रिपब्लिक टीवी के एक और वरिष्ठ पदाधिकारी गिरफ्तार

बिहार चुनाव नतीजों के बीच एक बड़ी खबर मुंबई से आ रही है। टीआरपी घोटाले में रिपब्लिक टीवी के असिस्टेंट वाईस प्रेसिडेंट (डिस्ट्रीब्यूशन) घनश्याम सिंह को आज मुम्बई पुलिस ने दबोच लिया है।

अल्लामा शायर बड़े रहे होंगे पर आदमी कट्टर ही थे

-विवेक सिंह- आज अल्लामा इकबाल की यौम-ए-पैदाइश है। हम लोग अल्लामा इकबार को सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा से जानते हैं.. ये लाइन ही सारा कन्फ्यूजन पैदा करती है। लगता है कोई भारत से बहुत प्यार करने वाले शख्स ने इसे लिखा है। मैं हमेशा कहता हूं कि कोई अच्छा लिखने वाला आदमी भी …

मोदी से नफरत करने वाले ही ट्रम्प की विदाई, अर्णब की पिटाई और नीतीश की संभावित हार पर जश्न मना रहे हैं!

-अनुरंजन झा- अर्नबगोस्वामी की गिरफ्तारी के तरीके पर सवाल उठाए तो कई मित्रों और ‘बुद्धिजीवियों’ ने कहा कि आप कैसे अर्नब की तरफदारी कर सकते हैं। पत्रकारिता को बदनाम किया है, कई तथाकथितों ने कहा कि वो पत्रकार ही नहीं है.. और न जाने क्या क्या ? तो इसको ऐसे समझिए ट्रंप के हारने से …

अल्लामा इकबाल जो आज होते तो मुसलमान उनके खून के प्यासे होते!

-मशाहिद अब्बास- जन्मदिन विशेष – सारे जहां से अच्छा हिन्दोस्तां हमारा, हम बुलबुले हैं इसके ये गुलसितां हमारा. ये गीत है मुहम्मद इकबाल का, जिसे पूरी दुनिया अल्लामा इकबाल के नाम से जानती और पहचानती है. अल्लामा कहते हैं विद्वान को. मोहम्मद इकबाल को उनकी शायरी देख कर अल्लामा के खिताब से नवाज़ा गया था. …

छटपटाते अर्णब को हाईकोर्ट ने उनके हाल पर छोड़ा, अब दिवाली बाद ही कुछ होगा!

-अविनाश पांडेय समर- Big Breaking: Bombay High Court denies bail to Arnab Goswami. Asks him to approach Sessions Court, asks Sessions Court to decide within 4 days if he approaches. Diwali Mubarak, Arnab.

अर्णब की यात्रा : मुंहनोचवा पत्रकारिता से ललकार पत्रकारिता तक!

-सत्येंद्र पीएस- अर्णव गोस्वामी की पत्रकारिता नाज करने वाली बात है। एनडीटीवी से कैरियर शुरू करके वह आज जिस मुकाम पर पहुंचे हैं, बहुत कम लोगों को यह नसीब होता है।

अर्णब की गिरफ्तारी क्या वाकई पत्रकारिता पर हमला है?

-अविनाश पांडेय ‘समर अनार्या’- अर्नब गोस्वामी से 12 घंटे की पूछताछ के बाद अब गिरफ्तारी को पत्रकारिता पर हमला बता तड़प रहे लिबरलों, ज़रा ठहरो और अब कुछ तथ्य सही कर लो-

एक नए केस में फंसते जा रहे हैं अरनब गोस्वामी

हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर जवाब तलब किया अरनब गोस्वामी बुरी तरह फंसते जा रहे हैं. उनके न्यूज चैनल को हाईकोर्ट ने नोटिस भेजा है. प्रमुख फिल्म निर्माताओं की याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने रिपब्लिक टीवी और टाइम्स नाउ को जारी नोटिस में सख्त टिप्पणी करते हुए जवाब मांगा है. बताया जाता है कि रिपब्लिक …

क्या वाकई जेल में जूते से पीटे जा रहे हैं अर्णब गोस्वामी?

जेल बदलने के दौरान अरनब गोस्वामी ने जेल की गाड़ी से ही चिल्लाकर बताया कि उन्हें जेल में जूते से पीटा जा रहा है. इसके बाद सोशल मीडिया पर अरनब को लेकर अलग अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. कई लोग तो जैसे को तैसा बताकर खुश हो रहे हैं क्योंकि अर्नब गोस्वामी ने रिया चक्रवर्ती …

अर्णब के वकील ने जज से कहा- छूटेगा तो टीवी पर परमवीर के खिलाफ बोलेगा!

-संजय कुमार सिंह- अर्नब की तरफ से तर्क और हाथरस मामले में बंद पत्रकार का दर्द… बार एंड बेंच डॉट कॉम के अनुसार अर्नब गोस्वामी की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने अदालत में कहा, मेरा स्पष्ट आरोप है कि जो मामला बंद हो चुका था उसे गलत इरादे से फिर खोला गया है। …

मैं इस्लाम विरोधी क्यों हूं?

-देवेंद्र सिंह सिकरवार- जो धूर्तता दुर्योधन में वैयक्तिक तौर पर थी वह मुसलमानों में सामूहिक तौर पर है और वह है घोर घृणित अपराध करने के बाद भी स्वयं को विक्टिम प्रदर्शित करने की कुटिलता और इसी के सातत्य में इन्होंने एक नया जुमला, एक नया नैरेटिव गढ़ा और वह है- इस्लामोफोबिया।

अरनब को मझधार में छोड़ दिया भाजपा ने!

-पुष्य मित्र- हम जिस विचारधारा के विरोध में हैं, उनसे सम्बंधित कुछ मित्र आजकल परेशान हैं। उनका दुख है कि भाजपा अपने समर्थकों की कद्र नहीं करती। जो विचारक या पत्रकार उनके पक्ष में लगातार काम करते हैं, उन पर संकट आने पर वह उन्हें मंझधार में छोड़ देती है।

विवाहित स्त्रियों में इतनी असुरक्षा क्यों है!

-चंद्रभूषण- शादी से पहले तय करें, टूटी तो गुजारा कैसे होगा… अपने नजदीकी दायरे में आने वाले कई परिवारों में कुछ स्त्रियों को राक्षसी शक्लों में पेश किए जाते देख रहा हूं। सारे मामले सीधे तौर पर तलाक, संपत्ति की मांग और गुजारा राशि से जुड़े हैं। यह भी एक संयोग है कि जिन स्त्रियों …

यूपी में बीजेपी के खिलाफ खबर लिखने वाले पत्रकार की जमकर पिटाई

-शीतल पी सिंह- उत्तर प्रदेश में बीजेपी नेता के खिलाफ खबर लिखने पर पत्रकार पर जानलेवा हमला हुआ है। सत्ताधारी दल के नेता के दबंग बेटों ने पत्रकार विनय तिवारी को लाठी-डंडों से पीट-पीटकर घायल कर दिया है।

छूट जाओगे, पर टाइम तो लगेगा, अर्नब!

