools. I replied that it was not a mathematical figure, what I meant was that an overwhelming number of Indians were fools. Therefore the figure might be 85%, on the other hand it could be 95%. Consider the following facts:

दिव्‍य भास्‍कर ने फोटो समेत छापी गुजरात समाचार के मालिक के गिरफ्तार होने की खबर

गुजरात में भास्‍कर ग्रुप के दिव्‍य भास्‍कर एवं गुजरात समाचार के बीच की प्रतिद्वंद्विता जग जाहिर है. दोनों अखबार एक दूसरे के खिलाफ मौका मिलने पर मौका नहीं चूकते हैं. पिछले दिनों भास्‍कर ग्रुप के अखबार डीबी स्‍टार से जुड़े पत्रकार प्रसन्‍न भट्ट के जमीन घोटाला मामले में फंसने के बाद गुजरात समाचार ने भास्‍कर समूह के खिलाफ मोर्चा खोल लिया था. इस बाद मौका भास्‍कर समूह के हाथ लगा है. गुजरात समाचार के मालिक खमम शाह समेत पुलिस ने 41 लोगों को गिरफ्तार किया है. मामला एक पार्टी में हो हल्‍ला तथा शराब पीने से जुड़ा हुआ है. आप भी पढ़ सकते हैं दिव्‍य भास्‍कर में प्रकाशित इस खबर को.

बिना सिर वाली मुख्यमंत्री

कार्टूनिस्टों के साथ यही मुश्किल है। वे सीधी बात करते ही नहीं हैं। जो भी कहना है घुमा-फिराकर कहेंगे भले ही अर्थ का अनर्थ क्यों न हो जाए। इसीलिए वे कहते कुछ हैं और लोग समझते कुछ और हैं। जब देखो तब तमाम तरह के भ्रम पैदा करते रहते हैं मगर ऐसे बने रहते हैं जैसे कुछ किया ही न हो। कोई कार्रवाई करो तो लोकतंत्र और मीडिया की आज़ादी का झंडा उठा लेंगे।

Fraud Nirmal Baba (83) : अस्सी फीसदी लोग मानते हैं कि कृपा के बहाने लूट रहा है बबवा (न्यूज एक्सप्रेस – सी वोटर सर्वे)

पिछले एक पखवाड़े से पूरा हिंदुस्तान अंधविश्वास पर हाल के समय की सबसे बड़ी बहस कर रहा है… ये बहस भले ही इंटरनेट और न्यूज़ एक्सप्रेस की बदौलत शुरु हुई हो, मगर अब ये तमाम न्यूज़ चैनलों और अख़बारों से होती हुई गाँव-गाँव, शहर-शहर फैल चुकी है… इस बहस के केंद्र में है निर्मल जीत सिंह नरूला उर्फ निर्मल बाबा, जो दावा करता है कि उसके पास सिद्धियां हैं, शक्तियां हैं और उनके बल पर वो किसी भी समस्या को दूर कर सकता है।

Fraud Nirmal Baba (82) : पीएनबी पहुंचकर एसपी शिवदीप ने निर्मल बाबा के खाते को खंगाला

: कौन हैं निर्मल बाबा? (भाग बारह) : 100 रुपये से पांच हजार तक चढ़ाते हैं भक्त : वेबसाइट पर टिकटों की बुकिंग बंद, पर समागम स्थल पर कालाबाजारी : पांच हजार में तत्काल टिकट पा सकते हैं भक्त : रांची : निर्मल जीत सिंह नरूला उर्फ निर्मल बाबा पर नया आरोप लगा है. समागम और दसवंद के नाम पर पैसे वसूलनेवाले बाबा चढ़ावा भी लेते हैं. बाबा के समागम में आने के लिए भक्तों को सिर्फ दो हजार रुपये ही जमा नहीं करने पड़ते. समागम में आने के बाद भी उन्हें पैसे चुकाने होते हैं. इसे चढ़ावा कहा जाता है. समाचार चैनल इंडिया टीवी ने दिल्ली में 18 अप्रैल को हुए बाबा के समागम की रिकॉर्डिग जारी की है. इसमें दिखाया गया है कि समागम खत्म होने के बाद भक्त एक -एक कर निर्मल बाबा के मंच के पास जाते हैं.

आर्यन के न्‍यूज चैनल और अखबार में होगी छंटनी!

यशवंतजी, पटना से संचालित आर्यन टीवी न्‍यूज चैनल में एक बार फिर छंटनी की तैयारी है. प्रबंधन ने पिछले महीने यहां और इसी ग्रुप के सांध्‍य अखबार आर्यन संदेश के पत्रकारों का लिखित परीक्षा लिया था. 17 अप्रैल को परीक्षा का परिणाम निकला. परिणाम को जारी करते हुए चैनल के संपादक अभिरंजन कुमार ने इस बात का संकेत दिया कि 50 प्रतिशत से कम लाने वाले पत्रकार सोचें कि क्‍या मैं मीडिया लायक हूं? इशारे इशारे में उन्‍होंने छंटनी की संभावनाएं भी जता दीं.

भारत में कालिदास और टैगोर की कविताएं बेमतलब : काटजू

मुरादाबाद : भारतीय प्रेस परिषद के प्रमुख न्यायमूर्ति मार्कंडेय काटजू ने कहा है कि सिर्फ मनोरंजन करने वाले साहित्य का कोई मतलब नहीं है, देश को ऐसे साहित्य की जरूरत है जो समाज की सेवा को समर्पित हो। काटजू ने कहा कि ऐसे देश में जहां किसान खुदकुशी करते हैं और जहां 47 प्रतिशत बच्चे कुपोषण का शिकार हैं, वहां कीट्स, टीएस एलियट, टैगोर और कालिदास की कविताएं बेमानी हैं क्योंकि वे मनोरंजन के अलावा कोई सामाजिक उददेश्यों को पूरा नहीं करती हैं।

झारखंड में मीडियाकर्मी की सरेआम गोली मारकर हत्‍या, दो हिरासत में

: पत्रकारों में रोष : झारखंड के रामगढ़ जिला में एक मीडियाकर्मी की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई. बदमाशों ने इस हत्‍याकांड को शनिवार की शाम को अंजाम दिया. एक निजी चैनल में कैमरामैन श्रीनिवास सोनकर अपने गोला रोड के पास स्थित अपने घर से निकले ही थे कि अज्ञात बदमाशों ने मीडियाकर्मी को निशाना बनाते हुए ताबड़तोड़ गोलियां चलानी शुरू कर दी. गोली लगते ही श्रीनिवास नीचे गिर गए इसके बाद भी बदमाशों ने कई गोलियां उन पर चलाईं.

पीड़ा और सरोकार का पाखंड रचते लोग (सुभाष राय की कलम से)

भारत पोंगापंथियों और पाखंडियों का देश है। सभी उसी कतार में खड़े हैं। नकल करते हुए, झूठ बोलते हुए, दिखावे की दुनिया रचते हुए। ज्यादातर दोहरे आचरण केशिकार हैं। बड़े दिखना चाहते हैं लेकिन अपना छोटापन, छिछोरापन छोडऩा नहीं चाहते। सब के  सब अवसर की तलाश में हैं पर अवसरवादी कहलाना पसंद नहीं करते। जहाँ कहीं गुंजाइश दिखती है, लाभ की गंध मिलती है, फायदा दिखता है, चुपचाप, बहुत सावधानी से, चालाकी के साथ अपनी जगह बना लेना चाहते हैं लेकिन कोशिश करते हैं कि कोई उनकी चालाकी समझ न पाये। चाहे वाम हों, दक्षिण हों या दिशा-दृष्टि से मुक्त, अनुकूलता हासिल करने के लिए दिशा बदलने में तनिक संकोच नहीं करते। पल भर का दक्षिणावर्त अगर मदद कर सके तो जाता क्या है, कौन देखता है, किसे इतनी फुरसत है कि इस तरह गौर करे। चलेगा। एक क्षण वाम होने में अगर काम बनता है तो क्या, जीवन भर दक्षिणक्रम साधे रहे, कौन संदेह करेगा, कौन ध्यान देगा। जिनकी कोई दिशा नहीं है, जो शुद्ध कलाकार हैं, उनके लिए तो हर दरवाजा खुला हुआ है। वे योगी का प्रसाद भी ले सकते हैं, भोगी के ऐश्वर्य में भी हिस्सा बँटा सकते हैं और अपनी असंगता एवं निर्लिप्ति का खुलेआम डंका भी बजा सकते हैं।

महेश वर्मा ने जन टीवी ज्‍वाइन किया

डी9 चैनल, जयपुर से खबर है कि महेश वर्मा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एसोसिएट प्रोड्यूसर कम एंकर के पद पर कार्यरत थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी जयपुर से जल्‍द लांच होने जा रहे चैनल जन टीवी के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी उसी पद पर लाया गया है. महेश …

दैनिक जागरण के संपादकीय प्रभारी दिलीप अवस्‍थी की मां का निधन

दैनिक जागरण, लखनऊ के संपादकीय प्रभारी दिलीप अवस्‍थी की माताजी का रविवार को लखनऊ में निधन हो गया. वे अस्‍सी साल की थीं तथा कुछ समय से बीमार चल रही थीं. उनके निधन की सूचना मिलते ही पत्रकारों में शोक व्‍याप्‍त हो गया. उनका अंतिम संस्‍कार लखनऊ के बैकुंठधाम श्‍मशान गृह पर किया गया. इस …

जनंसदेश टाइम्‍स का बांदा, महोबा, हमीरपुर एवं चित्रकुट एडिशन नहीं हुआ प्रकाशित

: पेमेंट के विवाद की वजह से अखबार प्रकाशन पर प्रभाव पड़ने की चर्चा : जनसंदेश टाइम्‍स, कानपुर से जुड़े चार जिलों में रविवार को अखबार का एडिशन नहीं पहुंचा. बताया जा रहा है कि पैसों के विवाद को लेकर बांदा, महोबा, हमीरपुर एवं चित्रकुट का एडिशन प्रकाशित नहीं किया गया. इन जिलों में पत्रकार प्रबंधन के खिलाफ आंदोलन पर उतर गए हैं. हालांकि प्रबंधन का कहना है कि प्रिंटिंग यूनिट में गड़बड़ी आ जाने के चलते इन जिलों के एडिशन प्रकाशित नहीं हो पाए, जिसके चलते अखबार नहीं भेजा जा सका.

‘समाचार प्लस’ न्यूज चैनल का प्रमोशनल पोस्टर जारी

पत्रकार उमेश कुमार के नेतृत्व में लांच होने जा रहे नए न्यूज चैनल समाचार प्लस का प्रचार अभियान शुरू कर दिया गया है. उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कई इलाकों में इस चैनल के बारे में लोगों को बताने के लिए होर्डिंग लगाए जाने की तैयारी हैं. होर्डिंग के लिए जो प्रमोशनल पब्लिसिटी कंटेंट तैयार किया गया है, उसे आज जारी कर दिया गया. इस प्रमोशनल पब्लिसिटी कंटेंट (पोस्टर उर्फ विज्ञापन) को कई एजेंसियों के सहयोग से तैयार कराया गया है.

टीम अन्ना का सदस्य ही टीम अन्ना की कर रहा था मुखबिरी, निकाला गया

टीम अन्ना की जासूसी टीम अन्ना का ही एक आदमी कर रहा था. इसका खुलासा आज कोर कमेटी की बैठक के दौरान हो गया. टीम अन्ना ने अपने सदस्य मुफ्ती शहमीम काजमी को बैठक की कार्यवाही की रिकार्डिंग करने के आरोप में टीम से बाहर निकाल दिया. उधर काजमी ने राजनीति खेल दिया है और दावा किया कि वह आंदोलन से इसलिए अलग हो रहे हैं क्योंकि आंदोलन मुस्लिम विरोधी होता जा रहा है. आखिर उनके पास कहने के लिए और बचा भी क्या था.

‘आरक्षी विजय यादव संगठन के नाम पर पुलिसवालों से उगाही कर रहा है’

उत्‍तर प्रदेश पुलिस एसोसिएशन के संस्‍थापक सुबोध यादव ने बनारस के क्षेत्रीय विशेष शाखा, अधिसूचना विभाग के एसपी को पत्र लिखकर पुलिसवालों से चंदा वसूली करने की शिकायत की है. सुबोध ने पत्र में लिखा है कि जेडओ आजमगढ़ में तैनात आरक्षी विजय कुमार उनके संगठन के नाम पर पत्रकारों से वसूली कर रहा है, जबकि उनके द्वारा ऐसा कोई संदेश एसोसिएशन के पदाधिकारी एवं सदस्‍यों को नहीं दिया गया है और ना ही संगठन का किसी बैंक में खाता है.

जागरण, किशनगंज से दुर्गेश का तबादला, प्रदीप नए प्रभारी

दैनिक जागरण, भागलपुर से खबर है कि किशनगंज के प्रभारी दुर्गेश सिंह को यूनिट में बुला लिया गया है. दुर्गेश पिछले पांच सालों से किशनगंज की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. उनकी जगह भागलपुर में डेस्‍क पर तैनात प्रदीप श्रीवास्‍तव को किशनगंज का नया प्रभारी बनाया गया है. दुर्गेश भागलपुर में तीन डेस्‍कों की जिम्‍मेदारी संभालेंगे. …

अमर उजाला ने रिपोर्टर तनुज को आफिस न आने का फरमान जारी किया!