-विनोद चंद- तहलका के लिए आशीष खेतान ने बाबू बजरंगी का एक स्टिंग किया था। अगर आप उसे वीडियो को देखें तो आप समझ जाएंगे कि मोदी जी कैसे काम करते हैं। आशीष खेतान पत्रकार हैं फिर आम आदमी पार्टी के नेता रहे। उनने 2002 के गुजरात नरसंहारके संबंध में स्टिंग किया था।

सहारनपुर में हिंदुस्तान के प्रसार प्रतिनिधि पर मुफ्तखोरी की एफआईआर

रेहड़ी वाले ने खाने के पैसे मांगे तो गुर्राया मीडिया कर्मी, मामला डीआईजी तक पहुंचा प्रसार प्रतिनिधि खुद को लोगों में बताता है हिंदुस्तान का पत्रकार थाना पुलिस ने नहीं सुनी फरियाद तो डीआईजी के आदेश पर दर्ज हुई एफआईआर सहारनपुर। कोई भी मीडिया संस्थान हो, पत्रकार तो कम संस्थान के अन्य कर्मचारी खुद को …

राजस्थान के मुख्य सूचना आयुक्त आशुतोष को सराहना के साथ दी गई विदाई

जयपुर। राजस्थान सूचना आयोग में मुख्य सूचना आयुक्त आशुतोष शर्मा का शानदार कार्यकाल गुरुवार को समाप्त हो गया। इस अवसर पर सूचना आयोग में गुरुवार को एक गरिमा में गरिमामय कार्यक्रम में शर्मा की प्रशंसा करते हुए विदाई दी गई।

फोन इस्तेमाल करने के बाद बदल दी गयी अर्णब गोस्वामी की जेल

-सौमित्र/मनोज- अर्नब गोस्वामी ने अलिबाग क्वारेंटीन सेंटर (अस्थाई जेल) में मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल किया। इसके बाद पुलिस उन्हें अभी तलोजा जेल पटक आई है। मुम्बई से 50 किमी दूर तलोजा जेल को अंडरवर्ल्ड का ठिकाना माना जाता है। आर्थर रोड जेल से खूंखार अपराधियों को तलोजा भेजा गया है। क्लास अब शुरू होगी। (पूछता …

विधानसभा (एक) : योगी भी नहीं हिला सकते रिटायर प्रमुख सचिव की कुर्सी!

-अनिल सिंह– कोर्ट में गलत हलफनामा दिये जाने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं नेताओं के रिश्‍तेदारों का नौकरी जोन बना विस सचिवालय सुप्रीम कोर्ट तक जा चुका है प्रमुख सचिव विधानसभा की नियुक्ति का मामला सीएम के ओएसडी पर शिकायतों को छुपाने का आरोप मेरी छवि खराब करने के लिये की जाती हैं शिकायतें : …

मोदी और उनकी पालतू मीडिया को बिहार वालों ने धूल चटा दिया!

-सौमित्र रॉय- सिर्फ़ एक साल पहले की ही तो बात है। बिहार ने मोदी को 40 में से 39 सांसद चुनकर दिए थे। उसी बिहार में आज एग्जिट पोल के नतीज़े उस महागठबंधन को सत्ता के करीब बता रहे हैं, जिसे एक महीने पहले तक मीडिया खारिज़ कर रही थी?

अर्णब की दिवाली जेल में ही बीतेगी!

-संजय कुमार सिंह- अंधेरे में बीतेगी अर्नब की दीपावली! नहीं मिली आज हाईकोर्ट से ज़मानत! जेल में ही रहेंगे अर्नब। आज दिन भर बहस चली। पर फ़ैसला न हुआ। देश के सबसे मंहगे वकीलों की फ़ौज कम से कम आज आज़ादी न हासिल कर सकी। अर्नब को ज़मानत नहीं मिली। हाईकोर्ट ने कह दिया है …

बिजनेस शो को एंकर करने लगे खोजी पत्रकार दीपक शर्मा!

-दीपक शर्मा- नौकरी और एंटरप्राइज में बुनियादी फर्क ये है कि नौकरी में सब कुछ मन से नहीं होता और एंटरप्राइज बिना मन के आगे नहीं बढ़ता। यानि नौकरी में आपको वो सबकुछ करना है जो परिस्थितयां चाहती हैं।…तो इस नियम को समझिये, इस कड़वे सच का सामना करिये। अगर आप नौकरीपेशा हैं तो ये …

दल्लागिरी के अवार्ड पाकर खुश हैं न्यूज़ चैनल्स!

-दीपांकर पटेल- NT वालों के पास देने के लिए 120 से ज्यादा अवार्ड हैं… आसमान से फेंक दें तो हर न्यूज चैनल में 8-10 अवार्ड यूं ही गिर जाएंगे…

रवीश को एनडीटीवी वालों का बंगला क्यों नहीं दिख रहा है?

-समरेंद्र सिंह- रवीश कुमार जी ने अर्णब के सुंदर मकान की तारीफ की है। जिन दिनों मैं एनडीटीवी में था उन दिनों डॉ प्रणय रॉय भी बंगले में रहते थे। दिल्ली की पॉश कॉलोनी ग्रेटर कैलाश में उनका बंगला था। किराए का था या खरीदा हुआ ये मैं नहीं जानता। लेकिन रहते वो बंगले में …

भारतीय न्यूज़ चैनलों के रीढ़विहीन और दलाल सम्पादकों, जरा अमेरिकी मीडिया से कुछ सबक ले लो!

-गिरीश मालवीय- एक तरफ इण्डिया का मीडिया है और एक तरफ अमेरिका का! चुनाव नतीजे सामने आने के बाद हार को सामने देख ट्रम्प ने पहली बार व्हाइट हाउस से बयान दिया। इसे कवर करने के लिए मीडिया भी मौजूद था। ट्रम्प ने जैसे ही अपनी बात रखना शुरू की, वे झूठे दावे करने लगे।

अमर उजाला के पीलीभीत ब्यूरो चीफ सुधाकर का तबादला

बरेली से खबर आ रही है कि अमर उजाला कारपोरेट ऑफिस नोयडा ने पीलीभीत के ब्यूरो चीफ सुधाकर शुक्ला को हटा दिया है। उनको आगरा यूनिट में स्थानांतरित किया गया है।

ट्रम्प की हार : जो जो मित्र बने मोदी के, कुर्सी ने छोड़ा उनका साथ!

-प्रकाश के रे- हमारे मोदी जी की जिन नेताओं से गलबहियाँ हुई, उनका करियर तबाह हो गया. कनाडा गये, तो हार्पर चुनाव हार गये. फ़्रांस के ओलाँ से दोस्ती गहराई, तो उनका पत्ता साफ़ हो गया. उनकी जगह आये मैकराँ से छनने लगी, तो उनकी लोकप्रियता का गुब्बारा फट गया. जर्मनी की मर्केल से नज़दीकी …

राष्ट्रीय सहारा में दीप्ति भानु डे को बड़ी जिम्मेदारी, अरुण प्रताप शाही का पद बदला

राष्ट्रीय सहारा अखबार से दो बदलावों की सूचना आई है। राकेश कुमार सिंह को लखनऊ संस्करण का स्थानीय सम्पादक बनाए जाने के बाद गोरखपुर में स्थानीय संपादक का पद खाली हो गया। इस पद पर अब नई तैनाती कर दी गयी है।

अर्णब अरेस्ट प्रकरण पर वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी क्या सोचते हैं, पढ़िए

-ओम थानवी- अर्णब गोस्वामी को ज़मानत नहीं मिली। अफ़सोस होता है कि एक पत्रकार — भले इस बीच पथभ्रष्ट पत्रकारिता करने लगा हो — जेल में है। इस बीच बहुत से संजीदा पत्रकार भी (जैसे हाल में हाथरस में) पुलिस ने पकड़े। तब पकड़ने वालों के विवेक पर तरस आया था। पर अर्णब पर किसी …

ऑपरेशन मिडनाईट रेस्क्यू पगला!

-यशवंत सिंह भड़ासानंद- हम भक्तों को अब भी विश्वास है कि हमारी पार्टी के पत्रकार गोस्वामी जी को मोदीजी-शाहजी 14 दिन से पहले ही जेल से निकलवा लेंगे।

कोर्ट ने डांटा तब पगला अरनब की नौटंकी बंद हुई!