: कानाफूसी : अमर उजाला प्रबन्धन ने हरिद्वार के रिपोर्टर तनुज़ वालिया को आफिस न आने का फरमान जारी कर दिया है। तनुज वालिया अमर उजाला के तेज़ तर्रार रिपोर्टर के रुप में जाने जाते हैं, लेकिन ब्यूरो प्रमुख अजय चौहान से अनबनी का नतीज़ा उन्हें आखिरकार भुगतना ही पड़ा। अजय चौहान की संस्तुति पर …

कार्टून्‍स चोरी करके छाप रहा है नवभारत

प्रिय यशवंतजी, मैं एक व्यंग्यचित्रकार हूँ और लगभग १२ वर्षों से प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया से जुड़ा हूँ. मैं इसी के साथ अपना एक ब्लॉग भी चलता हूँ जिसका लिंक है http://www.satishupadhyay.blogspot.com/.  पिछले कई महीनों से नवभारत समाचार पत्र जो नागपुर से प्रकाशित होता है और भी कुछ अखबार मेरे कार्टून्स और विरुपचित्र मेरे ब्लॉग से बिना इजाजत छाप रहा है. मेरे ब्लॉग पर प्रकाशित सामग्री मैंने इंडिया न्यूज़ के लिए तैयार की थी. एक स्थापित समाचार पत्र द्वारा इस प्रकार का कृत्य निंदनीय  और दंडनीय भी है. ये वही अखबार है जिसने ८ वर्षों पहले कार्टून जैसी चीजों की नवभारत में जगह के लिए इनकार किया था.

हिंदुस्‍तान, पटना के दो पत्रकारों के साथ कार्यालय के गेट पर बदतमीजी

पटना में हिंदुस्‍तान के दो पत्रकारों के साथ कुछ लोगों ने गेट के सामने बदतमीजी और हाथापाई करने की कोशिश की. बाद में अन्‍य लोगों के आ जाने पर वे लोग चले गए. घटना के पीछे पैसे का लेन देन बताया जा रहा है. सूत्रों का कहना है कि हिंदुस्‍तान पटना में कार्यरत अवधेश पाण्‍डेय के भाई के ऊपर मोबाइल टावर लगावने वाले कुछ लोगों का पैसा बकाया था, जो वे दे नहीं रहे थे. उसी को खोजते-खोजते ये लोग हिंदुस्‍तान, पटना कार्यालय पहुंच गए. 

दैनिक जागरण का नेशनल एडिशन बंद होने की ओर

जागरण ग्रुप से सूचना है कि दैनिक जागरण का नेशनल एडिशन बंदी की कगार पर पहुंच गया है. प्रबंधन इस सफेद हाथी को ठिकाने लगाने की कोशिश करने लगा है. नोएडा में नेशनल एडिशन की टीम में करीब डेढ़ दर्जन लोग हैं. इन्हें अब सेंट्रल डेस्क का हिस्सा इसीलिए बना दिया गया है ताकि कल को बंदी की परिघटना का कोई खास असर न पड़े और कम से कम लोगों को बाहर का रास्ता दिखाना पड़े. सूत्रों के मुताबिक मध्य प्रदेश में नईदुनिया के टेकओवर के बाद से जागरण प्रबंधन नेशनल एडिशन के कारोबार को समेटने में लग गया है. जागरण नेशनल एडिशन का भोपाल संस्करण बंद कर दिया गया है. दिल्ली में सरकुलेशन दिन पर दिन कम किया जा रहा है. विज्ञापन इस अखबार को मिलता नहीं. इस नेशनल अखबार की कोई चर्चा भी कहीं नहीं होती.

Fraud Nirmal Baba (81) : निर्मल बाबा को तीन बार पैसे दिए पर फायदे की जगह हुआ नुकसान, एफआईआर दर्ज

पटना से खबर है कि बिहार के अररिया जिले में निर्मल बाबा के खिलाफ एक एफआईआर दर्ज हो गई  है. इसमें बाबा के एक भक्त रहे शख्स का कहना है कि उसने बाबा को तीन बार पैसे दिए पर उसका फायदा होने की जगह नुकसान हो गया. भक्तों पर कृपा बरसाकर उनके कष्ट दूर करने का दावा करने वाले निर्मल बाबा के खिलाफ पहली एफआईआर दर्ज हो गई है. बिहार के अररिया के हाफिजगंज थाने में निर्मल बाबा के भक्त रहे शख्स ने उनके खिलाफ धोखाधड़ी और ठगी का केस दर्ज कराया है.

पच्चीस वर्ष तक के युवा पत्रकारों को नभाटा दे रहा मौका, अप्लाई करें

नवभारत टाइम्स ऑनलाइन में काम का भार बढ़ने से कुछ युवा साथियों की ज़रूरत है. नभाटा की तरफ से प्रकाशित खबर में कहा गया है- ''हमें फिलहाल कुछ ताज़ा चेहरे चाहिए। अनुभव न हो, कोई बात नहीं लेकिन पत्रकारिता, खासकर डेस्क के काम में रुचि हो और टेक्नॉलजी से घबराता न हो। सामान्य ज्ञान अच्छा हो और हिंदी-इंग्लिश दोनों भाषाओं में अनुवाद कर सके। इन्हें हम इंटर्न/ट्रेनी के तौर पर रखेंगे। पहली पारी 6 महीनों की है और काम देखने के बाद और आगे की ज़रूरत देखने के बाद उनका भविष्य तय होगा। अगर आप हमारे साथ काम करना चाहते हैं तो हमें अपना रेज़्युमे इस पते पर भेजें – nbtonline@indiatimes.co.in सब्जेक्ट लाइन में NBT Intern/Trainee लिखें।

Abhishek Manu Singhvi Sex CD (8) : सुप्रीम कोर्ट के अहाते में बैठकर सेक्स करने वाले सिंघवी को सजा मिले

एक महिला वकील के साथ कथित सेक्स टेप के कारण चर्चा में आये अभिषेक मनु सिंघवी कुछ भी कहें लेकिन वे घटना से इंकार नहीं कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी में भी अभिषेक मनु सिंघवी के बचाव में सिर्फ यही कहा जा रहा है कि यह उनकी निजी जिंदगी है, उसमें सार्वजनिक जीवन को मिलाना ठीक नहीं होगा, लेकिन इस बीच अभिषेक मनु सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट स्थित अपने चैम्बर को पूरा बदल दिया है।

बनारस से प्रकाशित ”पूर्वांचल आजकल” के बंद होने की चर्चा

बनारस से प्रकाशित सांध्‍य दैनिक के बंद होने की चर्चाएं हैं. अखबार पिछले कुछ दिनों से शहर में नहीं दिख रहा है. कई दिनों से अखबार लोगों को पढ़ने को भी नहीं मिला है, जिसके चलते लोग कयास लगा रहे हैं कि अखबार बंद होने जा रहा है. पांच महीने पहले शुरू हुए इस सांध्‍य दैनिक ने शहर में अपनी एक अच्‍छी पहचान बना ली है. बनारस में लोगों को गांडीव की बजाय पूर्वांचल आजकल का इंतजार रहने लगा है. लिहाजा इसका मार्केट में न आना इसके बंद होने की कयास को जन्‍म दे रहा है. साथ ही इस अखबार के साथ जुड़े पत्रकार भी अपने भविष्‍य को लेकर चिंतित नजर आ रहे हैं. 

FB Yash (4) : मैं अभिषेक मनु सिंघवी के पक्ष में हूं…

Yashwant Singh : मैं सिंघवी के पक्ष में हूं (उस साले से कभी बात न की, आज भी न किया और आगे भी न करूंगा) क्योंकि वो सहज किस्म के मनुष्य रहे होंगे और प्यारे मनुष्य भी रहे होंगे, तभी तो अपने अंधेरेखाने में अपना जीवन जी रहे होंगे. अब वो ऐसा न रह सकेंगे क्योंकि कांड जो हो गया है. किसी ने कहा था कि सेक्स को इगनोर करने वाले ज्यादातर लोग हिप्पोक्रेट या कुंठित या दबावयुक्त प्राणी होते हैं. ये मैं सही मानता हूं. सिंघवी ने केवल जज बनाने की बात की, मैं होता तो इस दौरान चांद तारे तक लाकर देने की बात करता. मैं हिंदी समाज की घटिया मेंटलटी से घृणा करता हूं.

FB Yash (3) : मैं निर्मल बाबा को रिप्लेस करने की सोच रहा हूं…

Yashwant Singh : निर्मल बाबा को रिप्लेस करने की सोच रहा हूं… पहली तस्वीर डाल रहा हूं, हफ्ते भर पुरानी है. यह चलेगा या नहीं… आपकी राय चाहिए, कोटि कोटि कृपा होगी…

दो पत्रकारों की गोली मारकर हत्‍या

: तेरह अन्‍य लोग भी मारे गए : मेक्सिको के उत्तरी शहर चिहुआहुआ में एक बंदूकधारी ने एक बार में घुसकर दो पत्रकारों समेत 15 लोगों की गोली मार कर हत्या कर दी। अटार्नी कार्यालय के एक सूत्र ने बताया कि चिहुआहुआ में मारे गए पत्रकारों की पहचान हेक्टर जेवियर सेलिनास अगूरे और जेवियर मोया मुनुज के तौर पर हुई है। वे पिछले कई वर्षों से रेडियो स्टेशन के लिए काम कर रहे थे।

FB Yash (2) : शिवपाल यादव, क्या हुआ मीडिया वालों का उत्पीड़न न होने देने का तेरा वादा?

Yashwant Singh : यूपी में सपा का गुंडाराज. सपाइयों ने हूटर लगी गाड़ियों से जाकर एक पत्रकार को जमकर पीटा. फिरोजाबाद की घटना. कहां हैं शिवपाल यादव जिन्होंने चुनाव से पहले कहा था कि सपा राज में मीडिया वालों का उत्पीड़न नहीं होगा. ये तो और कोई नहीं बल्कि उनके बंधु बांधव ही करने लगे हैं मीडिया वालों पर हमला. बेहद निंदनीय और शर्मनाक. लिंक ये है- http://bhadas4media.com/edhar-udhar/3922-2012-04-20-14-20-27.html

Yashwant Singh : सरकार आने के बाद फिर पगला गए सपाई, सपा विधायक के भाई ने चौकी इंचार्ज को फोन पर कहा- शिवपाल का है सिर पर हाथ, दो मिनट में हटवा दूंगा… लिंक ये है- http://bhadas4media.com/vividh/3808-2012-04-15-10-55-21.html

FB Yash (1) : दिल्ली में कोई मेरे जैसा खलिहर है!

Yashwant Singh : जब लोग नौकरी करते हैं तो मैं क्रिकेट खेलता हूं… वो भी भरीपूरी दिल्ली में…. लगता ही नहीं कि मैं लायक आदमी हूं… कभी कभी खुद पर गर्व होता है कि, नौकर नहीं हूं किसी का… कभी कभी बोर होता हूं कि सारे मित्र नौकर हैं तो टाइमपास किसके साथ करूं…. सर्किल अपग्रेड नहीं कर सका क्योंकि गली के गरीबों के साथ दोस्ती गांठने और उनके सुख दुख में जीने में आजभी भरपूर मजा आता है. तो, ऐसे में अब दिल्ली में कुछ ऐसे दोस्त तलाश रहा हूं जिनसे दिन में गपियाया जा सके, क्रिकेट खेला जा सके… फिल्म देखा जा सके…. कोई मेरी तरह खलिहर हो तो बताए.

दिलीप मंडल जी, महिलाओं को तराशे हुए वक्ष रखने की सलाह देने के लिए बधाई

Ajit Anjum : हमारे एक पत्रकार साथी हैं, दिलीप मंडल. सरोकारी पत्रकारिता के बड़े पक्षधर और कॉरपोरेट पत्रकारिता के भयंकर विरोधी. विचारों से काफी क्रांतिकारी किस्म के हैं. इन दिनों इंडिया टुडे (हिन्दी) के संपादक हैं. दिलीप जी के हिन्दी इंडिया टुडे के कवर पर दुनिया भर की महिलाओं और पुरुषों के सरोकार से जुड़ी एक कवर स्टोरी है. शीर्षक है- उभार की सनक. कवर पर एक तस्वीर है, जिसके नीचे लिखा है- महिलाओं को चाहिए तराशे हुए वक्ष और मर्दों को चुस्त की चाहत. दिलीप जी को बधाई, ऐसी कवर स्टोरी के लिए. वैसे ये अंग्रेजी इंडिया टुडे का अनुवाद है. आप सब लोग भी चाहें दिलीप मंडल जी को इतना शानदार अंक निकालने के लिए और जन सरोकार वाली पत्रकारिता करने के लिए बधाई दे सकते हैं.

तीन पत्रकारों की विधवाओं को हरियाणा पत्रकार कल्‍याण कोष ने दी आर्थिक सहायता

चंडीगढ़। हरियाणा पत्रकार कल्याण कोष से तीन पत्रकारों की विधवाओं को दो-दो लाख रुपए की वित्तीय सहायता दी गई। जिला कैथल के सिवान से गुडमार्निग के पत्रकार स्व. श्री राम कुमार भट्ट की विधवा श्रीमती सावित्री देवी, जिला मेवात के नूंह से दैनिक जागरण के पत्रकार स्व. श्री रमेश चंद सिंगला की विधवा श्रीमती पुष्पा और फरीदाबाद के भारत दर्शन के संपादक स्व. श्री मुखी भीमसेन की विधवा श्रीमती लाजवंती शामिल थी। हरियाणा पत्रकार संघ की ओर से श्री रमेशचंद सिंगला की विधवा लाजवंती को पांच लाख रुपए का चैक सौंपा गया।

Fraud Nirmal Baba (80) : इंडिया टीवी का खुलासा – ब्‍लैक में बिकता है समागम का टिकट

नई दिल्ली : विवादों से घिरे निर्मल बाबा पर नया आरोप लगा है। यह आरोप समागम में जाने के लिए टिकटों की कालाबाजारी का है। इसका खुलासा इंडिया टीवी ने किया है। अपने आरोप में चैनल ने स्टिंग ऑपरेशन के आधार पर दावा किया है कि दिल्ली में हाल ही में हुए निर्मल बाबा के समागम के लिए टिकटों की कालाबाजारी हुई है। एक-एक टिकट कई हजार में बिका। चैनल के अनुसार- समागम में जाने के लिए भक्‍तों को दो हजार रुपये देकर रजिस्‍ट्रेशन कराना पड़ता है।

जब दिल्ली में दूरदर्शन हो सकता है तो बंगाल में बंगदर्शन क्यों नहीं!

Ravish Kumar : बंग सरकार अपना चैनल और अख़बार लाएगी। केंद्र सरकार की तरह। जब दिल्ली में दूरदर्शन हो सकता है तो बंगाल में बंगदर्शन क्यों नहीं। मध्य प्रदेश, गुजरात, यूपी, बिहार में क्यों नहीं। सबको मीडिया चाहिए। राजनीतिक दलों की पत्रिकाएं किसी कूड़े के ढेर से कम नहीं। इन्हें छापने वाले लोग हाथ में लिए नेताओं के यहां घूमते रहते हैं। पार्टी के भीतर ही कम लोग पढ़ते हैं। विश्वसनीयता किसी के पास नहीं है। सबने ज़िम्मेदारी की दुकानदारी की है। सोशल मीडिया ही समानांतर मीडिया है। यह वैकल्पिक नहीं है। जब सरकारें, राजनीतिक दल इनके ज़रिये जनमत में घालमेल करने की कोशिश करती हैं तब ठीक लेकिन जब इसके सेनानी उल्टें सरकार या दल के खिलाफ बोलने लगते हैं तो परेशानी होने लगती हैं। राष्ट्रीय से लेकर क्षेत्रीय दल सब मीडिया और केबल टीवी में धंधा कर रहे हैं और नियंत्रण कर रहे हैं। इसलिए सोशल मीडिया को अपनी ताकत बेहतर करने का वक्त आ गया है। एक ही कमज़ोरी है। एक व्यक्ति को डराना आसान होता है। असीम त्रिवेदी पर राष्ट्र द्रोह का मुकदमा चलता है मगर उसी संसद पर हमला करने वाले अण्णा पर राष्ट्र द्रोह का नहीं चलता। नेता का बिगाड़ नहीं सकते तो समर्थकों की तलाश करो। फिर इस सवाल का जवाब भी नहीं देते कि संसद की गरिमा किसने गिराई। नेताओं ने या सोशल मीडिया के कार्टून ने।

Abhishek Manu Singhvi Sex CD (7) : काटजू ने अंबिका सोनी को पत्र लिखकर सोशल मीडिया पर अंकुश की मांग की

: काटजू ने कहा- सोशल मीडिया के कारण देश में किसी की भी इज्जत सुरक्षित नहीं : ये है पूरा पत्र… : To, Mrs. Ambika Soni, Hon’ble Union Minister for Information & Broadcasting, New Delhi. 22.4.2012. Dear Mrs. Soni, I am deeply distressed that a new practice has developed in the social media of its misuse for defaming people /groups /religions /communities. The recent example is of dissemination of a CD which even the author admitted had been distorted for defaming a reputed senior lawyer of the Supreme Court and Member of Parliament, and the threat to defame a Union Minister.

देहसुख में डूबता देश

प्रेम और देह व्यापार अलग-अलग हैं. प्रेम या आत्मीय लगाव, सहज मानवीय घटना है. पर इंद्रियसुख का गुलाम बनना पतन का संकेत है. दुनिया में जासूसी के अनेक प्रकरण हैं, जहां सौंदर्य के बल मुल्कों की संवेदनशील सूचनाएं निकाल ली गयीं. इसलिए आज भी अमेरिका या ब्रिटेन या पश्चिम के अन्य देशों में खुला माहौल है, सेक्स संबंधों में पूरब के देशों की तरह स्थिति नहीं है, फिर भी जब शासकवर्ग में किसी व्यक्ति के संबंध, शादी के दायरे से बाहर के उजागर होते हैं, तो तूफान खड़ा हो जाता है.

जागरण, ललितपुर के इंचार्ज बने शिशिर, रवींद्र भी जुड़े

दैनिक जागरण, झांसी से शिशिर श्रीवास्‍तव को ललितपुर भेज दिया गया है. उन्‍हें जिले का प्रभारी बनाया गया है. उनके पास एडिटोरियल समेत सभी जिम्‍मेदारियां रहेंगी. पूर्व प्रभारी अजय तिवारी के इस्‍तीफा देकर दैनिक जनता यूनियन चले जाने के बाद यह पद खाली था. शिशिर झांसी में रीजनल डेस्‍क पर तैनात थे. शिशिर की गिनती …

जनसंदेश टाइम्‍स से जुड़े शैलेंद्र एवं अशोक

जनसंदेश टाइम्‍स, वाराणसी से खबर है कि दो लोगों ने अपनी नई पारी शुरू की है. हिंदुस्‍तान से इस्‍तीफा देकर शैलेंद्र माथुर ने जनसंदेश टाइम्‍स का दामन थामा है. वे काफी समय से हिंदुस्‍तान को बनारस में अपनी सेवाएं दे रहे थे. यहां पर उन्‍हें डाक डेस्‍क पर लाया गया है. वहीं दैनिक जागरण को …

विष्‍णु त्रिपाठी होंगे नेशनल आउटपुट एडिटर, राजीव सचान को सेंट्रल डेस्‍क की जिम्‍मेदारी

दैनिक जागरण, नोएडा से खबर है कि प्रबंधन ने अपने दो एसोसिएट एडिटरों का कद बढ़ाते हुए उनकी जिम्‍मेदारियां भी बढ़ा दी है. प्रबंधन ने विष्‍णु त्रिपाठी को ग्रुप आउटपुट एडिटर बना दिया है. विष्‍णु नेशनल आउटपुट देखने के साथ ग्रुप के सभी प्रोडक्ट्स के बीच एडिटोरियल कोआर्डिनेशन भी देखेंगे. उनके जिम्‍मे जागरण के तमाम यूनिटों को कंटेंट लेबल पर मजबूती देने का काम होगा. विष्‍णु अभी सीएनटी की जिम्‍मेदारी भी संभाल रहे थे. मूल रूप से कानपुर के रहने वाले विष्‍णु त्रिपाठी लम्‍बे समय से दैनिक जागरण से जुड़े हुए हैं.

आज़ादी के लिए आइए आज पिंजरों में क़ैद होते हैं…

: असीम का नया कैम्पेन : असीम और उनके साथी एक बार फिर सरकारी सेंसरशिप के खिलाफ जुटने वाले हैं और इस बार जंतर मंतर पर…क्या कहा आप असीम को नहीं जानते, हद कर दी आपने। असीम कार्टूनिस्ट हैं और पिछले साढ़े तीन महीने से कानपुर से अपना घर और काम छोड़ कर दिल्ली समेत हिंदुस्मेंतान भर में वेब मीडिया पर सरकार की सेंसरशिप का विरोध करने के एजेंडे के साथ कभी राजघाट…कभी इंडिया गेट…तो कभी बेंगलुरु के वृंदावन गार्डेन्स पर दिखते हैं। कभी गांधी की समाधि पर भजन गाते और कार्टून बनाते हैं, कभी राजघाट पर बाहर कर दिए जाते हैं, तो पुलिस के घेरे में ही ही कपिल सिब्बल को मूर्ख दिवस की शुभकामनाएं देते हैं…कभी इंडिया गेट पर कार्टून्स का अम्बार लगा देते हैं और इस बार असीम और उनके साथी आलोक जंतर मंतर पर अब तक का सबसे अनोखा विरोध प्रदर्शन करने वाले हैं। असीम हमारे लिए कुछ पिंजरे लाए हैं, जो हमारी आज़ादी के लिए रास्ता खोजेंगे।

न्यूज24 में राहुल महाजन के पर कतरे, कर्मियों का होने लगा भरपूर शोषण

राजीव शुक्ला और अनुराधा प्रसाद के न्यूज चैनल न्यूज24 से खबर है कि राहुल महाजन के पर कतर दिए गए हैं. उन्हें न्यूज24 के कामकाज से पूरी तरह मुक्त कर दिया गया. साथ ही ग्रुप के धार्मिक चैनल दर्शन24 का प्रभार भी उनसे ले लिया गया है. वे सिर्फ ग्रुप के इंटरटेनमेंट चैनल ई24 तक सीमित कर दिए गए हैं. अभी तक वह न्यूज24 के प्रोग्रामिंग हेड, दर्शन24 के हेड और ई24 के हेड हुआ करते थे. उनकी रिपोर्टिंग सीधे मालिकान को हुआ करती थी. न्यूज24 के मैनेजिंग एडिटर अजीत अंजुम के बारे में कहा जाता है कि वे अपने चैनल में सिर्फ राहुल महाजन से चुनौती पाते थे लेकिन ताजे घटनाक्रम से यह संदेश सभी के बीच चला गया है कि अजीत अंजुम का ही सिक्का न्यूज24 में चलता है.

Abhishek Manu Singhvi Sex CD (6) : भस्मासुर बनती सोशल नेटवर्किंग साइट्स!

आखिर एक बार फिर से सोशल नेटवर्किग पर फैले कुछेक साथियों ने कानून को दरकिनार वह करने का साहस दिखा दिया, जो साहस मुख्यधारा की मीडिया को करना चाहिए था। बात देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और राज्य सभा सांसद अभिषेक मनु सिंघवी के उस कथित सेक्स टेप की, जिसमें उन्हें एक महिला के साथ अतरंग पलों में दिखाया गया है। इस सीडी के प्रसारण पर कोर्ट ने रोक लगाया तो मीडिया खामोश रहा लेकिन फेसबुक, ट्विटर, ब्लॉगर और वैकल्पिक मीडिया के अलावा कुछेक न्यूज वेबसाइट्स पर मनु की पोल पट्टी खुलती गई। लेकिन इसी के साथ यह बहस भी पैदा हो गई है कि आखिर किसी की व्यक्तिगत जिंदगी को क्यों ऐसे सरेआम उछाला जाए? जबकि कानूनीतौर पर भी किसी बालिग का किसी बालिग के साथ संबंध गलत नहीं है?

वाशिंगटन में प्रणव ने अमेरिका से किया वादा, खत्म होगी हर तरह की सब्सिडी!

गरीबों की शामत! वाशिंगटन में प्रणव ने अमेरिका से किया वादा, अब खत्म होगी हर तरह की सब्सिडी! प्रणव के इन ऐतिहासिक बयानों के बाद ज्यादातर ब्रोकरों का मानना है कि अगले हफ्ते बाजार से कमाने का अच्छा मौका बना है। प्रणब मुखर्जी वॉशिंगटन स्थित शोध संस्थान पीटर जी पीटरसन इंस्टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल इकानॉमिक्‍स में आयोजित एक कार्यक्रम में सवालों के जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा कि उदाहरण के लिए सभी एलपीजी ग्राहकों को बाजार दर पर गैस उपलब्ध कराई जा रही है, जबकि लक्षित लाभार्थियों को उनके बैंक खाते में सबसिडी मुहैया कराई जा रही है। इसका क्रियान्वयन फिलहाल पायलट योजना के तौर पर किया जा रहा है। कुछ समय बाद इसे सभी जगह लागू किया जाएगा।

प्राचार्य ने अमर उजाला के पत्रकार को मारपीट कर बंधक बनाया, मीडियाकर्मी हुए आंदोलित

: कोतवाल ने भी पत्रकारों से की अभद्रता : प्राचार्य के खिलाफ मामला दर्ज, कोतवाल होगा लाइन हाजिर : चंदौली जिले में सच लिखना अब पत्रकारों के लिए भारी पड़ता जा रहा है. खबर पता करने एक कॉलेज में पहुंचे अमर उजाला के पत्रकार को प्राचार्य तथा उनके गुर्गों ने पहले मारा पीटा तथा बंधक बनाया लिया. सूचना मिलने पर पहुंचे कोतवाल ने भी आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाय पत्रकारों को ही अपशब्‍द कहा, जिससे नाराज पत्रकार प्राचार्य तथा कोतवाल के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़ गए. खबर है कि वरिष्‍ठ अधिकारियों द्वारा दोनों के खिलाफ कार्रवाई के आश्‍वासन के बाद पत्रकार शांत हुए. प्राचार्य के खिलाफ पत्रकार ने मामला दर्ज करा दिया है.