कोर्ट को भी स्टूडियो समझ लिया था, इजलास की फटकार सुन काबू आया… जानिए कोर्ट में क्या क्या हुआ… कोर्ट में आते ही अर्नब चीखने चिल्लाने लगा. उसने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया. अदालत ने आदेश दिया कि अर्नब की दोबारा मेडिकल जाँच कराई जाए. आदेश के अनुसार जाँच कराई गई. इसके बाद पुलिस …

न तो तरुण तेजपाल प्रकरण प्रेस पर हमला था और न ही अरनब गोस्वामी कांड अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अटैक है!

-पंकज मिश्रा- रिया और उसके परिवार के खिलाफ जो कुछ भी हो रहा था वह पर्याप्त कारण था या कहें उससे भी ज्यादा , कि उंस घर मे भी कोई suicide जैसा हादसा हो जाता | और तब भी आप abetment to suicide के केस को पत्रकारिता पर हमला कहते.

पूछता है भारत- क्या अर्णब कोर्ट कानून से ऊपर है!

-रत्नाकर दीक्षित- कई दिनों से अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी को लेकर हाय-तौबा मची हुई है। इन पर आरोप है कि इनकी कंपनी रिपब्लिक भारत निर्माण के दौरान अन्वय नाइक नामक इंटीरियर डिज़ाइनर के करीब पांच करोड़ रुपये बार-बार मांगने के बावजूद नहीं दिए। ऐसे में अन्वय ने अर्णब और उनके साथी फिरोज पर आरोप लगाते …

अरनब अरेस्ट कांड के बाद मीडिया के तीन खेमे बन गए हैं

-विद्या शंकर तिवारी- अच्छा लगे या बुरा पर सच यही है कि सत्ता का चरित्र एक जैसा होता है… अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी के बाद मीडिया के तीन खेमे बन गये हैं। एक खेमा जश्न मना रहा है। दूसरा आपातकाल की याद दिला रहा है। तीसरा कह रहा है कि अर्नब की पत्रकारिता से सहमत …

idonotsupportarnab

-पंडित आयुष गौड़- मज़ा अकेले ले रहे हो तो सजा भी अकेले झेलो बिरादरी से समर्थन क्यों माँग रहे हो? पत्रकारों के न जाने कितने ऐसे मामले होते हैं जिन्हें प्रशासन और शासन दबा देता है। जिस वक्त अर्णब गोस्वामी के ऊपर आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज हुआ था उस वक्त क्या प्रशासन …

अर्णब पत्रकार नहीं बल्कि एक पार्टी का पेड प्रवक्ता है, इसलिए परेशान न होइए, ये पत्रकारिता पर कतई कोई हमला नहीं है!

-ममता मल्हार- अगर अर्णव गोस्वामी के इस कांड को जानने के बाद भी आप अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की दुहाई दे रहे हैं तो फिर आपकी पत्रकारिता का भगवान ही मालिक है। आपके पास पैसा होगा, चैनल होगा, आप एक पार्टी के पेड प्रवक्ता बन जाएंगे। चैनल में आने वाले वक्ताओं को हड़काएँगे, डांट डपट करेंगे। …

अर्नब मामले में एक नया कुतर्क

-संजय कुमार सिंह- बात-बात पर हत्या करवाने वाले आत्महत्या के लिए मजबूर किए जाने के मामले में कार्रवाई से हिल गए लगते हैं। कुछ भक्त मित्र दलील दे रहे हैं कि एक बार बंद कर दिए गए मामले को पुलिस दोबारा नहीं खोल सकती है। इसके लिए अदालत की अनुमति चाहिए। मुझे नहीं पता वास्तविक …

अर्णव की गिरफ्तारी के एक दिन बाद रवीश ने लंबी और जबरदस्त टिप्पणी लिखी है, नफ़रती सेना के पिंटू-चिंटू जरूर बांचें

-रवीश कुमार- मैं आज क्यों लिख रहा हूं, अर्णब की गिरफ्तारी के तुरंत बाद क्यों नहीं लिखा? आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला संगीन है लेकिन सिर्फ नाम भर आ जाना काफी नहीं होता है। नाम आया है तो उसकी जांच होनी चाहिए और तय प्रक्रिया के अनुसार होनी चाहिए। एक पुराने केस में इस …

आज प्रभाष जोशी जी की पुण्यतिथि है, शम्भूजी बयान कर रहे हैं कुछ अदभुत वाकये!

-शंभूनाथ शुक्ल- अख़बार को आम लोगों तक पहुँचाया प्रभाष जोशी ने… आज प्रभाष जोशी की पुण्यतिथि है। साल 2009 में आज के ही दिन टीवी पर क्रिकेट मैच देखते हुए उन्हें दिल का दौरा पड़ा और वे नहीं रहे। जीवित होते तो 83 वर्ष के होते। प्रभाष जोशी ने अख़बार में सिर्फ़ कागद ही कारे …

भाजपा सरकारें छोटे-छोटे लेकिन असली पत्रकारों को अरेस्ट करती हैं, उन्होंने तो बड़े और आत्महत्या कराने वाले आरोपी पत्रकार को पकड़ा है!

-प्रभाकर मिश्रा- कहब त लागि जाई धक् से .. -उन्होंने बहुत बड़े पत्रकार को गिरफ्तार किया है .. *ये छोटे छोटे को गिरफ्तार करते हैं … -उन्होंने आत्महत्या के मामले में आरोपी को गिरफ्तार किया है .. *ये ख़बर लिखने ( नून रोटी) वाले पत्रकार को गिरफ्तार करते हैं .. और आप इतने मासूम हैं …

अपराधी अर्णब को हर कदम पर बचाने-संरक्षण देने वाले भाजपाई ही पत्रकारिता के असल दुश्मन हैं!

-संजय कुमार सिंह- जज लोया की मौत की जांच नहीं, अर्नब के खिलाफ मामला बंद – महाराष्ट्र में क्या होता रहा है, फडणवीस जी ? अब यह साफ हो चुका है कि अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पत्रकारिता के लिए नहीं, अपना स्टूडियो बनाने वाले इंटीरियर डिजाइनर के पैसे नहीं देने और उसके आत्महत्या कर लेने …

खुद को भक्त पत्रकार दर्शाकर सत्ता की मलाई खाने वाले अर्णब दरअसल दिल से कम्युनिस्टों के पुजारी हैं!

-दीपांकर पटेल- अरनब गोस्वामी सालों से भक्तों को बेवकूफ बनाते रहे, कम्यूनिस्टों को गाली देते रहे, जबकि वो स्वयं दुनिया के एक महान कम्यूनिस्ट चे ग्वेरा के पुजारी हैं..!!

पीली पन्नी वाले साहित्य की याद दिलाती ये खबरें

-अमरेंद्र किशोर- शीर्षक 1: सेक्स के दौरान पोजीशन बदल रही थी महिला, तभी हुआ कुछ ऐसा कि मार गया लकवा। शीर्षक 2: मुर्गियों के साथ सेक्स करता था ये शख्स, पत्नी बनाती थी VIDEO शीर्षक 3: दुनिया की सबसे सेक्सी डॉक्टर, जिनसे इलाज कराने के लिए लाखों लोग जानबूझ कर पड़ते हैं बीमार ये तीनों …

आ गया कोर्ट का फैसला, अर्णब गोस्वामी 14 दिन तक ध्वनि प्रदूषण न फैला सकेंगे!

अर्नब गोस्वामी को चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया है। यानि 14 दिन तक वे अपने हिंदी इंग्लिश चैनलों पर चीख चिल्ला कर देश भर के घरों में ध्वनि प्रदूषण न फैला पाएंगे। अर्णब को संतोष बस इस बात की है कि उन्हें पुलिस से ज्ञान पाने से मुक्ति मिल गई है। कोर्ट …

लाखों रुपए हड़प कर इंटीरियर डिजाइनर को मरने के लिए मजबूर करने वाले अर्णब के खिलाफ कार्रवाई गलत कैसे?

-श्वेता सिंह- सुशांत को इंसाफ दिलाने के बहाने टीआरपी बटोरने वाला चैनल अब चीख-चीख कर अपने एडिटर को इंसाफ दिलाने की दुहाई दे रहा है। अपनी दमदार आवाज के पीछे कितनों की आवाज दबाई है, इसका अंदाजा अर्नब को भी है। शानदार आफिस में धमाकेदार इंट्री कर जनता को सच से रूबरू कराने वाले ने …

जौनपुर में पत्रकार और परिजनों पर गुंडों ने किया हमला, पुलिस निष्क्रिय

लखनऊ के पत्रकार कौशलेंद्र उपाध्याय के गृह जनपद जौनपुर थाना पवारा गांव कुंवरपुर में उनके घर पर चढ़कर गुंडे किस्म के लोगों ने कौशलेंद्र और उनके पूरे परिवार को बुरी तरह से मारा पीटा और अभद्रता भी की।

राष्ट्रीय सहारा, लखनऊ को मिला नया स्थानीय संपादक

लखनऊ से खबर है कि राकेश कुमार सिंह को राष्ट्रीय सहारा का नया स्थानीय संपादक बनाया गया है। राकेश अभी तक गोरखपुर में राष्ट्रीय सहारा अखबार के स्थानीय संपादक हुआ करते थे।

चंगुल में आए अर्णब गोस्वामी पर नया मुकदमा भी दर्ज

मुंबई पुलिस की तरफ से बुधवार शाम को रिपब्लिक भारत टीवी न्यूज चैनल के संपादक अर्नब गोस्वामी और उनकी पत्‍नी के खिलाफ के खिलाफ एक ताजा एफआईआर दर्ज कर लिया गया है।

अर्णब के झूठ का कोर्ट में हो गया खुलासा

-सौमित्र राय- अर्नब गोस्वामी को अभी आलीबाग कोर्ट में दोबारा पेश किया गया है। इससे पहले अर्नब ने कोर्ट में पुलिस पर हिंसा का आरोप लगाया था। इस पर कोर्ट ने उन्हें मेडिकल के लिए भेजा।

यह पत्रकारिता पर हमला कैसे कहा जा सकता है?

-राजकेश्वर सिंह- 1-किसी आपराधिक मामले में पुलिस किसी को गिरफ्तार कर ले…. और गिरफ्तार किया गया व्यक्ति पत्रकार हो… तो यह पत्रकारिता पर हमला कैसे कहा जा सकता है?

R9 टीवी से यूपी के रेजिडेंट एडिटर का इस्तीफा

सूचना आ रही है कि R9 टीवी के उत्तर प्रदेश के रेजिडेंट एडिटर और वरिष्ठ पत्रकार हरेंद्र चौधरी ने इस्तीफा दे दिया है।

जो अर्णब की गिरफ्तारी को प्रेस पर हमला बता रहे, उन्हें पहचान लीजिए!

-रमेश चंद्र राय- सुशांत ने न कोई सुसाइड नोट छोड़ा था न किसी का नाम लिया था फिर भी अर्णब ने रिया चक्रवर्ती समेत कई को जेल पहुंचा दिया। लेकिन एक इंटीरियर डिज़ाइनर ने अपनी मां के साथ खुदकुशी करने से पहले सुसाइड नोट में अर्णब को ज़िम्मेदार ठहराया तो उन्हें पूछताछ भी मंज़ूर नहीं! …

मैं अर्नब गोस्वामी की गिरफ़्तारी की निंदा करने वालों की निंदा करता हूँ!

-मुकेश कुमार- मैं अर्नब गोस्वामी की गिरफ़्तारी की निंदा करने वालों की निंदा करता हूँ। एक संगीन मामले के अभियुक्त का बचाव करने का कोई आधार नहीं है, चाहे वह पत्रकार ही क्यों न हो।

मैं अपनी ताकत एक सुपारी किलर के पक्ष में नहीं खर्च करूंगा!

-पुष्य मित्र- दिलचस्प माहौल है- जिस अर्नब के पास रिपब्लिक जैसा नम्बर वन टीआरपी वाला भोंपू है। जिसके पीछे पूरी मोदी सरकार डट कर खड़ी है। जिसकी गिरफ्तारी का विरोध पत्रकारों और संपादकों के बड़े संगठन कर रहे हैं। उसके लिए हम पर और आप पर दबाव बनाया जा रहा है कि हम उस गिरफ्तारी …

हम तुम्हारे साथ हैं अर्नब गोस्वामी – हम जेनएयू हैं!

अर्नब, कितना गिरा दिया है तुमने- अपने साथ साथ हम सबको भी! तुम्हारी गिरफ़्तारी की ख़बर मिली अर्नब गोस्वामी। फिर कैसे हुआ ये देखा! इतनी बेइज़्ज़ती? ऐसे मार पीट के? धक्का दे कर? हाँ. हम तुम्हारे साथ हैं अर्नब. क्योंकि हम तुम नहीं हैं. हम जेनएयू हैं. याद तो होगा? नफ़रत तो तुम लगातार भड़का …

एडिटर्स गिल्ड ने अर्णब अरेस्ट कांड पर बयान जारी कर दिया, पढ़ें

-अम्बरीश कुमार- अर्णब गोस्वामी को लेकर मुंबई पुलिस ने बदले की कार्यवाई की है, यह साफ़ दिख रहा है वर्ना एक संपादक के साथ ऐसा बर्ताव तो नहीं किया जाता है.

अर्नब जब दोबारा स्टूडियो में लौटेंगे तो और ज्यादा ताकत और आक्रामकता के साथ!

-नीतेश त्रिपाठी- पिछले कुछ समय से पत्रकारिता का जो पतन हुआ है, अर्नब गोवास्मी ने उसे और रसातल में पहुंचा दिया है. अर्नब एक समय ठीक-ठाक पत्रकार कहे जा रहे थे, जब तक वह टाइम्स नाउ में थे. तब भी उनमें पत्रकारिता की गुंजाइश बची थी, लेकिन जैसे ही वो एक नया चैनल लेकर आए …

अर्णब ने स्टूडियो बनवाने के बाद भुगतान नहीं किया तो ठेकेदार ने मां समेत सुसाइड कर लिया था!

-आवेश तिवारी- क्यों हुआ अर्णब गिरफ्तार… अर्णब की गिरफ्तारी के बाद आज कांट्रेक्टर अक्षत नायक की आत्मा को शांति मिली होगी। इस तस्वीर को गौर से देखिए। अर्नब गोस्वामी के पाप की सजा यह स्त्री बरसों से भुगत रही हैं, अब सम्भवतः उसे न्याय मिल सके।

पत्रकारों की प्रतिक्रियाएं पढ़ें- अर्णव ने अतिवादी पत्रकारिता की तो मुंबई पुलिस ने अतिवादी पुलिसिंग!

अर्नब ने टीवी पत्रकारिता का जो स्वरूप बना दिया वैसा दुनिया के किसी समाचार चैनल पर नहीं होता। मर्यादा की सीमा लांघने के दुष्परिणाम तो होते ही हैं। पुलिस और अर्नब दोनों ने लक्ष्मण रेखा का उल्लंघन किया है। –विनीत नारायण (कालचक्र वीडियो न्यूज़ के माध्यम से 1989 में भारत में स्वतन्त्र हिंदी टीवी पत्रकारिता …

गिरफ्तारी के दौरान अर्णब गोस्वामी ने मुंबई पुलिस को गाली दी थी!