ममता बनर्जी शुरू करेंगी अखबार और चैनल!

कोलकाता : मीडिया से परेशान और मीडिया को लेकर अजब-गजब बयान देने वाली ममता बनर्जी अब खुद का चैनल और अखबार लांच करने जा रही हैं. लोगों को चुनिंदा न्यूज चैनल देखने से मना करने और मनोरंजन चैनल देखने की सलाह देने वाली वेस्‍ट बंगाल की सीएम और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने अब कहा है कि उनकी सरकार खुद का टीवी चैनल और अखबार निकालेगी. उन्होंने कहा कि उनके टीवी चैनल और अखबार सरकार के कार्यक्रम और उपलब्धियों को जनता तक पहुंचाएंगे.

इनोवेशन डे पर लोकमत समाचार का धमाका

: रेनबो रिवॉल्यूशन नाम से नायाब परिशिष्ठ निकाला : वर्ल्ड क्रिएटविटी एंड इनोवेशन डे पर लोकमत समाचार, नागपुर ने विशेष परिशिष्ठ प्रकाशित किया. रेनबो रिवोल्यूशन नाम से प्रकाशित परिशिष्ठ के पेज को बहुत ही इनोवेटिव तरीके से सजाया गया. चार पेज के इस विशेष परिशिष्ठ  की तैयारी पिछले कई दिनों से की जा रही थी. इस कांसेप्ट को लोकमत के संपादक विकास मिश्र और उनकी टीम ने तैयार किया था. इनोवेशन के क्षेत्न से जुड़े ख्यातनाम लोगों के लेख भी अखबार ने प्रकाशित किए.

गिफ्ट को लेकर मचा घमासान, पत्रकारों में चले लात-घूंसे

झांसी। नामचीन बिल्डरों द्वारा एक होटल में पत्रकारवार्ता का आयोजन किया गया था। इस पत्रकारवार्ता में मात्र 30 पत्रकारों को ही बुलाया गया था और इसके बाद पत्रकारवार्ता शुरू होते ही करीब 60 से ऊपर पत्रकार पहुंच गये। इसके बाद पत्रकारवार्ता के बीच में ही पत्रकारों को एक-एक सूटकेस बांटी जाने लगी। इसी बीच पत्रकार पत्रकार वार्ता भूलकर सूटकेस लेने में लग गए और जिसको सूटकेस मिलता गया वो सूटकेस लेकर चलता गया। इसी बीच वहां पर सूटकेस कम पड़ गये और इसी को लेकर वहां पत्रकारों में आयोजकों के सामने ही लात-घूंसे चलने लगे और विवाद की स्थिति पैदा हो गई।

माया के चहेते पोंटी चड्ढा और जेपी गौड़ पर सपा की ‘मेहरबानियां’

बसपा राज में बेतहाशा दौलत और शोहरत बटोरे के कारण मायावती के दो चहेते व्यवसायिक घरानों की खूब चर्चा हुई थी। दोनों सूबे के सर्वेसर्वा बन बैठे थे। इसमें एक नाम जेपी समूह का था तो दूसरा नाम वाइन किंग पोंटी चड्ढा का था। दोनों को फायदा पहुंचाने के लिए बसपा सरकार ने कई बार मर्यादाएं लांघने से भी परहेज नहीं किया। उम्मीद थी कि इन दो घरानों को कटघरे में खड़ाकर करके नई सरकार बसपा सुप्रीमो मायावती को घेरेगी, लेकिन दोनों घरानों को आजकल माया से पहले मुलायम का वफादार बताए जाने की होड़ लगी है। दोनों ही घराने कहते नहीं थकते कि माया के पास तो वह बाद में गए, पहले तो वह मुलायम के ही हुआ करते थे। इसका प्रभाव भी पड़ा।

आखिर इन्‍होंने लिख ही डाली अखिलेश यादव पर किताब

दिल्ली के प्रसिद्ध प्रकाशक डायमंड बुक्स ने उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर अब तक की पहली पुस्तक 'नयी उम्मीदों का युवराज : अखिलेश यादव' छाप दी है, आपको याद होगा भड़ास ने कुछ ही दिन पहले बताया था कि अब उत्तर प्रदेश के लेखकों में देश के सबसे नए विषय पर लिखने की होड़ लगी है. बाजी मारी है जाने-माने बुजुर्ग लेखक यज्ञदत्त शर्मा (86) और लखनऊ के एक युवा लेखक अविजित सूर्यवंशी (31) ने, उन्होंने डायमंड बुक्स के लिए यह पुस्तक का करार केवल एक महीने में पूरा कर दिखाया.

तंगी से जूझ रहे एजेंसी यूएनआई की बदलेगी किस्‍मत!

: बड़ा निवेशक मिलने की चर्चा : नए चेयरमैन के संदेश से कर्मचारियों में उत्‍साह :  नई दिल्ली। करीब एक दशक से वित्तीय संकट का सामना कर रही देश की प्रमुख समाचार एजेंसी युनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया-यूएनआई- की तकदीर ने करवट ली है और एजेंसी को ऐसा निवेशक मिल गया है जो उसे भंवर से निकाल सकता है। यूएनआई के नए चेयरमैन प्रफुल्ल माहेश्वरी के एजेंसी कर्मचारियों को संबोधित एक भीतरी संदेश से भी कर्मचारियों में आशा बंधी है। यूएनआई को सात साल पहले मीडिया बैरन माने जाने वाले सुभाष चंद्रा ने अपनी मुट्ठी में लेने का प्रयास किया था लेकिन एजेंसी के कर्मचारी उसकी स्वतंत्रता को बचाने के लिए खडे़ हो गए और आखिरकार चंद्रा को कंपनी कानून के तहत बाहर जाना पड़ा।

Fraud Nirmal Baba (79) : पत्रकार धीरज भारद्वाज निर्मल बाबा का विज्ञापन रुकवाने पहुंचे हाईकोर्ट

पत्रकार एवं मीडिया पोर्टल के संपादक धीरज भारद्वाज ने दिल्ली हाईकोर्ट में एक रिट याचिका दाखिल की है, जिसमें सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय और न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी को 'थर्ड आई ऑफ निर्मल बाबा' नामक विज्ञापन का प्रसारण अविलंब रुकवाने की कार्रवाई करने के आदेश देने की अपील की गई है। धीरज भारद्वाज के अधिवक्ता पुष्पेंदु शुक्ला के मुताबिक टेलीविजन दर्शकों का आकलन करने वाली एजेंसी टैम को भी इस याचिका में एक पार्टी बनाया गया है क्योंकि उसने इस विज्ञापन को कार्यक्रम के तौर पर रेटिंग दी है।

इतना महंगा अखबार और इतनी घटिया रिपोर्टिंग

यशवंतजी, अब मीडिया इस दौर में पहुंच गई है कि जहां थोड़ी पैसे हाथ में आए नहीं कि चैनल, अखबार, मैगजीन खोल कर धंधा शुरू कर दिया. अब पत्रकारिता जनसरोकार की बात नहीं धंधे की जात हो गई है. आखिर पत्रकारिता का काम भी चोखा है. सेटिंग हो गया तो बल्‍ले बल्‍ले है नहीं तो किसी को हड़काने के लिए हल्‍ले हल्‍ले तो है ही. विज्ञापन मिलेगा ऊपर से. खैर, जब गली मोहल्‍ले में अखबार और पत्रिका के कार्यालय खुल रहे हैं तो पत्रकारों की जरूरत पड़ेगी ही. पर बड़े से लेकर छोटे संस्‍थान को पत्रकार ऐसे चाहिए जो पैसा ना मांगते हों.

मेरठ में जागरण के 28 साल पूरे, 25 साल से जुड़े कर्मियों का हुआ सम्मान

दैनिक जागरण ने 19 अप्रैल को मेरठ में अपने 28 साल का सफर पूरा किया. खट्टे-मीठे यादों के साथ जिन लोगों ने इस साल संस्‍थान में पचीस साल पूरे किए उन्‍हें भी सम्‍मानित किया गया. पचीस साल पूरे करने वाले कर्मचारियों को सपरिवार बुलाकर सम्‍मानित करने की परम्‍परा पिछले साल से ही शुरू हुई है. और शायद मेरठ जागरण ग्रुप का एकमात्र यूनिट है जो इस तरह का आयोजन करके अपने कर्मचारियों के सेवाभाव का सम्‍मान कर रहा है.

झूठा है देश का भावी प्रधानमंत्री राहुल गांधी!

: शैक्षणिक प्रमाण पत्रों के बारे में गलत जानकारी देने का आरोप : कांग्रेस की तरफ से देश के भावी प्रधानमंत्री हैं राहुल गांधी. युवाओं को राजनीति में आने तथा सच के लिए लड़ने का सुझाव देते हैं राहुल गांधी. पर राहुल गांधी खुद कितने बड़े झूठे हैं यह इंडियन एक्‍सप्रेस की एक खबर में सामने आया है. इस खबर के अनुसार राहुल ने अमेठी चुनाव में दिए गए हलफनामा में बताया है कि उन्‍होंने यूनिवर्सिटी ऑफ कैम्ब्रिज के ट्रिनिटी कॉलेज से 1995 में एम‍ फिल पास किया है. जबकि यूनिवर्सिटी का कहना है कि राहुल ने 2005 में एमफिल की पढ़ाई की थी, 1995 में नहीं.

राष्‍ट्रीय सहारा, देहरादून में संपादक एलएन शीतल एवं ब्‍यूरोचीफ अमरनाथ में हाथापाई

: अपडेट : अब अखबार के कार्यालयों में मारपीट जैसी घटनाएं भी होने लगी हैं. आपसी राजनीति तथा एक दूसरे को पटकनी देने की कोशिशें अब इस अब मीडिया संस्‍थानों के माहौल को खराब कर रही हैं. खबर है कि राष्ट्रीय सहारा, देहरादून में लम्‍बे समय से संपादक एलएन शीतल और ब्‍यूरोचीफ अमरनाथ के बीच चला आ रहा शीतयुद्ध बीते बुधवार की रात हाथापाई में बदल गई. किसी बात को लेकर अमरनाथ संपादक के कक्ष में घुसे इसके बाद इन लोगों की जमकर बहस हुई. अब गलती किसी है ये तो जांच के बाद पता चलेगा, पर पत्रकारिता के लिहाज से यह हरकत शर्मनाक है. 

राजदीप के लिए दिल में सम्‍मान नहीं है तो शब्‍दों में कहां से लाउं?

: क्‍या अब भी मेन स्‍ट्रीम मीडिया को गुमान है कि वो चाहे तो खबरें दब सकती हैं? : Dilnawaz Pasha : ये फोटो जयपुर की है। इंटरनेट पर अभिषेक मनु सिंघवी की सेक्स सीडी देखकर युवा सड़क पर उतरे और पुतला भी फूंका। क्या अब भी मेनस्ट्रीम मीडिया इस गुमान में रहेगा कि वो चाहे तो खबरें दब सकती हैं?

जनसंदेश टाइम्‍स ने मिर्जापुर-सोनभद्र एडिशन लांच किया

जनसंदेश टाइम्‍स, बनारस ने आज अपना मिर्जापुर-सोनभद्र एडिशन भी लांच कर दिया. इसके साथ पूर्वांचल के सभी जिलों में अखबार के एडिशन की लांचिंग पूरी हो गई. अब अखबार पूर्वांचल के गाजीपुर, जौनपुर, चंदौली, भदोही, मिर्जापुर, मऊ, आजमगढ़, बलिया, सोनभद्र से प्रकाशित होने लगा है. लगभग सात हजार कॉपियों के साथ अखबार की लांचिंग की गई. मिर्जापुर में अखबार के जीएम सीपी राय ने कमान संभाल रखी थी तो सोनभद्र में स्‍थानीय संपादक आशीष बागची जमे हुए थे.

सेंसरशिप के खिलाफ कल जंतर मंतर पर ‘फ्रीडम इन द केज’

: सेव योर वॉयस की पहल : इंटरनेट पर सेंसरशिप लगाने की सरकार की कोशिश के फैसले के खिलाफ लम्‍बे समय से अभियान चला रहा 'सेव योर वॉयस' ने विरोध की एक अनोखी पहल की है. सेव योर वॉयस की टीम 22 अप्रैल को जंतर-मंतर पर सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक क्रिएटिव प्रोटेस्‍ट करने की तैयारी की है. इस प्रोटेस्‍ट के माध्‍यम से सरकार को जगाने का प्रयास किया जाएगा. सेव योर वॉयस की टीम इसके पहले भी सरकार तथा कपिल सिब्‍बल के इंटरनेट पर सेंसर लगाने का विरोध कर चुकी है.

निर्मल बाबा का पर्दाफाश करने वाले आजतक, स्‍टार न्‍यूज तथा न्‍यूज एक्‍सप्रेस को फायदा

: अन्‍य सभी चैनलों को नुकसान : इलेक्‍ट्रानिक मीडिया के लिए पिछला सप्‍ताह निर्मल बाबा के नाम रहा. तमाम चैनल निर्मल बाबा को लेकर कार्यक्रम चलाते नजर आए. किसी चैनल ने पर्दाफाश किया तो किसी ने इंटरव्‍यू चला कुछ चैनलों ने चुप्‍पी साधे रखी. इस सप्‍ताह जिन चैनलों ने बाबा के खिलाफ खबरें चलाईं उसकी बल्‍ले बल्‍ले रही. अन्‍य चैनलों की टीआरपी में गिरवाट दर्ज की गई. बाबा का पर्दाफाश करने वाले आजतक, स्‍टार न्‍यूज था न्‍यूज एक्‍सप्रेस के टैम शेयरों में वृद्धि देखने को मिली.

दैनिक प्रभात, गाजियाबाद से सात लोगों का इस्‍तीफा

दैनिक प्रभात, गाजियाबाद संस्करण से खबर है कि प्रबंधन के रवैये से परेशान आधा दर्जन से ज्‍यादा पत्रकार तथा गैर पत्रकार कर्मियों ने पिछले कुछ दिनों में इस्‍तीफा दिया है. जिन लोगों ने अखबार को इस्‍तीफा दिया है उनमें भूमेश शर्मा (ग्रेटर नोएडा ब्यूरो चीफ), संजीव शर्मा (विशेष संवाददाता, गाजियाबाद) नरेश कुमार (छायाकार),  अरुण सिन्हा (ब्यूरो प्रमुख, नोएडा), आकाश शर्मा (ग्राफिक डिजाइनर, गाजियाबाद), ललित कुमार (राइडर गाजियाबाद) तथा हेमेन्द्र राजपूत (क्राईम रिपोर्टर, नोएडा) का नाम शामिल है.

दैनिक जागरण में वापसी करेंगे वरिष्‍ठ पत्रकार दिनेश चंद्रा

टाइम टीवी से वरिष्‍ठ पत्रकार दिनेश चंद्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे टाइम टीवी के स्‍टेट ब्‍यूरोचीफ थे. दिनेश एक बार फिर दैनिक जागरण में वापसी करने जा रहे हैं. लगभग एक साल पहले उन्‍होंने दैनिक जागरण से इस्‍तीफा दिया था. तब वे एनई के रूप में सेंट्रल डेस्‍क की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. वे जागरण से इस्‍तीफा देने के बाद देहरादून से लांच होने वाले नेटवर्क10 में एक्‍जीक्‍यूटिव एडिटर बन कर चले गए थे. लेकिन वहां लम्‍बी पारी नहीं खेल सके. आंतरिक परिस्थितियों से नाराज होकर इस्‍तीफा दे दिया तथा टाइम टीवी से जुड़ गए थे.

दो किलो आलू पाने के बाद अशोक च्रकधर ने हाथों में लिया ”छिछोरेबाजी का रिजोल्यूशन”

: मारवाह स्‍टूडियो में हुआ पीयूष पांडे की व्‍यंग्‍य किताब का विमोचन : क्या आपने किसी कार्यक्रम में मंचासीन अतिथियों को पुष्प गुच्छ के बजाय दो किलो आलू के पैकेट भेंट होने का नज़ारा देखा है? बहुत संभव है कि ऐसा कभी न देखा हो लेकिन एशियन एकेडमी ऑफ आर्ट्स और इट्जमाईब्लॉगडॉटकॉम के तत्वावधान में यहां मारवाह स्टूडियो में पत्रकार पीयूष पांडे की व्यंग्य पुस्तक 'छिछोरेबाजी का रिजोल्यूशन' के दौरान यही अनूठा नज़ारा दिखा। इस अवसर पर मौजूद अतिथियों एवं दर्शकों ने इस पल का भरपूर आनंद लिया। लेकिन, पुष्प गुच्छ के बजाय आलू भेंट परंपरा के आरंभ को तार्कित तरीके से स्पष्ट भी किया गया कि आलू राजनीतिक और पारिवारिक संदर्भ रखते हैं। महंगे होते आलू आम आदमी की जिंदगी को मुश्किल कर रहे हैं, इसलिए आलू चेतना जरुरी है।

पीटीआई की स्‍ट्राइक खतम, 18 मई को होगा देशव्‍यापी हड़ताल

अखबारों एवं समाचार एजेंसियों के पत्रकार एवं गैर-पत्रकार कर्मियों के लिए मजीठिया वेतन बोर्ड की सिफारिशें अविलंब लागू करने की मांग को लेकर देश की अग्रणी समाचार एजेंसी पीटीआई में कर्मचारी यूनियन का हड़ताल शनिवार को सुबह समाप्‍त हो गया. हालांकि इस हडताल के कारण देश में पीटीआई-भाषा के सभी कार्यालयों में समाचार एवं फोटो सेवाएं बाधित रही. इसका असर पीटीआई-भाषा की सेवा लेने वाले अखबारों पर भी पड़ा.

Fraud Nirmal Baba (78) : निर्मल बाबा व संजीवनी ने ठगा

: कौन हैं निर्मल बाबा? (भाग ग्‍यारह) : सपने दिखा कर 1000 करोड़ कमाये : हाइकोर्ट में दायर हुईं दो जनहित याचिकाएं, लगाये आरोप : रांची : निर्मलजीत सिंह निरूला उर्फ निर्मल बाबा के खिलाफ शुक्रवार को झारखंड हाइकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गयी है. याचिका में कहा गया है कि बाबा ने सपना (सब्जबाग) दिखा कर लोगों से 1000 करोड़ कमाये हैं. इसलिए अदालत मामले में हस्तक्षेप करे. हाइकोर्ट सीबीआइ, आयकर की अनुसंधान शाखा व प्रवर्तन निदेशालय (इडी) को जांच का आदेश दे. याचिका यूथ पावर ऑफ इंडिया के अमृत रमण की ओर से अधिवक्ता राजीव कुमार ने दायर की है. इसमें आयकर अनुसंधान, सीबीआइ व इडी के अलावा राज्य के गृह सचिव और मुख्य सचिव को भी प्रतिवादी बनाया गया है.

बिहार में पत्रकारिता पर अघोषित इमरजेंसी, मीडिया को मैनज कर रखा है नीतीश ने : काटजू

नई दिल्ली : अपनी ही बिरादरी पर बरसते हुए भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष और सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश मार्कण्डेय काटजू ने कहा है कि न्यायपालिका को अपनी सीमाओं को कतई नहीं लांघना चाहिए। उसे कार्यपालिका के कामकाज में दखल देने से बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ जज खुद को सम्राट मानने लगे हैं। न्यूज-24 को दिए साक्षात्कार में काटजू कहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को सभी नदियों को जोड़ने का आदेश दिया। मुझे समझ नहीं आया कि आखिर सुप्रीम कोर्ट कार्यपालिका को इस तरह का फरमान किस आधार पर सुना सकता है।

अमर उजाला, मेरठ में डेस्‍क से रिपोर्टिंग में भेजे गए मुस्‍तकीम

अमर उजाला, मेरठ से खबर है कि डेस्‍क पर तैनात मुस्‍तकीम को रिपोर्टिंग में भेज दिया गया है. मुस्‍तकीम लम्‍बे समय से डेस्‍क की जिम्‍मेदारी संभाल रहे थे. संभावना जताई जा रही है कि डेस्‍क पर तैनात कुछ और लोगों को रिपोर्टिंग की जिम्‍मेदारी दी जाएगी तथा ब्‍यूरो से कुछ लोगों को डेस्‍क पर बुलाया जाएगा. बताया जा रहा है कि ये रूटीन तबादले हैं. वहीं सहारनपुर से मेरठ भेजे गए चंद्रमोहन ने अपना पद भार ग्रहण कर लिया है. इन्‍हें यहां भी सिटी इंचार्ज बनाया गया है.

आनंद पाल सिंह तोमर बने बीपीएन टाइम्‍स के राजस्‍थान प्रभारी

राजस्थान के वरिष्‍ठ पत्रकार आंनद पाल सिंह तोमर को बीपीएन मीडिया समूह का राजस्थान प्रभारी बनाया गया है. बीपीएन मीडिया ग्रुप के एडिटर अजय कुमार की ओर से उन्हें दैनिक बीपीएन टाइम्स के राजस्थान संस्करणों शुरु किए जाने की अहम जिम्मेदारी सौपी गई है. फिलहाल बीपीएन टाइम्स के 5 राज्यों में 9 संस्करण चल रहे हैं. तोमर को राजस्थान में जयपुर और अन्य जिलों के संस्करण चालू करवाने की अहम जिम्मेदारी दी गई है. आंनदपाल सिंह तोमर को बीपीएन समूह के दैनिक अखबार के अलावा वर्तमान में मैग्जीन बीपीएन टुडे और राजस्थान में शुरु होने वाले अन्य मीडिया प्लान का काम भी देखेंगे.

शिकोहाबाद में सपाइयों ने किया पत्रकार पर जानलेवा हमला

समाजवादी पार्टी के सत्ता में आते ही लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पर गाज गिरना शुरू हो गया है. फिरोजाबाद जनपद में कुछ कथित सपाई पत्रकारों पर कहर बन कर टूट रहे हैं. इसी क्रम में 17 अप्रैल की रात करीब साढे़ दस बजे फिरोजाबाद जनपद के शिकोहाबाद में मून न्यूज चैनल के पत्रकार मुकेश गुप्ता पर आधा दर्जन के करीब अवैध हथियारों से लैस गुण्डों ने हमला बोल दिया. ये सभी बुलेरो और अल्‍टो कार में सवार होकर आये थे. दोनों गाडि़यों पर सपा के झंडे लगे हुए थे. नगर के मुख्य बाजार में घटना को अंजाम देते समय गुण्डों के हौ सले इतने बुलंद थे कि वे लगातार गाड़ी का हूटर बजाते हुए क्षेत्र में दहशत बनाये हुए थे.

प्रभात खबर, कोलकाता में फीचर डेस्‍क इंचार्ज बनीं पापिया पांडेय

सन्‍मार्ग, कोलकाता से खबर है कि पापिया पांडेय ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपनी नई पारी प्रभात खबर, कोलकाता के साथ शुरू की है. इन्‍हें फीचर डेस्‍क का इंचार्ज बनाया गया है. मूल रूप से कोलकाता की रहने वाली पापिया पिछले सात सालों से सन्‍मार्ग को अपनी सेवाएं प्रदान कर रही थीं. उन्‍होंने प्रेसिडेनसी …

Fraud Nirmal Baba (77) : पी7 न्‍यूज की बाबा से हुई लम्‍बी सेटिंग!

यशवंतजी, आज पी7 न्‍यूज चैनल पर एक प्रोग्राम चल रहा था, जिसका नाम था 'निर्मल बाबा की आलोचना का सच' ये प्रोग्राम शुद्ध रूप से बाबा के फेवर में दिखाया जा रहा था और पी7 न्‍यूज चैनल ऐसा पहला न्‍यूज चैनल होगा जो कि निर्मल बाबा के पक्ष में खुलकर आया है. यानी कि मीडिया का एक पक्ष बाबा की कारस्‍तानी को जगजाहिर कर रहा है तो मीडिया का ही दूसरा पक्ष बाबा का सपोर्ट कर रहा है. और बाकायदा स्‍टार न्‍यूज और न्‍यूज एक्‍सप्रेस चैनल का नाम लेकर उनकी आलोचना की जा रही थी. यानी अब लड़ाई मीडिया वर्सेज मीडिया की हो गई है.

जीएनएन न्‍यूज वाले पैसा नहीं, गाइडलाइन देते हैं

जीएनएन न्‍यूज अपने स्ट्रिंगरों के पैसे तो दे नहीं रहा ऊपर से रिपोर्टरों औऱ स्ट्रिंगरों के लिए नई गाइडलाइंस जारी कर दिया है. औऱ गाइडलाइन भी ऐसी कि शायद ही किसी चैनल का स्ट्रिंगर उन्हें पूरा कर पाए. चैनल तो कहीं दिखता नहीं लेकिन मालिकों को हर खबर में आईडी दिखनी चाहिए. अब ऐसे में इन लोगों को कौन बताएं कि 300 रुपए में खबरें भी करके कैसे दें औऱ फिर आईडी भी दिखाई जाए. एएनआई से जब खबरें ले लेते हैं तब आईडी की जरुरत नहीं हैं.

चंडीगढ़ प्रेस क्‍लब को हाई कोर्ट ने दिया झटका

 : लोअर कोर्ट में होगी चुनाव के मामले की सुनवाई : प्रेस क्‍लब चंडीगढ़ को पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट ने झटका दिया है. प्रेस क्‍लब के पूर्व पदाधिकारी चंचल मनोहर सिंह एवं पीडी महिंद्रा की याचिका पर सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने लोअर कोर्ट को इस मामले की सुनवाई मेरिट के आधार पर करने का निर्देश दिया है. मामला 2009 से जुड़ा हुआ है. श्री सिंह एवं महिंद्रा ने 2009 में हुए इलेक्‍शन को गैर कानूनी बताते हुए लोअर कोर्ट में याचिका दायर की थी. कोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई करने से इनकार करते हुए याचिकाकर्ताओं को मामला प्रेस क्‍लब के आर्बिट्रेशन में ही सुलझाने का सुझाव दिया.