-पंकज चतुर्वेदी- अर्णव गोस्वामी का मुम्बई पुलिस ने आज “गुड़ मॉर्निंग” कर ही दिया। मॉमला 2018 का है, आत्महत्या के लिए उकसाने का धारा 306 का। अर्नब गोस्वामी को महाराष्ट्र सीआईडी ने 2018 में इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक की आत्महत्या की जांच के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है। अर्णब …

मुंबई पुलिस की हरकत से कहीं आपको अर्नब गोस्वामी से सहानुभूति तो नहीं हो गई!

-श्याम मीरा सिंह- मुम्बई पुलिस(CID) अर्नब गोस्वामी को उनके घर से खचेरते हुए ले गई है। लेकिन मुम्बई पुलिस अर्नब को खचेरते हुए क्यों ले गई है, आइए इसके पीछे की कहानी जानते हैं। साल 2018 की बात है, अन्वय नाइक नाम के एक इंटीरियर डिजाइनर हुआ करते थे, अन्वय और उनकी माँ कुमुद नाइक …

पिंजड़े में कैद गोदी के पालतू तोते की तस्वीरें देखें!

-शिशिर सोनी- राजनेताओं की चरणपादुका बने वीर रस के पत्रकारों, देखो अर्णब का हाल! खरी खरी… पत्रकारिता में दुम दबाये जोकरों के समूह देख लो अर्णब गोस्वामी का हाल। वीर रस में पत्रकारिता को डुबा कर मारने वालों, देखो अर्णब कैसे है बेहाल। राजनेताओं के चरण पादुका बनने से बचो। इनकी कितनी भी जय, जय …

गोस्वामीजी की गिरफ्तारी से पत्रकारों में खुशी की लहर, भक्त स्तब्ध!

सुसाइड के लिए उकसाने में गिरफ्तार हुए गोस्वामीजी! रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी को बुधवार की अल-सुबह मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. अर्णब गोस्वामी को महाराष्ट्र पुलिस ने 2018 में इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक और उनकी मां कुमुद नाइक की मौत की जांच के सिलसिले में उसके घर से हिरासत में लिया …

अर्णब को पीटते हुए गिरफ्तार कर ले गई पुलिस!

इंटीरियर डिज़ाइनर अन्वय नायक और उनकी मॉ की हत्या में संलिप्तता के आरोप में रिपब्लिक भारत के संपादक अर्णव गोस्वामी को मुंबई पुलिस ने आज सुबह उनके घर में मारपीट करते हुए गिरफ़्तार किया!

आजतक का फर्जी संवाददाता पकड़ा गया, देखें इन्हें और इनकी करतूत

आज तक का फ़र्ज़ी संवाददाता लहरपुर (सीतापुर) में धरा गया है। इन महोदय के खिलाफ मुक़दमा दर्ज करके जेल भेजा जा रहा है।

इस्लाम नहीं, आप संकट में हैं!

-अभिषेक पाराशर- ठीक से याद नहीं आ रहा, पर शायद ‘द आर्गुमेंटेटिव इंडियन’ में पढ़ा था. अमर्त्य सेन जिस क्लास में पढ़ते थे, उसमें पढ़ाने वाली शिक्षिका या शिक्षक ने कहा कि भारतीय किसी भी बात पर प्रतिक्रिया जरूर देते हैं.

ये सारे लोग किसी खेल के हिस्सेदार लगते हैं!

-नदीम एस. अख्तर- मुनव्वर रानाओं के बयानों और मंदिर में नमाज़ पढ़ने जैसे धर्म के ठेकेदारों से सावधान रहिए! जिन मूर्खों का इस्लाम से कोई लेना-देना नहीं, वह मंदिर में जाकर नमाज़ पढ़ रहे हैं। काहे भाई? देश-दुनिया का हाल नहीं मालूम? या तुम्ही पांचवक़्ती नमाज़ी पैदा हुए हो? क्या तुम्हें नहीं मालूम कि इस्लाम …

अमित शाह की सेहत का संकट!

-संजय कुमार सिंह- अमित शाह का स्वास्थ्य और योग्यता (क्षमता) बनी रहे… पूर्व तड़ीपार, केंद्रीय गृहमंत्री का बिहार चुनाव से अलग रहना खबर नहीं है। खबर यह है कि वे घोषणा करके भी बिहार नहीं गए। और यही दिलचस्प है। हालांकि अमित शाह को एक आम सांसद या गृहमंत्री के रूप में देखें तो यह …

भड़ासीjoke : क्या खाया!

गर्लफ्रेंड ने बॉयफ्रेंड को ऑफिस में फोन करके पूछा – आज लंच में क्या खाया? बॉयफ्रेंड ने झल्ला कर कहा – तुम्हें बस इतना ही आता है !! क्या खाया, कौन-सा सीरियल देखा, कौन-सा गाना सुना?

क्या यशवंत सेकुलर नहीं रहे, कम्यूनल हो गए?

-यशवंत सिंह- मैं अब भी नहीं समझ पा रहा कि फैसल खान को मंदिर में घुसकर सिर पटक नमाज पढ़ने जैसी महान गतिविधि को अंजाम देकर सामाजिक समरसता की कल कल नदी प्रवाहित करने की जगह अपने किसी हिन्दू मित्र को घर के पास वाली मस्जिद में ले जाकर देवी जागरण के गीत या हनुमान …

बिकाऊ न्यूज़ चैनल, असफल पीएम, लाइव लेक्चर और बिहार इलेक्शन!

-यशवंत सिंह- इन चार मोर्चो पर मोदी देश के सबसे असफल प्रधानमंत्री साबित हुए! भोजन करने बैठा तो टीवी खोल दिया। एबीपी न्यूज़ चैनल पर फारबिसगंज से मोदी के चुनावी भाषण का लाइव प्रसारण आ रहा था। बंदे की थेथरई देखिए कि अब भी वह विकास के नाम पर वोट मांग रहा है। अर्थव्यवस्था माइनस …

सहारा इंडिया की नेटफ्लिक्स गाथा

-प्रवीण झा- सहारा इंडिया की नेटफ्लिक्स गाथा में एक बहुत ही स्पष्ट बात जो कही है, वो यह कि सुब्रत रॉय लोगों के दिल से जुड़ गए थे। वह गरीबों के विवाह में मदद कराते थे, सभी इम्प्लॉई का खयाल रखते थे, दानवीर थे आदि। यह बात ग़लत भी नहीं है। सहारा का नाम अमीर …

शमशेर सिंह की लंबी छलांग, ज़ी मीडिया ग्रुप में बड़ी जिम्मेदारी मिली

ज़ी मीडिया से खबर आ रही है कि शमशेर सिंह ने यहां बड़े पद कद पर जॉइन कर लिया है। बताया जा रहा है कि उन्हें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज चैनल और डिजिटल का हेड बनाया गया है।

वे बड़ी मासूमियत से बेहूदी और बेतुकी दलीलें गढ़ रहे हैं!

-समरेंद्र सिंह- अभी एफबी की दो पोस्ट पर नजर पड़ी। एक पोस्ट में पाकिस्तान, अफगानिस्तान, इराक और ईरान … सब जगह जोड़ कर कहा गया था कि हमने (मुसलमानों ने) सब बर्बाद कर लिया और अब तुम यानी हिंदू बर्बाद करने पर तुले हो। कुछ समय पहले फहमीदा रियाज की एक कविता आयी थी जिसमें …

भारत में वामपंथी हमेशा मुस्लिम कट्टरपंथियों के समर्थक बने रहे!

-राम जनम पाठक- कट्टरपंथ, मुसलमानों को खत्म कर देगा। कट्टरपंथ की यही खूबी है। कट्टरपंथ ऐसा जहर है जो सबसे पहले अपने रचयिता और अपने धारक को नष्ट करता है। लेकिन कट्टरपंथ केवल इस्लाम में हो, ऐसा नहीं है।

पैन इस्लाम : हिंदुस्तानी मुसलमानों की अंतरराष्ट्रीय मुस्लिम समुदाय से जुड़ने की ज़िद!

-गिरीश मालवीय- कंबोडिया के हिन्दू मंदिरो में मान लीजिए कि हिन्दू प्रतीकों का अपमान जैसी कोई घटना घट जाती है तो क्या आप उम्मीद करते हैं कि भारत के हर शहर में उस घटना के खिलाफ बड़े पैमाने पर प्रर्दशन होंगे?

सम्पादक ये नहीं जानते कि एक दिन उनका भी नम्बर लगना है!

-जे सुशील- दफ्तर कथाएं- पत्रकारिता में दो ही तरह के लोग होते थे. एक संपादक फिर डेस्क और रिपोर्टर. यही ढांचा था और यही ढांचा होना चाहिए लेकिन फिर सत्तर अस्सी के दशक में मालिकों को लगा होगा कि यार ये ढांचा ठीक नहीं है क्योंकि ये रिपोर्टर दिन भर में एक रिपोर्ट लाता है. …

शार्ली ऐब्दो ने अबकी बुरका पहनी महिला के साथ कांड कर दिया!

-दीपांकर पटेल- बदलाव की अभिव्यक्ति में अश्लीलता, और बदले की आग में किया जाने वाला कत्ल दोनों ही ख़तरनाक है. मुस्लिम चरमपंथी फ्रांस में हत्याएं कर रहे हैं, और शार्ली ऐब्दो ने अपने नये एडिशन में बुरका पहनी महिला का नितम्भ उघाड़ दिया है.

सऊदी अरब की गलती को ‘फर्स्ट पोस्ट’ ने भी दुहरा दिया!

-दीपांकर पटेल- तो क्या फर्स्ट पोस्ट ने भी वैसी ही “गलती” कर दी जैसा सऊदी के बैंक ने नोट पर भारत का ग़लत नक्शा छाप कर की…??

मैं अल्ला, कुरान और मोहम्मद बचाने के लिए साथ नहीं देने वाला!

-सत्येंद्र पीएस- अखलाक और पहलू खान के साथ हैं हम। हमेशा रहेंगे। अमेरिका, फ्रांस वाले किसी मीयां नामधारी व्यक्ति को नौकरी से निकाल दें, भूखों मार देने की नौबत ला दें, उनका धंधा और रोजी रोजगार छीनें, उनके खिलाफ घृणा फैलाएं तो हमेशा उसका विरोध रहेगा।

सबसे ज्यादा समस्या इस्लाम में है

-जगदीश सिंह- धार्मिकता, जाहिलियत, कट्टरता सब एक दूसरे के पोषक! सारे प्रमुख धर्मों की शुरुआत क़बायली समाज में ही हुई। सब के सब भेंड बकरी, गाय चराने वाले चरवाहों ने ही शुरू किये। इसीलिये इनमें आधुनिक सोच एवं दर्शन कम, जाहिलियत ज़्यादा है।

राइट टू ऑफेंड की आज़ादी भारत में भी मिलनी चाहिए!

जब अल्ला सब जगह है तो मक्का-मदीना जाने की ज़रूरत क्या है! अभिव्यक्ति की आजादी में राइट टू ऑफेंड एक शानदार अधिकार है। इसका सम्मान होना चाहिए। एकमात्र यही अधिकार है जो धर्मों के आधिपत्य को चुनौती देता है। एकमात्र इसी अधिकार से हम ईश्वर और अल्लाह को नकार करके, उनके वजूद को चुनौती देकर, …

रिपब्लिक टीवी के चक्कर में पूरे गांव पर केस करना गलत : रवीश

-रवीश कुमार- पूरे गाँव पर केस करने की सामंती मानसिकता से बचे मुंबई पुलिस… एडिटर्स गिल्ट का यह मैसेज ज़रूरी है। बेशक रिपब्लिक टीवी का पत्रकारिता से कोई लेना देना नहीं है। एंकर झूठ बोलता है। लोगों को उकसाता है। अनाप शनाप बोलता है। लेकिन उससे ख़फ़ा पुलिस पूरे गाँव पर केस पर दे यह …

इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप ने सेलरी कटौती वापस ले ली!

पढ़ें इंटरनल लेटर- At the onset of this Financial Year, I wrote to you seeking your support to overcome the disruption caused by Covid-19 to our business. The Board and I, are personally grateful to all of you for your support during these past few months. I hope we won’t have to test your loyalty …

रिपब्लिक भारत के चैनल हेड ने दिया इस्तीफा

अर्णब गोस्वामी के हिंदी न्यूज़ चैनल रिपब्लिक भारत से एक बड़ी सूचना आ रही है। चैनल हेड शमशेर सिंह ने रिपब्लिक भारत को गुडबॉय बोल दिया है।

उर्तुगुल ग़ाज़ी के पांचों सीजन निपटा दिया, आइये तबके-अबके इस्लाम पर कुछ चर्चा कर लें!!

-यशवन्त सिंह- अरतुगुल ग़ाज़ी के पांचों सीजन देख गया। आखिरी पार्ट कल निपटाया। तुर्की के शासकों ने इस्लामिक प्रोपेगैंडा के मक़सद से इसे बनवाया है। बहुत कुछ नाटकीय है। पर ये कहानी सच है कि एक काई कबीले के लड़के ने ईमानदारी, साहस और बुद्धिमत्ता के बल पर तत्कालीन अशांत दुनिया के बड़े हिस्से को …

क्या क्रिश्चियन कंट्रीज और इस्लामी देशों के बीच महायुद्ध होने वाला है?

-निशीथ जोशी- जो कुछ हुआ वह फ्रांस में हुआ फिर भारत में सड़कों पर क्यों उतरा जा रहा है। यदि विरोध करना है माहौल खराब करना है फ्रांस जा कर करें। मुन्नवर राणा को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान, भारत से भाग कर मलेशिया में छिपे जाकिर नाइक और मलेशिया के पूर्व पीएम महातिर मोहम्मद …

अमर उजाला के डिप्टी एडिटर का हार्ट अटैक से निधन

-राजू मिश्र- अमर उजाला, लखनऊ के डिप्टी एडिटर राघवेंद्र नारायण मिश्रा की आज रात 8:00 बजे हृदय गति रुक जाने से अचानक मौत हो गई।

जाहिल कट्टरपंथियों, फ्रांस के बारे में तुम क्या जानो!

-अर्पिता शर्मा- अगर आप सोचते हैं कि दुनिया का सर्वाधिक आधुनिक देश अमरीका है तो आप गलत हैं। दुनिया का सबसे आधुनिक देश फ्रांस है, जिसने धर्म सहित कई प्रतिष्ठित स्थापनाओं को ध्वस्त किया है।मैंने हाल ही में एक अंग्रेजी सीरीज “एमिली इन पेरिस” देखकर खत्म किया। शिकागो से एक लड़की फ्रांस की राजधानी पेरिस …

माफिया मुख्तार अंसारी के ग़ज़ल होटल का द एंड!