शर्म आती है इन संपादकों पर, जो एक छात्रा के एमएमएस पर खबर चलाते हैं और सिंघवी पर खामोश हैं

Dilnawaz Pasha : शर्म है आती है उन संपादकों पर जो दिल्ली पब्लिक स्कूल की छात्रा के एमएमएस पर महीनों तक खबरें चला सकते हैं लेकिन सिंघवी के सेक्स कांड पर खामोश हैं। ऐसा लगता है कि इस देश में कानून सिर्फ नेताओं के लिए ही हैं। देश में हजारों लड़कियों का जीवन अश्लील वीडियो बर्बाद कर देते हैं…खबरें बनती हैं.. टीआरपी मिलती हैं.. लेकिन जब आज एक बड़े नेता की सीडी आई है तो सब खामोश..

इंडिया न्‍यूज अगले महीने लांच करेगा एमपी-सीजी चैनल

इंडिया न्‍यूज समूह की मूल कंपनी आईटीवी नेटवर्क हिंदी भाषी राज्‍यों में अपने विस्‍तार को एक कदम और बढ़ाने जा रही है. ग्रुप बिहार-झारखंड एवं यूपी-उत्‍तराखंड के बाद एमपी-सीजी में भी जल्‍द ही अपना रीजनल चैनल लांच करने जा रही है. अब तक इंडिया न्‍यूज नेशनल, इंडिया न्‍यूज राजस्‍थान, इंडिया न्‍यूज हरियाणा, इंडिया न्‍यूज बिहार-झारखंड एवं इंडिया न्‍यूज यूपी-उत्‍तराखंड चैनल लांच कर चुके इस ग्रुप का एमपी-सीजी छठवां चैनल होगा. संभावना जताई जा रही है कि मई में इस चैनल को लांच कर दिया जाएगा.

अमर उजाला, उन्‍नाव से मधुकर का कानपुर तबादला, विपिन बने नए ब्‍यूरोचीफ

अमर उजाला, उन्‍नाव से खबर है कि सीनियर सब एडिटर मधुकर पाण्‍डेय का तबादला कानपुर के लिए कर दिया गया है. वे यहां पर ब्‍यूरोचीफ थे. दो महीने पहले ही उनका तबादला फर्रुखाबाद से उन्‍नाव के लिए किया गया था. वे कानपुर में डेस्‍क पर बैठाए जाएंगे. उनकी जगह कानपुर में डेस्‍क की जिम्‍मेदारी संभाल रहे विपिन शुक्‍ला को उन्‍नाव का नया ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. विपिन सब एडिटर के पद पर कार्यरत हैं. इन्‍हें जिले में सर्कुलेशन बढ़ाने की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है.

अमर उजाला से सीपी सिंह का इस्‍तीफा, कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस में ब्‍यूरोचीफ बने

अमर उजाला, मथुरा से खबर है कि सीपी सिंह सिकरवार ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर ब्‍यूरोचीफ थे. बताया जा रहा है कि प्रबंधन ने सीपी सिंह का तबादला मुजफ्फरनगर के लिए कर दिया था, जिससे वो नाराज थे. उन्‍होंने प्रबंधन को अपनी परेशानी भी बताई परन्‍तु कोई सुनवाई ना होने के बाद उन्‍होंने इस्‍तीफा दे दिया. सीपी ने अपनी नई पारी मथुरा में ही कल्‍पतरु एक्‍सप्रेस के साथ की है. उन्‍हें अखबार का ब्‍यूरोचीफ बनाया गया है. 

योगेश गुलाटी जाएंगे सहारा!

जीएनएन न्यूज़ के 'इनपुट-हेड' योगेश गुलाटी के बारे में खबर है कि वो जल्द ही सहारा समय ज्वाइन करने वाले हैं. सहारा में भी योगेश को इनपुट की ही ज़िम्मेदारी मिलने की चर्चा है. ख़बरों को लेकर हमेशा आक्रामक रुख अपनाने वाले युवा पत्रकार योगेश गुलाटी इसके पहले इंडिया टीवी में 'सीनियर प्रोड्यूसर' के पद पर थे. एक दशक से भी ज़्यादा समय से टीवी मीडिया में सक्रिय योगेश कामनवेल्थ गेम्स के मीडिया सेल में पीआईबी की टीम का हिस्सा रहे हैं, जहां उन्हें इंदिरा गांधी स्टेडियम में बतौर मीडिया मैनेजर प्रेस आपरेशन की ज़िम्मेदारी सौंपी गई थी.

पीटीआई की हड़ताल जारी, गेट पर जमे कर्मचारी

समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा में कामकाज पूरी तरह ठप है. मजीठिया वेज बोर्ड की मांग को लेकर पीटीआई-भाषा के कर्मचारी अपने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार हड़ताल पर डंटे हुए हैं. एजेंसी कार्यालय के मुख्‍य गेट पर कर्मचारी धरना दे रहे हैं. हड़ताल पर जाने से पहले कर्मचारियों ने कार्यालय के कम्‍प्‍यूटर तथा टेलीफोन लाइन भी बंद कर दिए हैं. इनकी मांग है कि जल्‍द से जल्‍द मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशों को लागू किया जाए. इस हड़ताल में पीटीआई-भाषा के देशभर के पत्रकार तथा गैर पत्रकार कर्मी हड़ताल में सम्मिलित हैं.

दैनिक जागरण ने अपने पूर्व विज्ञापनकर्मी पर धोखाधड़ी व गबन का मामला दर्ज कराया

दैनिक जागरण ने अपने एक पूर्व विज्ञापन कर्मचारी पर गबन तथा धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है. इस कर्मी पर एक लाख से ज्‍यादा रुपये का गबन करने का आरोप है. मेरठ यूनिट से जुड़े बिजनौर के धामपुर में कार्यरत अमित चौहान पर आरोप है कि इसने संस्‍थान के विज्ञापन का पैसा हड़प लिया है. जानकारी के अनुसार अमित चुनाव के दौरान कई लाख का विज्ञापन जागरण में प्रकाशित करवाया. इसमें से कुछ पैसा उसने संस्‍थान में जमा किए तथा कुछ अपने पास रख लिया.

पंजाब केसरी ने चुराया दैनिक भास्‍कर का कार्टून, कार्टूनिस्‍ट राजेंद्र जाएंगे कोर्ट

पंजाब केसरी पर पेड न्‍यूज करने समेत कुछ आरोप तो पहले भी लगते रहते हैं, पर अब लग रहा है कि पंजाब केसरी के काम करने वाले या कार्टून बनाने वालों की कमी हो गई है, जो उस पर कार्टून चुराकर प्रकाशित करने का आरोप लगा है. पंजाब केसरी पर आरोप है कि उसने दैनिक भास्‍कर में प्रकाशित कार्टून को अपने अखबार में प्रकाशित किया. यह घटना दूसरी बार हुई है, जिससे कार्टून बनाने वाले राजेंद्र वर्मा खूबड़ू काफी आहत और नाराज हैं. पंजाब केसरी की चोरी उनकी नौकरी पर भारी पड़ रही है. उन पर कंपनी को डबल क्रास करने के आरोप भी लगाए जा रहे हैं. परेशान राजेंद्र वर्मा अब उपभोक्‍ता अदालत का दरवाजा खटखटाने जा रहे हैं.

ईटीवी-जी न्‍यूज से खबरें चुराने वाला इंडिया न्‍यूज सौ रुपये की माइक आईडी के लिए रो रहा रोना

: बिना माइक आईडी के काम कर रहे हैं पूर्वांचल के रिपोर्टर :  इण्डिया न्यूज यूपी/यूके की लान्चिंग के बाद से ही रिपोर्टरों की हालत खस्‍ता है. खासतौर पर पूर्वांचल में, यहां इण्डिया न्यूज के रिपोर्टर चैनल की पालिसी को लेकर बेहद परेशान हैं. चैनल प्रबंधन ने बगैर आईडी दिए चैनल में रिपोर्टरों की नियुक्ति कर दी थी. अब छह माह से ज्‍यादा बीत चुके हैं परन्‍तु अब तक इन रिपोर्टरों को माइक आईडी चैनल की तरफ से नहीं दिया गया. बिना माइक आईडी दिए ही इंडिया न्‍यूज खुद को यूपी में नम्‍बर वन चैनल कह रहा है, जब रिपोर्टरों को चैनल की तरफ से माइक आईडी दे दी जाएगी तब क्‍या होगा?

पीपल्‍स डेली की वेबसाइट ने बाजार से जुटाए लगभग 12 अरब रुपये

चीन के सरकारी अखबार पीपल्स डेली की वेबसाइट ने पहली बार बाजार में अपने शेयर उतारे. शेयर बाजार में उतरते ही इस वेबसाइट ने तहलका मचा दिया है. इस वेबसाइट ने बाजार से 22.2 करोड़ डॉलर (साढ़े 11 अरब रुपये) की रकम जुटाई है. यह रकम वेबसाइट प्रबंधन की शुरुआती उम्मीदों के मुकाबले तीन गुनी है. चीनी वेबसाइट ने अपने 6.91 करोड़ शेयर बेचे, जिनमें से प्रत्येक की कीमत 20 युआन (165 रुपये) रखी गई. यह शेयर का सबसे कम दाम था.

द वीक पर शिव सैनिकों के हमले से नाराज है आईपीए, कार्रवाई की मांग की

वियना। इंटरनेशनल प्रेस इंस्टीट्यूट (आईपीआई) ने मलयाला मनोरमा समूह के द वीक पत्रिका के मुंबई स्थित कार्यालय और कर्मियों पर शिव सेना कार्यकर्ताओं द्वारा कथित तौर पर किए गए हमले की कड़ी निंदा की है। इस संदर्भ में आईपीआई ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण और केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम से हमलावरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। आईपीआई के कार्यकारी उप निदेशक एंथोनी मिल्स ने कहा कि वह द वीक के कार्यालय परिसर में हुए तोड़फोड़ और कर्मियों के प्रति हुई हिंसा की कड़ी निंदा करते हैं।

नाम और लोगो चेंज होने की खबर से स्‍टार न्‍यूज के रिपोर्टरों में निराशा

: अब एबीपी न्‍यूज के नाम से जाना जाएगा चैनल : आनंद बाजार पत्रिका समूह और स्‍टार समूह के अलग होने के बाद स्‍टार न्‍यूज से जुड़े पत्रकार और स्ट्रिंगर परेशान हैं. एमसीसीएस से स्‍टार के अलग हो जाने के बाद चैनल के पत्रकारों को बड़ा झटका लगा है. चैनल का नया नाम पचा पाना भी इन स्ट्रिंगरों के लिए मुश्किल हो रहा है. स्‍टार न्‍यूज एक बड़ा ब्रांड बन गया था. स्‍टार न्‍यूज की एक पहचान थी. इस ब्रांड नेम के साथ जुड़े पत्रकार तथा स्ट्रिंगरों का रूतबा था, पर अब ब्रांड नेम छिन जाने से वे भावी परेशानियों को देखते हुए परेशान हैं.

Fraud Nirmal Baba (76) : मंदिरों से घरों में लौटने लगे शिवलिंग

: कौन हैं निर्मल बाबा? (भाग दस) : रांची : निर्मलजीत सिंह नरूला उर्फ निर्मल बाबा ने लोगों के घरों से भोले बाबा (भगवान शंकर) को भी बेघर कर दिया था. अब बाबा का असर खत्म होने लगा है. लोग शिवलिंग को मंदिरों से वापस अपने घर ले जाने लगे हैं. निर्मल बाबा लोगों से अपने समागम में कहते हैं कि घर में शिवलिंग न रखें. अगर आपके घरों में शिवलिंग हैं, तो उन्हें मंदिरों में पहुंचा दें. घर में रखने से शक्ति की कृपा नहीं आती है. इसके बाद मंदिरों में शिवलिंग के ढेर लग गये थे. सिर्फ पहाड़ी मंदिर में पांच बोरों में छोटे-छोटे शिवलिंग रखे हुए थे.