-सुजीत सिंह प्रिंस- मुख्तार का गजल ढहेगा, डीएम कोर्ट का बहुप्रतीक्षित फैसला आया गाजीपुर। बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी का होटल गजल ध्वस्त होगा। शनिवार की शाम डीएम एमपी सिंह की अगुवाई वाली आठ सदस्यीय बोर्ड का इस आशय का बहुप्रतीक्षित फैसला आ गया। उस फैसले की प्रति होटल गजल पर चस्पा भी दी गई। प्रशासनिक …

डा. महेंद्र सिंह के विभाग में भ्रष्टाचार का खेल, ज्यादा रेट वाली कंपनी को दिया सर्वे का काम!

-अनिल सिंह– जलशक्ति विभाग में ईमानदारी का कंबल ओढ़कर हो रही बेईमानी केंद्र की गाइडलाइन का भी हो रहा उल्‍लंघन बजट से ज्‍यादा धनराशि पर दिया गया टेंडर लखनऊ : उत्‍तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डा. महेंद्र सिंह स्‍वघोषित तौर पर एशिया के सबसे ईमानदार मंत्री हैं, और उनके विभाग भ्रष्‍टाचार होना तो दूर उसकी …

मुनव्वर राना तो कार्टून के नाम पर सीधा कह रहा- जान से मार देंगे!

-साक्षी जोशी- आपकी इतनी इज़्ज़त करती थी। आज आपने वो खो दी Munawwar Rana जी। किसी का भी धर्म इतना बड़ा नहीं हो सकता कि किसी की जान लेना जायज़ लगने लगे। और अगर ऐसा है तो या तो आपने अपने धर्म को ही नहीं समझा या आपके धर्म ने आपको अपने लायक नहीं समझा। …

ज्यादा शराब पीने से सांसद के बेटे की मौत

-कौशल किशोर- शराब को न खुशियों को हां… मेरे बेटे आकाश किशोर उर्फ जेबी की मृत्यु चोरी छुपे शराब पीने से ज्वाइंडिस हो जाने से और लीवर डैमेज हो जाने के कारण 28 वर्ष की उम्र में विगत 19 अक्टूबर 2020 को हो गई। मेरा बेटा अपने पीछे अपनी पत्नी और एक 2 वर्षीय बच्चे …

आरएसएस की पृष्ठभूमि वाले अनिल सौमित्र आईआईएमसी में प्रोफेसर बने

-सौमित्र रॉय- ये हैं मेरे पुराने मित्र-अनिल सौमित्र। नाम को लेकर पच्चीसों बार लोगों को ग़लतफ़हमी हो चुकी है। वैचारिक रूप से हम दोनों में तकरीबन मुस्कुराकर दो ग़ज़ दूरी से प्रणाम करने का नाता रहा है।

कितना कमजोर है ईमान कि पैगम्बर मुहम्मद के कार्टून से हिल जाता है!

-फिरोज खान- कितना कमजोर है तुम लोगों का ईमान मुसलमानों कि पैगम्बर मुहम्मद के कार्टून से हिल जाता है। तुम तो दुनिया को मुहम्मद की उम्मत कहते हो। जब यह कहते हो तो कार्टून बनाने वाला भी उन्हीं की उम्मत हुआ।

यही राजनीति तो हिंदू कट्टरपंथी संगठन भी करते हैं!

-समरेंद्र सिंह- राजनीति ऐसे ही काम करती है। कुछ दिन पहले हाथरस में दलित लड़की के बलात्कार और कत्ल की वारदात पर मीडिया ने जब हो हल्ला मचाया तो उसके कुछ दिन बाद ही राजस्थान में हुई एक आपराधिक घटना को खूब उछाला गया। बीजेपी आईटी सेल के लोगों ने उस घटना का हवाला देते …

एनबीटी लखनऊ में चार पत्रकारों को प्रमोशन, मनीष बने असिस्‍टेंट एडिटर

लखनऊ : छंटनी और नौकरी से निकाले जाने की खबरों के बीच नवभारत टाइम्‍स लखनऊ में चार पत्रकारों को प्रमोशन और इंक्रीमेंट दिया गया है.

गर्दन काटने का जवाब जब वो मिसाइल से गर्दन उड़ाकर देंगे तब क्या कीजिएगा?

-विश्व दीपक- फ्रांस ने दुनिया को स्वतंत्रता (Freedom), समानता (Equality) और बंधुत्व ( Brotherhood) दिया. फ्रांसिसी क्रांति से निकले विचारों की रोशनी में लोकतंत्र का जन्म हुआ. रूस समेत कई देशों में क्रांतियों का आगाज़ हुआ.

निवेदन है कि मेरा भी नाम सेकुलर लिस्ट से काट दें!

-शेष नारायण सिंह- धार्मिक कठमुल्लापन चाहे जहां हो, चाहे जिस धर्म का अनुयायी हो, उसका विरोध किया जाना चाहिए। फ्रांस में एक मुस्लिम आतंकी ने किसी का गला काट दिया। मैं उसकी निंदा करता हूं। मलयेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री टाइप जो लोग कह रहे हैं कि उस दुष्टात्मा ने सही काम किया, मैं उनकी निंदा …

हे मुसलमानों, वे चाहते हैं कि तुम भड़को!

जो गर्दन काटने वालों के समर्थक हैं वो मोहम्मद साहब के अनुयायी नहीं हो सकते! -नवेद शिकोह- मोहम्मद साहब का जन्म दिन मनाने का हक़ ही नहीं है आप जैसों को! मुसलमानों के रसूल हज़रत मोहम्मद मुस्तफा(s.w) की मोहब्बत के जज्बात यदि आपको उग्र प्रदर्शन करने पर मजबूर कर देते हैं.. या गर्दन काटने वालों …

फ्रांस के राष्ट्रपति के बयान के समर्थन में जो लिखेगा वो सेकुलर नहीं रहेगा!

-समरेंद्र सिंह- कई बार जब हम संकट में होते हैं तो आस-पास सभी को संकट में डालते हैं। यह स्वभाविक बात है। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने जो कहा है वो बात बिल्कुल सही है। ये संकट इस्लाम का संकट है। इस्लाम को इससे बाहर निकलने की कोशिश करनी चाहिए।

भड़ासी चुटकुला : देश कौन चला रहा है!

ठेकेदार से ‘बात’ हो जाने पर, Clerk ने IAS साहब को बता कर फाइल रखी, साहब ने लिखा:“Approved” …दो दिन बाद, ठेकेदार वादे से मुकर गया…. Clerk ने साहब को बताया, साहब बोले:- अब क्या करें?

पत्रकारिता की ‘श्री’ का जाना! 

-शंभूनाथ शुक्ल- दिल्ली में हिंदी की अखबारी पत्रकारिता की रीढ़ समझे जाने वाले श्रीश मिश्र को विधाता ने हमसे छीन लिया। गुरुवार 29 अक्तूबर को उनका हृदय गति रुकने से निधन हो गया। कुल 67 वर्ष के श्रीश मिश्र किसी भी अख़बार के लिए संकटमोचक थे। खेल और फ़िल्म तो उनके प्रिय विषय थे ही …

NBSA की लताड़ पर टीवी न्यूज चैनलों की माफी क्या घड़ियाली आंसू साबित होंगे?

-संजय कुमार (वरिष्ठ पत्रकार) बिहार चुनावों के बीच बीते दिनों टीवी न्यूज मीडिया से जुड़ी दो-तीन खबरें बहुत चौंकानेवाली रहीं हैं। एक तो बड़े टीआरपी रैकेट का खुलासा हुआ है। दूसरे, रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के संपादकीय विभाग में कार्यरत कई पत्रकारों पर मुंबई पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। और तीसरा, सुशांत सिंह राजपूत की …

पत्रकारों का संघर्ष रंग लाया, हमलावरों की गिरफ्तारी के लिए एसपी ने बनाई एसआईटी!