अमर उजाला में शरद मौर्या, राजशेखर एवं प्रकाश भट्ट का ट्रांसफर

अमर उजाला में तबादलों का दौर जारी है. खबर है कि बरेली में समाचार संपादक के पद पर कार्यरत शरद मौर्या का तबादला अलीगढ़ के लिए कर दिया गया है. अलीगढ़ में भी वे न्‍यूज एडिटर की भूमिका निभाएंगे. अमर उजाला, अलीगढ़ में डीएनई के पद पर कार्यरत राजशेखर का ट्रांसफर गाजियाबाद के लिए कर …

वरिष्‍ठ पत्रकार मुर्तजा रजवी की गला दबाकर हत्‍या

पाकिस्तान के 'डॉन' समाचार पत्र के एक वरिष्ठ पत्रकार की उनके कराची स्थित आवास पर गुरुवार को हत्या कर दी गई। पुलिस ने बताया कि मुर्तजा रजवी का शव उनके डिफेंस हाउसिंग अथॉरिटी इलाके में स्थित अपार्टमेंट में पाया गया। पुलिस ने बताया कि ऐसा प्रतीत होता है कि किसी ने उनका गला दबाकर उनकी हत्या की है। उनके हाथ बंधे हुए थे और उनके शरीर पर मारपीट के निशान थे। रजवी  'डॉन' में वरिष्ठ सहायक सम्पादक व पत्रिका विभाग के प्रमुख थे।

Abhishek Manu Singhvi Sex CD (4) : सिंघवी सीडी प्रकरण में ड्राइवर ने अपनी गलती बताई, यूट्यूब पर सीडी का प्रसारण शुरू

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी के पूर्व ड्राइवर ने उनसे बदला लेने की नीयत से सीडी में छेड़छाड़ करने का दावा किया है. पहले सिंघवी के ड्राइवर रहे मुकेश कुमार लाल ने बुधवार को दिल्ली हाईकोर्ट को सौंपे गए अपने हलफनामे में कहा कि उसने अपने पूर्व मालिक को बदनाम करने के लिए सीडी में छेड़छाड़ की थी. उसने यह भी कहा है कि अब सिंघवी के साथ सभी विवादों को हल कर लिया गया है और वह अपनी गलती स्वीकार करता है. मुकेश पर सिंघवी की एक आपत्तिजनक सीडी तैयार करने का आरोप है. यह सीडी कई टेलीविजन चैनलों पर प्रसारित भी की जाने वाली थी लेकिन गत 13 अप्रैल को हाईकोर्ट ने इसके प्रकाशन तथा प्रसारण पर रोक लगा दी थी.

गुटका खाकर शराबबंदी के बारे में सवाल पूछने वाले ईटीवी के पत्रकार को सीएम ने लगाई फटकार

सीहोर। मप्र के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से ईटीवी के एक पत्रकार अंकुर द्वारा खुद गुटका खाकर मप्र में शराबबंदी का सवाल पूछना महंगा पड़ गया। इस सवाल पर सीएम ने पत्रकार को कड़ी फटकार लगाते हुए गुटका न खाने की समझाइश दी। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि मामले की चर्चा मीडिया के साथ प्रशासनिक क्षेत्र में भी जोरशोर से चटखारे लेकर की जा रही है।

‘टाइम्स आफ इंडिया’ के खिलाफ देशद्रोह के पांच मुकदमें खारिज

अहमदाबाद। गुजरात उच्च न्यायालय ने साल 2008 में अंग्रेजी अखबार ‘टाइम्स आॅफ इंडिया’ के अहमदाबाद संस्करण के खिलाफ दर्ज किए गए देशद्रोह के पांच मुकदमों को खारिज कर दिया। तत्कालीन पुलिस आयुक्त ओ पी माथुर की ओर से अखबार के खिलाफ दर्ज कराए गए देशद्रोह के पांच मुकदमों को न्यायालय ने कल यह कहते हुए खारिज कर दिया कि जिन आलेखों का हवाला देकर मुकदमे दर्ज कराए गए थे उनसे देशद्रोह का मामला नहीं बनता। मुकदमों को खारिज करते हुए न्यायमूर्ति हर्षा देवानी ने कहा, ‘‘आलेखों में स्थिति में सुधार की मंशा से कड़े शब्दों का इस्तेमाल कर आलोचना और टिप्पणियां की गयीं न कि हिंसा भड़काने या लोगों के बीच मनमुटाव पैदा करने के मकसद से । इसलिए वे देशद्रोह की परिभाषा के दायरे में नहीं आते।’’

गाजियाबाद में अखबार बेचने वाले के साथ लूटपाट

गाजियाबाद। राष्ट्रीय राजमाग 58 पर गंगनहर पुल के समीप बुधवार सुबह बाईक सवार शातिर बदमाशों ने पेपर वितरण करके आ रहे एक हॉकर से चाकू की नोंक पर 27 सौ रुपये व अन्य कीमती सामान लूट लिया। पीड़ित द्वारा लूट का विरोध करने पर उसे मारपीट कर घायल कर दिया। पीड़ित ने प्रकरण की तहरीर थाने में दी है। पुलिस की जानकारी के अनुसार न्यू डिफेंस कॉलोनी निवासी अंकित उर्फ गुलशन गांव मनोटा, अबुपुर में अखबार वितरण का कार्य करता है।

‘द वीक’ के कार्यालय में तोड़फोड़ करने के सिलसिले में 32 गिरफ्तार

मुम्बई। कुछ कर्मचारियों की सेवाएं नियमित करने को लेकर पत्रिका ‘द वीक’ के कार्यालय में कथित रूप से तोड़फोड़ करने के मामले में शिवसेना पार्षद किशोरी पेडनेकर सहित 32 लोगों को आज गिरफ्तार कर लिया गया। इसमें तीन कर्मचारी घायल भी हो गए। पुलिस के अनुसार पेडनेकर, उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं और एक नौकरी परामर्शदाता के जरिये लोवर परेल के पेनिनसुला पार्क स्थित पत्रिका के प्रसार एवं विपणन कार्यालय में नौकरी में लगे कुछ कर्मचारियों सहित 32 लोगों ने पत्रिका के स्वागत कक्ष में तोड़फोड़ की।

डॉन के पत्रकार की कराची में हत्या

कराची। समाचारपत्र डॉन के पत्रिका विभाग के प्रमुख और वरिष्ठ सहायक संपादक मुर्तजा रजवी की आज सुबह तड़के कराची में हत्या कर दी गयी। पुलिस ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि मुर्तजा का शव डिफेंस हाउसिंग अथॉरिटी (डीएचए) इलाके में एक आफिस अपार्टमेंट में पाया गया। पुलिस ने बताया कि मुर्तजा के हाथ बंधे हुए थे और उनके शरीर पर उत्पीड़न के निशान थे और जाहिर तौर पर उनका गला घोंटकर उन्हें मार दिया गया।

पीटीआई ने अपने सब्‍सक्राइब्ररों को भेजी हड़ताल से काम काज प्रभावित होने की सूचना

: कहा – परेशानी के लिए खेद है : न्‍यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा में मजीठिया वेज बोर्ड लागू करने की मांग को लेकर 20 अप्रैल को होने वाले हड़ताल का असर एजेंसी की सेवा लेने वाले अखबारों पर भी पड़ेगा. पीटीआई ए‍डमिनिस्‍ट्रेशन ने अपने सभी सब्‍सक्राइबरों यानी उपभोक्‍ताओं को सूचित कर दिया है कि इस हड़ताल के चलते 20 अप्रैल की रात्रि दो बजे से लेकर 21 अप्रैल की सुबह आठ बजे तक समाचार तथा फोटो सेवा बाधित रहेगी.

खनन माफियाओं ने तहसीलदार के पीछे दौड़ाई जेसीबी मशीन

: नाले में कूदकर अपनी जान बचाई : जेसीबी और पांच ट्रैक्टर जब्त : सात पर एफआईआर, गिरफ्तारी नहीं : देवास। खनिज माफिया द्वारा मुरैना जिले में आईपीएस अफसर नरेंद्र कुमार की कथित हत्या की याद ताजा करते हुए एक ऐसे ही घटनाक्रम में अवैध उत्खनन रोकने गई महिला तहसीलदार मीना पाल को जिले में कन्नौद के निकट कुसमानिया गांव में जेसीबी मशीन से कुचलकर मारने का असफल प्रयास किया गया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि इस घटना से बुरी तरह घबराई तहसीलदार मीना ने नाले में कूदकर अपनी जान बचाई। इससे उन्हें पैर में चोट भी आई है।

Fraud Nirmal Baba (76) : निर्मल ‘बाबा’ के बोल, खुद ही खोल रहे पोल

: ‘ठग दरबार’ : यहां आओ…ठगे जाओ : कभी झारखंड में ईंट का भट्ठा चलाता था : टीवी चैनलों को देता है प्रति एपीसोड मोटी रकम : औसतन रोजाना की कमाई करोड़ों रुपये में : बिजनेस में घाटा होने पर ब्रह्मज्ञान का दावा : दो साल के बच्चे का भी लगता है ‘टिकट’: ‘अदृश्य कृपा’ की बात कर पैदा करते हैं भय : कम समय में दो बैंकों में जमा हुई अकूत धनराशि : यह देश भी अजीब है… अंधविश्वासियों और मूर्खों से भरा हुआ…तभी तो यहां के लोगों को तरह-तरह के ‘बाबा’ बेवकूफ बनाकर अपनी झोली भरते जा रहे हैं…वे खुलकर कहते भी हैं, जब लोग मूर्ख बन ही रहे हैं, तो हमें ही क्या हर्ज है? ऐसे ही एक हैं निर्मल बाबा…वे कितने निर्मल हैं और कितना निर्मल है उनका दरबार…प़ेश इस रिपोर्ट में.

सीएम से मिले अयोध्‍या के पत्रकार, कहा- प्रेस भवन बनवाइए

अयोध्‍या में प्रेस क्‍लब की मांग सालों पुरानी है. प्रेस क्‍लब भवन के निर्माण को लेकर पत्रकार एवं पत्रकार संगठन हमेशा प्रयास रहते हैं. इसी कड़ी में मुख्‍यमंत्री अखिलेश यादव के फैजाबाद यात्रा के दौरान पत्रकारों ने अयोध्‍या में प्रेस क्‍लब के जमीन उपलब्‍ध कराने की मांग की. अयोध्‍या प्रेस क्‍लब महेंद्र त्रिपाठी तथा संगठन के पत्रकार मुख्‍यमंत्री से मिले तथा प्रेस क्‍लब के निर्माण में सहयोग देने की मांग की.

पीयूष पांडे के ‘छिछोरेबाजी का रिजोल्‍यूशन’ का विमोचन अशोक चक्रधर करेंगे

पत्रकार पीयूष पांडे के व्‍यंग्‍य संग्रह ''छिछोरेबाजी का रिजोल्यूशन'' का विमोचन 20 अप्रैल यानी शुक्रवार को होगा. नोएडा फिल्‍म सिटी के मारवाह स्‍टूडियो में शाम पांच बजे आयोजित कार्यक्रम में किताब का विमोचन जाने माने व्‍यंग्‍य कवि अशोक चक्रधर करेंगे. इस अवसर पर एक व्‍यंग्‍य पाठ का आयोजन भी किया गया है, जिसमें आलोक पुराणिक, …

अमिताभ के मामले में कैट ने राज्‍य सरकार को दो सप्‍ताह में निर्णय लेने को कहा

कैट लखनऊ ने शुक्रवार को दिए गए अपने फैसले में कहा है कि राज्य सरकार आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर की प्रोन्नति से सम्बंधित मामले में दो सप्ताह के अंदर निर्णय ले. जस्टिस आलोक कुमार सिंह एवं जस्टिस एसपी सिंह की दो-सदस्यीय पीठ ने प्रोन्नति को एक बुनियादी सिविल अधिकार बताते हुए केन्द्र एवं राज्य सरकारों द्वारा बिना कारण अपने कुछ कर्मचारियों की प्रोन्नति को रोके जाने की स्थिति को चिंताजनक बताया. कैट ने कहा कि केन्द्र एवं राज्य सरकारों को आदर्श नियोक्ता (मोडल इम्प्लायर) के रूप में कार्य करना चाहिए. कैट ने यह आदेश ठाकुर द्वारा दायर वाद संख्या 436/2011 में पारित किया.

शिव सेना समर्थकों ने ‘द वीक’ के कार्यालय पर हमला किया

मुंबई से खबर है कि शिव सेना समर्थकों ने अंग्रेजी साप्‍ताहिक पत्रिका 'द वीक' के कार्यालय पर गुरुवार को हमला कर दिया. गुंडागर्दी की यह वारदात द वीक के लोअर परेल स्थित डिस्‍ट्रीब्‍यूशन कार्यालय में हुआ. शिव सेना की श्रमिक इकाई भारतीय कामगार सेना के कार्यकर्ताओं ने यह हमला किया. सर्कुलेशन मैनेजर जॉली की पिटाई भी की गई. बताया जा रहा है कि शिव सेना का अनुषांगिक इकाई भारतीय कामगार सेना के कार्यकर्ता द वीक के मातृत्‍व कंपनी मलयाला मनोरमा में अपना संगठन खड़ा करना चाहते थे. परन्‍तु प्रबंधन ने इसकी इजाजत नहीं दी.

नहीं होगा राज्‍य मान्‍यता प्राप्‍त संवाददाता समिति का चुनाव!

: चुनाव समिति के अध्‍यक्ष ने प्रक्रिया से खुद को अलग किया : उत्तर प्रदेश राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के चुनावों को लेकर संशय बरकरार है। जहां एक तरफ अपना कायर्काल पूरा कर चुके कमेटी के पदाधिकारी अभी भी चुनाव न होने देने पर अड़े हैं और इसे टालने की हर संभव जुगत लगा रहे हैं, वहीं चुनाव कराने पर अड़े राज्य मुख्यालय के संवाददाता अब जनरल बाडी की मीटिंग बुलाने पर विचार कर रहे हैं। चुनाव कराने के लिए बनायी गयी समिति ने संवाददाता समिति के अध्यक्ष ने दुर्व्यवहार का आरोप लगाते हुए खुद को सारी प्रक्रिया से विरत कर लिया है। चुनाव कराने के लिए तय किया गया शेड्यूल बीत चुका है और चुनाव न कराने पर अड़े पदाधिकारी जनरल बाडी की बैठक तक बुलाने में हीलाहवाली कर रहे हैं।

सीएम अखिलेश से बात नहीं हो पाई तो दुखी हो गया लखनऊ का एक युवा पत्रकार

हरेंद्र प्रताप सिंह लखनऊ में एक अखबार में काम करते हैं. उन्होंने अपनी पीड़ा को लिखकर भेजा है. उन्हें दुख है कि सीएम अखिलेश ने उनसे बात नहीं की. उनका मानना है कि यूपी का सीएम सिर्फ दलालों, चापलूसों आदि से ही बात करता है. वह छोटे अखबारों के पत्रकारों को लिफ्ट नहीं देता. हरेंद्र ने जो कुछ लिखकर भेजा है, उसे यहां प्रकाशित किया जा रहा है. -एडिटर, भड़ास4मीडिया

Fraud Nirmal Baba (75) : हमलों से परेशान बाबा एकाउंट खाली करने में जुटे, ट्रस्‍ट खाता भी खोला

: 15 दिनों में खातों से हुए कई बड़े ट्रांसफर : श्रद्धालुओं पर कृपा बरसाने के नाम पर कुछ वर्षों में ही अरबों का साम्राज्य खड़ा करने वाले निर्मल बाबा की नींव अब दरकने लगी है। चौतरफा हमलों से परशान होकर निर्मल बाबा ने जहां एक ओर फेसबुक और बेबसाइट के माध्यम से श्रद्धालुओं को विश्वास बनाए रखने की अपील की है। वहीं निर्मल बाबा गुपचुप तरीके से अपने सभी खातों को खाली करने में लग गए हैं। पिछले १५ दिनों के दौरान निर्मल बाबा ने अपने कई बैंक खातों में कई बड़े लेनदेन किए हैं। सूत्रों की मानें तो वे अपने सभी खातों को धीरे-धीरे खाली कर रहे हैं।

Abhishek Manu Singhvi Sex CD (3) : सेक्स सीडी में फंसे सिंघवी पर कांग्रेस ने गिराई गाज

: अदालत में सिंघवी का दावा- सीडी के बदले पूर्व ड्राइवर मुकेश कुमार लाल ने भारी भरकम पैसे की मांग की : ट्विटर पर बहस जारी- सिंघवी ने महिला वकील को प्रलोभन देकर सेक्स किया या आपसी सहमति से शारीरिक संबंध बनाए? : अभिषेक मनु सिंघवी पर कांग्रेस ने गाज गिरा दी है. पार्टी प्रवक्ता होने के नाते सिंघवी का काम रोजाना प्रेस ब्रीफिंग करना होता है लेकिन आजकल वे इस काम को नहीं कर रहे हैं. सूत्र कहते हैं कि आलाकमान के इशारे पर सिंघवी को प्रेस से दूर रहने को कह दिया गया है, यानि वे प्रवक्ता वाला अपना काम नहीं कर पाएंगे. इसे माना जा रहा है कि पार्टी हाईकमान ने सिंघवी पर गाज गिरा दी है. हालांकि आफिसियली कांग्रेस का कहना है कि प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी तबीयत खराब होने के कारण पार्टी की ब्रीफिंग से दूर हैं.

राष्‍ट्रीय सहारा में अभयानंद एवं जागरण में संजय का तबादला

राष्‍ट्रीय सहारा, बनारस से खबर है कि अभयानंद का तबादला लखनऊ के लिए कर दिया गया है. अभयानंद अखबार की लांचिंग के समय से ही बनारस में कार्यरत थे. उनके जिम्‍मे कोआर्डिनेशन था. वे यहां पर क्‍या जिम्‍मेदारी संभालेंगे इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

प्रिय भाई, हकमारों का साथ न दें

लेखकों का सभी सम्मान करते हैं. हम भी. केवल इसलिए नहीं कि वे कुछ ऐसा लिख पाते हैं, जो लोगों के मन को छूता है, प्रभावित करता है, बल्कि इसलिए भी कि वे दूसरों के बारे में भी सोचते हैं, उनके हक़ के बारे में सोचते हैं और अगर कहीं किसी को उसके हक़ से वंचित किया जा रहा होता है तो वे लड़ते भी हैं, प्रतिरोध करते हैं. मेरा मानना है कि लेखक का काम लिखना है और वह कहीं भी प्रकाशित हो, इस पर किसी को कोई एतराज नहीं होना चाहिए. वह किसी के लिए लिखे, यह उसकी आजादी है, उस पर कोई सवाल नहीं उठा सकता है. यह उसका चुनाव है. परन्तु कोई भी लेखक किसी दमनकारी, कर्मचारियों का हक़ मारने वाले, लेखकों का लाखों का पारिश्रमिक हड़प कर जाने वाले किसी भी संस्थान के लिए बिना उससे यह सवाल किये कि आखिर तुमने लोगों के पैसे क्यों मार लिए, कैसे जुड़ सकता है, कैसे लिख सकता है?

Fraud Nirmal Baba (74) : बाबागिरी का पाखंड और न्‍यूज चैनल्‍स पर फूहड़ता की फिक्सिंग

न्यूज चैनल्स पर पखवाडे भर से बाबागिरी के पाखंड का पब्लिसिटी स्टंट जारी है। मूढ़ दर्शक को धता बताने के लिए जबरदस्त पैतरेबाजी की जा रही है। बुद्धू बक्से के छोटे परदे पर पाखंड का धुंध कायम है। “बदनाम हुए तो क्या हुआ? नाम तो होगा।“ पब्लिसिटी की आसान सी इस थ्योरी को बखूबी भूनाया जा रहा है। न्यूज चैनलों के टॉप टेन कार्यक्रमों में बाबा बने हुए हैं। बाबा की महिमा की कृपा से एक न्यूज चैनल ने विरोध का मोरचा थाम रखा है, दूसरे ने बहस के नाम पर बाबा के पाखंड को परोसने का खुबसूरत स्वांग रच रखा है, तो तीसरा सीना ठोंककर बाबा का आकर्षण बरकरार रहने की बात को प्रचारित कर रहा है। बकायदा बाबा का अगला विषमागम कब, कहां हो रहा है? और दर्शक किस तरह उस विषमागम में शामिल हो सकते हैं? इसकी समय और तारीख बताई जा रही है।

भास्कर वालों की बुद्धि पर हंस सकते हैं आप, देखें तस्वीर

यशवंतजी, भास्कर ने आज अपने पहले पन्ने पर फोटो प्रकाशित करके दावा किया है कि भारत के वायु सेना मार्शल अर्जन सिंह दिल्ली में आयोजित एक प्रोग्राम में गलती से सोच बैठे कि  रक्षा मंत्री एके एंटोनी उनके पांव छू रहे हैं शायद बड़े के नाते… फोटो में मंत्री अपन हाथ से गिरा हुआ कागज उठाने के लिए झुके हुए हैं व उस कुर्सी के नीचे से कागज उठा रहे है, जिस पर मार्शल अर्जन सिंह बैठे हुए है… फोटो में इतना सा चित्रण है कि मंत्री कुर्सी के नीचे से कागज उठा रहे हैं और वायु सेना मार्शल ने उनकी पीठ पर हाथ रखा हुआ है.

Fraud Nirmal Baba (73) : बाबा का सूपड़ा साफ नहीं हुआ ‘देवी’ प्रकट हो गईं

अजीब देश है अपना भी. निर्मल बाबा का सूपड़ा अभी ठीक से साफ भी नहीं हुआ है कि फेसबुक पर 'परम श्रद्धेय श्री राधे मां' नाम की एक नई देवी मां चमत्‍कार कर रही हैं. ये अचानक पैदा हुई देवी नहीं हैं, लगता है कि पंजाब, हरियाणा क्षेत्र में लोगों को लम्‍बे समय से मूर्ख बना रही हैं. इनको फेसबुक पर लाइक करने वालों की संख्‍या तेरह हजार से ऊपर जा चुकी है. अब ये क्‍या चमत्‍कार दिखा रही हैं भगवान जाने, परन्‍तु फेसबुक पर इनका पेड एड चल रहा है.

Fraud Nirmal Baba (72) : बाबा के खिलाफ देश भर के दस शहरों में पुलिस से शिकायत

नई दिल्ली: देश में न्‍यू मीडिया, विभिन्‍न चैनलों एवं अखबारों में निर्मल बाबा के खिलाफ हो रहे खुलासों के बाद पूरे देश भर में बाबा के खिलाफ शिकायतें होनी शुरू हो गईं. धीरे-धीरे बाबा की पोल खुलनी भी शुरू हो गई है.  कहीं पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई तो कहीं अदालत में मामला दर्ज किया गया. पूरे देश में लोगों में बाबा की धोखाधड़ी के खिलाफ शिकायतों की संख्‍या बढ़ती जा रही है. देश में इस समय पांच राज्‍यों के दस शहरों में लोगों ने निर्मल बाबा के खिलाफ शिकायत की है.

मजीठिया वेज बोर्ड की मांग : पीटीआई-भाषा के कर्मचारी 20 अप्रैल को रहेंगे हड़ताल पर

देश की अग्रणी न्‍यूज एजेंसी पीटीआई-भाषा के कर्मचारी 20 अप्रैल को चौबीस घंटे की हड़ताल पर रहेंगे. इस दौरान कोई भी खबर एजेंसी को नहीं भेजी जाएगी. पीटीआई-भाषा के स्‍थाई तथा अस्‍थाई कर्मचारियों ने मजीठिया वेज बोर्ड लागू करने की मांग को लेकर हड़ताल करने का निर्णय लिया है. एजेंसी के कर्मचारी लम्‍बे समय से वेज बोर्ड लागू करने की मांग को लेकर आंदोलन करते आ रहे हैं. इस एजेंसी से जुड़े कर्मचारी अब तक सरकार तथा सरकारी संस्‍थानों के खिलाफ प्रदर्शन में भाग लिया है. अब इन्‍होंने एजेंसी प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है.

अश्‍लीलता परोसने वाले भास्‍कर को टीवी पर बढ़ती अश्‍लीलता की चिंता

: अखबार में शुरू किया इनिशिएटिव : दैनिक भास्कर, जयपुर के बुधवार के सिटी भास्कर (१८ अप्रैल २०१२) की खबर पढ़कर दिमाग ही घूम गया कि 'सौ-सौ चूहे खाकर बिल्ली चली हज को'. दैनिक भास्कर का बड़ा नाम है पर काम भी बड़ा करते हों ऐसा आवश्यक तो नहीं. इनकी वेबसाइट पर तमाम अश्लील फोटो, खबरें और वीडियो मुखपृष्ठ पर हमेशा फ्लैश होते रहते हैं क्योंकि इनको अश्लीलता के दम पर अधिक से अधिक हिट्स चाहिए ताकि इनकी वेबसाइट नंबर १ वेबसाइट बन जाये और बनी रहे. यही भास्‍कर अब टीवी पर बढ़ रही अश्‍लीलता के खिलाफ बीड़ा उठाया है.

हत्‍यारोपी ने फोटोग्राफर से की धक्‍का-मुक्‍की, पत्रकार पर पिस्‍टल तानी

जालंधर : पत्रकारों पर हमले और धमकी देने की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं. जालंधर में एक हत्‍यारोपी केबल आपरेटर ने फिर गुंडागर्दी दिखाते हुए एक पत्रकार पर पिस्‍टल तान दी तथा उनके फोटोग्राफर से धक्‍का-मुक्‍की की. केबल आपरेटर ने पत्रकार को अपशब्‍द कहते हुए उसे जान से मारने की धमकी भी. पत्रकार ने पुलिस से इसकी शिकायत की, परन्‍तु जब तक पुलिस पहुंचती आरोपी केबल आपरेटर मौके से फरार हो गया. पुलिस उसकी तलाश कर रही है.

Fraud Nirmal Baba (71) : किरपा आनी बंद, रांची में शून्‍य पर पहुंचे बाबा

: कौन हैं निर्मल बाबा? (भाग नौ) : रांची : भले ही दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में निर्मल बाबा के समागम में भीड़ आ रही है, पर झारखंड, खास कर रांची में उनका क्रेज काफी कम हो गया लगता है. मीडिया में खबरें आने के बाद भक्तों ने उनके खाते में पैसे जमा करना बंद कर दिया है. न तो दसवंद के पैसे जमा हो रहे हैं और न समागम के. राजधानी रांची के एक प्रमुख बैंक की मुख्य शाखा में 18 अप्रैल को एक भी भक्त नहीं आया. यानी एक पैसा भी बाबा के खाते में जमा नहीं हुआ है.

सुप्रीमकोर्ट के दिशा निर्देश प्रेस परिषद के दायरे में हों : काटजू

नई दिल्ली : भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष जस्टिस मार्कंडेय काटजू का कहना है कि गठबंधन सरकारें कमजोर रही हैं और वे मीडिया पर निगरानी रखने