यमुनानगर (हरियाणा) : पुलिस ने जब पत्रकारों को अंदर जाने से रोका तो पत्रकार वहीं धरने पर बैठ गए और कहा कि अब वह तभी उठेंगे जब पुलिस प्रशासन यहां मांग पत्र लेने आएगा। उसके पश्चात एसपी को मीटिंग में व्यस्त होना बताया गया। बाद में एसपी कमलदीप गोयल ने लघु सचिवालय के प्रवेश द्वार …

दैनिक जागरण से राजेश हुए कार्यमुक्त

दैनिक जागरण गोरखपुर में गिरा 1 और विकेट।गोरखपुर दैनिक जागरण में विकेट गिरने का सिलसिला जारी है। कल 29 अक्टूबर को सीनियर सब एडिटर राजेश शुक्ला की सेवा समाप्त कर दी गयी।

ग्लेन ग्रीनवाल्ड का द इंटरसेप्ट से इस्तीफ़ा

-प्रकाश के रे- हमारे दौर के सबसे महत्वपूर्ण पत्रकारों में से एक ग्लेन ग्रीनवाल्ड का द इंटरसेप्ट से इस्तीफ़ा बहुत बुरी ख़बर है. इस प्लेटफ़ॉर्म को उन्होंने दो अन्य पत्रकारों के साथ मिलकर बनाया था.

अमेरिका की तरक्की तो देखिए!

-सत्येंद्र पीएस- अमेरिका का बाउंस बैक गज्जब है। 33% वृद्धि! महाशक्ति देश ऐसे ही होते हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ के स्थायी सदस्यों में अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, रूस, चीन में केवल रूस और चीन की हालत थोड़ी खराब है।वरना जो यूरोपियन पूंजीवाद के आलोचक होते हैं वह भी मौका पाने पर वहीं बस जाना चाहते हैं।

कलावा पहने एंकरों की पॉलिटिक्स

-दीपांकर पटेल- जब भी हाथ में कलावा पहने कोई टीवी एंकर देखिए,समझ जाइए, वो बात कैसी भी करता हो, सरकार समर्थक या सरकार विरोधी, पर अंत में वो मनुवादी व्यवस्था का ही पोषक है, किसी मुस्लिम को टोपी पहन कर न्यूज एंकरिंग करते हुए देखा?

बिजनेस स्टैंडर्ड अखबार की महिला पत्रकार का कोरोना से निधन

बिजनेस स्टैंडर्ड अखबार की एक महिला पत्रकार माधाबी सेन आडवाणी का कोरोना के संक्रमण से निधन होने की सूचना है। उनकी उम्र 55 साल थी। उनके परिवार में उनके पति मोहन आडवाणी और एक बेटी हैं।

श्रीश हरफनमौला पत्रकार थे

-देवप्रिय अवस्थी- अभी-अभी पहले शंभूनाथ जी की पोस्ट, फिर उनके फोन से जनसत्ता की शुरुआती टीम के साथी श्रीश मिश्र के निधन की जानकारी मिलने से हतप्रभ रह गया। जनसत्ता की शुरुआती टीम के बेहतरीन सदस्यों में शुमार श्रीश हरफनमौला पत्रकार थे। खेल और फिल्म संबंधी विषयों पर उन्हें महारत हासिल थी।

इस्लाम की छवि हिंसक और आतंक फैलाने वाले धर्म के रूप में क्यों है?

-नवीन कुमार- इस्लाम के नाम पर इंसानियत को रौंदने की छूट नहीं दी जा सकती। फ्रांस सरकार की लैसिती नीति आज की नहीं है।

जीवन में दर्द और अकेलेपन को जीने वाली इस कवियत्री को कितना जानते हैं आप!

-संजय शेफर्ड- प्रेम में जिसे तुम चाहो वह मिल जाये ये जरुरी नहीं ! मेरे लिए प्रेम हमेशा एक इलूजन की तरह रहा। मैं अट्रैक्ट हुआ, हाथ बढ़ाया, छूना चाहा और एक स्पर्श के साथ सबकुछ बिखर गया।

एक नेक पत्रकार योद्धा का जाना!

-अमरेंद्र रॉय- जनसत्ता के पूर्व स्थानीय संपादक श्रीश चंद्र मिश्र की गुरुवार को मृत्यु हो गई। उन्हें दिल का दौरा पड़ा था और उन्हें पश्चिम विहार के श्री बालाजी एक्शन मेडिकल इंस्टीट्यूट में भर्ती कराया गया था। श्रीश जी वहीं मैत्री अपार्टमेंट में रहते थे। छह एकड़ जमीन पर बना 600 विस्तरों वाला यह अस्पताल …

सीएम रावत को सुप्रीम राहत, नहीं होगी सीबीआई जांच

सीएम पर आरोपों की सीबीआई जांच कराने के हाईकोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाई सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत फिलहाल राहत की सांस ले सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट उनके लिए संकटमोचक बन कर सामने आया है। उच्चतम न्यायालय ने उत्तराखंड हाईकोर्ट के फैसले पर रोक लगाने का निर्णय दे दिया है।

अर्नब की लड़ाई मीडिया की आज़ादी की लड़ाई नहीं है!

-श्रवण गर्ग– कोई मीडिया प्रतिष्ठान चीन के साथ सीमा पर वर्तमान में चल रहे तनावपूर्ण सम्बन्धों के दौरान अगर ऐसी खबर चला दे कि सैनिकों के बीच सेनाध्यक्ष के निर्णयों के प्रति (कथित तौर पर) ‘विद्रोह’ पनप रहा है तो रक्षा मंत्रालय और सरकार को क्या करना चाहिए? भारतीय सेना के मनोबल को कमज़ोर करने …

वरिष्ठ खोजी पत्रकार उमेश द्वारा सीएम त्रिवेंद्र रावत पर लगाए आरोपों की सीबीआई जांच होगी

कोर्ट आदेश- मुख्यमंत्री पर लगे आरोपों की सी.बी.आई. जांच होगी, पत्रकारों के खिलाफ दर्ज एफ.आई.आर. क्वेश किया जाए नैनीताल :- उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने वरिष्ठ खोजी पत्रकार उमेश शर्मा व अन्य के खिलाफ राजद्रोह मामले में राज्य सरकार द्वारा दर्ज एफ.आई.आर.को खत्म (क्वेश) करते हुए मुख्यमंत्री पर लगे आरोपों की सी.बी.आई. जांच के आदेश दिए …

मोदी की नई नीतियों से जमाखोरी चरम पर, प्याज-आलू के दाम में लगी आग

-कृष्ण कांत- आलू के गोदाम भरे पड़े हैं, फिर भी खुदरा आलू 50 से 60 रुपये किलो तक बिक रहा है. उधर, प्याज की कीमत 100 रुपये तक पहुंच गई है.

भड़ास पर वीडियो आने के बाद धान खरीद में खलल डालने के आरोपी पत्रकार पर मुकदमा

उत्तर प्रदेश के जनपद पीलीभीत में डीएम की सख्ती से सरकारी धान खरीद केंद्रों पर चल रही बंपर खरीद में खलल डालने वाले आढ़ती और उसके रिश्तेदार पत्रकार पर “भड़ास4मीडिया” पर खबर चलने के बाद पुलिस में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

ईश्वर को मानें या नकारें!

-अश्विनी कुमार श्रीवास्तव- आइंस्टाइन कहते थे कि ईश्वर पांसा फेंक कर दुनिया नहीं चलाता। ( GOD doesn’t play dice) …. यानी इस दुनिया में जो कुछ भी हुआ, हो रहा है या होगा , वह ईश्वरीय नियमों के तहत हो रहा है। या यूं कह लें कि सब कुछ पहले से ही तय है। जाहिर …